daily murli 2 december

TODAY MURLI 2 DECEMBER 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 2 December 2020

02/12/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you have to study and teach others. There is no question of blessings in this. Tell everyone to remember the Father and all their sorrow will be removed.
Question: What worries do human beings have? You children don’t have any worries. Why?
Answer: At this time, human beings have nothing but worry. When their child becomes ill, they worry. If the child dies, they worry. When someone doesn’t have a child, he worries. When someone stores a lot of grain and the police or the income tax people come to investigate, he worries. This is a dirty world; a world that causes sorrow. You children have nothing to worry about because you have found Baba, the Satguru. It is said: Having found the Lord, the Satguru, you have become free from all worry. You are now going to a world that is free from worry.
Song: You are the Ocean of Love; we thirst for one drop!

Om shanti. Sweetest children, you heard the song. You also understand the meaning of it; we too have to become master oceans of love. All souls are brothers. So, the Father says to you brothers: Just as I am the Ocean of Love, you too have to interact with a lot of love. Deities have a lot of love, and so people love them so much and offer bhog to them. You now have to become pure; this is not a big thing. This is a very dirty world. There is worry about everything. There is nothing but sorrow after sorrow. This is called the land of sorrow. When the police or the income tax people come, they harass people so much, don’t even ask! When someone has stored a lot of grain and the police come, he goes pale. This is such a dirty world; it is hell! They remember heaven. The cycle continues to turn: heaven after hell and hell after heaven. You children know that the Father has now come to make you into residents of heaven. He changes you from residents of hell into residents of heaven. There are no vices there because Ravan doesn’t exist there. That is the completely viceless Temple of Shiva (Shivalaya). This is the brothel. Just wait a little and then see how everyone will become aware whether there is happiness or sorrow in this world. Look what happens to the condition of people when there is the slightest earthquake etc. In the golden age, there isn’t the slightest worry about anything. Here, there are so many worries. When their child becomes ill, they worry; if the child dies, they worry. There is nothing but worry. Only the Lord takes you beyond all worry. The Lord of all is just the One. You are sitting in front of Shiv Baba. This Brahma is not a guru. This one is the Lucky Chariot. The Father is teaching us through the Lucky Chariot. He is the Ocean of Knowledge. You too have received all the knowledge. There isn’t a single deity you don’t know. You have recognised what is truth and what is falsehood. No one in the world knows this. It used to be the land of truth and it is now the land of falsehood. No one knows who established the land of truth or when. This is the dark night of ignorance. The Father comes and gives you light. People sing: Only You know Your ways and means. That One alone is the Highest on High and all the rest are the creation. He is the Creator, the unlimited Father. Those who have two to four children are limited fathers. When they don’t have any children, they worry. There, there is nothing like that. There, you have a longer life and you are very wealthy. You don’t give blessings; this is a study. You are teachers. You simply tell them: Remember Shiv Baba and your sins will be absolved. This too is a teaching. This is known as easy yoga and remembrance. Souls are imperishable and bodies are perishable. The Father says: I too am imperishable. You call out to Me to come and purify the impure. It is souls that say this. It is said: Impure soul, great soul. When there is purity, there is also peace and happiness. This is the holiesofholy churches. Those who indulge in vice are not allowed to enter here. There is the story of the Court of Indra where an angel secretly brought a human being. When she was found out, she was cursed and turned to stone. Here, there is no question of being cursed. Here, there is the rain of knowledge. No impure beings can come to this holyplace. The time will come when there will be a big hall here. This is the holiest of holy places. You too are becoming holy. People ask how the world could continue without vice. How could this be possible? They have their own knowledge of everything. They go in front of the deity idols and say: You are full of all virtues and we are sinners. Heaven is the holiest of the holy. They are the ones who become the holiest of the holy after taking 84 births. That is the pure world and this is the impure world. When they have a child they celebrate in great happiness but when the child falls ill their faces go pale. If it dies they go completely crazy. Some become like that. Some even bring people like that to Baba and tell Him: Baba, this one has become crazy because her child has died. This is the world of sorrow. The Father is now here to take you to the world of happiness. So you should follow shrimat. You also need to have very good virtues. Those who do something will receive the return of it. A divine character is also needed. In schools they note down each one’s character in a register. Some continue to stumble outside. They cause so many problems for their parents. The Father is now to take you to the land of peace and the land of happiness. That is called the Tower of Silence; that is, the peak of silence. The place where souls reside is the Tower of Silence. In the subtle region, there is “movie. You just have visions of that, because there is nothing there. Some children have also had visions of how, in the golden age, when you are old, you shed your skin in great happiness. This is an old skin that is 84 births old. The Father says: You were pure and have now become impure. The Father has now come to purify you. You called out to Me. It is the living souls that have become impure and they will then become pure again. You belonged to the deity dynasty. You now belong to the devilish dynasty. There is so much difference between the devilish dynasty and the Godly, that is, the deity dynasty. This is your Brahmin clan. A dynasty is where there is a kingdom. There is no kingdom here. The kingdoms of the Pandavas and the Kauravas have been mentioned in the Gita, but they don’t really exist. You are spiritual children. The Father says: Sweet children, become very sweet. Become oceans of love. It is because of body consciousness that you don’t become oceans of love. This is why a lot of punishment has to be experienced. At that time it will be like receiving punishment and then being given a small piece of chapatti. You will go to heaven, but after experiencing a lot of punishment. You children have also had visions of how punishment is given. Baba explains: Interact with everyone with a lot of love; otherwise, there can be anger. Be grateful that you have found the Father who removes you from hell and takes you to heaven. It is very bad to receive punishment. You know that there is the kingdom of love in the golden age; there is nothing but love there. Here, a person’s face changes because of trivial matters. The Father says: I have come into the impure world. I have been given an invitation to come to the impure world. The Father then invites everyone to drink nectar. A book has been printed about nectar and poison. The author of that book is very well known and has received a prize. You should see what he has written. The Father says: I give you the nectar of knowledge to drink. So, why do you then drink poison? The festival of Raksha Bandhan is a memorial of this time. The Father tells everyone to make a promise to become pure for this last birth. If you remain pure and stay in yoga, your sins will be cut away. You have to ask your heart: Do I stay in remembrance or not? People become very happy when they remember their little children. Husband and wife become very happy remembering each other. There are the versions of incorporeal God. Who is that? The Father says: I once again make this one a master of heaven after his 84th birth. The tree is still small. Many storms of Maya come. These are very incognito matters. The Father says: Children, stay on the pilgrimage of remembrance and remain pure. The whole kingdom has to be established here. In the Gita, they have portrayed a war and then shown the Pandavas melting on the mountains. However, there is no result from that. You now know the beginning, the middle and the end of the world. The Father is the Ocean of Knowledge. He is the Supreme Soul. No one knows what the form of a soul is. This point is in your intellects. Some of you don’t understand this accurately and ask: How can a point be remembered? They don’t understand anything at all. Nevertheless, the Father says: Even if they have heard a little, this knowledge is never destroyed. Some come on to the path of knowledge and then go away again, but, because they have heard a little, they will definitely go to heaven. Those who listen to a lot and also imbibe it will become part of the kingdom. Those who listen to just a little will become part of the subjects. There are the king, queen and subjects etc. in a kingdom. There are no advisers there. Here, the kings who indulge in vice have to appoint advisers. The Father makes your intellects very broad and unlimited. There is no need to appoint advisers there. The lion and the lamb drink water together. So the Father explains: You mustn’t become like salt water; be like milk and sugar. Milk and sugar are both good things. Don’t have any conflict with anyone. Here, people fight and quarrel so much. This is the extreme depths of hell. They continue to choke in hell. The Father has come to remove you from that. While being removed, you sometimes become trapped. Some try to go and remove others but they become trapped themselves. In the beginning, many were caught by Maya, the alligator; she completely swallowed them; no trace of them remained. Some still retain traces of knowledge and so they come back again. Some are completely finished. Here, everything happens in a practical way. If you were to hear the history, you would be amazed. There is a song: Whether You love us or whether You reject us, we will never leave Your doorstep. Baba never says such things through His lips. He teaches you with so much love. Your aim and objective is in front of you. The highest-on-high Father is making you that (Vishnu). That same Vishnu then becomes Brahma. He received liberation-in-life in a second and he then became that after 84 births. The same applies to you. You also had those photographs taken. You are Brahmins, children of Brahma. You don’t have crowns at this time; you will receive them in the future. This is why that photograph of yours is still kept. The Father comes and makes you children doublecrowned. You feel that you previously truly did have all five vices. (The example of Narad.) You are the first devotees. The Father is now making you so elevated. He makes you completely pure from impure. The Father doesn’t take anything from you. What would Shiv Baba take from you? You put something in Shiv Baba’s bhandari (collection box). I am a trustee; all of your accounts of give and take are with Shiv Baba. I study and I teach. What would someone who has given everything away take from others? No attachment to anything remains. People sing: So-and-so went to heaven. So, why do you then feed him the food and drink of hell? That is ignorance. If you are all in hell, then rebirth too will be in hell. You are now going to the land of immortality. This is the game of a somersault. You Brahmins are topknots and you will then become deities and then warriors. Therefore, the Father explains: Become very sweet. If you don’t reform yourselves, it would be said to be your fortune. You cause a loss for yourselves. If you don’t reform yourselves at all, what effort can God make? The Father says: I am talking to souls. The imperishable Father, the Supreme Soul, is giving knowledge to imperishable souls. The souls listen through their ears. The unlimited Father is speaking this knowledge. He is changing you from ordinary humans into deities. The Supreme Guide is sitting here to show you the path. Shrimat says: Become pure and remember Me and your sins will be burnt away. You were satopradhan. You then took 84 births. The Father explains to this one: You were satopradhan and have now become tamopradhan. Now remember Me once again. This is called the fire of yoga. It is now that you have this knowledge. No one remembers Me in the golden age. It is only at this time that I tell you to remember Me and your sins will be cut away. There is no other way. This is a school. It is called the Vishwa Vidyalaya World University. No one else has the knowledge of the Creator or the beginning, middle and end of creation. Shiv Baba says: Even that Lakshmi and Narayan don’t have this knowledge. There, that is the reward. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. You have to go to the kingdom of love. Therefore be like milk and sugar with one another. Never become like salt water or come into conflict with one another. You have to reform yourselves.
  2. Renounce body consciousness and become master oceans of love. Make your character divine. Interact with one another with great sweetness.
Blessing: May you become a conqueror of Maya by experiencing the stage of being absorbed in love and make Maya your devotee.
In order to experience the stage of being absorbed in love, keep in your awareness the forms of your many titles, the decoration of your many virtues, your many types of happiness, your spiritual intoxication, the points of expansion of the Creator and the creation and points of attainment. Churn the topics that you like and you will easily experience the stage of being absorbed. You will then never be influenced by anyone else and Maya will also salute you. Maya will become the first devotee of the confluence age. When you become a conqueror of Maya, a master god, Maya will then become a devotee.
Slogan: Let your words and your activities be the same as those of Father Brahma and you will then be called a true Brahmin.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 2 DECEMBER 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 2 December 2020

Murli Pdf for Print : – 

02-12-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – तुम्हें पढ़ाई पढ़नी और पढ़ानी है, इसमें आशीर्वाद की बात नहीं, तुम सबको यही बताओ कि बाप को याद करो तो सब दु:ख दूर हो जायेंगे”
प्रश्नः- मनुष्यों को कौन-कौन सी फिकराते हैं? तुम बच्चों को कोई भी फिकरात नहीं – क्यों?
उत्तर:- मनुष्यों को इस समय फिकरात ही फिकरात है – बच्चा बीमार हुआ तो फिकरात, बच्चा मरा तो फिकरात, किसी को बच्चा न हुआ तो फिकरात, कोई ने अनाज जास्ती रखा, पुलिस वा इनकम टैक्स वाले आये तो फिकरात….. यह है ही डर्टी दुनिया, दु:ख देने वाली। तुम बच्चों को कोई फिकरात नहीं, क्योंकि तुम्हें सतगुरू बाबा मिला है। कहते भी हैं फिक्र से फारिग कींदा स्वामी सद्गुरू…। अभी तुम ऐसी दुनिया में जाते हो जहाँ कोई फिकरात नहीं।
गीत:- तू प्यार का सागर है……..

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे बच्चों ने गीत सुना। अर्थ भी समझते हैं, हमको भी मास्टर प्यार का सागर बनना है। आत्मायें सभी हैं ब्रदर्स। तो बाप आप ब्रदर्स को कहते हैं, जैसे हम प्यार के सागर हैं, तुमको भी बहुत प्यार से चलना है। देवताओं में बहुत प्यार है, कितना उनको प्यार करते हैं, भोग लगाते हैं। अब तुमको पवित्र बनना है, बड़ी बात तो है नहीं। यह बहुत ही छी-छी दुनिया है। हर बात की फिकरात रहती है। दु:ख पिछाड़ी दु:ख ही है। इनको कहा जाता है दु:खधाम। पुलिस या इनकमटैक्स वाले आते हैं, कितना मनुष्यों को ह्रास हो जाता है, बात मत पूछो! कोई ने अनाज जास्ती रखा, आई पुलिस, पीले हो जाते हैं। यह कैसी डर्टी दुनिया है। नर्क है ना। स्वर्ग को याद भी करते हैं। नर्क के बाद स्वर्ग, स्वर्ग के बाद नर्क – यह चक्र फिरता रहता है। बच्चे जानते हैं अभी बाप आये हैं स्वर्गवासी बनाने। नर्कवासी से स्वर्गवासी बनाते हैं। वहाँ विकार होते नहीं क्योंकि रावण ही नहीं। वह है ही सम्पूर्ण निर्विकारी शिवालय। यह है वेश्यालय। अभी थोड़ा ठहरो, सबको मालूम पड़ जायेगा – इस दुनिया में सुख है वा दु:ख है। थोड़ी ही अर्थक्वेक आदि होती है तो मनुष्यों की क्या हालत हो जाती है। सतयुग में फिकरात की ज़रा भी बात नहीं। यहाँ तो फिकरात बहुत है – बच्चा बीमार हुआ फिकरात, बच्चा मरा फिकरात। फिकरात ही फिकरात है। फिकर से फारिग कींदा स्वामी….. सबका स्वामी तो एक ही है ना। तुम शिवबाबा के आगे बैठे हो। यह ब्रह्मा कोई गुरू नहीं। यह तो भाग्यशाली रथ है। बाप इस भागीरथ द्वारा तुमको पढ़ाते हैं। वो ज्ञान का सागर है। तुमको भी सारी नॉलेज मिली है। ऐसा कोई देवता नहीं जिसको तुम न जानो। सच और झूठ की परख तुमको है। दुनिया में कोई भी नहीं जानते। सचखण्ड था, अभी है झूठ खण्ड। यह किसको पता नहीं – सचखण्ड कब और किसने स्थापन किया। यह है अज्ञान की अन्धियारी रात। बाप आकर रोशनी देते हैं। गाते भी हैं तुम्हारी गत-मत तुम ही जानो। ऊंच ते ऊंच वह एक ही है, बाकी सारी है रचना। वह है रचता बेहद का बाप। वह हैं हद के बाप जो 2-4 बच्चों को रचते हैं। बच्चा नहीं हुआ तो फिकरात हो जाती है। वहाँ तो ऐसी बात नहीं रहती। आयुश्वान भव, धनवान भव …. तुम रहते हो। तुम कोई आशीर्वाद नहीं देते हो। यह तो पढ़ाई है ना। तुम हो टीचर। तुम तो सिर्फ कहते हो शिवबाबा को याद करो तो विकर्म विनाश होंगे। यह भी टीचिंग हुई ना। इसको कहा जाता है सहज योग वा याद। आत्मा अविनाशी है, शरीर विनाशी है। बाप कहते हैं मैं भी अविनाशी हूँ। तुम मुझे बुलाते हो कि आकर हम पतितों को पावन बनाओ। आत्मा ही कहती है ना। पतित आत्मा, महान् आत्मा कहा जाता है। पवित्रता है तो सुख-शान्ति भी है।

यह है होलीएस्ट ऑफ होली चर्च। यहाँ विकारी को आने का हुक्म नहीं है। एक कहानी भी है ना – इन्द्रसभा में कोई परी किसको छुपाकर ले गई, उनको मालूम पड़ गया तो फिर उनको श्राप मिला पत्थर बन जाओ। यहाँ श्राप आदि की कोई बात नहीं। यहाँ तो ज्ञान वर्षा होती है। पतित कोई भी इस होली-पैलेस में आ न सके। एक दिन यह भी होगा, हाल भी बहुत बड़ा बन जायेगा। यह होलीएस्ट ऑफ होली पैलेस है। तुम भी होली बनते हो। मनुष्य समझते हैं विकार बिगर सृष्टि कैसे चलेगी? यह कैसे होगा? अपनी नॉलेज रहती है। देवताओं के आगे कहते भी हैं आप सर्वगुण सम्पन्न हैं, हम पापी हैं। तो स्वर्ग है होलीएस्ट ऑफ होली। वही फिर 84 जन्म लेते होलीएस्ट ऑफ होली बनते हैं। वह है पावन दुनिया, यह है पतित दुनिया। बच्चा आया तो खुशी मनाते, बीमार हुआ तो मुंह पीला हो जाता, मर गया तो एकदम पागल बन पड़ते। ऐसे भी कोई-कोई हो जाते हैं। ऐसे को भी ले आते हैं, बाबा इनका बच्चा मर जाने से माथा खराब हो गया है, यह दु:ख की दुनिया है ना। अब बाप सुख की दुनिया में ले जाते हैं। तो श्रीमत पर चलना चाहिए। गुण भी बहुत अच्छे चाहिए। जो करेगा सो पायेगा। दैवी कैरेक्टर्स भी चाहिए। स्कूल में रजिस्टर में कैरेक्टर भी लिखते हैं। कोई तो बाहर में धक्के खाते रहते हैं। माँ-बाप के नाक में दम कर देते हैं। अब बाप शान्तिधाम-सुखधाम में ले जाते हैं। इनको कहा जाता है टॉवर ऑफ साइलेन्स अर्थात् साइलेन्स की ऊंचाई, जहाँ आत्मायें निवास करती हैं वह है टॉवर ऑफ साइलेन्स। सूक्ष्मवतन है मूवी, उसका सिर्फ तुम साक्षात्कार करते हो, बाकी उनमें कुछ भी है नहीं। यह भी बच्चों को साक्षात्कार हुआ है। सतयुग में बूढ़े होते हैं तो खुशी से खाल छोड़ देते हैं। यह है 84 जन्मों की पुरानी खाल। बाप कहते हैं – तुम पावन थे, अब पतित बने हो। अब बाप आये हैं तुमको पावन बनाने। तुमने मुझे बुलाया है ना। जीवात्मा ही पतित बनी है फिर वही पावन बनेगी। तुम इस देवी-देवता घराने के थे ना। अब आसुरी घराने के हो। आसुरी और ईश्वरीय अथवा दैवी घराने में कितना फ़र्क है। यह है तुम्हारा ब्राह्मण कुल। घराना डिनायस्टी को कहा जाता है, जहाँ राज्य होता है। यहाँ राज्य नहीं है। गीता में पाण्डव और कौरवों का राज्य लिखा है परन्तु ऐसे है नहीं।

तुम तो हो रूहानी बच्चे। बाप कहते हैं – मीठे बच्चे, बहुत-बहुत मीठा बन जाओ। प्यार के सागर बन जाओ। देह-अभिमान के कारण ही प्यार के सागर नहीं बनते हैं इसलिए फिर बहुत सज़ायें खानी पड़ती हैं। फिर मोचरा और मानी। स्वर्ग में तो चलेंगे परन्तु मोचरा बहुत खायेंगे। सज़ायें कैसे मिलती हैं, वह भी तुम बच्चों ने साक्षात्कार किया है। बाबा तो समझाते हैं बहुत प्यार से चलो, नहीं तो क्रोध का अंश हो जाता है। शुािढया करो – बाप मिला है जो हमको नर्क से निकाल स्वर्ग में ले जाते हैं। सज़ायें खाना तो बहुत खराब है। तुम जानते हो सतयुग में है प्यार की राजधानी। प्यार के सिवाए कुछ भी नहीं है। यहाँ तो थोड़ी बात में शक्ल बदल जाती है। बाप कहते हैं मैं पतित दुनिया में आया हूँ, मुझे निमंत्रण ही पतित दुनिया में देते हो। बाप फिर सबको निमंत्रण देते हैं – अमृत पियो। विष और अमृत का एक किताब निकला है। किताब लिखने वाले को इनाम मिला है, नामीग्रामी है। देखना चाहिए क्या लिखा है। बाप तो कहते हैं तुमको ज्ञान अमृत पिलाता हूँ, तुम फिर विष क्यों खाते हो? रक्षाबंधन भी इस समय का यादगार है ना। बाप सबको कहते हैं प्रतिज्ञा करो, पवित्र बनने की, यह अन्तिम जन्म है। पवित्र बनेंगे, योग में रहेंगे तो पाप कट जायेंगे। अपनी दिल से पूछना है, हम याद में रहते हैं वा नहीं? बच्चे को याद कर खुश होते हैं ना। स्त्री-पुरुष को याद कर खुश होती है ना। यह कौन है? भगवानुवाच, निराकार। बाप कहते हैं मैं इनके (श्रीकृष्ण के) 84 वें जन्म बाद फिर से स्वर्ग का मालिक बनाता हूँ। अभी झाड़ छोटा है। माया के तूफान बहुत लगते हैं। यह सब बड़ी गुप्त बातें हैं। बाप तो कहते हैं बच्चे याद की यात्रा में रहो और पवित्र रहो। यहाँ ही पूरी राजधानी स्थापन हो जानी है। गीता में लड़ाई दिखाते हैं। पाण्डव पहाड़ों में गल मरे। बस रिजल्ट कुछ नहीं।

अभी तुम बच्चे सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त को जानते हो। बाप ज्ञान का सागर है ना। वह है सुप्रीम सोल। आत्मा का रूप क्या है, यह भी किसको पता नहीं। तुम्हारी बुद्धि में वह बिन्दी है। तुम्हारे में भी यथार्थ रीति कोई समझते नहीं हैं। फिर कहते हैं बिन्दी को कैसे याद करें। कुछ भी नहीं समझते हैं। फिर भी बाप कहते हैं थोड़ा भी सुनते हैं तो ज्ञान का विनाश नहीं होता। ज्ञान में आकर फिर चले जाते हैं, परन्तु थोड़ा भी सुनते हैं तो स्वर्ग में जरूर आयेंगे। जो बहुत सुनेंगे, धारणा करेंगे तो राजाई में आ जायेंगे। थोड़ा सुनने वाले प्रजा में आयेंगे। राजधानी में तो राजा-रानी आदि सब होते हैं ना। वहाँ वजीर होता नहीं, यहाँ विकारी राजाओं को वजीर रखना पड़ता है। बाप तुम्हारी बहुत विशाल बुद्धि बनाते हैं। वहाँ वजीर की दरकार ही नहीं रहती। शेर-बकरी इकट्ठे जल पीते हैं। तो बाप समझाते हैं तुम भी लून-पानी मत बनो, क्षीरखण्ड बनो। क्षीर (दूध) और खण्ड (चीनी) दोनों अच्छी चीज़ है ना। मतभेद आदि कुछ भी नहीं रखो। यहाँ तो मनुष्य कितना लड़ते-झगड़ते हैं। यह है ही रौरव नर्क। नर्क में गोते खाते रहते हैं। बाप आकर निकालते हैं। निकलते-निकलते फिर फंस पड़ते हैं। कोई तो औरों को निकालने जाते हैं तो खुद भी चले जाते हैं। शुरू में बहुतों को माया रूपी ग्राह ने पकड़ लिया। एकदम सारा हप कर लिया। ज़रा निशान भी नहीं है। कोई-कोई की निशानी है जो फिर लौट आते हैं। कोई एकदम खत्म। यहाँ प्रैक्टिकल सब कुछ हो रहा है। तुम हिस्ट्री सुनो तो वण्डर खाओ। गायन है तुम प्यार करो या ठुकराओ। हम आपके दर से बाहर नहीं निकलेंगे। बाबा तो कभी जबान से भी ऐसा कुछ नहीं कहते हैं। कितना प्यार से पढ़ाते हैं। सामने एम ऑब्जेक्ट खड़ा है। ऊंच ते ऊंच बाप यह (विष्णु) बनाते हैं। वही विष्णु सो फिर ब्रह्मा बनते हैं। सेकण्ड में जीवनमुक्ति मिली फिर 84 जन्म ले यह बना। ततत्वम्। तुम्हारे भी फोटो निकालते थे ना। तुम ब्रह्मा के बच्चे ब्राह्मण हो। तुमको ताज अभी तो है नहीं, भविष्य में मिलना है इसलिए तुम्हारी वह फोटो भी रखी है। बाप आकर बच्चों को डबल सिरताज बनाते हैं। तुम फील करते हो बरोबर पहले हमारे में 5 विकार थे। (नारद का मिसाल) पहले-पहले भक्त भी तुम बने हो। अब बाप कितना ऊंच बनाते हैं। एकदम पतित से पावन। बाप कुछ भी लेता नहीं है। शिवबाबा फिर क्या लेंगे! तुम शिवबाबा की भण्डारी में डालते हो। मैं तो ट्रस्टी हूँ। लेन-देन का हिसाब सारा शिवबाबा से है। मैं पढ़ता हूँ, पढ़ाता हूँ। जिसने अपना ही सब कुछ दे दिया वह फिर लेगा क्या। कोई भी चीज़ में ममत्व नहीं रहता है। गाते भी हैं फलाना स्वर्ग पधारा। फिर उनको नर्क का खान-पान आदि क्यों खिलाते हो। अज्ञान है ना। नर्क में है तो पुनर्जन्म भी नर्क में ही होगा ना। अभी तुम चलते हो अमरलोक में। यह बाजोली है। तुम ब्राह्मण चोटी हो फिर देवता क्षत्रिय बनेंगे इसलिए बाप समझाते हैं बहुत मीठे बनो। फिर भी नहीं सुधरते तो कहेंगे उनकी तकदीर। अपने को ही नुकसान पहुँचाते हैं। सुधरते ही नहीं तो ईश्वर की तदबीर भी क्या करे।

बाप कहते हैं मैं आत्माओं से बात कर रहा हूँ। अविनाशी आत्माओं को अविनाशी परमात्मा बाप ज्ञान दे रहे हैं। आत्मा कानों से सुनती है। बेहद का बाप यह नॉलेज सुना रहे हैं। तुमको मनुष्य से देवता बनाते हैं। रास्ता दिखलाने वाला सुप्रीम पण्डा बैठा है। श्रीमत कहती है – पवित्र बनो, मेरे को याद करो तो तुम्हारे पाप भस्म हो जायेंगे। तुम ही सतोप्रधान थे। 84 जन्म भी तुमने लिये हैं। बाप इनको ही समझाते हैं तुम सतोप्रधान से अब तमोप्रधान बने हो, अब फिर मुझे याद करो। इसको योग अग्नि कहा जाता है। यह ज्ञान भी अभी तुमको है। सतयुग में मुझे कोई याद नहीं करते। इस समय ही मैं कहता हूँ – मुझे याद करो तो तुम्हारे पाप कट जायें और कोई रास्ता नहीं। यह स्कूल है ना। इसको कहा जाता है विश्व विद्यालय, वर्ल्ड युनिवर्सिटी। रचयिता और रचना के आदि-मध्य-अन्त का ज्ञान और कोई जानते नहीं। शिवबाबा कहते हैं इन लक्ष्मी-नारायण में भी यह ज्ञान नहीं। यह तो प्रालब्ध है ना। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) प्यार की राजधानी में चलना है, इसलिए आपस में क्षीरखण्ड होकर रहना है। कभी भी लूनपानी बन मतभेद में नहीं आना है। अपने आपको आपेही सुधारना है।

2) देह-अभिमान को छोड़ मास्टर प्यार का सागर बनना है। अपने दैवी कैरेक्टर बनाने हैं। बहुत-बहुत मीठा होकर चलना है।

वरदान:- मगन अवस्था के अनुभव द्वारा माया को अपना भक्त बनाने वाले मायाजीत भव
मगन अवस्था का अनुभव करने के लिए अपने अनेक टाइटल वा स्वरूप, अनेक गुणों के श्रृंगार, अनेक प्रकार के खुशी की, रूहानी नशे की, रचता और रचना के विस्तार की पाइंटस, प्राप्तियों की पाइंटस स्मृति में रखो। जो आपकी पसन्दी हो उस पर मनन करो तो मगन अवस्था सहज अनुभव होगी। फिर कभी परवश नहीं होंगे, माया सदा के लिए नमस्कार करेगी। संगमयुग का पहला भक्त माया बन जायेगी। जब आप मायाजीत मास्टर भगवान बनेंगे तब माया भक्त बनेगी।
स्लोगन:- आपका उच्चारण और आचरण ब्रह्मा बाप के समान हो तब कहेंगे सच्चे ब्राह्मण।

TODAY MURLI 2 DECEMBER 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 2 December 2019

02/12/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you have to give the Father’s introduction to everyone before destruction takes place. Imbibe knowledge and then explain it to others; only then will you be able to claim a high status.
Question: What directions does the Father give to Raj Yogi students?
Answer: You are given the directions that, after belonging to the one Father, you must not allow your hearts to become attached to anyone else. After making a promise to remain pure, you must never become impure. Become completely pure, so much so that you automatically stay in constant remembrance of the Father and the Teacher. Have love for the one Father alone and remember Him alone and you will receive a great deal of power.

Om shanti. The spiritual Father sits here and explains. He is only able to explain when He takes this body. He has to explain personally. That which is explained personally is then printed and sent to everyone. You come here in order to listen to Baba personally. The unlimited Father is speaking to you souls. It is the soul that listens. It is the soul that does everything through the body. Therefore, first of all, definitely consider yourselves to be souls. It is remembered that souls remained separated from the Supreme Soul for a long time. Who are the first ones to become separated from the Father and come down here to play their parts? When you are asked, “For how long have you remained separated from the Father?”, you reply, “5000 years.” This is the full account. You children know how you came down, numberwise. The Father, who was up above, has also now come down in order to charge everyone’s battery. You now have to remember the Father. The Father is now personally in front of you. People on the path of devotion do not know the Father’s occupation. They do not know His name, form, place or time. You know the name, form, place and time. You know that the Father explains all the secrets to you through this chariot. He has explained the secrets of the Creator and the beginning, the middle and the end of creation. It is very subtle. The Father is the Seed of the human world tree. He definitely comes here. It is His task to establish the new world. It isn’t that He establishes it whilst sitting up above. You children know that Baba is personally explaining to you directly through this body. This is also the Father’s love. No one else knows His biography. The Gita is the scripture of the original, eternal, deity religion. You also know that, after this knowledge, destruction will take place. Destruction definitely has to take place. Destruction does not take place when the other founders of religions come. This is now the time for destruction and this is why the knowledge that you are now being given will end later on. All of these aspects are now in the intellects of you children. You have come to know the Creator and creation. Both are eternal and have always existed. The Father’s part is to come at the confluence age. Devotion lasts for half a cycle but knowledge doesn’t. You receive the inheritance of knowledge for half a cycle. You only receive knowledge once, at the confluence age. Only once are you able to have such a class. You have to understand these aspects clearly and then explain them to others. The status you claim depends on how much service you do. You understand that you now have to make effort to go to the new world. Your status will depend on how much you imbibe and explain to others. Before destruction takes place, you have to give everyone the Father’s introduction and the introduction of the beginning, middle and end of creation. You remember the Father so that your sins of many births can be cut away. You definitely have to remember the Father for as long as He continues to teach you. There would be yoga with the one who teaches. When a teacher teaches, you would have yoga with him. How could you study without having yoga with him? Yoga means to remember the one who is teaching you. That One is the Father, Teacher and the Satguru. You have to remember Him accurately in all three forms. Only once do you meet this Satguru. Once you receive salvation through knowledge, the system of having gurus comes to an end. The system of having a father and a teacher carries on whereas the system of having a guru will have ended, because you received salvation. You go to the land beyond sound in a practical way and then come down here at your own time to play your parts. You receive both liberation and liberation-in-life. You definitely also receive liberation. You will go home and remain there for a short time. Here, you have to play your parts through bodies. All the actors will have come down by the end. When a play ends, all the actors come onto the stage. Even now, all the actors have gathered on the stage; there is so much chaos. There will not be any chaos in the golden age. There is so much peacelessness now. Just as the Father has the knowledge of the world cycle, so you children also have the knowledge. The Seed has the knowledge of how our tree grows and how it is then destroyed. You are now sitting here in order to plant the sapling of the new world, that is, to plant the sapling of the original, eternal, deity religion. You know how Lakshmi and Narayan claimed their kingdom. You now understand that you will go and become princes in the new world. All the residents of that world will call themselves the masters. Even now, everyone says that Bharat is their country. You understand that you are now at the confluence age and that you will be going to the Temple of Shiva. You are now about to go. You will go and become the masters of the Temple of Shiva. This is your aim and objective. The king, the queen and the subjects all become the masters of the Temple of Shiva. However, there are different levels of status in a kingdom. There are no advisers there. Advisers are only needed when people become impure. You would never have heard of advisers to Lakshmi and Narayan or to Rama and Sita, because they themselves have pure and satopradhan intellects. It is when people become impure that the king and queen have an adviser to advise them. Just look: there are now countless advisers. You children understand that this play is very enjoyable. A play is normally enjoyable; there is happiness as well as sorrow. Only you children know this unlimited play. There is no question of weeping and wailing etc. in this. It is said: Consider whatever has passed to be the past. Whatever happens is predestined. This play is in your intellects and you are all actors in this play. The parts of our 84 births are accurate and imperishable. Whatever part you have acted in each birth, you will act again. Five thousand years before today, too, you were told to consider yourselves to be souls. These words are also mentioned in the Gita. You understand that when the original, eternal, deity religion was being established, the Father said: Renounce all your bodily religions and consider yourselves to be souls and remember the Father. The Father has very clearly explained the meaning of “Manmanabhav”. This is the language He uses. Just see how many languages there are now. There is so much chaos because of different languages. Nothing can function without a language. People learn such different languages that they forget their mother language. Those who learn many languages receive a prize. There are as many languages as there are religions. You know that you will have your own kingdom there and that there will only be one language. Here, every 100 miles, there is a different language. There, there is only one language. The Father sits here and explains all of these things to you. Therefore, continue to remember that Father alone. Shiv Baba explains through Brahma. He definitely needs a chariot. Shiv Baba is our Father. Baba says: I have an unlimited number of children. Baba teaches you through this one. You would never embrace your teacher. The Father has come in order to teach you. He teaches you Raj Yoga and so He is the Teacher and you are students. Do students ever embrace their teacher? After belonging to the Father, you must not allow your hearts to become attached to anyone else. The Father says: I have come to teach you Raj Yoga. You are bodily beings whereas I am a bodiless One who resides up above. You say: Baba, come and purify us! This means that you must be impure. Therefore, how can you embrace Me? You make a promise and then become impure. At the end, when you become completely pure, you will continue to stay in remembrance of the Teacher and the Guru. So many now fall due to becoming dirty. They will receive one hundred-fold punishment. You have found this one as the agent in between. You have to remember that One. Baba says: I am His special child, but I am not able to embrace Him! At least you are able to meet Him through this body. How can I embrace Him? The Father says: Children, remember the one Father alone and only love Him alone. You receive power through this remembrance. The Father is the Almighty Authority. It is from the Father that you receive so much power. You become so powerful, that no one can gain victory over your kingdom. The kingdom of Ravan will have ended, so there will be no one there who would remain to cause sorrow. That is called the land of happiness. Ravan is the one who causes sorrow for everyone in the whole world. Even animals experience sorrow. There, animals live together with a lot of love. Here, there is no love. You children understand how this drama continues to turn. Only the Father explains the secrets of the beginning, the middle and the end of it. Some study very well whereas others study less; everyone studies. Everyone in the whole world will study, that is, they will all remember the Father. To remember the Father is also a study. They remember that Father as the Bestower of Salvation for All, the One who gives happiness to everyone. They call out: Come and make us pure! Therefore, they must surely be impure. He only comes in order to make vicious ones viceless. You call out: O Allah, come and purify us. This is His business; that is why you call out to Him. Your language too should be correct. Some say “Allah” and some say “God” and some even say “God, the Father”. The intellects of those who come at the end are still good. They do not experience as much sorrow. You are now sitting here personally. What are you doing? You are looking at Baba in this one’s forehead. Baba then looks in your forehead. Can I see the one whom I enter? He is sitting next to me. This has to be understood very well. I am sitting next to this one. This one also understands that he is sitting next to Me. You say that you are seeing two in front of you. You see both souls: Bap and Dada. You now have the knowledge of who is called BapDada. You souls are sitting in front of BapDada. On the path of devotion, they sit and listen with their eyes closed. You cannot study in that way. You have to look at the teacher. That One is the Father as well as the Teacher and so you have to look at Him. If you sit in front of Him and close your eyes and continue to doze off, you cannot study in that way. A student definitely continues to look at the teacher. Otherwise, the teacher would say: You keep dozing off. Have you had an intoxicating drink? It is in your intellects that Baba is in this body: I am looking at Baba. The Father explains that this is not a common class in which you sit with your eyes closed. Does anyone sit at school with his eyes closed? Other satsangs are not called schools. Although they sit and relate the Gita, they are not called schools. They are not the Father that you need to look at them. There are some devotees of Shiva who continue to remember Shiva whilst listening to religious stories through their ears. Those who worship Shiva have to remember Shiva alone. There are no questions and answers etc. in other satsangs whereas there are here. Here, you can earn a great deal of income. One never yawns whilst earning an income. You become happy when you receive wealth. Yawning is a sign of sorrow. It is when someone is sick or gone bankrupt that he continues to yawn. You will never yawn if you continue to earn an income. Baba was a businessman. When a steamer arrived late at night, he would also have to stay awake. Some ladies (begum) would only come at night to shop, and so the shops had to remain open just for the females. Baba says: Hold an exhibition on a particular day for just the females and many will come. Even those who wear veils will come. The daughters-in-law remain behind a veil. They are behind a veil even when they are in their cars. Here, it is a matter of souls. Once you receive knowledge, your veils are removed. In the golden age, there are no veils etc. Here, you are given knowledge for the pure household path. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. This play is made for great enjoyment. The parts of happiness and sorrow are predestined in this play. Therefore, there is no question of weeping or wailing. Your intellect should remember that whatever happens is predestined. You should never think about that which has passed.
  2. This is not a common class. You should not sit here with your eyes closed but continue to look at the Teacher in front of you. You must not yawn. Yawning is a sign of sorrow.
Blessing: May you become worthy of being praised and worshipped because of enabling everyone to have a right through your spiritual personality of happiness.
Those who claim from everyone the certificate of contentment remain constantly happy. Because of your spiritual personality of happiness, you become well known, that is, you become worthy of being praised and worshipped. Because you souls have pure and positive thoughts for others and remain happy, others receive happiness, support, wings of courage and zeal and enthusiasm; you enable some to have a right and some to become devotees.
Slogan: The easy way to claim a blessing from the Father is to have love in your heart.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 2 DECEMBER 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 2 December 2019

02-12-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – विनाश के पहले सबको बाप का परिचय देना है, धारणा कर दूसरों को समझाओ तब ऊंच पद मिल सकेगा”
प्रश्नः- राजयोगी स्टूडेन्ट्स को बाप का डायरेक्शन क्या है?
उत्तर:- तुम्हें डायरेक्शन है कि एक बाप का बनकर फिर औरों से दिल नहीं लगानी है। प्रतिज्ञा कर फिर पतित नहीं बनना है। तुम ऐसा सम्पूर्ण पावन बन जाओ जो बाप और टीचर की याद स्वत: निरन्तर बनी रहे। एक बाप से ही प्यार करो, उसे ही याद करो तो तुम्हें बहुत ताकत मिलती रहेगी।

ओम् शान्ति। रूहानी बाप बैठ समझाते हैं। समझाते तब हैं जबकि यह शरीर है। सम्मुख ही समझाना होता है। जो सम्मुख समझाया जाता है वह फिर लिखत के द्वारा सबके पास जाता है। तुम यहाँ आते हो सम्मुख सुनने के लिए। बेहद का बाप आत्माओं को सुनाते हैं। आत्मा ही सुनती है। सब कुछ आत्मा ही करती है-इस शरीर द्वारा इसलिए पहले-पहले अपने को आत्मा जरूर समझना है। गायन है आत्मायें-परमात्मा अलग रहे बहुकाल……। सबसे पहले-पहले बाप से कौन बिछुड़कर आते हैं यहाँ पार्ट बजाने? तुमसे पूछेंगे कितना समय तुम बाप से अलग रहे हो? तो तुम कहेंगे 5 हज़ार वर्ष। पूरा हिसाब है ना। यह तो तुम बच्चों को पता है कैसे नम्बरवार आते हैं। बाप जो ऊपर में थे वह भी अभी नीचे आ गये हैं – तुम सबकी बैटरी चार्ज करने। अभी बाप को याद करना है। अभी तो बाप सम्मुख है ना। भक्ति मार्ग में तो बाप के आक्यूपेशन का पता ही नहीं है। नाम, रूप, देश, काल को जानते ही नहीं। तुमको तो नाम, रूप, देश, काल का सब पता है। तुम जानते हो इस रथ द्वारा बाप हमको सब राज़ समझाते हैं। रचता और रचना के आदि, मध्य, अन्त का राज़ समझाया है। यह कितना सूक्ष्म है। इस मनुष्य सृष्टि रूपी झाड़ का बीजरूप बाप ही है। वह यहाँ आते जरूर हैं। नई दुनिया स्थापन करना उनका ही काम है। ऐसे नहीं कि वहाँ बैठे स्थापना करते हैं। तुम बच्चे जानते हो बाबा इस तन द्वारा हमको सम्मुख समझा रहे हैं। यह भी बाप का प्यार करना हुआ ना। और कोई को भी उनकी बायोग्राफी का पता नहीं है। गीता है आदि सनातन देवी-देवता धर्म का शास्त्र। यह भी तुम जानते हो-इस ज्ञान के बाद है विनाश। विनाश जरूर होना है। और जो भी धर्म स्थापक आते हैं, उनके आने पर विनाश नहीं होता है। विनाश का टाइम ही यह है, इसलिए तुमको जो ज्ञान मिलता है वह फिर खलास हो जाता है। तुम बच्चों की बुद्धि में यह सब बातें हैं। तुम रचता और रचना को जान गये हो। हैं दोनों अनादि जो चलते आते हैं। बाप का पार्ट ही है संगम पर आने का। भक्ति आधाकल्प चलती है, ज्ञान नहीं चलता है। ज्ञान का वर्सा आधाकल्प के लिए मिलता है। ज्ञान तो एक ही बार सिर्फ संगम पर मिलता है। यह क्लास तुम्हारा एक ही बार चलता है। यह बातें अच्छी रीति समझ कर फिर औरों को समझाना भी है। पद का सारा मदार है सर्विस करने पर। तुम जानते हो पुरूषार्थ कर अब नई दुनिया में जाना है। धारणा कर और दूसरों को समझाना-इस पर ही तुम्हारा पद है। विनाश होने के पहले सबको बाप का परिचय देना है और रचना के आदि, मध्य, अन्त का परिचय देना है। तुम भी बाप को याद करते हो कि जन्म-जन्मान्तर के पाप कट जाएं। जब तक बाप पढ़ाते रहते हैं, याद जरूर करना है। पढ़ाने वाले के साथ योग तो रहेगा ना। टीचर पढ़ाते हैं तो उनके साथ योग रहता है। योग बिगर पढ़ेंगे कैसे? योग अर्थात् पढ़ाने वाले की याद। यह बाप भी है, टीचर भी है, सतगुरू भी है। तीनों रूप में पूरा याद करना पड़ता है। यह सतगुरू तुम्हें एक ही बार मिलता है। ज्ञान से सद्गति मिली, बस फिर गुरू की रस्म ही खत्म। बाप, टीचर की रस्म चलती है, गुरू की रस्म खत्म हो जाती है। सद्गति मिल गई ना। निर्वाणधाम में तुम प्रैक्टिकल में जाते हो फिर अपने समय पर पार्ट बजाने आयेंगे। मुक्ति-जीवनमुक्ति दोनों तुमको मिल जाती हैं। मुक्ति भी जरूर मिलती है। थोड़े समय के लिए घर जाकर रहेंगे। यहाँ तो शरीर से पार्ट बजाना पड़ता है। पिछाड़ी में सब पार्टधारी आ जायेंगे। नाटक जब पूरा होता है तो सब एक्टर्स स्टेज पर आ जाते हैं। अभी भी सब एक्टर्स स्टेज पर आकर इकट्ठे हुए हैं। कितना घोर घमसान है। सतयुग आदि में इतना घोर घमसान नहीं था। अभी तो कितनी अशान्ति है। तो अब जैसे बाप को सृष्टि चक्र की नॉलेज है तो बच्चों को भी नॉलेज है। बीज को नॉलेज है ना-हमारा झाड़ कैसे वृद्धि को पाकर फिर खत्म होता है। अभी तुम बैठे हो नई दुनिया की सैपलिंग लगाने अथवा आदि सनातन देवी-देवता धर्म का सैपलिंग लगाने। तुमको पता है इन लक्ष्मी-नारायण ने राज्य कैसे पाया? तुम जानते हो हम अभी नई दुनिया का प्रिन्स बनेंगे। उस दुनिया में रहने वाले सब अपने को मालिक ही कहेंगे ना। जैसे अभी भी सब कहते हैं भारत हमारा देश है। तुम समझते हो अभी हम संगम पर खड़े हैं, शिवालय में जाने वाले हैं। बस, अभी गये कि गये। हम जाकर शिवालय के मालिक बनेंगे। तुम्हारी एम ऑब्जेक्ट ही यह है। यथा राजा रानी तथा प्रजा, सब शिवालय के मालिक बन जाते हैं। बाकी राजधानी में भिन्न-भिन्न स्टेट्स तो होते ही हैं। वहाँ वजीर तो कोई होता ही नहीं। वजीर तब होते हैं जब पतित बनते हैं। लक्ष्मी-नारायण वा राम-सीता का वजीर नहीं सुना होगा क्योंकि वह खुद सतोप्रधान पावन बुद्धि वाले हैं। फिर जब पतित बनते हैं तब राजा-रानी एक वजीर रखते हैं राय लेने के लिए। अभी तो देखो अनेकानेक वजीर हैं।

तुम बच्चे जानते हो यह बहुत मजे का खेल है। खेल हमेशा मजे का ही होता है। सुख भी होता है, दु:ख भी होता है। इस बेहद के खेल को तुम बच्चे ही जानते हो। इसमें रोने-पीटने आदि की बात ही नहीं। गाते भी हैं बीती सो बीती देखो….. बनी-बनाई बन रही। यह नाटक तुम्हारी बुद्धि में है। हम इनके एक्टर्स हैं। हमारे 84 जन्मों का पार्ट एक्यूरेट अविनाशी है। जो जिस जन्म में जो एक्ट करते आये हैं वही करते रहेंगे। आज से 5 हज़ार वर्ष पहले भी तुमको यही कहा था कि अपने को आत्मा समझो। गीता में भी अक्षर हैं। तुम जानते हो बरोबर आदि सनातन देवी-देवता धर्म जब स्थापन हुआ था तो बाप ने कहा था देह के सब धर्म छोड़ अपने को आत्मा समझो और बाप को याद करो। मन्मनाभव का अर्थ तो बाप ने अच्छी रीति समझाया है। भाषा भी यही है। यहाँ देखो कितनी ढेर भाषायें हैं। भाषाओं पर भी कितना हंगामा है। भाषा बिगर तो काम चल न सके। ऐसी-ऐसी भाषायें सीखकर आते हैं जो मदर लैंगवेज खलास हो जाती है। जो जास्ती भाषायें सीखते हैं उनको इनाम मिलता है। जितने धर्म, उतनी भाषायें होंगी। वहाँ तो तुम जानते हो अपनी ही राजाई होगी। भाषा भी एक होगी। यहाँ तो 100 माइल पर एक भाषा है। वहाँ तो एक ही भाषा होती है। यह सब बातें बाप बैठ समझाते हैं तो उस बाप को ही याद करते रहो। शिवबाबा समझाते हैं ब्रह्मा द्वारा। रथ तो जरूर चाहिए ना। शिवबाबा हमारा बाप है। बाबा कहते हैं मेरे तो बेहद के बच्चे हैं। बाबा इन द्वारा पढ़ाते हैं ना। टीचर को कभी गले से थोड़ेही लगाते हैं। बाप तो तुमको पढ़ाने आये हैं। राजयोग सिखलाते हैं तो टीचर ठहरा ना। तुम स्टूडेन्ट हो। स्टूडेन्ट कभी टीचर को भाकी पहनते हैं क्या? एक बाप का बनकर फिर औरों से दिल नहीं लगानी है।

बाप कहते हैं मैं तुमको राजयोग सिखलाने आया हूँ ना। तुम शरीरधारी, हम अशरीरी ऊपर में रहने वाले। कहते हो-बाबा, पावन बनाने आओ तो गोया तुम पतित हो ना? फिर मेरे को भाकी कैसे पहन सकते? प्रतिज्ञा कर फिर पतित बन जाते हैं। जब एकदम पावन बन जायेंगे, पिछाड़ी में फिर याद में भी रहेंगे, टीचर को, गुरू को याद करते रहेंगे। अभी तो छी-छी बन गिर पड़ते हैं, और ही सौ गुणा दण्ड पड़ जाता है। यह तो बीच में दलाल के रूप में मिला है, उनको याद करना है। बाबा कहते हैं मैं भी उनका मुरब्बी बच्चा हूँ। फिर मैं कहाँ भाकी पहन सकता हूँ! तुम फिर भी इस शरीर द्वारा मिलते हो। मैं उनको कैसे भाकी पहनूँ? बाप तो कहते हैं – बच्चे, तुम एक बाप को ही याद करो, प्यार करो। याद से पॉवर बहुत मिलती है। बाप सर्वशक्तिमान् है। बाप से ही तुमको इतनी पॉवर मिलती है। तुम कितने बलवान बनते हो। तुम्हारी राजधानी पर कोई जीत पहन न सके। रावण राज्य ही खत्म हो जाता है। दु:ख देने वाला कोई रहता ही नहीं। उनको सुखधाम कहा जाता है। रावण सारे विश्व में सबको दु:ख देने वाला है। जानवर भी दु:खी होते हैं। वहाँ तो जानवर भी आपस में प्रेम से रहते हैं। यहाँ तो प्रेम है नहीं।

तुम बच्चे जानते हो यह ड्रामा कैसे फिरता है। इसके आदि-मध्य-अन्त का राज़ बाप ही समझाते हैं। कोई अच्छी रीति पढ़ते हैं, कोई कम पढ़ते हैं। पढ़ते तो सब हैं ना। सारी दुनिया भी पढ़ेगी अर्थात् बाप को याद करेगी। बाप को याद करना – यह भी पढ़ाई है ना। उस बाप को सब याद करते हैं, वह सर्व का सद्गति दाता, सबको सुख देने वाला है। कहते भी हैं आकर पावन बनाओ तो जरूर पतित ठहरे। वह तो आते ही हैं विकारियों को निर्विकारी बनाने। पुकारते भी हैं कि हे अल्लाह, आकर हमको पावन बनाओ। उनका यही धंधा है, इसलिए बुलाते हैं।

तुम्हारी भाषा भी करेक्ट होनी चाहिए। वो लोग कहते हैं अल्लाह, वह कहते हैं गॉड। गॉड फादर भी कहते हैं। पिछाड़ी वालों की बुद्धि फिर भी अच्छी रहती है। इतना दु:ख नहीं उठाते। तो अब तुम सम्मुख बैठे हो, क्या करते हो? बाबा को इस भृकुटी में देखते हो। बाबा फिर तुम्हारी भृकुटी में देखते हैं। जिसमें मैं प्रवेश करता हूँ, उनको देख सकता हूँ? वह तो बाजू में बैठा है, यह बड़ी समझने की बात है। मैं इनके बाजू में बैठा हुआ हूँ। यह भी समझता है, हमारे बाजू में बैठा है। तुम कहेंगे हम सामने दो को देखते हैं। बाप और दादा दोनों आत्मा को देखते हो। तुम्हारे में ज्ञान है-बापदादा किसको कहते हैं? आत्मा सामने बैठी है। भक्ति मार्ग में तो आंखें बन्द कर बैठ सुनते हैं। पढ़ाई कोई ऐसे थोड़ेही होती है। टीचर को तो देखना पड़े ना। यह तो बाप भी है, टीचर भी है तो सामने देखना होता है। सामने बैठे और आंखे बन्द हों, झुटका खाते रहें, ऐसी पढ़ाई तो होती नहीं। स्टूडेन्ट टीचर को जरूर देखता रहेगा। नहीं तो टीचर कहेंगे यह तो झुटका खाते रहते हैं। यह कोई भांग पीकर आये हैं। तुम्हारी बुद्धि में है बाबा इस तन में है। मैं बाबा को देखता हूँ। बाप समझाते हैं यह क्लास कॉमन नहीं है – जो कोई आंखे बन्दकर बैठे। स्कूल में कभी कोई आंखे बन्द करके बैठते हैं क्या? और सतसंगों को स्कूल नहीं कहा जाता है। भल गीता बैठ सुनाते हैं परन्तु उसको स्कूल नहीं कहा जाता। वह कोई बाप थोड़ेही है जिसको देखें। कोई-कोई शिव के भक्त होते हैं तो शिव को ही याद करते हैं, कान से कथा सुनते रहते। शिव की भक्ति करने वालों को शिव को ही याद करना पड़े। कोई भी सतसंग में प्रश्न-उत्तर आदि नहीं होता है। यहाँ होता है। यहाँ तुम्हारी आमदनी बहुत है। आमदनी में कभी उबासी नहीं आ सकती। धन मिलता है ना तो खुशी होती है। उबासी, ग़म की निशानी है। बीमार होगा वा देवाला निकला होगा तो उबासी आती रहेगी। पैसा मिलता रहेगा तो कभी उबासी नहीं आयेगी। बाबा व्यापारी भी है। रात को स्टीमर आते थे तो रात को जागना पड़ता था। कोई-कोई बेग़म रात को आती हैं तो सिर्फ फीमेल के लिए ही खुला रहता है। बाबा भी कहते हैं प्रदर्शनी आदि में फीमेल्स के लिए खास दिन रखो तो बहुत आयेंगी। पर्देनशीन भी आयेंगी। बहुएं पर्देनशीन रहती हैं। मोटर में भी पर्दा रहता है। यहाँ तो आत्मा की बात है। ज्ञान मिल गया तो पर्दा भी खुल जायेगा। सतयुग में पर्दा आदि होता नहीं। यह तो प्रवृत्ति मार्ग का ज्ञान है ना। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) यह खेल बड़ा मज़े का बना हुआ है, इसमें सुख और दु:ख का पार्ट नूँधा हुआ है इसलिए रोने पीटने की बात नहीं। बुद्धि में रहे बनी-बनाई बन रही, बीती का चिंतन नहीं करना है।

2) यह कॉमन क्लास नहीं है, इसमें आंखे बन्द करके नहीं बैठना है। टीचर को सामने देखना है। उबासी आदि नहीं लेनी है। उबासी गम (दु:ख) की निशानी है।

वरदान:- प्रसन्नता की रूहानी पर्सनैलिटी द्वारा सर्व को अधिकारी बनाने वाले गायन और पूजन योग्य भव
जो सर्व की सन्तुष्टता का सर्टीफिकेट लेते हैं वह सदा प्रसन्न रहते हैं, और इसी प्रसन्नता की रूहानी पर्सनैलिटी के कारण नामीग्रामी अर्थात् गायन और पूजन योग्य बन जाते हैं। आप शुभ-चिंतक, प्रसन्नचित रहने वाली आत्माओं द्वारा जो सर्व को खुशी की, सहारे की, हिम्मत के पंखों की, उमंग-उत्साह की प्राप्त होती है – यह प्राप्ति किसको अधिकारी बना देती है, कोई भक्त बन जाते हैं।
स्लोगन:- बाप से वरदान प्राप्त करने का सहज साधन है – दिल का स्नेह।

TODAY MURLI 2 DECEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 2 December 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 1 December 2018 :- Click Here

02/12/18
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
05/03/84

The importance of the power of peace.

The Father, the Ocean of Peace, has come to meet His children who are incarnations of peace. In today’s world, the most essential thing is peace and you children are the bestowers of that peace. No matter how much people try to attain peace with perishable wealth or perishable means, they cannot attain true, imperishable peace with that. Although today’s world is wealthy and has all the facilities for happiness, it is still a beggar of imperishable and permanent peace. You souls, who are master bestowers of peace, treasure-stores of peace and embodiments of peace have to give a drop of peace to such souls who are beggars of peace and quench their thirst and fulfil their desire for peace. Seeing the peaceless children, BapDada feels mercy for them. They make so much effort; through the power of science they reach so many places and make so many things. They are able to change day into night and night into day but they are not able to attain their original religion of peace. However much they chase after peace, after some temporary attainment of peace, the result is just peacelessness. Imperishable peace is the birthright of all souls from God, but they are making so much effort for their birthright. It is an attainment of just a second. However, because of not having the full introduction, they stumble so much even to attain the attainment of a second; they call and shout out and are in distress. Give the drishti (vision) of brotherhood to your brother souls who are wandering around for peace. Their world will be changed with this drishti.

Do all of you souls, who are incarnations of peace, remain constantly stable as embodiments of peace? You have bidden farewell to peacelessness for all time, have you not? Have you celebrated the ceremony of saying farewell to peacelessness? Or, are you going to do that now? Are those who have not yet celebrated the ceremony of saying farewell to peacelessness now going to do that here? Should we fix a date for this? Those who want to have this ceremonynow, raise your hands! Let there not be peacelessness even in your dreams. Even your dreams have become peaceful, have they not? The Father is the Bestower of Peace and you are embodiments of peace. Your dharma (religion) is peace and your karma (action) is peace. Therefore, how can there be peacelessness? What is the karma of all of you? To give peace. Even now, when your devotees perform arti (form of worship), what do they say? “Bestower of Peace”. So, whose arti do they sing? Yours or just the Father’s? The children who are bestowers of peace are constantly great donors of peace and also the ones who give this blessing. You are those who become master suns of knowledge and spread rays of peace throughout the world. You have the intoxication, do you not, that, along with the Father, you are also master suns of knowledge and master suns who spread rays of peace?

Are you able to give the introduction of the religion of the self in a second and stabilise them in their original form with your attitude? Which attitude? That these souls who are your brothers should also receive their inheritance from the Father. With this pure attitude, that is, with these pure feelings, are you able to give souls an experience? Why? The return of pure feelings is definitely received. All of you have elevated wishes, good wishes without any selfish motives. You have feelings of mercy and benevolence. It is impossible for you not to receive the fruit of these feelings. When a seed is powerful, you definitely receive the fruit. Simply constantly continue to water this seed of elevated wishes with the water of awareness and you will definitely attain powerful fruit in the form of instant visible fruit. There will be no question as to whether something will happen or not. To have the water of constant awareness means to have good wishes for all souls. You will definitely receive the visible fruit of world peace. Together with the Father, all of you children are also fulfilling the desires of many births of all souls so that everyone’s desires will be fulfilled.

The sound of peacelessness is now echoing everywhere and people are experiencing peacelessness in all directions – in their bodies, minds, wealth and relationships. Due to fear, instead of experiencing peace, they experience peacelessness through all their means of attainment. Souls today are influenced by one type of fear or another. They eat, move along, earn an income and experience pleasure temporarily, but it is all in fear. They don’t know what will happen tomorrow. So, where there is the throne of fear, when the leader is sitting on a chair (position) of fear, what would the condition be of the people? The greater the leader, the more security guards he would have. Why? Because there is fear. So, what would the temporary pleasure be whilst sitting on the throne of fear? Would it be peaceful or peaceless? In order to give such children who are filled with fear a life of constant happiness and peace, BapDada has made all of you children into instruments as incarnations of peace. With the power of peace, how far can you go from one place to another without spending anything? Even beyond this world. You can reach your sweet home so easily. Does it take any effort? With the power of peace (silence), how easily do you become a conqueror of matter and a conqueror of Maya? Through what? With the power of soul consciousness. When both atomic power and the power of soul (atma) become united, when atomic power also carries out tasks of happiness through satopradhan intellects with the power of souls, then, with the unity of both powers, the world of peace will be revealed on this earth, because both powers exist in the kingdom of peaceful and happy heaven. Therefore, a satopradhan intellect means an intellect that always performs elevated and truthful actions. Truth also means imperishable. By performing every action in the awareness of the imperishable Father and the imperishable soul, the attainment would also be imperishable. This is why they speak of truthful actions. Therefore, you are incarnations of peace who constantly give peace. Do you understand? Achcha.

To the souls who, with their satopradhan stage, always perform truthful actions, to the souls who give souls the fruit of peace with their powerful good wishes, to those who, as constant master bestowers of peace and deities of peace, spread rays of peace throughout the world, to the souls who co-operate with the Father in His special task, BapDada’s love, remembrance and namaste.

Nobel Laureate Professor Brian Josephson (Scientist) meeting BapDada:

Are you experiencing the experience of the power of peace? The power of peace will make the whole world peaceful. You too are a soul who loves peace, are you not? By using the power of science accurately with the power of silence, you can become an instrument to benefit the world. The power of science is also essential but you can use it accurately with a satopradhan intellect. Today, the knowledge of how to use it in an accurate way is lacking. On the basis of this knowledge, the same science will become instrumental in the establishment of the new world. However, because of not having this knowledge, you are moving towards destruction. Therefore, now, on the basis of the power of peace, become an instrument who uses the power of science for very good tasks. You will claim a Nobel Prize in this also, will you not? Because, there is a need for this task. Whenever there is a need for something in particular and someone becomes an instrument for that, everyone regards that soul with elevated vision. So, do you understand what you have to do? So research what the connection between science and silence is at present and how much success there can be with the connection of the two. You are interested in research, are you not? Now do this. You have to carry out such a big task. You will create such a world, will you not? Achcha.

BapDada meeting the UK group:

The long-lost and now-found children are always with the Father. You always experience the Father to be with you, do you not? If you move away from the Father’s company even a little, Maya’s vision is very sharp. She sees that you have moved away a little and so she makes you belong to her. This is why you must never move away even a little. Constantly stay in the Father’s company. Since BapDada Himself is offering to stay with you all the time, take this company. Throughout the whole cycle you will not find such company as the Father’s who says: Come and stay in My company. You will not have such fortune even in the golden age. Even in the golden age you will be in the company of souls. For how long do you have the Father’s company throughout the whole cycle? It is for a very short time, is it not? You receive such great fortune in such a short time. Therefore, you should always stay with Him, should you not? BapDada is looking at the children who remain constantly stable in a strong stage. Such loving children are in front of BapDada. Each and every child is very lovely. BapDada has selected and gathered together each one of you from so many different far-away places with so much love. Children who are selected in this way are always strong; they cannot be weak. Achcha.

Personal meeting :

A special actor means one who is always alert at every step and at every second , not careless.

Do you constantly experience yourself to be a special actor on the unlimited world drama stage while walking and moving along and while eating and drinking? Those who are special actors always pay attention to their actions, that is, to their parts at all times, because the whole drama depends on the heroactor. So, you are the basis of this whole drama, are you not? So, do you special souls or you special actors always pay this much attention? Special actors are never careless, they are alert. So, you never become careless, do you? “I am doing everything I can, I will reach there”. You do not think in this way, do you? You are doing everything, but at what speed? You move along, but at what speed do you move along? There is a difference in the speed, is there not? There is a vast difference between one who is walking and one who is flying in a plane. It would be said that the one who is walking is moving along and that the one who is flying is also moving along, but there is so much difference. So, if you are just moving along, having become a Brahma Kumar, it means that you are moving along, but at what speed? It is only those who have a fast speed who will reach their destination on time. Otherwise, they will be left behind. You have an attainment here too, but is it that of the sun dynasty or the moon dynasty? There is a difference, is there not? So, in order to become part of the sun dynasty, remove all ordinariness from your every thought and every word. When a hero actor performs an ordinary act, everyone laughs at him, do they not? So, here, too, always have the awareness that you are a special actor and so your every action has to be special, your every step has to be special, your every second, every moment and every thought has to be elevated. Do not think that they were just five minutes that were ordinary. Five minutes are not just five minutes, but the five minutes of the confluence are very important and significant. Five minutes are greater than five years and so pay that much attention. This is known as being an intense effort-maker. What is the slogan of intense effort-makers? “If not now, then never.” So, do you always remember this? If you wish to claim your fortune of the kingdom for all time, you also have to pay attention all the time. A little time of paying attention all the time will enable you to attain constant attainment over a long period of time. So, have this awareness at all times and also check yourself that you do not become ordinary while walking and moving along. The Father is called the Supreme Soul, and so He is the Supreme. So, as is the Father, so the children too are supreme, that is, they are elevated in every way.

So, now let your efforts be intense and let less time and less effort be required in your service whilst you experience greater success. Let one person do the work of many. So, make such a plan. Punjab is very old. It has been involved in service from the beginning, and so, those from the original place must now find some original jewels. In any case, Punjab is known as the lion and a lion roars. Roaring means a loud sound. We shall now see what you do and who does it?

Blessing: May you be an embodiment of success who does everything from amrit vela till night time accurately with the discipline of remembrance.
Whatever you do from amrit vela till night time, let it be according to the discipline of remembrance and you will achieve success in every action. The greatest success of all is to experience supersensuous joy as the practical fruit. Constantly continue to move along in the waves of happiness and joy. So, you receive this instant fruit and you also receive the fruit in the future. The practical, instant fruit of this time is greater than the fruit of your many future births. You do something now and you immediately receive the reward of it. This is called the practical instant fruit.
Slogan: Perform every act while considering yourself to be an instrument and you will remain loving and detached and there will be no consciousness of “I”.

 

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 2 DECEMBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 2 December 2018

To Read Murli 1 December 2018 :- Click Here
02-12-18
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 05-03-84 मधुबन

शान्ति की शक्ति का महत्व

शान्ति के सागर बाप अपने शान्ति के अवतार बच्चों से मिलने आये हैं। आज के संसार में सबसे आवश्यक चीज़ शान्ति है। उसी शान्ति के दाता तुम बच्चे हो। कितना भी कोई विनाशी धन, विनाशी साधन द्वारा शान्ति लेने चाहें तो सच्ची अविनाशी शान्ति मिल नहीं सकती। आज का संसार धनवान होते, सुख के साधन होते फिर भी अविनाशी सदाकाल की शान्ति के भिखारी हैं। ऐसे शान्ति की भिखारी आत्माओं को आप मास्टर शान्ति दाता, शान्ति के भण्डार, शान्ति स्वरूप आत्मायें अंचली दे सर्व के शान्ति की प्यास, शान्ति की इच्छा पूर्ण करो। बापदादा को अशान्त बच्चों को देख रहम आता है। इतना प्रयत्न कर साइन्स की शक्ति से कहाँ से कहाँ पहुँच रहे हैं, क्या-क्या बना रहे हैं, दिन को रात भी बना सकते, रात को दिन भी बना सकते लेकिन अपनी आत्मा का स्वधर्म शान्ति, उसको प्राप्त नहीं कर सकते। जितना ही शान्ति के पीछे भाग-दौड करते हैं उतना ही अल्पकाल की शान्ति के बाद परिणाम अशान्ति ही मिलती है। अविनाशी शान्ति सर्व आत्माओं का ईश्वरीय जन्मसिद्ध अधिकार है। लेकिन जन्मसिद्ध अधिकार के पीछे कितनी मेहनत करते हैं। सेकण्ड की प्राप्ति है लेकिन सेकण्ड की प्राप्ति के पीछे पूरा परिचय न होने कारण कितने धक्के खाते हैं, पुकारते हैं, चिल्लाते हैं, परेशान होते हैं। ऐसे शान्ति के पीछे भटकने वाले अपने आत्मिक रूप के भाईयों को, भाई-भाई की दृष्टि दो। इसी दृष्टि से ही उन्हों की सृष्टि बदल जायेगी।

आप सभी शान्ति के अवतार आत्मायें सदा शान्त स्वरूप स्थिति में रहते हो ना? अशान्ति को सदा के लिए विदाई दे दी है ना! अशान्ति की विदाई सेरीमनी कर ली है या अभी करनी है? जिसने अभी अशान्ति की विदाई सेरीमनी नहीं की है, अभी करनी है, वह यहाँ हैं? उनकी डेट फिक्स कर दें? जिसको अभी सेरीमनी करनी है, वह हाथ उठाओ। कभी स्वप्न में भी अशान्ति न आवे। स्वप्न भी शान्तिमय हो गये हैं ना! शान्ति दाता बाप है, शान्ति स्वरूप आप हो। धर्म भी शान्त, कर्म भी शान्त तो अशान्ति कहाँ से आयेगी। आप सबका कर्म क्या है? शान्ति देना। अभी भी आप सबके भक्त लोग आरती करते हैं तो क्या कहते हैं? शान्ति देवा। तो यह किसकी आरती करते हैं? आपकी या सिर्फ बाप की? शान्ति देवा बच्चे सदा शान्ति के महादानी, वरदानी आत्मायें हैं। शान्ति की किरणें विश्व में मास्टर ज्ञान सूर्य बन फैलाने वाले हैं, यही नशा है ना कि बाप के साथ-साथ हम भी मास्टर ज्ञान सूर्य हैं वा शान्ति की किरणें फैलाने वाले मास्टर सूर्य हैं।

सेकण्ड में स्वधर्म का परिचय दे स्व स्वरूप में स्थित करा सकते हो ना? अपनी वृत्ति द्वारा, कौन-सी वृत्ति? इस आत्मा को भी अर्थात् हमारे इस भाई को भी बाप का वर्सा मिल जाए। इस शुभ वृत्ति वा इस शुभ भावना से अनेक आत्माओं को अनुभव करा सकते हो, क्यों? भावना का फल अवश्य मिलता है। आप सबको श्रेष्ठ भावना है, स्वार्थ रहित भावना है, रहम की भावना है, कल्याण की भावना है। ऐसी भावना का फल नहीं मिले, यह हो नहीं सकता। जब बीज शक्तिशाली है तो फल जरूर मिलता है। सिर्फ इस श्रेष्ठ भावना के बीज को सदा स्मृति का पानी देते रहो तो समर्थ फल, प्रत्यक्ष फल के रूप में अवश्य प्राप्त होना ही है। क्वेश्चन नहीं, होगा या नहीं होगा। सदा समर्थ स्मृति का पानी है अर्थात् सर्व आत्माओं के प्रति शुभ भावना है तो विश्व शान्ति का प्रत्यक्षफल मिलना ही है। सर्व आत्माओं की जन्म-जन्म की आश बाप के साथ-साथ सभी बच्चे भी पूर्ण कर रहे हो और सर्व की हो जानी है।

जैसे अभी अशान्ति के आवाज चारों ओर गूँज रहे हैं। तन-मन-धन-जन सब तरफ से अशान्ति अनुभव कर रहे हैं। भय सर्व प्राप्ति के साधनों को भी शान्ति के बजाए अशान्ति का अनुभव करा रहा है। आज की आत्मायें किसी न किसी भय के वशीभूत हैं। खा रहे हैं, चल रहे हैं, कमा रहे हैं, अल्पकाल की मौज भी मना रहे हैं लेकिन भय के साथ। ना मालूम कल क्या होगा। तो जहाँ भय का सिंहासन है, जब नेता ही भय की कुर्सी पर बैठे हैं तो प्रजा क्या होगी। जितने बड़े नेता उतने अंगरक्षक होंगे। क्यों? भय है ना। तो भय के सिंहसान पर अल्पकाल की मौज क्या होगी? शान्तिमय वा अशान्तिमय? बापदादा ने ऐसे भयभीत बच्चों को सदाकाल की सुखमय, शान्तिमय जीवन देने के लिए आप सभी बच्चों को शान्ति के अवतार के रूप में निमित्त बनाया है। शान्ति की शक्ति से बिना खर्चे कहाँ से कहाँ तक पहुँच सकते हो? इस लोक से भी परे। अपने स्वीट होम में कितना सहज पहुँचते हो! मेहनत लगती है? शान्ति की शक्ति से प्रकृतिजीत, मायाजीत कितना सहज बनते हो? किस द्वारा? आत्मिक शक्ति द्वारा। जब एटामिक और आत्मिक दोनों शक्तियों का मेल हो जायेगा। आत्मिक शक्ति से एटामिक शक्ति भी सतोप्रधान बुद्धि द्वारा सुख के कार्य में लगेगी तब दोनों शक्तियों के मिलन द्वारा शान्तिमय दुनिया इस भूमि पर प्रत्यक्ष होगी क्योंकि शान्ति, सुखमय स्वर्ग के राज्य में दोनों शक्तियाँ हैं। तो सतोप्रधान बुद्धि अर्थात् सदा श्रेष्ठ, सत्य कर्म करने वाली बुद्धि। सत अर्थात् अविनाशी भी है। हर कर्म अविनाशी बाप, अविनाशी आत्मा इस स्मृति से अविनाशी प्राप्ति वाला होगा इसलिए कहते हैं सत कर्म। तो ऐसे सदा के लिए शान्ति देने वाले, शान्ति के अवतार हो। समझा। अच्छा-

ऐसे सदा सतोप्रधान स्थिति द्वारा, सत कर्म करने वाली आत्मायें, सदा अपने शक्तिशाली भावना द्वारा अनेक आत्माओं को शान्ति का फल देने वाली, सदा मास्टर दाता बन, शान्ति देवा बन शान्ति की किरणें विश्व में फैलाने वाली, ऐसे बाप के विशेष कार्य के सहयोगी आत्माओं को बापदादा का याद-प्यार और नमस्ते।

लन्दन के नोबल विजेता वैज्ञानिक जोसिफसन बापदादा से मिल रहे हैं:-

शान्ति की शक्ति के अनुभव को भी अनुभव करते हो? क्योंकि शान्ति की शक्ति सारे विश्व को शान्तिमय बनाने वाली है। आप भी शान्तिप्रिय आत्मा हो ना! शान्ति की शक्ति द्वारा साइन्स की शक्ति को भी यथार्थ रूप से कार्य में लगाने से विश्व का कल्याण करने के निमित्त बन सकते हो। साइन्स की शक्ति भी आवश्यक है लेकिन सिर्फ सतोप्रधान बुद्धि बनने से इसका यथार्थ रूप से प्रयोग कर सकते हैं। आज सिर्फ इसी नॉलेज की कमी है कि यथार्थ रीति से इसको कार्य में कैसे लगायें। यही साइन्स इस नॉलेज के आधार पर नई सृष्टि की स्थापना के निमित्त बनेंगी। लेकिन आज वह नॉलेज न होने कारण विनाश की ओर बढ़ रहे हैं। तो अभी इसी साइन्स की शक्ति को साइलेन्स की शक्ति के आधार से बहुत ही अच्छे कार्य में लगाने के निमित्त बनो। इसमें भी नोबिल प्राइज लेंगे ना! क्योंकि आवश्यकता इसी कार्य की है। तो जब जिस कार्य की आवश्यकता है उसमें निमित्त बनने वाले को सभी श्रेष्ठ आत्मा की नज़र से देखेंगे। तो समझा क्या करना है! अभी साइन्स और साइलेन्स का कनेक्शन कैसा है और दोनों के कनेक्शन से कितनी सफलता हो सकती है, इसकी रिसर्च करो। रिसर्च की रूचि है ना! अभी यह करना। इतना बड़ा कार्य करना है। ऐसी दुनिया बनायेंगे ना। अच्छा-

यू.के.ग्रुप:- सिकीलधे बच्चे सदा ही बाप से मिले हुए हैं। सदा बाप साथ है, यह अनुभव सदा रहता है ना? अगर बाप के साथ से थोड़ा भी किनारा किया तो माया की ऑख बड़ी तेज है। वह देख लेती है यह थोड़ा-सा किनारे हुआ है तो अपना बना लेती है, इसलिए किनारे कभी भी नहीं होना। सदा साथ। जब बापदादा स्वयं सदा साथ रहने की आफर कर रहे हैं तो साथ लेना चाहिए ना। ऐसा साथ सारे कल्प में कभी नहीं मिलेगा, जो बाप आकर कहे मेरे साथ रहो। ऐसा भाग्य सतयुग में भी नहीं होगा। सतयुग में भी आत्माओं के संग रहेंगे। सारे कल्प में बाप का साथ कितना समय मिलता है? बहुत थोड़ा समय है ना। तो थोड़े समय में इतना बड़ा भाग्य मिले, तो सदा रहना चाहिए ना। बापदादा सदा परिपक्व स्थिति में स्थित रहने वाले बच्चों को देख रहे हैं। कितने प्यारे-प्यारे बच्चे बापदादा के सामने हैं। एक-एक बच्चे बहुत लवली हैं। बापदादा ने इतने प्यार से सभी को कहाँ-कहाँ से चुनकर इकट्ठा किया है। ऐसे चुने हुए बच्चे सदा ही पक्के होंगे, कच्चे नहीं हो सकते। अच्छा-

पर्सनल महावाक्य — विशेष पार्टधारी अर्थात् हर क़दम, हर सेकेण्ड सदा अलर्ट, अलबेले नहीं

सदा अपने को चलते-फिरते, खाते-पीते बेहद वर्ल्ड ड्रामा की स्टेज पर विशेष पार्टधारी आत्मा अनुभव करते हो? जो विशेष पार्टधारी होता है उसको सदा हर समय अपने कर्म अर्थात् पार्ट के ऊपर अटेन्शन रहता है क्योंकि सारे ड्रामा का आधार हीरो पार्टधारी होता है। तो इस सारे ड्रामा का आधार आप हो ना। तो विशेष आत्माओं को वा विशेष पार्टधारियों को सदा इतना ही अटेन्शन रहता है? विशेष पार्टधारी कभी भी अलबेले नहीं होते, अलर्ट होते हैं। तो कभी अलबेलापन तो नहीं आ जाता? कर तो रहे हैं, पहुँच ही जायेंगे…….. ऐसे तो नहीं सोचते? कर रहे हैं लेकिन किस गति से कर रहे हैं? चल रहे हैं लेकिन किस गति से चल रहे हैं? गति में तो अन्तर होता है ना। कहाँ पैदल चलने वाला और कहाँ प्लेन में चलने वाला! कहने में तो आयेगा कि पैदल वाला भी चल रहा है और प्लेन वाला भी चल रहा है लेकिन फ़र्क कितना है? तो सिर्फ चल रहे हैं, ब्रह्माकुमार बन गये माना चल रहे हैं लेकिन किस गति से? तीव्रगति वाला ही समय पर मंज़िल पर पहुँचेगा, नहीं तो पीछे रह जायेगा। यहाँ भी प्राप्ति तो होती है लेकिन सूर्यवंशी की होती है या चन्द्रवंशी की होती है, अन्तर तो होता है ना। तो सूर्यवंशी में आने के लिए हर संकल्प, हर बोल से साधारणता समाप्त हो। अगर कोई हीरो एक्टर साधारण एक्ट करे तो सभी उस पर हंसेंगे ना। तो यह सदा स्मृति रहे कि मैं विशेष पार्टधारी हूँ इसलिये हर कर्म विशेष हो, हर क़दम विशेष हो, हर सेकेण्ड, हर समय, हर संकल्प श्रेष्ठ हो। ऐसे नहीं कि ये तो 5 मिनट साधारण हुआ। पांच मिनट, पांच मिनट नहीं है, संगमयुग के पांच मिनट बहुत महत्व वाले हैं, पांच मिनट पांच साल से भी ज्यादा हैं इसलिए इतना अटेन्शन रहे। इसको कहते हैं तीव्र पुरुषार्थी। तीव्र पुरुषार्थियों का स्लोगन कौन-सा है? ”अभी नहीं तो कभी नहीं।” तो यह सदा याद रहता है? क्योंकि सदा का राज्य-भाग्य प्राप्त करना चाहते हो तो अटेन्शन भी सदा हो। अब थोड़ा समय सदा का अटेन्शन बहुत-काल, सदा की प्राप्ति कराने वाला है। तो हर समय यह स्मृति रहे और चेकिंग हो कि चलते-चलते कभी साधारणता तो नहीं आ जाती? जैसे बाप को परम आत्मा कहा जाता है, तो परम है ना। तो जैसे बाप वैसे बच्चे भी हर बात में परम यानी श्रेष्ठ हो।

तो अभी स्वयं का पुरुषार्थ भी तीव्र हो और सेवा में भी कम समय, कम मेहनत लगे और सफलता ज्यादा हो। एक अनेकों जितना काम करे। तो ऐसा प्लैन बनाओ। पंजाब है तो बहुत पुराना। सेवा के आदि से हो तो आदि स्थान वाले कोई आदि रत्न निकालो। वैसे भी पंजाब को शेर कहते हैं ना। तो शेर गजघोर करता है। तो गजघोर अर्थात् बुलन्द आवाज़। अब देखेंगे – क्या करते हैं और कौन करते हैं?

वरदान:- अमृतवेले से रात तक याद के विधिपूर्वक हर कर्म करने वाले सिद्धि स्वरूप भव 
अमृतवेले से लेकर रात तक जो भी कर्म करो, याद के विधिपूर्वक करो तो हर कर्म की सिद्धि मिलेगी। सबसे बड़े से बड़ी सिद्धि है – प्रत्यक्षफल के रूप में अतीन्द्रिय सुख की अनुभूति होना। सदा सुख की लहरों में, खुशी की लहरों में लहराते रहेंगे। तो यह प्रत्यक्षफल भी मिलता है और फिर भविष्य फल भी मिलता है। इस समय का प्रत्यक्षफल अनेक भविष्य जन्मों के फल से श्रेष्ठ है। अभी-अभी किया, अभी-अभी मिला – इसको ही कहते हैं प्रत्यक्षफल।
स्लोगन:- स्वयं को निमित्त समझ हर कर्म करो तो न्यारे और प्यारे रहेंगे, मैं पन आ नहीं सकता।
Font Resize