daily murli 2 november

TODAY MURLI 2 NOVEMBER 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 2 November 2020

02/11/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, this is the most elevated confluence age. The old world is changing and becoming new. You now have to make effort and claim an elevated deity status.
Question: Which aspect do the serviceable children constantly keep in their intellects?
Answer: They remember that wealth doesn’t run out by donating it. This is why they even renounce their sleep and continue to donate the wealth of knowledge night and day and don’t become tired. However, if there are any defects in them, they cannot have enthusiasm for doing service.

Om shanti. The Father explains to you sweetest, spiritual children. You children know that the Supreme Father explains to you every day, just as a teacher teaches you every day. A father simply gives his children teachings and looks after them, because children live at home with their father. Parents live with the children. Here, this is a wonderful thing! You stay with the spiritual Father. You first stay with the spiritual Father in the incorporeal world. Then the Father only enters the cycle once in order to give you children your inheritance, to purify you and to give you peace and happiness. Therefore, He definitely comes and stays down here. This is what human beings have become confused about. It is remembered that He enters an ordinary body. The ordinary body would not come flying here from anywhere else. He definitely enters a human body. He tells you: I enter this body. You children now understand that the Father has come to give you your inheritance of heaven. We have definitely become impure and unworthy. Everyone says: O Purifier, come! Come and purify us impure ones! The Father says: I am given the duty every cycle of purifying the impure. O children, you now have to make this impure world pure. The old world is said to be impure, and the new world is said to be pure. The Father has come to make the old world new again. No one would say that the iron age is the new world. This is something that has to be understood. The iron age is the old world. The Father definitely comes at the confluence of the old and the new. Whenever you explain to people, also tell them that this is the most elevated confluence age and that the Father has come. Not a single human being throughout the whole world knows that this is the most elevated confluence age. You are definitely at the confluence age. This is why you must explain the main thing: that this is the confluence age. Therefore, these points are essential. You have to explain the things that no one else knows, and that is why Baba has said that you must definitely write that it is now the most elevated confluence age. There are also the pictures of the new age, that is, the golden age. How can human beings understand that Lakshmi and Narayan are the masters of the golden age, the new world? The expression “The most elevated confluence age” definitely has to be written on the picture. You definitely have to write this because it is the main thing. People think that there are still many years of the iron age left to come. They are in complete darkness. Therefore, you have to explain to them that Lakshmi and Narayan are the masters of the new world. These pictures are symbolic. You say that their kingdom is being established. There is a song: The new age has come. Awaken from the sleep of ignorance! You now understand that this is the confluence age. It is not called the new age. The confluence is called the confluence age. This is the most elevated confluence age when the new world is established and the old world is destroyed. You are now changing from ordinary humans into deities by studying Raj Yoga. The highest status among the deities is that of Lakshmi and Narayan. They too are human beings, but they have divine virtues and that is why they are called deities. The highest virtue is that of purity and this is why people bow down in front of idols of the deities. These points are being absorbed by the intellects of those who continue to do service. It is said: Your wealth never finishes by donating it. You continue to receive many explanations. This knowledge is very easy. However, some are able to imbibe it very well, whereas others are not. Those who have defects are unable to look after a centre. The Father explains to you children that you should use direct words at the exhibitions. The main thing to explain is this elevated confluence age. The original, eternal, deity religion is being established at this confluence age. At the time this religion existed, no other religions existed. The Mahabharat War is fixed in the drama. Those other religions have just emerged; they were not there earlier. Everything will be destroyed within one hundred years. The confluence age has to be at least one hundred years. The whole world is to become new again. How many years did it take to create New Delhi? You understand that the new world has to be created in Bharat and that the old world will then be destroyed. Some of it will remain; there isn’t annihilation. You have all of these aspects in your intellects. It is now the confluence age. These deities existed in the new world and they will exist again. This is the study of Raja Yoga. If you are unable to explain in detail, you should just explain one thing: the Supreme Father, the Supreme Soul, is the Father of all. Everyone remembers Him. He tells all of us children: You have become impure. You call out: O Purifier, come! Truly, there are impure beings in the iron age and pure beings in the golden age. The Supreme Father, the Supreme Soul, says: Now, renounce all impure relationships, including that of your own body, and constantly remember Me alone and you will become pure. This expression is in the Gita. This is the age of the Gita. The Gita was sung at the confluence age when destruction took place. The Father taught you Raj Yoga. The kingdom was established and it will surely be established again. The spiritual Father explains all of these things. OK, if He didn’t enter this body, He would enter someone else’s body, but it is still the Father who gives the explanation. We don’t mention this one’s name. We are simply telling you that the Father says: Remember Me and you will become pure and come to Me. It is so simple! Simply remember Me and keep the knowledge of the cycle of 84 births in your intellects. Those who imbibe this will become rulers of the globe. This message is for those of all religions. Everyone has to return home. We are showing you the path home. You can give the Father’s message to priests or anyone else. Your mercury of happiness should rise within you. The Supreme Father, the Supreme Soul, says: Constantly remember Me alone and your sins will be absolved. Remind everyone of this. The number one service is to relate the Father’s message. The age of the Gita is now. The Father has come. Therefore, you should have that picture from the start. Those who feel that they are able to give the Father’s message must remain ready. It has to enter your hearts that you must become sticks for the blind. You can give this message to anyone. People become afraid when they hear the name of the Brahma Kumaris. Tell them that you are simply giving them the Father’s message. The Supreme Father, the Supreme Soul, simply says: Remember Me! That’s all! We are not defaming anyone. The Father says: Constantly remember Me alone! I am the Highest on High, the Purifier. By remembering Me, your sins will be absolved. Note this down. This is a very useful thing. People sometimes have writing on their arms or hands. Write this too. Even if you only explain this much, you would be a merciful benefactor. Promise you will do this. You definitely have to do service and instil this habit. You can explain here as well. You can give these pictures away. This message is worth giving. Hundreds of thousands will be created. Give the message to every home. No matter whether someone gives any money or not, tell him: The Father is the Lord of the Poor and it is our duty to give this message to every home. This is BapDada and this is our inheritance that we receive from Him. This one takes 84 births and is now in his last birth. We are Brahmins and will then become deities. Brahma too is a Brahmin. Prajapita Brahma is not alone; there is definitely also the Brahmin clan. Brahma becomes Vishnu, a deity. Brahmins are the topknot. They become deities, warriors, merchants and shudras. Someone will definitely emerge who understands what you say. Even men can do service. When businessmen open their shops early in the morning, they pray: Send me a good customer! You can also go early in the morning and give the Father’s message. Tell them: You will do very good business. Remember the Lord and you will receive an inheritance for 21 births. The early morning hours are very good. Nowadays, even women work in factories. It is very easy to make these badges. You children should remain engaged in doing service day and night and renounce your sleep. Once people have received the Father’s introduction, they belong to the Lord and Master. You can give this message to anyone. Your knowledge is very elevated. Tell them: We only remember the One. The Christ soul is also His child. All souls are His children. God, the Father, says: Don’t remember any bodily beings. Consider yourselves to be souls and constantly remember Me and your sins will be absolved and you will come to Me. People make effort to return home. However, no one is able to do so. It has been seen that children are very slack at the moment. They are unable to make that much effort and just continue to make excuses. There is plenty to be tolerated in this. The founders of religions have to tolerate so much! Christ is said to have been crucified on a cross. Your duty is to give everyone this message. Baba continues to show you methods to do this. When any of you don’t do service, Baba understands that you haven’t imbibed anything. Baba advises you how to give the message. You can continue to give this message on trains too. You know that you are going to heaven. Some will even go and stay in the land of silence. Only you can show them this path. You Brahmins have to go. There are many of you and you have to be placed somewhere: Brahmins, deities and warriors. There would definitely have to be the children of Prajapita Brahma. In the beginning, there are Brahmins. You Brahmins are the highest on high. Those brahmins are born through wombs. Brahmins are definitely needed. Otherwise, where did the Brahmins, children of Prajapita Brahma go? You can sit with those brahmins and explain to them and they will very quickly understand. Tell them: You are brahmins and we also call ourselves Brahmins. Now, tell us: Who established your religion? They won’t mention any name other than the name of Brahma. Try this for yourself and see! There are very large brahmin families. There are also many brahmin priests. Many children go to Ajmer. None of you has yet given Baba the news that you went to meet those brahmins and asked them who established their religion. Who established the brahmin religion? You know who the true Brahmins are. You can bring benefit to many. Only devotees go on pilgrimages. This picture of Lakshmi and Narayan is very good. Do you know who Jagadamba is? Who Lakshmi is? You can also explain in this way to the servants and natives. There is no one apart from you who can explain to them. You have to become very merciful. Tell them: You too can become pure and go to the pure world. Consider yourselves to be souls and remember Shiv Baba. You should have a keen interest in showing others the path. Those who stay in remembrance will also make effort to remind others to stay in remembrance. The Father is not going to go and speak to them; this is the duty of you children. You also have to bring benefit to the poor so that they too become happy. Even just by remembering the Father a little, they can come amongst the subjects, and that too is good. This religion is one that gives a lot of happiness. Day by day, your sound will spread more loudly. Continue to give this message to everyone: Consider yourself to be a soul and remember the Father. You sweetest children are multimillion times fortunate. When you hear this praise, you understand that. Therefore, why should you worry about anything? This is incognito knowledge and you have incognito happiness. You are incognito warriors. You are called the unknown warriors. No one else can be unknown warriors. The Dilwala Temple is your accurate memorial. This is the family of the One who has conquered your hearts. The true pilgrimage is that of Mahavir, Mahavirni and their children. This place is even higher than Kashi. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and Good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Give the Father’s message to every home. Promise to do service and don’t make excuses for not doing service.
  2. Don’t worry about anything, but remain in incognito happiness. Don’t remember any bodily beings. Stay in remembrance of the one Father.
Blessing: May you be unshakeable and immovable and make the foundation of your faith strong.by considering adverse situations to be good luck.
When adverse situations come, take a high jump because for adverse situations to come is a sign of good luck. They are a means to make the foundation of your faith strong. When you become as strong as Angad once and for all, those test papers will then also salute you. First, they will come in a fearsome form and then they will come as your servants. Challenge them as mahavirs. Just as a line cannot be drawn on water, in the same way, no adverse situation can attack the self, a master ocean. By staying in your original stage, you will become unshakeable and immovable.
Slogan: knowledge-full person is one whose every action is elevated and successful.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 2 NOVEMBER 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 2 November 2020

Murli Pdf for Print : – 

02-11-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – यह पुरुषोत्तम संगमयुग है, पुरानी दुनिया बदल अब नई बन रही है, तुम्हें अब पुरूषार्थ कर उत्तम देव पद पाना है”
प्रश्नः- सर्विसएबुल बच्चों की बुद्धि में कौन-सी बात सदैव याद रहती है?
उत्तर:- उन्हें याद रहता कि धन दिये धन ना खुटे….. इसलिए वह रात-दिन नींद का भी त्याग कर ज्ञान धन का दान करते रहते हैं, थकते नहीं। लेकिन अगर खुद में कोई अवगुण होगा तो सर्विस करने का भी उमंग नहीं आ सकता है।

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे रूहानी बच्चों प्रति बाप बैठ समझाते हैं। बच्चे जानते हैं परमपिता रोज़-रोज़ समझाते हैं। जैसे रोज़-रोज़ टीचर पढ़ाते हैं। बाप सिर्फ शिक्षा देंगे, सम्भालते रहेंगे क्योंकि बाप के तो घर में ही बच्चे रहते हैं। मॉ-बाप साथ रहते हैं। यहाँ तो यह वण्डरफुल बात है। रूहानी बाप के पास तुम रहते हो। एक तो रूहानी बाप के पास मूलवतन में रहते हो। फिर कल्प में एक ही बार बाप आते हैं-बच्चों को वर्सा देने वा पावन बनाने, सुख वा शान्ति देने। तो जरूर नीचे आकर रहते होंगे। इसमें ही मनुष्यों का मुंझारा है। गायन भी है – साधारण तन में प्रवेश करते हैं। अब साधारण तन कहाँ से उड़कर तो नहीं आता। जरूर मनुष्य के तन में ही आते हैं। सो भी बताते हैं – मैं इस तन में प्रवेश करता हूँ। तुम बच्चे भी अब समझते हो – बाप हमको स्वर्ग का वर्सा देने आये हैं। जरूर हम लायक नहीं हैं, पतित बन गये हैं। सब कहते भी हैं हे पतित-पावन आओ, आकर हम पतितों को पावन बनाओ। बाप कहते हैं मुझे कल्प-कल्प पतितों को पावन करने की ड्युटी मिली हुई है। हे बच्चों, अब इस पतित दुनिया को पावन बनाना है। पुरानी दुनिया को पतित, नई दुनिया को पावन कहेंगे। गोया पुरानी दुनिया को नया बनाने बाप आये हैं। कलियुग को तो कोई भी नई दुनिया नहीं कहेंगे। यह तो समझ की बात है ना। कलियुग है पुरानी दुनिया। बाप भी आयेंगे जरूर-पुराने और नये के संगम पर। जब कहाँ भी तुम यह समझाते हो तो बोलो यह पुरूषोत्तम संगमयुग है, बाप आया हुआ है। सारी दुनिया में ऐसा कोई मनुष्य नहीं जिसको यह पता हो कि यह पुरूषोत्तम संगमयुग है। जरूर तुम संगमयुग पर हो तब तो समझाते हो। मुख्य बात है ही संगमयुग की। तो प्वाइंट्स भी बहुत जरूरी हैं। जो बात कोई नहीं जानते वह समझानी पड़े इसलिए बाबा ने कहा था यह जरूर लिखना है कि अब पुरूषोत्तम संगमयुग है। नये युग अर्थात् सतयुग के चित्र भी हैं। मनुष्य कैसे समझें कि यह लक्ष्मी-नारायण सतयुगी नई दुनिया के मालिक हैं। उनके ऊपर अक्षर जरूर चाहिए – पुरूषोत्तम संगमयुग। यह जरूर लिखना है क्योंकि यही मुख्य बात है। मनुष्य समझते हैं कलियुग में अभी बहुत वर्ष पड़े हैं। बिल्कुल ही घोर अन्धियारे में हैं। तो समझाना पड़े नई दुनिया के मालिक यह लक्ष्मी-नारायण हैं। यह है पूरी निशानी। तुम कहते हो इस राज्य की स्थापना हो रही है। गीत भी है नवयुग आया, अज्ञान नींद से जागो। यह तुम जानते हो अब संगमयुग है, इनको नवयुग नहीं कहेंगे। संगम को संगमयुग ही कहा जाता है। यह है पुरूषोत्तम संगमयुग। जबकि पुरानी दुनिया खत्म हो और नई दुनिया स्थापन होती है। मनुष्य से देवता बन रहे हैं, राजयोग सीख रहे हैं। देवताओं में भी उत्तम पद है ही इन लक्ष्मी-नारायण का। यह भी हैं तो मनुष्य, इनमें दैवीगुण हैं इसलिए देवी-देवता कहा जाता है। सबसे उत्तम गुण है पवित्रता का तब तो मनुष्य देवताओं के आगे जाकर माथा टेकते हैं। यह सब प्वाइंट्स बुद्धि में धारण उनको होगी जो सर्विस करते रहते हैं। कहा जाता है धन दिये धन ना खुटे। बहुत समझानी मिलती रहती है। नॉलेज तो बहुत सहज है। परन्तु कोई में धारणा अच्छी होती, कोई में नहीं होती है। जिनमें अवगुण हैं वह तो सेन्टर सम्भाल भी नहीं सकते हैं। तो बाप बच्चों को समझाते हैं प्रदर्शनी में भी सीधे-सीधे अक्षर देने चाहिए। पुरूषोत्तम संगमयुग तो मुख्य समझाना चाहिए। इस संगम पर आदि सनातन देवी-देवता धर्म की स्थापना हो रही है। जब यह धर्म था तो और कोई धर्म नहीं था। यह जो महाभारत लड़ाई है, उनकी भी ड्रामा में नूंध है। यह भी अभी निकले हैं। आगे थोड़ेही थे। 100 वर्ष के अन्दर सब खलास हो जाते हैं। संगमयुग को कम से कम 100 वर्ष तो चाहिए ना। सारी नई दुनिया बननी है। न्यु देहली बनाने में कितना वर्ष लगा।

तुम समझते हो भारत में ही नई दुनिया होती है, फिर पुरानी खलास हो जायेगी। कुछ तो रहती है ना। प्रलय तो होती नहीं। यह सब बातें बुद्धि में हैं। अभी है संगमयुग। नई दुनिया में जरूर यह देवी-देवता थे, फिर यही होंगे। यह है राजयोग की पढ़ाई। अगर कोई डिटेल में नहीं समझा सकते हैं तो सिर्फ एक बात बोलो – परमपिता परमात्मा जो सबका बाप है, उनको तो सब याद करते हैं। वह हम सब बच्चों को कहते हैं – तुम पतित बन पड़े हो। पुकारते भी हो हे पतित-पावन आओ। बरोबर कलियुग में हैं पतित, सतयुग में पावन होते हैं। अब परमपिता परमात्मा कहते हैं देह सहित यह सब पतित संबंध छोड़ मामेकम् याद करो तो पावन बन जायेंगे। यह गीता के ही अक्षर हैं। है भी गीता का युग। गीता संगमयुग पर ही गाई हुई थी जबकि विनाश हुआ था। बाप ने राजयोग सिखाया था। राजाई स्थापन हुई थी फिर जरूर होगी। यह सब रूहानी बाप समझाते हैं ना। चलो इस तन में न आये और कोई में भी आये। समझानी तो बाप की है ना। हम इनका तो नाम लेते नहीं हैं। हम तो सिर्फ बतलाते हैं – बाप कहते हैं मुझे याद करो तो तुम पावन बन और मेरे पास चले आयेंगे। कितना सहज है। सिर्फ मुझे याद करो और 84 के चक्र का ज्ञान बुद्धि में हो। जो धारणा करेगा वह चक्रवर्ती राजा बनेगा। यह मैसेज तो सब धर्म वालों के लिए है। घर तो सबको जाना है। हम भी घर का ही रास्ता बताते हैं। पादरी आदि कोई भी हो तुम उनको बाप का सन्देश दे सकते हो। तुमको खुशी का बहुत पारा चढ़ना चाहिए – परमपिता परमात्मा कहते हैं मामेकम् याद करो तो तुम्हारे विकर्म विनाश होंगे। सबको यही याद कराओ। बाप का पैगाम सुनाना ही नम्बरवन सर्विस है। गीता का युग भी अब है। बाप आये हैं इसलिए वही चित्र शुरू में रखना चाहिए। जो समझते हैं – हम बाप का पैगाम दे सकते हैं तो तैयार रहना चाहिए। दिल में आना चाहिए हम भी अंधों की लाठी बनें। यह पैगाम तो कोई को भी दे सकते हो। बी.के. का नाम सुनकर ही डरते हैं। बोलो हम सिर्फ बाप का पैगाम देते हैं। परमपिता परमात्मा कहते हैं – मुझे याद करो बस। हम किसकी ग्लानि नहीं करते। बाप कहते हैं मामेकम् याद करो। मैं ऊंच ते ऊंच पतित-पावन हूँ। मुझे याद करने से तुम्हारे विकर्म विनाश होंगे। यह नोट करो। यह बहुत काम की चीज़ है। हाथ पर वा बांह पर अक्षर लिखाते हैं ना। यह भी लिख दो। इतना सिर्फ बताया तो भी रहमदिल, कल्याणकारी बनें। अपने से प्रण करना चाहिए। सर्विस जरूर करनी है फिर आदत पड़ जायेगी। यहाँ भी तुम समझा सकते हो। चित्र दे सकते हो। यह है पैगाम देने की चीज़। लाखों बन जायेंगे। घर-घर में जाकर पैगाम देना है। पैसा कोई दे न दे, बोलो-बाप तो है ही गरीब निवाज़। हमारा फ़र्ज है – घर-घर में पैगाम देना। यह बापदादा, इनसे यह वर्सा मिलता है। 84 जन्म यह लेंगे। इनका यह अन्तिम जन्म है। हम ब्राह्मण हैं सो फिर देवता बनेंगे। ब्रह्मा भी ब्राह्मण है। प्रजापिता ब्रह्मा अकेला तो नहीं होगा ना। जरूर ब्राह्मण वंशावली भी होगी ना। ब्रह्मा सो विष्णु देवता, ब्राह्मण हैं चोटी। वही देवता, क्षत्रिय, वैश्य, शूद्र बनते हैं। कोई जरूर निकलेंगे जो तुम्हारी बातों को समझेंगे। पुरूष भी सर्विस कर सकते हैं। सवेरे उठकर मनुष्य जब दुकान खोलते हैं तो कहते हैं सुबह का सांई…… तुम भी सवेरे-सवेरे जाकर बाप का पैगाम सुनाओ। बोलो तुम्हारा धन्धा बहुत अच्छा होगा। तुम सांई को याद करो तो 21 जन्म का वर्सा मिलेगा। अमृतवेले का टाइम अच्छा होता है। आजकल कारखानों में मातायें भी बैठ काम करती हैं। यह बैज भी बनाना बहुत सहज है।

तुम बच्चों को तो रात-दिन सर्विस में लग जाना चाहिए, नींद हराम कर देनी चाहिए। बाप का परिचय मिलने से मनुष्य धणके बन जाते हैं। तुम किसको भी पैगाम दे सकते हो। तुम्हारा ज्ञान तो बहुत ऊंचा है। बोलो, हम तो एक को याद करते हैं। क्राइस्ट की आत्मा भी उनका बच्चा थी। आत्मायें तो सब उनके बच्चे हैं। वही गॉड फादर कहते हैं कि और कोई भी देहधारियों को मत याद करो। तुम अपने को आत्मा समझ मामेकम् याद करो तो विकर्म विनाश हो जायेंगे। मेरे पास आ जायेंगे। मनुष्य पुरूषार्थ करते ही हैं घर जाने के लिए। परन्तु जाता कोई भी नहीं। देखा जाता है बच्चे अभी बहुत ठण्डे हैं, इतनी मेहनत पहुँचती नहीं, बहाना करते रहते हैं, इसमें बहुत सहन भी करना पड़ता हैं। धर्म स्थापक को कितना सहन करना पड़ता है। क्राइस्ट के लिए भी कहते हैं उनको क्रॉस पर चढ़ाया। तुम्हारा काम है सबको सन्देश देना। उसके लिए युक्तियां बाबा बताते रहते हैं। कोई सर्विस नहीं करते हैं तो बाबा समझते हैं धारणा नहीं है। बाबा राय देते हैं कैसे पैगाम दो। ट्रेन में भी तुम यह पैगाम देते रहो। तुम जानते हो हम स्वर्ग में जाते हैं। कोई शान्तिधाम में भी जायेंगे ना। रास्ता तो तुम ही बता सकते हो। तुम ब्राह्मणों को ही जाना चाहिए। हैं तो बहुत। ब्राह्मणों को कहाँ तो रखेंगे ना। ब्राह्मण, देवता, क्षत्रिय। प्रजापिता ब्रह्मा की औलाद तो जरूर होंगे ना। आदि में हैं ही ब्राह्मण। तुम ब्राह्मण हो ऊंचे ते ऊंच। वह ब्राह्मण हैं कुख वंशावली। ब्राह्मण तो जरूर चाहिए ना। नहीं तो प्रजापिता ब्रह्मा के बच्चे ब्राह्मण कहाँ गये। ब्राह्मणों को तुम बैठ समझाओ, तो वह झट समझ जायेंगे। बोलो, तुम भी ब्राह्मण हो, हम भी अपने को ब्राह्मण कहलाते हैं। अब बताओ तुम्हारा धर्म स्थापन करने वाला कौन? ब्रह्मा के सिवाए कोई नाम ही नहीं लेंगे। तुम ट्रायल कर देखो। ब्राह्मणों के भी बहुत बड़े-बड़े कुल होते हैं। पुजारी ब्राह्मण तो ढेर हैं। अजमेर में ढेर बच्चे जाते हैं, कभी कोई ने समाचार नहीं दिया कि हम ब्राह्मणों से मिले, उनसे पूछा – तुम्हारा धर्म स्थापन करने वाला कौन? ब्राह्मण धर्म किसने स्थापन किया? तुमको तो मालूम है, सच्चे ब्राह्मण कौन हैं। तुम बहुतों का कल्याण कर सकते हो। यात्राओं पर भक्त ही जाते हैं। यह चित्र तो बहुत अच्छा है – लक्ष्मी-नारायण का। तुमको मालूम है जगत अम्बा कौन है? लक्ष्मी कौन है? ऐसे-ऐसे तुम नौकरों, भीलनियों आदि को भी समझा सकते हो। तुम्हारे बिगर तो कोई है नहीं जो उन्हों को सुनाये। बहुत रहमदिल बनना है। बोलो, तुम भी पावन बन पावन दुनिया में जा सकते हो। अपने को आत्मा समझो, शिवबाबा को याद करो। शौक बहुत होना चाहिए, किसको भी रास्ता बताने का। जो खुद याद करते होंगे वही दूसरों को याद कराने का पुरूषार्थ करेंगे। बाप तो नहीं जाकर बात करेंगे। यह तो तुम बच्चों का काम है। गरीबों का भी कल्याण करना है। बिचारे बहुत सुखी हो जायेंगे। थोड़ा याद करने से प्रजा में भी आ जाएं, वह भी अच्छा है। यह धर्म तो बहुत सुख देने वाला है। दिन-प्रतिदिन तुम्हारा आवाज़ जोर से निकलेगा। सबको यही पैगाम देते रहो, अपने को आत्मा समझ बाप को याद करो। तुम मीठे-मीठे बच्चे पदमापदम भाग्यशाली हो। जबकि महिमा सुनते हो तो समझते हो, फिर भी कोई बात की फिकरात आदि क्यों रखनी चाहिए। यह है गुप्त ज्ञान, गुप्त खुशी। तुम हो इनकागनीटो वारियर्स। तुमको अननोन वारियर्स कहेंगे और कोई अननोन वारियर्स हो नहीं सकता। तुम्हारा देलवाड़ा मन्दिर पूरा यादगार है। दिल लेने वाले का परिवार है ना। महावीर, महावीरनी और उनकी औलाद यह पूरा-पूरा तीर्थ है। काशी से भी ऊंची जगह हुई। अच्छा।

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) घर-घर में जाकर बाप का पैगाम देना है। सर्विस करने का प्रण करो, सर्विस के लिए कोई भी बहाना मत दो।

2) किसी भी बात की फिकरात नहीं करनी है, गुप्त खुशी में रहना है। किसी भी देहधारी को याद नहीं करना है। एक बाप की याद में रहना है।

वरदान:- परिस्थितियों को गुडलक समझ अपने निश्चय के फाउन्डेशन को मजबूत बनाने वाले अचल अडोल भव
कोई भी परिस्थिति आये तो आप हाई जम्प दे दो क्योंकि परिस्थिति आना भी गुडलक है। यह निश्चय के फाउन्डेशन को मजबूत करने का साधन है। आप जब एक बारी अंगद के समान मजबूत हो जायेंगे तो यह पेपर भी नमस्कार करेंगे। पहले विकराल रूप में आयेंगे और फिर दासी बन जायेंगे। चैलेन्ज करो हम महावीर हैं। जैसे पानी के ऊपर लकीर ठहर नहीं सकती, ऐसे मुझ मास्टर सागर के ऊपर कोई परिस्थिति वार कर नहीं सकती। स्व-स्थिति में रहने से अचल-अडोल बन जायेंगे।
स्लोगन:- नॉलेजफुल वह है जिसका हर कर्म श्रेष्ठ और सफल हो।

TODAY MURLI 2 NOVEMBER 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 2 November 2019

02/11/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, the Father has come to decorate you with the best decoration of all which is purity.
Question: What are the main signs of those who take the full 84 births?
Answer: 1) As well as remembering the Father, they also remember the Teacher and the Satguru; they remember all three. It’s not that they remember the Father and forget the Teacher. Only when they remember all three can they go to the land of Krishna, that is, play their parts from the beginning. 2) They are never defeated by storms of Maya.

Om shanti. The Father first of all asks you children: You don’t forget that you are sitting in front of the Father, the Teacher and the Satguru, do you? Baba thinks that not all of you sitting here have this awareness. However, it is still the Father’s duty to explain to you. This is what it means to remember Him with understanding. Our Baba is the unlimited Father and Teacher and He is definitely the Satguru, the One who will take us children back with Him. The Father has come here to decorate you children. He continues to decorate you with purity and also gives you limitless wealth. He gives you wealth for the new world where you have to go. You children must remember this. Some children become careless and so the full happiness that they should have is reduced. You would never find such a Father anywhere else. You know that you are definitely Baba’s children and that He is teaching you. This is why He is also the Teacher. Your study is for the new world, for the land of immortality. You are now sitting at the confluence age. You children must definitely remember this. You must remember this firmly. You also understand that you are in the devilish world, the land of Kans, at this time. Even if some do have a vision, it isn’t that through that they will be able to go to the land of Krishna or into his dynasty. It is when they continue to remember the Father, the Teacher and the Satguru – all three – that they will be able to go there. Baba tells this to you souls. You souls reply: Yes Baba! Baba, you are telling us the truth. You are the Father and also the Teacher who teaches us. The Supreme Soul is teaching you. A worldly study is also taught by a soul through a body. However, both that soul and his body are impure. People of the world do not know that they are residents of hell. You understand that you are now to go back to your home. This is not your home. This is the foreign home of Ravan. In your land, there is an abundance of happiness. The Congress Party do not think that they are in a foreign land. Previously, you were in the kingdom of the Muslims and then the Christians. You know that you are now going to your own kingdom. Previously, you used to consider Ravan’s kingdom to be your kingdom. You forgot that you were in Rama’s (God’s) kingdom in the beginning. Then, whilst going around the cycle of 84 births, you entered Ravan’s kingdom of sorrow. There is only sorrow when you are in a foreign kingdom. All of this knowledge should emerge inside you. You do remember the Father, but you must definitely remember all three. Only human beings can take this knowledge; animals would not study. You children also understand that there are no studies to become a barrister etc. in the golden age. The Father is filling you with all treasures here, but not all of you will become kings. Although there is business there too, you have plenty of wealth. It isn’t the rule to experience any loss there. There is no looting or beating etc. The very name is heaven. You children now remember that you used to be in heaven and that you came down whilst taking rebirth. The Father tells the story to you children. Maya defeats the souls who haven’t taken 84 births. The Father explains that there are huge storms of Maya. Maya tries to defeat many. As you go further, you will see and hear a lot about this. If the Father had photographs of everyone, He would show you the wonder of those who came for so many days, of how they belonged to the Father and how Maya then ate them. They died and went to Maya’s side. Here, when someone dies physically, he will take another birth in this world. When you leave your body, you will go and live with Baba in the unlimited home. There, there is Baba, Mama and the children. This is what a family consists of. In the supreme region, there is just the Father and brothers; there is no other relationship. Here, there is the father, brothers and sisters. Afterwards, as growth continues and relationships increase, there are paternal uncles, maternal uncles etc. At this confluence age, you belong to Prajapita Brahma and so you are brothers and sisters. When you remember Shiv Baba, you are brothers. You have to remember all of these things very well. Many of you children forget the things that the Father continues to explain to you. The Father’s duty is to put His children on his head (to make His children even higher than Himself). This is why He continues to say namaste to you. He also explains the meaning. Sages and holy men etc. of the path of devotion can’t show you the way to liberation-in-life. They continue to endeavour to attain liberation. They belong to the path of isolation. How could they teach Raj Yoga? Raj Yoga is for the household path. In devotion, Prajapita Brahma is portrayed as having four arms. That too indicates that this path is a household path. The Father has adopted this one. Therefore, the names, Brahma and Saraswati, have been given. Just look at what is fixed in the drama! People reach their age of retirement at 60 and adopt a guru. The Father entered this one when he was 60 and became the Father, the Teacher and the Guru. Nowadays, the customs have become worse: even small children are made to adopt a guru. That is the incorporeal One who becomes the Father, the Teacher and the Satguru of you souls. The incorporeal world is also called the world of souls. You wouldn’t say that that world doesn’t exist. It is also called the abode of peace where souls reside. If they say the Supreme Soul doesn’t have a name, form or time period, where do His children come from? You children now understand how the history and geography of the world repeatHistory is of those who lived and geography is of non-living things. You souls know for how long you ruled your kingdom. History, which is known as a story, is remembered. Geography is normally of a country. It is living beings who rule a kingdom; anything that is non-living cannot rule. History is about how long someone’s kingdom existed and from when to when Bharat was ruled by the Christians. No one knows the history and geography of this world. They say that the golden age existed hundreds of thousands of years ago, but none of them knows who used to rule then or for how long they ruled. That is called history. Soul are living and bodies are non-living. The whole play is about the living and the non-living. Human birth is considered to be the most elevated. There is a census of human beings; no one could possibly count how many animals there are. The whole play is about you. You are the ones who listen to this history and geography. The Father enters this one and explains everything to you. This is called unlimited history and geography. It was because you didn’t have this knowledge that you became so senseless! If human beings do not know the history and geography of the world, of what use are such human beings? You are now listening to the history and geography of the world from the Father. This study is very good. Who is teaching this? The Father. It is the Father who enables you to claim the highest status; the highest status is that of Lakshmi and Narayan and those who live with them in heaven. There are no barristers etc. there. People there only study the arts. If they didn’t learn various skills, how would they build buildings etc? They teach skills to one another. Otherwise, who would build so many buildings etc? They would not be built automatically. All of these secrets remain in the intellects of you children, numberwise, according to the effort you make. You understand that this cycle continues to turn. You ruled for that length of time and you then entered Ravan’s kingdom. No one else in the world knows that they are in Ravan’s kingdom. They say: Baba, liberate us from Ravan’s kingdom. The Congress Party liberated themselves from the rule of the Christians. Now they say: God, the Fatherliberate us! Do you remember all of this? No one knows why they say this. You now understand that Ravan’s kingdom is over the whole world. Everyone says that they want the kingdom of Rama, but who will liberate them? They think that God, the Father, will liberate them, become their Guide and take them back with Him. The people of Bharat do not have much sense; they are completely tamopradhan. Those people (Christians) neither receive as much sorrow nor as much happiness as the people of Bharat do. The people of Bharat become the happiest and then they also become the unhappiest; there is this account. There is now so much sorrow! Those who are religiousminded remember God and say: O God, the FatherLiberator! Your hearts also say: Baba, come and remove our sorrow and take us to the land of happiness! They say: Take us to the land of peace! You say: Take us to the land of peace and the land of happiness! Now that the Father has come, you should be very happy. There is so much sweetness for the ears on the path of devotion. There is as much truth there as a pinch of salt in a sackful of flour. They have a mela for Goddess Chandika (cremator goddess). Now, why is there a mela for cremators? Who is called a cremator? Baba has said that it is those from here who take birth as cremators there. They live here, they eat and drink here, they give something and then they say: Give us back everything that we have given. We don’t believe this and have doubts. What would such souls become if they have doubts? There is a mela for such a Chandika. At least they go to the golden age. If they even become helpers for some time, they can go to heaven. Those devotees do not know anything of this. None of them has knowledge. People earn so much money from a Gita that has pictures. Nowadays, everyone loves pictures. They consider that to be art. How could human beings know what the pictures of the deities should be like? You were originally firstclass. What did you then become? No one is blind or one eyed there. Deities have natural beauty; there is natural beauty there. The Father explains everything and still says: Children, remember the Father! The Father is the Father, the Teacher and the Satguru. Remember Him in all three forms and you will receive all three inheritances. Those who come at the end will not be able to remember Him in all three forms. They will then go into liberation. Baba has said that the subtle region is just for visions, whereas the whole history and geography is of here. No one knows how long it lasts. The Father has now told you children and so you can tell anyone else. First of all, you have to give the Father’s introduction. He is the unlimited Father, the Supreme. A worldly father is never called the Supreme Father or the Supreme Soul. Only one is the Supreme and He is called God. He is knowledgefull, and so He teaches you knowledge. This Godly knowledge is your source of incomeKnowledge too is of an elevated level, a middle level or a low level. The Father is the Highest on High and so the study is also the highest on high. The status is also high. You quickly come to know all about the history and geography, but you have to battle on the pilgrimage of remembrance. If you are defeated in this, you are also defeated in knowledge. If you are defeated and run away from here, you also run away from this knowledge. In that case, you don’t just become as you were, but you become even worse than that. Your body consciousness is very soon visible to the Father through your behaviour. There is also the rosary of Brahmins, but many do not know how they could sit here, numberwise; there have body consciousness. Those with faith will definitely experience a lot of happiness. Who has the faith that when you leave your body you will become a prince? (All raised their hands). Children have so much happiness! Since all of you have this faith, you should also all have divine virtues. For your intellect to have faith means to be threaded in the rosary of victory and that also means to become an emperor. The day will come when foreigners will come mostly to Mt. Abu and will stop going to all the other pilgrimage places. They want to study the Raj Yoga of Bharat. Who created that Paradise? Effort is made, and if it happened in the previous cycle, the museum will definitely be created. You have to explain that you want to put on a permanent exhibition like that, so ask whether you can take a lease for four or five years on the building. You are serving Bharat to make it into the land of happiness. Many will benefit through this. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to stay in limitless happiness, always maintain the consciousness that the Father Himself is decorating you, that He is giving you limitless wealth. You are studying for the new world, the land of immortality.
  2. In order to be threaded onto the rosary of victory, keep your intellect faithful and imbibe divine virtues. Never think about taking back what you have given. Never let your intellect have doubt and thereby lose your status.
Blessing: May you become victorious and free from obstacles by considering obstacles to be an entertaining game.
It is good for obstacles to come, but let them not defeat you. Obstacles come to make you strong and so, instead of becoming afraid of obstacles, consider them to be an entertaining game win over them and you will then be said to be free from obstacles and victorious. Since you have the company of the Almighty Authority Father, there is nothing to be afraid about. Simply remain busy in remembrance of the Father and in doing service and you will remain free from obstacles. When your intellect remains free, obstacles or Maya then comes, but when you remain busy, Maya and obstacles will move away.
Slogan: In order to accumulate in your account of happiness, give everyone happiness from your heart, according to the codes of conduct.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 2 NOVEMBER 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 2 November 2019

02-11-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – बाप आये हैं तुम बच्चों का श्रृंगार करने, सबसे अच्छा श्रृंगार है पवित्रता का”
प्रश्नः- पूरे 84 जन्म लेने वालों की मुख्य निशानी क्या होगी?
उत्तर:- 1. वह बाप के साथ-साथ टीचर और सतगुरू तीनों को याद करेंगे। ऐसे नहीं, बाप याद आये तो टीचर भूल जाए। जब तीनों को याद करें तब ही कृष्णपुरी में जा सकें अर्थात् आदि से पार्ट बजा सकें।
2. उन्हें कभी भी माया के तूफान हरा नहीं सकते हैं।

ओम् शान्ति। बाप पहले बच्चों को कहते हैं यह भूल तो नहीं जाते हो-हम बाप के आगे, टीचर के आगे और सतगुरू के आगे बैठे हुए हैं। बाबा नहीं समझते कि सब कोई इस याद में बैठे हैं। फिर भी बाप का फ़र्ज है समझाना। यह है अर्थ सहित याद करना। हमारा बाबा बेहद का बाप भी है, टीचर भी है और बरोबर हमारा सतगुरू भी है जो बच्चों को साथ में ले जायेगा। बाप आये ही हैं बच्चों का श्रृंगार करने। पवित्रता से श्रृंगार करते आते हैं। धन भी अथाह देते हैं। धन देते ही हैं नई दुनिया के लिए, जहाँ तुमको जाना है। यह बच्चों को याद करना है। बच्चे ग़फलत करते हैं जो भूल जाते हैं। वह जो पूरी खुशी होनी चाहिए वह कम हो जाती है। ऐसा बाप तो कभी मिलता ही नहीं। तुम जानते हो हम बाबा के बच्चे जरूर हैं। वह हमको पढ़ाते हैं इसलिए टीचर भी जरूर है। हमारी पढ़ाई है ही नई दुनिया अमरपुरी के लिए। अभी हम संगमयुग पर बैठे हैं। यह याद तो जरूर बच्चों को होनी चाहिए। पक्का-पक्का याद करना है। यह भी जानते हो इस समय कंसपुरी आसुरी दुनिया में हैं। समझो कोई को साक्षात्कार होता है परन्तु साक्षात्कार से कोई कृष्णपुरी, उनकी डिनायस्टी में नहीं जा सकेंगे। जा तब सकेंगे जब बाप, टीचर, गुरू तीनों को ही याद करते रहेंगे। यह आत्माओं से बात की जाती है। आत्मा ही कहती है हाँ बाबा। बाबा आप तो सच कहते हो। आप बाप भी हो, पढ़ाने वाले टीचर भी हो। सुप्रीम आत्मा पढ़ाती है। लौकिक पढ़ाई भी आत्मा ही शरीर के साथ पढ़ाती है। परन्तु वह आत्मा भी पतित तो शरीर भी पतित है। दुनिया के मनुष्यों को यह पता नहीं है कि हम नर्कवासी हैं।

अभी तुम समझते हो हम तो अब चले अपने वतन। यह तुम्हारा वतन नहीं है। यह है रावण का पराया वतन। तुम्हारे वतन में तो अथाह सुख हैं। कांग्रेसी लोग ऐसे नहीं समझते-हम पराये राज्य में हैं। आगे मुसलमानों के राज्य में बैठे थे फिर क्रिश्चियन के राज्य में बैठे। अभी तुम जानते हो हम अपने राज्य में जाते हैं। आगे रावण राज्य को हम अपना राज्य समझ बैठे थे। यह भूल गये हैं हम पहले रामराज्य में थे। फिर 84 जन्मों के चक्र में आने से रावण राज्य में, दु:ख में आकर पड़े हैं। पराये राज्य में तो दु:ख ही होता है। यह सारा ज्ञान अन्दर में आना चाहिए। बाप तो जरूर याद आयेगा। परन्तु तीनों को याद करना है। यह नॉलेज भी मनुष्य ही ले सकते हैं। जानवर तो नहीं पढ़ेंगे। यह भी तुम बच्चे समझते हो वहाँ कोई बैरिस्टरी आदि की पढ़ाई होती नहीं। बाप यहाँ ही तुमको मालामाल कर रहे हैं तो सब तो राजायें नहीं बनते हैं। व्यापार भी चलता होगा परन्तु वहाँ तुमको अथाह धन रहता है। घाटा आदि होने का कायदा ही नहीं। लूट मार आदि वहाँ होती नहीं। नाम ही है स्वर्ग। अभी तुम बच्चों को स्मृति आई है हम स्वर्ग में थे फिर पुनर्जन्म लेते-लेते नीचे उतरते हैं। बाप कहानी भी उन्हों को ही बताते हैं। 84 जन्म नहीं लिये होंगे तो माया हरा देगी। यह भी बाप समझाते रहते हैं। माया का कितना बड़ा तूफान है। बहुतों को माया हराने की कोशिश करती है, आगे चल तुम बहुत देखेंगे, सुनेंगे। बाप के पास सबके चित्र होते तो तुमको वन्डर दिखाते-यह फलाना इतना दिन आया, बाप का बना फिर माया खा गई। मर गया, माया के साथ जा मिला। यहाँ इस समय कोई शरीर छोड़ते हैं तो इसी दुनिया में आकर जन्म लेते हैं। तुम शरीर छोड़ेंगे तो बाबा के साथ बेहद घर में जायेंगे। वहाँ बाबा, मम्मा, बच्चे सब हैं ना। परिवार ऐसा ही होता है। मूलवतन में बाप और भाई-भाई हैं, और कोई सम्बन्ध नहीं। यहाँ बाप और भाई-बहन हैं फिर वृद्धि को पाते हैं। चाचा, मामा आदि बहुत संबंध हो जाते हैं। इस संगम पर तुम प्रजापिता ब्रह्मा के बनते हो तो भाई-बहिन हो। शिवबाबा को याद करते हो तो भाई-भाई हो। यह सब बातें अच्छी रीति याद करनी हैं। बहुत बच्चे भूल जाते हैं। बाप तो समझाते रहते हैं। बाप का फ़र्ज है बच्चों को सिर पर उठाना, तब तो नमस्ते-नमस्ते करते रहते हैं। अर्थ भी समझाते हैं। भक्ति करने वाले साधू-सन्त आदि कोई तुमको जीवनमुक्ति का रास्ता नहीं बताते, वह मुक्ति के लिए ही पुरूषार्थ करते रहते हैं। वह हैं ही निवृत्ति मार्ग वाले। वह राजयोग कैसे सिखलायेंगे। राजयोग है ही प्रवृत्ति मार्ग का। प्रजापिता ब्रह्मा को 4 भुजायें देते हैं तो प्रवृत्ति मार्ग हुआ ना। यहाँ बाप ने इनको एडाप्ट किया तो नाम रखा है ब्रह्मा और सरस्वती। ड्रामा में नूँध देखो कैसी है। वानप्रस्थ अवस्था में ही मनुष्य गुरू करते हैं, 60 वर्ष के बाद। इसमें भी 60 वर्ष के बाद बाप ने प्रवेश किया तो बाप, टीचर, गुरू बन गये। अभी तो कायदे भी बिगड़ गये हैं। छोटे बच्चे को भी गुरू करा देते हैं। यह तो है ही निराकार। तुम्हारी आत्मा का यह बाप भी बनते, टीचर, सतगुरू भी बनते हैं। निराकारी दुनिया को कहा जाता है आत्माओं की दुनिया। ऐसे तो नहीं कहेंगे दुनिया ही नहीं है। शान्तिधाम कहा जाता है। वहाँ आत्मायें रहती हैं। अगर कहें परमात्मा का नाम, रूप, देश, काल नहीं तो बच्चे फिर कहाँ से आयेंगे।

तुम बच्चे अब समझते हो यह वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी कैसे रिपीट होती है। हिस्ट्री चैतन्य की होती है, जॉग्राफी तो जड़ वस्तु की है। तुम्हारी आत्मा जानती है हम कहाँ तक राज्य करते हैं। हिस्ट्री गाई जाती है जिसको कहानी कहा जाता है। जॉग्राफी देश की होती है। चैतन्य ने राज्य किया, जड़ तो राज्य नहीं करेंगे। कितने समय से फलाने का राज्य था, क्रिश्चियन ने भारत पर कब से कब तक राज्य किया। तो इस वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी को कोई जानते ही नहीं। कहते हैं सतयुग को तो लाखों वर्ष हुआ। उसमें कौन राज्य करके गये, कितना समय राज्य किया-यह कोई नहीं जानता। इसको कहा जाता है हिस्ट्री। आत्मा चैतन्य, शरीर जड़ है। सारा खेल ही जड़ और चैतन्य का है। मनुष्य जीवन ही उत्तम गाया जाता है। आदमशुमारी भी मनुष्यों की गिनी जाती है। जानवरों की तो कोई गिनती कर भी न सके। सारा खेल तुम्हारे पर है। हिस्ट्री-जॉग्राफी भी तुम सुनते हो। बाप इसमें आकर तुमको सब बातें समझाते हैं, इसको कहा जाता है बेहद की हिस्ट्री-जॉग्राफी। यह नॉलेज न होने कारण तुम कितने बेसमझ बन पड़े हो। मनुष्य होकर दुनिया की हिस्ट्री-जॉग्राफी को न जानें तो वह मनुष्य ही क्या काम का। अभी बाप द्वारा तुम वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी सुन रहे हो। यह पढ़ाई कितनी अच्छी है, कौन पढ़ाते हैं? बाप। बाप ही ऊंच ते ऊंच पद दिलाने वाला है। इन लक्ष्मी-नारायण का और जो उन्हों के साथ स्वर्ग में रहते हैं उन्हों का ऊंच ते ऊंच पद है ना। वहाँ बैरिस्टरी आदि तो करते नहीं। वहाँ तो सिर्फ सीखना है। हुनर न सीखें तो मकान आदि कैसे बनें। एक-दो को हुनर सिखलाते हैं। नहीं तो इतने मकान आदि कौन बनायेंगे। आपेही तो नहीं बन जायेंगे। यह सब राज़ अभी तुम बच्चों की बुद्धि में भी नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार रहते हैं। तुम जानते हो यह चक्र फिरता रहता है, इतना समय हम राज्य करते थे फिर रावण के राज्य में आते हैं। दुनिया को इन बातों का पता नहीं हैं कि हम रावण राज्य में हैं। कहते हैं हमको बाबा रावण के राज्य से लिबरेट करो। कांग्रेसी लोगों ने क्रिश्चियन राज्य से अपने को लिबरेट किया। अब फिर कहते हैं गॉड फादर हमको लिबरेट करो। स्मृति आती है ना कोई भी यह नहीं जानते कि ऐसे क्यों कहते हैं। अभी तुमने समझा है सारे सृष्टि पर ही रावण राज्य है, सब कहते हैं रामराज्य चाहिए तो लिबरेट कौन करेगा? समझते हैं गॉड फादर लिबरेट कर गाइड बन ले जायेंगे। भारतवासियों को इतना अक्ल नहीं है। यह तो बिल्कुल तमोप्रधान हैं। वह न इतना दु:ख उठाते हैं, न इतना सुख ही पाते हैं। भारतवासी सबसे सुखी बनते हैं तो दु:खी भी बने हैं। हिसाब है ना। अभी कितना दु:ख है! जो रिलीजस माइन्डेड हैं वह याद करते हैं-ओ गॉड फादर, लिबरेटर। तुम्हारी भी दिल में है बाबा आकर हमारे दु:ख हरो और सुखधाम ले चलो। वह कहते हैं शान्तिधाम ले चलो। तुम कहेंगे शान्तिधाम और सुखधाम ले चलो। अब बाप आया हुआ है तो बहुत खुशी होनी चाहिए। भक्ति मार्ग में कनरस कितना है। उनमें रीयल बात कुछ भी है नहीं। एकदम आटे में नमक है। चण्डिका देवी का भी मेला लगता है। अब चण्डियों का फिर मेला क्यों लगता है? चण्डी किसको कहा जाता है? बाबा ने बताया है चण्डाल का जन्म भी यहाँ के ही लेते हैं। यहाँ रहकर, खा पीकर कुछ देकर फिर कहते हैं-हमने जो दिया वह हमको दो। हम नहीं मानते। संशय पड़ जाता है तो वह क्या जाकर बनेंगे। ऐसी चण्डिका का भी मेला लगता है। फिर भी सतयुगी तो बनते हैं ना। कुछ समय भी मददगार बने तो स्वर्ग में आ गये। वह भक्त लोग तो जानते नहीं, ज्ञान तो कोई के पास है नहीं। वह चित्रों वाली गीता है, कितना पैसा कमाते हैं। आजकल चित्रों पर तो सब आशिक होते हैं। उसको आर्ट समझते हैं। मनुष्यों को क्या पता देवताओं के चित्र कैसे होते हैं। तुम असुल में कितने फर्स्टक्लास थे। फिर क्या बन गये हो। वहाँ कोई अंधा, काना आदि होता नहीं। देवताओं की नैचुरल शोभा होती है। वहाँ नैचुरल ब्युटी होती है। तो बाप भी सब समझाकर फिर कहते हैं-बच्चे, बाप को याद करो। बाप, बाप भी है, टीचर, सतगुरू भी है। तीनों रूप में याद करो तो तीनों वर्से मिलेंगे। पिछाड़ी वाले तीनों रूप में याद कर नहीं सकेंगे। फिर मुक्ति में चले जायेंगे।

बाबा ने समझाया है सूक्ष्मवतन आदि में जो कुछ देखते हो यह तो सब हैं साक्षात्कार की बातें। बाकी हिस्ट्री-जॉग्राफी सारी यहाँ की है। इनकी आयु का किसको पता नहीं है। अभी तुम बच्चों को बाप ने समझाया है तुम फिर कोई को भी समझा सकते हो। पहले-पहले तो बाप का परिचय देना है। वह बेहद का बाप है सुप्रीम। लौकिक बाप को परमात्मा वा सुप्रीम आत्मा कभी नहीं कहा जाता। सुप्रीम तो एक ही है जिसको भगवान कहा जाता है। वह नॉलेजफुल है तो तुमको नॉलेज सिखलाते हैं। यह ईश्वरीय नॉलेज है सोर्स ऑफ इनकम। नॉलेज भी उत्तम, मध्यम, कनिष्ट होती है ना। बाप है ऊंच ते ऊंच तो पढ़ाई भी ऊंच ते ऊंच है। मर्तबा भी ऊंच है। हिस्ट्री, जॉग्राफी तो झट जान जाते हैं। बाकी याद की यात्रा में युद्ध चलती है। इसमें तुम हारते हो तो नॉलेज में भी तुम हारते हो। हारकर भागन्ती हो जाते हैं तो नॉलेज में भी भागन्ती हो जाते हैं। फिर जैसे थे वैसे बन जाते हैं और ही उनसे भी बदतर। बाप के आगे चलन से देह-अभिमान झट प्रसिद्ध हो जाता है। ब्राह्मणों की माला भी है परन्तु कइयों को पता नहीं है कि हम कैसे नम्बरवार यहाँ बैठें। देह-अभिमान है ना। निश्चय वाले को जरूर अपार खुशी होगी। किसको निश्चय है हम यह शरीर छोड़कर प्रिन्स बनूँगा? (सबने हाथ उठाया) बच्चों को इतनी खुशी रहती है। तुम सबमें तो पूरे दैवीगुण होने चाहिए, जबकि निश्चय है। निश्चयबुद्धि माना विजयी माला में पिरोवन्ती माना शहज़ादा बनन्ती। एक दिन जरूर आयेगा जो फॉरेनर्स सबसे जास्ती आबू में आयेंगे और सब तीर्थ यात्रा आदि छोड़ देंगे। वह चाहते हैं भारत का राजयोग सीखें। कौन है जिसने पैराडाइज़ स्थापन किया। पुरूषार्थ किया जाता है, कल्प पहले यह हुआ होगा तो जरूर म्युज़ियम बन जायेगा। समझाना है ऐसी प्रदर्शनी हमेशा के लिए लगाने चाहते हैं। 4-5 वर्ष के लिए लीज़ पर भी मकान लेकर लगा सकते हैं। हम भारत की ही सेवा करते हैं, सुखधाम बनाने के लिए। इसमें बहुतों का कल्याण होगा। अच्छा।

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अपार खुशी में रहने के लिए सदा स्मृति रहे कि स्वयं बाप हमारा श्रृंगार कर रहे हैं, वह हमें अथाह धन देते हैं। हम नई दुनिया अमरपुरी के लिए पढ़ रहे हैं।

2) विजयमाला में पिरोने के लिए निश्चयबुद्धि बन दैवीगुण धारण करने हैं। जो दिया उसे वापस लेने का संकल्प कभी न आये। संशयबुद्धि बन अपना पद नहीं गँवाना है।

वरदान:- विघ्नों को मनोरंजन का खेल समझ पार करने वाले निर्विघ्न, विजयी भव
विघ्न आना यह अच्छी बात है लेकिन विघ्न हार न खिलाये। विघ्न आते ही हैं मजबूत बनाने के लिए, इसलिए विघ्नों से घबराने के बजाए उन्हें मनोरंजन का खेल समझ पार कर लो तब कहेंगे निर्विघ्न विजयी। जब सर्वशक्तिमान बाप का साथ है तो घबराने की कोई बात ही नहीं। सिर्फ बाप की याद और सेवा में बिजी रहो तो निर्विघ्न रहेंगे। जब बुद्धि फ्री होती है तब विघ्न वा माया आती है, बिजी रहो तो माया वा विघ्न किनारा कर लेंगे।
स्लोगन:- सुख के खाते को जमा करने के लिए मर्यादा-पूर्वक दिल से सबको सुख दो।

TODAY MURLI 2 NOVEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 2 November 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 1 November 2018 :- Click Here

02/11/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, there will definitely be obstacles in the service of changing human beings into deities. You have to tolerate all difficulties and still remain engaged in this service. You have to become merciful.
Question: What are the signs of those who are aware of their final birth?
Answer: Their intellects are aware that they are neither going to take another birth in this world nor that they have to give birth to others. This is the world of sinful souls and we don’t want it to increase any more; it has to be destroyed. We will shed these old clothes and return to our home. The play is now coming to an end.
Song: The buds of the new age… 

Om shanti. The Father sits here and explains to you children: You children have to ignite each one’s light. This is in your intellects. The Father too has the unlimited thought to show all human beings the path to liberation. The Father comes to serve you children and to liberate you from sorrow. People don’t understand that this is a place of sorrow and that there must also be a place of happiness. They don’t know this. In the scriptures, they have made the place of happiness into a place of sorrow. The Father is merciful. People don’t even know that they are unhappy because they don’t know about happiness and the One who gives that happiness. This too is destined in the drama. They don’t know what is called happiness and what is called sorrow. They say of God that He is the One who gives happiness and sorrow, which means that they defame Him. They don’t know God, the One they call the Father. The Father says: I only give happiness to you children. You know that Baba has now come to purify the impure. He says: I will take everyone back to the sweet home. That sweet home too is pure; no impure souls reside there. No one knows that place. They say: So-and-so went beyond to the land of nirvana, but they don’t understand. If Buddha went to the land of nirvana, he must surely have been a resident of that place, and so he went back there. Achcha, he went there, but how could others go there? He didn’t take anyone with him. In fact, he didn’t go there for this is why everyone remembers the Purifier Father. There are two pure worlds: one is the land of liberation and the other is the land of liberation-in-life. There is the land of Shiva and the land of Vishnu and this is the land of Ravan. The Supreme Father, the Supreme Soul, is also called Rama. When “The kingdom of Rama” is said, your intellects go to God. Not everyone would accept a human being as God. So, you have to have mercy for them. You have to tolerate difficulties. Baba says: Sweet children, there will be many obstacles in this sacrificial fire of knowledge for changing human beings into deities. The God of the Gita also had to take insults. This one and you too are insulted. They say: Perhaps this one saw the moon on the fourth night. All of those are tall stories. There is so much dirt in the world. Look at what people eat; they even kill animals. Look at the things they do. The Father comes and liberates you from all of those things. There is so much violence in the world. The Father makes everything so easy for you. The Father says: Simply remember Me and your sins will be absolved. Explain just the one thing to everyone. The Father says: Remember your land of peace and your land of happiness. You are originally the residents of that place. Sannyasis also show you the path to that place. If someone went to the land of nirvana, how could he take others with him? Who would take them there? For instance, if Buddha went to the land of nirvana, his followers, the Buddhists, are sitting here. He should also take them back with him. It is remembered that the spirits (souls) of all the messengers are also here, that is, each of them is in one body or another and yet people continue to sing their praise. Achcha, they went, having established a religion. In that case, what happened afterwards? People beat their heads so much to go into liberation. Baba didn’t teach you to do chanting, tapasya or to go on pilgrimages etc. The Father says: I come to grant everyone liberation and salvation. I take everyone back with Me. There is liberation-in-life in the golden age. There is just theone religion there. He takes all the souls back home. You know that Baba is the Master of the Garden and we all are the gardeners. As gardeners, Mama, Baba and all the children continue to sow seeds. The saplings emerge and then storms of Maya affect them. There are many types of storm that affect them. They are obstacles of Maya. When there are storms, you should ask: Baba, what should I do about this? The Father is the One who gives you shrimat. There will be storms. Number one is body consciousness. They don’t understand: I, the soul, am imperishable and the body is perishable. We have now completed our 84 births. It is the soul that takes rebirth. It is the work of each soul to shed a body and take another again and again. The Father says: This is now your final birth. You are neither going to take another birth in this world, nor do you have to give birth to anyone. Some ask: In that case, how will the world continue? Ah, but we don’t want the world to increase any more at this time. That is just increasing corruption. This system has continued since Ravan came. It is Ravan who makes the world corrupt. Rama makes it elevated. For that too, you have to make so much effort. You repeatedly become body conscious. If you didn’t become body conscious, you would consider yourself to be souls. In the golden age too, they consider themselves to be souls. They know when their bodies have become old and that they will then renounce them and take new ones. Here, they don’t even have any knowledge of souls. They simply consider themselves to be bodies. Those who are unhappy want to leave this world. There, there is just happiness, but they do have knowledge of souls there. Each one sheds a body and takes another and this is why they don’t experience sorrow. That is the reward of happiness. Here, too, they speak of the soul, and some even say that the soul is the Supreme Soul. They do have knowledge of the existence of the soul, but they don’t know that they cannot leave their parts and go back. You definitely have to shed a body and then take another. Everyone believes in rebirth. Everyone repents for his actions. In the kingdom of Maya, actions are always sinful and so they continue to repent for their actions. There, you won’t perform any such action that you would then have to repent for it. You understand that you now have to return home and that destruction has to take place. They are still trying out the bombs. Out of anger, they would attack with bombs. They are powerfulbombs. The Yadavas of Europe are remembered. We would call those of all religions the residents of Europe. On the one side is Bharat and they have then mixed all the others together. They have a lot of love for their own country. However, destiny is such and so what can they do? Baba is giving you all strength. You claim the kingdom with the power of yoga. Baba doesn’t give you any difficulties. The Father simply says: Remember Me and renounce body consciousness. Some say: I remember Rama or I remember Shri Krishna. They do not consider themselves to be souls at that time. If they understand themselves to be souls, why do they not remember the Father of souls? The Father says: Remember Me, the Supreme Father, the Supreme Soul. Why do you remember human beings? You have to become soul conscious. I am a soul and I am remembering the Father. Baba has ordered you: By remembering Me, your sins will be absolved and the inheritance will also enter your intellects: the Father and the property, that is, liberation and liberation-in-life. People continue to stumble around for this. They continue to hold sacrificial fires, do tapasya and chanting etc. They even go to seek blessings from the Pope. Here, the Father just tells you to renounce body consciousness and have the faith that you are a soul. This play has ended, our 84 births have ended and we now have to return home. Baba has explained it so easily! While living at home with your family, keep this in your intellect. When a play is about to end, they understand that there are only 15 minutes to go and that the scene will then end. Actors understand that they will shed their costumes and return home. Everyone now has to return home. You should talk to yourself about these things. You know for how long you have played your parts of happiness and sorrow. The Father now says: Remember Me. Forget all the things that are happening in the world. All of them are going to be destroyed. You now have to return home. Those people believe that the iron age will still continue for another forty thousand years. That is called extreme darkness. They don’t have the Father’s introduction. Knowledge means to have the Father’s introduction and ignorance means no introduction. So, that means that they are in extreme darkness. You are now in extreme light, numberwise, according to the effort you make. The night is about to end and we are to return home. Now, it is the night of Brahma, and tomorrow, it will be the day of Brahma. It takes time for it to change. You know that we are now in the land of death and that tomorrow we will be in the land of immortality. First of all, we will have to return home. The cycle of 84 births continues to turn in this way; it never stops turning. Baba says: How many times would you have met Me? Children say that they would have met Me many times. Your cycle of 84 births will come to an end, and so the cycle will also end for everyone else. This is called knowledge. It is only the Ocean of Knowledge, the Supreme Father, the Supreme Soul, the Purifier, who gives you knowledge. You can ask: Who is called the Purifier? The incorporeal One is called God, so why do you say: The Lord of Raghu is King Rama? The Father of all souls is that incorporeal One. Great tact is needed to explain these things. Day by day, you will continue to progress because you continue to receive deep knowledge. It is just the matter of Alpha that you have to explain. If you forget Alpha, you become orphans and you continue to be unhappy. By coming to know the One from the One, you become happy for 21 births. This is knowledge whereas it is ignorance when they say that God is omnipresent. Oh! But, He is the Father. The Father says: The evil spirits in you are omnipresent. Ravan, in the form of five vices, is omnipresent. You have to explain these things. You should have great intoxication that you are in God’s lap. Then, in the future, you will go into the lap of the deities. There is constant happiness there. Shiv Baba has adopted us. We have to remember Him. You have to bring benefit to yourself and to others and you will receive the kingdom. These are very good matters to understand. Shiv Baba is incorporeal and we souls are also incorporeal. We used to reside there, bodiless, naked. Baba is always bodiless. Baba never wears the costume of a body or takes rebirth. Baba reincarnates just once. First of all, He creates Brahma. Therefore, He makes this one belong to Him and gives him a different name. If it weren’t for Brahma, where would Brahmins come from? So, this is the same one who has taken the full 84 births. He is the beautiful one who then becomes ugly: he becomes shyam from sundar and then he becomes sundar from shyam. We can also call Bharat, ‘Shyam-sundar’. Bharat itself is called Shyam and Bharat is called golden aged, sunder (beautiful). It is Bharat that sits on the pyre of lust and becomes ugly. It is Bharat itself that sits on the pyre of knowledge and becomes beautiful. Baba has to beat His head with Bharat. Some people of Bharat have been converted to other religions. There is no visible difference between Europeans and Indians. When they (Indians) go abroad and get married there, they are called Christians. Their children would have those same features. Some even go to Africa and get married. Baba now gives you broad and unlimited intellects to understand the cycle. It is written that there were those who had divorced intellects at the time of destruction. The Yadavas and Kauravas had no love. Those who had love were victorious. An enemy is said to be one with a divorced intellect. The Father says: At this time, all are enemies of one another. They call the Father omnipresent and insult Him in this way, or they say that He is beyond birth and death and that He doesn’t have any name or form. They still say: O God, the Father ! They even have visions of a soul and the Supreme Soul. There is no difference between souls and the Supreme Soul, but there is numberwise strength, less and more. Although human beings are human beings, there is also their status. There is a difference between their intellects. The Ocean of Knowledge gave you knowledge and this is why you remember Him. That stage of yours will be created at the end. At amrit vela, remember the Father and experience happiness. You may lie down, but you mustn’t fall asleep. You should sit with your own determination; this requires effort. Herbalists give medicine of Amrit Vela. This too is a medicine. The Father, the Creator, creates Brahmins through Brahma and teaches this knowledge. Explain this to everyone. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Maintain the spiritual intoxication that you have come into God’s lap and that you will then go into the lap of the deities. Bring benefit to yourself and to others.
  2. Wake up at amrit vela and churn the knowledge of the Ocean of Knowledge. Stay in unadulterated remembrance of One. Renounce body consciousness and have the faith that you are a soul.
Blessing: May you be constantly happy in your heart and remain beyond all questions while having connections and relationships with all souls.
While having connections and relationships with all souls, never let there be any questions in your heart as to why someone is doing something in that way or saying something, or that something should not be like this, but like that. Those who remove all those types of questions remain constantly happy in their hearts. However, those who make a queue of questions create a creation and then also have to sustain it; they have to give time and energy to it. Therefore, now have birth control over this wasteful creation.
Slogan: Merge the Father, the Point, in your eyes and no one else can then merge into them.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 2 NOVEMBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 2 November 2018

To Read Murli 1 November 2018 :- Click Here
02-11-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – मनुष्य को देवता बनाने की सर्विस में विघ्न जरूर पड़ेंगे। तुम्हें तकलीफ सहन करके भी इस सर्विस पर तत्पर रहना है, रहमदिल बनना है”
प्रश्नः- जिसे अन्तिम जन्म की स्मृति रहती है उसकी निशानी क्या होगी?
उत्तर:- उनकी बुद्धि में रहेगा कि अब इस दुनिया में दूसरा जन्म हमें नहीं लेना है और न तो दूसरों को जन्म देना है। यह पाप आत्माओं की दुनिया है, इसकी वृद्धि अब नहीं चाहिए। इसे विनाश होना है। हम इन पुराने वस्त्रों को उतार अपने घर जायेंगे। अब नाटक पूरा हुआ।
गीत:- नई उमर की कलियां…….. 

ओम् शान्ति। बाप बैठ बच्चों को समझाते हैं कि तुम बच्चों को हरेक की ज्योति जगानी है। यह तुम्हारी बुद्धि में है। बाप को भी बेहद का ख्याल रहता है कि जो भी मनुष्य मात्र हैं, उनको मुक्ति का रास्ता बतायें। बाप आते ही हैं – बच्चों की सर्विस करने, दु:ख से लिबरेट करने। मनुष्य समझते नहीं हैं कि यह दु:ख है तो सुख का भी कोई स्थान है। यह जानते नहीं। शास्त्रों में सुख के स्थान को भी दु:ख का स्थान बना दिया है। अब बाप है रहमदिल। मनुष्य तो यह भी नहीं जानते कि हम दु:खी हैं क्योंकि सुख का और सुख देने वाले का पता ही नहीं है। यह भी ड्रामा की भावी। सुख किसको कहते हैं, दु:ख किसको कहते – यह जानते नहीं। ईश्वर के लिए कह देते कि वही सुख-दु:ख देते हैं। गोया उस पर कलंक लगाते हैं। ईश्वर, जिनको बाप कहते हैं, उनको जानते ही नहीं। बाप कहते हैं कि मैं बच्चों को सुख ही देता हूँ। तुम अब जानते हो बाबा आया है पतितों को पावन बनाने। कहते हैं मैं सबको ले जाऊंगा स्वीट होम। वह स्वीट होम भी पावन है। वहाँ कोई पतित आत्मा रहती नहीं। उस ठिकाने को कोई जानते नहीं। कहते हैं कि फलाना पार निर्वाण गया। परन्तु समझते नहीं। बुद्ध पार निर्वाण गया तो जरूर वहाँ का रहने वाला था। वहाँ ही गया। अच्छा, वह तो गया बाकी दूसरे कैसे जायें? साथ तो कोई को ले नहीं गया। वास्तव में वह जाते नहीं इसलिए सब पतित-पावन बाप को याद करते हैं। पावन दुनिया दो हैं, एक मुक्तिधाम, दूसरा जीवनमुक्तिधाम। शिवपुरी और विष्णुपुरी। यह है रावण पुरी। परमपिता परमात्मा को राम भी कहते हैं। रामराज्य कहा जाता है, तो बुद्धि परमात्मा की तरफ चली जाती है। मनुष्य को तो सब परमात्मा मानेंगे नहीं। तो तुमको तरस पड़ता है। तकलीफ तो सहन करनी पड़े।

बाबा कहते – मीठे बच्चे, मनुष्य को देवता बनाने में इस ज्ञान यज्ञ में विघ्न बहुत ही पड़ेंगे। गीता के भगवान् ने गाली खाई थी ना। गालियाँ उनको भी और तुमको भी मिलती हैं। कहते हैं ना कि इसने शायद चौथ का चन्द्रमा देखा होगा। यह सब हैं दन्त कथायें। दुनिया में तो कितना गन्द है। मनुष्य क्या-क्या खाते हैं, जानवरों को मारते हैं, क्या-क्या करते हैं! बाप आकर इन सब बातों से छुड़ा देते हैं। दुनिया में मारामारी कितनी है। तुम्हारे लिए बाप कितना सहज कर देते हैं। बाप कहते हैं कि तुम सिर्फ मुझे याद करो तो विकर्म विनाश हो जायेंगे। सबको एक ही बात समझाओ। बाप कहते हैं अपने शान्तिधाम और सुखधाम को याद करो। तुम असुल वहाँ के रहवासी हो। सन्यासी लोग भी वहाँ के लिए ही रास्ता बताते हैं। अगर एक निर्वाणधाम चला गया तो फिर दूसरे को कैसे ले जायेंगे? उनको कौन ले जायेगा? समझो, बुद्ध निर्वाणधाम में गया, उनके बौद्धी तो यहाँ बैठे हैं। उनको वापिस ले जाये ना। गाते भी हैं जो पैगम्बर हैं सबकी रूह यहाँ है, यानी किस न किस शरीर में है फिर भी महिमा गाते रहते। अच्छा, धर्म स्थापन करके गये फिर क्या हुआ? मुक्ति में जाने लिए मनुष्य कितना माथा मारते हैं। उसने तो यह जप तप तीर्थ आदि नहीं सिखाया। बाप कहते हैं मैं आता ही हूँ सबकी गति-सद्गति करने। सबको ले जाता हूँ। सतयुग में जीवनमुक्ति है। एक ही धर्म है, बाकी सब आत्माओं को वापिस ले जाते हैं। तुम जानते हो वह बाबा है बागवान, हम सब माली हैं। मम्मा बाबा और सब बच्चे माली बन बीज बोते रहते हैं। कलम निकलती है फिर माया के तूफान लग पड़ते हैं। अनेक प्रकार के तूफान लगते हैं। यह हैं माया के विघ्न। तूफान लगते हैं तो पूछना चाहिए – बाबा, इसके लिए क्या करना चाहिए? श्रीमत देने वाला बाप है। तूफान तो लगेंगे ही। नम्बरवन है देह-अभिमान। यह नहीं समझते कि मैं आत्मा अविनाशी हूँ, यह शरीर विनाशी है। हमारे 84 जन्म पूरे हुए। आत्मा ही पुनर्जन्म लेती है। घड़ी-घड़ी एक शरीर छोड़ दूसरा लेना आत्मा का ही काम है। अब बाप कहते हैं – तुम्हारा यह अन्तिम जन्म है। इस दुनिया में दूसरा जन्म नहीं लेना है, न किसको देना है। पूछते हैं कि फिर सृष्टि की वृद्धि कैसे होगी? अरे, इस समय सृष्टि की वृद्धि नहीं चाहिए। यह तो भ्रष्टाचार की वृद्धि है। यह रस्म-रावण से शुरू हुई है। दुनिया को भ्रष्टाचारी बनाने वाला रावण ठहरा। श्रेष्ठाचारी राम बनाते हैं। इसमें भी तुमको कितनी मेहनत करनी पड़ती है। घड़ी-घड़ी देह-अभिमान में आ जाते हैं। अगर देह-अभिमान में न आये तो अपने को आत्मा समझें। सतयुग में भी अपने को आत्मा तो समझते हैं ना। जानते हैं अभी यह हमारा शरीर वृद्ध हुआ है, इनको छोड़ कर नया लेंगे। यहाँ तो आत्मा का भी ज्ञान नहीं है। अपने को देह समझ बैठे हैं इस दुनिया से जाने की दिल उनकी होती है जो दु:खी होते हैं। वहाँ तो है ही सुख। बाकी आत्मा का ज्ञान वहाँ रहता है। एक शरीर छोड़ दूसरा लेते हैं इसलिए दु:ख नहीं होता। वह सुख की प्रालब्घ है। यहाँ भी आत्मा तो कहते हैं, फिर भल कोई आत्मा सो परमात्मा कह देते हैं। आत्मा है, यह तो ज्ञान है ना। परन्तु यह नहीं जानते कि हम इस पार्ट से वापिस जा नहीं सकते। एक शरीर छोड़ फिर दूसरा लेना जरूर है। पुनर्जन्म तो सब मानेंगे। कर्म तो सब कूटते हैं ना। माया के राज्य में कर्म, विकर्म ही बनते हैं, तो कर्म कूटते रहते हैं। वहाँ ऐसे कर्म नहीं, जो कूटने पड़ें।

अब तुम समझते हो कि वापिस जाना है। विनाश होना ही है। बाम्ब्स की ट्रायल भी ले रहे हैं। गुस्से में आकर फिर ठोक देंगे। यह पॉवरफुल बाम्ब्स हैं। गायन भी है यूरोपवासी यादव। भल हम सब धर्म वालों को यूरोपवासी ही कहेंगे। भारत है एक तरफ। बाकी उन सबको मिला दिया है। अपने खण्ड लिए उन्हों को प्यार तो बहुत है। परन्तु भावी ऐसी है तो क्या करेंगे? त़ाकत सारी तुमको बाबा दे रहे हैं। योगबल से तुम राज्य ले लेते हो। तुमको कोई भी तकलीफ नहीं देते हैं। सिर्फ बाप कहते हैं मुझे याद करो, देह-अभिमान छोड़ो। कहते हैं कि मैं राम को याद करता हूँ, श्रीकृष्ण को याद करता हूँ, तो वे अपने को आत्मा थोड़ेही समझते हैं। आत्मा समझते तो आत्मा के बाप को क्यों नहीं याद करते हैं? बाप कहते हैं मुझ परमपिता परमात्मा को याद करो। तुम जीव आत्मा को क्यों याद करते हो? तुमको देही-अभिमानी बनना है। मैं आत्मा हूँ, बाप को याद करता हूँ। बाबा ने फ़रमान किया है – याद करने से विकर्म विनाश होंगे और वर्सा भी बुद्धि में आ जायेगा। बाप और जायदाद अर्थात् मुक्ति और जीवनमुक्ति। इसके लिए ही धक्के खाते रहते हैं। यज्ञ, जप, तप आदि करते रहते हैं। पोप से भी आशीर्वाद लेने जाते हैं, यहाँ बाप सिर्फ कहते हैं कि देह-अभिमान छोड़ो, अपने को आत्मा निश्चय करो। यह नाटक पूरा हुआ है, हमारे 84 जन्म पूरे हुए हैं, अब जाना है। कितना सहज करके समझाते हैं। गृहस्थ व्यवहार में रहते बुद्धि में यह रखो। जैसे नाटक पूरा होने पर होता है तो समझते हैं कि बाकी 15 मिनट हैं। अभी यह सीन पूरी होगी। एक्टर्स समझते हैं हम यह कपड़ा उतार घर को जायेंगे। अभी सबको वापिस जाना है। ऐसी-ऐसी बातें अपने से करनी चाहिए। कितना समय हमने सुख-दु:ख का पार्ट बजाया है, यह जानते हैं। अभी बाप कहते हैं कि मुझे याद करो, दुनिया में क्या-क्या हो रहा है, इन सबको भूल जाओ – यह सब ख़त्म हो जाने वाले हैं, अब वापिस जाना है। वह समझते हैं कि कलियुग अभी 40 हजार वर्ष चलेगा। इसको घोर अन्धियारा कहा जाता है। बाप का परिचय नहीं है। ज्ञान माना बाप का परिचय, अज्ञान माना नो परिचय। तो गोया घोर अन्धियारे में हैं। अभी तुम घोर सोझरे में हो – नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार। अब रात पूरी होने वाली है, हम वापिस जाते हैं। आज ब्रह्मा की रात, कल ब्रह्मा का दिन होगा, बदलने में टाइम तो लगेगा ना। तुम जानते हो अब हम मृत्युलोक में हैं, कल अमरलोक में होंगे। पहले तो वापिस जाना होगा। ऐसे यह 84 जन्मों का चक्र फिरता है। यह फिरना बन्द नहीं होता है। बाबा कहते हैं तुम कितनी बार मेरे से मिले होंगे? बच्चे कहते कि अनेक बार मिले हैं। तुम्हारे 84 जन्मों का चक्र पूरा होता है, तो सबका हो जायेगा। इसको कहा जाता है ज्ञान। ज्ञान देने वाला है ही ज्ञान सागर, परमपिता परमात्मा, पतित-पावन। तुम पूछ सकते हो पतित-पावन किसको कहा जाता है? भगवान् तो निराकार को कहा जाता है फिर तुम रघुपति राघव राजा राम क्यों कहते हो? आत्माओं का बाप तो वह निराकार ही है, समझाने की बड़ी ही युक्ति चाहिए।

दिन-प्रतिदिन तुम्हारी उन्नति होती रहेगी क्योंकि गुह्य ज्ञान मिलता रहता है। समझाने के लिए है सिर्फ अल्फ की बात। अल्फ को भूले तो आऱफन हो गये, दु:खी होते रहते हैं। एक द्वारा, एक को जानने से तुम 21 जन्म सुखी हो जाते हो। यह है ज्ञान, वह है अज्ञान, जो कह देते परमात्मा सर्वव्यापी है। अरे, वह तो बाप है। बाप कहते हैं तुम्हारे अन्दर भूत सर्वव्यापी हैं। 5 विकार रूपी रावण सर्वव्यापी है। यह बातें समझानी पड़ती हैं। हम ईश्वर की गोद में हैं – यह बड़ा भारी नशा होना चाहिए। फिर भविष्य में देवताई गोद में जायेंगे। वहाँ तो सदैव सुख है। शिवबाबा ने हमको एडाप्ट किया है। उनको याद करना है। अपना भी और दूसरों का भी कल्याण करना है तो राजाई मिलेगी। यह समझने की बड़ी अच्छी बात है। शिवबाबा है निराकार, हम आत्मा भी निराकार हैं। वहाँ हम अशरीरी नंगे रहते थे। बाबा तो सदैव अशरीरी ही है, बाबा कभी शरीर रूपी कपड़ा पहन पुनर्जन्म नहीं लेते हैं। बाबा एक बार रीइनकारनेट करते हैं। पहले-पहले ब्राह्मण रचते हैं तो उनको अपना बनाकर और नाम रखना पड़े ना। ब्रह्मा नहीं तो ब्राह्मण कहाँ से आये? तो यह वही है जिसने पूरे 84 जन्म लिए हैं, गोरा जो फिर सांवरा बना है, सुन्दर से श्याम, श्याम से सुन्दर बनता है। भारत का भी हम श्याम-सुन्दर नाम रख सकते हैं। भारत को ही श्याम, भारत को ही गोल्डन एज, सुन्दर कहते हैं। भारत ही काम चिता पर बैठ काला बनता है, भारत ही ज्ञान चिता पर बैठ गोरा बनता है। भारत से ही माथा मारना पड़ता है। भारतवासी फिर और और धर्मों में कनवर्ट हो गये हैं। यूरोपियन और इन्डियन में फ़र्क नहीं दिखाई पड़ता है, वहाँ जाकर शादी करते हैं तो फिर क्रिश्चियन कहलाने लग पड़ते हैं। उनके बच्चे आदि भी उसी फीचर्स के होते हैं। अफ्रीका में भी शादी कर लेते हैं।

अब बाबा विशालबुद्धि देते हैं, चक्र को समझने की। यह भी लिखा हुआ है – विनाश काले विपरीत बुद्धि। यादवों और कौरवों ने प्रीत नहीं रखी। जिन्होंने प्रीत रखी उनकी विजय हुई। विपरीत बुद्धि कहा जाता है दुश्मन को। बाप कहते हैं इस समय सब एक-दो के दुश्मन हैं। बाप को ही सर्वव्यापी कह गाली देते हैं या तो फिर कह देते जन्म-मरण रहित है, उनको कोई भी नाम-रूप नहीं है। ओ गॉड फादर भी कहते हैं, साक्षात्कार भी होता है आत्मा और परमात्मा का। उसमें और परमात्मा में फ़र्क नहीं रहता। बाकी नम्बरवार कम जास्ती ताकत तो होती ही है। मनुष्य भल मनुष्य हैं, उनमें भी तो मर्तबे होते हैं। बुद्धि का फ़र्क है। ज्ञान सागर ने तुमको ज्ञान दिया है तो उनको याद करते हो, वह अवस्था तुम्हारी अन्त में बनेगी।

अमृतवेले सिमर-सिमर सुख पाओ, भल लेटे रहो परन्तु नींद नहीं आनी चाहिए। अपना हठ कर बैठना चाहिए। मेहनत है। वैद्य लोग भी दवाई देते हैं अमृतवेले के लिए। यह भी दवाई है। रचता बाप ब्रह्मा द्वारा ब्राह्मण रचकर पढ़ाते हैं – यह बात सबको समझानी है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) हमने ईश्वर की गोद ली है फिर देवताई गोद में जायेंगे इसी रूहानी नशे में रहना है। अपना और दूसरों का कल्याण करना है।

2) अमृतवेले उठ ज्ञान सागर के ज्ञान का मनन करना है। एक की अव्यभिचारी याद में रहना है। देह-अभिमान छोड़ स्वयं को आत्मा निश्चय करना है।

वरदान:- हर आत्मा के संबंध-सम्पर्क में आते सब प्रश्नों से पार रहने वाले सदा प्रसन्नचित भव
हर आत्मा के संबंध-सम्पर्क में आते कभी चित के अन्दर यह प्रश्न उत्पन्न न हो कि यह ऐसा क्यों करता वा क्यों कहता, यह बात ऐसे नहीं, ऐसे होनी चाहिए। जो इन प्रश्नों से पार रहते हैं वही सदा प्रसन्नचित रहते हैं। लेकिन जो इन प्रश्नों की क्यू में चले जाते, रचना रच लेते तो उन्हें पालना भी करनी पड़ती। समय और एनर्जी भी देनी पड़ती, इसलिए इस व्यर्थ रचना का बर्थ कन्ट्रोल करो।
स्लोगन:- अपने नयनों में बिन्दू रुप बाप को समा लो तो और कोई समा नहीं सकता।
Font Resize