daily murli 18 JANUARY

TODAY MURLI 18 JANUARY 2021 DAILY MURLI (English)

Day Of Remembrance

18/01/21
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
18/01/21

BapDada’s invaluable elevated versions to be read in class on 18th January, the Day of Remembrance of Pita Shri.

Sweet children, you have to become supreme by having remembrance of the one Father, and so do not remember anyone else even by mistake.

Om shanti. The unlimited Father sits here and explains to you children: Sweet children, consider yourselves to be souls and remember Me, your Father, and remember your home. That is also called the Tower of SilenceTower of Sukh (happiness). A tower is very high. You are making effort to go there. The Father who resides in the Tower teaches you how you can go to the highest-on-high Tower of Silence. Children, consider yourselves to be souls. I, this soul, am a resident of the land of peace. That is the Father’s home. You have to instil this habit, while walking and moving around. Consider yourselves to be souls and remember the land of peace and the land of happiness. The Father knows that there is effort in this. Those who remain soul conscious are called mahavirs. Only through remembrance do you become a mahavir, supremeSupreme means powerful.

You children should be happy that Baba who makes you into the masters of heaven and masters of the world is teaching you. The intellects of souls go to the Father. This is the love of souls for the Father. Wake up early in the morning and have a sweet conversation with the Father. Baba, it is Your wonder! I never even dreamt that You would make me into a master of heaven! Baba, I will definitely follow Your teachings. I will not perform any sinful actions. Whatever effort Baba makes, he shares that with the children. Shiv Baba has so many children, so He would definitely be concerned, would He not? So many children are looked after. Here, you are sitting in the Godly family. The Father is personally sitting in front of you. I eat with You, I sit with You… You know that Shiv Baba comes in this one and says: Sweet children, constantly remember Me alone! Forget all your relations including that with your own body. This is your final birth. This old world and old body are to finish. There is a saying: When you die, the world is dead for you. There is just this short time of the confluence age for you to make effort. Children ask: Baba, till when will this study continue? Baba will continue to share knowledge with us until the deity kingdom is established. You will then be transferred to the new world. This is an old body and there will definitely continue to be one or another suffering of karma. You mustn’t have any hopes that Baba will help you in this. If you go bankrupt or you fall ill, the Father would say: That is your karmic account. However, yes, your lifespan will increase with yoga. Make your own effort. Do not ask for mercy. The more you remember the Father, the more benefit there is. As much as possible, do everything with the power of yoga. It is also sung: Hide me in Your eyelids. Something that is loved is said to be “The light of the eyes” or “Lovelier than life”. That Father is very lovely, but He is incognito. Your love for Him has to be such, don’t even ask! You children have to hide the Father in your eyelids. “Eyelids” doesn’t mean physical eyelids. It is a matter of remembering with the intellect. Most Beloved Incorporeal Father is teaching us. He is the Ocean of Knowledge, the Ocean of Happiness, the Ocean of Love. There has to be so much love for such a most Beloved Father. He serves you children so much, altruistically. He enters an impure body and makes you children become like diamonds. Baba is so sweet! So, you children have to become like that too. Baba serves you children while being so egoless. So, you children too have to do just as much service. You have to follow shrimat. If you show your own dictates, you will cross out your fortune. You Brahmins are children of God. The children of Brahma are brothers and sisters. You are Godly grandchildren. You are claiming your inheritance from Him. According to how much effort you make, you will receive a high status. You have to practise a great deal being a detached observer in this. Baba says: Sweet children, O souls, constantly remember Me alone. Even by mistake, do not remember anyone else except the Father. You have promised: Baba, You alone are mine! I am a soul and You are the Supreme Soul. I have to claim my inheritance from You. I am learning Raj Yoga from You from which I will claim the fortune of the kingdom.

Sweet children, you know this is the eternal drama. The game of victory and defeat continues in this. Whatever happens is fine. The Creator would definitely like His drama, would He not? So, the children of the Creator would also like it. In this drama, the Father only comes to you children once, to serve you from the depths of His heart with a lot of love. The Father loves all His children. You know that all in the golden age love one another a lot. There is love among the animals too. There wouldn’t be any animal that doesn’t have love. So, you children have to become master oceans of love here. If you become that here, that sanskar will become imperishable. The Father says: I have come exactly like I did a cycle ago to make you lovely once again. Whenever the Father hears the sound of anger coming from any child, He gives teachings: Children, it is not good to get angry, because you yourself will experience sorrow and others will also receive sorrow. The Father gives you happiness for all time and so you children have to become like the Father. You must not cause sorrow for one another.

You children know that Shiv Baba is the Lord of the Morning, the One who changes night into day, that is, the morning. The unlimited Father is the Lord. There is only one who is Sai Baba, the Lord of the Morning, the Innocent Lord, Shiv Baba. His very name is the Innocent Lord. He places the urn of knowledge on the innocent kumaris and mothers. He makes them into the masters of the world. He shows such an easy method. He sustains you with knowledge with so much love. Stay on the pilgrimage of remembrance. In order to purify you souls. You have to bathe in yoga. Knowledge is the study. Sins will be burnt away by bathing in yoga. Continue to practise considering yourself to be souls, so that the arrogance of bodies completely breaks away. It is only by having yoga that you can become pure and satopradhan and go to Baba. Some children do not understand these things that well. They do not show their chart honestly. They have stayed in the world of falsehood for half a cycle, and so it is as though the falsehood has got stuck in them. You have to show the Father your chart with honesty. Check: I sat for 45 mins; so for how long did I consider myself to be a soul and remember the Father in that time? Some are ashamed to tell the truth. They would very quickly tell you how much service they did, how many they explained to, but their chart of remembrance: they would not tell you the truth about that. Because of not staying in remembrance, your arrow is not able to strike anyone and there is no power in the sword of knowledge. Some say that they are always in remembrance. Baba says: You don’t have that stage yet. If you were always in remembrance, you would be in the karmateet stage. It takes a lot of effort for the enlightenment of knowledge to be visible. You will not become a master of the world just like that. Remember no one apart from the one Father. Even this body should not be remembered. You will have this stage at the end. You will continue to earn an income with the pilgrimage of remembrance. If you were to shed your body, you would not be able to earn anything. Although you, the soul, would take those sanskars with you, a teacher would still be needed to remind you. The Father repeatedly continues to remind you. There are many children who live at home, have a job and follow shrimat to claim a high status and also continue to accumulate for their future. They continue to take advice from the Father. If you have money, how can you use that in a worthwhile way? Baba says: Open a centre through which many can benefit. People make donations and perform charity and receive the fruit of that in their next birth. You too receive the fortune of the kingdom for your future 21 births. This is your number one bank. Credit your account with four annas (a penny) and you will receive a thousand in the future. Stone will turn to gold. Everything of yours will become divine. Baba says: Sweet children, if you want to claim a high status, follow the Mother and Father fully and take control of your physical senses. If you don’t control your physical senses and your activity is not good, you will be deprived of a high status. You have to reform your activities. Do not have many desires.

Baba decorates you so much with knowledge and makes you into the emperors and empresses of the golden age. For this, a great deal of the virtue of tolerance is needed. Do not have too much attachment to bodies. Do everything with the power of yoga. Baba coughs so much, but he still remains constantly engaged in doing service. He decorates you children with knowledge and yoga and makes you worthy. You are now sitting in the God’s lap, in the lap of the Mother and Father. The Father gives birth to you through the mouth of Brahma and so he becomes the mother. However, your intellects still go to Shiv Baba: You are the Mother and Father and we are Your children… You have to become full of all virtues here. Do not be defeated by Maya again and again. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and Good morning from the mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Avyakt Elevated Versions:

Are all of you carrying out your work while being stable in a yogyukt and yuktiyukt stage? This is because, at the present time, your thoughts, words and deeds, all three, have to be yuktityukt, for only then will you be able to become complete and perfect. Let the atmosphere everywhere be yogyukt and yuktiyukt. On a battlefield, when all the warriors are standing in front of their enemy to go into battle, they pay so much attention to themselves and to their weapons, that is, their powers. The time is now continuing to come closer. You know that it is now the time to come to the front of the battlefield. At such a time, you need to pay attention everywhere and to all your powers. If you pay even slightly less attention, then, as the tension increases according to the time, the impact of an atmosphere of tension everywhere can also influence the spiritual Pandavas who are engaged in the battle. Day by day, as the time of perfection continues to come closer, tension in the world will increase even more, it will not decrease. Everywhere, they will experience a life of struggle, as though they are being pulled in every direction. On one side, there will be the tension of minor natural calamities, on another side there will be the tension of the strict laws of the government, on the third side there will be the tension of something missing in relationships and on the fourth side, the feeling of the little happiness that you have because of love and freedom with your lokik relatives will finish and there will be the tension of this fear. Tension from all directions will increase in people. Souls will be desperate in the midst of the tension everywhere. Wherever they go, there will be tension. When one of the nerves of a body is pulled, it causes so much distress. It feels as if your head is being pulled. In the same way, this atmosphere will also increase. There will be no destination visible, as to what to do now. If you say, “Yes”, there is a struggle, and if you say “No”, there is a struggle. If you earn, there is difficulty and if you do not earn there is difficulty. If you accumulate, there is difficulty and if you do not accumulate, there is difficulty. Such an atmosphere will continue to be created. At such a time, let there be no impact from the tension everywhere on the spiritual Pandava army. Even if there is no problem with yourself having any tension, the influence of the atmosphere easily makes an impact on weak souls. There is the fear of what will happen or how it will happen, and, so as not to be influenced by those things, let there be an official programme for the Godly pilgrimage of remembrance be sent from Madhuban every now and then so that the fortress of souls remains strong.

Now, service will increase a lot, but with this increase, you also have to remain very yuktiyukt. There will now be a greater number of people who form a relationship or connection with you. Few will come who become embodiments. Not everyone who emerges will be the same. Day by day, the quality will be of weak souls, that is, there will be a greater number of subjects. They would like just one thing, they will not want two things. They will not have faith in everything. So, even for those who are just in contact, continue to keep them in contact by providing them with whatever they want. As times become more delicate, then, according to the problems, it will be difficult for them to become regular students. However, many will come into contact with you because these are the final moments. So, what is the last pose like? There were huge waves of zeal and enthusiasm in you at the beginning. Scarcely anyone has that now. The majority of those that come will be those who are in a relationship or connection. So, this attention is needed. Let it not be that, because you do not recognise souls who are to be in connection, you deprive them of that too. Let no one return empty-handed. Even if they are not able to follow the disciplines, but they wish to be in a loving connection, definitely pay attention to such souls. Understand that this group is of the third stage and so they must receive appropriate handling. Achcha. Om shanti.

Blessing: May you be an embodiment of power who sacrifices all your weaknesses out of love.
The sign of love is sacrifice. To sacrifice something out of love, even something difficult or impossible, becomes possible and easy. So, with the blessing of being an embodiment of power, sacrifice all your weaknesses, not out of compulsion, but with your heart, because only the truth is accepted by the Father who is the Truth. So, do not just sing songs of the Father’s love, but become an embodiment of the avyakt stage, the same as the Father, and everyone will sing your songs.
Slogan: When there is the remembrance of the one Comforter of Hearts in your thoughts and dreams, you would then be said to be a true tapaswi.

 

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 18 JANUARY 2021 : AAJ KI MURLI

स्मृति दिवस

18-01-21
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”मातेश्वरी”
रिवाइज: 18-01-21 मधुबन

18 जनवरी पिताश्री जी के पुण्य स्मृति दिवस पर प्रात : क्लास में सुनाने के लिए – बापदादा के अनमोल महावाक्य

 मीठे बच्चे – एक बाप की याद से तुम्हें सुप्रीम बनना है तो भूले  चूके भी किसी और को याद नहीं करना 

ओम् शान्ति। बेहद का बाप बैठ बच्चों को समझाते हैं – मीठे बच्चे अपने को आत्मा समझ मुझ बाप को याद करो और अपने घर को याद करो। उनको कहा ही जाता है टावर ऑफ साइलेन्स। टावर ऑफ सुख। टावर बहुत ऊंचा होता है। तुम वहाँ जाने के लिए पुरुषार्थ कर रहे हो। ऊंच ते ऊंच टावर आफ साइलेन्स में तुम कैसे जा सकते हो, यह भी टावर में रहने वाला बाप बैठ सिखलाते हैं, बच्चे, अपने को आत्मा समझो। हम आत्मा शान्तिधाम की निवासी हैं। वह है बाप का घर। यह चलते-फिरते टेव (आदत) डालनी है। अपने को आत्मा समझो और शान्तिधाम, सुखधाम को याद करो। बाप जानते हैं इसमें ही मेहनत है। जो आत्म-अभिमानी होकर रहते हैं उनको कहा जाता है महावीर। याद से ही तुम महावीर, सुप्रीम बनते हो। सुप्रीम अर्थात् शक्तिवान।

बच्चों को खुशी होनी चाहिए – स्वर्ग का मालिक बनाने वाला बाबा, विश्व का मालिक बनाने वाला बाबा हमें पढ़ा रहा है। आत्मा की बुद्धि चली जाती है बाप की तरफ। यह है – आत्मा का लव एक बाप के साथ। सवेरे-सवेरे उठ बाबा से मीठी-मीठी बातें करो। बाबा आपकी तो कमाल है, स्वप्न में भी नहीं था आप हमको स्वर्ग का मालिक बनायेंगे। बाबा हम आपकी शिक्षा पर जरूर चलेंगे। कोई भी पाप का काम नहीं करेंगे। बाबा जैसे पुरुषार्थ करते हैं, बच्चों को भी सुनाते हैं। शिवबाबा को इतने ढेर बच्चे हैं, ओना तो होगा ना। कितने बच्चों की सम्भाल होती है। यहाँ तुम ईश्वरीय परिवार में बैठे हो। बाप सम्मुख बैठा है। तुम्हीं से खाऊं, तुम्ही से बैठूँ.. तुम जानते हो शिवबाबा इसमें आकर कहते हैं – मीठे बच्चे मामेकम् याद करो। देह सहित देह के सभी सम्बन्धों को भूल जाओ। यह अन्तिम जन्म है। यह पुरानी दुनिया, पुरानी देह खलास हो जानी है। कहावत भी है आप मुये मर गई दुनिया। पुरुषार्थ के लिए थोड़ा सा संगम का समय है। बच्चे पूछते हैं बाबा यह पढ़ाई कब तक चलेगी? जब तक दैवी राजधानी स्थापन हो जाए तब तक सुनाते रहेंगे। फिर ट्रांसफर होंगे नई दुनिया में। यह पुराना शरीर है, कुछ न कुछ कर्मभोग चलता रहता है। इसमें बाबा मदद करे – यह उम्मींद नहीं रखनी चाहिए। देवाला निकला, बीमार हुआ – बाप कहेंगे यह तुम्हारा हिसाब-किताब है। हाँ फिर भी योग से आयु बढ़ेगी। अपनी मेहनत करो। कृपा मांगो नहीं। बाप को जितना याद करेंगे इसमें ही कल्याण है। जितना हो सके योगबल से काम लो। गाते भी हैं ना – मुझे पलकों में छिपा लो.. प्रिय चीज़ को नूरे रत्न, प्राण प्यारा कहते हैं। यह बाप तो बहुत प्रिय है, परन्तु है गुप्त। उनके लिए लव ऐसा होना चाहिए जो बात मत पूछो। बच्चों को तो बाप को पलकों में छिपाना पड़े। पलकें कोई यह आंखे नहीं। यह तो बुद्धि में याद रखना है। मोस्ट बिलवेड निराकार बाप हमें पढ़ा रहे हैं। वह ज्ञान का सागर, सुख का सागर है, प्यार का सागर है। ऐसे मोस्ट बिलवेड बाप के साथ कितना प्यार चाहिए। बच्चों की कितनी निष्काम सेवा करते हैं। पतित शरीर में आकर तुम बच्चों को हीरे जैसा बनाते हैं। कितना मीठा बाबा है। तो बच्चों को भी ऐसा मीठा बनना है। कितना निरंहकार से बाबा तुम बच्चों की सेवा करते हैं, तो तुम बच्चों को भी इतनी सेवा करनी चाहिए। श्रीमत पर चलना चाहिए। कहाँ अपनी मत दिखाई तो तकदीर को लकीर लग जायेगी। तुम ब्राह्मण ईश्वरीय सन्तान हो। ब्रह्मा की औलाद भाई-बहन हो। ईश्वरीय पोत्रे-पोत्रियाँ हो। उनसे वर्सा ले रहे हो। जितना पुरुषार्थ करेंगे उतना पद पायेंगे। इसमें साक्षी रहने का भी बहुत अभ्यास चाहिए। बाबा कहते हैं, मीठे बच्चे, हे आत्मायें मामेकम् याद करो। भूले चुके भी बाप के सिवाए कोई को याद नहीं करना। तुम्हारी प्रतिज्ञा है बाबा मेरे तो एक ही आप हो। हम आत्मा हैं, आप परमात्मा हो। आप से ही वर्सा लेना है। आप से ही राजयोग सीख रहे हैं, जिससे राज्य-भाग्य पाते हैं।

मीठे बच्चे, तुम जानते हो यह अनादि ड्रामा है। इसमें हार जीत का खेल चलता है। जो होता है वह ठीक है। क्रियेटर को ड्रामा जरूर पसन्द होगा ना, तो क्रियेटर के बच्चों को भी पसन्द होगा। इस ड्रामा में बाप एक ही बार बच्चों के पास बच्चों की दिल व जान, सिक व प्रेम से सेवा करने आते हैं। बाप को तो सब बच्चे प्यारे हैं। तुम जानते हो सतयुग में भी सब एक दो को बहुत प्यार करते हैं। जानवरों में भी प्यार रहता है। ऐसे कोई जानवर नहीं होते जो प्यार से न रहें। तो तुम बच्चों को यहाँ मास्टर प्यार का सागर बनना है। यहाँ बनेंगे तो वह संस्कार अविनाशी बन जायेंगे। बाप कहते हैं कल्प पहले मिसल हूबहू फिर से प्यारा बनाने आया हूँ। कभी किसी बच्चे का गुस्से का आवाज सुनते हैं तो बाप शिक्षा देते हैं बच्चे, गुस्सा करना ठीक नहीं है, इससे तुम भी दु:खी होंगे दूसरों को भी दु:खी करेंगे। बाप सदाकाल का सुख देने वाला है तो बच्चों को भी बाप समान बनना है। एक दो को कभी दु:ख नहीं देना है।

तुम बच्चे जानते हो शिवबाबा है सुबह का सांई… रात को दिन अथवा सवेरा बनाने वाला है। सांई कहा जाता है बेहद के बाप को। वह एक ही सांई बाबा, भोलानाथ शिवबाबा है। नाम ही है भोलानाथ। भोली-भोली कन्याओं, माताओं पर ज्ञान का कलष रखते हैं। उन्हों को ही विश्व का मालिक बनाते हैं। कितना सहज उपाय बताते हैं। कितना प्यार से तुम्हारी ज्ञान की पालना करते हैं। आत्मा को पावन बनाने के लिए याद की यात्रा में रहो। योग का स्नान करना है। ज्ञान है पढ़ाई। योग स्नान से पाप भस्म होते हैं। अपने को आत्मा समझने का अभ्यास करते रहो, तो यह देह का अंहकार बिल्कुल टूट जाए। योग से ही पवित्र सतोप्रधान बन बाबा के पास जाना है। कई बच्चे इन बातों को अच्छी रीति समझते नहीं हैं। सच्चा-सच्चा अपना चार्ट बताते नहीं हैं। आधाकल्प झूठी दुनिया में रहे हैं तो झूठ जैसे अन्दर जम गया है। सच्चाई से अपना चार्ट बाप को बताना चाहिए। चेक करना है – हम पौना घण्टा बैठे, इसमें कितना समय अपने को आत्मा समझ बाप को याद किया! कईयों को सच बताने में लज्जा आती है। यह तो झट सुनायेंगे कि इतनी सर्विस की, इतने को समझाया परन्तु याद का चार्ट कितना रहा, वह सच नहीं सुनाते हैं। याद में न रहने कारण ही तुम्हारा किसको तीर नहीं लगता है। ज्ञान तलवार में जौहर नहीं भरता है। कोई कहते हम तो निरन्तर याद में रहते हैं, बाबा कहते वह अवस्था है नहीं। निरन्तर याद रहे तो कर्मातीत अवस्था हो जाए। ज्ञान की प्राकाष्ठा दिखाई दे, इसमें बड़ी मेहनत है। विश्व का मालिक ऐसे ही थोड़ेही बन जायेंगे। एक बाप के सिवाए और कोई की याद न रहे। यह देह भी याद न आये। यह अवस्था तुम्हारी पिछाड़ी को होगी। याद की यात्रा से ही तुम्हारी कमाई होती रहेगी। अगर शरीर छूट गया फिर तो कमाई कर नहीं सकेंगे। भल आत्मा संस्कार ले जायेगी परन्तु टीचर तो चाहिए ना जो फिर स्मृति दिलाये। बाप घड़ी-घड़ी स्मृति दिलाते रहते हैं। ऐसे बहुत बच्चे हैं जो गृहस्थ व्यवहार में रहते, नौकरी आदि भी करते और ऊंच पद पाने के लिए श्रीमत पर चल अपना भविष्य भी जमा करते रहते। बाबा से राय लेते रहते। पैसा है तो उसको सफल कैसे करें। बाबा कहते सेन्टर खोलो, जिससे बहुतों का कल्याण हो। मनुष्य दान पुण्य आदि करते हैं, दूसरे जन्म में उसका फल मिलता है। तुमको भी भविष्य 21 जन्मों के लिए राज्य भाग्य मिलता है। तुम्हारी यह नम्बरवन बैंक है, इसमें 4 आना डालो तो भविष्य में हजार बन जायेगा। पत्थर से सोना बन जायेगा। तुम्हारी हर चीज़ पारस बन जायेगी। बाबा कहते मीठे बच्चे ऊंच पद पाना है तो मात पिता को पूरा फालो करो और अपनी कर्मेन्द्रियों पर कन्ट्रोल रखो। अगर कर्मेन्द्रियाँ वश नहीं, चलन ठीक नहीं तो ऊंच पद से वंचित हो जायेंगे। अपनी चलन को सुधारना है। जास्ती तमन्नायें नहीं रखनी है।

बाबा तुम बच्चों को कितना ज्ञान श्रृंगार कराए सतयुग के महाराजा महारानी बनाते हैं। इसमें सहनशीलता का गुण बहुत अच्छा चाहिए। देह के ऊपर टूमच मोह नहीं होना चाहिए। योगबल से भी काम लेना है। बाबा को कितनी भी खांसी आदि होती फिर भी सदैव सर्विस पर तत्पर रहते हैं। ज्ञान योग से श्रृंगार कर बच्चों को लायक बनाते हैं। तुम अभी ईश्वरीय गोद में, मात पिता की गोद में बैठे हो। बाप ब्रह्मा मुख से तुम बच्चों को जन्म देते हैं तो यह माँ हो गई। परन्तु तुम्हारी बुद्धि फिर भी शिवबाबा की तरफ जाती है। तुम मात पिता हम बालक तेरे…। तुमको सर्वगुण सम्पन्न यहाँ बनना है। घड़ी-घड़ी माया से हार नहीं खानी है। अच्छा-

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मातपिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

अव्यक्त  महावाक्य

सभी योग-युक्त और युक्तियुक्त स्थिति में स्थित होते हुए अपना कार्य कर रहे हैं? क्योंकि वर्तमान समय-प्रमाण संकल्प, वाणी और कर्म ये तीनों ही युक्तियुक्त चाहिए तब ही सम्पन्न व सम्पूर्ण बन सकेंगे। चारों तरफ का वातावरण योग-युक्त और युक्तियुक्त हो। जैसे युद्ध के मैदान में जब योद्धे युद्ध के लिये दुश्मन के सामने खड़े हुए होते हैं तो उनका अपने ऊपर और अपने शस्त्रों के ऊपर अर्थात् अपनी शक्तियों के ऊपर कितना अटेन्शन रहता है। अभी तो समय समीप आता जा रहा है, यह मानो युद्ध के मैदान में सामने आने का समय है। ऐसे समय में चारों ओर सर्वशक्तियों का स्वयं में अटेन्शन चाहिए। अगर जरा भी अटेन्शन कम होगा तो जैसे-जैसे समय-प्रमाण चारों ओर टेन्शन बढ़ता जाता है, ऐसे ही चारों ओर टेन्शन के वातावरण का प्रभाव, युद्ध में उपस्थित हुए रूहानी पाण्डव सेना पर भी पड़ सकता है। दिन-प्रतिदिन जैसे सम्पूर्णता का समय नजदीक आता जायेगा तो दुनिया में टेन्शन और भी बढ़ेगा, कम नहीं होगा। खींचातान के जीवन का चारों ओर अनुभव होगा जैसेकि चारों ओर से खींचा हुआ होता है। एक तरफ से प्रकृति की छोटी-छोटी आपदाओं के नुकसान का टेन्शन, दूसरी तरफ इस दुनिया की गवर्नमेन्ट के कड़े लॉज का टेन्शन, तीसरी तरफ व्यवहार में कमी का टेन्शन, और चौथी तरफ जो लौकिक सम्बन्धी आदि से स्नेह और फ्रीडम होने के कारण खुशी की भासना अल्पकाल के लिये रहती है, वह भी समाप्त होकर भय की अनुभूति के टेन्शन में, चारों ओर का टेन्शन लोगों में बढ़ना है। चारों ओर के टेन्शन में आत्मायें तड़फेंगी। जहाँ जायेंगी वहाँ टेन्शन। जैसे शरीर में भी कोई नस खिंच जाती है तो कितनी परेशानी होती है। दिमाग खिंचा हुआ रहता है। ऐसे ही यह वातावरण बढ़ता जायेगा। जैसेकि कोई ठिकाना नज़र नहीं आयेगा कि क्या करें? अगर हाँ करे तो भी खिंचावट, ना करें तो भी खिंचावट, कमावें तो भी मुश्किल, न कमावें तो भी मुश्किल। इकट्ठा करें तो भी मुश्किल, न करें तो भी मुश्किल। ऐसा वातावरण बनता जायेगा। ऐसे टाइम पर चारों ओर के टेन्शन का प्रभाव रूहानी पाण्डव सेना पर न हो। स्वयं को टेन्शन में आने की समस्यायें न भी हों, लेकिन वातावरण का प्रभाव कमजोर आत्मा पर सहज ही हो जाता है। भय का सोच कि क्या होगा? कैसे होगा? इन बातों का प्रभाव न हो – उसके लिये कोई-न-कोई बीच-बीच में ईश्वरीय याद की यात्रा का विशेष प्रोग्राम मधुबन द्वारा ऑफिशियल जाते रहना चाहिए जिससे कि आत्माओं का किला मजबूत रहेगा।

आजकल सर्विस भी बहुत बढ़ेगी। लेकिन बढ़ने के साथ-साथ युक्ति-युक्त भी बहुत चाहिए। आजकल सम्बन्ध और सम्पर्क में रहने वाले ज्यादा आयेंगे। स्वरूप बनने वाले कम आयेंगे। सब एक जैसे नहीं निकलेंगे। दिन-प्रतिदिन क्वालिटी भी कमजोर आत्माओं अर्थात् प्रजा की संख्या ज्यादा आयेगी, उन्हें एक बात अच्छी लगेगी, दो नहीं लगेंगी। सब बातों में निश्चय नहीं होगा। तो सम्पर्क वालों को भी, उन्हों को जो चाहिए-उसी प्रमाण उन्हों को सम्पर्क में रखते रहना है। समय जैसे नाज़ुक आता जायेगा वैसे समस्या प्रमाण भी उनके लिये रेग्युलर स्टुडेण्ट बनना मुश्किल होगा। लेकिन सम्पर्क में ढेर के ढेर आयेंगे क्योंकि लास्ट समय है ना। तो लास्ट पोज़ कैसा होता है? जैसे पहले उछल, उमंग, उत्साह होता है – वह विरला कोई का होगा। मैजॉरिटी सम्बन्ध और सम्पर्क वाले आयेंगे। तो यह अटेन्शन चाहिए। ऐसे नहीं कि सम्पर्क वाली आत्माओं को न परखते हुए सम्पर्क से भी उन्हें वंचित कर दो। खाली हाथ कोई भी न जाये, नियमों पर भल नहीं चल पाते हैं, लेकिन वह स्नेह में रहना चाहते हैं, तो ऐसी आत्माओं का भी अटेन्शन जरूर रखना है। समझ लेना चाहिए कि यह ग्रुप इसी प्रमाण तीसरी स्टेज वाला है, तो उन्हों को भी उसी प्रमाण हैण्डलिंग मिलनी चाहिए। अच्छा। ओम् शान्ति।

वरदान:- वरदान :- स्नेह के पीछे सर्व कमजोरियों को कुर्बान करने वाले समर्थी स्वरूप भव
स्नेह की निशानी है कुर्बानी। स्नेह के पीछे कुर्बान करने में कोई मुश्किल वा असम्भव बात भी सम्भव और सहज अनुभव होती है। तो समर्थी स्वरूप के वरदान द्वारा सर्व कमजोरियों को मजबूरी से नहीं दिल से कुर्बान करो क्योंकि सत्य बाप के पास सत्य ही स्वीकार होता है। तो सिर्फ बाप के स्नेह के गीत नहीं गाओ लेकिन स्वयं बाप समान अव्यक्त स्थिति स्वरूप बनो जो सब आपके गीत गायें।
स्लोगन:- संकल्प वा स्वप्न में भी एक दिलाराम की याद रहे तब कहेंगे सच्चे तपस्वी।

TODAY MURLI 18 JANUARY 2020 DAILY MURLI (English)

Day Of Remembrance

18/01/20 These sweet elevated versions are to be read in the morning class on the Day of Remembrance of our beloved Pita Shriji Prajapita Brahma. 18/01/20

Essence: Sweet children, your activity has to be very royal. You are becoming deities and therefore let your aim, its qualifications and whatever you say and do be the same.

Song: Having found You, I have found the whole world!

Om shanti. You sweetest, spiritual children heard the song. There are now few children and there will then be many children. Everyone has to know Prajapita Brahma. Those of all religions will accept him. Baba has explained that even lokik fathers are limited Brahmas. There, the genealogical trees are created by their surnames. This then is unlimited. His name is Prajapita Brahma. There, it is a limited Brahma who creates children – limited. Some may have two to four children and some would not create any. For this one, you cannot say that he does not have any children. All the people in the world are his children. The unlimited Bap and Dada both have a lot of spiritual love for you sweetest children. He educates you children with so much love and makes you something great from what you were! So, the mercury of happiness of you children should rise so high. The mercury of happiness will rise when you constantly continue to remember the Father. The Father does the service of purifying you children with a lot of love every cycle. He purifies everyone, along with the five elements. He changes you from shells into diamonds. This is such huge unlimited service. The Father continues to give teachings to you children with a lot of love because it is the duty of the Father and the Teacher to reform the children. Only by following the Father’s shrimat do you become elevated. You children should note down in your charts whether you follow shrimat or the dictates of your own mind. Only with shrimat will you will become accurate. The more loving your intellects are for the Father, the more you will remain full of incognito happiness. Ask your heart: Do I have that high-spirited happiness? Do I have unadulterated remembrance? Do I have any desires? Do I remember the one Father? Only when the discus of self-realisation continues to turn should the soul leave the body. Belong to one Shiv Baba and none other. This is the final mantra.

The Father asks you spiritual children: Sweet children, when you see BapDada in front of you, does it enter your intellects that your Baba is your Father and also your Teacher and Satguru? The Father is taking us from this old world to the new world. This old world is now about to finish. It is now of no use. The Father makes the world new every cycle and we become Narayan from an ordinary human every cycle. You children should churn this and have so much enthusiasm. Children, there is now very little time. What are you today and what will you be tomorrow? This is a game of today and tomorrow and this is why you children must not make any mistakes. The activity of you children has to be very royal. Each of you needs to look at yourself and see whether your activity is like that of the deities. Is your head (brain) like that of the deities? Are you becoming what your aim is or do you just speak about it? Remain intoxicated with the knowledge that you have received. To the extent that you remain introverted and think about these things, you will experience a lot of happiness. You children also know that little time remains to go to that world from this world. Since you have left that world behind, why look back? Why does your intellects’ yoga go in that direction? You have to do everything with your intellects. Since you have gone beyond, why should your intellects be pulled? Do not think about things that have passed. Do not have any expectations of this old world. You now just have to have one elevated hope: we now have to go to our land of happiness. You must not stop anywhere or look anywhere else. Just continue to move ahead. Continue to look in only one direction for only then will your stage become unshakable, immovable and stable. Times are becoming very delicate and the conditions of this old world are getting worse. You have no connection with it. Your connection is with the new world which is now being established. The Father has explained that the cycle of 84 is now finishing. This world is now definitely going to finish, it is now in a very serious condition. At this time, it is the elements that are getting angry the most and this is why they destroy everything. You now know that the elements are going to show their anger very strongly and will drown the entire old world. There will be floods and fires and people will starve to death. All the buildings will fall in the earthquakes. The whole world will experience all these conditions. Death will take place in many different ways. They will release such gasbombs that people will just die from their bad fumes. This whole dramaplan is created and no one can be blamed for it. Destruction is definitely going to take place and this is why you have to remove your intellects’ yoga away from this old world. Now, you would say: “Wah Satguru!” to the One who has shown you this path. Our truest Guru is the one Baba alone and His name is still remembered on the path of devotion and is praised. You children would say: Wah Satguru! Wah! Wah fortune! Wah! Wah drama! Wah! We are receiving salvation through the Father’s knowledge.

You children have become instruments to establish peace in the world. So, tell everyone the good news that New Bharat and the New World in which Lakshmi and Narayan ruled is being established once again. This world of sorrow has to change and become the land of happiness. You should have the happiness inside that you are becoming the masters of the land of happiness. There, no one will ask you whether you are happy and content or whether your health is OK. These questions are asked in this world because this is the world of sorrow. No one can ask you children these questions. You would say: We are the children of God and so how can you ask us about our welfare? We are always happy and content. There is even greater happiness here than in heaven because, having found the Father who establishes heaven, you have found everything. You were concerned about the one Father who lives beyond in the element of brahm, and, now that you have found Him, who else would you be concerned about? Always have this intoxication. You have to be very royal and very sweet. Now is the only time to make your fortune elevated. The main way to become multimillion times fortunate is to move with caution at every step and to be introverted. Always pay attention: “Whatever actions I perform, others who see me will do the same.” Body consciousness, etc. is the seed of the vices that has been sown for half the cycle. These seeds are sown throughout the whole world. They now have to become merged. Seeds of body consciousness must not be sown. Now, seeds of soul consciousness have to be sown. It is now your stage of retirement. You have found the most beloved Father and He alone must be remembered. To remember your own bodies or bodily beings, instead of the Father, is a mistake. You also have to make effort to become soul conscious and to become cool.

Sweet children, you must never become distressed with this life of yours. This life has been remembered as invaluable. You have to look after it and also earn an income. However many days you stay here, you will continue to remember the Father and earn a lot of income and your karmic accounts will continue to be settled. Therefore, never get fed up. Some children ask: Baba, when will the golden age come? Baba says: Children, first of all, at least make your stage karmateet. Whatever time you have, make effort to become karmateet. You children need to have a lot of courage to become destroyers of attachment. If you want to claim the full inheritance from the unlimited Father, you have to become destroyers of attachment. You have to make your stage very elevated. You belong to the Father and so you have to become engaged in the Father’s alokik service. A very sweet nature is needed. It is their natures that harass people a lot. Continue to check yourself with your third eye of knowledge that you have received. Whatever defects you have, remove them and become a pure diamond. If there is the slightest defect, your value would be decreased. Therefore, make effort and make yourself a valuable diamond.

The Father is now inspiring you to make effort in your connections and relationships with the new world. Sweet children, now have a relationship with the unlimited Father and the inheritance of unlimited happiness. It is only the one unlimited Father who liberates you from bondage and takes you into alokik relationships. Always have the awareness that you are those who have Godly relationships. These Godly relationships give constant happiness. Achcha.

To the sweetest, long-lost and now-found, beloved children, to the deeply loving children, love and remembrance from the depths of the heart, with a lot of love from Mother, the Father and BapDada. Good morning. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Sweet elevated versions of Avyakt BapDada (revised):

In order to become an image of success, you need two main specialities – the first is purity and the second is unity. If purity is lacking, then unity will also be lacking. Purity is not just the vow of celibacy; there also has to be purity in your thoughts, nature and sanskars. For instance, if you have thoughts of jealousy or dislike, that is not purity; that would be said to be impurity. The definition of purity is that there mustn’t be the slightest trace of any of the vices. Let there not be any type of impurity even in your thoughts. You children have become instruments to accomplish the highest task. You have become instruments in the form of maharathis, have you not? If you were to make a list, then it would only be serviceable ones and the Brahmin children who are instruments for service who would be listed in the list of maharathis. To what extent have you developed the speciality of a maharathi? Each one of you knows this for yourselves. Those who are in the list of maharathis: will they still be in the list of maharathis in the future or are they just in the current list of maharathis? Attention has to be paid to both these aspects.

Unity means unity of sanskars and natures. Even if someone’s sanskars and nature are not harmonising, try and harmonise them – this is unity. A gathering alone is not called unity. Without these two things, instrumental serviceable souls cannot become instruments for unlimited service. They can be this for limited service, but both of these aspects are needed for unlimited service. You were told that it is only when everyone is ‘in step’ in a dance that there is “Wah, Wah!” So, here, too, to be ‘in step’ means to harmonise in a dance. It emerges from everyone’s lips that all of these people who speak knowledge say the same thing, they just have the one topic, just the one word, they say this, do they not? In the same way, when everyone’s nature and sanskars are harmonised can it be said that there is harmony. Make a plan for this too.

In order for any weakness to be finished, a gathering of the Mahakali form of the Shaktis in particular is needed to transform the weak atmosphere with the impact of their fire of yoga. Now, according to the drama, the final result is going to be clear in the mirror of each one’s activities. As you progress further, the maharathi children with the power of their knowledge will be able to see the story of each one’s karma through their faces. You are able to tell when something impure has been cooked by its smell. In the same way, there will be a clear touching on your intellects by the vibrations of impure thoughts that souls have had. The instrument for this is a clear line of the intellect. Those who have this powerful tool will easily be able to discern this.

There is this speciality in the non-living images of the Shaktis and deities: that no sinful soul is able to hide his sins in front of them. They too continually speak about this and say that you are like this. So, this speciality is seen even now in your non-living memorials in the final moments. It is because this speciality of the Shaktis was well known in the living form that it is also shown in the memorials. This is the stage of being a master janijananhar (one who knows everything), that is, the stage of being knowledge-full. This stage will also be experienced in a practical way; it is being experienced and it will be experienced. Have you created such a gathering? It definitely will be created. Such a gathering of moths is needed, through whose every step the Father can be revealed. Achcha.

Blessing: May you be a soul who is constantly merged in love and who, while serving, race in experiences of remembrance.
You do stay in remembrance, but now continue to increase the experiences of the attainments you receive with that remembrance. Now make special time and pay attention to this, so that you are recognised as a soul who is merged in love and lost in an ocean of experiences. Just as you feel purity and peace in that atmosphere, in the same way, let it be experienced that you are an elevated yogi soul who is absorbed in love. There is an impact of knowledge, but let there also be an impact from your being an embodiment of success in yoga. While doing service, remain immersed in the experiences of remembrance and have a race of experiences of the pilgrimage of remembrance.
Slogan: To accept success here and now means to finish the reward of the future.

 

*** Om Shanti ***

Special homework to experience the avyakt stage in this avyakt month.

On the basis of faith and spiritual intoxication, Father Brahma came to know the guaranteed destiny and used everything in a worthwhile way in a second. He didn’t keep anything for himself. So, the sign of love is to use everything in a worthwhile way. To use something in a worthwhile way means to use it for an elevated purpose.

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 18 JANUARY 2020 : AAJ KI MURLI

जब मैं 1968 में पहली बार साकार बाबा से मिला - BK Suraj Bhai | 18 January Smriti Divas |

18-01-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

स्मृति दिवस 

 

“मीठे बच्चे तुम्हारी चलन बहुत रॉयल होनी चाहिए, तुम देवता बन रहे हो तो लक्ष्य और लक्षण, कथनी और करनी समान बनाओ”
गीत:- तुम्हें पाके हमने जहान पा लिया है…. 

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे रूहानी बच्चों ने गीत सुना। अभी तो थोड़े बच्चे हैं फिर अनेकानेक बच्चे हो जायेंगे। प्रजापिता ब्रह्मा को जानना तो सभी को है ना। सभी धर्म वाले मानेंगे। बाबा ने समझाया है वह लौकिक बाप भी हद के ब्रह्मा हैं। उन्हों का सरनेम से सिजरा बनता है। यह फिर है बेहद का। नाम ही है प्रजापिता ब्रह्मा। वह हद के ब्रह्मा प्रजा रचते हैं, लिमिटेड। कोई दो चार रचेंगे, कोई नहीं भी रचते। इनके लिए तो यह कह नहीं सकेंगे कि सन्तान नहीं हैं। इनकी सन्तान तो सारी दुनिया है। बेहद के बापदादा दोनों का मीठे-मीठे बच्चों में बहुत रूहानी लव है। बच्चों को कितना लव से पढ़ाते हैं और क्या से क्या बनाते हैं! तो बच्चों को कितना खुशी का पारा चढ़ा रहना चाहिए। खुशी का पारा तब चढ़ेगा जब बाप को निरन्तर याद करते रहेंगे। बाप कल्प-कल्प बहुत प्यार से बच्चों को पावन बनाने की सेवा करते हैं। 5 तत्वों सहित सबको पावन बनाते हैं। कौड़ी से हीरे जैसा बनाते हैं। कितनी बड़ी बेहद की सेवा है। बाप बच्चों को बहुत प्यार से शिक्षा भी देते रहते हैं क्योंकि बच्चों को सुधारना बाप वा टीचर का ही काम है। बाप की श्रीमत से ही तुम श्रेष्ठ बनते हो। यह भी बच्चों को चार्ट में देखना चाहिए कि हम श्रीमत पर चलते हैं वा अपनी मनमत पर? श्रीमत से ही तुम एक्यूरेट बनेंगे। जितनी बाप से प्रीत बुद्धि होगी उतनी गुप्त खुशी से भरपूर रहेंगे। अपनी दिल से पूछना है हमको इतनी कापारी खुशी है? अव्यभिचारी याद है? कोई तमन्ना तो नहीं है? एक बाप की याद है? स्वदर्शन चक्र फिरता रहे तब प्राण तन से निकलें। एक शिवबाबा दूसरा न कोई। यही अन्तिम मंत्र है।

बाप रूहानी बच्चों से पूछते हैं मीठे बच्चे, जब बापदादा को सामने देखते हो तो बुद्धि में आता है कि हमारा बाबा, बाप भी है, शिक्षक भी है, सतगुरू भी है। बाप हमको इस पुरानी दुनिया से ले जाते हैं नई दुनिया में। यह पुरानी दुनिया तो अब खलास हुई कि हुई। यह तो अब कोई काम की नहीं है। बाप कल्प-कल्प नई दुनिया बनाते हैं। हम कल्प-कल्प नर से नारायण बनते हैं। बच्चों को यह सिमरण कर कितना हुल्लास में रहना चाहिए। बच्चे, टाइम बहुत थोड़ा है। आज क्या है कल क्या होगा। आज और कल का खेल है इसलिए बच्चों को ग़फलत नहीं करनी है। तुम बच्चों की चलन बड़ी रॉयल होनी चाहिए। अपने आपको देखना है देवताओं मिसल हमारी चलन है? देवताई दिमाग रहता है? जो लक्ष्य है वह बन भी रहे हैं या सिर्फ कथनी ही है? जो नॉलेज मिली है उसमें मस्त रहना चाहिए। जितना अन्तर्मुख हो इन बातों पर विचार करते रहेंगे तो बहुत खुशी रहेगी। यह भी तुम बच्चे जानते हो कि इस दुनिया से उस दुनिया में जाने का बाकी थोड़ा समय है। जब उस दुनिया को छोड़ दिया फिर पिछाड़ी में क्यों देखें! बुद्धियोग उस तरफ क्यों जाता? यह भी बुद्धि से काम लेना है। जब पार निकल गये फिर बुद्धि क्यों जाती? बीती हुई बातों का चिन्तन मत करो। इस पुरानी दुनिया की कोई भी आश न रहे। अब तो एक ही श्रेष्ठ आश रखनी है – हम तो चले सुखधाम। कहाँ भी ठहरना नहीं है। देखना नहीं है। आगे बढ़ते जाना है। एक तरफ ही देखते रहो तब ही अचल-अडोल स्थिर अवस्था रहेगी। समय बहुत नाज़ुक होता जाता है, इस पुरानी दुनिया की हालतें बिगड़ती ही जाती हैं। तुम्हारा इससे कोई कनेक्शन नहीं। तुम्हारा कनेक्शन है नई दुनिया से, जो अब स्थापन हो रही है। बाप ने समझाया है, अभी 84 का चक्र पूरा हुआ। अब यह दुनिया खत्म होनी ही है, इसकी बहुत सीरियस हालत है। इस समय सबसे अधिक गुस्सा प्रकृति को आता है इसलिए सब खलास कर देती है। अभी तुम जानते हो यह प्रकृति अपना गुस्सा जोर से दिखायेगी – सारी पुरानी दुनिया को डुबो देगी। फ्लड्स होंगे। आग लगेगी। मनुष्य भूखों मरेंगे। अर्थक्वेक में मकान आदि सब गिर पड़ेंगे। यह सब हालतें सारी दुनिया के लिए आनी हैं। अनेक प्रकार से मौत होगी। गैस के ऐसे-ऐसे बाम्ब्स छोड़ेंगे – जिसकी बाँस (बदबू) से ही मनुष्य मर जाएं। यह सब ड्रामा प्लैन बना हुआ है। इसमें दोष किसी का भी नहीं है। विनाश तो होने का ही है इसलिए तुम्हें इस पुरानी दुनिया से बुद्धि का योग हटा देना है। अब तुम कहेंगे वाह सतगुरू… जिसने हमको यह रास्ता बताया है। हमारा सच्चा-सच्चा गुरू बाबा एक ही है। जिसका नाम भक्ति में भी चला आता है। जिसकी ही वाह-वाह गाई जाती है। तुम बच्चे कहेंगे – वाह सतगुरू वाह! वाह तकदीर वाह! वाह ड्रामा वाह! बाप के ज्ञान से हमको सद्गति मिल रही है।

तुम बच्चे निमित्त बने हो विश्व में शान्ति स्थापन करने के। तो सबको यह खुशखबरी सुनाओ कि अब नया भारत, नई दुनिया जिसमें लक्ष्मी-नारायण का राज्य था वह फिर से स्थापन हो रहा है। यह दु:खधाम बदल सुखधाम बनना है। अन्दर में खुशी रहनी चाहिए कि हम सुखधाम के मालिक बन रहे हैं। वहाँ ऐसे कोई नहीं पूछेगा कि तुम राज़ी-खुशी हो? तबियत ठीक है? यह इस दुनिया में पूछा जाता है क्योंकि यह है ही दु:ख की दुनिया। तुम बच्चों से भी यह कोई पूछ नहीं सकता। तुम कहेंगे हम ईश्वर के बच्चे, तुम हमसे क्या खुश खैराफत पूछते हो! हम तो सदैव राज़ी खुशी हैं। स्वर्ग से भी यहाँ जास्ती खुशी है क्योंकि स्वर्ग स्थापन करने वाला बाप मिला तो सब कुछ मिला। परवाह थी पार ब्रह्म में रहने वाले बाप की वह मिल गया, बाकी किसकी परवाह! यह सदैव नशा रहना चाहिए। बहुत रॉयल, मीठा बनना है। अपनी तकदीर को ऊंच बनाने का अभी ही समय है। पदमापदमपति बनने का मुख्य साधन है – कदम-कदम पर खबरदारी से चलना। अन्तर्मुखी बनना। यह सदैव ध्यान रहे – “जैसा कर्म हम करेंगे हमको देख और करेंगे।” देह अहंकार आदि विकारों का बीज तो आधाकल्प से बोया हुआ है। सारे दुनिया में यह बीज है। अब उसको मर्ज करना है। देह-अभिमान का बीज नहीं बोना है। अभी देही-अभिमानी का बीज बोना है। तुम्हारी अब है वानप्रस्थ अवस्था। मोस्ट बिलवेड बाप मिला है उनको ही याद करना है। बाप के बदले देह को वा देहधारियों को याद करना – यह भी भूल है। तुम्हें आत्म-अभिमानी बनने की, शीतल बनने की बहुत मेहनत करनी है।

मीठे बच्चे, इस अपनी लाइफ से तुम्हें कभी भी तंग नहीं होना चाहिए। यह जीवन अमूल्य गाई हुई है, इनकी सम्भाल भी करनी है। साथ-साथ कमाई भी करनी है। यहाँ जितने दिन रहेंगे, बाप को याद कर अथाह कमाई जमा करते रहेंगे। हिसाब-किताब चुक्तू होता रहेगा इसलिए कभी भी तंग नहीं होना है। बच्चे कहते हैं बाबा। सतयुग कब आयेगा? बाबा कहते बच्चे पहले तुम कर्मातीत अवस्था तो बनाओ। जितना समय मिले पुरुषार्थ करो कर्मातीत बनने का। बच्चों में नष्टोमोहा बनने की भी बड़ी हिम्मत चाहिए। बेहद के बाप से पूरा वर्सा लेना है तो नष्टोमोहा बनना पड़े। अपनी अवस्था को बहुत ऊंच बनाना है। बाप के बने हो तो बाप की ही अलौकिक सेवा में लग जाना है। स्वभाव बहुत मीठा चाहिए। मनुष्य को स्वभाव ही बहुत तंग करता है। ज्ञान का जो तीसरा नेत्र मिला है, उससे अपनी जांच करते रहो। जो भी डिफेक्ट हो उनको निकाल प्युअर डाइमन्ड बनना है। थोड़ा भी डिफेक्ट होगा तो वैल्यु कम हो जायेगी इसलिए मेहनत कर अपने को वैल्युबुल हीरा बनाना है।

तुम बच्चों से बाप अब नई दुनिया के सम्बन्ध का पुरुषार्थ कराते हैं। मीठे बच्चे, अब बेहद के बाप और बेहद सुख के वर्से से सम्बन्ध रखो। एक ही बेहद का बाप है जो बन्धन से छुड़ाकर तुम्हें अलौकिक सम्बन्ध में ले जाते हैं। सदैव यह स्मृति रहे कि हम ईश्वरीय सम्बन्ध के हैं। यह ईश्वरीय सम्बन्ध ही सदा सुखदाई है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे, अति स्नेही बच्चों को मात-पिता बापदादा का दिल व जान, सिक व प्रेम से यादप्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

अव्यक्त बापदादा के मधुर महावाक्य (रिवाइज)

सफलता-मूर्त बनने के लिये मुख्य दो ही विशेषतायें चाहिये – एक प्योरिटी, दूसरी यूनिटी। अगर प्योरिटी की कमी है तो यूनिटी में भी कमी है। प्योरिटी सिर्फ ब्रह्मचर्य व्रत को नहीं कहा जाता, संकल्प, स्वभाव, संस्कार में भी प्योरिटी। मानों एक-दूसरे के प्रति ईर्ष्या या घृणा का संकल्प है तो प्योरिटी नहीं, इमप्योरिटी कहेंगे। प्योरिटी की परिभाषा में सर्व विकारों का अंश-मात्र तक न होना है। संकल्प में भी किसी प्रकार की इमप्योरिटी न हो। आप बच्चे निमित्त बने हुए हो – बहुत ऊंचे कार्य को सम्पन्न करने के लिये। निमित्त तो महारथी रूप से बने हुए हो ना? अगर लिस्ट निकालते हैं तो लिस्ट में भी तो सर्विसएबुल तथा सर्विस के निमित्त बनें ब्रह्मा वत्स ही महारथी की लिस्ट में गिने जाते हैं। महारथी की विशेषता कहाँ तक आयी है? सो तो हर-एक स्वयं जाने। महारथी जो लिस्ट में गिना जाता है वो आगे चलकर महारथी होगा अथवा वर्तमान की लिस्ट में महारथी है। तो इन दोनों बातों के ऊपर अटेन्शन चाहिए।

यूनिटी अर्थात् संस्कार-स्वभाव के मिलन की यूनिटी। कोई का संस्कार और स्वभाव न भी मिले तो भी कोशिश करके मिलाओ, यह है यूनिटी। सिर्फ संगठन को यूनिटी नहीं कहेंगे। सर्विसएबुल निमित्त बनी आत्मायें इन दो बातों के सिवाय बेहद की सर्विस के निमित्त नहीं बन सकती हैं। हद के हो सकते हैं, बेहद की सर्विस के लिये ये दोनों बातें चाहियें। सुनाया था ना – रास में ताल मिलाने पर ही वाह-वाह होती है। तो यहाँ भी ताल मिलाना अर्थात् रास मिलाना है। इतनी आत्मायें जो नॉलेज वर्णन करती हैं तो सबके मुख से यह निकलता है कि ये एक ही बात कहते हैं, इन सबका एक ही टॉपिक है, एक ही शब्द है, यह सब कहते है ना? इसी प्रकार सबके स्वभाव और संस्कार एक-दो में मिलें तब कहेंगे रास मिलाना। इसका भी प्लैन बनाओ।

कोई भी कमज़ोरी को मिटाने के लिये विशेष महाकाली स्वरूप शक्तियों का संगठन चाहिये जो अपने योग-अग्नि के प्रभाव से कमजोर वातावरण को परिवर्तन करें। अभी तो ड्रामा अनुसार हर-एक चलन रूपी दर्पण में अन्तिम रिजल्ट स्पष्ट होने वाली है। आगे चल कर महारथी बच्चे अपने नॉलेज की शक्ति द्वारा हर-एक के चेहरे से उन्हों की कर्म-कहानी को स्पष्ट देख सकेंगे। जैसे मलेच्छ भोजन की बदबू समझ में आ जाती है, वैसे मलेच्छ संकल्प रूपी आहार स्वीकार करने वाली आत्माओं के वायब्रेशन से बुद्धि में स्पष्ट टचिंग होगी, इसका यंत्र है बुद्धि की लाइन क्लियर। जिसका यह यंत्र पॉवरफुल होगा वह सहज जान सकेंगे।

शक्तियों व देवताओं के जड़ चित्रों में भी यह विशेषता है, जो कोई भी पाप-आत्मा अपना पाप उन्हों के आगे जाकर छिपा नहीं सकती। आप ही यह वर्णन करते रहते हैं कि हम ऐसे हैं। तो जड़ यादगार में भी अब अन्तकाल तक यह विशेषता दिखाई देती है। चैतन्य रूप में शक्तियों की यह विशेषता प्रसिद्ध हुई है तब तो यादगार में भी है। यह है मास्टर जानी जाननहार की स्टेज अर्थात् नॉलेजफुल की स्टेज। यह स्टेज भी प्रैक्टिकल में अनुभव होगी, होती जा रही है और होगी भी। ऐसा संगठन बनाया है? बनना तो है ही। ऐसे शमा-स्वरूप संगठन चाहिए, जिन्हों के हर कदम से बाप की प्रत्यक्षता हो। अच्छा।

वरदान:- सेवा करते हुए याद के अनुभवों की रेस करने वाले सदा लवलीन आत्मा भव
याद में रहते हो लेकिन याद द्वारा जो प्राप्तियां होती हैं, उस प्राप्ति की अनुभूति को आगे बढ़ाते जाओ, इसके लिए अभी विशेष समय और अटेन्शन दो जिससे मालूम पड़े कि यह अनुभवों के सागर में खोई हुई लवलीन आत्मा है। जैसे पवित्रता, शान्ति के वातावरण की भासना आती है वैसे श्रेष्ठ योगी, लगन में मगन रहने वाले हैं – यह अनुभव हो। नॉलेज का प्रभाव है लेकिन योग के सिद्धि स्वरूप का प्रभाव हो। सेवा करते हुए याद के अनुभवों में डूबे हुए रहो, याद की यात्रा के अनुभवों की रेस करो।
स्लोगन:- सिद्धि को स्वीकार कर लेना अर्थात् भविष्य प्रालब्ध को यहाँ ही समाप्त कर देना।

अव्यक्त स्थिति का अनुभव करने के लिए विशेष होमवर्क

जैसे ब्रह्मा बाप ने निश्चय के आधार पर, रुहानी नशे के आधार पर, निश्चित भावी के ज्ञाता बन सेकेण्ड में सब सफल कर दिया। अपने लिए कुछ नहीं रखा। तो स्नेह की निशानी है सब कुछ सफल करो। सफल करने का अर्थ है श्रेष्ठ तरफ लगाना।

TODAY MURLI 18 JANUARY 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 18 January 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 17 January 2019 :- Click Here

18/01/19
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
18/01/19

morning class on the Day of Remembrance of our Beloved Pita Shriji Prajapita Brahma.

Essence: Sweet children, in order to become perfect, check with trustworthiness and honesty what defects you have in you. Take advice from the Father and continue to remove those defects.

Om shanti. You souls have love for the one Father, and it is for souls that it is said: Fire cannot burn them, water cannot drown them. Such souls now have yoga with the Father. He is also called the Flame on whom the moths sacrifice themselves. Some simply dance around Him, whereas some burn and sacrifice themselves. In fact, the whole world has to surrender to the Flame. You children are together with the Father, the Flame, and are also His helpers. Everyone goes to wherever there is a Centre and surrenders to the Flame through you children. The Father says: Those who surrender themselves to Me, I surrender to them 21 times. Children now know that the tree grows slowly. It is seen at Deepmala how the little moths surrender themselves. The more yoga you children have, the more you adopt the powers, the more you will accordingly become like the Flame. Now that the light of everyone is extinguished, there is no strength left in anyone. All souls have become false. Nowadays, even artificial gold appears to be real, but it has no value. In the same way, souls have become false. Alloy only is mixed into real gold. Alloy has become mixed in souls and this is why Bharat and the whole world is very unhappy. You now have to burn the alloy in the fire of yoga and become pure.

Each of you children has to ask yourself: Have I received everything from the Father? Is there anything lacking in me? You have to look within yourself, just as Narad was asked whether he considered himself worthy of marrying Lakshmi. The Father also asks: Have you become worthy of marrying Lakshmi? What defects are there for which you still have to make a lot of effort? Some do not make any effort at all, whereas others make effort very well. It is explained to new children: Tell me if you have any defects in you. Because you now have to become perfect, the Father comes here to make you perfect. So, check yourselves: Have I become perfect like this Lakshmi and Narayan? This is your aim and objective. If there are any defects, you have to tell the Father about them: I cannot get rid of these defects. Baba, show me the way to do this. Illnesses can only be removed by surgeons. So, look inside yourself with trustworthiness and honesty and see what defects you have in you, due to which you can understand that you would not be able to attain this status. The Father would say: Yes, you can become exactly like them. It is only when you speak about your defects that the Father will give you some advice. Many have defects in them. Some have anger, some have greed or wasteful thinking and so they are unable to imbibe knowledge. They then cannot inspire anyone to imbibe either. The Father explains every day but, in fact, there is no need to explain so much. This is something to be imbibed. The mantra is very good and the Father continues to explain the meaning of it. He has been explaining for so many days, that it is only one thing: We have to become like this with the unlimited Father. The matter of conquering the five vices applies to this time. The Father would show you methods to remove the evil spirits that are causing you sorrow, but you first have to tell how these evil spirits have been harassing you. You know that you do not have those evil spirits, but it is these vices that have caused you sorrow for birth after birth. So, you have to tell the Father everything: I have this and this evil spirit in me, so how can I remove them? It is explained about the evil spirit of anger to you every day. Your eyes deceive you a lot and this is why you have to instil a very good practice of seeing souls. I am a soul and that one is also a soul. Though there is the body, all of this is explained for you to become free from illness. You souls are brothers, are you not? So, you must not look at this body. All of us souls are going to go back with Him. The Father has come to take us back. You have to check: Have I become full of all virtues? Which virtue is missing? On seeing a soul, it can be seen that that soul is missing this. So, you then have to sit and give a current so that the illness is removed from that one. You mustn’t hide anything. When you continue to speak about your defects, the Father will continue to explain to you. You have to talk to the Father. Baba, You are like this! Baba, You are so sweet! So, by having remembrance of the Father and by your praising Him, these evil spirits will continue to run away and you will also become happy. There are different types of evil spirits. The Father is personally sitting in front of you and so you have to tell Him everything. Baba, I think that as I am in this condition, there will be a loss for me. I feel this. The Father has mercy. There is only the one God, the Father, who can chase away the evil spirits of Maya. You go to the doors of so many in order to have those evil spirits removed. This One is the only one. You children are taught to show everyone the method with which you can remove the evil spirits of the five vices. You children know that this tree grows very slowly. Maya surrounds you from all directions in such a way that you become completely lost. You let go of the Father’s hand. All of you have a connectionwith the Father. All the children are instruments, numberwise.

Baba explains to you sweetest children again and again: Children, consider yourselves to be souls. Even those bodies are not yours, they are going to be destroyed. We have to go to the Father. By your having such intoxication of knowledge, there will be a lot of magnetism in you. You know that you have to shed those old costumes and that you are not going to remain here. Let attachment to those bodies be removed. You are in those bodies just for the sake of service. You have no attachment to them. You simply have to return home. It is absolutely essential to make effort at this time of the confluence age. It is only now that you understand that you have been around the cycle of 84 births. The Father says: Stay on the pilgrimage of remembrance. The more you stay on the pilgrimage of remembrance, the more nature will accordingly become your servant. Sannyasis never ask anyone for anything. They are yogis, are they not? They have the faith that they have to merge into the brahm element. Such is their religion. They are very firm in their belief: This is it, I am now going. I will shed this body and leave. However, their path is wrong, they cannot go like that. They make a lot of effort. On the path of devotion, in order to meet the deities, some even commit suicide. You cannot say “Suicide of the soul”. That cannot happen, but yes, there can be suicide of the body. You children must have a lot of interest in doing service. If you do service, you will also remember the Father. There is service to do in all places, so you can go anywhere and explain to them and no one will confront you. When you are in yoga, it is as though you are immortal. You will not have any other thoughts at all, but that stage has to be strong. First, you have to look inside yourself: Do I have any defects in me? If you do not have any defects, you will be able to do good service. Father shows son, son shows Father. The Father has made you worthy and you children then have to give new ones the Father’s introduction. The Father has made you children clever. Baba knows that there are many very good children who come here having done service. It is very easy to explain to others using the pictures, but difficult to explain without the pictures. Day and night, just think about how you can make someone’s life worthwhile for, by doing that, there will be progress in your life too. There is happiness and each one has the enthusiasm to uplift the people of their own village and to serve their equals. The Father also says: Charity begins at home. You mustn’t just sit in one place, you have to tour around. Sannyasis too make one person sit on the gaddi (stay behind) while they themselves tour around. They have grown by doing this and many new ones have emerged who are praised a little, and so they develop a little strength. Even the old leaves begin to shine. Some have another soul entering them in such a way that they are also able to progress. The Father sits and gives you teachings: Children, you always have to make progress.

Beloved children, as you progress further, you will have the strength of the power of yoga. Then, when you explain even a little to someone, he will quickly understand. This too is an arrow of knowledge, is it not? When someone is struck by an arrow, he is wounded. First, he is wounded and then he belongs to Baba. So, sit in solitude and find methods. Let it not just be that you go to sleep at night and then wake up in the morning and that is it. No; wake up early in the morning and remember Baba with a lot of love. At night, go to sleep in remembrance. If you do not remember the Father, how would He love you? There will not be that pull. Although Baba knows that within the drama, all are going to be numberwise, He cannot just sit down quietly. He would inspire you to make effort, would He not? Otherwise, there will be a lot of repentance. Baba used to explain to us so much! You will then regret that you did that unnecessarily; that you became influenced by Maya. The Father feels mercy. What will be the condition of that one if he does not reform himself? He will cry, beat himself and experience punishment and this is why the Father gives you the teachings again and again: Children, you definitely have to become perfect. You have to check yourself again and again. Achcha.

To the extremely sweet, beloved long-lost-and-now-found children, love, remembrance and good morning from the bottom of the heart, with lots of love, from the mother, Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Elevated Avyakt Versions – Avyakt BapDada

Just as science is becoming refined, in the same way, is your power of silence, that is, your own stage becoming refined? What is the speciality of something that is refined? Anything that is refined may be less in quantity, but it is powerful in its quality. Anything that is not refined will be more in quantity, but less in quality. So, here, too, since you are becoming refined, the tasks that are carried out in less time with fewer thoughts and less energy, they will be one hundred times more and there will also be lightness. The sign of something light is that it will never come down; even against its wish, it will automatically stay up above. This is the qualification of being refined. So, do you experience both these specialities in yourself? Because of being heavy, you have to work hard. By being light, you need to make less effort. So, natural transformation is taking place in this way. Always pay attention to both these specialities. Keeping these in front of you, you can check how refined you are. Anything that is refined does not wander around so much; it picks up speed quickly. If something is not refined and is mixed with rubbish, it will not be able to pick up speed. It will not be able to move along without obstacles. On the one hand, you are becoming more and more refined. On the other hand, the fine is accordingly increasing for trivial matters, mistakes and sanskars. There is this scene on one side and the scene of being refined on the other side; there is the force of both. If something is not refined, then understand there will be a fine. Both scenes are visible at the same time. That is going into the extreme and this is also visible as going into a very visible form. Incognito points are now being revealed. So, the numbers will be created on the basis of both scenes being revealed.

The rosary is not going to be created with your hands. Each of you yourself will claim your number according to your behaviour. The time for your number becoming fixed is coming and so both things are clearly visible. Therefore, seeing both of these, be a detached observer and remain cheerful. A game in which there is something extreme is liked much more. That scene would be extremely attractive. Even now, such a scene of a tug of war is taking place. You enjoy seeing it, do you not? Or, do you feel mercy? Seeing one side you are happy and seeing the other side you feel mercy. The game between both sides is taking place. This game is very clearly visible from the subtle region. The higher someone is, the more clearly he is able to see everything down below. Those who are actors on a stage are able to see certain things and not see other things. When you look at everything from up above as a detached observer, everything is clearly visible. So, today, in the subtle region, Baba was seeing the scene of the present games. Achcha.

Blessing: May you be an image that grants blessings and does service by incarnating as an incarnation from up above.
Just as the Father comes down here from the subtle region to do service, in the same way, you too have come down from the subtle region to do service. When you do service with this experience, you will always remain detached and be loved by the world, the same as the Father. To come down here from up above means to do service having come down as an incarnation. Everyone wants an incarnation to come and take them with him. So, you are the true incarnations who will take everyone to the land of liberation. When you serve while considering yourself to be an incarnation you will become an image that grants blessings and the desires of many will be fulfilled.
Slogan: Whether someone gives you something good or bad, you just have to continue to give everyone love and co-operation and have mercy.

 

*** Om Shanti ***

Special effort to become equal to Father Brahma.

Constantly remain merged in God’s love and you will become an embodiment of love, a master ocean of love. You will not need to make effort to give love, but you will become an embodiment of love. Throughout the day, waves of love will automatically surge up. The more the rays and light of the sun of knowledge increase, the more waves of love there will surge up.

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 18 JANUARY 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 18 January 2019

To Read Murli 17 January 2019 :- Click Here
18-01-19
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
मधुबन

“मीठे बच्चे परफेक्ट बनना है तो ईमानदारी और सच्चाई से देखो कि मेरे में क्या-क्या खामी है, बाप से राय लेते उन खामियों को निकालते जाओ”

ओम् शान्ति। अभी तुम आत्माओं का प्यार वा मुहब्बत एक बाप से है। जिस आत्मा के लिए कहते हैं कि इनको आग जला नहीं सकती, पानी डुबो नहीं सकता। ऐसी आत्मा का अब योग लगा है बाप से। उसको शमा भी कहते हैं जिस पर परवाने जाकर जल मरते हैं। कोई तो फेरी पहन नाच करते हैं, कोई तो जलकर बलि चढ़ जाते हैं। बलि तो शमा पर सारी सृष्टि को चढ़ना है। उस बाप शमा के साथ तुम बच्चे भी मददगार हो। जहाँ-जहाँ सेन्टर्स हैं सभी आकर तुम बच्चों द्वारा शमा पर कुर्बान जाते हैं। बाप कहते हैं जो मुझ पर कुर्बान होते हैं, मैं फिर उन पर 21 बार कुर्बान होता हूँ। अब यह तो बच्चे जान गये हैं कि झाड धीरे-धीरे बढ़ता है। दीपमाला पर देखा है छोटे-छोटे परवाने कैसे फिदा होते हैं। जितना-जितना तुम बच्चे योग लगायेंगे, शक्ति धारण करेंगे उतना तुम भी शमा के समान बन जायेंगे। अभी तो सभी की ज्योति बुझी हुई है। कोई में भी ताकत नहीं रही है। आत्मायें सभी झूठी हो गई हैं। आजकल नकली सोना भी ऐसा दिखाई पड़ता है जैसे रीयल है लेकिन उसकी वैल्यु कुछ भी नहीं। ऐसे आत्मायें भी झूठी बन गई हैं। सच्चे सोने में ही खाद डालते हैं। तो आत्मा में खाद पड़ गई है इस कारण भारत और सारी दुनिया बहुत दु:खी है। अब तुमको योग अग्नि से खाद को भस्म कर पवित्र बनना है।

हरेक बच्चे को अपने से पूछना है बाप से हमें सब कुछ मिला है? किसी चीज़ की मेरे में कमी तो नहीं है? अपने अन्दर देखना होता है। जैसे नारद से पूछा ना कि लक्ष्मी को वरने के लायक अपने को समझते हो? बाप भी पूछते हैं लक्ष्मी को वरने लायक बने हो? क्या क्या खामी है, जिसको निकालने लिए बहुत पुरुषार्थ करना है। कई तो जरा भी पुरुषार्थ नहीं करते। कोई-कोई अच्छी तरह पुरुषार्थ करते हैं। नये-नये बच्चों को समझाया जाता है बताओ तुम्हारे में कोई खामी तो नहीं है! क्योंकि तुम्हें अब परफेक्ट बनना है, बाप आते ही हैं परफेक्ट बनाने। तो अपने अन्दर जांच करो कि हम इन लक्ष्मी-नारायण जैसे परफेक्ट बने हैं? तुम्हारी एम ऑब्जेक्ट ही यह है। अगर कोई खामियाँ हैं तो बाप को बताना चाहिए। यह-यह खामियाँ हमारे से निकलती नहीं हैं, बाबा हमें इसका कोई उपाय बताओ। बीमारी सर्जन द्वारा ही निकल सकती है। तो ईमानदारी से सच्चाई से देखो मेरे में क्या खामी है! जिससे समझते हैं यह पद हम नहीं पा सकेंगे। बाप तो कहेंगे हाँ तुम इन जैसा हूबहू बन सकते हो। खामियाँ बतायेंगे तब तो बाप राय देंगे। खामियाँ बहुतों में हैं। कोई में क्रोध है या लोभ है या फालतू चिन्तन है, तो उसको ज्ञान की धरणा हो नहीं सकती। वो फिर किसको धारण करा भी नहीं सकते। बाप रोज़-रोज़ समझाते हैं, वास्तव में इतना समझाने की दरकार नहीं है, यह तो धारण करने की बात है, मंत्र है बहुत अच्छा, जिसका अर्थ बाप समझाते रहते हैं। इतने दिनों से समझाते रहते हैं बात एक ही है, बेहद के बाप से हमको ऐसा बनना है। 5 विकारों को जीतने की बात अभी की ही है। जो भूत दु:ख देते हैं उन्हें निकालने की युक्ति बाप बतायेंगे, परन्तु पहले वर्णन किया जाता है कि यह भूत हमें ऐसे-ऐसे तंग करते हैं। तुम जानते हो तुम्हारे में कोई वह भूत नहीं है, यह विकार ही जन्म-जन्मान्तर के भूत हैं जिन्होंने दु:खी किया है। तो बाप के पास अन्त खोलना चाहिए – मेरे में यह-यह भूत हैं, उनको कैसे निकालें! काम रूपी भूत के लिए तो रोज़ समझाया जाता है। ऑखे बहुत धोखा देती हैं इसलिए आत्मा को देखने की प्रैक्टिस अच्छी रीति डालनी चाहिए। मैं आत्मा हूँ, यह भी आत्मा है। भल शरीर है परन्तु बीमारी से छूटने के लिए समझाते हैं। तुम आत्मायें तो भाई-भाई हो ना। तो इस शरीर को नहीं देखना है। हम आत्मायें सब वापस घर जाने वाली हैं। बाप आये हैं ले जाने के लिए, बाकी यह देखना है हम सर्वगुण सम्पन्न बने हैं! कौन सा गुण कम है? आत्मा को देख बताया जाता है इस आत्मा में यह खामी है। तो फिर बैठकर करेन्ट दें कि इनसे यह बीमारी निकल जाये। छिपाना नहीं चाहिए, अवगुण बताते रहेंगे तो बाप समझानी देंगे। बाप से बातें करनी चाहिए, बाबा आप ऐसे हो! बाबा आप कितने मीठे हो। तो बाप की याद से, बाबा की महिमा करने से यह भूत भागते जायेंगे और तुमको खुशी भी रहेगी। किसम-किसम के भूत हैं। बाप सन्मुख बैठे हैं तो सब कुछ बताओ। बाबा मैं समझता हूँ इस हालत में हमको घाटा पड़ जायेगा। मैं फील करता हूँ। बाप को तरस पड़ता है। माया के भूतों को भगाने वाला एक भगवान बाप ही है। उस भूत को निकालने के लिए कितनों के दर पर जाते हैं। यह तो एक ही है। भल बच्चों को भी सिखाया जाता है कि 5 विकारों रूपी भूत निकालने की युक्ति सभी को बताओ। तुम बच्चे जानते हो कि यह झाड़ बहुत धीरे-धीरे वृद्धि को पाता है। माया तो चारों तरफ से ऐसा घेराव डालती है जो एकदम गुम हो जाते हैं। बाप का हाथ छोड़ देते हैं। तुम हरेक का कनेक्शन बाप के साथ है। बच्चे तो सब नम्बरवार निमित्त हैं।

मीठे-मीठे बच्चों को बाबा बार-बार समझाते हैं बच्चे अपने को आत्मा समझो, यह शरीर मेरा नहीं, यह भी खत्म होना है। हमको बाप के पास जाना है। ऐसे ज्ञान की मस्ती में रहने से तुम्हारे में कशिश बहुत आयेगी। यह तो जानते हो यह पुराना चोला छोड़ना है, यहाँ रहना नहीं है। इस शरीर से ममत्व निकल जाए। इस शरीर में सिर्फ सर्विस के लिए ही हैं, इनमें ममत्व नहीं है। बस घर जायें। यह संगम का समय भी पुरुषार्थ के लिए बहुत आवश्यक है। अभी ही समझते हैं हमने 84 का चक्र लगाया है, बाप कहत् s याद की यात्रा पर रहो, जितना याद की यात्रा पर रहेंगे तो तुम्हारी प्रकृति दासी बनेगी। सन्यासी लोग कभी किसी से कुछ मांगते नहीं हैं। वह योगी तो है ना! निश्चय है हमको ब्रह्म में लीन होना है। उन्हों का धर्म ही ऐसा है, बहुत पक्के रहते हैं, बस हम जाते हैं, यह शरीर छोड़ जायेंगे। परन्तु उन्हों का रास्ता ही रांग है, जा नहीं सकते। बड़ी मेहनत करते हैं। भक्ति मार्ग में देवताओं से मिलने लिए कई तो अपना जीवघात तक कर लेते हैं। आत्मघात तो नहीं कहेंगे, वह तो होता नहीं। बाकी जीवघात होता है। तो तुम बच्चे सर्विस का बहुत शौक रखो। सर्विस करेंगे तो बाप भी याद रहेगा, सर्विस तो सब जगह है, कहाँ भी तुम जाकर समझाओ कुछ भी करेंगे नहीं। योग में हो तो जैसे तुम अमर हो। कभी दूसरा कोई भी ख्याल नहीं आयेगा, परन्तु वह अवस्था मजबूत हो। पहले तो अपने अन्दर देखना है हमारे में कोई खामी तो नहीं है! खामी नहीं होगी तो सर्विस भी अच्छी कर सकेंगे। फादर शोज़ सन, सन शोज़ फादर। बाप ने तुमको लायक बनाया और तुम बच्चों को फिर नये-नये को बाप का परिचय देना है। बच्चों को बाप ने होशियार कर दिया है। बाबा जानते हैं बहुत अच्छे-अच्छे बच्चे हैं जो सर्विस करके आते हैं। चित्रों पर किसको भी समझाना बहुत सहज है, बिगर चित्रों के समझाना कठिन है। रात-दिन यही ख्यालात चलता रहे कि हम इनका जीवन कैसे बनायें, इससे हमारा जीवन भी उन्नति को पायेगा। खुशी होती है, हरेक को उमंग रहता है हम अपने गांव वालों का उद्धार करें। अपने हमजिन्स की सेवा करें। बाप भी कहते हैं चैरिटी बिगन्स एट होम। एक जगह पर बैठ नहीं जाना चाहिए, भ्रमण करना चाहिए। सन्यासी लोग भी कोई को गद्दी पर बिठाकर खुद रमण करते हैं ना। ऐसे करते-करते वृद्धि को पाया है। बहुत नये-नये भी निकल पड़ते हैं – जिनकी कुछ महिमा होती है, तो कुछ ताकत उसमें आ जाती है। पुराने पत्ते भी चमक पड़ते हैं। किसी में कोई ऐसी आत्मा प्रवेश करती है जो उनकी भी उन्नति हो जाती है। बाप बैठ शिक्षा देते हैं कि बच्चे तुमको सदैव अपनी उन्नति करनी है।

लाडले बच्चे, आगे चल तुम्हारे में योगबल की ताकत आ जायेगी – फिर तुम किसको थोड़ा ही समझायेंगे तो झट समझ जायेंगे। यह भी ज्ञान बाण हैं ना। बाण लगता है तो घायल कर देता है। पहले घायल होते हैं फिर बाबा के बनते हैं। तो एकान्त में बैठ युक्तियाँ निकालनी चाहिए। ऐसे नहीं रात को सोया सुबह को उठा, नहीं। सवेरे जल्दी उठकर बाबा को बहुत प्रेम से याद करना चाहिए। रात को भी याद में सोना चाहिए। बाबा को याद ही नहीं करेंगे तो बाप फिर प्यार कैसे करेंगे। कशिश ही नहीं होगी। भल बाबा जानते हैं ड्रामा में सब प्रकार के नम्बरवार बनने हैं फिर भी चुपकर बैठ थोड़ेही जायेंगे। पुरुषार्थ तो करायेंगे ना, नहीं तो फिर बहुत पछताना पड़ेगा। बाबा हमको कितना समझाते थे! बहुत पछतायेंगे नाहेक ऐसा किया! माया के वश हो गया! बाप को तो तरस पड़ता है। नहीं सुधरते हैं तो उनकी क्या गति होगी, रोयेंगे, पीटेंगे, सजायें खायेंगे इसलिए बाप बच्चों को बार-बार शिक्षा देते हैं कि बच्चे तुम्हें परफेक्ट जरूर बनना है। बार-बार अपनी चेकिंग करनी है। अच्छा!

अति मीठे, अति लाडले सर्व सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का दिल व जान सिक व प्रेम से यादप्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

अव्यक्त महावाक्य (रिवाइज)

जैसे साइन्स रिफाईन होती जाती है ऐसे अपने आप में साइलेन्स की शक्ति वा अपनी स्थिति रिफाईन होती जा रही है? जो रिफाईन चीज़ होती है उसमें क्या-क्या विशेषता होती है? रिफाईन चीज़ क्वान्टिटी में भले कम होती है, लेकिन क्वालिटी पावरफुल होती है। जो चीज़ रिफाईन नहीं होगी उसकी क्वान्टिटी ज्यादा, क्वालिटी कम होगी। तो यहाँ भी जबकि रिफाईन होते जाते हैं तो कम समय, कम संकल्प, कम इनर्जी में जो कर्तव्य होगा वह सौगुणा होगा और हल्कापन भी रहेगा। हल्केपन की निशानी होगी – वह कब नीचे नहीं आयेगा, ना चाहते भी स्वत: ही ऊपर स्थित रहेगा। यह है रिफाईन क्वालिफिकेशन। तो अपने में यह दोनों विशेषतायें अनुभव होती जाती हैं? भारी होने कारण मेहनत ज्यादा करनी होती है। हल्का होने से मेहनत कम हो जाती है। तो ऐसे नैचुरल परिवर्तन होता जाता है। यह दोनों विशेषतायें सदा अटेन्शन में रहें। इसको सामने रखते हुए अपनी रिफाईननेस को चेक कर सकते हो। रिफाईन चीज़ जास्ती भटकती नहीं। स्पीड पकड़ लेती है। अगर रिफाईन नहीं होगी, किचड़ा मिक्स होगा तो स्पीड पकड़ नहीं सकेगी। निर्विघ्न चल नहीं सकेंगे। एक तरफ जितना-जितना रिफाईन हो रहे हो, दूसरे तरफ उतना ही छोटी-छोटी बातें वा भूलें वा संस्कार जो हैं उनका फाईन भी बढ़ता जा रहा है। एक तरफ वह नज़ारा, दूसरे तरफ रिफाईन होने का नज़ारा, दोनों का फोर्स है। अगर रिफाईन नहीं तो फाईन समझो। दोनों साथ-साथ नज़ारे दिखाई दे रहे हैं। वह भी अति में जा रहा है और यह भी अति प्रत्यक्ष रूप में दिखाई देता जा रहा है। गुप्त अब प्रख्यात हो रहा है। तो जब दोनों बातें प्रत्यक्ष हों, उसी अनुसार ही तो नम्बर बनेंगे।

माला हाथ से नहीं पिरोनी है। चलन से ही स्वयं अपना नम्बर ले लेते हैं। अभी नम्बर फिक्स होने का समय आ रहा है इसलिए दोनों बातें स्पष्ट दिखाई दे रही हैं और दोनों को देखते हुए साक्षी हो हर्षित रहना है। खेल भी वही अच्छा लगता है जिसमें कोई बात की अति होती है। वही सीन अति आकर्षण वाली होती है। अभी भी ऐसी कसमकसा की सीन चल रही है। देखने में मज़ा आता है ना? वा तरस आता है? एक तरफ को देख खुश होते, दूसरे तरफ को देख रहम पड़ता। दोनों का खेल चल रहा है। वतन से तो यह खेल बहुत स्पष्ट दिखाई देता है। जितना जो ऊंच होता है उनको स्पष्ट दिखाई देता है। जो नीचे स्टेज पर पार्टधारी हैं उनको कुछ दिखाई दे सकता, कुछ नहीं। लेकिन ऊपर से साक्षी हो देखने से सब स्पष्ट दिखाई देता है। तो आज वतन में वर्तमान खेल की सीन देख रहे थे। अच्छा!

वरदान:- ऊपर से अवतरित हो अवतार बन सेवा करने वाले साक्षात्कार मूर्त भव 
जैसे बाप सेवा के लिए वतन से नीचे आते हैं, ऐसे हम भी सेवा के प्रति वतन से आये हैं, ऐसे अनुभव कर सेवा करो तो सदा न्यारे और बाप समान विश्व के प्यारे बन जायेंगे। ऊपर से नीचे आना माना अवतार बन अवतरित होकर सेवा करना। सभी चाहते हैं कि अवतार आयें और हमको साथ ले जायें। तो सच्चे अवतार आप हो जो सबको मुक्तिधाम में साथ ले जायेंगे। जब अवतार समझकर सेवा करेंगे तब साक्षात्कार मूर्त बनेंगे और अनेकों की इच्छायें पूर्ण होंगी।
स्लोगन:- आपको कोई अच्छा दे या बुरा आप सबको स्नेह दो, सहयोग दो, रहम करो।

 

ब्रह्मा बाप समान बनने के लिए विशेष पुरुषार्थ

सदा परमात्म प्यार में लवलीन रहो तो प्यार स्वरूप, मास्टर प्यार के सागर बन जायेंगे। प्यार करना नहीं पड़ेगा, प्यार का स्वरूप बन जायेंगे। सारा दिन प्यार की लहरें स्वत: ही उछलेंगी। जितना-जितना ज्ञान सूर्य की किरणें वा प्रकाश बढ़ता जायेगा उतना ही ज्यादा प्यार की लहरें उछलेंगी।

Font Resize