daily murli 17 december

TODAY MURLI 17 DECEMBER 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 17 December 2020

17/12/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, the Satguru has come to make your fortune elevated. Therefore, your behaviour should be very, very royal.
Question: What plan for which no one can be blamed is created in the drama?
Answer: The plan for the destruction of this old world is created in the drama. No one can be blamed for it. At this time, the elements have forceful anger for the purpose of destruction. There will be earthquakes everywhere, buildings will fall and there will be floods and famine. This is why the Father says: Children, now remove your intellects’ yoga from this old world. Follow the shrimat of the Satguru. Renounce the consciousness of bodies while alive, consider yourselves to be souls and continue to make effort to remember the Father.
Song: We have to follow the path where we also have to be careful not to fall.

Om shanti. Which path do you have to follow? You have to follow the path of the Guru. Which Guru is that? While sitting or walking around, the words emerge from the lips of human beings: Wah Guru! There are many gurus. To whom would you say “Wah Guru”? Whose praise would you sing? Only the one Father is the Satguru. There are many gurus on the path of devotion. Some praise one and others praise another. It is in the intellects of you children that the true Satguru is the One who is praised. Since there is the true Satguru, there must also be false ones. The true One exists at the confluence age. On the path of devotion too, people praise the One called the Truth. Only the highest-on-high Father is the Truth who also becomes the Liberator and the Guide. Gurus nowadays become guides to take you to bathe in the Ganges and to go on pilgrimages. This Satguru is not like that. Everyone remembers this Satguru and calls out, “O Purifier, come!” Only the Satguru is called the Purifier. Only He can purify. Those gurus cannot purify anyone. They do not say: Constantly remember Me alone! Although people study the Gita, they don’t understand the meaning of it at all. If they were to understand that only the One is the Satguru, they would not call themselves gurus. According to the drama, the department of the path of devotion is completely separate. There are many gurus and many devotees on that path. Here, there is only this One. These deities were the first number and now they are in the last number. The Father comes and gives them the sovereignty of heaven. Therefore, all others automatically have to return home. This is why the Bestower of Salvation for All is said to be one. You understand that the deity religion is established every cycle at the confluence age. You become the most elevated beings. You don’t do anything else. It is remembered that the Bestower of Liberation and Salvation is only one. This is the praise of the Father alone. Only at the confluence age are liberation and salvation received. In the golden age, there is just one religion. This too is something that has to be understood. However, who would give you this wisdom? You understand that only the Father comes and shows you the way. Whom does He give shrimat to? To souls. He is the Father, the Teacher and also the Satguru. He teaches you knowledge. All other gurus only teach devotion. You receive salvation from the Father through this knowledge and you then leave this old world. This is also your unlimited renunciation. The Father has explained that your cycle of 84 births is now coming to an end. This world is now about to end. When a person is seriously ill, they say: He is about to die, so what’s the use of remembering him? That body will be destroyed and the soul will go and take another body. All hope is lost. In Bengal, when they see that there is no hope for someone, they take him to the Ganges so that the soul can leave the body there. They worship the deity idols and then say: Drown! Drown! You now understand that the whole of the old world is to be drowned. There will be floods and fires and people will starve to death. All of these conditions will come. Buildings etc. will collapse in earthquakes. At this time, the elements have such great anger that they will destroy everything. All of these conditions are to come for the whole world. Many different types of death will come. Bombs are filled with poison. As soon as someone gets a little whiff of that, he becomes unconscious. You children know what has to happen. Who is inspiring all of this? The Father isn’t inspiring this; it is fixed in the drama. No one can be blamed for it. This plan is created in the drama. The old world will definitely become new again. There will also be natural calamities. Destruction has to take place. The intellect’s yoga has to be removed from this old world. This is called unlimited renunciation. You now say: Wah Satguru! wah! You have shown us this path. You children are told: Don’t have such behaviour that He is defamed. You die alive here. You renounce your bodies and consider yourselves to be souls. You have to become souls, detached from your bodies, and remember the Father. You say a very good thing: “Wah Satguru!wah!” Only the parlokik Satguru (from beyond this world) is praised. There are many worldly gurus. There is only the one true Satguru who is also remembered on the path of devotion. The Father of the whole world is just the One. No one even knows how the new world is established. In the scriptures they have portrayed annihilation and then Shri Krishna coming, floating on a pipal leaf. You now understand how he could not have come on a pipal leaf? There is no benefit in praising Krishna. You have now found the Satguru to take you into the ascending stage. It is said: There is benefit for everyone due to the ascending stage. Therefore, the spiritual Father sits here and explains to souls. It is the soul that has taken 84 births. Souls have bodies with different names and forms in every birth. You cannot say: So-and-so has taken 84 births. No, it is the soul that takes 84 births; the body keeps changing. You have all of these things in your intellects. You should have all the knowledge in your intellects. Explain to anyone who comes: There was just the kingdom of the deities in the beginning and the kingdom of Ravan then began in the middle. You continued to come down the ladder. In the golden age you were satopradhan and you then continued to come down through the stages of sato, rajo and tamo. The cycle continues to turn. Some ask: What does it matter to Baba that He brought us into the cycle of 84 births? However, this world cycle is created eternally. You have to know its beginning, middle and end. If a human being doesn’t know this, then he is an atheist. You receive such an elevated status by knowing this. This study is so elevated! Those who pass an important examination for claiming the highest status of all experience a lot of happiness in their hearts. You know that Lakshmi and Narayan changed from ordinary humans into deities by studying this knowledge in their previous birth. Their kingdom is being established through this study. Such an elevated status is received by studying! It is a wonder! Ask those who build huge temples and the great scholars etc., how Lakshmi and Narayan took birth at the beginning of the golden age and they won’t be able to tell you. You know that this is the Raj Yoga that is mentioned in the Gita. People have continued to study the Gita, but they have not benefited at all through that. The Father now sits here and tells you this. You say: Baba, we also met You 5000 years ago. Why did you meet that One? To claim your inheritance of heaven and to become like Lakshmi and Narayan. The young, adults and old people who come here have definitely been taught this. This is your aim and objective. This is the story of the true Narayan. You understand that a kingdom is being established. Those who understand this very well experience happiness inside them. Baba asks: Do you have the courage to claim the kingdom? They reply: Baba, why not? We are studying to change from human beings into Narayan. We considered ourselves to be bodies for so long, and the Father has now shown us the righteous path. Effort is required to become soul conscious. You repeatedly become trapped in name and form. The Father says: You have to become detached from name and form. “Soul” itself is also a name. The Father is the Supreme Soul, the Supreme Father. A physical father is never called the Supreme Father. The word “Supreme” is only given to the one Father. It is to Him that you say, “Wah Guru!” You can also explain to the Sikhs. There is the full description of this in the Granth (the Sikh scripture). There isn’t as much description of Him in any other scripture as there is in the Granth, the Jap Sahib and the Sukhmani. There are only these two words. The Father says: Remember the Sahib (Lord) and you will receive happiness for 21 births. There is no question of becoming confused about this. The Father explains and makes everything very easy for you. So many Hindus have been converted into Sikhs. You create so many pictures etc. in order to show the path to human beings. You can explain very easily: You are a soul who has entered a different religion. This is the tree of the variety of religions. No one else knows how Christ comes. The Father has explained that a new soul cannot experience any suffering of karma. The Christ soul did not perform any sinful actions for which he would receive punishment. That was a satopradhan soul who came. The person whom that soul entered was put on the cross, not Christ. He left and took another birth and claimed a high status. There is also the picture of the Pope. At this time, the whole world is absolutely not worth a penny. You were also like that. You are now becoming worth a pound. It isn’t that their heirs will live on everything after they have gone; not at all! You will go with your hands full. All the rest will go empty handed. You are studying in order to become full. You also know that those who came in the previous cycle will come again. Even if they hear just a little, they will come. They would not all be seen to at the same time. You are creating many subjects, Baba is not able to see to everyone. Even by them just hearing a little, subjects are created. You won’t even be able to count them. You children are now on service and Baba too is on service. Baba is not able to stay without doing service. He comes to serve you every morning. People also have spiritual gatherings in the morning. Everyone is free at that time. Baba says: You children mustn’t come from your homes too early in the morning and you shouldn’t even come too late at night because the world is getting worse day by day. This is why there should be a centre in every street so that, as soon as you leave your house, you can easily reach your centre very quickly. When the number of you has grown, the kingdom will be established. The Father explains very easily. Establishment is taking place through Raj Yoga. The rest of the world will not then exist. So many subjects are being created. The rosary also has to be created. The main thing is that those who serve many people and make them similar to themselves will become beads of the rosary. People turn the beads of a rosary, but they don’t understand the meaning of it. Many gurus give a rosary to people so that their intellects remain busy in turning the beads. Lust is the greatest enemy. Day by day, everything will become more forceful. Souls become more and more tamopradhan day by day because this world is very dirty. Many say to Baba: We are really fed up! Take us to the golden age soon! The Father says: Have patience! It is guaranteed that establishment will take place. It is this guarantee that will take you there. You children have also been told that you souls have come from the supreme abode and that you now have to return there. You will then come down to play your parts. Therefore, you have to remember the supreme abode. The Father says: Constantly remember Me alone so that your sins can be absolved. Give everyone this message. There is no other Messengeretc. Those prophets bring souls down from the land of liberation. Then they have to come down the ladder. When souls become completely tamopradhan, the Father comes and makes everyone satopradhan. It is because of you that everyone has to return home; you do want the new world, do you not? This drama is predestined. You children should be very intoxicated. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Become detached from the name and form of your body and become soul conscious. Never behave in such a way that the Satguru would be defamed.
  2. In order to become beads of the rosary, serve to make many others similar to yourselves. Maintain the internal happiness that you are studying to claim a kingdom. This study is to become Narayan from an ordinary human.
Blessing: May you receive a right to blessings from all souls by serving with a benevolent attitude.
Serving with a benevolent attitude is the way to receive blessings from all souls. When you have the aim of being world benefactors, you cannot carry out any tasks that are non-benevolent. As is your task, so is your dharna (inculcation), and so, if you remember your task, you will always be merciful and a great donor. You will continue to move along with a benevolent attitude at every step, you will not have any consciousness of “I” and will also remember that you are an instrument. Such servers, in return for their service, receive a right to blessings from all souls.
Slogan: Attraction to physical facilities damages your spiritual endeavour.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 17 DECEMBER 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 17 December 2020

Murli Pdf for Print : – 

17-12-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – सतगुरू आया है तुम्हारी ऊंची तकदीर बनाने तो तुम्हारी चलन बहुत-बहुत रायॅल होनी चाहिए”
प्रश्नः- ड्रामा का कौन सा प्लैन बना हुआ है इसलिए किसी को दोष नहीं दे सकते हैं?
उत्तर:- ड्रामा में इस पुरानी दुनिया के विनाश का प्लैन बना हुआ है, इसमें कोई का दोष नहीं है। इस समय इसके विनाश के लिए प्रकृति को जोर से गुस्सा आया है। चारों ओर अर्थक्वेक होगी, मकान गिरेंगे, फ्लड आयेगी, अकाल पड़ेगा इसलिए बाप कहते हैं बच्चे अब इस पुरानी दुनिया से तुम अपना बुद्धि-योग निकाल दो, सतगुरू की श्रीमत पर चलो। जीते जी देह का भान छोड़ अपने को आत्मा समझ बाप को याद करने का पुरुषार्थ करते रहो।
गीत:- हमें उन राहों पर चलना है……..

ओम् शान्ति। किन राहों पर चलना है? गुरू की राह पर चलना है। यह कौन सा गुरू है? उठते-बैठते मनुष्यों के मुख से निकल जाता है वाह गुरू। गुरू तो अनेक हैं। वाह गुरू किसको कहेंगे? किसकी महिमा गायेंगे? सतगुरू एक ही बाप है। भक्ति मार्ग के ढेर गुरू हैं। कोई किसकी महिमा करते, कोई किसकी महिमा करते हैं। बच्चों की बुद्धि में है सच्चा सतगुरू वो एक है, जिसकी ही वाह-वाह मानी जाती है। सच्चा सतगुरू है तो जरूर झूठे भी होंगे। सच होता है संगम पर। भक्ति मार्ग में भी सच की महिमा गाते हैं। ऊंच ते ऊंच बाप ही सच्चा है, जो ही लिबरेटर, गाइड भी बनता है। आजकल के गुरू लोग तो गंगा स्नान पर वा तीर्थों पर ले जाने के गाइड बनते हैं। यह सतगुरू तो ऐसा नहीं है। जिसको सभी याद करते हैं – हे पतित-पावन आओ। पतित-पावन, सतगुरू को ही कहा जाता है। वही पावन बना सकते हैं। वो गुरू लोग पावन बना न सकें। वह कोई ऐसे नहीं कहते कि मामेकम् याद करो। भल गीता भी पढ़ते हैं परन्तु अर्थ का पता बिल्कुल नहीं है। अगर समझते सतगुरू एक है तो अपने को गुरू नहीं कहलाते। ड्रामानुसार भक्ति मार्ग की डिपार्टमेंट ही अलग है जिसमें अनेक गुरू, अनेक भक्त हैं। यह तो एक ही है। फिर यह देवी-देवतायें पहले नम्बर में आते हैं। अभी लास्ट में हैं। बाप आकर इन्हों को सतयुग की बादशाही देते हैं। तो और सबको ऑटोमेटिकली वापिस जाना है, इसलिए सर्व का सद्गति दाता एक कहा जाता है। तुम समझते हो कल्प-कल्प संगम पर ही देवी-देवता धर्म की स्थापना होती है। तुम पुरुषोत्तम बनते हो। बाकी और कोई काम नहीं करते। गाया भी जाता है गति-सद्गति दाता एक है। यह बाप की ही महिमा है। गति-सद्गति संगम पर ही मिलती है। सतयुग में तो है एक धर्म। यह भी समझ की बात है ना। परन्तु यह बुद्धि देवे कौन? तुम समझते हो बाप ही आकर युक्ति बताते हैं। श्रीमत देते हैं किसको? आत्माओं को। वह बाप भी है, सतगुरू भी है, टीचर भी है। ज्ञान सिखलाते हैं ना। बाकी सब गुरू भक्ति ही सिखलाते हैं। बाप के ज्ञान से तुम्हारी सद्गति होती है। फिर इस पुरानी दुनिया से चले जाते हैं। तुम्हारा यह बेहद का संन्यास भी है। बाप ने समझाया है अभी 84 जन्मों का चक्र तुम्हारा पूरा हुआ है। अब यह दुनिया खत्म होनी है। जैसे कोई बीमार सीरियस होता है तो कहेंगे अब यह तो जाने वाला है, उसको याद क्या करेंगे। शरीर खत्म हो जायेगा। बाकी आत्मा तो जाकर दूसरा शरीर लेती है। उम्मीद टूट जाती है। बंगाल में तो जब देखते हैं उम्मीद नहीं है तो गंगा पर जाकर डुबोते हैं कि प्राण निकल जायें। मूर्तियों की भी पूजा कर फिर जाकर कहते हैं डूब जा, डूब जा… अभी तुम जानते हो यह सारी पुरानी दुनिया डूब जानी है। फ्लड्स होंगी, आग लगेंगी, भूख में मनुष्य मरेंगे। यह सब हालतें आनी हैं। अर्थक्वेक में मकान आदि गिर पड़ेंगे। इस समय प्रकृति को गुस्सा आता है तो सबको खलास कर देती है। यह सब हालतें सारी दुनिया के लिए आनी हैं। अनेक प्रकार का मौत आ जाता है। बॉम्ब्स में भी ज़हर भरा हुआ है। थोड़ी बांस आने से बेहोश हो जाते हैं। यह तुम बच्चे जानते हो कि क्या-क्या होने का है। यह सब कौन कराते हैं? बाप तो नहीं कराते हैं। यह ड्रामा में नूंध है। कोई पर दोष नहीं देंगे। ड्रामा का प्लैन बना हुआ है। पुरानी दुनिया सो फिर नई जरूर होगी। नेचुरल कैलेमिटीज़ आयेंगी। विनाश होने का ही है। इस पुरानी दुनिया से बुद्धि का योग हटा देना, इसको बेहद का संन्यास कहा जाता है।

अब तुम कहेंगे वाह सतगुरू वाह! जो हमको यह रास्ता बताया। बच्चों को भी समझाते हैं – ऐसी चलन नहीं चलो जो उनकी निंदा हो। तुम यहाँ जीते जी मरते हो। देह को छोड़ अपने को आत्मा समझते हो। देह से न्यारी आत्मा बन बाप को याद करना है। यह तो बहुत अच्छा कहते हैं वाह सतगुरू वाह! पारलौकिक सतगुरू की ही वाह-वाह होती है। लौकिक गुरू तो ढेर हैं। सतगुरू तो एक ही है सच्चा-सच्चा, जिसका फिर भक्ति मार्ग में भी नाम चला आता है। सारी सृष्टि का बाप तो एक ही है। नई सृष्टि की स्थापना कैसे होती है, यह भी किसको पता नहीं है। शास्त्रों में तो दिखाते हैं प्रलय हो गई फिर पीपल के पत्ते पर श्रीकृष्ण आया। अभी तुम समझते हो पीपल के पत्ते पर कैसे आयेगा। कृष्ण की महिमा करने से कुछ फायदा नहीं होता। तुम्हें अब चढ़ती कला में ले जाने के लिए सतगुरू मिला है। कहते हैं ना चढ़ती कला तेरे भाने सर्व का भला। तो रूहानी बाप आत्माओं को बैठ समझाते हैं। 84 जन्म भी आत्मा ने लिए हैं। हर एक जन्म में नाम-रूप दूसरा हो जाता है। ऐसे नहीं कहेंगे फलाने ने 84 जन्म लिये हैं। नहीं, आत्मा ने 84 जन्म लिया। शरीर तो बदलते जाते हैं। तुम्हारी बुद्धि में यह सब बातें हैं। सारी नॉलेज बुद्धि में रहनी चाहिए। कोई भी आये तो उनको समझायें। आदि में था ही देवी-देवताओं का राज्य, फिर मध्य में रावण राज्य हुआ। सीढ़ी उतरते रहे। सतयुग में कहेंगे सतोप्रधान फिर सतो, रजो, तमो में उतरते हैं। चक्र फिरता रहता है। कोई-कोई कहते हैं बाबा को क्या पड़ी थी जो 84 के चक्र में हमको लाया। लेकिन यह तो सृष्टि चक्र अनादि बना हुआ है, इनके आदि-मध्य-अन्त को जानना है। मनुष्य होकर अगर नहीं जानते तो वह नास्तिक हैं। जानने से तुमको कितना ऊंच पद मिलता है। यह पढ़ाई कितनी ऊंच है। बड़ा इम्तहान पास करने वाले की दिल में खुशी होती है ना, हम बड़े ते बड़ा पद पायेंगे। तुम जानते हो यह लक्ष्मी-नारायण अपने पूर्व जन्म में सीखकर फिर मनुष्य से देवता बनें।

इस पढ़ाई से यह राजधानी स्थापन हो रही है। पढ़ाई से कितना ऊंच पद मिलता है। वन्डर है ना। इतने बड़े-बड़े मन्दिर जो बनाते हैं अथवा जो बड़े-बड़े विद्वान आदि हैं उनसे पूछो सतयुग आदि में इन्होंने जन्म कैसे लिया तो बता नहीं सकेंगे। तुम जानते हो यह तो गीता वाला ही राजयोग है। गीता पढ़ते आये हैं परन्तु उससे फायदा कुछ नहीं है। अब तुमको बाप बैठ सुनाते हैं। तुम कहते हो बाबा हम आपसे 5 हज़ार वर्ष पहले भी मिले थे। क्यों मिले थे? स्वर्ग का वर्सा लेने। लक्ष्मी-नारायण बनने के लिए। कोई भी छोटे, बड़े, बूढ़े आदि आते हैं, यह जरूर सीखकर आते हैं। एम ऑब्जेक्ट ही यह है। सत्य नारायण की सच्ची कथा है ना। यह भी तुम समझते हो, राजाई स्थापन हो रही है। जो अच्छी रीति समझ लेते हैं उनको आन्तरिक खुशी रहती है। बाबा पूछेंगे हिम्मत है ना राजाई लेने की? कहते हैं बाबा क्यों नहीं, हम पढ़ते ही हैं नर से नारायण बनने। इतना समय हम अपने को देह समझ बैठे थे अब बाप ने हमको राइटियस रास्ता बताया है। देही-अभिमानी बनने में मेहनत लगती है। घड़ी-घड़ी अपने नाम-रूप में फंस पड़ते हैं। बाप कहते हैं इस नाम-रूप से न्यारा होना है। अब आत्मा भी नाम तो है ना। बाप है सुप्रीम परमपिता, लौकिक बाप को परमपिता नहीं कहेंगे। परम अक्षर एक ही बाप को दिया है। वाह गुरू भी इनको कहते हैं। तुम सिक्ख लोगों को भी समझा सकते हो। ग्रंथ साहेब में तो पूरा वर्णन है। और कोई शास्त्र में इतना वर्णन नहीं है जितना ग्रंथ में, जप साहेब सुखमनी में है। यह बड़े अक्षर ही दो हैं। बाप कहते हैं – साहेब को याद करो तो तुमको 21 जन्म लिए सुख मिलेगा। इसमें मूंझने की तो बात ही नहीं। बाप बहुत सहज करके समझाते हैं। कितने हिन्दू ट्रांसफर हो जाकर सिक्ख बने हैं।

तुम मनुष्यों को रास्ता बताने के लिए कितने चित्र आदि बनाते हो। कितना सहज समझा सकते हो। तुम आत्मा हो, फिर भिन्न-भिन्न धर्मों में आये हो। यह वैरायटी धर्मों का झाड़ है और कोई को यह पता नहीं है कि क्राइस्ट कैसे आता है। बाप ने समझाया था – नई आत्मा को कर्मभोग नहीं हो सकता। क्राइस्ट की आत्मा ने कोई विकर्म थोड़ेही किया जो सजा मिले। वह तो सतोप्रधान आत्मा आती है, जिसमें आकर प्रवेश करती है उनको क्रास आदि पर चढ़ाते हैं, क्राइस्ट को नहीं। वह तो जाकर दूसरा जन्म ले बड़ा पद पाती है। पोप के भी चित्र हैं।

इस समय यह सारी दुनिया बिल्कुल ही वर्थ नाट ए पेनी है। तुम भी थे। अब तुम वर्थ पाउण्ड बन रहे हो। ऐसे नहीं कि उन्हों के वारिस पिछाड़ी में खायेंगे, कुछ भी नहीं। तुम अपने हाथ भरपूर कर जाते हो, बाकी सब हाथ खाली जायेंगे। तुम भरपूर होने के लिए ही पढ़ते हो। यह भी जानते हो जो कल्प पहले आये हैं वही आयेंगे। थोड़ा भी सुनेंगे तो आ जायेंगे। सब इकट्ठे तो देख भी नहीं सकेंगे। तुम ढेर प्रजा बनाते हो, बाबा सबको थोड़ेही देख सकते हैं। थोड़ा बहुत सुनने से भी प्रजा बनते जाते हैं। तुम गिनती भी नहीं कर सकेंगे।

तुम बच्चे सर्विस पर हो, बाबा भी सर्विस पर है। बाबा सर्विस बिगर रह नहीं सकते। रोज़ सुबह को सर्विस करने आते हैं। सतसंग आदि भी सुबह को करते हैं। उस समय सबको फुर्सत होती है। बाबा तो कहते हैं तुम बच्चों को घर से बहुत सवेरे भी नहीं आना है और रात को भी नहीं आना चाहिए क्योंकि दिन-प्रतिदिन दुनिया बहुत खराब होती जाती है इसलिए गली-गली में सेन्टर ऐसा नज़दीक होना चाहिए, जो घर से निकले सेन्टर पर आये, सहज हो जाए। तुम्हारी वृद्धि हो जायेगी तब राजधानी स्थापन होगी। बाप समझाते तो बहुत सहज हैं। यह राजयोग द्वारा स्थापना कर रहे हैं। बाकी यह सारी दुनिया होगी ही नहीं। प्रजा तो कितनी ढेर बनती है। माला भी बननी है। मुख्य तो जो बहुतों की सर्विस कर आपसमान बनाते हैं, वही माला के दाने बनते हैं। लोग माला फेरते हैं परन्तु अर्थ थोड़ेही समझते हैं। बहुत गुरू लोग माला फेरने के लिए देते हैं कि बुद्धि इसमें लगी रहे। काम महाशत्रु है, दिन-प्रतिदिन बहुत कड़ा होता जायेगा। तमोप्रधान बनते जाते हैं। यह दुनिया बहुत गन्दी है। बाबा को बहुत कहते हैं हम तो बहुत तंग हो गये हैं, जल्दी सतयुग में ले चलो। बाप कहते हैं धीरज धरो, स्थापना होनी ही है – यह खातिरी है। यह खातिरी ही तुमको ले जायेगी। बच्चों को यह भी बताया है तुम आत्मायें परमधाम से आई हो फिर वहाँ जाना है, फिर आयेंगे पार्ट बजाने। तो परमधाम को याद करना पड़े। बाप भी कहते हैं मामेकम् याद करो तो विकर्म विनाश होंगे। यही पैगाम सभी को देना है और कोई पैगम्बर मैसेन्जर आदि हैं नहीं। वे तो मुक्तिधाम से नीचे ले आते हैं। फिर उनको सीढ़ी नीचे उतरना है। जब पूरे तमोप्रधान बन जाते हैं तब फिर बाप आकर सबको सतोप्रधान बनाते हैं। तुम्हारे कारण सबको वापिस जाना पड़ता है क्योंकि तुमको नई दुनिया चाहिए ना – यह भी ड्रामा बना हुआ है। बच्चों को बहुत नशा रहना चाहिए। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) इस देह के नाम-रूप से न्यारा होकर देही-अभिमानी बनना है। ऐसी चलन नहीं चलनी है जो सतगुरू की निंदा हो।

2) माला का दाना बनने के लिए बहुतों को आप समान बनाने की सेवा करनी है। आन्तरिक खुशी में रहना है कि हम राजाई लेने के लिए पढ़ रहे हैं। यह पढ़ाई है ही नर से नारायण बनने की।

वरदान:- कल्याणकारी वृत्ति द्वारा सेवा करने वाले सर्व आत्माओं की दुआओं के अधिकारी भव
कल्याणकारी वृत्ति द्वारा सेवा करना – यही सर्व आत्माओं की दुआयें प्राप्त करने का साधन है। जब लक्ष्य रहता है कि हम विश्व कल्याणकारी हैं, तो अकल्याण का कर्तव्य हो नहीं सकता। जैसा कार्य होता है वैसी अपनी धारणायें होती हैं, अगर कार्य याद रहे तो सदा रहमदिल, सदा महादानी रहेंगे। हर कदम में कल्याणकारी वृत्ति से चलेंगे, मैं पन नहीं आयेगा, निमित्त पन याद रहेगा। ऐसे सेवाधारी को सेवा के रिटर्न में सर्व आत्माओं की दुआओं का अधिकार प्राप्त हो जाता है।
स्लोगन:- साधनों की आकर्षण साधना को खण्डित कर देती है।

TODAY MURLI 17 DECEMBER 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 17 December 2019

17/12/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, never miss the study that the Father teaches you every day. Only when you study this study will the doubts within you be removed.
Question: What is the way to win the Father’s heart?
Answer: In order to win the Father’s heart, never hide anything from Him for as long as the confluence age lasts. Pay full attention to your character. If you have performed any sinful acts, tell the imperishable Surgeon and you will become light. The Father’s mercy, His good wishes and His blessings are the teachings that He gives you. Therefore, instead of asking the Father for mercy, have mercy on yourself. Make such effort that you win the Father’s heart.

Om shanti. You spiritual children now know that there is happiness in the new world and sorrow in the old world. At the time of sorrow everyone experiences sorrow, and at the time of happiness everyone experiences happiness. There is no name or trace of sorrow in the land of happiness and there is no name or trace of happiness where there is sorrow. Wherever there is sin, there can be no name or trace of charity and where there is charity, there can be no name or trace of sin. Which places are these? One is the golden age and the other is the iron age. This should definitely be in the intellects of you children. The time of sorrow is now coming to an end and you are making preparations to go to the golden age. We are now about to leave this dirty, impure world and go across to the golden age, that is, to the kingdom of Rama. There is happiness in the new world and sorrow in the old world. It isn’t that the One who gives you happiness also causes you sorrow; no. Happiness is given by the Father and sorrow is caused by Maya, Ravan. Effigies of that enemy are burnt every year. It is effigies of someone who causes sorrow that are always burnt. You children understand that when his kingdom finishes, it will finish for all time. It is the five vices that cause sorrow for everyone from the time they begin through the middle to the end of them. Although you are sitting here, it is in your intellects that you want to go to Baba. You would not call Ravan your Father. Have you ever heard anyone calling Ravan “the Supreme Father, the Supreme Soul”? Not at all! Some people think that Ravan inhabited Lanka. The Father says: This whole world is the island of Lanka. People say that Vasco da Gama went around the world in a steamer or a boatAeroplanes etc. didn’t exist at the time that he went around the world. Trains too used to run on steam. Electricity is something else. The Father now says: There is only one world; it changes from new to old and old to new. It is incorrect to say that there is first establishment, then sustenance and then destruction. It is correct to say that there is first establishment, then destruction and then sustenance. The sustenance you are given by Ravan takes place much later. That is false sustenance through which you become impure and vicious. Through that sustenance everyone experiences sorrow. The Father never causes sorrow for anyone. Because everyone here is tamopradhan, they say that the Father is omnipresent. Just look what they have become! You children should keep these things in your intellects as you walk and move around. This is very easy; it is simply a matter of Alpha. People of Islam also say that you should wake up early in the morning and remember Allah. They themselves wake up early in the morning. They say, “Remember Allah” or “Khuda” (God), whereas you say, “Remember the Father”. The word “Baba” is very sweet. You wouldn’t remember your inheritance by saying “Allah”, whereas, by saying, “Baba” you remember your inheritance. People of Islam do not say Father. They speak of Allah, the Lord. People speak of husband and wife. All of these words exist in Bharat. When the people of Bharat say, “the Supreme Father, the Supreme Soul”, they remember a Shiva lingam. Europeans speak of God, the Father, but the people of Bharat even consider pebbles and stones to be God. Shiva lingams too are made of stone. They think that God is sitting in that stone and so when they remember God, an image of that stone appears in front of them. They consider that stone to be God and worship it. Where do such stones come from? They are brought down from the mountains by the streams and made smooth and round by the water. It becomes a symbol naturally. The statues of the deities are not like that. Sculptors carve statues out of stone with beautiful ears, mouths, noses, eyes etc. They spend a lot of money. However, there is no question of expense etc. for an image of Shiv Baba. You children understand that you yourselves are now becoming deities in the living form. You are not worshipped whilst you are in the living form. People worship stone when they become those with stone intellects. You are worthy of worship when you are in the living form. Afterwards, you become worshippers. There are neither any worshippers nor any images of stone in the golden age. There is no need for them there. Stone images are kept as memorials of those who existed in the living form. You now know what the life stories of those deities were. They are to be repeated once again. Previously, when you didn’t have your third eyes of knowledge, it was as though your intellects were stone. The knowledge that you all receive from the Father is the same, but you all take it numberwise. Therefore, the rosary of Rudra (souls) is created according to how much each of you imbibes. One rosary is of Rudra and the other is the rosary of Runda (human beings). One is of brothers (souls) and the other is of brothers and sisters. It is now in your intellects that all of you souls are just like tiny dots. There is the song that says: A wonderful star sparkles in the centre of the forehead. You souls now understand that you souls are living beings, that each of you is like a small star. The body of a soul that enters a womb is at first very small and then it grows larger. Souls continue to play their imperishable parts through their bodies. Then, everyone starts remembering bodies. It is bodies that attract everyone because they are either good or bad. In the golden age, you don’t have to tell anyone to become soul conscious or to consider themselves to be souls. It is now that you are given this knowledge because you know that souls are now impure. Because they are impure, whatever acts they perform are wrong. The Father inspires you to act correctly whereas Maya makes you act wrongly. The most incorrect act is to call the Father omnipresent. The part that each soul plays is imperishable. You souls are never burnt. You are worshipped. Your bodies are burnt. When a soul leaves his body, that soul enters another body, and the old body is burnt. A body without a soul cannot be kept for even two to four days. However, some bodies are preserved with chemicals etc. What benefit is there in that? Christians say of Saint Xavier that his body is still preserved. It is as though there is a temple to him there. The only part of him that they show is his foot. They say that anyone who touches his foot will never become ill. If they feel relief from their illness after touching his foot, they believe that that is his mercy. The Father says: They receive the return of their faith. Some do take benefit due to the faith they have in their intellects. However, if it really were like that, great crowds would go there and there would be a great gathering. The Father has come here, but there still isn’t a big crowd. There isn’t enough space for everyone anyway. When it is the time for many to come, destruction will take place. This too is fixed in the drama. This drama has no beginning or end. Yes, the tree does reach a state of total decay, that is, it becomes tamopradhan. Therefore, it then has to be changed. This tree is unlimited. Those who have to come into the first number will come down first. Everyone has to come down, numberwise. Not everyone in the sun dynasty can come down together. Not even everyone in the moon dynasty can come down together. They will come down, numberwise, according to their place in the rosary. How could all the actors come onto the stage together? The whole play would be spoilt! This play is very accurate; there cannot be the slightest change in it. Sweetest children, when you sit here, your intellects should only retain these things. In other satsangs, they keep all sorts of things in their intellects. Here, there is only this one study through which you can earn your income. You earn no income from studying those scriptures etc. Yes, you can imbibe some good virtues. It isn’t that all those who sit and read the Granth (Sikh scripture) are viceless. The Father says: Everyone in this world is created through corruption. Many people ask you children how babies will take birth there. Tell them: The five vices do not exist there. Children are born through the power of yoga. They have a vision beforehand of the child that is going to take birth. There is no question of vice there. Here, Maya even makes some of you children fall. Some do come and tell the Father. Because some do not tell Him, they have to experience one hundred-fold punishment. The Father tells all of you children that if you ever perform sinful acts, you must immediately tell the Father. The Father is the imperishable Herbalist. By telling the Surgeon what you have done, you will become light. You must not hide anything from the Father during the whole of the confluence age. If anyone hides anything, he will not be able to win the Father’s heart. Everything depends on the efforts you make. If someone doesn’t go to school, how could his character be reformed? At present, everyone’s character is bad. The vice of lust is the foremost bad character. This is why the Father says: Children, the vice of lust is your greatest enemy. Previously, I too used to listen to the Gita, but I wasn’t able to understand everything. The Father is now giving you the knowledge of the Gitadirectly. The Father has now given you children divine intellects. When you remember what you used to do in devotion, you laugh. The Father now gives you teachings; there is no question of blessings or mercy in this. You have to have mercy and blessings on yourselves. The Father inspires each of you children to make effort. Some of you do make effort and win the Father’s heart. Some even die whilst making effort. The Father gives the same teachings to all you children. Sometimes, such deep points emerge that all their previous doubts are removed and they become alert again. This is why you must never miss Baba’s study. The main thing is to have remembrance of the Father. You also have to imbibe divine virtues. If someone speaks to you about dirty things, then simply hear, but do not hear. Hear no evil! In order to claim a high status, you definitely do have to tolerate fame and defamation, regard and disregard, happiness and sorrow, victory and defeat. The Father gives you so many methods. Nevertheless, it is as though some children listen to the Father but hear nothing of what He says. Therefore, what status will they receive? The Father says: Until you become bodiless, you will continue to be hurt by Maya in one way or another. If you do not listen to the Father, it means you have disregard for the Father. In spite of that, the Father still says: Children, may you remain constantly alive and conscious and remember the Father and claim a high status. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. If anyone tells you any wrong things, hear but do not hear. Hear no evil! You have to tolerate everything: happiness and sorrow, victory and defeat, regard and disregard.
  2. Never have disregard for the Father by ignoring what He says. In order to be saved from being hurt by Maya, definitely practise remaining in the bodiless stage.
Blessing: May you become an altruistic server by serving while remaining free from any limited, royal desires.
Father Brahma gave the proof of remaining free from any bondage of karma and of being detached. Apart from service and love, there were no other bondages. Limited, royal desires in service also bind you in a bondage of karmic accounts. True servers remain free from even these karmic accounts. Just as a bondage of the body is a bondage in relationship to the body, in the same way, a selfish motive in service is also a bondage. Remain free from this bondage, from royal karmic accounts and become an altruistic server.
Slogan: Do not keep your promises in a file, but reveal them by becoming final (complete).

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 17 DECEMBER 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 17 December 2019

17-12-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – बाप जो रोज़-रोज़ पढ़ाते हैं, यह पढ़ाई कभी मिस नहीं करनी है, इस पढ़ाई से ही अन्दर का संशय दूर होता है”
प्रश्नः- बाप के दिल को जीतने की युक्ति क्या है?
उत्तर:- बाप के दिल को जीतना है तो जब तक संगमयुग है तब तक बाप से कुछ भी छिपाओ नहीं। अपने कैरेक्टर्स पर पूरा-पूरा ध्यान दो। अगर कोई पाप कर्म हो जाता है तो अविनाशी सर्जन को सुनाओ तो हल्के हो जायेंगे। बाप जो शिक्षा देते हैं यही उनकी दया, कृपा वा आशीर्वाद है। तो बाप से दया व कृपा मांगने की बजाए स्वयं पर कृपा करो। ऐसा पुरुषार्थ कर बाप के दिल को जीत लो।

ओम् शान्ति। अभी रूहानी बच्चे यह तो जानते हैं कि नई दुनिया में सुख है, पुरानी दुनिया में दु:ख है। दु:ख में सभी दु:ख में आ जाते हैं और सुख में सभी सुख में आ जाते हैं। सुख की दुनिया में दु:ख का नाम-निशान नहीं फिर जहाँ दु:ख है वहाँ सुख का नाम-निशान नहीं। जहाँ पाप है वहाँ पुण्य का नाम-निशान नहीं, जहाँ पुण्य है वहाँ पाप का नाम-निशान नहीं। वह कौन-सी जगह है? एक है सतयुग, दूसरा है कलियुग। यह तो बच्चों की बुद्धि में जरूर होगा ही। अभी दु:ख का समय पूरा होता है और सतयुग के लिए तैयारी हो रही है। हम अभी इस पतित छी-छी दुनिया से उस पार सतयुग अर्थात् रामराज्य में जा रहे हैं। नई दुनिया में है सुख, पुरानी दुनिया में है दु:ख। ऐसा नहीं, जो सुख देता है वही दु:ख भी देता है। नहीं, सुख बाप देते हैं, दु:ख माया रावण देता है। उस दुश्मन की एफीजी हर वर्ष जलाते हैं। दु:ख देने वाले को हमेशा जलाया जाता है। बच्चे जानते हैं जब उसका राज्य पूरा होता है तो फिर हमेशा के लिए खलास हो जाता है। 5 विकार ही सबको आदि-मध्य-अन्त दु:ख देते आये हैं। तुम यहाँ बैठे हो तो भी तुम्हारी बुद्धि में यही रहे कि हम बाबा के पास जायें। रावण को तो तुम बाप नहीं कहेंगे। कब सुना है-रावण को परमपिता परमात्मा कोई कहते हो? कभी भी नहीं। कई समझते हैं लंका में रावण था। बाप कहते हैं यह सारी दुनिया ही लंका है। कहते हैं वास्कोडिगामा ने चक्र लगाया, स्टीमर वा बोट के द्वारा। जिस समय उसने चक्र लगाया उस समय एरोप्लेन आदि नहीं थे। ट्रेन भी स्टीम पर चलती थी। बिजली अलग चीज़ है। अब बाप कहते हैं दुनिया तो एक ही है। नई से पुरानी, पुरानी से नई बनती है। ऐसे नहीं कहना होता है कि स्थापना, पालना, विनाश। नहीं, पहले स्थापना फिर विनाश, बाद में पालना, यह राइट अक्षर हैं। बाद में रावण की पालना शुरू होती है। वह झूठी विकारी पतित बनने की पालना है, जिससे सब दु:खी होते हैं। बाप तो कभी किसको दु:ख नहीं देते। यहाँ तो तमोप्रधान बनने के कारण बाप को ही सर्वव्यापी कह देते हैं। देखो, क्या बन पड़े हैं! यह तो तुम बच्चों को चलते-फिरते बुद्धि में रहना चाहिए। है तो बहुत सहज। सिर्फ अल्फ की बात है। मुसलमान लोग भी कहते हैं उठकर अल्लाह को याद करो। खुद भी सवेरे उठते हैं। वह कहते हैं अल्लाह वा खुदा को याद करो। तुम कहेगे बाप को याद करो। बाबा अक्षर बहुत मीठा है। अल्लाह कहने से वर्सा याद नहीं आयेगा। बाबा कहने से वर्सा याद आ जाता है। मुसलमान लोग बाप नहीं कहते हैं। वह फिर अल्लाह मियां कहते हैं। मियां-बीबी। यह सभी अक्षर भारत में हैं। परमपिता परमात्मा कहने से ही शिवलिंग याद आ जायेगा। यूरोपवासी लोग गॉड फादर कहते हैं। भारत में तो पत्थर भित्तर को भी भगवान समझ लेते हैं। शिवलिंग भी पत्थर का होता है। समझते हैं इस पत्थर में भगवान बैठा है। भगवान को याद करेंगे तो पत्थर ही सामने आ जाता है। पत्थर को भगवान समझ पूजते हैं। पत्थर कहाँ से आता है? पहाड़ों के झरनों से गिरते-गिरते गोल चिकना बन जाता है। फिर कैसे नैचुरल निशान भी बन जाते हैं। देवी-देवताओं की मूर्ति ऐसी नहीं होती है। पत्थर काट-काट कर कान, मुँह, नाक, आंख आदि-आदि कितना सुन्दर बनाते हैं। खर्चा बहुत करते हैं। शिवबाबा की मूर्ति पर कोई खर्चे आदि की बात नहीं। अभी तुम बच्चे समझते हो हम सो देवी-देवता चैतन्य में खुद बन रहे हैं। चैतन्य में होंगे तब पूजा आदि नहीं होगी। जब पत्थरबुद्धि बनते हैं तब पत्थर की पूजा करते हैं। चैतन्य हैं तो पूज्य हैं फिर पुजारी बन जाते हैं। वहाँ न कोई पुजारी होते, न ही कोई पत्थर की मूर्ति होती। दरकार ही नहीं। जो चैतन्य थे उनकी निशानी यादगार के लिए पत्थरों की रखते हैं। अभी इन देवताओं की कहानी का तुमको मालूम पड़ गया है कि इन देवताओं की जीवन कहानी क्या थी? फिर से वही रिपीट होती है। आगे यह ज्ञान चक्षु नहीं था तो जैसे पत्थरबुद्धि थे। अभी बाप द्वारा जो ज्ञान मिला है, ज्ञान एक ही है परन्तु उठाने वाले नम्बरवार हैं।

तुम्हारी रूद्र माला भी इस धारणा के अनुसार ही बनती है। एक है रूद्र माला, दूसरी है रूण्ड माला। एक है ब्रदर्स की, दूसरी है ब्रदर्स और सिस्टर्स की। यह तो बुद्धि में आता है हम आत्मायें बहुत छोटी-छोटी बिन्दी मुआफिक हैं। गायन भी है भृकुटी के बीच चमकता है अजब सितारा। अभी तुम समझते हो हम आत्मा चैतन्य हैं। एक छोटे सितारे मिसल हैं। फिर जब गर्भ में आते हैं तो पहले कितना छोटा पिण्ड होता है। फिर कितना बड़ा हो जाता है। वही आत्मा अपने शरीर द्वारा अविनाशी पार्ट बजाती रहती है। इस शरीर को ही फिर सब याद करने लग पड़ते हैं। यह शरीर ही अच्छा-बुरा होने के कारण सबको आकर्षित करता है। सतयुग में ऐसे नहीं कहेंगे कि आत्म-अभिमानी बनो, अपने को आत्मा समझो। यह ज्ञान तुम्हें अभी ही मिलता है क्योंकि तुम जानते हो अभी आत्मा पतित बन पड़ी है। पतित होने कारण जो काम करती है वह सभी उल्टा हो जाता है। बाप सुल्टा काम कराते, माया उल्टा काम कराती है। सबसे उल्टा काम है बाप को सर्वव्यापी कहना। आत्मा जो पार्ट बजाती है वह अविनाशी है। उनको जलाया नहीं जाता, उनकी तो पूजा होती है। शरीर को जलाया जाता है। आत्मा जब शरीर छोड़ती तो शरीर को जलाते हैं। आत्मा दूसरे शरीर में प्रवेश कर जाती है। आत्मा बिगर शरीर दो-चार दिन भी नहीं रख सकते हैं। कई तो फिर शरीर में दवाइयाँ आदि लगाकर रख भी लेते हैं। परन्तु फायदा क्या? क्रिश्चियन का एक सेंट जेवीयर है, कहते हैं उसका शरीर अभी भी रखा हुआ है। उनका भी जैसे मन्दिर बना हुआ है। किसको दिखाते नहीं हैं सिर्फ उनके पांव दिखाते हैं। कहते हैं कोई पांव छू लेता है तो बीमार नहीं होता। पांव छूने से बीमारी से हल्के हो जाते हैं तो समझते हैं उनकी कृपा। बाप कहते हैं भावना का भाड़ा मिल जाता है। निश्चयबुद्धि होने से कुछ फ़ायदा होता है। बाकी ऐसे हो तो ढेर के ढेर वहाँ जायें, मेला लग जाए। बाप भी यहाँ आये हैं फिर भी इतना ढेर नहीं होते। ढेर होने की जगह भी नहीं है। जब ढेर होने का समय आता है तो विनाश हो जाता है। यह भी ड्रामा बना हुआ है। इसका आदि वा अन्त नहीं है। हाँ, झाड़ की जड़जड़ीभूत अवस्था होती है अर्थात् तमोप्रधान बन जाता है तब यह झाड़ चेंज होता है। कितना यह बेहद का बड़ा झाड़ है। पहले वह आयेंगे जिनको पहले नम्बर में जाना है। नम्बरवार आयेंगे ना? सभी सूर्यवंशी तो इकट्ठे नहीं आयेंगे। चन्द्रवंशी भी सभी इकट्ठे नहीं आते। नम्बरवार माला अनुसार ही आयेंगे। पार्टधारी सभी इकट्ठे कैसे आयेंगे। खेल ही बिगड़ जाए। यह खेल बड़ा एक्यूरेट बना हुआ है, इसमें कोई चेन्ज हो नहीं सकती।

मीठे-मीठे बच्चे जब यहाँ बैठते हो तो बुद्धि में यही याद रहना चाहिए। और सतसंगों में तो और-और बातें बुद्धि में आती हैं। यह तो एक ही पढ़ाई है, जिससे तुम्हारी कमाई होती है। उन शास्त्रों आदि को पढ़ने से कमाई नहीं होती। हाँ, कुछ न कुछ गुण अच्छे होते हैं। ग्रंथ पढ़ने बैठते हैं तो ऐसे नहीं सभी निर्विकारी होते हैं। बाप कहते हैं इस दुनिया में सभी भ्रष्टाचार से पैदा होते हैं। तुम बच्चों से कई पूछते हैं वहाँ जन्म कैसे होगा? बोलो, वहाँ तो 5 विकार ही नहीं, योगबल से बच्चे पैदा होते हैं। पहले ही साक्षात्कार होता है कि बच्चा आने वाला है। वहाँ विकार की बात नहीं। यहाँ तो बच्चों को भी माया गिरा देती है। कोई-कोई तो बाप को आकर सुनाते भी हैं। सुनायेंगे नहीं तो सौगुणा दण्ड पड़ जायेगा। बाप तो सभी बच्चों को कहते हैं कि कोई भी पाप कर्म हो जाता है तो बाप को झट बताना चाहिए। बाप अविनाशी वैद्य है। सर्जन को सुनाने से तुम हल्के हो जायेंगे। जब तक संगमयुग है तब तक बाप से कुछ छिपाना नहीं है। कोई छिपाते हैं तो बाप के दिल को जीत नहीं सकते। सारा मदार पुरूषार्थ पर है। स्कूल में आयेंगे ही नहीं तो कैरेक्टर कैसे सुधरेंगे? इस समय सबके कैरेक्टर्स खराब हैं। विकार ही पहले नम्बर का खराब कैरेक्टर्स है इसलिए बाप कहते हैं-बच्चों, काम विकार तुम्हारा महाशत्रु है। आगे भी यह गीता का ज्ञान सुना था तो यह सभी बातें समझ में नहीं आती थी। अब बाप डायरेक्ट गीता सुनाते हैं। अभी बाप ने तुम बच्चों को दिव्य बुद्धि दी है, तो भक्ति का नाम सुनते हँसी आती है कि क्या-क्या करते थे! अभी तो बाप शिक्षा देते हैं, इसमें दया, कृपा वा आशीर्वाद की बात होती नहीं। खुद पर ही दया, कृपा वा आशीर्वाद करनी है। बाप तो हर बच्चे को पुरुषार्थ कराते हैं। कोई तो पुरुषार्थ कर बाप के दिल को जीत लेते, कोई तो पुरुषार्थ करते-करते मर भी पड़ते हैं। बाप तो हर बच्चे को एक जैसा ही पढ़ाते हैं फिर कोई समय ऐसी गुह्य बातें निकलती हैं जो पुराना संशय ही उड़ जाता है, फिर खड़े हो जाते हैं इसलिए बाबा की पढ़ाई कभी मिस नहीं करनी चाहिए। मुख्य है बाप की याद। दैवीगुण भी धारण करने हैं। कोई कुछ छी-छी बोले तो सुना-अनसुना कर देना चाहिए। हियर नो ईविल… ऊंच पद पाना है तो मान-अपमान, दु:ख-सुख, हार-जीत सब सहन जरूर करना है। बाप कितनी युक्तियाँ बतलाते हैं। फिर भी बच्चे बाप का भी सुना-अनसुना कर देते हैं तो वह क्या पद पायेंगे? बाप कहते हैं जब तक अशरीरी नहीं बने हैं तब तक माया की कुछ न कुछ चोट लगती रहेगी। बाप का कहना नहीं मानते तो बाप का डिसरिगार्ड करते हैं। फिर भी बाप कहते हैं बच्चे, सदा जीते जागते रहो और बाप को याद कर ऊंच पद पाओ। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) कोई भी उल्टी-सुल्टी बातें करे तो सुना-अनसुना कर देना है। हियर नो ईविल… दु:ख-सुख, मान-अपमान सब कुछ सहन करना है।

2) बाप जो सुनाते हैं उसे कभी सुना-अनसुना कर बाप का डिसरिगार्ड नहीं करना है। माया की चोट से बचने के लिए अशरीरी रहने का अभ्यास जरूर करना है।

वरदान:- हद की रॉयल इच्छाओं से मुक्त रह सेवा करने वाले नि:स्वार्थ सेवाधारी भव
जैसे ब्रह्मा बाप ने कर्म के बन्धन से मुक्त, न्यारे बनने का सबूत दिया। सिवाए सेवा के स्नेह के और कोई बन्धन नहीं। सेवा में जो हद की रायॅल इच्छायें होती हैं वह भी हिसाब-किताब के बन्धन में बांधती हैं, सच्चे सेवाधारी इस हिसाब-किताब से भी मुक्त रहते हैं। जैसे देह का बन्धन, देह के संबंध का बंधन है, ऐसे सेवा में स्वार्थ – यह भी बंधन है। इस बन्धन से वा रॉयल हिसाब-किताब से भी मुक्त नि:स्वार्थ सेवाधारी बनो।
स्लोगन:- वायदों को फाइल में नहीं रखो, फाइनल बनकर दिखाओ।

TODAY MURLI 17 DECEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 17 December 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 16 December 2018 :- Click Here

17/12/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, this study is for you to change from human beings into deities. Don’t make the slightest mistake in this study. If you simply sleep and eat but don’t study, there will have to be a lot of repentance.
Question: In which aspect should you follow Father Brahma so that you continue to make progress?
Answer: Just as Father Brahma put everything into the sacrificial fire, that is, he surrendered everything, so follow the father in the same way. The way to make progress is to put your offering into this sacrificial fire of Rudra created by the Father, that is, to become a helper of the Father. However, you should never ever think: I helped this much or I gave this much. The Father is the Bestower. You take from Him, you don’t give to Him.
Song: You wasted the night in sleeping and the day in eating!

Om shanti. You children heard the song. You children have to explain this too. The Father says to the children: I am speaking to you. No one else would say this. There are many sages, holy men and great souls. Some say that such and such a person has power. That One is the Father of all. He sits here and explains. There are many children who simply eat, drink and sleep all day; they sleep a lot. What will happen through that? You will lose your birth like a diamond. Maya makes you make many mistakes. Maya has put you to sleep in the sleep of Kumbhakarna. The One who awakens you has now come. Awaken from the sleep of ignorance! There is ignorance throughout the whole world and especially in Bharat. The Father says: If you make any mistakes now, there will be a lot of repentance. At that time, nothing will happen by your repenting. This is the study for you to change from human beings into deities. No one else can say this. It isn’t that the knowledge you have here is the same too; this is a new study. The original eternal deity religion is being established. Here, many people are called devis (goddesses); women are called devis and men are called devtas (deities). However, we are making effort to claim the deity status in the golden age, and so it would surely be the One who establishes the golden age who would enable us to attain that status. This aspect here is different from anything at other spiritual gatherings. Say to those who claim that God is omnipresent or who say that He has many incarnations: If God is omnipresent, then those who speak of the incarnations would also surely be incarnations of God. Achcha, then tell us the secrets of the beginning, the middle and the end of the world. They won’t be able to tell you anything. There are many types. There are also those with occult power. When a new soul comes, he shows his power. A new soul enters to establish a religion, and so his name is glorified. Here, there is no question of power. You say: Shiv Baba, we have come to claim the inheritance of heaven from You. This is called your Godly birthright. You are the children of God. No sage, holy man or great soul would say that he is a child of BapDada. You know that you are receiving the inheritance of heaven. Baba says: If you want to claim the full inheritance, stay in remembrance of the Father. The Father teaches you here. When the kingdom is established, this study and the One who teaches you will disappear. This Brahmin clan exists at this time. You say: We are the children of Brahma. So, when did Brahma come? Brahma would come at the confluence age, would he not? The Brahmins whom Prajapita Brahma creates then become deities. No Brahmins remain then; we go into the deity clan. Later, those brahmins exist to carry on with the religious activities that were begun by the rishis and munis etc. In the copper age, when they build temples to Shiva and begin worshipping, the worthy-of-worship deities will have become worshippers. At that time, brahmin priests are needed in the temples. So the brahmins who became worshippers from being worthy of worship must have begun at that time too. They cannot be called Brahmins. There would definitely be brahmin priests in front of the idols in the temples, so those brahmins must have emerged at that time. This is the detailed news. In fact, this is not connected with knowledge. Knowledge simply says: Manmanabhav! If you children are told simply to remember Shiv Baba and the inheritance, would all of you become Lakshmi and Narayan simply by remembering this? No; there is also the study. The more service you do, the higher the status you will claim. You will have a golden spoon in your mouth accordingly. It takes time for the new world to be created and for transformation to take place. Establishment will take place after destruction. There will be the golden age after the iron age. Although earthquakes etc. continue to take place, all the innumerable religions also have to be destroyed. The drama will end. We will now go to Baba and then go into the new world. At this time, we are Brahmins of this sacrificial fire. Shiv Baba has created this sacrificial fire of Rudra exactly as He did 5000 years ago. This is the biggest of all sacrificial fires. You true Brahmins look after this sacrificial fire. Those brahmins create material sacrificial fires. When a calamity takes place, they create a sacrificial fire. In the golden age, there is no need for gurus etc. Gurus exist where there is a need for salvation. There are now so many gurus here. Why has the condition of Bharat become like it has, even though there are so many Vedas and scriptures? You can write: All human beings are sleeping in the deep sleep of Kumbhakarna exactly as they did 5000 years ago. Everyone goes to sleep, but this is a matter of the sleep of ignorance. There are no gurus who can grant salvation. Now, who will bring light? It has been explained to you children that there cannot be light without the Supreme Father, the Supreme Soul. There are now so many gurus. So, why is there the dark night and sorrow? There was plenty of happiness in the golden age. Now, it is only when you receive God’s shrimat that there can be happiness. It was Ravan who made Bharat impure and unhappy. The Father says: Conquer this lust, the great enemy. Make a promise to remain pure for only then will you become the masters of the new world. Those gurus never tell you to become pure. You have now come into extreme light and so you can go and ask them: Why is Bharat that was so happy now so unhappy? You children know that you are becoming deities once again. Sannyasis instantly renounce their homes and go away. It is said of sannyasis that they are pure. They would not say that they are making effort to become pure. Everything of yours is unique. Don’t think that all sannyasis remain pure. Until their stage becomes strong, their intellect’s yoga continues to be pulled by their friends and relatives. You are told to forget your body and all bodily relations and that requires so much effort. When they are asked when they took renunciation or what their names were before, they reply: Don’t ask us those questions. Why do you remind us of that? Some of them do tell you and then they are asked: Did you forget everyone instantly or did you continue to remember them for some time? At least we would know who you were, how you renounced everything, whether you were alone or if you had a family and if you remember them. They would say: Yes, I remembered them for a long time. It is with great difficulty that that remembrance breaks. One does remember one’s life. Although we remember Shiv Baba, it isn’t that we forget our lives or the scriptures we have studied. He simply says: Forget everything while alive. Imbibe this. If you remember things of the past, you will become attached to them. First of all, listen to these things and then judge for yourself. Die alive and don’t listen to anyone else. We can tell you about our whole lives. Yes, we know that this world is now going to end. Centres will continue to increase. Those who say “Baba, Mama” become Brahmins. The Father now says: O souls. It is the soul that speaks. You are asked: Who are you? You would instantly say: I, the soul, am studying. You have now received this knowledge. You souls study through those organs. The soul and the body are two separate things. You now know that a soul takes a body and then sheds it. He imbibes sanskars. In the golden age, we souls were pure and charitable souls. We are now sinful souls. It is now the final birth. The Supreme Soul is now teaching us souls the knowledge that He has. All human beings are in extreme darkness. All the scriptures etc. belong to the path of devotion. That is not called knowledge. Knowledge is the day and devotion is the night. You can ask: Who was the Creator of the Gita and when did He come? When was the Gita written? Baba also continues to write to you and you then have to think about these things. By your intellects imbibing these things you will continue to progress. The Father says: Remember Me. The secret of the rosary has also been explained to you children. The Supreme Father, the Supreme Soul, is the unlimited Tassle and then there is the dual-bead, Brahma and Saraswati. The creation is created through Prajapita Brahma. This is Adi Dev and Adi Devi. These are the Brahmins who created heaven. This is why they are worshipped. In between, there are the eight beads who became the sun dynasty; they helped a lot. This knowledge should remain in your intellect. You also know that offerings are definitely made in the sacrificial fire. Baba has created a clever method for the mothers to progress. He surrendered himself, didn’t he? Therefore, follow the father. Those who helped Gandhiji received temporary happiness. He was a limited father whereas that One is the unlimited Father. Here, Baba put everything at the feet of the mothers and he thereby claimed number one. You children have to make effort. Those who help will become the masters of heaven. None of you should think that you are helping Shiv Baba. No; Shiv Baba Himself is helping you. Oh, but He is the Bestower! Whatever you do, you are doing it for yourself. If you stay in remembrance, your sins will be absolved. If you remember heaven, you will go to heaven. Baba Himself says: Manmanabhav! How else will you receive a high status? It is your duty to calculate this. None of you should think that you are giving to Baba. This is Shiv Baba’s sacrificial fire; it is continuing and it will keep going. It is in the hearts of you true Brahmins that you are establishing your kingdom with the Father’s help, not just in Bharat, but over the whole world. We will once again become pure, make Bharat into heaven and rule there. By your following Shiv Baba’s directions Bharat becomes heaven. So, remember that Shiv Baba is teaching you. Baba says: Only when you become Brahmins will you then become part of the deity community. By your falling into vice, all truth is completely destroyed. Instead of blessing yourself, you give yourself bad wishes, and you are then cursed. I have come to bless you. However, because of not following shrimat, you curse yourself and destroy your status. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order for your intellect to forget everything, die alive. Only listen to the one Father. Surrender yourself fully for your own progress.
  2. Follow shrimat and have mercy on yourself. Become a true Brahmin and look after the sacrificial fire. Study well and claim a high status.
Blessing: May you be a true server and remind those who have forgotten by being an embodiment of remembrance.
With your features of being an embodiment of remembrance, making others embodiments of remembrance is true service. Let your featuresremind others that they are souls and when looking at the forehead, let them see the sparkling soul or jewel. Just as when people see the jewel on the snake, their attention does not go to the snake itself, in the same way, seeing the imperishable, sparkling jewel, let them forget body consciousness and their attention automatically go to the soul. Let those who have forgotten become aware and then you will be said to be a true server.
Slogan: Destroy the intellect that imbibes defect and adopt a satopradhan and divine intellect.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 17 DECEMBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 17 December 2018

To Read Murli 16 December 2018 :- Click Here
17-12-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – मनुष्य से देवता बनने की यह पढ़ाई है, इस पढ़ाई में जरा भी गफलत नहीं करनी है, सोया, खाया, पढ़ाई नहीं की तो बहुत पछताना पड़ेगा”
प्रश्नः- किस बात में ब्रह्मा बाप को फालो करो तो उन्नति होती रहेगी?
उत्तर:- जैसे ब्रह्मा बाप ने अपनी पूरी आहुति दे दी अर्थात् सब कुछ समर्पण किया, ऐसे फालो फादर। उन्नति का साधन है – बाप के रचे हुए इस रुद्र यज्ञ में अपनी आहुति देना अर्थात् बाप का मददगार बनना। परन्तु यह ख्याल भी कभी नहीं आना चाहिए कि मैंने इतनी मदद की, इतना दिया। बाप तो दाता है, उससे तुम लेते हो, देते नहीं।
गीत:- तूने रात गंवाई सो के…….

ओम् शान्ति। बच्चों ने गीत सुना। इस पर भी बच्चों को समझाना है, बाप कहते हैं बच्चों से मैं बात करता हूँ और कोई भी ऐसे कह नहीं सकेंगे। साधू सन्त महात्मा तो ढेर हैं। कोई कहते हैं कि इनमें शक्ति है। यह तो सबका बाप है, वह बैठ समझाते हैं। बहुत बच्चे हैं जो सारा दिन बस खाते, पीते और सोते हैं, नींद बहुत करते हैं। इससे क्या होगा? हीरे जैसा जन्म खो देंगे। माया ग़फलत बहुत कराती है। कुम्भकरण की नींद में माया ने सुला दिया है। अब जगाने वाला आया है, अज्ञान निद्रा से जागो। सारी सृष्टि, उसमें भी खास भारत में अज्ञान ही अज्ञान है। तो बाप कहते हैं अब गफलत करेंगे तो बहुत-बहुत पछताना पड़ेगा। फिर पछताने से तो काम नहीं होगा। यहाँ मनुष्य से देवता बनने की पढ़ाई है। ऐसे और कोई कह न सके। ऐसे नहीं यहाँ भी वही ज्ञान है। यह तो पढ़ाई ही नई है। आदि सनातन देवी-देवता धर्म की स्थापना होती है। ऐसे तो यहाँ भी देवी बहुतों को कहते हैं। स्त्री देवी तो पुरुष देवता हो गया। परन्तु हम तो सतयुग में देवी-देवता पद पाने का पुरुषार्थ कर रहे हैं, सो तो जरूर सतयुग स्थापन करने वाला ही प्राप्त करायेगा। सब सतसंगों से यह बात न्यारी है। जो ईश्वर को सर्वव्यापी कहते हैं और अनेक अवतार बताते हैं, उनसे पूछो – अगर ईश्वर सर्वव्यापी है, तो अवतार कहने वाले भी जरूर ईश्वर का अवतार होंगे। अच्छा, फिर रचना के आदि-मध्य-अन्त का राज़ तो बताओ। तो कुछ भी बता नहीं सकेंगे। भिन्न-भिन्न प्रकार के होते हैं। रिद्धि-सिद्धि वाले भी हैं। नई आत्मा आती है तो वह भी ताकत दिखाती है। यह धर्म स्थापन करने नई आत्मा प्रवेश करती है तो उनका नाम बाला हो जाता है। यहाँ शक्ति की बात नहीं। तुम कहेंगे शिवबाबा हम आपसे स्वर्ग का वर्सा लेने के लिए आये हैं। इसको ही ईश्वरीय जन्म सिद्ध अधिकार कहा जाता है। तुम ईश्वरीय औलाद हो। कोई भी साधू, सन्त, महात्मा ऐसे नहीं कहेंगे कि हम बापदादा के बच्चे हैं।

तुम तो जानते हो हम स्वर्ग का वर्सा ले रहे हैं। बाबा कहते हैं पूरा वर्सा लेना है तो बाप की याद में रहो। बाप यहाँ ही पढ़ाते हैं। राजाई स्थापन हो जायेगी तो यह पढ़ाई और पढ़ाने वाला गुम हो जायेगा। यह ब्राह्मण कुल अभी है। कहते हैं हम ब्रह्मा की औलाद हैं। तो ब्रह्मा कब आया? ब्रह्मा तो संगम पर आयेंगे ना। प्रजापिता ब्रह्मा जिन ब्राह्मणों को रचते हैं वह तो देवी-देवता बन जाते हैं फिर ब्राह्मण तो रहते नहीं हैं। हम फिर देवता कुल में चले जायेंगे। फिर कर्मकाण्ड के लिए जो पुजारी ब्राह्मण हैं वह कोई ऋषि-मुनि आदि ने शुरू किये होंगे। द्वापर में जब शिव आदि के मन्दिर बनाकर पूजा शुरू करते हैं तो जो पूज्य देवी-देवता थे वह पुजारी बन जाते हैं। उस समय मन्दिरों में ब्राह्मण चाहिए। तो उसी समय ब्राह्मण भी शुरू हुए होंगे जो पूज्य से पुजारी बने, उनको ब्राह्मण नहीं कहेंगे। मन्दिरों में मूर्ति के आगे ब्राह्मण जरूर होगा। तो उस समय वह ब्राह्मण भी निकले होंगे। यह हुआ डिटेल समाचार। वास्तव में इससे भी ज्ञान का सम्बन्ध नहीं। ज्ञान सिर्फ कहता है ‘मनमनाभव’। तुम बच्चों को कहा जाए, शिवबाबा और वर्से को याद करो तो क्या सिर्फ याद करने से सभी लक्ष्मी-नारायण बन जायेंगे? नहीं। फिर पढ़ाई भी तो है। जितना ज्यादा सर्विस करेंगे उतना ऊंच पद पायेंगे, उतना गोल्डन स्पून इन माउथ होगा। नई दुनिया बनने में, अदली-बदली होने में टाइम तो लगता है ना। विनाश के बाद स्थापना होगी। कलियुग के बाद सतयुग होगा। भल अर्थक्वेक आदि होती रहती है परन्तु अनेक धर्मों का विनाश होना है। ड्रामा पूरा होता है। अभी हम बाबा के पास जाकर फिर नई दुनिया में आयेंगे। इस समय हम इस यज्ञ के ब्राह्मण हैं। शिवबाबा ने 5 हजार वर्ष पहले मुआफ़िक रुद्र यज्ञ रचा है। यह बहुत बड़े ते बड़ा यज्ञ है। इस यज्ञ की सम्भाल करते हो तुम सच्चे ब्राह्मण। वह ब्राह्मण तो मैटेरियल यज्ञ रचते हैं। कोई आपदा आदि आनी होती है तो यज्ञ रचते हैं। सतयुग में गुरू आदि की दरकार नहीं थी। गुरू वहाँ होगा जहाँ सद्गति की जरूरत हो। अब यहाँ तो अथाह गुरू हैं। इतने वेद-शास्त्र आदि होते हुए भी भारत की ऐसी गति क्यों हुई है?

तुम लिख सकते हो 5 हजार वर्ष पहले मुआफ़िक सब मनुष्य कुम्भकरण की घोर निद्रा में सोये पड़े हैं। नींद तो सब करते हैं, परन्तु यह अज्ञान निद्रा की बात है। कोई भी गुरू नहीं जो सद्गति दे सके। अब सोझरा करने वाला कौन है? तुम बच्चों को समझाया है परमपिता परमात्मा के बिना सोझरा हो नहीं सकता। अभी तो अथाह गुरू हैं। फिर भी अन्धियारी रात, दु:ख क्यों? सतयुग में तो अथाह सुख था। अब जब भगवान् की श्रीमत मिले तब सुख हो। रावण ने ही भारत को पतित-दु:खी किया है। बाप कहते हैं इस काम महाशत्रु को जीतो। पवित्रता की प्रतिज्ञा करो तब नई दुनिया के मालिक बनेंगे। गुरू लोग कभी ऐसे नहीं कहेंगे कि पवित्र बनो। अभी तुम घोर सोझरे में आये हो तो तुम जाकर पूछो – भारत जो इतना सुखी था, अब इतना दु:खी क्यों? तुम बच्चे जानते हो हम सो देवता बनते हैं। सन्यासी तो झट घरबार छोड़ निकल पड़ते हैं। उनके लिए कहते हैं सन्यासी पावन हैं। वो ऐसे नहीं कहेंगे कि हम पावन बनने के लिए पुरुषार्थ कर रहे हैं। तुम्हारी बात ही न्यारी है। ऐसे मत समझो कि सब सन्यासी पवित्र रहते हैं। बुद्धियोग मित्र-सम्बन्धियों में जाता रहता है, जब तक अवस्था मजबूत हो। तुमको कहा जाता है देह सहित देह के सर्व सम्बन्धों को भूलो तो कितनी मेहनत लगती है। उनसे जब पूछा जाता है तो सन्यास कब किया? लौकिक नाम क्या है? तो कहेंगे यह बातें मत पूछो। स्मृति क्यों दिलाते हो। कोई-कोई बतलाते भी हैं फिर उनसे पूछते हैं कि तुम फौरन ही सबको भूल गये या याद आती है? मालूम तो पड़े ना तुम कौन थे, कैसे छोड़ा, अकेले थे वा बाल बच्चे भी थे? फिर वह तुमको याद पड़ते हैं? कहते हैं – हाँ, बहुत समय याद पड़ते थे, मुश्किल से याद टूटती है। अपना जीवन याद तो रहता है। भल हम शिवबाबा को याद करते हैं परन्तु ऐसे थोड़ेही अपना जीवन या शास्त्र आदि जो पढ़े हैं, वह भूल जाते हैं। सिर्फ कहते हैं जीते जी भूल जाओ, यह धारण करो। याद करेंगे तो लटक पड़ेंगे। पहले यह बातें सुनो फिर जज करो। जीते जी मरजीवा बनो और किसी का मत सुनो। हम अपना सारा जीवन बता सकते हैं। हाँ, यह जानते हैं कि अभी यह दुनिया खत्म होने वाली है। सेन्टर्स वृद्धि को पाते रहेंगे। जो बाबा-मम्मा कहते हैं वे ब्राह्मण बन जाते हैं। अब बाप कहते हैं – हे आत्मायें, आत्मा ही बोलती है। तुमसे पूछेंगे तुम कौन हो? तो झट कहेंगे मैं आत्मा पढ़ती हूँ। यह ज्ञान अब तुमको मिला है। तुम्हारी आत्मा इन आरगन्स से पढ़ती है। आत्मा और शरीर दो हैं। अभी तुम जानते हो कि आत्मा ही शरीर लेती और छोड़ती है। संस्कार धारण करती है। हम आत्मायें सतयुग में पुण्य आत्मा थे, अब पाप आत्मा हैं। अब अन्तिम जन्म है। परमात्मा में जो ज्ञान है वह अब हम आत्माओं को पढ़ा रहे हैं। बाकी सब मनुष्य घोर अन्धियारे में हैं। शास्त्र आदि सब भक्ति मार्ग के हैं। उनको ज्ञान नहीं कहा जाता। ज्ञान दिन और भक्ति रात है। तुम पूछ सकते हो – गीता का रचयिता कौन है और कब आया? गीता कब लिखी गई? बाबा भी लिखते रहते हैं फिर उस पर गौर करना पड़ता है। ऐसे-ऐसे बुद्धि में धारण करने से फिर तुम्हारी उन्नति होती जायेगी। बाप कहते हैं – मेरे को याद करो, बच्चों को माला का राज़ भी समझाया है। परमपिता परमात्मा बेहद का फूल है फिर हैं दो दाने ब्रह्मा सरस्वती। प्रजापिता ब्रह्मा द्वारा रचना रची हुई है। यह हैं आदि देव और आदि देवी। यह ब्राह्मण हैं जिन्होंने स्वर्ग बनाया है इसलिए इनकी पूजा होती है। बीच में वह 8 दाने हैं, जो सूर्यवंशी बने हैं। बहुत मदद की है। नॉलेज बुद्धि में रहनी चाहिए। यह भी जानते हो कि यज्ञ में बरोबर आहुति दी जाती है। माताओं की उन्नति के लिए बाबा ने युक्ति रची है। बलि चढ़ा ना, तो फालो फादर। गांधी को भी जिन्होंने मदद की तो अल्पकाल का सुख मिला। वह था हद का बाप, यह है बेहद का बाप।

यहाँ बाबा ने सब कुछ माताओं के चरणों में दे दिया तो यह वन नम्बर में गया। तुम बच्चों को पुरुषार्थ करना है, जो मदद करेंगे वही स्वर्ग के मालिक बनेंगे। ऐसे कोई मत समझे कि हम शिवबाबा को मदद करते हैं। नहीं। शिवबाबा ही तुमको मदद करते हैं। अरे, वह तो दाता है, तुम अपने लिए करते हो। तुम याद में रहो तो विकर्म विनाश होंगे। स्वर्ग को याद करो तो स्वर्ग में चले जायेंगे। बाबा स्वयं कहते हैं – मनमनाभव। नहीं तो बाकी ऊंच पद कैसे मिलेगा? हिसाब करना तुम्हारा काम है। कोई मत समझे कि मैं देता हूँ। यह शिवबाबा का यज्ञ है, चलता है, चलता ही रहेगा।

तुम सच्चे ब्राह्मणों के दिल में है कि हम सिर्फ भारत में ही नहीं बल्कि सम्पूर्ण विश्व में बाप की मदद से अपना राज्य स्थापन कर रहे हैं। हम फिर से पवित्र बन भारत को स्वर्ग बनाकर राज्य करेंगे। शिवबाबा की मत पर चलने से भारत स्वर्ग बन जाता है। तो यह याद रखो कि शिवबाबा पढ़ाते हैं। बाबा कहते हैं जब ब्राह्मण बनेंगे तब ही देवता सम्प्रदाय में आयेंगे। विकार में गिरने से एकदम सत्यानाश हो जाती है। आपेही अपने पर कृपा के बदले अकृपा करते हैं फिर श्रापित हो जाते हैं। मैं वरदान देने आया हूँ। परन्तु श्रीमत पर न चलने से अपने को श्रापित कर देते हैं, पद भ्रष्ट करते हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बुद्धि से सब कुछ भूलने के लिए जीते जी मरना है। एक बाप की सुनना है। अपनी उन्नति के लिए पूरा बलिहार जाना है।

2) श्रीमत पर चल स्वयं पर कृपा करनी है। सच्चे ब्राह्मण बन यज्ञ की सम्भाल करनी है। पढ़ाई अच्छी रीति पढ़कर ऊंच पद लेना है।

वरदान:- स्मृति स्वरूप बन विस्मृति वालों को स्मृति दिलाने वाले सच्चे सेवाधारी भव
अपने स्मृति स्वरूप फीचर्स द्वारा औरों को स्मृति स्वरूप बनाना यही सच्ची सेवा है। आपके फीचर्स औरों को स्मृति दिला दें कि मैं आत्मा हूँ, मस्तक में देखें ही चमकती हुई आत्मा वा मणी को। जैसे सांप की मणी देख करके सांप की तरफ कोई का ध्यान नहीं जाता, ऐसे अविनाशी चमकती हुई मणि को देख देहभान को भूल जाएं, अटेन्शन स्वत: आत्मा की तरफ जाए। विस्मृति वालों को स्मृति आ जाए – तब कहेंगे सच्चे सेवाधारी।
स्लोगन:- अवगुण धारण करने वाली बुद्धि का नाश कर सतोप्रधान दिव्य बुद्धि धारण करो।
Font Resize