daily murli 19 july

TODAY MURLI 19 JULY 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 19 July 2020

19/07/20
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
25/02/86

Avyakt BapDada’s elevated versions on the surrender ceremony

of 50 double-foreign brothers and sisters in Madhuban.

Today, BapDada is giving special love-filled congratulations for this especially elevated day. What ceremony did you celebrate today? The external scene was beautiful anyway and the sound of zeal and enthusiasm and their determination from everyone’s hearts reached the Father, the Comforter of Hearts. So, today would be called the ceremony of having a determined thought filled with zeal and enthusiasm. From the time you first belonged to the Father, you have had a relationship and that will continue. However, you celebrated this special day in a special way and this is known as having had a determined thought. No matter what happens, even if storms of Maya come, even if different situations arise through people, if there are any scenes of upheaval of nature, if there is any type of circumstance in your lokik or alokik relationships, if there are very strong storms of thoughts in your mind, in spite of those, you belong to the one Father and none other. Did you have the determined thought of having one faith and one Support, or did you just sit on the stage? Were you sitting on the double stage or the single stage? One was this physical stage and the other was the stage of determined thought, the stage of determination. So, you were sitting on the double stage, were you not? You wore very beautiful garlands. Did you wear just those garlands or did you also wear the garlands of success? Success is the garland around your neck. This determination is the basis of success. Along with these physical garlands, you were also wearing the garlands of success, were you not? BapDada always sees a double scene. He doesn’t just see a physical scene but, together with the physical scene, He was also looking at the soul-conscious stage of the mind, the determined thought and the elevated garland of success. Baba was seeing the double garland and the double stage. All of you had a determined thought. Very good. No matter what happens, you have to fulfil the responsibility of your relationship. You have to achieve success by always fulfilling the responsibility of love for God. It is guaranteed that success is the garland around your neck. To belong to the one Father and none other is the determined thought. When you have just the One, you automatically and easily have a constant and stable stage. You have tied the imperishable thread of all relationships, have you not? If even one relationship is missing, there would be fluctuation. This is why you tied the string of all relationships. You forged a connection and had that thought. Do you have all relationships or just the three main relationships? If you have all relationships, you have all attainments. If there aren’t all relationships, one attainment or other would be missing. It was the ceremony for everyone, was it not? By having this determined thought, you receive a special lift in your future efforts. This method especially increases your zeal and enthusiasm. BapDada is giving all the children congratulations for the ceremony of having a determined thought and He also gives the blessing: May you always be imperishable. May you be immortal.

Today, the group from Asia is sitting here. What is the speciality of Asia? The first group for service abroad was the group that went to Japan. So that is a speciality, is it not? According to the inspirations from sakar Baba, the invitation especially for foreign service came from Japan and foreign service started there. So, Asia is number ahead in establishment. That was the first invitation from abroad. It was from Asia that there was the beginning of service by receiving invitations from people of other religions. So, Asia is so lucky! The second speciality is that Asia is the closest to Bharat. Those who are close are said to be dearly beloved. The dearly beloved children are hidden away. At every place, so many very good jewels have emerged. Even though there is less quantity, there is quality. The fruit of your service is good. In this way, the number is slowly increasing. All of you are loving, all of you are lovely. Each one is moreloving than the next. This is the speciality of the Brahmin family. Each one of you experiences having greater love than the others and that the Father also has greater love for you, that BapDada makes only you move forward. This is why people on the path of devotion have made a very good meaningful image. They have shown Vallabh (Krishna) with every gopi. He isn’t with just one Radhe or eight princesses; there is Gopi Vallabh with every gopi. For instance, when you go to the Dilwala Temple, you note which one is your image or your alcove. So, is there an image of each of you in this gathering of those who are doing the dance? This is called the great dance (maharaas). There is very great praise of this great dance. BapDada has greater love for each one of you, each one more than the next. BapDada is pleased to see the elevated fortune of every child. It doesn’t matter who it is, you are all a handful out of multimillions. You are multimillion times fortunate. Compared with the world, you are a handful out of multimillions, are you not? Japan is so big, but how many of the Father’s children are there? So, you are a handful out of multimillions, are you not? BapDada is seeing each one’s speciality and fortune. You are the dearly beloved handful out of multimillions. For the Father, all of you are special souls. The Father doesn’t see some as ordinary and others as special. All are special. On this side, there is going to be greater expansion because on this whole side, there is special double service. Firstly, there are those of the many various religions, and there are many souls on this side who have emerged from Sindh. You can serve them well too. If you bring them close, then, through their co-operation, you will easily be able to reach other religions too. By doing double service, you can bring about double expansion. In one way or another, whether positively or negatively, a seed sown was in them. Because they received the introduction, they can come into a relationship easily. You can do a lot of service, because this is the family of all souls (from all religions). Brahmins have spread into all religions. There isn’t a religion that Brahmins have not reached. They are now emerging from all religions and coming here. You have the feeling of belonging, when you come in front of the Brahmin family. It is as though you went there due to some karmic account and have now come back to your family. You have come here from everywhere to become instruments and to claim your fortune of service. This is not a small fortune; it is a very elevated fortune. You become the greatest of all charitable souls. You come in the list of great donors, great servers. So, to become instruments is also a special giftDouble foreigners receive this gift. You get a little experience and you then become instruments to establish a centre. So, this is a special gift to have come last and go fast. By doing service, the majority of you have the awareness that whatever you instruments do or however you act, others who see you will do the same. So, this becomes double attention. By paying double attention you have a double lift. Do you understand? Double foreigners have a double lift. The lands everywhere have now become very good. After a field is ploughed, the land becomes good, does it not? Then, it easily bears very good fruit. Achcha. The sound of the big “mikes” from Asia will reach Bharat quickly. Therefore, prepare such “mikes”. Achcha.

To the senior Dadis: What can be said in your praise? Just as it is said of the Father: If you turn the ocean into ink, the earth into paper…, so too, there is the praise of all of you Dadis. If Baba were to start praising you, then it would last day and night, it would be like a complete course of seven days. You are good. The dance (harmony) between you all is good. The horoscope (raasi) of all of you is the same and all of you perform a very good dance (raas). To go hand in hand, that is, to harmonise your thoughts, is the dance. So, BapDada continues to watch this dance of all of you Dadis. This is the dance of the special eight jewels.

You Dadis are the special decoration of the family. If the decoration were not there, there wouldn’t be any beauty. So, everyone looks at you with that love.

To Dadi Brijindra: You have been decorating others from childhood in the lokik and alokik life, and so, by continuously decorating, you have now become decorated. It is like that, is it not? Not only does BapDada always remember the mahavir, maharathi children, but BapDada has them merged within Him. Those who remain merged do not need to be remembered. BapDada always keeps every special jewel revealed in front of the world. So, you are the special jewels who are going to be revealed in front of the world. You get extra help from everyone’s happiness. Seeing your happiness, everyone receives the nourishment of happiness. Therefore, because you continue to receive blessings of love from everyone, the lifespan of all of you is increasing. You now have to do a lot of work, and so you are the decoration of the family. Everyone looks at you with so much love. If the canopy were removed from over someone’s head, how would it be? If those who always have a canopy then do not have it, what would that be like? So, all of you are the canopy of the family.

To Dadi Nirmalshanta: You constantly continue to see your memorial in Madhuban. The memorials are there to be remembered. However, the remembrance of you creates a memorial. Whilst walking and moving along, the whole family remembers the images of support who have become the instruments. So, you are an image of support. Because you are a strong image of support for the task of establishment, this building of expansion and progress is becoming so strong. Why? Because the support is strong.

Become double light (Selected invaluable jewels from avyakt murlis)

To be doublelight means to stabilise in the form of the light of the soul and to then automatically become light. Only those who are doublelight are angels. Angels are never tied in bondage to anyone. Because they are doublelight, they are never attracted to the attractions of this old world.

To be doublelight means constantly to experience the flying stage. Those who are light are constantly flying high, whereas those who are burdened remain down here. So, to be a double-light soul means to have no burden, because if you are burdened in any way, you are prevented from flying high. Whilst having a double responsibility, remain doublelight. By remaining double light, you will never become tired of your lokik responsibility, because you are a trustee and a trustee cannot become tired. If you think that the household or family is yours, you feel burdened. However, when nothing is yours, there can be no burden. Remain totally loving and detached, a master and a child.

Always hand yourself over to the Father and you will always remain light. Hand over your responsibilities to the Father, in other words, give your burdens to the Father and you will become light. Surrender yourself with your intellect. If you surrender with your intellect, there won’t be anything else in the intellect. That is all, everything belongs to the Father, everything is in the Father, then there is nothing else. Doublelight means not being burdened even by your nature or sanskars. Not to have any burden – even of your waste thoughts – is called lightness. To the extent that you remain light, you will accordingly easily experience the flying stage. If you have to make the slightest effort to have yoga, there must definitely be some burden on you. So, take the support of “Baba, Baba!” and continue to fly.

Constantly remember your aim of having to become equal to the Father. When you look at others, you become weak. Therefore, look at the Father and follow the Father. The elevated method to go into the flying stage is the one expression, “Everything is Yours”. So change the word, “Mine” into “Yours”. When you say, “I am Yours”, the soul becomes light and, since everything belongs to Him, you become doublelight. In the beginning, you practised moving along in such a stage that others would feel that a light was passing by; they wouldn’t see your body. By practising this, you passed every type of test-paper. Now that the times are very bad, increase the practice of remaining double light. You will constantly remain safe when you are constantly seen in your form of light. As soon as they enter your service place, let them see a fortress of light.

Just as a huge piece machinery is powered by electricity, so too, whilst accomplishing anything, all of you become double light on the basis of being powered by a constant connection. When you have the stage of being doublelight, all effort and difficulty finish. Stop feeling that you own something, and constantly feel yourself to be a trustee doing Godly service, and you will become doublelight. Let anyone who comes into close contact with you feel that you are spiritual and alokik. Let them only see your angelic form. Angels always live up above. Angels are portrayed with wings because they are flying birds.

Only when your mind is determined and your stage is doublelight will you be able to constantly swing in happiness and remove any obstacles, and finish the difficulties of others. Nothing is mine, everything belongs to the Father. When you keep a burden with yourself, all types of obstacles arise. When nothing is mine, I am obstacle-free. Always consider yourself to be double light and continue to serve. The lighter you are in service, the more easily you will be able to fly and inspire others to fly. To serve whilst remaining doublelight and in remembrance is the basis of success.

It is essential to fulfil your responsibilities, but the greater your responsibilities are, the more doublelight you need to be. Whilst fulfilling your responsibilities, remain beyond being burdened by them in any way; this is known as loving the Father. Do not worry about what you should do because you have many responsibilities. Do not think, “Should I do this or not?” “This is very difficult to do.” To experience this means to be burdened. To be doublelight means to go beyond this feeling. Do not let your stage fluctuate in any way by feeling burdened with responsibilities. Those whose intellects constantly have total faith always remain in a double-light stage and completely carefree. They would always be in the flying stage. The flying stage is the highest of all stages. The feet of the intellect of such souls would not touch the ground. Not touching the ground means to be beyond body consciousness. Those who always remain above the ground of body consciousness are always angels.

Now become so doublelight that the vehicle of your divine intellect can stabilise you on the highest peak. Then give all souls of the world rays of light and might and spread waves of co-operation with your good wishes and pure feelings. The way to fly high in this vehicle is to follow BapDada’s refined, elevated directions. Let there not be the slightest bit of rubbish of the dictates of your own mind or of others in any way.

Blessing: May you become a multimillionaire who accumulates in your account of charity by knowing the importance of every second and every thought.
You charitable souls have such special power in your thoughts you can make the impossible possible. For instance, nowadays, using special equipment they are able to make things grow in the desert and flowers grow on mountains. In the same way, with your elevated thoughts, you are able to make souls who have no hope become hopeful. Simply know the value of every second and every thought, and use every second and thought with that awareness and accumulate in your account of charity. The power of your thoughts is so elevated that even one thought can make you a multimillionaire.
Slogan: Perform every act with the faith and intoxication of one who has all rights and all labour will finish.

 

*** Om Shanti ***

Notice: Today is the third Sunday of the month and all Raj Yogi tapaswi brothers and sisters are requested especially to listen to the call of the devotees during meditation from 6.30pm – 7.30pm. While being stable in your form of the especially beloved deities, the merciful bestowers, do the service of fulfilling everyone’s desires.

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 19 JULY 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 19 July 2020

Murli Pdf for Print : – 

19-07-20
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 25-02-86 मधुबन

डबल विदेशी भाई-बहिनों के समर्पण समारोह पर अव्यक्त बापदादा के महावाक्य

आज बापदादा विशेष श्रेष्ठ दिन की विशेष स्नेह भरी मुबारक दे रहे हैं। आज कौन-सा समारोह मनाया? बाहर का दृश्य तो सुन्दर था ही। लेकिन सभी के उमंग-उत्साह और दृढ़ सकंल्प का, दिल का आवाज दिलाराम बाप के पास पहुंचा। तो आज के दिन को विशेष उमंग-उत्साह भरा दृढ़ संकल्प समारोह कहेंगे। जब से बाप के बने तब से सम्बन्ध है और रहेगा। लेकिन यह विशेष दिन विशेष रूप से मनाया इसको कहेंगे दृढ़ संकल्प किया। कुछ भी हो जाए चाहे माया के तूफान आयें, चाहे लोगों की भिन्न-भिन्न बातें आयें, चाहे प्रकृति का कोई भी हलचल का नज़ारा हो। चाहे लौकिक वा अलौकिक सम्बन्ध में किसी भी प्रकार के सरकमस्टांस हों, मन के सकंल्पों का बहुत जोर से तूफान भी हो तो भी एक बाप दूसरा न कोई। एक बल एक भरोसा ऐसा दृढ़ संकल्प किया वा सिर्फ स्टेज पर बैठे! डबल स्टेज पर बैठे थे या सिंगल स्टेज पर? एक थी यह स्थूल स्टेज, दूसरी थी दृढ़ संकल्प की स्टेज, दृढ़ता की स्टेज। तो डबल स्टेज पर बैठे थे ना? हार भी बहुत सुन्दर पहने। सिर्फ यह हार पहना वा सफलता का भी हार पहना? सफलता गले का हार है। यह दृढ़ता ही सफलता का आधार है। इस स्थूल हार के साथ सफलता का हार भी पड़ा हुआ था ना। बापदादा डबल दृश्य देखते हैं। सिर्फ साकार रूप का दृश्य नहीं देखते। लेकिन साकार दृश्य के साथ-साथ आत्मिक स्टेज मन के दृढ़ संकल्प और सफलता की श्रेष्ठ माला यह दोनों देख रहे थे। डबल माला डबल स्टेज देख रहे थे। सभी ने दृढ़ संकल्प किया। बहुत अच्छा। कुछ भी हो जाए लेकिन सम्बन्ध को निभाना है। परमात्म प्रीति की रीति सदा निभाते हुए सफलता को पाना है। निश्चित है सफलता गले का हार है। एक बाप दूसरा न कोई- यह है दृढ़ संकल्प। जब एक है तो एकरस स्थिति स्वत: और सहज है। सर्व सम्बन्धों की अविनाशी तार जोड़ी है ना। अगर एक भी सम्बन्ध कम होगा तो हलचल होगी इसलिए सर्व सम्बन्धों की डोर बांधी। कनेक्शन जोड़ा। संकल्प किया। सर्व सम्बन्ध हैं या सिर्फ मुख्य 3 सम्बन्ध हैं? सर्व सम्बन्ध हैं तो सर्व प्राप्तियां हैं। सर्व सम्बन्ध नहीं तो कोई न कोई प्राप्ति की कमी रह जाती है। सभी का समारोह हुआ ना। दृढ़ संकल्प करने से आगे पुरुषार्थ में भी विशेष रूप से लिफ्ट मिल जाती है। यह विधि भी विशेष उमंग-उत्साह बढ़ाती है। बापदादा भी सभी बच्चों को दृढ़ संकल्प करने के समारोह की बधाई देते हैं। और वरदान देते सदा अविनाशी भव। अमर भव।

आज एशिया का ग्रुप बैठा है। एशिया की विशेषता क्या है? विदेश सेवा का पहला ग्रुप जापान में गया, यह विशेषता हुई ना। साकार बाप की प्रेरणा प्रमाण विशेष विदेश सेवा का निमंत्रण और सेवा का आरम्भ जापान से हुआ। तो एशिया का नम्बर स्थापना में आगे हुआ ना। पहला विदेश का निमंत्रण था। और धर्म वाले निमंत्रण दे बुलावें इसका आरम्भ एशिया से हुआ। तो एशिया कितना लकी है! और दूसरी विशेषता – एशिया भारत के सबसे समीप है। जो समीप होता है उनको सिकीलधे कहते हैं। सिकीलधे बच्चे छिपे हुए हैं, हर स्थान पर कितने अच्छे-अच्छे रत्न निकले हैं। क्वान्टिटी भले कम है लेकिन क्वालिटी है। मेहनत का फल अच्छा है। इस तरह धीरे-धीरे अब संख्या बढ़ रही है। सब स्नेही हैं। सब लवली हैं। हर एक, एक दो से ज्यादा स्नेही हैं। यही ब्राह्मण परिवार की विशेषता है। हर एक यह अनुभव करता है कि मेरा सबसे ज्यादा स्नेह है और बाप का भी मेरे से ज्यादा स्नेह है। मेरे को ही बापदादा आगे बढ़ाता है इसलिए भक्ति मार्ग वालों ने भी बहुत अच्छा एक चित्र अर्थ से बनाया है। हर एक गोपी के साथ वल्लभ है। सिर्फ एक राधे के साथ वा सिर्फ 8 पटरानियों के साथ नहीं। हर एक गोपी के साथ गोपीवल्लभ है। जैसे दिलवाला मन्दिर में जाते हो तो नोट करते हो ना कि यह मेरा चित्र है अथवा मेरी कोठी है। तो इस रास मण्डल में भी आप सबका चित्र है? इसको कहते ही हैं महारास। इस महारास का बहुत बड़ा गायन है। बापदादा का हर एक से एक दो से ज्यादा प्यार है। बापदादा हरेक बच्चे के श्रेष्ठ भाग्य को देख हर्षित होते है। कोई भी है लेकिन कोटों में कोई है। पदमापदम भाग्यवान है। दुनिया के हिसाब से देखो तो इतने कोटों में से कोई हो ना। जापान तो कितना बड़ा है लेकिन बाप के बच्चे कितने हैं! तो कोटों में कोई हुए ना। बापदादा हर एक की विशेषता, भाग्य देखते हैं। कोटों में कोई सिकीलधे हैं। बाप के लिए सभी विशेष आत्मायें हैं। बाप किसको साधारण, किसको विशेष नहीं देखते। सब विशेष हैं। इस तरफ और ज्यादा वृद्धि होनी है क्योंकि इस पूरे साइड में डबल सेवा विशेष है। एक तो अनेक वैरायटी धर्म के हैं। और इस तरफ सिन्ध की निकली हुई आत्मायें भी बहुत हैं। उन्हों की सेवा भी अच्छी कर सकते हो। उन्हों को समीप लाया तो उन्हों के सहयोग से और धर्मों तक भी सहज पहुँच सकेंगे। डबल सेवा से डबल वृद्धि कर सकते हो। उन्हों में किसी न किसी रीति से उल्टे रूप में चाहे सुल्टे रूप में बीज पड़ा हुआ है। परिचय होने के कारण सहज सम्बन्ध में आ सकते हैं। बहुत सेवा कर सकते हो क्योंकि सर्व आत्माओं का परिवार है। ब्राह्मण सभी धर्मों में बिखर गये हैं। ऐसा कोई धर्म नहीं जिसमें ब्राह्मण न पहुँचे हों। अब सब धर्मों से निकल-निकलकर आ रहे हैं। और जो ब्राह्मण परिवार के हैं उन्हों से अपना-पन लगता है ना। जैसे कोई हिसाब-किताब से गये और फिर से अपने परिवार में पहुँच गये। कहाँ-कहाँ से पहुंच अपना सेवा का भाग्य लेने के निमित्त बन गये। यह कोई कम भाग्य नहीं। बहुत श्रेष्ठ भाग्य है। बड़े ते बड़े पुण्य आत्मायें बन जाते। महादानियों, महान सेवाधारियों की लिस्ट में आ जाते। तो निमित्त बनना भी एक विशेष गिफ्ट है। और डबल विदेशियों को यह गिफ्ट मिलती है। थोड़ा ही अनुभव किया और निमित्त बन जाते सेन्टर स्थापन करने के। तो यह भी लास्ट सो फास्ट जाने की विशेष गिफ्ट है। सेवा करने से मैजारिटी को यह स्मृति में रहता है कि जो हम निमित्त करेंगे अथवा चलेंगे, हमको देख और करेंगे। तो यह डबल अटेन्शन हो जाता है। डबल अटेन्शन होने के कारण डबल लिफ्ट हो जाती है। समझा- डबल विदेशियों को डबल लिफ्ट है। अभी सब तरफ धरनी अच्छी हो गई है। हल चलने के बाद धरनी ठीक हो जाती है ना। और फिर फल भी अच्छे और सहज निकलते हैं। अच्छा – एशिया के बड़े माइक का आवाज भारत में जल्दी पहुँचेगा इसलिए ऐसे माइक तैयार करो। अच्छा!

बड़ी दादियों से:- आप लोगों की महिमा भी क्या करें! जैसे बाप के लिए कहते हैं ना – सागर को स्याही बनायें, धरनी को कागज बनायें…..ऐसे ही आप सभी दादियों की महिमा है। अगर महिमा शुरू करें तो सारी रात-दिन एक सप्ताह का कोर्स हो जायेगा। अच्छे हैं, सबकी रास अच्छी है। सभी की राशि मिलती है और सभी रास करते भी अच्छी हैं। हाथ में हाथ मिलाना अर्थात् विचार मिलाना यही रास है। तो बापदादा दादियों की यही रास देखते रहते हैं। अष्ट रत्नों की यही रास है।

आप दादियाँ परिवार का विशेष श्रृंगार हो। अगर श्रृंगार न हो तो शोभा नहीं होती है। तो सभी उसी स्नेह से देखते हैं।

बृजइन्द्रा दादी से:- बचपन से लौकिक में, अलौकक में श्रृंगार करती रही तो श्रृंगार करते-करते श्रृंगार बन गई। ऐसे हैं ना! बापदादा महावीर महारथी बच्चों को सदा ही याद तो क्या करते लेकिन समाये हुए रहते हैं। जो समाया हुआ होता है उनको याद करने की भी जरूरत नहीं। बापदादा सदा ही हर विशेष रत्न को विश्व के आगे प्रत्यक्ष करते हैं। तो विश्व के आगे प्रत्यक्ष होने वाली विशेष रत्न हो। एकस्ट्रा सभी के खुशी की मदद है। आपकी खुशी को देखकर सबको खुशी की खुराक मिल जाती है इसलिए आप सबकी आयु बढ़ रही है क्योंकि सभी के स्नेह की आर्शीवाद मिलती रहती है। अभी तो बहुत कार्य करना है, इसलिए श्रृंगार हो परिवार का। सभी कितने प्यार से देखते हैं। जैसे कोई का छत्र उतर जाए तो माथा कैसे लगेगा। छत्र पहनने वाला अगर छत्र न पहने तो क्या लगेगा। तो आप सभी भी परिवार के छत्र हो।

निर्मलशान्ता दादी से:- अपना यादगार सदा ही मधुबन में देखती रहती हो। यादगार होते हैं याद करने के लिए। लेकिन आपकी याद यादगार बना देती है। चलते-फिरते सभी परिवार को निमित्त बने हुए आधार मूर्त याद आते रहते हैं। तो आधार मूर्त हो। स्थापना के कार्य के आधार मूर्त मजबूत होने के कारण यह वृद्धि की, उन्नति की बिल्डिंग कितनी मजबूत हो रही है। कारण? आधार मजबूत है। अच्छा!

डबल लाइट बनो (अव्यक्त मुरलियों से चुने हुए अनमोल रत्न)

डबल लाइट अर्थात् आत्मिक स्वरूप में स्थित होने से हल्कापन स्वत: हो जाता है। ऐसे डबल लाइट को ही फरिश्ता कहा जाता है। फरिश्ता कभी किसी भी बन्धन में नहीं बंधता। इस पुरानी दुनिया के, पुरानी देह के आकर्षण में नहीं आता क्योंकि है ही डबल लाइट।

डबल लाइट अर्थात् सदा उड़ती कला का अनुभव करने वाले क्योंकि जो हल्का होता है वह सदा ऊंचा उड़ता है, बोझ वाला नीचे जाता है। तो डबल लाइट आत्मायें अर्थात् कोई बोझ न हो क्योंकि कोई भी बोझ होगा तो ऊंची स्थिति में उड़ने नहीं देगा। डबल जिम्मेवारी होते भी डबल लाइट रहने से लौकिक जिम्मेवारी कभी थकायेगी नहीं क्योंकि ट्रस्टी हो। ट्रस्टी को क्या थकावट। अपनी गृहस्थी, अपनी प्रवृति समझेंगे तो बोझ है। अपना है ही नहीं तो बोझ किस बात का। बिल्कुल न्यारे और प्यारे। बालक सो मालिक।

सदा स्वयं को बाप के हवाले कर दो तो सदा हल्के रहेंगे। अपनी जिम्मेवारी बाप को दे दो अर्थात् अपना बोझ बाप को दे दो तो स्वयं हल्के हो जायेंगे। बुद्धि से सरेन्डर हो जाओ। अगर बुद्धि से सरेन्डर होंगे तो और कोई बात बुद्धि में नहीं आयेगी। बस सब कुछ बाप का है, सब कुछ बाप में है तो और कुछ रहा ही नहीं। डबल लाइट अर्थात् संस्कार स्वभाव का भी बोझ नहीं, व्यर्थ संकल्प का भी बोझ नहीं – इसको कहा जाता है हल्का। जितने हल्के होंगे उतना सहज उड़ती कला का अनुभव करेंगे। अगर योग में ज़रा भी मेहनत करनी पड़ती है तो जरूर कोई बोझ है। तो बाबा-बाबा का आधार ले उड़ते रहो।

सदा यही लक्ष्य याद रहे कि हमें बाप समान बनना है तो जैसे बाप लाइट है वैसे डबल लाइट। औरों को देखते हो तो कमजोर होते हो, सी फादर, फालो फादर करो। उड़ती कला का श्रेष्ठ साधन सिर्फ एक शब्द है -‘सब कुछ तेरा’। ‘मेरा’ शब्द बदल ‘तेरा’ कर दो। तेरा हूँ, तो आत्मा लाइट है। और जब सब कुछ तेरा है तो लाइट (हल्के) बन गये। जैसे शुरू-शुरू में अभ्यास करते थे – चल रहे हैं लेकिन स्थिति ऐसी जो दूसरे समझते कि यह कोई लाइट जा रही है। उनको शरीर दिखाई नहीं देता था, इसी अभ्यास से हर प्रकार के पेपर में पास हुए। तो अभी जबकि समय बहुत खराब आ रहा है तो डबल लाइट रहने का अभ्यास बढ़ाओ। दूसरों को सदैव आपका लाइट रूप दिखाई दे – यही सेफ्टी है। अन्दर आवें और लाइट का किला देखें।

जैसे लाइट के कनेक्शन से बड़ी-बड़ी मशीनरी चलती है। आप सभी हर कर्म करते कनेक्शन के आधार से स्वयं भी डबल लाइट बन चलते रहो। जहाँ डबल लाइट की स्थिति है वहाँ मेहनत और मुश्किल शब्द समाप्त हो जाता है। अपने पन को समाप्त कर ट्रस्टीपन का भाव और ईश्वरीय सेवा की भावना हो तो डबल लाइट बन जायेंगे। कोई भी आपके समीप सम्पर्क में आये तो महसूस करे कि यह रूहानी हैं, अलौकिक हैं। उनको आपका फरिश्ता रूप ही दिखाई दे। फरिश्ते सदा ऊंचे रहते हैं। फरिश्तों को चित्र रूप में भी दिखायेंगे तो पंख दिखायेंगे क्योंकि उड़ते पंछी हैं।

सदा खुशी में झूलने वाले सर्व के विघ्न हर्ता वा सर्व की मुश्किल को सहज करने वाले तब बनेंगे जब संकल्पों में दृढ़ता होगी और स्थिति में डबल लाइट होंगे। मेरा कुछ नहीं, सब कुछ बाप का है। जब बोझ अपने ऊपर रखते हो तब सब प्रकार के विघ्न आते हैं। मेरा नहीं तो निर्विघ्न। सदा अपने को डबल लाइट समझकर सेवा करते चलो। जितना सेवा में हल्कापन होगा उतना सहज उड़ेंगे उड़ायेंगे। डबल लाइट बन सेवा करना, याद में रहकर सेवा करना – यही सफलता का आधार है।

जिम्मेवारी को निभाना यह भी आवश्यक है लेकिन जितनी बड़ी जिम्मेवारी उतना ही डबल लाइट। जिम्मेवारी निभाते हुए जिम्मेवारी के बोझ से न्यारे रहो इसको कहते हैं बाप का प्यारा। घबराओ नहीं क्या करूँ, बहुत जिम्मेवारी है। यह करूँ, वा नहीं …यह तो बड़ा मुश्किल है। यह महसूसता अर्थात् बोझ है! डबल लाइट अर्थात् इससे भी न्यारा। कोई भी जिम्मेवारी के कर्म के हलचल का बोझ न हो। सदा डबल लाइट स्थिति में रहने वाले निश्चय बुद्धि, निश्चिन्त होंगे। उड़ती कला में रहेंगे। उड़ती कला अर्थात् ऊंचे से ऊंची स्थिति। उनके बुद्धि रूपी पाँव धरनी पर नहीं। धरनी अर्थात् देह भान से ऊपर। जो देह भान की धरनी से ऊपर रहते वह सदा फरिश्ते हैं।

अब डबल लाइट बन दिव्य बुद्धि रूपी विमान द्वारा सबसे ऊंची चोटी की स्थिति में स्थित हो विश्व की सर्व आत्माओं के प्रति लाइट और माइट की शुभ भावना और श्रेष्ठ कामना के सहयोग की लहर फैलाओ। इस विमान में बापदादा की रिफाइन श्रेष्ठ मत का साधन हो। उसमें जरा भी मन-मत, परमत का किचड़ा न हो।

वरदान:- हर सेकण्ड हर संकल्प के महत्व को जान पुण्य की पूंजी जमा करने वाले पदमापदमपति भव
आप पुण्य आत्माओं के संकल्प में इतनी विशेष शक्ति है जिस शक्ति द्वारा असम्भव को सम्भव कर सकते हो। जैसे आजकल यत्रों द्वारा रेगिस्तान को हरा भरा कर देते हैं, पहाड़ियों पर फूल उगा देते हैं ऐसे आप अपने श्रेष्ठ संकल्पों द्वारा नाउम्मींदवार को उम्मींदवार बना सकते हो। सिर्फ हर सेकण्ड हर संकल्प की वैल्यु को जान, संकल्प और सेकण्ड को यूज़ कर पुण्य की पूंजी जमा करो। आपके संकल्प की शक्ति इतनी श्रेष्ठ है जो एक संकल्प भी पदमापदमपति बना देता है।
स्लोगन:- हर कर्म अधिकारी पन के निश्चय और नशे से करो तो मेहनत समाप्त हो जायेगी।

 

सूचनाः- आज मास का तीसरा रविवार है, सभी राजयोगी तपस्वी भाई बहिनें सायं 6.30 से 7.30 बजे तक, विशेष योग अभ्यास के समय भक्तों की पुकार सुनें और अपने ईष्ट देव रहमदिल, दाता स्वरूप में स्थित हो सबकी मनोकामनायें पूर्ण करने की सेवा करें।

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 19 JULY 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 19 July 2019

To Read Murli 18 July 2019 :- Click Here
19-07-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – तुम यहाँ याद में रहकर पाप दग्ध करने के लिए आये हो इसलिए बुद्धियोग निष्फल न जाए, इस बात का पूरा ध्यान रखना हैˮ
प्रश्नः- कौन-सा सूक्ष्म विकार भी अन्त में मुसीबत खड़ी कर देता है?
उत्तर:- अगर सूक्ष्म में भी हबच (लालच) का विकार है, कोई चीज़ हबच के कारण इकट्ठी करके अपने पास जमा करके रख दी तो वही अन्त में मुसीबत के रूप में याद आती है इसलिए बाबा कहते – बच्चे, अपने पास कुछ भी न रखो। तुम्हें सब संकल्पों को भी समेटकर बाप की याद में रहने की टेव (आदत) डालनी है इसलिए देही-अभिमानी बनने का अभ्यास करो।

ओम् शान्ति। बच्चों को रोज़-रोज़ याद दिलाते हैं – देही-अभिमानी बनो क्योंकि बुद्धि इधर-उधर जाती है। अज्ञानकाल में भी कथा वार्ता सुनते हैं तो बुद्धि बाहर भटकती है। यहाँ भी भटकती है इसलिए रोज़-रोज़ कहते हैं देही-अभिमानी बनो। वह तो कहेंगे हम जो सुनाते हैं उस पर ध्यान दो, धारण करो। शास्त्र जो सुनाते हैं वह वचन ध्यान पर रखो। यहाँ तो बाप आत्माओं को समझाते हैं, तुम सब स्टूडेण्ट देही-अभिमानी होकर बैठो। शिवबाबा आते हैं पढ़ाने के लिए। ऐसा कोई कॉलेज नहीं होगा जहाँ समझेंगे शिवबाबा पढ़ाने आते हैं। ऐसा स्कूल होना ही चाहिए पुरूषोत्तम संगमयुग पर। स्टूडेण्ट बैठे हैं और यह भी समझते हैं परमपिता परमात्मा आते हैं हमको पढ़ाने। शिवबाबा आते हैं हमको पढ़ाने। पहली-पहली बात समझाते हैं तुमको पावन बनना है तो मामेकम् याद करो परन्तु माया घड़ी-घड़ी भुला देती है इसलिए बाप ख़बरदार करते हैं। कोई को समझाना है तो भी पहली-पहली बात समझाओ कि भगवान् कौन है? भगवान् जो पतित-पावन दु:ख हर्ता, सुख कर्ता है, वह कहाँ है? उनको याद तो सब करते हैं। जब कोई आ़फतें आती हैं, कहते हैं हे भगवान् रहम करो। किसको बचाना होता है तो भी कहते हैं हे भगवान्, ओ गॉड हमको दु:ख से लिबरेट करो। दु:ख तो सबको है। यह तो पक्का मालूम है सतयुग को सुखधाम कहा जाता है, कलियुग को दु:खधाम कहा जाता है। यह बच्चे जानते हैं फिर भी माया भुला देती है। यह याद में बिठाने की रस्म भी ड्रामा में है क्योंकि बहुत हैं जो सारा दिन याद नहीं करते हैं, एक मिनट भी याद नहीं करते हैं फिर याद दिलाने के लिए यहाँ बिठाते हैं। याद करने की युक्ति बतलाते हैं तो पक्का हो जाए। बाप की याद से ही हमको सतोप्रधान बनना है। सतोप्रधान बनने की बाप ने फर्स्टक्लास रीयल युक्ति बताई है। पतित-पावन तो एक ही है, वह आकर युक्ति बताते हैं। यहाँ तुम बच्चे शान्ति में तब बैठते हो जबकि बाप के साथ योग है। अगर बुद्धि का योग यहाँ-वहाँ गया तो शान्त में नहीं हैं, गोया अशान्त हैं। जितना समय यहाँ-वहाँ बुद्धियोग गया, वह निष्फल हुआ क्योंकि पाप तो कटते नहीं। दुनिया यह नहीं जानती कि पाप कैसे कटते हैं! यह बड़ी महीन बातें हैं। बाप ने कहा है मेरी याद में बैठो, तो जब तक याद की तार जुटी हुई है, उतना समय सफलता है। ज़रा भी बुद्धि इधर-उधर गई तो वह टाइम वेस्ट हुआ, निष्फल हुआ। बाप का डायरेक्शन है ना कि बच्चे मुझे याद करो, अगर याद नहीं किया तो निष्फल हुआ। इससे क्या होगा? तुम जल्दी सतोप्रधान नहीं बनेंगे फिर तो आदत पड़ जायेगी। यह होता रहेगा। आत्मा इस जन्म के पाप तो जानती है। भल कोई कहते हैं हमको याद नहीं है, परन्तु बाबा कहते हैं 3-4 वर्ष से लेकर सब बातें याद रहती हैं। शुरू में इतने पाप नहीं होते हैं, जितने बाद में होते हैं। दिन-प्रतिदिन क्रिमिनल आई होती जाती है, त्रेता में दो कला कम होती हैं। चन्द्रमा की 2 कला कितने में कम होती हैं। धीरे-धीरे कम होती जाती हैं फिर 16 कला सम्पूर्ण भी चन्द्रमा को कहा जाता है, सूर्य को नहीं कहते। चन्द्रमा की है एक मास की बात, यह फिर है कल्प की बात। दिन-प्रतिदिन नीचे उतरते जाते हैं। फिर याद की यात्रा से ऊपर चढ़ सकते हैं। फिर तो दरकार नहीं जो हम याद करें और ऊपर चढ़ें। सतयुग के बाद फिर उतरना है। सतयुग में भी याद करें तो नीचे उतरे ही नहीं। ड्रामा अनुसार उतरना ही है, तो याद ही नहीं करते हैं। उतरना भी जरूर है फिर याद करने का उपाय बाप ही बतलाते हैं क्योंकि ऊपर जाना है। संगम पर ही आकर बाप सिखलाते हैं कि अब चढ़ती कला शुरू होती है। हमको फिर अपने सुखधाम में जाना है। बाप कहते हैं अब सुखधाम में जाना है तो मुझे याद करो। याद से तुम्हारी आत्मा सतोप्रधान बन जायेगी।

तुम दुनिया से निराले हो, बैकुण्ठ दुनिया से बिल्कुल न्यारा है। बैकुण्ठ था, अब नहीं है। कल्प की आयु लम्बी कर देने के कारण भूल गये हैं। अभी तुम बच्चों को तो बैकुण्ठ बहुत नज़दीक दिखाई देता है। बाकी थोड़ा टाइम है। याद की यात्रा में ही कमी है इसलिए समझते हैं अभी टाइम है। याद की यात्रा जितनी होनी चाहिए उतनी नहीं है। तुम पैगाम पहुँचाते हो ड्रामा के प्लैन अनुसार, कोई को पैगाम नहीं देते हैं तो गोया सर्विस नहीं करते हैं। सारी दुनिया में पैगाम तो पहुँचाना है कि बाप कहते हैं मामेकम् याद करो। गीता पढ़ने वाले जानते हैं, एक ही गीता शास्त्र है, जिसमें यह महावाक्य हैं। परन्तु उसमें कृष्ण भगवानुवाच लिख दिया है तो याद किसको करें। भल शिव की भक्ति करते हैं परन्तु यथार्थ ज्ञान नहीं जो श्रीमत पर चलें। इस समय तुमको मिलती है ईश्वरीय मत, इनके पहले थी मानव मत। दोनों में रात-दिन का फ़र्क है। मानव मत कहती है ईश्वर सर्वव्यापी है। ईश्वर की मत कहती है नहीं। बाप कहते हैं मैं आया हूँ स्वर्ग की स्थापना करने तो जरूर यह नर्क है। यहाँ 5 विकार सबमें प्रवेश हैं। विकारी दुनिया है तब तो मैं आता हूँ निर्विकारी बनाने के लिए। जो ईश्वर के बच्चे बने, उनके पास विकार तो हो नहीं सकते। रावण का चित्र 10 शीश वाला दिखाते हैं। कभी कोई कह न सके कि रावण की सृष्टि निर्विकारी है। तुम जानते हो अभी रावण राज्य है, सभी में 5 विकार हैं। सतयुग में है रामराज्य, कोई भी विकार नहीं। इस समय मनुष्य कितने दु:खी हैं। शरीर को कितने दु:ख लगते हैं, यह है दु:खधाम, सुखधाम में तो शारीरिक दु:ख भी नहीं होते हैं। यहाँ तो कितनी हॉस्पिटल्स भरी हुई हैं, इनको स्वर्ग कहना भी बड़ी भूल है। तो समझकर औरों को समझाना है, वह पढ़ाई कोई को समझाने के लिए नहीं है। इम्तहान पास किया और नौकरी पर चढ़ा। यहाँ तो तुमको सबको पैगाम देना है। सिर्फ एक बाप थोड़ेही देंगे। जो बहुत होशियार हैं उनको टीचर कहा जाता है, कम होशियार हैं तो उनको स्टूडेण्ट कहा जाता है। तुम्हें सबको पैगाम देना है, पूछना है भगवान् को जानते हो? वह तो बाप है सबका। तो मूल बात है बाप का परिचय देना क्योंकि कोई जानते नहीं हैं। ऊंच ते ऊंच बाप है, सारे विश्व को पावन बनाने वाला है। सारा विश्व पावन था, जिसमें भारत ही था। और कोई धर्म वाला कह न सके कि हम नई दुनिया में आये हैं। वह तो समझते हैं हमारे से आगे कोई होकर गये हैं। क्राइस्ट भी जरूर कोई में आयेगा। उनके आगे जरूर कोई थे। बाप बैठ समझाते हैं मैं इस ब्रह्मा तन में प्रवेश करता हूँ। यह भी कोई मानते नहीं कि ब्रह्मा के तन में आते हैं। अरे, ब्राह्मण तो चाहिए जरूर। ब्राह्मण कहाँ से आयेंगे। जरूर ब्रह्मा से ही तो आयेंगे ना। अच्छा, ब्रह्मा का बाप कभी सुना? वह है ग्रेट-ग्रेट ग्रैण्ड फादर। उनका साकार फादर कोई नहीं। ब्रह्मा का साकार बाप कौन? कोई बतला न सके। ब्रह्मा तो गाया हुआ है। प्रजापिता भी है। जैसे निराकार शिवबाबा कहते हैं, उनका बाप बताओ? फिर साकार प्रजापिता ब्रह्मा का बाप बताओ। शिवबाबा तो एडाप्ट किया हुआ नहीं है। यह एडाप्ट किया हुआ है। कहेंगे इनको शिवबाबा ने एडाप्ट किया। विष्णु को शिवबाबा ने एडाप्ट किया है, ऐसा नहीं कहेंगे। यह तो तुम जानते हो ब्रह्मा सो विष्णु बनते हैं। एडाप्ट तो हुआ नहीं। शंकर के लिए भी बताया है, उनका कोई पार्ट है नहीं। ब्रह्मा सो विष्णु, विष्णु सो ब्रह्मा यह 84 का चक्र है। शंकर फिर कहाँ से आया। उनकी रचना कहाँ है। बाप की तो रचना है, वह सब आत्माओं का बाप है और ब्रह्मा की रचना हैं सब मनुष्य। शंकर की रचना कहाँ है? शंकर से कोई मनुष्य दुनिया नहीं रची जाती। बाप आकर यह सब बातें समझाते हैं फिर भी बच्चे घड़ी-घड़ी भूल जाते हैं। हरेक की बुद्धि नम्बरवार है ना। जितनी बुद्धि उतनी टीचर की पढ़ाई धारण कर सकते हैं। यह है बेहद की पढ़ाई। पढ़ाई के अनुसार ही नम्बरवार पद पाते हैं। भल पढ़ाई एक ही है मनुष्य से देवता बनने की परन्तु डिनायस्टी बनती है ना। यह भी बुद्धि में आना चाहिए कि हम कौन-सा पद पायेंगे? राजा बनना तो मेहनत का काम है। राजाओं के पास दास-दासियां भी चाहिए। दास-दासियां कौन बनते हैं, यह भी तुम समझ सकते हो। नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार हरेक को दासियां मिलती होंगी। तो ऐसा नहीं पढ़ना चाहिए जो जन्म-जन्मान्तर दास-दासी बनें। पुरूषार्थ करना है ऊंच बनने का।

तो सच्ची शान्ति बाप की याद में है, जरा भी बुद्धि इधर-उधर गई तो टाइम वेस्ट होगा। कमाई कम होगी। सतोप्रधान बन नहीं सकेंगे। यह भी समझाया है कि हाथों से काम करते रहो, दिल से बाप को याद करो। शरीर को तन्दरूस्त रखने के लिए घूमना फिरना, यह भी भल करो। परन्तु बुद्धि में बाप की याद रहे। अगर साथ में कोई हो तो झरमुई-झगमुई नहीं करनी है। यह तो हर एक की दिल गवाही देती है। बाबा समझा देते हैं ऐसी अवस्था में चक्कर लगाओ। पादरी लोग जाते हैं एकदम शान्त में, तुम लोग ज्ञान की बातें सारा समय तो नहीं करेंगे फिर जबान को शान्त में लाकर शिवबाबा की याद में रेस करनी चाहिए। जैसे खाने के समय बाबा कहते हैं – याद में बैठकर खाओ, अपना चार्ट देखो। बाबा अपना तो बताते हैं कि हम भूल जाते हैं। कोशिश करता हूँ, बाबा को कहता हूँ बाबा हम पूरा समय याद में रहूँगा। आप हमारी खाँसी बंद करो। शुगर कम करो। अपने साथ जो मेहनत करता हूँ, वह बताता हूँ। परन्तु मैं खुद ही भूल जाता हूँ तो खाँसी कम कैसे होगी। जो बातें बाबा के साथ करता हूँ, वह सच सुनाता हूँ। बाबा बच्चों को बता देते हैं, बच्चे बाप को नहीं सुनाते, लज्जा आती है। झाड़ू लगाओ, खाना बनाओ तो भी शिवबाबा की याद में बनाओ तो ताकत आयेगी। यह भी युक्ति चाहिए, इसमें तुम्हारा ही कल्याण होगा फिर तुम याद में बैठेंगे तो औरों को भी कशिश होगी। एक-दो को कशिश तो होती है ना। जितना तुम जास्ती याद में रहेंगे उतना सन्नाटा अच्छा हो जायेगा। एक-दो का प्रभाव ड्रामा अनुसार पड़ता है। याद की यात्रा तो बहुत कल्याणकारी है, इसमें झूठ बोलने की दरकार नहीं है। सच्चे बाप के बच्चे हैं तो सच्चा होकर चलना है। बच्चों को तो सब कुछ मिलता है। विश्व की बादशाही मिलती है तो फिर लोभ कर 10-20 साड़ियाँ आदि क्यों इकट्ठी करते हो। अगर बहुत चीजें इकट्ठी करते रहेंगे तो मरने समय भी याद आयेगी इसलिए मिसाल देते हैं कि स्त्री ने उनको कहा लाठी भी छोड़ दो, नहीं तो यह भी याद आयेगी। कुछ भी याद नहीं रहना चाहिए। नहीं तो अपने लिए ही मुसीबत लाते हैं। झूठ बोलने से सौगुणा पाप चढ़ जाता है। शिवबाबा का भण्डारा सदैव भरा रहता है, जास्ती रखने की भी दरकार क्या है। जिसकी चोरी हो जाती है तो सब कुछ दिया जाता है। तुम बच्चों को बाप से राजाई मिलती है, तो क्या कपड़े आदि नहीं मिलेंगे। सिर्फ फालतू खर्चा नहीं करना चाहिए क्योंकि अबलायें ही मदद करती हैं स्वर्ग की स्थापना में। उनके पैसे ऐसे बरबाद भी नहीं करने चाहिए। वह तुम्हारी परवरिश करती हैं तो तुम्हारा काम है उन्हों की परवरिश करना। नहीं तो सौ गुणा पाप सिर पर चढ़ता है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बाप की याद में बैठते समय ज़रा भी बुद्धि इधर-उधर नहीं भटकनी चाहिए। सदा कमाई जमा होती रहे। याद ऐसी हो जो सन्नाटा हो जाए।

2) शरीर को तन्दुरूस्त रखने के लिये घूमने फिरने जाते हो तो आपस में झरमुई-झगमुई (परचिंतन) नहीं करना है। जबान को शान्त में रख बाप को याद करने की रेस करनी है। भोजन भी बाप की याद में खाना है।

वरदान:- सम्बन्ध-सम्पर्क में सन्तुष्टता की विशेषता द्वारा माला में पिरोने वाले सन्तुष्टमणी भव
संगमयुग सन्तुष्टता का युग है। जो स्वयं से भी सन्तुष्ट हैं और सम्बन्ध-सम्पर्क में भी सदा सन्तुष्ट रहते वा सन्तुष्ट करते हैं वही माला में पिरोते हैं क्योंकि माला सम्बन्ध से बनती है। अगर दाने का दाने से सम्पर्क नहीं हो तो माला नहीं बनेंगी इसलिए सन्तुष्टमणी बन सदा सन्तुष्ट रहो और सर्व को सन्तुष्ट करो। परिवार का अर्थ ही है सन्तुष्ट रहना और सन्तुष्ट करना। कोई भी प्रकार की खिटखिट न हो।
स्लोगन:- विघ्नों का काम है आना और आपका काम है विघ्न-विनाशक बनना।

TODAY MURLI 19 JULY 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 19 July 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 18 July 2019:- Click Here

19/07/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you have come here to stay in remembrance and burn your sins away. Therefore, pay full attention so that your intellects’ yoga is not fruitless (wasted).
Question: Which subtle vice creates difficulty at the end?
Answer: If there is even a subtle form of the vice of greed, if you collect and keep something with you out of greed, you will remember that thing at the end and create difficulty. This is why Baba says: Children, do not keep anything with you. You have to merge all thoughts and instil the habit of staying in remembrance of the Father. Therefore, practise being soul conscious.

Om shanti. Baba reminds you children every day: Be soul conscious because your intellects wander here and there. On the path of ignorance, while listening to religious stories, their intellects wander outside. Here, too, the intellects wander everywhere. This is why you are told every day to be soul conscious. Those people say: Pay attention to what we say and imbibe it. Pay attention to the versions that are mentioned in the scriptures. Here, the Father explains to you souls: All of you students have to sit here in soul consciousness. Shiv Baba comes here to teach you. There isn’t any other college where they consider Shiv Baba to be teaching them. Such a school has to exist at only the most auspicious confluence age. You students are sitting here and you understand that the Supreme Father, the Supreme Soul, comes here to teach you. Shiv Baba comes to teach us. The first thing He explains is: You have to become pure. Therefore, constantly remember Me alone. However, Maya makes you repeatedly forget. This is why the Father cautions you. If you are going to explain to someone, the first thing you have to explain is who God is and where God, who is the Purifier, the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness is. Everyone does remember Him. When they have difficulty, they say: O God, have mercy! When people have to be saved, they say: O God, oh God, liberate us from sorrow! Everyone has sorrow. You know for sure that the golden age is called the land of happiness and that the iron age is called the land of sorrow. You children know this, but Maya still makes you forget. This system of inspiring you to sit in remembrance is fixed in the drama because there are many who don’t have remembrance at all throughout the day. They don’t have remembrance for even a minute, so they are made to sit here to inspire them to have remembrance. You are given methods for staying in remembrance so that it becomes firm. We have to become satopradhan by having remembrance of the Father. The Father has told you a first-class, real method for becoming satopradhan. Only the One is the Purifier. He comes and tells you the method. You children sit here in peace when you have yoga with the Father. If your intellects’ yoga wanders here and there, you are not in peace, which means that you are peaceless. All the time your intellects’ yoga wander here and there, it is wasted, because your sins are not being cut away. The world doesn’t know how sins are cut away. These are very subtle matters. The Father has told you: Stay in remembrance of Me. So, for the duration of the time that your thread of remembrance is connected, there is success. If your intellects wander here and there, even slightly, that time is wastedand fruitless. The Father’s direction is: Children, remember Me! If you do not remember Me, that is fruitless. What will happen through that? You will not become satopradhan quickly. That habit will then be instilled and it will continue to happen. A soul knows the sins he has committed in this birth. Although some people say that they don’t remember them, Baba says: You remember everything from the age of three or four years. You don’t commit as many sins in the beginning as you commit later. Day by day, your eyecontinues to become criminal. It becomes two degrees less in the silver age. How long does it take for the moon to decrease by two degrees? It continues to decrease gradually. At that time, the moon is also said to be 16 celestial degrees full. This is not said of the sun. For the moon, it is a matter of one month, whereas here, it is a matter of a cycle. Day by day, you continue to come down. Then you climb up on the pilgrimage of remembrance. Then, there is no need for you to have remembrance to climb up; after the golden age, you have to come down. If you were to have remembrance in the golden age, you would not even come down. However, according to the drama, you have to come down and this is why you don’t remember at all. You definitely have to come down, and then the Father shows you the method of remembrance because you have to climb up. The Father comes and teaches you at the confluence age how the stage of ascent now begins. We then have to go to our land of happiness. The Father says: You now have to go to the land of happiness, and so remember Me. You souls will become satopradhan by having remembrance. You are different from the world. Paradise is completely different from this world. Paradise existed before, but it doesn’t exist now. Because of lengthening the duration of the cycle, they have forgotten this. You children now find Paradise to be very close; there is very little time left. When there is something lacking in the pilgrimage of remembrance you think that there is still time left. There isn’t as much pilgrimage of remembrance as there should be. You enable the message to reach everyone according to the dramaplan. If you are not giving others the message, it means you are not doing service. You have to make the message reach the whole world: The Father says: Constantly remember Me alone! Those who study the Gita know that there is just the one Gita scripture in which this elevated version is mentioned. However, they have said that those are the versions of God Krishna, and so whom would they remember? Although they worship Shiva, they don’t have accurate knowledge in order to be able to follow shrimat. At this time, you are receiving God’s directions, whereas, previously, you had the directions of human beings. There is the difference of day and night between the two. Human directions say that God is omnipresent, whereas the directions of God say: No! The Father says: I have come to establish heaven and so this is surely hell. The five vices exist in everyone here. This is the vicious world and I have therefore come to make it viceless. Those who become the children of God cannot have these vices. They show pictures of Ravan with ten heads. No one can ever say that the world of Ravan is viceless. You know that it is now the kingdom of Ravan and that there are the five vices in everyone. In the golden age, there is the kingdom of Rama and there are no vices. At this time, people are so unhappy. The body experiences so much suffering. This is the land of sorrow. In the land of happiness, the body doesn’t experience any sorrow. Here, so many hospitals are full. To call this place heaven is a great mistake. So, you have to understand and then explain to others. Those studies are not for explaining to others. You pass your examinations and start work. Here, you have to give everyone the message. The one Father alone will not give this message. Those who are very clever are called teachers. Those who are less clever are called students. You have to give everyone the message. Ask them: Do you know God? He is everyone’s Father. So, the main thing is to give the Father’s introduction because no one knows it. The Father is the Highest on High. He is the One who makes the whole world pure. The whole world was pure and there was just Bharat in that. None of those of the other religions can say that they came into the new world. They believe that someone existed before them. Christ will also definitely enter someone. There was definitely someone existing before him. The Father sits here and explains: I enter this body of Brahma. No one believes that He enters the body of Brahma. Ah! but Brahmins are definitely needed. Where would Brahmins come from? They would definitely come from Brahma. Achcha, have you ever heard of the father of Brahma? He is the great-great-grandfather, he doesn’t have a physical father. Who is the physical father of Brahma? No one can tell you this. Brahma has been remembered. He is also the Father of people. Similarly, you speak of incorporeal Shiv Baba. Who is His Father? Then, who is the father of the physical Prajapita Brahma? Shiv Baba has not been adopted. This one has been adopted. It would be said that Shiv Baba adopted this one. It would not be said that Shiv Baba adopted Vishnu. You know that Brahma becomes Vishnu. He is not adopted. Shankar is shown as having no part. Brahma becomes Vishnu and Vishnu becomes Brahma. This is the cycle of 84 births. Where did Shankar come from then? Where is his creation? There is the creation of the Father. He is the Father of all souls, whereas the creation of Brahma are all human beings. So, where is the creation of Shankar? The human world is not created through Shankar. The Father comes here and explains all of these things, but, in spite of that, you children repeatedly forget them. The intellect of each one is numberwise. The more intellect (wisdom) you have, the more you are able to imbibe the Teacher’s teachings. This is an unlimited study and you claim a status, numberwise, according to how you study. Although it is the same study to change from human beings into deities, a dynasty is created. It should also enter your intellects what status you will claim. It requires effort to become a king. Kings also need maids and servants. Who will become maids and servants? You can also understand this. Each one would have maids and servants, numberwise, according to their efforts, so you should not study in such a way that you become maids and servants for birth after birth. You have to make effort to become elevated. So, there is real peace in having remembrance of the Father. If your intellects wander here and there, even slightly, time is wasted and there is less income earned. You won’t be able to become satopradhan. It has also been explained that, while you continue to work with your hands, you have to remember the Father with your heart. In order to keep your body healthy, you may tour around, but let your intellect have remembrance of the Father. If you have someone with you, you mustn’t gossip. Each one’s heart is a witness for this. Baba explains that you should tour around in such a stage. Priests walk in total silence. You people don’t speak of knowledge all the time. Therefore, keep yourself quiet and race in remembrance of Shiv Baba. For instance, Baba says: When you are eating, sit and eat in remembrance. Look at your chart. Baba tells you his own chart and how he forgets to remember. I try to remember Baba and I say to Baba: Baba, I will stay in remembrance all the time. You just stop my cough and reduce my sugar. I tell you the effort that I make on myself, but I myself forget to remember. So, how would the cough be reduced? I tell you honestly the conversation I have with Baba. Baba tells you children, but you children don’t tell the Father because you are ashamed. When you sweep the floor or prepare food, do that in remembrance of Shiv Baba and you will receive strength. This method too is needed. You will also benefit from that. When you sit in remembrance, others will also be pulled; there is a pull for one another. The more you stay in remembrance, the better the dead silence will be. According to the drama, there is an influence on one another. The pilgrimage of remembrance is very beneficial. There is no need to tell lies about this. You are children of the true Father and so you have to move along with honesty. You children receive everything; you receive the sovereignty of the world, so why should you have greed and accumulate 10 to 20 saris? If you continue to accumulate many things, you will remember them at the time of dying. This is why the example is given: His wife told him to renounce even his stick because, otherwise, he would remember that at the end. Nothing should be remembered. Otherwise, you are creating a difficulty for yourself. By telling lies, you accumulate one hundred-fold sin. Shiv Baba’s treasure-store is always full, so there is no need for you to keep a lot. If everything someone has is stolen, he is given everything. You children receive the kingdom from the Father, so would you not receive clothes etc? Just don’t have unnecessary expenditure because it is the innocent weak mothers who help in the establishment of heaven. Therefore, their money should not be wasted just like that. They look after you and so it is your duty to look after them. Otherwise, one hundred-fold sin is accumulated on your heads. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. At the time of sitting in remembrance of the Father, your intellects should not wander here and there even slightly. Always continue to accumulate your income. Let your remembrance be such that there is dead silence.
  2. In order to keep your body healthy, do not gossip with your companions when you tour around, but keep yourself quiet and race in remembrance of the Father. Take your meals in remembrance of the Father.
Blessing: May you be a jewel of contentment who becomes threaded in the rosary with your speciality of contentment in your relationships and connections.
The confluence age is the age of contentment. Those who are content with themselves and always remain content in their relationships and connections and make others content become threaded in the rosary because the rosary is created through relationships. If one bead is not connected to the next bead, a rosary cannot be created. Therefore, be a jewel of contentment, always remain content and make everyone content. The meaning of a family is to remain content and to make everyone content. Let there not be any type of conflict.
Slogan: It is the duty of obstacles to come and it is your duty to be a destroyer of obstacles.

*** Om Shanti ***

TODAY MURLI 19 JULY 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 19 July 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 18 July 2018 :- Click Here

19/07/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, this birth of yours is very precious because the Father Himself serves you at this time. He washes your clothes with Lux (Laksh-aim) soap.
Question: What question should you ask those who call Allah the Creator of the world?
Answer: Ask them: When Allah created the world, He would have needed a female too. So, who was the female for Allah? Since you say, “God, the Father” a mother is also needed. You children know this deep secret very well. The female for Allah is this Brahma. He is your senior mother. Human beings cannot understand this.
Song: Who created this play and hid Himself away? 

Om shanti. You children know that no human being can give the accurate meaning of this song. Even those who write plays don’t understand. They simply compose songs, just as scriptures are written. They don’t understand anything. You say that the Vedas are not religious scriptures. They are called scriptures, but not religious scriptures. There has to be some benefit in religious scriptures. However, they don’t even understand the meaning of religious scriptures. A scripture is something with which a religion is established by someone. Therefore, you should ask: To which religion do the scriptures of the Vedas and Upanishads belong? Who established that religion? No religion has emerged from them. The various religions have also been explained to you. The main part of the tree is the trunk, then there are the big branches and the other twigs that emerge. It has been explained to you children that the Gita, the religious scripture, the jewel of all scriptures, is the trunk. Beside the Gita, all the rest are the creation. Islam, Buddhism, Christianity etc. are all branches of the kalpa tree. In the Gita, it is written: The tree of the human world. So, the significance of the tree is now in your intellects. The main part is the trunk – the original eternal deity religion. This tree is compared to the banyan tree. That tree is very big. When the tree becomes old, its trunk decays but the branches and twigs remain. It is the same here. You children know that the trunk of this tree, which is the deity religion, no longer exists. If God has 24 incarnations, He cannot be omnipresent. If He incarnates, how could He be omnipresent like they say? This is something new. The tree is so big and it has no trunk. Not a single human being exists who could say that he belongs to the original eternal deity religion. They have taken the golden age back by hundreds of thousands of years. This has made so much difficulty. All human beings are unhappy. Who can be happy? The difference of happiness here being like the droppings of a crow and the great happiness there does not enter the intellects of sannyasis. They don’t know this. The Father tells you: I now once again take you into a lot of happiness. He plays His part at this time, does everything and then hides Himself away. In fact, everyone plays a part. Those of Islam, the Buddhists etc. will all hide; they will go up above. No one knows this either. This is only explained to human beings; this would not be told to animals. The human birth is said to be the most elevated of all. Which birth? It is said that the skin of human beings is of no use. Then it is said that the human birth is the highest. In fact, this birth of yours is the highest because the Father sits here and serves you. This life of the people of the world is the lowest. You know that, previously, you too were very dirty, impure human beings. Baba is now washing our clothes with the Lux (aim) soap of knowledge and He says: Now, remember your Father. No one in the world knows the Father. Only when they know the Father can they become His children. Only when they belong to Shiva and also to Brahma can they be called the grandchildren. There are two types of Brahmin. One is the mouth-born creation and the other is the physical creation. You are the mouth-born Brahma Kumars and Kumaris of Brahma. Who is the Father of Brahma? Shiv Baba. No one is His father. He is the One who is teaching you and He is also your Guru. He is now personally in front of you and then He will hide away. He purifies the impure world, establishes the deity religion and then takes everyone to the land of liberation. He gave you happiness for 21 births and so what more could you want? Baba makes you constantly happy anyway. However, you do have to make effort to claim a high status. The land of Krishna is called the land of happiness. People don’t show the childhood of Narayan. They show the marriage of Krishna. When he married Radhe, what were their names changed to? They don’t show this. People don’t know about Lakshmi and Narayan. No one knows their biography. You now understand this. Only a handful out of multimillions who have been around the full cycle will emerge. You know that those who perform devotion are the ones who first become worshippers from being worthy of worship. All are devotees. Human beings are like mustard seeds. You know that all the poor, helpless people are being ground in the mill of death. You children have now received very large intellects. It is very easy to keep the cycle of 84 births in your intellects. We are now Brahmins and will then become deities. Then we will have to take 84 births. The meaning of ‘hum so’ has also been explained to you children. ‘Hum so, so hum’ is only sung here. This expression doesn’t exist in other religions. They take ‘om’ to mean God. In fact ‘om’ means I, the soul. They wrongly say: A soul is the Supreme Soul. OK, what then? I am not the body. The Supreme Father, the Supreme Soul, cannot say: I, the soul, and this is My body. That Father says: It is right to say, I am a soul; I have taken this body on loan. This is not My shoe. I don’t have feet. My feet cannot be worshipped. Krishna has feet; I do not have feet. I am the incorporeal One. In fact, souls too are incorporeal, but they enter the cycle of 84 births. I do not have a body; I am bodiless. I tell you to become bodiless and remember Me. You know that Baba has come. What is His part? To make the impure world pure. The incorporeal One would definitely come in someone’s body. Because human beings don’t have knowledge, they have mentioned the name of the first prince,Shri Krishna. How could Shri Krishna come here? You have to understand this and then explain to others. People used to praise the Tagore Gita etc. so much. In fact, there is no praise of Krishna either. It was Shiv Baba who made Krishna. This is the last of the many births of Krishna. Baba says: How would I sit and speak through the body of a small child? A mature chariot is definitely needed. According to the drama, this chariot of Mine is fixed. It isn’t that I will take another chariot in the next cycle. Only through Brahma will establishment take place. In the previous cycle too, you Brahma Kumars and Kumaris claimed your inheritance through Brahma. The Father now says: Break away from everyone else and connect yourself to Me alone: mine is one Shiv Baba and none other. You are the Mother and Father… You are now personally in front of the One who is praised so much. Just think about it, who really created you? It is said: Allah created us. So, there must definitely be a female for Allah. Allah is incorporeal, so where did His female come from? You speak of God, the Father, and so the Father is always the Creator. If there is no mother, how could He be called the Father? It is only when He has a child that he is called the Father. No one knows who the female is for God, the Father. These are the deepest matters. There are both Adam and Bibi. If this (Brahma) is called Adam, Saraswati cannot be called Bibi. If she is Bibi, then who is her mother? These things have to be understood very clearly. The Father alone sits here and explains: In this way, Brahma is My wife. I create you children through his mouth. I enter the body of Brahma. Then, Jagadamba has become the instrument to look after them. Who are Adi Dev Brahma and Jagadamba Saraswati? Reason says that she is the daughter of Brahma. So, how was creation created? It was created through Brahma and so he is the senior mother. Then there are Mama and Baba, too, to look after you. Saraswati claims the first number. Jagadamba is praised so much. You have now understood that you have become Brahmins. We have come into God’s lap. In this too, there are two types: the real and the step. All are children of the one mother and so the question of real or step shouldn’t arise. However, why are ‘real’ and ‘step’ said here? It is said that the real children promise they will remain pure and claim their inheritance. Therefore, only those who are pure become the heirs who claim the throne. Stepchildren become subjects. Many will become real children, but they are also numberwise. Each of you will sit on the throne of the mother and father to the extent that you make effort. Mama and Baba sit on the throne, and so you too should receive the throne. However, you will become that numberwise. So, this is the pilgrimage of yoga. You have to remember Baba, spin the discus of self-realisation and make others similar to yourselves. You have to make effort to make others similar to yourselves. Daughters give the introduction and then bring them to the Father for Him to refresh them. Baba sees which ones will claim their full inheritance from the Father and remove their attachment from everyone else and connect themselves to the One. You know that Baba is the One who makes us into the masters of the world. The Father says: I will make you into the masters of heaven. Then, you can either become the sun dynasty or the moon dynasty. So, the Father does everything Himself and then He hides away. He doesn’t incarnate again and again. He doesn’t even have a body of His own. He only comes once. You repeatedly continue to shed your costumes and take others. I don’t enter rebirth. He explains so clearly. Previously, you didn’t have these things in your intellects. Just by chance, while I was sitting at home and moving along by myself, Baba entered me and I then became aware. Now, day by day, everything continues to sit in the intellect. Some say: I am Baba’s child of seven days; I am Baba’s child of two months. This knowledge can be received in a second. There are so many children. There aren’t as many children in any other spiritual gathering. Prajapita Brahma and Jagadamba are the son and daughter of the Father; they are not a male and female (a couple). How could a male and female create so many children? There is no question of them all being a physical creation. Those who belonged to the Mother and Father in the previous cycle and claimed their inheritance will continue to come. The sapling continues to be planted. This is a garden, is it not? The flowers of the deity religion don’t exist now. All the rest are like thorns, they prick. This is the world of thorns. The Father comes and changes thorns into buds and buds into flowers. By not following shrimat, you fall. Baba understands when someone has fallen into vice. You are now becoming pure from impure. Bapu Gandhiji also used to remember the Purifier. He desired the World Almighty Authority kingdom. Only the Father establishes that. You know that we now have to go from this land of Kans, the devil, to the land of Krishna. There was the golden age in Bharat. It used to be the kingdom of Lakshmi and Narayan. It is a matter of 5000 years. Nothing is older than 5000 years. Nothing that is hundreds of thousands of years old would be able to last. Look, you old mothers have come from Gurgaon to the Mother and Father from whom you are to receive your inheritance. The Father is also pleased to see you old mothers. You also came 5000 years ago and claimed your inheritance. Everything depends on effort. You old mothers cannot take as much knowledge. This Dada is old but he studies very well. You understand that the young mother Sarawati also studies well. However, this one is the River Brahmaputra. He would definitely be studying more. This old Dada is the cleverest of all. That one is the daughter. It is very easy for those who are old. Continue to remember Baba: Oho! Shiv Baba, I surrender myself to You! You take us to the land of happiness. That’s all! Stay in such happiness and your boat will go across. Always think that Shiv Baba is explaining to you. Let go of this one. Always think that Shiv Baba is speaking to you. Because your intellect’s yoga goes to Shiv Baba, your sins will continue to be absolved. Mama also explains after listening to Shiv Baba. Always have remembrance of only Shiv Baba and your sins will continue to be absolved. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to become a true heir seated on the throne, promise to become pure and become a real child. Break away from everyone else and connect yourself to the One.
  2. Serve to make others similar to yourself. Become a bud from a thorn and a flower from a bud and make others into flowers. Plant the sapling of the new tree.
Blessing: May you finish the consciousness of “I” and become an embodiment of success by saying “Baba, Baba” both verbally and in your mind in every situation.
You souls are instruments to increase zeal and enthusiasm in many other souls and so you cannot ever have the consciousness of “I”. Not that, “I did this”. No, Baba made you an instrument. Instead of “I”, let it be “my Baba”. Not, “I did this, I said this.” Baba made you do it, Baba did it. You will then become an embodiment of success. The more “Baba, Baba” emerges through your lips, the more you will be able to make many others belong to Baba. Let it emerge from everyone’s lips that you only have one Baba as your one concern in every situation.
Slogan: To use your body, mind and wealth in a worthwhile way at the confluence age and to increase your treasures is being sensible.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 19 JULY 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 19 July 2018

To Read Murli 18 July 2018 :- Click Here
19-07-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – तुम्हारा यह जन्म बहुत ही अमूल्य है, क्योंकि बाप स्वयं इस समय तुम्हारी सेवा करते हैं, लक्ष्य सोप से तुम्हारे वस्त्र साफ करते हैं”
प्रश्नः- जो अल्लाह को सृष्टि का रचयिता कहते हैं उनसे कौन-सा प्रश्न पूछना चाहिए?
उत्तर:- उनसे पूछो – जब अल्लाह ने सृष्टि रची तो रचना के लिये उन्हें फीमेल चाहिये, भला अल्लाह की फीमेल कौन? गॉड फादर कहते हो तो जरूर मदर भी चाहिये ना। तुम बच्चे इस गुह्य राज़ को अच्छी तरह से जानते हो। अल्लाह की फीमेल है यह ब्रह्मा। यह है तुम्हारी बड़ी माँ। इस बात को मनुष्य समझ नहीं सकते।
गीत:- किसने यह सब खेल रचाया…….. 

ओम् शान्ति। बच्चे जानते हैं कोई भी मनुष्य इस गीत का यथार्थ अर्थ कर न सकें। नाटक बनाने वाले भी नहीं समझते। ऐसे ही गीत बना देते हैं, जैसे शास्त्र बना देते हैं। समझते कुछ नहीं। तुम वेदों के लिये कहते हो – यह धर्म शास्त्र नहीं हैं। शास्त्र कहेंगे लेकिन धर्म शास्त्र नहीं है। अब धर्म शास्त्र से तो कुछ फ़ायदा होना चाहिये। धर्म शास्त्र का अर्थ भी नहीं समझते हैं। शास्त्र अर्थात् जिससे कोई धर्म स्थापन होता है, किसी द्वारा। तो पूछना चाहिये – वेद-उपनिषद किस धर्म के शास्त्र हैं? वह धर्म किसने स्थापन किया? इनसे तो कोई धर्म ही नहीं निकलता है। कौन-कौन-से धर्म हैं – वह भी समझाया जाता है। जैसे झाड़ में मुख्य है थुर (तना)। फिर बड़ी डाल, फिर छोटी-छोटी टाल-टालियां निकलती हैं। तो बच्चों को समझाया जाता है – यह जो धर्म शास्त्र है सर्व शास्त्रमई शिरोमणी गीता, वह है थुर। उनके बाद बाकी सब ठहरे रचना। यह इस्लामी, बौद्धी, क्रिश्चियन आदि यह सब कल्प वृक्ष के टाल हैं। गीता में भी लिखा हुआ है – मनुष्य सृष्टि का झाड़ है। तो यह झाड़ का राज़ बुद्धि में अभी बैठा है। इसका मुख्य थुर है – आदि सनातन देवी-देवता धर्म। इस झाड़ की भेंट बड़ के झाड़ से की जाती है। वह बहुत बड़ा होता है। झाड़ जब पुराना होता है तो उनका थुर (तना) सड़ जाता है, बाकी टाल-टालियां रहती हैं। यह भी ऐसे ही है। बच्चे जानते हैं – इनका थुर जो देवी-देवता धर्म था वह अब है नहीं। परमात्मा 24 अवतार लेते हैं तो वह सर्वव्यापी हो नहीं सकते। जब अवतार लेते हैं तो उनको सर्वव्यापी कैसे कहेंगे? नई बात है ना। कितना बड़ा झाड़ है! थुर है ही नहीं! एक भी मनुष्य नहीं जो कहे हम आदि सनातन देवी-देवता धर्म के हैं।

सतयुग को लाखों वर्ष पिछाड़ी में ले जाते हैं। कितनी मुश्किलात की बात हो गई है! अब सभी मनुष्य दु:खी ही दु:खी हैं। सुखी कौन हो सकता है? सन्यासियों की बुद्धि में भी यह भेंट आयेंगी नहीं कि यहाँ काग विष्टा समान सुख है और अथाह दु:ख हैं। यह उन्हों को पता नहीं है। अब बाप बतलाते हैं – तुमको अथाह सुख में फिर ले जाता हूँ। इस समय अपना पार्ट बजाए सभी कुछ करके छिप जाते हैं। यूँ पार्ट तो सभी बजाते हैं। इस्लामी-बौद्धी आदि सब छिप जायेंगे, ऊपर चले जायेंगे। यह भी कोई नहीं जानते। मनुष्यों को ही समझाया जाता है। जानवर को तो नहीं बतायेंगे। मनुष्य का जन्म सबसे ऊंच गाया जाता है। वह कौन-सा? कहते भी हैं कि मनुष्य की तो चमड़ी भी काम में नहीं आती। फिर कहते हैं – मनुष्य का जन्म उत्तम है। वास्तव में तुम्हारा यह जन्म उत्तम है, जो बाप बैठ तुम्हारी सेवा करते हैं। दुनिया के मनुष्यों का यह जीवन बहुत कनिष्ट है। तुम जानते हो – हम भी पहले छी-छी मूत पलीती मनुष्य थे, अब बाबा हमारे इस वस्त्र को ज्ञान लक्ष्य सोप से साफ करते हैं और कहते हैं – अब अपने बाप को याद करो।

इस दुनिया में बाप को कोई भी नहीं जानते हैं। बाप को जानें तब तो बच्चे बनें। शिव के बनें, ब्रह्मा के बनें तब पौत्रे कहलायें। ब्राह्मण भी दो प्रकार के हैं – एक हैं मुख वंशावली, दूसरे हैं कुख वंशावली। तुम हो ब्रह्मा के मुख वंशावली ब्रह्माकुमार-कुमारियाँ। ब्रह्मा का बाप कौन? शिवबाबा। उनका बाप तो कोई होता नहीं। तुमको पढ़ाने वाला भी वह है। तुम्हारा गुरू भी वह है। अभी सम्मुख बैठे हैं फिर छिप जायेंगे। पतित दुनिया को पावन बनाए, देवी-देवता धर्म की स्थापना कर और सबको मुक्तिधाम में ले जायेंगे। 21 जन्मों का सुख दे दिया फिर और क्या चाहिये! बाबा सदा सुखी तो बनाते हैं। बाकी ऊंच पद पाने लिये तो पुरुषार्थ करना पड़े।

कृष्णपुरी को सुखधाम कहा जाता है। नारायण का बचपन नहीं दिखाते हैं। कृष्ण का स्वयंवर दिखाते हैं। अगर राधे से स्वयंवर हुआ तो फिर उनका नाम क्या बदली हुआ, वह दिखाते नहीं। लक्ष्मी-नारायण का तो मनुष्यों को पता नहीं। उनके जीवन चरित्र को कोई जानते नहीं। तुम अभी समझ रहे हो। कोटों में कोई ही निकलेगा, जिसने पूरा चक्र लगाया होगा। तुम यह जानते हो – भक्ति वह करते जो पहले-पहले पूज्य से पुजारी बनते हैं। भक्त तो सभी हैं। सरसों के मुआफिक मनुष्य हैं। तुम जानते हो – अब बिचारे सभी मौत की चक्की में हैं। अब तुम बच्चों को बहुत बड़ी बुद्धि मिली है। 84 जन्मों का चक्र बुद्धि में रखना बड़ा सहज है। हम अभी ब्राह्मण हैं। सो फिर देवता बनेंगे फिर 84 जन्म लेने पड़ेंगे। हम सो का अर्थ भी बच्चों को समझाया है। हम सो, सो हम – यहाँ ही गाते हैं। और धर्मों में यह अक्षर ही नहीं। ओम् माना भगवान् समझ लेते हैं। वास्तव में ओम् अर्थात् अहम् आत्मा। वह फिर उल्टा कह देते – आत्मा सो परमात्मा। अच्छा, फिर क्या? हम शरीर तो हैं नहीं। परमपिता परमात्मा तो ऐसे कह न सके कि अहम् आत्मा मम शरीर। वह बाप कहते हैं – अहम् आत्मा तो बरोबर हैं। हमने यह शरीर लोन पर लिया है। यह हमारी जुत्ती नहीं है। हमारे पैर हैं नहीं। हमारे चरणों की पूजा हो नहीं सकती। कृष्ण के चरण हैं, हमारे तो हैं नहीं। मैं हूँ ही निराकार। यूँ तो आत्मा भी निराकार है। परन्तु वह 84 जन्मों में आती है। मेरा तो शरीर है नहीं। मैं अशरीरी हूँ। तुमको भी कहता हूँ – अशरीरी बनकर मुझे याद करो। तुम जानते हो – बाबा आया हुआ है। उनका क्या पार्ट है? पतित सृष्टि को पावन बनाना। निराकार तो जरूर कोई शरीर में आया होगा। मनुष्यों को पता न होने कारण उन्होंने फिर नाम लिख दिया है – फर्स्ट प्रिन्स श्री कृष्ण का। अब श्रीकृष्ण यहाँ कैसे आ सकता? यह समझकर फिर समझाना है।

टैगोर आदि गीता की कितनी महिमा करते थे! वास्तव में कृष्ण की भी महिमा नहीं है। कृष्ण को भी बनाने वाला शिवबाबा है। यह कृष्ण के बहुत जन्मों के अन्त का जन्म है। बाबा कहते हैं – छोटे बच्चे के तन में कैसे बैठ सुनायेंगे? जरूर अनुभवी रथ चाहिये। ड्रामा अनुसार हमारा यह रथ मुकरर है। ऐसे नहीं कि फिर दूसरे कल्प में और रथ लूँगा। ब्रह्मा द्वारा ही स्थापना करेंगे। कल्प पहले भी तुम ब्रह्माकुमार-कुमारियों ने ब्रह्मा द्वारा वर्सा लिया था। अब बाप कहते हैं – और संग तोड़ मुझ संग जोड़ो। मेरा तो एक शिवबाबा, दूसरा न कोई। तुम मात पिता…….. जिसकी इतनी महिमा है, अभी तुम उनके सम्मुख बैठे हो। विचार किया जाए – बरोबर हमको किसने रचा? कहते हैं – अल्लाह ने रचा। तो जरूर अल्लाह की कोई फीमेल भी होगी? अल्लाह तो निराकार है, उनकी फीमेल फिर कहाँ से आई? तुम गॉड फादर कहते हो तो फादर हमेशा रचता होता है। मदर ही न हो तो उनको फादर कैसे कहेंगे? बच्चा पैदा होता है तब ही फादर कहते हैं ना। यह किसको पता नहीं गॉड फादर की फीमेल कौन है? यह है सबसे गुह्य बातें। आदम बीबी दोनों हैं। आदम उनको कहेंगे तो फिर सरस्वती को बीबी नहीं कह सकते। वह बीबी हो तो फिर उनकी माँ कौन? यह बड़ी समझने की बातें हैं। बाप ही बैठ समझाते हैं। इस हिसाब से यह (ब्रह्मा) मेरी सजनी हुई। इसके मुख द्वारा रचता हूँ तुम बच्चों को। ब्रह्मा तन में प्रवेश करता हूँ। उन्हों को सम्भालने लिये फिर जगत अम्बा निमित्त बनी हुई है। आदि देव ब्रह्मा और जगत अम्बा सरस्वती यह कौन है? विवेक कहता है ब्रह्मा की बेटी है। तो रचना कैसे रची? ब्रह्मा द्वारा रचा तो यह है बड़ी माँ। फिर सम्भालने के लिये मम्मा भी है, बाबा भी है। पहले नम्बर में सरस्वती जाती है। जगत अम्बा की कितनी महिमा है! अब तुम समझ गये हो – हम सो ब्राह्मण बने हैं। हम ईश्वर की गोद में आये हैं। इसमें भी दो प्रकार के हैं – सगे और लगे। एक ही माता के बच्चे फिर सगे और लगे का तो सवाल ही नहीं उठता। यहाँ भला सगे और लगे क्यों कहा जाता है? कहते हैं जो सगे बनते हैं वो प्रतिज्ञा करते हैं – हम पवित्र बन वर्सा लेंगे। तो ऐसे पवित्र ही गद्दी-नशीन वारिस बनते हैं। लगे फिर प्रजा में चले जाते हैं। सगे भी बहुत बनेंगे फिर उनमें भी नम्बरवार होंगे। जितना जो पुरुषार्थ करेंगे वह माँ-बाप के तख्त पर बैठेंगे। मम्मा-बाबा तख्त पर बैठते हैं तो हमको भी तख्त मिलना चाहिये। परन्तु बनेंगे नम्बरवार। तो यह है योग की यात्रा। बाबा को याद करना है, स्वदर्शन चक्र फिराना है, आप समान बनाना है। मेहनत करनी पड़ती है आप समान बनाने में। बच्चियाँ परिचय देकर बाप के पास रिफ्रेश होने लिये ले आती हैं। बाबा देखते हैं – कौन-कौन बाप से पूरा वर्सा लेंगे, और सब तरफ से ममत्व मिटाये एक तरफ लगायेंगे? जानते हैं बाबा हमको विश्व का मालिक बनाने वाला है। बाप कहते हैं हम तुमको स्वर्ग का मालिक बनायेंगे। फिर चाहे सूर्यवंशी, चाहे चन्द्रवंशी बनो।

तो बाप अपने आप सब-कुछ कर रहे हैं। फिर छिप जायेंगे। घड़ी-घड़ी अवतार तो लेते नहीं हैं। उनको अपना शरीर ही नहीं है। वह एक ही बार आते हैं। तुम तो घड़ी-घड़ी एक चोला छोड़ दूसरा लेते रहते हो। मैं पुनर्जन्म में आता नहीं हूँ। कितना अच्छी रीति समझाते हैं। आगे यह बातें बुद्धि में नहीं थी। अनायास घर बैठे रास्ते जाते बाबा ने प्रवेश कर लिया फिर मालूम पड़ा। अब दिन-प्रतिदिन सब बातें बुद्धि में बैठती जाती हैं। कहते हैं ना हम 7 दिन का बच्चा हूँ, दो मास का बच्चा हूँ। यह ज्ञान तो सेकेण्ड में भी मिल सकता है। कितने बच्चे हैं! और कोई सतसंग नहीं होगा जहाँ इतने बच्चे हों। प्रजापिता ब्रह्मा और जगत अम्बा भी बाप के बेटे-बेटी हैं, न कि मेल-फीमेल। मेल-फीमेल इतने बच्चे कैसे पैदा करेंगे! कुख वंशावली की तो बात ही नहीं। जिन्होंने कल्प पहले मात-पिता का बनकर वर्सा पाया है, वही आते रहते हैं। कलम लगती रहती है। बगीचा है ना। अभी देवी-देवता धर्म के फूल तो हैं नहीं। बाकी सब जैसे कांटे हैं। चुभते हैं। यह कांटों की दुनिया है। बाप आकर कांटों से कली, कली से फूल बनाते हैं। श्रीमत पर नहीं चलते हैं तो फिर गिर पड़ते हैं। बाबा समझ जाते हैं – यह विकारों में गिर पड़ा। अभी तुम पतित से पावन बन रहे हो। बापू गांधी भी पतित-पावन को याद करते थे। चाहते थे – वर्ल्ड ऑलमाइटी अथॉरिटी का राज्य हो। सो तो बाप ही स्थापन करेंगे। तुम जानते हो – अब हमको इस कंसपुरी से कृष्णपुरी में जाना है। भारत में सतयुग था। लक्ष्मी-नारायण का राज्य था। पांच हजार वर्ष की बात है। पांच हजार वर्ष से पुरानी चीज़ कोई होती नहीं। लाखों वर्ष की तो कोई चीज़ रह न सके। देखो, तुम बूढ़ी मातायें गुड़गांव से आई हो मात-पिता पास, जिनसे वर्सा मिलना है। बाप भी बुढ़ियों को देख खुश होते हैं। पांच हजार वर्ष पहले भी आकर वर्सा लिया था। सारा मदार पुरुषार्थ पर है। तुम बुढ़ियायें इतना ज्ञान उठा नहीं सकती। यह दादा बूढ़ा तो बहुत अच्छा पढ़ता है। तुम समझती हो – जवान सरस्वती माँ अच्छा पढ़ती है। अरे, यह तो ब्रह्मपुत्रा नदी है। यह तो जरूर जास्ती पढ़ते होंगे ना। यह बूढ़ा सबसे तीखा है। वह तो फिर भी बेटी हो गई। बुढ़ियों के लिये भी है बहुत सहज। बाबा को याद करते रहो। ओहो! शिवबाबा कुर्बान जाऊं, आप तो सुखधाम ले जाते हो! बस, ऐसे खुशी में रहो तो भी बेड़ा पार है। हमेशा समझो – शिवबाबा समझाते हैं। इनको छोड़ दो। ऐसे ही समझो शिवबाबा सुनाते हैं तो बुद्धियोग शिवबाबा पास जाने से विकर्म विनाश होंगे। मम्मा भी शिवबाबा से सुनकर सुनाती है। सदैव एक शिवबाबा की ही याद रहे तो विकर्म विनाश होते रहेंगे। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद, प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) गद्दी-नशीन पक्का वारिस बनने के लिये पवित्रता की प्रतिज्ञा कर सगा बच्चा बनना है, और संग तोड़ एक संग जोड़ना है।

2) आप समान बनाने की सेवा करनी है। कांटे से कली, कली से फूल बनना और बनाना है। नये झाड़ की कलम लगानी है।

वरदान:- हर बात में मुख से वा मन से बाबा-बाबा कह मैं पन को समाप्त करने वाले सफलता मूर्त भव
आप अनेक आत्माओं के उमंग-उत्साह को बढ़ाने के निमित्त बच्चे कभी भी मैं पन में नहीं आना। मैंने किया, नहीं। बाबा ने निमित्त बनाया। मैं के बजाए मेरा बाबा, मैने किया, मैने कहा, यह नहीं। बाबा ने कराया, बाबा ने किया तो सफलतामूर्त बन जायेंगे। जितना आपके मुख से बाबा-बाबा निकलेगा उतना अनेकों को बाबा का बना सकेंगे। सबके मुख से यही निकले कि इनकी तात और बात में बस बाबा ही है।
स्लोगन:- संगमयुग पर अपने तन-मन-धन को सफल करना और सर्व खजानों को बढ़ाना ही समझदारी है।
Font Resize