daily murli 18 october

TODAY MURLI 18 OCTOBER 2020 DAILY MURLI (English)

18/10/20
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
07/04/86

Only someone who is an image of tapasya, an image of renunciation and

bestower of fortune has a right to the kingdom of the world.

Today, the spiritual Flame is looking at His spiritual moths. All the spiritual moths have come here from everywhere in order to celebrate a meeting with the spiritual Flame. BapDada knows that love has attracted the hearts of the children and brought them all to this alokik gathering (mela). Only the alokik children and the Father know about this alokik gathering. This gathering is unknown to the world. If you tell someone that you are going to a spiritual gathering, what would he understand? This gathering is such that it makes you prosperous for all time. It is this Godly gathering that makes you into an embodiment of all attainments. BapDada is seeing the zeal and enthusiasm in the hearts of all the children. There are waves of an ocean of love in each one’s mind. BapDada is seeing this and He also knows that your love has made you destroyers of obstacles and residents of Madhuban. All the situations of everyone have become merged in this love. You carried out a rehearsal of being everready. You have become everready, have you not? Seeing the sweet part of the sweet drama, BapDada and the Brahmin children are pleased. Because of love, everything seems easy and also lovely. Whatever drama has been created is a wonderful drama. How many times have you come running here? Did you come on trains or did you come flying with your wings? This is known as: Where the heart is, the impossible becomes possible. You have shown the form of love; now, what more do you have to do in the future? Whatever has happened until now has been elevated and will continue to be elevated.

Now, according to the time, what does BapDada especially want from you completely loving and most elevated children? In fact, Baba has signaled this from time to time throughout the whole seasonThe time to see those signals in a practical form is now approaching. You are loving souls, you are co-operative souls, and you are serviceable souls. Now, become great tapaswi souls. It is now the time to carry out the great task of liberating all souls from sorrow and peacelessness with the spiritual fire of tapasya in a collective way. On the one hand, the wave of bloodshed without cause is continually increasing and, on the other hand, all souls are experiencing themselves to be without support. At such a time, it is you great tapaswi souls who will be instrumental in giving them the experience of total support. Through this tapaswi form, you have to enable souls everywhere to experience spiritual comfort. All the souls of the world are restless due to the elements of nature, the atmosphere, human souls and the weaknesses of their own minds and bodies. If you enable such souls to experience the stage of happiness and comfort for even a second, they will repeatedly say, “Thank you” from their hearts. At the present time, there is a need for the intense volcanic (jwala) form collectively. You children of the Bestower of Fortune now have to become stable in the form of bestowers of fortune and continue to give at every moment. Start the infinite queue of feeding others because there are many royal beggars: beggars aren’t just those who beg for money – there are many who are begging with the mind in one way or another. Souls who have no attainment are very thirsty for a drop of attainment. So, now, collectively in the gathering, spread the wave of being bestowers of fortune. The more that you, as master bestowers of fortune, continue to give the treasures that you have accumulated, the more they will continue to increase. You have heard so much; it is now the time to do it. An image of tapasya means that, through tapasya, you experience rays of the power of peace to be spreading everywhere. Just to be an embodiment of remembrance for oneself and to receive that power or to celebrate a meeting is a different matter. However, the form of tapasya is the form of giving to others. For instance, the sun gives the world the experience of light and also of innumerable, imperishable attainments. Similarly, with your great form of tapasya, give the experience of the rays of attainment. To do this, you first have to increase your account of accumulation. Do not think that you have made yourself elevated and conquerors of Maya by having remembrance and by churning knowledge. Do not be happy with just that; out of the whole day, for how many souls were you a bestower of fortune of all the treasures? Do you use all the treasures for a task every day or are you happy just seeing what you have accumulated? Now, keep a chart of how many treasures of happiness, peace, powers, knowledge, virtues and co-operation you have distributed and that you have therefore increased. By doing this, the common chart that you keep will automatically become elevated. By becoming those who uplift others, you will automatically uplift yourselves. Understand? What chart you have to keep now? This chart of being a form of tapasya is to become a world benefactor. So, how many have you benefited? Or, does your time pass in benefiting yourself? A lot of time has been spent in bringing benefit to yourselves. The time to become bestowers of fortune has now come. This is why BapDada is once again giving you the signal of time. If, even now, you do not experience the stage of being a bestower of fortune, you will not be able to attain the fortune of becoming sovereigns of the kingdom of the world. The sanskars of being a bestower of fortune now will enable you to have attainments for many births, because the world rulers are like parents of the world, that is, they are bestowers of fortune. If, now, you have the sanskar of taking in any way, such as receiving any type of name or honour, it will not allow you become a bestower of fortune.

An image of tapasya means to be an image of the renunciation of taking in any way. Taking in any limited way will not allow you to become an image of renunciation or an image of tapasya. This is why an image of tapasya means to be one who is ignorant of even the knowledge of desire. Those who think of taking something receive it for a limited period, but lose out for all time. This is why BapDada is repeatedly giving you a signal about this. It is these desires for a temporary period that become an obstruction to your becoming an image of tapasya. This is why you especially have to practise tapasya. You have to give this proof of becoming equal. It is a matter of happiness that you have given the proof of love. Now give the proof of becoming an image of tapasya. Do you understand? Even though you have various sanskars, the sanskar of a bestower of fortune suppresses all other sanskars. Therefore, now let this sanskar emerge. Do you understand? Just as you have come running to Madhuban, so too, run towards the destination of the tapaswi stage. Achcha. Welcome! Everyone ran here as though destruction were to take place now. Whatever you did, whatever happened, BapDada liked it, because He loves you children. Each one of you thought that you were now going to come here, but you didn’t think that others were also going to come. So, the true Kumbha mela (gathering) is taking place here. All of you have come to celebrate the last meeting, to take the last dip (last turn of the season). Since so many people were going to come here, did you wonder what form the meeting would take? You were totally beyond that awareness. You neither considered the place nor the reservations. You will now never be able to make the excuse that you couldn’t get a reservation. This was also a rehearsal in the drama. It is not your kingdom at the confluence age. You have self-sovereignty but the land is not your kingdom, nor does BapDada have His own chariot; it is a foreign kingdom and a foreign body. Therefore, this has become the season to start a new method, according to the time. Here, you have to think about the water, but there, you will be bathing under waterfalls. Whoever and however many have come, BapDada welcomes you with love in response to your love.

You have now been given time especially to make the first preparations for the final examination. You are given time before the final paper. In a school they are given leave. So, BapDada is also giving this special time, filled with the significance of many things. The significance of some things is incognito, whereas the significance of other things is visible. However, each one of you constantly has to pay special attention to putting a full stop, that is, to let the past be the past, and to stabilise in the stage of a point, to be a master of one self and to carry out your task. You have to become an ocean and a bestower of fortune for all and make everyone full. Therefore, keep these two things especially in your awareness: to be an ocean (sindhu) and to be a point (bindu) and claim the elevated certificate. Always continue to move forward with the success of elevated thoughts. So, the blessing from the Bestower of Blessings for all the children is: Constantly be a point and an ocean. You came running here to receive blessings, did you not? Always keep this blessing from the Bestower of blessing in your awareness. Achcha.

To all the loving children everywhere, to the co-operative children, to the obedient children who obey the Father’s orders, to those who are generous-hearted and who have big hearts and distribute all treasures to everyone, to the greatly charitable souls, to the children who constantly fly in the flying stage with the zeal and enthusiasm of becoming like the Father, love, remembrance and namaste from BapDada, the Bestower of Fortune, the Bestower of Blessings and the Ocean of all Treasures.

Avyakt BapDada meeting groups

1. Do you always experience yourselves to be multimillion times fortunate? The Father, the Bestower, gives so much that, not only do you become fortunate for one birth, but this imperishable fortune continues for many births. Did you think about such imperishable fortune, even in your dreams? You thought it was impossible, did you not? However, today, it has become possible. So, do you have the happiness that you are such elevated souls? Your happiness doesn’t sometimes disappear under certain circumstances, does it? You receive the treasure of happiness from the Father every day, and whatever you receive every day increases, does it not? Your happiness can never decrease because you continually receive from the Ocean of Happiness; it is everlasting. You are not those who ever worry about anything. “What will happen to my property? What will happen to my family?” You don’t even have this worry, you are carefree! What will happen to the old world? Of course, there will be transformation. No matter how great you are in the old world, everything is old, and so you have become carefree. Today, I am here, but I don’t know whether I will be here or not tomorrow. You don’t even have this worry. Whatever happens, it will be good. For Brahmins, everything is good. Nothing is bad. You were emperors before, you are emperors now and you will be emperors in the future. Since you have become emperors for all the time, you have become carefree. You have such sovereignty that no one can snatch it away from you. No one can blow away your sovereignty with a gun. Have this happiness all the time and also continue to give it to others. Make others into carefree emperors too. Achcha.

2. Do you experience yourselves to be elevated souls who are always under the canopy of protection of the remembrance of the Father? This canopy of protection of remembrance makes you safe from all obstacles. No type of obstacle can come to those who stay under the canopy of protection. Those who stay under the canopy of protection have guaranteed victory. So, have you become like that? If you move even the foot of your mind out from under the canopy of protection, Maya will attack you. No matter what type of situation comes, for those who stay under the canopy of protection, even the most difficult of all situations becomes easy. Something as big as a mountain will be experienced to be like cotton wool. Such is the wonder of the canopy of protection. What should you do when you receive such a canopy of protection? Even if there is a temporary attraction to something, if you step out from under the canopy, you lose everything. Therefore, you have now become aware of temporary attractions, so always remain far away from those attractions. Limited attainment will finish in this one birth, whereas the unlimited attainment will be constantly with you. So, to be those who have unlimited attainment means to be the special souls who stay under the canopy of protection, not ordinary ones. This awareness will make you powerful for all time.

Those who are long-lost and now-found, especially loved ones always remain under the canopy of protection. Remembrance is the canopy of protection. If you put even the foot of your mind outside of this canopy of protection, Maya will come. This canopy of protection will not allow Maya to come in front of you. Maya will not have the power to come under the canopy of protection. Such souls are constantly victorious over Maya. To be a child means to stay under the canopy of protection. It is the Father’s love that constantly keeps you children under the canopy of protection. So, remember this special blessing: You have become especially loved ones because you have received the canopy of protection. This blessing will constantly enable you to move forward.

At the time of farewell:

All of you had jagaran (staying up through the night as part of the fasting)! Your devotees do jagaran, and so it must be you, their especially loved deities, who teach them. It is when the especially loved deities do jagaran here that the devotees copy them. So, all of you did jagaran, that is, you accumulated an income in your account. So, tonight was a night of the season for earning. When it is the season for earning, you stay awake during that season. So, this is the season for earning, and so to remain awake means to earn. So, each one of you has accumulated according to your capacity and with whatever you have accumulated become a great donor and continue to donate to others. Then, you yourself will continue to eat from that for many births. Now, Baba says: “Golden morning” to all the children of the Godly mela. In fact, from a golden morning, it is a diamond morning. You yourselves are diamonds and the morning is also diamond and you also accumulate diamonds, and so everything is just diamonds and diamonds, and this is why Baba is saying, “Diamond morning”. Achcha.

Blessing: May you be an elevated server and finish any account of waste by checking even your thoughts.
An elevated server is one whose every thought is powerful. Let not a single thought be wasteful, because a server means one who acts on the world stage. The whole world is copying you, so if you waste one thought, you don’t just waste it for yourself, but you also become an instrument for many others. Therefore, now finish the account of waste and become an elevated server.
Slogan: As well as an atmosphere of service, also create the atmosphere of an unlimited attitude of disinterest.

 

*** Om Shanti ***

Notice:Today, it is the third Sunday of the month and all Raja Yogi tapaswi brothers and sisters have special meditation from 6.30 to 7.30 pm. Stabilise yourselves in the powerful form of being master almighty authorities and give all souls and matter rays of purity and do the service of making everyone and everything satopradhan.

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 18 OCTOBER 2020 : AAJ KI MURLI

18-10-20
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 07-04-86 मधुबन

तपस्वी-मूर्त, त्याग मूर्त, विधाता ही विश्व-राज्य अधिकारी

आज रूहानी शमा अपने रूहानी परवानों को देख रहे हैं। सभी रूहानी परवाने शमा से मिलन मनाने के लिए चारों ओर से पहुंच गये हैं। रूहानी परवानों का प्यार रूहानी शमा जाने और रूहानी परवाने जाने। बापदादा जानते हैं कि सभी बच्चों के दिल का स्नेह आकर्षण कर इस अलौकिक मेले में सभी को लाया है। यह अलौकिक मेला अलौकिक बच्चे जानें और बाप जाने! दुनिया के लिए यह मेला गुप्त है। अगर किसी को कहो रूहानी मेले में जा रहे हैं तो वह क्या समझेंगे? यह मेला सदा के लिए मालामाल बनाने का मेला है। यह परमात्म-मेला सर्व प्राप्ति स्वरूप बनाने वाला है। बाप-दादा सभी बच्चों के दिल के उमंग-उत्साह को देख रहे हैं। हर एक के मन में स्नेह के सागर की लहरें लहरा रही हैं। यह बापदादा देख भी रहे हैं और जानते भी हैं कि लगन ने विघ्न विनाशक बनाए मधुबन निवासी बना लिया है। सभी की सब बातें स्नेह में समाप्त हो गई। एवररेडी की रिहर्सल कर दिखाई। एवररेडी हो गये हो ना। यह भी स्वीट ड्रामा का स्वीट पार्ट देख बापदादा और ब्राह्मण बच्चे हर्षित हो रहे हैं। स्नेह के पीछे सब बातें सहज भी लगती हैं और प्यारी भी लगती। जो ड्रामा बना वह ड्रामा वाह! कितनी बार ऐसे दौड़े-दौड़े आये हैं। ट्रेन में आये हैं या पंखों से उड़के आये हैं? इसको कहा जाता है जहाँ दिल है वहाँ असम्भव भी सम्भव हो जाता है। स्नेह का स्वरूप तो दिखाया, अब आगे क्या करना है? जो अब तक हुआ वह श्रेष्ठ है और श्रेष्ठ रहेगा।

अब समय प्रमाण सर्व स्नेही, सर्वश्रेष्ठ बच्चों से बापदादा और विशेष क्या चाहते हैं? वैसे तो पूरी सीजन में समय प्रति समय इशारे देते हैं। अब उन इशारों को प्रत्यक्ष रूप में देखने का समय आ रहा है। स्नेही आत्मायें हो सहयोगी आत्मायें हो, सेवाधारी आत्मायें भी हो। अभी महातपस्वी आत्मायें बनो। अपने संगठित स्वरूप के तपस्या की रूहानी ज्वाला से सर्व आत्माओं को दु:ख अशान्ति से मुक्त करने का महान कार्य करने का समय है। जैसे एक तरफ खूने-नाहक खेल की लहर बढ़ती जा रही है, सर्व आत्मायें अपने को बेसहारे अनुभव कर रहीं हैं, ऐसे समय पर सभी सहारे की अनुभूति कराने के निमित्त आप महातपस्वी आत्मायें हो। चारों ओर इस तपस्वी स्वरूप द्वारा आत्माओं को रूहानी चैन अनुभव कराना है। सारे विश्व की आत्मायें प्रकृति से, वायुमण्डल से, मनुष्य आत्माओं से, अपने मन के कमजोरियों से, तन से बेचैन हैं। ऐसी आत्माओं को सुख-चैन की स्थिति का एक सेकेण्ड भी अनुभव करायेंगे तो आपका दिल से बार-बार शुक्रिया मानेंगे। वर्तमान समय संगठित रूप के ज्वाला स्वरूप की आवश्यकता है। अभी विधाता के बच्चे विधाता स्वरूप में स्थित रह हर समय देते जाओ। अखण्ड महान लंगर लगाओ क्योंकि रॉयल भिखारी बहुत हैं। सिर्फ धन के भिखारी, भिखारी नहीं होते लेकिन मन के भिखारी अनेक प्रकार के हैं। अप्राप्त आत्मायें प्राप्ति के बूँद की प्यासी बहुत हैं इसलिए अभी संगठन में विधातापन की लहर फैलाओ। जो खजाने जमा किये हैं वह जितना मास्टर विधाता बन देते जायेंगे उतना भरता जायेगा। कितना सुना है। अभी करने का समय है। तपस्वी मूर्त का अर्थ है – तपस्या द्वारा शान्ति के शक्ति की किरणें चारों ओर फैलती हुई अनुभव में आवें। सिर्फ स्वयं के प्रति याद स्वरूप बन शक्ति लेना वा मिलन मनाना वह अलग बात है। लेकिन तपस्वी स्वरूप औरों को देने का स्वरूप है। जैसे सूर्य विश्व को रोशनी की और अनेक विनाशी प्राप्तियों की अनुभूति कराता है। ऐसे महान तपस्वी रूप द्वारा प्राप्ति के किरणों की अनुभूति कराओ। इसके लिए पहले जमा का खाता बढ़ाओ। ऐसे नहीं याद से वा ज्ञान के मनन से स्वयं को श्रेष्ठ बनाया, मायाजीत विजयी बनाया, इसी में सिर्फ खुश नहीं रहना। लेकिन सर्व खजानों में सारे दिन में कितनों के प्रति विधाता बनें। सभी खजाने हर रोज कार्य में लगाये वा सिर्फ जमा को देख खुश हो रहे हैं। अभी यह चार्ट रखो कि खुशी का खजाना, शान्ति का खजाना, शक्तियों का खजाना, ज्ञान का खजाना, गुणों का खजाना, सहयोग देने का खजाना कितना बांटा अर्थात् कितना बढ़ाया, इससे वह कामन चार्ट जो रखते हो वह स्वत: ही श्रेष्ठ हो जायेगा। पर-उपकारी बनने से स्व-उपकारी स्वत: ही बन जाते। समझा – अभी कौन-सा चार्ट रखना है? यह तपस्वी स्वरूप का चार्ट है – विश्व कल्याणकारी बनना। तो कितने का कल्याण किया? वा स्व-कल्याण में ही समय जा रहा है? स्व कल्याण करने का समय बहुत बीत चुका। अभी विधाता बनने का समय आ गया है इसलिए बापदादा फिर से समय का इशारा दे रहे हैं। अगर अब तक भी विधातापन की स्थिति का अनुभव नहीं किया तो अनेक जन्म विश्व राज्य अधिकारी बनने के पद्मापदम भाग्य को प्राप्त नहीं कर सकेंगे, क्योंकि विश्वराजन विश्व के मात-पिता अर्थात् विधाता हैं। अब के विधातापन का संस्कार अनेक जन्म प्राप्ति कराता रहेगा, अगर अभी तक लेने के संस्कार, कोई भी रूप में हैं। नाम लेवता, शान लेवता वा किसी भी प्रकार के लेवता के संस्कार विधाता नहीं बनायेंगे।

तपस्या स्वरूप अर्थात् लेवता के त्यागमूर्त। यह हद के लेवता, त्याग मूर्त, तपस्वी मूर्त बनने नहीं देगा इसलिए तपस्वी मूर्त अर्थात् हद के इच्छा मात्रम् अविद्या रूप। जो लेने का संकल्प करता वह अल्पकाल के लिए लेता है लेकिन सदाकाल के लिए गंवाता है इसलिए बापदादा बार-बार इस बात का इशारा दे रहे हैं। तपस्वी रूप में विशेष विघ्न रूप यही अल्पकाल की इच्छा है इसलिए अभी विशेष तपस्या का अभ्यास करना है। समान बनने का यह सबूत देना है। स्नेह का सबूत दिया यह तो खुशी की बात है। अभी तपस्वी मूर्त बनने का सबूत दो। समझा। वैराइटी संस्कार होते हुए भी विधाता-पन के संस्कार अन्य संस्कारों को दबा देंगे। तो अब इस संस्कार को इमर्ज करो। समझा। जैसे मधुबन में भाग कर पहुँच गये हो ऐसे तपस्वी स्थिति की मंजिल तरफ भागो। अच्छा- भले पधारे। सभी ऐसे भागे हैं जैसे कि अभी विनाश होना है। जो भी किया, जो भी हुआ बापदादा को प्रिय है, क्योंकि बच्चे प्रिय हैं। हर एक ने यही सोचा है कि हम जा रहे हैं। लेकिन दूसरे भी आ रहे हैं, यह नहीं सोचा। सच्चा कुम्भ मेला तो यहाँ लग गया है। सभी अन्तिम मिलन, अन्तिम टुब्बी देने आये हैं। यह सोचा कि इतने सब जा रहे हैं तो मिलने की विधि कैसी होगी! इस सुध-बुध से भी न्यारे हो गये! न स्थान देखा, न रिजर्वेशन को देखा। अभी कभी भी यह बहाना नहीं दे सकेंगे कि रिजर्वेशन नहीं मिलती। ड्रामा में यह भी एक रिहर्सल हो गई। संगम युग पर अपना राज्य नहीं है। स्वराज्य है लेकिन धरनी का राज्य तो नहीं है, न बापदादा को स्व का रथ है, पराया राज्य, पराया तन है इसलिए समय प्रमाण नई विधि का आरम्भ करने के लिए यह सीजन हो गई। यहाँ तो पानी का भी सोचते रहते, वहाँ तो झरनों में नहायेंगे। जो भी जितने भी आये हैं, बापदादा स्नेह के रेसपाण्ड में स्नेह से स्वागत करते हैं।

अभी समय दिया है विशेष फाइनल इम्तहान के पहले तैयारी करने के लिए। फाइनल पेपर के पहले टाइम देते हैं। छुट्टी देते हैं ना। तो बापदादा अनेक राज़ों से यह विशेष समय दे रहे हैं। कुछ राज़ गुप्त हैं कुछ राज़ प्रत्यक्ष हैं। लेकिन विशेष हर एक इतना अटेन्शन रखना कि सदा बिन्दु लगाना है अर्थात् बीती को बीती करने का बिन्दु लगाना है। और बिन्दु स्थिति में स्थित हो राज्य अधिकारी बन कार्य करना है। सर्व खजानों के बिन्दू सर्व प्रति विधाता बन सिन्धु बन सभी को भरपूर बनाना है। तो बिन्दू और सिन्धु यह दो बातें विशेष स्मृति में रख श्रेष्ठ सर्टीफिकेट लेना है। सदा ही श्रेष्ठ संकल्प की सफलता से आगे बढ़ते रहना। तो बिन्दु बनना, सिन्धु बनना यही सर्व बच्चों प्रति वरदाता का वरदान है। वरदान लेने के लिए भागे हो ना। यही वरदाता का वरदान सदा स्मृति में रखना। अच्छा!

चारों ओर के सर्व स्नेही, सहयोगी बच्चों को सदा बाप की आज्ञा का पालन करने वाले आज्ञाकारी बच्चों को, सदा फ्राकदिल, बड़ी दिल से सर्व को सर्व खजाने बांटने वाले, महान पुण्य आत्मायें बच्चों को, सदा बाप समान बनने के उमंग-उत्साह से उड़ती कला में उड़ने वाले बच्चों को विधाता, वरदाता सर्व खजानों के सिन्धु बापदादा का यादप्यार और नमस्ते।

अव्यक्त बापदादा के साथ पार्टियों की मुलाकात

1- अपने को पदमापदम भाग्यवान अनुभव करते हो! क्योंकि देने वाला बाप इतना देता है जो एक जन्म तो भाग्यवान बनते ही हो लेकिन अनेक जन्म तक यह अविनाशी भाग्य चलता रहेगा। ऐसा अविनाशी भाग्य कभी स्वप्न में भी सोचा था! असम्भव लगता था ना? लेकिन आज सम्भव हो गया। तो ऐसी श्रेष्ठ आत्मायें हैं – यह खुशी रहती है? कभी किसी भी परिस्थिति में खुशी गायब तो नहीं होती! क्योंकि बाप द्वारा खुशी का खजाना रोज मिलता रहता है, तो जो चीज़ रोज मिलती है वह बढ़ेगी ना। कभी भी खुशी कम हो नहीं सकती क्योंकि खुशियों के सागर द्वारा मिलता ही रहता है, अखुट है। कभी भी किसी बात के फिकर में रहने वाले नहीं। प्रापर्टी का क्या होगा, परिवार क्या होगा? यह भी फिकर नहीं, बेफिकर! पुरानी दुनिया का क्या होगा! परिवर्तन ही होगा ना। पुरानी दुनिया में कितना भी श्रेष्ठ हो लेकिन सब पुराना ही है इसलिए बेफिकर बन गये। पता नहीं आज हैं कल रहेंगे, नहीं रहेंगे – यह भी फिकर नहीं। जो होगा अच्छा होगा। ब्राह्मणों के लिए सब अच्छा है। बुरा कुछ नहीं। आप तो पहले ही बादशाह हो, अभी भी बादशाह, भविष्य में भी बादशाह। जब सदा के बादशाह बन गये तो बेफिकर हो गये। ऐसी बादशाही जो कोई छीन नहीं सकता। कोई बन्दूक से बादशाही उड़ा नहीं सकता। यही खुशी सदा रहे और औरों को भी देते जाओ। औरों को भी बेफिकर बादशाह बनाओ। अच्छा!

2. सदा अपने को बाप की याद की छत्रछाया में रहने वाली श्रेष्ठ आत्मायें अनुभव करते हो? यह याद की छत्रछाया सर्व विघ्नों से सेफ कर देती है। किसी भी प्रकार का विघ्न छत्रछाया में रहने वाले के पास आ नहीं सकता। छत्रछाया में रहने वाले निश्चित विजयी हैं ही। तो ऐसे बने हो? छत्रछाया से अगर संकल्प रूपी पांव भी निकाला तो माया वार कर लेगी। किसी भी प्रकार की परिस्थिति आवे छत्रछाया में रहने वाले के लिए मुश्किल से मुश्किल बात भी सहज हो जायेगी। पहाड़ समान बातें रूई के समान अनुभव होंगी। ऐसी छत्रछाया की कमाल है। जब ऐसी छत्रछाया मिले तो क्या करना चाहिए। चाहे अल्पकाल की कोई भी आकर्षण हो लेकिन बाहर निकला तो गया इसलिए अल्पकाल की आकर्षण को भी जान गये हो। इस आकर्षण से सदा दूर रहना। हद की प्राप्ति तो इस एक जन्म में समाप्त हो जायेगी। बेहद की प्राप्ति सदा साथ रहेगी। तो बेहद की प्राप्ति करने वाले अर्थात् छत्रछाया में रहने वाले विशेष आत्मायें हैं, साधारण नहीं। यह स्मृति सदा के लिए शक्तिशाली बना देगी।

जो सिकीलधे लाडले होते हैं वह सदा छत्रछाया के अन्दर रहते हैं। याद ही छत्रछाया है। इस छत्रछाया से संकल्प रूपी पांव भी बाहर निकाला तो माया आ जायेगी। यह छत्रछाया माया को सामने नहीं आने देती। माया की ताकत नहीं है – छत्रछाया में आने की। वह सदा माया पर विजयी बन जाते हैं। बच्चा बनना अर्थात् छत्रछाया में रहना। यह भी बाप का प्यार है जो सदा बच्चों को छत्रछाया में रखते हैं। तो यही विशेष वरदान याद रखना कि लाडले बन गये, छत्रछाया मिल गई। यह वरदान सदा आगे बढ़ाता रहेगा।

विदाई के समय

सभी ने जागरण किया! आपके भक्त जागरण करते हैं तो भक्तों को सिखाने वाले तो इष्ट देव ही होते हैं, जब यहाँ इष्ट देव जागरण करें तब भक्त कॉपी करें। तो सभी ने जागरण किया अर्थात् अपने खाते में कमाई जमा की। तो आज की रात कमाने की सीजन की रात हो गई। जैसे कमाई की सीजन होती है तो सीजन में जागना ही होता है। तो यह कमाई की सीजन है इसलिए जागना अर्थात् कमाना। तो हरेक ने अपने-अपने यथाशक्ति जमा किया और यही जमा किया हुआ महादानी बन औरों को भी देते रहेंगे और स्वयं भी अनेक जन्म खाते रहेंगे। अभी सभी बच्चों को परमात्म मेले के गोल्डन चांस की गोल्डन मार्निंग कर रहे हैं। वैसे तो गोल्डन से भी डायमण्ड मार्निंग है। स्वयं भी डायमण्ड हो और मार्निंग भी डायमण्ड है और जमा भी डायमण्ड ही करते हो तो सब डायमण्ड ही डायमण्ड है इसलिए डायमण्ड मार्निंग कर रहे हैं। अच्छा।

वरदान:- संकल्प को भी चेक कर व्यर्थ के खाते को समाप्त करने वाले श्रेष्ठ सेवाधारी भव
श्रेष्ठ सेवाधारी वह है जिसका हर संकल्प पावरफुल हो। एक भी संकल्प कहाँ भी व्यर्थ न जाए क्योंकि सेवाधारी अर्थात् विश्व की स्टेज पर एक्ट करने वाले। सारी विश्व आपको कॉपी करती है, यदि आपने एक संकल्प व्यर्थ किया तो सिर्फ अपने प्रति नहीं किया लेकिन अनेकों के निमित्त बन गये, इसलिए अब व्यर्थ के खाते को समाप्त कर श्रेष्ठ सेवाधारी बनो।
स्लोगन:- सेवा के वायुमण्डल के साथ बेहद के वैराग्य वृत्ति का वायुमण्डल बनाओ।

 

सूचनाः- आज मास का तीसरा रविवार है, सभी राजयोगी तपस्वी भाई बहिनें सायं 6.30 से 7.30 बजे तक, विशेष योग अभ्यास के समय मास्टर सर्वशक्तिवान के शक्तिशाली स्वरूप में स्थित हो प्रकृति सहित सर्व आत्माओं को पवित्रता की किरणें दें, सतोप्रधान बनाने की सेवा करें।

TODAY MURLI 18 OCTOBER 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 18 October 2019

Today Murli in Hindi:- Click Here

Read Murli 17 October 2019:- Click Here

18/10/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, give this order to the evil spirits: O evil spirits, you must not come to me. Make them afraid and they will run away.
Question: What is the beauty of the lives of the children who have Godly intoxication?
Answer: Service is the beauty of their lives. When you have the intoxication of having won the Godly lottery, there will be that interest in doing service. However, the arrow will only strike the target when there are no evil spirits inside you.
Question: Who have a right to be called Shiv Baba’s children?
Answer: Those who have the faith that God is their Father and that they are the children of the highest-on-high Father. Those who have such intoxication and are worthy are the ones who have a right to be called Shiv Baba’s children. If their characters are not good and their activity is not royal, they cannot be called Shiv Baba’s children.

Om shanti. Are you remembering Shiv Baba? Are you remembering the sovereignty of heaven? When you are sitting here, it should enter your intellects: We are the children of the unlimited Father and we are remembering the Father daily. We cannot claim our inheritance without remembering Him. Inheritance of what? Of purity! So you have to make appropriate effort for that. Nothing vicious can come in front of us. It is not just a question of lust, not just one evil spirit, but none of the evil spirits can come to us. You have to have such pure pride. We are the children of God, the very Highest on High, and so we children are also the highest on high. Our behaviour and interaction with others have to be royal. The Father can understand from someone’s behaviour that he is completely not worth a pennyHe doesn’t have the right to be called a child of His. A physical father also feels like that when he sees that a child of his is not worthy. That One is also the Father. You children know that the Father is teaching us, but there are some who don’t understand anything at all. They don’t have the faith and intoxication that the unlimited Father is explaining to us. The intellects of you children should be so elevated. We are the children of such an elevated Father! The Father explains so much to us. Internally, just think: We are the children of such a Father, who is the Highest on High. Therefore, our characters have to be so elevated. The praise of the deities should also be our praise. There isn’t any praise of the subjects. Only Lakshmi and Narayan have been shown. So, you children should do such good service. Both Lakshmi and Narayan did that service. Such an elevated intellect is needed. There is no change at all in some children. When they are defeated by Maya, they become even more spoilt. Otherwise, there should be so much intoxication within: We are the children of the unlimited Father. The Father says: Continue to give everyone My introduction. It is only by doing service that you will become beautiful. Only then will you be able to climb into the Father’s heart. A child should be such that he is seated in the Father’s heart. A father has so much love for his children. He sits them on his head. He has such attachment to his children, but that is the limited attachment of Maya. This is unlimited. Would there be a father who would not be happy to see his children? The mother and father would have a lot of happiness. When you are sitting here, understand that Baba is teaching you. Baba is our obedient Teacher. The unlimited Father must definitely have done some service, for that is why He is remembered. These are such wonderful matters! He is praised so much! Whilst sitting here, you have to have that intoxication in your intellects. Sannyasis belong to the path of isolation. Their religion is separate. The Father explains this too at this time. You didn’t know about the path of renunciation. You used to live on the family path and perform devotion etc. You now receive knowledge, but those people are not going to receive knowledge. You are studying such an elevated study and you are sitting here on the floor in such an ordinary way. In the Dilwala Temple, you are also sitting down doing tapasya and Paradise has been portrayed up above. Seeing Paradise on the ceiling, people think that heaven must be up above. So, you children should understand internally that this is a school; you are studying here. Whenever you go for a walk or tour anywhere, if you have these thoughts in your intellects, you will enjoy yourselves very much. No one in the world knows the unlimited Father. Have you ever seen such a fool who doesn’t know the biography of his father after becoming his child? Because of not knowing, they say that God is omnipresent. They say of God: He is worthy of worship and a worshipper. You children should have so much happiness inside you: We were so elevated and worthy of worship. Then, we became the worshippers of ourselves. Shiv Baba makes you so elevated and then, according to the drama, you are the ones who begin to worship Him. The world doesn’t know when devotion began. The Father continues to explain to you children every day: Whilst you are sitting here, you should have the happiness inside you of knowing who is teaching you. God Himself comes and teaches you. You would never even have heard this. Those people think that Krishna is the God of the Gita and that Krishna must therefore be teaching you. Achcha, even if you think it is Krishna, even then, your stage should be so elevated. There is a book written about the directions of human beings and the directions of God. Deities don’t need to take directions. People want God’s directions. Deities had already received the directions in their previous birth through which they attained a high status. You children are now receiving shrimat in order to become elevated. There is so much difference between God’s directions and the directions of human beings. What do the directions of human beings say and what do God’s directions say? So, you definitely have to follow God’s directions. When you go to meet anyone, you don’t take anything with you. You don’t even remember what gift you should give someone. This contrast between human directions and God’s directions is very necessary. As human beings, you followed devilish dictates, whereas you are now receiving God’s directions. There is so much difference in those. All of those scriptures etc. are written by human beings. Does the Father come here having read any scriptures? The Father says: Am I a child of some father? Am I a disciple of a guru with whom I have studied? So, all of these things also have to be explained. Although He knows that you have monkey intellects, you are also those who are going to become worthy of being in a temple. There are many who follow the dictates of human beings, but you tell them what you are becoming by following God’s directions and that He is teaching you. It is God who speaks. We go to study with Him. We go to Him every day for an hour or three-quarters of an hour. You don’t need to spend too much time in class. You can be on the pilgrimage of remembrance whilst walking and moving around. Both knowledge and yoga are very easy. Alpha is just the one letter. On the path of devotion, there are many scriptures. If you were to collect them all, the whole house would be filled with scriptures. There must have been so much expenditure on those. The Father now shows you something very easy: Simply remember the Father. You will then definitely have the Father’s inheritance of the sovereignty of heaven. You were the masters of the world. Bharat was heaven. Have you forgotten that? That would also be said to be destined in the drama. The Father has now come. He comes to teach you every 5000 years. The inheritance from the unlimited Father would surely be the heaven of the new world, would it not? This is a very simple thing. Because it has been said that it is hundreds of thousands of years, it is as though their intellects have become locked, and that the locks won’t open at all. They are locked to such an extent that people are unable to understand such an easy thing. The Father explains: Only the one matter is enough. You mustn’t teach a great deal. Here, you can make anyone into a resident of heaven in just a second. However, this is a school and this is why your study continues all the time. The Father, the Ocean of Knowledge, is giving you so much knowledge that, even if you were to make the ocean into ink and all the forests into pens, there would be no end to the knowledge. How long has it been since you started imbibing knowledge? It has been half the cycle since you began doing devotion. You receive knowledge in only one birth. The Father is teaching you for the new world. In a worldly school, you study for so long. You study continually from the age of five to about 20 or 22 years old. If you earn very little and spend a lot, there would be a loss, would there not? The Father makes you so solvent. Then you become insolvent. Look what the condition of Bharat is now! You should explain with intoxication. Mothers should become very alert. It is remembered of you: Salutations to the mothers. It is not said, “Salutations to Mother Earth.” Salutations are given to human beings. Only children who are free from bondage are able to do this service. Just as they became free from bondage in the previous cycle, so they continue to become free now. Innocent ones are assaulted so much. You know that you have found the Father, and so you understand that you now have to do the Father’s service. Those who say that they have bondages are like sheep. The Government cannot tell you not to do Godly service. You need courage to speak. Those who have knowledge can easily become free from bondage. You can even explain to the judges: I want to do spiritual service. The spiritual Father is teaching us. Christians at least say: Liberate us! Become our Guide! Their understanding is still better than that of the people of Bharat. Amongst you children, those who are very sensible have a keen interest in doing service. They understand that they will win a huge lottery by doing Godly service. Some don’t even understand the lottery etc. They will then go there and become maids and servants. They feel in their hearts: It is fine if I become a maid or a cremator, because at least I will be in heaven. Their activity is also seen to be like that. You understand that the unlimited Father is explaining to you. This Dada also explains. The Father teaches you children through this one. Some don’t even understand this much. As soon as they depart from here, everything is finished. Whilst sitting here, it is as though they don’t understand anything. Their intellects wander outside and they keep stumbling. Not a single evil spirit is removed. Who is teaching you and what do you become? Some will become maids and servants of the wealthy people too, will they not? Even now, wealthy ones have many maids and servants. You should completely fly on service. You children have become instruments to establish peace. You are establishing peace and happiness in the world. You know that you are establishing this in a practical way by following shrimat. There mustn’t be any peacelessness in this at all. Baba has seen many such good homes here too. In one home, there would be six or seven daughters-in-law living together with so much love. There would be total peace there. They would say that they have heaven there. There are no conflicts of any type. All are obedient. At that time, Baba also used to have thoughts of renunciation. He used to have disinterest in the world. This now is unlimited disinterest. Nothing should be remembered. Baba would forget all the names. Children say: Baba, do you remember me? Baba says: I have to forget everyone. Do not forget and do not remember. There is unlimited disinterest. Everyone has to be forgotten. We are not residents of this place. The Father has come to give you the inheritance of His heaven. The unlimited Father says: Remember Me and you will become the masters of the world. This badge is very good to explain to others. If someone asks for one, tell him: First of all, understand it and then take it. By understanding this badge, you can receive the sovereignty of the world. Shiv Baba is giving directions through this Brahma: Remember Me and this is what you will become. Those who study the Gita and who belong to the deity religion will understand this very well. Some even ask the question: Why do the deities fall? Ah! but this cycle continues to turn. They all continue to take rebirth, and so they would come down, would they not? The cycle has to turn. It definitely enters each one’s heart: Why am I unable to do service? Definitely, there is something lacking in me. The evil spirits of Maya have caught hold of you by the nose. You children understand that you now have to go home and that you will then go to the new world and rule there. You are travellers, are you not? You come here from the faraway land to play your parts. It is now in your intellects that you have to go to the land of immortality. This land of death is to end. The Father explains a great deal; you have to imbibe this very well. You should continue to digest this. The Father has also explained: The illnesses of the suffering of karma will emerge. Maya will harass you, but you mustn’t become confused. If even a small thing happens, people become so troubled! During an illness, people remember God even more. In Bengal, when a person falls ill, he is told to chant the name of Rama. When they see that someone is about to die, they take him to the Ganges and make him chant the name of “Hari”. So why do they then need to bring him back and cremate him? Just put him in the Ganges! He will become food for the alligators and fish. That body would at least be useful! Parsis keep the body over a well, and those bones are also useful. The Father says: You have to forget everything else and remember Me. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Become free from bondage and do true service of Bharat. Explain with intoxication: The spiritual Father is teaching us. We are now on spiritual service. Let there be the enthusiasm to do Godly service.
  2. Do not be confused or troubled by any illness of the suffering of karma or by any storms of Maya. Continue to digest the knowledge that the Father has given you and remain cheerful in remembrance of the Father.
Blessing: May you be a satisfied soul who experiences all relationships as well as the happiness of all attainments.
Those who are true lovers remain constantly happy in every adverse situation and in every activity. Some children experience Him to be their Father, their Bridegroom or their Child, but they do not experience as much attainment as they want. So, together with that experience, also experience the attainment of having all relationships. Those who have and experience such attainment remain constantly content. They do not feel themselves to lack anything in any way. Where there is attainment, there would definitely be satisfaction.
Slogan: Become an instrument and you will have a share in the success of service.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 18 OCTOBER 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 18 October 2019

To Read Murli 17 October 2019:- Click Here
18-10-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – ऑर्डर करो कि हे भूतों तुम हमारे पास आ नहीं सकते, तुम उनको डराओ तो वह भाग जायेंगे”
प्रश्नः- ईश्वरीय नशे में रहने वाले बच्चों के जीवन की शोभा क्या है?
उत्तर:- सर्विस ही उनके जीवन की शोभा है। जब नशा है कि हमें ईश्वरीय लॉटरी मिली है तो सर्विस का शौक होना चाहिए। परन्तु तीर तब लगेगा जब अन्दर कोई भी भूत नहीं होगा।
प्रश्नः- शिवबाबा का बच्चा कहलाने के हकदार कौन हैं?
उत्तर:- जिन्हें निश्चय है कि भगवान हमारा बाप है, हम ऐसे ऊंचे ते ऊंचे बाप के बच्चे हैं, ऐसे नशे में रहने वाले लायक बच्चे ही शिवबाबा का बच्चा कहलाने के हकदार हैं। अगर कैरेक्टर ठीक नहीं, चलन रॉयल्टी की नहीं तो वह शिवबाबा का बच्चा नहीं कहला सकते।

ओम् शान्ति। शिवबाबा याद है? स्वर्ग की बादशाही याद है? यहाँ जब बैठते हो तो दिमाग में आना चाहिए – हम बेहद के बाप के बच्चे हैं और नित्य बाप को याद करते हैं। याद करने बिगर हम वर्सा ले नहीं सकते। काहे का वर्सा? पवित्रता का। तो उसके लिए ऐसा पुरूषार्थ करना चाहिए। कभी भी कोई विकार की बात हमारे आगे आ नहीं सकती, सिर्फ विकार की भी बात नहीं। एक भूत नहीं परन्तु कोई भी भूत आ नहीं सकता। ऐसा शुद्ध अहंकार रहना चाहिए। बहुत ऊंच ते ऊंच भगवान के हम बच्चे भी ऊंच ते ऊंच ठहरे ना। बातचीत, चलन कैसी रॉयल होनी चाहिए। बाप चलन से समझते हैं यह तो बिल्कुल ही वर्थ नाट ए पेनी है। मेरा बच्चा कहलाने का भी हकदार नहीं। लौकिक बाप को भी न लायक बच्चे को देख अन्दर में ऐसे होता है। यह भी बाप है। बच्चे जानते हैं बाप हमको शिक्षा दे रहे हैं परन्तु कोई-कोई ऐसे हैं जो बिल्कुल समझते नहीं। बेहद का बाप हमको समझा रहे हैं वह निश्चय नहीं, नशा नहीं। तुम बच्चों का दिमाग कितना ऊंच होना चाहिए। हम कितने ऊंच बाप के बच्चे हैं। बाप कितना समझाते हैं। अन्दर में सोचो हम कितने ऊंच ते ऊंच बाप के बच्चे हैं, हमारा कैरेक्टर कितना ऊंच होना चाहिए। जो इन देवी-देवताओं की महिमा है, वह हमारी होनी चाहिए। प्रजा की थोड़ेही महिमा है। एक लक्ष्मी-नारायण को ही दिखाया है। तो बच्चों को कितनी अच्छी सर्विस करनी चाहिए। इन लक्ष्मी-नारायण दोनों ने यह सर्विस की है ना। दिमाग कितना ऊंचा चाहिए। कई बच्चों में तो कोई फ़र्क ही नहीं। माया से हार खा लेते हैं तो और ही जास्ती बिगड़ जाते हैं। नहीं तो अन्दर में कितना नशा रहना चाहिए। हम बेहद के बाप के बच्चे हैं। बाप कहते हैं सबको मेरा परिचय देते रहो। सर्विस से ही शोभा पायेंगे, तब ही बाप की दिल पर चढ़ेंगे। बच्चा वह जो बाप की दिल पर चढ़ा हुआ हो। बाप का बच्चों पर कितना लव होता है। बच्चों को सिर पर चढ़ाते हैं। इतना मोह होता है परन्तु वह तो है हद का मायावी मोह। यह तो है बेहद का। ऐसा कोई बाप होगा जो बच्चों को देख खुश न हो। माँ-बाप को तो अथाह खुशी होती है। यहाँ जब बैठते हो तो समझना चाहिए बाबा हमको पढ़ाते हैं। बाबा हमारा ओबीडियेन्ट टीचर है। बेहद के बाप ने जरूर कोई सर्विस की होगी तब तो गायन है ना। कितनी वन्डरफुल बात है। कितनी उनकी महिमा की जाती है। यहाँ बैठे हो तो बुद्धि में नशा रहना चाहिए। सन्यासी तो हैं ही निवृत्ति मार्ग वाले। उन्हों का धर्म ही अलग है। यह भी अब बाप समझाते हैं। तुम थोड़ेही जानते थे सन्यास मार्ग को। तुम तो गृहस्थ आश्रम में रहते भक्ति आदि करते थे, तुमको फिर ज्ञान मिलता है, उनको तो ज्ञान मिलने का है नहीं। तुम कितना ऊंच पढ़ते हो और बैठे कितने साधारण हो, नीचे। देलवाड़ा मन्दिर में भी तुम नीचे तपस्या में बैठे हो, ऊपर में वैकुण्ठ खड़ा है। ऊपर वैकुण्ठ को देख मनुष्य समझते हैं स्वर्ग ऊपर ही होता है।

तो तुम बच्चों के अन्दर में यह सब बातें आनी चाहिए कि यह स्कूल है। हम पढ़ रहे हैं। कहाँ चक्र लगाने जाते हो तो भी बुद्धि में यह ख्यालात चलें तो बहुत मजा आयेगा। बेहद के बाप को तो दुनिया में कोई नहीं जानते। बाप के बच्चे बनकर और बाप की बायोग्राफी को न जाने, ऐसा भुट्टू कभी देखा। न जानने के कारण कह देते वह सर्वव्यापी है। भगवान को ही कह देते आपेही पूज्य, आपेही पुजारी। तुम बच्चों को अन्दर में कितनी खुशी होनी चाहिए – हम कितने ऊंच पूज्य थे। फिर हम ही पुजारी बने हैं। जो शिवबाबा तुमको इतना ऊंच बनाते हैं फिर ड्रामा अनुसार तुम ही उनकी पूजा शुरू करते हो। इन बातों को दुनिया थोड़ेही जानती है कि भक्ति कब शुरू होती है। बाप तुम बच्चों को रोज़-रोज़ समझाते रहते हैं, यहाँ बैठे हो तो अन्दर में खुशी होनी चाहिए ना। हमको कौन पढ़ाते हैं! भगवान आकर पढ़ाते हैं – यह तो कभी सुना भी नहीं होगा। वह तो समझते हैं गीता का भगवान कृष्ण है तो कृष्ण ही पढ़ाता होगा। अच्छा, कृष्ण भी समझो तो भी कितनी ऊंच अवस्था होनी चाहिए। एक किताब भी है मनुष्य मत और ईश्वरीय मत का। देवताओं को तो मत लेने की दर-कार ही नहीं है। मनुष्य चाहते हैं ईश्वर की मत। देवताओं को तो मत अगले जन्म में मिली थी जिससे ऊंच पद पाया। अभी तुम बच्चों को श्रीमत मिल रही है श्रेष्ठ बनने के लिए। ईश्वरीय मत और मनुष्य मत में कितना फर्क है। मनुष्य मत क्या कहती है, ईश्वरीय मत क्या कहती है। तो जरूर ईश्वरीय मत पर चलना पड़े। कोई से मिलने जाते हैं तो कुछ भी ले नहीं जाते। याद नहीं रहता किसको क्या सौगात देनी चाहिए। यह मनुष्य मत और ईश्वरीय मत का कान्ट्रास्ट बहुत जरूरी है। तुम मनुष्य थे तो आसुरी मत थी और अभी ईश्वरीय मत मिलती है। उनमें कितना फर्क है। यह शास्त्र आदि सब मनुष्यों के ही बनाये हुए हैं। बाप कोई शास्त्र पढ़कर आते हैं क्या? बाप कहते हैं मैं कोई बाप का बच्चा हूँ क्या? मैं कोई गुरू का शिष्य हूँ क्या, जिससे सीखा हूँ? तो यह भी सब बातें समझानी चाहिए। भल यह जानते हैं कि बन्दरबुद्धि हैं परन्तु मन्दिर लायक बनने वाले भी हैं ना। ऐसे बहुत मनुष्य मत पर चलते हैं फिर तुम सुनाते हो कि हम ईश्वरीय मत पर क्या बनते हैं, वह हमको पढ़ाते हैं। भगवानुवाच – हम उनसे पढ़ने जाते हैं। हम रोज़ एक घण्टा, पौना घण्टा जाते हैं। क्लास में जास्ती टाइम भी लेना नहीं चाहिए। याद की यात्रा तो चलते-फिरते हो सकती है। ज्ञान और योग दोनों ही बहुत सहज हैं। अल्फ का है ही एक अक्षर। भक्ति मार्ग के तो ढेर शास्त्र हैं, इकट्ठा करो तो सारा घर शास्त्रों से भर जाए। कितना इन पर खर्चा हुआ होगा। अब बाप तो बहुत सहज बताते हैं, सिर्फ बाप को याद करो। तो बाप का वर्सा है ही स्वर्ग की बादशाही। तुम विश्व के मालिक थे ना। भारत हेविन था ना। क्या तुम भूल गये हो? यह भी ड्रामा की भावी कहा जाता है। अब बाप आया हुआ है। हर 5 हजार वर्ष बाद आते हैं पढ़ाने। बेहद के बाप का वर्सा जरूर स्वर्ग नई दुनिया का होगा ना। यह तो बिल्कुल सिम्पुल बात है। लाखों वर्ष कह देने से बुद्धि को जैसे ताला लग गया है। ताला खुलता ही नहीं। ऐसा ताला लगा हुआ है जो इतनी सहज बात भी समझते नहीं हैं। बाप समझाते हैं एक ही बात बस है। जास्ती कुछ भी पढ़ाना नहीं चाहिए। यहाँ तुम एक सेकण्ड में किसको भी स्वर्गवासी बना सकते हो। परन्तु यह स्कूल है, इसलिए तुम्हारी पढ़ाई चलती रहती है। ज्ञान सागर बाप तुम्हें ज्ञान तो इतना देते हैं जो सागर को स्याही बनाओ, सारा जंगल कलम बनाओ तो भी अन्त नहीं हो सकता। ज्ञान को धारण करते कितना समय हुआ है। भक्ति को तो आधाकल्प हुआ है। ज्ञान तो तुमको एक ही जन्म में मिलता है। बाप तुमको पढ़ा रहे हैं नई दुनिया के लिए। उस जिस्मानी स्कूल में तो तुम कितना समय पढ़ते हो। 5 वर्ष से लेकर 20-22 वर्ष तक पढ़ते रहते हो। कमाई थोड़ी और खर्चा बहुत करेंगे तो घाटा पड़ जायेगा ना।

बाप कितना सालवेन्ट बनाते हैं, फिर इनसालवेन्ट बन जाते हैं। अभी भारत का हाल देखो क्या है। फलक से समझाना चाहिए। माताओं को खड़ा होना चाहिए। तुम्हारा ही गायन हैं वन्दे मातरम्। धरती को वन्दे मातरम् नहीं कहा जाता है। वन्दे मातरम् मनुष्य को किया जाता है। बच्चे जो बन्धनमुक्त हैं वही यह सर्विस करते हैं। वह भी जैसे कल्प पहले बन्धनमुक्त हुए थे, वैसे होते रहते हैं। अबलाओं पर कितने अत्याचार होते हैं। जानते हैं हमको बाप मिला है, तो समझते हैं बस अब तो बाप की सर्विस करनी है। बन्धन है, ऐसे कहने वाले रिढ़ बकरियां हैं। गवर्मेन्ट कभी कह न सके कि तुम ईश्वरीय सर्विस न करो। बात करने की हिम्मत चाहिए ना। जिसमें ज्ञान है वह तो इतने में सहज बन्धनमुक्त हो सकते हैं। जज को भी समझा सकते हो – हम रूहानी सेवा करना चाहते हैं। रूहानी बाप हमको पढ़ा रहे हैं। क्रिश्चियन लोग फिर भी कहते हैं लिबरेट करो, गाइड बनो। भारतवासियों से फिर भी उन्हों की समझ अच्छी है। तुम बच्चों में जो अच्छे समझदार हैं उनको सर्विस का बहुत शौक रहता है। समझते हैं ईश्वरीय सर्विस से बहुत लॉटरी मिलनी है। कई तो लॉटरी आदि को समझते ही नहीं। वहाँ भी जाकर दास-दासियां बनेंगे। दिल में समझते हैं अच्छा दासी ही सही, चण्डाल ही सही। स्वर्ग में तो होंगे ना! उन्हों की चलन भी ऐसी देखने में आती है। तुम समझते हो बेहद का बाप हमको समझा रहे हैं। यह दादा भी समझाते हैं, बाप इन द्वारा बच्चों को पढ़ा रहे हैं। कोई तो इतना भी समझते नहीं। यहाँ से बाहर निकले खलास। यहाँ पर बैठे भी जैसे कुछ समझते नहीं। बुद्धि बाहर भटकती धक्का खाती रहती है। एक भी भूत निकलता नहीं है। पढ़ाने वाला कौन और बनते क्या हैं! साहूकारों के भी दास-दासियां बनेंगे ना। अभी भी साहूकारों के पास कितने नौकर-चाकर रहते हैं। सर्विस पर तो एकदम उड़ना चाहिए। तुम बच्चे शान्ति स्थापन अर्थ निमित्त बने हो, विश्व में सुख-शान्ति स्थापन कर रहे हो। प्रैक्टिकल में तुम जानते हो हम श्रीमत पर स्थापन कर रहे हैं, इसमें अशान्ति कोई होनी नहीं चाहिए। बाबा ने यहाँ भी बहुत ऐसे अच्छे-अच्छे घर देखे हुए हैं। एक घर में 6-7 बहुएं इकट्ठी इतना प्यार से रहती हैं, बिल्कुल शान्ति लगी रहती है। बोलते थे – हमारे पास तो स्वर्ग लगा पड़ा है। कोई खिट-खिट की बात नहीं। सब आज्ञाकारी हैं, उस समय बाबा को भी सन्यासी ख्यालात थे। दुनिया से वैराग्य रहता था। अभी तो यह है बेहद का वैराग्य। कुछ भी याद न रहे। बाबा तो नाम सब भूल जाते हैं। बच्चे कहते हैं बाबा आप हमको याद करते हैं? बाबा कहते हमको तो सबको भूलना है। न विसरो, न याद रहो। बेहद का वैराग्य है ना। सबको भूलना है। हम यहाँ के रहने वाले थोड़ेही हैं। बाप आया हुआ है – अपना स्वर्ग का वर्सा देने। बेहद का बाप कहते हैं मुझे याद करो तो तुम विश्व के मालिक बन जायेंगे। यह बैज़ बहुत अच्छा है समझाने के लिए। कोई मांगे तो बोलो समझकर लो। इस बैज को समझने से तुमको विश्व की बादशाही मिल सकती है। शिवबाबा इस ब्रह्मा द्वारा डायरेक्शन देते हैं मुझे याद करो तो तुम यह बनेंगे। गीता वाले जो हैं वह अच्छी रीति समझ लेंगे। जो देवता धर्म के होंगे। कोई-कोई प्रश्न पूछते हैं – देवतायें गिरते क्यों हैं? अरे, यह चक्र फिरता रहता है। पुनर्जन्म लेते-लेते नीचे तो उतरेंगे ना! चक्र तो फिरना ही है। हर एक की दिल में यह आता जरूर है हम सर्विस क्यों नहीं कर सकते हैं। जरूर मेरे में कोई खामी है। माया के भूतों ने नाक से पकड़ा हुआ है।

अब तुम बच्चे समझते हो हमको अब घर जाना है फिर नई दुनिया में आकर राज्य करेंगे। तुम मुसाफिर हो ना। दूर देश से यहाँ आकर पार्ट बजाते हो। अभी तुम्हारी बुद्धि में है हमको अमरलोक जाना है। यह मृत्यु-लोक खलास हो जाना है। बाप समझाते तो बहुत हैं। अच्छी रीति धारण करना है। इसको फिर उगारते रहना चाहिए। यह भी बाप ने समझाया है कर्मभोग की बीमारी उथल खायेगी। माया सतायेगी परन्तु मूँझना नहीं चाहिए। थोड़ा कुछ होता है तो हैरान हो जाते हैं। बीमारी में मनुष्य और भी भगवान को जास्ती याद करते हैं। बंगाल में जब कोई बहुत बीमार होता है तो उनको कहते हैं राम बोलो… राम बोलो…। देखते हैं अब मरने पर है तो गंगा पर ले जाकर हरी बोल, हरी बोल करते हैं फिर उनको ले आकर जलाने की क्या दरकार है। गंगा में अन्दर डाल दो ना। कच्छ-मच्छ आदि का शिकार हो जायेगा। काम में आ जायेगा। पारसी लोग रख देते हैं तो वह हड्डियाँ भी काम में आती हैं। बाप कहते हैं तुम और सब बातें भूल मुझे याद करो। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बन्धनमुक्त बनकर भारत की सच्ची सेवा करनी है। फ़लक से समझाना है कि हमें रूहानी बाप पढ़ा रहे हैं, हम रूहानी सेवा पर हैं। ईश्वरीय सेवा की उछल आती रहे।

2) कर्मभोग की बीमारी वा माया के तूफानों में मूँझना वा हैरान नहीं होना है। बाप ने जो ज्ञान दिया है उसे उगारते बाप की याद में हर्षित रहना है।

वरदान:- सर्व संबंधों की अनुभूति के साथ प्राप्तियों की खुशी का अनुभव करने वाले तृप्त आत्मा भव
जो सच्चे आशिक हैं वह हर परिस्थिति में, हर कर्म में सदा प्राप्ति की खुशी में रहते हैं। कई बच्चे अनुभूति करते हैं कि हाँ वह मेरा बाप है, साजन है, बच्चा है…लेकिन प्राप्ति जितनी चाहते हैं उतनी नहीं होती। तो अनुभूति के साथ सर्व संबंधों द्वारा प्राप्ति की महसूसता हो। ऐसे प्राप्ति और अनुभूति करने वाले सदा तृप्त रहते हैं। उन्हें कोई भी चीज़ की अप्राप्ति नहीं लगती। जहाँ प्राप्ति है वहाँ तृप्ति जरूर है।
स्लोगन:- निमित्त बनो तो सेवा की सफलता का शेयर मिल जायेगा।

TODAY MURLI 18 OCTOBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 18 October 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 17 October 2018 :- Click Here

18/10/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, have the faith that you are souls and that those are your bodies. There is no question of visions in this. Even if people were to have a vision of a soul, they wouldn’t be able to understand it.
Question: By following which shrimat of the Father will you be liberated from being punished in the jail of a womb?
Answer: The Father’s shrimat is: Children, become conquerors of attachment. Belong to the one Father and none other. Simply remember Me and don’t perform any sinful acts and you will be liberated from being punished in the jail of a womb. You have been jailbird s here for birth after birth. The Father has now come to liberate you from that punishment. There is no jail of the womb in the golden age.

Om shanti. The spiritual Father explains to you spiritual children what a soul is and who the Supreme Soul, his Father, is. He explains this once again because this is an impure world. Those who are impure are always senseless. The pure world is the sensible world. Bharat was the pure world, that is, it was the kingdom of deities; it was the kingdom of Lakshmi and Narayan. They were very wealthy and happy, but the people of Bharat don’t understand these things. They don’t know the Father, the Supreme Father, the Creator. It is only human beings who would know this; animals would not know this. They even remember: O Supreme Father, Supreme Soul! He is the parlokik Father. The soul remembers his Supreme Father, the Supreme Soul. It is a physical father who gives birth to this body whereas that Supreme Father, the Supreme Soul, is the parlokik Father, the Father of souls. People worship Lakshmi and Narayan. They understand that they existed in the golden age and that Rama and Sita were in the silver age. The Father comes here and explains: Children, you have been remembering Me, your parlokik Father, for birth after birth. God, the Father, would definitely be the incorporeal One. We souls are also incorporeal. We became corporeal after coming here. This very small matter doesn’t enter anyone’s intellect. That unlimited Father of yours is the Creator. You call out: You are the Mother and Father. We belong to You and so we become the masters of heaven. Then we forget You and become the masters of hell. That Father now sits here and explains through this one: I am the Creator and this is My creation. I am explaining its secrets to you. This one also understands. No one has seen a soul, so why do they say “I am a soul”? You understand that you souls shed bodies and take others. It is said: A great soul, a charitable soul. You have the faith: I am a soul and this is my body. The body is perishable whereas the imperishable soul is a child of that Supreme Father, the Supreme Soul. This is such an easy matter, but good, sensible ones are unable to understand. Maya has locked your intellects. You can’t have a vision of yourself, the soul. It is the soul that takes many births. His father changes in every birth. Why do you not have the faith that you are a soul? You ask to have a vision of a soul. For so many births, did you tell anyone that you should have a vision of a soul? Some people do have a vision of a soul, but they are unable to understand. You don’t know the Father. No one, apart from the unlimited Father, can grant souls a vision of God. They say: Oh God! So He is the Father, is He not? You have two fathers: one is a perishable father who gives birth to a perishable body. The other is the imperishable Father of imperishable souls. You sing: You are the Mother and Father. You remember Him and so He must surely have come, must He not? Jagadamba and Jagadpita are sitting here; they are studying Raja Yoga. There was the kingdom of Lakshmi and Narayan in Paradise. They too existed in Bharat. People believe that heaven is somewhere up above, but the memorials of Lakshmi and Narayan are here and so they must surely have ruled their kingdom here. The Dilwala Temple is the memorial of your present time. You are Raja Yogis. You half-kumaris and kumaris are sitting here and the memorial of this is created on the path of devotion. The name ‘Dilwala’ also has a meaning. Who is the One who conquers your hearts? This Adi Dev and Adi Devi are studying Raja Yoga. They too would remember that incorporeal Supreme Father, the Supreme Soul. He is the Highest on High, the Ocean of Knowledge. He sits in the body of this Adi Dev and explains to all you children. They don’t know anything about when this temple was built, why it was built or whose memorial it is. They mention the names of so many goddesses: Kali, Durga, Anapurna (Goddess of food). Who would be the Goddess Anapurna (who provides food) for the whole world? Do you know which goddesses fulfil people’s need for food? Bharat was heaven; there were plenty of material comforts there. Until only 80 to 90 years ago, you could still get 85 lbs of grain for 10 to 12 annas (3/4 of a rupee). So everything would have been so cheap before that. In the golden age, grain etc. are very good and cheap. However, no one understands even this. The Father comes here and teaches you souls. Souls listen through their physical senses. The soul has received these eyes with which to see and ears with which to hear. The Father says: I, the Incorporeal, also take support of the body of this one. I am always called Shiva. People have given Me many names – Rudra, Shiva, Somnath – but My one and only name is Shiva. Devotees have been remembering God and saying: Salutations to Shiva. It is now 2,500 years since they came into existence. On the path of devotion, there was at first unadulterated worship. You have now put Me into the pebbles and stones. It is now the end of that devotion. I have come to take everyone back home. This old world is to end. Bombs have been manufactured and so everyone will be destroyed in a short time. In the golden age, there are so few people: there are only 900,000. Where will all the rest go? There will be wars and earthquakes etc. Destruction definitely has to take place. This one is Prajapita. There are so many Brahma Kumars and Kumaris. Who is the Father of Brahma? Incorporeal Shiva. You are His grandsons and granddaughters. You are claiming your inheritance from Shiv Baba. So you have to remember Him alone. It is by having remembrance that your burden of sins will be removed. You know that this is the vicious impure world. The golden age is the viceless world. There is no poison (vice) there. According to the system, everyone only has one son. There is never untimely death there; it is the land of happiness. Here, there is so much sorrow. However, no one knows these things. They relate the Gita. The versions of God are the Shrimad Bhagawad Gita. Achcha, who is God? They say that it is Shri Krishna. Ah, but he is a young child, so how could he teach Raja Yoga? At that time, the world is not impure. The One who teaches Raja Yoga for salvation has to exist here. In the Gita, it is written: The sacrificial fire of the knowledge of the Gita of Rudra. There is no sacrificial fire of the knowledge of the Gita of Krishna. This sacrificial fire has been continuing for so many years. When will it end? When the whole world is sacrificed into it. At the end of a sacrificial fire, they sacrifice everything into it. This sacrificial fire will continue till the end. This old world is going to end. The Father says: I am the Death of all Deaths. I have come to take everyone back home. I am teaching you so that you become the masters of heaven. You know that, at this time, all human beings are constantly unfortunate. In the golden age, you were constantly fortunate. Explain this difference to everyone. When people come here, they understand very well, but as soon as they return home, everything is finished. Similarly, they make a promise in the jail of a womb that they won’t commit any more sin. Then, as soon as they come out, they begin to commit sin again: they are jailbirds. At this time all human beings are jailbirds. They repeatedly enter the jail of a womb and experience punishment. The Father says: I am now liberating you from becoming jailbird s of the womb. In the golden age, a womb is not called a jail. I have come to liberate you from that punishment. Now remember Me. Don’t commit any sin. Become conquerors of attachment. People sing: Mine is One alone and none other. They are not referring to Krishna. Krishna took 84 births and has now come and become Brahma. Then he is the one who will become Krishna again. This is why He has entered this body. This drama is predestined. God is now establishing the sun and moon dynasties. He is creating your reward for the future. You are now making effort and creating your reward for many births through the unlimited Father, who is the Creator of heaven. These matters have to be understood. Each actor has his own part in the drama. Why should we weep and wail about this? We remember that one Father while alive. We are not even concerned about these bodies. When we shed these old bodies, we will go to Baba. At this time, you serve Bharat so much. Your names are remembered as Anapurna, Durga, Kali etc. There isn’t really any Kali with a fearsome form or Ganesh with an elephant’s trunk; human beings are human beings. The Father now explains to you: I am making you children become like Lakshmi and Narayan. Have the faith that you are claiming your inheritance from Baba and then, in the future, you will become princes and princesses. No one knows the Father who is the Creator of heaven. They have even forgotten Jagadamba. The ones whose temples have been built are now sitting here in the living form. After the iron age, there has to be the golden age. People ask when destruction will take place. However, first of all, study and become clever. The Mahabharat War definitely took place and it was only after that, that the gates to heaven opened. So, the gates to heaven are now being opened through these mothers. They sing: Salutations to the mothers. It is pure ones who are praised. There are two types of mother. One type is physical social workers and the other is spiritual social workers. This is your spiritual pilgrimage. You know that we will shed our bodies and go back home. God speaks: Manmanabhav! Remember Me, your Father. Krishna, the child, would not say this. He has his own father. No one understands the meaning of “Manmanabhav!” The Father says: Remember Me and your sins will be absolved and you will receive wings with which to fly. You are now changing from those with stone intellects into those with divine intellects. The Creator, the Father of all, is only One. There are also the temples to Adi Dev and Adi Devi. You, their children, are studying Raja Yoga here. It is here that you did tapasya and so your memorials are in front of you. How did Lakshmi and Narayan receive their kingdom? That is their temple. You are Raj Rishis. You are now making effort to attain your kingdom or attain your fortune of the kingdom of Bharat once again. You are establishing the kingdom of heaven in Bharat. You are serving Bharat with your own bodies, minds and wealth. You are liberating everyone from the impure kingdom of Ravan by following the Father’s shrimat. The Father is the Liberator, the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness. He inspires the destruction of the old world in order to remove your sorrow. He enables you to conquer your enemy so that you can become conquerors of Maya and conquerors of the world. You claim the kingdom every cycle and then lose it. This is the sacrificial fire of the knowledge of Rudra Shiva through which the flames of destruction emerge. All of them will be destroyed and you will become constantly happy. Sorrow begins in the copper age. The Father says: I come and change the residents of hell into residents of heaven. The iron age is the brothel and the golden age is Shivalaya. You are being made into the masters of heaven by the unlimited Father and so your mercury of this happiness should rise. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Remember the Father for as long as you live and claim your right to the inheritance. Don’t be concerned about anything.
  2. Do the service of making Bharat into heaven by using your body, mind and wealth according to shrimat and show everyone the way to be liberated from Ravan.
Blessing: With your form of unlimited remembrance, may you finish all limited situations and be an image of experience.
You elevated souls are the trunk that has a close relationship and a direct connection with the Seed and the main two leaves, the Trimurti. Remain stable in this elevated stage, become an unlimited embodiment of remembrance and all limited, wasteful things will finish. Come back to your unlimited form of maturity and you will constantly be an image of experience. Constantly keep in your awareness your occupation of being an unlimited ancestor. The duty of you ancestors is to be an immortal light who show the destination to the souls who are wandering in the darkness.
Slogan: Instead of being confused by any situation, experiencing pleasure is being an intoxicated yogi.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 18 OCTOBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 18 October 2018

To Read Murli 17 October 2018 :- Click Here
18-10-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – निश्चय करो कि हम आत्मा हैं, यह हमारा शरीर है, इसमें साक्षात्कार की कोई बात नहीं, आत्मा का साक्षात्कार भी हो तो समझ नहीं सकेंगे”
प्रश्नः- बाप की किस श्रीमत पर चलने से गर्भजेल की सजाओं से छूट सकते हैं?
उत्तर:- बाप की श्रीमत है – बच्चे नष्टोमोहा बनो, एक बाप दूसरा न कोई, तुम सिर्फ मुझे याद करो और कोई भी पाप कर्म न करो तो गर्भजेल की सजाओं से छूट जायेंगे। यहाँ तुम जन्म-जन्मान्तर जेल बर्ड बनते आये, अब बाप आये हैं उन सजाओं से बचाने। सतयुग में गर्भ जेल होता नहीं।

ओम् शान्ति। रूहानी बाप रूहानी बच्चों को समझाते हैं – आत्मा क्या है और उनका बाप परमात्मा कौन है? इसे फिर से समझाते हैं क्योंकि यह तो है पतित दुनिया। पतित हमेशा बेसमझ होते हैं। पावन दुनिया समझदार होती है। भारत पावन दुनिया अर्थात् देवी-देवताओं का राज्य था, इन लक्ष्मी-नारायण का राज्य था। बड़े धनवान, सुखी थे परन्तु भारतवासी इन बातों को समझते नहीं। बाप, परमपिता अथवा रचता को ही नहीं जानते। मनुष्य ही जान सकते हैं, जानवर तो नहीं जानेंगे ना। याद भी करते हैं – हे परमपिता परमात्मा। वह पारलौकिक फादर है। आत्मा याद करती है अपने परमपिता परमात्मा को। इस शरीर को जन्म देने वाला तो लौकिक फादर है और वह परमपिता परमात्मा है पारलौकिक फादर, आत्माओं का बाप। मनुष्य लक्ष्मी-नारायण की पूजा करते हैं, समझते भी हैं यह सतयुग में थे और राम-सीता त्रेता में थे। बाप आकर समझाते हैं – बच्चे, तुम मुझ पारलौकिक बाप को जन्म-जन्मान्तर याद करते आये हो। गॉड फादर तो जरूर निराकार हुआ ना। हमारी आत्मा भी निराकार है ना। यहाँ आकर साकार बनी है। यह थोड़ी-सी बात भी कोई की बुद्धि में नहीं आती। वह तुम्हारा बेहद का बाप रचयिता है। पुकारते हैं तुम मात-पिता…….. आपके हम बनते हैं तो हम स्वर्ग के मालिक बनते हैं फिर आपको भूलने से नर्क के मालिक बन जाते हैं। अभी वह बाप इन द्वारा बैठ समझाते हैं – मैं रचयिता हूँ, यह मेरी रचना है, जिसका राज़ तुमको समझाता हूँ। यह भी समझ जाते हैं। आत्मा को किसी ने भी देखा नहीं है फिर क्यों कहते हैं अहम् आत्मा? यह तो समझते हैं ना – अहम् आत्मा एक शरीर छोड़ दूसरा लेती हूँ। महान् आत्मा, पुण्य आत्मा कहते हैं ना। निश्चय करते हैं – हम आत्मा हैं, यह हमारा शरीर है। शरीर विनाशी है, आत्मा अविनाशी है। उस परमपिता परमात्मा की सन्तान है। कितनी सहज बात है। परन्तु अच्छे-अच्छे बुद्धिवान समझ नहीं सकते। माया ने बुद्धि को ताला लगा दिया है। तुमको अपनी आत्मा का ही साक्षात्कार नहीं होता है। आत्मा ही अनेक जन्म लेती है ना। हर जन्म में बाप बदलता जाता है। तुम अपने को आत्मा निश्चय क्यों नहीं करते हो? कहते हैं आत्मा का साक्षात्कार हो। अरे, इतने जन्म कोई को बोला था क्या कि आत्मा का साक्षात्कार हो? कोई-कोई को आत्मा का साक्षात्कार होता भी है परन्तु समझ नहीं सकते। बाप को तुम जानते नहीं। बेहद के बाप बिगर आत्माओं को परमात्मा का साक्षात्कार भी कोई करा नहीं सकता। कहते हैं – हे भगवान्, तो बाप हुआ ना। तुमको दो बाप हैं – एक तो है विनाशी शरीर को जन्म देने वाला विनाशी बाप, दूसरा है अविनाशी आत्माओं का अविनाशी बाप। तुम गाते हो – तुम मात पिता…….. उनको याद करते हो तो जरूर वह आया होगा ना। जगत अम्बा और जगत पिता बैठे हैं, राजयोग सीख रहे हैं। वैकुण्ठ में लक्ष्मी-नारायण का राज्य था, वह भी भारत में ही थे ना। मनुष्य समझते हैं ऊपर कहाँ स्वर्ग होगा। अरे, लक्ष्मी-नारायण का यहाँ यादगार है, जरूर यहाँ ही राज्य किया होगा। यह देलवाड़ा मन्दिर तुम्हारा अभी का यादगार बना हुआ है। तुम राजयोगी हो। अधरकुमार, कुमार कुमारियां सब यहाँ बैठे हो, उनका यादगार फिर भक्ति में बनता है। देलवाड़ा नाम का भी कोई अर्थ होगा ना। दिल लेने वाला कौन है? यह आदि देव और आदि देवी भी राजयोग सीख रहे हैं। यह भी याद करेंगे उस निराकार परमपिता परमात्मा को। वह है ऊंच ते ऊंच ज्ञान सागर। इस आदि देव के शरीर में बैठ सब बच्चों को समझाते हैं। यह मन्दिर कब बना, क्यों बना, किन्हों का यह यादगार है? कुछ भी जानते नहीं। देवियों आदि के कितने नाम लेते हैं। काली, दुर्गा, अन्नपूर्णा… अब सारे विश्व की अन्नपूर्णा कौन होगी? कौन-सी देवियाँ अन्न की पूर्ति करती हैं, तुम जानते हो? भारत स्वर्ग था, वहाँ तो अथाह वैभव रहते हैं जबकि अभी ही 80-90 वर्ष पहले 10-12 आने मण अनाज मिलता था तो उससे पहले कितनी सस्ताई होगी। सतयुग में तो अनाज आदि बहुत सस्ता अच्छा होता है। परन्तु यह भी कोई समझते नहीं। बाप आकर तुम आत्माओं को पढ़ाते हैं। आत्मा इन कर्मेन्द्रियों से सुनती है। आत्मा को यह आंखे मिली हैं देखने के लिए, कान मिले हैं सुनने के लिए। बाप कहते हैं मैं निराकार भी इस शरीर का आधार लेता हूँ। मुझे सदैव शिव ही कहते हैं। मनुष्यों ने बहुत नाम रखे हैं – रूद्र, शिव, सोमनाथ…….. परन्तु मेरा एक ही नाम शिव है। शिवाए नम:, भक्त भगवान् को याद करते आये हैं। उनको 2500 वर्ष हुए हैं। भक्ति मार्ग में पहले अव्यभिचारी भक्ति थी। अभी तो तुमने ठिक्कर-भित्तर में डाल दिया है। अभी इस भक्ति का अन्त हैं। सबको वापिस ले जाने मैं आया हूँ। यह पुरानी दुनिया ख़त्म होनी है। बाम्ब्स बने हुए हैं तो कितने में सब ख़लास हो जायेंगे। सतयुग में कितने थोड़े सिर्फ 9 लाख होंगे। बाकी इतने सब कहाँ जायेंगे? यह लड़ाई अर्थक्वेक आदि होगी। विनाश तो जरूर होना है।

यह है प्रजापिता, कितने ब्रह्माकुमार-कुमारियां हैं। ब्रह्मा का बाप कौन है? निराकार शिव। हम उनके पोत्रे-पोत्रियां हैं। शिवबाबा से हम वर्सा लेते हैं। तो उनको ही याद करना है। याद से ही पापों का बोझा उतरेगा। तुम जानते हो यह है ही विशश, पतित दुनिया। सतयुग है वाइसलेस दुनिया। वहाँ विष (विकार) होता नहीं। कायदे अनुसार एक ही बच्चा होता है। कभी अकाले मृत्यु नहीं होती है। है ही सुखधाम। यहाँ तो कितना दु:ख है। परन्तु यह बातें कोई भी जानते नहीं। गीता सुनाते हैं, श्रीमत भगवत गीता, भगवानुवाच। अच्छा, भगवान् कौन है? कह देते श्रीकृष्ण। अरे, वह तो छोटा बच्चा है, वह कैसे राजयोग सिखलायेगा? उस समय पतित दुनिया थोड़ेही है। सद्गति के लिए राजयोग सिखलाने वाला तो यहाँ चाहिए। गीता में लिखा हुआ भी है रूद्र गीता ज्ञान यज्ञ। कृष्ण गीता ज्ञान यज्ञ तो है नहीं। यह ज्ञान यज्ञ कितने वर्षों से चलता आ रहा है, इनकी समाप्ति कब होगी? जब सारी सृष्टि इसमें स्वाहा होगी। यज्ञ जब समाप्त होता है तो उसमें सब कुछ स्वाहा करते हैं ना। यह यज्ञ भी अन्त तक चलता रहेगा। यह पुरानी दुनिया ख़त्म होने वाली है। बाप कहते हैं मैं कालों का काल हूँ, सबको लेने लिए आया हूँ। तुमको पढ़ा रहा हूँ कि तुम स्वर्ग के मालिक बनो। तुम जानते हो इस समय सभी मनुष्यमात्र हैं सदा दुर्भाग्यशाली, सतयुग में थे सदा सौभाग्यशाली – यह फ़र्क सबको समझाना है। यहाँ आते हैं तो अच्छी रीति समझते हैं फिर घर जाते हैं तो सब ख़लास हो जाता। जैसे गर्भजेल में अंजाम (वायदा) कर आते हैं – हम पाप नहीं करेंगे। बाहर निकलते हैं तो फिर पाप करने लग पड़ते हैं। जेल बर्ड होते हैं ना। इस समय जो भी मनुष्य मात्र हैं सब जेल बर्ड हैं। घड़ी-घड़ी गर्भजेल में जाकर सजायें खाते हैं। बाप कहते हैं – अभी तुमको गर्भजेल बर्ड बनने से छुड़ाते हैं। सतयुग में गर्भ को जेल नहीं कहेंगे। तुमको इन सजाओं से बचाने आया हूँ। अब मुझे याद करो, कोई भी पाप नहीं करो, नष्टोमोहा बनो। गाते हैं मेरा तो एक दूसरा न कोई…….. यह कोई कृष्ण की बात नहीं है। कृष्ण तो 84 जन्म ले अब आकर ब्रह्मा बना है फिर वही कृष्ण बनना है, इसलिए इस शरीर में ही प्रवेश किया है। यह बना बनाया ड्रामा है। अभी भगवान् यह सूर्यवंशी, चन्द्रवंशी राजधानी स्थापन कर रहे हैं। तुम्हारी भविष्य के लिए प्रालब्ध बनाते हैं। अभी तुम पुरुषार्थ कर अनेक जन्मों की प्रालब्ध बना रहे हो बेहद के बाप द्वारा, जो बाप स्वर्ग का रचयिता है। यह बातें समझने की हैं। ड्रामा में हर एक एक्टर का अपना-अपना पार्ट है। इसमें हम क्यों रोयें पीटें? हम जीते जी उस एक बाप को याद करते हैं। इस शरीर की भी हमको परवाह नहीं है। यह पुराना शरीर छूटे और हम बाबा के पास जायें। इस समय तुम भारत की कितनी सेवा करते हो। तुम्हारे ही नाम गाये हुए हैं – अन्नपूर्णा, दुर्गा, काली आदि-आदि। बाकी काली कोई ऐसी भयानक शक्ल वाली वा गणेश सूँढ़ वाला थोड़ेही होता है। मनुष्य तो मनुष्य ही होते हैं। अब बाप समझाते हैं मैं तुम बच्चों को इन लक्ष्मी-नारायण जैसा बना रहा हूँ। तुम निश्चय करो हम बाबा से वर्सा ले रहे हैं फिर भविष्य में जाकर प्रिन्स-प्रिन्सेज बनेंगे। बाप जो स्वर्ग का रचयिता है, उनको कोई भी नहीं जानते। जगदम्बा को भी भूल गये हैं। जिसका मन्दिर बना हुआ है – अभी वह चैतन्य में बैठे हैं। कलियुग के बाद फिर सतयुग होना है। विनाश के लिए मनुष्य पूछते हैं। अरे, पहले तुम पढ़कर होशियार तो हो जाओ। महाभारत लड़ाई तो बरोबर हुई थी, जिसके बाद ही स्वर्ग के द्वार खुले थे। तो अब इन माताओं द्वारा स्वर्ग के द्वार खुल रहे हैं। वन्दे मातरम् गाते हैं ना। पावन की ही वन्दना की जाती है। मातायें दो प्रकार की हैं – एक हैं जिस्मानी सोशल वर्कर, दूसरी हैं रूहानी सोशल वर्कर। तुम्हारी है यह रूहानी यात्रा। तुम जानते हो हम यह शरीर छोड़ वापस जाने वाले हैं। भगवानुवाच – मनमनाभव। मुझ अपने बाप को याद करो। कृष्ण बच्चा तो ऐसे नहीं कहेंगे ना। उनको तो अपना बाप है। मनमनाभव का अर्थ कोई भी नहीं जानते। यह तो बाप कहते हैं मुझे याद करो तो विकर्म विनाश होंगे और उड़ने के पंख मिल जायेंगे। अभी तुम पत्थरबुद्धि से पारसबुद्धि बनते हो। रचता बाप तो सबका एक ही है। आदि देव और आदि देवी के मन्दिर भी हैं। तुम उनके बच्चे यहाँ राजयोग सीख रहे हो। यहाँ ही तुमने तपस्या की थी, तुम्हारा यादगार सामने खड़ा है। लक्ष्मी-नारायण आदि को राजाई कैसे मिली, उनका यह मन्दिर है। तुम हो राजऋषि। राजाई प्राप्त करने वा भारत का फिर से राज्य-भाग्य पाने लिए तुम पुरुषार्थ कर रहे हो। तुम भारत में स्वर्ग की राजाई स्थापन करते हो, अपने तन-मन-धन से सेवा करके। बाप की श्रीमत द्वारा तुम पतित रावण राज्य से सबको लिबरेट करते हो। बाप है लिबरेटर, दु:ख हर्ता, सुख कर्ता। तुम्हारे दु:ख हरने के लिए पुरानी दुनिया का विनाश कराते हैं। तुमको दुश्मन पर विजय पहनाते हैं, तो तुम मायाजीत-जगतजीत बनेंगे। तुम कल्प-कल्प राज्य लेते हो और फिर गवाँते हो। यह है रूद्र शिव का ज्ञान यज्ञ, जिससे यह विनाश ज्वाला निकली है। वह सब विनाश हो जायेंगे और तुम सदा सुखी बन जायेंगे। दु:ख शुरू होता है द्वापर से। बाप कहते हैं – मैं आकर नर्कवासियों को स्वर्गवासी बनाता हूँ। कलियुग है वेश्यालय, सतयुग है शिवालय। तुम बेहद के बाप से स्वर्ग के मालिक बनते हो तो यह खुशी का पारा चढ़ना चाहिए ना। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) जीते जी बाप को याद कर वर्से का अधिकार लेना है, किसी भी बात की परवाह नहीं करनी है।

2) श्रीमत पर अपने तन-मन-धन से भारत को स्वर्ग बनाने की सेवा करनी है और सबको रावण से लिबरेट होने की युक्ति बतानी है।

वरदान:- बेहद के स्मृति स्वरूप द्वारा हद की बातों को समाप्त करने वाले अनुभवी मूर्त भव
आप श्रेष्ठ आत्मायें डायरेक्ट बीज और मुख्य दो पत्ते, त्रिमूर्ति के साथ समीप संबंध वाले तना हो। इसी ऊंची स्टेज पर स्थित रहो, बेहद के स्मृति स्वरूप बनो तो हद की व्यर्थ बातें समाप्त हो जायेंगी। अपने बेहद के बुजुर्गपन में आओ तो सदा सर्व अनुभवीमूर्त हो जायेंगे। जो बेहद के पूर्वजपन का आक्यूपेशन है, उसको सदा स्मृति में रखो। आप पूर्वजों का काम है अमर ज्योति बन अंधकार में भटकती हुई आत्माओं को ठिकाने पर लगाना।
स्लोगन:- किसी भी बात में मूंझने के बजाए मौज का अनुभव करना ही मस्त योगी बनना है।
Font Resize