daily murli 2 february

TODAY MURLI 2 FEBRUARY 2021 DAILY MURLI (English)

02/02/21
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, God is your Friend and Ravan is your enemy. Therefore, you love God and burn Ravan.
Question: Which children automatically receive blessings from many others?
Answer: The children who stay in remembrance and purify themselves and also make others similar to themselves continue to receive blessings from many others. They claim a very high status. The Father just gives you one shrimat to make you elevated. He says: Children, don’t remember any bodily beings, but just remember Me alone.
Song: At last the day for which we had been waiting has come!

Om shanti. The spiritual Father has explained the meaning of “Om shanti” to you children. “Om” means I am a soul and this is my body. The soul is not visible. Good and bad sanskars are in the soul. The soul has a mind and intellect. The intellect is not in the body. The main thing is the soul. This body is mine. No one can see the soul. The soul sees the body; the body does not see the soul. When a soul leaves his body, that body becomes non-living. A soul cannot be seen but a body can. Similarly, even the Father of souls, to whom everyone calls out, “O God, the Father!” cannot be seen. He can be realized or known. All of us souls are brothers. When you enter bodies it is said that you are brothers or that you are brothers and sisters. All souls are actually brothers. The Father of all souls is the Supreme Father, the Supreme Soul. Physical brothers and sisters can see one another. The Father of souls is One; He cannot be seen. The Father has now come to make the old world new. The golden age was the new world. The iron age is now the old world and it has to change. The old world now has to be destroyed. Just as an old building is demolished and a new one built, in the same way, this old world has to be destroyed. After the golden age, there will be the silver, copper and iron ages and then the golden age definitely has to come again; the history and geography of the world have to repeat. In the golden age, there is the kingdom of the deities. There are the sun and moon dynasties; they are called the dynasty of Lakshmi and Narayan and the dynasty of Rama and Sita. This is easy, is it not? Then, in the copper and iron ages, the other religions come. The deities who were pure became impure; this is called the kingdom of Ravan. People continue to burn an effigy of Ravan every year, but he doesn’t get burnt. They continue to burn it again and again. He is everyone’s biggest enemy which is why there is the system of burning it. Who is the number one enemy of Bharat? (Ravan). The number one Friend, the One who gives constant happiness, is God. God is said to be the Friend. There is a story based on this. Therefore, God is the Friend and Ravan is the enemy. God, the Friend, is never burnt. The other one is the enemy. This is why they create an effigy of Ravan with ten heads and burn it every year. Gandhiji also used to say: We want the kingdom of Rama. There is happiness in the kingdom of Rama and sorrow in the kingdom of Ravan. Who sits here and explains all of this? The Purifier Father. Shiva is Baba and Brahma is Dada. Baba always signs: BapDada. The Father of People (Prajapita) Brahma belongs to everyone. He is also called Adam. He is called the great-great-grandfathertoo. He is the Father of people of the human world. Brahmins are created through Prajapita Brahma and then those Brahmins become deities. Deities then become warriors, merchants and shudras. This one is called Prajapita Brahma, the ancestor of the human world. Prajapita Brahma has so many children; they continue to say, “Baba, Baba!” This one is the corporeal Baba, whereas Shiv Baba is the incorporeal Baba. It is also remembered that the new human world is created through Prajapita Brahma. Those are now your old skins. This world is the impure kingdom of Ravan. The devilish old world of Ravan is now to be destroyed. There is this Mahabharat War for that. Afterwards, in the golden age, no one will burn the enemy Ravan. Ravan won’t exist there. It was Ravan who created the world of sorrow. It isn’t that those who have a lot of wealth and live in big palaces are in heaven. The Father explains that, although someone may have millions, all of that is going to turn to dust. In the new world, new mines will emerge from which you will build your palaces etc. in the new world. This old world is now to finish. People perform devotion in order to receive salvation. They say: Come and purify us because we have become vicious! Those who are vicious are said to be impure. In the golden age, everyone is viceless, completely viceless. Children there are born through the power of yoga. There are no vices there; there is no body consciousness, lust or anger. The five vices don’t exist there and that is why they never burn Ravan there. Here, it is the kingdom of Ravan. The Father now says: Become pure! This impure world is to be destroyed. Those who remain pure according to shrimat and those who follow the directions of the Father, claim their inheritance of the sovereignty of the world. There used to be the kingdom of Laskhmi and Narayan. It is now the kingdom of Ravan. That has to be destroyed. The golden-aged kingdom of Rama has to be established. There are very few human beings in the golden age. The capital will still be Delhi where there will be the kingdom of Lakshmi and Narayan. Delhi used to be the land of angels in the golden age. The throne used to be in Delhi. Delhi is the capital in the kingdom of Ravan and also the capital in the kingdom of Rama. However, in the kingdom of Rama, there were palaces studded with diamonds and jewels; there was limitless happiness. The Father now says: You lost the kingdom of the world. I am now giving it back to you once again. Just follow My directions. If you want to become elevated, simply remember Me and not any bodily beings. Consider yourselves to be souls and remember Me, your Father, and you will become satopradhan from tamopradhan. You will then come to Me; you will become the garland around My neck and then the garland around the neck of Vishnu. In a rosary, I am the tassel (flower) at the top, and then there is the dual-bead of Brahma and Saraswati. They then become the emperor and empress of the golden age. The rosary is then of those who sit on the throne, numberwise. I make this Bharat into heaven through Brahma and Saraswati and you Brahmins. Memorials are created of those who make effort. That is the rosary of Rudra and this is the rosary of Vishnu. The rosary of Rudra is of souls and then there is the rosary of Vishnu, of human beings. The residence of souls is the incorporeal supreme abode which is also called Brahmand. Souls are not egg shaped; souls are just like tiny points. All of us souls are residents of that sweet home. We souls reside there with the Father. That is the land of liberation. All human beings want to go to the land of liberation, but not a single being can return home; everyone has to come to play his part. Until then, the Father continues to prepare you. When you are ready, all the souls that still remain will come down. Then, everything will be destroyed. You will then go to the new world and rule there and the cycle will turn, numberwise (golden age, silver age…). You heard the song: At last that day has come. You know that the people of Bharat who are now residents of hell will then become residents of heaven. All the rest of the souls will return to the land of peace. You must only explain a little: Alpha is Baba and beta is the kingdom. The first one receives the kingdom. The Father now says: I am now once again establishing that same kingdom. Having taken 84 births, you have now become impure. It was Ravan who made you impure. Who will then make you pure? God, who is called the Purifier. The full history and geography will repeat: how you become pure from impure and impure from pure. This destruction is just for that. It is said in the scriptures that Brahma’s age is 100 years. This Brahma, in whom the Father sits and gives you your inheritance, will also shed his body. The Father of all souls sits here and explains to souls. Human beings cannot purify human beings. Deities are never born through vice. Everyone has continued to take rebirth. The Father explains everything so well that your fortune can perhaps awaken. The Father comes to awaken the fortune of human beings. All are impure and unhappy. Destruction will take place even while they are crying out in distress. This is why the Father says: Claim your inheritance from Me, your unlimited Father, before crying out in distress. Whatever you see in this world, it is to be destroyed. This play is about the rise and fall of Bharat. There is the rise of the world. Only the Father sits here and explains who rules in heaven. The rise of Bharat is the kingdom of the deities, and the fall of Bharat is the kingdom of Ravan. The new world is now being created. You are studying with the Father to claim your inheritance of the new world. It is so easy! This is the study to change from human beings into deities. You have to understand very well which religions come and when they come. All other religions start to come in the copper age. You first experience happiness and then sorrow. You have to make this whole cycle sit in your intellects. By doing this you become the emperors and empresses who rule the globe. You just have to understand Alpha and beta. Destruction has to take place. There will be so much upheaval that no one will be able to come here from abroad. This is why the Father explains that the land of Bharat is the most elevated. The war will be so intense that you will be stranded where you are. Even if you gave five to six million, it would be difficult for you to go anywhere. The land of Bharat, where the Father incarnates, is the most elevated. The birthday of Shiva is celebrated here. Because Krishna’s name was used, all the praise has been lost. The Liberator of all human beings incarnates here. The birthday of Shiva is also celebrated here. Only God, the Father, comes and liberates everyone. Therefore, you should only respect such a Father and only celebrate His birthday. That Father comes here in Bharat and purifies everyone. Therefore, this is the greatest pilgrimage place. Itis fixed in the drama for Him to liberate everyone from degradation and grant them salvation. We souls now know that our Baba is explaining this secret to us through this body. We souls are listening through our bodies. You have to become soul conscious. Consider yourselves to be souls and remember the Father and the rust will be continue to be removed. You will become pure and go to the Father. The more you remember Him, the purer you will become. When you make others similar to yourselves, you will receive blessings from many and also claim a high status. This is why it is remembered that you can receive liberation-in-life in a second. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Become pure by following shrimat. Follow the Father’s directions at every step and claim the sovereignty of the world. Become a remover of sorrow and a bestower of happiness, like the Father.
  2. Constantly continue to study this study of changing from humans into deities. Serve everyone to make them similar to yourself and accept their blessings.
Blessing: May you be constantly victorious by making the Father your Companion with the stage of having all rights.
The easy way to make the Father your Companion is to have the stage of having all rights. When you remain stable in the stage of having all rights, your intellect will not fluctuate in wasteful or impure thoughts or in the sweetness of many other things. With concentration of your intellect, you develop the powers of facing, discerning and deciding. These easily make you victorious over the many types of attacks from Maya.
Slogan: A Raja yogi is one who practises going from the essence to the expansion and from the expansion to the essence in a second.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 2 FEBRUARY 2021 : AAJ KI MURLI

02-02-2021
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – खुदा तुम्हारा दोस्त है, रावण दुश्मन है, इसलिए तुम खुदा को प्यार करते और रावण को जलाते हो”
प्रश्नः- किन बच्चों को अनेकों की आशीर्वाद स्वत: मिलती जाती है?
उत्तर:- जो बच्चे याद में रह स्वयं भी पवित्र बनते और दूसरों को भी आप समान बनाते हैं। उन्हें अनेकों की आशीर्वाद मिल जाती है, वे बहुत ऊंच पद पाते हैं। बाप तुम बच्चों को श्रेष्ठ बनने की एक ही श्रीमत देते हैं – बच्चे किसी भी देहधारी को याद न कर मुझे याद करो।
गीत:- आखिर वह दिन आया आज……..

ओम् शान्ति। ओम् शान्ति का अर्थ तो रूहानी बाप ने रूहानी बच्चों को समझाया है। ओम् माना मैं आत्मा हूँ और यह मेरा शरीर है। आत्मा तो देखने में नहीं आती है। आत्मा में ही अच्छे वा बुरे संस्कार रहते हैं। आत्मा में ही मन-बुद्धि है। शरीर में बुद्धि नहीं है। मुख्य है आत्मा। शरीर तो मेरा है। आत्मा को कोई देख नहीं सकते। शरीर को आत्मा देखती है। आत्मा को शरीर नहीं देख सकता। आत्मा निकल जाती है तो शरीर जड़ बन जाता है। आत्मा देखी नहीं जा सकती। शरीर देखा जाता है। वैसे ही आत्मा का जो बाप है, जिसको ओ गॉड फादर कहते हैं वह भी देखने में नहीं आते हैं, उनको समझा जाता है, जाना जाता है। हम आत्मायें सब ब्रदर्स हैं। शरीर में आते हैं तो कहेंगे यह भाई-भाई हैं, यह बहन-भाई हैं। आत्मायें तो सब भाई-भाई ही हैं। आत्माओं का बाप है – परमपिता परमात्मा। जिस्मानी भाई-बहिन एक-दो को देख सकते हैं। आत्माओं का बाप एक है, उनको देख नहीं सकते। तो अब बाप आये हैं, पुरानी दुनिया को नया बनाने। नई दुनिया सतयुग थी। अब पुरानी दुनिया कलियुग है, इनको अब बदलना है। पुरानी दुनिया तो खत्म होनी चाहिए ना। पुराना घर खत्म हो, नया घर बनता है ना, वैसे यह पुरानी दुनिया भी खलास होनी है। सतयुग के बाद फिर त्रेता, द्वापर, कलियुग फिर सतयुग आना जरूर है। वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी रिपीट होनी है। सतयुग में होता है देवी-देवताओं का राज्य। सूर्यवंशी और चन्द्रवंशी, उनको कहा जाता है लक्ष्मी-नारायण की डिनायस्टी, राम-सीता की डिनायस्टी। यह तो सहज है ना। फिर द्वापर-कलियुग में और धर्म आते हैं। फिर देवतायें जो पवित्र थे वह अपवित्र बन जाते, इनको कहा जाता है रावण राज्य। रावण को वर्ष-वर्ष जलाते आते हैं परन्तु जलता ही नहीं फिर-फिर जलाते रहते हैं। यह है सबका बड़ा दुश्मन इसलिए उनको जलाने की रसम पड़ गई है। भारत का नम्बरवन दुश्मन कौन है? और फिर नम्बरवन दोस्त, सदा सुख देने वाला है खुदा। खुदा को दोस्त कहते हैं ना। इस पर एक कहानी भी है। तो खुदा है दोस्त, रावण है दुश्मन। खुदा जो दोस्त है, उनको कभी जलायेंगे नहीं। वह है दुश्मन इसलिए 10 शीश वाला रावण बनाए उनको वर्ष-वर्ष जलाते हैं। गांधी जी भी कहते थे हमको रामराज्य चाहिए। रामराज्य में सुख है, रावणराज्य में दु:ख है। अब यह कौन बैठ समझाते हैं? पतित-पावन बाप। शिवबाबा, ब्रह्मा है दादा। बाबा हमेशा सही भी करते हैं बापदादा। प्रजापिता ब्रह्मा भी तो सबका हो गया। जिसको एडम भी कहा जाता है। उनको ग्रेट-ग्रेट ग्रैन्ड फादर कहा जाता है। मनुष्य सृष्टि में प्रजापिता हुआ। प्रजापिता ब्रह्मा द्वारा ब्राह्मण रचे जाते हैं फिर ब्राह्मण सो देवता बनते हैं। देवतायें फिर क्षत्रिय, वैश्य, शूद्र बन जाते हैं। इनको कहा जाता है प्रजापिता ब्रह्मा, मनुष्य सृष्टि का बड़ा। प्रजापिता ब्रह्मा के कितने ढेर बच्चे हैं। बाबा-बाबा कहते रहते हैं। यह है साकार बाबा। शिवबाबा है निराकार बाबा। गाया भी जाता है प्रजापिता ब्रह्मा द्वारा नई मनुष्य सृष्टि रचते हैं। अब तुम्हारी यह पुरानी खाल है। यह है ही पतित दुनिया, रावण राज्य। अब रावण की आसुरी दुनिया खत्म हो जायेगी। उसके लिए ही यह महाभारत लड़ाई है। फिर सतयुग में इस रावण दुश्मन को कोई जलायेंगे ही नहीं। रावण होगा ही नहीं। रावण ने ही दु:ख की दुनिया बनाई है। ऐसे नहीं जिनके पास पैसे बहुत हैं, बड़े-बड़े महल हैं, वह स्वर्ग में हैं।

बाप समझाते हैं, भल किसके पास करोड़ हैं, परन्तु यह तो सब मिट्टी में मिल जाने वाले हैं। नई दुनिया में फिर नई खानियां निकलती हैं, जिससे नई दुनिया के महल आदि सारे बनाये जाते हैं। यह पुरानी दुनिया अब खत्म होनी है। मनुष्य भक्ति करते ही हैं सद्गति के लिए, हमको पावन बनाओ, हम विशश बन गये हैं। विशश को पतित कहा जाता है। सतयुग में है ही वाइसलेस, सम्पूर्ण निर्विकारी हैं। वहाँ बच्चे योगबल से पैदा होते हैं, विकार वहाँ होता ही नहीं। न देह-अभिमान, न काम, क्रोध…… 5 विकार होते नहीं इसलिए वहाँ कभी रावण को जलाते ही नहीं। यहाँ तो रावणराज्य है। अब बाप कहते हैं तुम पवित्र बनो। यह पतित दुनिया खत्म होनी है जो श्रीमत पर पवित्र रहते हैं वही बाप की मत पर चल विश्व की बादशाही का वर्सा पाते हैं। इन लक्ष्मी-नारायण का राज्य था ना। अभी तो रावण राज्य है जो खत्म होना है। सतयुगी रामराज्य स्थापन होना है। सतयुग में बहुत थोड़े मनुष्य रहते हैं। कैपीटल देहली ही रहती है। जहाँ लक्ष्मी-नारायण का राज्य होता है। देहली सतयुग में परिस्तान थी। देहली ही गद्दी थी। रावण राज्य में भी देहली कैपीटल है, रामराज्य में भी देहली कैपीटल रहती है। परन्तु रामराज्य में तो हीरों जवाहरातों के महल थे। अथाह सुख था। अभी बाप कहते हैं तुमने विश्व का राज्य गॅवाया है, मैं फिर तुमको देता हूँ। तुम मेरी मत पर चलो। श्रेष्ठ बनना है तो सिर्फ मुझे याद करो और किसी देहधारी को याद न करो। अपने को आत्मा समझ मुझ बाप को याद करो तो तमोप्रधान से सतोप्रधान बन जायेंगे। तुम मेरे पास चले आयेंगे। मेरे गले की माला बनकर फिर विष्णु की माला बन जायेंगे। माला में ऊपर में मैं हूँ फिर दो हैं ब्रह्मा-सरस्वती। वही सतयुग के महाराजा-महारानी बनते हैं। उन्हों की फिर सारी माला है जो नम्बरवार गद्दी पर बैठते हैं। मैं इस भारत को इन ब्रह्मा सरस्वती और ब्राह्मणों द्वारा स्वर्ग बनाता हूँ। जो मेहनत करते हैं उन्हों के ही फिर यादगार बनते हैं। वह है रूद्र माला और वह विष्णु की माला। रूद्र माला है – आत्माओं की और विष्णु की माला है मनुष्यों की। आत्माओं के रहने का स्थान वह निराकारी परमधाम है, जिसको ब्रह्माण्ड भी कहते हैं। आत्मा कोई अण्डे मिसल नहीं है, आत्मा तो बिन्दी मिसल है। हम सब आत्मायें वहाँ स्वीट होम में रहने वाली हैं। बाप के साथ हम आत्मायें रहती हैं। वह है मुक्तिधाम। मनुष्य सब चाहते हैं मुक्तिधाम में जायें परन्तु वापिस कोई एक भी जा नहीं सकते। सबको पार्ट में आना ही है, तब तक बाप तुमको तैयार कराते रहते हैं। तुम तैयार हो जायेंगे तो फिर जो भी आत्मायें हैं, वह सब आ जायेंगी। फिर खलास। तुम जाकर नई दुनिया में राज्य करेंगे फिर नम्बरवार चक्र चलेगा। गीत में सुना ना – आखिर वह दिन आया आज….. तुम जानते हो जो भारतवासी अब नर्कवासी हैं, वह फिर स्वर्गवासी बनेंगे। बाकी सब आत्मायें शान्तिधाम में चली जायेंगी। समझाना बहुत थोड़ा है। अल्फ बाबा, बे बादशाही। अल्फ को बादशाही मिल जाती है। अभी बाप कहते हैं – मैं वही राज्य फिर से स्थापन करता हूँ। तुम 84 जन्म भोग अब पतित बन गये हो। पतित बनाया है रावण ने। फिर पावन कौन बनाते हैं? भगवान जिसको पतित-पावन कहते हैं, तुम कैसे पतित से पावन, पावन से पतित बनते हो, वह सारी हिस्ट्री जॉग्राफी रिपीट होगी। यह विनाश है ही इसके लिए। कहते हैं ब्रह्मा की आयु शास्त्रों में 100 वर्ष है। यह जो ब्रह्मा है, जिसमें बाप बैठ वर्सा दिलाते हैं, उनका भी शरीर छूट जायेगा। आत्माओं को बैठ, आत्माओं का जो बाप है वह समझाते हैं। मनुष्य, मनुष्य को पावन बना न सकें। देवतायें कभी विकार से नहीं पैदा होते हैं। पुनर्जन्म तो सब लेते आते हैं ना। बाप कितना अच्छी तरह से समझाते हैं कि कहाँ तकदीर जग जाए। बाप आते ही हैं मनुष्य मात्र की तकदीर जगाने। सब पतित दु:खी हैं ना। त्राहि-त्राहि कर विनाश हो जायेंगे इसलिए बाप कहते हैं त्राहि-त्राहि करने के पहले मुझ बेहद के बाप से वर्सा ले लो। यह जो कुछ दुनिया में देखते हो, यह सब खत्म हो जाना है। फॉल ऑफ भारत, राइज़ ऑफ भारत, इसका ही खेल है। राइज़ ऑफ वर्ल्ड। स्वर्ग में कौन-कौन राज्य करते हैं, यह बाप ही बैठ समझाते हैं। राइज़ ऑफ भारत, देवताओं का राज्य, फॉल ऑफ भारत रावण राज्य। अभी नई दुनिया बन रही है। बाप से पढ़ रहे हो नई दुनिया का वर्सा लेने। कितना सहज है। यह है मनुष्य से देवता बनने की पढ़ाई। यह भी अच्छी रीति समझना है। कौन-कौन से धर्म कब आते हैं, द्वापर के बाद ही और-और धर्म आते हैं। पहले सुख भोगते हैं फिर दु:ख। यह सारा चक्र बुद्धि में बिठाना होता है। जिससे तुम चक्रवर्ती महाराजा-महारानी बनते हो। सिर्फ अल्फ और बे को समझना है। अब विनाश तो होना ही है। हंगामा इतना हो जायेगा जो विलायत से फिर आ भी नहीं सकेंगे इसलिए बाप समझाते हैं – भारत भूमि सबसे उत्तम है। जबरदस्त लड़ाई लगेगी फिर वहाँ के वहाँ ही रह जायेंगे। 50-60 लाख भी देंगे तो भी मुश्किल आ सकेंगे। भारत भूमि सबसे उत्तम है। जहाँ बाप आकर अवतार लेते हैं। शिव जयन्ती भी यहाँ मनाई जाती है। सिर्फ कृष्ण का नाम डालने से सारी महिमा ही खत्म हो गई है। सर्व मनुष्य मात्र का लिबरेटर यहाँ ही आकर अवतार लेते हैं। शिव जयन्ती भी यहाँ मनाते हैं। गॉड फादर ही हैं जो आकर लिबरेट करते हैं। तो ऐसे बाप को ही नमन करना चाहिए, उनकी ही जयन्ती मनाना चाहिए। वह बाप यहाँ भारत में आकर सबको पावन बनाते हैं। तो यह सबसे बड़ा तीर्थ ठहरा। सबको दुर्गति से छुड़ाए सद्गति देते हैं, यह ड्रामा बना हुआ है। अभी तुम आत्मायें जानती हो, हमारा बाबा हमको इस शरीर द्वारा यह राज़ समझा रहे हैं, हम आत्मा इस शरीर द्वारा सुनती हैं। आत्म-अभिमानी बनना है। अपने को आत्मा समझ बाप को याद करो तो कट निकलती जायेगी और प्योर बन तुम बाप के पास आ जायेंगे। जितना याद करेंगे उतना पवित्र बनेंगे। औरों को भी आपसमान बनायेंगे तो बहुतों की आशीर्वाद मिलेगी। ऊंच पद पा लेंगे इसलिए गाया जाता है सेकेण्ड में जीवनमुक्ति। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों का नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) श्रीमत पर पवित्र बन, हर कदम बाप की मत पर चल विश्व की बादशाही लेनी है। बाप के समान दु:ख हर्ता सुख कर्ता बनना है।

2) मनुष्य से देवता बनने की यह पढ़ाई सदा पढ़ते रहना है। सबको आप समान बनाने की सेवा करके आशीर्वाद प्राप्त करनी है।

वरदान:- अधिकारी पन की स्थिति द्वारा बाप को अपना साथी बनाने वाले सदा विजयी भव
बाप को साथी बनाने का सहज तरीका है – अधिकारी पन की स्थिति। जब अधिकारी पन की स्थिति में स्थित रहते हो तब व्यर्थ संकल्प वा अशुद्ध संकल्पों की हलचल में वा अनेक रसों में बुद्धि डगमग नहीं होती। बुद्धि की एकाग्रता द्वारा सामना करने, परखने व निर्णय करने की शक्ति आ जाती है, जो सहज ही माया के अनेक प्रकार के वार से विजयी बना देती है।
स्लोगन:- राजयोगी वह हैं जो सेकण्ड में सार से विस्तार और विस्तार से सार में जाने के अभ्यासी हैं।

TODAY MURLI 2 FEBRUARY 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 2 February 2020

02/02/20
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
18/11/85

The characteristics of the fortunate children of God.

BapDada is seeing the lines of fortune on the foreheads of all the children. There are lines of fortune on the forehead of each one of you children, but the lines of some children are clear, whereas the lines of others have not been clear, from the time that you belonged to God, the Father. God means the Bestower of Fortune, God means the Bestower. This is why, when you become the children, you all definitely attain the right to claim your fortune, that is, your inheritance. However, you become numberwise in using the inheritance you have received in your life …using it for service and making it elevated and clear. This is because the more you use your fortune for yourself and for service, the more it increases, that is, the clearer the line becomes. The Father is the same One and He gives the same to everyone. The Father doesn’t distribute fortune numberwise, but those who create their fortune, that is, those who are to become fortunate, become numberwise because they attain such great fortune only according to their capacity. This is why the lines of some are clear and the lines of others are not clear. Children who have a clear line experience themselves to be fortunate in every act they carry out. As well as this, others also experience their fortune from their faces and their activity. Others who see such fortunate children think and say: These souls are very fortunate – their fortune is always elevated. Ask yourself: Do I experience myself to be a child of Bhagwan (God, the Fortune-maker), that is, bhagyavan (fortunate) in everything I do? Fortune is your inheritance. It is not possible that you do not receive your inheritance. Do you experience your fortune as your inheritance? Or, do you have to work hard? An inheritance is received easily; it doesn’t require hard work. In the world too, a child automatically has a right to his father’s treasures and his inheritance, and he has that intoxication that he has received his father’s inheritance. Do you have the intoxication of such fortune, or does it rise and then fall again? You have the imperishable inheritance and so you should have so much intoxication! Not just one birth, but you have the fortune of many births as your birthright. You speak of this with such a great sparkle. Let others always be able to see the sparkle of your visible fortune. Do you have both the sparkle and the spiritual intoxication? Is it merged or has it emerged? The sign of a fortunate soul is: that fortunate soul is constantly being sustained in a lap, he walks on a carpet, he swings in swings and doesn’t step into mud. The feet of such a soul never become dirty. Those people walk on carpets whereas you, instead of keeping the feet of your intellects on the earth, keep them in the world of angels. You don’t keep the feet of your intellects in this old world of dust, that is, you don’t allow your intellects to become dirty. Fortunate ones don’t play with toys of clay; they always play with jewels. Fortunate souls remain constantly full. This is why they always have the stage of being completely ignorant of all desires. A fortunate soul becomes a constantly great donor and a charitable soul and continues to create the fortune of others. A fortunate soul always has his crown, throne and tilak. A fortunate soul is a renunciate to the extent that he has a right to the fortune. Renunciation is a sign of fortune. Renunciation makes your fortune very clear. A fortunate soul is always equal to God: incorporeal, egoless and viceless. Such a soul is constantly filled with all three of these qualifications. Do you experience all these signs in yourselves? You are on the list of those who are fortunate, are you not? However, are you only according to your capacity or are you full of all powers? You are masters, are you not? In praise of the Father, you never say that He is according to capacity or that He is numberwise; you say that He is always full of all powers. If you are master almighty authorities, ones with all powers, then, why do you become according to capacity? You are constantly those with all powers. Change the words “according to capacity” and become those who are always full of all powers and make others too the same. Do you understand?

Which zones have come? All of you have reached the land of blessings and are filling your aprons with blessings, are you not? Every activity and act in the land of blessings is filled with a special blessing. When you come into this land of the sacrificial fire, then, whether you cut vegetables, whether you clean the grain, these too are filled with blessings of service of the yagya. For instance, when people go on a pilgrimage, they consider cleaning the temple to be an act of great charity. At this great pilgrimage place, or on this land of blessings, every deed and step is filled with nothing but blessings. How much of your aprons have you filled? Will you go back having filled your aprons completely, or only according to your capacity? From wherever all of you have come, you have come to celebrate the mela. In Madhuban, let neither one thought nor one second go to waste. This practice of becoming powerful here will help you at your own places. The study and the family: take benefit from this study and also have a special experience of the family. Do you understand?

BapDada is giving congratulations to those of all the zones for becoming the bestowers of blessings and great donors. The people’s festival has now ended, whereas you constantly have a festival filled with enthusiasm. You constantly have a great day. This is why you have congratulations and nothing but congratulations every day. Maharashtra is such that you become great and always fill your aprons with blessings to make others great. Those from Karnataka always remain cheerful. Also make others cheerful with your cheerful faces. Continue to fill your aprons. What will those from U.P. do? You will always give the blessing of coolness like cool rivers, become the goddesses of coolness and make others into goddesses of coolness. With that coolness, always continue to remove all types of sorrow from everyone. Fill their aprons with such blessings. Achcha.

To those who constantly have clear lines of elevated fortune, to those who are constantly full of all powers, like the Father, to those who remain stable in the perfect stage, to those who constantly have a Godly sparkle and who maintain the spiritual intoxication of their fortune, to those who become fortunate through their every act and enable others to claim their inheritance of fortune, to such elevated fortunate, master God children, BapDada’s love, remembrance and namaste. Achcha.

Avyakt BapDada meeting Senior Dadis:

The speciality of all those who have been moving along with Baba from the beginning until now is that, just as Father Brahma has experienced every action and with the authority of those experiences, claims the authority of the kingdom, in the same way, because of the authority of every type of experience of all of you over a long period of time, you will be companions in the authority of the kingdom over a long period of time. You are those who have thought from the beginning that wherever they are made to sit, or however they are made to move, they will move accordingly and go back with the Father. So, BapDada will have to fulfil the first promise of going together. You are also going to stay with Father Brahma. You will stay with him in ruling the kingdom and also on the path of devotion. To the extent that your intellects have constant company at this time, accordingly, you will constantly remain with him in the kingdom. If you are a little distant now, then in some births you will be distant and in other births you will be close. However, those whose intellects constantly stay with the Father will stay with him there too. In the corporeal form, all of you stayed together for 14 years and 14 years of the confluence age are equivalent to very many years. You stayed with the corporeal form for so long at the confluence age; that too is huge fortune. You are with the Father with your intellect, you are with him in the home and you will be with him in the kingdom. Though there are only a few who sit on the throne, they definitely play a part in being in close relationship with the royal family and in the timetable for the whole day. The promise of staying with the Father from the beginning will continue throughout the whole cycle. On the path of devotion too, you will stay together for a long time. It is in the last birth that some are a little distant, whereas others are close but, even then, you will stay with him in one form or another throughout the whole cycle. You have made such a promise, have you not? Therefore, with which vision do people see you? In the form of the Father! On the path of devotion, this is referred to as, “All of these are the forms of God.” This is because you become equal to the Father. The Father is visible through your forms and this is why they say you are forms of the Father. This would be the speciality of those who stay with the Father. When others see you they would remember the Father: they would not remember the person, but they would remember the Father. The Father’s character, the Father’s drishti and the Father’s deeds would be experienced from you. You yourselves would not be visible, but, the Father’s deeds and His drishti would be experienced from you. This is the speciality of the especially beloved children who are equal. All of you are like that, are you not? Others don’t get trapped in you, do they? They don’t say, “So-and-so is very good”; no. “The Father has made that one good”. They receive the Father’s drishti and the Father’s sustenance through you. They listen to the Father’s elevated versions from you. This is your speciality. This is called being loving as well as detached. You may be loved by all, but do not be someone who traps others. Let it not be that, instead of the remembering the Father, they remember you. Or that in order, to receive power from the Father or to listen to the Father’s elevated versions, they remember you. This is known as being loving and detached. This is such a group, is it not? There must be some speciality for having taken sustenance from the corporeal form. There would be some speciality, would there not? When they come to you, what would they ask? What did the Father used to do? How did he move? This is what you would remember, is it not? You are such special souls. This is known as the “divine unity”. Reminding them of the “divine”, you make them divine, and this is why there is the “divine unity” (group was named the “Divine Unity” group.) You have remained imperishable for 50 years and so congratulations for being imperishable. Many came and many went on a tour (left Baba), but you all stayed imperishable, eternally. Eternally, you are with Baba and in the beginning too, you are with Baba. If you stay with Baba in the subtle region, how will you do service? You at least have a little rest too, but the Father does not need to rest. BapDada has been liberated from this too. The avyakt form does not need to rest, whereas the vyakt (corporeal) form needs to rest. If you are made to become like this, then all the work is accomplished. Even so, when there is a chance for doing service, you become tireless, like the Father. You don’t then get tired. Achcha.

Speaking to Dadiji: (30/03/85)

The Father has made you one with a crown from childhood. Baba put the crown of responsibility for service on you as soon as you came, and, from time to time, whatever part was being played, even when it was the “beggary” part or the part of great pleasure, according to the drama, you have been adopting the part of taking responsibility in all situations. Therefore, you also became the instrument to take the crown of the avyakt part. You have had this special part from the beginning. You are one who constantly fulfils your responsibility just like Baba is responsible and so has the special part with the crown of responsibility. Therefore, even at the end, he gave you the crown, the tilak and everything else through his drishti, and so your memorial will definitely have a crown. Even in childhood, Krishna has been portrayed with a crown, and so in the memorial too, they worship the crowned, childhood form. All others are companions, but you are one with a crown. Everyone fulfils the responsibility of companionship, but that is different from fulfilling the responsibility whilst being equal.

BapDada meeting groups:

1. Kumars: Kumars means free from bondage. The biggest bondage of all is that of waste thoughts in the mind. Become free from this bondage too. This bondage doesn’t sometimes bind you, does it? Because the power of thought is the basis of income at every step. On what basis do you do the pilgrimage of remembrance? You reach Baba on the basis of the power of your thoughts, do you not? You become bodiless. So, the power of the mind is special. Waste thoughts make the power of the mind weak. Therefore, remain free from this bondage. A kumar means one who is constantly an intense effort-maker, because those who are free from bondage would automatically have a fast speed. Those who have a burden would move along at a slow speed. Those who are light would always move fast. Now, according to the time, the time for effort has gone by. You now have to become an intense effort-maker and reach your destination.

Have you Kumars finished your old accounts of waste? The new account is the account of the powerful. The old account is of waste. So, the old account has finished. In any case, in relationships, you never keep old accounts. You finish the old accounts and continue to move forward and increase new accounts. So, here, too, you finish old accounts and you constantly have the newest of all, the powerful, at every step. Let every thought of yours be powerful. As is the Father, so are the children. The Father is Powerful and so children also follow the Father and become powerful.

2. The mothers: In which one virtue are the mothers especially experienced? What is that special virtue? (Renunciation, tolerance.) Are there any other virtues? The form of the mothers is especially that of being merciful. Mothers are merciful. Do you unlimited mothers feel mercy for the unlimited souls? What do you do when you feel mercy? Those who are merciful cannot stay without serving others. When you become merciful many souls are automatically benefited. This is why mothers are also called benefactors. Benefactor means those one who benefits others. Just as the Father is the World Benefactor, so too, you mothers have also been given the special title of being benefactors, equal to the Father. Do you have such enthusiasm? What have you become from what you were? With the transformation of yourself, you also feel zeal and enthusiasm for others. Do you have a balance between limited and unlimited service? Your accounts are settled with that service and the other is limited service. You are unlimited servers. The more zeal and enthusiasm you have for service, the more success there will be.

Mothers have become instruments to benefit the world through their renunciation and tapasya. Mothers have the speciality of renunciation and tapasya. Do you remain busy being instruments for service with these two specialities and in making others belong to the Father? The duty of the confluence-aged Brahmins is to do service. Brahmins cannot stop doing service. Just as those brahmins in name also definitely have gatherings where they read stories, so, here, too, to tell stories means to do service. So, become a world mother and think about the world. Think about the unlimited children. Don’t just sit at home; become the unlimited servers and constantly continue to move forward. You spent 63 births in the limited; now move forward in unlimited service. Achcha.

Love and remembrance to all the children at the time of farewell

All the loving and co-operative children from everywhere, please accept special love-filled remembrance from BapDada. Today, BapDada congratulates all the children for constantly being free from obstacles, being destroyers of obstacles and carrying out the task of making the world free from obstacles. Each child has the elevated thought of always moving forward in service. This elevated thought enables them to move constantly forward in service and will continue to do so. Along with service, also keep a balance between self-progress and progress in service and continue to move forward and you will continue to receive blessings from the heart of BapDada, from all souls and from those for whom you become instruments. So, constantly take blessings for keeping a balance and continue to move forward. By having progress of the self and making progress in service at the same time, you will easily become a constant embodiment of success. Let each one accept personal love and remembrance by name. Achcha. Om shanti.

Blessing: May you be a constantly filled treasure store of happiness and constantly give everyone good news.
Constantly keep the image in front of you of being a treasure store that is filled with the treasure of happiness. Bring into your awareness the countless and imperishable treasures you have received. By bringing these treasures into your awareness, you will experience happiness and where there is happiness, all sorrow is removed for all that time. By having the awareness of the treasures, the soul becomes powerful and finishes all waste. A soul who is full never has any type of upheaval. Such a soul remains happy and also gives good news to others.
Slogan: In order to become worthy and capable, keep a balance of karma and yoga.

 

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 2 FEBRUARY 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 2 February 2020

02-02-20
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 18-11-85 मधुबन

भगवान के भाग्यवान बच्चों के लक्षण

बापदादा सभी बच्चों के मस्तक पर भाग्य की रेखायें देख रहे हैं। हर एक बच्चे के मस्तक पर भाग्य की रेखायें लगी हुई है लेकिन किस-किस बच्चों की स्पष्ट रेखायें हैं और कोई-कोई बच्चों की स्पष्ट रेखायें नहीं है। जब से भगवान बाप के बने, भगवान अर्थात् भाग्य विधाता। भगवान अर्थात् दाता विधाता इसलिए बच्चे बनने से भाग्य का अधिकार अर्थात् वर्सा सभी बच्चों को अवश्य प्राप्त होता है, परन्तु उस मिले हए वर्से को जीवन में धारण करना, सेवा में लगाकर श्रेष्ठ बनाना, स्पष्ट बनाना इसमें नम्बरवार हैं क्योंकि यह भाग्य जितना स्वयं प्रति वा सेवा प्रति कार्य में लगाते हो उतना बढ़ता है अर्थात् रेखा स्पष्ट होती है। बाप एक है और देता भी सभी को एक जैसा है। बाप नम्बरवार भाग्य नहीं बांटता लेकिन भाग्य बनाने वाले अर्थात् भाग्यवान बनने वाले इतने बड़े भाग्य को प्राप्त करने में यथाशक्ति होने के कारण नम्बरवार हो जाते हैं इसलिए कोई की रेखा स्पष्ट है, कोई की स्पष्ट नहीं है। स्पष्ट रेखा वाले बच्चे स्वयं भी हर कर्म में अपने को भाग्यवान अनुभव करते। साथ-साथ उन्हों के चेहरे और चलन से भाग्य औरों को भी अनुभव होता है। और भी ऐसे भाग्यवान बच्चों को देख सोचते और कहते कि यह आत्मायें बड़ी भाग्यवान हैं। इनका भाग्य सदा श्रेष्ठ है। अपने आप से पूछो हर कर्म में अपने को भगवान के बच्चे भाग्यवान अनुभव करते हो? भाग्य आपका वर्सा है। वर्सा कभी न प्राप्त हो, यह हो नहीं सकता। भाग्य को वर्से के रूप में अनुभव करते हो? वा मेहनत करनी पड़ती है? वर्सा सहज प्राप्त होता है। मेहनत नहीं। लौकिक में भी बाप के खजाने पर, वर्से पर बच्चे का स्वत: अधिकार होता है। और नशा रहता है कि बाप का वर्सा मिला हुआ है। ऐसे भाग्य का नशा है वा चढ़ता और उतरता रहता है? अविनाशी वर्सा है तो कितना नशा होना चाहिए। एक जन्म तो क्या अनेक जन्मों का भाग्य जन्मसिद्ध अधिकार है। ऐसी फलक से वर्णन करते हो। सदा भाग्य की झलक प्रत्यक्ष रूप में औरों को दिखाई दे। फलक और झलक दोनों हैं? मर्ज रूप में हैं वा इमर्ज रूप हैं? भाग्यवान आत्माओं की निशानी – भाग्यवान आत्मा सदा चाहे गोदी में पलती, चाहे गलीचों पर चलती, झूलों में झूलती, मिट्टी में पांव नहीं रखती, कभी पांव मैले नहीं होते। वो लोग गलीचों पर चलते और आप बुद्धि रूपी पांव से सदा फर्श के बजाए फरिश्तों की दुनिया में रहते। इस पुरानी मिट्टी की दुनिया में बुद्धि रूपी पांव नहीं रखते अर्थात् बुद्धि मैली नहीं करते। भाग्यवान मिट्टी के खिलौने से नहीं खेलते। सदा रत्नों से खेलते हैं। भाग्यवान सदा सम्पन्न रहते इसलिए इच्छा मात्रम् अविद्या, इसी स्थिति में रहते हैं। भाग्यवान आत्मा सदा महादानी पुण्य आत्मा बन औरों का भी भाग्य बनाते रहते हैं। भाग्यवान आत्मा सदा ताज, तख्त और तिलकधारी रहती है। भाग्यवान आत्मा जितना ही भाग्य अधिकारी उतना ही त्यागधारी आत्मा होती है। भाग्य की निशानी त्याग है। त्याग भाग्य को स्पष्ट करता है। भाग्यवान आत्मा, सदा भगवान समान निराकारी, निरंहकारी और निर्विकारी इन तीनों विशेषताओं से भरपूर होती है। यह सब निशानियाँ अपने में अनुभव करते हो? भाग्यवान की लिस्ट में तो हो ही ना। लेकिन यथाशक्ति हो वा सर्वशक्तिवान हो? मास्टर तो हो ना? बाप की महिमा में कभी यथा शक्तिवान वा नम्बरवार नहीं कहा जाता सदा सर्वशक्तिवान कहते हैं। मास्टर सर्वशक्तिवान फिर यथाशक्ति क्यों? सदा शक्तिवान। यथा शब्द को बदल सदा शक्तिवान बनो और बनाओ। समझा।

कौन से जोन आये हैं? सभी वरदान भूमि में पहुँच वरदानों से झोली भर रहे हो ना। वरदान भूमि के एक-एक चरित्र में, कर्म में विशेष वरदान भरे हुए हैं। यज्ञ भूमि में आकर चाहे सब्जी काटते हो, अनाज साफ करते हो, इसमें भी यज्ञ सेवा का वरदान भरा हुआ है। जैसे यात्रा पर जाते हैं, मन्दिर की सफाई करना भी एक बड़ा पुण्य समझते हैं। इस महातीर्थ वा वरदान भूमि के हर कर्म में हर कदम में वरदान ही वरदान भरे हुए हैं। कितनी झोली भरी है? पूरी झोली भर करके जायेंगे या यथाशक्ति? जो भी जहाँ से भी आये हो, मेला मनाने आये हो। मधुबन में एक संकल्प भी वा एक सेकण्ड भी व्यर्थ न जाए। समर्थ बनने का यह अभ्यास अपने स्थान पर भी सहयोग देगा। पढ़ाई और परिवार – पढ़ाई का भी लाभ लेना और परिवार का भी अनुभव विशेष करना। समझा!

बापदादा सभी जोन वालों को सदा वरदानी, महादानी बनने की मुबारक दे रहे हैं। लोगों का उत्सव समाप्त हुआ लेकिन आपका उत्साह भरा उत्सव सदा है। सदा बड़ा दिन है इसलिए हर दिन मुबारक ही मुबारक है। महाराष्ट्र सदा महान बन महान बनाने के वरदानों से झोली भरने वाले हैं। कर्नाटक वाले सदा अपने हर्षित मुख द्वारा स्वयं भी सदा हर्षित और दूसरों को भी सदा हर्षित बनाते, झोली भरते रहना। यू.पी. वाले क्या करेंगे? सदा शीतल नदियों के समान शीतलता का वरदान दे शीतला देवियाँ बन शीतल देवी बनाओ। शीतलता से सदा सर्व के सभी प्रकार के दु:ख दूर करो। ऐसे वरदानों से झोली भरो। अच्छा!

सदा श्रेष्ठ भाग्य के स्पष्ट रेखाधारी, सदा बाप समान सर्व शक्तियाँ सम्पन्न, सम्पूर्ण स्थिति में स्थित रहने वाले, सदा ईश्वरीय झलक और भाग्य की फलक में रहने वाले, हर कर्म द्वारा भाग्यवान बन भाग्य का वर्सा दिलाने वाले ऐसे मास्टर भगवान श्रेष्ठ भाग्यवान बच्चों को बापदादा का यादप्यार और नमस्ते।

बड़ी दादियों से अव्यक्त बापदादा की मुलाकात

आदि से अब तक जो हर कार्य में साथ चलते आ रहे हैं, उन्हों की यह विशेषता है – जैसे ब्रह्मा बाप हर कदम में अनुभवी बन अनुभव की अथॉरिटी से विश्व के राज्य की अथॉरिटी लेते हैं ऐसे ही आप सभी की बहुतकाल से हर प्रकार के अनुभव की अथॉरिटी के कारण बहुतकाल के राज्य की अथार्टी में भी साथी बनने वाले हो। जिन्होंने आदि से संकल्प किया – जहाँ बिठायेंगे, जैसे चलायेंगे वैसे चलते हुए साथ चलेंगे। तो साथ चलने का पहला वायदा बापदादा को निभाना ही पड़ेगा। ब्रह्मा बाप के भी साथ रहने वाले हो। राज्य में भी साथ रहेंगे, भक्ति में भी साथ रहेंगे। जितना अभी बुद्धि से सदा का साथ रहता है उसी हिसाब से राज्य में भी सदा साथ हैं। अगर अभी थोड़ा-सा दूर तो कोई जन्म में दूर के हो जायेंगे, कोई जन्म में नजदीक के। लेकिन जो सदा ही बुद्धि से साथ में रहते हैं वह वहाँ भी साथ रहेंगे। साकार में तो आप सब 14 वर्ष साथ रहे, संगमयुग के 14 वर्ष कितने वर्षों के समान हो गये। संगमयुग का इतना समय साकार रूप में साथ रहे हो, यह भी बहुत बड़ा भाग्य है। फिर बुद्धि से भी साथ हो, घर में भी साथ होंगे, राज्य में भी साथ होंगे। भले तख्त पर थोड़े बैठते हैं लेकिन रॉयल फैमिली के नजदीक सम्बन्ध में, सारे दिन की दिनचर्या में साथ रहने में पार्ट जरूर बजाते हैं। तो यह आदि से साथ रहने का वायदा सारा कल्प ही चलता रहेगा। भक्ति में भी काफी समय साथ रहेंगे। यह पीछे के जन्म में थोड़ा-सा कोई दूर, कोई नजदीक लेकिन फिर भी साथ सारा कल्प किसी न किसी रूप से रहते हैं। ऐसा वायदा है ना! इसलिए आप लोगों को सभी किस नज़र से देखते हैं! बाप के रूप हो। इसको ही भक्ति में उन्होंने कहा है – यह सब भगवान के रूप हैं! क्योंकि बाप समान बनते हो ना! आपके रूप से बाप दिखाई देता है इसलिए बाप के रूप कह देते हैं। जो बाप के साथ रहने वाले हैं उनकी यही विशेषता होगी, उनको देखकर बाप याद आयेगा, उनको नहीं याद करेंगे लेकिन बाप को याद करेंगे। उन्हों से बाप के चरित्र, बाप की दृष्टि, बाप के कर्म, सब अनुभव होंगे। वह स्वयं नहीं दिखाई देंगे। लेकिन उन द्वारा बाप के कर्म वा दृष्टि अनुभव होगी। यही विशेषता है अनन्य, समान बच्चे की। सभी ऐसे हो ना! आप में तो नहीं फंसते हैं ना! यह तो नहीं कहते फलानी बहुत अच्छी है, नहीं बाप ने इन्हें अच्छा बनाया है। बाप की दृष्टि, बाप की पालना इन्हों से मिलती है। बाप के महावाक्य इन्हों से सुनते हैं। यह विशेषता है। इसको कहा जाता है – प्यारा भी लेकिन न्यारा भी। प्यारा भले सबका हो लेकिन फंसाने वाला नहीं हो। बाप के बदले आपको याद न करें। बाप की शक्ति लेने के लिए बाप के महावाक्य सुनने के लिए आपको याद करें। इसको कहते हैं – ‘प्यारा भी और न्यारा भी’। ऐसा ग्रुप है ना! कोई तो विशेषता होगी ना जो साकार की पालना ली है – विशेषता तो होगी ना। आप लोगों के पास आयेंगे तो क्या पूछेंगे – बाप क्या करता था, कैसे चलता था… यही याद आयेगा ना! ऐसी विशेष आत्मायें हो। इसको कहते हैं – डिवाइन युनिटी। डिवाइन की स्मृति दिलाय डिवाइन बनाते, इसलिए डिवाइन युनिटी। 50 वर्ष अविनाशी रहे हो तो अविनाशी भव की मुबारक हो। कई आये कई चक्र लगाने गये। आप लोग तो अनादि अविनाशी हो गये। अनादि में भी साथ, आदि में भी साथ। वतन में साथ रहेंगे तो सेवा कैसे करेंगे! आप तो थोड़ा-सा आराम भी करते हो, बाप को आराम की भी आवश्यकता नहीं। बापदादा इससे भी छूट गये। अव्यक्त को आराम की आवश्यकता नहीं। व्यक्त को आवश्यकता है। इसमें आप समान बनायें तो काम खत्म हो जाए। फिर भी देखो जब कोई सेवा का चांस बनता है तो बाप समान अथक बन जाते हो। फिर थकते नहीं हो। अच्छा!

दादी जी से:- बचपन से बाप ने ताजधारी बनाया है। आते ही सेवा की जिम्मेवारी का ताज पहनाया और समय प्रति समय जो भी पार्ट चला – चाहे बेगरी पार्ट चला, चाहे मौजों का पार्ट चला, सभी पार्ट में जिम्मेवारी का ताज ड्रामा अनुसार धारण करती आई हो इसलिए अव्यक्त पार्ट में भी ताजधारी निमित्त बन गई। तो यह विशेष आदि से पार्ट है। सदा जिम्मेवारी निभाने वाली। जैसे बाप जिम्मेवार है तो जिम्मेवारी के ताजधारी बनने का विशेष पार्ट है इसलिए अन्त में भी दृष्टि द्वारा ताज, तिलक सब देकर गये इसलिए आपका जो यादगार है ना उसमें ताज जरूर होगा। जैसे कृष्ण को बचपन से ताज दिखाते हैं तो यादगार में भी बचपन से ताजधारी रूप से पूजते हैं। और सब साथी हैं लेकिन आप ताजधारी हो। साथ तो सभी निभाते लेकिन समान रूप में साथ निभाना इसमें अन्तर है।

पार्टियों से अव्यक्त बापदादा की मुलाकात

कुमारों से:- कुमार अर्थात निर्बन्धन। सबसे बड़ा बन्धन मन के व्यर्थ संकल्पों का है। इसमें भी निर्बन्धन। कभी-कभी यह बन्धन बांध तो नहीं लेता है? क्योंकि संकल्प शक्ति हर कदम में कमाई का आधार है। याद की यात्रा किस आधार से करते हो? संकल्प शक्ति के आधार से बाबा के पास पहुँचते हो ना! अशरीरी बन जाते हो। तो मन की शक्ति विशेष है। व्यर्थ संकल्प मन की शक्ति को कमजोर कर देते हैं इसलिए इस बन्धन से मुक्त। कुमार अर्थात् सदा तीव्र पुरूषार्थी क्योंकि जो निर्बन्धन होगा उसकी गति स्वत: तीव्र होगी। बोझ वाला धीमी गति से चलेगा। हल्का सदा तीव्रगति से चलेगा। अभी समय के प्रमाण पुरुषार्थ का समय गया। अब तीव्र पुरुषार्थी बन मंजिल पर पहुँ-चना है।

2. कुमारों ने पुराने व्यर्थ के खाते को समाप्त कर लिया है? नया खाता समर्थ खाता है। पुराना खाता व्यर्थ है। तो पुराना खाता खत्म हुआ। वैसे भी देखो व्यवहार में कभी पुराना खाता रखा नहीं जाता है। पुराने को समाप्त कर आगे खाते को बढ़ाते रहते हैं। तो यहाँ भी पुराने खाते को समाप्त कर सदा नये ते नया हर कदम में समर्थ हो। हर संकल्प समर्थ हो। जैसा बाप वैसे बच्चे। बाप समर्थ है तो बच्चे भी फालो फादर कर समर्थ बन जाते हैं।

माताओं से:- मातायें किस एक गुण में विशेष अनुभवी हैं? वह विशेष गुण कौन-सा? (त्याग है, सहनशीलता है) और भी कोई गुण है? माताओं का स्वरूप विशेष रहमदिल का होता है। मातायें रहमदिल होती हैं। आप बेहद की माताओं को बेहद की आत्माओं के प्रति रहम आता है? जब रहम आता है तो क्या करती हैं? जो रहमदिल होते हैं वह सेवा के सिवाए रह नहीं सकते हैं। जब रहमदिल बनते हो तो अनेक आत्माओं का कल्याण हो ही जाता है इसलिए माताओं को कल्याणी भी कहते हैं। कल्याणी अर्थात् कल्याण करने वाली। जैसे बाप को विश्व कल्याणकारी कहते हैं वैसे माताओं को विशेष बाप समान कल्याणी का टाइटिल मिला हुआ है। ऐसे उमंग आता है! क्या से क्या बन गये! स्व के परिवर्तन से औरों के लिए भी उमंग-उत्साह आता है। हद की और बेहद की सेवा का बैलेन्स है? उस सेवा से तो हिसाब चुक्तू होता है, वह हद की सेवा है। आप तो बेहद की सेवाधारी हो। जितना सेवा का उमंग उत्साह स्वयं में होगा उतना सफलता होगी।

2. मातायें अपने त्याग और तपस्या द्वारा विश्व का कल्याण करने के निमित्त बनी हुई हैं। माताओं में त्याग और तपस्या की विशेषता है। इन दो विशेषताओं से सेवा के निमित्त बन औरों को भी बाप का बनाना, इसी में बिजी रहती हो? संगमयुगी ब्राह्मणों का काम ही है सेवा करना। ब्राह्मण सेवा के बिना रह नहीं सकते। जैसे नामधारी ब्राह्मण कथा जरूर करेंगे। तो यहाँ भी कथा करना अर्थात् सेवा करना। तो जगतमाता बन जगत के लिए सोचो। बेहद के बच्चों के लिए सोचो। सिर्फ घर में नहीं बैठ जाओ, बेहद के सेवाधारी बन सदा आगे बढ़ते चलो। हद में 63 जन्म हो गये, अभी बेहद सेवा में आगे बढ़ो।

विदाई के समय सभी बच्चों को यादप्यार

सभी तरफ के स्नही सहयोगी बच्चों को बापदादा का विशेष स्नेह सम्पन्न यादप्यार स्वीकार हो। आज बापदादा सभी बच्चों को सदा निर्विघ्न बन, विघ्न विनाशक बन विश्व को निर्विघ्न बनाने के कार्य की बधाई दे रहे हैं। हर बच्चा यही श्रेष्ठ संकल्प करता है कि सेवा में सदा आगे बढ़ें, यह श्रेष्ठ संकल्प सेवा में सदा आगे बढ़ा रहा है और बढ़ाता रहेगा। सेवा के साथ-साथ स्वउन्नति और सेवा की उन्नति का बैलेन्स रख आगे बढ़ते चलो तो बापदादा और सर्व आत्माओं द्वारा जिन्होंके निमित्त बनते हो, उन्हों के दिल की दुआयें प्राप्त होती रहेंगी। तो सदा बैलेन्स द्वारा ब्लैसिंग लेते हुए आगे बढ़ते चलो। स्वउन्नति और सेवा की उन्नति दोनों साथ-साथ रहने से सदा और सहज सफलता स्वरूप बन जायेंगे। सभी अपने-अपने नाम से विशेष यादप्यार स्वीकार करना। अच्छा! ओम शान्ति।

वरदान:- सबको खुशखबरी सुनाने वाले खुशी के खजाने से भरपूर भण्डार भव
सदा अपने इस स्वरूप को सामने रखो कि हम खुशी के खजाने से भरपूर भण्डार हैं। जो भी अनगिनत और अविनाशी खजाने मिले हैं उन खजानों को स्मृति में लाओ। खजानों को स्मृति में लाने से खुशी होगी और जहाँ खुशी है वहाँ सदाकाल के लिए दु:ख दूर हो जाते हैं। खजानों की स्मृति से आत्मा समर्थ बन जाती है, व्यर्थ समाप्त हो जाता है। भरपूर आत्मा कभी हलचल में नहीं आती, वह स्वयं भी खुश रहती और दूसरों को भी खुशखबरी सुनाती है।
स्लोगन:- योग्य बनना है तो कर्म और योग का बैलेन्स रखो।

TODAY MURLI 2 FEBRUARY 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 2 February 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 1 February 2019 :- Click Here

02/02/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, become bodiless and remember the Father. Remain stable in your original religion and you will receive strength. You will remain happy and healthy and your battery will continue to become full.
Question: By knowing what it is that is fixed in the drama , how do you children remain constantly unshakeable?
Answer: You know that the bombs etc. that have been made will definitely be used. Only when destruction takes place will our new world come. This is eternally fixed in the drama. Everyone has to die. You have the happiness that you will shed your old bodies and take birth in a kingdom. You watch the drama as detached observers. There is no question of fluctuating. There is no need to cry.

Om shanti. The Father sits here and asks you children: Why was the original, eternal, deity religion called the Hindu religion? You should find the answer to that. At first, there was just the original, eternal, deity religion. Then, when they became vicious, they could no longer call themselves deities. So, instead of calling themselves deities of the original, eternal religion, they started to call themselves the original, eternal Hindus. They still kept the words ‘original and eternal’; they just changed the name “deities” and called themselves Hindus. At the time when those of Islam came from outside, they used the name of the Hindu religion. At first, there wasn’t even the name ‘Hindustan’. So, you should understand it as the original, eternal, Hindu deity religion. Generally, they are righteous souls. Not all of them are of the eternal religion. Those who come later would not be said to belong to the original and eternal religion. Amongst Hindus too, there must be some who come later. You should tell the original, eternal, Hindus that theirs was the original, eternal, deity religion. Say: You were the original, eternal, satopradhan beings and then, while taking rebirth, you became tamopradhan. You now have to become satopradhan once again by having the pilgrimage of remembrance. They will like this medicine. Baba is the Surgeon. You should give this medicine to those who like it. You should remind those who belonged to the original, eternal, deity religion of this, just as you children have now been reminded. Baba has explained how you have become tamopradhan from satopradhan. You now have to become satopradhan from tamopradhan. You children are becoming satopradhan through the pilgrimage of remembrance. Those who are the original, eternal, Hindus will become the real deities and they will also become those who worship the deities. In that too, those who are devotees of Shiva, Lakshmi and Narayan, Radhe and Krishna and Rama and Sita are devotees of the deities and belong to the deity clan. You have now remembered that those who were the sun dynasty then became the moon dynasty. Therefore, you should find those devotees. You should ask those who come here to understand to fill in a form. There should definitely be forms at the main centres for people to fill in. You would give the lesson from the beginning to whoever comes. Because they don’t know the Father, the first and main thing to explain to them is: You don’t know your Senior Father. Originally, you belong to the Father from beyond. You came here and now belong to a worldly father. You have forgotten your Father from beyond. The unlimited Father is the Creator of heaven. None of these innumerable religions exist there. So, everything should depend on the forms they fill in. Although some children explain very well, they don’t have any yoga at all. They don’t become bodiless or remember the Father. They are unable to stay in remembrance. Although they know that they explain very well and that they even open museums etc., they still have very little remembrance. It requires effort to consider yourself to be a soul and to continue to remember the Father. The Father gives you a warning. Do not think that you can convince others very well. What is the benefit of that? OK, so what if they have become spinners of the discus of self-realisation? Here, you have to become bodiless. While doing everything, consider yourself to be a soul. It is the soul that carries out all tasks through the body. Those who don’t know how to remember this or don’t even know how to think about these things are called buddhus. You are unable to remember the Father. You don’t have the strength to do service. How can a soul receive strength without having remembrance? How can his battery become full? Instead of moving along, that soul will come to a halt; he will have no power. It is said: Religion is might. Only when a soul remains stable in his original religion can he receive strength. There are many who don’t know how to remember the Father. You can tell this from their faces. They would remember everyone else but would be unable to have remembrance of the Father. Only by having yoga will you receive power. Only by having remembrance will there be a lot of happiness and health. Then, in your next birth, you will receive shining new bodies. When you souls become pure, you will receive pure bodies. It is said: This gold is 24 carat and so the jewellery made from it is also 24 carat. At this time, all are nine carat gold. Those who are satopradhan are said to be 24 carat gold and those who are sato are 22 carat gold. These things have to be understood very well. The Father explains to you: First of all, you have to ask them to fill in a form so that you can tell to what extent they respond to you and how much they have imbibed. Even then, it comes to: Do they stay on the pilgrimage of remembrance? Only by having the pilgrimage of remembrance do you become satopradhan from tamopradhan. Those are physical pilgrimages of devotion whereas this is the spiritual pilgrimage. Here, it is the soul that goes on pilgrimage, whereas in other pilgrimages both the spirit and the body go on pilgrimage. By remembering the Purifier Father, the soul receives that sparkle. If a student has to be shown that impressed, Baba sometimes enters someone. Both the Mother and Father help, sometimes in knowledge and sometimes in yoga. The Father is always bodiless. He has no awareness of the body. So, the Father can help you with the strength of both (knowledge and yoga). If there is no yoga, how can you receive that strength? It can be understood whether someone is yogi or gyani. Baba explains new things day by day about yoga. Previously, He didn’t explain this. Consider yourself to be a soul and remember the Father. Baba now uplifts you so powerfully that the relationship of brother and sister is removed and there is just the vision of brotherhood. We souls are brothers. This is very elevated vision. This effort has to continue till the end. When you become satopradhan, you will shed your bodies. Therefore, increase your efforts as much as possible. This is even easier for old people. We now definitely have to return home. Young ones would never have such thoughts. Old people are in the stage of retirement. It is understood that you now have to return home. So, you have to understand all of these aspects of knowledge. The tree continues to grow. As it grows, the whole tree becomes ready. Thorns are changed and a small new tree of flowers has to be created. It will become new and then become old again. At first, the tree is small and it then continues to grow. It grows and at the end it has thorns. At first there are flowers; the very name is heaven. Then, later, that fragrance and strength no longer remain. There is no fragrance in thorns. Ordinary flowers don’t have that much fragrance. The Father is the Master of the Garden and also the Boatman. He takes everyone’s boat across. The children who are wise and sensible are able to understand how He takes the boat across and where He takes you. Those who don’t understand don’t even make effort. It is numberwise. Some aeroplanes travel faster than sound. No one even knows how a soul flies. A soul flies even faster than a rocket. There is nothing as fast as a soul. They put such fuel in those rockets that they are able to fly fast. They have prepared so many armaments for destruction. They even carry bombs on the steamers and aeroplanes. At this time, they have made all the preparations in advance. They write in the newspapers: We cannot say that we will not use those bombs. They continue to say that it is possible that they will use those bombs. All of these preparations are being made. Destruction definitely has to take place. It is impossible for the bombs not to be used and for destruction not to take place. A new world is definitely needed for you. This is fixed in the drama. This is why you should have a lot of happiness. It is said: Death to the prey and happiness for the hunter. According to the drama everyone has to die. Because you children have the knowledge of the drama, you do not fluctuate but observe everything as detached observers. There is no need to cry. Everyone has to shed their body at their own time. You souls know that you will take your next birth in the kingdom. “I will become a prince.” The soul knows this and therefore sheds a body and takes another. Even a snake has a soul. It would say: I am shedding one skin and taking another; at some time even that will shed its body and become a baby snake again. Children do take birth. Everyone has to take rebirth. All of these things have to be churned. The main thing is to remember the Father with a lot of love. Just as children cling to their mother and father, in the same way, you souls also have to cling firmly to Father with your intellects’ yoga. You each have to check yourself as to what extent you are imbibing knowledge. There is the example of Narad. Devotees cannot become deities until they take knowledge. It is not just a question of marrying Lakshmi; it is a question of understanding. You children know that when you were satopradhan, you ruled over the world. You now have to remember the Father in order to become satopradhan again. You have been making effort every cycle to have real yoga in order to accumulate real power. Each one of you can understand to what extent you are able to explain to others and to what extent you are emerging out of body consciousness. I, the soul, leave one body and take another. I, the soul, work through this body. These are my organs. We are all actors playing our parts. This is a huge play in this unlimited drama. All the actors in this drama are numberwise. We can understand who the main actors are in this, who the firstsecond and third grade are. You children have come to know the beginning, the middle and the end of the drama from the Father. You receive the knowledge of creation from the Creator. The Creator comes and explains the secrets of Himself and His creation. This is His chariot which He has entered. You would therefore say that there are two souls in this one. It is a common thing to invoke a departed soul and offer that soul food when he comes. Previously, many used to come in this way and be asked questions. They have now become tamopradhan. Even now, some are able to tell you who they were in their previous birth. No one is able to tell you about the future; they can only tell you about the past. Not everyone can be trusted in this. Baba says: Sweet children, you now have to remain in silence. When you become strong in knowledge and yoga, you will become firm and solid. At the moment, many of you children are innocent. The deities who were the residents of Bharat were very solid. They were overflowing with wealth. Now, they are empty. They were solvent whereas you have become insolvent. You know what Bharat used to be and what it has now become. People will die of starvation because there will be no grain, water or anything. Some places will continue to be flooded and other places will not have a drop of water. At this time, there are clouds of sorrow. In the golden age, there will be clouds of happiness. Only you children understand this play. No one else knows this. It is very good to explain using the badge. One is a limited, physical father whereas that One is the unlimited Father from beyond. Only once, at this confluence age, does this Father give you the unlimited inheritance and create the new world. This is the iron  aged world and it will definitely become golden aged. You are now at the confluence. If your heart is clean, your desires are fulfilled. Ask yourself every day: Did I do anything bad? Did I have any vicious thoughts inside me about anyone? Did I remain in the intoxication of knowing who I am, or did I waste my time gossiping? The Father’s order is: Remember Me alone! If you do not have remembrance, you are disobeying the Father. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from

the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Stay in the intoxication of knowledge and yoga and keep your heart clean.Do not waste your time in waste thoughts or in gossiping.
  2. We souls are brothers; we now have to return home. Practise this very firmly. Become bodiless, stabilize yourself in your original religion and remember the Father.
Blessing: May you be a knowledgeable soul who uplifts those who defame you and one who finishes any thoughts of causing harm.
Even if someone defames you, causes you harm or insults you every day, let there not be any feelings of dislike for that one in your mind. To uplift those who defame you is the task of knowledgeable souls. You children insulted the Father for 63 births and the Father still looked at you with benevolent vision. So, follow the Father. The meaning of a knowledgeable soul is to have feelings of benevolence for everyone. Let there not be the slightest thought of causing any harm.
Slogan: Stabilize yourself in the stage of “Manmanabhav” and you will know the intentions in the minds of others.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 2 FEBRUARY 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 2 February 2019

To Read Murli 1 February 2019 :- Click Here
02-02-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – विदेही बन बाप को याद करो, स्वधर्म में टिको तो त़ाकत मिलेगी, खुशी और तन्दुरूस्ती रहेगी, बैटरी फुल होती जायेगी”
प्रश्नः- ड्रामा की किस नूँध को जानने के कारण तुम बच्चे सदा अचल रहते हो?
उत्तर:- तुम जानते हो यह बाम्ब्स आदि जो बने हैं, यह छूटने हैं जरूर। विनाश होगा तब तो हमारी नई दुनिया आयेगी। यह ड्रामा की अनादि नूँध है, मरना तो सबको है। तुम्हें खुशी है कि हम यह पुराना शरीर छोड़ राजाई में जन्म लेंगे। तुम ड्रामा को साक्षी हो देखते हो। इसमें हिलने की बात नहीं, रोने की कोई दरकार नहीं।

ओम् शान्ति। बाप बैठ बच्चों को समझाते हैं यह जो आदि सनातन देवी-देवता धर्म था उसको हिन्दू धर्म में क्यों लाया? कारण निकालना चाहिए। पहले तो आदि सनातन देवी-देवता धर्म ही था। फिर जब विकारी हुए तो अपने को देवता कह न सके। तो अपने को आदि सनातन देवी-देवता के बदले आदि सनातन हिन्दू कह दिया है। आदि सनातन अक्षर भी रखा है। सिर्फ देवता बदली कर हिन्दू रख दिया है। उस समय इस्लामी आये तो उन बाहर वालों ने आकर हिन्दू धर्म नाम रख दिया। पहले हिन्दुस्तान नाम भी नहीं था। तो आदि सनातन हिन्दू देवता धर्म वाले ही समझने चाहिए। वह अक्सर करके धर्मात्मा होते हैं। सभी सनातनी नहीं हैं, जो पीछे आये हैं उनको आदि सनातनी नहीं कहेंगे। हिन्दुओं में भी पीछे आने वाले होंगे। आदि सनातन हिन्दुओं को बताना चाहिए कि तुम्हारा आदि सनातन देवता धर्म था। तुम ही सतोप्रधान आदि सनातन थे फिर पुनर्जन्म लेते-लेते तमोप्रधान बने हो, अब फिर याद की यात्रा से सतोप्रधान बनो। उन्हों को यह दवाई अच्छी लगेगी। बाबा सर्जन है ना। जिन्हों को यह दवाई अच्छी लगती है उनको देनी चाहिए। जो आदि सनातन देवी-देवता धर्म के थे, उन्हों को स्मृति दिलानी चाहिए। जैसे तुम बच्चों को स्मृति आई है। बाबा ने समझाया है – कैसे तुम सतोप्रधान से तमोप्रधान बने हो? अब फिर तमोप्रधान से सतोप्रधान बनना है। तुम बच्चे सतोप्रधान बन रहे हो – याद की यात्रा से। जो आदि सनातन हिन्दू होंगे वही असुल देवी-देवता होंगे और वही देवताओं को पूजने वाले भी होंगे। उसमें भी जो शिव के या लक्ष्मी-नारायण, राधे-कृष्ण, सीता-राम आदि देवताओं के भक्त हैं, वह देवता घराने के हैं। अब स्मृति आई है – जो सूर्यवंशी हैं वही चन्द्रवंशी बनते हैं तो ऐसे-ऐसे भक्तों को ढूँढना चाहिए। फॉर्म उनसे भराना है जो समझने लिए आते हैं। मुख्य सेन्टर्स पर फॉर्म भराने के लिए जरूर होने चाहिए। जो भी आये उनको लेसन तो शुरू से देंगे। पहली मुख्य बात है जो बाप को नहीं जानते तो उनको समझाना पड़ता है। तुम अपने बड़े बाप को नहीं जानते हो। तुम असल में पारलौकिक बाप के हो। यहाँ आकर लौकिक के बने हो। तुम अपने पारलौकिक बाप को भूल जाते हो। बेहद का बाप है ही स्वर्ग का रचयिता। वहाँ यह अनेक धर्म होते नहीं। तो फॉर्म जो भरते उस पर ही सारा मदार होना चाहिए। कोई बच्चे भल समझाते बहुत अच्छा हैं परन्तु योग है नहीं। अशरीरी बन बाप को याद करें, वह है नहीं। याद में ठहर नहीं सकते। भल समझते हैं हम अच्छा समझाते हैं, म्युज़ियम आदि भी खोलते हैं परन्तु याद बहुत कम है। अपने को आत्मा समझ बाप को याद करते रहें, इसमें ही मेहनत है। बाप वारनिंग देते हैं। ऐसे मत समझो कि हम तो बहुत अच्छा कनविन्स कर सकते हैं। परन्तु इससे फायदा क्या? चलो, स्वदर्शन चक्रधारी बन गये परन्तु इसमें तो विदेही बनना है। कर्म करते अपने को आत्मा समझना है। आत्मा इस शरीर द्वारा कर्तव्य करती है – यह याद करना भी नहीं आता, ख्याल में नहीं आता, उनको कहेंगे बुद्धू। बाप को याद नहीं कर सकते! सर्विस करने की त़ाकत नहीं। याद बिगर आत्मा में त़ाकत कहाँ से आयेगी? बैटरी कैसे भरे? चलते-चलते खड़ी हो जायेगी, त़ाकत नहीं रहेगी।

कहा जाता है रिलीज़न इज़ माइट। आत्मा स्वधर्म में टिके, तब त़ाकत मिले। बहुत हैं जिनको बाप को याद करना आता नहीं। शक्ल से पता पड़ जाता है। और सब याद आयेगा, बाबा की याद ठहरेगी नहीं। योग से ही बल मिलेगा। याद से बड़ी खुशी और तन्दुरूस्ती रहेगी। फिर दूसरे जन्म में भी शरीर ऐसा तेजस्वी मिलेगा। आत्मा प्योर तो शरीर भी प्योर मिलेगा। कहेंगे यह 24 कैरेट गोल्ड है, तो 24 कैरेट जेवर है। इस समय सब 9 कैरेट बन गये हैं। सतोप्रधान को 24 कैरेट कहेंगे, सतो को 22, यह बड़ी समझने की बातें हैं। बाप समझाते हैं पहले तो फॉर्म भराना है तो पता पड़े कहाँ तक रेसपॉन्स करते हैं? कितनी धारणा की है? फिर यह भी आता है याद की यात्रा में रहते हैं? तमोप्रधान से सतोप्रधान याद की यात्रा से बनना है। वह हैं भक्ति की जिस्मानी यात्रायें, यह है रूहानी यात्रा। रूह यात्रा करती है। उसमें रूह और जिस्म दोनों ही यात्रा करते हैं। पतित-पावन बाप को याद करने से ही आत्मा में तेज आता है। कोई जिज्ञासू को जलवा आदि दिखाना है तो बाबा की प्रवेशता भी हो जाती है। माँ-बाप दोनों ही मदद करते हैं – कहीं नॉलेज की, कहीं योग की। बाप तो सदा विदेही है। शरीर का भान है ही नहीं। तो बाप दोनों त़ाकत की मदद दे सकते हैं। योग नहीं होगा तो त़ाकत मिलेगी कहाँ से? समझा जाता है यह योगी है या ज्ञानी है। योग के लिए दिन-प्रतिदिन नई-नई बातें भी समझाते हैं। आगे थोड़ेही यह समझाते थे। अपने को आत्मा समझ बाप को याद करो। अब बाबा जोर से उठाते हैं, जिससे भाई-बहन का सम्बन्ध भी हट जाए, सिर्फ भाई-भाई की दृष्टि रह जाए। हम आत्मा भाई-भाई हैं। यह बहुत ऊंची दृष्टि है। अन्त तक यह पुरुषार्थ चलना है। जब सतोप्रधान बन जायेंगे तब यह शरीर छोड़ देंगे इसलिए जितना हो सके पुरुषार्थ को बढ़ाना है। बुढ़ों के लिए और ही सहज है। अब हमको वापिस जरूर जाना है। जवानों को कभी ऐसे ख्यालात नहीं आयेंगे। बुढ़े वानप्रस्थी रहते हैं। समझा जाता है अब वापिस जाना है। तो यह सब ज्ञान की बातें समझनी हैं। झाड़ की वृद्धि भी होती रहती है। वृद्धि होते-होते सारा झाड़ तैयार हो जायेगा। कांटों को बदलकर नया छोटा फूलों का झाड़ बनना है। नया बन फिर पुराना होना है। पहले झाड़ छोटा होगा फिर बढ़ता जायेगा। वृद्धि होते-होते पिछाड़ी में कांटे बन जाते हैं। पहले होते हैं फूल। नाम ही है स्वर्ग। फिर बाद में वह खुशबू, वह त़ाकत नहीं रहती है। कांटे में खुशबू नहीं होती। हल्के-हल्के फूलों में भी खुशबू नहीं होती। बाप बागवान भी है तो खिवैया भी है, सबकी नाव पार करते हैं। नाव पार कैसे करते हैं, कहाँ ले जाते हैं – यह भी जो सयाने बच्चे हैं, वह समझ सकते हैं। जो समझते नहीं, वह पुरुषार्थ भी नहीं करते। नम्बरवार तो होते हैं ना। कोई-कोई एरोप्लेन तो आवाज़ से भी तीखा जाता है। आत्मा कैसे भागती है – यह भी किसको पता नहीं है। आत्मा तो रॉकेट से भी तीखी जाती है। आत्मा जैसी तीखी और कोई चीज़ होती नहीं। उन रॉकेट आदि में ऐसी कोई चीज़ डालते हैं जो जल्दी उड़ा ले जाते हैं। विनाश के लिए कितना बारूद आदि तैयार करते हैं। स्टीमर, एरोप्लेन में भी बाम्ब्स ले जाते हैं। आजकल पूरी तैयारी रखते हैं। अखबारों में लिखते हैं, ऐसे नहीं कह सकते कि बाम्ब्स काम में नहीं लायेंगे। हो सकता है बाम्ब्स चला दें – ऐसे कहते रहते हैं। यह सब तैयारियां हो रही हैं। विनाश तो जरूर होना है। बाम्ब्स न छूटें, विनाश न हो – ऐसा हो नहीं सकता। तुम्हारे लिए नई दुनिया जरूर चाहिए। यह ड्रामा में नूँध है, इसलिए तुमको बहुत खुशी होनी चाहिए। मिरूआ मौत मलूका शिकार…… ड्रामा अनुसार सबको मरना ही है। तुम बच्चों को ड्रामा का ज्ञान होने के कारण तुम हिलते नहीं हो, साक्षी होकर देखते हो। रोने आदि की दरकार नहीं। समय पर शरीर तो छोड़ना ही होता है। तुम्हारी आत्मा जानती है हम दूसरा जन्म राजाई में लेंगे। मैं राजकुमार बनूँगा। आत्मा को पता है तब तो एक शरीर छोड़ दूसरा लेती है। सर्प में भी आत्मा है ना। कहेंगे हम एक खाल छोड़ दूसरी लेते हैं। कभी तो वह भी शरीर छोड़ेंगे, फिर बच्चा बनेंगे। बच्चे तो पैदा होते हैं ना। पुनर्जन्म तो सबको लेना है। यह सब विचार सागर मंथन करना होता है।

सबसे मुख्य बात है बाप को बहुत प्यार से याद करना है। जैसे बच्चे माँ-बाप को एकदम चटक जाते हैं, वैसे बहुत प्यार से बुद्धियोग द्वारा बाप को एकदम चटक जाना चाहिए। अपने को देखना भी है कि हम कितनी धारणा कर रहे हैं। (नारद का मिसाल) भक्त जब तक ज्ञान न उठायें तब तक देवता बन न सकें। यह सिर्फ लक्ष्मी को वरने की बात नहीं है। यह तो समझने की बात है। तुम बच्चे समझते हो जब हम सतोप्रधान थे तो विश्व पर राज्य करते थे। अब फिर सतोप्रधान बनने के लिए बाप को याद करना है। यह मेहनत कल्प-कल्प तुम यथा योग यथा शक्ति करते ही आये हो। हर एक समझ सकते हैं हम कहाँ तक किसको समझा सकते हैं? देह-अभिमान से हम कहाँ तक निकलते जा रहे हैं? मैं आत्मा एक शरीर छोड़ दूसरा लेती हूँ। मैं आत्मा इनसे काम लेती हूँ, यह मेरे आरगन्स हैं। हम सब पार्टधारी हैं। इस ड्रामा में यह बेहद का बड़ा नाटक है। उसमें नम्बरवार सब एक्टर्स हैं। हम समझ सकते हैं – इसमें कौन-कौन मुख्य एक्टर्स हैं। फर्स्ट, सेकण्ड, थर्ड ग्रेड कौन-कौन हैं? तुम बच्चे बाप द्वारा ड्रामा के आदि-मध्य-अन्त को जान गये हो। रचयिता द्वारा रचना की नॉलेज मिलती है। रचयिता ही आकर अपना और रचना का राज़ समझाते हैं। यह उनका रथ है, जिसमें प्रवेश कर आये हैं। कहेंगे तब तो दो आत्मायें हैं। यह भी कॉमन बात है। पित्र खिलाते हैं, तो आत्मा आती है ना। आगे बहुत आते थे, उनसे पूछते थे। अभी तो तमोप्रधान हो गये हैं। कोई-कोई अब भी बतलाते हैं – हम आगे जन्म में फलाना था। फ्युचर का कोई नहीं बताते। पिछाड़ी का सुनाते हैं। सब पर तो कोई विश्वास नहीं करते।

बाबा कहते हैं – मीठे बच्चे, अब तुमको शान्त में रहना है। तुम जितना-जितना ज्ञान-योग में मजबूत होंगे तो फिर पक्के सॉलिड हो जायेंगे। अभी तो बहुत बच्चे भोले हैं। भारतवासी देवी-देवतायें कितने सॉलिड थे। धन से भी भरपूर थे। अभी तो खाली हैं। वह सालवेन्ट, तुम इनसालवेन्ट। तुम खुद भी जानते हो भारत क्या था, अब क्या है। भूख मरना ही पड़ेगा। अनाज-पानी आदि कुछ नहीं मिलेगा। कहाँ बाढ़ होती रहेगी, तो कहाँ पानी की बूँद नहीं होगी। इस समय दु:ख के बादल हैं, सतयुग में सुख के बादल हैं। इस खेल को तुम बच्चों ने ही समझा है और किसको भी पता नहीं है। बैज़ पर भी समझाना बहुत अच्छा है। वह लौकिक हद का बाप, यह पारलौकिक बेहद का बाप। यह बाप एक ही बार संगम पर बेहद का वर्सा देते हैं। नई दुनिया बन जाती है। यह है आइरन एज फिर गोल्डन एज जरूर बननी है। तुम अभी संगम पर हो। दिल स़ाफ मुराद हासिल। रोज़ अपने से पूछो – खराब काम तो नहीं किया? किसके लिए अन्दर विकारी ख्यालात तो नहीं आये? अपनी मस्ती में रहे या झरमुई-झगमुई में टाइम गँवाया? बाप का फ़रमान है – मामेकम् याद करो। अगर याद नहीं करते तो ऩाफरमानबरदार हो जाते हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) ज्ञान-योग की मस्ती में रहना है, दिल स़ाफ रखनी है। झरमुई-झगमुई (व्यर्थ चिंतन) में अपना समय नहीं गँवाना है।

2) हम आत्मा भाई-भाई हैं, अब वापिस घर जाना है – यह अभ्यास पक्का करना है। विदेही बन स्वधर्म में स्थित हो बाप को याद करना है।

वरदान:- अकल्याण के संकल्प को समाप्त कर अपकारियों पर उपकार करने वाले ज्ञानी तू आत्मा भव
कोई रोज़ आपकी ग्लानी करे, अकल्याण करे, गाली दे – तो भी उसके प्रति मन में घृणा भाव न आये, अपकारी पर भी उपकार – यही ज्ञानी तू आत्मा का कर्तव्य है। जैसे आप बच्चों ने बाप को 63 जन्म गाली दी फिर भी बाप ने कल्याणकारी दृष्टि से देखा, तो फालो फादर। ज्ञानी तू आत्मा का अर्थ ही है सर्व के प्रति कल्याण की भावना। अकल्याण संकल्प मात्र भी नहीं हो।
स्लोगन:- मनमनाभव की स्थिति में स्थित रहो तो औरों के मन के भावों को जान जायेंगे।
Font Resize