daily murli 2 july

TODAY MURLI 2 JULY 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 2 July 2020

02/07/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you now have to study here and change from thorns into fragrant flowers for your future 21 births. Imbibe divine virtues and also inspire others to do so.
Question: The locks on the intellects of which children continue to open, numberwise?
Answer: Those who continually follow shrimat and stay in remembrance of the Purifier Father. The locks on the intellects of those whose yoga is connected to the One who teaches them, continue to open. Baba says: Children, practise considering yourselves to be souls, brothers, and listen to the Father. Listen and explain to others in the state of soul consciousness and your locks will continue to open.

Om shanti. The Father explains to you children: When you sit here, it isn’t that you just have to stay in remembrance of Shiv Baba. That would only be peace, but you also need happiness. You do have to remain peaceful, but you must also spin the discus of self-realisation and remember your kingdom as well. You are making effort to change from ordinary humans into Narayan, from human beings into deities. Here, no matter how many divine virtues someone has, he cannot be called a deity. Deities only exist in heaven. People of the world don’t know about heaven. You children know that the new world is called heaven and that the old world is called hell. This is only known by you people of Bharat. The images of the deities who used to rule in the golden age only exist in Bharat. They are of the original eternal deity religion. Those images are taken abroad for them to be worshipped. Whatever other places people abroad go to, they build their temples there. No matter where those of other religions go, they worship the images of their own religion. Whichever town they conquer, they go and build churches there. Every religion has its own images that they use for worship. Previously, you didn’t know that you were deities. You thought of yourselves as separate from them and you worshipped them. Those of other religions know that they are worshipping the founder of their religion: If it is Christ, they say: “We are Christians”. Or “We are Buddhists”. However, because Hindus don’t know their own religion, they call themselves Hindus and worship the deities. They don’t even understand that they belong to the original eternal deity religion, and that they are worshipping their own ancestors. Christians worship Christ alone. The people of Bharat don’t know what their religion is, who established it or when. The Father says: When the original eternal deity religion of Bharat disappears, I come and establish it once again. You children now have this knowledge in your intellects. Previously, you didn’t know anything at all. On the path of devotion you continued to worship those images without understanding anything about them. You know that you are now no longer on the path of devotion. There is now the difference of day and night between you, the decoration of the Brahmin clan, and the shudra clan. Only at this time do you understand this. You will not know this in the golden age. It is only at this time that you receive this understanding. The Father gives understanding to souls. Only you Brahmins know about the old world and the new world. In the old world, there are many human beings. Human beings here fight and quarrel so much; this is the jungle of thorns. You know that you too were thorns. Baba is now making you into flowers. The thorns bow down to these fragrant flowers. You now understand this secret. We were those deities who have now become fragrant flowers (Brahmins). The Father has explained that this is the drama. Previously, dramas or films etc. didn’t exist; they have been invented recently. Why have they been invented? So that it becomes easy for the Father to give examples. You children also can understand these things. You children also have to study science. Their intellects will carry all the sanskars of science with them, which will be useful there. The world won’t be completely destroyed. You will carry those sanskars with you and take birth there. Aeroplanes etc. will also be built there. Useful things that are worthy of that place are now being created. There are still those who build ships, but such ships won’t be of any use there. Whether they take knowledge or not, those sanskars of theirs will be of no use there. There is no need for ships there; it is not in the drama. Yes, aeroplanes and electricity etc. will be needed. Such things continue to be invented. Children come here having studied those things there (abroad). Only you children have all of these things in your intellects. You know that you are studying for the new world. Baba is now teaching us for our future 21 births. We are becoming pure in order to become residents of heaven. Previously, we were residents of hell. People say: So-and-so has become a resident of heaven. However, they don’t consider themselves to be residents of hell. The locks on their intellects do not open. The locks on the intellects of you children are now opening, numberwise, little by little. The locks on those who continue to follow shrimat and remember the Purifier Father gradually open. The Father gives you knowledge and also teaches you to have remembrance. He is the Teacher, is He not? So, the Teacher would surely teach you. The more yoga you have with the Teacher and the study, the higher the status you will claim. In other studies, you have yoga with whatever study it is anyway. You would know that a barrister is teaching you. Here, it is the Father who is teaching you. Because this is something new, you still forget this. It is very easy to remember your body. You repeatedly remember your body. You forget that you are a soul. The Father is now explaining to you souls. We souls are brothers. The Father knows that He is the Supreme Soul. He is teaching you souls to consider yourselves to be souls and to teach others while considering them to be souls. Souls listen through their ears and it is the Supreme Father, the Supreme Soul, who speaks this knowledge. He is called the Supreme Soul. When you explain to others, your intellect should know that you, the soul, have this knowledge and that you are relating it to souls: I am telling souls what I have heard from the Baba. This is something completely new. When you’re teaching others, you do not teach them in soul consciousness; you forget this. This is your destination. Your intellect must remember: I, the soul, am imperishable. I, the soul, am playing my part through these physical organs. You souls belonged to the shudra clan and are now in the Brahmin clan. You will then go into the deity clan. There, you will receive pure bodies. We souls are brothers. The Father is teaching you children. You children say that you are brothers and that you are teaching your brothers. Everything is explained to souls. Souls listen through their bodies. These are very subtle aspects. That consciousness doesn’t remain. You have remained body conscious for half the cycle. You must now become soul conscious. Have the faith that you are souls. Sit down here with the faith that you are souls. Listen with the faith that you are souls. The Supreme Father, the Supreme Soul, is speaking this knowledge to you. This is why it is said: Souls remained separated from the Supreme Soul for a long time. I don’t teach you there. I have to come here to teach you. All other souls have their own bodies. This Father is the Supreme Soul. He doesn’t have a body of His own. That soul is called Shiva. You know that this body doesn’t belong to Me. I am the Supreme Soul. My praise is separate. Each one’s praise is individual. There is the praise, “The Supreme Father, the Supreme Soul, carries out establishment through Brahma”. He is the Ocean of Knowledge, the Seed of the Human World. He is the Truth, the Living Being and the Ocean of Bliss, Peace and Happiness. This is the Father’s praise. Children are aware of their father’s property. They have the intoxication of their father owning such-and-such a factory or mill. It is the children who become masters of that property. Only once do you receive this property. Have you heard about the property that the Father has? You souls are immortal; you never experience death. You become oceans of love too. Lakshmi and Narayan are also oceans of love; they never fight or quarrel. Here, people fight and quarrel so much. There is even more complication because of love. The Father has come to put an end to vice. This is why there is so much violence. The Father says: Children, become pure and you will become the masters of the pure world. Lust is the greatest enemy. This is why, when you come to Baba, you are told: Tell Baba about the sins you have committed in this birth and your burden of sins will be lightened. In this too, the main thing is the aspect of lust. The Father asks you children to tell Him this for your own benefit. It is because those who indulge in vice are said to be impure that they call out to the Purifier: O Purifier come! This world is impure. Human beings are impure. Even the five elements are impure. The elements there have to be made pure for you. The shadows of the deities cannot fall on this devilish land. People invoke Lakshmi, but it is not possible for her to come here yet. These five elements still have to change first. The golden age is the new world, whereas this is the old world. It is now the time for this world to end. Human beings believe that there are 40,000 years still to go. Since the cycle itself is only 5000 years, how could just the one iron age be 40,000 years? There is so much darkness of ignorance! There is no knowledge. Devotion is the night of Brahmins and knowledge is the day of Brahma and Brahmins. It exists now in a practical way. This is very clearly shown in the picture of the ladder. The new world and the old world are said to be half and half. It isn’t that the new world is longer than the old world; no. They are exactly half and half. Therefore, it can be divided into quarters. If it were not half and half, it couldn’t be divided into accurate quarters. The swastika too is divided into four equal parts. They believe that they are drawing their chart of omens (Ganesh). You children now understand that this old world is to be destroyed. We are studying for the new world. We are changing from ordinary humans into Narayan for the new world. Krishna belongs to the new world as well. There is praise of Krishna. He is called a great soul because he is a young child. Young children are so lovely. There isn’t as much love for grown-ups as there is for infants because infants are in their satopradhan stage. There is no odour of vice about them. When they grow up, there is the odour of vice. You children must never have criminal eyes. It is just those eyes that deceive you. This is why you are given the example of someone who plucked out his eyes. It is not like that. No one plucks out his eyes in that way. Baba now explains things of knowledge to you. Each of you has now received a third eye of knowledge. You souls have received spiritual knowledge. Knowledge is in the souls. The Father says: I have knowledge. Souls cannot be immune to the effect of action. A soul sheds his body and takes another. Souls are imperishable. The soul is so tiny, and yet he plays a part of 84 births. No one else can tell you these things. Those people (sannyasis) say that souls are immune to the effect of action. This is why the Father says: First of all, realise what a soul is. Some ask: Where will animals go? Oh! Put aside the aspect of animals. At least firstrealise souls: What am I, the soul, like? What am I? The Father says: Unless you realise yourself to be a soul, how are you going to know Me? All of these subtle things are in the intellects of you children. Each of you souls has a part of 84 births recorded in you. It continues to be played. Some say: If everything is fixed in the drama, why should we make any effort? However, you can’t even take water unless you make some effort for it. Don’t think that you will receive everything automatically according to the drama. Actions definitely have to be performed. There are good and bad actions. You can use your intellects to understand this. The Father says: This is Ravan’s kingdom. Your acts become sinful here. There is no kingdom of Ravan there, so, there are no sinful acts there. Only I explain the philosophy of action, neutral action and sinful action to you. There, your acts are neutral. In the kingdom of Ravan acts are sinful. Those who recite the Gita don’t explain this meaning. They just read it out. They recite the verses (slokhas) in Sanskrit and then give their understanding of them in Hindi. The Father says: Some words are accurate. God speaks the Gita, but no one knows who God is. Achcha.

To the sweetest, beloved, and long-lost, now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. I, a soul, am a master of the unlimited Father’s property. Just as the Father is the Ocean of Peace, Purity and Bliss, in the same way, I, a soul, am a master ocean. Maintain this intoxication.
  2. Don’t stop making effort by just saying “Drama”! You definitely do have to act. Understand the philosophy of action, neutral action and sinful action and constantly perform elevated actions.
Blessing: May you constantly be merged in the Father’s imperishable and selfless love and become Maya-proof.
Maya cannot attract the children who remain constantly merged in the Father’s love. Just as not a single drop of water can stay on waterproof clothes, in the same way, those who remain merged in this love become Maya-proof. Maya cannot attack you in any way because the Father’s love is imperishable and selfless. How can those who have experienced this become trapped in temporary love. One is the Father and the second is I, and no third person can come in-between us.
Slogan: Those who act while loving and detached are able to put a full stop in a second.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 2 JULY 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 2 July 2020

Murli Pdf for Print : – 

02-07-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – तुम्हें अभी भविष्य 21 जन्मों के लिए यहाँ ही पढ़ाई पढ़नी है, कांटे से खुशबूदार फूल बनना है, दैवीगुण धारण करने और कराने हैं”
प्रश्नः- किन बच्चों की बुद्धि का ताला नम्बरवार खुलता जाता है?
उत्तर:- जो श्रीमत पर चलते रहते हैं। पतित-पावन बाप की याद में रहते हैं। पढ़ाई पढ़ाने वाले के साथ जिनका योग है उनकी बुद्धि का ताला खुलता जाता है। बाबा कहते – बच्चे, अभ्यास करो हम आत्मा भाई-भाई हैं, हम बाप से सुनते हैं। देही-अभिमानी हो सुनो और सुनाओ तो ताला खुलता जायेगा।

ओम् शान्ति। बाप बच्चों को समझाते हैं जब यहाँ बैठते हो तो ऐसे भी नहीं कि सिर्फ शिवबाबा की याद में रहना है। वह हो जायेगी सिर्फ शान्ति फिर सुख भी चाहिए। तुमको शान्ति में रहना है और स्वदर्शन चक्रधारी बन राजाई को भी याद करना है। तुम पुरूषार्थ करते ही हो नर से नारायण अथवा मनुष्य से देवता बनने के लिए। यहाँ भल कितने भी कोई में दैवीगुण हों तो भी उनको देवता नहीं कहेंगे। देवता होते ही हैं स्वर्ग में। दुनिया में मनुष्यों को स्वर्ग का पता नहीं है। तुम बच्चे जानते हो नई दुनिया को स्वर्ग, पुरानी दुनिया को नर्क कहा जाता है। यह भी भारतवासी ही जानते हैं। जो देवतायें सतयुग में राज्य करते थे उन्हों के चित्र भी भारत में ही हैं। यह है आदि सनातन देवी-देवता धर्म के। फिर भल करके उन्हों के चित्र बाहर में ले जाते हैं, पूजा के लिए। बाहर कहाँ भी जाते हैं तो जाकर वहाँ मन्दिर बनाते हैं। हर एक धर्म वाले कहाँ भी जाते हैं तो अपने चित्रों की ही पूजा करते हैं। जिन-जिन गांवों पर विजय पाते हैं वहाँ चर्च आदि जाकर बनाते हैं। हर एक धर्म के चित्र अपने-अपने हैं पूजा के लिए। आगे तुम भी नहीं जानते थे कि हम ही देवी-देवता थे। अपने को अलग समझकर उन्हों की पूजा करते थे। और धर्म वाले पूजा करते हैं तो जानते हैं कि हमारा धर्म स्थापक क्राइस्ट है, हम क्रिश्चियन हैं अथवा बौद्धी हैं। यह हिन्दू लोग अपने धर्म को न जानने कारण अपने को हिन्दू कह देते हैं और पूजते हैं देवताओं को। यह भी नहीं समझते कि हम आदि सनातन देवी-देवता धर्म के हैं। हम अपने बड़ों को पूजते हैं। क्रिश्चियन एक क्राइस्ट को पूजते हैं। भारतवासियों को यह पता नहीं कि हमारा धर्म कौन-सा है? वह किसने और कब स्थापन किया था? बाप कहते हैं यह भारत का आदि सनातन देवी-देवता धर्म जब प्राय: लोप हो जाता है तब मैं आता हूँ फिर से स्थापन करने। यह ज्ञान अभी तुम बच्चों की बुद्धि में है। पहले कुछ भी नहीं जानते थे। बिगर समझे भक्ति मार्ग में चित्रों की पूजा करते रहते थे। अभी तुम जानते हो हम भक्ति मार्ग में नहीं हैं। अभी तुम ब्राह्मण कुल भूषण और शूद्र कुल वालों में रात-दिन का फर्क है। वह भी इस समय तुम समझते हो। सतयुग में नहीं समझेंगे। इस समय ही तुमको समझ मिलती है। बाप आत्माओं को समझ देते हैं। पुरानी दुनिया और नई दुनिया का तुम ब्राह्मणों को ही पता है। पुरानी दुनिया में ढेर मनुष्य हैं। यहाँ तो मनुष्य कितना लड़ते झगड़ते हैं। यह है ही कांटों का जंगल। तुम जानते हो हम भी कांटे थे। अभी बाबा हमको फूल बना रहे हैं। कांटे इन खुशबूदार फूलों को नमन करते हैं। यह राज़ अभी तुमने जाना है। हम सो देवता थे जो फिर आकर अब खुशबूदार फूल (ब्राह्मण) बने हैं। बाप ने समझाया है यह ड्रामा है। आगे यह ड्रामा, बाइसकोप आदि नहीं थे। यह भी अभी बने हैं। क्यों बने हैं? क्योंकि बाप को दृष्टान्त देने में सहज हो। बच्चे भी समझ सकते हैं। यह साइंस भी तो तुम बच्चों को सीखनी है ना। बुद्धि में यह सब साइंस के संस्कार ले जायेंगे जो फिर वहाँ काम में आयेंगे। दुनिया कोई एकदम तो खत्म नहीं हो जाती। संस्कार ले जाकर फिर जन्म लेते हैं। विमान आदि भी बनाते हैं। जो-जो काम की चीजें वहाँ के लायक हैं वह बनती हैं। स्टीमर बनाने वाले भी होते हैं परन्तु स्टीमर तो वहाँ काम में नहीं आयेंगे। भल कोई ज्ञान लेवे या न लेवे परन्तु उनके संस्कार काम में नहीं आयेंगे। वहाँ स्टीमर्स आदि की दरकार ही नहीं। ड्रामा में है नहीं। हाँ विमानों की, बिजलियों आदि की दरकार पड़ेगी। वह इन्वेन्शन निकालते रहते हैं। वहाँ से बच्चे सीख कर आते हैं। यह सब बातें तुम बच्चों की बुद्धि में ही हैं।

तुम जानते हो हम पढ़ते ही हैं नई दुनिया के लिए। बाबा हमको भविष्य 21 जन्मों के लिए पढ़ाते हैं। हम स्वर्गवासी बनने के लिए पवित्र बन रहे हैं। पहले नर्कवासी थे। मनुष्य कहते भी हैं फलाना स्वर्गवासी हुआ। परन्तु हम नर्क में हैं यह नहीं समझते। बुद्धि का ताला नहीं खुलता। तुम बच्चों का अब धीरे-धीरे ताला खुलता जाता है, नम्बरवार। ताला उनका खुलेगा जो श्रीमत पर चलने लग पड़ेंगे और पतित-पावन बाप को याद करेंगे। बाप ज्ञान भी देते हैं और याद भी सिखलाते हैं। टीचर है ना। तो टीचर जरूर पढ़ायेंगे। जितना टीचर और पढ़ाई से योग होगा उतना ऊंच पद पायेंगे। उस पढ़ाई में तो योग रहता ही है। जानते हैं बैरिस्टर पढ़ाते हैं। यहाँ बाप पढ़ाते हैं। यह भी भूल जाते हैं क्योंकि नई बात है ना। देह को याद करना तो बहुत सहज है। घड़ी-घड़ी देह याद आ जाती है। हम आत्मा हैं यह भूल जाते हैं। हम आत्माओं को बाप समझाते हैं। हम आत्मायें भाई-भाई हैं। बाप तो जानते हैं हम परमात्मा हैं, आत्माओं को सिखलाते हैं कि अपने को आत्मा समझ और आत्माओं को बैठ सिखलाओ। यह आत्मा कानों से सुनती है, सुनाने वाला है परमपिता परमात्मा। उनको सुप्रीम आत्मा कहेंगे। तुम जब किसको समझाते हो तो यह बुद्धि में आना चाहिए कि हमारी आत्मा में ज्ञान है, आत्मा को यह सुनाता हूँ। हमने बाबा से जो सुना है वह आत्माओं को सुनाता हूँ। यह है बिल्कुल नई बात। तुम दूसरे को जब पढ़ाते हो तो देही-अभिमानी होकर नहीं पढ़ाते हो, भूल जाते हो। मंजिल है ना। बुद्धि में यह याद रहना चाहिए – मैं आत्मा अविनाशी हूँ। मैं आत्मा इन कर्मेन्द्रियों द्वारा पार्ट बजा रही हूँ। तुम आत्मा शूद्र कुल में थी, अभी ब्राह्मण कुल में हो। फिर देवता कुल में जायेंगे। वहाँ शरीर भी पवित्र मिलेगा। हम आत्मायें भाई-भाई हैं। बाप बच्चों को पढ़ाते हैं। बच्चे फिर कहेंगे हम भाई-भाई हैं, भाई को पढ़ाते हैं। आत्मा को ही समझाते हैं। आत्मा शरीर द्वारा सुनती है। यह बड़ी महीन बातें हैं। स्मृति में नहीं आती हैं। आधाकल्प तुम देह-अभिमान में रहे। इस समय तुमको देही-अभिमानी हो रहना है। अपने को आत्मा निश्चय करना है, आत्मा निश्चय कर बैठो। आत्मा निश्चय कर सुनो। परमपिता परमात्मा ही सुनाते हैं तब तो कहते हैं ना – आत्मा परमात्मा अलग रहे बहुकाल….. वहाँ तो नहीं पढ़ाता हूँ। यहाँ ही आकर पढ़ाता हूँ। और सभी आत्माओं को अपना-अपना शरीर है। यह बाप तो है सुप्रीम आत्मा। उनको शरीर है नहीं। उनकी आत्मा का ही नाम है शिव। जानते हो यह शरीर हमारा नहीं है। मैं सुप्रीम आत्मा हूँ। मेरी महिमा अलग है। हर एक की महिमा अपनी-अपनी है ना। गायन भी है ना – परमपिता परमात्मा ब्रह्मा द्वारा स्थापना करते हैं। वह ज्ञान का सागर, मनुष्य सृष्टि का बीजरूप है। वह सत है, चैतन्य है, आनन्द, सुख-शान्ति का सागर है। यह है बाप की महिमा। बच्चे को बाप की प्रापर्टी का मालूम रहता है – हमारे बाप के पास यह कारखाना है, यह मील है, नशा रहता है ना। बच्चा ही उस प्रापर्टी का मालिक बनता है। यह प्रापर्टी तो एक ही बार मिलती है। बाप के पास क्या प्रापर्टी है, वह सुना।

तुम आत्मायें तो अमर हो। कभी मृत्यु को नहीं पाती हो। प्रेम के सागर भी बनते हो। यह लक्ष्मी-नारायण प्रेम के सागर हैं। कभी लड़ते-झगड़ते नहीं। यहाँ तो कितना लड़ते-झगड़ते हैं। प्रेम में और ही घोटाला पड़ता है। बाप आकर विकार बन्द कराते हैं तो कितना मार पड़ती है। बाप कहते हैं बच्चे पावन बनो तो पावन दुनिया के मालिक बनेंगे। काम महाशत्रु है इसलिए बाबा के पास आते हैं तो कहते हैं जो विकर्म किये हैं, वह बताओ तो हल्का हो जायेगा, इसमें भी मुख्य विकार की बात है। बाप बच्चों के कल्याण अर्थ पूछते हैं। बाप को ही कहते हैं हे पतित-पावन आओ क्योंकि पतित विकार में जाने वाले को ही कहा जाता है। यह दुनिया भी पतित है, मनुष्य भी पतित हैं, 5 तत्व भी पतित हैं। वहाँ तुम्हारे लिए तत्व भी पवित्र चाहिए। इस आसुरी पृथ्वी पर देवताओं की परछाया नहीं पड़ सकती। लक्ष्मी का आह्वान करते हैं परन्तु यहाँ थोड़ेही आ सकती है। यह 5 तत्व भी बदलने चाहिए। सतयुग है नई दुनिया, यह है पुरानी दुनिया। इनके खलास होने का समय है। मनुष्य समझते हैं अभी 40 हज़ार वर्ष पड़े हैं। जबकि कल्प ही 5 हज़ार वर्ष का है तो फिर सिर्फ एक कलियुग 40 हज़ार वर्ष का कैसे हो सकता है। कितना अज्ञान अन्धियारा है। ज्ञान है नहीं। भक्ति है ब्राह्मणों की रात। ज्ञान है ब्रह्मा और ब्राह्मणों का दिन। जो अब प्रैक्टिकल में हो रहा है। सीढ़ी में बड़ा क्लीयर दिखाया हुआ है। नई दुनिया और पुरानी दुनिया को आधा-आधा कहेंगे। ऐसे नहीं कि नई दुनिया को जास्ती टाइम, पुरानी दुनिया को थोड़ा टाइम देंगे। नहीं, पूरा आधा-आधा होगा। तो क्वार्टर भी कर सकेंगे। आधा में न हो तो पूरा क्वार्टर भी न हो सके। स्वास्तिका में भी 4 भाग देते हैं। समझते हैं हम गणेश निकालते हैं। अब बच्चे समझते हैं यह पुरानी दुनिया विनाश होनी है। हम नई दुनिया के लिए पढ़ रहे हैं। हम नर से नारायण बनते हैं नई दुनिया के लिए। कृष्ण भी नई दुनिया का है। कृष्ण का तो गायन हुआ, उनको महात्मा कहते हैं क्योंकि छोटा बच्चा है। छोटे बच्चे प्यारे लगते हैं। बड़ों को इतना प्यार नहीं करते हैं जितना छोटों को करते हैं क्योंकि सतोप्रधान अवस्था है। विकार की बदबू नहीं है। बड़े होने से विकारों की बदबू हो जाती है। बच्चों की कभी क्रिमिनल आई हो न सके। यह आंखें ही धोखा देने वाली हैं इसलिए दृष्टान्त देते हैं कि उसने अपनी आंखें निकाल दी। ऐसी कोई बात है नहीं। ऐसे कोई आंखें निकालते नहीं हैं। यह इस समय बाबा ज्ञान की बातें समझाते हैं। तुमको तो अभी ज्ञान की तीसरी आंख मिली है। आत्मा को स्प्रीचुअल नॉलेज मिली है। आत्मा में ही ज्ञान है। बाप कहते हैं मुझे ज्ञान है। आत्मा को निर्लेप नहीं कह सकते। आत्मा ही एक शरीर छोड़ दूसरा लेती है। आत्मा अविनाशी है। है कितनी छोटी। उनमें 84 जन्मों का पार्ट है। ऐसी बात कोई कह न सके। वह तो निर्लेप कह देते हैं इसलिए बाप कहते हैं पहले आत्मा को रियलाइज़ करो। कोई पूछते हैं जानवर कहाँ जायेंगे? अरे, जानवर की तो बात ही छोड़ो। पहले आत्मा को तो रियलाइज़ करो। मैं आत्मा कैसी हूँ, क्या हूँ……? बाप कहते हैं जबकि अपने को आत्मा ही नहीं जानते हो, मुझे फिर क्या जानेंगे। यह सब महीन बातें तुम बच्चों की बुद्धि में हैं। आत्मा में 84 जन्मों का पार्ट है। वह बजता रहता है। कोई फिर कहते हैं ड्रामा में नूँध है फिर हम पुरूषार्थ ही क्यों करें! अरे, पुरूषार्थ बिगर तो पानी भी नहीं मिल सकता। ऐसे नहीं, ड्रामा अनुसार आपेही सब कुछ मिलेगा। कर्म तो जरूर करना ही है। अच्छा वा बुरा कर्म होता है। यह बुद्धि से समझ सकते हैं। बाप कहते हैं यह रावण राज्य है, इसमें तुम्हारे कर्म विकर्म बन जाते हैं। वहाँ रावण राज्य ही नहीं जो विकर्म हो। मैं ही तुमको कर्म, अकर्म, विकर्म की गति समझाता हूँ। वहाँ तुम्हारे कर्म अकर्म हो जाते हैं, रावण राज्य में कर्म विकर्म हो जाते हैं। गीता-पाठी भी कभी यह अर्थ नहीं समझाते, वह तो सिर्फ पढ़कर सुनाते हैं, संस्कृत में श्लोक सुनाकर फिर हिन्दी में अर्थ करते हैं। बाप कहते हैं कुछ-कुछ अक्षर ठीक हैं। भगवानुवाच है परन्तु भगवान किसको कहा जाता है, यह किसी को पता नहीं है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बेहद बाप के प्रापर्टी की मैं आत्मा मालिक हूँ, जैसे बाप शान्ति, पवित्रता, आनंद का सागर है, ऐसे मैं आत्मा मास्टर सागर हूँ, इसी नशे में रहना है।

2) ड्रामा कह पुरूषार्थ नहीं छोड़ना है, कर्म ज़रूर करने हैं। कर्म-अकर्म-विकर्म की गति को समझ सदा श्रेष्ठ कर्म ही करने हैं।

वरदान:- सदा बाप के अविनाशी और नि:स्वार्थ प्रेम में लवलीन रहने वाले मायाप्रूफ भव
जो बच्चे सदा बाप के प्यार में लवलीन रहते हैं उन्हें माया आकर्षित नहीं कर सकती। जैसे वाटरप्रूफ कपड़ा होता है तो पानी की एक बूंद भी नहीं टिकती। ऐसे जो लगन में लवलीन रहते हैं वह मायाप्रूफ बन जाते हैं। माया का कोई भी वार, वार नहीं कर सकता क्योंकि बाप का प्यार अविनाशी और नि:स्वार्थ है, इसके जो अनुभवी बन गये वह अल्पकाल के प्यार में फँस नहीं सकते। एक बाप दूसरा मैं, उसके बीच में तीसरा कोई आ ही नहीं सकता।
स्लोगन:- न्यारे-प्यारे होकर कर्म करने वाला ही सेकण्ड में फुलस्टॉप लगा सकता है।

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 2 JULY 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 2 July 2019

To Read Murli 1 July 2019 :- Click Here
02-07-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – ड्रामा की यथार्थ नॉलेज से ही तुम अचल, अडोल और एकरस रह सकते हो, माया के त़ूफान तुम्हें हिला नहीं सकतेˮ
प्रश्नः- देवताओं का मुख्य एक कौन-सा गुण तुम बच्चों में सदा दिखाई देना चाहिए?
उत्तर:- हर्षित रहना। देवताओं को सदा मुस्कराते हुए हर्षित दिखाते हैं। ऐसे तुम बच्चों को भी सदा हर्षित रहना है, कोई भी बात हो, मुस्कराते रहो। कभी भी उदासी या गुस्सा नहीं आना चाहिए। जैसे बाप तुम्हें राइट और रांग की समझानी देते हैं, कभी गुस्सा नहीं करते, उदास नहीं होते, ऐसे तुम बच्चों को भी उदास नहीं होना है।

ओम् शान्ति। बेहद के बच्चों को बेहद का बाप समझाते हैं। लौकिक बाप तो ऐसे नहीं कहेंगे। उनके तो करके 5-7 बच्चे होंगे। यह तो जो सभी आत्मायें हैं, आपस में ब्रदर्स हैं। उन सबका जरूर बाप होगा। कहते भी हैं हम सब भाई-भाई हैं। सबके लिए कहते हैं। जो भी आयेंगे, उनके लिए कहेंगे हम भाई-भाई हैं। ड्रामा में तो सभी बांधे हुए हैं, जिसको कोई नहीं जानते। यह न जानना भी ड्रामा में नूँध है। जो बाप ही आकर सुनाते हैं, कथायें आदि जब बैठ सुनाते हैं तो कहते हैं – परमपिता परमात्माए नम:। अब वह कौन है – यह जानते नहीं। कहते हैं ब्रह्मा देवता, विष्णु देवता, शंकर देवता परन्तु समझ से नहीं कहते हैं। ब्रह्मा को वास्तव में देवता नहीं कहेंगे। देवता विष्णु को कहा जाता है। ब्रह्मा का किसको भी पता नहीं है। विष्णु देवता ठीक है, शंकर का तो कुछ भी पार्ट है नहीं। उनकी बॉयोग्राफी नहीं है, शिवबाबा की तो बायोग्राफी है। वह आते ही हैं पतितों को पावन बनाने, नई दुनिया स्थापन करने। अभी एक आदि सनातन देवी-देवता धर्म की स्थापना और सब धर्मों का विनाश होता है। सभी कहाँ जाते हैं? शान्तिधाम। शरीर तो सबके विनाश होने हैं। नई दुनिया में होंगे ही सिर्फ तुम। जो भी मुख्य धर्म हैं, उनको तुम जानते हो। सबके तो नाम ले नहीं सकेंगे। छोटी-छोटी टाल-टालियां तो बहुत हैं। पहले-पहले है डिटीज्म फिर इस्लामी। यह बातें सिवाए तुम बच्चों के और कोई की बुद्धि में नहीं हैं। अभी वह आदि सनातन देवी-देवता धर्म प्राय:लोप है इसलिए बनेन ट्री का मिसाल देते हैं। सारा झाड़ खड़ा है। फाउन्डेशन है नहीं। सबसे बड़ी आयु इस बनेन ट्री की होती है। तो इसमें सबसे बड़ी आयु है आदि सनातन देवी-देवता धर्म की। वह जब प्राय: लोप हो तब तो बाप आकर कहे कि अभी एक धर्म की स्थापना और अनेक धर्मों का विनाश होना है, इसलिए त्रिमूर्ति भी बनाया है। परन्तु अर्थ नहीं समझते हैं। तुम बच्चे जानते हो ऊंच ते ऊंच भगवान् है फिर ब्रह्मा-विष्णु-शंकर, फिर सृष्टि पर आते हैं तो देवी-देवताओं के सिवाए और कोई धर्म है नहीं। भक्ति मार्ग की भी ड्रामा में नूँध है। पहले शिव की भक्ति करते फिर देवताओं की। भारत की ही तो बात है। बाकी तो समझते हैं हमारा धर्म, मठ, पंथ कब स्थापन होता है। जैसे आर्य लोग कहते हैं हम बहुत पुराने हैं। वास्तव में सबसे पुराना तो है ही आदि सनातन देवी-देवता धर्म। तुम जब झाड़ पर समझाते हो तो खुद भी समझ लेंगे कि हमारा धर्म फलाने समय पर आयेगा। सबको जो अनादि अविनाशी पार्ट मिला हुआ है सो बजाना है, इसमें कोई का दोष वा भूल नहीं कह सकते हैं। यह तो सिर्फ समझाया जाता है पाप आत्मा क्यों बने हैं। मनुष्य कहेंगे हम बेहद के बाप के सब बच्चे हैं, फिर सब ब्रदर्स सतयुग में क्यों नहीं हैं? परन्तु ड्रामा में पार्ट ही नहीं है। यह अनादि ड्रामा बना हुआ है, इसमें निश्चय रखो, और कोई बात बोलो नहीं। चक्र भी दिखाया है – कैसे यह फिरता है। कल्प वृक्ष का भी चित्र है। परन्तु यह कोई जानते नहीं कि इनकी आयु कितनी है। बाप कोई की निंदा नहीं करते हैं। यह तो समझाया जाता है, तुमको भी समझाते हैं तुम कितने पावन थे, अभी पतित बने हो तो पुकारते हो – हे पतित-पावन आओ। पहले तो तुम सबको पावन बनना है। फिर नम्बरवार पार्ट बजाने आना है। आत्मायें सब ऊपर में रहती हैं। बाप भी ऊपर में रहते हैं, फिर उनको बुलाते हैं कि आओ। ऐसे वह बुलाने से आते नहीं हैं। बाप कहते हैं मेरा भी ड्रामा में पार्ट नूँधा हुआ है। जैसे हद के ड्रामा में भी बड़े-बड़े मुख्य एक्टर्स का पार्ट होता है, यह फिर है बेहद का ड्रामा। सब ड्रामा के बंधन में बांधे हुए हैं, इसका मतलब यह नहीं है कि धागे में बांधे हुए हो। नहीं। यह बाप समझाते हैं। वह है जड़ झाड़। अगर बीज चैतन्य होता तो उसको मालूम होता ना कि यह कैसे झाड़ बड़ा हो फिर फल देंगे। यह तो है चैतन्य बीज इस मनुष्य सृष्टि रूपी झाड़ का, इसको उल्टा झाड़ कहा जाता है। बाप तो है नॉलेजफुल, उनको सारे झाड़ की नॉलज है। यह है वही गीता की नॉलेज। कोई नई बात नहीं है। यहाँ बाबा कोई श्लोक आदि नहीं उच्चारते हैं। वो लोग ग्रंथ पढ़कर फिर अर्थ बैठ समझाते हैं। बाप समझाते हैं यह है पढ़ाई, इसमें श्लोक आदि की दरकार नहीं। उन शास्त्रों की पढ़ाई में कोई एम-ऑबजेक्ट है नहीं। कहते भी हैं ज्ञान, भक्ति, वैराग्य। यह पुरानी दुनिया विनाश होती है। सन्यासियों का है हद का वैराग्य, तुम्हारा है बेहद का वैराग्य। शंकराचार्य आते हैं तब वह बैठ सिखलाते हैं घर बार से वैराग्य। वह भी शुरू में शास्त्र आदि नहीं सिखाते। जब बहुत वृद्धि होती जाती है तब शास्त्र बनाने शुरू करते हैं। पहले-पहले तो धर्म स्थापन करने वाला एक ही होता है फिर आहिस्ते-आहिस्ते वृद्धि को पाते हैं। यह भी समझना है। सृष्टि में पहले-पहले कौन-सा धर्म था। अभी तो अनेक धर्म हैं। आदि सनातन देवी-देवता धर्म था, जिसको स्वर्ग हेविन कहते हैं। तुम बच्चे रचयिता और रचना को जानने से आस्तिक बन जाते हो। नास्तिकपने का कितना दु:ख होता है, निधनके बन पड़ते हैं, आपस में लड़ते-झगड़ते रहते हैं। कहते हैं ना – तुम आपस में लड़ते रहते हो, तुम्हारा कोई धनी धोणी नहीं है क्या? इस समय सब निधनके बन पड़ते हैं। नई दुनिया में पवित्रता, सुख, शान्ति सब था, अपार सुख थे। यहाँ अपरमअपार दु:ख हैं। वह हैं सतयुग के, यह हैं कलियुग के, अभी तुम्हारा है पुरूषोत्तम संगमयुग। यह पुरूषोत्तम संगमयुग एक ही होता है। सतयुग-त्रेता के संगम को पुरूषोत्तम नहीं कहेंगे। यहाँ हैं असुर, वहाँ हैं देवतायें। तुम जानते हो यह रावण राज्य है। रावण के ऊपर गधे का शीश दिखाते हैं। गधे को कितना भी साफ कर उस पर कपड़े रखो, गधा फिर भी मिट्टी में लेटकर कपड़े खराब कर देगा। बाप तुम्हारे कपड़े साफ गुल-गुल बनाते हैं, फिर रावण राज्य में लिथड़ कर, अपवित्र बन जाते हो। आत्मा और शरीर दोनों अपवित्र बन जाते हैं। बाप कहते हैं तुमने सारा श्रृंगार गँवा दिया। बाप को पतित-पावन कहते हैं, तुम भरी सभा में कह सकते हो कि हम गोल्डन एज में कितने श्रृंगारे हुए थे, कितना फर्स्टक्लास राज्य-भाग्य था। फिर माया रूपी धूल में लिथड़ कर मैले हो गये।

बाप कहते हैं यह अन्धेरी नगरी है। भगवान् को सर्वव्यापी कह दिया है, जो कुछ हुआ वह हूबहू रिपीट होगा, इसमें मूँझने की दरकार नहीं है। 5 हज़ार वर्ष में कितने मिनट, घण्टे, सेकण्ड हैं, एक बच्चे ने सब धर्म वालों का हिसाब निकालकर भेजा था, इसमें भी बुद्धि व्यर्थ की होगी। बाबा तो ऐसे ही समझाते हैं कि दुनिया कैसे चलती है।

प्रजापिता ब्रह्मा है ग्रेट-ग्रेट ग्रैण्ड फादर। उनका आक्यूपेशन कोई नहीं जानते। विराट रूप बनाया है तो प्रजापिता ब्रह्मा को भी उड़ा दिया है। बाप और ब्राह्मणों को यथार्थ रीति जानते नहीं हैं। उनको कहते भी हैं आदि देव। बाप समझाते हैं मैं इस झाड़ का चैतन्य बीजरूप हूँ। यह उल्टा झाड़ है। बाप जो सत्य है, चैतन्य है, ज्ञान का सागर है, उनकी ही महिमा की जाती है। आत्मा न हो तो चल फिर भी न सकें। गर्भ में भी 5-6 मास के बाद आत्मा प्रवेश करती है। यह भी ड्रामा बना हुआ है। फिर आत्मा निकल जाती है तो खलास। आत्मा अविनाशी है, वह पार्ट बजाती है, यह बाप आकर रियलाइज़ कराते हैं। आत्मा इतनी छोटी बिन्दी है, उसमें अविनाशी पार्ट भरा हुआ है। परमपिता भी आत्मा हैं, उनको ज्ञान का सागर कहा जाता है। वही आत्मा का रियलाइजेशन कराते हैं। वह तो सिर्फ कह देते परमात्मा सर्व शक्तिमान्, हज़ारों सूर्य से तेजोमय है। परन्तु समझते कुछ नहीं। बाप कहते हैं यह सब भक्ति मार्ग में वर्णन किया हुआ है और शास्त्रों में लिख दिया है। अर्जुन को साक्षात्कार हुआ तो कहा मैं इतना तेज सहन नहीं कर सकता हूँ, तो वह बात मनुष्यों की बुद्धि में बैठी हुई है। इतना तेजोमय किसके अन्दर प्रवेश करे तो फट जाए। ज्ञान तो नहीं है ना। तो समझते हैं परमात्मा तो हज़ार सूर्य से तेजोमय है, हमको उनका साक्षात्कार चाहिए। भक्ति की भावना बैठी हुई है तो उनको वह साक्षात्कार भी होता है। शुरू-शुरू में तुम्हारे पास भी ऐसे बहुत साक्षात्कार करते थे, आंखे लाल हो जाती थी। साक्षात्कार किया फिर आज वह कहाँ हैं। वह सभी हैं भक्ति मार्ग की बातें। तो यह सब बाप समझाते हैं, इसमें ग्लानि की कोई बात नहीं है। बच्चों को सदैव हर्षित रहना है। यह तो ड्रामा बना हुआ है। मुझे इतनी गालियां देते हैं, फिर मैं क्या करता हूँ? गुस्सा आता है क्या! समझता हूँ ड्रामा अनुसार यह सब भक्ति मार्ग में फँसे हुए हैं। नाराज़ होने की बात ही नहीं है। ड्रामा ऐसा बना हुआ है। प्यार से समझानी देनी होती है। बिचारे अज्ञान अन्धेरे में पड़े हैं, नहीं समझते हैं तो तरस भी पड़ता है। सदैव मुस्कराते रहना चाहिए। यह बिचारे स्वर्ग के द्वारे आ नहीं सकेंगे, यह सब शान्तिधाम में जाने वाले हैं। सब चाहते भी शान्ति ही हैं। तो बाप ही रीयल समझाते हैं। अभी तुम जानते हो कि यह खेल बना हुआ है। ड्रामा में हर एक को पार्ट मिला हुआ है, इसमें बड़ी अचल, स्थेरियम बुद्धि चाहिए। जब तक अचल, अडोल, एकरस अवस्था नहीं तब तक पुरूषार्थ कैसे करेंगे। कुछ भी हो, भल तूफान आयें परन्तु स्थेरियम रहना है। माया के त़ूफान तो ढेर आयेंगे और पिछाड़ी तक आयेंगे। अवस्था मजबूत चाहिए। यह है गुप्त मेहनत। कई बच्चे पुरूषार्थ कर त़ूफान को उड़ाते रहते हैं। जितना जो पास होगा उतना ऊंच पद पायेगा। राजधानी में पद तो बहुत हैं ना।

सबसे अच्छे चित्र हैं त्रिमूर्ति गोला और झाड़। यह शुरू के बने हुए हैं। विलायत में सर्विस के लिए भी यह दो चित्र ले जाने हैं। इन पर ही वह अच्छी रीति समझ सकेंगे। आहिस्ते-आहिस्ते बाबा जो चाहते हैं कि यह चित्र कपड़े पर हों, वह भी बनते जायेंगे। तुम समझायेंगे कि यह कैसे स्थापना हो रही है। तुम भी इसको समझेंगे तो अपने धर्म में ऊंच पद पायेंगे। क्रिश्चियन धर्म में तुम ऊंच पद पाना चाहते हो तो यह अच्छी रीति समझो। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1. इस पुरूषोत्तम संगमयुग पर पवित्र बन स्वयं का श्रृंगार करना है। कभी भी माया की धूल में लिथड़कर श्रृंगार बिगाड़ना नहीं है।

2. इस ड्रामा को यथार्थ रीति समझकर अपनी अवस्था अचल, अडोल, स्थेरियम बनानी है। कभी भी मूँझना नहीं है, सदैव हर्षित रहना है।

वरदान:- संकल्प, बोल और कर्म के व्यर्थ को समर्थ में परिवर्तन करने वाले होलीहंस भव
होलीहंस का अर्थ है – संकल्प, बोल और कर्म के व्यर्थ को समर्थ में परिवर्तन करने वाले क्योंकि व्यर्थ जैसे पत्थर होता है, पत्थर की वैल्यु नहीं, रत्न की वैल्यु होती है। होलीहंस फौरन परख लेता है कि ये काम की चीज़ नहीं है, ये काम की है। कर्म करते सिर्फ यह स्मृति इमर्ज रहे कि हम राजयोगी नॉलेजफुल आत्मायें रूलिंग और कन्ट्रोलिंग पावर वाली हैं, तो व्यर्थ जा नहीं सकता। यह स्मृति होलीहंस बना देगी।
स्लोगन:- जो स्वयं को इस देह रूपी मकान में मेहमान समझते हैं वही निर्मोही रह सकते हैं।

TODAY MURLI 2 JULY 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 2 July 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 1 July 2019:- Click Here

02/07/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, only by having accurate knowledge of the drama can you remain unshakeable and stable and have a constant stage: storms of Maya cannot shake you.
Question: What one main virtue of the deities should always be visible in you children?
Answer: Staying cheerful. Deities are always shown as cheerful and smiling. Similarly, you children also have to stay constantly cheerful. No matter what happens, simply continue to smile. Never allow there to be sadness or anger. The Father gives you the understanding of what is right and what is wrong and never becomes angry or unhappy with you. So, you children too must not become unhappy.

Om shanti. The unlimited Father explains to you unlimited children. A physical father would not say this. He would perhaps have five to seven children. Here, all souls are brothers. There must definitely be the Father of all of them. People say that they are all brothers and they say this about everyone. For anyone who comes, they would say: We are brothers. All are tied in the drama which no one knows about. Not to know is also fixed in the drama. Only the Father comes and tells you all of this. When people relate religious stories, they say: Salutations to the Supreme Father, the Supreme Soul, but they don’t know who He is. They say: Deity Brahma, Deity Vishnu and Deity Shankar, but they do not say this with understanding. In fact, Brahma should not be called a deity. Vishnu is called a deity. No one knows about Brahma. It is right to say, “Deity Vishnu”, but Shankar has no part; there is no biography of him. There is the biography of Shiv Baba. He comes here to make impure ones pure and establish the new world. The one original eternal deity religion is now being established and all the other religions are to be destroyed. Where does everyone go? To the land of peace. Everyone’s body is to be destroyed. In the new world, there will just be you. You know all the main religions. You cannot mention the names of all of them; there are many small branches and twigs. First of all, there is deityism and then there is the Islam religion. These things are not in the intellect of anyone except you children. That original eternal deity religion has now disappeared and this is why the example of a banyan tree is given. The whole tree is standing, but it doesn’t have a foundation. It is the banyan tree that has the greatest lifespan. Here, it is the deity religion that has the greatest duration. When that disappears, the Father can come and say: Now the one religion has to be established and the other religions have to be destroyed. This is why the Trimurti has been created, but they don’t understand the meaning of that. You children know that God is the Highest on High, and then there are Brahma, Vishnu and Shankar. Then, when you come onto the earth, apart that of the deities, there are none of those of other religions. The path of devotion is also fixed in the drama. First of all, people worship Shiva and then the deities. This applies to Bharat alone, because all the rest of the people know when their religion or sect was established. The Aryans say: We are very ancient. In fact, the oldest is the original eternal deity religion. When you explain the picture of the tree, they can understand for themselves that their religion begins at such-and-such a time. Everyone has to play their original and eternally predestined parts that they have received. You cannot blame anyone or say that it is anyone’s mistake. It is just explained why they have become sinful souls. People say that they are all the children of the unlimited Father. So, why are all the brothers notin the golden age? However, that is not part of the drama. This eternal drama is predestined. Have faith in it and do not say anything else! You have been shown how the cycle turns. There is also the picture of the kalpa tree but no one knows what its duration is. The Father does not defame anyone; He only explains. He also explains to you how you were so pure. Now that you have become impure, you call out: O Purifier, come! First of all, you all have to become pure and then come down to play your parts, numberwise. All souls reside up above. The Father too resides up above and then you call out to Him to come. He doesn’t come by your calling Him. The Father says: My part is also fixed in the dramaJust as the main actors in a limited drama have a main part, so this is the unlimited drama. All are tied in the bondage of the drama. This does not mean that you are tied with a string; no. The Father explains that that tree is non-living. If the seed were living, it would know how the tree grows and how it bears fruit. That One is the Living Seed of this human world tree. It is called the inverted tree. The Father is knowledge-full. He has the knowledge of the whole tree. This is the same knowledge of the Gita; it is not anything new. Baba is not reciting any verses here. Those people study the Granth and then sit and explain its meaning. The Father explains: This is a study. There is no need for verses in this. There is no aim or objective in studying those scriptures. They speak of knowledge, devotion and disinterest. This old world is to be destroyed. Sannyasis have limited disinterest whereas you have unlimited disinterest. When Shankaracharya comes, he sits and teaches people to have disinterest in their home and family. He doesn’t teach the scriptures etc. in the beginning. It is only when there has been a lot of expansion that people begin to write the scriptures. When a religion in first being established, there is just one person and then expansion gradually takes place. You also have to understand what religion was the first one in the world. There are now many religions. There used to be the original eternal deity religion which was called heaven. By knowing the Creator and creation, you children become theists. There is so much sorrow when you are atheists. You become orphans and continue to fight and quarrel amongst yourselves. It is said: you continually fight amongst yourselves. “Do you not have a lord and master?” At this time, all are orphans. In the new world there was purity, peace and happiness, in fact everything and there was limitless happiness. Here, there is limitless sorrow. That is in the golden age and this is in the iron age. This is now your most auspicious confluence age. There is just one auspicious confluence age. The confluence of the golden and silver ages cannot be called auspicious. There are deities there and devils here. You know that this is the kingdom of Ravan. They show a donkey’s head on the head of Ravan. No matter how clean you make a donkey before you place the laundry on him, he will roll in the dust and spoil all the clothes. The Father cleans your clothes and makes you beautiful. Then, you roll around in the kingdom of Ravan and become impure. Both soul and body become impure. The Father says: You lost all your decoration. The Father is called the Purifier. You can say in a full gathering how decorated you were in the golden age. You had such a first-class fortune of the kingdom, and you then rolled around in the dust of Maya and became dirty. The Father says: This is the city of darkness. They have said that God is omnipresent. Whatever happened will repeat identically. There is no need to be confused about this. A child calculated how many hours, minutesand seconds there are of each religion in the 5000 years and sent this calculation to Baba. He must have wasted his intellect on that. Baba just explains how the world continues. Prajapita Brahma is the greatgreatgrandfather. No one knows his occupation. They have created a variety-form image but they have put Prajapita Brahma aside. They don’t know the Father or the Brahmins accurately. They call him Adi Dev. The Father explains: I am the Living Seed of this tree. This is an inverted tree. The Father who is the Truth, the Living Being and the Ocean of Knowledge is praised. If a body has no soul, it cannot move around. A soul enters a womb after four to five months. This drama is predestined. Then, when the soul leaves the body, everything is over. A soul is imperishable and plays his part. The Father comes and makes you realise that a soul is such a tiny dot and has an imperishable part recorded in him. The Supreme Father too is a soul and He is called the Ocean of Knowledge. He gives you realisation of souls. Those people simply say that God is the Almighty Authority and that He is brighter than a thousand suns, but they don’t understand anything. The Father says: They have described all of that on the path of devotion and written those things in the scriptures. When Arjuna was given a vision, he said: “I am unable to tolerate so much brightness.” So that idea became fixed in people’s intellects. If someone that bright were to enter someone, that person would explode! They don’t have any knowledge. So, they think that the Supreme Soul is brighter than a thousand suns and they want to have a vision of Him. They have those loving feelings of devotion, and so they have a vision of that. In the beginning, many people who came to you would have visions and their eyes would become red. They had visions, but where are they now? All of those things belong to the path of devotion. The Father explains all of these things. There is no question of defamation in this. You children should always remain cheerful. This drama is predestined. People insult Me so much, but even then, what do I do? Do I become angry? I understand that all of them are trapped on the path of devotion according to the drama, and so there is no need to get upset. The drama is fixed in this way. You have to explain with love. The poor helpless people are in the darkness of ignorance and you should feel mercy for them because they don’t understand. You should remain constantly smiling. Those poor people will not be able to come to the gates of heaven. They are all going to go to the land of peace. Everyone wants peace. So the Father explains real things to you. You now understand that this play is predestined. Each one has received a part in the drama. You need a very unshakeable and stable intellect in this. Until you have an unshakeable, immovable and constant stage, how would you be able to make effort? No matter what happens, even if storms come, you have to remain stable. Many storms of Maya will come and they will come till the end, but your stage has to be strong. This effort is incognito. Some children make effort and continue to blow away the storms. The more someone passes in this, the higher the status he will claim. There are many different levels of status in a kingdom. The best pictures are the Trimurti and cycle (one picture) and the tree. These were created at the beginning. You can take these two pictures abroad for service. They will be able to understand them very well. Baba wants these pictures to be made on cloth and that too will happen gradually. You will explain how establishment is taking place. You can say: If you too understand this, you will claim a high status in your own religion. If you wish to claim a high status in the Christian religion, understand this very well. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Become pure at this most auspicious confluence age and decorate yourself. Never allow your decoration to be spoiled by rolling in the dust of Maya.
  2. Understand this drama accurately and make your stage unshakeable, immovable and stable. Never become confused; always remain cheerful.
Blessing: May you be a holy swan who transforms wasteful thoughts, words and deeds into powerful ones.
holy swan means someone who transforms wasteful thoughts, words and deeds into powerful ones. This is because waste is like stone and stone has no value; jewels have value. A holy swan instantly recognizes whether something is of use or not. While doing anything, simply let this awareness emerge: We are knowledge-full Raj yogi souls who have ruling power and controlling power and nothing can go to waste. This awareness will make you into a holy swan.
Slogan: Someone who considers himself to be a guest in the building of that body is able to remain free from attachment.

*** Om Shanti ***

TODAY MURLI 2 JULY 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 2 July 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 1 July 2018 :- Click Here

02/07/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, become right hand s of the Father, be interested in doing service and pay full attention to shrimat. If anything about serviceappears in the newspapers, read that and become engaged in service.
Question: When will you children be able to glorify the Father’s name?
Answer: When your behaviour becomes very royal and mature. The behaviour of you children should be like that of a peahen. Jewels, not stones, should always emerge from your lips. Those who let stones emerge defame the name and their status is then destroyed. After belonging to the Father, pay full attention to not committing any sins.
Song: Leave your throne of the sky and come down to earth. 

Om shanti. You children heard the song. You remember: O Supreme Father, Supreme Soul, change your incorporeal form and come into a corporeal form. What form would He change into? It wouldn’t be said: Come into the form of a fish or crocodile; no. This is the world of sinful souls. People call out to Him to come and purify them. If He is omnipresent, then whom are they calling out to? This song is also played on the radio, but no one understands its meaning. You daughters don’t read the newspapers etc. Although you are educated, you are not interested in reading newspapers. Then, there are the brothers. Among them, too, some are interested in doing service, and so they think about how to find ways of serving through the newspapers. There are many who are the decoration of the Brahmin clan. However, in that too, only a handful out of multimillions emerge who would see something in the newspapers and thereby instantly become engaged in service. Baba has made the mothers right hands. Hardly any brothers are ready to do that. Some rare ones pay attention to shrimat accurately. There is this one point of being degraded and elevated. Degraded ones call out: O God, come! Come and make us elevated! All are definitely degraded. It is said: As are the king and queen, so the subjects. ‘King and queen’ means the Government and ‘subjects’ means the people. It has been explained to you children that when Bharat was elevated, it was heaven. If there were degraded beings in heaven too, how could that be called heaven? It would definitely be the Father that everyone remembers who establishes heaven. Only those who are degraded call out. Those who are elevated never call out. Bharat was very elevated, it was heaven and it is now hell. So, there would definitely be degraded beings in hell. Show us proof of elevated beings. You can show their picture: Truly, in the golden age, as are the king and queen so the subjects. Look how elevated this Lakshmi and Narayan were! The very name is heaven. In the copper age, they built temples to such elevated kings and queens and worshipped them. So, surely, they themselves must have been degraded. They say of themselves that they are degraded, lustful, angry and sinful whereas to the deities they say: You are full of all virtues. In Bharat, those who are degraded sing praise of those who are elevated. Degraded kings build temples to the elevated deities. They continue to sing praise of them, bow down to them, salute them and worship them. Baba has explained that the souls who come down from up above to establish a religion would definitely be satopradhan and elevated. Although it is the kingdom of Maya, those who come here for the first time are definitely satopradhan, and this is why they are praised. They then go through the stages of sato, rajo and tamo. The deities were elevated. Everyone also has to go through the stages of sato, rajo and tamo. They have to become degraded. It was printed in the newspapers that there are many organisations who are trying to put an end to corruption. People have been building temples to the elevated deities and worshipping them. They themselves were worthy of worship and elevated and then they themselves became degraded worshippers. They then begin to sit and worship the worthy-of-worship deities. You can now write that the king and queen and the subjects of the golden age were elevated and that it was the viceless world. Later, the degrees continue to decrease. Bharat has to come down. This play is based on Bharat. For half the cycle Bharat was elevated. It doesn’t stay like that constantly. From 16 degrees, it has to come down to 14 degrees. Gradually, the degrees decrease and they become tamopradhan. The Father says: When there is extreme degradation, I come. Impure ones are called degraded and pure ones are called elevated. This is something to be understood very clearly. It is said: Shrimad Bhagawad. What does shrimat do? It makes you into elevated kings of kings. It is said: Conquer this Maya and you will become princes and princesses. Just look how, 3000 years before Christ Bharat was 16 celestial degrees elevated. Bharat was the Golden Sparrow. The king, queen and subjects were ever happy in heaven. Then, when the kingdom of Ravan began, they started to become degraded. They themselves say that their officers are corrupt. There are no kings and queens who would say that there is corruption among the people. Here, it is the rule of people over people. All are corrupt. First of all, the Government has to become elevated. Who would make it that? You poor daughters are becoming number one elevated ones. The Father says: I come and make everyone elevated. According to the drama , the whole play is predestined: the same Gita and pictures etc. will emerge again. In Bengal, they have a temple to Kali. They sacrifice their lives calling out to Kali Ma. Where did goddesses such as Kali Ma and Chandika (cremator goddess) etc. come from? Look at their names! Those who have left Baba would become cremators for the subjects. However, those who stay here and perform sinful actions would become cremators for the royal family. At the end, they receive a crown and a royal costumebecause they are adopted by the Father. This is why goddess Chandika is also worshipped. Knowledge is very deep, but someone should at least imbibe it! For instance, some barristers earn a hundred thousand, whereas others have to wear a torn coat. This study is unlimited. Whatever the Father has explained to you in detail, condense it into a five-minute lecture and have it printed in the newspapers. You should also ask them who established the Hindu religion. They won’t be able to tell you. They don’t know anything. The behaviour of you Shaktis has to be very royal and mature, like that of a peahen. Let jewels, not stones, continue to emerge from your lips. Those people throw stones. You must never throw stones. Don’t defame the name. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Night class:

1. Here, there are good and bad human beings. Such words will not emerge in the golden age. The words, ‘bad’ or ‘sinful souls’, will not emerge there. That is the viceless world. You children know that you were the masters of the world. Bharat, which was the land of kings, the deities, has now become old. People don’t know that this is the confluence age. The anchor here has now been raised. We are now going across from this world. There is the Boatman who is taking our boat across. It is in the intellects of you children that you have stumbled around a great deal. Devotees don’t know that they are stumbling. They go so far away. You children simply have to remember the Father. It isn’t that you become tired of remembering Baba. However, Maya does create obstacles. Souls are lovers of the Supreme Soul. No one knows that the Supreme Soul is the Beloved. Among the children, too, some are deeply in love and they remember the Beloved. You have to make effort to stay constantly in remembrance. The word ‘simaran’ (remembrance) belongs to the path of devotion. We are simply remembering Baba. The word for the family path is ‘yaad’ (remembrance). It is a very sweet word. Some say that they forget. Oh really! How can a child say that he forgets his father? Remembrance is very good. You should talk to yourself. You are sitting personally in front of the Mother and Father. You should also be happy. You used to sing to Him: You are the Mother and Father. We are truly claiming our inheritance. Only in remembrance is there effort. You earn a lot of income. You have a huge attainment. You simply have to remain silent and remember Baba. Achcha.

2. No one, apart from you Brahmin children, knows when it is the confluence age. There is a lot of praise of the confluence age of this cycle. The Father comes and teaches you Raja Yoga. There would definitely be the confluence age that comes before the golden age. They too are human beings and in that too, some are degraded whereas others are elevated. People sing praise in front of them (the deities): you are most elevated and we are degraded. They themselves say of themselves: I am like this and this. Now, apart from you Brahmins, no one knows about this most auspicious confluence age. How can you advertise it so that people come to know about it? God Himself comes at the confluence age and teaches you Raja Yoga. You know that you are studying Raja Yoga. What method should we create so that people come to know about it? However, it will happen slowly. There is still time. A lot of time has gone by and only a little remains. We say that people should make effort quickly. Otherwise, knowledge is received in a second and you can receive liberation-in-life in a second at the same time. However, the sins of half the cycle that are on your heads will not be cut away in a second. That takes time. People think: There is still time, so why should we go to the Brahma Kumaris? If it is not in their fortune, they take the wrong meaning from your literature. You understand that this is the age to become the most elevated human beings. It is praised as being like a diamond and then its value is reduced from the golden age to the silver age. This confluence age is the diamond age. Satyug is the golden age. You know that this confluence age is even better than heaven because your birth is like a diamond at this time. There is praise of the land of immortality and then it continues to decrease. So, you can write that the most auspicious confluence age is the diamond age, satyug is the golden age and treta yug is the silver age. You can explain that it is only at the confluence age that we change from human beings into deities. When they make a ring of the eight jewels, they set a diamond in the centre. The show is of the confluence. The confluence age is like a diamond. The value of the confluence age is like that of a diamond. They teach yoga etc and that is called spiritual yoga. However, only the Father is spiritual. It is only at the confluence age that you meet the spiritual Father and receive spiritual knowledge. How can people who have arrogance of the body accept everything so quickly? These things are explained to the poor. So, you should also write: The confluence age is like a diamond and its duration is this long. Satyug is the golden age and its duration is this long. They draw a swastika on the scriptures. So, if you children remembered this much, you would experience so much happiness. Students experience a lot of happiness. Student life is the best life. That is a source of income. This is the study place for changing from humans into deities. Deities were the masters of the world. Only you know that. So, you should experience a lot of happiness. This is why it is remembered: Ask the gopes and gopis of Gopi Vallabh about supersensuous joy. Because the T eache r teaches you till the end, you should remember Him till the end. God is teaching you and He will then also take you back home with Him. People call out: O Liberator, Guide, liberate us from sorrow! In the golden age there is no sorrow. People say: There should be peace in the world. Ask them: When was there peace previously? What age was that? No one knows. The kingdom of Rama is the golden age and the kingdom of Ravan is the iron age. You know this. You children should relate this experience. That is all. What else can I tell you about the things in my heart? I found the unlimited Father who gives the unlimited sovereignty. What other experience should I tell you about? There is nothing else at all. There cannot be any happiness other than this. You should never sulk with anyone and then stay at home. That is like sulking with your fortune. What would you learn if you sulk with your study? The Father has to teach you through Brahma. So, never sulk with one another. That is Maya. There are to be obstacles in the sacrificial fire from the devils.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good night from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Become elevated by following shrimat and do the service of making others elevated. Don’t behave in any way that would defame the name of the clan. Let only jewels, not stones, constantly emerge from your lips.
  2. While listening to the deep unlimited study in detail, merge the essence of that in yourself and serve others. Pay full attention to shrimat.
Blessing: May you be an intense effort-maker and, according to the speed of time, become filled with all attainments and a conqueror of Maya.
Accumulate all the attainments you have received from BapDada and remain full with nothing lacking. When something is lacking in your being full, Maya will shake you. The easy way to become a conqueror of Maya is to remain constantly full of attainments. Do not remain deprived of even one attainment: let there be all attainments. According to the speed of time, anything can happen at any time. Therefore, be an intense effort-maker and become full from now. If not now, then never.
Slogan: When you have the powers of truth and fearlessness with you, nothing can shake you.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 2 JULY 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 2 July 2018

To Read Murli 1 July 2018 :- Click Here
02-07-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – बाप का राइट हैण्ड बन, सर्विस का शौक रख श्रीमत पर पूरा-पूरा अटेन्शन दो, अखबारों में कोई सर्विस की बात निकले तो उसे पढ़कर सर्विस में लग जाओ”
प्रश्नः- बाप का नाम तुम बच्चे कब बाला कर सकेंगे?
उत्तर:- जब तुम्हारी चलन बड़ी रॉयल और गम्भीर होगी। तुम शक्तियों की चाल ऐसी चाहिए जैसे डेल (मोरनी)। तुम्हारे मुख से सदैव रत्न निकलने चाहिए, पत्थर नहीं। पत्थर निकालने वाले नाम बदनाम करते हैं। फिर उनका पद भी भ्रष्ट हो जाता है। बाप का बनकर कोई भी विकर्म न हो – इस बात का पूरा-पूरा ध्यान रखना है।
गीत:- छोड़ भी दे आकाश सिंहासन…….. 

ओम् शान्ति। बच्चों ने गीत सुना। याद करते हैं – हे परमपिता परमात्मा, निराकार रूप बदलकर साकार में आ जाओ। वह क्या रूप बदलेगा। ऐसे तो नहीं कहेंगे कि कच्छ-मच्छ का रूप बनकर आओ। नहीं। यह है पाप आत्माओं की दुनिया। पुकारते हैं पावन बनाने के लिए। अगर सर्वव्यापी है तो फिर किसको पुकारते हैं? अब यह गीत तो रेडियो में भी बजते हैं। परन्तु कोई भी समझते नहीं। अब तुम बच्चियां तो अखबार आदि पढ़ती नहीं हो। भल पढ़ी-लिखी हैं परन्तु अखबार पढ़ने का शौक नहीं। बाकी रहे गोप, उनमें भी कोई-कोई को सर्विस का शौक रहता है कि किस रीति अखबार से सर्विस का रास्ता निकालें। ब्राह्मण कुलभूषण हैं तो बहुत, परन्तु उनमें भी कोटो में कोई निकलते हैं जो अखबार में देख फौरन सर्विस करने लग पड़ते हैं। बाबा ने राइटहैण्ड बनाया है माताओं को। गोप मुश्किल खड़े होते हैं, कोई बिरला यथार्थ रीति से श्रीमत पर अटेन्शन देते हैं। यह एक प्वाइंट है – भ्रष्टाचार और श्रेष्ठाचार की। भ्रष्टाचारी बुलाते हैं कि – हे भगवान्, आओ, आकर श्रेष्ठाचारी बनाओ। सभी भ्रष्टाचारी जरूर हैं। कहा जाता है यथा राजा-रानी तथा प्रजा। यथा राजा-रानी माना गवर्मेन्ट तथा प्रजा माना रैयत। तो बच्चों को समझाया गया है कि भारत सदा श्रेष्ठाचारी था, स्वर्ग था। स्वर्ग में भी अगर भ्रष्टाचारी हों तो उनको स्वर्ग कैसे कहा जाए? स्वर्ग की स्थापना जरूर बाप ही करते होंगे, जिसको ही याद करते हैं। भ्रष्टाचारी ही बुलाते हैं, श्रेष्ठाचारी कब बुलाते नहीं। भारत बड़ा श्रेष्ठाचारी था, स्वर्ग था, अब तो नर्क है। तो नर्क में जरूर भ्रष्टाचारी होंगे। श्रेष्ठाचारी का सबूत दिखाओ। तुम चित्र दिखला सकते हो – बरोबर सतयुग में यथा राजा रानी तथा प्रजा, यह लक्ष्मी-नारायण देखो श्रेष्ठाचारी थे ना। नाम ही है स्वर्ग। द्वापर में ऐसे श्रेष्ठाचारी राजा-रानियों के मन्दिर बनाकर पूजा करते हैं। तो जरूर खुद भ्रष्टाचारी हैं। अपने को कहते भी हैं कि हम भ्रष्टाचारी हैं, कामी, क्रोधी, पापी हैं। आप सर्वगुण सम्पन्न…….. हैं। भारत में भ्रष्टाचारी, श्रेष्ठाचारी की महिमा करते हैं। भ्रष्टाचारी राजाओं के पास श्रेष्ठाचारी देवताओं के मन्दिर हैं। महिमा गाते रहते हैं, नमन, वन्दन, पूजा करते रहते हैं। बाबा ने समझाया है धर्म स्थापन करने अर्थ ऊपर से जो आत्मायें आती हैं वह जरूर सतोप्रधान श्रेष्ठाचारी होंगी। भल माया का राज्य है परन्तु पहले-पहले आने वाले जरूर सतोप्रधान होंगे तब तो उनकी महिमा होती है। फिर सतो, रजो, तमो में आते हैं। देवतायें भी श्रेष्ठाचारी थे। हरेक को सतो, रजो, तमो में आना ही है, भ्रष्टाचारी बनना ही है। अखबारों में पड़ता है – कई संस्थायें हैं जो भ्रष्टाचार को बंद करने का पुरुषार्थ करती हैं। अब श्रेष्ठाचारी देवताओं के मन्दिर बनाए पूजा करते आये हैं। आप ही पूज्य श्रेष्ठाचारी थे फिर आप ही पुजारी भ्रष्टाचारी फिर पूज्य देवी-देवताओं की बैठ पूजा करते हैं। अभी तुम लिख सकते हो कि यथा राजा-रानी तथा प्रजा सतयुग में श्रेष्ठाचारी थे, वाइसलेस वर्ल्ड थी। बाद में फिर कलायें कम होती हैं। भारत को नीचे आना ही है। यह खेल ही भारत पर है। आधाकल्प भारत श्रेष्ठाचारी था। सदा एकरस भी नहीं रहते। 16 कला से 14 कला में तो आना ही है। धीरे-धीरे कलायें कम होती जाती हैं। तमोप्रधान बन पड़ते हैं। बाप कहते हैं जब-जब अति भ्रष्टाचार होता है तब मैं आता हूँ। पतित को भ्रष्टाचारी, पावन को श्रेष्ठाचारी कहेंगे। यह तो बिल्कुल समझ की बात है।

श्रीमद् भगवत कहा जाता है। श्रीमत क्या करती है? वह तो श्रेष्ठ राजाओं का राजा बनाती है। कहते हैं इन माया पर जीत पहनो तो तुम प्रिन्स-प्रिन्सेज बनेंगे। भेंट करनी हैं – क्राइस्ट से 3 हजार वर्ष पहले भारत 16 कला सम्पूर्ण श्रेष्ठाचारी था। भारत सोने की चिड़िया था। यथा राजा-रानी तथा प्रजा स्वर्ग में सदा सुखी थे फिर जब से रावण राज्य शुरू होता है तो भ्रष्टाचारी बनने लगते हैं। खुद ही कहते हैं हमारे ऑफीसर्स में भ्रष्टाचार है। राजा-रानी तो हैं नहीं जो कहे प्रजा में भ्रष्टाचार है। यहाँ तो है ही प्रजा का प्रजा पर राज्य। सब भ्रष्टाचारी हैं। पहले तो गवर्मेन्ट श्रेष्ठाचारी बननी चाहिए। उनको कौन बनावे? अब तुम गरीब बच्चियां ही नम्बरवन श्रेष्ठाचारी बन रही हो। बाप कहते हैं कि मैं सबको श्रेष्ठाचारी आकर बनाता हूँ। ड्रामा अनुसार यह सारा खेल बना हुआ है। फिर भी वही गीता चित्र आदि निकलेंगे। अब बंगाल में काली का मन्दिर है। काली माँ माँ कह प्राण देते हैं। अब ऐसी काली माँ वा चण्डिका देवी आई कहाँ से? नाम तो देखो कैसा है। जो भागन्ती होते हैं वे तो प्रजा में चण्डाल बनते हैं। परन्तु जो यहाँ रहकर विकर्म आदि करते हैं वे रॉयल घराने के चण्डाल बनते हैं। फिर भी पिछाड़ी में उनको ताज पतलून मिल जाती है क्योंकि यहाँ गोद तो लेते हैं ना, इसलिए चण्डिका देवी की पूजा होती है।

ज्ञान तो बहुत गुह्य है परन्तु कोई धारण करे। जैसे बैरिस्टर कोई तो लाख कमाते, कोई का कोट भी फटा रहता है। यह तो पढ़ाई है बेहद की। बाप ने जो विस्तार में समझाया उसको सार में लाकर 5 मिनट का भाषण बनाए अखबार में डालना चाहिए। यह भी पूछना चाहिए कि भला हिन्दू धर्म किसने स्थापन किया? तो बता नहीं सकेंगे। कुछ नहीं जानते। तुम शक्तियों की चलन ऐसी गम्भीर होनी चाहिए जैसे डेल (मोरनी) चलती है। मुख से रत्न निकलते रहें, पत्थर नहीं। वह तो पत्थर मारेंगे। तुम कभी पत्थर नहीं मारो। नाम बदनाम न करो। अच्छा।

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

रात्रि क्लास:- यहाँ अच्छे-बुरे मनुष्य हैं। सतयुग में ऐसे अक्षर नहीं निकलेंगे। बुरा वा पाप आत्मा अक्षर नहीं निकलेगा। वहाँ है वाइसलेस वर्ल्ड। बच्चे जानते हैं – हम विश्व के मालिक थे। यह भारत जो देवी-देवताओं का राजस्थान था, अब पुराना है। मनुष्य नहीं जानते हैं – यह है संगमयुग। अब यहाँ से लंगर उठाया हुआ है। हम इस दुनिया से पार जाते हैं। खिवैया है ना। नईयां को पार ले जाते हैं। बच्चों की बुद्धि में है – बहुत धक्के खाये हैं। भक्त नहीं जानते हैं – हम धक्का खाते हैं। वह तो दूर-दूर जाते हैं। तुम बच्चों को सिर्फ याद करना है। ऐसे नहीं कि हम याद करते थक जाते हैं। परन्तु माया विघ्न डालती है। आत्मा ही परमात्मा की आशिक होती है – यह कोई नहीं जानते। परमात्मा माशूक है। तो बच्चों में भी कोई बहुत आशिक हैं, माशूक को याद करते हैं। पुरुषार्थ करना है – हम निरन्तर याद करते रहें। ‘सिमरण’ अक्षर भी भक्तिमार्ग का है। हम बाबा को याद करते हैं। प्रवृत्ति मार्ग का अक्षर है ‘याद’। बहुत मीठा भी है। कहते हैं हम भूल जाते हैं। अरे, बच्चा कह थोड़ेही सकता कि हम बाप को भूल जाते हैं। याद तो बहुत अच्छी है। अपने से बातें करनी चाहिए। तुम मात-पिता के सम्मुख बैठे हो। खुशी भी होनी चाहिए। जिसके लिए कहते थे – तुम मात पिता……..। बरोबर हम वर्सा पा रहे हैं। याद की ही मेहनत है। तुम्हारी बहुत आमदनी है, बहुत बड़ी प्राप्ति है। सिर्फ चुप रहकर याद करना है। अच्छा।

2- तुम ब्राह्मण बच्चों बिगर किसको भी यह पता नहीं है कि संगमयुग कब होता है। इस कल्प के संगम युग की महिमा बहुत है। बाप आकर राजयोग सिखलाते हैं। सतयुग के लिये तो जरूर संगमयुग ही आयेगा। हैं भी मनुष्य। उनमें कोई कनिष्ट, कोई उत्तम हैं। उनके आगे महिमा गाते हैं आप पुरुषोत्तम हो, हम कनिष्ट हैं। आपेही बताते हैं कि मैं ऐसे हूँ, ऐसे हूँ।

अभी इस पुरुषोत्तम संगमयुग को तुम ब्राह्मणों बिगर कोई भी नहीं जानते। इनकी एडवरटाईज कैसे करें जो मनुष्यों को पता पड़े। संगमयुग पर भगवान ही आकर राजयोग सिखलाते हैं। तुम जानते हो हम राजयोग सीख रहे हैं। अभी ऐसी क्या युक्ति रचें जो मनुष्यों को मालूम पड़े। परन्तु होगा धीरे। अभी समय पड़ा है। बहुत गई थोड़ी रही……। हम कहते हैं तो मनुष्य जल्दी पुरुषार्थ करें। नहीं तो ज्ञान सेकण्ड में मिलता है, जिससे तुम उसी समय सेकण्ड में जीवनमुक्ति पा लेंगे। परन्तु तुम्हारे सिर पर आधाकल्प के पाप हैं, वह थोड़ेही सेकण्ड में कटेंगे। इसमें तो टाइम लगता है। मनुष्य समझते हैं अभी तो समय पड़ा है, अभी हम ब्रह्माकुमारियों पास क्यों जायें। तकदीर में नहीं है तो लिटरेचर से भी उल्टा उठा लेते हैं। तुम समझते हो यह पुरुषोत्तम बनने का युग है। हीरे जैसा गायन है ना। फिर कम हो जाता है। गोल्डन एज, सिल्वर एज। यह संगमयुग है डायमण्ड एज। सतयुग है गोल्डन एज। यह तुम जानते हो स्वर्ग से भी यह संगम अच्छा है, हीरे जैसा जन्म है। अमरलोक का गायन है ना। फिर कम होता जाता है। तो यह भी लिख सकते हो पुरुषोत्तम संगमयुग है डायमण्ड, सतयुग है गोल्डन, त्रेता है सिलवर…..। यह भी तुम समझा सकते हो – संगम पर ही हम मनुष्य से देवता बनते हैं। आठ रत्नों की अंगूठी बनाते हैं, तो डायमण्ड को बीच में रखा जाता है। संगम का शो होता है। संगमयुग है ही हीरे जैसा। हीरे का मान संगमयुग पर है। योग आदि सिखलाते हैं, जिसको प्रीचुअल योग कहते हैं। परन्तु प्रीचुअल तो फादर ही है। रूहानी फादर और रूहानी नॉलेज संगम पर ही मिलती है। मनुष्य जिनमें देह-अहंकार है, वह इतना जल्दी कैसे मानेंगे। गरीब आदि को समझाया जाता है। तो यह भी लिखना है संगमयुग इज़ डायमण्ड। उनकी आयु इतनी। सतयुग गोल्डन एज तो उनकी भी आयु इतनी। शास्त्रों में भी स्वास्तिका निकालते हैं। तो तुम बच्चों को भी यह याद रहे तो कितनी खुशी रहनी चाहिए। स्टूडेन्ट्स को खुशी होती है ना। स्टूडेन्ट लाइफ इज़ दी बेस्ट लाइफ। यह तो सोर्स आफ इनकम है। यह है मनुष्य से देवता बनने की पाठशाला। देवतायें तो विश्व के मालिक थे। यह भी तुमको मालूम है। तो अथाह खुशी होनी चाहिए। इसलिये गायन है अतीन्द्रिय सुख गोपी वल्लभ के गोप गोपियों से पूछो। टीचर अन्त तक पढ़ाते हैं तो उनको अन्त तक याद करना चाहिए। भगवान पढ़ाते हैं और फिर भगवान साथ भी ले जायेंगे। पुकारते भी हैं लिबरेटर गाईड। दु:ख से छुड़ाओ। सतयुग में दु:ख होता ही नहीं। कहते हैं विश्व में शान्ति हो। बोलो, आगे कब थी? वह कौन सा युग था? किसको पता नहीं है। राम राज्य सतयुग, रावण राज्य कलियुग। यह तो जानते हो ना। बच्चों को अनुभव सुनाना चाहिए। बस क्या सुनाऊं दिल की बात। बेहद का बाप बेहद की बादशाही देने वाला मिला और क्या अनुभव सुनाऊं। और कोई बात ही नहीं। इस जैसी खुशी और कोई होती ही नहीं। कभी भी किसी से रूठकर वास्तव में घर में नहीं बैठना चहिए। यह जैसे अपनी तकदीर से रूठना है। पढ़ाई से रूठा तो क्या सीखेंगे! बाप को पढ़ाना ही है – ब्रह्मा द्वारा। तो एक दो से कभी रूठना नहीं चाहिए। यह है माया। यज्ञ में असुरों के विघ्न तो पड़ते हैं ना। अच्छा!

मीठे-मीठे रूहानी बच्चों प्रति रूहानी बाप व दादा का याद प्यार गुडनाईट। रूहानी बच्चों को रूहानी बाप की नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) श्रीमत पर श्रेष्ठाचारी बनकर श्रेष्ठाचारी बनाने की सेवा करनी है। कोई ऐसी चलन नहीं चलनी है जिससे नाम बदनाम हो। मुख से सदा रत्न निकालने हैं, पत्थर नहीं।

2) बेहद की गुह्य पढ़ाई को विस्तार से सुनते उसे सार में समाकर दूसरों की सेवा करनी है। श्रीमत पर पूरा अटेन्शन देना है।

वरदान:- समय की रफ्तार प्रमाण सर्व प्राप्तियों से भरपूर रह मायाजीत बनने वाले तीव्र पुरुषार्थी भव
बापदादा ने जो भी प्राप्तियां कराई हैं, उन सर्व प्राप्तियों को स्वयं में जमा कर भरपूर रहो, कोई भी कमी न रहे। जहाँ भरपूरता में कमी है वहाँ माया हिलाती है। मायाजीत बनने का सहज साधन है – सदा प्राप्तियों से भरपूर रहना। कोई एक भी प्राप्ति से वंचित नहीं रहो, सर्व प्राप्ति हों। समय की रफ्तार प्रमाण कोई भी समय कुछ भी हो सकता है इसलिए तीव्र पुरुषार्थी बन अभी से भरपूर बनो। अब नहीं तो कभी नहीं।
स्लोगन:- सत्यता और निर्भयता की शक्ति साथ हो तो कोई भी कारण हिला नहीं सकता।
Font Resize