daily murli 19 september

TODAY MURLI 19 SEPTEMBER 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 19 September 2020

19/09/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, the true Guide has come to teach you the true pilgrimage. Purity is the main thing in your pilgrimage. Stay in remembrance and become pure.
Question: About what things should you, the children of the Messenger, not argue or debate, but just have one concern?
Answer: Children of the Messenger, give everyone this message: Consider yourself to be a soul and remember the Father. Through this fire of yoga, your sins will be absolved. Just have this one concern. There is no benefit to be had in getting involved in other things. You simply have to give everyone the Father’s introduction through which they can become theists. When they understand who the Father, the Creator, is, it will become easy for them to understand creation.
Song: Our pilgrimage is unique.

Om shanti. You sweetest, spiritual children know that you are residents of the true pilgrimage place. The true Guide and we, His children, are going on the true pilgrimage. This is the land of falsehood; it is the impure land. We are now going to the land of truth, the pure land. People go on pilgrimages. Sometimes, there are special pilgrimages where anyone can go at any time. This too is a pilgrimage where you go when the true Guide, Himself, comes. He comes at the confluence of every cycle. There’s no question of heat or cold in this, nor is there any question of stumbling around. This is the pilgrimage of remembrance. Even sannyasis go on those pilgrimages. Those who are true to their pilgrimage remain pure. All of you are also on a pilgrimage. You are Brahmins. Who are the true Brahma Kumars and Kumaris? Those who never indulge in vice. All of you are definitely effort-makers. Although there may be thoughts in the mind, the main thing is not to actually indulge in vice. If someone asks you how many of you Brahmins are viceless, tell him: There is no need to ask this question. Would you be nourished by all those things? You simply have to become pilgrims. There is no benefit in asking how many pilgrims there are. Some Brahmins are true and some are false. Today, they are true and tomorrow they become false. If someone falls into vice, he does not remain a Brahmin; he becomes a shudra again. Today, he makes a promise. Tomorrow, he falls into vice and becomes like a devil. To what extent should the Father sit here and explain those things? Neither will you be nourished by those things, nor will your mouths be sweetened by them. Here, we are remembering the Father and also coming to understand the beginning, the middle and the end of the Father’s creation. There is no value in anything else. Tell them: Here, we are taught to remember the Father, and purity is the main thing in this. Those who are pure today and who then become impure would no longer be Brahmins. For how long can we sit here and tell you all of those things? Many fall in this way in the storms of Maya. This is why no rosary of Brahmins can be created. We are children of the Messenger and are giving you His message. We children of the Messenger give you this message: Consider yourselves to be souls and remember the Father. Through this fire of yoga, your sins will be absolved. Just have this one concern. Human beings ask many questions. There is no benefit to be had in getting involved with anything except this one aspect. Here, you have to know how to change from an atheist to a theist and from an orphan to someone who belongs to the Lord and Master so that you can claim your inheritance from the Master: these are the things you should ask. Otherwise, all of you are effort-makers. Many fail due to vice. When someone sees his wife after many days, don’t even ask! When someone has the habit of drinking or smoking, then, because he isn’t able to stop doing that, he will drink or smoke secretly even when he goes on a pilgrimage. What can anyone do? There are many who don’t tell the truth and continue to hide what they do. Baba shows you children many ways that you can reply tactfully. Only give the introduction of the one Father through whom human beings can become theists. Until they first know the Father, it is useless to ask questions. There are many who come here but don’t understand anything. They simply continue to listen, but they experience no benefit. Some write to Baba: A thousand, two thousand people came here, but out of all of them, only one or two continue to come to understand. Such-and-such important people continue to come (to the large gatherings). It is understood that they have not received the introduction that they should have. Only when they receive the full introduction can they understand that what you are saying is right. The Father of us souls is the Supreme Father, the Supreme Soul. He is teaching us. He says: Consider yourself to be a soul and remember Me! Become pure in this final birth. Those who don’t remain pure are not Brahmins; they are shudras. This is a battlefield. The tree will continue to grow and there will also be storms. Many leaves will continue to fall off. Who would sit and count who the true Brahmins are? True Brahmins are those who never become shudras, those whose eyes are not even slightly attracted to anyone. The karmateet stage will be reached at the end. The destination is very high. Nothing should enter your mind. You will reach that stage at the end. At this time, not a single one has such a stage. All of you are effort-makers at this time and you continue to fluctuate. The main thing is the eyes. We are souls and we are playing our parts through these bodies. You need to make this practice very firm. Wars will continue to take place for as long as this kingdom of Ravan exists. The karmateet stage will be reached at the end. As you progress, you will have this feeling and you will continue to understand it. At the moment, the tree is still very small. As soon as there are storms, leaves fall off. Those who are weak fall off the tree. Each one of you can ask yourself what your stage is. Don’t get too involved with those who ask questions. Tell them: We are following the Father’s shrimat. The unlimited Father comes and gives us unlimited happiness, that is, He is establishing the new world where there is only happiness. The region where human beings reside is called the world. In the incorporeal world, there are only souls. It doesn’t enter anyone’s intellect how each soul is a tiny point. You mustn’t tell this to anyone new at first. First of all, explain to them that the unlimited Father gives you the unlimited inheritance. Bharat was pure and has now become impure. After the iron age, there will be the golden age. No one except you BKs can explain this. This is the new creation and the Father is teaching you. This explanation should remain in your intellects. There’s nothing difficult about it, but Maya makes you forget and makes you perform sinful acts. There has been the habit of performing sinful acts for half the cycle. All of those devilish habits have to be removed. Baba, Himself, says: All of you are effort-makers. It takes a long time to attain the karmateet stage. Brahmins never indulge in vice. While on the battlefield, they are defeated. There is no benefit to be had by asking such questions. First of all, remember your Father. Shiv Baba orders us exactly as He did in the previous cycle: Consider yourselves to be souls and remember Me! This is the same battle. The Father is only One. Krishna cannot be called the Father. They have inserted the name of Krishna. Only the Father changes wrong and makes it right. This is why He is called the Truth. At this time, it is only you children who know the secrets of the whole world. In the golden age, it is the deity dynasty. In Ravan’s kingdom, it is the Devil’s dynasty. You have to show the confluence age very clearly. This is the most elevated confluence age. On that side, there are deities whereas on this side, there are devils. However, there is no battle between them. The battle is between you Brahmins and the vices, but this isn’t called a battle either. The greatest vice of all is lust. This vice is the greatest enemy. By conquering it, you become conquerors of the world. It is because of this vice that innocent ones are beaten. There are many types of obstacles. The main thing is purity. By continuing to make effort and continuing to experience storms, you will eventually become victorious and Maya will become tired. In a boxing match, the stronger one will very quickly overcome his opponent. Their business is to fight very well and gain victory. Strong ones become very famous; they receive prizes. Here, it’s an incognito thing for you. You souls know that you were pure and that you have now become impure. You now have to become pure again. Give everyone this message. Don’t get caught up in those questions they ask. Your business is spiritual. Baba filled us souls with knowledge and we received our reward afterwards, when the knowledge disappeared. Baba is now once again filling us with knowledge. Now, maintain your intoxication. Tell them: We are giving you the Father’s message: Remember the Father and you will benefit. Your business is spiritual. The first and foremost thing is to know the Father. Only the Father is the Ocean of Knowledge. He doesn’t relate the scriptures. Those people who become doctors of philosophy study books, whereas God is knowledge-full. He has the knowledge of the beginning, the middle and the end of the world. Did He study anything? He knows all the Vedas and scriptures etc. The Father says: My part is to explain knowledge to you. No one else can explain to you the contrast between knowledge and devotion. This is the study of knowledge. Devotion cannot be called knowledge. The Bestower of Salvation is the one Father alone. World history definitely repeats. After the old world ends, the new world definitely has to come. You children know that Baba is teaching you once again. The Father says: Remember Me! He emphasises this the most. Baba knows that many very well known children are very weak in this pilgrimage of remembrance. Those who are not very well known, those who are in bondage or poor, stay on the pilgrimage of remembrance a great deal. Each one of you can ask your heart: For how long do I remember the Father? The Baba says: Children, remember Me as much as possible. Remain very cheerful inside. God is teaching you! Therefore, you should have so much happiness! The Father says: You souls were pure. Then, by taking different bodies while playing your parts, you have become impure. You now have to become pure again and then play your divine parts again. You belong to the deity religion, do you not? You have been around the cycle of 84 births. Not everyone of the sun dynasty takes 84 births; some continue to come down later. Otherwise, everyone would come down immediately. If someone wakes up early in the morning and uses his intellect, he can understand these things. It is you children who have to churn the ocean of knowledge. Shiv Baba doesn’t do this. He says: Understand that whatever I tell you according to the drama, I am only explaining the same things that I explained to you in the previous cycle. You have to churn this knowledge because it is you who have to give this knowledge to others and explain it. This Brahma also churns knowledge. It is you BKs who have to churn it, not Shiv Baba. The main thing is not to talk too much with anyone. Those who study the scriptures argue a lot among themselves. You mustn’t argue or debate with anyone. You simply have to give everyone the message. First of all, explain the main thing. Make them write down the first lesson of who it is that is teaching you. If you explain this to them at the end, they develop doubt. Because their intellects don’t have faith, they don’t understand anything. They simply say: What you are saying is right! First of all, explain the main thing about knowing who the Father, the Creator, is and then understand the secrets of creation. The main thing is who the God of the Gita is. You have to win them over in that. Which religion was established first? Who makes the old world new? Only the Father gives new knowledge to souls, and it is through this that the new world is established. You have been given recognition of the Father and the new creation. First of all, make Alpha firm for them so that they can definitely attain the kingdom. Only from the Father can you receive this inheritance. As soon as you know the Father, you claim a right to the inheritance. As soon as a baby takes birth and sees his parents, that becomes fixed for him. He doesn’t go to anyone but his mother and father, because it is from the mother that he receives milk. You too are receiving the milk of knowledge. He is the Mother and Father, is He not? These are very subtle things. No one can understand these things quickly. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and Good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Become a true, pure Brahmin. Never have any thoughts in your mind of becoming impure, a shudra. Create such a stage that your eyes are never attracted by anyone else.
  2. Remember everything that the Father explains to you. Finish the devilish habits that you have formed of performing sinful acts. Continue to make effort to attain the elevated destination of complete purity.
Blessing: May you have an attitude of being beyond while living in the household and become a constant yogi.
The easy way to become a constant yogi is to maintain an attitude of being beyond while living in your household. An attitude beyond means the soul-conscious form. Those who remain stable in soul-consciousness become constantly detached and loving to the Father. No matter what they do, they will feel as though they haven’t done anything, but have just been playing a game. So, by being soul conscious while living in your household you will experience everything to be very easy and like a game. You will not feel it to be a bondage. With love and co-operation, simply make an addition of powerand you will be able to take a high jump.
Slogan: Refinement of the intellect, that is, lightness of the soul, is the personality of Brahmin life.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 19 SEPTEMBER 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 19 September 2020

Murli Pdf for Print : – 

19-09-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
”मीठे बच्चे – सत्य पण्डा आया है तुम्हें सच्ची-सच्ची यात्रा सिखलाने, तुम्हारी यात्रा में मुख्य है पवित्रता, याद करो और पवित्र बनो”
प्रश्नः- तुम मैसेन्जर वा पैगम्बर के बच्चों को किस एक बात के सिवाए और किसी भी बात में आरग्यु नहीं करनी है?
उत्तर:- तुम मैसेन्जर के बच्चे सबको यही मैसेज दो कि अपने को आत्मा समझो और बाप को याद करो तो इस योग अग्नि से तुम्हारे विकर्म विनाश होंगे। यही ओना रखो, बाकी और बातों में जाने से कोई फायदा नहीं। तुम्हें सिर्फ सभी को बाप का परिचय देना है, जिससे वह आस्तिक बनें। जब रचता बाप को समझ लेंगे तो रचना को समझना सहज हो जायेगा।
गीत:- हमारे तीर्थ न्यारे हैं…….

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे रूहानी बच्चे जानते हैं कि हम सत्य तीर्थवासी हैं। सच्चा पण्डा और हम उनके बच्चे जो हैं वह भी सच्चे तीर्थ पर जा रहे हैं। यह है झूठ खण्ड अथवा पतित खण्ड। अभी सचखण्ड वा पावन खण्ड में जा रहे हैं। मनुष्य यात्रा पर जाते हैं ना। कोई-कोई खास यात्रायें लगती हैं, जहाँ पर कोई कभी भी जा सकते हैं। यह भी यात्रा है, इसमें जाना तब होता है जब सत्य पण्डा खुद आये। वह आता है कल्प-कल्प के संगम पर। इसमें न ठण्डी, न गर्मी की बात है। न धक्के खाने की बात है। यह तो है याद की यात्रा। उन यात्राओं में सन्यासी भी जाते हैं। सच्ची-सच्ची यात्रा करने वाले जो होते हैं वह पवित्र रहते हैं। तुम्हारे में सभी यात्रा पर हैं। तुम ब्राह्मण हो। सच्चे-सच्चे ब्रह्माकुमार-कुमारियाँ कौन हैं? जो कभी भी विकार में नहीं जाते हैं। पुरुषार्थी तो जरूर हैं। मन्सा संकल्प भल आयें, मुख्य है ही विकार की बात। कोई पूछे निर्विकारी ब्राह्मण कितने हैं आपके पास? बोलो, यह पूछने की जरूरत नहीं है। इन बातों से आपका क्या पेट भरेगा। तुम यात्री बनो। यात्रा करने वाले कितने हैं, इस पूछने से कोई फायदा नहीं है। ब्राह्मण तो कोई सच्चे भी हैं, तो झूठे भी हैं। आज सच्चे हैं, कल झूठे बन जाते हैं। विकार में गया तो ब्राह्मण नहीं ठहरा। फिर शूद्र का शूद्र हो गया। आज प्रतिज्ञा करते कल विकार में गिर असुर बन जाते हैं। अब यह बातें कहाँ तक बैठ समझायें। इनसे पेट तो नहीं भरेगा वा मुख मीठा नहीं होगा। यहाँ हम बाप को याद करते हैं और बाप की रचना के आदि-मध्य-अन्त को जानते हैं। बाकी और बातों में कुछ रखा नहीं है। बोलो, यहाँ बाप की याद सिखाई जाती है और पवित्रता है मुख्य। जो आज पवित्र बन फिर अपवित्र बन जाते हैं, तो वह ब्राह्मण ही नहीं रहा। वह हिसाब कहाँ तक बैठ तुमको सुनायेंगे। ऐसे तो बहुत गिरते होंगे माया के तूफानों में, इसलिए ब्राह्मणों की माला नहीं बन सकती है। हम तो पैगम्बर के बच्चे पैगाम सुनाते हैं, मैसेन्जर के बच्चे मैसेज देते हैं। अपने को आत्मा समझ और बाप को याद करो तो इस योग अग्नि से विकर्म विनाश होंगे। यह ओना रखो। बाकी प्रश्न तो ढेर के ढेर मनुष्य पूछेंगे। सिवाए एक बात के और कोई बातों मे जाने से कोई फायदा ही नहीं। यहाँ तो यह जानने का है कि नास्तिक से आस्तिक, निधनके से धन के कैसे बनें, जो धनी से वर्सा पायें – यह पूछो। बाकी तो सब पुरुषार्थी हैं। विकार की बात में ही बहुत फेल होते हैं। बहुत दिनों के बाद स्त्री को देखते हैं तो बात मत पूछो। कोई को शराब की आदत होती है, तीर्थों पर जायेंगे तो शराब अथवा बीड़ी की जिनको आदत होगी वह उसके बिगर रह नहीं सकेंगे। छिपाकर भी पीते हैं। कर ही क्या सकते। बहुत हैं जो सच नहीं बोलते हैं। छिपाते रहते हैं।

बाबा बच्चों को युक्तियाँ बतलाते हैं कि कैसे युक्ति से जवाब देना चाहिए। एक बाप का ही परिचय देना है, जिससे मनुष्य आस्तिक बनें। पहले जब तक बाप को नहीं जाना है तब तक कोई प्रश्न पूछना ही फालतू है। ऐसे बहुत आते हैं, समझते कुछ भी नहीं। सिर्फ सुनते रहते, फायदा कुछ भी नहीं। बाबा को लिखते हैं हज़ार दो हज़ार आये, उनसे दो-एक समझने लिए आते रहते हैं। फलाना-फलाना बड़ा आदमी आता रहता है, हम समझ जाते हैं, उनको जो परिचय मिलना चाहिए वह मिला नहीं है। पूरा परिचय मिले तो समझें यह तो ठीक कहते हैं, हम आत्माओं का बाप परमपिता परमात्मा है, वह पढ़ाते हैं। कहते हैं अपने को आत्मा समझ मुझे याद करो। यह अन्तिम जन्म पवित्र बनो। जो पवित्र नहीं रहते वह ब्राह्मण नहीं, शूद्र हैं। लड़ाई का मैदान है। झाड़ बढ़ता रहेगा और तूफान भी लगेंगे। बहुत पत्ते गिरते रहेंगे। कौन बैठ गिनती करेंगे कि सच्चे ब्राह्मण कौन हैं? सच्चे वह जो कभी शूद्र न बनें। ज़रा भी दृष्टि न जाए। अन्त में कर्मातीत अवस्था होती है। बड़ी ऊंची मंजिल है। मन्सा में भी न आये, वह अवस्था अन्त में होनी है। इस समय एक की भी ऐसी अवस्था नहीं है। इस समय सब पुरुषार्थी हैं। नीचे-ऊपर होते रहते हैं। मुख्य आंखों की ही बात है। हम आत्मा हैं, इस शरीर द्वारा पार्ट बजाते हैं-यह पक्का अभ्यास चाहिए। जब तक रावण राज्य है, तब तक युद्ध चलता रहेगा। पिछाड़ी में कर्मातीत अवस्था होगी। आगे चलकर तुमको फीलिंग आयेगी, समझते जायेंगे। अभी तो झाड़ बहुत छोटा है, तूफान लगता है, पत्ते गिर पड़ते हैं। जो कच्चे हैं वह गिर पड़ते हैं। हर एक अपने से पूछे-मेरी अवस्था कहाँ तक है? बाकी जो प्रश्न पूछते हैं उन बातों में जास्ती जाओ ही नहीं। बोलो, हम बाप की श्रीमत पर चल रहे हैं। वह बेहद का बाप आकर बेहद का सुख देते हैं अथवा नई दुनिया स्थापन करते हैं। वहाँ सुख ही होता है। जहाँ मनुष्य रहते हैं उसको ही दुनिया कहा जाता है। निराकारी वर्ल्ड में आत्मायें हैं ना। यह किसकी बुद्धि में नहीं है कि आत्मा कैसे बिन्दी है। यह भी पहले कोई नये को नहीं समझाना है। पहले-पहले तो समझाना है – बेहद का बाप बेहद का वर्सा देते हैं। भारत पावन था, अभी पतित है। कलियुग के बाद फिर सतयुग आना है। दूसरा कोई भी समझा न सके, सिवाए बी.के. के। यह है नई रचना। बाप पढ़ा रहे हैं – यह समझानी बुद्धि में रहनी चाहिए। कोई डिफीकल्ट बात नहीं है, परन्तु माया भुला देती है, विकर्म करा देती है। आधाकल्प से विकर्म करने की आदत पड़ी हुई है। वह सब आसुरी आदतें मिटानी हैं। बाबा खुद कहते हैं – सब पुरूषार्थी हैं। कर्मातीत अवस्था को पाने में बहुत टाइम लगता है। ब्राह्मण कभी विकार में नहीं जाते। युद्ध के मैदान में चलते-चलते हार खा लेते हैं। इन प्रश्नाsं से कोई फायदा नहीं। पहले अपने बाप को याद करो। हमको शिवबाबा ने कल्प पहले मुआफिक फरमान दिया है कि अपने को आत्मा समझ मुझे याद करो। यह वही लड़ाई है। बाप एक है, कृष्ण को बाप नहीं कहेंगे। कृष्ण का नाम डाल दिया है। रांग से राइट बनाने वाला बाप है, तब तो उनको ट्रूथ कहा जाता है ना। इस समय तुम बच्चे ही सारे सृष्टि के राज़ को जानते हो। सतयुग में है डीटी डिनायस्टी। रावण राज्य में फिर है आसुरी डिनायस्टी। संगमयुग क्लीयर कर दिखाना है, यह है पुरुषोत्तम संगमयुग। उस तरफ देवतायें, इस तरफ असुर। बाकी उन्हों की लड़ाई हुई नहीं है। लड़ाई तुम ब्राह्मणों की है विकारों से, इनको भी लड़ाई नहीं कहेंगे। सबसे बड़ा है काम विकार, यह महाशत्रु है। इन पर जीत पाने से ही तुम जगतजीत बनेंगे। इस विष पर ही अबलायें मार खाती हैं। अनेक प्रकार के विघ्न पड़ते हैं। मूल बात है पवित्रता की। पुरूषार्थ करते-करते, तूफान आते-आते तुम्हारी जीत हो जायेगी। माया थक जायेगी। कुश्ती में पहलवान जो होते हैं, वह झट सामना कर लेते हैं। उन्हों का धन्धा ही है अच्छी रीति लड़कर जीत पाना। पहलवान का बड़ा नामाचार होता है। इनाम मिलता है। तुम्हारी तो यह है गुप्त बात।

तुम जानते हो हम आत्मायें पवित्र थी। अभी अपवित्र बनी हैं फिर पवित्र बनना है। यही मैसेज सबको देना है और कोई भी प्रश्न पूछे, तुमको इन बातों में जाना ही नहीं है। तुम्हारा है ही रूहानी धन्धा। हम आत्माओं में बाबा ने ज्ञान भरा था, बाद में प्रालब्ध पाई, ज्ञान खत्म हो गया। अब फिर बाबा ज्ञान भर रहे हैं। बाकी नशे में रहो, बोलो बाप का मैसेज देते हैं कि बाप को याद करो तो कल्याण होगा। तुम्हारा धन्धा ही यह रूहानी है। पहली-पहली बात कि बाप को जानों। बाप ही ज्ञान का सागर है। वह कोई पुस्तक थोड़ेही सुनाते हैं। वो लोग जो डॉक्टर ऑफ फिलॉसॉफी आदि बनते हैं, वह किताब पढ़ते हैं। भगवान तो नॉलेजफुल है। उनको सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त की नॉलेज है। वह कुछ पढ़ा है क्या? वह तो सब वेदों-शास्त्रों आदि को जानते हैं। बाप कहते हैं मेरा पार्ट है तुमको नॉलेज समझाने का। ज्ञान और भक्ति का कान्ट्रास्ट और कोई बता न सके। यह है ज्ञान की पढ़ाई। भक्ति को ज्ञान नहीं कहा जाता है। सर्व का सद्गति दाता एक ही बाप है। वर्ल्ड की हिस्ट्री जरूर रिपीट होगी। पुरानी दुनिया के बाद फिर नई दुनिया जरूर आनी है। तुम बच्चे जानते हो बाबा हमको फिर से पढ़ाते हैं। बाप कहते हैं मुझे याद करो, ज़ोर सारा इस पर है। बाबा जानते हैं बहुत अच्छे-अच्छे नामीग्रामी बच्चे इस याद की यात्रा में बहुत कमज़ोर हैं और जो नामीग्रामी नहीं, बांधेलियां हैं, गरीब हैं, वह याद की यात्रा में बहुत रहते हैं। हर एक अपनी दिल से पूछे-मैं बाप को कितना समय याद करता हूँ? बाबा कहते हैं – बच्चे, जितना हो सके तुम मुझे याद करो। अन्दर में बहुत हर्षित रहो। भगवान पढ़ाते हैं तो कितनी खुशी होनी चाहिए। बाप कहते हैं तुम पवित्र आत्मा थे फिर शरीर धारण कर पार्ट बजाते-बजाते पतित बने हो। अब फिर पवित्र बनना है। फिर वही दैवी पार्ट बजाना है। तुम दैवी धर्म के हो ना। तुमने ही 84 का चक्र लगाया है। सब सूर्यवंशी भी 84 जन्म थोड़ेही लेते हैं। पीछे आते रहते हैं ना। नहीं तो फट से सभी आ जाएं। सवेरे उठकर बुद्धि से कोई काम ले तो समझ सकते हैं। बच्चों को ही विचार सागर मंथन करना है। शिवबाबा तो नहीं करते हैं। वह तो कहते हैं ड्रामा अनुसार जो कुछ सुनाता हूँ, ऐसे ही समझो कल्प पहले मुआफिक जो समझाया था, वही समझाया। मंथन तुम करते हो। तुमको ही समझाना है, ज्ञान देना है। यह ब्रह्मा भी मंथन करते हैं। बी.के. को मंथन करना है, शिवबाबा को नहीं। मूल बात कोई से भी जास्ती टॉक नहीं करनी है। आरग्यु शास्त्रवादी आपस में बहुत करते हैं, तुमको आरग्यु (वाद-विवाद) नहीं करना है। तुमको सिर्फ पैगाम देना है। पहले सिर्फ मुख्य एक बात पर समझाओ और लिखाओ। पहले-पहले यह शब्क रखो कि यह कौन पढ़ाते हैं, सो लिखो। यह बात तुम पिछाड़ी में ले जाते हो इसलिए संशय पड़ता रहता है। निश्चयबुद्धि न होने कारण समझते नहीं हैं। सिर्फ कह देते बात ठीक है। पहले-पहले मुख्य बात ही यह है। रचता बाप को समझो फिर रचना का राज़ समझना। मुख्य बात गीता का भगवान कौन? तुम्हारी विजय भी इनमें होनी है। पहले-पहले कौन सा धर्म स्थापन हुआ? पुरानी दुनिया को नई दुनिया कौन बनाते हैं। बाप ही आत्माओं को नया ज्ञान सुनाते हैं, जिससे नई दुनिया स्थापन होती है। तुमको बाप और रचना की पहचान मिलती है। पहले-पहले तो अल्फ पर पक्का कराओ तो बे बादशाही है ही। बाप से ही वर्सा मिलता है। बाप को जाना और वर्से का हकदार बना। बच्चा जन्म लेता है, माँ-बाप को देखा और बस पक्का हो जायेगा। माँ-बाप के सिवाए कोई के पास जायेगा भी नहीं क्योंकि माँ से दूध मिलता है। यह भी ज्ञान का दूध मिलता है। मात-पिता है ना। यह बड़ी महीन बातें हैं, जल्दी कोई समझ न सकें। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) सच्चा-सच्चा पवित्र ब्राह्मण बनना है, कभी शूद्र (पतित) बनने का मन्सा में भी ख्याल न आये, जरा भी दृष्टि न जाए, ऐसी अवस्था बनानी है।

2) बाप जो पढ़ा रहे हैं, वह समझानी बुद्धि में रखनी है। जो विकर्म करने की आसुरी आदतें पड़ी हुई हैं, उन्हें मिटाना है। पुरूषार्थ करते-करते सम्पूर्ण पवित्रता की ऊंची मंजिल को प्राप्त करना है।

वरदान:- प्रवृत्ति में रहते पर-वृत्ति में रहने वाले निरन्तर योगी भव
निरन्तर योगी बनने का सहज साधन है-प्रवृत्ति में रहते पर-वृत्ति में रहना। पर-वृत्ति अर्थात् आत्मिक रूप। जो आत्मिक रूप में स्थित रहता है वह सदा न्यारा और बाप का प्यारा बन जाता है। कुछ भी करेगा लेकिन यह महसूस होगा जैसे काम नहीं किया है लेकिन खेल किया है। तो प्रवृत्ति में रहते आत्मिक रूप में रहने से सब खेल की तरह सहज अनुभव होगा। बंधन नहीं लगेगा। सिर्फ स्नेह और सहयोग के साथ शक्ति की एडीशन करो तो हाईजम्प लगा लेंगे।
स्लोगन:- बुद्धि की महीनता अथवा आत्मा का हल्कापन ही ब्राह्मण जीवन की पर्सनैलिटी है।

TODAY MURLI 19 SEPTEMBER 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 19 September 2019

Today Murli in Hindi:- Click Here

Read Murli 17 September 2019:- Click Here

19/09/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you have come to the unlimited Father to become viceless from vicious. Therefore, do not have any evil spirits in you.
Question: Which study is the Father now teaching you, a study that is not taught throughout the whole cycle?
Answer: At this time, the Supreme Father alone teaches the study of establishing a new kingdom, and the study of giving human beings a royal status. This new study is not taught throughout the whole cycle at any other time. The golden-aged kingdom is being established through this study.

Om shanti. You children know that you are souls, not bodies. This is called being soul conscious. All human beings are body conscious. This is the world of sinful souls, that is, it is the vicious world; it is the kingdom of Ravan. The golden age passed. All of those who lived there were viceless. You children know that you were pure deities and that you have become impure once again, whilst taking 84 births. Not everyone takes 84 births. Only the people of Bharat who took 82, 83 or 84 births were deities. They have now become impure. Bharat alone is remembered as the imperishable land. When it used to be the kingdom of Lakshmi and Narayan in Bharat, it was called the new world, new Bharat. It is now the old world, old Bharat. Those people were completely viceless; they didn’t have any vices. Those deities took 84 births and have now become impure; there are the strong evil spirits of lust, anger and greed. Out of those, the main evil spirit is body consciousness. This is the kingdom of Ravan. This Ravan becomes the enemy of Bharat for half the cycle when the five vices enter human beings. These evil spirits do not exist in the deities. As they take rebirth, those souls also became influenced by the vices. You know that when you were deities, you didn’t have the evil spirits of any of the vices. The golden and silver ages are called the kingdom of Rama. The copper and iron ages are called the kingdom of Ravan. Here, all men and women have the five vices in them. The five vices continue from the copper age to the iron age. You are now sitting at the most auspicious confluence age. You have come to the unlimited Father to become viceless from vicious. If anyone becomes viceless and then falls into vice, Baba writes: You have dirtied your face and it is now difficult for your face to become beautiful again. It is like falling from the fifth floor. The bones get broken. It also says in the Gita: God speaks: Lust is the greatest enemy. The original religious scripture of Bharat is the Gita. Every religion has just one scripture. The people of Bharat have many scriptures. That is called devotion. The new world is satopradhan and golden aged. There is no fighting or battling there. Everyone has a long lifespan and they are everhealthy and wealthy. You have now remembered that, as deities, you were very happy. There is no untimely death there; there is no fear of death. There, you have everything: health, wealth and happiness. In hell, there is no happiness. There is always one illness of the body or another. This is the world of limitless sorrow, whereas that is the world of limitless happiness. The unlimited Father would not create a world of sorrow. The Father creates a world of happiness. Then, the kingdom of Ravan comes and you experience sorrow and peacelessness in that. The golden age is the land of happiness and the iron age is the land of sorrow. To indulge in vice means to use the sword of lust on one another. People say: “This is God’s creation”, but no! This is not God’s creation, this is the creation of Ravan. God creates heaven. There is no sword of lust there. It is not that God gives happiness and sorrow. God is the unlimited Father, so how could He cause sorrow for the children? He says: I give you the inheritance of happiness. Then, after half the cycle, Ravan curses you. In the golden age, there was limitless happiness and you were very prosperous. There were so many diamonds and jewels in the one Somnath Temple. Bharat was so solvent; it is now insolvent. In the golden age you were 100% solvent, whereas in the iron age you are 100% insolvent. This play is predestined. It is now the iron age. By having alloy mixed in them, souls have now become totally tamopradhan. There is so much sorrow. These aeroplanes, etc. have also been invented in the last 100 years. This is called the pomp of Maya. So, people think that heaven was created through science. However, that is Ravan’s heaven. Seeing the pomp of Maya in the iron age, scarcely anyone comes to you. They think that they have palaces, cars, etc. The Father says: The golden age, when it is the kingdom of Lakshmi and Narayan, is called heaven. It is no longer the kingdom of Lakshmi and Narayan now. Their kingdom will now come again after the iron age. First of all, Bharat has a very small population. In the new world, there are only 900,000 deities. Then, growth continues later. The whole world continues to expand. First of all, there are just the deities. So, the unlimited Father sits here and tells you the history and geography of the world. No one except the Father can tell you this. He is called knowledge-full, God, the Father, the Father of all souls. All souls are brothers and then they become brothers and sisters. All of you are the adopted children of the one Prajapita Brahma. All souls are God’s children. He is called the Supreme Father and His name is Shiva; that is all. The Father explains: I have just the one name Shiva. Then, on the path of devotion, people have built many temples, and so they have given Me many names. There is so much paraphernalia of devotion. That cannot be called a study. There is no aim or objective in that. That is for coming down. Whilst coming down, you become tamopradhan and everyone now has to become satopradhan. You will become satopradhan and go to heaven and everyone else will become satopradhan and go to the land of peace. Remember this very well. Baba says: You called out to Me: Baba, come and make us impure ones pure. So, I have now come to make the whole world pure. People think that they will become pure by bathing in the Ganges. They consider the Ganges to be the Purifier. They consider water in a well to be the water of the Ganges and they bathe in that. They consider it to be an incognito Ganges. When they go on pilgrimages or to the mountains, where water emerges, they call that the incognito Ganges. That is called falsehood. God is said to be the Truth. However, everyone in the kingdom of Ravan speaks lies. God, the Father, alone establishes the land of truth. There is no falsehood there. Deities are offered pure food as bhog. This is now the devilish kingdom. In the golden and silver ages, there is God’s kingdom which is now being established. God Himself comes and purifies everyone. Deities do not have any vices. The subjects are as pure as the king and queen. Here, all are sinful, lustful and angry. The new world is called heaven and this world is called hell. No one except the Father can change hell into heaven. Here, all are impure residents of hell. In the golden age, they are pure. There, they would not say: We are going to bathe in the Ganges to become pure from impure. This is the variety human world tree and God is the Seed. He alone creates creation. He first of all creates deities. Then, as expansion takes place, there are so many religions. At first, there is one religion and one kingdom; there is nothing but happiness. People want there to be peace in the world. You are now establishing that. All the rest will be destroyed. Only a few will remain. This cycle continues to turn. It is now the most auspicious confluence age of the end of the iron age and the beginning of the golden age. This is called the benevolent, most auspicious confluence age. The golden age is being established after the iron age. You are studying at the confluence age and will receive the fruit of that in the golden age. To the extent that you become pure and study here, accordingly, you will claim a high status. Such a study does not exist anywhere else. You will receive the happiness of this study in the new world. If any evil spirit exists, firstly, there will have to be punishment; secondly, you will receive a low status there. Those who become complete and teach others will claim a high status. There are so many centres. There will be hundreds of thousands of centresCentres will be opened throughout the whole world. You have to become pure, charitable souls from sinful souls. You have an aim and objective. It is Shiv Baba alone who teaches you. He is the Ocean of Knowledge and the Ocean of Happiness. The Father alone comes and teaches you. This one does not teach you; it is that One who teaches you through this one. This one is remembered as God’s chariot, the Lucky Chariot. He is making you multimillion times fortunate. You become very wealthy. You never fall ill. You receive healthwealth and happiness, everything. Although you might have wealth here, there are also illnesses, etc. Therefore, there cannot be that happiness; there is one type of sorrow or another. That is called the land of happiness, heaven, Paradise. Who gave Lakshmi and Narayan that kingdom? No one knows that. They used to reside in Bharat. They were the masters of the world. There were no partitions, etc. Now, there are so many partitions. This is the kingdom of Ravan. It is divided into so many pieces. They continue to fight and quarrel. There, there was the kingdom of those deities in the whole of Bharat. There were no advisers, etc. there. Here, look how many advisers there are, because people are senseless. Advisers are also tamopradhan and impure; impure ones attract impure onesThey continue to become poverty-stricken and incur debts. In the golden age, the food and fruit, etc. are all very delicious. You go there, experience everything and come back; you go to the subtle region and also to heaven. The Father tells you how the world cycle turns. At first, there is just the one deity religion in Bharat. There are no other religions. Then, the kingdom of Ravan begins in the copper age. It is now the vicious world. You are now becoming pure and will become viceless deities. This is a school. God speaks: I teach you children Raj Yoga. You will become those in the future. You cannot study for a kingdom anywhere else. The Father Himself teaches you and gives you the kingdom of the new world. Shiv Baba alone is the Supreme Father, Teacher and Satguru. “Baba” means you should surely receive the inheritance. God would surely only give you the inheritance of heaven. Ravan, who is burnt every year, is the number one enemy of Bharat. Ravan made you into such devils! His kingdom continues for 2500 years. The Father says to you: I make you into the masters of the land of happiness. Ravan takes you to the land of sorrow. Your lifespan also becomes shorter. There is sudden, untimely death and many illnesses continue to emerge. There is nothing like that there; the very name is heaven. People now call themselves Hindus because they are impure, and so they are not worthy of being called deities. The Father sits here and explains to you through this chariot. He comes and sits next to this one in order to teach you. So, this one is also studying. All of us are students. Only the one Father is the Teacher. The Father is now teaching us. He will then come and teach us again after 5000 years. This knowledge and this study will disappear. You studied and became deities. You received your inheritance of happiness for 2500 years. Then there was sorrow, the curse of Ravan. Bharat is now very unhappy; it is the land of sorrow. People call out: O Purifier, come! Come and make us pure. You should now not have any vices in you. However, the illness of half the cycle is not removed that quickly. In those studies too, those who don’t study fail. Those who pass with honours claim a scholarship. Amongst you, those who become pure very well and then make others pure claim this prize. The rosary is of the eight who pass with honours. Then there is also the rosary of 108. That rosary is also turned. People don’t understand the significance of those. In a rosary, there is first the tassel, and there is then the dual-bead. Both husband and wife remain pure. They were pure and were called residents of heaven. Those souls have taken rebirth and become impure. They will now become pure here and go to the pure world. The history and geography of the world repeat. The vicious kings build temples to the viceless kings and worship them. From being worthy of worship, they then become worshippers. By becoming vicious, not even their crown of light remains. This play is predestined. This is an unlimited wonderful drama. First of all, there is just the one religion which is called the kingdom of Rama. Then, those of other religions come. Only the one Father can explain how this world cycle continues to turn. God is just One. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. God Himself becomes the Teacher and teaches you. Therefore, you have to study well. In order to claim a scholarship, become pure and do the service of making others pure.
  2. Remove all the evil spirits of lust, anger, etc. that are inside you. Make effort whilst keeping your aim and objective in front of you.
Blessing: May you remain detached from your old nature and sanskars with the power of realisation and become a conqueror of Maya.
The nature and sanskars of your old body are very harsh and they create a big obstruction to your becoming a conqueror of Maya. Even when the snake of your old nature and sanskars is finished, its lineage still remains and it deceives you when the time comes. Sometimes, you are so influenced by Maya that you don’t even consider something wrong to be wrong; you are influenced by external things. This is why you have to check yourself and use the power of realisation to become detached from any old, hidden nature or sanskars and you will then become a conqueror of Maya.
Slogan: Practise being bodiless – this practice will enable you to pass the paper of “Suddenly”.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 19 SEPTEMBER 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 19 September 2019

To Read Murli 18 September 2019:- Click Here
19-09-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – तुम बेहद के बाप पास आये हो विकारी से निर्विकारी बनने, इसलिए तुम्हारे में कोई भी भूत नहीं होना चाहिए”
प्रश्नः- बाप अभी तुम्हें ऐसी कौन-सी पढ़ाई पढ़ाते हैं जो सारे कल्प में नहीं पढ़ाई जाती?
उत्तर:- नई राजधानी स्थापन करने की पढ़ाई, मनुष्य को राजाई पद देने की पढ़ाई इस समय सुप्रीम बाप ही पढ़ाते हैं। यह नई पढ़ाई सारे कल्प में नहीं पढ़ाई जाती। इसी पढ़ाई से सतयुगी राजधानी स्थापन हो रही है।

ओम शान्ति। यह तो बच्चे जानते हैं हम आत्मा हैं, न कि शरीर। इनको कहा जाता है देही-अभिमानी। मनुष्य सब हैं देह-अभिमानी। यह है ही पाप आत्माओं की दुनिया अथवा विकारी दुनिया। रावण राज्य है। सतयुग पास्ट हो गया है। वहाँ सब निर्विकारी रहते थे। बच्चे जानते हैं – हम ही पवित्र देवी-देवता थे, जो 84 जन्मों के बाद फिर पतित बने हैं। सब तो 84 जन्म नहीं लेते हैं। भारतवासी ही देवी-देवता थे, जिन्हों ने 82, 83, 84 जन्म लिए हैं। वही पतित बने हैं। भारत ही अविनाशी खण्ड गाया हुआ है। जब भारत में लक्ष्मी-नारायण का राज्य था तब इसे नई दुनिया, नया भारत कहा जाता था। अभी है पुरानी दुनिया, पुराना भारत। वह तो सम्पूर्ण निर्विकारी थे, कोई विकार नहीं थे। वह देवतायें ही 84 जन्म ले अभी पतित बने हैं। काम का भूत, क्रोध का भूत, लोभ का भूत – यह सब कड़े भूत हैं। इनमें मुख्य है देह-अभिमान का भूत। रावण का राज्य है ना। यह रावण है भारत का आधाकल्प का दुश्मन, जब मनुष्य में 5 विकार प्रवेश करते हैं। इन देवताओं में यह भूत नहीं थे। फिर पुनर्जन्म लेते-लेते इनकी आत्मा भी विकारों में आ गई। तुम जानते हो हम जब देवी-देवता थे तो कोई भी विकार का भूत नहीं था। सतयुग-त्रेता को कहा ही जाता है राम राज्य, द्वापर-कलियुग को कहा जाता है रावण राज्य। यहाँ हर एक नर-नारी में 5 विकार हैं। द्वापर से कलियुग तक 5 विकार चलते हैं। अब तुम पुरूषोत्तम संगमयुग पर बैठे हो। बेहद के बाप के पास आये हो विकारी से निर्विकारी बनने के लिए। निर्विकारी बन अगर कोई विकार में गिरते हैं तो बाबा लिखते हैं तुमने काला मुँह किया, अब गोरा मुँह होना मुश्किल है। 5 मंजिल से गिरने जैसा है। हड्डियाँ टूट जाती हैं। गीता में भी है भगवानुवाच – काम महाशत्रु है। भारत का वास्तविक धर्मशास्त्र है ही गीता। हर एक धर्म का एक ही शास्त्र है। भारतवासियों के तो ढेर शास्त्र हैं। उसको कहा जाता है भक्ति। नई दुनिया सतोप्रधान गोल्डन एज है, वहाँ कोई लड़ाई-झगड़ा नहीं था। बड़ी आयु थी, एवरहेल्दी-वेल्दी थे। तुमको स्मृति आई हम देवतायें बहुत सुखी थे। वहाँ अकाले मृत्यु होती नहीं। काल का डर रहता नहीं। वहाँ हेल्थ, वेल्थ, हैप्पीनेस सब रहती है। नर्क में हैप्पीनेस होती नहीं। कुछ न कुछ शरीर का रोग लगा रहता है। यह है अपार दु:खों की दुनिया। वह है अपार सुखों की दुनिया। बेहद का बाप दु:खों की दुनिया थोड़ेही रचेंगे। बाप ने तो सुख की दुनिया रची। फिर रावण राज्य आया तो उनसे दु:ख-अशान्ति मिली। सतयुग है सुखधाम, कलियुग है दु:खधाम। विकार में जाना गोया एक-दो पर काम कटारी चलाना। मनुष्य कहते हैं यह तो भगवान की रचना है ना। परन्तु नहीं, भगवान की रचना नहीं, यह रावण की रचना है। भगवान ने तो स्वर्ग रचा। वहाँ काम कटारी होती नहीं। ऐसे नहीं दु:ख-सुख भगवान देता है। अरे, भगवान बेहद का बाप बच्चों को दु:ख कैसे देगा। वह तो कहते हैं मैं सुख का वर्सा देता हूँ फिर आधाकल्प के बाद रावण श्रापित करते हैं। सतयुग में तो अथाह सुख थे, मालामाल थे। एक ही सोमनाथ के मन्दिर में कितने हीरे-जवाहरात थे। भारत कितना सालवेन्ट था। अभी तो इनसालवेन्ट है। सतयुग में 100 प्रतिशत सालवेन्ट, कलियुग में 100 प्रतिशत इनसालवेन्ट – यह खेल बना हुआ है। अभी है आइरन एज, खाद पड़ते-पड़ते बिल्कुल तमोप्रधान बन गये हैं। कितना दु:ख है। यह एरोप्लेन आदि भी 100 वर्ष में बने हैं। इनको कहा जाता है माया का पाम्प। तो मनुष्य समझते साइंस ने तो स्वर्ग बना दिया है। परन्तु यह है रावण का स्वर्ग। कलियुग में माया का पाम्प देख तुम्हारे पास मुश्किल आते हैं। समझते हैं हमारे पास तो महल मोटरें आदि हैं। बाप कहते हैं स्वर्ग तो सतयुग को कहा जाता है, जब इन लक्ष्मी-नारायण का राज्य था। अब इन लक्ष्मी-नारायण का राज्य थोड़ेही है। अब कलियुग के बाद फिर इनका राज्य आयेगा। पहले भारत बहुत छोटा था। नई दुनिया में होते ही हैं 9 लाख देवतायें। बस। पीछे वृद्धि को पाते रहते हैं। सारी सृष्टि वृद्धि को पाती है ना। पहले-पहले सिर्फ देवी-देवता थे। तो बेहद का बाप वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी बैठ समझाते हैं। बाप बिगर और कोई बतला न सके। उनको कहा जाता है नॉलेजफुल गॉड फादर। सब आत्माओं का फादर। आत्मायें सब भाई-भाई हैं फिर भाई और बहन बनती हैं। तुम सब हो एक प्रजापिता ब्रह्मा के एडाप्टेड चिल्ड्रेन। सभी आत्मायें उनकी सन्तान तो हैं ही। उनको कहा जाता है परमपिता, उनका नाम है शिव। बस। बाप समझाते हैं – मेरा नाम एक ही शिव है। फिर भक्ति मार्ग में मनुष्यों ने बहुत मन्दिर बनाये हैं तो बहुत नाम रख दिये हैं। भक्ति की सामग्री कितनी ढेर हैं। उसको पढ़ाई नहीं कहेंगे। उसमें एम ऑबजेक्ट कुछ भी नहीं। है ही नीचे उतरने की। नीचे उतरते-उतरते तमोप्रधान बन जाते हैं फिर सतोप्रधान बनना है सबको। तुम सतोप्रधान बनकर स्वर्ग में आयेंगे, बाकी सब सतोप्रधान बन शान्तिधाम में रहेंगे। यह अच्छी रीति याद करो। बाबा कहते हैं तुमने हमको बुलाया है – बाबा, हम पतितों को आकर पावन बनाओ तो अब मैं सारी दुनिया को पावन बनाने आया हूँ। मनुष्य समझते हैं गंगा स्नान करने से पावन बन जायेंगे। गंगा को पतित-पावनी समझते हैं। कुएं से पानी निकला, उसको भी गंगा का पानी समझ स्नान करते हैं। गुप्त गंगा समझते हैं। तीर्थ यात्रा पर वा कोई पहाड़ी पर जायेंगे, उसको भी गुप्त गंगा कहेंगे। इसको कहा जाता है झूठ। गॉड इज़ ट्रूथ कहा जाता है। बाकी रावण राज्य में सब हैं झूठ बोलने वाले। गॉड फादर ही सचखण्ड स्थापन करते हैं। वहाँ झूठ की बात नहीं होती। देवताओं को भोग भी शुद्ध लगाते हैं। अभी तो है आसुरी राज्य, सतयुग-त्रेता में है ईश्वरीय राज्य, जो अब स्थापन हो रहा है। ईश्वर ही आकर सबको पावन बनाते हैं। देवताओं में कोई विकार होता नहीं। यथा राजा रानी तथा प्रजा सब पवित्र होते हैं। यहाँ सब हैं पापी, कामी, क्रोधी। नई दुनिया को स्वर्ग और इसको नर्क कहा जाता है। नर्क को स्वर्ग बाप के सिवाए कोई बना न सके। यहाँ सब हैं नर्कवासी पतित। सतयुग में हैं पावन। वहाँ ऐसे नहीं कहेंगे कि हम पतित से पावन होने के लिए स्नान करने जाते हैं।

यह वैराइटी मनुष्य सृष्टि रूपी झाड़ है। बीजरूप है भगवान। वही रचना रचते हैं। पहले-पहले रचते हैं देवी-देवताओं को। फिर वृद्धि को पाते-पाते इतने धर्म हो जाते हैं। पहले एक धर्म, एक राज्य था। सुख ही सुख था। मनुष्य चाहते भी हैं विश्व में शान्ति हो। वह अभी तुम स्थापन कर रहे हो। बाकी सब खत्म हो जायेंगे। बाकी थोड़े रहेंगे। यह चक्र फिरता रहता है। अभी है कलियुग अन्त और सतयुग आदि का पुरूषोत्तम संगमयुग। इसको कहा जाता है कल्याणकारी पुरूषोत्तम संगमयुग। कलियुग के बाद सतयुग स्थापन हो रहा है। तुम संगम पर पढ़ते हो इसका फल सतयुग में मिलेगा। यहाँ जितना पवित्र बनेंगे और पढ़ेंगे उतना ऊंच पद पायेंगे। ऐसी पढ़ाई कहाँ होती नहीं। तुमको इस पढ़ाई का सुख नई दुनिया में मिलेगा। अगर कोई भी भूत होगा तो एक तो सजा खानी पड़ेगी, दूसरा फिर वहाँ कम पद पायेंगे। जो सम्पूर्ण बन औरों को भी पढ़ायेंगे तो ऊंच पद भी पायेंगे। कितने सेन्टर्स हैं, लाखों सेन्टर्स हो जायेंगे। सारे विश्व में सेन्टर्स खुल जायेंगे। पाप आत्मा से पुण्य आत्मा बनना ही है। तुम्हारी एम ऑबजेक्ट भी है। पढ़ाने वाला एक शिवबाबा है। वह है ज्ञान का सागर, सुख का सागर। बाप ही आकर पढ़ाते हैं। यह नहीं पढ़ाते, इनके द्वारा वह पढ़ाते हैं। इनको गाया जाता है भगवान का रथ, भाग्यशाली रथ। तुमको कितना पद्मापद्म भाग्यशाली बनाते हैं। तुम बहुत साहूकार बनते हो। कभी भी बीमार नहीं पड़ते। हेल्थ, वेल्थ, हैप्पीनेस सब मिल जाता है। यहाँ भल धन है परन्तु बीमारियां आदि हैं। वह हैप्पीनेस रह न सके। कुछ न कुछ दु:ख रहता है। उनका तो नाम ही है सुखधाम, स्वर्ग, पैराडाइज़। इन लक्ष्मी-नारायण को यह राज्य किसने दिया? यह कोई भी नहीं जानते। यह भारत में रहते थे। विश्व के मालिक थे। कोई पार्टीशन आदि नहीं था। अभी तो कितने पार्टीशन हैं। रावण राज्य है। कितने टुकड़े-टुकड़े हो गये हैं। लड़ते रहते हैं। वहाँ तो सारे भारत में इन देवी-देवताओं का राज्य था। वहाँ वज़ीर आदि होते नहीं। यहाँ तो वजीर देखो कितने हैं क्योंकि बेअक्ल हैं। तो वजीर भी ऐसे ही तमोप्रधान पतित हैं। पतित को पतित मिले, कर-कर लम्बे हाथ…..। कंगाल बनते जाते हैं, कर्जा उठाते जाते हैं। सतयुग में तो अनाज फल आदि बहुत स्वादिस्ट होते हैं। तुम वहाँ जाकर सब अनुभव करके आते हो। सूक्ष्मवतन में भी जाते हो तो स्वर्ग में भी जाते हो। बाप कहते हैं सृष्टि चक्र कैसे फिरता है। पहले भारत में एक ही देवी-देवता धर्म था। दूसरा कोई धर्म नहीं था। फिर द्वापर में रावण राज्य शुरू होता है। अभी है विकारी दुनिया फिर तुम पवित्र बन निर्विकारी देवता बनते हो। यह स्कूल है। भगवानुवाच मैं तुम बच्चों को राजयोग सिखलाता हूँ। तुम भविष्य में यह बनेंगे। राजाई की पढ़ाई और कहीं नहीं मिलती। बाप ही पढ़ाकर नई दुनिया की राजधानी देते हैं। सुप्रीम फादर, टीचर, सतगुरू एक ही शिवबाबा है। बाबा माना जरूर वर्सा मिलना चाहिए। भगवान जरूर स्वर्ग का वर्सा ही देंगे। रावण जिसको हर वर्ष जलाते हैं, यह है भारत का नम्बरवन दुश्मन। रावण ने कैसा असुर बना दिया है। इनका राज्य 2500 वर्ष चलता है। तुमको बाप कहते हैं मैं तुमको सुखधाम का मालिक बनाता हूँ। रावण तुमको दु:खधाम में ले जाते हैं। तुम्हारी आयु भी कम हो जाती है। अचानक अकाले मृत्यु हो जाती है। अनेक बीमारियां होती रहती हैं। वहाँ ऐसी कोई बात नहीं होती। नाम ही है स्वर्ग। अभी अपने को हिन्दू कहलाते हैं क्योंकि पतित हैं। तो देवता कहलाने लायक नहीं हैं। बाप इस रथ द्वारा बैठ समझाते हैं, इनके बाजू में आकर बैठते हैं तुमको पढ़ाने। तो यह भी पढ़ते हैं। हम सब स्टूडेन्ट हैं। एक बाप ही टीचर है। अभी बाप पढ़ाते हैं। फिर आकर 5000 वर्ष के बाद पढ़ायेंगे। यह ज्ञान, यह पढ़ाई फिर गुम हो जायेगी। पढ़कर तुम देवता बनें, 2500 वर्ष सुख का वर्सा लिया फिर है दु:ख, रावण का श्राप। अभी भारत बहुत दु:खी है। यह है दु:खधाम। पुकारते भी हैं ना – पतित-पावन आओ, आकर पावन बनाओ। अभी तुम्हारे में कोई भी विकार नहीं होना चाहिए परन्तु आधाकल्प की बीमारी कोई जल्दी थोड़ेही निकलती है। उस पढ़ाई में भी जो अच्छी रीति नहीं पढ़ते हैं वह फेल होते हैं। जो पास विद् ऑनर होते हैं वह तो स्कॉलरशिप लेते हैं। तुम्हारे में भी जो अच्छी रीति पवित्र बन और फिर दूसरों को बनाते हैं, तो यह प्राइज़ लेते हैं। माला होती है 8 की। वह है पास विद् ऑनर। फिर 108 की माला भी होती है, वह माला भी सिमरी जाती है। मनुष्य इसका रहस्य थोड़ेही समझते हैं। माला में ऊपर है फूल फिर होता है डबल दाना मेरू। स्त्री और पुरूष दोनों पवित्र बनते हैं। यह पवित्र थे ना। स्वर्गवासी कहलाते थे। यही आत्मा फिर पुनर्जन्म लेते-लेते अब पतित बन गई है। फिर यहाँ से पवित्र बन पावन दुनिया में जायेंगे। वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी रिपीट होती है ना। विकारी राजायें निर्विकारी राजाओं के मन्दिर आदि बनाकर उन्हों को पूजते हैं। वही फिर पूज्य से पुजारी बन जाते हैं। विकारी बनने से फिर वह लाइट का ताज भी नहीं रहता है। यह खेल बना हुआ है। यह है बेहद का वन्डरफुल ड्रामा। पहले एक ही धर्म होता है, जिसको राम राज्य कहा जाता है फिर और-और धर्म वाले आते हैं। यह सृष्टि का चक्र कैसे फिरता रहता है सो एक बाप ही समझा सकते हैं। भगवान तो एक ही है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) स्वयं भगवान टीचर बनकर पढ़ाते हैं इसलिए अच्छी रीति पढ़ना है। स्कॉलरशिप लेने के लिए पवित्र बनकर दूसरों को पवित्र बनाने की सेवा करनी है।

2) अन्दर में काम, क्रोध आदि के जो भी भूत प्रवेश हैं, उन्हें निकालना है। एम ऑबजेक्ट को सामने रखकर पुरूषार्थ करना है।

वरदान:- महसूसता शक्ति द्वारा पुराने स्वभाव, संस्कार से न्यारा बनने वाले मायाजीत भव
इस पुरानी देह के स्वभाव और संस्कार बहुत कड़े हैं जो मायाजीत बनने में बड़ा विघ्न रूप बनते हैं। स्वभाव-संस्कार रूपी सांप खत्म भी हो जाता है लेकिन लकीर रह जाती है जो समय आने पर बार-बार धोखा दे देती है। कई बार माया के इतना वशीभूत हो जाते जो रांग को रांग भी नहीं समझते। परवश हो जाते हैं इसलिए चेक करो और महसूसता शक्ति द्वारा पुराने छिपे हुए स्वभाव संस्कार से न्यारे बनो तब मायाजीत बनेंगे।
स्लोगन:- विदेहीपन का अभ्यास करो – यही अभ्यास अचानक के पेपर में पास करायेगा।

TODAY MURLI 19 SEPTEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 19 September 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 18 September 2018 :- Click Here

19/09/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, give even a little wealth of knowledge to whoever comes to your door. First of all, ask them to fill in a form and then give the introduction of the two fathers.
Question: What is the magic of the Father, the Magician?
Answer: Look at the magic of the Magician Father! Such an elevated Father says: I have come to serve you. I also become your Child. When you children surrender yourselves to Me, I surrender Myself to you for 21 births. These are wonderful things. The Father teaches you with so much love. He fulfils all your desires. He doesn’t even take any fees etc. from you. He is called the clever Entertainer.
Song: The rain of knowledge is for those who are with the Beloved. 

Om shanti. The Beloved and the rain: the rain is for those who are with the Beloved. What type of rain? This is called the rain of knowledge. Who showers the rain of knowledge? The Ocean of Knowledge. Those who sang and composed this song don’t know anything. You are the lucky stars of knowledge. You have become children of the Ocean of Knowledge and this is why you are called stars of knowledge. You are receiving knowledge from the Father. Knowledgealways has an aim and objective ; you find the path to one attainment or another. You children know that you now have to claim your unlimited inheritance from the unlimited Father. He is the parlokik Father ( the Father from beyond). Sometimes when new students come to you, they are afraid to fill in a form. Therefore, you should explain to them. Since they have come to you, they should at least receive a little something from you. They are very poor, whereas you have authority. Yes, it is numberwise: some pass fully and others pass to a lesser degree. You have the intoxication of having plenty of jewels of knowledge. The Ocean of Knowledge doesn’t reside in a palace; He resides in a hut. He prefers to reside in a hut. If any of them say that they will not fill in a form, tell them: OK, just write your name so that we can show our senior sister that so-and-so came. You have come here to understand something; OK, write down your name. They also have to write down the name of their lokik (physical) father and you can then explain that they have two fathers. One is a lokik father and the other is the parlokik Father, the Supreme Father, the Supreme Soul. You speak of the Father, so at least write down His name. Since you call Him the Supreme Father, He must be the Father of all. Each one has a lokik and parlokik Father. On the path of devotion, there are both fathers. In the golden and silver ages you have a lokik father, but the name of the parlokik Father is not even mentioned. You children have to understand these things and then explain them to others. These matters that are explained to you are so easy. The One who is called God, the Father, is the One who resides in the world beyond. It enters your intellects that you really don’t remember your parlokik Father in the golden and silver ages. Here, everyone remembers Him. Therefore, you have to explain: You have written down the name of your lokik father, now write down the name of your parlokik Father. All living, embodied souls remember that Supreme Father, the Supreme Soul. He is the only One. Just as souls are incorporeal, similarly, He is incorporeal; He doesn’t have a subtle or a physical body. He cannot be called omnipresent. You can never say that your lokik father is omnipresent. Is it possible to receive an inheritance when you call him omnipresent? Then, why do you say that the parlokik Father is omnipresent? Everyone remembers the parlokik Father so much. Surely, the inheritance should therefore be received from Him. The creation also needs to receive the inheritance from the Creator. When you explain such new things, they will quickly understand. You can tell them from your experience: We are showing you the way to claim your inheritance from that Father. That Father is the Creator of heaven. You know that Bharat was liberated-in-life and that it is now in a life of bondage. Only the Father can liberate you from sorrow. This picture of Lakshmi and Narayan with the Trimurti is very good. Everyone should have one of these pictures. Explain using this picture: Truly, Lakshmi and Narayan were the original, eternal deities of Bharat; they were the masters of the golden age. It would definitely be the parlokik Father, the Creator of Heaven, who can give you the inheritance of heaven. Even if some don’t fill in a form, it is easy to make them write this down: You have two fathers and you receive an inheritance from both of them. There isn’t a life story of Lakshmi and Narayan or their children. They say of Krishna that he was carried away in a basket and that this happened… OK, from whom did Lakshmi and Narayan receive their kingdom? It truly was the kingdom of the original eternal deities and the first number in that were Lakshmi and Narayan. Who gave them that inheritance of heaven? This Prajapita Brahma is sitting here, and this inheritance, Lakshmi and Narayan, are just standing in front of you. Then, take them to the picture of the tree. Here, they are performing Raja Yoga. This is how they become Lakshmi and Narayan. It is so easy to explain this. It is very easy to explain to the devotees of Lakshmi and Narayan. When anyone comes inside, you definitely have to give him some teachings. Even those prostitutes and the natives have to be uplifted through you. However, you don’t have that power as yet. Baba has explained: You can also continue to buzz knowledge to your husbands. A wife can ask her husband: Tell me the name of your lokik father. OK, what is the name of the parlokik Father whom you repeatedly remember for birth after birth? You must surely receive something more from Him; you don’t receive anything by remembering Lakshmi and Narayan. The Father comes and serves you so much. He teaches you without your asking Him to do so. He says: Come and I will take you to heaven. He fulfils all your desires. There is also the image of the ordinary man who becomes Narayan. It is Lakshmi who is worshipped. They believe that they will receive wealth from Lakshmi. All of those things belong to the path of devotion. Where would Lakshmi (the wife) bring wealth from? She definitely receives it from her husband. The priests in the temples don’t know any of this. You children have to explain to them. You now understand what you used to do previously. You too didn’t understand anything at that time. You now know this very well. In the morning of Krishna Janamashtami they offer milk to him and rock him in a cradle. Then, at night, they feed him puris and rice pudding. Did he become so big in one day that he was able to eat puris and rice pudding? This too is something to be understood. You know that it is Radhe and Krishna who then become Lakshmi and Narayan. Shiv Baba gives them that status. They never offer puris and rice pudding to Shiva; they simply pour milk over His image. Shiv Baba is incorporeal, so He doesn’t have any name or form. What is the meaning of pouring milk over Him etc? They don’t feed Him anything. He is incorporeal, whereas Shri Krishna has a mouth and is able to eat chapattis etc. They don’t offer anything to Shiva. They offer things to Shankar, but not to Shiva. Shankar at least has a subtle form. The two cannot be the same. Baba is now giving you so much knowledge. These are such incognito matters. You are Shiv Baba’s gopikas. Shiva is also called the Child. Shiv Baba asks you: Why have you made Shiv Baba your Child? An inheritance is given to a child. When you surrender yourself to Him first, Shiv Baba will then surrender to you. It is true that the Father surrenders Himself to the children, but He still says: When you surrender yourselves first, I will then surrender Myself to you. To surrender to Him means to make Him your Child and sustain Him. These are such wonderful matters! There are the mothers, but even the men make Shiv Baba the Child, their Heir. Shiv Baba is called the Magician. Lakshmi and Narayan are not magicians. These are very incognito matters. Hardly anyone can understand them. You are shown all of these things without visions. You children are experienced. Baba had visions, but Mama didn’t have any visions and yet Mama went ahead of everyone. Not everyone will have visions. Many did have visions, but they are no longer here today. There is no connection with visions. These are the sweet things that you have to imbibe and inspire others to imbibe. He is the Magician and the clever Entertainer. Magicians are very clever. They make tangerines emerge from nowhere and they cut off someone’s head and put it back on again. Previously, they used to show a lot of magic. You children now know that this is only Baba’s praise: “Your divine activities are limitless! Your ways and means are unique!” The Father gives you so much shrimat (elevated directions). He is making you into elevated deities with shrimat. Incorporeal Shiv Baba is called Shri Shri. Who made Lakshmi and Narayan so elevated? It must definitely have been someone who was more elevated than them. We are learning from Baba the knowledge of how human beings can be made into deities. All of you Sitas are now experiencing sorrow in Ravan’s jail in the cottage of sorrow. There is never any sorrow in the kingdom of Rama. Therefore, you have to remember the One from whom you receive the inheritance. They also believe that they are souls. Ask them: What is the name of your lokik father? What is the name of your parlokik Father? The Father cannot be called omnipresent. The Father means the inheritance. You receive the unlimited inheritance from the unlimited Father. Ravan snatched that away from you. This is why it is said: Those who conquer Maya conquer the world. You have to conquer Maya. The mind is a wild horse; it will try very hard to make you fall. Baba has now opened the locks on your intellects. You can now understand right and wrong. You can explain that this world is now changing. The great war is definitely going to take place and everyone will be destroyed in that. The Yadavas destroy their own clan with the missiles that they themselves create. The Pandava clan is to be victorious. However, they have shown that only five Pandavas were saved, but that they melted away on the mountains. What happened to the rest of them? Nothing at all. Since He taught Raja Yoga, some must have been saved. Annihilation doesn’t take place. You now know all of these things. They show Krishna coming on a pipal leaf floating in the ocean. Shri Krishna comes from the palace of a womb. There is sorrow in the jail of a womb. The ocean is the palace of a womb. He is sitting very comfortably. For birth after birth you have been listening to this knowledge of the Gita, the Bhagawad etc. and stumbling around on the path of devotion. The Father now makes you into the masters of heaven in a second. This is called destiny, but destiny of what? It would be called the destiny of the drama ; it is the predestined drama. People simply say that it is destiny, but they don’t understand anything. So, when anyone comes, first of all tell him that he has two fathers. The parlokik Father is the Creator of heaven. He gave you the inheritance of heaven. It became heaven exactly 5000 years ago. It is now hell and you can claim your inheritance once again. We are also claiming our inheritance from the unlimited Father. Just as Abraham and Buddha etc. have their own birthplace, so this Bharat is the birthplace of God. You children know that the Father has come and is giving you the inheritance. You children have to become merciful. It is very easy to explain this to anyone. You have to give them the introduction of the parlokik Father. The parlokik Father only comes once. We are claiming the inheritance of heaven by having remembrance of Him. It is very easy. Imbibe such things very well and explain them to others; donate them. The parlokik Father gives the kingdom of heaven. Lakshmi and Narayan were given this. Who is the father of the sun-dynasty Lakshmi and Narayan? We are telling you that the Father who established heaven is now giving them the kingdom of heaven. What blessings would He give? Achcha.

To the sweetest, beloved, lucky stars of knowledge, to the long-lost and now-found children, numberwise, according to the effort you make, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Understand right and wrong and control the wild horse of your mind with the power of your intellect and become a conqueror of Maya and a conqueror of the world. Don’t be defeated.
  2. Make Shiva your Child and sustain Him, that is, first of all make Him your Heir. Surrender yourself to Him fully.
Blessing: May you be a flying bird and claim number one with the lesson of, “Let go and become free”.
In order to become a flying bird, make the lesson firm, “Let go and become free”. Do not hold onto any type of branch with the foot of your intellect and sit on it. Father Brahma became number one with this lesson. He never thought that he would become free when his companions free him or when his relatives made him free, when those who create obstacles stop creating obstacles he can be free – He always taught himself the lesson, “Let go and become free” in a practical way. So, in order to become number one, follow the father in the same way.
Slogan: The minds of those who have the one Baba in their intellects are always powerful.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 19 SEPTEMBER 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 19 September 2018

To Read Murli 18 September 2018 :- Click Here
19-09-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – तुम्हारे दर पर कोई भी आये उसे कुछ न कुछ ज्ञान धन देना है, पहले फॉर्म भराओ फिर दो बाप का परिचय दो”
प्रश्नः- जादूगर बाप की जादूगरी कौन सी है?
उत्तर:- जादूगर बाप की जादूगरी देखो – इतना ऊंचा बाप कहते हैं मैं तुम्हारी सेवा में आया हूँ, मैं तुम्हारा बच्चा भी बन जाता हूँ। तुम बच्चे जब मेरे पर बलि चढ़ो तो फिर मैं 21 जन्मों के लिए तुम्हारे पर बलि चढूँ। यह भी वन्डरफुल बातें हैं। बाप कितने प्यार से तुम्हें पढ़ाई पढ़ाते हैं। तुम्हारी सब मनोकामनायें पूरी करते हैं। तुमसे कोई भी फीस आदि नहीं लेते हैं। उन्हें कहा जाता है – राझू-रमज़बाज।
गीत:- जो पिया के साथ है…….. 

ओम् शान्ति। पिया और वर्षा। जो पिया के साथ है उसके लिए बरसात है। किस प्रकार की? इसको ज्ञान वर्षा कहा जाता है। ज्ञान वर्षा कौन करते हैं? ज्ञान का सागर। अब यह गीत जिन्होंने गाया या बनाया वह तो कुछ नहीं जानते। तुम हो लक्की ज्ञान सितारे। तुम ज्ञान सागर के बच्चे बने हो इसलिए तुमको ज्ञान सितारे कहा जाता है। बाप से ज्ञान ले रहे हो। नॉलेज की हमेशा एम-ऑब्जेक्ट होती है। कुछ न कुछ प्राप्ति का रास्ता मिलता है। अब तुम बच्चे जानते हो बेहद के बाप द्वारा बेहद का वर्सा लेना है। वह है पारलौकिक बाप। तुम्हारे पास कभी कोई नये जिज्ञासू आते हैं तो फॉर्म भरने से डरते हैं। तो उनको समझाना चाहिए क्योंकि फिर भी तुम्हारे पास आये हैं तो कुछ न कुछ बिचारों को मिलना चाहिए। बहुत गरीब हैं। तुम्हारे पास तो अथॉरिटी है। हाँ, नम्बरवार कोई फुल पास होते हैं, कोई कम। यह तो नशा है हमारे पास ज्ञान रत्न ढेर हैं। ज्ञान सागर कोई महल में तो नहीं रहते हैं, झोपड़ी में रहते हैं। झोपड़ी में रहना पसन्द करते हैं। जब कोई कहे हम फॉर्म नहीं भरेंगे तो बोलो – अच्छा, अपना नाम तो लिखेंगे, हम बड़ी बहन जी को दिखायें कि फलाना आया है। कुछ समझने के लिए तो आये हो। अच्छा, अपना नाम लिखो। लौकिक फादर का भी नाम लिखना पड़े फिर समझाना है – दो बाप तो हैं। एक है लौकिक बाप, दूसरा है पारलौकिक परमपिता परमात्मा। जब पिता कहते हो तो उनका नाम तो लिखो। परमपिता कहते हो तो वह सबका बाप है। हर एक को लौकिक और पारलौकिक बाप होते हैं। भक्ति मार्ग में दोनों बाप हैं। सतयुग-त्रेता में लौकिक फादर तो है, पारलौकिक का नाम भी नहीं लेंगे। यह बातें तुम बच्चों को समझकर फिर समझाना है। कितनी सहज बातें समझाई जाती हैं। जिसको गॉड फादर कहा जाता है – वह है परलोक में रहने वाला। बुद्धि में आता है – बरोबर, सतयुग-त्रेता में पारलौकिक बाप को याद नहीं करते। यहाँ तो सब याद करते हैं। तो समझाना है लौकिक फादर का नाम लिखा, अब पारलौकिक फादर का नाम लिखो। सब जीव की आत्मायें उस पारलौकिक परमपिता को याद करती हैं। वह एक ही है। जैसे आत्मा निराकार है, वैसे वह भी निराकार है। उनका तो कोई सूक्ष्म वा स्थूल शरीर नहीं है। उनको सर्वव्यापी तो कह नहीं सकते। लौकिक बाप को कभी सर्वव्यापी नहीं कह सकते हैं। क्या सर्वव्यापी कहने से वर्सा मिल सकता है? फिर पारलौकिक बाप को सर्वव्यापी क्यों कहते हो? पारलौकिक बाप को सब इतना याद करते हैं तो जरूर उनसे भी वर्सा मिलना चाहिए। रचना को रचता से वर्सा तो चाहिए ना। ऐसे नई-नई बातें समझाने से झट समझ जायेंगे। तुम अनुभव से बतलाते हो उस बाप से वर्सा पाने की युक्ति बताई जाती है। वह बाप है स्वर्ग का रचयिता। तुम जानते हो भारत जीवनमुक्त था, अब जीवनबंध है। दु:ख से लिबरेट करने वाला बाप ही है।

यह त्रिमूर्ति सहित लक्ष्मी-नारायण का चित्र बहुत अच्छा है। हर एक के पास होना चाहिए। इस पर समझाओ कि बरोबर यह लक्ष्मी-नारायण भारत के आदि सनातन देवी-देवता थे, सतयुग के मालिक थे। स्वर्ग का वर्सा जरूर पारलौकिक बाप स्वर्ग का रचयिता ही दे सकते हैं। कोई फॉर्म न भी भरे लेकिन यह बात लिखाना तो सहज है। दो बाप हैं, दोनों से वर्सा मिलता है। लक्ष्मी-नारायण अथवा उनके बच्चों आदि की जीवन कहानी तो है नहीं। कृष्ण के लिए कहते हैं उनको टोकरी में ले गये, यह हुआ। अच्छा, इन लक्ष्मी-नारायण को राज्य कहाँ से मिला? बरोबर आदि सनातन देवी-देवताओं का राज्य था, इनमें पहला नम्बर लक्ष्मी-नारायण हैं। उन्हों को यह स्वर्ग का वर्सा किसने दिया? यह प्रजापिता ब्रह्मा भी बैठा है, यह वर्सा लक्ष्मी-नारायण सामने खड़े हैं। फिर झाड़ पर ले आओ। यहाँ तपस्या कर रहे हैं – राजयोग की। इनसे यह लक्ष्मी-नारायण बनते हैं। यह समझाना कितना सहज है। लक्ष्मी-नारायण के भक्तों को समझाना बहुत सहज है। अब अन्दर कोई आते हैं तो कुछ न कुछ शिक्षा जरूर देनी पड़े। तुम्हारे द्वारा इन वेश्याओं, भीलनियों आदि का भी उद्धार होना है। परन्तु तुम्हारे में अभी वह ताकत नहीं है। बाबा ने समझाया है तुम अपने पति को भी भूं भूं करती रहो। स्त्री अपने पति से भी पूछ सकती है – तुम अपने लौकिक बाप का नाम बताओ। अच्छा, पारलौकिक बाप का नाम बताओ? जिसको तुम घड़ी-घड़ी जन्म बाई जन्म याद करते हो, जरूर उनसे कुछ जास्ती मिलता है। लक्ष्मी-नारायण को याद करने से तो कुछ मिलता नहीं है।

बाप आकर तुम्हारी कितनी सेवा करते हैं। बिगर मांगे तुमको पढ़ाते हैं। कहते हैं – आओ, तुमको स्वर्ग में ले चलें। सभी मनोकामनायें पूर्ण करते हैं। नर-नारायण का भी चित्र है ना। पूजा लक्ष्मी की होती है। समझते हैं लक्ष्मी से सम्पत्ति मिलेगी। यह सब भक्ति मार्ग की बातें हैं। लक्ष्मी (स्त्री) धन कहाँ से लायेगी? उनको जरूर पति से मिलता है। पुजारी लोग यह कुछ भी नहीं जानते। तुम बच्चों को समझाना पड़े। तुम भी अभी समझते हो – आगे हम क्या करते थे? कुछ भी नहीं समझते थे। अब अच्छी रीति जान गये हैं। कृष्ण-जन्माष्टमी होती है तो सवेरे में उनको दूध पिलाते हैं, झूला झुलाते हैं और रात को फिर पूरी-तस्मई (खीर) आदि खिलाते हैं। क्या इतने में इतना बड़ा हो गया, जो पूरी तस्मई खाने लायक हो गया! यह भी समझने की बातें हैं ना। तुम जानते हो यह राधे-कृष्ण ही फिर लक्ष्मी-नारायण बनते हैं। शिवबाबा इन्हों को यह पद दिलाते हैं। शिव को कभी पूरी-तस्मई आदि नहीं खिलाते। उन पर सिर्फ दूध चढ़ाते हैं। अब शिवबाबा तो है निराकार, जिसका कोई नाम-रूप नहीं, उन पर दूध आदि चढ़ाने का मतलब क्या है? उनको कुछ खिलाते नहीं हैं। निराकार है ना, श्रीकृष्ण को रोटी आदि खाने के लिये मुख है। शिव पर कुछ नहीं चढ़ाते। शंकर पर चढ़ाते हैं, शिव पर नहीं। शंकर का तो फिर भी आकार रूप है ना। दोनों एक तो हो नहीं सकते। अब बाबा कितनी नॉलेज देते हैं। कितनी गुप्त बातें हैं।

तुम गोपिकायें शिवबाबा की हो। शिव को फिर बालक भी कहते हैं। यह भी शिवबाबा पूछते हैं तुमने शिव को बालक क्यों बनाया है? वर्सा बालक को दिया जाता है। पहले जब तुम बलि चढ़ो तब ही शिवबाबा बलि चढ़े। यह भी है बाप बच्चों पर बलि चढ़ते हैं परन्तु कहते हैं पहले तुमको बलि चढ़ना है, तब मैं चढूँ। बलि चढ़ना अर्थात् उनको अपना बच्चा बनाना, उनकी पालना करना। कितनी वन्डरफुल बातें हैं! मातायें हैं ना। पुरुष भी शिव बालक को अपना वारिस बनाते हैं। शिवबाबा को जादूगर कहते हैं ना। लक्ष्मी-नारायण जादूगर नहीं हैं। यह बड़ी गुप्त बातें हैं। विरला कोई समझ सकते हैं। अपरोक्ष भी बतलाते हैं। तुम बच्चे अनुभवी हो बाबा ने साक्षात्कार किया, मम्मा ने कोई साक्षात्कार नहीं किया फिर भी मम्मा सबसे तीखी गई। सबको तो साक्षात्कार नहीं होगा। ऐसे तो बहुतों को साक्षात्कार हुए, आज हैं नहीं। साक्षात्कार से कोई कनेक्शन नहीं है। यह तो हैं धारण करने और कराने की मीठी बातें। जादूगर राझू रमज़बाज तो है ना। जादूगर लोग बहुत तीखे-तीखे होते हैं। संतरे निकाल दिखाते हैं, सिर काटकर फिर जोड़ देते हैं। आगे बहुत जादूगरी दिखाते थे।

अब बच्चे जान गये हैं बाबा की ही महिमा गाई जाती है। तुम्हारी लीला अपरम-अपार है, तुम्हारी गति मत न्यारी है। बाप कितनी श्रीमत देते हैं। श्रीमत से तुमको श्रेष्ठ देवता बना रहे हैं। श्री श्री कहा जाता है निराकार शिवबाबा को। लक्ष्मी-नारायण को ऐसा श्रेष्ठ किसने बनाया? जरूर उनसे श्रेष्ठ ते श्रेष्ठ होगा। बाबा से हम यह इलम (विद्या) सीखते हैं कि मनुष्य को देवता कैसे बनाया जाए। अभी तुम सब सीतायें रावण की जेल में, शोक वाटिका में दु:ख उठा रही हो। रामराज्य में कभी शोक होता ही नहीं। तो जिससे वर्सा मिलता है उनको याद करना है ना। हम आत्मा हैं यह भी मानते हैं। पूछो तुम्हारे लौकिक बाप का नाम क्या है? पारलौकिक बाप का नाम क्या है? बाप को सर्वव्यापी तो नहीं कहेंगे। बाप माना वर्सा। बेहद के बाप से बेहद का वर्सा मिलता है। अब वह रावण ने छीना हुआ है इसलिए कहा जाता है माया जीते जगत जीत। माया पर जीत पानी है। मन तो तूफानी घोड़ा है। खूब पछाड़ने की कोशिश करेगा। बाबा ने अब तुम्हारी बुद्धि का ताला खोल दिया है। तुम राइट और रांग को समझ सकते हो। तुम समझा सकते हो अब यह दुनिया बदल रही है। महाभारी लड़ाई तो जरूर लगनी है, उसमें सब विनाश होंगे। यादव मूसलों से अपने ही यादव कुल का विनाश करते हैं। पाण्डव कुल की जीत होनी है। परन्तु दिखाया है 5 पाण्डव बचे, वह भी पहाडों पर गल मरे। बाकी क्या हुआ? कुछ नहीं। राजयोग सिखाया तो कुछ तो बचे होंगे। प्रलय थोड़ेही हो जाती है। यह सब बातें तुम अभी जानते हो। दिखाते हैं कृष्ण सागर में पत्ते पर आया। श्रीकृष्ण तो गर्भ महल में आते हैं। गर्भ जेल में दु:ख होता है। सागर तो गर्भ महल है। बड़े आराम से बैठा रहता है। जन्म-जन्मान्तर से यह गीता का ज्ञान भागवत आदि सुनते आये, भक्ति मार्ग के धक्के खाते आये, अभी बाप तुमको एक सेकेण्ड में स्वर्ग का मालिक बनाते हैं। इसको भावी कहते हैं, परन्तु भावी किसकी? भावी ड्रामा की कहेंगे। बना-बनाया ड्रामा है ना। मनुष्य तो सिर्फ भावी कहते रहते हैं, समझते कुछ भी नहीं। तो जब कोई आये पहले-पहले यह बताओ कि दो बाप हैं। पारलौकिक बाप स्वर्ग का रचयिता है। उसने तो स्वर्ग का वर्सा दिया था। आज से 5 हजार वर्ष पहले स्वर्ग था। अभी तो नर्क है फिर तुम वर्सा ले सकते हो। हम भी बेहद के बाप से वर्सा ले रहे हैं। यह भारत भगवान् की जन्म भूमि है। जैसे इब्राहम, बुद्ध आदि की अपनी जन्म भूमि है। तुम बच्चे जानते हो बाप आये हुए हैं, वर्सा दे रहे हैं। तुम बच्चों को रहमदिल बनना है। कोई को भी यह समझाना तो बहुत सहज है। पारलौकिक बाप की पहचान देनी है। पारलौकिक फादर एक ही बार आते हैं। उनकी याद से हम स्वर्ग का वर्सा ले रहे हैं। बहुत सहज है। ऐसी-ऐसी बातें अच्छी रीति धारण करो और समझाओ। दान करो। पारलौकिक बाप स्वर्ग की राजाई देते हैं। लक्ष्मी-नारायण को दी है ना। इस सूर्यवंशी लक्ष्मी-नारायण का बाप कौन है? हम आपको बताते हैं, स्वर्ग की स्थापना करने वाला फादर अब उन्हों को स्वर्ग की राजाई दे रहे हैं। बाकी आशीर्वाद क्या करेंगे। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे लक्की ज्ञान सितारों प्रति मात-पिता बापदादा का नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) राइट और रांग को समझ बुद्धि बल से मन रूपी तूफानी घोड़े को वश करके मायाजीत, जगतजीत बनना है। हार नहीं खानी है।

2) शिव को बालक बनाकर उनकी पालना करनी है अर्थात् पहले उन्हें अपना वारिस बनाना है। उन पर पूरा बलि चढ़ना है।

वरदान:- ”छोड़ो तो छूटो” इस पाठ द्वारा नम्बरवन लेने वाले उड़ता पंछी भव
उड़ता पछी बनने के लिए यह पाठ पक्का करो कि ”छोड़ो तो छूटो”। किसी भी प्रकार की डाली को अपने बुद्धि रूपी पांव से पकड़कर नहीं बैठना। इसी पाठ से ब्रह्मा बाप नम्बरवन बने। यह नहीं सोचा कि साथी मुझे छोड़े तो छूटूं, सम्बन्धी छोड़ें तो छूटूं। विघ्न डालने वाले विघ्न डालने से छोड़ें तो छूटूं-स्वयं को सदा यही पाठ प्रैक्टिकल में पढ़ाया कि स्वयं छोड़ो तो छूटो। तो नम्बरवन में आने के लिए ऐसे फालो फादर करो।
स्लोगन:- जिनके संकल्पों में एक बाबा है उनकी मन्सा सदा शक्तिशाली है।
Font Resize