daily murli 17 october

TODAY MURLI 17 OCTOBER 2020 DAILY MURLI (English)

17/10/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you have to make everyone into a resident of the land of angels. You are those who benefit everyone. Your duty is to make the poor wealthy.
Question: Which of the Father’s names are ordinary, even though the task He carries out with those names is very great?
Answer: Baba is called the Master of the Garden and the Boatman. These names are very ordinary, yet to take across those who are drowning is such a great task. Just as a swimmer holds on to someone’s hand to be taken across, so too, by taking the Father’s hand, you become residents of heaven. You are also master boatmen; you show everyone the way to take their boat across.

Om shanti. You children would be sitting in remembrance. Even though you have bodies, you have to consider yourselves to be souls. It isn’t that you are sitting here without bodies. The Father says: Let go of body consciousness and sit here in the stage of soul consciousness. Soul consciousness is pure, whereas body consciousness is impure. You know that we are becoming pure and clean by becoming soul conscious. By becoming body conscious we became impure and unclean. People call out: O Purifier, come! There used to be the pure world but it is now impure. So, there will definitely be the pure world once again. The world cycle will continue to turn. Those who know this world cycle are called spinners of the discus of self-realisation. Each of you is a spinner of the discus of self-realisation. The self, the soul, has received the knowledge of the world cycle. Who gave this knowledge? He too must surely be the Spinner of the discus of self-realisation. Only the Father can teach you; no human being can teach you. The Father, the Supreme Spirit, is teaching you children. He says: Children, become soul conscious. There is no need for this knowledge or these teachings to be given in the golden age, nor is there any devotion there. You receive your inheritance through this knowledge. The Father gives you shrimat; this is the way you become elevated. You know that you were in a graveyard (kabristhan) and that the Father is now making you into elevated residents of the land of angels (paristhan). This old world is to be turned into a graveyard. The land of death is called the graveyard. The new world is called the land of angels (Paristhan). The Father explains the secrets of the drama. This whole world is called a haystack. Baba has explained that Ravan’s kingdom now extends over the whole world. People celebrate Dashera (the burning of Ravan’s effigy) and they become so happy. The Father says: In order to liberate all of you children from sorrow, I too have to come into Ravan’s old world. There is a story told about this. Someone was asked what he wanted first: happiness or sorrow. He replied that he wanted happiness first, because, if he went into happiness, none of the demons of death could go there. That is just a story. The Father also tells you that death never enters the land of happiness. That is the land of immortality; you conquer death. You become such almighty authorities. There, you never say that so-and-so has died. There is no mention of death there. They just change their costumes and put on others. Just as a snake sheds its skin, so you too shed your old skins, that is, you enter new bodies. There, even the five elements are satopradhan. Everything becomes satopradhan. Everything, including the fruit etc., is the best. The golden age is called heaven. There, they are very wealthy. No one else can be such a happy master of the world as they are. You now know that you are the same ones. Therefore, you should have so much happiness. You have to make everyone into a resident of the land of angels. You have to bring benefit to many. You become very wealthy. Everyone else is poor. Until you put your hand in His hand, you cannot become a resident of heaven. Not everyone will take the Father’s hand; only you take the Father’s hand. Others then take your hands. Others will then take the hands of others, just as swimmers take others across to the other side, one by one. You are also master boatmen. Many of you are becoming boatmen. This is your business. We are showing everyone the way to take their boats across. Children of the Boatman also become boatmen. The names of God, the Boatman and the Master of the Garden are so ordinary. You can now see this in a practical way. You are now establishing the land of angels. Your memorials are in front of you. You are shown doing the tapasya of Raj Yoga on the ground and your kingdom is shown above you. The name “Dilwala” is very good. The Father wins everyone’s heart. He grants salvation to everyone. Who is it that wins your hearts? No one knows this. Shiv Baba is also the Father of Brahma. It is the unlimited Father who wins everyone’s heart. He even brings benefit to the elements, etc. This too has been explained to you children. The scriptures of all the other religions, etc remain permanently. You receive this knowledge at the confluence age. Then destruction takes place and none of the scriptures remain. All the scriptures are signs of the path of devotion. This is knowledge. You can recognize the difference, can you not? There is a lot of devotion. They spend so much when they worship the goddesses etc. The Father says: They receive temporary happiness by doing that. Whatever devotional feelings they have, they are fulfilled. While decorating and worshipping the goddesses, they have visions and they become very happy with just that. However, there is no benefit in that. Meera’s name has also been remembered. There is the rosary of devotees. Of the females it is Meera and of the males it is Narad who are remembered as the most elevated devotees. It is also numberwise for you children. There are many beads in a rosary. At the head is Baba, the Flower (the tassel), and then there is the dual-bead. Everyone salutes the Flower. Everyone salutes each bead. When they create a sacrificial fire of Rudra, they worship Shiva the most. They don’t worship the saligrams as much. Their full attention is on Shiva because it was through Shiv Baba that the saligrams became so clever, just as you are now becoming pure. You children of the Purifier Father are master purifiers. If you don’t show others the path, you will receive a status only worth a few pennies. Nevertheless, at least you have met the Father. That is not a small thing. The Father of all is that One. You wouldn’t say this of Krishna. Whose father does Krishna become? Krishna isn’t called a father. You can’t call a child a father. Only when he becomes part of a couple and creates children can he be called a father. They would then call him father. No one else can call him father. However, an elderly man can also be called father (Bapuji). This one is the Father of everyone. They sing about brotherhood. By saying that God is omnipresent, it becomes a fatherhood. You children will have to explain in very large gatherings. Before you go and give a lecture, you should always first churn that topic and write about it. The Father doesn’t have to churn the ocean of knowledge. He only tells you what He told you a cycle ago and then He goes back. You have to explain the topics. First write it down and then read it back. After having given the lecture, you then remember the particular points that you didn’t share: “It would have been better if I had explained this.” It happens like that. You forget one point or another. First of all, tell them: Brothers and sisters, sit in soul consciousness. Never forget this. No one writes such news. First of all, tell everyone: Sit in soul consciousness. You souls are imperishable. The Father has now come and is giving you knowledge. The Father says: By remembering Me your sins will be absolved. Don’t remember bodily beings. Consider yourselves to be souls. We are residents of that place. Our Baba is Shiva, the Benefactor, and we souls are His children. The Father says: Be soul conscious. I am a soul. Your sins will be absolved by having remembrance of the Father. You won’t be absolved of them by bathing in the Ganges etc. The Father’s direction is: Remember Me. Those people study the Gita and quote it: Whenever there is extreme irreligiousness, I come. They say this, but they don’t understand the meaning of it. The Father gives you advice on how to do service. Shiv Baba says: Consider yourselves to be souls and remember Shiv Baba. They believe that Krishna said that. You say that Shiv Baba is telling us children: Remember Me. The more you remember Me, the more satopradhan you will become and the higher the status you will claim. Your aim and objective is also in front of you. You have to claim a high status by making effort. Those elsewhere will claim a high status in their own religion. We don’t go into the religions of others; they come later on. They know that Paradise existed before them. Bharat is the most ancient land but no one knows when it existed. They call them gods and goddesses, but the Father says: They shouldn’t be called gods and goddesses. I alone am God. You are Brahmins. The Father is not called a Brahmin. He is God, the Highest on High. He has no bodily name. All of you have names for your bodies. A soul is just a soul. He is the Supreme Soul. The name of that Soul is Shiva. He is incorporeal. He has neither a subtle nor a physical body. This doesn’t mean that He doesn’t have a form. Anything that has a name definitely has a form. Nothing exists without name or form. It is such great ignorance to say that God, the Father, is beyond name and form. If the Father were beyond name and form, and the children were also beyond name and form, there would then be no world. You can now explain very well. The gurus will understand at the end. They are ruling now. You are now becoming doubly non-violent. The supreme religion of non-violence of the deities has been remembered as the doubly non-violent religion. To hit someone physically or to cause sorrow is also a form of violence. Every day the Father explains: Never cause sorrow with your thoughts, words or deeds. Something will definitely enter your thoughts. In the golden age, nothing like that will enter your thoughts. Here, it enters your thoughts, words and deeds. You will not hear these words there, nor are there any gatherings of truth (satsangs), etc. there. The only gathering of truth is with the Truth in order to become true. Only the one Father is the Truth. The Father sits here and tells you the story of becoming true Narayan from an ordinary man. By listening to this, you become Narayan. Then, later, you listen with a great deal of love on the path of devotion to the story of becoming true Narayan. Look how good your memorial, the Dilwala Temple, is. The Father must definitely have won everyone’s heart at the confluence age. Adi Dev, Devi and the children are sitting here. This is the real memorial. No one except you knows its history and geography. It is your memorial. This too is a wonder. When you go to Lakshmi and Narayan’s temple, tell them that you are becoming that. Christ is also here. Many say that Christ is now in his beggar form somewhere. “Tamopradhan” means that he is a beggar, does it not? He definitely takes rebirth. Prince Shri Krishna is also now a beggar: the ugly and the beautiful one. You know what Bharat was and what it has now become. The Father is the Lord of the Poor. People make donations to the poor and perform charity in the name of God. Many don’t even have enough grain. As you progress, you will see that even the wealthy won’t receive enough grain. In every town there are wealthy ones who are robbed by bandits. There is a difference in the status, is there not? The Father says: Make such effort that you claim number one. It is the duty of the Teacher to caution you. You have to pass with honours. This is an unlimited pathshala. This Raj Yoga is to establish the kingdom. The destruction of the old world is to happen again. Otherwise, where would you rule? This land is impure. People say that the Ganges is the Purifier. The Father says: All five elements are impure at this time. All the dirt and rubbish goes into the ocean. Fish etc. also live in that. It is as though that is a world of water. So many species live in water. People get so much food from the big oceans. So, that too is like a town, is it not? How can a town be called the Purifier? The Father explains: Sweetest children, only the one Father is the Purifier. You souls and your bodies have become impure. Now remember Me and you will become pure. You are becoming beautiful masters of the world. There are no other continents there. It is Bharat that has an allround part. All of you are allrounders. In a play, all the actors enter, numberwise. It is the same here. Baba says: Just understand that God is teaching you. We are students of the Purifier, God, the Father. Everything is included in this. The Purifier is included in this and He is also the Guru and the Teacher. He is the Father too. He is also incorporeal. This is the Incorporeal Godfatherly World University. It is such a good name. People praise God so much. When they hear of a point, they become amazed. They praise God so much and yet what is He? Just a point. He has such a great part recorded in Him. The Father now says: While being in a body and living at home with your family, constantly remember Me alone. Those who do intense devotion on the path of devotion are called satopradhan, intense devotees. Their devotion is so intense. You now need an intense speed of remembrance. Only the names of those who practise intense remembrance will be glorified. They will become the beads of the rosary of victory. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to become Narayan from an ordinary man, listen to the true Father every day. Keep the company of the Truth. Never cause anyone sorrow with your thoughts, words or deeds.
  2. In order to become a bead of the rosary of victory and pass with honours, increase your speed of remembrance. Become a master purifier and serve everyone to make them pure.
Blessing: May you be a karma yogi and finish all karmic bondages with the awareness of your birth of dying alive.
This divine birth of dying alive is not a life of karmic bondage; it is a karma yogi life. In this alokik, divine life, Brahmin souls are independent, not dependent. Those bodies are taken on loan and the Father is filling all the old bodies with power and making them act to serve the whole world. It is the Father’s responsibility, not yours. The Father has given you directions on how to act. You are free and the One who is making everyone move is doing that. With this special inculcation, finish all karmic bondages and become a karma yogi.
Slogan: The foundation of an attitude of unlimited disinterest is the closeness of time.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 17 OCTOBER 2020 : AAJ KI MURLI

17-10-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – तुम्हें एक-एक को परिस्तानी बनाना है, तुम हो सबका कल्याण करने वाले, तुम्हारा कर्तव्य है गरीबों को साहूकार बनाना”
प्रश्नः- बाप का कौन-सा नाम भल साधारण है लेकिन कर्तव्य बहुत महान है?
उत्तर:- बाबा को कहते हैं बागवान-खिवैया। यह नाम कितना साधारण है लेकिन डूबने वाले को पार ले जाना, यह कितना महान कर्तव्य है। जैसे तैरने वाले तैराक एक-दो को हाथ में हाथ दे पार ले जाते हैं, ऐसे बाप का हाथ मिलने से तुम स्वर्गवासी बन जाते हो। अभी तुम भी मास्टर खिवैया हो। तुम हरेक की नईया को पार लगाने का रास्ता बताते हो।

ओम् शान्ति। याद में तो बच्चे बैठे ही होंगे। अपने को आत्मा समझना है, देह भी है। ऐसे नहीं कि बिगर देह बैठे हो। परन्तु बाप कहते हैं देह-अभिमान छोड़ देही-अभिमानी बनकर बैठो। देही-अभिमान है शुद्ध, देह-अभिमान है अशुद्ध। तुम जानते हो देही-अभिमानी बनने से हम शुद्ध पवित्र बन रहे हैं। देह-अभिमानी बनने से अशुद्ध, अपवित्र बन गये थे। पुकारते भी हैं हे पतित-पावन आओ। पावन दुनिया थी। अभी पतित है फिर से पावन दुनिया जरूर होगी। सृष्टि का चक्र फिरेगा। जो इस सृष्टि चक्र को जानते हैं उनको कहा जाता है स्वदर्शन चक्रधारी। तुम हर एक स्वदर्शन चक्रधारी हो। स्व आत्मा को सृष्टि चक्र का ज्ञान मिला है। ज्ञान किसने दिया? जरूर वह भी स्वदर्शन चक्रधारी होगा। सिवाए बाप के दूसरा कोई मनुष्य सिखला न सके। बाप सुप्रीम रूह ही बच्चों को सिखलाते हैं। कहते हैं बच्चे तुम देही-अभिमानी बनो। सतयुग में यह ज्ञान अथवा शिक्षा देने की दरकार नहीं रहेगी। न वहाँ भक्ति है। ज्ञान से वर्सा मिलता है। बाप श्रीमत देते हैं ऐसे तुम श्रेष्ठ बनेंगे। तुम जानते हो हम कब्रिस्तानी थे, अब बाप श्रेष्ठ परिस्तानी बनाते हैं। यह पुरानी दुनिया कब्रदाखिल होनी है। मृत्युलोक को कब्रिस्तान ही कहेंगे। परिस्तान नई दुनिया को कहा जाता है। ड्रामा का राज़ बाप समझाते हैं। इस सारी सृष्टि को भंभोर कहा जाता है।

बाबा ने समझाया है – सारी सृष्टि पर इस समय रावण का राज्य है। दशहरा भी मनाते हैं, कितना खुश होते हैं। बाप कहते हैं सब बच्चों को दु:ख से छुड़ाने मुझे भी पुरानी रावण की दुनिया में आना पड़ता है। एक कथा सुनाते हैं। कोई ने पूछा पहले तुमको सुख चाहिए या दु:ख? तो बोला सुख चाहिए। सुख में जायेंगे तो वहाँ कोई जमदूत आदि आ नहीं सकेंगे। यह भी एक कहानी है। बाप बतलाते हैं, सुखधाम में कभी काल आता नहीं है, अमरपुरी बन जाती है। तुम मृत्यु पर जीत पाते हो। तुम कितने सर्वशक्तिमान् बनते हो। वहाँ कभी ऐसे नहीं कहेंगे कि फलाना मर गया, मरने का नाम ही नहीं। एक चोला बदलकर दूसरा लिया। सर्प भी खल बदलते हैं ना। तुम भी पुरानी खाल छोड़ नई खाल अर्थात् शरीर में आयेंगे। वहाँ 5 तत्व भी सतोप्रधान बन जाते हैं। सब चीजें सतोप्रधान हो जाती हैं। हर चीज़ फल आदि दी बेस्ट होते हैं। सतयुग को कहा ही जाता है स्वर्ग। वहाँ बहुत धनवान थे। इन जैसा सुखी विश्व का मालिक कोई हो न सके। अभी तुम जानते हो हम ही यह थे, तो कितनी खुशी होनी चाहिए। एक-एक को परिस्तानी बनाना है, बहुतों का कल्याण करना है। तुम बहुत साहूकार बनते हो। वह सब हैं गरीब। जब तक तुम्हारे हाथ में हाथ न मिले तब तक स्वर्गवासी बन न सकें। बाप का हाथ तो सबको नहीं मिलता है। बाप का हाथ मिलता है तुमको। तुम्हारा हाथ फिर मिलता है औरों को। औरों का फिर मिलेगा औरों को। जैसे कोई तैरने वाले होते हैं तो एक-एक को उस पार ले जाते हैं। तुम भी मास्टर खिवैया हो। अनेक खिवैया बन रहे हैं। तुम्हारा धंधा ही यह है। हम हर एक की नईया पार लगाने का रास्ता बतायें। खिवैया के बच्चे खिवैया बनें। नाम कितना हल्का है – बागवान, खिवैया। अब प्रैक्टिकल तुम देखते हो। तुम परिस्तान की स्थापना कर रहे हो। तुम्हारे यादगार सामने खड़े हैं। नीचे राजयोग की तपस्या, ऊपर में राजाई खड़ी है। नाम भी देलवाड़ा बहुत अच्छा है। बाप सबकी दिल लेते हैं। सबकी सद्गति करते हैं। दिल लेने वाला कौन है। यह थोड़ेही किसको पता है। ब्रह्मा का भी बाप शिवबाबा। सबकी दिल लेने वाला बेहद का बाप ही होगा। तत्वों आदि सबका कल्याण करते हैं, यह भी बच्चों को समझाया है और धर्म वालों के शास्त्र आदि कायम हैं। तुमको ज्ञान मिलता ही है संगम पर, फिर विनाश हो जाता है तो कोई शास्त्र नहीं रहता। शास्त्र हैं भक्ति मार्ग की निशानी। यह है ज्ञान। फ़र्क देखा ना। भक्ति अथाह है, देवियों आदि की पूजा में कितना खर्चा करते हैं। बाप कहते हैं इनसे अल्पकाल का सुख है। जैसी-जैसी भावना रखते हैं वह पूरी होती है। देवियों को सजाते-सजाते कोई को साक्षात्कार हुआ बस बहुत खुश हो जाते। फायदा कुछ भी नहीं। मीरा का भी नाम गाया हुआ है। भक्त माला है ना। फीमेल में मीरा, मेल्स में नारद शिरोमणी भगत माने हुए हैं। तुम बच्चों में भी नम्बरवार हैं। माला के दाने तो बहुत हैं। ऊपर में बाबा है फूल, फिर है युगल मेरू। फूल को सब नमस्ते करते हैं। एक-एक दाने को नमस्ते करते। रूद्र यज्ञ रचते हैं तो उनमें भी जास्ती पूजा शिव की करते हैं। सालिग्रामों की इतनी नहीं करते। सारा ख्याल शिव की तरफ रहता है क्योंकि शिवबाबा द्वारा ही सालिग्राम ऐसे तीखे बने हैं, जैसे अब तुम पावन बन रहे हो। पतित-पावन बाप के बच्चे तुम भी मास्टर पतित-पावन हो। अगर किसको रास्ता नहीं बताते तो पाई-पैसे का पद मिल जायेगा। फिर भी बाप से तो मिले ना। वह भी कम थोड़ेही है। सबका फादर वह एक है। कृष्ण के लिए थोड़ेही कहेंगे। कृष्ण किसका फादर बनेगा? कृष्ण को फादर नहीं कहेंगे। बच्चे को फादर थोड़ेही कह सकते। फादर तब कहा जाता जब युगल बने, बच्चा पैदा हो। फिर वह बच्चा फादर कहेगा। दूसरा कोई कह न सके। बाकी तो कोई भी बुजुर्ग को बापू जी कह देते हैं। यह (शिवबाबा) तो सबका बाप है। गाते भी हैं ब्रदरहुड। ईश्वर को सर्वव्यापी कहने से फादरहुड हो जाता है।

तुम बच्चों को बड़ी-बड़ी सभाओं में समझाना पड़ेगा। हमेशा कहाँ भी भाषण पर जाओ तो जिस टॉपिक पर भाषण करना है, उस पर विचार सागर मंथन कर लिखना चाहिए। बाप को तो विचार सागर मंथन नहीं करना है। कल्प पहले जो सुनाया था वह सुनाकर जायेंगे। तुमको तो टॉपिक पर समझाना है। पहले लिखकर फिर पढ़ना चाहिए। भाषण करने के बाद फिर स्मृति में आता है – यह-यह प्वाइंट्स नहीं बताई। यह समझाते थे तो अच्छा था। ऐसे होता है, कोई न कोई प्वाइंट्स भूल जाती हैं। पहले-पहले तो बोलना चाहिए – भाई-बहनों आत्म-अभिमानी होकर बैठो। यह तो कभी भूलना नहीं चाहिए। ऐसे कोई समाचार लिखते नहीं हैं। पहले-पहले सबको कहना है – आत्म-अभिमानी हो बैठो। तुम आत्मा अविनाशी हो। अभी बाप आकर ज्ञान दे रहे हैं। बाप कहते हैं मुझे याद करने से विकर्म विनाश होंगे। कोई भी देहधारी को मत याद करो। अपने को आत्मा समझो, हम वहाँ के रहने वाले हैं। हमारा बाबा कल्याणकारी शिव है, हम आत्मायें उनके बच्चे हैं। बाप कहते हैं आत्म-अभिमानी बनो। मैं आत्मा हूँ। बाप की याद से विकर्म विनाश होंगे। गंगा स्नान आदि से विकर्म विनाश नहीं होंगे। बाप का डायरेक्शन है तुम मुझे याद करो। वो लोग गीता पढ़ते हैं यदा यदाहि धर्मस्य….. कहते हैं परन्तु अर्थ कुछ नहीं जानते। तो बाबा सर्विस की राय देते हैं – शिवबाबा कहते हैं अपने को आत्मा समझ शिवबाबा को याद करो। वह समझते हैं कृष्ण ने कहा, तुम कहेंगे शिवबाबा हम बच्चों को कहते हैं मुझे याद करो। जितना मुझे याद करेंगे उतना सतोप्रधान बन ऊंच पद पायेंगे। एम ऑब्जेक्ट भी सामने है। पुरूषार्थ से ऊंच पद पाना है। उस तरफ वाले अपने धर्म में ऊंच पद पायेंगे, हम दूसरे के धर्म में जाते नहीं हैं। वह तो आते ही पीछे हैं। वह भी जानते हैं हमसे पहले पैराडाइज था। भारत सबसे प्राचीन है। परन्तु कब था, वह कोई नहीं जानते। उन्हों को भगवान-भगवती भी कहते हैं परन्तु बाप कहते भगवान-भगवती नहीं कह सकते। भगवान तो एक ही मैं हूँ। हम ब्राह्मण हैं। बाप को तो ब्राह्मण नहीं कहेंगे। वह है ऊंच ते ऊंच भगवान, उनके शरीर का नाम नहीं है। तुम्हारे सब शरीर के नाम पड़ते हैं। आत्मा तो आत्मा ही है। वह भी परम आत्मा है। उस आत्मा का नाम शिव है, वह है निराकार। न सूक्ष्म, न स्थूल शरीर है। ऐसे नहीं कि उनका आकार नहीं है। जिसका नाम है, आकार भी जरूर है। नाम-रूप बिगर कोई चीज़ है नहीं। परमात्मा बाप को नाम-रूप से न्यारा कहना कितना बड़ा अज्ञान है। बाप भी नाम-रूप से न्यारा, बच्चे भी नाम-रूप से न्यारे फिर तो कोई सृष्टि ही न हो। तुम अब अच्छी रीति समझा सकते हो। गुरू लोग पिछाड़ी में समझेंगे। अभी उन्हों की बादशाही है।

तुम अभी डबल अहिंसक बनते हो। अहिंसा परमो देवी-देवता धर्म डबल अहिंसक गाया हुआ है। किसको हाथ लगाना, दु:ख देना वह भी हिंसा हो गई। बाप रोज़-रोज़ समझाते हैं – मन्सा-वाचा-कर्मणा किसको दु:ख नहीं देना है। मन्सा में आयेगा जरूर। सतयुग में मन्सा में भी नहीं आता। यहाँ तो मन्सा-वाचा-कर्मणा आता है। यह अक्षर तुम वहाँ सुनेंगे भी नहीं। न वहाँ कोई सतसंग आदि होते हैं। सतसंग होता ही है सत द्वारा, सत बनने के लिए। सत्य एक ही बाप है। बाप बैठ नर से नारायण बनने की कथा सुनाते हैं, जिससे तुम नारायण बन जाते हो। फिर भक्ति मार्ग में सत्य नारायण की कथा बड़े प्यार से सुनते हैं। तुम्हारा यादगार देलवाड़ा मन्दिर देखो कैसा अच्छा है। जरूर संगमयुग पर दिल ली होगी। आदि देव और देवी, बच्चे बैठे हैं। यह है रीयल यादगार। उनकी हिस्ट्री-जॉग्राफी कोई नहीं जानते सिवाए तुम्हारे। तुम्हारा ही यादगार है। यह भी वन्डर है। लक्ष्मी-नारायण के मन्दिर में जायेंगे तो तुम कहेंगे यह हम बन रहे हैं। क्राइस्ट भी यहाँ है। बहुत कहते हैं क्राइस्ट बेगर रूप में है। तमोप्रधान अर्थात् बेगर हुआ ना। पुनर्जन्म तो जरूर लेंगे ना। श्रीकृष्ण प्रिन्स सो अब बेगर है। गोरा और सांवरा। तुम भी जानते हो – भारत क्या था, अब क्या है। बाप तो है ही गरीब निवाज़। मनुष्य दान-पुण्य भी गरीबों को करते हैं ईश्वर अर्थ। बहुतों को अनाज नहीं मिलता है। आगे चल तुम देखेंगे बड़े-बड़े साहूकारों को भी अनाज नहीं मिलेगा। गांव-गांव में भी साहूकार रहते हैं ना, जिनको फिर डाकू लोग लूट जाते हैं। मर्तबे में फ़र्क तो रहता है ना। बाप कहते हैं पुरूषार्थ ऐसा करो जो नम्बरवन में जाओ। टीचर का काम है सावधान करना। पास विद् ऑनर होना है। यह बेहद की पाठशाला है। यह है ही राजाई स्थापन करने के लिए राजयोग। फिर भी पुरानी दुनिया का विनाश होना है। नहीं तो राजाई कहाँ करेंगे। यह तो है ही पतित धरनी।

मनुष्य कहते हैं – गंगा पतित-पावनी है। बाप कहते हैं इस समय 5 तत्व सब तमोप्रधान पतित हैं। सारा गंद किचड़ा आदि वहाँ जाए पड़ता है। मछलियां आदि भी उसमें रहती हैं। पानी की भी एक जैसे दुनिया है। पानी में जीव कितने रहते हैं। बड़े-बड़े सागर से भी कितना भोजन मिलता है। तो गांव हो गया ना। गांव को फिर पतित-पावन कैसे कहेंगे। बाप समझाते हैं – मीठे-मीठे बच्चे, पतित-पावन एक बाप है। तुम्हारी आत्मा और शरीर पतित हो गया है, अब मुझे याद करो तो पावन बन जायेंगे। तुम विश्व के मालिक, खूबसूरत बन जाते हो। वहाँ दूसरा कोई खण्ड होता नहीं। भारत का ही आलराउन्ड पार्ट है। तुम सब आलराउन्डर हो। नाटक में एक्टर नम्बरवार आते-जाते हैं। यह भी ऐसे है। बाबा कहते हैं तुम समझो हमको भगवान पढ़ाते हैं। हम पतित-पावन गॉड फादरली स्टूडेन्ट हैं, इसमें सब आ गया। पतित-पावन भी हो गया, गुरू टीचर भी हो गया। फादर भी हो गया। सो भी निराकार है। यह है इनकारपोरियल गॉड फादरली वर्ल्ड युनिवर्सिटी। कितना अच्छा नाम है। ईश्वर की कितनी महिमा करते हैं। जब बिन्दी सुनते हैं तो वन्डर लगता है। ईश्वर की महिमा इतनी करते, और चीज़ क्या है! बिन्दी। उनमें पार्ट कितना भरा हुआ है। अब बाप कहते हैं देह होते हुए, गृहस्थ व्यवहार में रहते हुए मामेकम् याद करो। भक्ति मार्ग में जो नौधा भक्ति करते हैं, उसको कहा जाता है – सतोप्रधान नौधा भक्ति। कितनी तेज भक्ति होती है। अब फिर तेज रफ्तार चाहिए – याद की। तेज याद करने वाले का ही ऊंच नाम होगा। विजय माला का दाना बनेंगे। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) नर से नारायण बनने के लिए रोज़ सत्य बाप से सुनना है। सतसंग करना है। कभी मन्सा-वाचा-कर्मणा किसी को दु:ख नहीं देना है।

2) विजय माला का दाना बनने वा पास विद् ऑनर होने के लिए याद की रफ्तार तेज करनी है। मास्टर पतित-पावन बन सबको पावन बनाने की सेवा करनी है।

वरदान:- मरजीवा जन्म की स्मृति से सर्व कर्मबन्धनों को समाप्त करने वाले कर्मयोगी भव
यह मरजीवा दिव्य जन्म कर्मबन्धनी जन्म नहीं, यह कर्मयोगी जन्म है। इस अलौकिक दिव्य जन्म में ब्राह्मण आत्मा स्वतंत्र है न कि परतंत्र। यह देह लोन में मिली हुई है, सारे विश्व की सेवा के लिए पुराने शरीरों में बाप शक्ति भरकर चला रहे हैं, जिम्मेवारी बाप की है, न कि आप की। बाप ने डायरेक्शन दिया है कि कर्म करो, आप स्वतंत्र हो, चलाने वाला चला रहा है। इसी विशेष धारणा से कर्मबन्धनों को समाप्त कर कर्मयोगी बनो।
स्लोगन:- समय की समीपता का फाउन्डेशन है – बेहद की वैराग्य वृत्ति।

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 17 OCTOBER 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 17 October 2019

To Read Murli 16 October 2019:- Click Here
17-10-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – बाप की याद के साथ-साथ ज्ञान धन से सम्पन्न बनो, बुद्धि में सारा ज्ञान घूमता रहे तब अपार खुशी रहेगी, सृष्टि चक्र के ज्ञान से तुम चक्रवर्ती राजा बनेंगे”
प्रश्नः- किन बच्चों (मनुष्यों) की प्रीत बाप से नहीं हो सकती है?
उत्तर:- जो रौरव नर्क में रहने वाले विकारों से प्रीत करते हैं, ऐसे मनुष्यों की प्रीत बाप से नहीं हो सकती। तुम बच्चों ने बाप को पहचाना है इसलिए तुम्हारी बाप से प्रीत है।
प्रश्नः- किसे सतयुग में आने का हुक्म ही नहीं है?
उत्तर:- बाप को भी सतयुग में आना नहीं है तो वहाँ काल भी नहीं आ सकता है। जैसे रावण को सतयुग में आने का हुक्म नहीं, ऐसे बाबा कहते बच्चे मुझे भी सतयुग में आने का हुक्म नहीं। बाबा तो तुम्हें सुखधाम का लायक बनाकर घर चले जाते हैं, उन्हें भी लिमिट मिली हुई है।

ओम् शान्ति। रूहानी बाप बैठ रूहानी बच्चों को समझाते हैं। रूहानी बच्चे याद की यात्रा में बैठे हुए हो? अन्दर में यह ज्ञान है ना कि हम आत्मायें याद की यात्रा पर हैं। यात्रा अक्षर तो जरूर दिल में आना चाहिए। जैसे वह यात्रा करते हैं हरिद्वार, अमरनाथ जाने की। यात्रा पूरी की फिर लौट आते हैं। यहाँ फिर तुम बच्चों की बुद्धि में है कि हम जाते हैं शान्तिधाम। बाप ने आकर हाथ पकड़ा है। हाथ पकड़कर पार ले जाना होता है ना। कहते भी हैं हाथ पकड़ लो क्योंकि विषय सागर में पड़े हैं। अब तुम शिवबाबा को याद करो और घर को याद करो। अन्दर में यह आना चाहिए कि हम जा रहे हैं। इसमें मुख से कुछ बोलना भी नहीं है। अन्दर में सिर्फ याद रहे – बाबा आया हुआ है लेने लिए। याद की यात्रा पर जरूर रहना है। इस याद की यात्रा से ही तुम्हारे पाप कटने हैं, तब ही फिर उस मंजिल पर पहुँचेंगे। कितना क्लीयर बाप समझाते हैं। जैसे छोटे बच्चों को पढ़ाया जाता है ना। सदैव बुद्धि में हो कि हम बाबा को याद करते जा रहे हैं। बाप का काम ही है पावन बनाकर पावन दुनिया में ले जाना। बच्चों को ले जाते हैं। आत्मा को ही यात्रा करनी है। हम आत्माओं को बाप को याद कर घर जाना है। घर पहुँचेंगे फिर बाप का काम पूरा हुआ। बाप आते ही हैं पतित से पावन बनाकर घर ले जाने। पढ़ाई तो यहाँ ही पढ़ते हैं। भल घूमो फिरो, कोई भी काम-काज करो, बुद्धि में यह याद रहे। योग अक्षर में यात्रा सिद्ध नहीं होती है। योग सन्यासियों का है। वह तो सब है मनुष्यों की मत। आधा-कल्प तुम मनुष्य मत पर चले हो। आधाकल्प दैवी मत पर चले थे। अभी तुमको मिलती है ईश्वरीय मत।

योग अक्षर नहीं कहो, याद की यात्रा कहो। आत्मा को यह यात्रा करनी है। वह होती है जिस्मानी यात्रा, शरीर के साथ जाते हैं। इसमें तो शरीर का काम ही नहीं। आत्मा जानती है, हम आत्माओं का वह स्वीट घर है। बाप हमको शिक्षा दे रहे हैं जिससे हम पावन बनेंगे। याद करते-करते तमोप्रधान से सतोप्रधान बनना है। यह है यात्रा। हम बाप की याद में बैठते हैं क्योंकि बाबा के पास ही घर जाना है। बाप आते ही हैं पावन बनाने। सो तो पावन दुनिया में जाना ही है। बाप पावन बनाते हैं फिर नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार तुम पावन दुनिया में जायेंगे। यह ज्ञान बुद्धि में रहना चाहिए। हम याद की यात्रा पर हैं। हमको इस मृत्युलोक में लौटकर नहीं आना है। बाबा का काम है हमको घर तक पहुँचाना। बाबा रास्ता बता देते हैं अभी तुम तो मृत्युलोक में हो फिर अमर-लोक नई दुनिया में होंगे। बाप लायक बनाकर ही छोड़ते हैं। सुखधाम में बाप नहीं ले जायेंगे। इनकी लिमिट हो जाती है घर तक पहुँचाना। यह सारा ज्ञान बुद्धि में रहना चाहिए। सिर्फ बाप को याद नहीं करना चाहिए, साथ में ज्ञान भी चाहिए। ज्ञान से तुम धन कमाते हो ना। इस सृष्टि चक्र की नॉलेज से तुम चक्रवर्ती राजा बनते हो। बुद्धि में यह ज्ञान है, इसमें चक्र लगाया है। फिर हम घर जायेंगे फिर नयेसिर चक्र शुरू होगा। यह सारा ज्ञान बुद्धि में रहे तब खुशी का पारा चढ़े। बाप को भी याद करना है, शान्तिधाम, सुखधाम को भी याद करना है। 84 का चक्र अगर याद नहीं करेंगे तो चक्रवर्ती राजा कैसे बनेंगे। सिर्फ एक को याद करना तो सन्यासियों का काम है क्योंकि वह इनको जानते नहीं हैं। ब्रह्म को ही याद करते हैं। बाप तो अच्छी रीति बच्चों को सम-झाते हैं। याद करते-करते ही तुम्हारे पाप कट जाने हैं। पहले तो घर जाना है, यह है रूहानी यात्रा। गायन भी है चारों तरफ लगाये फेरे फिर भी हरदम दूर रहे अर्थात् बाप से दूर रहे। जिस बाप से बेहद का वर्सा मिलना है उनको तो जानते ही नहीं। कितने चक्र लगाये हैं। हर वर्ष भी कई यात्रा करते हैं। पैसे बहुत होते हैं तो यात्रा का शौक रहता है। यह तो तुम्हारी है रूहानी यात्रा। तुम्हारे लिए नई दुनिया बन जायेगी फिर तो नई दुनिया में ही आने वाले हो, जिसको अमरलोक कहा जाता है। वहाँ काल होता नहीं जो किसको ले जाये। काल को हुक्म ही नहीं है नई दुनिया में आने का। रावण की तो यह पुरानी दुनिया है ना। तुम बुलाते भी यहाँ हो। बाप कहते हैं मैं पुरानी दुनिया में पुराने शरीर में आता हूँ। मुझे भी नई दुनिया में आने का हुक्म नहीं। मैं तो पतितों को ही पावन बनाने आता हूँ। तुम पावन बन फिर औरों को भी पावन बनाते हो। सन्यासी तो भाग जाते हैं। एकदम गुम हो जाते हैं। पता ही नहीं पड़ता है, कहाँ चला गया क्योंकि वह ड्रेस ही बदल लेते हैं। जैसे एक्टर्स रूप बदलते हैं। कभी मेल से फीमेल बन जाते हैं, कभी फीमेल से मेल बन जाते हैं। यह भी रूप बदलते हैं। सतयुग में थोड़ेही ऐसी बातें होंगी।

बाप कहते हैं हम आते हैं नई दुनिया बनाने। आधाकल्प तुम बच्चे राज्य करते हो फिर ड्रामा प्लैन अनुसार द्वापर शुरू होता है, देवतायें वाम मार्ग में चले जाते हैं, उन्हों के बहुत गन्दे चित्र भी जगन्नाथपुरी में हैं। जग-न्नाथ का मन्दिर है। यूँ तो उनकी राजधानी थी जो खुद विश्व के मालिक थे। वह फिर मन्दिर में जाकर बन्द हुआ, उनको काला दिखाते हैं। इस जगत नाथ के मन्दिर पर तुम बहुत समझा सकते हो। और कोई इनका अर्थ समझा नहीं सकते। देवता ही पूज्य से पुजारी बनते हैं। वह लोग तो हर बात में भगवान के लिए कह देते आपेही पूज्य, आपेही पुजारी। आप ही सुख देते हो, आप ही दु:ख देते हो। बाप कहते हैं मैं तो किसको दु:ख देता ही नहीं हूँ। यह तो समझ की बात है। बच्चा जन्मा तो खुशी होगी, बच्चा मरा तो रोने लग पड़ेंगे। कहेंगे भगवान ने दु:ख दिया। अरे, यह अल्पकाल का सुख-दु:ख तुमको रावण राज्य में ही मिलता है। मेरे राज्य में दु:ख की बात नहीं होती। सतयुग को कहा जाता है अमरलोक। इनका नाम ही है मृत्युलोक। अकाले मर पड़ते हैं। वहाँ तो बहुत खुशियाँ मनाते हैं, आयु भी बड़ी रहती है। बड़ी में बड़ी आयु 150 वर्ष की होती है। यहाँ भी कभी-कभी ऐसे कोई की होती है परन्तु यहाँ तो स्वर्ग नहीं है ना। कोई शरीर को बहुत सम्भाल से रखते हैं तो आयु बड़ी भी हो जाती है फिर बच्चे भी कितने हो जाते हैं। परिवार बढ़ता जाता है, वृद्धि जल्दी होती है। जैसे झाड़ से टाल-टालियां निकलती हैं – 50 टालियां और उनसे और 50 निकलेंगी, कितना वृद्धि को पाते हैं। यहाँ भी ऐसे है इसलिए इनका मिसाल बड़ के झाड़ से देते हैं। सारा झाड़ खड़ा है, फाउण्डेशन है नहीं। यहाँ भी आदि सनातन देवी-देवता धर्म का फाउन्डेशन है नहीं। कोई को पता ही नहीं देवतायें कब थे, वह तो लाखों वर्ष कह देते हैं। आगे तुम कभी ख्याल भी नहीं करते थे। बाप ही आकर यह सब बातें समझाते हैं। तुम अभी बाप को भी जान गये हो और सारे ड्रामा के आदि-मध्य-अन्त, ड्युरेशन आदि सबको जान गये हो। नई दुनिया से पुरानी, पुरानी से नई कैसे बनती है, यह कोई नहीं जानते। अभी तुम बच्चे याद की यात्रा में बैठते हो। यह यात्रा तो तुम्हारी नित्य चलनी है। घूमो फिरो परन्तु इस याद की यात्रा में रहो। यह है रूहानी यात्रा। तुम जानते हो भक्ति मार्ग में हम भी उन यात्राओं पर जाते थे। बहुत बार यात्रा की होगी जो पक्के भक्त होंगे। बाबा ने समझाया है एक शिव की भक्ति करना, वह है अव्यभिचारी भक्ति। फिर देवताओं की होती है, फिर 5 तत्वों की भक्ति करते हैं। देवताओं की भक्ति फिर भी अच्छी है क्योंकि उन्हों का शरीर फिर भी सतोप्रधान है, मनुष्यों का शरीर तो पतित है ना। वह तो पावन हैं फिर द्वापर से लेकर सब पतित बन पड़े हैं। नीचे गिरते आते हैं। सीढ़ी का चित्र तुम्हारे लिए बहुत अच्छा है समझाने का। जिन्न की भी कहानी बताते हैं ना। यह सब दृष्टान्त आदि इस समय के ही हैं। सब तुम्हारे ऊपर ही बने हुए हैं। भ्रमरी का मिसाल भी तुम्हारा है जो कीड़ों को आपसमान ब्राह्मण बनाते हो। यहाँ के ही सब दृष्टान्त हैं।

तुम बच्चे पहले जिस्मानी यात्रा करते थे। अभी फिर बाप द्वारा रूहानी यात्रा सीखते हो। यह तो पढ़ाई है ना। भक्ति में देखो क्या-क्या करते हैं। सबके आगे माथा टेकते रहते हैं, एक के भी आक्यूपेशन को नही जानते। हिसाब किया जाता है ना। सबसे जास्ती जन्म कौन लेते हैं फिर कम होते जाते हैं। यह ज्ञान भी अभी तुमको मिलता है। तुम समझते हो बरोबर स्वर्ग था। भारतवासी तो इतने पत्थर बुद्धि बने हैं, उनसे पूछो स्वर्ग कब था तो लाखों वर्ष कह देंगे। अभी तुम बच्चे जानते हो हम विश्व के मालिक थे, कितने सुखी थे अब फिर हमको बेगर टू प्रिन्स बनना है। दुनिया नई से पुरानी होती है ना। तो बाप कहते हैं – मेहनत करो। यह भी जानते हैं माया घड़ी-घड़ी भुला देती है।

बाप समझाते हैं बुद्धि में सदैव यह याद रखो हम जा रहे हैं, हमारा इस पुरानी दुनिया से लंगर उठा हुआ है। नईया उस पार जानी है। गाते हैं ना नईया हमारी पार ले जाओ। कब पार जानी है, वह जानते नहीं हैं। तो मुख्य है याद की यात्रा। बाप के साथ वर्सा भी याद आना चाहिए। बच्चे बालिग होते हैं तो बाप का वर्सा ही बुद्धि में रहता है। तुम तो बड़े हो ही। आत्मा झट जान लेती है, यह बात तो बरोबर है। बेहद के बाप का वर्सा है ही स्वर्ग। बाबा स्वर्ग की स्थापना करते हैं तो बाप की श्रीमत पर चलना पड़े। बाप कहते हैं पवित्र जरूर बनना है। पवित्रता के कारण ही झगड़े होते हैं। वह तो बिल्कुल ही जैसे रौरव नर्क में पड़े हैं। और ही जास्ती विकारों में गिरने लग पड़ते हैं इसलिए बाप से प्रीत रख नहीं सकते हैं। विनाश काले विपरीत बुद्धि हैं ना। बाप आते ही हैं प्रीत बुद्धि बनाने। बहुत हैं जिनकी रिंचक भी प्रीत बुद्धि नहीं है। कभी बाप को याद भी नहीं करते हैं। शिवबाबा को जानते ही नहीं हैं, मानते ही नहीं हैं। माया का पूरा ग्रहण लगा हुआ है। याद की यात्रा बिल्कुल ही नहीं। बाप मेहनत तो कराते हैं, यह भी जानते हो सूर्यवंशी, चन्द्रवंशी राजधानी यहाँ स्थापन हो रही है। सतयुग-त्रेता में कोई भी धर्म स्थापन होते नहीं। राम कोई धर्म स्थापन नहीं करते। यह तो स्थापना करने वाले बाप द्वारा यह बनते हैं। और धर्म स्थापक और बाप के धर्म स्थापना में रात-दिन का फर्क है। बाप आते ही हैं संगम पर जबकि दुनिया को बदलना है। बाप कहते हैं कल्प-कल्प, कल्प के संगमयुगे आता हूँ, उन्होंने फिर युगे-युगे अक्षर रांग लिख दिया है। आधाकल्प भक्तिमार्ग भी चलना ही है। तो बाप कहते हैं बच्चे इन बातों को भूलो मत। यह कहते हैं बाबा हम आपको भूल जाते हैं। अरे, बाप को तो जानवर भी नहीं भूलते हैं। तुम क्यों भूलते हो? अपने को आत्मा नहीं समझते हो! देह-अभिमानी बनने से ही तुम बाप को भूलते हो। अब जैसे बाप समझाते हैं, वैसे तुम बच्चों को भी टेव (आदत) रखनी चाहिए। भभके से बात करनी चाहिए। ऐसे नहीं, बड़े आदमी के आगे तुम फंक हो जाओ। तुम कुमारियाँ ही बड़े-बड़े विद्वान, पण्डितों के आगे जाती हो तो तुम्हें निडर हो समझाना है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बुद्धि में सदैव याद रहे कि हम जा रहे हैं, हमारी नईया का लंगर इस पुरानी दुनिया से उठ चुका है। हम हैं रूहानी यात्रा पर। यही यात्रा करनी और करानी है।

2) किसी भी बड़े आदमी के सामने निर्भयता (भभके) से बात करनी है, फंक नहीं होना है। देही-अभिमानी बनकर समझाने की आदत डालनी है।

वरदान:- सदा हल्के बन बाप के नयनों में समाने वाले सहजयोगी भव
संगमयुग पर जो खुशियों की खान मिलती है वह और किसी युग में नहीं मिल सकती। इस समय बाप और बच्चों का मिलन है, वर्सा है, वरदान है। वर्सा अथवा वरदान दोनों में मेहनत नहीं होती इसलिए आपका टाइटल ही है सहजयोगी। बापदादा बच्चों की मेहनत देख नहीं सकते, कहते हैं बच्चे अपने सब बोझ बाप को देकर खुद हल्के हो जाओ। इतने हल्के बनो जो बाप अपने नयनों पर बिठाकर साथ ले जाये। बाप से स्नेह की निशानी है – सदा हल्के बन बाप की नजरों में समा जाना।
स्लोगन:- निगेटिव सोचने का रास्ता बंद कर दो तो सफलता स्वरूप बन जायेंगे।

TODAY MURLI 17 OCTOBER 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 17 October 2019

Today Murli in Hindi:- Click Here

Read Murli 16 October 2019:- Click Here

17/10/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, as well as having remembrance of the Father, become full of the wealth of knowledge. Only when the entire knowledge continues to turn around in your intellects will you experience unlimited happiness. It is by having the knowledge of the world cycle that you become the rulers of the globe.
Question: Which children (human beings) are not able to have love for the Father?
Answer: Those who live in the very depths of hell and have love for the vices. Such human beings are not able to have love for the Father. You children have recognised the Father. That is why you have love for the Father.
Question: Who does not have the right to enter the golden age?
Answer: The Father does not enter the golden age and death does not enter there either. Just as Ravan does not have the right to enter the golden age, so the Father says: Children, I too do not have the right to enter the golden age. The Father makes you worthy of going to the land of happiness and He returns home. He too has limits.

Om shanti. The spiritual Father sits here and explains to you spiritual children. Are you spiritual children sitting here on the pilgrimage of remembrance? You souls have the knowledge inside you that you are on the pilgrimage of remembrance. The word “pilgrimage” should definitely enter your hearts. Just as those pilgrims think of going to Haridwar or Amarnath and that when they finish their pilgrimage they will return home, so it is in the intellects of you children here that you are going to the land of peace. The Father has come and is holding your hands. He holds your hands and takes you across. “Hold my hand” is said because you are lying in the ocean of poison. Now, remember Shiv Baba and the home. You should remember internally that you are returning home. You do not have to say anything through your lips. Simply remember internally that Baba has come to take you home. You definitely do have to stay on the pilgrimage of remembrance. It is by having this pilgrimage of remembrance that your sins are cut away. Only then will you reach that high destination. The Father explains to you very clearlyjust as one would teach small children. Let it constantly remain in your intellects while you continue to remember Baba that you are going back. The Father’s task is to purify you and take you to the pure world. He takes you children there. It is souls that have to stay on the pilgrimage. We souls have to remember the Father and return home. When you reach your home, the Father’s task will be over. The Father comes to make you pure from impure and take you home. It is here that you study. By all means, go and tour around etc. but, whatever you do, let your intellects have remembrance. The word “yoga” does not necessarily mean a pilgrimage. Sannyasis use the word “yoga”. All of those are the directions of human beings. For half a cycle, you followed divine dictates and then, for the other half of the cycle, you followed human dictates. You have now received God’s directions. Do not use the word “yoga”; call it the pilgrimage of remembrance. It is souls that have to go on this pilgrimage. Those are physical pilgrimages which you go on with your bodies. You don’t need to use your bodies here. You souls know that that is the sweet home of us souls. The Father is giving you teachings through which you will become pure. You have to become satopradhan from tamopradhan by having remembrance. This is a pilgrimage. We are sitting in remembrance of the Father because we have to go home to Baba. The Father comes to purify you because you have to go to the pure world. The Father makes you pure and then, numberwise, according to the effort you make, you go to the pure world. Let this knowledge stay in your intellects. We are on the pilgrimage of remembrance. We do not want to return to this land of death. It is Baba’s task to take us home. Baba shows you the path. You are now in the land of death. Then you will be in the new world, the land of immortality. The Father will not let go of you until He makes you worthy. The Father will not take you to the land of happiness. He has the limit of only enabling you to reach your home. Let all of this knowledge stay in your intellects. You should not only remember the Father, because you also need to have knowledge. It is by having knowledge that you earn an income. By having the knowledge of the world cycle, you become the rulers of the globe. You have the knowledge in your intellects that you have been around the cycle, that you will return home and that the cycle will start again from the beginning. Only when you keep this entire knowledge in your intellects can your mercury of happiness rise. You have to remember Baba and you also have to remember the land of peace and the land of happiness. How can you become the rulers of the globe if you do not remember the cycle of 84 births? It is the task of sannyasis to remember only one, because they don’t know that One, they only remember the element of light. The Father explains to you children very clearly. By continuing to have remembrance, your sins will be cut away. First, you have to return home. This is your spiritual pilgrimage. There is a song: We went around searching for You in all four directions but still remained distant all the time. That means, we remained distant from the Father. You did not know the Father who gives you the unlimited inheritance. How many times have you been around? People go on many pilgrimages every year. When people have a lot of money they have an interest to go on pilgrimages. This is your spiritual pilgrimage. When the new world has been created for you, you will go there. That is also called the land of immortality. There, there is no death to come and take anyone. Death does not have the right to enter the new world. This is the old world of Ravan. It is here that you invite Me. The Father says: I come into this old world and this old body. I too do not have the right to enter the new world. I only come to purify the impure. You become pure and then make others pure. Sannyasis run away; they completely disappear. You don’t even know where they have gone because they even change their dress (costume). Similarly, actors change their appearance; sometimes, a male actor plays the role of a female and sometimes, a female plays the role of a male. They change their appearance in this way. Such things will not happen in the golden age. The Father says: I come to create the new world. You children rule for half the cycle. Then, according to the drama plan, the copper age begins and the deities fall on to the path of sin once again. There are many dirty images of them in Jagadnathpuri. There is the Temple to Jagadnath. He in fact had a kingdom and was the master of the world, yet he is shut away in a temple and portrayed as ugly! You can explain a great deal at the temple to Jagadnath. No one else can explain the meaning of this. From being worthy of worship, it is the deities who become worshippers. In every instance, those people say that God is worthy of worship as well as a worshipper, that He gives happiness as well as sorrow. The Father says: I do not cause sorrow for anyone. This is a matter of understanding. When a child is born, there is happiness but when the child dies, they cry. They say that God gave them sorrow. Ah! but you receive temporary happiness and sorrow in the kingdom of Ravan. There is no question of sorrow in My kingdom. The golden age is called the land of immortality. This is called the land of death, where they have untimely death. There, they celebrate in great happiness and their lifespans are also long. The longest lifespan is 150 years. Here, too, some people live that long. However, this is not heaven. Some look after their bodies very well and their lifespans become longer. There are some who also have many children. Their family continues to grow and expand very quickly just as branches and twigs emerge on a tree. There might be 50 branches and then 50 more will emerge from them. A great deal of growth takes place. The same thing happens here. This is why this tree is compared to a banyan tree. Although the whole tree is still standing, its foundation does not exist. Here, too, the foundation of the original eternal deity religion no longer exists. No one knows when the deities existed. They speak of hundreds of thousands of years. Previously, you too never thought about this. The Father comes and explains everything to you. You have now come to know the Father and the beginning, middle and end of the whole drama and you have also come to know its duration etc. No one knows how the new world becomes old and how the old world becomes new. You children are now sitting on the pilgrimage of remembrance. This pilgrimage of yours should continue regularly. By all means, go on tour but stay on the pilgrimage of remembrance. This is a spiritual pilgrimage. You understand that you also used to go on those pilgrimages on the path of devotion. Those who were strong devotees must have been on many pilgrimages. Baba has explained that to worship one Shiva is to have unadulterated devotion. Then there is the worship of the deities and, after that, there is the worship of the five elements. The worship of the deities is still better because their bodies are still satopradhan, whereas the bodies of human beings are impure. Those deities are pure. Then, from the copper age onwards everyone becomes impure; they continue to fall. The picture of the ladder is very good to use for you to explain. There is the story about a genie. All of those examples etc. refer to this time. They have all been created about you. The example of the buzzing moth also refers to you. You change the insects and make them similar to yourselves, Brahmins. All of those examples refer to this place. Previously, you children used to go on physical pilgrimages. You are now once again studying this spiritual pilgrimage with the Father. This is a study. Just look what people do on the path of devotion! They continue to bow their heads in front of everyone and yet they don’t know the occupation of any one of them. You can calculate who takes the most births and how the number of births decreases. It is now that you receive this knowledge. You know that heaven definitely did exist. The people of Bharat have such stone intellects that when you ask them when heaven existed, they say: It was hundreds of thousands of years ago. You children know that you were the masters of the world. You were very happy and you now have to change from beggars into princes. The world becomes old from new. Therefore, the Father says: Make effort! He also knows that Maya makes you forget again and again. The Father explains: Always keep it in your intellects that you are returning home. Your anchor has been raised from this old world; your boat is about to go across. People sing: “Take our boat across”, but they don’t know when it’s going to go across. Therefore, the main thing is the pilgrimage of remembrance. Together with the Father, you also have to remember the inheritance. When children grow older they keep their father’s inheritance in their intellects. You are now grown up. You souls understand straightaway that this is accurate. The unlimited Father’s inheritance is heaven. Baba establishes heaven, and so you have to follow the Father’s shrimat. The Father says: You definitely do have to become pure. It is because of purity that fighting and quarrelling take place. It is as though people are absolutely in the depths of hell and are falling even further into vice. This is why they are not able to have love for the Father. They are the ones whose intellects have no love for God at the time of destruction. The Father comes to make you into those with loving intellects. There are many who don’t have the slightest love in their intellects; they don’t even remember the Father. They don’t know Shiv Baba at all; they don’t even believe in Him. They are totally eclipsed by Maya. They have no pilgrimage of remembrance. The Father inspires you to make effort. You also know that the sun and the moon dynasty kingdoms are now being established here. There are no religions established in the golden or silver age. Rama does not establish a religion. He becomes that through the establishment that the Father carries out. There is the difference of day and night in the way that other founders of religions establish their religions and how the Father establishes a religion. The Father comes at the confluence age when the world has to be transformed. The Father says: I come at the confluence of every cycle. However, they have wrongly written the words that I come in every age. The path of devotion has to last for half a cycle. Therefore, the Father says: Children, don’t forget these things. Children say: Baba, we forget You. Oh! but even animals do not forget their father! So, why do you forget? You do not consider yourselves to be souls. By becoming body conscious you forget the Father. Just as the Father now explains to you, so you children also have to form the habit of explaining in the same way. You should speak with confidence. You shouldn’t lose courage in front of important people. You kumaris are the ones who go and explain to great scholars and pundits, and so you must remain fearless when explaining to them. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Let it always be in your intellect that you are now returning home. The anchor of our boat has been raised from this old world. We are on a spiritual pilgrimage. Practise this pilgrimage and inspire others to do the same.
  2. Remain fearless and don’t lose courage when you speak in front of important people. Instil the habit of becoming soul conscious whilst explaining to others.
Blessing: May you be an easy yogi and merged in the Father’s eyes by being constantly light.
The mine of happiness that you receive at the confluence age cannot be received in any other age. At this time, the meeting of the Father and the children takes place, you have the inheritance and also blessings. You don’t have to work hard when you have an inheritance or a blessing and so your title is “easy yogis”. BapDada cannot bear to see the children working hard. He says: Children, hand over all your burdens to the Father and lighten yourself. Become so light that the Father sits you in His eyes and take you with Him. The sign of your having love for the Father is to be constantly light and merged in the Father’s eyes.
Slogan: Close the gate of having negative thoughts and you will become an embodiment of success.

*** Om Shanti ***

TODAY MURLI 17 OCTOBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 17 October 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 16 October 2018 :- Click Here

17/10/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, while living at home with your families, fulfil your responsibilities to everyone. You should not dislike anyone, but you definitely do have to become as pure as a lotus flower.
Question: When will the bells of victory chime? When will you be praised?
Answer: At the end, when the bad omens of Maya stop influencing you, when your line is constantly clear, the bells of victory will then chime and you children will be praised. As yet, you children are still experiencing the bad omens of Maya and obstacles continue to come. You find it difficult to find even three feet of land to do service. However, the time will come when you children will be the masters of the whole world.
Song: Be patient, o mind! Your days of happiness are about to come!

Om shanti. Children understand, numberwise, according to the effort they make, that this old play is now ending. Just a few moments of sorrow still remain and there will then be happiness and only happiness. When you know about happiness, you can understand that this is the land of sorrow. There is a vast differen ce. You now make effort for happiness. You understand that this old play of sorrow is ending. You now follow BapDada’s shrimat to attain happiness. It is very easy to explain to anyone. You now have to return home with Baba. Baba has come to take you back with Him. Remain as pure as a lotus flower while living at home with your families. You definitely have to fulfil your household responsibilities. If you do not fulfil your responsibilities you would be like sannyasis. Because they do not fulfil their household responsibilities, they are called those who belong to the path of isolation, those who practise hatha yoga. Whatever is taught by sannyasis is called hatha yoga, whereas you are studying Raja Yoga, which is taught by God. The religious scripture of Bharat is the Gita. You are not concerned with the religious scriptures of others. Sannyasis do not belong to the household path. Their path is hatha yoga. They abandon their families and go and live in the forests, and so they have to take birth as renunciates for birth after birth, whereas you live at home in your households and renounce everything for just one birth and you receive the reward of that for 21 births. Their renunciation is limited and they practise hatha yoga. Your renunciation is unlimited and you practise Raja Yoga. They renounce their households and businesses. Raja Yoga is praised a great deal. God taught Raja Yoga, and so He must surely be called the Highest on High. Shri Krishna cannot be God. The unlimited Father is the incorporeal One. Only He can give you the unlimited kingdom. Here, you don’t have dislike for family life. The Father says: In this last birth, remain pure while living at home with your families. No sannyasi can be called the Purifier. Sannyasis themselves call out: O Purifier! They remember that One. They also want a pure world, but they don’t know that that world is completely different. Since they don’t live in a household, they don’t believe in the deities. They cannot teach Raja Yoga. Neither does the Father teach hatha yoga nor do sannyasis teach Raja Yoga. This matter has to be understood. A world conference is going to be held in Delhi. Explain to them and give it to all of them in writing. There, there are many conflicting ideas. When you put it in writing, everyone will understand what your aim is. You understand that we are now part of the elevated Brahmin clan. How could we become member s of the shudra clan or how could we register ourselves in a vicious clan? This is why we refuse to register. We are theists and they are atheists. They are those who don’t believe in God, whereas we are those who have yoga with God. Therefore, there is a conflict of ideas. It has been explained that those who do not know the Father are atheists. Therefore, only the Father can come and make them into theists. By belonging to the Father, you receive the inheritance from Him. This is a very deep matter. First of all, you have to instil in their intellects that the Supreme Father, the Supreme Soul, is the God of the Gita. He is the One who established the original eternal deity religion. The deity religion is the main religion of Bharat. The land of Bharat has to have a religion. They have forgotten their religion. You also understand that, according to the drama, the people of Bharat had to forget their religion so that the Father could then come and establish it again. Otherwise, how could the Father come? He says: I come when the deity religion has disappeared. It definitely has to disappear. It is said that one leg of the bull that supports the world is broken and that it is standing on three legs. So, there are four main religions. The leg of the deity religion is now broken, that is, that religion has disappeared. This is why the example of the banyan tree is given: although its foundation has rotted away, its many branches and twigs still remain. So, here, too, the foundation of the deity religion no longer exists but there are many sects and cults all over the world. There is now total light in your intellect. The Father says: You children have now come to know this drama. This whole tree has now become old. The golden age will definitely come after the iron age; the cycle definitely has to turn. You have to keep it in your intellects that the play is now over and that we are to return home. As you walk, as you move around, remember: We now have to return home. This is the real meaning of “Manmanabhav and Madhyajibhav”. If you have to give a lecture to a large audience, explain that the Supreme Father, the Supreme Soul, is once again saying: O children, renounce the consciousness of your bodies and all bodily religions and consider yourselves to be souls; remember the Father and all your sins will finish. I am teaching you Raja Yoga. While living in your households, remain like a lotus flower and remember Me. Remain pure and imbibe this knowledge. Everyone is now degraded. In the golden age, the deities were in salvation. The Father comes again and grants salvation. The qualities of salvation are 16 celestial degrees completely pure and full of all divine virtues. Who gives you these qualities? The Father. What then are His qualities? He is the Ocean of Knowledge, the Ocean of Bliss. His praise is completely separate. Not everyone is the same. All souls are the children of the one Father. There are also the children of Prajapita Brahma. The new creation is now being created. All are the children of the Father of Humanity. However, those people don’t understand these things. The Brahmin caste is the highest of all. The castes of Bharat have been remembered. While taking 84 births you have to pass through these clan. The Brahmin clan exists at the confluence age. You children now remain in sweet silence. This silence is the best of all. In fact, the necklace of peace is around your neck. Everyone wants to go to the home of peace, but who can show them the way? No one, except the Ocean of Peace, can show you the way. He has been given good titles: Ocean of Peace, Ocean of Knowledge. Shri Krishna is the prince of heaven. Baba is the Seed of the human world tree; there is the difference of day and night. Krishna cannot be called the Seed of the human world tree. This proves that the knowledge of omnipresence is not valid. The Father has His own praise. He is eternally worthy of worship. He never becomes a worshipper. Those who come from up above first are the ones who become worshippers from being worthy of worship. Many points are explained to you. So many come to the exhibitions, but only a handful out of multimillions emerge, because the destination is very high. Countless subjects will continue to be created. Out of multimillions, only a handful emerge who become the beads of the rosary. There is the example of Narad. He was told to look at his face to see if he was worthy of claiming Lakshmi as his bride. Many subjects will be created, but a king is still a king! One king has hundreds of thousands of subjects. You have to make elevated effort. Among the kings as well, some are great kings and some are not as great. There were so many kings in Bharat. Even in the golden age there are many maharajas. This has continued since the beginning of the golden age. The maharajas have many properties and the kings have fewer. This is the knowledge to become Shri Lakshmi and Narayan. It is for this that you continue to make effort. When you are asked, “Will you claim the status of Lakshmi and Narayan or the status of Rama and Sita?”, you reply, “We will only claim the status of Lakshmi and Narayan. We will claim our full inheritance from the Mother and Father.” These are such wonderful matters. Such matters do not arise anywhere else, nor are they written in the scriptures. The locks on your intellects have now opened. The Father explains: As you walk and move around, maintain the consciousness of being actor s and that you have to return home. To remember this is called being “Manmanabhav and Madhyajibhav”. The Father reminds you again and again: I have come to take you back home. This is your spiritual pilgrimage. No one except the Father can take you on this pilgrimage. You have to praise Bharat a great deal. This Bharat is the holiest land. Only the one Father is the Remover of Sorrow, the Bestower of Happiness and the Bestower of Salvation for all. Bharat is His birthplace. That Father is the Liberator of all. This is His most elevated pilgrimage place. Although people of Bharat go to a Shiva Temple, they do not know Him. They know Gandhi and believe that he was very good; this is why they go and offer him flowers etc. They spend hundreds of thousands of rupees on that. It is now their government, and so they can do whatever they want. The Father sits here and establishes this religion in an incognito way. This kingdom is now completely separate. In Bharat, in the beginning, it was the kingdom of deities. They show a battle taking place between the deities and the devils, but nothing like that happened. It is here, on the battlefield, that you conquer Maya. Surely, only the Almighty Authority can enable you to conquer Maya. Krishna cannot be called the Almighty Authority. Only Baba can liberate you from the kingdom of Ravan and establish the kingdom of Rama. However, there is no question of a battle etc. there. If you look around in the world, it is the Christian s who are now ‘almighty authorities’. If they wanted to, they could conquer everyone. However, it is not the law for them to become the masters of the world. Only you understand this secret. At this time the kingdom of Christians is the most powerful authority. In fact, their population should be the least because they came last. However, out of the three religions, theirs is the strongest of all and they have everyone under their control. This too is fixed in the drama. It is through them that we will receive our kingdom again. There is a story of how two cats were fighting each other and a third one took the butter. While they wage war among themselves, the people of Bharat will take the butter from in between. The story itself is only worth pennies, but the meaning of it is so great! Human beings are so senseless. Even though they are actors in the drama, they do not understand the drama. They have become senseless. It is only the poor who will understand this. The wealthy don’t understand anything. The Father is remembered as the Lord of the Poor and the Purifier. He is now playing that part in a practical way. You have to explain this to large audiences. Common sense says that, little by little, His praise will be sung and the bells will chime at the last moment. As yet, children are still eclipsed by bad omens. Their line s are not clear. Obstacles continue to come. They will continue to come according to the drama. The more effort you make, the higher the status you will attain. It is remembered of this time that the Pandavas didn’t even have three feet of land. However, no one knows that they were the ones who later became the masters of the world in a practical form. You children now understand that you don’t need to be unhappy about this. The same thing happened in the previous cycle too. You have to stay on the rails of the drama; you must not waver. The play is now about to end, and you will go to the land of happiness. Study in such a way that you claim a high status. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. As you walk, as you move, maintain the consciousness that you are an actor and remain stable on the rails of the drama. Let it remain in your intellect that you are now on a pilgrimage and are returning home.
  2. Imbibe all the qualities for salvation within yourself. Become full of all the divine virtues and 16 celestial degrees completely pure.
Blessing: May you be a master bestower and create a spiritual atmosphere with your good wishes of co-operation.
Matter makes you feel its impact on the climate; sometimes it is hot and sometimes cold. Similarly, you souls who conquer matter are co-operative (sahyogi) and easy yogis (sahaj yogis). You have to become co-operative in creating a spiritual atmosphere with your good wishes. Do not think “This one is like this” or “This one is doing this”. Think “No matter what the atmosphere or person is like, I have to give my co-operation”. The children of the Bestower constantly give. So, whether you are co-operative with your thoughts, your words, relationships or connections, your aim definitely has to be to be co-operative.
Slogan: To fulfil everyone’s desires with your stage of being ignorant of all desires is to be a Kamdhenu (the cow who fulfils everyone’s desires)

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 17 OCTOBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 17 October 2018

To Read Murli 16 October 2018 :- Click Here
17-10-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – गृहस्थ व्यवहार में रहते सबसे तोड़ निभाना है, ऩफरत नहीं करनी है लेकिन कमल फूल के समान पवित्र जरूर बनना है”
प्रश्नः- तुम्हारी विजय का डंका कब बजेगा? वाह-वाह कैसे निकलेगी?
उत्तर:- अन्त समय जब तुम बच्चों पर माया की ग्रहचारी बैठना बन्द हो जायेगी, सदा लाइन क्लीयर रहेगी तब वाह-वाह निकलेगी, विजय का डंका बजेगा। अभी तो बच्चों पर ग्रहचारी बैठ जाती है। विघ्न पड़ते रहते हैं। 3 पैर पृथ्वी के भी सेवा के लिए मुश्किल मिलते हैं लेकिन वह भी समय आयेगा जब तुम बच्चे सारे विश्व के मालिक होंगे।
गीत:- धीरज धर मनुवा ……….. 

ओम् शान्ति। बच्चे नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार जानते हैं कि अभी पुराना नाटक पूरा हुआ है। दु:ख के दिन बाकी कुछ घड़ियां हैं और फिर सदा सुख ही सुख होगा। जब सुख का पता पड़ता है तो समझा जाता है यह दु:खधाम है, वास्ट डिफरेन्ट है। अभी सुख के लिए तुम पुरुषार्थ कर रहे हो। समझते हो यह दु:ख का पुराना नाटक पूरा हुआ। सुख के लिए अब बापदादा की श्रीमत पर चल रहे हैं। कोई को भी समझाना बहुत सहज है। अभी बाबा के पास जाना है। बाबा लेने लिए आया है। गृहस्थ व्यवहार में रहते कमल फूल समान पवित्र हो रहना है। तोड़ जरूर निभाना है। अगर तोड़ नहीं निभाते हो तो जैसे सन्यासियों मिसल हो जाते। वह तोड़ नहीं निभाते हैं तो उनको निवृत्ति मार्ग, हठयोग कहा जाता है। सन्यासियों द्वारा जो सिखलाया जाता है वह है हठयोग। हम राजयोग सीखते हैं, जो भगवान् सिखलाते हैं। भारत का धर्म शास्त्र है ही गीता। दूसरों का धर्म शास्त्र क्या है उनसे अपना कोई तैलुक नहीं। सन्यासी कोई प्रवृत्ति मार्ग वाले नहीं हैं, उन्हों का है हठयोग। घरबार छोड़ जंगल में बैठना, उनको जन्म बाई जन्म सन्यास करना पड़ता है। तुम गृहस्थ व्यवहार में रहते एक बार सन्यास करते हो फिर 21 जन्म उसकी प्रालब्ध पाते हो। उनका है हद का सन्यास और हठयोग, तुम्हारा है बेहद का सन्यास और राजयोग। वह तो गृहस्थ व्यवहार छोड़ देते हैं। राजयोग का तो बहुत गायन है। भगवान् ने राजयोग सिखलाया तो भगवान् जरूर ऊंच ते ऊंच को ही कहेंगे। श्रीकृष्ण तो भगवान हो न सके। बेहद का बाप है ही वह निराकार। बेहद की बादशाही वही दे सकते हैं। यहाँ गृहस्थ व्यवहार से ऩफरत नहीं की जाती। बाप कहते हैं यह अन्तिम जन्म गृहस्थ व्यवहार में रहते पवित्र बनो। पतित-पावन किसी सन्यासी को नहीं कहा जाता। सन्यासी खुद भी गाते हैं पतित-पावन…….. उनको याद करते हैं, वह भी पावन दुनिया चाहते हैं। परन्तु यह नहीं जानते कि वह दुनिया ही एक और है। जबकि वह गृहस्थ व्यवहार में ही नहीं हैं तो देवताओं को भी नहीं मानेंगे। वह कभी राजयोग सिखला न सकें। न बाप कभी हठयोग सिखला सकते, न सन्यासी कभी राजयोग सिखला सकते। यह समझने की बात है।

अभी देहली में वर्ल्ड कान्फ्रेंस होती है, उनको समझाना है, लिखत में सभी को देना है। वहाँ तो मतभेद हो जाता है। लिखत में होगा तो सभी समझ जायेंगे इन्हों का उद्देश्य क्या है।

अभी तुम समझते हो हम हैं ब्राह्मण कुल के, हम शूद्र कुल के मेम्बर कैसे बन सकते हैं वा विकारी कुल में हम अपने को कैसे रजिस्टर्ड कर सकते हैं, इसलिए ना कर देते। हम हैं आस्तिक, वह हैं नास्तिक। वह हैं ईश्वर को न मानने वाले, हम हैं ईश्वर से योग रखने वाले। मतभेद हो जाता है। समझाया जाता है जो बाप को नहीं जानते वह नास्तिक हैं। तो बाप ही आकरके आस्तिक बनायेंगे। बाप का बनने से बाप का वर्सा मिल जाता है। यह बड़ी गुह्य बातें हैं। पहले-पहले तो बुद्धि में यह बिठाना है कि गीता का भगवान् परमपिता परमात्मा है। उसने ही आदि सनातन देवी-देवता धर्म स्थापन किया। भारत का देवी-देवता धर्म ही मुख्य है। भारत खण्ड का कोई तो धर्म चाहिए ना। अपने धर्म को भूल गये हैं। यह भी तुम जानते हो कि ड्रामानुसार भारतवासियों को अपना धर्म भूल जाना है तब तो फिर बाप आ करके स्थापन करे। नहीं तो फिर बाप आये कैसे? कहते हैं जब-जब देवी-देवता धर्म प्राय:लोप हो जाता है तब मैं आता हूँ। प्राय:लोप जरूर होना ही है। कहते हैं ना बैल की एक टांग टूट गई है, बाकी 3 टांग पर खड़ा है। तो मुख्य हैं ही 4 धर्म। अभी देवता धर्म की टांग टूट पड़ी है, यानी वह धर्म गुम हो गया है इसलिए बड़ के झाड़ का मिसाल देते हैं कि इसका फाउन्डेशन सड़ गया है। बाकी टाल-टालियाँ कितनी खड़ी हैं। तो इनमें भी फाउन्डेशन देवता धर्म है ही नहीं। बाकी सारी दुनिया में मठ-पंथ आदि कितने हैं! तुम्हारी बुद्धि में अभी सारी रोशनी है। बाप कहते हैं तुम बच्चे इस ड्रामा को जान गये हो। अब यह सारा झाड़ पुराना हो गया है। कलियुग के बाद सतयुग जरूर आना है। चक्र को फिरना जरूर है। बुद्धि में यह रखना है – अब नाटक पूरा हुआ है, हम जा रहे हैं। चलते-फिरते उठते-बैठते भी याद रहे – अब हमको वापिस जाना है। मन्मनाभव, मध्याजी भव का यही अर्थ है। कोई भी बड़ी सभा में भाषण आदि करना है तो यही समझाना है – परमपिता परमात्मा फिर से कहते हैं कि हे बच्चे, देह सहित देह के सब धर्म त्याग अपने को आत्मा समझ बाप को याद करो तो पाप ख़त्म होंगे। मैं तुमको राजयोग सिखलाता हूँ। गृहस्थ व्यवहार में रहते कमल फूल समान बन मुझे याद करो, पवित्र रहो, नॉलेज को धारण करो। अभी सब दुर्गति में हैं। सतयुग में देवतायें सद्गति में थे। फिर बाप ही आकर सद्गति करते हैं। सर्वगुण सम्पन्न, 16 कला सम्पूर्ण…….. यह हैं सद्गति के लक्षण। यह कौन देते हैं? बाप। उनके फिर लक्षण क्या हैं? वह ज्ञान का सागर है, आनन्द का सागर है। उनकी महिमा बिल्कुल अलग है। ऐसे नहीं कि सब एक ही हैं। एक बाप के बच्चे सभी आत्मायें हैं। प्रजापिता के ही औलाद होते हैं। अब नई रचना रची जाती है। प्रजापिता की औलाद तो सब हैं परन्तु वे लोग इन बातों को जानते नहीं। ब्राह्मण वर्ण है सबसे ऊंच। भारत के ही वर्ण गाये जाते हैं। 84 जन्म लेने में इन वर्णों से पास करना होता है। ब्राह्मण वर्ण है ही संगमयुग पर।

तुम बच्चे अभी स्वीट साइलेन्स में रहते हो। यह साइलेन्स सबसे अच्छी है। वास्तव में शान्ति का हार तो गले में पड़ा हुआ है। चाहते तो सब हैं शान्ति घर में जायें। परन्तु यह रास्ता कौन बताये? शान्ति के सागर के सिवाए तो कोई बता न सके। टाइटिल अच्छा दिया हुआ है – शान्ति का सागर, ज्ञान का सागर। श्रीकृष्ण तो स्वर्ग का प्रिन्स है। वह है मनुष्य सृष्टि का बीजरूप। कितना रात-दिन का फ़र्क है। कृष्ण को सृष्टि का बीज कह नहीं सकते। सर्वव्यापी का ज्ञान तो ठहर न सके। बाप की महिमा अपनी है। वह सदैव पूज्य है, कभी पुजारी नहीं बनता। ऊपर से पहले जो आते हैं वह पूज्य से पुजारी बनते हैं। प्वाइन्ट्स तो ढेर समझाई जाती हैं। एग्जीवीशन में कितने आते हैं, परन्तु कोटों में कोई ही निकलते हैं क्योंकि मंज़िल बड़ी भारी है। प्रजा तो ढेर बनती रहेगी। माला में आने वाले दाने कोटों में कोई ही निकलते हैं। नारद का भी मिसाल है, उनको कहा तुम अपनी शक्ल देखो – लक्ष्मी को वरने लायक हो? प्रजा तो बहुत बननी है। राजा फिर भी राजा है। एक-एक राजा को लाखों प्रजा रहती है। पुरुषार्थ तो ऊंच करना चाहिए। राजाओं में भी कोई बड़ा राजा, कोई छोटा राजा है। भारत में कितने राजायें थे! सतयुग में भी बहुत महाराजायें होते हैं। यह सतयुग से लेकर चला आया है। महाराजाओं को बहुत प्रापर्टी होती है, राजाओं को कम। यह है श्री लक्ष्मी-नारायण बनने की नॉलेज। उसके लिए ही पुरुषार्थ चलता है। पूछते हैं लक्ष्मी-नारायण का पद पायेंगे वा राम सीता का? तो कहते हैं हम तो लक्ष्मी-नारायण का ही पद पायेंगे, माँ-बाप से पूरा वर्सा लेंगे। यह तो वन्डरफुल बातें हैं ना, और कोई जगह यह बातें हैं नहीं, न कोई शास्त्रों में हैं। अब तुम्हारी बुद्धि का ताला खुल गया है। बाप समझाते हैं चलते-फिरते ऐसे समझो हम एक्टर्स हैं, अब हमको वापिस जाना है। यह याद रहे, इनको ही मन्मनाभव, मध्याजी भव कहा जाता है। बाप घड़ी-घड़ी याद दिलाते हैं – मैं तुमको वापिस ले जाने आया हूँ। यह है रूहानी यात्रा। यह यात्रा बाप के सिवाए कोई करा न सके। भारत की महिमा भी बहुत करनी है। यह भारत होलीएस्ट लैण्ड है। सर्व का दु:ख हर्ता और सुख कर्ता, सबका सद्गति दाता एक ही बाप है। भारत उनका बर्थ प्लेस है। वह बाप सबका लिबरेटर है। उनका यहाँ (भारत में) बड़े ते बड़ा तीर्थ स्थान है। भारतवासी भल शिव के मन्दिर में जाते हैं परन्तु उनको पता नहीं है। गांधी को जानते हैं, समझते हैं वह बहुत अच्छा था इसलिए जाकर उन पर फूल आदि चढ़ाते हैं, लाखों खर्च करते हैं। अब इस समय है ही उन्हों का राज्य। जो चाहे सो कर सकते हैं। यह तो बाप बैठ गुप्त धर्म की स्थापना करते हैं, यह राज्य ही अलग है। भारत में पहले-पहले देवताओं का राज्य था। दिखाते हैं असुरों और देवताओं की लड़ाई लगी। परन्तु ऐसी बातें तो हैं नहीं। यहाँ तो युद्ध के मैदान में माया पर जीत पाई जाती है, माया पर जीत तो जरूर सर्वशक्तिमान ही पहनायेंगे। कृष्ण को सर्वशक्तिमान नहीं कहा जाता। बाबा ही रावण राज्य से छुड़ाकर रामराज्य की स्थापना करा रहे हैं। बाकी वहाँ लड़ाई आदि की बात होती नहीं। अभी देखेंगे तो सृष्टि में सर्वशक्तिमान इस समय क्रिश्चियन लोग हैं। वह चाहें तो सब पर जीत पा सकते हैं परन्तु वह विश्व के मालिक बनें, यह कायदा नहीं। इस राज़ को तुम ही जानते हो। इस समय सर्वशक्तिवान राजधानी क्रिश्चियन की है। नहीं तो उन्हों की संख्या कम होनी चाहिए क्योंकि लास्ट में आये हैं। परन्तु 3 धर्मों में यह धर्म सबसे तीखा है। सबको हाथकर बैठे हैं। यह भी ड्रामा बना हुआ है। इनके द्वारा ही फिर हमको राजधानी मिलनी है। कहानी भी है 2 बिल्ले लड़े, मक्खन बीच में तीसरे को मिल जाता है। तो वह आपस में लड़ते हैं, मक्खन बीच में भारतवासियों को ही मिलना है। कहानी तो पाई पैसे की है, अर्थ कितना बड़ा है। मनुष्य कितने बेसमझ हैं। एक्टर होते हुए भी ड्रामा को नहीं जानते, बेसमझ हो पड़े हैं। समझते भी गरीब हैं। साहूकार लोग कुछ भी नहीं समझते। गरीब निवाज़ पतित-पावन बाप गाया हुआ है। अब प्रैक्टिकल में पार्ट बजा रहे हैं। बड़ी-बड़ी सभाओं में तुमको समझाना है। विवेक कहता है कि धीरे-धीरे वाह-वाह निकलेगी, लास्ट मूवमेंट में डंका बजना है। अभी तो बच्चों पर ग्रहचारी बैठती है। लाइन क्लीयर नहीं। विघ्न पड़ते रहते हैं। यह भी ड्रामा अनुसार पड़ते रहेंगे। जितना पुरुषार्थ करेंगे, उतना ऊंच पद पायेंगे। पाण्डवों को 3 पैर पृथ्वी के नहीं मिलते थे। अभी का यह गायन है। परन्तु यह किसको पता नहीं है कि वही फिर प्रैक्टिकल में विश्व के मालिक बनें। तुम बच्चे अब जानते हो, इसमें अफसोस नहीं किया जाता। कल्प पहले भी ऐसे हुआ था। ड्रामा के पट्टे पर खड़ा रहना चाहिए, हिलना नहीं चाहिए। अब नाटक पूरा होता है, चलते हैं सुखधाम। पढ़ाई ऐसी पढ़नी है जो ऊंच पद पा लेवें। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) चलते-फिरते अपने को एक्टर समझना है, ड्रामा के पट्टे पर अचल रहना है। बुद्धि में रहे कि अभी हम वापस घर जाते हैं, हम यात्रा पर हैं।

2) सद्गति के सर्व लक्षण स्वयं में धारण करने हैं। सर्वगुण सम्पन्न, 16 कला सम्पूर्ण बनना है।

वरदान:- सहयोग की शुभ भावना द्वारा रूहानी वायुमण्डल बनाने वाले मास्टर दाता भव
जैसे प्रकृति अपने वायुमण्डल के प्रभाव का अनुभव कराती है, कभी गर्मी, कभी सर्दी..ऐसे आप प्रकृतिजीत सदा सहयोगी, सहजयोगी आत्मायें अपनी शुभ भावनाओं द्वारा रूहानी वायुमण्डल बनाने में सहयोगी बनो। वह ऐसा है वा ऐसा करता है, यह नहीं सोचो। कैसा भी वायुमण्डल है, व्यक्ति है, मुझे सहयोग देना है। दाता के बच्चे सदा देते हैं। तो चाहे मन्सा से सहयोगी बनो, चाहे वाचा से, चाहे सम्बन्ध-सम्पर्क के द्वारा लेकिन लक्ष्य हो सहयोगी जरूर बनना है।
स्लोगन:- इच्छा मात्रम् अविद्या की स्थिति द्वारा सर्व की इच्छाओं को पूर्ण करना ही कामधेनु बनना है।
Font Resize