daily murli 15 February

TODAY MURLI 15 FEBRUARY 2021 DAILY MURLI (English)

15/02/21
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, this confluence age is the age for ascending. Everyone benefits in this age. This is why it is said: There is benefit for everyone due to your ascending stage.
Question: Why does Baba give all you Brahmin children many congratulations?
Answer: Baba says: It is because you children of Mine become deities from humans. You now become free from the chains of Ravan. You pass with honours and claim the kingdom of heaven. I don’t do that. Therefore, Baba congratulates you a great deal. You souls are kites. The strings of all of you are in My hands. I make you into the masters of heaven.
Song: At last the day for which we had been waiting has come.

Om shanti. Who is telling you this story of immortality? Whether you call it the story of immortality, the story of becoming true Narayan or the story of the third eye, all three are important. In front of whom are you now sitting and who is telling you the story? Even this one has been to many spiritual gatherings. There, you can only see human beings. They say that such-and-such a sannyasi is relating a religious story, that Shivananda is relating a story. There are many spiritual gatherings in Bharat. They have spiritual gatherings in every street. Even women simply take up a religious book and have a spiritual gathering. So, there, you see human beings, whereas here, it is a wonderful aspect. Who is in your intellects? The Supreme Soul, God. You say that Baba has now come in front of you, that incorporeal Baba is teaching you. Human beings say, “But, God is beyond name and form!” The Father explains: Nothing is beyond name and form. You understand that it is not a corporeal human being who is teaching you here. Anywhere else you go in the world, it is corporeal beings who teach you. Here, the Supreme Father, who is called incorporeal God, the Father, sits and teaches you through the corporeal one. This is something completely new. Birth after birth, you have been hearing them say, “This one is such-and-such a pundit, or guru.” They have many names. Bharat is very big. Whoever teaches or explains to you is a human being. Disciples are also human beings. There are many types of human being. They always mention the name of the body and say, “So-and-so is relating this.” On the path of devotion, they call out to the incorporeal One: O Purifier, come! He comes and explains to you children. You children know that the whole world becomes impure every cycle and that it is only the incorporeal Father who makes it pure again. Among all of you sitting here, some of you are weak and others are strong. It is because you have been body conscious for half the cycle that you now have to become soul conscious in this birth. The Supreme Soul sits here and explains to each of you souls that are sitting in your body. It is the soul that carries away the sanskars. A soul says through his organs: I am so-and-so. However, no one is soul conscious. The Father explains that those who belonged to the sun dynasty and moon dynasty in Bharat will come at this time and become Brahmins and that they will then become deities. Human beings have the habit of being body conscious; they forget to remain soul conscious. This is why the Father repeatedly says: Become soul conscious! It is the soul that adopts different costumes and plays his part. These are his organs. The Father now says to the children: Become Manmanabhav! No one can receive the fortune of the kingdom by just studying the Gita. You are made trikaldarshi at this time. There is the difference of day and night. The Father explains: I teach you Raja Yoga. Krishna is a prince of the golden age. The sun-dynasty deities don’t have this knowledge. The knowledge will have disappeared. This knowledge is for receiving salvation. In the golden age, there is no one in degradation. That is the golden age, whereas it is now the iron age. In Bharat, there are first eight births in the sun dynasty and then 12 births in the moon dynasty. This one birth of yours now is the best birth of all. You are the mouth-born creation of Prajapita Brahma. This is the most elevated Brahmin religion. The deity religion cannot be called the most elevated religion. The Brahmin religion is the most elevated of all. Deities simply experience their reward. Nowadays, there are many social workers. Your work is spiritual service. Theirs is physical service. This spiritual service can only be done once. Previously, there were no social workers etc. The king and queen used to rule. In the golden age, there were deities. You were worthy of worship and then you became worshippers. Lakshmi and Narayan went onto the path of sin in the copper age and people then build temples to them. First of all, they build a temple to Shiva. He is the Bestower of Salvation for All. Therefore, He must surely be worshipped. Shiv Baba made souls viceless. Then, there is worship of the deities. You were worthy of worship and you then became worshippers. Baba has told you: Continue to remember the cycle. You have come down the ladder and have now fallen to the floor. It is now your stage of ascending. It is said: There is benefit for everyone due to your ascending stage. I now bring the stage of ascending for all the human beings of the world. The Purifier comes and purifies everyone. When it was the golden age, after your stage of ascending, all the rest of the souls were in the land of liberation. The Father sits here and explains: Sweetest children, I only take birth in Bharat. It is remembered that Shiv Baba came. He has now come once again. This is called: The sacrificial fire of imperishable knowledge of self-sovereignty in which the horse is sacrificed. The sacrificial fire was created to attain self-sovereignty. There were obstacles then. There are obstacles now too. Mothers are assaulted. They say: Baba, we are being stripped! They don’t leave us alone! Baba, protect us! They have shown how Draupadi was protected. You have come to the unlimited Father to claim your inheritance for 21 births. You stay on the pilgrimage of remembrance and purify yourself. Then, by indulging in vice, everything is finished and you fall right down. This is why the Father says: You definitely have to remain pure. Those who became this in the previous cycle will make a promise for purity. Then, some are able to remain pure and others are not. The main thing is remembrance. If you stay in remembrance, remain pure and spin the discus of self-realisation, you claim a high status. The dual-form of Vishnu rules the kingdom. However, the ornaments of the conch shell and the discus that they have given to Vishnu, do not belong to the deities; Lakshmi and Narayan do not have them. Vishnu resides in the subtle region. He doesn’t need the knowledge of the cycle. There is just “movie there. You now understand that you are residents of the land of peace. That is the incorporeal world. Human beings don’t understand what a soul is. They say that each soul is the Supreme Soul. They say of a soul that it is a sparkling star that resides in the centre of the forehead. It cannot be seen with these eyes. No matter how much someone tries to lock a body in a glass case to see how the soul leaves the body, no one understands this. However, they do say that souls are like stars and cannot be seen without divine vision. On the path of devotion, many people have visions. It is written that Arjuna had a vision of eternal light. Arjuna cried out that he was unable to tolerate it. The Father explains: There is nothing as bright as that. When a soul enters a body, you are not aware of it. You now understand how Baba enters and speaks. That soul comes here and speaks. This too is all fixed in the drama. There is no question of anyone’s strength in this. A soul doesn’t leave his body and go somewhere else; that is just a matter of a vision. This is a wonderful aspect. The Father says: I enter an ordinary body. They invoke the soul. Previously, they used to invite a departed soul to come and would then ask him questions. Now, everyone has become tamopradhan. The Father only comes to purify the impure. They speak of 84 births. Therefore, it should be understood that those who came first must definitely have taken 84 births. They speak of hundreds of thousands of years. The Father now explains: I sent you to heaven. You went and ruled there. You people of Bharat were sent to heaven. You were taught Raja Yoga at the confluence age. The Father says: I come at the confluence age of the cycle. They have then written in the Gita that He comes in every age. You now understand how you come down the ladder and how you then climb up. There is the stage of ascending and then the stage of descending. This is now the confluence age. It is the age of the stage of ascending for everyone. You are now climbing and going up and you will then come down in heaven to play your parts. In the golden age, there were no other religions. That was called the viceless world. The deities then fell on to the path of sin and everyone began to become vicious. As are the king and queen, so the subjects. The Father explains: O people of Bharat, you were in the viceless world and it is now the vicious world. There are now innumerable religions, but the deity religion doesn’t exist. It is only when it no longer exists that it would surely be established once again. The Father says: I come and establish the original, eternal deity religion through Brahma. He would do this here, would He not? He wouldn’t do this in the subtle region. It is written that the creation of the original, eternal deity religion was through Brahma. You are not called pure at this time. You are becoming pure; it does take time. It is not written in any scripture how you become pure from impure. In fact, the praise is of just the one Father. Because of forgetting that Father, you have become orphans and continue to fight. People ask: How can everyone unite and become one? They are all brothers. Baba is experienced. This one has performed all types of devotion; he adopted the most number of gurus. The Father says: Renounce all of them! You have found Me. You call Him the Bestower of Salvation for All, Sat Shri Akaal (the Truth, the Most Elevated and Immortal One). People read this a lot but they don’t understand the meaning of it. The Father explains: Everyone is now impure. Later, the pure world will be created. Only Bharat is imperishable. No one knows that Bharat is never destroyed or that total annihilation never takes place. They show Krishna coming on a pipal leaf floating in the ocean. A baby cannot come floating on a pipal leaf. The Father explains: You will take a very comfortable birth through a womb. A womb there is said to be a palace, whereas a womb here is said to be a jail. In the golden age, a womb is like a palace and a soul has a vision in advance that he will shed that body and take another. There, they remain soul conscious. Human beings neither know the Creator nor the beginning, middle or the end of creation. You now know that the Father is the Ocean of Knowledge. You are master oceans. You mothers are the rivers and the brothers are the lakes of knowledge. They are rivers of knowledge and you are lakes. There, it is the family path. Your ashram was that of the pure household path and it is now that of the impure household path. The Father says: Always remember that you are souls. Only remember the one Father. Baba has ordered you: Don’t remember any bodily being! Whatever you see with your eyes is to be destroyed. This is why the Father says: Manmanabhav and Madhyajibhav! Continue to forget this graveyard. Many storms of Maya will come. You mustn’t be afraid of them. Many storms will come, but don’t perform sinful actions through your physical organs. It is only when you forget the Father that storms come. This pilgrimage of remembrance only takes place once. Those pilgrimages are of the land of death. This pilgrimage leads to the land of immortality. The Father says: Don’t remember any bodily being. Children send so many telegrams for Shiva Jayanti. The Father says: The same applies to you. The Father also congratulates you children. In fact, you are congratulated because you change from humans into deities. Then, those who pass with honours receive more marks and claim a high status. The Father is congratulating you because you have now become free from the chains of Ravan. All souls are like kites. Everyone’s string is in the Father’s hands. He will take everyone back with Him. He is the Bestower of Salvation for All, but you are making effort to claim the kingdom of heaven. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to pass with honours, remember the one Father and not any bodily being. See but don’t see whatever you see with your eyes.
  2. You are going on a pilgrimage to the land of immortality. Therefore, you mustn’t remember anything of the land of death. Pay attention to not performing any sinful actions through your physical organs.
Blessing: May you be a world server and invoke many souls with your stage of supersensuous joy.
The more your last stage continues to come closer, to being karmateet the more you will love to be in the stage of being beyond sound. In this stage, you will constantly experience supersensuous joy. Then in this stage of supersensuous joy, you will easily be able to invoke many other souls. This powerful stage is the stage of a world benefactor. With this stage you will be able to make Baba’s message reach souls who are sitting far away.
Slogan: By keeping each one’s speciality in your awareness, become faithful and the gathering will become united in one direction.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 15 FEBRUARY 2021 : AAJ KI MURLI

15-02-2021
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – यह संगमयुग है चढ़ती कला का युग, इसमें सभी का भला होता है इसलिए कहा जाता चढ़ती कला तेरे भाने सर्व का भला”
प्रश्नः- बाबा सभी ब्राह्मण बच्चों को बहुत-बहुत बधाईयाँ देते हैं – क्यों?
उत्तर:- क्योंकि बाबा कहते तुम मेरे बच्चे मनुष्य से देवता बनते हो। तुम अभी रावण की जंजीरों से छूटते हो, तुम स्वर्ग की राजाई पाते हो, पास विद् ऑनर बनते हो, मैं नहीं इसलिए बाबा तुम्हें बहुत-बहुत बधाईयाँ देते हैं। तुम आत्मायें पतंग हो, तुम्हारी डोर मेरे हाथ में हैं। मैं तुम्हें स्वर्ग का मालिक बनाता हूँ।
गीत:- आखिर वह दिन आया आज……..

ओम् शान्ति। यह अमर कथा कौन सुना रहे हैं? अमर कथा कहो, सत्य नारायण की कथा कहो वा तीजरी की कथा कहो – तीनों मुख्य हैं। अभी तुम किसके सामने बैठे हो और कौन तुमको सुना रहे हैं? सतसंग तो इसने भी बहुत किये हैं। वहाँ तो सब मनुष्य देखने में आते हैं। कहेंगे फलाना संन्यासी कथा सुनाते हैं। शिवानंद सुनाते हैं। भारत में तो ढेर सतसंग हैं। गली-गली में सतसंग हैं। मातायें भी पुस्तक उठाए बैठ सतसंग करती हैं। तो वहाँ मनुष्य को देखना पड़ता है लेकिन यहाँ तो वन्डरफुल बात है। तुम्हारी बुद्धि में कौन है? परमात्मा। तुम कहते हो अभी बाबा सामने आया हुआ है। निराकार बाबा हमको पढ़ाते हैं। मनुष्य कहेंगे वह ईश्वर तो नाम-रूप से न्यारा है। बाप समझाते हैं कि नाम-रूप से न्यारी कोई चीज़ है नहीं। तुम बच्चे जानते हो यहाँ कोई भी साकार मनुष्य नहीं पढ़ाते हैं और कहाँ भी जाओ, सारी वर्ल्ड में साकार ही पढ़ाते हैं। यहाँ तो सुप्रीम बाप है, जिसको निराकार गॉड फादर कहा जाता है, वह निराकार साकार में बैठ पढ़ाते हैं। यह बिल्कुल नई बात हुई। जन्म बाई जन्म तुम सुनते आये हो, यह फलाना पण्डित है, गुरू है। ढेर के ढेर नाम हैं। भारत तो बहुत बड़ा है। जो भी कुछ सिखाते हैं, समझाते हैं वह मनुष्य ही हैं। मनुष्य ही शिष्य बने हुए हैं। अनेक प्रकार के मनुष्य हैं। फलाना सुनाते हैं। हमेशा शरीर का नाम लिया जाता है। भक्ति मार्ग में निराकार को बुलाते हैं कि हे पतित-पावन आओ। वही आकर बच्चों को समझाते हैं। तुम बच्चे जानते हो कि कल्प-कल्प सारी दुनिया जो पतित बन जाती है, उनको पावन करने वाला एक ही निराकार बाप है। तुम यहाँ जो बैठे हो, तुम्हारे में भी कोई कच्चे हैं, कोई पक्के हैं क्योंकि आधाकल्प तुम देह-अभिमानी बने हो। अब देही-अभिमानी इस जन्म में बनना है। तुम्हारी देह में रहने वाली जो आत्मा है उनको परमात्मा बैठ समझाते हैं। आत्मा ही संस्कार ले जाती है। आत्मा कहती है आरगन्स द्वारा कि मैं फलाना हूँ। परन्तु आत्म-अभिमानी तो कोई है नहीं। बाप समझाते हैं जो इस भारत में सूर्यवंशी-चन्द्रवंशी थे वही इस समय आकर ब्राह्मण बनेंगे फिर देवता बनेंगे। मनुष्य देह-अभिमानी रहने के आदती हैं, देही-अभिमानी रहना भूल जाते हैं इसलिए बाप घड़ी-घड़ी कहते हैं देही-अभिमानी बनो। आत्मा ही भिन्न-भिन्न चोला लेकर पार्ट बजाती है। यह हैं उनके आरगन्स। अब बाप बच्चों को कहते हैं मनमनाभव। बाकी सिर्फ गीता पढ़ने से कोई राज्य-भाग्य थोड़ेही मिल सकता है। तुमको इस समय त्रिकालदर्शी बनाया जाता है। रात-दिन का फ़र्क हो गया है। बाप समझाते हैं मैं तुमको राजयोग सिखाता हूँ। कृष्ण तो सतयुग का प्रिन्स है। जो सूर्यवंशी देवतायें थे उनमें कोई ज्ञान नहीं। ज्ञान तो प्राय:लोप हो जायेगा। ज्ञान है ही सद्गति के लिए। सतयुग में दुर्गति में कोई होता ही नहीं। वह है ही सतयुग। अभी है कलियुग। भारत में पहले सूर्यवंशी 8 जन्म फिर चन्द्रवंशी 12 जन्म। यह एक जन्म अभी तुम्हारा सबसे अच्छा जन्म है। तुम हो प्रजापिता ब्रह्मा मुख वंशावली। यह है सर्वोत्तम धर्म। देवता धर्म सर्वोत्तम धर्म नहीं कहेंगे। ब्राह्मण धर्म सबसे ऊंच है। देवतायें तो प्रालब्ध भोगते हैं।

आजकल बहुत सोशल वर्कर हैं। तुम्हारी है रूहानी सर्विस। वह है जिस्मानी सेवा करना। रूहानी सर्विस एक ही बार होती है। आगे यह सोशल वर्कर आदि नहीं थे। राजा-रानी राज्य करते थे। सतयुग में देवी-देवता थे। तुम ही पूज्य थे फिर पुजारी बने। लक्ष्मी-नारायण द्वापर में जब वाम मार्ग में जाते हैं तो मन्दिर बनाते हैं। पहले-पहले शिव का बनाते हैं। वह है सर्व का सद्गति दाता तो उनकी जरूर पूजा होनी चाहिए। शिवबाबा ने ही आत्माओं को निर्विकारी बनाया था ना। फिर होती है देवताओं की पूजा। तुम ही पूज्य थे फिर पुजारी बने। बाबा ने समझाया है – पा को याद करते रहो। सीढ़ी उतरते-उतरते एकदम पट पर आकर पड़े हो। अब तुम्हारी चढ़ती कला है। कहते हैं चढ़ती कला तेरे भाने सर्व का भला। सारी दुनिया के मनुष्य मात्र की अब चढ़ती कला करता हूँ। पतित-पावन आकर सबको पावन बनाते हैं। जब सतयुग था तो चढ़ती कला थी और बाकी सब आत्मायें मुक्तिधाम में थी।

बाप बैठ समझाते हैं मीठे-मीठे बच्चों मेरा जन्म भारत में ही होता है। शिवबाबा आया था, गाया हुआ है। अब फिर आया हुआ है। इसको कहा जाता है राजस्व अश्वमेध अविनाशी रूद्र ज्ञान यज्ञ। स्वराज्य पाने के लिए यज्ञ रचा हुआ है। विघ्न भी पड़े थे, अब भी पड़ रहे हैं। माताओं पर अत्याचार होते हैं। कहते हैं बाबा हमको यह नंगन करते हैं। हमको यह छोड़ते नहीं हैं। बाबा हमारी रक्षा करो। दिखाते हैं द्रोपदी की रक्षा हुई। अभी तुम 21 जन्मों के लिए बेहद के बाप से वर्सा लेने आये हो। याद की यात्रा में रहकर अपने को पवित्र बनाते हो। फिर विकार में गये तो खलास, एकदम गिर पड़ेंगे इसलिए बाप कहते हैं पवित्र जरूर रहना है। जो कल्प पहले बने थे वही पवित्रता की प्रतिज्ञा करेंगे फिर कोई पवित्र रह सकते हैं, कोई नहीं रह सकते हैं। मुख्य बात है याद की। याद करेंगे, पवित्र रहेंगे और स्वदर्शन चक्र फिराते रहेंगे तो फिर ऊंच पद पायेंगे। विष्णु के दो रूप राज्य करते हैं ना। परन्तु विष्णु को जो शंख चक्र दे दिया है वह देवताओं को नहीं था। लक्ष्मी-नारायण को भी नहीं था। विष्णु तो सूक्ष्मवतन में रहते हैं, उनको चक्र के नॉलेज की दरकार नहीं है। वहाँ मूवी चलती है। अभी तुम जानते हो कि हम शान्तिधाम के रहने वाले हैं। वह है निराकारी दुनिया। अब आत्मा क्या चीज़ है, वह भी मनुष्य मात्र नहीं जानते। कह देते आत्मा सो परमात्मा। आत्मा के लिए कहते हैं एक चमकता हुआ सितारा है, जो भृकुटी के बीच रहता है। इन आंखों से देख न सकें। भल कोई कितना भी कोशिश करें, शीशे आदि में बन्द करके रखें कि देखें कि आत्मा निकलती कैसे है? कोशिश करते हैं परन्तु किसको भी पता नहीं पड़ता है – आत्मा क्या चीज़ है, कैसे निकलती है? बाकी इतना कहते हैं आत्मा स्टार मिसल है। दिव्य दृष्टि बिगर उसको देखा नहीं जाता। भक्ति मार्ग में बहुतों को साक्षात्कार होता है। लिखा हुआ है अर्जुन को साक्षात्कार हुआ अखण्ड ज्योति है। अर्जुन ने कहा हम सहन नहीं कर सकते। बाप समझाते हैं इतना तेजोमय आदि कुछ है नहीं। जैसे आत्मा आकर शरीर में प्रवेश करती है, पता थोड़ेही पड़ता है। अब तुम भी जानते हो कि बाबा कैसे प्रवेश कर बोलते हैं। आत्मा आकर बोलती है। यह भी ड्रामा में सारी नूँध है, इसमें कोई के ताकत की बात नहीं। आत्मा कोई शरीर छोड़ जाती नहीं है। यह साक्षात्कार की बात है। वन्डरफुल बात है ना। बाप कहते हैं मैं भी साधारण तन में आता हूँ। आत्मा को बुलाते हैं ना। आगे आत्माओं को बुलाकर उनसे पूछते भी थे। अभी तो तमोप्रधान बन गये हैं ना। बाप आते ही इसलिए हैं कि हम जाकर पतितों को पावन बनायें। कहते भी हैं 84 जन्म। तो समझना चाहिए कि जो पहले आये हैं, उन्होंने ही जरूर 84 जन्म लिए होंगे। वह तो लाखों वर्ष कह देते हैं। अब बाप समझाते हैं तुमको स्वर्ग में भेजा था। तुमने जाकर राज्य किया था। तुम भारतवासियों को स्वर्ग में भेजा था। राजयोग सिखाया था संगम पर। बाप कहते हैं मैं कल्प के संगमयुगे आता हूँ। गीता में फिर युगे-युगे अक्षर लिख दिया है।

अभी तुम जानते हो हम सीढ़ी कैसे उतरते हैं फिर चढ़ते हैं। चढ़ती कला फिर उतरती कला। अभी यह संगमयुग है सर्व की चढ़ती कला का युग। सब चढ़ जाते हैं। सब ऊपर में जायेंगे फिर तुम आयेंगे स्वर्ग में पार्ट बजाने। सतयुग में दूसरा कोई धर्म नहीं था। उनको कहा जाता है वाइसलेस वर्ल्ड। फिर देवी-देवतायें वाम मार्ग में जाकर सब विशश होने लगते हैं, यथा राजा-रानी तथा प्रजा। बाप समझाते हैं हे भारतवासी तुम वाइसलेस वर्ल्ड में थे। अब है विशश वर्ल्ड। अनेक धर्म हैं बाकी एक देवी-देवता धर्म नहीं है। जरूर जब न हो तब तो फिर स्थापन हो। बाप कहते हैं मैं ब्रह्मा द्वारा आकर आदि सनातन देवी-देवता धर्म की स्थापना करता हूँ। यहाँ ही करेगा ना। सूक्ष्म वतन में तो नहीं करेंगे। लिखा हुआ है ब्रह्मा द्वारा आदि सनातन देवी-देवता धर्म की रचना रचते हैं। तुमको इस समय पावन नहीं कहेंगे। पावन बन रहे हैं। टाइम तो लगता है ना। पतित से पावन कैसे बनें, यह कोई भी शास्त्रों में नहीं है। वास्तव में महिमा तो एक बाप की है। उस बाप को भूलने के कारण ही आरफन बन पड़े हैं। लड़ते रहते हैं। फिर कहते हैं सब मिलकर एक कैसे हों। भाई-भाई हैं ना। बाबा तो अनुभवी है। भक्ति भी इसने पूरी की है। सबसे अधिक गुरू किये हुए हैं। अब बाप कहते हैं इन सबको छोड़ो। अब मैं तुमको मिला हुआ हूँ। सर्व का सद्गति दाता एक सत् श्री अकाल कहते हैं ना। अर्थ नहीं समझते। पढ़ते तो बहुत रहते हैं। बाप समझाते हैं अभी सब पतित हैं फिर पावन दुनिया बनेगी। भारत ही अविनाशी है। यह कोई को पता नहीं है। भारत का कभी विनाश नहीं होता और न कभी प्रलय होती है। यह जो दिखाते हैं सागर में पीपल के पत्ते पर श्रीकृष्ण आये – अब पीपल के पत्ते पर तो बच्चा आ न सके। बाप समझाते हैं तुम गर्भ से जन्म लेंगे, बड़े आराम से। वहाँ गर्भ महल कहा जाता है। यहाँ है गर्भ जेल। सतयुग में है गर्भ महल। आत्मा को पहले से ही साक्षात्कार होता है। यह तन छोड़ दूसरा लेना है। वहाँ आत्म-अभिमानी रहते हैं। मनुष्य तो न रचयिता को, न रचना के आदि-मध्य-अन्त को जानते हैं। अभी तुम जानते हो बाप है ज्ञान का सागर। तुम मास्टर सागर हो। तुम (मातायें) हो नदियां और यह गोप हैं ज्ञान मानसरोवर। यह ज्ञान नदियां हैं। तुम हो सरोवर। प्रवृत्ति मार्ग चाहिए ना। तुम्हारा पवित्र गृहस्थ आश्रम था। अभी पतित है। बाप कहते हैं यह सदैव याद रखो कि हम आत्मा हैं। एक बाप को याद करना है। बाबा ने फरमान दिया है कोई भी देहधारी को याद न करो। इन आंखों से जो कुछ देखते हो वह सब खत्म हो जाना है इसलिए बाप कहते हैं मनमनाभव, मध्याजीभव। इस कब्रिस्तान को भूलते जाओ। माया के तूफान तो बहुत आयेंगे, इनसे डरना नहीं है। बहुत तूफान आयेंगे परन्तु कर्मेन्द्रियों से कर्म नहीं करना है। तूफान आते हैं तब जब तुम बाप को भूल जाते हो। यह याद की यात्रा एक ही बार होती है। वह है मृत्युलोक की यात्रायें, अमरलोक की यात्रा यह है। तो अब बाप कहते हैं कोई भी देहधारी को याद न करो।

बच्चे, शिव जयन्ती की कितनी तारें भेजते हैं। बाप कहते हैं ततत्वम्। तुम बच्चों को भी बाप बधाईयाँ देते हैं। वास्तव में तुमको बधाईयाँ हो क्योंकि मनुष्य से देवता तुम बनते हो। फिर जो पास विद् ऑनर होगा उनको जास्ती मार्क्स और अच्छा नम्बर मिलेगा। बाप तुमको बधाईयाँ देते हैं कि अब तुम रावण की जंजीरों से छूटते हो। सभी आत्मायें पतंगें हैं। सबकी रस्सी बाप के हाथ में है। वह सबको ले जायेंगे। सर्व के सद्गति दाता हैं। परन्तु तुम स्वर्ग की राजाई पाने के लिए पुरूषार्थ कर रहे हो। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) पास विद् ऑनर होने के लिए एक बाप को याद करना है, किसी भी देहधारी को नहीं। इन आंखों से जो दिखाई देता है, उसे देखते भी नहीं देखना है।

2) हम अमरलोक की यात्रा पर जा रहे हैं इसलिए मृत्युलोक का कुछ भी याद न रहे, इन कर्मेन्द्रियों से कोई भी विकर्म न हो, यह ध्यान रखना है।

वरदान:- अतीन्द्रिय सुखमय स्थिति द्वारा अनेक आत्माओं का आह्वान करने वाले विश्व कल्याणकारी भव
जितना लास्ट कर्मातीत स्टेज समीप आती जायेगी उतना आवाज से परे शान्त स्वरूप की स्थिति अधिक प्रिय लगेगी – इस स्थिति में सदा अतीन्द्रिय सुख की अनुभूति होगी और इसी अतीन्द्रिय सुखमय स्थिति द्वारा अनेक आत्माओं का सहज आह्वान कर सकेंगे। यह पावरफुल स्थिति ही विश्व कल्याणकारी स्थिति है। इस स्थिति द्वारा कितनी भी दूर रहने वाली आत्मा को सन्देश पहुंचा सकते हो।
स्लोगन:- हर एक की विशेषता को स्मृति में रख फेथफुल बनो तो संगठन एकमत हो जायेगा।

TODAY MURLI 15 FEBRUARY 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 15 February 2020

15/02/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, pour the oil of knowledge and yoga into the lamp of the soul so that the light remains ignited. Understand very clearly the contrast between knowledge and yoga.
Question: The Father cannot do His task by inspiration. He has to come here personally. Why is this?
Answer: Because the intellects of human beings are totally tamopradhan. A tamopradhan intellect cannot catch an inspiration. It is because the Father came that they sing: “Leave Your throne in the sky!
Song: “Leave Your throne in the sky!”

Om shanti. Devotees wrote this song. However, the sky is here in this abode. No one comes from the sky. They speak of the throne in the sky. You now reside under the element of sky, whereas the Father resides in the great element of light. That is called the brahm element and the great element of light where souls reside. Therefore, that is surely where the Father would come from. Someone has to come. They sing: “Come and ignite our lights”. It is also remembered that there are the blind children of the blind and the enlightened children of the enlightened. The names ‘Dhritarashtra’ and ‘Yudhishthira’ symbolize those. There are Ravan’s children. Ravan is Maya. Everyone has a devilish intellect whereas you have Godly intellects. The Father is now unlocking your intellects, whereas Ravan locks them. When someone doesn’t understand anything, he is said have a stone intellect. The Father has to come here to ignite you lamps. He doesn’t work through inspiration. The strength of souls who were satopradhan has now completely diminished. They have become tamopradhan; they have become dim. When a person dies, they light a lamp. Why do they light a lamp? They light a lamp because they believe that, when a lamp is lit, that soul won’t be in darkness. How could there be light there if they ignite a lamp here? They do not understand anything. You are now becoming those with intellects that understand. The Father says: I am now making you into those with clean intellects. I pour the oil of knowledge into you. You also have to understand that knowledge and yoga are two separate things. Yoga cannot be called knowledge. Some people think that God came and gave them this knowledge, saying: Remember Me! However, that cannot be called knowledge. Here, there are the Father and the children. You children know that He is your Baba. There is no question of knowledge in that. Knowledge is the detail, whereas that is simply remembrance. The Father says: Remember Me, that’s all! This is a common matter; it shouldn’t be called knowledge. After child takes birth, he would then definitely remember his father. Knowledge is the detail. The Father says: Remember Me, but that is not knowledge. Each of you can understand for yourself that you are a soul and that your Father is the Supreme Soul, God. Would this be called knowledge? They call out to the Father. Knowledge means knowledge, just as, for instance, someone who is studying for an M.A. or a B.A. has so many books of that knowledge to study. The Father says: You are My children and I am your Father. Have yoga with Me alone, that is, only remember Me! This remembrance is not called knowledge. You souls are My children anyway. You souls are never destroyed. When someone dies and they invoke that soul, his body would have been destroyed. How would that soul eat the food that’s offered to him? It is the brahmin priest who eats the food. However, all of that is the system of the path of devotion. It is not just by our saying it that the path of devotion will come to an end. That continues to happen. A soul leaves a body and adopts another. The contrast between knowledge and yoga has to be clear in the intellects of you children. When the Father says: Remember Me, that is not knowledge, it is the Father’s direction. That is called yoga. Knowledge means to know how the world cycle turns. This is called knowledge. Yoga means remembrance. It is the children’s duty to remember the Father. Those are physical fathers whereas this one is the parlokik Father. The Father says: Remember Me. Therefore, knowledge is distinct from remembrance. Do children have to be told to remember their father? As soon as a child takes birth, he remembers his physical father. Here, you have to be reminded of the Father. It is this remembrance that takes effort. Consider yourselves to be souls and remember the Father. This work takes great effort. That is why Baba says: You are not able to stay in yoga constantly. Children write to Baba and say that they forget to remember Baba. They never say that they forget knowledge. Knowledge is very easy. Remembrance cannot be knowledge. It is in this remembrance that many storms of Maya come. Although some may be very clever in this knowledge and give knowledge to others very well, Baba asks you all to write a chart of your remembrance. For how long do you stay in remembrance? Keep an accurate chart of the remembrance of Baba that you have and show it to Him. Remembrance is the main thing. It is the impure who call out: Come and purify us! The main thing is to become pure. It is in this that Maya creates obstacles. God Shiva says: Everyone is very weak in remembrance. Very good children who can speak knowledge very well are extremely weak in their remembrance. Only by having yoga can your sins be absolved. Only by having yoga can your sense organs become totally cool and peaceful. Then there won’t be remembrance of anyone but one Baba. There won’t remembrance of anyone’s body. You souls know that this whole world is going to be destroyed. We are now about to return home and we will then go down there into our kingdom. Let this constantly remain in your intellects. You souls must keep within you the knowledge you receive. The Father is the Lord of Yoga (Yogeshwar); He is the One who teaches remembrance. In fact, God cannot be Yogeshwar, like they say. It is you who are yogeshwar. God, the Father, says: Remember Me. It is God, the Father, who teaches you remembrance. That incorporeal Father speaks through this body and you children listen to Him through your bodies. Some of you are very weak in yoga; you have absolutely no remembrance! Therefore, punishment will be experienced for all the sins that have been committed through many births. Those who come here and then commit sin will experience one hundred-fold punishment. Although they speak plenty of knowledge, they have absolutely no yoga and this is why their sins are not burnt and they remain weak. This is why the true rosary is created from only eight. Nine jewels have been remembered. Have you ever heard of the 108 jewels? No one makes jewellery made up of 108 jewels. There are many of you who don’t understand these aspects. Remembrance cannot be called knowledge. It is the world cycle that is called knowledge. There is no knowledge in the scriptures. Those scriptures belong to the path of devotion. The Father Himself says: You do not attain Me through them. I come in order to uplift all those sages and holy men, etc. They believe that they will merge into the brahm element and they give the example of bubbles merging into water. You souls no longer say this. You souls understand that you are the Father’s children. They also use the words, “Remember Me alone,” but they don’t understand what that means. They do say that they are souls but they have absolutely no knowledge of what a soul is or what the Supreme Soul is. Only the Father comes and gives this knowledge. You now understand that that is the home of souls. The whole genealogical tree exists there. Each soul has received his own part. No one knows who it is that gives happiness and who it is that causes sorrow. Devotion is the night and knowledge is the day. You stumble around for 63 births and then I come and give you knowledge, but how long does it take? It takes a second. “Liberation-in-life is attained in a second“, has been remembered. That is your Father and He is the Purifier. By remembering Him you become pure. There is the cycle of the golden, silver, copper and iron ages. They even know these names but they have such stone intellects that none of them knows the time periods. They even understand that it is now the extreme darkness of the iron age. However, if the iron age were to last for as long as they say, there would be even more darkness. This is why it has been remembered that everyone was sleeping in the slumber of Kumbhakarna when destruction took place. Even if they hear a little knowledge, they can become part of the subjects. There is such a vast difference between Lakshmi and Narayan and the subjects! There is only the One who teaches. Each one has his own fortune. Some claim a scholarship, some fail. Why has Rama been portrayed with the symbol of a bow and arrow? Because he failed. This is the study place of the Gita. Some are not worthy of claiming any marks at all. I, this soul, am a point. The Father too is a point. This is how you should remember Him. What status would those who don’t understand this aspect claim? When you don’t stay in remembrance, there is a huge loss. The power of remembrance performs wonders. It makes your sense organs become totally peaceful and cool. They do not become peaceful through the power of knowledge; they become peaceful through the power of yoga. The people of Bharat call out: “Come and give us the knowledge of the Gita”, but who will come? The Krishna soul is here. No one is sitting up there on a throne that you would have to call him. Some say that they remember the Christ soul but that soul is here. They don’t know that the Christ soul is still here and cannot go back. The Lakshmi and Narayan souls are the first number. They are the ones who take the full 84 births. They cannot return yet and so how could anyone else return? All of this can be calculated. Whatever human beings say, it is all false. For the first half of the cycle, there is the land of truth and for the other half, there is the land of falsehood. You now have to explain to everyone: All are residents of hell and the residents of Bharat are once again to become the residents of heaven. They study so many scriptures, Vedas and Upanishads, etc. Can they receive liberation by doing that? They have to continue to come down. Everything definitely has to go through the stages of sato, rajo and tamo. No one has the knowledge of the place called the new world. The Father sits here and personally explains when and who established the deity religion. The people of Bharat don’t know anything. The Father has explained to you children that no matter how good you may be in knowledge, some fail in yoga. If you have no yoga, your sins cannot be absolved and you cannot claim a high status. Those who are intoxicated in yoga are the ones who claim a high status. Their sense organs become totally cool. They forget everything including all consciousness of their own bodies. I am bodiless and I now have to return home. As you sit, as you move, have the consciousness that you now have to renounce your bodies. We have played our parts; we now have to return home. You are given the knowledge that the Father has. He doesn’t have to remember anyone. It is you children who have to remember Him. The Father is called the Ocean of Knowledge; He is not called the Ocean of Yoga. He introduces Himself and gives you the knowledge of the cycle. Remembrance is not called knowledge. Children automatically remember their fathers. You children have to have remembrance. Otherwise, how could you claim your inheritance? Since He is your Father, you definitely claim your inheritance from Him. The Father explains the knowledge of how you take 84 births and how you change from tamopradhan to satopradhan and satopradhan to tamopradhan. You now have to become satopradhan by having remembrance of the Father. You spiritual children have come here to the spiritual Father. He needs the support of a body. He says: I enter this one’s old body when he is in his stage of retirement. The Father comes now at this time when there is benefit for the whole world. This one is “The Lucky Chariot”. So much service takes place through him. In order to shed the consciousness of your body, you need remembrance. There is no question of knowledge in this. You must teach remembrance more. Knowledge is easy; even a little child can give it. It is remembrance that takes effort. Let there be remembrance of the One; this is called unadulterated remembrance. To remember someone’s body is adulterated remembrance. By having this remembrance, you forget everyone else and become bodiless. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Make your sense organs cool and peaceful with the power of remembrance. In order to pass fully, remember the Father accurately and become pure.
  2. Let it remain in your intellect as you sit and as you move that you now have to renounce your old body and return home. Just as the Father has all the knowledge, so you have to become a master ocean of knowledge.
Blessing: May you become a master Parasnath Lord of Divinity) who makes iron-like souls into divine beings.
All of you are master parasnath children of the Parasnath Father. Therefore, no matter how much like iron a soul may be, with your company, even iron becomes divine. Never think: This one is like iron. The speciality of a philosopher’s stone is to change iron into gold. Constantly keep this aim and its qualifications in your awareness, as you create every thought and perform every deed. Only then will you experience rays of light radiating from you, the soul, giving all souls the power to become golden.
Slogan: Perform every task with courage and you will receive everyone’s respect.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 15 FEBRUARY 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 15 February 2020

15-02-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – आत्मा रूपी ज्योति में ज्ञान-योग का घृत डालो तो ज्योत जगी रहेगी, ज्ञान और योग का कॉन्ट्रास्ट अच्छी रीति समझना है”
प्रश्नः- बाप का कार्य प्रेरणा से नहीं चल सकता, उन्हें यहाँ आना ही पड़े क्यों?
उत्तर:- क्योंकि मनुष्यों की बुद्धि बिल्कुल तमोप्रधान है। तमोप्रधान बुद्धि प्रेरणा को कैच नहीं कर सकती। बाप आते हैं तब तो कहा जाता है छोड़ भी दे आकाश सिंहासन….।
गीत:- छोड़ भी दे आकाश सिंहासन…….. 

ओम् शान्ति। भक्तों ने यह गीत बनाया है। अब इसका अर्थ कैसा अच्छा है। कहते हैं आकाश सिंहासन छोड़कर आओ। अब आकाश तो है यह। यह है रहने का स्थान। आकाश से तो कोई चीज़ आती नहीं। आकाश सिंहासन कहते हैं। आकाश तत्व में तो तुम रहते हो और बाप रहते हैं महतत्व में। उसको ब्रह्म या महतत्व कहते हैं, जहाँ आत्मायें निवास करती हैं। बाप आयेगा भी जरूर वहाँ से। कोई तो आयेगा ना। कहते हैं आकर हमारी ज्योत जगाओ। गायन भी है-एक हैं अन्धे की औलाद अन्धे और दूसरे हैं सज्जे की औलाद सज्जे। धृतराष्ट्र और युद्धिष्ठिर नाम दिखाते हैं। अभी यह तो औलाद हैं रावण की। माया रूपी रावण है ना। सबकी रावण बुद्धि है, अब तुम हो ईश्वरीय बुद्धि। बाप तुम्हारी बुद्धि का अब ताला खोल रहे हैं। रावण ताला बन्द कर देते हैं। कोई किसी बात को नहीं समझते हैं तो कहते हैं यह तो पत्थरबुद्धि हैं। बाप आकर यहाँ ज्योत जगायेंगे ना। प्रेरणा से थोड़ेही काम होता है। आत्मा जो सतोप्रधान थी, उनकी ताकत अब कम हो गई है। तमोप्रधान बन गई है। एकदम झुंझार बन पड़ी है। मनुष्य कोई मरते हैं तो उनका दीवा जलाते हैं। अब दीवा क्यों जलाते हैं? समझते हैं ज्योत बुझ जाने से अन्धियारा न हो जाए इसलिए ज्योत जगाते हैं। अब यहाँ की ज्योत जगाने से वहाँ कैसे रोशनी होगी? कुछ भी समझते नहीं। अभी तुम सेन्सीबुल बुद्धि बनते हो। बाप कहते हैं मैं तुमको स्वच्छ बुद्धि बनाता हूँ। ज्ञान घृत डालता हूँ। है यह भी समझाने की बात। ज्ञान और योग दोनों अलग चीज़ हैं। योग को ज्ञान नहीं कहेंगे। कोई समझते हैं भगवान ने आकर यह भी ज्ञान दिया ना कि मुझे याद करो। परन्तु इसे ज्ञान नहीं कहेंगे। यह तो बाप और बच्चे हैं। बच्चे जानते हैं कि यह हमारा बाबा है, इसमें ज्ञान की बात नहीं कहेंगे। ज्ञान तो विस्तार है। यह तो सिर्फ याद है। बाप कहते हैं मुझे याद करो, बस। यह तो कॉमन बात है। इनको ज्ञान नहीं कहा जाता। बच्चे ने जन्म लिया सो तो जरूर बाप को याद करेगा ना। ज्ञान का विस्तार है। बाप कहते हैं मुझे याद करो-यह ज्ञान नहीं हुआ। तुम खुद जानते हो, हम आत्मा हैं, हमारा बाप परम आत्मा, परमात्मा है। इसे ज्ञान कहेंगे क्या? बाप को पुकारते हैं। ज्ञान तो है नॉलेज, जैसे कोई एम.ए. पढ़ते हैं, कोई बी.ए. पढ़ते हैं, कितनी ढेर किताब पढ़नी होती है। अब बाप तो कहते हैं तुम हमारे बच्चे हो ना, मैं तुम्हारा बाप हूँ। मेरे से ही योग लगाओ अर्थात् याद करो। इसको ज्ञान नहीं कहेंगे। तुम बच्चे तो हो ही। तुम आत्मायें कब विनाश को नहीं पाती हो। कोई मर जाते हैं तो उनकी आत्मा को बुलाते हैं, अब वह शरीर तो खत्म हो गया। आत्मा भोजन कैसे खायेगी? भोजन तो फिर भी ब्राह्मण खायेंगे। परन्तु यह सब है भक्ति मार्ग की रस्म। ऐसे नहीं कि हमारे कहने से वह भक्ति मार्ग बन्द हो जायेगा। वह तो चलता ही आता है। आत्मा तो एक शरीर छोड़ जाए दूसरा लेती है।

बच्चों की बुद्धि में ज्ञान और योग का कान्ट्रास्ट स्पष्ट होना चाहिए। बाप जो कहते हैं मुझे याद करो, यह ज्ञान नहीं है। यह तो बाप डायरेक्शन देते हैं, इनको योग कहा जाता। ज्ञान है सृष्टि चक्र कैसे फिरता है-उसकी नॉलेज। योग अर्थात् याद। बच्चों का फर्ज है बाप को याद करना। वह है लौकिक, यह है पारलौकिक। बाप कहते हैं मुझे याद करो। तो ज्ञान अलग चीज़ हो गई। बच्चे को कहना पड़ता है क्या कि बाप को याद करो। लौकिक बाप तो जन्मते ही याद रहता है। यहाँ बाप की याद दिलानी पड़ती है। इसमें मेहनत लगती है। अपने को आत्मा समझ बाप को याद करो – यह बहुत मेहनत का काम है। तब बाबा कहते हैं योग में ठहर नहीं सकते हैं। बच्चे लिखते हैं-बाबा याद भूल जाती है। ऐसे नहीं कहते कि ज्ञान भूल जाता है। ज्ञान तो बहुत सहज है। याद को ज्ञान नहीं कहा जाता, इसमें माया के तूफान बहुत आते हैं। भल ज्ञान में कोई बहुत तीखे हैं, मुरली बहुत अच्छी चलाते हैं परन्तु बाबा पूछते हैं-याद का चार्ट निकालो, कितना समय याद करते हो? बाबा को याद का चार्ट यथार्थ रीति बनाकर दिखाओ। याद की ही मुख्य बात है। पतित ही पुकारते हैं कि आकर पावन बनाओ। मुख्य है पावन बनने की बात। इसमें ही माया के विघ्न पड़ते हैं। शिव भगवानु-वाच-याद में सब बहुत कच्चे हैं। अच्छे-अच्छे बच्चे जो मुरली तो बहुत अच्छी चलाते हैं परन्तु याद में बिल्कुल कमज़ोर हैं। योग से ही विकर्म विनाश होते हैं। योग से ही कर्मेन्द्रियाँ बिल्कुल शान्त हो सकती हैं। एक बाप के सिवाए और कोई याद न आये, कोई देह भी याद न आये। आत्मा जानती है यह सारी दुनिया खलास होनी है, अब हम जाते हैं अपने घर। फिर आयेंगे राजधानी में। यह सदैव बुद्धि में रहना चाहिए। ज्ञान जो मिलता है वह आत्मा में रहना चाहिए। बाप तो है योगेश्वर, जो याद सिखलाते हैं। वास्तव में ईश्वर को योगेश्वर नहीं कहेंगे। तुम योगेश्वर हो। ईश्वर बाप कहते हैं मुझे याद करो। यह याद सिखलाने वाला ईश्वर बाप है। वह निराकार बाप शरीर द्वारा सुनाते हैं। बच्चे भी शरीर द्वारा सुनते हैं। कई तो योग में बहुत कच्चे हैं। बिल्कुल याद करते ही नहीं। जो भी जन्म-जन्मान्तर के पाप हैं सबकी सजा खायेंगे। यहाँ आकर जो पाप करते हैं वह तो और ही सौगुणा सज़ा खायेंगे। ज्ञान की तिक-तिक तो बहुत करते हैं, योग बिल्कुल ही नहीं है जिस कारण पाप भस्म नहीं होते, कच्चे ही रह जाते हैं इसलिए सच्ची-सच्ची माला 8 की बनी है। 9 रत्न गाये जाते हैं। 108 रत्न कब सुने हैं? 108 रत्नों की कोई चीज़ नहीं बनाते हैं। बहुत हैं जो इन बातों को पूरा समझते नहीं हैं। याद को ज्ञान नहीं कहा जाता। ज्ञान सृष्टि चक्र को कहा जाता है। शास्त्रों में ज्ञान नहीं है, वह शास्त्र हैं भक्ति मार्ग के। बाप खुद कहते हैं मैं इनसे नहीं मिलता। साधुओं आदि सबका उद्धार करने मैं आता हूँ। वह समझते हैं ब्रह्म में लीन होना है। फिर मिसाल देते हैं पानी के बुदबुदे का। अभी तुम ऐसे नहीं कहते। तुम तो जानते हो हम आत्मायें बाप के बच्चे हैं। “मामेकम् याद करो” यह अक्षर भी कहते हैं परन्तु अर्थ नहीं समझते। भल कह देते हम आत्मा हैं परन्तु आत्मा क्या है, परमात्मा क्या है-यह ज्ञान बिल्कुल नहीं। यह बाप ही आकर सुनाते हैं। अभी तुम जानते हो हम आत्माओं का घर वह है। वहाँ सारा सिजरा है। हर एक आत्मा को अपना-अपना पार्ट मिला हुआ है। सुख कौन देते हैं, दु:ख कौन देते हैं-यह भी किसको पता नहीं है।

भक्ति है रात, ज्ञान है दिन। 63 जन्म तुम धक्के खाते हो। फिर ज्ञान देता हूँ तो कितना समय लगता है? सेकेण्ड। यह तो गाया हुआ है सेकेण्ड में जीवनमुक्ति। यह तुम्हारा बाप है ना, वही पतित-पावन है। उनको याद करने से तुम पावन बन जायेंगे। सतयुग, त्रेता, द्वापर, कलियुग यह चक्र है। नाम भी जानते हैं परन्तु पत्थरबुद्धि ऐसे हैं, टाइम का किसको पता नहीं है। समझते भी हैं घोर कलियुग है। अगर कलियुग अभी भी चलेगा तो और घोर अन्धियारा हो जायेगा इसलिए गाया हुआ है-कुम्भकरण की नींद में सोये हुए थे और विनाश हो गया। थोड़ा भी ज्ञान सुनते हैं तो प्रजा बन जाते हैं। कहाँ यह लक्ष्मी-नारायण, कहाँ प्रजा! पढ़ाने वाला तो एक ही है। हर एक की अपनी-अपनी तकदीर है। कोई तो स्कॉलरशिप ले लेते हैं, कोई फेल हो जाते हैं। राम को बाण की निशानी क्यों दी है? क्योंकि नापास हुआ। यह भी गीता पाठशाला है, कोई तो कुछ भी मार्क्स लेने लायक नहीं। मैं आत्मा बिन्दी हूँ, बाप भी बिन्दी है, ऐसे उनको याद करना है। जो इस बात को समझते भी नहीं हैं, वह क्या पद पायेंगे! याद में न रहने से बहुत घाटा पड़ जाता है। याद का बल बहुत कमाल करता है, कर्मेन्द्रियाँ बिल्कुल शान्त, शीतल हो जाती हैं। ज्ञान से शान्त नहीं होगी, योग के बल से शान्त होगी। भारतवासी पुकारते हैं कि आकर हमको वह गीता का ज्ञान सुनाओ, अब कौन आयेगा? कृष्ण की आत्मा तो यहाँ है। कोई सिंहासन पर थोड़ेही बैठते हैं, जिसको बुलाते हैं। अगर कोई कहे हम क्राइस्ट की आत्मा को याद करते हैं। अरे वह तो यहाँ ही है, उनको क्या पता कि क्राइस्ट की सोल यहाँ ही है, वापिस जा नहीं सकती। लक्ष्मी-नारायण, पहले नम्बर वालों को ही पूरे 84 जन्म लेने हैं तो और फिर वापिस जा कैसे सकते। वह सब हिसाब है ना। मनुष्य तो जो कुछ बोलते हैं सो झूठ। आधाकल्प है झूठ खण्ड, आधाकल्प है सचखण्ड। अभी तो हर एक को समझाना चाहिए-इस समय सब नर्कवासी हैं फिर स्वर्गवासी भी भारतवासी ही बनते हैं। मनुष्य कितने वेद, शास्त्र, उपनिषद आदि पढ़ते हैं, क्या इससे मुक्ति को पायेंगे? उतरना तो है ही। हर चीज़ सतो, रजो, तमो में जरूर आती है। न्यु वर्ल्ड किसको कहा जाता है, किसको भी यह ज्ञान नहीं है। यह तो बाप सम्मुख बैठ समझाते हैं। देवी-देवता धर्म कब, किसने स्थापन किया-भारतवासियों को कुछ भी पता नहीं है। तो बाप ने समझाया है-ज्ञान में भल कितने भी अच्छे हैं परन्तु योग में कई बच्चे नापास हैं। योग नहीं तो विकर्म विनाश नहीं होंगे, ऊंच पद नहीं पायेंगे। जो योग में मस्त हैं वही ऊंच पद पायेंगे। उनकी कर्मेन्द्रियाँ बिल्कुल शीतल हो जाती हैं। देह सहित सब कुछ भूल देही-अभिमानी बन जाते हैं। हम अशरीरी हैं अब जाते हैं घर। उठते-बैठते समझो-अब यह शरीर तो छोड़ना है। हमने पार्ट बजाया, अब जाते हैं घर। ज्ञान तो मिला है, जैसे बाप में ज्ञान है, उनको तो किसको याद नहीं करना है। याद तो तुम बच्चों को करना है। बाप को ज्ञान का सागर कहा जाता है। योग का सागर तो नहीं कहेंगे ना। चक्र का नॉलेज सुनाते हैं और अपना भी परिचय देते हैं। याद को ज्ञान नहीं कहा जाता। याद तो बच्चे को आपेही आ जाती है। याद तो करना ही है, नहीं तो वर्सा कैसे मिलेगा? बाप है तो वर्सा जरूर मिलता है। बाकी है नॉलेज। हम 84 जन्म कैसे लेते हैं, तमोप्रधान से सतोप्रधान, सतोप्रधान से तमोप्रधान कैसे बनते हैं, यह बाप समझाते हैं। अब सतो-प्रधान बनना है बाप की याद से। तुम रूहानी बच्चे रूहानी बाप के पास आये हो, उनको शरीर का आधार तो चाहिए ना। कहते हैं मैं बूढ़े तन में प्रवेश करता हूँ। है भी वानप्रस्थ अवस्था। अब बाप आते हैं तब सारे सृष्टि का कल्याण होता है। यह है भाग्यशाली रथ, इनसे कितनी सर्विस होती है। तो इस शरीर का भान छोड़ने के लिए याद चाहिए। इसमें ज्ञान की बात नहीं। जास्ती याद सिखलानी है। ज्ञान तो सहज है। छोटा बच्चा भी सुना दे। बाकी याद में ही मेहनत है। एक की याद रहे, इसको कहा जाता है अव्यभिचारी याद। किसके शरीर को याद करना – वह है व्यभिचारी याद। याद से सबको भूल अशरीरी बनना है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) याद के बल से अपनी कर्मेन्द्रियों को शीतल, शान्त बनाना है। फुल पास होने के लिए यथार्थ रीति बाप को याद कर पावन बनना है।

2) उठते-बैठते बुद्धि में रहे कि अभी हम यह पुराना शरीर छोड़ वापस घर जायेंगे। जैसे बाप में सब ज्ञान है, ऐसे मास्टर ज्ञान सागर बनना है।

वरदान:- लोहे समान आत्मा को पारस बनाने वाले मास्टर पारसनाथ भव
आप सब पारसनाथ बाप के बच्चे मास्टर पारसनाथ हो-तो कैसी भी लोहे समान आत्मा हो लेकिन आप के संग से लोहा भी पारस बन जाए। यह लोहा है-ऐसा कभी नहीं सोचना। पारस का काम ही है लोहे को पारस बनाना। यही लक्ष्य और लक्षण सदा स्मृति में रख हर संकल्प, हर कर्म करना, तब अनुभव होगा कि मुझ आत्मा के लाइट की किरणें अनेक आत्माओं को गोल्डन बनाने की शक्ति दे रही हैं।
स्लोगन:- हर कार्य साहस से करो तो सर्व का सम्मान प्राप्त होगा।

TODAY MURLI 15 FEBRUARY 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 15 February 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 14 February 2019 :- Click Here

15/02/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, forget whatever you have studied up to now. Go right back to your childhood, for only then will you be able to pass this spiritual study.
Question: What are the signs of the children who have received divine intellects?
Answer: While seeing this old world with their physical eyes, they don’t see it. It is always in their intellects that this old world is now about to end, that bodies are old and tamopradhan and that souls too are tamopradhan, so why should we have love for them? The Father’s heart is connected to the children who have such divine intellects. Only such children can stay in constant remembrance of the Father and can also go ahead in service.

Om shanti. The spiritual Father explains to the sweetest, spiritual children. Limited sannyasis renounce their homes and families because they believe that they will merge into the brahm element, and that is why they believe they should renounce their attraction to the world. That is what they continue to practise. They go and stay in solitude. They are hatha yogis with knowledge of the elements. They believe that they will merge into the brahm element. That is why they renounce their homes and families and end their attachment to them; they have disinterest. However, that attachment is not broken instantly; they continue to remember their wives and children etc. Here, you have to forget everything with an intellect of knowledge. Nothing is easily forgotten. You now have this unlimited renunciation. All the sannyasis have remembrance too, but their intellects believe that they will merge into the brahm element and that they therefore shouldn’t have any consciousness of the body. That is the path of hatha yoga. They believe that they will shed their bodies and merge into the brahm element. They don’t know how they can go to the land of peace. You now know that you have to go to your home. When people used to come from abroad, they understood that they had to come via Bombay. You children also now have firm faith. Many people say that your purity is good, that your knowledge is good and that your organization is good. The mothers work very hard because they explain tirelessly. They use their bodies, minds and wealth and this is why they are liked. However, those people would never have any thought of practising this themselves. Scarcely any emerge. Even the Father says that only a handful out of multimillions emerges, that is, the ones who come to you. However, this old world is going to end. You know that the Father has now come. Whether you have a vision or not, the conscience says that the unlimited Father has come. You also know that there is just the one Father. That parlokik Father is the Ocean of Knowledge. A physical father would never be called the Ocean of Knowledge. It is the Father who comes and gives you children His introduction. You know that this old world is now to end. We have completed the cycle of 84 births. We are now making effort to go back to the land of happiness via the land of peace. We definitely have to go to the land of peace. We then have to come back from there. People are confused by these things. When someone dies, people think that he has gone to Vaikunth (Paradise), but, where is Paradise? Only the people of Bharat know the name of Paradise. Those of other religions don’t know it. They have just heard the name and seen pictures of it. They have seen many temples of the deities, just like the Dilwala Temple. It was built at a cost of hundreds of thousands and millions of rupees. They continue to build them. Deities are called Vaishnavs; they belong to the dynasty of Vishnu. They are pure anyway. The golden age is called the pure world whereas this is the impure world. The comforts of the golden age don’t exist here. Here, all the grain etc., everything, has become tamopradhan. Its taste is also tamopradhan. When daughters go into trance, they come back, saying that they drank subiras (mango juice) and that it was very delicious. Here, too, when people eat food cooked by you, they say that it is very tasty because you make it well. Everyone eats to their heart’s content. It isn’t that it is tasty because you prepare it while in yoga; no. That is just practice. Some cook very well. There, everything is satopradhan and this is why it has a lot of strength. When it becomes tamopradhan, its strength is reduced, and then there are diseases and sorrow etc. from that. The very name is the land of sorrow. There is no question of sorrow in the land of happiness. We are going to a place where there is so much happiness that it is called the happiness of heaven. You simply have to become pure, and that is also for just this birth. Don’t think about the future. At least become pure now! First of all, think about who it is that is telling you this. You have to give the introduction of the unlimited Father. You receive the inheritance of happiness from the unlimited Father. Even your physical fathers remember the parlokik Father and their intellects go up above. You children, whose intellects have firm faith, feel inside you that you are going to be in this world for only a few more days. This body is like a shell. The soul has also become like a shell. This is called disinterest. You children now know the drama. The part of the path of devotion has to continue. All are engaged in devotion. There is no need to dislike it. Sannyasis make people dislike it. They all become unhappy at home. They don’t make themselves happy by going away. No one can go back into liberation. None of those who have come have been able to go back. All are here. Not a single person has gone to the land of nirvana or the brahm element. They think that so-and-so merged into the brahm element. All of that is in the scriptures of the path of devotion. The Father says: Whatever there is in all of those scriptures, that is the path of devotion. You children are now receiving knowledge and this is why there is no need for you to study anything. However, there are some who have the habit of reading novels etc. They don’t have full knowledge; they are called cockerel-gyani. They go to sleep at night reading novels, and so what would be their state? Here, the Father says: Forget everything you have studied. Engage yourself in this spiritual study. It is God who is teaching you this and through it you will become deities for 21 births. You have to forget everything you have studied so far. Go right back to your childhood. Consider yourselves to be souls. Although you see everything with those eyes, see but don’t see. You have received divine intellects and divine eyes and so you understand that this whole world is old, that it is now to end. Everything here is to turn into a graveyard, and so why should you attach your hearts to it? You now have to become those who belong to the land of angels. You are now sitting between the graveyard (kabristan) and the land of angels (paristhan). The land of angels is now being created. You are now sitting in the old world, but your intellects’ yoga has now gone there. You are making effort for the new world. You are now sitting in the middle in order to become the most elevated human beings. No one knows about this most auspicious confluence age. They don’t even understand the meaning of the auspicious month of charity or the auspicious year. The most auspicious confluence age has a very short duration. If you join a university later, you have to make a lot of effort. Remembrance is hardly able to stay in some; Maya continues to cause obstacles. The Father explains: This old world is going to end. Although the Father is sitting here and you are seeing everything, your intellects are aware that all of this is going to end. Nothing will remain. This is the old world and you have disinterest in it. All bodily beings are also old. Bodies are old and tamopradhan and souls are tamopradhan. What should we do seeing such things? None of this will remain, so we have no love for them. The Father’s heart is touched by the children who remember the Father very well and who do service. However, all are children anyway. There are so many children; not everyone will see Him. They don’t even know Prajapita Brahma. They have heard the name Prajapita Brahma, but they don’t know what they would receive from him. There is the temple to Brahma; they have portrayed him with a beard. However, no one remembers him because you do not receive the inheritance from him. Souls receive an inheritance from their physical fathers and from the parlokik Father. No one even knows Prajapita Brahma. This is wonderful. Being a father who doesn’t give you an inheritance, he must be alokik, must he not? There is a limited inheritance and the unlimited inheritance. There is no other inheritance in between. Although he is called Prajapita, there is no inheritance from him. This alokik father also receives his inheritance from the parlokik Father and so how could he give the inheritance? The parlokik Father gives it through him. He is the chariot. Why should you remember him? He himself has to remember that Father. Those people think that you consider Brahma to be God. Tell them: We don’t receive the inheritance from him; we receive the inheritance from Shiv Baba. This one is the agent in between. He too is a student like us. There is no question of fear. The Father says: At this time, the whole world is tamopradhan. You have to become satopradhan with the power of yoga. You receive a limited inheritance from your physical father. You now have to connect your intellects to the unlimited. The Father says: You are not going to receive anything from anyone except the one Father, not even from the deities. At this time, all are tamopradhan. You receive an inheritance from your physical fathers anyway. So, what do you want from this Lakshmi and Narayan? Those people think that they are immortal and that they never die, that they never become tamopradhan. However, you know that those who were satopradhan then went into the tamopradhan stage. Shri Krishna is considered to be even more elevated than Lakshmi and Narayan because they are a married couple. Krishna is pure from birth and this is why there is a lot of praise of Krishna. They rock Krishna in a cradle. They also celebrate the birthday of Krishna. Why do they not celebrate the birthdays of Lakshmi and Narayan? Because of not having knowledge, they have shown Krishna in the copper age. They say that the knowledge of the Gita was given in the copper age. It is so difficult to explain to anyone! They say that knowledge has continued from time immemorial. However, from when is it time immemorial? No one knows this. They don’t even know when they began worshipping and this is why they say that they don’t know the Creator or the beginning, middle and end of the world. Because of saying that the duration of the cycle is hundreds of thousands of years, they speak of time immemorial; they don’t know the time or date at all. They don’t celebrate the birthdays of Lakshmi or Narayan. That is called the darkness of ignorance. There are some of you, too, who don’t understand these things accurately. This is why it is said: Elephant riders, horse riders and infantry. The alligator ate the elephant. The alligator is big and he completely swallows you, just as a snake swallows a frog. Why is God called the Master of the Garden, the Gardener and the Boatman? You understand that at this time. The Father comes and takes you across the ocean of poison. He takes you across and this is why you say: Take my boat across. You now know how you go across. Baba is taking us to the ocean of milk. There is no question of pain or sorrow there. You hear this and tell others that the Boatman who takes our boat across tells us: Children, consider yourselves to be souls. Previously, you were in the ocean of milk and you have now reached the ocean of poison. At first, you were deities. Heaven is the wonder of the world. The spiritual wonder of the whole world is heaven. Just hearing its name, you become happy. You stay in heaven. Here, they show the seven wonders. They call the Taj Mahal a wonder, but no one can live there. You are becoming the masters of the wonder of the world. The Father makes such a wonderful Paradise for you to live in. You become multimillionaires for 21 births. So, you children should be so happy that you are going across to the other side. You children must have gone to heaven many times. You continue to go around this cycle. You should make such effort that you go into the new world first. You would not feel like going to an old house. Baba emphasizes that you to have to make effort to go to the new world. Baba is making us into the masters of the wonder of the world. So, why would we not remember such a Father? You have to make a lot of effort. See this world but don’t see it. The Father says: Although I see everything, I have the knowledge that I am the Traveller for only a few days. Similarly, you too have come here just to play your parts Therefore, remove your attachment from it. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Always remain busy in the spiritual study. Do not instil any bad habits like reading novels etc. Forget whatever you have studied up to now and remember the Father.
  2. Live in this old world considering yourself to be a guest. Do not have any love for it. See it but don’t see it.
Blessing: May you be a hero actor with all rights and overcome all problems as though you are playing games.
No matter what the situations or the problems are, do not be controlled by the problems, but have all rights and overcome the problems in such a way as when you play games. Externally, you may have a part of crying, but you should feel inside all of it to be a game which is called the dramaand that we are hero actors in this drama. Hero actors means those who play accurate part s. Therefore, consider any big problem to be a game and make it light, do not have any burdens.
Slogan: Constantly churn knowledge and you will always remain cheerful and be saved from Maya’s attractions.

*** Om Shanti ***

 

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 15 FEBRUARY 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 15 February 2019

To Read Murli 14 February 2019 :- Click Here
15-02-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – अब तक जो कुछ पढ़ा है वह सब भूल जाओ, एकदम बचपन में चले जाओ तब इस रूहानी पढ़ाई में पास हो सकेंगे”
प्रश्नः- जिन बच्चों को दिव्य बुद्धि मिली है, उनकी निशानी क्या होगी?
उत्तर:- वे बच्चे इस पुरानी दुनिया को इन ऑखों से देखते हुए भी नहीं देखेंगे। उनकी बुद्धि में सदा रहता है कि यह पुरानी दुनिया ख़त्म हुई कि हुई। यह शरीर भी पुराना तमोप्रधान है तो आत्मा भी तमोप्रधान है, इनसे क्या प्रीत करें। ऐसे दिव्य बुद्धि वाले बच्चों से ही बाप की भी दिल लगती है। ऐसे बच्चे ही बाप की याद में निरन्तर रह सकते हैं। सेवा में भी आगे जा सकते हैं।

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे रूहानी बच्चों को रूहानी बाप समझाते हैं। जैसे हद के सन्यासी हैं, वह घरबार छोड़ देते हैं क्योंकि वह समझते हैं हम ब्रह्म में लीन हो जायेंगे, इसलिए दुनिया से आसक्ति छोड़नी चाहिए। अभ्यास भी ऐसे करते होंगे। जाकर एकान्त में रहते हैं। वह हैं हठयोगी, तत्व ज्ञानी। समझते हैं ब्रह्म में लीन हो जायेंगे इसलिए ममत्व मिटाने के लिए घरबार को छोड़ देते हैं। वैराग्य आ जाता है। परन्तु फट से ममत्व नहीं मिटता। स्त्री, बच्चे आदि याद आते रहते हैं। यहाँ तो तुमको ज्ञान की बुद्धि से सब-कुछ भुलाना होता है। कोई भी चीज जल्दी नहीं भूलती। अभी तुम यह बेहद का सन्यास करते हो। याद तो सब सन्यासियों को भी रहती है। परन्तु बुद्धि से समझते हैं हमको ब्रह्म में लीन होना है, इसलिए हमको देह भान नहीं रखना है। वह है हठयोग मार्ग। समझते हैं हम यह शरीर छोड़ ब्रह्म में लीन हो जायेंगे। उनको यह पता ही नहीं कि हम शान्तिधाम में कैसे जा सकते। तुम अब जानते हो हमको अपने घर जाना है। जैसे विलायत से आते हैं तो समझते हैं हमको बाम्बे जाना है वाया….। अभी तुम बच्चों को भी पक्का निश्चय है। बहुत कहते हैं इनकी पवित्रता अच्छी है, ज्ञान अच्छा है, संस्था अच्छी है। मातायें मेहनत अच्छी करती हैं क्योंकि अथक हो समझाती हैं। अपना तन-मन-धन लगाती हैं इसलिए अच्छी लगती हैं। परन्तु हम भी ऐसा अभ्यास करें, यह ख्याल भी नहीं आयेगा। कोई विरला निकलता है। वह तो बाप भी कहते हैं कोटों में कोई अर्थात् जो तुम्हारे पास आते हैं, उनमें से कोई निकलता है। बाकी यह पुरानी दुनिया ख़त्म होने वाली है। तुम जानते हो अब बाप आया हुआ है। साक्षात्कार हो न हो, विवेक कहता है बेहद का बाप आये हैं। यह भी तुम जानते हो बाप एक है, वही पारलौकिक बाप ज्ञान का सागर है। लौकिक को कभी ज्ञान का सागर नहीं कहेंगे। यह भी बाप ही आकर तुम बच्चों को अपना परिचय देते हैं। तुम जानते हो अब पुरानी दुनिया ख़त्म होने वाली है। हमने 84 जन्मों का चक्र पूरा किया। अभी हम पुरुषार्थ करते हैं वापिस सुखधाम जाने का वाया शान्तिधाम। शान्तिधाम तो जरूर जाना है। वहाँ से फिर यहाँ वापिस आना है। मनुष्य तो इन बातों में मूँझे हुए हैं। कोई मरता है तो समझते हैं वैकुण्ठ गया। परन्तु वैकुण्ठ है कहाँ? यह वैकुण्ठ का नाम तो भारतवासी ही जानते हैं और धर्म वाले जानते ही नहीं। सिर्फ नाम सुना है, चित्र देखे हैं। देवताओं के मन्दिर आदि बहुत देखे हैं। जैसे यह देलवाड़ा मन्दिर है। लाखों-करोड़ों रूपया खर्चा करके बनाया है, बनाते ही रहते हैं। देवी-देवताओं को वैष्णव कहेंगे। वे विष्णु की वंशावली हैं। वो तो हैं ही पवित्र। सतयुग को कहा जाता है पावन दुनिया। यह है पतित दुनिया। सतयुग के वैभव आदि यहाँ होते नहीं। यहाँ तो अनाज आदि सब तमोप्रधान बन जाते हैं। स्वाद भी तमोप्रधान। बच्चियाँ ध्यान में जाती हैं, कहती हैं हम शूबीरस पीकर आई। बहुत स्वाद था। यहाँ भी तुम्हारे हाथ का खाते हैं तो कहते हैं बहुत स्वाद है क्योंकि तुम अच्छी रीति बनाती हो। सब दिल भरकर के खाते हैं। ऐसे नहीं, तुम योग में रहकर बनाते हो तब स्वादिष्ट होता है! नहीं, यह भी प्रैक्टिस होती है। कोई बहुत अच्छा भोजन बनाते हैं। वहाँ तो हर चीज सतोप्रधान होती है, इसलिए बहुत त़ाकत रहती है। तमोप्रधान होने से त़ाकत कम हो जाती है, फिर उनसे बीमारियाँ दु:ख आदि भी होता रहता है। नाम ही है दु:खधाम। सुखधाम में दु:ख की बात ही नहीं। हम इतने सुख में जाते हैं, जिसको स्वर्ग का सुख कहा जाता है। सिर्फ तुमको पवित्र बनना है, सो भी इस जन्म के लिए। पीछे का ख्याल मत करो, अभी तो तुम पवित्र बनो। पहले तो विचार करो – कहते कौन हैं! बेहद के बाप का परिचय देना पड़े। बेहद के बाप से सुख का वर्सा मिलता है। लौकिक बाप भी पारलौकिक बाप को याद करते हैं। बुद्धि ऊपर चली जाती है। तुम बच्चे जो निश्चयबुद्धि पक्के हो, उन्हों के अन्दर रहेगा कि इस दुनिया में हम बाकी थोड़े दिन हैं। यह तो कौड़ी मिसल शरीर है। आत्मा भी कौड़ी मिसल बन पड़ी है, इसको वैराग्य कहा जाता है।

अभी तुम बच्चे ड्रामा को जान चुके हो। भक्ति मार्ग का पार्ट चलना ही है। सब भक्ति में हैं, ऩफरत की दरकार नहीं। सन्यासी खुद ऩफरत दिलाते हैं। घर में सब दु:खी हो जाते हैं, वह खुद अपने को जाकर थोड़ा सुखी करते हैं। वापिस मुक्ति में कोई जा नहीं सकते। जो भी कोई आये हैं, वापिस कोई भी गया नहीं है। सब यहाँ ही हैं। एक भी निर्वाणधाम वा ब्रह्म में नहीं गया है। वह समझते हैं फलाना ब्रह्म में लीन हो गया। यह सब भक्ति मार्ग के शास्त्रों में है। बाप कहते हैं इन शास्त्रों आदि में जो कुछ है, सब भक्तिमार्ग है। तुम बच्चों को अभी ज्ञान मिल रहा है इसलिए तुम्हें कुछ भी पढ़ने की दरकार नहीं है। परन्तु कोई-कोई ऐसे हैं जिनमें फिर नॉविल्स आदि पढ़ने की आदत है। ज्ञान तो पूरा है नहीं। उन्हें कहा जाता है कुक्कड़ ज्ञानी। रात को नॉविल पढ़कर नींद करते हैं तो उनकी गति क्या होगी? यहाँ तो बाप कहते हैं जो कुछ पढ़े हो सब भूल जाओ। इस रूहानी पढ़ाई में लग जाओ। यह तो भगवान् पढ़ाते हैं, जिससे तुम देवता बन जायेंगे, 21जन्मों के लिए। बाकी जो कुछ पढ़े हो वह सब भुलाना पड़े। एकदम बचपन में चले जाओ। अपने को आत्मा समझो। भल इन ऑखों से देखते हो परन्तु देखते भी नहीं देखो। तुम्हें दिव्य दृष्टि, दिव्य बुद्धि मिली है तो समझते हो यह सारी पुरानी दुनिया है। यह ख़त्म हो जानी है। यह सब कब्रिस्तानी हैं, उनसे क्या दिल लगायेंगे। अभी परिस्तानी बनना है। तुम अब कब्रिस्तान और परिस्तान के बीच में बैठे हो। परिस्तान अभी बन रहा है। अभी बैठे हैं पुरानी दुनिया में। परन्तु बीच में बुद्धि का योग वहाँ चला गया है। तुम पुरुषार्थ ही नई दुनिया के लिए कर रहे हो। अभी बीच में बैठे हो, पुरुषोत्तम बनने के लिए। इस पुरुषोत्तम संगमयुग का भी किसको पता नहीं है। पुरुषोत्तम मास, पुरुषोत्तम वर्ष का भी अर्थ नहीं समझते। पुरुषोत्तम संगमयुग को टाइम बहुत थोड़ा मिला हुआ है। देरी से युनिवर्सिटी में आयेंगे तो बहुत मेहनत करनी पड़ेगी। याद बहुत मुश्किल ठहरती है, माया विघ्न डालती रहती है। तो बाप समझाते हैं यह पुरानी दुनिया ख़त्म होने वाली है। बाप भल यहाँ बैठे हैं, देखते हैं परन्तु बुद्धि में है यह सब ख़त्म होने वाला है। कुछ भी रहेगा नहीं। यह तो पुरानी दुनिया है, इनसे वैराग्य हो जाता है। शरीरधारी भी सब पुराने हैं। शरीर पुराना तमोप्रधान है तो आत्मा भी तमोप्रधान है। ऐसी चीज़ को हम देखकर क्या करें। यह तो कुछ भी रहना नहीं है, उनसे प्रीत नहीं। बच्चों में भी बाप की दिल उनसे लगती है जो बाप को अच्छी रीति याद करते हैं और सर्विस करते हैं। बाकी बच्चे तो सब हैं। कितने ढेर बच्चे हैं। सब तो कभी देखेंगे भी नहीं। प्रजापिता ब्रह्मा को तो जानते ही नहीं हैं। प्रजापिता ब्रह्मा का नाम तो सुना है परन्तु उनसे क्या मिलता है – यह कुछ भी पता नहीं है। ब्रह्मा का मन्दिर है, दाढ़ी वाला दिखाया है। परन्तु उनको कोई याद नहीं करता है क्योंकि उनसे वर्सा मिलना नहीं है। आत्माओं को वर्सा मिलता है एक लौकिक बाप से, दूसरा पारलौकिक बाप से। प्रजापिता ब्रह्मा को तो कोई जानते ही नहीं। यह है वन्डरफुल। बाप होकर वर्सा न दे तो अलौकिक ठहरा ना। वर्सा होता ही है हद का और बेहद का। बीच में वर्सा होता नहीं। भल प्रजापिता कहते हैं परन्तु वर्सा कुछ भी नहीं। इस अलौकिक बाप को भी वर्सा पारलौकिक से मिलता है तो यह फिर देंगे कैसे! पारलौकिक बाप इनके थ्रू देता है। यह है रथ। इनको क्या याद करना है। इनको खुद भी उस बाप को याद करना पड़ता है। वह लोग समझते हैं यह ब्रह्मा को ही परमात्मा समझते हैं। परन्तु हमको वर्सा इनसे नहीं मिलता है, वर्सा तो शिवबाबा से मिलता है। यह तो बीच में दलाल रूप है। यह भी हमारे जैसा स्टूडेण्ट है। डरने की कोई बात नहीं।

बाप कहते हैं इस समय सारी दुनिया तमोप्रधान है। तुमको योगबल से सतोप्रधान बनना है। लौकिक बाप से हद का वर्सा मिलता है। तुमको अब बुद्धि लगानी है बेहद में। बाप कहते हैं सिवाए बाप से और किससे भी कुछ मिलना नहीं है, फिर भल देवतायें क्यों न हों। इस समय तो सब तमोप्रधान हैं। लौकिक बाप से वर्सा तो मिलता ही है। बाकी इन लक्ष्मी-नारायण से तुम क्या चाहते हो? वह लोग तो समझते हैं यह अमर हैं, कभी मरते नहीं हैं। तमोप्रधान बनते नहीं हैं। लेकिन तुम जानते हो जो सतोप्रधान थे वही तमोप्रधान में आते हैं। श्री कृष्ण को लक्ष्मी-नारायण से भी ऊंच समझते हैं क्योंकि वे फिर भी शादी किये हुए हैं। कृष्ण तो जन्म से ही पवित्र है इसलिए कृष्ण की बहुत महिमा है। झूला भी कृष्ण को झुलाते हैं। जयन्ती भी कृष्ण की मनाते हैं। लक्ष्मी-नारायण की क्यों नहीं मनाते हैं? ज्ञान न होने के कारण कृष्ण को द्वापर में ले गये हैं। कहते हैं गीता ज्ञान द्वापर युग में दिया है। कितना कठिन है किसको समझाना! कह देते हैं ज्ञान तो परम्परा से चला आ रहा है। परन्तु परम्परा भी कब से? यह कोई नहीं जानते। पूजा कब से शुरू हुई यह भी नहीं जानते हैं इसलिए कह देते रचता और सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त को नहीं जानते हैं। कल्प की आयु लाखों वर्ष कहने से परम्परा कह देते हैं। तिथि-तारीख कुछ भी नहीं जानते। लक्ष्मी-नारायण का भी जन्म दिन नहीं मनाते। इसको कहा जाता है अज्ञान अंधियारा। तुम्हारे में भी कोई यथार्थ रीति इन बातों को जानते नहीं। तब तो कहा जाता है – महारथी, घोड़ेसवार और प्यादे। गज को ग्राह ने खाया। ग्राह बड़े होते हैं, एकदम हप कर लेते हैं। जैसे सर्प मेढ़क को हप करते हैं।

भगवान् को बागवान, माली, खिवैया क्यों कहते हैं? यह भी तुम अभी समझते हो। बाप आकर विषय सागर से पार ले जाते हैं, तब तो कहते हैं नैया मेरी पार लगा दो। तुमको भी अभी पता पड़ा है कि हम कैसे पार जा रहे हैं। बाबा हमको क्षीर सागर में ले जाते हैं। वहाँ दु:ख-दर्द की बात नहीं। तुम सुनकर औरों को भी कहते हो कि नैया को पार करने वाला खिवैया कहते हैं – हे बच्चे, तुम सब अपने को आत्मा समझो। तुम पहले क्षीरसागर में थे, अब विषय सागर में आ पहुँचे हो। पहले तुम देवता थे। स्वर्ग है वण्डर ऑफ वर्ल्ड। सारी दुनिया में रूहानी वण्डर है स्वर्ग। नाम सुनकर ही खुशी होती है। हेविन में तुम रहते हो। यहाँ 7 वण्डर्स दिखाते हैं। ताजमहल को भी वण्डर कहते हैं परन्तु उसमें रहने का थोड़ेही है। तुम तो वण्डर ऑफ वर्ल्ड का मालिक बनते हो। तुम्हारे रहने के लिए बाप ने कितना वण्डरफुल वैकुण्ठ बनाया है, 21 जन्मों के लिए पद्मापद्मपति बनते हो। तो तुम बच्चों को कितनी खुशी होनी चाहिए। हम उस पार जा रहे हैं। अनेक बार तुम बच्चे स्वर्ग में गये होंगे। यह चक्र तुम लगाते ही रहते हो। पुरुषार्थ ऐसा करना चाहिए जो नई दुनिया में हम पहले-पहले आयें। पुराने मकान में जाने की दिल थोड़ेही होती है। बाबा ज़ोर देते हैं पुरुषार्थ कर नई दुनिया में जाओ। बाबा हमें वण्डर ऑफ वर्ल्ड का मालिक बनाते हैं। तो ऐसे बाप को हम क्यों नहीं याद करेंगे। बहुत मेहनत करनी है। इसको देखते भी नहीं देखो। बाप कहते हैं भल मैं देखता हूँ, परन्तु मेरे में ज्ञान है – मैं थोड़े रोज़ का मुसाफिर हूँ। वैसे तुम भी यहाँ पार्ट बजाने आये हो इसलिए इससे ममत्व निकाल दो। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) रूहानी पढ़ाई में सदा बिजी रहना है। कभी भी नॉवेल्स आदि पढ़ने की गंदी आदत नहीं डालनी है, अब तक जो कुछ पढ़ा है उसे भूल बाप को याद करना है।

2) इस पुरानी दुनिया में स्वयं को मेहमान समझकर रहना है। इससे प्रीत नहीं रखनी है, देखते भी नहीं देखना है।

वरदान:- अधिकारी बन समस्याओं को खेल-खेल में पार करने वाले हीरो पार्टधारी भव
चाहे कैसी भी परिस्थितियां हों, समस्यायें हों लेकिन समस्याओं के अधीन नहीं, अधिकारी बन समस्याओं को ऐसे पार कर लो जैसे खेल-खेल में पार कर रहे हैं। चाहे बाहर से रोने का भी पार्ट हो लेकिन अन्दर हो कि यह सब खेल है – जिसको कहते हैं ड्रामा और ड्रामा के हम हीरो पार्ट-धारी हैं। हीरो पार्टधारी अर्थात् एक्यूरेट पार्ट बजाने वाले इसलिए कड़ी समस्या को भी खेल समझ हल्का बना दो, कोई भी बोझ न हो।
स्लोगन:- सदा ज्ञान के सिमरण में रहो तो सदा हर्षित रहेंगे, माया की आकर्षण से बच जायेंगे।
Font Resize