daily murli 18 june

TODAY MURLI 18 JUNE 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 18 June 2020

18/06/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, the Father is teaching you Raj Yoga for the new world. Therefore, this old world is definitely going to be destroyed.
Question: Which good habit do human beings have, from which they received no attainment?
Answer: Human beings have the habit of remembering God only when something happens. Then, they say, “Oh God!” They think of an oval image, but, because they have no real recognition of Him, they have no attainment. Then, they say that He gives happiness and sorrow, that He gives everything. You children no longer say this.

Om shanti. The Father is also called the Creator. Of what? He is the Creator of the new world. The new world is called heaven, the land of happiness. People use these names, but they have no understanding. They even call a temple to Krishna, “Sukhdham” (The land of happiness). However, that is just a small temple. Krishna was the master of the world. It is as though they have made someone who was an unlimited master into a limited master. They call a small temple to Krishna, “The land of happiness”. It doesn’t enter their intellects that he was the master of the world, that he used to reside in Bharat. You too didn’t know anything previously. The Father knows everything. He knows the beginning, the middle and the end of the world. You children now understand this. No one in the world even knows who Brahma, Vishnu and Shankar are. Shiva is God, the Highest on High. Achcha, so where did Prajapita Brahma come from? He too is a human being. Prajapita Brahma definitely has to exist here. Brahmins have to be created here through him. Prajapita (Father of the People) means the one who adopts children through the mouth; you are mouth-born children. You now know how the Father made Brahma belong to Him and created you mouth-born children through him. He entered him and said: This one is My child. You know how He named him Brahma. No one else knows how he was created. They simply sing the praise of the Supreme Father, the Supreme Soul, being the Highest on High. However, it doesn’t enter anyone’s intellect that the Highest on High is the Father. He is the Father of all of us souls. His form is also a point of light. He has the knowledge of the beginning, the middle and the end of the world. It is now that you receive this knowledge. Previously, you didn’t have any of this knowledge. People continue to speak about Brahma, Vishnu and Shankar but no one knows anything about them. Therefore, you have to explain to everyone. You have now become sensible. You know that the Father is the Ocean of Knowledge. This is why He can give you knowledge and teach you. This Raj Yoga is for the golden-aged new world. Therefore, the old world surely has to be destroyed. There is this Mahabharat War for that. For half the cycle, you have been studying the scriptures of the path of devotion. You are now listening to the Father directly. The Father doesn’t sit and recite the scriptures. To chant mantras, do penance or study the scriptures etc. are all devotion. Devotees want the fruit of their devotion because they make that effort simply to meet God. However, it is only through this knowledge that there can be salvation. Knowledge and devotion cannot continue at the same time. It is now the kingdom of devotion; all are devotees. “Oh God, the Father!” definitely emerges from everyone’s mouth. You children now understand that the Father has given you His introduction, that He is just a tiny point. Only I am called the Ocean of Knowledge. The whole knowledge is merged in Me, the Point. Knowledge stays in the soul. You children now know that He is called the Supreme Father, the Supreme Soul. He is the Supreme Soul, which means, He is the Highest on High. Only the Purifier Father is the Supreme. When people say “Oh God”, they remember a Shiva lingam, an oval image. Even that is not accurately remembered. It is as though they have formed a habit of remembering God. They say: God gives happiness and sorrow. You children no longer say this. You know that the Father is the Bestower of Happiness. The land of happiness existed in the golden age. There was no mention of sorrow there. In this iron age, there is only sorrow. There is no mention of happiness here. God, the Highest on High, is the Father of all souls. Even though they say that they are all brothers, none of them knows about the Father of souls. Everyone is definitely a child of the one Father. Some then say that He is omnipresent, that He is in you and also in me. Ah! But you are a soul. That is your body. So, how could there be a third thing? A soul cannot be called the Supreme Soul. It is said: A living soul (jeev atma). It is not said: Living Supreme Soul. In that case, how could the Supreme Soul be omnipresent? If the Father were omnipresent, it would be a Fatherhood. A father doesn’t receive his inheritance from a father. It is the children who receive an inheritance from their father. How could everyone be the Father? Even such a tiny matter is not understood by anyone. This is why the Father says: Children, 5000 years ago I made you so sensible! You were made everhealthywealthy and sensible. No one else could be more sensible than you were. The understanding that you are receiving now will not exist there. There, you aren’t aware that you will fall once again. If you were to be aware of that, you wouldn’t experience the same happiness. This knowledge will then disappear. Only now do you have the knowledge of this drama in your intellects; only you Brahmins have a right to it. It is in your intellects that you now belong to the Brahmin clan. It is only to you Brahmins that the Father speaks this knowledge. You Brahmins then relate it to everyone else. It is remembered that God came and established heaven. He came and taught Raj Yoga. Look how people celebrate the birth of Krishna. They do understand that Krishna was the master of Paradise, but it doesn’t enter their intellects that he was also the master of the world. When it was his kingdom, there were no other religions. His kingdom was over the whole world; it was by the banks of the River Jamuna. Who is explaining all of this to you? God speaks. All of those who relate the Vedas and scriptures etc. belong to the path of devotion. Here, God Himself is speaking to you. You understand that you are now becoming the most elevated of all human beings. It is in your intellects that you become residents of the land of peace and that you will then come down and experience your reward for 21 births. You children should have bubbles of happiness inside you that Shiv Baba, your unlimited Baba, is teaching you. He is the Ocean of Knowledge and He knows the beginning, the middle and the end of the world. Such a Baba has come for us and so you should have bubbles of happiness inside you. When you say to Baba: “Baba, I have made You my Heir”, the Father surrenders Himself to such children. You children then say: “God, when You come, I will surrender myself to You, I will make You my Child.” This One only makes His children His heirs. How would you make the Baba your Heir? This is also a very deep matter. To exchange everything you have is a task for your intellect. Poor people exchange everything very quickly. Scarcely any wealthy ones do this; not until they take up this knowledge completely. They don’t have that much courage. The poor very quickly say: Baba, I will make only You my Heir. What do I have anyway? Having made Him your Heir, you also have to earn your own livelihood. Simply live as a trustee. He gives you many ways to do this. The Father simply observes whether any of you are spending money on sinful actions. Are you using your money to make human beings into charitable souls? Are you doing service systematically? He checks all of this and then advises you. This one also used to take out a share from his business to donate in the name of God. That was indirect. The Father has now come directly. People believe that in their next birth God will give them the fruit of whatever they do in their present birth. When a person is poor and unhappy, he understands that he must have performed such actions in his previous birth. If someone has performed good actions, he remains happy. The Father explains to you children the philosophy of karma. All of your actions in Ravan’s kingdom become sinful. Ravan doesn’t exist in the golden and silver ages. Therefore, none of your actions are sinful there. When you perform good actions here, you receive temporary happiness. Nevertheless, there is one or another type of illness or complication because that is temporary happiness. The Father says: This kingdom of Ravan is now going to be destroyed. Shiv Baba is establishing the kingdom of Rama. You know how this cycle turns. Bharat becomes poor once again. 5000 years ago, Bharat became heaven. The kingdom of Lakshmi and Narayan started; it was their lineage that existed first. Krishna was a prince. Then, when he married, he was crowned king and named Narayan. It is only at this time that you understand this. Therefore, you become amazed. Baba, You tell us the knowledge of the Creator and the whole of creation. The teachings You give us are so elevated. I surrender myself to You. I have to remember no one but the one Father. You have to study till the end. Therefore, you also definitely have to remember the Teacher. They remember their teachers in a school, do they not? There are so many teachers in those schools. They have a different teacher for each class there. Here, there is only the one Teacher. He is so lovely. The Father is lovely, the Teacher is lovely. Previously, on the path of devotion, He was remembered with blind faith. Now, the Father is teaching you directly. Therefore, you should have so much happiness. In spite of that, you say: Baba, I forget You. I don’t know why my intellect doesn’t remember You. It is said: God, Your ways and means are unique. Baba, Your ways and means for liberation and salvation are so wonderful! You should remember such a Father. A wife sings praise of her husband. She says: He is very good; he has this and that property. She has that happiness inside her. That One is the Husband of all husbands. He is the Father of all fathers; we receive so much happiness from Him. You only receive sorrow from everyone else. Yes, you do receive happiness from a teacher, because you earn an income by studying. You adopt a guru when you reach your stage of retirement. The Father says: I have come at your time of retirement. This one is in his stage of retirement and I too am in My stage of retirement. All of you children of Mine are also in your stage of retirement. The Father, Teacher and Guru – all three are combined. The Father becomes the Teacher and then becomes the Guru too and takes us back home with Him. Only that one Father is praised. These things are not mentioned in any scripture etc. Baba explains everything very clearly. No knowledge is higher than this, nor is there any need of further knowledge. When we have this full knowledge, we become the masters of the world. Therefore, what would we do with any other knowledge? Only when you children keep this in your intellects and stay in that remembrance can you remain happy. In order to become a pure and charitable soul, you definitely do have to stay in remembrance. It is Maya’s religion to break your yoga. It is in this yoga that Maya creates obstacles. You forget Him and many storms of Maya come. This too is fixed in the drama. This one is ahead of everyone; therefore he experiences everything first. It is only when these storms come to me first that I can then explain about them to all of you. These storms of Maya will come. They come to Baba and they will also come to you. If there were no storms of Maya and your yoga were constant, you would attain your karmateet stage. In that case, you wouldn’t be able to stay here. When you all reach your karmateet stage, everyone will return home. “The wedding procession of Shiva” has been remembered. Only when Shiv Baba comes can all of us souls return home. Shiv Baba just comes to take everyone back home. There won’t be as many souls in the golden age. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Make Shiv Baba your Heir and exchange everything you have. Having made Him your Heir, you also have to earn your livelihood. Live as a trustee. Don’t use your money for any sinful actions.
  2. You should have bubbles of happiness inside you that Baba, Himself, the Ocean of Knowledge, is teaching you! In order to become a pure and charitable soul, stay in remembrance. Don’t be afraid of the storms of Maya.
Blessing: May you be full of the treasure of happiness and with your stage of spirituality, finish the stock of anything wasteful.
With your stage of spirituality, finish the stock of anything wasteful, otherwise, talking about the weaknesses of one another, you will continue to spread the germs of this illness in the atmosphere and by doing this, the atmosphere will not become powerful. Many souls will come to you with many types of feelings, but let them go away with only something filled with good wishes. This will only be possible when you have accumulated a stock of happy situations. If you have anything wasteful for someone in your heart then where there are these matters, the Father will not be there, but there will be sin.
Slogan: When the switch of your awareness is on, you cannot have an off mood.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 18 JUNE 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 18 June 2020

Murli Pdf for Print : – 

18-06-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – बाप तुम्हें नई दुनिया के लिए राजयोग सिखला रहे हैं, इसलिए इस पुरानी दुनिया का विनाश भी जरूर होना है”
प्रश्नः- मनुष्यों में कौन-सी एक अच्छी आदत पड़ी हुई है लेकिन उससे भी प्राप्ति नहीं होती?
उत्तर:- मनुष्यों में भगवान को याद करने की जैसे आदत पड़ी हुई है, जब कोई बात होती है तो कह देते हैं-हे भगवान! सामने शिवलिंग आ जाता है लेकिन पहचान यथार्थ न होने के कारण प्राप्ति नहीं होती है फिर कह देते सुख-दु:ख सब वही देता है। तुम बच्चे अभी ऐसे नहीं कहेंगे।

ओम् शान्ति। बाप जिसको रचता कहा जाता है, किसका रचता? नई दुनिया का रचता। नई दुनिया को कहा जाता है स्वर्ग वा सुखधाम, नाम कहते हैं परन्तु समझते नहीं हैं। कृष्ण के मन्दिर को भी सुखधाम कहते हैं। अब वह तो हो गया छोटा मन्दिर। कृष्ण तो विश्व का मालिक था। बेहद के मालिक को जैसेकि हद का मालिक बना देते हैं। कृष्ण के छोटे से मन्दिर को सुखधाम कहते हैं। बुद्धि में यह नहीं आता है कि वह तो विश्व का मालिक था। भारत में ही रहने वाला था। तुमको भी पहले कुछ पता नहीं था। बाप को तो सब कुछ पता है, वह सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त को जानते हैं। अभी तुम बच्चे जानते हो, दुनिया में तो यह भी किसको पता नहीं है-ब्रह्मा-विष्णु-शंकर कौन हैं? शिव तो है ऊंच ते ऊंच भगवान। अच्छा, फिर प्रजापिता ब्रह्मा कहाँ से आया? है तो मनुष्य ही। प्रजापिता ब्रह्मा तो जरूर यहाँ ही चाहिए ना जिससे ब्राह्मण पैदा हो। प्रजापिता माना ही मुख से एडाप्ट करने वाला, तुम हो मुख वंशावली। अब तुम जानते हो कि कैसे ब्रह्मा को बाप ने अपना बनाकर मुख वंशावली बनाया है, इनमें प्रवेश भी किया फिर कहा कि यह हमारा बच्चा भी है। तुम जानते हो ब्रह्मा नाम कैसे पड़ा, कैसे पैदा हुआ, यह और कोई नहीं जानते हैं। सिर्फ महिमा गाते हैं कि परमपिता परमात्मा ऊंच ते ऊंच है, परन्तु यह कोई की बुद्धि में नहीं आता कि ऊंच ते ऊंच बाप है। हम सभी आत्माओं का वह पिता है। वह भी बिन्दू रूप ही है, उनमें सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त का ज्ञान है। यह नॉलेज भी तुमको अभी मिली है। पहले ज़रा भी यह ज्ञान नहीं था। मनुष्य सिर्फ कहते रहते हैं ब्रह्मा-विष्णु-शंकर, परन्तु जानते कुछ भी नहीं। तो उन्हों को ही समझाना है। अभी तुम समझदार बने हो। जानते हो कि बाप ज्ञान का सागर है, जो हमको ज्ञान सुनाते हैं, पढ़ाते हैं। यह राजयोग है ही सतयुग नई दुनिया के लिए तो जरूर पुरानी दुनिया का विनाश होना चाहिए। उसके लिए यह महाभारत लड़ाई है। आधाकल्प से लेकर तुम भक्ति मार्ग के शास्त्र पढ़ते आये हो। अब तो बाप से डायरेक्ट सुनते हो। बाप कोई शास्त्र नहीं बैठकर सुनाते हैं। जप तप करना, शास्त्र आदि पढ़ना यह सब भक्ति है। अब भक्तों को भक्ति का फल चाहिए क्योंकि मेहनत करते ही हैं भगवान से मिलने के लिए। परन्तु ज्ञान से है सद्गति। ज्ञान और भक्ति दोनों इकट्ठे चल न सकें। अभी है ही भक्ति का राज्य। सब भगत हैं। हर एक के मुख से ओ गॉड फादर जरूर निकलेगा। अब तुम बच्चे जानते हो कि बाप ने अपना परिचय दिया है कि मैं छोटी बिन्दू हूँ। मुझे ही ज्ञान का सागर कहते हैं। मुझ बिन्दू में सारा ज्ञान भरा हुआ है। आत्मा में ही नॉलेज रहती है। अभी तुम बच्चे समझते हो कि उनको परमपिता परमात्मा कहा जाता है। वह है सुप्रीम सोल अर्थात् सबसे ऊंच ते ऊंच पतित-पावन बाप ही सुप्रीम है ना। मनुष्य हे भगवान कहेंगे तो शिवलिंग ही याद पड़ेगा। वह भी यथार्थ रीति से नहीं। एक जैसेकि आदत पड़ गई है कि भगवान को याद करना है। भगवान ही सुख-दु:ख देता है। अभी तुम बच्चे ऐसे नहीं कहेंगे। तुम जानते हो कि बाप तो सुखदाता है। सतयुग में सुखधाम था। वहाँ दु:ख का नाम नहीं था। कलियुग में है ही दु:ख, यहाँ सुख का नाम ही नहीं। ऊंच ते ऊंच भगवान, वह है सर्व आत्माओं का बाप। यह किसको पता नहीं है कि आत्माओं का बाप भी है, कहते भी हैं हम सब ब्रदर्स हैं। तो जरूर सब एक बाप के बच्चे ठहरे ना। कोई फिर कह देते कि वह तो सर्वव्यापी है-तेरे में भी है, मेरे में भी है…..। अरे, तुम तो आत्मा हो, यह तुम्हारा शरीर है फिर तीसरी चीज़ कैसे हो सकती है! आत्मा को परमात्मा थोड़ेही कहेंगे। जीव आत्मा कहा जाता है। जीव परमात्मा नहीं कहा जाता। फिर परमात्मा सर्वव्यापी कैसे हो सकता! बाप सर्वव्यापी होता तो फिर फादरहुड हो जाता, फादर को फादर से वर्सा थोड़ेही मिलेगा। बाप से तो बच्चा ही वर्सा लेता है। सब फादर कैसे हो सकते। इतनी छोटी-सी बात भी कोई की समझ में नहीं आती है। तब बाप कहते हैं-बच्चे, हमने आज से 5 हज़ार वर्ष पहले तुमको कितना समझदार बनाया था, तुम एवरहेल्दी, वेल्दी, समझदार थे। इससे जास्ती समझदार कोई हो नहीं सकता। तुमको अभी जो समझ मिलती है यह फिर वहाँ नहीं होगी। वहाँ यह थोड़ेही मालूम रहता कि हम फिर गिरेंगे। यह मालूम हो तो फिर सुख की भासना ही न आये। यह ज्ञान फिर प्राय: लोप हो जाता है। यह ड्रामा का ज्ञान सिर्फ अभी तुम्हारी बुद्धि में है। ब्राह्मण ही अधिकारी रहते हैं। तुम्हारी बुद्धि में है कि अब हम ब्राह्मण वर्ण के हैं। ब्राह्मणों को ही बाप ज्ञान सुनाते हैं। ब्राह्मण फिर सबको सुनाते हैं। गायन भी है कि भगवान ने आकर स्वर्ग की स्थापना की थी, राजयोग सिखाया था। देखो कृष्ण जयन्ती मनाते हैं, समझते हैं कि कृष्ण वैकुण्ठ का मालिक था, परन्तु वह विश्व का मालिक था-यह बुद्धि में नहीं आता। जब उनका राज्य था तो और कोई धर्म नहीं था। उनका ही सारे विश्व पर राज्य था और जमुना के किनारे था। अब तुमको यह कौन समझा रहे हैं? भगवानुवाच। बाकी वह जो भी वेद-शास्त्र आदि सुनाते वह है भक्ति मार्ग के। यहाँ तो खुद भगवान तुमको सुना रहे हैं। अभी तुम समझते हो हम पुरूषोत्तम बन रहे हैं। तुमको ही यह बुद्धि में है कि हम शान्तिधाम के रहने वाले हैं फिर हम आकर 21 जन्मों की प्रालब्ध भोगेंगे।

तुम बच्चों को अन्दर में खुशी से गद्गद् होना चाहिए कि बेहद का बाबा शिवबाबा हमको पढ़ा रहे हैं, वह ज्ञान का सागर है, सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त को जानता है। ऐसा बाबा हमारे लिए आया है तो खुशी में गुदगुदी होती है। बाबा को कहते हैं बाबा हमने आपको अपना वारिस बनाया है। बाप बच्चों पर वारी जाते हैं। बच्चे फिर कहते हैं कि भगवान आप जब आयेंगे तो हम आप पर वारी जायेंगे अर्थात् बच्चा बनायेंगे। यह भी अपने बच्चों को ही वारिस बनाते हैं। बाबा को वारिस कैसे बनायेंगे। यह भी गुह्य बात है। अपना सब कुछ एक्सचेंज करना-इसमें बुद्धि का काम है। गरीब तो झट एक्सचेंज कर लेंगे, साहूकार मुश्किल करेंगे। जब तक कि पूरी रीति ज्ञान न उठावें। इतनी हिम्मत नहीं रहती। गरीब तो झट कह देते-बाबा हम तो आपको ही वारिस बनायेंगे। हमारे पास रखा ही क्या है। वारिस बनाकर फिर शरीर निर्वाह भी अपना करना है। सिर्फ ट्रस्टी समझकर रहना है। युक्तियां बहुत बताते रहते हैं। बाप तो सिर्फ देखते हैं कि कोई पाप कर्म में तो पैसे खराब नहीं करते हैं? मनुष्य को पुण्य आत्मा बनाने में पैसा लगाते हैं? सर्विस भी कायदेसिर करते हैं? यह पूरी जांच करेंगे, फिर सब राय देंगे। यह भी धन्धे में ईश्वर अर्थ निकालते थे ना। वह तो था इनडायरेक्ट। अभी बाप डायरेक्ट आये हैं। मनुष्य समझते हैं हम जो कुछ करते हैं उनका फल ईश्वर दूसरे जन्म में देते हैं। कोई गरीब दु:खी है तो समझेंगे कर्म ही ऐसा किया हुआ है। अच्छे कर्म किये हैं तो सुखी हैं। बाप तुम बच्चों को कर्मों की गति पर समझाते हैं, रावण राज्य में तुम्हारे सब कर्म विकर्म ही हो जाते हैं। सतयुग और त्रेता में रावण ही नहीं इसलिए वहाँ कोई कर्म विकर्म नहीं होता है। यहाँ जो अच्छे कर्म करते हैं उनका अल्पकाल के लिए सुख मिलता है। फिर भी कोई न कोई रोग खिटपिट तो रहती ही है क्योंकि अल्पकाल का सुख है। अभी बाप कहते हैं यह रावण राज्य ही खत्म होना है। राम राज्य की स्थापना शिवबाबा कर रहे हैं।

तुम जानते हो यह चक्र कैसे फिरता है। भारत ही फिर गरीब हो जाता है। भारत आज से 5 हज़ार वर्ष पहले स्वर्ग था, इन लक्ष्मी-नारायण का राज्य था। पहले गद्दी इनकी चली थी। कृष्ण प्रिन्स फिर स्वयंवर किया तो राजा बना। नारायण नाम पड़ा। यह भी तुम अभी समझते हो तो तुमको वन्डर लगता है। बाबा आप सारे रचता और रचना की नॉलेज सुनाते हो। आप हमको कितना ऊंच पढ़ाते हो। बलिहार जाऊं, हमको तो सिवाए एक बाप के और कोई को याद नहीं करना है। अन्त तक पढ़ना है तो जरूर टीचर को याद करना है। स्कूल में टीचर को याद करते हैं ना। उन स्कूलों में तो कितने टीचर्स होते हैं। हर एक दर्जे का टीचर अलग होता है, यहाँ तो एक ही टीचर है। कितना लवली है। बाप लवली, टीचर लवली….. आगे भक्ति मार्ग में अन्धश्रद्धा से याद करते थे। अभी तो डायरेक्ट बाप पढ़ाते हैं तो कितनी खुशी होनी चाहिए फिर भी कहते बाबा भूल जाते हैं। पता नहीं हमारी बुद्धि आपको क्यों नहीं याद करती है। गाते भी हैं ईश्वर की गति-मति न्यारी है। बाबा आपकी गति और सद्गति की मत तो बड़ी वन्डरफुल है। ऐसे बाप को याद करना चाहिए। स्त्री अपने पति के गुण गाती है ना। बड़ा अच्छा है, यह-यह उनकी प्रापर्टी है, अन्दर में खुशी रहती है ना। यह तो पतियों का पति, बापों का बाप है, इनसे कितना हमको सुख मिलता है। और सबसे तो दु:ख मिलता है। हाँ, टीचर से सुख मिलता है क्योंकि पढ़ाई से इनकम होती है। गुरू हमेशा किया जाता है वानप्रस्थ में। बाप भी कहते हैं मैं वानप्रस्थ में आया हूँ। यह भी वानप्रस्थी, मैं भी वानप्रस्थी। यह सब मेरे बच्चे भी वानप्रस्थी हैं। बाप टीचर गुरू तीनों ही इकट्ठे हैं। बाप टीचर भी बनते हैं फिर गुरू बन साथ ले जाते हैं। उस एक बाप की ही महिमा है, यह बातें और कोई शास्त्र आदि में नहीं हैं। बाबा हर बात अच्छी रीति समझाते हैं। इनसे ऊंची नॉलेज कोई होती नहीं, न जानने की दरकार रहती है। हम सब कुछ जानकर विश्व के मालिक बन जाते हैं और जास्ती क्या करेंगे। बच्चों की बुद्धि में यह हो तब खुशी में और उसी याद में रहें। पुण्य आत्मा बनने के लिए याद में जरूर रहना चाहिए। माया का धर्म है तुम्हारे योग को तोड़ना। योग में ही माया विघ्न डालती है। भूल जाते हो। माया के तूफान बहुत आते हैं। यह भी ड्रामा में नूंध है। सबसे आगे तो यह है, तो इनको सब अनुभव होते हैं। मेरे पास जब आयें तब तो सबको समझाऊं ना। यह सब माया के तूफान आयेंगे। बाबा के पास भी आते हैं। तुमको भी आयेंगे। माया का तूफान ही न आये, योग लगा ही रहे तो कर्मातीत अवस्था हो जाए। फिर हम यहाँ रह न सकें। कर्मातीत अवस्था हो जायेगी तो फिर सब चले जायेंगे। शिव की बरात गाई हुई है ना। शिवबाबा आये तब हम सब आत्मायें जायें। शिवबाबा आते ही हैं सबको ले जाने। सतयुग में इतनी आत्मायें थोड़ेही होंगी। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) शिवबाबा को अपना वारिस बनाकर सब कुछ एक्सचेंज कर देना है। वारिस बनाकर शरीर निर्वाह भी करना है, ट्रस्टी समझकर रहना है। पैसे कोई भी पाप कर्म में नहीं लगाने हैं।

2) अन्दर खुशी में गुदगुदी होती रहे कि स्वयं ज्ञान का सागर बाबा हमको पढ़ा रहे हैं। पुण्य आत्मा बनने के लिए याद में रहना है, माया के तूफानों से डरना नहीं है।

वरदान:- रूहानियत की स्थिति द्वारा व्यर्थ बातों का स्टॉक खत्म करने वाले खुशी के खजाने से सम्पन्न भव
रूहानियत की स्थिति द्वारा व्यर्थ बातों के स्टॉक को समाप्त करो, नहीं तो एक दो के अवगुणों का वर्णन करते बीमारी के जर्मस वायुमण्डल में फैलाते रहेंगे, इससे वातावरण पावरफुल नहीं बनेगा। आपके पास अनेक भावों से अनेक आत्मायें आयेंगी लेकिन आपकी तरफ से शुभ भावना की बातें ही ले जाएं। यह तब होगा जब स्वयं के पास खुशी की बातों का स्टॉक जमा होगा। यदि दिल में किसी के प्रति कोई व्यर्थ बातें होगी तो जहाँ बातें हैं वहाँ बाप नहीं, पाप है।
स्लोगन:- स्मृति का स्विच आन हो तो मूड ऑफ हो नहीं सकती।

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 18 JUNE 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 18 June 2019

To Read Murli 17 June 2019 :- Click Here
18-06-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

मीठे बच्चे – सदा इसी नशे में रहो कि हमारा पद्मापद्म भाग्य है, जो पतित-पावन बाप के हम बच्चे बने हैं, उनसे हमें बेहद सुख का वर्सा मिलता है”
प्रश्नः- तुम बच्चों को किसी भी धर्म से घृणा वा ऩफरत नहीं हो सकती है – क्यों?
उत्तर:- क्योंकि तुम बीज और झाड़ को जानते हो। तुम्हें पता है यह मनुष्य सृष्टि रूपी बेहद का झाड़ है इसमें हर एक का अपना-अपना पार्ट है। नाटक में कभी भी एक्टर्स एक-दूसरे से घृणा नहीं करेंगे। तुम जानते हो हमने इस नाटक में हीरो-हीरोइन का पार्ट बजाया। हमने जो सुख देखे, वह और कोई देख नहीं सकता। तुम्हें अथाह खुशी है कि सारे विश्व पर राज्य करने वाले हम हैं।

ओम् शान्ति। ओम् शान्ति कहने से ही बच्चों को जो नॉलेज मिली है, वह सारी बुद्धि में आ जानी चाहिए। बाप की भी बुद्धि में कौन-सी नॉलेज है? यह मनुष्य सृष्टि रूपी झाड़ है, जिसे कल्प वृक्ष भी कहते हैं, उसकी उत्पत्ति, पालना फिर विनाश कैसे होता है, सारा बुद्धि में आना चाहिए। जैसे वह जड़ झाड़ होता है, यह है चैतन्य। बीज भी चैतन्य है। उनकी महिमा भी गाते हैं, वह सत्य है, चैतन्य है अर्थात् झाड़ के आदि, मध्य, अन्त का राज़ समझा रहे हैं। कोई भी आक्यूपेशन को जानता नहीं। प्रजापिता ब्रह्मा के आक्यूपेशन को भी जानना चाहिए ना। ब्रह्मा को कोई याद नहीं करते, जानते ही नहीं। अजमेर में ब्रह्मा का मन्दिर है। त्रिमूति चित्र छपाते हैं, उनमें ब्रह्मा, विष्णु, शंकर है। ब्रह्मा देवताए नम: कहते हैं। अब तुम बच्चे जानते हो – इस समय ब्रह्मा को देवता नहीं कहा जाता है। जब सम्पूर्ण बनें तब देवता कहा जाए। सम्पूर्ण बन चले जाते हैं सूक्ष्मवतन में।

बाबा कहते हैं तुम्हारे बाप का नाम क्या है? किससे पूछते हैं? आत्मा से। आत्मा कहती है हमारा बाबा। जिसको मालूम नहीं है कि किसने कहा, वह तो प्रश्न पूछ न सके। अब बच्चे समझ तो गये हैं – बरोबर दो बाप सबके हैं। ज्ञान तो एक ही बाप देते हैं। अभी तुम बच्चे समझते होंगे यह शिवबाबा का रथ है। बाबा इस रथ द्वारा हमको ज्ञान सुनाते हैं। एक तो यह है जिस्मानी ब्रह्मा बाप का रथ। दूसरा फिर रूहानी बाप का यह रथ है। उस रूहानी बाप की महिमा है सुख का सागर, शान्ति का सागर……..। पहले तो यह बुद्धि में रहेगा यह बेहद का बाप है जिससे बेहद का वर्सा मिलता है। पावन दुनिया के मालिक बनते हैं। निराकार को बुलाते हैं पतित-पावन आओ। आत्मा ही बुलाती है। जब पावन आत्मा है तब नहीं पुकारते। पतित हैं तो पुकारते हैं। अब तुम आत्मा जानती हो वह पतित-पावन बाप इस तन में आया है। यह भूलना नहीं है, हम उनके बने हैं। यह सौभाग्य तो क्या पद्म भाग्य की बात है। फिर उस बाप को भूलना क्यों चाहिए। इस समय बाप आये हैं – यह नई बात है। शिव जयन्ती भी हर वर्ष मनाई जाती है। तो जरूर वह एक बार ही आते हैं। लक्ष्मी-नारायण सतयुग में थे। इस समय नहीं हैं। तो समझाना चाहिए उन्हों ने पुनर्जन्म लिया होगा। 16 कला से 12-14 कला में आये होंगे। यह तुम्हारे बिना कोई नहीं जानते। सतयुग कहा जाता है नई दुनिया को। वहाँ सब-कुछ नया ही नया है। देवता धर्म नाम भी गाया जाता है। वही देवतायें जब वाम मार्ग में जाते हैं तो फिर उनको नया भी नहीं, तो देवता भी नहीं कह सकते। कोई भी ऐसे नहीं कहेंगे कि हम उनकी वंशावली के हैं। अगर अपने को उस वंशावली के समझते तो फिर उन्हों की महिमा, अपनी निंदा क्यों करते? महिमा जब करते हैं तो जरूर उन्हों को पवित्र, अपने को अपवित्र पतित समझते हैं। पावन से पतित बनते हैं, पुनर्जन्म लेते हैं। पहले-पहले जो पावन थे वही फिर पतित बने हैं। तुम जानते हो पावन से अब पतित बने हैं। तुम स्कूल में पढ़ते हो, उसमें नम्बरवार फर्स्ट, सेकण्ड, थर्ड क्लास तो होते ही हैं।

अभी बच्चे समझते हैं हमको बाप पढ़ाते हैं, तब तो आते हैं ना। नहीं तो यहाँ आने की क्या दरकार है। यह कोई गुरू, महात्मा, महापुरूष आदि कुछ नहीं है। यह तो साधारण मनुष्य तन है, सो भी बहुत पुराना है। बहुत जन्मों के अन्त में प्रवेश करता हूँ। और तो कोई इनकी महिमा नहीं सिर्फ इसमें प्रवेश करता हूँ तब इनका नाम होता है। नहीं तो प्रजापिता ब्रह्मा कहाँ से आया। मनुष्य मूंझते तो जरूर हैं ना। बाप ने तुमको समझाया है तब तुम औरों को समझाते हो। ब्रह्मा का बाप कौन? ब्रह्मा, विष्णु, शंकर – उन्हों का रचयिता यह शिवबाबा है। बुद्धि ऊपर चली जाती है। परमपिता परमात्मा जो परमधाम में रहते हैं, उनकी यह रचना है। ब्रह्मा, विष्णु, शंकर का आक्यूपेशन अलग है। कोई आपस में 3-4 होते हैं, सबका आक्यूपेशन अपना-अपना होता है। पार्ट हर एक का अपना-अपना है। इतनी करोड़ों आत्मायें हैं – एक का पार्ट न मिले दूसरे से। ये वन्डरफुल बातें समझी जाती हैं। कितने ढेर मनुष्य हैं। अभी चक्र पूरा होता है। अन्त है ना। सब वापस जायेंगे, फिर से चक्र रिपीट होना है। बाप यह सब बातें भिन्न-भिन्न प्रकार से समझाते रहते हैं, नई बात नहीं। कहते हैं कल्प पहले भी समझाया था। बहुत लवली बाप है, ऐसे बाप को तो बहुत प्यार से याद करना चाहिए। तुम भी बाप के लवली बच्चे हो ना। बाप को याद करते आये हो। पहले सब एक की पूजा करते थे। भेदभाव की बात है नहीं। अभी तो कितना भेदभाव है। यह राम के भक्त हैं, यह कृष्ण के भक्त हैं। राम के भक्त धूप जगाते तो कृष्ण का नाक बंद कर देते हैं। ऐसी भी कुछ बातें शास्त्रों में हैं। वह कहे हमारा भगवान् बड़ा, वह कहे हमारा बड़ा, दो भगवान् समझ लेते हैं। तो रांग होने कारण सब अनराइटियस काम ही करते हैं।

बाप समझाते हैं – बच्चे, भक्ति भक्ति है, ज्ञान ज्ञान है। ज्ञान का सागर एक ही बाप है। बाकी वह सब हैं भक्ति के सागर। ज्ञान से सद्गति होती है। अभी तुम बच्चे ज्ञानवान बने हो। बाप ने तुम्हें अपना और सारे चक्र का भी परिचय दिया है, जो और कोई दे न सके इसलिए बाप कहते हैं तुम बच्चे हो स्वदर्शन पाधारी। परमपिता परमात्मा तो एक ही है। बाकी सब बच्चे ही बच्चे हैं। परमपिता अपने को कोई कह न सके। जो अच्छे समझदार मनुष्य हैं, समझते हैं यह कितना बड़ा ड्रामा है। उनमें सब एक्टर्स अविनाशी पार्ट बजाते हैं। वह छोटे नाटक तो विनाशी होते हैं, यह है अनादि अविनाशी। कभी बन्द होने वाला नहीं है। इतनी छोटी आत्मा, इतना बड़ा पार्ट मिला हुआ है – शरीर लेने और छोड़ने का और पार्ट बजाने का। यह बातें कोई शास्त्रों में नहीं हैं। अगर इसको किसी गुरू ने सुनाया होता तो उनके और भी फालोअर्स होते ना, सिर्फ एक फालोअर क्या काम का। फालोअर तो वह जो पूरा फालो करे। इनकी ड्रेस आदि तो वह है नहीं। कौन कहेंगे शिष्य है। यह तो बाप बैठ पढ़ाते हैं। बाप को ही फालो करना है, जैसे बारात होती है ना। शिव की भी बरात कहते हैं। बाबा कहते हैं यह हमारी बरात है। तुम सब भक्तियां हो, मैं हूँ भगवान्। तुम सब सजनियां हो, बाबा आया है तुमको श्रृंगार कर ले जाने। कितनी खुशी होनी चाहिए। अब तुम सृष्टि के आदि, मध्य, अन्त को जानते हो। तुम बाप को याद करते-करते पवित्र बन जाते हो तो पवित्र राजाई मिलती है। बाप समझाते हैं मैं आता ही हूँ अन्त में। मुझे बुलाते ही हैं पावन दुनिया की स्थापना और पतित दुनिया का विनाश कराने आओ, इसलिए महाकाल भी कहते हैं। महाकाल का भी मन्दिर होता है। काल के मन्दिर तो देखते हैं ना। शिव को काल कहेंगे ना। बुलाते हैं कि आकर पावन बनाओ। आत्माओं को ले जाते हैं। बेहद का बाप कितनी ढेर आत्माओं को लेने लिए आये हैं। काल-काल महाकाल, सब आत्माओं को पवित्र गुल-गुल बनाकर ले जाते हैं। गुल-गुल बन जायें तो फिर बाप भी ले चलेंगे गोद में। अगर पवित्र नहीं बनेंगे तो सजायें खानी पड़ेंगी, फ़र्क तो रहता है ना। पाप रह जाते हैं तो फिर सज़ा खानी पड़े। पद भी ऐसा मिलता है इसलिए बाप समझाते हैं – मीठे बच्चों, बहुत-बहुत मीठा बनो। कृष्ण सबको मीठा लगता है ना। कितना प्रेम से कृष्ण को झुलाते हैं, ध्यान में कृष्ण को छोटा देख झट गोद में उठाकर प्यार करते हैं। वैकुण्ठ में चले जाते हैं। वहाँ कृष्ण को चैतन्य रूप में देखते हैं। अभी तुम बच्चे जानते हो सचमुच वैकुण्ठ आ रहा है। हम भविष्य में यह बनेंगे। श्रीकृष्ण पर कलंक लगाते हैं, वह सब रांग है। तुम बच्चों को पहले नशा चढ़ना चाहिए। शुरू में बहुत साक्षात्कार हुए थे फिर पिछाड़ी में बहुत होंगे, ज्ञान कितना रमणीक है। कितनी खुशी रहती है। भक्ति में तो कुछ भी खुशी नहीं रहती। भक्ति वालों को यह थोड़ेही मालूम रहता है कि ज्ञान में कितना सुख है, भेंट कर न सकें। तुम बच्चों को पहले यह नशा चढ़ना चाहिए। यह ज्ञान सिवाए बाप के कोई भी ऋषि-मुनि आदि दे नहीं सकते। लौकिक गुरू तो किसको भी मुक्ति-जीवनमुक्ति का रास्ता बता नहीं सकते। तुम समझते हो कोई भी मनुष्य गुरू हो नहीं सकता, जो कहे हे आत्माओं, बच्चों, मैं तुमको समझाता हूँ। बाप को तो ‘बच्चे-बच्चे’ कहने की प्रैक्टिस है। जानते हैं यह हमारी रचना है। यह बाप भी कहते हैं मैं सबका रचयिता हूँ। तुम सब भाई-भाई हो। उनको पार्ट मिला है, कैसे मिला है वह बैठ समझाते हैं। आत्मा में ही सारा पार्ट भरा हुआ है। जो भी मनुष्य आते हैं, 84 जन्मों में कभी एक जैसे फीचर्स मिल न सकें। थोड़ी-थोड़ी चेंज होती जरूर है। तत्व भी सतो, रजो, तमो होते जाते हैं। हर जन्म के फीचर्स एक न मिले दूसरे से। यह भी समझने की बातें हैं। बाप रोज़ समझाते रहते हैं – मीठे बच्चे, बाप में कभी संशय नहीं लाओ। संशय और निश्चय – दो अक्षर हैं ना। बाप माना बाप। इसमें संशय तो हो न सके। बच्चा कह न सके कि मैं बाप को याद कर नहीं सकता हूँ। तुम घड़ी-घड़ी कहते हो योग नहीं लगता। योग अक्षर ठीक नहीं है। तुम तो राजऋषि हो। ‘ऋषि’ अक्षर पवित्रता का है। तुम राजऋषि हो तो जरूर पवित्र होंगे। थोड़ी बात में फेल होने से फिर राजाई मिल न सके। प्रजा में चले जाते हैं। कितना घाटा पड़ जाता है। नम्बरवार पद होते हैं ना। एक का पद न मिले दूसरे से। यह बेहद का बना-बनाया ड्रामा है। सिवाए बाप के कोई समझा न सके। तो तुम बच्चों को कितनी खुशी होती है। जैसे बाप की बुद्धि में सारा ज्ञान है वैसे तुम्हारी बुद्धि में भी है। बीज और झाड़ को समझना है। मनुष्य सृष्टि का झाड़ है, इनके साथ बनेन ट्री का मिसाल बिल्कुल एक्यूरेट है। बुद्धि भी कहती है हमारा आदि सनातन देवी-देवता धर्म का जो थुर था वह प्राय: लोप हो गया है। बाकी सब धर्मों की टाल-टालियां आदि खड़ी हैं। ड्रामा अनुसार यह सब होना ही है, इसमें घृणा नहीं आती। नाटक में एक्टर्स को कभी घृणा आयेगी क्या! बाप कहते हैं तुम पतित बन गये हो फिर पावन बनना है। तुम जितना सुख देखते हो उतना और कोई नहीं देखते। तुम हीरो-हीरोइन हो, विश्व पर राज्य पाने वाले हो तो अथाह खुशी होनी चाहिए ना। भगवान् पढ़ाते हैं! कितना रेग्युलर पढ़ना चाहिए, इतनी खुशी होनी चाहिए। बेहद का बाप हमें पढ़ाते हैं। राजयोग भी बाप ही सिखलाते हैं। कोई शरीरधारी तो सिखला न सकें। बाप ने आत्माओं को सिखलाया है, आत्मा ही धारण करती है। बाप एक बार ही आते हैं पार्ट बजाने। आत्मा ही पार्ट बजाकर एक शरीर छोड़ दूसरा लेती है। आत्माओं को बाप पढ़ाते हैं। देवताओं को नहीं पढ़ायेंगे। वहाँ तो देवतायें ही पढ़ायेंगे। संगमयुग पर बाप ही पढ़ाते हैं पुरूषोत्तम बनाने के लिए। तुम ही पढ़ते हो। यह संगमयुग एक ही है, जब तुम पुरूषोत्तम बनते हो। सत्य बनाने वाला, सतयुग की स्थापना करने वाला एक ही सच्चा बाबा है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) संगमयुग पर डायरेक्ट भगवान् से पढ़ाई पढ़कर, ज्ञानवान आस्तिक बनना और बनाना है। कभी भी बाप वा पढ़ाई में संशय नहीं लाना है।

2) बाप समान लवली बनना है। भगवान् हमारा श्रृंगार कर रहे हैं, इस खुशी में रहना है। किसी भी एक्टर से घृणा वा ऩफरत नहीं करनी है। हरेक का इस ड्रामा में एक्यूरेट पार्ट है।

वरदान:- याद और सेवा के शक्तिशाली आधार द्वारा तीव्रगति से आगे बढ़ने वाले मायाजीत भव
ब्राह्मण जीवन का आधार याद और सेवा है, यह दोनों आधार सदा शक्तिशाली हों तो तीव्र-गति से आगे बढ़ते रहेंगे। अगर सेवा बहुत है, याद कमजोर है वा याद बहुत अच्छी है, सेवा कमजोर है तो भी तीव्रगति नहीं हो सकती। याद और सेवा दोनों में तीव्रगति चाहिए। याद और नि:स्वार्थ सेवा साथ-साथ हों तो मायाजीत बनना सहज है। हर कर्म में, कर्म की समाप्ति के पहले सदा विजय दिखाई देगी।
स्लोगन:- इस संसार को अलौकिक खेल और परिस्थतियों को अलौकिक खिलौने के समान समझकर चलो।

TODAY MURLI 18 JUNE 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 18 June 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 17 June 2019 :- Click Here

18/06/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, always stay in the intoxication of your multimillion-fold fortune of having become children of the Purifier Father. You receive the inheritance of unlimited happiness from Him.
Question: Why can you children not have any dislike or hatred for any religion?
Answer: Because you know the Seed and the tree. You know that this is the unlimited tree of the human world. Each one has his own part in it. Actors in a play do not have hatred for one another. You know that you have the hero and heroine parts in this play. No one else can see the happiness that you have seen. You have the limitless happiness that you are the ones who will rule the whole world.

Om shanti. By saying, “Om shanti”, all the knowledge you children receive should enter your intellects. What knowledge does the Father have? This is the human world tree which is also called the kalpa tree. How it is created, how sustenance and destruction take place should all enter your intellects. Just as that is a non-living tree, so this is a living tree. The Seed is also living. People sing His praise: He is the Truth and the Living Being. That is, He explains the beginning, the middle and the end of the whole tree to us. No one knows His occupation. You should also know the occupation of Prajapita Brahma. No one can remember Brahma because they don’t know him. In Ajmer they have a temple to Brahma. They print a picture of the Trimurti in which they show Brahma, Vishnu and Shankar. They say: Salutations to the deity Brahma. You children know that Brahma cannot be called a deity at this time. Only when he becomes perfect can he be called a deity. He becomes perfect and goes to the subtle region. Baba says: What is your Father’s name? Whom does He ask? He asks souls. Souls say: Our Baba. Those who don’t know who it was that said this, cannot ask this question. You children have now understood that everyone truly has two fathers. Only the one Father gives you knowledge. You children must understand that this is Shiv Baba’s chariot, that Baba gives us knowledge through this chariot. Firstly, this is the chariot of the physical father Brahma. Secondly, it is also the chariot of the spiritual Father. The praise of that spiritual Father is: He is the Ocean of Happiness and the Ocean of Peace. It would first enter your intellects that He is your unlimited Father from whom you receive the unlimited inheritance. You become the masters of the pure world. You call out to the incorporeal One: O Purifier, come! It is souls that call out. A soul doesn’t call out when he is pure; he calls out when he is impure. You souls now know that the Purifier Father has entered this body. You must not forget that you now belong to Him. This is not just a question of one hundred-fold fortune but of multimillion-fold fortune. So, why should you forget that Father? The Father has come at this time. This is something new. Shiv Jayanti is celebrated every year. Therefore, He must surely only come once. Lakshmi and Narayan were in the golden age. They are not here at this time. So you should explain that they must have taken rebirth. From being 16 celestial degrees they would have become those with 14 and then 12 degrees. No one, apart from you, knows this. The new world is called the golden age. There, everything is new. The name of the deity religion is also mentioned. When those deities go on to the path of sin, they cannot be called new nor can they be called deities. None would say that they belong to their dynasty. If they consider themselves to belong to that dynasty, why do they praise the deities and insult themselves? When they sing praise, they must definitely be considering the deities to be pure and themselves to be impure. You become impure from pure by taking rebirth. Those who were at first pure are those who become impure. You know that you have become impure from pure. You are studying at school. There are numberwise classes of firstand second etc. You children understand that the Father is now teaching you, and that this is why He comes. Otherwise, what need is there for Him to come here? This one is not a guru, a great soul or a great person etc. This is an ordinary human body and an old body at that. I enter him at the end of his many births. There is no other praise of this one. His name is glorified when I enter him. Otherwise, where did Prajapita Brahma come from? People are definitely confused. The Father has explained to you because this is how you are able to explain to others. Who is the Father of Brahma? Shiv Baba is the Creator of Brahma, Vishnu and Shankar. So your intellects go up above. This is the creation of the Supreme Father, the Supreme Soul, who resides in the supreme abode. The occupations of Brahma, Vishnu and Shankar are separate. When there are three or four people in a group, each one’s occupation is separate; each one’s part is separate. There are millions of souls and each one’s part is separate from the others. These wonderful things have to be understood. There are so many human beings. The cycle is now coming to an end. It is the end. All will return home and then the cycle has to repeat. The Father continues to explain all of these things to you in different ways. It is not a new thing. He says: I explained to you in the previous cycle too. The Father is very lovely. You should remember such a Father with a lot of love. You are the lovely children of the Father. You have been remembering the Father. At first, everyone worshipped just the One. There was no question of any difference. Now there is so much difference: someone is a devotee of Rama and someone else is a devotee of Krishna. When the devotees of Rama light incense sticks, the devotees of Krishna block their noses. They have written such things in the scriptures. One would say, “My God is greater”, and the other one would say, “My God is greater.” They think that there are two Gods. Because of being wrong, everyone performs unrighteous actions. The Father explains: Children, devotion is devotion and knowledge is knowledge. Only the one Father is the Ocean of Knowledge. All the rest are oceans of devotion. Salvation is received through knowledge. You children have now become knowledgeable. The Father has given you the introduction of Himself and of the whole cycle. No one else can give you this. This is why the Father says: You children are spinners of the discus of self-realisation. There is only the one Supreme Father, the Supreme Soul. All the rest are the children. No one can call himself the Supreme Father. Good sensible people understand how this is such a huge drama. All the actors in it play their eternal parts. Those little plays are perishable, whereas this one is eternal and imperishable; it will never end. Such a tiny soul has received such a big part of taking and leaving a body and playing his part. These things are not mentioned in any of the scriptures. If a guru had told this one (Brahma Baba), he would have had other followers too. Of what use would it be having just one follower? A follower is someone who follows completely. This one’s dress is not like theirs. Who would say that he is their disciple? The Father sits here and teaches you. You have to follow the Father alone, just as there is a procession. They speak of the procession of Shiva. Baba says: This is My procession. All of you are devotees and I am God. All of you are brides. Baba has come to decorate you and take you back with Him. You should have so much happiness. You now know the beginning, middle and end of the world. You become pure by remembering the Father and so you receive a pure kingdom. The Father explains: I come at the end. You call out to Me to come and establish the pure world and to destroy the impure world. This is why they also call Me the Great Death. There is also a temple to the Great Death. You can see the Temple of Death. Shiva is called Kaal (Death). People call out to Me to come and make them pure. He takes souls back with Him. The unlimited Father has come to take so many souls back home. The Great Death will make all souls pure and beautiful and take them back with Him. When you have become beautiful, the Father will take you back with Him in His lap. If you don’t become pure, there will have to be punishment. If sins still remain there will have to be punishment experienced. There is a difference. You then receive a status accordingly. This is why the Father explains: Sweet children, become very, very sweet. Everyone finds Krishna to be very sweet. People rock Krishna in a cradle with so much love. When they see in trance the little Krishna, they immediately put him in their laps and give him so much love. They go to Paradise; there, they see the living form of Krishna. You children now know that Paradise truly is coming. We will become this in the future. All the allegations they have made about Shri Krishna are wrong. You children should first of all become intoxicated. In the beginning, you had many visions and so, at the end, too, you will have many visions. Knowledge is so entertaining. There is so much happiness. In devotion there is no happiness. Those on the path of devotion do not know how much happiness there is in knowledge; they cannot compare it. You children should first of all have this intoxication. No one, apart from the Father, none of the rishis or munis etc., can give this knowledge. Worldly gurus cannot show anyone the way to liberation or liberation-in-life. You understand that no human being can be a guru and say: O souls, o children, I am explaining to you. The Father has the practice of saying, “Child, child!” He knows that these are His creation. This Father says that He is the Creator of everyone. All of you are brothers and you have all taken your parts. He sits here and explains to you how you have taken your parts. A whole part is recorded in each soul. None of the human beings who take 84 births can have the same features as those of another. There are definitely a few changes in them. Even the elements go through the stages of sato, rajo and tamo. The features of each birth are different; the features of one birth cannot be the same as those of another. These matters have to be understood. The Father explains to you every day: Sweet children, do not ever have any doubts in the Father. There are the two words “faith” and “doubt”. The Father means the Father. There cannot be any doubt about this. You children cannot say that you are not able to remember the Father. You repeatedly say that you are unable to have yoga. The word yoga is not right. You are Raja Rishis. The word “Rishi” is a term for purity. You are Raja Rishis and so you would surely be pure. By failing because of something trivial, you cannot receive a kingdom. You then become part of the subjects. So much loss is incurred. Status is numberwise. The status of one cannot be the same as that of another. This is the unlimited predestined drama. No one, except the Father, can explain it to you. So, you children have so much happiness. Just as the Father has all the knowledge in His intellect, so you too have it in your intellects. You have to understand the Seed and the tree. This is the human world tree. The comparison of this with a banyan tree is absolutely accurate. The intellect says that the trunk of our original, eternal, deity religion has disappeared, but the branches and twigs of all the other religions still exist. According to the drama, all of this has to happen. There is no question of dislike. Would actors in a play ever feel dislike for one another? The Father says: You have become impure and you now have to become pure. No one else sees as much happiness as you do. You are heroes and heroines. You are the ones who will receive the kingdom of the world, and so you should have limitless happiness. God is teaching you! Therefore, you should study regularly. You should have so much happiness of the unlimited Father teaching you. It is the Father who also teaches you Raja Yoga. No bodily being can teach this to you. The Father taught you souls and it is you souls who imbibe everything. The Father comes once to play His part. A soul plays his part, sheds a body and takes another. The Father teaches you souls. He would not teach deities. There, deities will teach you. The Father only teaches you at the confluence age in order to make you into the most elevated beings. Only you study this. It is only at the confluence age that you become the most elevated beings. It is only the one true Baba who makes you true and who establishes the land of truth. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Study directly with God at the confluence age, become knowledgeable theists and also make others knowledgeable. Never have any doubts about the Father or the study.
  2. Become as lovely as the Father. Maintain the happiness that God is decorating you. Do not have dislike or hatred for any actor. Each one has an accuratepart in this drama.
Blessing: May you become a conqueror of Maya and move forward at a fast speed by taking the powerful support of remembrance and service.
The basis of Brahmin life is remembrance and service. When both of these supports are powerful you will then continue to move forward at a fast speed. If there is too much service and remembrance is weak or if remembrance is very good and service is weak, in each case, you cannot move forward at a fast speed. There has to be a fast speed in both remembrance and service. Let remembrance and altruistic service take place at the same time and it will then be easy to become a conqueror of Maya. Victory will be visible in every deed even before the completion of that deed.
Slogan: Continue to move along while considering this world to be an alokik game and adverse situations to be alokik toys.

*** Om Shanti ***

TODAY MURLI 18 JUNE 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 18 June 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 17 June 2018 :- Click Here

18/06/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you have taken God’s lap in order to become deities from human beings. It is His shrimat that makes you into deities from human beings.
Question: What is the meaning of, “When you die, the world is dead for you.”?
Answer: When you children come to the Father and die a living death, the whole world is finished for you. Other human beings take birth in the same world in which they die, but you will not take birth in this old world. You will take a new birth in the new world. You children receive the kingdom of heaven.
Song: To live in Your lane and die in Your lane.

Om shanti. This song applies to the present time, and it is later sung on the path of devotion. At this time, when you come to the Father and die a living death, the whole world is definitely finished for you. On a non-gyani path of ignorance, when people die, they take rebirth in that same world. The world exists for ever. People take birth in the same world in which they die. When you children belong to the Father, this whole world is finished for you. There is a saying: “When you die, the world is dead to you”, but the world is not destroyed. It is in this world that you have to take birth again. Since you have now died a living death, you die and this world also finishes. When you die, the world will also finish. You understand that you will go into the new world again. Only you Brahmins understand this. Because of being God’s children, you receive your birthright of the golden age. Hell is destroyed and you receive the sovereignty of heaven. There is no effort in this; you simply have to remember the Father. When a person is about to die, he is told to chant: “Chant Rama, Rama”. Later, at the time of carrying the body to the cremation ground, they say: The name of Rama is the Truth. It is of God that they say that Rama’s name is the Truth. It means: Take the name of the Supreme Father, the Supreme Soul, the One who is the Truth. They call him Rama. They even chant the name “Rama, Rama” while rotating the beads of a rosary. They chant Rama’s name as though they are playing a musical instrument. Baba explains to you children that you do not have to make any sound, but you simply have to keep remembrance in your intellects. You understand that, by your coming into God’s lap and dying a living death, this world of sorrow ends for you. “Baba, we will become the garland around Your neck.” The Rosary of Rudra is remembered. It is not said: Rosary of Rama or Rosary of Krishna. You are sitting in this sacrificial fire of the knowledge of Rudra in order to become threaded in the rosary of Rudra, as you did a cycle ago. There is no other satsang in which they believe that they are to be threaded in the garland around God, the Father’s, neck. You definitely receive your inheritance from the Father. Who says, “Father”? The soul. The mind and intellect are in the soul. The intellect first understands and then speaks. First the thought arises, and then it is expressed through the organs that we definitely belong to Baba and that we will remain Baba’s. When they speak of God, the Father, ask them: Do you have any knowledge of God , the Father? They would reply that God is omnipresent. Tell them: Your soul says that the Supreme Father, the Supreme Soul, is your Father. Therefore, how can He be omnipresent? Has the Father entered the children? It is completely wrong to call the Father omnipresent. A worldly father has five or seven children. Would they ask him: Father, are you omnipresent? This is something to be understood. You say “Supreme Father” with your mouth. So, how can He be omnipresent? How it is possible for the Father to be in me? The child would say “The Father has entered me.” The child would not say “I am the Father.” You souls are His children, and yet you say that the Father is in you! How could the Father be in the child? You have to understand these things very clearly and explain them to others. The sacrificial fire of the knowledge of Rudra is famous. Rudra is incorporeal. Krishna is corporeal. Ultimately, who can be called God? Krishna cannot be called God. Human beings have forgotten everything. They say: “God, the Father, is omnipresent. He is also in me.” The Father lives in His home; where else would He live? The Father has now come into this unlimited home. He is present here. He says: I have entered this one. Ask whatever you want. Previously, there was a custom of invoking departed spirits. A departed spirit is a soul. The departed spirit, which is the soul, is fed. They would say: Today, it is a special offering to the soul of our grandfather. Another day, they would say: It is an offering to the soul of so-and-so. Therefore, it is a soul that is invoked and fed. For instance, when someone loved his wife, her soul would be invoked. He would say: I promised to give her a diamond nose stud. Therefore, he would invite a brahmin priest to invoke her in order for it to be put on her. It is the soul that is called. The body does not come. This custom only exists in Bharat. It is the same as when you go to the subtle region. When someone dies, you offer bhog for that soul. That soul goes to the subtle region. These aspects are completely new. Until these things are understood properly, doubts will arise: “What are they doing? Just look at the customs and systems these Brahmins have!” At this time, all human beings are tamopradhan. Baba is the Purifier. He can never become tamopradhan. Human beings cannot be called the Purifier. “The Purifier” means the One who makes the whole world pure from impure. That can be none other than the one Father. The founders of religions come to establish their own religions. There is a genealogical tree of the Christian religion. Christ came first, and then expansion took place as others continued to come after him. He (Christ) cannot purify impure ones. Their population comes, numberwise. The Purifier is needed now, because everyone is buried in the graveyard. There is only the One who purifies everyone. You understand that, at this time, everyone has definitely reached their stage of total decay. The example of the banyan tree is given. It is a very big tree. Many groups of people go and sit beneath it. Its foundation has decayed, but the branches are still there. This too is a tree. The foundation of the inverted tree of the deity religion is up above and the roots have been completely cut off. All the rest are there. It’s only when the Seed is there that creation can take place again. Baba says: I come to carry out establishment once again; establishment through Brahma and destruction through Shankar. A kingdom was established for those who studied Raja Yoga, all the innumerable religions were destroyed in the Mahabharat War. You understand that you will now go to Baba and then go down into the new world. Then the tree will continue to grow. The deity religion that used to exist has now disappeared. Therefore, the Father says: I have come again to establish the original eternal deity religion. Bharat, that used to be the highest on high, has been eclipsed. By sitting on the pyre of lust, the whole world has become ugly. You now sit on the pyre of knowledge and become beautiful again. You have become ugly. Only the one Supreme Father, the Supreme Soul, makes you beautiful from ugly. You receive His shrimat. The soul of the Supreme Father, the Supreme Soul, is ever pure and beautiful. Alloy becomes mixed into souls (example of gold). You understand that this old world is now going to be destroyed. Everyone is going to die, and there will be no one left to tell you to say: Rama, Rama. This death is such that everyone will die. Now, how many will die? How much fertilizer will the earth receive? So, why would the earth not give first-class grain? In the golden age, all the vegetation will be fresh and green. Things that go rotten are called fertilizer. When rubbish is burned, it becomes fertilizer. It takes timeto make fertilizer. It also takes time for this world to become new. When you go to the subtle region, you are shown many varieties of large fruit there. You are also given subiras (mango juice) to drink. You can imagine just how much fertilizer the earth, and especially Bharat, will receive. Very good things will emerge there. In the subtle region you are given the nectar of the golden age to drink and are also given visions of gardens etc. There, we will have a garden. Children came back after having had visions of how they drank the sweet nectar there; a prince would bring fruit from the garden. Now, there can be no garden in the subtle region. They must surely have gone to Paradise. Not everyone can be granted a vision. Only those who become instruments are granted visions. It is possible that if you stay in remembrance and remain Baba’s children and are completely surrendered, you may receive many visions later on. This bhatthi first had to be created. Many came into this bhatthi to become strong. It has been explained to you children that no one will understand anything simply by being given literature. A teacher is definitely needed to explain. A teacher can explain within a second that that One is your Father and that this one is Dada. That unlimited Father is the Creator of heaven. If you simply give people literature, they will glance at it and throw it away; they will not understand anything. You must definitely explain enough to show that the Father has come. It is your duty to beat the drums. There are Yadavas, Kauravas and Pandavas. The great Mahabharat War is standing ahead. There must have also been someone who taught Raja Yoga because the establishment of heaven must definitely have taken place. There will be the establishment of one religion and destruction of all other religions. You know that you are the ones who become Lakshmi from an ordinary woman and Narayan from an ordinary man. This is our aim and objective. It has been said that it didn’t take God long to change humans into deities. Only those who enter the sun dynasty are called deities. Those who go into the moon dynasty are called warriors. You first have to become a deity. You become a warrior if you fail. Therefore, Baba says: O sweetest, beloved, long-lost and now-found children. There are so many long-lost and now-found children. When someone’s child is found after having been lost for six or eight months, they meet one another with so much love! That father would have so much happiness. This Father also says: Beloved children, long-lost and now-found children, you have met Me again after 5000 years. Beloved children, you became separated, and you have now come again to meet Me in order to claim your unlimited inheritance. The deity world sovereignty is your Godfatherly birthright. Baba has come to give you an unlimited kingdom. This is Heavenly God , the Father. He says: I have brought a very big gift for you children. However, you have to become worthy enough for that by following shrimat. If you say “Mama and Baba” and forget or divorce Me, you cannot become a garland around My neck. Children are given so much love. A father places his children on his head. The unlimited Father has many children. Baba enables you to climb very high. Baba enables those who have fallen to the ground to climb up again. Therefore, how much happiness you should experience! You should follow shrimat. Follow the directions of the One. If you follow your own directions, you die. You will become an elevated human being, that is, a deity, if you follow shrimat. The warriors are two degrees less. Here, you have to become deities, not warriors, from human beings. The Father asks: How many marks will you pass with? Maintain the Father’s honour. The unlimited Father says: Become those of the sun dynasty. You know that 108 passed in the rosary of victory. You have to follow Mama and Baba. You make others into spinners of the discus of self-realization, similar to yourselves and bring them as gifts in front of Shiv Baba. Baba asks: How many have you made similar to yourself? This is an aspect of great pleasure. Only you understand these things. Someone new would definitely not understand. This is the college for becoming deities from human beings. Some become coloured very well in the seven days’ course, whereas others don’t become coloured at all. It is very difficult for dirty clothes to be coloured. You have to make a great deal of effort. The first thing that is explained to you children is that you should first ask everyone: Do you know the unlimited Father? They say: Yes, He is in me, He is omnipresent. Oh! if He is in you, then there is no question of asking! You call Him, “Father”, so how can the Father be in you and me? If He is the Father, you would surely receive an inheritance from Him. Firstly, explain about Alpha. The Father says: My long-lost and now-found children. Sannyasis and gurus cannot say this. You understand that you are definitely Shiv Baba’s long-lost and now-found children. You have come again after 5000 years to meet Him, in order to claim your inheritance of heaven. Do you know that you were the masters of heaven and that you will become those masters again? You definitely have to go to heaven. Then you will claim a high status according to your efforts. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Follow Mama and Baba and go into the sun dynasty. Do not follow your own directions. Claim a high deity status by following shrimat.
  2. Maintain the faith that you will always remain Baba’s. Have no doubt about anything.
Blessing: May you be a beloved child of the Comforter of Hearts and with the miracle of the intellect, experience the corporeal one in the subtle one.
Although some children have come later, they can experience the corporeal form through the subtle form. They say from experience that they have taken sustenance from the corporeal form and are receiving it even now. To experience the corporeal form in the subtle form is the practical form of the intellect’s love and of love. This is also evidence of the miracle of the intellect. Only such children are close to the Father, the Comforter of Hearts, and the beloved children of the Comforter of Hearts and they constantly have the song playing in their hearts, “Wah mera Baba. Wah!”
Slogan: Success is merged in every deed and step of a renunciate soul.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 18 JUNE 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 18 June 2018

To Read Murli 17 June 2018 :- Click Here
18-06-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

मीठे बच्चे – तुमने ईश्वर की गोद ली है मनुष्य से देवता बनने के लिए, उनकी श्रीमत ही तुम्हें मनुष्य से देवता बना देती है”
प्रश्नः- आप मुये मर गई दुनिया – इसका अर्थ क्या है?
उत्तर:- आप बच्चे जब बाप के पास जीते जी मरते हो तो सारी दुनिया ही खत्म हो जाती है। दूसरे मनुष्य तो जिस दुनिया में मरते हैं उसी दुनिया में जन्म लेते, लेकिन तुम्हारा जन्म फिर इस पुरानी दुनिया में नहीं होता। नया जन्म नई दुनिया में होता है। तुम बच्चों को स्वर्ग की बादशाही मिल जाती है।
गीत:- मरना तेरी गली में…..

ओम् शान्ति। यह भी गायन इस समय का है, जो फिर भक्ति मार्ग में गाया जाता है। इस समय जबकि तुम बाप के पास जीते जी मरते हो तो बरोबर सारी दुनिया ही खत्म हो जाती है। अज्ञान काल में मनुष्य मरते हैं तो फिर उसी ही दुनिया में जन्म लेते हैं। दुनिया कायम है। जिस दुनिया में मरते उसी दुनिया में जन्म लेते हैं। तुम बच्चे जब बाप के बनते हो तो यह दुनिया ही खत्म हो जाती है। कहावत है – आप मुये तो मर गई दुनिया.. परन्तु दुनिया विनाश तो नहीं हो जाती। इस ही दुनिया में फिर जन्म लेना पड़ता है। अभी तुम जबकि जीते जी मरते हो, तो आप मर जाते हो तो दुनिया भी खत्म हो जाती है। तुम मरेंगे तो यह दुनिया ही खत्म हो जायेगी। तुम जानते हो – हम फिर नई दुनिया में आयेंगे। यह सिर्फ तुम ब्राह्मण ही जानते हो। ईश्वर का बच्चा होने से हमको सतयुग का बर्थ राइट मिलता है। स्वर्ग की बादशाही मिलती है। नर्क खत्म हो जाता है। इसमें कोई मेहनत नहीं है, सिर्फ बाप को याद करना है। मनुष्य जब कोई मरने पर होते हैं तो उनको कहते हैं राम-राम कहो। पिछाड़ी में उठाने समय कहते हैं – राम नाम सत है… यह भगवान को ही कहते हैं। राम नाम सत है अर्थात् परमपिता परमात्मा जो सत है उसका ही नाम लेना चाहिए। उसको राम कह देते हैं। माला भी राम-राम कह सिमरते हैं। राम-राम की धुनि ऐसी लगाते हैं जैसे बाजा बजाते हैं। तुम बच्चों को बाप समझाते हैं कि कोई आवाज नहीं करना है। सिर्फ बुद्धि से याद करना है। तुम जानते हो – जीते जी ईश्वर की गोद में आने से यह दु:ख रूपी दुनिया खत्म हो जाती है। बाबा हम आपके गले का हार बन जायेंगे। गाया भी जाता है रुद्र माला। राम माला वा कृष्ण माला नहीं कहा जाता है। तुम रुद्र माला में पिरोने लिए इस रुद्र ज्ञान यज्ञ में बैठे हो कल्प पहले मुआ]िफक। दूसरा कोई सतसंग नहीं जहाँ ऐसे समझते हो कि हम ईश्वर बाप के गले में पिरोयेंगे। बाप से तो जरूर वर्सा मिलेगा। बाप – कौन कहते हैं? आत्मा। आत्मा में ही मन-बुद्धि है ना। बुद्धि समझती है फिर कहती है। पहले संकल्प आता है फिर कर्मेन्द्रियों से कहा जाता है – बरोबर हम बाबा के बने हैं, बाबा के ही होकर रहेंगे। गॉड फादर कहते हैं ना। फिर पूछो तुम्हारे में गॉड फादर की नॉलेज है? तो कहेंगे गॉड तो सर्वव्यापी है। बोलो – तुम्हारी आत्मा कहती है परमपिता परमात्मा तो पिता है, फिर सर्वव्यापी कैसे होगा? बच्चे में बाप आ गया क्या? बाप को सर्वव्यापी कहना बिल्कुल रांग है। लौकिक बाप के भी 5-7 बच्चे होंगे। क्या वह कहेंगे कि बाबा आप सर्वव्यापी हो? यह भी समझने की बात है। मुख से कहते हो परमपिता, फिर सर्वव्यापी कैसे कहते हो? पिता फिर मेरे में है – यह कैसे हो सकता! बच्चा फिर कहे मेरे में बाप का प्रवेश है, बच्चा थोड़ेही कहेगा मैं बाप हूँ। तुम आत्मा उनके बच्चे हो। फिर कहते हो पिता मेरे में भी है। बाप कैसे बच्चे में होगा? बहुत अच्छी रीति समझकर फिर समझाना है।

रुद्र ज्ञान यज्ञ तो मशहूर है। रुद्र है निराकार। कृष्ण तो साकार है। आखरीन भगवान किसको कहा जाये? कृष्ण को तो नहीं कह सकते। मनुष्य तो बहुत भूले हुए हैं – गॉड फादर इज ओमनी प्रेजेन्ट, मेरे में भी है। बाप तो घर में ही रहता और कहाँ रहेंगे। अभी बाप इस बेहद के घर में आया हुआ है। यहाँ विराजमान है। कहते हैं मैंने इसमें प्रवेश किया है। कुछ पूछना हो तो पूछो। आगे पित्रों को बुलाने का बहुत रिवाज था। पित्र तो आत्मा है ना। पित्र को यानी आत्मा को खिलाया जाता है। कहेंगे आज हमारे दादे का पित्र है, आज फलाने का पित्र है। तो आत्मा को बुलाया जाता है, खिलाया जाता है। समझो किसका स्त्री से प्यार है, उसकी आत्मा को बुलाते हैं। कहते हैं हमने हीरे की फुल्ली पहनाने का वायदा किया था, ब्राह्मण को बुलाकर उसे हीरे की फुल्ली पहनाते हैं। बुलाया तो आत्मा को ना। शरीर थोड़ेही आया। यह रस्म भारत में ही है। जैसे तुम सूक्ष्मवतन में जाते हो। कोई मर गया तो उनका भोग लगाते हो। सूक्ष्मवतन में वह आत्मा आती है। यह है बिल्कुल नई-नई बातें। जब तक कोई अच्छी रीति न समझे तब तक संशय उठता है। यह क्या करते हैं? ब्राह्मणों की रस्म-रिवाज देखो कैसी है।

इस समय सभी मनुष्य-मात्र तमोप्रधान हैं। बाबा तो है ही पतित-पावन। वह कभी तमोप्रधान नहीं होते। मनुष्य को पतित-पावन नहीं कहेंगे। पतित-पावन माना सारी दुनिया को पतित से पावन बनाने वाला। वह तो एक बाप के सिवाए दूसरा कोई हो न सके। धर्म स्थापक तो आते हैं अपना-अपना धर्म स्थापन करने। क्रिश्चियन धर्म का सिजरा वहाँ है। पहले क्राइस्ट आया, फिर उनके पिछाड़ी भी आते रहेंगे। वृद्धि को पाते रहेंगे। वह कोई पतित को पावन नहीं बनाते। नम्बरवार उन्हों की संख्या आती है। पतित-पावन तो इस समय चाहिए, जबकि सब कब्रदाखिल हो जाते हैं। सबको पावन बनाने वाला एक ही है। यह तो समझते हो बरोबर इस समय सारी दुनिया जड़जड़ीभूत है। बनेन ट्री का मिसाल देते हैं। बहुत बड़ा झाड़ होता है। उनके नीचे बहुत पार्टियां जाकर बैठती हैं। उसका फाउण्डेशन सड़ा हुआ है। बाकी सब टाल-टालियाँ खड़ी हैं। यह भी झाड़ है। देवी-देवता धर्म का जो झाड़ है उसका फाउण्डेशन उल्टा ऊपर है और जड़ एकदम कट गई है। बाकी सब हैं। बीज हो तब तो फिर से स्थापन करें। बाप कहते हैं – मैं फिर से आकर स्थापन कराता हूँ। ब्रह्मा द्वारा स्थापना, शंकर द्वारा विनाश। बरोबर अनेक धर्मों का विनाश हुआ था इस महाभारत लड़ाई में। जो राजयोग सीखते थे उन्हों की फिर राजधानी स्थापन हो गई। तुम जानते हो अभी हम बाबा के पास जायेंगे, फिर नई दुनिया में आयेंगे। फिर झाड़ वृद्धि को पाता रहेगा। देवी-देवता धर्म जो था वह इस समय प्राय:लोप है। तो बाप कहते हैं – मैं फिर से आकर आदि सनातन देवी-देवता धर्म की स्थापना करता हूँ। भारत जो ऊंच ते ऊंच था उनको अब ग्रहण लगा हुआ है। काम चिता पर बैठने से इस समय सारी दुनिया काली हो गई है। अब फिर तुम ज्ञान चिता पर बैठ गोरे बनते हो। तुम जो श्याम बन गये थे, श्याम से गोरा, सुन्दर बनाने वाला है परमपिता परमात्मा। उनकी श्रीमत मिलती है। परमपिता परमात्मा की आत्मा तो एवर प्योर गोरी है। आत्मा में ही खाद पड़ती है। (सोने का मिसाल) अभी तुम जानते हो इस पुरानी दुनिया का विनाश होना है। सबका मौत है। फिर तुमको कहने वाला कोई नहीं रहेगा कि राम-राम कहो। यह मौत ऐसा होता है जो सब मरेंगे। अभी कितने मरेंगे! कितनी खाद मिलेगी! तो क्यों नहीं धरती फर्स्टक्लास अनाज देगी। सतयुग में सब हरे-भरे सब्ज हो जायेंगे। सड़ी हुई चीज़ को खाद कहा जाता है। किचड़ा जलकर खाद बन जाता है। खाद बनने में भी टाइम लगता है। इस सृष्टि को भी नया बनने में टाइम लगेगा। तुम सूक्ष्मवतन में जाते हो। कितने बड़े-बड़े फल तुमको दिखाते हैं। शूबीरस पिलाते हैं। तुम विचार करो कितनी खाद मिलेगी – सो भी खास भारत को। वहाँ कितनी अच्छी-अच्छी चीज़ें निकलेंगी। सूक्ष्मवतन में बैकुण्ठ का शूबीरस तुमको पिलाते हैं। बगीचे आदि का साक्षात्कार कराते हैं। वहाँ हमारा बगीचा होगा। बच्चों ने साक्षात्कार किया है। शूबीरस पीकर आते थे। प्रिन्स बगीचे से फल ले आते थे। अब सूक्ष्मवतन में तो बगीचा हो न सके। जरूर बैकुण्ठ में गये होंगे। एक-एक को साक्षात्कार नहीं करायेंगे। जो निमित्त बनते हैं उनको कराते हैं। हो सकता है अगर तुम याद में रहेंगे, बाबा के बच्चे होकर रहेंगे तो पिछाड़ी में तुमको बहुत साक्षात्कार होंगे – जो पूरे सरेण्डर होंगे। यह तो पहले भट्ठी बननी थी। भट्ठी में पकना था तो बहुत आ गये। बच्चों को समझाया है सिर्फ कोई को लिटरेचर देने से समझ नहीं सकेंगे। समझाने वाला टीचर जरूर चाहिए। टीचर सेकेण्ड में समझायेगा – यह तुम्हारा बाबा है, यह दादा है, यह बेहद का बाप स्वर्ग का रचयिता है। सिर्फ कोई को लिटरेचर दिया तो देखकर फेंक देंगे। कुछ भी समझेंगे नहीं। इतना जरूर समझाना है कि बाप आया हुआ है। यह ढिंढोरा पिटवाना तुम्हारा फ़र्ज है।

बरोबर यादव कौरव पाण्डव भी हैं। महाभारत लड़ाई भी सामने खड़ी है। जरूर राजयोग सिखलाने वाला भी होगा। जरूर स्वर्ग की स्थापना भी होगी। एक धर्म की स्थापना, अनेक धर्मो का विनाश होगा। तुम जानते हो हम ही नर से नारायण, नारी से लक्ष्मी बनते हैं। यह है एम ऑब्जेक्ट। मनुष्य से देवता किये करत न लागी वार… देवता सिर्फ सूर्यवंशी को कहा जाता है। चन्द्रवंशी को क्षत्रिय कहा जाता है। पहले तो देवता बनना चाहिए ना। नापास होने से क्षत्रिय बन जाते हैं। तो बाप कहते हैं मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चे, कितने ढेर सिकीलधे बच्चे हैं। किसका बच्चा गुम हो जाता है, 6-8 मास बाद आकर मिलता है तो कितना प्यार से आकर मिलेगा। बाप को कितनी खुशी होगी। यह भी बाप कहते हैं – लाडले सिकीलधे बच्चे, तुम 5 हजार वर्ष बाद आकर मिले हो! लाडले बच्चे, तुम बिछुड़ गये थे, अब फिर आकर मिले हो बेहद का वर्सा लेने लिए। डीटी वर्ल्ड सावरन्टी इज़ योर गॉड फादरली बर्थ राइट। बाबा तुमको बेहद की बादशाही देने आया है। यह है हेविनली गॉड फादर। कहते हैं तुम बच्चों के लिए कितनी बड़ी सौगात लाये हैं। परन्तु इतना लायक बनना है। श्रीमत पर चलना है। बाबा-मम्मा कहकर फिर अगर भूल गये या फारकती दे दी तो गले का हार नहीं बनेंगे। बच्चों को कितना प्यार किया जाता है! बाप बच्चों को सिर पर रखते हैं। बेहद के बाप के कितने बच्चे हैं। बाबा कितना ऊंच चढ़ाते हैं। पाँव में जो गिरे हुए हैं उन्हों को भी ऊपर चढ़ाते हैं। तो कितना खुशी में रहना चाहिए और श्रीमत पर चलना चाहिए! एक की मत पर चलना है। अपनी मत पर चला तो यह मरा। श्रीमत पर चलेंगे तो तुम श्रेष्ठ मनुष्य अर्थात् देवता बनेंगे। क्षत्रिय तो फिर भी दो कला कम हो गये। यहाँ है ही मनुष्य से देवता बनने का, क्षत्रिय नहीं। बाप पूछते हैं ना कि कितने नम्बर में पास होंगे? आबरू (इज्जत) रखना। बेहद का बाप भी कहते हैं सूर्यवंशी बनो। जानते हो विजय माला 108 की ही पास हुई है। फालो करना है मम्मा-बाबा को। आप समान स्वदर्शन चक्रधारी बनाकर शिवबाबा के आगे सौगात ले आते हैं। बाबा पूछते हैं कितने को आप समान बनाया है? कितने मज़े की बातें हैं! तुम ही समझ सकते हो। नया कोई बिल्कुल नहीं समझेगा। यह मनुष्य से देवता बनने की कॉलेज है। कोई को तो 7 रोज में ही बहुत रंग चढ़ जाता है। कोई को तो बिल्कुल नहीं चढ़ता। छी-छी कपड़े पर बड़ा मुश्किल से रंग चढ़ता है। बहुत मेहनत करनी पड़ती है।

पहली-पहली बात बच्चों को समझाई कि पहले सबको बोलो – बेहद के बाप को तुम जानते हो? कहते – हाँ, मेरे में भी है, सर्वव्यापी है। अरे, तुम्हारे में भी है फिर तो पूछने की बात ही नहीं। कहते हो बाप है, तो फिर बाप तेरे में अथवा मेरे में कैसे हो सकता! बाप है, तो बाप से वर्सा जरूर मिलना चाहिए। पहले-पहले अल्फ पर समझाओ। बाप कहते हैं – हे मेरे सिकीलधे बच्चे। ऐसे कोई सन्यासी वा गुरू गोसाई नहीं कह सकते। तुम जानते हो बरोबर हम शिवबाबा के सिकीलधे बच्चे हैं। पाँच हजार वर्ष बाद फिर आकर मिले हो, स्वर्ग का वर्सा लेने। जानते हो हम स्वर्ग के मालिक थे, फिर हम ही मालिक बनते हैं। स्वर्ग में जाना जरूर है। फिर पुरुषार्थ अनुसार ऊंच पद पाना है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद, प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) मम्मा-बाबा को फालो कर सूर्यवंशी में आना है। अपनी मत पर नहीं चलना है। श्रीमत से ऊंच देव पद पाना है।

2) हम बाबा के ही होकर रहेंगे – इसी निश्चय में रहना है। कभी किसी बात में संशय नहीं उठाना है।

वरदान:- बुद्धि के चमत्कार द्वारा आकार में साकार का अनुभव करने वाले दिलाराम के दिलरुबा भव
कई बच्चे आये भल पीछे हैं लेकिन आकार रूप द्वारा भी अनुभव साकार रूप का करते हैं। ऐसे अनुभव से बोलते कि हमने साकार में पालना ली है और अब भी ले रहे हैं। तो आकार रूप में साकार का अनुभव करना यह बुद्धि की लगन का, स्नेह का प्रत्यक्ष स्वरूप है। यह भी बुद्धि के चमत्कार का सबूत है। ऐसे बच्चे ही दिलाराम बाप के समीप दिलाराम के दिलरुबा हैं जिनके दिल में सदा यही गीत बजता है – वाह मेरा बाबा वाह।
स्लोगन:- त्यागी आत्मा के हर कर्म वा कदम में सफलता समाई हुई है।
Font Resize