daily murli 19 december

TODAY MURLI 19 DECEMBER 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 19 December 2020

19/12/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you made this promise: When You come, we will surrender ourselves to You. The Father has now come to remind you of your promise.
Question: Due to which main speciality of the deities are only they called worthy of worship?
Answer: Only the deities have the speciality of not remembering anyone. Neither do they remember the Father, nor do they remember the images of others. This is why they are said to be worthy of worship. There, there is nothing but happiness. This is why there is no need for them to remember anyone. By remembering the one Father now, you become so pure and worthy of worship that you won’t need to remember anyone later on.

Om shanti. Sweetest, spiritual children, you cannot be called spiritual souls. Spirit or soul, it is the same thing. The spiritual Father explains to the spiritual children. Before this, the Supreme Father, the Supreme Soul, did not give knowledge to souls. The Father Himself says: I only come once in the cycle, at the most elevated confluence age. No one else can say this. The Father never comes at any time other than at the confluence age of the cycle. The Father only comes at the confluence age when devotion has to come to an end. The Father sits here and gives this knowledge to you children: Consider yourselves to be souls and remember the Father. This is very difficult for some children. It is very easy but it doesn’t sit in their intellects very well. This is why Baba repeatedly explains to them. Even when it is explained to them, they still don’t understand anything. In a school, some students fail in spite of being taught by a teacher for 12 months. This unlimited Father teaches you children every day. Nevertheless, only some are able to imbibe whereas others forget. The main thing that is explained to you is: Consider yourselves to be souls and remember the Father. The Father Himself says: Constantly remember Me alone. No human being can ever say this. The Father says: I only come once. I come and only explain to you children after a cycle, at the confluence age. Only you receive this knowledge; no one else takes it. Only you mouth-born creation of Prajapita Brahma understand this knowledge. You know that the Father taught you this knowledge in the previous cycle at the confluence age. Only you Brahmins have these parts. You definitely have to go through these castes. Those of other religions do not go through these castes. It is only the people of Bharat who go through these castes. Only Brahmins become the residents of Bharat. This is why the Father has to come into Bharat. You Brahmins are the mouth-born creation of Prajapita Brahma. After Brahmins, you become deities and then warriors. No one is made into a warrior. You are made into Brahmins and you then become deities. When the degrees of the same deities have decreased, they are called warriors; they become warriors automatically. The Father comes and makes you into Brahmins. You then become deities from Brahmins and those same deities then become warriors. It is only at this time that the one Father establishes all three religions. It isn’t that He comes again in the golden and silver ages. Because people don’t know this, they say that He also comes in the golden and silver ages. The Father says: I do not come in every age. I only come once in the cycle, at the confluence age. It is I who make you into Brahmins through Prajapita Brahma. I come from the supreme abode. Achcha, where then did Brahma come from? Brahma takes 84 births; I don’t. Brahma and Saraswati become Vishnu, whose dual-form is Lakshmi and Narayan. He takes 84 births. Then, at the end of his many births, I enter him and make him into Brahma; I name him Brahma. This one’s name is not chosen by him. On the sixth day after a child is born, they have a naming ceremony according to his horoscope. They celebrate his birthday. This one’s name, according to his horoscope, was Lekhraj. That was his name from birth. When the Father entered him at the confluence age, his name was changed. He changes this one’s name when he is in his stage of retirement. The names of those sannyasis are changed when they leave their homes and go away. This one lives at home. I named him Brahma because Brahmins are needed. I make you belong to Me and make you into pure Brahmins. You are made pure. It isn’t that you are pure from birth. You receive teachings to become pure. The main thing is how to become pure. You know that not a single person on the path of devotion can be worthy of worship. People bow down in front of those gurus etc. because they renounce their homes and become pure. However, it cannot be said that they are worthy of worship. Those who are worthy of worship do not remember anyone. Sannyasis remember the brahm element and pray. The people in the golden age do not remember anyone. The Father says: You now have to remember the One. That is devotion. You souls are incognito. No one knows about souls accurately. In the golden and silver ages, too, bodily beings play their parts with their names. Actors cannot exist without names. No matter where you are, you definitely have a name given to your body. How could you play your part without having a name? The Father has explained to you: On the path of devotion, you used to sing: When You come, I will make You and none other belong to me. I will only belong to You. The souls say this. We will not worship any of the bodily beings who are given names on the path of devotion. When you come, we will surrender ourselves to You! You didn’t even know when He would come. People continue to worship so many bodily beings with so many names. The Father comes after the second half of the cycle, when devotion comes to an end. He says: You have been saying for birth after birth: I will not remember anyone but You. I won’t even remember my own body. However, you didn’t even know Me, so how could you remember Me? The Father now sits here and explains to you children: Sweetest children, consider yourselves to be souls and remember the Father. The Father alone is the Purifier. By remembering Him you will become pure and satopradhan. There is no devotion in the golden and silver ages. You don’t remember anyone, neither the Father nor any image. There, there is nothing but happiness. The Father has explained: The closer you come, the closer you will be to your karmateet stage. In the golden age, there is a lot of happiness in being in the new world and in a new home. Then, as it becomes 25% old, it is as though you forget heaven. So, the Father says: You used to sing, “We will only belong to You, we will only listen to You.” Souls refer to the Father as the Supreme Soul. Souls are tiny, subtle points. Divine vision is needed to see a soul. You are not able to focus on a soul. It takes effort to consider yourself to be such a tiny point, a soul, and remember the Father. People don’t try to have a vision of a soul. They try to have a vision of the Supreme Soul because they have heard that He is brighter than a thousand suns. When someone has a vision, he says that it was very bright because that is what he has heard. Someone who people worship intensely is the one they would have a vision of. Otherwise, they wouldn’t be able to have faith. The Father says: If they haven’t seen a soul, how could they see the Supreme Soul? How could they even see a soul? Human beings have images of bodies. They have names, but a soul is just a point, a very tiny point. How can that be seen? Although they try a great deal, it is not possible to see a soul with your physical eyes. Each of you souls receives a subtle eye of knowledge. You now understand how tiny you souls are. I, a soul, have a part of 84 births recorded in me which I have to repeat. You receive the Father’s shrimat in order to make you elevated. Therefore, you must follow that. You have to imbibe divine virtues. Your food and drink have to be royal. Your behaviour has to be very royal because you are becoming deities. Deities are worthy of worship; they never worship anyone. They are double-crowned. They never worship anyone, so they are worthy of being worshipped. There is no need to worship anyone in the golden age but, they definitely give one another regard. To bow to someone means to give regard. It isn’t that you have to keep anyone in your heart. Regard has to be given. For instance, everyone gives regard to the President because they know that he has a high position. You don’t have to bow down to anyone. Therefore, the Father explains: This path of knowledge is a completely different thing. Here, you just have to consider yourselves to be souls. You have forgotten this. You remember the names of the bodies. Everything has to be done with the name. How would you call anyone who doesn’t have a name? Although you are bodily beings playing your parts, you must keep Shiv Baba in your intellects. The devotees of Krishna believe that they must only remember Krishna. They say that wherever they look, they only see Krishna. They believe: I am Krishna and you too are Krishna. Oh! but your name is different from his name. So, how can everyone be Krishna? Not everyone’s name can be Krishna. They continue to say whatever enters their minds. The Father now says: Forget all the images of the path of devotion and remember the one Father. You don’t call those images the Purifier. Hanuman and others are not the Purifier. There are many images, but none of them is the Purifier. None of those goddesses with bodies can be the Purifier. Using their own intellects people create images of goddesses with six to eight arms. They don’t know who they are. They are the children who are the helpers of the Purifier Father. No one knows this. Your external form is ordinary. Those bodies will be destroyed. It isn’t that your images etc. will remain. All of those will finish. In fact, you are goddesses. The names mentioned are: Goddess Sita, Goddess So-and-so. They never say “Deity Rama”. They say, “Goddess or Shrimati So-and-so. However, that too is wrong. You now have to make effort to become pure. You say: Come and make us pure from impure! You don’t say: Make us into Lakshmi and Narayan! Only the Father changes you from impure and purifies you. Only He changes you from an ordinary human being into Narayan. Those people call the incorporeal One, the Purifier. They have portrayed someone else as the one who relates the story of the true Narayan. They don’t say: Baba, tell us the story of the true Narayan and make us immortal! Or: Make us into Narayan from an ordinary human being! They simply say: Come and purify us. Only Baba tells you the story of the true Narayan and purifies you. You then relate the true story to others. No one else can know this. Only you know this. Although you have friends, relatives and brothers, etc. at home, they still don’t understand. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to make yourself elevated, follow the shrimat you receive from the Father and imbibe divine virtues. Your food, drink and behaviour have to be very royal.
  2. Don’t remember one another, but definitely give regard. Make effort to become pure and also inspire others to do the same.
Blessing: May you be a soul who has the fortune of happiness and who constantly experiences happiness by using all your treasures at the right time.
As soon as you took your Brahmin birth, you received from BapDada many elevated treasures of happiness for the whole day. This is why, even today, devotees experience temporary happiness just by hearing your name. When they see your non-living images, they begin to dance in happiness. In the same way, all of you have the fortune of happiness, for you have received many treasures; now simply use them at the right time. Always keep the key to them in front of you, that is, always keep these in your awareness and put that awareness into a practical form and you will constantly continue to experience happiness.
Slogan: Those who ignite the lamp of the Father’s elevated hopes are lamps (deepaks) of the clan.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 19 DECEMBER 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 19 December 2020

Murli Pdf for Print : – 

19-12-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – तुम्हारा वायदा है कि जब आप आयेंगे तो हम वारी जायेंगे, अब बाप आये हैं – तुम्हें वायदा याद दिलाने”
प्रश्नः- किस मुख्य विशेषता के कारण पूज्य सिर्फ देवताओं को ही कह सकते हैं?
उत्तर:- देवताओं की ही विशेषता है जो कभी किसी को याद नहीं करते। न बाप को याद करते, न किसी के चित्रों को याद करते, इसलिए उन्हें पूज्य कहेंगे। वहाँ सुख ही सुख रहता है इसलिए किसी को याद करने की दरकार नहीं। अभी तुम एक बाप की याद से ऐसे पूज्य, पावन बने हो जो फिर याद करने की दरकार ही नहीं रहती है।

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे रूहानी बच्चे….. अब रूहानी आत्मा तो नहीं कहेंगे। रूह अथवा आत्मा एक ही बात है। रूहानी बच्चों प्रति बाप समझाते हैं। आगे कभी भी आत्माओं को परमपिता परमात्मा ने ज्ञान नहीं दिया है। बाप खुद कहते हैं मैं एक ही बार कल्प के पुरुषोत्तम संगमयुग पर आता हूँ। ऐसे और कोई कह न सके – सारे कल्प में सिवाए संगमयुग के, बाप खुद कभी आते ही नहीं। बाप संगम पर ही आते हैं जबकि भक्ति पूरी होती है और बाप फिर बच्चों को बैठ ज्ञान देते हैं। अपने को आत्मा समझ और बाप को याद करो। यह कई बच्चों के लिए बहुत मुश्किल लगता है। है बहुत सहज परन्तु बुद्धि में ठीक रीति बैठता नहीं है। तो घड़ी-घड़ी समझाते रहते हैं। समझाते हुए भी नहीं समझते हैं। स्कूल में टीचर 12 मास पढ़ाते हैं फिर भी कोई नापास हो पड़ते हैं। यह बेहद का बाप भी रोज़ बच्चों को पढ़ाते हैं। फिर भी कोई को धारणा होती है, कोई भूल जाते हैं। मुख्य बात तो यही समझाई जाती है कि अपने को आत्मा समझो और बाप को याद करो। बाप ही कहते हैं मामेकम् याद करो, और कोई मनुष्य मात्र कभी कह नहीं सकेंगे। बाप कहते हैं मैं एक ही बार आता हूँ। कल्प के बाद फिर संगम पर एक ही बार तुम बच्चों को ही समझाता हूँ। तुम ही यह ज्ञान प्राप्त करते हो। दूसरा कोई लेते ही नहीं। प्रजापिता ब्रह्मा के तुम मुख वंशावली ब्राह्मण इस ज्ञान को समझते हो। जानते हो कल्प पहले भी बाप ने इस संगम पर यह ज्ञान सुनाया था। तुम ब्राह्मणों का ही पार्ट है, इन वर्णों में भी फिरना तो जरूर है। और धर्म वाले इन वर्णों में आते ही नहीं, भारतवासी ही इन वर्णों में आते हैं। ब्राह्मण भी भारतवासी ही बनते हैं, इसलिए बाप को भारत में आना पड़ता है। तुम हो प्रजापिता ब्रह्मा के मुख वंशावली ब्राह्मण। ब्राह्मणों के बाद फिर हैं देवतायें और क्षत्रिय। क्षत्रिय कोई बनते नहीं हैं। तुमको तो ब्राह्मण बनाते हैं फिर तुम देवता बनते हो। वही फिर धीरे-धीरे कला कम होती तो उनको क्षत्रिय कहते हैं। क्षत्रिय ऑटोमेटिकली बनना है। बाप तो आकर ब्राह्मण बनाते हैं फिर ब्राह्मण से देवता फिर वही क्षत्रिय बनते हैं। तीनों धर्म एक ही बाप अभी स्थापन करते हैं। ऐसे नहीं कि सतयुग-त्रेता में फिर आते हैं। मनुष्य न समझने के कारण कह देते सतयुग-त्रेता में भी आते हैं। बाप कहते हैं मैं युगे-युगे आता नहीं हूँ, मैं आता ही हूँ एक बार, कल्प के संगम पर। तुमको मैं ही ब्राह्मण बनाता हूँ – प्रजापिता ब्रह्मा द्वारा। मैं तो परमधाम से आता हूँ। अच्छा ब्रह्मा कहाँ से आता है? ब्रह्मा तो 84 जन्म लेते हैं, मैं नहीं लेता हूँ। ब्रह्मा सरस्वती जो ही विष्णु के दो रूप लक्ष्मी-नारायण बनते हैं, वही 84 जन्म लेते हैं फिर उनके बहुत जन्मों के अन्त में प्रवेश कर इनको ब्रह्मा बनाता हूँ। इनका नाम ब्रह्मा मैं रखता हूँ। यह कोई इनका नाम अपना नहीं है। बच्चे का जन्म होता है तो छठी करते हैं, जन्म दिन मनाते हैं, इनकी जन्म पत्री का नाम तो लेखराज था। वह तो छोटेपन का था। अभी नाम बदला है जबकि इनमें बाप ने प्रवेश किया है संगम पर। सो भी नाम बदलते तब हैं जबकि यह वानप्रस्थ अवस्था में हैं। वह संन्यासी तो घरबार छोड़ चले जाते हैं तब नाम बदलता है। यह तो घर में ही रहते हैं, इनका नाम ब्रह्मा रखा, क्योंकि ब्राह्मण चाहिए ना। तुमको अपना बनाकर पवित्र ब्राह्मण बनाते हैं। पवित्र बनाया जाता है। ऐसे नहीं कि तुम जन्म से ही पवित्र हो। तुमको पवित्र बनने की शिक्षा मिलती है। कैसे पवित्र बनें? वह है मुख्य बात।

तुम जानते हो कि भक्ति मार्ग में पूज्य एक भी हो नहीं सकता। मनुष्य गुरूओं आदि को माथा टेकते हैं क्योंकि घर-बार छोड़ पवित्र बनते हैं, बाकी उनको पूज्य नहीं कहेंगे। पूज्य वह जो किसको भी याद न करे। संन्यासी लोग ब्रह्म तत्व को याद करते हैं ना, प्रार्थना करते हैं। सतयुग में कोई को भी याद नहीं करते। अब बाप कहते है तुमको याद करना है एक को। वह तो है भक्ति। तुम्हारी आत्मा भी गुप्त है। आत्मा को यथार्थ रीति कोई जानते नहीं। सतयुग-त्रेता में भी शरीरधारी अपने नाम से पार्ट बजाते हैं। नाम बिगर तो पार्टधारी हो न सकें। कहाँ भी हो शरीर पर नाम जरूर पड़ता है। नाम बिगर पार्ट कैसे बजायेंगे। तो बाप ने समझाया है भक्ति मार्ग में गाते हैं – आप आयेंगे तो हम आपको ही अपना बनायेंगे, दूसरा न कोई। हम आपका ही बनेंगे, यह आत्मा कहती है। भक्ति मार्ग में जो भी देहधारी हैं जिनके नाम रखे जाते हैं, उनको हम नहीं पूजेंगे। जब आप आयेंगे तो आप पर ही कुर्बान जायेंगे। कब आयेंगे, यह भी नहीं जानते। अनेक देहधारियों की, नाम धारियों की पूजा करते रहते हैं। जब आधाकल्प भक्ति पूरी होती है तब बाप आते हैं। कहते हैं तुम जन्म-जन्मान्तर कहते आये हो – हम तुम्हारे बिगर किसको भी याद नहीं करेंगे। अपनी देह को भी याद नहीं करेंगे। परन्तु मुझे जानते ही नहीं हैं तो याद कैसे करेंगे। अब बाप बच्चों को बैठ समझाते हैं मीठे-मीठे बच्चों, अपने को आत्मा समझो और बाप को याद करो। बाप ही पतित-पावन है, उनको याद करने से तुम पावन सतोप्रधान बन जायेंगे। सतयुग-त्रेता में भक्ति होती नहीं। तुम कोई को भी याद नहीं करते। न बाप को, न चित्रों को। वहाँ तो सुख ही सुख रहता है। बाप ने समझाया है – जितना तुम नज़दीक आते जायेंगे, कर्मातीत अवस्था होती जायेगी। सतयुग में नई दुनिया, नये मकान में खुशी भी बहुत रहती है फिर 25 परसेन्ट पुराना होता है तो जैसे स्वर्ग ही भूल जाता है। तो बाप कहते हैं तुम गाते थे आपके ही बनेंगे, आप से ही सुनेंगे। तो जरूर आप परमात्मा को ही कहते हो ना। आत्मा कहती है परमात्मा बाप के लिए। आत्मा सूक्ष्म बिन्दी है, उनको देखने के लिए दिव्य दृष्टि चाहिए। आत्मा का ध्यान कर नहीं सकेंगे। हम आत्मा इतनी छोटी बिन्दी हैं, ऐसा समझ याद करना मेहनत है। आत्मा के साक्षात्कार की कोशिश नहीं करते, परमात्मा के लिए कोशिश करते हैं, जिसके लिए सुना है कि वह हज़ार सूर्य से तेजोमय है। किसको साक्षात्कार होता है तो कहते हैं बहुत तेजोमय था क्योंकि वही सुना हुआ है। जिसकी नौंधा भक्ति करेंगे, देखेंगे भी वही। नहीं तो विश्वास ही न बैठे। बाप कहते हैं आत्मा को ही नहीं देखा है तो परमात्मा को कैसे देखेंगे। आत्मा को देख ही कैसे सकते और सबके तो शरीर का चित्र है, नाम है, आत्मा है बिन्दी, बहुत छोटी है, उनको कैसे देखें। कोशिश बहुत करते हैं, परन्तु इन आंखों से देख न सकें। आत्मा को ज्ञान की अव्यक्त आंखें मिलती हैं।

अभी तुम जानते हो हम आत्मा कितनी छोटी हैं। मुझ आत्मा में 84 जन्मों का पार्ट नूंधा हुआ है, जो मुझे रिपीट करना है। बाप की श्रीमत मिलती है श्रेष्ठ बनाने के लिए, तो उस पर चलना चाहिए। तुम्हें दैवी गुण धारण करने हैं। खान-पान भी रॉयल होना चाहिए, चलन बड़ी रॉयल चाहिए। तुम देवता बनते हो। देवतायें खुद पूज्य हैं, यह कभी किसकी पूजा नहीं करते। यह तो डबल सिरताज हैं ना। यह कभी किसे पूजते नहीं, तो पूज्य ठहरे ना। सतयुग में किसको पूजने की दरकार ही नहीं। बाकी हाँ एक-दो को रिगार्ड जरूर देंगे। ऐसे नमन करना, इनको रिगार्ड कहा जाता है। ऐसे नहीं दिल में उनको याद करना है। रिगार्ड तो देना ही है। जैसे प्रेजीडेण्ट है, सब रिगार्ड रखते हैं। जानते हैं यह बड़े मर्तबे वाला है। नमन थोड़ेही करना है। तो बाप समझाते हैं – यह ज्ञान मार्ग बिल्कुल अलग चीज़ है, इसमें सिर्फ अपने को आत्मा समझना है जो तुम भूल गये हो। शरीर के नाम को याद कर लिया है। काम तो जरूर नाम से ही करना है। बिगर नाम किसको बुलायेंगे कैसे। भल तुम शरीरधारी बन पार्ट बजाते हो परन्तु बुद्धि से शिवबाबा को याद करना है। कृष्ण के भक्त समझते हैं हमको कृष्ण को ही याद करना है। बस जिधर देखता हूँ – कृष्ण ही कृष्ण है। हम भी कृष्ण, तुम भी कृष्ण। अरे तुम्हारा नाम अलग, उनका नाम अलग…. सब कृष्ण ही कृष्ण कैसे हो सकते। सबका नाम कृष्ण थोड़ेही होता है, जो आता सो बोलते रहते हैं। अब बाप कहते हैं भक्ति-मार्ग के सब चित्रों आदि को भूल एक बाप को याद करो। चित्रों को तो तुम पतित-पावन नहीं कहते, हनूमान आदि पतित-पावन थोड़ेही हैं। अनेक चित्र हैं, कोई भी पतित-पावन नहीं है। कोई भी देवी आदि जिसको शरीर है उनको पतित-पावन नहीं कहेंगे। 6-8 भुजाओं वाली देवियाँ आदि बनाते हैं, सब अपनी बुद्धि से। यह हैं कौन, वह तो जानते नहीं। यह पतित-पावन बाप की औलाद मददगार हैं, यह किसको भी पता नहीं है। तुम्हारा रूप तो यह साधारण ही है। यह शरीर तो विनाश हो जायेंगे। ऐसे नहीं कि तुम्हारे चित्र आदि रहेंगे। यह सब खत्म हो जायेंगे। वास्तव में देवियाँ तुम हो। नाम भी लिया जाता है – सीता देवी, फलानी देवी। राम देवता नहीं कहेंगे। फलानी देवी वा श्रीमती कह देते, वह भी रांग हो जाता। अब पावन बनने के लिए पुरुषार्थ करना है। तुम कहते भी हो पतित से पावन बनाओ। ऐसे नहीं कहते कि लक्ष्मी-नारायण बनाओ। पतित से पावन भी बाप बनाते हैं। नर से नारायण भी वह बनाते हैं। वो लोग पतित-पावन निराकार को कहते हैं। और सत्य नारायण की कथा सुनाने वाले फिर और दिखाये हैं। ऐसे तो कहते नहीं बाबा सत्य नारायण की कथा सुनाकर अमर बनाओ, नर से नारायण बनाओ। सिर्फ कहते हैं आकर पावन बनाओ। बाबा ही सत्य नारायण की कथा सुनाकर पावन बनाते हैं। तुम फिर औरों को सत्य कथा सुनाते हो। और कोई जान न सके। तुम ही जानते हो। भल तुम्हारे घर में मित्र, सम्बन्धी, भाई आदि हैं परन्तु वह भी नहीं समझते। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) स्वयं को श्रेष्ठ बनाने के लिए बाप की जो श्रीमत मिलती है, उस पर चलना है, दैवीगुण धारण करने हैं। खान-पान, चलन सब रॉयल रखना है।

2) एक-दो को याद नहीं करना है, लेकिन रिगार्ड जरूर देना है। पावन बनने का पुरुषार्थ करना और कराना है।

वरदान:- सर्व खजानों को समय पर यूज कर निरन्तर खुशी का अनुभव करने वाले खुशनसीब आत्मा भव
बापदादा द्वारा ब्राह्मण जन्म होते ही सारे दिन के लिए अनेक श्रेष्ठ खुशी के खजाने प्राप्त होते हैं। इसलिए आपके नाम से ही अब तक अनेक भक्त अल्पकाल की खुशी में आ जाते हैं, आपके जड़ चित्रों को देखकर खुशी में नाचने लगते हैं। ऐसे आप सब खुशनसीब हो, बहुत खजाने मिले हैं लेकिन सिर्फ समय पर यूज़ करो। चाबी को सदा सामने रखो अर्थात् सदा स्मृति में रखो और स्मृति को स्वरूप में लाओ तो निरन्तर खुशी का अनुभव होता रहेगा।
स्लोगन:- बाप की श्रेष्ठ आशाओं का दीपक जगाने वाले ही कुल दीपक हैं।

TODAY MURLI 19 DECEMBER 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 19 December 2019

19/12/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you are now studying to become pure from impure. You have to study this and also teach others.
Question: By having which knowledge do people of the world still have the darkness of ignorance?
Answer: The knowledge of Maya with which destruction takes place. People go to the moon. They have a great deal of that knowledge, but no one has knowledge of the new world and the old world. They are all in the darkness of ignorance. Without the third eye of knowledge, they are all blind. Each of you is now being given the third eye of knowledge. You knowledgefull children know that they only have thoughts of destruction in their brains, whereas you constantly have thoughts of establishment in your intellects.

Om shanti. The Father explains through this body. This one is called a human being. There is a soul in this one and I come and sit in him. First of all, this should be made firm. This one is called Dada. You children should have this faith very firmly. You have to churn knowledge with this faith. The Father Himself says that He enters the body of this one when he is in the last of his many births. It has been explained to you children that this is the knowledge of the most elevated Gita, the jewel of all scriptures. Shrimat means elevated directions. The most elevated directions are given by the one God, and it is by following His elevated directions that you become deities. The Father Himself says: I come when you have become impure by following corrupt directions. You also have to understand the meaning of “changing from humans into deities”. The Father comes to change vicious human beings into viceless deities. The deities of the golden age are still human beings, but they have divine virtues. Everyone in the iron age now has devilish traits. The whole world is a human world but, here, you have Godly intellects whereas they have devilish intellects. Here, you have knowledge and there, they have devotion. Knowledge and devotion are separate from each other. There are so many books of devotion but only one book of knowledge. There can only be one book of the one Ocean of Knowledge. Everyone else who establishes a religion only has one book which is called their religious book. The first religious book is the Gita. The first religion is the original, eternal, deity religion, not the Hindu religion. People think that the Hindu religion was established through the Gita and that Krishna gave the knowledge of the Gita. When did he give it? They would say, “From time immemorial!” The versions spoken by God Shiva are not mentioned in any of the other scriptures. You now understand that it is with the knowledge of this Gita that the Father teaches us how human beings became deities. This is called the ancient Raj Yoga of Bharat. It is this Gita that says, “Lust is the greatest enemy”, and it was that enemy that defeated you. The Father enables you to conquer that vice and thereby conquer the world and become the masters of the world. The unlimited Father sits here and explains through this one. He is the Father of all souls, whereas this one is the unlimited father of all human beings. His name is Prajapita Brahma. When you ask people the name of Brahma’s father, they become confused. Brahma, Vishnu and Shankar must surely have a father. Brahma, Vishnu and Shankar are shown as deities in the subtle region. Shiva is shown above them. You children know that souls, the children of Shiv Baba, adopt bodies, whereas He always remains the incorporeal Supreme Father, the Supreme Soul. The soul says through the body: Supreme Father. This is such an easy aspect to understand! This is called the study of Alpha and beta. Who is teaching you? Who gave the knowledge of the Gita? Krishna cannot be called God because he is a bodily being. Krishna has a crown, whereas Shiva is incorporeal and has no crown etc. He alone is the Ocean of Knowledge. The Father is the Seed, the Living Being. You too are living beings. You know the beginning, the middle and the end of all the trees. Though you are not gardeners, you can understand how seeds are sown and how trees emerge from them. Those are non-living whereas that One is living. Souls are said to be living. Only you souls have this knowledge. No other souls can have this knowledge. Therefore, the Father is the Living Seed of the human world tree. This is the living creation. All of those seeds are non-living. Non-living seeds can’t have any knowledge in them. That One is the Living Seed who has all the knowledge of the whole world. He has all the knowledge of the creation, the sustenance and the destruction of the whole tree. How the new tree then emerges is incognito. The Father comes in an incognito way and also gives you this knowledge in an incognito way. You know that the sapling is now being planted. At present, everyone has become impure. Achcha, who emerges as the first leaf of the tree? Krishna is the first leaf of the golden age. Lakshmi and Narayan would not be called that. A new leaf is small and then it grows. So, there is so much praise of this Living Seed. Other leaves also emerge, but their praise gradually decreases. You are now becoming deities. The main thing is that we have to imbibe divine virtues; we have to become like them. There are their images too. If these images didn’t exist, how could you keep this knowledge in your intellects? These pictures are very useful. These pictures are worshipped on the path of devotion whereas you, on the path of knowledge, receive from these pictures the knowledge of how you have to become like them. On the path of devotion, you would never think that you have to become like them. So many temples etc. are built on the path of devotion. To whom are the most temples built? They would definitely be to Shiv Baba. Then, after Him, they would be to His creation. The first creation are Lakshmi and Narayan. After Shiva, they are worshipped the most. You mothers, who give knowledge, are not worshipped; you are studying. It is because you are studying that you are not worshipped now. It is when you have finished studying and have no further need of this education that you will then be worshipped. You are now becoming deities. The Father will not come in the golden age to teach you. Such an education doesn’t exist there. This study is for making impure ones pure. You know that the One who makes you pure like them is worshipped first and that you are then worshipped, numberwise. Then, as you come down, you even begin to worship the five elements. To worship the five elements means to worship impure bodies. Your intellects have the knowledge that there was the kingdom of Lakshmi and Narayan over the whole world. How and when did those deities attain their kingdom? No one knows this. They say “hundreds of thousands of years”. Anything of hundreds of thousands of years couldn’t sit in anyone’s intellect. Therefore, they say that it has continued from time immemorial. You now understand that many who belonged to the deity religion have been converted to other religions. Those who live in Bharat call themselves Hindus because once they become impure they don’t feel it is right to call themselves deities. However, people don’t have any of this knowledge. They give themselves titles even higher than those of the deities. Although they worship the idols of the pure deities and bow down to them, they don’t consider themselves to be impure. In Bharat especially, they bow down to kumaris so much! They do not bow down to kumars. They bow down to females more than males because the mothers are given the nectar of knowledge first at this time. The Father enters this one. You also understand that this Brahma Baba is the great river of knowledge. He is the river of knowledge and also a male. The Brahmaputra River is the longest river and it merges into the ocean at Calcutta. The meeting (mela) takes place there. However, they do not know that this is the meeting of the Supreme Soul with all souls. That river of water is called the Brahmaputra. Because they call brahm ‘God’ they believe the Brahmaputra River to be pure. In fact, the Ganges cannot be the Purifier. This meeting here is of the Ocean and the river Brahma. The Father says: This one, through whom adoption takes place, is not female. These are very deep matters that have to be understood; they will then disappear. Later, human beings create scriptures etc. on the basis of these things. At first, they had hand-written scrolls and later they had very large books printed. They did not have any Sanskrit verses etc. This is a very easy matter. I teach you Raj Yoga through this one. Then, this world will be destroyed and none of those scriptures etc. will remain. Those scriptures etc. will be created again on the path of devotion. People think that the scriptures have continued from the beginning of time. That is called the darkness of ignorance. The Father is now teaching you children through which you come into the light. Everyone in the golden age belongs to the pure family path. In the iron age, they belong to the impure family path. This too is according to the drama. Later on, there is the path of isolation and that is also called the religion of renunciation (sannyas), because they go and reside in the forests. That is limited renunciation; they still live in this old world. You are now going to the new world. Each of you has received the third eye of knowledge from the Father and so you are becoming knowledgefull. There can be no knowledge greater than this. That is the knowledge of Maya through which destruction takes place. Those people go and do research on the moon. That is nothing new for you. All of it is the pomp of Maya. They show off a great deal, and go to great lengths to show some wonders. By showing great wonders, they create a loss. They only have thoughts of destruction in their brains. Just look what they continue to make! Those who make such things know that the world will be destroyed by them. They continue to test everything. It is said: Whilst the two cats were fighting, the third one ate the butter. The story is very short, but the play is very long. Their names are glorified. Destruction is destined to take place through them. Someone has to become the instrument for that. Christians believe that Paradise did exist, but they themselves didn’t exist at that time, nor did those of Islam or the Buddhists. Nevertheless, the Christians have better understanding. The people of Bharat say that the deity religion existed hundreds of thousands of years ago. So, they are buddhus! The Father only comes in Bharat and makes those who are the most senseless into the most sensible ones. However, that is only when you remember Him! Baba explains everything to you so easily! Remember Me and your intellects will become golden vessels and you will be able to imbibe this knowledge very well. Only by staying on this pilgrimage of remembrance will your sins be cut away. When you don’t listen to the murli, the knowledge disappears from your intellects. Because the Father is merciful, He tells you ways to uplift yourselves. He will continue to teach you until the end. Achcha, today is the day for offering bhog. Just offer bhog and come back quickly! To go to Paradise and have visions of the deities etc. is useless. You need a very deep and refined intellect to understand this. The Father says through this chariot: Remember Me! I alone am the Purifier, your Father. The expression, “I eat with You, I sit with You”, applies to this time. How could this take place up there? Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. The Father enters this Dada and gives you the knowledge of the Gita in order to change you from human beings into deities, that is, from vicious humans into viceless humans. Therefore, constantly move along with this faith. Follow shrimat and become elevated and virtuous.
  2. Make your intellect into a golden vessel with the pilgrimage of remembrance. Constantly keep this knowledge in your intellect. For this, you must definitely listen to and study the murli.
Blessing: May you have pure and positive thoughts for yourself and have thoughts of knowledge and pure and positive thoughts for others by remaining free from any thoughts of physical illness.
One is to have an illness of the body and the other is to be shaken by that illness. It was destined for the illness to come, but for your elevated stage to be shaken is a sign of your being bound by that bondage. Those who remain free from thoughts of any physical illness and have pure and positive thoughts for the self and thoughts of knowledge are those who have pure and positive thoughts for others. By thinking too much about nature, you take on a form of worrying. To be free from this bondage is called the karmateet stage.
Slogan: The power of love makes a problem as big as a mountain become as light as water.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 19 DECEMBER 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 19 December 2019

19-12-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – तुम अभी पढ़ाई पढ़ रहे हो, यह पढ़ाई है पतित से पावन बनने की, तुम्हें यह पढ़ना और पढ़ाना है”
प्रश्नः- दुनिया में कौन-सा ज्ञान होते हुए भी अज्ञान अन्धियारा है?
उत्तर:- माया का ज्ञान, जिससे विनाश होता है। मून तक जाते हैं, यह ज्ञान बहुत है लेकिन नई दुनिया और पुरानी दुनिया का ज्ञान किसी के पास नहीं है। सब अज्ञान अन्धियारे में हैं, सभी ज्ञान नेत्र से अंधे हैं। तुम्हें अभी ज्ञान का तीसरा नेत्र मिलता है। तुम नॉलेजफुल बच्चे जानते हो उन्हों की ब्रेन में विनाश के ख्यालात हैं, तुम्हारी बुद्धि में स्थापना के ख्यालात हैं।

ओम् शान्ति। बाप इस शरीर द्वारा समझाते हैं, इनको जीव कहा जाता है। इनमें आत्मा भी है और मैं भी इसमें आकर बैठता हूँ, यह तो पहले-पहले पक्का होना चाहिए। इनको दादा कहा जाता है। यह निश्चय बच्चों को बहुत पक्का होना चाहिए। इस निश्चय में ही रमण करना है। बरोबर बाबा ने जिसमें पधरामणी की है, वह बाप खुद कहते हैं-मैं इनके बहुत जन्मों के अन्त में आता हूँ। बच्चों को समझाया गया है, यह है सर्व शास्त्र शिरोमणी गीता का ज्ञान। श्रीमत अर्थात् श्रेष्ठ मत। श्रेष्ठ ते श्रेष्ठ मत है एक भगवान की। जिसकी ही श्रेष्ठ मत से तुम देवता बनते हो। बाप खुद कहते हैं मैं आता ही तब हूँ जब तुम भ्रष्ट मत पर पतित बन जाते हो। मनुष्य से देवता बनने का अर्थ भी समझना है। विकारी मनुष्य से निर्विकारी देवता बनाने बाप आते हैं। सतयुग में मनुष्य ही रहते हैं परन्तु दैवी गुण वाले। अभी कलियुग में हैं सभी आसुरी गुण वाले। है सारी मनुष्य सृष्टि। परन्तु यह है ईश्वरीय बुद्धि और वह है आसुरी बुद्धि। यहाँ है ज्ञान, वहाँ है भक्ति। ज्ञान और भक्ति अलग-अलग है। भक्ति के पुस्तक कितने ढेर के ढेर हैं। ज्ञान का पुस्तक एक है। एक ज्ञान सागर की पुस्तक एक ही होना चाहिए। जो भी धर्म स्थापन करते हैं, उनका पुस्तक भी एक ही होता है, जिसको रिलीजस बुक कहा जाता है।

पहली-पहली रिलीजस बुक है गीता। पहला-पहला आदि सनातन देवी-देवता धर्म है, न कि हिन्दू धर्म। मनुष्य समझते हैं गीता से हिन्दू धर्म स्थापन हुआ। गीता का ज्ञान कृष्ण ने दिया। कब दिया? परम्परा से। कोई शास्त्र में शिव भगवानुवाच तो है नहीं। तुम अभी समझते हो इस गीता ज्ञान द्वारा ही मनुष्य से देवता बने हैं, जो बाप अभी हमें दे रहे हैं। इसको ही भारत का प्राचीन राजयोग कहा जाता है। जिस गीता में ही काम महाशत्रु लिखा हुआ है। इस शत्रु ने ही तुम्हें हार खिलाई है। बाप इस पर ही जीत पहनाकर जगतजीत विश्व का मालिक बनाते हैं। बेहद का बाप बैठ इन द्वारा तुमको पढ़ाते हैं। वह है सभी आत्माओं का बाप। यह फिर है सभी मनुष्य आत्माओं का बेहद का बाप। नाम ही है प्रजापिता ब्रह्मा। तुम किससे पूछ सकते हो कि ब्रह्मा के बाप का नाम क्या है, तो मूँझ पड़ेंगे। ब्रह्मा, विष्णु, शंकर इन तीनों का बाप कोई होगा ना। ब्रह्मा, विष्णु, शंकर सूक्ष्मवतन में देवतायें हैं। उनके ऊपर है शिव। बच्चे जानते हैं शिवबाबा के जो बच्चे आत्मायें हैं उन्हों ने शरीर धारण किया है, वह तो सदैव निराकार परमपिता परमात्मा है। आत्मा ही शरीर द्वारा कहती है परमपिता। कितनी सहज बात है! इनको कहा जाता है अल्फ और बे की पढ़ाई। कौन पढ़ाते हैं? गीता का ज्ञान किसने सुनाया? कृष्ण को तो भगवान कहा नहीं जाता। वह तो देहधारी है। ताजधारी है। शिव तो है निराकार। उन पर तो कोई ताज आदि है नहीं। वही ज्ञान का सागर है। बाप ही बीजरूप चैतन्य है। तुम भी चैतन्य हो। सभी झाड़ों के आदि, मध्य, अन्त को तुम जानते हो। भल तुम माली नहीं हो परन्तु समझ सकते हो कि बीज कैसे डालते हैं, उनसे झाड़ कैसे निकलता है। वह है जड़, यह है चैतन्य। आत्मा को चैतन्य कहा जाता है। तुम्हारी आत्मा में ही ज्ञान है, और किसी आत्मा में ज्ञान हो नहीं सकता। तो बाप चैतन्य मनुष्य सृष्टि का बीजरूप है। यह चैतन्य क्रियेशन है।

वह सभी हैं जड़ बीज। ऐसे नहीं कि जड़ बीज में कोई ज्ञान है। यह तो है चैतन्य बीजरूप, उनमें सारे सृष्टि की नॉलेज है। झाड़ की उत्पत्ति, पालना, विनाश का सारा ज्ञान उनमें है। फिर नया झाड़ कैसे खड़ा होता है, वह है गुप्त। तुमको ज्ञान भी गुप्त मिलता है। बाप भी गुप्त आये हैं। तुम जानते हो यह कलम लग रहा है। अभी तो सभी पतित बन गये हैं। अच्छा, बीज से पहला-पहला पत्ता निकला, वह कौन था? सतयुग का पहला पत्ता तो कृष्ण को ही कहेंगे। लक्ष्मी-नारायण को नहीं कहेंगे। नया पत्ता छोटा होता है। पीछे बड़ा होता है। तो इस बीज की कितनी महिमा है। यह तो चैतन्य है ना। भल दूसरे भी निकलते हैं, धीरे-धीरे उन्हों की महिमा कम होती जाती है। अभी तुम देवता बनते हो। तो मूल बात है हमको दैवी गुण धारण करने हैं। इन जैसा बनना है। चित्र भी हैं। यह चित्र न होते तो बुद्धि में ज्ञान कैसे आता। यह चित्र बहुत काम में आते हैं। भक्ति मार्ग में इन चित्रों की पूजा होती है और ज्ञान मार्ग में तुमको इन्हों से ज्ञान मिलता है कि इन जैसा बनना है। भक्ति मार्ग में ऐसा नहीं समझेंगे कि हमको ऐसा बनना है। भक्ति मार्ग में मन्दिर आदि कितने बनवाते हैं, सबसे जास्ती मन्दिर किसके होंगे? जरूर शिवबाबा के ही होंगे। फिर उनके बाद क्रियेशन के होंगे। पहली क्रियेशन यह लक्ष्मी-नारायण हैं, तो शिव के बाद इनकी पूजा जास्ती होगी। मातायें जो ज्ञान देती हैं उनकी पूजा नहीं। वह तो पढ़ती हैं। तुम्हारी पूजा अभी नहीं होती है क्योंकि तुम अभी पढ़ रहे हो। जब तुम पढ़कर, अनपढ़ बनेंगे फिर पूजा होगी। अभी तुम देवी-देवता बनते हो। सतयुग में बाप थोड़ेही पढ़ाने जायेगा। वहाँ ऐसी पढ़ाई थोड़ेही होगी। यह पढ़ाई पतितों को पावन बनाने की है। तुम जानते हो हमको जो ऐसा बनाते हैं उनकी पूजा होगी फिर हमारी भी पूजा नम्बरवार होगी। फिर गिरते-गिरते 5 तत्वों की भी पूजा करने लग पड़ते हैं। 5 तत्वों की पूजा माना पतित शरीर की पूजा। यह बुद्धि में ज्ञान है कि इन लक्ष्मी-नारायण का सारे सृष्टि पर राज्य था। इन देवी-देवताओं ने राज्य कैसे और कब पाया? यह किसको पता नहीं है। लाखों वर्ष कह देते हैं। लाखों वर्ष की बात तो किसकी बुद्धि में बैठ न सके इसलिए कह देते यह परम्परा से चला आता है। अभी तुम जानते हो देवी-देवता धर्म वाले और धर्मों में कनवर्ट हो गये हैं, जो भारत में हैं वह अपने को हिन्दू कह देते हैं क्योंकि पतित होने कारण देवी-देवता कहना शोभता नहीं। परन्तु मनुष्यों में ज्ञान कहाँ। देवी-देवताओं से भी ऊंचा टाइटल अपने पर रखवाते हैं। पावन देवी-देवताओं की पूजा करते माथा झुकाते हैं, परन्तु अपने को पतित समझते थोड़ेही हैं।

भारत में खास कन्याओं को कितना नमन करते हैं। कुमारों को इतना नहीं करते। मेल से ज्यादा फीमेल को नमन करते हैं क्योंकि इस समय ज्ञान अमृत पहले इन माताओं को मिलता है। बाप इनमें प्रवेश करते हैं। यह भी समझते हो यह (ब्रह्मा बाबा) ज्ञान की बड़ी नदी है। ज्ञान नदी भी है फिर पुरुष भी है। ब्रह्म पुत्रा नदी सबसे बड़ी है, जो कलकत्ता तरफ सागर में जाकर मिलती है। मेला भी वहाँ ही लगता है परन्तु उन्हें यह पता नहीं कि यह आत्माओं और परमात्मा का मेला है। वह तो पानी की नदी है, जिसका नाम ब्रह्म पुत्रा रखा है। वह तो ब्रह्म को ईश्वर कह देते हैं इसलिए ब्रह्म पुत्रा को पावन समझते हैं। पतित-पावन वास्तव में गंगा को नहीं कहा जाता है। यहाँ सागर और ब्रह्मा नदी का मेल है। बाप कहते हैं यह फीमेल तो नहीं है, जिस द्वारा एडाप्शन होती है, यह बहुत गुह्य समझने की बातें हैं जो फिर प्राय:लोप हो जानी हैं। फिर बाद में मनुष्य इस आधार पर शास्त्र आदि बनाते हैं। पहले हाथ के लिखे हुए शास्त्र थे, बाद में बड़ी-बड़ी मोटी किताबें छपवाई हैं। संस्कृत में श्लोक आदि थे नहीं। यह तो बिल्कुल सहज बात है। मैं इन द्वारा राजयोग सिखलाता हूँ फिर यह दुनिया ही खलास हो जायेगी। शास्त्र आदि कुछ भी नहीं रहेंगे। फिर भक्ति मार्ग में यह शास्त्र आदि बनेंगे। मनुष्य समझते हैं यह शास्त्र आदि परम्परा से चले आये हैं, इसको कहा जाता है अज्ञान अन्धियारा। अभी तुम बच्चों को बाप पढ़ाते हैं जिससे तुम सोझरे में आये हो। सतयुग में है पवित्र प्रवृत्ति मार्ग। कलियुग में सभी अपवित्र प्रवृत्ति वाले हैं। यह भी ड्रामा है। बाद में है निवृत्ति मार्ग, जिसको सन्यास धर्म कहते हैं, जंगल में जाकर रहते हैं। वह है हद का सन्यास। रहते तो इस पुरानी दुनिया में हैं। अभी तुम जाते हो नई दुनिया में। तुम्हें तो बाप से ज्ञान का तीसरा नेत्र मिला है तो तुम कितने नॉलेजफुल बनते हो। इससे जास्ती नॉलेज होती ही नहीं। वह तो है माया की नॉलेज, जिससे विनाश होता है। वो लोग मून (चांद) पर जाकर खोज करते हैं। तुम्हारे लिए कोई नई बात नहीं। यह सभी माया का पाम्प है। बहुत शो करते हैं। अति डीपनेस में जाते हैं कि कुछ कमाल करके दिखायें। बहुत कमाल करने से फिर नुकसान हो जाता है। उन्हों के ब्रेन में विनाश के ही ख्यालात आते हैं। क्या-क्या बनाते रहते हैं। बनाने वाले जानते हैं, इससे ही विनाश होगा। ट्रायल भी करते रहते हैं। कहते भी हैं दो बिल्ले लड़े माखन तीसरा खा गया। कहानी तो छोटी है परन्तु खेल कितना बड़ा है। नाम इन्हों का ही बाला है। इन द्वारा ही विनाश की नूँध है। कोई तो निमित्त बनता है ना। क्रिश्चियन लोग समझते हैं पैराडाइज था, पर हम नहीं थे। इस्लामी, बौद्धी भी नहीं थे फिर भी क्रिश्चियन लोगों की समझ अच्छी है। भारतवासी कहते हैं देवी-देवता धर्म लाखों वर्ष पहले था तो बुद्धू ठहरे ना। बाप भारत में ही आते हैं, जो महान बेसमझ हैं उन्हें ही महान ते महान समझदार बनाते हैं। परन्तु फिर भी याद रहे तब।

बाबा तुम बच्चों को कितना सहज करके समझाते हैं, मुझे याद करो तो तुम सोने का बर्तन बन जायेंगे तो धारणा भी अच्छी होगी। याद की यात्रा से ही पाप कटेंगे। मुरली नहीं सुनते तो ज्ञान रफूचक्कर हो जाता है। बाप तो रहमदिल होने के नाते उठने की ही युक्ति बतलाते हैं। अन्त तक भी सिखलाते ही रहेंगे। अच्छा, आज भोग है, भोग लगाकर जल्दी वापस आ जाना है। बाकी वैकुण्ठ में जाकर देवी-देवताओं आदि का साक्षात्कार करना यह सब फालतू है। इसमें बहुत महीन बुद्धि चाहिए। बाप इस रथ द्वारा कहते हैं मुझे याद करो, मैं ही पतित-पावन तुम्हारा बाप हूँ। तुम्हीं से खाऊं….. तुम्हीं से बैठूँ…. यह यहाँ के लिए है। ऊपर में कैसे होगा। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चो को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बाप इस दादा में प्रवेश हो हमें मनुष्य से देवता अर्थात् विकारी से निर्विकारी बनाने के लिए गीता का ज्ञान सुना रहे हैं, इसी निश्चय से रमण करना है। श्रीमत पर चलकर श्रेष्ठ गुणवान बनना है।

2) याद की यात्रा से बुद्धि को सोने का बर्तन बनाना है। ज्ञान बुद्धि में सदा बना रहे उसके लिए मुरली जरूर पढ़नी वा सुननी है।

वरदान:- शरीर की व्याधियों के चिंतन से मुक्त, ज्ञान चिंतन वा स्वचिंतन करने वाले शुभचिंतक भव
एक है शरीर की व्याधि आना, एक है व्याधि में हिल जाना। व्याधि आना यह तो भावी है लेकिन श्रेष्ठ स्थिति का हिल जाना – यह बन्धनयुक्त की निशानी है। जो शरीर की व्याधि के चिंतन से मुक्त रह स्वचिंतन, ज्ञान चिंतन करते हैं वही शुभचिंतक हैं। प्रकृति का चिंतन ज्यादा करने से चिंता का रूप हो जाता है। इस बंधन से मुक्त होना इसको ही कर्मातीत स्थिति कहा जाता है।
स्लोगन:- स्नेह की शक्ति समस्या रूपी पहाड़ को पानी जैसा हल्का बना देती है।

TODAY MURLI 19 DECEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 19 December 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 18 December 2018 :- Click Here

19/12/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, always donate to those who are worthy. Don’t waste your time unnecessarily. While they are listening to you, feel their pulse as to where their attitude is being drawn.
Question: In order to go to the pure world, you children have to take very great precautions. What are the precautions you have to take?
Answer: To live in a household and remain like a lotus flower is the most difficult precaution. Your renunciation is of the whole old world. In one eye, you have the sweet home and in your other eye, you have the sweet kingdom. While seeing this old world, you mustn’t see it. This is a very great precaution. By observing this precaution, you go to the pure world.
Song: Have patience, o mind! Your days of happiness are about to come.

Om Shanti. The mercury of happiness of you children should rise as soon as you hear the song because there truly is sorrow in the world. All human beings are truly atheists, that is, they don’t know the Father. You are now becoming theists from atheists. You children know that your days of happiness are now coming. First of all wherever you go give your introduction and say why you call yourselves Brahma Kumars and Brahma Kumaris. Brahma is Prajapita, a child of Shiva. That incorporeal One is called the Highest on High. Brahma, Vishnu and Shankar are His children. Vishnu and Shankar can never be called Prajapita. Prajapita Brahma exists here. Look, you have to imbibe this point very well. Lakshmi and Narayan and Radhe and Krishna cannot be called Prajapita. The name ‘Prajapita Brahma’ is very well known. This Prajapita is corporeal. The Creator of heaven is the Supreme Father, the Supreme Soul, Shiva. Brahma is not the Creator of heaven. Only the incorporeal Supreme soul comes and creates heaven through Prajapita Brahma. There are so many of us, his children. Souls are the children of the Supreme Father, Shiva. A very good method of explaining is required. Tell them: He is teaching us Raja Yoga. He is explaining to us through Brahma the secrets of the beginning, the middle and the end of the world. Therefore, this Brahma hears it first. Jagadamba then also hears it. We are BKs. It is remembered: A kumari is one who uplifts 21 clans and gives happiness for 21 births. We are claiming the inheritance from the Supreme Father, the Supreme Soul, in order to receive happiness for 21 births in the golden and silver ages. Truly, Bharat was constantly happy in the golden and silver ages; there was also purity at that time. So He is also our Baba. This one is Dada. The One who has so many children doesn’t have any concern. He has so many children. Shiv Baba is teaching us Raja Yoga through Brahma. We are receiving the inheritance from that unlimited Father. The whole world is impure and it is only the one Father who purifies it. There is only that one Satguru, the Creator of heaven, who transforms the old world. He is also the Bestower of Salvation for All. In the new world, there is only the kingdom of Lakshmi and Narayan. Only the deities of the deity kingdom in Bharat take 84 births. Then, you also have to explain about the different clans. You must make an appointment with them in advance. Tell them: Listen to these things with full attention. Don’t allow your intellects to wander. Brothers, sisters, all of you are in fact children of Shiva. Prajapita Brahma is the head of the whole genealogical tree. We Brahmins, the mouth-born creation of Brahma, are claiming the inheritance from Him. We are claiming the kingdom of the world with the power of yoga, not with physical power. We do not renounce our homes and families. We live in our own homes. This is a school for changing from human beings into deities. No human beings can make anyone into deities. This world is itself impure. The River Ganges is not the Purifier. People repeatedly go to bathe there, but they don’t become pure. In the same way, there is also the example of Ravan. They repeatedly burn his effigy, but he doesn’t die. You should also take the posters of Ravan with you. When you go to a big place, you should also take a photo album with you. Tell them: Look, all of these are the children. They have all made a promise to remain pure. In fact, all are the children of Brahma. Prajapita Brahma is the head of the genealogical tree. At this time, we are Brahma Kumars and Kumaris in a practicalway. You too are that, but you don’t know it. In the world there are now no true brahmins. We are true Brahmins. We are the ones who claim a kingdom. Then, this is the genealogical tree of Brahmins. Brahmins are the topknot. It has been explained to you children that Krishna is not God; he takes the full 84 births. As soon as you complete your 84 births, you have to become deities again. Who can make you that? The Father makes you that. We study Raja Yoga with Him. His praise is: The incorporeal One. He is incorporeal and egoless. He has to come and serve. He enters an impure body in the impure world. That same episode of the Gita is now being repeated. There was the great war and all returned like a swarm of mosquitoes. It is now that same time when the Supreme Father, the Supreme Soul, God Shiva, speaks. He is the Creator. There used to be the kingdom of Lakshmi and Narayan in heaven. It is the task of the Father alone to make the world satopradhan. We say to Him, “Baba, Baba!” He definitely comes. There is Shiv Ratri, the night of Shiva. You should also tell them the meaning of that. You should note down these points and imbibe them. These points should remain in your intellects. The intellects of kumaris are good. People wash the feet of kumaris. In fact, both kumars and kumaris are pure, so why is the name of the kumaris remembered? It is because your name is remembered from the present as a kumari who uplifts 21 generations that respect for you has continued. We are doing spiritual service of Bharat. Our Master, our Helper, is the Supreme Father, the Supreme Soul, Shiva. We take power from Him with the power of yoga through which we become ever healthy for 21 births. This is a guarantee. In the iron age, all are diseased and their lifespans are short. How is it that people have such long lifespans in the golden age? It is through this Raja Yoga that you become those with long lifespans. There is no untimely death there. You shed a body and take another. This is an old skin. Stay in remembrance of Shiv Baba and forget all your relationships, including your body. Our intellects have unlimited renunciation. This is the spiritual pilgrimage of our intellects’ yoga. It is human beings who teach those physical pilgrimages. No one, apart from the Father, can teach us the pilgrimage of the intellect. Only those who study this Raja Yoga will go to heaven. The sapling is now being planted once again. All of us are the children of that Father. We children receive the inheritance from Shiv Baba. This Dada also receives the inheritance from Shiv Baba. You too should claim your inheritance from the unlimited Father. This is a big hospital. We will not become diseased for 21 births. We are doing true service of Bharat and this is why the Shiv Shakti Army has been remembered. The Father now says: Have your sins absolved by having remembrance and you souls will become pure and, by imbibing knowledge, you will become the kings who rule the globe. When we become pure, we will be able to marry Lakshmi or Narayan. If you don’t become full of virtues and completely viceless here, how would you be able to marry Lakshmi or Narayan? This is why it is said: Look at yourself in the mirror: Have I become worthy of marrying Lakshmi or Narayan? If you don’t become a complete destroyer of attachment, you won’t be able to marry Lakshmi or Narayan. You will then become part of the subjects. Shiv Baba too has to come here from the supreme abode. He would definitely come into the impure world, make you pure and take you back. Here, we have to take many precautions. In one eye we have our sweet home and in our other eye we have the sweet kingdom. Our renunciation is of the whole world. While living at home, we live a life as pure as a lotus. Elderly people believe that because they are in the stage of retirement, they should make effort to go to the land of liberation. At this time, it is the stage of retirement for everyone. You all have the right to claim the inheritance from the Father. You have to forget the land of sorrow. This renunciation is with the intellect. We remove the old world from our intellects and remember the new world. Then, at the end, our final thoughts lead us to our destination. This is the biggest Godf atherly University. God speaks: I teach you Raja Yoga and change you from human beings into deities. You should explain in this way. Tell them: Sit and listen to what we tell you. When they ask questions in between, they break the flow. I am going to tell you the secrets of the whole cycle. What is Shiv Baba’s part in the drama? Who are Lakshmi and Narayan? We will tell you the biography of everyone. You should feel everyone’s pulse. You should check their attitude at that time as to whether they are listening attentively or just sitting there like a crazy person. Check that they are not looking around here and there. Here too, Baba checks to see who sits in front of Him and sways in happiness. This is the dance of knowledge. Those schools are smaller and the teachers can see the students very well and they also sit numberwise. Here, there are many of you; you cannot be made to sit numberwise. So, it has to be seen whether anyone’s intellect is wandering anywhere. Are they smiling? Does the mercury of their happiness rise? Do they listen attentively? Always make donations to those who are worthy. Don’t waste your time unnecessarily. You also need common sense to feel their pulse. People are afraid. Sindhis especially think that perhaps the BKs would cast a magic spell and so they don’t even look at you. Shiv Baba explains: Only you Brahmins become trikaldarshi. Then, you also have to understand the secret of the clans. You also have to explain the meaning of ‘hum so’. It is wrong to say: I, the soul, am the Supreme Soul. Then there are also those who believe in the brahm element. They say: I am brahm. Maya is the five vices and we believe in the brahm element. However, brahm is the great element where we souls reside. Just as those living in Hindustan call their religion the Hindu religion, similarly, those people (sannyasis) who believe in the brahm element call themselves brahm. The praise of the Father is separate. “Full of all virtues, sixteen celestial degrees complete”, is the praise of the deities. A soul is praised when he is in a body. It is the soul that becomes impure or pure. A soul cannot be said to be immune to the effect of action. Such a tiny soul has a part of 84 births. How could he be immune to the effect of action? Baba is now establishing peace, so what prize do you children give Baba? He gives you the prize of the kingdom of heaven for 21 births. What do you give Baba? Whatever prize anyone gives the Father, he also claims such a great prize from the Father. This one gave a prize first of all. Shiv Baba is the Bestower. Kings never accept anything in their hands from others. They are said to be the bestowers of food, the providers. Human beings cannot be called bestowers. Even though you give to sannyasis etc., it is Shiv Baba, the Bestower, who has to give you the return fruit. People say: God gave everything. God takes everything. So, why do you then cry when someone dies? However, He neither takes nor gives. It is physical parents who give birth. So, they then feel sorrow when someone dies. If God gave and then took back, why should they feel sorrow? Baba says: I am beyond happiness and sorrow. This Dada gave everything he had and this is why he also receives the full prize. Kumaris don’t have anything. If they receive anything from their parents, they can give it to Shiv Baba. For example, Mama was very poor, but look how she has gone ahead. She serves with her body, mind and wealth. You know that you are going to the land of happiness via the land of peace. Until we go to the Father, how could we go to our in-laws’ home? We are sitting in our parents’ home. We will first go to our Father and then to our in-laws’ home. This is the cottage of sorrow and the golden age is the cottage free from sorrow. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In this stage of retirement, remove everything from your intellect apart from your sweet home and your sweet kingdom. Become complete destroyers of attachment.
  2. Have unlimited renunciation and go on the spiritual pilgrimage with your intellect’s yoga. Become pure by following shrimat and do true service of Bharat.
Blessing: May you have happiness in your mind and chase away all illnesses and become ever healthy.
It is said: When your mind is happy, the world is happy whereas from an illness of the mind, your whole body becomes pale. If your mind is well you will not then feel any illness of the body. Even if your body is not well, your mind is healthy because you have the very good nourishment of happiness. This nourishment chases away illness and makes you forget it. So, when your mind is happy, the world is happy and your life is happy and this is why you are ever healthy.
Slogan: Know the importance of time and you will become full of all treasures.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 19 DECEMBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 19 December 2018

To Read Murli 18 December 2018 :- Click Here
19-12-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – दान सदा पात्र को देना है, फालतू समय वेस्ट नहीं करना है। हर एक की नब्ज देखो कि सुनते समय उनकी वृत्ति कहाँ जाती है”
प्रश्नः- पावन दुनिया में चलने के लिए तुम बच्चे बहुत भारी परहेज करते हो, तुम्हारी परहेज क्या है?
उत्तर:- गृहस्थ व्यवहार में कमलफूल के समान रहना ही सबसे भारी परहेज है। हमारा त्याग है सारी बेहद की पुरानी दुनिया का। एक आंख में है स्वीट होम, दूसरी आंख में है स्वीट राजधानी – इस पुरानी दुनिया को देखते हुए भी नहीं देखना – यह है बहुत बड़ी परहेज, इसी परहेज से पावन दुनिया में चले जाते हैं।
गीत:- धीरज धर मनुआ…….. 

ओम् शान्ति। गीत सुनने से ही बच्चों को खुशी का पारा चढ़ जाना चाहिए क्योंकि दुनिया में दु:ख तो है ही। मनुष्य मात्र हैं ही नास्तिक अर्थात् बाप को नहीं जानते। अब तुम नास्तिक से आस्तिक बन रहे हो। तुम बच्चे अब जानते हो कि हमारे सुख के दिन आ रहे हैं। कहीं भी तुम जाते हो तो पहले-पहले तुम अपना परिचय दो हम अपने को ब्रह्माकुमार-कुमारी क्यों कहलाते हैं? ब्रह्मा है प्रजापिता, शिव का बच्चा। ऊंच ते ऊंच उस निराकार को कहा जाता है। ब्रह्मा, विष्णु, शंकर तो उनके बच्चे हैं। विष्णु और शंकर को कभी प्रजापिता नहीं कहेंगे। प्रजापिता ब्रह्मा यहाँ है। देखो, यह प्वाइन्ट अच्छी तरह धारण करो। लक्ष्मी-नारायण, राधे-कृष्ण को प्रजापिता नहीं कहेंगे। प्रजापिता ब्रह्मा नाम मशहूर है। यह है प्रजापिता साकार। अब स्वर्ग का रचयिता तो परमपिता परमात्मा शिव है। स्वर्ग का रचयिता ब्रह्मा नहीं है, निराकार परमात्मा ही आकर प्रजापिता ब्रह्मा द्वारा स्वर्ग रचते हैं। हम उनके बच्चे कितने ढेर हैं। आत्मायें तो हैं ही परमपिता शिव की सन्तान। समझाने का बड़ा अच्छा तरीका चाहिए। बोलो, हमको वह राजयोग सिखलाते हैं। ब्रह्मा द्वारा सृष्टि के आदि, मध्य, अन्त का राज़ समझाते हैं। तो पहले यह ब्रह्मा सुन लेते हैं। जगत अम्बा भी सुन लेती है। हम हैं बी.के.। गाया भी जाता है – कन्या वह जो 21 कुल का उद्धार करे, 21 जन्म का सुख दे। हम परमपिता परमात्मा से 21 जन्म सतयुग-त्रेता में सुख पाने लिए वर्सा लेते हैं। बरोबर सतयुग-त्रेता में भारत सदा सुखी था, पवित्रता भी थी, तो वह हमारा बाबा है, यह है दादा। अब जिसके पास इतने बच्चे हैं, उनको तो कोई परवाह नहीं। कितने उनके बच्चे हैं! हमको ब्रह्मा द्वारा शिवबाबा राजयोग सिखलाते हैं। उस बेहद के बाप से हमको वर्सा मिलता है। सारी दुनिया पतित है, उनको पावन करने वाला एक बाप है। पुरानी दुनिया को बदलने वाला स्वर्ग का रचयिता वह सतगुरू है, सर्व का सद्गति दाता। नई दुनिया में है ही लक्ष्मी-नारायण का राज्य। भारत में जो देवी-देवताओं का राज्य था, वह देवतायें ही 84 जन्म लेते हैं फिर वर्ण भी बताने पड़े। समय पहले से ले लेना चाहिए। बोलो, इन बातों को चित लगाकर अच्छी रीति सुनो। बुद्धि को भटकाओ मत। भाई जी वा बहन जी, तुम सब वास्तव में शिव की सन्तान हो। प्रजापिता ब्रह्मा तो सारे सिजरे का हेड हुआ। हम ब्रह्मा मुख वंशावली ब्राह्मण उनसे वर्सा ले रहे हैं। योगबल से विश्व का राज्य पाते हैं, न कि बाहुबल से। हम घरबार नहीं छोड़ते हैं, हम तो अपने घर में रहते हैं। यह स्कूल है मनुष्य से देवता बनने का। मनुष्य तो कोई देवता बना न सकें। यह दुनिया ही पतित है। पानी की गंगा तो पतित-पावनी नहीं है। बार-बार उसमें स्नान करने जाते हैं, पावन बनते ही नहीं। ऐसे ही रावण का भी मिसाल है। बार-बार जलाते रहते हैं, रावण मरता नहीं है। यह रावण वाला पोस्टर भी ले जाना चाहिए। कोई ऐसी बड़ी जगह जाओ तो एलबम भी ले जाना चाहिए। देखो, यह सब बच्चे हैं। सभी की प्रतिज्ञा की हुई है पवित्र रहने की। वास्तव में ब्रह्मा के सभी बच्चे हैं। प्रजापिता ब्रह्मा सिजरे का हेड है। इस समय प्रैक्टिकल हम ब्रह्माकुमार-कुमारियां हैं, हो तुम भी परन्तु तुम पहचानते नहीं हो। अभी दुनिया में कोई सच्चा ब्राह्मण नहीं है। सच्चे ब्राह्मण तो हम हैं। राज्य भी हम पाते हैं। फिर यह है ब्राह्मणों का सिजरा। ब्राह्मण हैं चोटी। बच्चों को समझाया है कृष्ण भगवान् नहीं है। वह तो पूरे 84 जन्म लेते हैं। 84 जन्म पूरे होते ही फिर देवता बनना है। कौन बनाये? बाप बनाते हैं। हम उनसे राजयोग सीख रहे हैं। उनकी ही महिमा है एकोअंकार। वह है निराकार, निरहंकारी। उनको आकर सर्विस करनी पड़ती है। पतित दुनिया, पतित शरीर में आते हैं। अभी वही गीता एपीसोड रिपीट हो रहा है। महाभारी लड़ाई लगी थी। सब मच्छरों सदृश्य गये थे। अब वही समय है। परमपिता परमात्मा शिव भगवानुवाच है, वह है रचयिता। स्वर्ग में लक्ष्मी-नारायण का राज्य था। सृष्टि को सतोप्रधान बनाना बाप का ही कर्तव्य है। हम उनको बाबा-बाबा कहते हैं। वह आते जरूर हैं, शिवरात्रि भी है। इसका अर्थ भी बताना चाहिए। प्वाइन्ट नोट कर फिर धारण करनी चाहिए। प्वाइन्ट्स बुद्धि में रहनी चाहिए। कन्याओं की बुद्धि तो अच्छी होती है। कुमारी के पैर धोते हैं। हैं तो कुमार और कुमारियां दोनों पवित्र। फिर कुमारी का नाम क्यों गाया जाता है? क्योंकि तुम्हारा अभी का जो नाम है कि कन्या वह जो 21 कुल का उद्धार करे तो वह तुम्हारा मान चला आया है। हम भारत की रूहानी सेवा करते हैं। हमारा उस्ताद मददगार परमपिता परमात्मा शिव है। उनसे हम योगबल से शक्ति लेते हैं, जिससे हम 21 जन्म एवरहेल्दी बनते हैं। यह गैरन्टी है। कलियुग में तो सब रोगी हैं, आयु भी कम है। सतयुग में इतनी बड़ी आयु वाले कहाँ से आये? इस राजयोग से इतनी बड़ी आयु वाले बनते हैं। वहाँ अकाले मृत्यु होती नहीं। एक शरीर छोड़ दूसरा लिया जाता है। यह पुरानी खाल है। शिवबाबा की याद में रह इस देह सहित देह के सब सम्बन्धों को भूल जाना है। बुद्धि से हम बेहद का त्याग करते हैं। हमारी बुद्धियोग की रूहानी यात्रा है। वह जिस्मानी यात्रा मनुष्य सिखलाते हैं। बुद्धि की यात्रा बाप के सिवाए कोई सिखलाने वाला नहीं है। यह राजयोग सीखने वाले ही स्वर्ग में आयेंगे। अब फिर से सैपलिंग लग रहा है। हम सब उस बाप के बच्चे हैं, हम बच्चों को शिवबाबा से वर्सा मिलता है। यह दादा भी शिवबाबा से वर्सा लेते हैं। आप भी बेहद के बाप से वर्सा लो। यह बड़ी हॉस्पिटल है। हम 21 जन्म के लिए फिर कभी रोगी नहीं बनेंगे। हम भारत की सच्ची सेवा कर रहे हैं इसलिए गायन है शिव शक्ति सेना।

अब बाप कहते हैं याद से अपने विकर्म विनाश करो तो आत्मा शुद्ध बन जायेगी और ज्ञान को धारण करने से तुम चक्रवर्ती राजा बनेंगे। हम पवित्र बनेंगे तो लक्ष्मी को अथवा नारायण को भी वरेंगे। सर्वगुण सम्पन्न, सम्पूर्ण निर्विकारी यहाँ नहीं बनेंगे तो लक्ष्मी-नारायण को कैसे वरेंगे? इसलिए कहा जाता है आइने में अपने को देखो – लक्ष्मी-नारायण को वरने लायक बने हो? पूरा नष्टोमोहा नहीं बनेंगे तो लक्ष्मी को वर नहीं सकेंगे फिर प्रजा में जायेंगे। शिवबाबा को भी परमधाम से आना पड़ता है। जरूर पतित दुनिया में आये तो पावन बनाकर ले जाये। यहाँ हम परहेज़ भी बहुत रखते हैं। हमारी एक आंख में स्वीट होम और दूसरी में स्वीट राजधानी है। हमारा त्याग सारी दुनिया का है। घर गृहस्थ में रहते कमल फूल समान पवित्र रहते हैं। बुढ़े समझते हैं – वानप्रस्थ अवस्था है, चलो, मुक्तिधाम के लिए पुरुषार्थ करें। इस समय तो सबकी वानप्रस्थ अवस्था है। हर एक को हक है बाप से वर्सा लेने का। दु:खधाम को भूल जाना है। यह है बुद्धि से त्याग। हम पुरानी दुनिया को बुद्धि से भूल नई दुनिया को याद करते हैं। फिर अन्त मती सो गति हो जाती है। यह सबसे बड़ी गॉड फादरली युनिवर्सिटी है। भगवानुवाच – मैं राजयोग सिखलाकर मनुष्य से देवता बनाता हूँ। ऐसे-ऐसे समझाना चाहिए। बोलो, हम जो सुनाते हैं वह बैठकर सुनो। बीच में प्रश्न पूछने से वह प्रवाह टूट पड़ता है। हम आपको सारे सृष्टि चक्र का राज़ बतलाते हैं, शिवबाबा का ड्रामा में क्या पार्ट है, लक्ष्मी-नारायण कौन हैं, हम सबकी जीवन कहानी बतायेंगे। हर एक की नब्ज़ देखनी चाहिए। उस समय की वृत्ति देखनी चाहिए – ठीक सुनता है, तवाई होकर तो नहीं बैठा है? यहाँ-वहाँ तो नहीं देखता है। यहाँ बाबा भी देखते हैं कौन सामने सुनकर झूमते हैं, यह ज्ञान का डांस है। वे स्कूल तो छोटे होते हैं जो टीचर अच्छी रीति देख सके और नम्बरवार बिठाये, यहाँ तो बहुत हैं, नम्बरवार बिठा नहीं सकते। तो देखना पड़ता है – किसकी बुद्धि कहीं भागती तो नहीं है? मुस्कराते हैं? खुशी का पारा चढ़ता है? ध्यान से सुनता है? दान सदा पात्र को देना चाहिए। फालतू समय वेस्ट नहीं करना चाहिए। नब्ज़ देखने की भी समझदारी चाहिए। मनुष्य तो डरते हैं – खास सिन्धी लोग समझते हैं कहीं बी.के. जादू न लगा दें इसलिए सामने देखते भी नहीं हैं।

शिवबाबा समझाते हैं – तुम ब्राहमण ही त्रिकालदर्शी बनते हो फिर वर्णों का राज़ भी समझने का है। हम सो का अर्थ भी समझाना है, हम आत्मा सो परमात्मा कहना रांग है। कोई फिर ब्रह्म को भी मानने वाले हैं। कहते हैं अह्म ब्रह्मास्मि। माया तो 5 विकार हैं। हम ब्रह्म को मानते हैं। अब ब्रह्म तो महतत्व है जो हमारा निवास स्थान है। जैसे हिन्दुस्तान में रहने वाले अपना धर्म हिन्दू कह देते हैं, वैसे वह भी ब्रह्म तत्व को कह देते कि हम ब्रह्म हैं। बाप की महिमा अलग है। सर्वगुण सम्पन्न, 16 कला सम्पूर्ण……. यह महिमा देवताओं की हैं। आत्मा जब शरीर के साथ है तब उसकी महिमा है। आत्मा ही पतित अथवा पावन बनती है। आत्मा को निर्लेप नहीं कह सकते। इतनी छोटी सी आत्मा में 84 जन्मों का पार्ट है। उसको फिर निर्लेप कैसे कहेंगे?

अभी बाबा पीस स्थापन करते हैं तो तुम बच्चे बाबा को क्या प्राइज़ देते हो? वह तुमको 21 जन्म स्वर्ग की राजधानी की प्राइज़ देते हैं। तुम बाबा को क्या देते हो? जो जितनी प्राइज़ बाप को देते हैं उतनी फिर बाप से लेते भी हैं। पहले-पहले इसने प्राइज़ दिया। शिवबाबा तो दाता है। राजे लोग कभी हाथ में ऐसे लेते नहीं हैं। उनको अन्नदाता कहा जाता है। मनुष्य को दाता नहीं कह सकते। भल तुम सन्यासियों आदि को देते हो परन्तु रिटर्न फल तो फिर भी शिवबाबा दाता देता है। कहते हैं सब कुछ ईश्वर ने दिया है, ईश्वर ही लेते हैं, फिर कोई मरता है तो रोते क्यों हो? परन्तु न वह लेते हैं, न वह देते हैं। वह तो लौकिक माँ-बाप जन्म देते हैं। फिर कोई मर जाता है तो उनको ही दु:ख होता है। यदि ईश्वर ने दिया, उसने ही लिया तो दु:ख क्यों होना चाहिए। बाबा कहते हैं मैं तो सुख-दु:ख से न्यारा हूँ। तो इस दादा ने अपना सब कुछ दिया है इसलिए फुल प्राइज़ भी ले रहे हैं। कन्याओं के पास तो कुछ है नहीं। यदि उनको माँ-बाप देते हैं तो फिर शिवबाबा को दे सकती हैं। जैसे मम्मा भी गरीब थी फिर देखो कितनी तीखी गई है। तन-मन-धन से सेवा कर रही है।

तुम जानते हो हम सुखधाम जाते हैं वाया शान्तिधाम। जब तक हम बाप के पास नहीं जायेंगे तो ससुर घर कैसे आयेंगे? पियरघर में तो बैठे हैं। पहले बाप के पास जायेंगे फिर ससुरघर आयेंगे। यह है शोक वाटिका, सतयुग है अशोक वाटिका। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) इस वानप्रस्थ अवस्था में स्वीट होम और स्वीट राजधानी को याद करने के सिवाए बुद्धि से सब कुछ भूल जाना है। पूरा नष्टोमोहा बनना है।

2) बुद्धियोग से बेहद का त्याग कर रूहानी यात्रा करनी है। श्रीमत पर पवित्र बन भारत की सच्ची सेवा करनी है।

वरदान:- मन की खुशी द्वारा बीमारियों को दूर भगाने वाले एवरहेल्दी भव
कहा जाता – मन खुश तो जहान खुश, मन की बीमारी से शरीर भी पीला हो जाता है। मन ठीक होगा तो शरीर का रोग भी महसूस नहीं होगा। चाहे शरीर बीमार भी हो तो भी मनदुरूस्त है क्योंकि आपके पास खुशी की खुराक बहुत बढ़िया है। यह खुराक बीमारी को भगा देती है, भुला देती है। तो मन खुश, जहान खुश, जीवन खुश, इसलिए एवरहेल्दी हो।
स्लोगन:- समय के महत्व को जान लो तो सर्व खजानों से सम्पन्न बन जायेंगे।
Font Resize