daily murli 20 august

TODAY MURLI 20 AUGUST 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 20 August 2020

20/08/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, for your own safety, always protect yourself from the claws of Maya, the vices. Never become body conscious.
Question: What main teachings does the Father give all of you children so that you can become charitable souls?
Answer: Baba says: Children, in order to become charitable souls: 1) Constantly continue to follow shrimat. Never become careless about the pilgrimage of remembrance. 2) Make full effort to become soul conscious and gain victory over lust, the greatest enemy. This is the time to become a charitable soul and leave this land of sorrow and go across to the land of happiness.

Om shanti. It is the Father who questions you children every day. You wouldn’t say that Shiv Baba has small children. Souls exist eternally. The Father also exists eternally. It is only at this time, when both Bap and Dada exist, that the children have to be looked after. There are so many children who have to be looked after. He has to keep an account of each one. Just as a physical father is concerned and feels it would be good if his children also became part of this Brahmin clan, so I too feel that My children should become pure and go to the pure world. I don’t want My children to be swept away down Maya’s old gutter. The unlimited Father is concerned about the children. There are so many centres. He knows which children He has to send where for their safety. Nowadays, it is very difficult to remain safe. There isn’t any safety in the world. In heaven, everyone is safe. Here, no one is safe; they become trapped somewhere or other in the claws of Maya, the vices. You souls are now being given these teachings. It is here that you have the company of the Truth. You have to leave this land of sorrow and go across to the land of happiness. You children now understand what the land of sorrow is and what the land of happiness is. At this time it is truly the land of sorrow. We have committed a lot of sins here, whereas, when we are there, we will be charitable souls. We now have to become charitable souls. Each of you now knows the history and geography of your 84 births. No one in the world knows the history and geography of 84 births. The Father has now come and explained your biography to you. You now understand that you have to become complete charitable souls by staying on the pilgrimage of remembrance. It is by being carelessness in this that you are deceived a great deal. The Father says: It is not good to be careless at this time. You have to follow shrimat. In that too, the main thing Baba says is: First, stay on the pilgrimage of remembrance, and second, conquer lust, the greatest enemy. Everyone calls out to the Father because souls receive their inheritance of peace and happiness from Him. Previously, when you were body conscious, you didn’t know anything. You children are now being made soul conscious. New ones have to be given the introduction of firstly, their limited fathers and secondly, the unlimited Father. From the unlimited Father you receive heaven as your fortune. From your limited fathers you receive hell as your fortune. When a child grows up he has a right to property. When he develops understanding, he gradually becomes influenced by Maya. All of those customs and systems belong to Ravan’s kingdom, the vicious world. You children know that this world is now to change. This old world is now to be destroyed. Destruction is only mentioned in the Gita. There is no mention of the Mahabharat War, the Great War, in any other scripture. This is the most elevated confluence age of the Gita. The age of the Gita means the establishment of the original eternal deity religion. The Gita is the scripture of the deity religion. So, this is the age of the Gita when the new world is being established. Human beings have to change; they have to change from ordinary human beings into deities. Human beings with divine virtues are definitely needed for the new world. No one in the world knows these things. They have made the duration of the cycle very long. The Father is now explaining to you children and you understand that Baba truly is teaching you. Krishna can never be called the Father, Teacher or Guru. If Krishna were the Teacher, from whom did he learn? He cannot be called the Ocean of Knowledge. You children now have to explain to eminent people. Get together and discuss how service can expand. How can service become fast? Then, they will understand that the Brahma Kumaris, for whom they create so much chaos, are in fact right. The rest of the world is false, and this is why they continue to rock the boat of truth. Storms do come, do they not? You are the boats that go across. You understand that you have to go across from this world of Maya. The first storm is body consciousness. That is the worst storm of all. It is that vice that has made everyone impure. That is why the Father says: Lust is the greatest enemy. It is a very forceful storm. Still some have conquered it. Others who live at home with their families, are still trying to protect themselves from it. This is very easy for kumars and kumaris. This is why the name “Kanhaiya” (Lord of the Kumaris) is remembered. So many kumaris must definitely belong to Shiv Baba. Krishna was a bodily being; He couldn’t have had so many kumaris. You are now being made into queens through this study. Purity is the principal thing required for this. Look at yourself and check that your chart of remembrance is good. Baba receives the charts of the children. Some have two to three hours of remembrance and some have five hours. Some don’t write it at all; they remember Him very little. Not everyone’s pilgrimage can be the same. There will still be many more children to come. Each one of you has to check your chart and see to what extent you will be able to claim a status. To what extent do you have the happiness of that? Since you now belong to the highest-on-high Father, why should you not be constantly happy? According to the drama, you have done a lot of devotion. The Father has now come to give the devotees their fruit. Sinful acts continue to be performed in Ravan’s kingdom. You are making effort to go to the satopradhan world. Those who don’t make full effort will go into the sato stage. Not everyone will take as much knowledge. Everyone definitely has to receive the message wherever they are. This is why you have to go to every corner. This mission must also go abroad. Here, there are missions of Buddhists and Christians who come to convert people of other religions into their religions. You explain that we originally belonged to the deity religion and that we now belong to the Hindu religion. Generally, those of the Hindu religion will come to you. Among them too, it will be the worshippers of Shiva and those who worship the deities, who come. Baba has told you to serve the kings. Mostly they are worshippers of the deities. They have temples in their homes. You have to bring them benefit too. Consider yourselves to have come here with the Father from the faraway land. The Father has come to establish the new world. You are also doing that. Those who establish it will also sustain it. You should have the intoxication inside you, that you have come here with Shiv Baba to establish the deity kingdom and to make the whole world into heaven. One is amazed at what people continue to do in this world! Look how they worship! During the Navratri (nine nights) festival of the goddesses they worship the goddesses. Since there is the night, there must also be the day. You have a song, “What wonder did you see?” They make clay images, decorate them and worship them. Their hearts become so attached to those images that, when they go to sink them, they cry. When a person has died, they take the body to the river and sink it while chanting God’s name. Many go there. Those rivers exist eternally. You know that that dancing etc., used to take place on the banks of the River Jamuna. There will be huge palaces there. You will go and build them there. When someone is to pass an important examination, his intellect plans how he will have a house built after he passes his examination. You children also have to remain aware that you are becoming deities, that you are now to go to your home. You should be happy remembering your home. When someone is returning from his travels, he becomes very happy that he is now going home to where he took birth. The home of you souls is the incorporeal world. There is so much happiness! Human beings do so much devotion in order to attain liberation. However, no one has such a part in the drama that he can return home yet. You know that they definitely have to play their parts for half the cycle. Our 84 births are now coming to an end. We now have to return home and then we will enter our kingdom. Simply remember your home and kingdom. While sitting here, some people remember their factories etc. For instance, look at Birla! He has so many factories. He would be concerned about all of them throughout the day. If you were to tell him to remember Baba, he would have so many obstructions. He would repeatedly remember his business. It is easier for the mothers and even more easy for the kumaris. Die a living death and forget the whole world! When you consider yourself to be a soul and belong to Shiv Baba, it is called dying alive. Renounce your bodies and all bodily relations! Consider yourselves to be souls and belong to Shiv Baba! Continue to remember Shiv Baba because there is a huge burden of sin on your heads. You all have the desire to die alive and belong to Shiv Baba. There should be no consciousness of the body. We came bodiless and we have to return bodiless. We now belong to the Father. Therefore, we must not remember anyone but the Father. If that were to happen soon, the war would also take place soon. Shiv Baba tells us so much that we belong to Him. We are residents of that place. Here, there is so much sorrow. This is now the final birth. The Father has told you that when you were satopradhan, there were no others. You were so wealthy. Money at this time is like shells. It is worth nothing, just shells. All of that is for temporary happiness. The Father has told you that when you donated a lot in the past and performed a lot of charity, you received a lot of wealth, and you donated that too. However, that was only for one birth. Here, you become wealthy for many births. Here, the more important one is, the more sorrow there is. Those who have a lot of wealth are trapped very much. They can never come and stay here. Only ordinary poor ones surrender themselves. Wealthy ones never do that. The money they earn is for their grandchildren in order to keep their clan going. They themselves would not come into that same home. The grandchildren who performed good acts previously would come, just as those who make many donations become kings. However, they are not everhealthy. So what if they rule a kingdom! They still don’t have imperishable happiness. Here, there are many types of sorrow at every step. There, all of this sorrow will have been removed. People call out to the Father: “Remove our sorrow!” You understand that all your sorrow is to be removed. Simply continue to remember the Father. You can’t receive this inheritance from anyone but the one Father. The Father removes all sorrow from the whole world. At this time even animals experience so much sorrow. This is the world of sorrow. Sorrow is continually increasing and souls are continuing to become tamopradhan. We are now at the confluence age, whereas everyone else is in the iron age. This is the most elevated confluence age. Baba is making us into the most elevated human beings. Even by remembering this much, you can remain happy. God is teaching us and making us into the masters of the world. At least remember this much! By studying His teachings, His children should become gods and goddesses, should they not? God is the Bestower of Happiness. So, how do you receive sorrow? The Father sits here and explains this. Why are God’s children experiencing sorrow? God is the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness. People definitely must be experiencing sorrow, for that is why they sing this praise. You know that the Father is teaching you Raj Yoga. You are making effort. There cannot be any doubt about this. You Brahma Kumars and Kumaris are studying Raj Yoga. You are not telling lies. When someone has doubts, explain to him. This is a study. Destruction is in front of you. We are Brahmins, the topknot of the confluence age. Prajapita Brahma is here. Therefore, there will definitely also be Brahmins here. This has also been explained to you and that is why you have faith. However, the main thing is the pilgrimage of remembrance and it is in this that there are obstacles. Continue to examine your chart and see to what extent you remember Baba and to what extent your mercury of happiness rises. You should be happy inside that you are now holding the hand of the Master of the Garden, the Purifier. You shake hands with Shiv Baba through Brahma Baba. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Remember your home and kingdom and maintain limitless happiness. Always remember that your journey is now coming to an end. We are now to go home and will then return to our kingdom.
  2. You shake hands with Shiv Baba through Brahma Baba. That Master of the Garden is making you pure from impure. Through this study you are becoming queens of heaven. Keep this happiness inside you.
Blessing: May you be close and equal and receive the reward of the first birth by being unadulterated and in a stage of being free from obstacles.
1)The children who are close to the Father’s virtues and His sanskars and experience the Father’s company and equality in all relationships are the ones who can come close in the royal clan in the first birth. 2) Only those who have been unadulterated and free from obstacles from the beginning until now will come first. To be free from obstacle does not mean that obstacles do not come, but that you are always a destroyer of obstacles and victorious. If you have been fine in both of these stages from the beginning until now, you will be a companion in the first birth.
Slogan: With the power of silence, transform the negative into positive.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 20 AUGUST 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 20 August 2020

Murli Pdf for Print : – 

20-08-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – अपनी सेफ्टी के लिए विकारों रूपी माया के चम्बे से सदा बचकर रहना है, देह-अभिमान में कभी नहीं आना है”
प्रश्नः- पुण्य आत्मा बनने के लिए बाप सभी बच्चों को कौन-सी मुख्य शिक्षा देते हैं?
उत्तर:- बाबा कहते – बच्चे, पुण्यात्मा बनना है तो 1. श्रीमत पर सदा चलते रहो। याद की यात्रा में ग़फलत नहीं करो। 2. आत्म-अभिमानी बनने का पूरा-पूरा पुरूषार्थ कर काम महाशत्रु पर जीत प्राप्त करो। यही समय है – पुण्यात्मा बन इस दु:खधाम से पार सुखधाम में जाने का।

ओम् शान्ति। बाप ही रोज़ बच्चों से पूछते हैं। शिवबाबा के लिए ऐसे नहीं कहेंगे कि बचड़ेवाल है। आत्मायें तो अनादि हैं ही। बाप भी है। इस समय जबकि बाप और दादा दोनों हैं तब ही बच्चों की सम्भाल करनी होती है। कितने बच्चे हैं जिनकी सम्भाल करनी होती है। एक-एक का पोतामेल रखना होता है। जैसे लौकिक बाप को भी फुरना रहता है ना। समझते हैं – हमारा बच्चा भी इस ब्राह्मण कुल में आ जाए तो अच्छा है। हमारे बच्चे भी पवित्र बन पवित्र दुनिया में चलें। कहाँ इस पुराने माया के नाले में बह न जायें। बेहद के बाप को बच्चों का फुरना रहता है। कितने सेन्टर्स हैं, किस बच्चे को कहाँ भेजना है जो सेफ्टी में रहें। आजकल सेफ्टी भी मुश्किल है। दुनिया में कोई भी सेफ्टी नहीं है। स्वर्ग में तो हर एक की सेफ्टी है। यहाँ कोई की सेफ्टी नहीं है। कहाँ न कहाँ विकारों रूपी माया के चम्बे में फंस पड़ते हैं। अभी तुम आत्माओं को यहाँ पढ़ाई मिल रही है। सत का संग भी यहाँ है। यहाँ ही दु:खधाम से पार सुखधाम में जाना है क्योंकि अब बच्चों को पता पड़ा है दु:खधाम क्या है, सुखधाम क्या है। बरोबर अभी दु:खधाम है। हमने पाप बहुत किये हैं और वहाँ पुण्य आत्मायें ही रहती हैं। हमको अभी पुण्य आत्मा बनना है। अभी तुम हर एक अपने 84 जन्मों की हिस्ट्री-जॉग्राफी जान गये हो। दुनिया में कोई भी 84 जन्मों की हिस्ट्री-जॉग्राफी नहीं जानते। अभी बाप ने आकर सारी जीवन कहानी समझाई है। अभी तुम जानते हो हमें पूरा पुण्य आत्मा बनना है – याद की यात्रा से। इसमें ही बहुत धोखा खाते हैं गफलत करने से। बाप कहते हैं इस समय ग़फलत अच्छी नहीं है। श्रीमत पर चलना है। उसमें भी मुख्य बात कहते हैं एक तो याद की यात्रा में रहो, दूसरा काम महाशत्रु पर जीत पानी है। बाप को सब पुकारते हैं क्योंकि उनसे शान्ति और सुख का वर्सा मिलता है आत्माओं को। आगे देह-अभिमानी थे तो कुछ पता नहीं पड़ता था। अभी बच्चों को आत्म-अभिमानी बनाया जाता है। नये को पहले-पहले एक हद के, दूसरा बेहद के बाप का परिचय देना है। बेहद के बाप से स्वर्ग (बहिश्त) नसीब होता है। हद के बाप से दोज़क (नर्क) नसीब होता है। बच्चा जब बालिग बनता है तो प्रापर्टी का हकदार बनता है। जब समझ आती है फिर धीरे-धीरे माया के अधीन बन पड़ते हैं। वह सब है रावण राज्य (विकारी दुनिया) की रस्म रिवाज़। अभी तुम बच्चे जानते हो यह दुनिया बदल रही है। इस पुरानी दुनिया का विनाश हो रहा है। एक गीता में ही विनाश का वर्णन है और कोई शास्त्र में महाभारत महाभारी लड़ाई का वर्णन नहीं है। गीता का है ही यह पुरूषोत्तम संगमयुग। गीता का युग माना आदि सनातन देवी-देवता धर्म की स्थापना। गीता है ही देवी-देवता धर्म का शास्त्र। तो यह गीता का युग है, जबकि नई दुनिया स्थापन हो रही है। मनुष्यों को भी बदलना है। मनुष्य से देवता बनना है। नई दुनिया में जरूर दैवी गुणों वाले मनुष्य चाहिए ना। इन बातों को दुनिया नहीं जानती। उन्हों ने कल्प की आयु का टाइम बहुत दे दिया है। अभी तुम बच्चों को बाप समझा रहे हैं – तुम समझते हो बरोबर बाबा हमको पढ़ाते हैं। कृष्ण को कभी बाप, टीचर या गुरू नहीं कह सकते। कृष्ण टीचर हो तो सीखा कहाँ से? उनको ज्ञान सागर नहीं कहा जा सकता।

अभी तुम बच्चों को बड़ो-बड़ों को समझाना है, आपस में मिलकर राय करनी है कि सर्विस की वृद्धि कैसे हो। विहंग मार्ग की सर्विस कैसे हो। ब्रह्माकुमारियों के लिए जो इतना हंगामा करते हैं फिर समझेंगे यह तो सच्चे हैं। बाकी दुनिया तो है झूठी, इसलिए सच की नईया को हिलाते रहेंगे। तूफान तो आते हैं ना। तुम नईया हो जो पार जाती हो। तुम जानते हो हमको इस मायावी दुनिया से पार जाना है। सबसे पहले नम्बर में तूफान आता है देह-अभिमान का। वह है सबसे बुरा। इसने ही सबको पतित बनाया है। तब तो बाप कहते हैं काम महाशत्रु है। यह जैसे बहुत तेज़ तूफान है। कोई तो इन पर जीत पाये हुए भी हैं। गृहस्थ व्यवहार में गये हुए हैं फिर कोशिश करते हैं बचने की। कुमार-कुमारियों के लिए तो बहुत सहज है इसलिए नाम भी गाया हुआ है कन्हैया। इतनी कन्यायें जरूर शिवबाबा की होगी। देहधारी कृष्ण की तो इतनी कन्यायें हो न सकें। अभी तुम इस पढ़ाई से पटरानी बन रहे हो, इसमें पवित्रता भी मुख्य चाहिए। अपने आपको देखना है कि याद का चार्ट ठीक है? बाबा के पास कोई का 5 घण्टे का, कोई का 2-3 घण्टे का भी चार्ट आता है। कोई तो लिखते ही नहीं हैं। बहुत कम याद करते हैं। सबकी यात्रा एकरस हो न सके। अजुन ढेर बच्चे वृद्धि को पायेंगे। हर एक को अपना चार्ट देखना है – मैं कहाँ तक पद पा सकूँगा? कहाँ तक खुशी है? हमको सदैव खुशी क्यों नहीं होनी चाहिए। जबकि ऊंच ते ऊंच बाप के बने हैं। ड्रामा अनुसार तुमने भक्ति बहुत की है। भक्तों को फल देने के लिए ही बाप आया है। रावण राज्य में तो विकर्म होते ही हैं। तुम पुरुषार्थ करते हो – सतोप्रधान दुनिया में जाने का। जो पूरा पुरुषार्थ नहीं करेंगे तो सतो में आयेंगे। सब थोड़ेही इतना ज्ञान लेंगे। सन्देश जरूर सुनेंगे। फिर कहाँ भी होंगे इसलिए कोने-कोने में जाना चाहिए। विलायत में भी मिशन जानी चाहिए। जैसे बौद्धियों की, क्रिश्चियन्स की यहाँ मिशन है ना। दूसरे धर्म वालों को अपने धर्म में लाने की मिशन होती है। तुम समझाते हो कि हम असुल में देवी-देवता धर्म के थे। अब हिन्दू धर्म के बन गये हैं। तुम्हारे पास बहुत करके हिन्दू धर्म वाले ही आयेंगे। उनमें भी जो शिव के, देवताओं के पुजारी होंगे वह आयेंगे। जैसे बाबा ने कहा – राजाओं की सेवा करो। वह अक्सर करके देवताओं के पुजारी होते हैं। उन्हों के घर में मन्दिर रहते हैं। उन्हों का भी कल्याण करना है। तुम भी समझो हम बाप के साथ दूरदेश से आये हैं। बाप आये ही हैं नई दुनिया स्थापन करने। तुम भी कर रहे हो। जो स्थापना करेंगे वह पालना भी करेंगे। अन्दर में नशा रहना चाहिए – हम शिवबाबा के साथ आये हैं दैवी राज्य स्थापन करने, सारे विश्व को स्वर्ग बनाने। आश्चर्य लगता है इस देश में क्या-क्या करते रहते हैं। पूजा कैसे करते हैं। नवरात्रि में देवियों की पूजा होती है ना। रात्रि है तो दिन भी है। तुम्हारा एक गीत भी है ना – क्या कौतक देखा…… मिट्टी का पुतला बनाए, श्रृंगार कर उसकी पूजा करते हैं, उनसे फिर दिल इतनी लग जाती है जो जब डुबोने जाते हैं तो रो पड़ते हैं। मनुष्य जब मरते हैं तो अर्थी को भी ले जाते हैं। हरीबोल, हरीबोल कर डुबो देते हैं। जाते तो बहुत हैं ना। नदी तो सदैव है। तुम जानते हो यह जमुना का कण्ठा था, जहाँ रास विलास आदि करते थे। वहाँ तो बड़े-बड़े महल होते हैं। तुमको ही जाकर बनाने हैं। जब कोई बड़ा इम्तहान पास करते हैं तो उनकी बुद्धि में चलता है – पास होकर फिर यह करेंगे, मकान बनायेंगे। तुम बच्चों को भी ख्याल रखना है – हम देवता बनते हैं। अब हम अपने घर जायेंगे। घर को याद कर खुश होना चाहिए। मनुष्य मुसाफिरी कर घर लौटते हैं तो खुशी होती है। हम अब घर जाते हैं। जहाँ जन्म हुआ था। हम आत्माओं का भी घर है मूलवतन। कितनी खुशी होती है। मनुष्य इतनी भक्ति करते ही हैं मुक्ति के लिए। परन्तु ड्रामा में पार्ट ऐसा है जो वापिस जाने का कोई को मिलता नहीं है। तुम जानते हो उन्हों को आधाकल्प पार्ट जरूर बजाना है। हमारे अब 84 जन्म पूरे होते हैं। अब वापिस जाना है और फिर राजधानी में आयेंगे। बस घर और राजधानी याद है। यहाँ बैठे भी कोई-कोई को अपने कारखाने आदि याद रहते हैं। जैसे देखो बिड़ला है, कितने उनके कारखाने आदि हैं। सारा दिन उनको ख्यालात रहती होगी। उनको कहें बाबा को याद करो तो कितनी उनको अटक पड़ेगी। घड़ी-घड़ी धन्धा याद आता रहेगा। सबसे सहज है माताओं को, उनसे भी कन्याओं को। जीते जी मरना है, सारी दुनिया को भूल जाना है। तुम अपने को आत्मा समझ शिवबाबा के बनते हो, इसको जीते जी मरना कहा जाता है। देह सहित देह के सब सम्बन्ध छोड़ अपने को आत्मा समझ शिवबाबा का बन जाना है। शिवबाबा को ही याद करते रहना है क्योंकि पापों का बोझा सिर पर बहुत है। दिल तो सबकी होती है, हम जीते जी मरकर शिवबाबा का बन जायें। शरीर का भान न रहे। हम अशरीरी आये थे फिर अशरीरी बनकर जाना है। बाप के बने हैं तो बाप के सिवाए दूसरा कोई याद न रहे। ऐसा जल्दी हो जाए तो फिर लड़ाई भी जल्दी लगे। बाबा कितना समझाते हैं हम तो शिवबाबा के हैं ना। हम वहाँ के रहने वाले हैं। यहाँ तो कितना दु:ख है। अभी यह अन्तिम जन्म है। बाप ने बताया है तुम सतोप्रधान थे तो और कोई नहीं था। तुम कितने साहूकार थे। भल इस समय पैसे कौड़ी हैं परन्तु यह तो कुछ है नहीं। कौड़ियां हैं। यह सब अल्पकाल सुख के लिए है। बाप ने समझाया है – पास्ट में दान-पुण्य किया है तो पैसा भी बहुत मिलता है। फिर दान करते हैं। परन्तु यह है एक जन्म की बात। यहाँ तो जन्म-जन्मान्तर के लिए साहूकार बनते हैं। जितना बड़ा कहावना, उतना बड़ा दु:ख पाना। जिनको बहुत धन है वह फिर बहुत फंसे हुए हैं। कभी ठहर न सकें। कोई साधारण गरीब ही सरेन्डर होंगे। साहूकार कभी नहीं होंगे। वह कमाते ही हैं पुत्र-पोत्रों के लिए कि हमारा कुल चलता रहे। खुद उस घर में नहीं आने वाले हैं। पुत्र पोत्रे आयें, जिन्होंने अच्छे कर्म किये हैं। जैसे बहुत दान जो करते हैं तो वह राजा बनते हैं। परन्तु एवरहेल्दी तो नहीं हैं। राजाई की तो क्या हुआ, अविनाशी सुख नहीं है। यहाँ कदम-कदम पर अनेक प्रकार के दु:ख होते हैं। वहाँ यह सब दु:ख दूर हो जाते हैं। बाप को पुकारते हैं कि हमारे दु:ख दूर करो। तुम समझते हो दु:ख दूर सब होने हैं। सिर्फ बाप को याद करते रहें। सिवाए एक बाप के और कोई से वर्सा मिल नहीं सकता। बाप सारे विश्व का दु:ख दूर करते हैं। इस समय तो जानवर आदि भी कितना दु:खी हैं। यह है ही दु:खधाम। दु:ख बढ़ता जाता है, तमोप्रधान बनते जाते हैं। अभी हम संगमयुग पर बैठे हैं। वह सब कलियुग में हैं। यह है पुरुषोत्तम संगमयुग। बाबा हमको पुरूषोत्तम बना रहे हैं। यह याद रहे तो भी खुशी रहे। भगवान पढ़ाते हैं, विश्व का मालिक बनाते हैं। यह भला याद करो। उनके बच्चे भगवान-भगवती होने चाहिए ना पढ़ाई से। भगवान तो सुख देने वाला है फिर दु:ख कैसे मिलता है? वह भी बाप बैठ समझाते हैं। भगवान के बच्चे फिर दु:ख में क्यों हैं, भगवान दु:ख हर्ता सुख कर्ता है तो जरूर दु:ख में आते हैं तब तो गाते हैं। तुम जानते हो बाप हमको राजयोग सिखा रहे हैं। हम पुरुषार्थ कर रहे हैं। इसमें संशय थोड़ेही हो सकता है। हम बी.के. राजयोग सीख रहे हैं। झूठ थोड़ेही बोलेंगे। कोई को यह संशय आये तो समझाना चाहिए, यह तो पढ़ाई है। विनाश सामने खड़ा है। हम हैं संगमयुगी ब्राह्मण चोटी। प्रजापिता ब्रह्मा है तो जरूर ब्राह्मण भी होने चाहिए। तुमको भी समझाया है तब तो निश्चय किया है। बाकी मुख्य बात है याद की यात्रा, इसमें ही विघ्न पड़ते हैं। अपना चार्ट देखते रहो – कहाँ तक बाबा को याद करते हैं, कहाँ तक खुशी का पारा चढ़ता है? यह आन्तरिक खुशी रहनी चाहिए कि हमको बागवान-पतित पावन का हाथ मिला है, हम शिवबाबा से ब्रह्मा द्वारा हैण्ड-शेक करते हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अपने घर और राजधानी को याद कर अपार खुशी में रहना है। सदा याद रहे – अब हमारी मुसाफिरी पूरी हुई, हम जाते हैं अपने घर, फिर राजधानी में आयेंगे।

2) हम शिवबाबा से ब्रह्मा द्वारा हैण्ड शेक करते हैं, वह बागवान हमें पतित से पावन बना रहे हैं। हम इस पढ़ाई से स्वर्ग की पटरानी बनते हैं – इसी आन्तरिक खुशी में रहना है।

वरदान:- अव्यभिचारी और निर्विघ्न स्थिति द्वारा फर्स्ट जन्म की प्रालब्ध प्राप्त करने वाले समीप और समान भव
जो बच्चे यहाँ बाप के गुण और संस्कारों के समीप हैं, सर्व सम्बन्धों से बाप के साथ का वा समानता का अनुभव करते हैं वही वहाँ रायल कुल में फर्स्ट जन्म के सम्बन्ध में समीप आते हैं। 2-फर्स्ट में वही आयेंगे जो आदि से अब तक अव्यभिचारी और निर्विघ्न रहे हैं। निर्विघ्न का अर्थ यह नहीं है कि विघ्न आये ही नहीं लेकिन विघ्न विनाशक वा विघ्नों के ऊपर सदा विजयी रहें। यह दोनों बातें यदि आदि से अन्त तक ठीक हैं तो फर्स्ट जन्म में साथी बनेंगे।
स्लोगन:- साइलेन्स की पॉवर से निगेटिव को पॉजिटिव में परिवर्तन करो।

 

TODAY MURLI 20 AUGUST 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 20 August 2019

Today Murli in Hindi:- Click Here

Read Murli 19 August 2019:- Click Here

20/08/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, this is the unlimited stage on which you souls are bound to play your parts. Each one’s part is fixed in this.
Question: What effort must you make to attain your karmateet stage?
Answer: In order to become karmateet, you have to surrender yourself completely. Nothing is yours, you should have forgotten everything; only then will you be able to become karmateet. Those who remember their wealth, property and children etc. cannot become karmateet. Therefore, Baba says: I am the Lord of the Poor. Poor children surrender themselves quickly; they are easily able to forget everything and stay in remembrance of the one Father.

Om shanti. The spiritual Father sits here and explains to His spiritual children. It is definitely in the intellects of you children that you now have to return home. This is not in the intellects of devotees. You know that this cycle of 84 is now ending. This is a very big, unlimited stage; it is an unlimited stage. You have to leave this old stage and go home. Impure souls cannot go there. You definitely have to become pure. It is now the end of this play. It is now the end of limitless sorrow. At this time, all of that which people consider to be heaven, is the pomp of Maya. There are so many palaces, cars etc. That is called the competition of Maya; it is a competition between hell and heaven. There is temporary happiness and it is the temptation of Maya. According to the drama, there are so many human beings. At first, there was just the one original eternal deity religion. Now the stage has become full. This cycle is now ending and all are tamopradhan. The world too is tamopradhan and it has to become satopradhan. The whole world has to be made new. It has continued to become new from old and old from new countless times. This is the eternal play; you cannot say when it began, it continues eternally. Only you know this; no one else knows this. You too didn’t know anything before you received this knowledge. Even the deities did not know this. Only you Brahmins of the most elevated confluence age know this, and this knowledge will then disappear. The Father is making you into the masters of the land of happiness, so what more do you want? You are attaining whatever you want from the Father and then there will be nothing left to attain. So, the Father explains: Children, You are the ones who have become the most impure. You are the first ones to come and play parts. So, you are the ones who have to return first. This is the cycle. You are the ones who will be threaded in the rosary first. This is the rosary of Rudra. All human beings of the world are threaded on a thread. They will leave that thread and go to the supreme abode, and they will then be threaded again in the same way. The rosary is very big. Shiv Baba has so many children. You deities are the first ones to come. This is the unlimited rosary in which all are threaded like beads. The rosary of Rudra and the rosary of Vishnu are remembered. There is no rosary of Prajapita Brahma. There is no rosary of you Brahma Kumars and Kumaris because you ascend and descend and become defeated. Maya repeatedly makes you fall. This is why a rosary of Brahmins is not created. When you pass fully, the rosary of Vishnu will be created. In fact, there is also the genealogical tree of Prajapita Brahma. When you pass, it will be said that there is a rosary of Brahma too. The genealogical tree has been created. The rosary cannot be created at this time because you become pure today but, tomorrow, Maya would slap you and make you lose everything. Then, everything you had earned would be lost. You then break. Just think about where you fall from! The Father makes you into the masters of the world. By following His shrimat, you can claim a high status. If you are defeated, everything is over. The vice of lust is the greatest enemy. You must not be defeated by it. All the other vices are its children. The greatest enemy is the vice of lust. It is this that you have to conquer. By conquering lust you will become conquerors of the world. These five vices have been your enemy for half the cycle and they don’t leave you alone. Everyone is crying out that they have to get angry but what need is there for that? Everything can also be achieved with love. If you explain to a thief with love, he will quickly tell you the truth. The Father says: I am the Ocean of Love. So, children, you also have to do everything with love. It doesn’t matter what position someone has – even those from the military come to Baba – Baba explains to them too: If you want to go to heaven, simply remember Shiv Baba. They are told: If you die on the battlefield you will go to heaven. In fact, this is the battlefield. Those people die whilst fighting in a battle and then they take another birth here because they carry those sanskars with them; they cannot go to heaven. So, Baba used to explain to them: By remembering Shiv Baba, you can go to heaven because heaven is being established. Only by having remembrance of Shiv Baba will your sins be absolved. If you take even a little of this knowledge, this imperishable knowledge can never be destroyed. When you children hold gatherings etc. so many subjects etc. are created. You are the spiritual army. There are a few commanders, majors etc. here. Many subjects are created. Those who explain well will claim one good status or another. There are the first, second and third grades amongst them too. You continue to give them teachings and some become exactly like you. Some can even go ahead of everyone. It has been seen that they go ahead of one another. New ones go ahead of older ones. If you have complete yoga with the Father, you can go very high. Everything depends on yoga. You must be feeling that this knowledge is very easy. There are obstacles in your having remembrance of the Father. The Father says: When you have your meals, have them in remembrance. However, some stay in remembrance for two minutes or five minutes. It is very difficult for anyone to stay in remembrance the whole time. Maya takes you somewhere or other and makes you forget. Only when you have remembrance of no one but the Father will you reach your karmateet stage. If anything is yours, you would definitely remember it. Nothing should be remembered. This Baba is an example. What would he remember? Would he remember his children or his wealth etc? He only remembers you children. The Father would definitely remember you because He has come to benefit you. He remembers everyone but, even then, His intellect is drawn to the flowers. There are many types of flower. Some are without fragrance; it is a garden. The Father is also called the Master of the Garden and the Gardener. You know how people fight and quarrel out of anger; they have a lot of body consciousness. The Father explains: If anyone gets angry, you should remain quiet. Anger is an evil spirit. You must respond to an evil spirit in silence. The Shrimad Bhagawad Gita, the directions of God, is the jewel of all scriptures. It is God alone who comes and tells us about Godly directions, devilish directions and divine directions. He gives the knowledge of Raj Yoga. This knowledge will then disappear. What would you do with the knowledge once you have become kings of kings? You receive the reward for 21 births. You won’t be aware there that that is the fruit of this particular effort. You have gone to the golden age many times; this cycle continues to turn. The golden and silver ages are the fruit of knowledge. It isn’t that you receive knowledge there. The Father comes here and gives you knowledge, the fruit of devotion. The Father has told you that you have done the most devotion. Now remember the one Father and you will become satopradhan from tamopradhan. This requires effort. Remember the beginning, middle and end of creation and you will become the rulers of the globe. God makes you children into gods and goddesses. However, it is wrong to call bodily beings gods and goddesses. There is a deep connection between Brahma, Vishnu and Shankar. This Brahma will then become Vishnu, and Shiva enters this one. Those who are in the subtle region are called angels. You have to become angels. You have visions but, otherwise there is nothing there. There is silence, then movie and then there is talkie here. This is the detail but you are told in a nutshell once again: Manmanabhav! Constantly remember Me alone and also remember the world cycle! While sitting here, remember the land of peace and the land of happiness! Continue to forget this old land of sorrow! This is unlimited renunciation with your intellects. Theirs is limited renunciation. Those on the path of isolation cannot give the knowledge of the family path. To become kings and queens is the family path. There is only happiness there. Those people (sannyasis) don’t believe in happiness. There are millions of sannyasis. Their sustenance and income comes from householders. Firstly, you spent your money on giving donations and doing charity and then you did sinful business and so you became sinful souls. You children now have an exchange of the imperishable jewels of knowledge with one another. Those people who build dharamshalas etc. receive good fruit in their next birth. That One is the unlimited Father. This is direct and the other is indirect. They surrender everything to God, but neither are hungry for this. Shiv Baba is the Bestower. Would He be hungry? Shri Krishna is not the Bestower. The Father is the One who gives to everyone; He doesn’t take. When you give one, you receive ten-fold in return. When the poor give even two rupees, they receive multimillions in return. (The example of Sudama). Bharat was the Golden Sparrow. The Father made you so wealthy. There was limitless wealth in the Somnath Temple. Those people looted so much. There were very big diamonds and jewels there. Now, you can’t even see them anywhere; they have all been cut up. History will then repeat. There, all the mines will be full for you. The diamonds and jewels there will be like stones. The Father gives you the imperishable jewels of knowledge with which you become very wealthy. So, you sweetest children should be so happy. The more you continue to study, the higher the mercury of your happiness will rise. When someone passes an important examination, it remains in his intellect: I pass this and then become this and do that. You too know that you will become those deities. Those are non-living images whereas we will exist there in the living form. Where did the pictures that you created come from? You saw them in divine visions. The pictures are very wonderful. Some people think that Brahma made them. If he had learnt this from someone, there wouldn’t have been just one person who learnt it; others would have learnt it as well. This one says: I have not learnt anything. It was the Father who had them made through your divine visions. All of these pictures have been made according to shrimat. They are not pictures made through human dictates. All of them will be destroyed. No name or trace of them will remain. It is the end of this world. There is so much paraphernalia of devotion. None of that will remain. Everything will be new in the new world. You have become the masters of heaven many times and then Maya defeated you. Vices, not wealth, are called Maya. You children have been trapped in the chains of Ravan for half the cycle. Ravan is the oldest enemy. His kingdom continues for half the cycle. When they say that it is hundreds of thousands of years, the calculation of half and half would not then be right. There is so much difference! The Father has told you that the duration of the whole cycle is 5000 years. There cannot be 8.4 million species. That is a great lie. Did the deities of the sun and moon dynasties rule for hundreds of thousands of years? Their intellects do not function. Sannyasis believe that if they considered themselves to be wrong at this time, all their followers would leave them and there would then be a revolution. This is why they do not follow your directions now and leave their kingdoms. They will understand a little at the end, but not now. Wealthy ones will not take knowledge either. The Father says: I am the Lord of the Poor. Wealthy people would not surrender themselves and claim their karmateet stage. The Father is the very powerful Stockbroker. He only takes from the poor. If He took from the wealthy, He would have to give that much in return. The wealthy hardly come because they have to forget everything here. Only when you have nothing with you can you reach your karmateet stage. Wealthy ones are not able to forget. Those who received their inheritance in the previous cycle will do so. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Just as the Father is the Ocean of Love, similarly, become master oceans of love and get things done with love. Do not get angry. If someone does get angry, remain silent.
  2. Forget this old world of sorrow from your intellects and become unlimited sannyasis. Remember the land of peace and the land of happiness. Exchange the imperishable jewels of knowledge with one another.
Blessing: May you be a great soul who remains stable in the form of the mantra of “Manmanabhav” and “Madhyajibhav”.
As well as the blessing of “Manmanabhav” you children have also received the blessing of “Madhyajibhav”. Let your form of heaven remain in your awareness: this is known as being “Madhyajibhav. Those who maintain the intoxication of their elevated attainments can remain stable in the form of the mantra of “Madhyajibhav”. Those who are “Madhyajibhav” are anyway “Manmanabhav”. Every thought, word and deed of such children become great. To become an embodiment of this awareness means to become a great soul.
Slogan: Happiness is your special treasure; never let go of this treasure.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 20 AUGUST 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 20 August 2019

To Read Murli 19 August 2019:- Click Here
20-08-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

मीठे बच्चे – यह है बेहद की अनलिमिटेड स्टेज, जिसमें तुम आत्मायें पार्ट बजाने के लिए बांधी हुई हो, इसमें हरेक का फिक्स पार्ट है”
प्रश्नः- कर्मातीत अवस्था को प्राप्त करने का पुरूषार्थ क्या है?
उत्तर:- कर्मातीत बनना है तो पूरा-पूरा सरेन्डर होना पड़े। अपना कुछ नहीं। सब कुछ भूले हुए होंगे तब कर्मातीत बन सकेंगे। जिन्हें धन, दौलत, बच्चे आदि याद आते, वह कर्मातीत बन नहीं सकते इसलिए बाबा कहते मैं हूँ गरीब निवाज़। गरीब बच्चे जल्दी सरेन्डर हो जाते हैं। सहज ही सब कुछ भूल एक बाप की याद में रह सकते हैं।

ओम् शान्ति। रूहानी बाप बैठ अपने रूहानी बच्चों को समझाते हैं, बच्चों की बुद्धि में जरूर है कि अब घर जाना है। भक्तों की बुद्धि में नहीं रहता। तुम जानते हो यह 84 का चक्र अब पूरा हुआ। यह बहुत बड़ा बेहद का माण्डवा अथवा स्टेज है। अनलिमिटेड स्टेज है। इस पुराने माण्डवे को छोड़ घर जाना है। अपवित्र आत्मायें तो जा नहीं सकती। पवित्र जरूर बनना है। अब इस खेल का अन्त है। अपरमपार दु:खों की अब पिछाड़ी है। इस समय यह सब माया का पाम्प है, जिसको मनुष्य स्वर्ग समझते हैं, कितने महल, माड़ियां, मोटरें आदि हैं, इसको कहा जाता है माया का कॉम्पीटीशन। नर्क की स्वर्ग के साथ कॉम्पीटीशन है। अल्पकाल के लिए सुख है। यह है माया की लालच, ड्रामा अनुसार। कितने ढेर मनुष्य हैं। पहले तो सिर्फ एक आदि सनातन देवी-देवता धर्म ही था। अब तो माण्डवा फुल भर गया है। अब यह चक्र पूरा होता है सब तमोप्रधान हैं, सृष्टि भी तमोप्रधान है फिर सतोप्रधान होनी है। सारी सृष्टि नई चाहिए ना। नई से पुरानी, पुरानी से नई यह तो अनगिनत बार चलता आया है। अनादि खेल है। कब शुरू हुआ यह नहीं कह सकते। अनादि चलता ही रहता है। यह भी तुम जानते हो और कोई नहीं जानता। तुम भी इस ज्ञान मिलने के पहले कुछ नहीं जानते थे। देवता भी नहीं जानते थे सिर्फ तुम पुरूषोत्तम संगमयुगी ब्राह्मण ही जानते हो फिर यह ज्ञान प्राय: लोप हो जायेगा। बाप ने सुखधाम का मालिक बनाया बाकी और क्या चाहिए। बाप से जो पाना था, पा लिया बाकी कुछ पाने के लिए रहता नहीं। तो बाप समझाते हैं – बच्चे, तुम ही सबसे जास्ती पतित बने हो। पहले-पहले तुम ही आये हो पार्ट बजाने। तुमको ही पहले जाना पड़ेगा। चक्र है ना। पहले-पहले तुम ही माला में पिरोयेंगे। यह रूद्र माला है ना। धागे में सारी दुनिया के मनुष्य पिरोये हुए हैं। धागे से निकल परमधाम में चले जायेंगे फिर ऐसे ही धागे में पिरोये जायेंगे। बहुत बड़ी माला है। शिवबाबा को कितने ढेर बच्चे हैं। पहले-पहले तुम देवतायें आते हो। यह है बेहद की माला, जिसमें सब मणके मिसल पिरोये हुए हो। रूद्र माला और विष्णु की माला गाई जाती है। प्रजापिता ब्रह्मा की माला नहीं है। तुम ब्रह्माकुमार-कुमारियों की माला होती नहीं क्योंकि तुम चढ़ते, गिरते हो, हार खाते हो। घड़ी-घड़ी माया गिरा देती है इसलिए ब्राह्मणों की माला नहीं बनती, जब पूरे पास हो जाते हो तब विष्णु की माला बनती है। यूं तो प्रजापिता ब्रह्मा का भी सिजरा है। जब पास हो जाते हैं तो कहेंगे ब्रह्मा की भी माला है। सिजरा बना हुआ है। इस समय माला नहीं बन सकती है क्योंकि आज पवित्र बनते, कल फिर माया थप्पड़ मार कला काया ही निकाल देती। की कमाई चट हो जाती है। टूट पड़ते हैं। कहाँ से गिरते हैं, विचार करो। बाप तो विश्व का मालिक बनाते हैं। उनकी श्रीमत पर चलने से तुम ऊंच पद पा सकते हो। हार खाई तो खलास। काम विकार महाशत्रु है, उनसे हार नहीं खानी है। बाकी सब विकार हैं बाल बच्चे। बड़ा शत्रु है काम विकार। उनके ऊपर ही जीत पानी है। काम पर जीत पाने से तुम जगतजीत बनेंगे। यह 5 विकार आधाकल्प के दुश्मन हैं, वह भी छोड़ते नहीं हैं। सब चिल्लाते हैं क्रोध करना पड़ता है, परन्तु दरकार क्या पड़ी है, प्यार से भी काम हो सकता है। चोर को भी प्यार से अगर समझायेंगे तो वह झट सच कह देंगे। बाप कहते हैं मैं प्यार का सागर हूँ ना, तो बच्चों को भी प्यार से काम लेना है। भल कोई भी पोजीशन हो। बाबा के पास मिलेट्री वाले भी आते हैं। उन्हों को भी बाबा समझाते हैं तुम स्वर्ग में जाना चाहते हो तो सिर्फ शिवबाबा को याद करो। उन्हें कहा जाता है – तुम युद्ध के मैदान में मरेंगे तो स्वर्ग में जायेंगे। वास्तव में युद्ध का मैदान तो यह है। वह तो लड़ाई करते-करते मर जाते हैं तो फिर वहाँ जाकर जन्म लेते हैं क्योंकि संस्कार ले जाते हैं। स्वर्ग में तो जा न सकें। तो बाबा उन्हों को समझाते थे शिवबाबा को याद करने से तुम स्वर्ग में जा सकते हो क्योंकि स्वर्ग की स्थापना हो रही है। शिवबाबा की याद से ही विकर्म विनाश होंगे। यह थोड़ा भी ज्ञान मिला ना तो अविनाशी ज्ञान का विनाश नहीं होता है।

तुम बच्चे यह मेला आदि करते हो तो कितनी प्रजा बनती है। तुम रूहानी सेना हो ना इसमें कमान्डर, मेजर आदि थोड़े होते हैं, प्रजा तो बहुत बनती है। जो अच्छी रीति समझाते हैं तो कुछ न कुछ अच्छा पद पाते हैं। उनमें भी फर्स्ट, सेकण्ड, थर्ड ग्रेड होती हैं। तुम शिक्षा देते रहते हो, कोई तो बिल्कुल आपसमान बन जाते हैं। कोई सबसे ऊपर भी जा सकते हैं। देखा जाता है एक-दो से ऊपर चले जाते हैं। नये-नये पुरानों से तीखे चले जाते हैं। बाप से पूरा योग लग जाये तो बहुत ऊंच चला जायेगा। सारा मदार है योग पर। नॉलेज तो बहुत सहज है, तुम फील करते होंगे। बाप की याद में विघ्न पड़ते हैं। बाप कहते हैं भोजन खाओ तो भी याद में। परन्तु कोई 2 मिनट, कोई 5 मिनट याद में रहते हैं। सारा समय याद में रहें, बड़ा मुश्किल है। माया कहाँ न कहाँ उड़ाय भुला देती है। सिवाए बाप के और कोई की याद नहीं रहेगी तब ही कर्मातीत अवस्था होगी। अगर कुछ भी अपना होगा तो वह याद जरूर पड़ेगा। कुछ भी याद न आये, यह बाबा मिसाल है, इनको क्या याद आयेगा? कोई बाल बच्चे, धन आदि है? सिर्फ तुम बच्चे ही याद आते हो। तुम तो जरूर बाप को याद पड़ेंगे ही क्योंकि बाप आये हैं कल्याण करने के लिए। याद सबको करते हैं। परन्तु फिर भी बुद्धि फूलों तरफ ही चली जाती है। फूल अनेक प्रकार के होते हैं। कोई बिगर खुशबू भी होते हैं। बगीचा है ना। बाप को बागवान, माली भी कहते हैं। यह तो तुम जानते हो – मनुष्य क्रोध में आकर कितना लड़ते-झगड़ते हैं। बहुत देह अभिमान है। बाप समझाते हैं – कभी कोई क्रोध करे तो शान्त रहना चाहिए। क्रोध भूत है ना। भूत के आगे शान्ति से रेसपान्ड देना है।

सर्व शास्त्र शिरोमणी श्रीमद् भगवद गीता है ईश्वरीय मत की। ईश्वरीय मत, आसुरी मत और दैवी मत एक ईश्वर ही आकर बताते हैं। राजयोग की नॉलेज देते हैं। फिर यह नॉलेज गुम हो जायेगी। राजाओं का राजा बन गया फिर नॉलेज क्या करेंगे? 21 जन्म तो प्रालब्ध भोगते हो। वहाँ यह मालूम नहीं पड़ता है कि इस पुरूषार्थ का यह फल है। अनेक बार तुम सतयुग में गये हो। यह चक्र फिरता रहता है। सतयुग-त्रेता है ज्ञान का फल। ऐसे नहीं कि वहाँ ज्ञान मिलता है। बाप आकर यहाँ भक्ति का फल ज्ञान देते हैं। बाप ने बताया है तुमने जास्ती भक्ति की है। अब एक बाप को याद करो तो तमोप्रधान से सतोप्रधान बन जायेंगे। इसमें है मेहनत। रचना के आदि-मध्य-अन्त को याद करो तो चक्रवर्ती राजा बन जायेंगे। भगवान् बच्चों को भगवान्-भगवती बनायेंगे ना। परन्तु देहधारी को भगवान्-भगवती कहना रांग है। ब्रह्मा, विष्णु और शिव का कितना सम्बन्ध है। यह ब्रह्मा फिर विष्णु बनने वाला है और इसमें शिव की प्रवेशता है। सूक्ष्मवतन वालों को फरिश्ता कहा जाता है। तुमको फरिश्ता बनना है, साक्षात्कार होता है, बाकी कुछ है नहीं। साइलेन्स, मूवी और यहाँ टॉकी। यह है डिटेल। बाकी नटशेल में तो फिर भी कहते हैं मनमनाभव, मामेकम् याद करो और सृष्टि चक्र को याद करो। यहाँ बैठे हो तो भी शान्तिधाम, सुखधाम को याद करो। इस पुराने दु:खधाम को भूल जाओ। यह है बेहद का सन्यास बुद्धि से। उनका है हद का सन्यास। वह निवृत्ति मार्ग वाले प्रवृत्ति मार्ग का ज्ञान दे न सके। राजा-रानी बनना प्रवृत्ति मार्ग है। वहाँ है ही सुख। वह तो सुख को मानते ही नहीं। सन्यासी भी करोड़ों की अंदाज में हैं। उन्हों की परवरिश वा कमाई होती है गृहस्थियों से। एक तो तुमने दान-पुण्य में लगाया, फिर पाप का धन्धा किया तो पाप आत्मा बन पड़े। तुम बच्चे तो अभी अविनाशी ज्ञान रत्नों की लेन-देन करते हो। वे धर्मशाला आदि बनवाते हैं तो दूसरे जन्म में अच्छा फल मिलेगा। यह तो है बेहद का बाप। यह है डायरेक्ट, वह है इन डायरेक्ट। ईश्वर अर्पणम करते हैं। अब भूख तो दोनों को है नहीं। शिव बाबा तो दाता है, उनको भूख होगी क्या। श्रीकृष्ण दाता नहीं। बाप तो सबको देने वाला है, लेने वाला नहीं है। एक देवे 10 पावे, गरीब 2 रूपया देते हैं तो पद्म मिल जाते हैं (सुदामा का मिसाल)। भारत सोने की चिड़िया था ना। बाप ने कितना धनवान बनाया। सोमनाथ के मन्दिर में कितना अकीचार धन था। कितना लूटकर ले गये।। बड़े-बड़े हीरे-जवाहर थे। अब तो देखने में भी नहीं आते, कटकुट हो गये। फिर हिस्ट्री रिपीट होगी। वहाँ सब खानियां तुम्हारे लिए भरपूर हो जायेंगी। हीरे जवाहर तो वहाँ जैसे पत्थर मिसल रहते हैं। बाप अविनाशी ज्ञान रत्न देते हैं, जिससे तुम अथाह धनवान बन जाते हो। तो मीठे-मीठे बच्चों को कितनी खुशी होनी चाहिए। जितना पढ़ते रहेंगे, खुशी का पारा चढ़ता रहेगा। बड़ा इम्तहान पास करते हैं तो बुद्धि में रहता है ना – यह पास कर फिर यह बनेंगे, यह करेंगे। तुम भी जानते हो यह देवता बनेंगे। यह तो जड़ चित्र हैं। हम वहाँ चैतन्य बनेंगे। यह चित्र भी तुमने जो बनाये कहाँ से आये? दिव्य दृष्टि से तुम देख आये हो। चित्र बड़े वन्डरफुल है। कोई समझेंगे यह ब्रह्मा ने बनाये हैं। अगर यह कोई से सीखा होता तो सिर्फ एक थोड़ेही सीखा होता, और भी सीखे हुए होते ना। यह कहते हैं मैं कुछ भी सीखा हुआ नहीं हूँ। यह तो बाप ने दिव्य दृष्टि द्वारा बनवाये हैं। यह चित्र सब श्रीमत से बने हुए हैं। यह मनुष्य मत के नहीं हैं। यह सब खलास हो जायेंगे। कुछ भी नाम निशान नहीं रहेगा। इस सृष्टि का ही अन्त है। भक्ति की कितनी सामग्री है। यह नहीं रहेगी। नई दुनिया में सब कुछ नया। तुम अनेक बार स्वर्ग के मालिक बने हो फिर माया ने हराया है। माया विकारों को कहा जाता है, न कि धन को। तुम बच्चे रावण की जंजीर में आधाकल्प से फँसे हुए थे। रावण है सबसे पुराना दुश्मन। आधाकल्प उनका राज्य चलता है। लाखों वर्ष कह देने से फिर आधा-आधा का हिसाब ही नहीं निकलता। कितना फ़र्क है। तुमको तो बाप ने बताया है, सारे कल्प की आयु ही 5 हजार वर्ष है। 84 लाख योनियां तो हैं नहीं। यह बड़ा गपोड़ा है। सूर्यवंशी, चन्द्रवंशी देवी-देवता इतने लाखों वर्ष राज्य करते थे क्या। यह बुद्धि काम नहीं करती। सन्यासी तो समझते हैं अभी हम अपने को रांग मान लेवें तो सब फालोअर्स हमको छोड़ देंगे। रेवोल्युशन हो जाए इसलिए अभी वो तुम्हारी मत पर चल अपनी राजाई नहीं छोड़ेंगे। पिछाड़ी में कुछ समझेंगे, अभी नहीं। न साहूकार लोग ही ज्ञान लेंगे। बाप कहते हैं मैं गरीब निवाज़ हूँ। साहूकार लोग कभी सरेन्डर होकर कर्मातीत अवस्था को पा नहीं सकेंगे। बाप तो बड़ा जबरदस्त सर्राफ है। गरीबों का ही लेंगे। साहूकारों का लेवें तो फिर इतना देना पड़े। साहूकार उठते ही मुश्किल हैं क्योंकि इसमें सब कुछ भूलना पड़ता है। कुछ भी पास न रहे तब कर्मातीत अवस्था हो। साहूकार लोग तो भूल नहीं सकेंगे, जिन्होंने कल्प पहले वर्सा लिया है वही लेंगे। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) जैसे बाप प्यार का सागर है, ऐसे मास्टर प्यार का सागर बन प्यार से काम निकालना है। क्रोध नहीं करना है। क्रोध कोई करे तो तुम्हें शान्त रहना है।

2) बुद्धि से इस पुरानी दु:ख की दुनिया को भूल बेहद का सन्यासी बनना है। शान्तिधाम और सुखधाम को याद करना है। अविनाशी ज्ञान रत्नों की लेन-देन करनी है।

वरदान:- मन्मनाभव के साथ मध्याजी भव के मंत्र स्वरूप में स्थित रहने वाले महान आत्मा भव
आप बच्चों को मन्मनाभव के साथ मध्याजी भव का भी वरदान है। अपना स्वर्ग का स्वरूप स्मृति में रहे इसको कहते हैं मध्याजी भव। जो अपने श्रेष्ठ प्राप्तियों के नशे में रहते हैं वही मध्याजी भव के मंत्र स्वरूप में स्थित रह सकते हैं। जो मध्याजी भव हैं वह मन्मनाभव तो होंगे ही। ऐसे बच्चों के हर संकल्प, हर बोल और हर कर्म महान हो जाते हैं। स्मृति स्वरूप बनना माना महान आत्मा बनना।
स्लोगन:- खुशी आपका स्पेशल खजाना है, इस खजाने को कभी नहीं छोड़ना।

Brahma kumaris murli 20 August 2017 : Daily Murli (Hindi)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 20 August 2017

August 2017 Bk Murli :- Click Here

To Read Murli 19 August 2017 :- Click Here

20/08/17
मधुबन
“अव्यक्त-बापदाद”‘
ओम् शान्ति
25-12-82

विधि, विधान और वरदान

आज सर्व स्नेही बच्चों के स्नेह का रेसपान्ड करने के लिए बापदादा को भी मिलने के लिए आना पड़ा है। सारे विश्व के बच्चों के स्नेह का, याद का आवाज बाप-दादा के वतन में मीठे-मीठे साज़ के रूप में पहुँच गया। जैसे बच्चे स्नेह के गीत गाते हैं, बापदादा भी बच्चों के गुणों के गीत गाते हैं। जैसे बच्चे कहते कि ऐसा बाप-दादा कल्प में नहीं मिलेगा, बाप-दादा भी बच्चों को देख कहते कि ऐसे बच्चे भी कल्प में नहीं मिलेंगे। ऐसी मीठी-मीठी रूह-रूहान बाप और बच्चों की सदा सुनते रहते हो? बाप और आप कम्बाइन्ड रूप है ना। इसी स्वरूप को ही सहजयोगी कहा जाता है। योग लगाने वाले नहीं लेकिन सदा कम्बाइन्ड अर्थात् साथ रहने वाले। ऐसी स्टेज अनुभव करते हो वा बहुत मेहनत करनी पड़ती है? बचपन का वायदा क्या किया? साथ रहेंगे, साथ जियेंगे, साथ चलेंगे। यह वायदा किया है ना, पक्का? साकार की पालना के अधिकारी आत्मायें हो। अपने भाग्य को अच्छी तरह से सोचो और समझो।

(बपदादा के सामने दादाराम और सावित्री बहन का लौकिक परिवार बैठा हुआ है) ऐसे कोटों में कोई भाग्य विधाता के सम्मुख सम्पर्क में आते हैं। अभी समय आने पर यह अपना भाग्य स्मृति में आयेगा। आदि पिता को पाना, यह है भाग्य की श्रेष्ठ निशानी। सदा साथ रहने वाले निरन्तर योगी, सदा सहजयोगी, उड़ती कला में जाने वाले, सदा फरिश्ता स्वरूप हो?

आज बड़ा दिन मनाने के लिए बुलाया है। बड़े ते बड़े बाप के साथ बड़े ते बड़े बड़ा दिन और मिलन मना रहे हैं। बड़ा दिन अर्थात उत्सव का दिन। जब बड़ा दिन मनाते हैं तो बुरे दिन समाप्त हो जाते हैं। सिर्फ आज का दिन मनाने का नहीं, लेकिन सदा मनाना अर्थात् उमंग-उत्साह में सदा रहना। अविनाशी बाप, अविनाशी दिन, अविनाशी मनाना। बड़ा दिन मनाना अर्थात् स्वयं को सदा के लिए बड़े ते बड़ा बनाना। सिर्फ मनाना नहीं लेकिन बनना और बनाना है। सर्व आत्माओं को बड़े दिन की गिफ्ट कौन सी देंगे? जो भी आत्मा सम्पर्क में आवे उनको ईश्वरीय अलौकिक स्नेह, शक्ति गुण, सर्व का सहयोग देने के लिफ्ट की गिफ्ट दो। जिससे ऐसी सम्पन्न आत्मायें बन जाऍ जो कोई भी अप्राप्ति अनुभव न करें। ऐसी गिफ्ट दे सकते हो? स्वयं सम्पन्न हो? औरों को देने के लिए पहले अपने पास जमा होगा तब तो दे सकेंगे ना। अच्छा आज तो गिफ्ट देने और गिफ्ट लेने आये हैं ना। सिर्फ लेंगे वा देंगे भी? शक्ति सेना क्या करेगी? लेने और देने में मजा आता है वा सिर्फ लेने में? दाता को देना हुआ या लेना हुआ? बाप भी लेते हैं किसलिए? पदमगुणा करके परिवर्तन कर देने के लिए। बाप को आवश्यकता है क्या? बाप के पास है ही बच्चों को देने के लिए इसलिए बाप दाता भी है, विधाता भी है, वरदाता भी है, जितना बाप बच्चों के भाग्य को जानते उतना बच्चे अपने भाग्य को नहीं जानते। यह भाग्य के दिन सदा समर्थ बनाने के दिन सदा याद रखना। यह सारा ही लक्की परिवार है क्योंकि इस परिवार के निमित्त बीज के कारण वृक्ष आगे बढ़ रहा है और बढ़ता ही रहेगा। उस आत्मा की श्रेष्ठ कामनायें सारे परिवार को लिफ्ट की गिफ्ट के रूप में मिली हुई हैं क्योंकि पवित्र शुद्ध आत्मा थी इसलिए पवित्रता का जल प्रत्यक्ष फल दे रहा है, समझा? साकार रूप में निमित्त माता गुरू (सावित्री) भी बैठी है। माता गुरू बनी और पिता ने लिफ्ट की गिफ्ट दी। अब इस परिवार को क्या करना है? फालो फादर करना है ना। इसमें कुछ छोड़ना नहीं पड़ेगा। डरो नहीं। अच्छा।

डबल विदेशी बच्चे भी पहुँच गये हैं। बाप-दादा भी अभी विदेशी हैं, ब्रह्मा बाप भी तो विदेशी हो गया ना। विदेशी, विदेशी से मिलें तो कितनी बड़ी अच्छी बात है। बाप-दादा को सर्व बच्चों की, उसमें भी विशेष निमित्त डबल विदेशी बच्चों की एक विशेष बात देख हर्ष होता है। वह कौन सी? विदेशी बच्चों के विशेष मिलन की लगन बाप दादा के पास आज विशेष रूप में पहुँची। साकारी दुनिया के हिसाब से भी आज का दिन विशेष विदेशियों का माना हुआ है। टोली, मिठाई खाई वा अभी खानी है। बाप-दादा मिठाई खिलाते-खिलाते मीठा बना देते हैं, स्वयं तो मीठे बन गये ना। चारों और के आये हुए बच्चों को, मधुबन निवासी बच्चों को बापदादा स्नेह का रिटर्न सदा कम्बाइन्ड अर्थात् सदा साथ रहने का वरदान और वर्सा दे रहे हैं। डबल अधिकारी हो। वर्सा भी मिलता है और वरदान भी। जहाँ कोई मुश्किल अनुभव हो तो वरदाता के रूप में स्मृति में लाओ। तो वरदाता द्वारा वरदान रूप में प्राप्ति होने से मुश्किल सहज हो जायेगी और प्रत्यक्ष प्राप्ति की अनुभूति होगी।

आज के दिन का विशेष स्लोगन सदा स्मृति में रखना। 3 शब्द याद रखना – विधि, विधान और वरदान। विधि से सहज सिद्धि स्वरूप हो जायेंगे। विधान से विश्व निर्माता, वरदान से वरदानी मूर्त बन जायेंगे। यही 3 शब्द सदा समर्थ बनाते रहेंगे। अच्छा।

चारों ओर के सर्व सिकीलधे, बड़े ते बड़े बाप के बड़े ते बड़े बच्चे, सर्व को सम्पन्न बनाने वाले, ऐसे मास्टर विधाता, वरदानी बच्चों को, माया को विदाई देने की बधाई। इस बधाई के साथ-साथ आज विशेष रूप में बच्चों को उमंग-उत्साह की भी बधाई। सर्व को, जो आकार वा साकार में सम्मुख हैं, ऐसे सर्व सम्मुख रहने वाले बच्चों को बहुत-बहुत याद प्यार और नमस्ते।

दीदी-दादी से:- आप दोनों को देख बापदादा को क्या याद आता होगा? जहान के नूर तो हो ही लेकिन पहले बाप के नयनों के नूर हो। कहावत है कि नूर नहीं तो जहान नहीं। तो बापदादा भी नूरे रत्नों को ऐसे ही स्थापना के कार्य में विशेष आत्मा देखते हैं। करावनहार तो कर रहा है, लेकिन करनहार निमित्त बच्चों को बनाते हैं। करनकरावनहार, इस शब्द में भी बाप और बच्चे दोनों कम्बाइन्ड हैं ना। हाथ बच्चों का और काम बाप का। हाथ बढ़ाने का गोल्डन चांस बच्चों को ही मिला है। बड़े ते बड़ा कार्य भी कैसा लगता है? अनुभव होता है ना कि कराने वाला करा रहा है। निमित्त बनाए चला रहा है। यही आवाज सदा मन से निकलता है। बापदादा भी सदा बच्चों के हर कर्म में करावनहार के रूप में साथी हैं। साथ हैं वा चले गये हैं? ऑख मिचौली का खेल खेला है। खेल भी बच्चों से ही करेंगे ना। खेल में क्या होता है? ताली बाजाई और खेल शुरू हुआ। यह भी ड्रामा की ताली बजी और ऑख मिचौली का खेल शुरू हुआ।

अब स्वीट होम का गेट कब खोलेंगे? जैसे कानफ्रेन्स की डेट फिक्स की है, हाल बनाने की डेट फिक्स की, तो उसका प्रोग्राम नहीं बनाया? गेट खोलने के पहले सामग्री तो आप तैयार करेंगे वा वह भी बाप करे – वह तैयार है? ब्रह्मा बाप तो एवररेडी है ही। अब साथी भी एवररेडी चाहिए ना।

8 की माला बना सकते हो? अभी बन सकती है? पहले 8 की माला तैयार हो गई तो फिर और पीछे वाले तैयार हो ही जायेंगे। आठ एवररेडी हैं? नाम निकाल कर भेजना। सभी वेरीफाय करें कि हाँ। इसको कहेंगे एवररेडी। बाप पसन्द, ब्राह्मण परिवार पसन्द और विश्व की सेवा के पसन्द। यह तीनों विशेषता जब होंगी तब कहेंगे एवररेडी हैं। पहले कंगन तैयार होगा फिर बड़ी माला तैयार होगी। अच्छा।

सावित्री बहन से- अपने गुप्त वरदानों को प्रत्यक्ष रूप में देख रही हो? अब समझती हो मैं कौन हूँ? सर्विसएबुल की लिस्ट में अपना नम्बर आगे समझती हो ना। सर्विस के प्रत्यक्ष फल के निमित्त बनी। निमित्त तो फिर भी बीज कहेंगे ना। सर्विसएबुल की लिस्ट में बहुत आगे हो, सिर्फ कभी कभी अपने को भूल जाती हो। जब बापदादा स्वीकार कर रहे हैं तो बाकी क्या चाहिए। सभी की सर्विस एक जैसी नहीं होती। वैरायटी आत्मायें हैं, वैरायटी सेवा का तरीका है। ज्यादा सोचने से नहीं होगा, स्वत: होगा। अपने को सदा बाप के समीप रत्न समझो, अधिकारी जन्म से हो। जन्म से फास्ट गई ना। समीप रहने का वरदान जन्मते ही मिला। साकार में समीप रहने का वरदान कितनों को मिला। गिनती करो तो ऐसे वरदानी ढूँढते भी मुश्किल मिलेंगे इसलिए बाप के समीप समझते हुए आगे बढ़ते रहो। जितना होता, जैसा होता कल्याणकारी। सोचो नहीं, नि:संकल्प रहो। बाप का वायदा है, बाप सदा साथ निभाते रहेंगे। अपना संकल्प भी बाप के ऊपर छोड़ दो। सर्विस बढ़ेगी या नहीं बढ़ेगी, बाप जाने। नहीं बढ़ेगी तो बाप जिम्मेवार है, आप नहीं। इतनी निश्चिन्त रहो। आपने तो बाप के आगे अपना संकल्प रख दिया ना। तो जिम्मेवार कौन? सिकीलधे हो – कितने सिक से बाप ने ढूंढा। पहला पहला सेवा का रत्न सारी विश्व से चुना है, इसलिए भूलो नहीं। अच्छा।

सावित्री बहन के लौकिक परिवार वालों से:- सभी डबल वर्से के अधिकारी हो ना। लौकिक बाप के भी श्रेष्ठ संकल्प का खजाना मिला और पारलौकिक बाप का भी वर्सा मिला। अलौकिक का भी वर्सा मिला। तीन का वर्सा साथ-साथ मिला। तीनों बाप के आशाओं के दीपक हो। वैसे भी बच्चे को कुल का दीपक कहा जाता है। कुल के दीपक तो बने लेकिन साथ साथ विश्व के दीपक बनो। सदा मस्तक पर भाग्य का सितारा चमक रहा है, बापदादा भी ऐसे हिम्मत रखने वाले बच्चों को सदा मदद करते हैं। जब भी संकल्प किया और बाप हाज़िर। बाप के ऊपर सारा कार्य छोड़ दिया तो बाप जाने, कार्य जाने। स्वयं सदा डबल लाइट फरिश्ता, ट्रस्टी बनकर रहो तो सदा हल्के रहेंगे। साफ दिल मुराद हांसिल। श्रेष्ठ संकल्पों की सफलता जरूर होती है, एक श्रेष्ठ संकल्प बच्चे का और हजार श्रेष्ठ संकल्प का फल बाप द्वारा प्राप्त हो जाता है। एक का हजार गुणा मिल जाता है। अभी जो खजाने बाप के मिले हैं, उन्हें बाँटते रहो। महादानी बनो। सदैव कोई भी आवे तो आपके भण्डारे से खाली न जाए। ज्ञान का फाउन्डेशन पड़ा हुआ है, वही बीज अभी फल देगा। अच्छा।

विदाई के समय बापदादा ने सभी बच्चों प्रति टेप में याद प्यार भरी

चारों ओर के सभी स्नेही बच्चों की यादप्यार और बधाई पाई। बापदादा के साथ सभी बच्चे दिलतख्तनशीन है। जो दिल पर हैं वह भूल कैसे सकते हैं इसलिए सदा बच्चे साथ हैं और साथ ही रहेंगे, साथ ही चलेंगे। बापदादा सर्व बच्चों के दिल के उमंग उत्साह और सेवा में वृद्धि और मायाजीत बनने के समाचार भी सुनते रहते हैं। हरेक बच्चा महावीर है महावीर बन विजय का झण्डा लहरा रहे हैं इसलिए बापदादा सभी को विजय की मुबारक देते हैं। बधाई दे रहे हैं। सदा बड़े बाप के साथ बड़े से बड़े दिन उमंग-उत्साह से बिता रहे हो और सदा ही बड़े दिन मनाते रहेंगे। हरेक बच्चा यही समझे कि विशेष मेरे नाम से यादप्यार आया है। हरेक बच्चे को नाम सहित बापदादा सामने देखते हुए, मिलन मनाते हुए यादप्यार दे रहे हैं। अच्छा।

प्रश्न:- एयरकन्डीशन की सीट बुक कराने का तरीका क्या है?

उत्तर:- एयरकन्डीशन की सीट बुक कराने के लिए बाप ने जो भी कन्डीशन्स बताई हैं उन पर सदा चलते रहो। अगर कोई भी कन्डीशन को अमल में नहीं लाया तो एयरकन्डीशन की सीट नहीं मिल सकेगी। जो कहते हैं कोशिश करेंगे तो ऐसे कोशिश करने वालों को भी यह सीट नहीं मिल सकती है।

प्रश्न:- कौन सा एक गुण परमार्थ और व्यवहार दोनों में ही सर्व का प्रिय बना देता है?

उत्तर:- एक दो को आगे बढ़ाने का गुण अर्थात् ”पहले आप” का गुण परमार्थ और व्यवहार दोनों में ही सर्व का प्रिय बना देता है। बाप का भी यही मुख्य गुण है। बाप कहते – ”बच्चे पहले आप।” तो इसी गुण में फालो फादर। अच्छा।

वरदान:- बेहद की वैराग्य वृत्ति द्वारा मेरे-पन के रॉयल रूप को समाप्त करने वाले न्यारे-प्यारे भव 
समय की समीपता प्रमाण वर्तमान समय के वायुमण्डल में बेहद का वैराग्य प्रत्यक्ष रूप में होना आवश्यक है। यथार्थ वैराग्य वृत्ति का अर्थ है-सर्व के सम्बन्ध-सम्पर्क में जितना न्यारा, उतना प्यारा। जो न्यारा-प्यारा है वह निमित्त और निर्मान है, उसमें मेरेपन का भान आ नहीं सकता। वर्तमान समय मेरापन रॉयल रूप से बढ़ गया है-कहेंगे ये मेरा ही काम है, मेरा ही स्थान है, मुझे यह सब साधन भाग्य अनुसार मिले हैं… तो अब ऐसे रायॅल रूप के मेरे पन को समाप्त करो।
स्लोगन:- परचिंतन के प्रभाव से मुक्त होना है तो शुभचिंतन करो और शुभचिंतक बनो।

 

To Read Murli 18 August 2017 :- Click Here

Font Resize