daily murli 15 december

TODAY MURLI 15 DECEMBER 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 15 December 2020

15/12/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you now have to return home. Therefore, forget all your bodily relations including your own bodies; constantly remember Me alone and become pure.
Question: What subtle aspects connected with souls can only be understood by those who have refined intellects?
Answer: 1. Souls have been gradually covered with rust like a needle. That rust can only be removed by staying in remembrance. Only when the rust is removed, that is, only when souls become satopradhan from tamopradhan, can there be the pull from the Father and can souls return home with the Father. 2. To the extent that the rust is removed, accordingly your explanations will pull others. These are very deep and subtle aspects which cannot be understood by those with gross intellects.

Om shanti. God speaks. Who entered your intellects? When, “God speaks”, is said at other Gita pathshalas they only have Shri Krishna in their intellects. Here, you children remember the highest-on-high Father. At this time it is the confluence age when you become the most elevated human beings. The Father sits here and says to you children: Break all relationships of bodies, including that of your own body, and consider yourselves to be souls. This is most essential. Only at the confluence age does the Father explain this. It is souls that become impure. Souls now have to become pure and return home. People have been remembering the Purifier but they don’t know anything. The people of Bharat are in total darkness. Devotion is the night and knowledge is the day. There is darkness at night and light during the day. The golden age is the day and the iron age is the night. You are now in the iron age and have to go to the golden age. There is no question of anyone being impure in the pure world. Only when you become impure is there the question of becoming pure. When you are pure, you don’t even remember the impure world. Now that the world is impure, you remember the pure world. The impure world is the second half of the cycle and the pure world is the first half. There cannot be anyone impure there. Those who were pure have now become impure. The 84 births that are spoken of refer to them. These are very deep matters and have to be understood. You have been performing devotion for half the cycle and so you can’t stop it that quickly. Human beings are in total darkness. Only a handful out of multimillions emerge. This knowledge hardly sits in anyone’s intellect. The Father says: The main thing is to forget all bodily relations and to constantly remember Me alone. Souls have become impure and have to become pure. Only the Father gives this explanation because this Father is the Principal, the Goldsmith, the Doctor, the Barrister, everything. These names will not remain there. Even this study will not remain there. People study here in order to obtain employment. In earlier days, females didn’t study as much. They learnt all of this later on. Who would look after the home if the husband were to die? This is why females learn everything. Such things don’t exist in the golden age for you to worry about. Here, they save money for such a time. There, you don’t have such thoughts to worry about. The Father makes you children so wealthy. In heaven you have many treasures. Mines of diamonds and jewels are all overflowing. Here, the land has become barren and has no strength. There is the difference of day and night between the flowers there and the flowers here. Here, all the strength of everything has finished. Although they import seeds from America etc., none of them has any strength. The land is such that you have to make a lot of effort. There, everything is satopradhan. The elements are satopradhan and so everything else is satopradhan. Here, everything is tamopradhan. There isn’t any strength left in anything. Only you understand this difference. Only in trance can you now see satopradhan things. The flowers there are so beautiful. It’s possible that you can see the grain that they have there. You can understand it with your intellect. There, everything has so much strength. The new world doesn’t enter anyone’s intellect. Don’t even ask about this old world! Such tall stories have been told that they have completely put all human beings to sleep in total darkness. When you tell them that very little time remains, they laugh at you. In reality, only those who consider themselves to be Brahmins will understand this. This is a new language, a spiritual study. Until the spiritual Father comes, no one can understand anything. You children know the spiritual Father. Those people teach yoga etc., but who taught them? It can’t be said that the spiritual Father taught them. The Father only teaches you spiritual children. Only Brahmins who belong to the confluence age understand this. Only those who belong to the original eternal deity religion will become Brahmins. There are so few of you Brahmins! In the world, there are so many different castes and creeds. There definitely must be a book in which you can find out how many religions and how many languages there are in the whole world. You know that none of those will remain. In the golden age, there was one religion and one language. You now know the world cycle. You can also understand that none of these languages will remain. Everyone will go to the land of peace. You children have now received the knowledge of the world cycle. Even when you explain to people, they don’t understand this. You get eminent people to carry out openings because they are very well known and the sound will spread: Wonderful! The opening was carried out by the President or the Prime Minister. If this Baba were to do this, people would not believe that it was the Supreme Father, the Supreme Soul, who carried out the opening. When important people, like the Commissioneretc. come here, others come running after them. No one would come running after this one. There are now very few of you Brahmin children. Only when there is a majority of you will they understand. If they were to understand this now, they would come running to the Father. Someone told one of the daughters: We want to go directly to the person who taught you. However, if a needle is rusty, how can it be pulled by a magnet? Only when the rust is removed can the magnet pull the needle. If even a slight part of the needle is covered with rust, it cannot be pulled that much. It will only be at the end that you become such that all the rust would be completely removed. You will then return home with the Father. Your concern now is that you have become tamopradhan and are covered with rust. The more you stay in remembrance, the more the rust will be removed. Just as the rust accumulated gradually, so it will continue to be removed gradually. It will be removed in the same way. Just as the rust has accumulated, so too it has to be removed and you have to remember the Father for that. Some people’s rust has been removed a great deal by them having remembrance, whereas only a little of others has been removed. The more someone’s rust is removed, the more he will be able to pull others with his explanations. These are very refined matters. Those who have gross intellects cannot understand these things. You know that a kingdom is being established. Many different methods continue to emerge day by day for you to explain to others. Previously, you didn’t know that you would have exhibitions and museums etc. As you make further progress, it’s possible that there might be something else. There is now still time left before establishment has to take place. You mustn’t become disheartened. If you are unable to control your physical organs, you fall. If you fall into vice, the needle will become very rusty. A lot of rust has accumulated through the vices. In the golden and silver ages, there is absolutely very little rust accumulated, and then, after half the cycle, it accumulates quickly. It is because you fall down that it is said: Viceless and vicious. There are signs of the viceless deities. The Father says: The deity religion has disappeared, but signs of it still exist. The best sign is this picture. You can take this picture of Lakshmi and Narayan around with you because you are becoming that. The kingdom of Ravan is being destroyed and the kingdom of Rama is being established. This is the kingdom of Rama and that is the kingdom of Ravan; this is the confluence age. There are so many points. Doctors keep so many different types of medicine in their intellects. A barrister has so many different points in his intellect. A very good book can be written about many different topics. Then, when you go to give a lecture, you can just go through the points. Those who have shrewd intellects would quickly glance through them. First of all, you should write down what you are going to explain. Sometimes, you remember things after you have given the lecture: “If I had explained this, it would have been better.” By explaining these points to others, they will also sit in your intellect. A list of topics should be created. You should select a topic and prepare a lecture within yourself, or write it out and then check whether you were able to write down all the points. The more you work on this, the better it will become. The Father understands that so-and-so is a good surgeon and has many points in his intellect. If you go from here having become full you won’t enjoy yourself without doing service. When you have exhibitions, two to four people sometimes emerge or six to eight people sometimes emerge. Sometimes, not even one person emerges. Thousands may have seen the exhibition, but so few emerge from them. This is why you now continue to make very big pictures. You are continuing to become clever. You can also see what the condition of important people is. Baba has explained that you should find out to whom you should give this knowledge. You should feel the pulse of those who are My devotees. Explain one main thing to those who study the Gita: Only the Highest on High is called God. He is incorporeal. No bodily being can be called God. You children have now received full understanding. Sannyasis renounce their homes and run away. Some run away in childhood while still celibate. It would be the same for them in their next birth; they definitely take birth through a mother’s womb. Until they get married they are free from bondage and so they don’t remember their relations. that much. When they are married they remember all their relations. It takes time; they cannot become free from bondage so quickly. Everyone knows his own life story. Sannyasis understand that they themselves were previously householders and they then took up renunciation. Your renunciation is greater and this is why it takes effort. Those sannyasis rub ashes on themselves, shave their heads and change their form of dress. You don’t need to do anything like that. Here, it isn’t even a question of changing your dress. It doesn’t matter if you don’t wear a white sari. This knowledge is for intellects. “I am a soul and I have to remember the Father. It is through this that the rust will be removed and I will become satopradhan.” Everyone has to return home. Some will become pure through the power of yoga and some will experience punishment before returning home. You children have to make effort to remove the rust and this is why the fire of yoga is remembered. Sins are burnt in the fire. You will then become pure. The pyre of lust is also called a fire. By burning in the fire of lust you have become absolutely ugly. The Father says: Now become beautiful! These things cannot sit in the intellect of anyone except you Brahmins. These are unique things. When people say to you that you don’t even believe in the scriptures and that you have become atheists, tell them: We used to study the scriptures, but the Father has now given us this knowledge. It is through knowledge that there is salvation. God speaks: No one can attain Me by studying the Vedas or Upanishads, by making donations or performing charity. It is only through Me that you can attain Me. Only the Father comes and makes you worthy. When a soul becomes rusty, he calls out to the Father to come and purify him. Souls that have become tamopradhan now have to become satopradhan. From being tamopradhan, souls have to become tamo, rajo, sato and then satopradhan. If anything goes wrong in between, more rust accumulates. The Father is making us so elevated. Therefore, there should be that happiness. People go abroad in great happiness to study. You are now becoming so sensible. You have become so tamopradhan and senseless in the iron age. The more love you have, the more they oppose you. You children understand that your kingdom is being established. Those who study well and stay in remembrance will attain a good status. The sapling is being planted in Bharat. Day by day, your name is being glorified through the newspapers. Newspapers are sent everywhere. The same journalists sometimes write good things and sometimes bad things because they rely on what they hear. They write whatever someone tells them. Many rely a lot on what they hear. That is called following the dictates of others. The dictates of others are devilish dictates. The Father gives elevated directions. When someone tells them something contrary, they stop coming. Those who remain engaged in doing service are aware of everything. Whatever service you do here, that is your number one service. You do service here and you receive the fruit there. Everything you do here is with the Father. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. The needle of the soul has become rusty. Make effort to remove the rust with the power of yoga and become satopradhan. Never stop studying because of hearing what others tell you.
  2. Keep your intellect full of points of knowledge and do service. Give knowledge after feeling their pulse. Become one with a very shrewd intellect.
Blessing: May you adopt your original religion of the self and become pure and yogi with the awareness of your original and eternal form.
The original religion of Brahmins is purity whereas impurity is an external religion. The purity people find difficult to adopt is very easy for you children because you are aware that your true form of souls is always pure. Your eternal form is of a pure soul and your original form is of a pure deity. Even the last birth of the present time is a pure Brahmin life and so purity is the personality of Brahmin life. Those who are pure are yogi.
Slogan: Do not bring about carelessness by calling yourself an easy yogi, but become a form of power.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 15 DECEMBER 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 15 December 2020

Murli Pdf for Print : – 

15-12-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – अब घर जाना है इसलिए देह सहित देह के सब सम्बन्धों को भूल मामेकम् याद करो और पावन बनो”
प्रश्नः- आत्मा के संबंध में कौन सी एक महीन बात महीन बुद्धि वाले ही समझ सकते हैं?
उत्तर:- आत्मा पर सुई की तरह धीरे-धीरे जंक (कट) चढ़ती गई है। वह याद में रहने से उतरती जायेगी। जब जंक उतरे अर्थात् आत्मा तमोप्रधान से सतोप्रधान बनें तब बाप की खींच हो और वह बाप के साथ वापस जा सके। 2- जितना जंक उतरती जायेगी उतना दूसरों को समझाने में खीचेंगे। यह बातें बड़ी महीन हैं, जो मोटी बुद्धि वाले समझ नहीं सकते।

ओम् शान्ति। भगवानुवाच। अब बुद्धि में कौन आया? वह जो गीता पाठशालायें आदि हैं उन्हों को तो भगवानुवाच कहने से श्रीकृष्ण ही बुद्धि में आयेगा। यहाँ तुम बच्चों को तो ऊंच ते ऊंच बाप याद आयेगा। इस समय यह है संगमयुग, पुरुषोत्तम बनने का। बाप बच्चों को बैठ समझाते हैं कि देह सहित देह के सब सम्बन्ध तोड़ अपने को आत्मा समझो। यह बहुत जरूरी बात है, जो इस संगमयुग पर बाप समझाते हैं। आत्मा ही पतित बनी है। फिर आत्मा को पावन बन घर जाना है। पतित-पावन को याद करते आये हैं, परन्तु जानते कुछ नहीं। भारतवासी बिल्कुल ही घोर अन्धियारे में हैं। भक्ति है रात, ज्ञान है दिन। रात में अन्धियारा, दिन में रोशनी होती है। दिन है सतयुग, रात है कलियुग। अभी तुम कलियुग में हो, सतयुग में जाना है। पावन दुनिया में पतित का क्वेश्चन ही नहीं। जब पतित होते हैं तो पावन होने का क्वेश्चन उठता है। जब पावन हैं तो पतित दुनिया याद भी नहीं। अभी पतित दुनिया है तो पावन दुनिया याद पड़ती है। पतित दुनिया पिछाड़ी का भाग है, पावन दुनिया है पहला भाग। वहाँ कोई पतित हो न सके। जो पावन थे फिर पतित बने हैं। 84 जन्म भी उन्हों के समझाये जाते हैं। यह बड़ी गुह्य बातें समझने की हैं। आधा-कल्प भक्ति की है, वह इतना जल्दी छूट न सके। मनुष्य बिल्कुल ही घोर अन्धियारे में हैं, कोटों में कोई ही निकलते हैं, मुश्किल कोई की बुद्धि में बैठेगा। मुख्य बात तो बाप कहते हैं देह के सब सम्बन्ध भूल मामेकम् याद करो। आत्मा ही पतित बनी है, उनको पवित्र बनना है। यह समझानी भी बाप ही देते हैं क्योंकि यह बाप प्रिसिंपल, सोनार, डॉक्टर, बैरिस्टर सब कुछ है। यह नाम वहाँ रहेंगे नहीं। वहाँ यह पढ़ाई भी नहीं रहेगी। यहाँ पढ़ते हैं नौकरी करने के लिए। आगे फीमेल इतना पढ़ती नहीं थी। यह सब बाद में सीखी हैं। पति मर जाए तो सम्भाल कौन करे? इसलिए फीमेल भी सब सीखती रहती हैं। सतयुग में तो ऐसी बातें होती नहीं जो चिंतन करना पड़े। यहाँ मनुष्य धन आदि इकट्ठा करते हैं, ऐसे समय के लिए। वहाँ तो ऐसे ख्यालात ही नहीं जो चिंता करनी पड़े। बाप तुम बच्चों को कितना धनवान बना देते हैं। स्वर्ग में बहुत खज़ाना रहता है। हीरे-जवाहरातों की खानियाँ सब भरपूर हो जाती हैं। यहाँ बंजर जमीन हो जाती है तो वह ताकत नहीं होती। वहाँ के फूलों और यहाँ के फूलों आदि में रात-दिन का फर्क है। यहाँ तो सब चीज़ों से ताकत ही निकल गई है। भल कितना भी अमेरिका आदि से बीज ले आते हैं परन्तु ताकत निकलती जाती है। धरनी ही ऐसी है, जिसमें जास्ती मेहनत करनी पड़ती है। वहाँ तो हर चीज़ सतोप्रधान होती है। प्रकृति भी सतोप्रधान तो सब कुछ सतोप्रधान होता है। यहाँ तो सब चीजें तमोप्रधान हैं। कोई चीज़ में ताकत नहीं रही है। यह फर्क भी तुम समझते हो। जब सतोप्रधान चीज़ें देखते हो, वह तो ध्यान में ही देखते हो। वहाँ के फूल आदि कितने अच्छे होते हैं। हो सकता है – वहाँ का अनाज आदि सब तुमको देखने में आये। बुद्धि से समझ सकते हैं। वहाँ की हर चीज़ में कितनी ताकत रहती है। नई दुनिया किसकी बुद्धि में आती ही नहीं। इस पुरानी दुनिया की तो बात मत पूछो। गपोड़ा भी बहुत लम्बा-चौड़ा लगाते हैं तो मनुष्य बिल्कुल अन्धियारे में सो गये हैं। तुम बताते हो बाकी थोड़ा समय है तो तुम्हारे पर कोई हंसी भी करते हैं। रीयल्टी में तो वह समझते हैं जो अपने को ब्राह्मण समझते हैं। यह नई भाषा, रूहानी पढ़ाई है ना। जब तक स्प्रीचुअल फादर न आये, कोई समझ न सके। स्प्रीचुअल फादर को तुम बच्चे जानते हो। वो लोग जाकर योग आदि सिखाते हैं, परन्तु उन्हों को सिखलाया किसने? ऐसे तो नहीं कहेंगे स्प्रीचुअल फादर ने सिखाया। बाप तो सिखलाते ही रूहानी बच्चों को हैं। तुम संगमयुगी ब्राह्मण ही समझते हो। ब्राह्मण बनेंगे भी वह जो आदि सनातन देवी-देवता धर्म के होंगे। ब्राह्मण तुम कितने थोड़े हो। दुनिया में तो किस्म-किस्म की अथाह जातियाँ हैं। एक किताब जरूर होगा जिससे पता लगेगा कि दुनिया में कितने धर्म, कितनी भाषायें हैं। तुम जानते हो यह सब नहीं रहेंगे। सतयुग में तो एक धर्म, एक भाषा ही थी। सृष्टि चक्र को तुमने जाना है। तो भाषाओं को भी जान सकते हो कि यह सब रहेंगे नहीं। इतने सब शान्तिधाम चले जायेंगे। यह सृष्टि का ज्ञान अभी तुम बच्चों को मिला है। तुम मनुष्यों को समझाते हो फिर भी समझते थोड़ेही हैं। कोई बड़े आदमियों से ओपनिंग भी इसलिए कराते हैं क्योंकि नामीग्रामी हैं। आवाज़ फैलेगा वाह! प्रेजीडेंट, प्राइम मिनिस्टर ने ओपनिंग की। यह बाबा जाये तो मनुष्य थोड़ेही समझेंगे परमपिता परमात्मा ने ओपनिंग की, मानेंगे नहीं। कोई बड़ा आदमी कमिश्नर आदि आयेगा तो उनके पीछे और भी भागेंगे। इनके पीछे तो कोई नहीं भागेगा। अभी तुम ब्राह्मण बच्चे तो बहुत थोड़े हो। जब मैजारिटी होंगे तब समझेंगे। अभी अगर समझ जायें तो बाप के पास भागें। एक ने बच्ची को कहा था कि जिसने तुमको यह सिखाया हम डायरेक्ट क्यों न उनके पास जायें। परन्तु सुई पर कट लगी हुई है तो चुम्बक की कशिश कैसे हो? कट जब पूरी निकले तब चुम्बक को पकड़ सके। सुई का एक कोना भी कट चढ़ी हुई होगी तो उतना खीचेंगी नहीं। सारी कट उतर जाये वह तो पिछाड़ी में जब ऐसे बनेंगे फिर तो बाप के साथ वापिस जायेंगे। अभी तो फुरना (फा) है कि हम तमोप्रधान हैं, कट चढ़ी हुई है। जितना याद करेंगे उतना कट साफ होती जायेगी। आहिस्ते-आहिस्ते कट निकलती जायेगी। कट चढ़ी भी आहिस्ते-आहिस्ते है ना, फिर उतरेगी भी ऐसे। जैसे कट चढ़ी है वैसे साफ होनी है तो उसके लिए बाप को याद भी करना है। याद से कोई की जास्ती कट उतरी है, कोई की कम। जितना जास्ती कट उतरी हुई होगी उतना वह दूसरे को समझाने में खीचेंगे। यह बड़ी महीन बातें हैं। मोटी बुद्धि वाले समझ न सकें। तुम जानते हो राजाई स्थापन हो रही है। समझाने के लिए भी दिन-प्रतिदिन युक्तियाँ निकलती रहती हैं। आगे थोड़ेही पता था कि प्रदर्शनियाँ, म्यूज़ियम आदि बनायेंगे। आगे चल हो सकता है और कुछ निकले। अभी टाइम तो पड़ा है, स्थापना होनी है। हार्टफेल भी नहीं होना है। कर्मेन्द्रियों को वश नहीं कर सकते हैं तो गिर पड़ते हैं। विकार में गये तो फिर सुई पर बहुत कट लग जायेगी। विकार से जास्ती कट चढ़ती जाती है। सतयुग-त्रेता में बिल्कुल थोड़ी फिर आधाकल्प में जल्दी-जल्दी कट चढ़ती है। नीचे गिर पड़ते हैं इसलिए निर्विकारी और विकारी गाया जाता है। वाइसलेस देवताओं की निशानी है ना। बाप कहते हैं देवी-देवता धर्म प्राय: लोप हो गया है। निशानियाँ तो हैं ना। सबसे अच्छी निशानी यह चित्र हैं। तुम यह लक्ष्मी-नारायण का चित्र उठाए परिक्रमा दे सकते हो क्योंकि तुम यह बनते हो ना। रावण राज्य का विनाश, राम राज्य की स्थापना होती है। यह राम राज्य, यह रावण राज्य, यह है संगम। ढेर की ढर प्वाइंट्स हैं। डॉक्टर लोगों की बुद्धि में कितनी दवाइयाँ याद रहती हैं। बैरिस्टर की बुद्धि में भी अनेक प्रकार की प्वाइंट्स हैं। ढेर टॉपिक्स का तो बहुत अच्छा किताब बन सकता है। फिर जब भाषण पर जाओ तो प्वाइंट्स नज़र से निकालो। शुरूड बुद्धि वाले झट देख लेंगे। पहले तो लिखना चाहिए हम ऐसे-ऐसे समझायेंगे। भाषण करने के बाद भी याद आता है ना। ऐसे समझाते थे तो अच्छा था। यह प्वाइंट्स औरों को समझाने से बुद्धि में बैठेगी। टॉपिक्स की लिस्ट बनी हुई हो। फिर एक टॉपिक उठाए अन्दर में भाषण करना चाहिए या लिखना चाहिए। फिर देखना चाहिए सब प्वाइंट्स लिखी हैं? जितना माथा मारेंगे उतना अच्छा है। बाप तो समझते हैं ना यह अच्छा सर्जन है, इनकी बुद्धि में बहुत प्वाइंट्स हैं। भरपूर हो जायेंगे तो सर्विस बिगर मज़ा नहीं आयेगा।

तुम प्रदर्शनी करते हो कहाँ से 2-4, कहाँ से 6-8 निकलते हैं। कहाँ तो एक भी नहीं निकलता है। हज़ारों ने देखा, निकले कितने थोड़े इसलिए अभी बड़े-बड़े चित्र भी बनाते रहते हैं। तुम होशियार होते जाते हो। बड़े-बड़े आदमियों का क्या हाल है, वह भी तुम देखते हो। बाबा ने समझाया हैं जाँच करनी है किसको यह नॉलेज देनी चाहिए। रग देखनी चाहिए जो मेरे भक्त हों। गीता वालों को मुख्य बात एक ही समझाओ – भगवान ऊंच ते ऊंच को ही कहा जाता है। वह है निराकार। कोई भी देहधारी मनुष्यों को भगवान नहीं कह सकते। तुम बच्चों को अभी सारी समझ आई है। संन्यासी भी घर का संन्यास कर भागते हैं। कोई ब्रह्मचारी ही चले जाते हैं। फिर दूसरे जन्म में भी ऐसे होता है। जन्म तो जरूर माता के गर्भ से ही लेते हैं। जब तक शादी नहीं की है तो बंधनमुक्त हैं, इतने कोई सम्बन्धी आदि याद नहीं आयेंगे। शादी की तो फिर सम्बन्ध याद आयेंगे। टाइम लगता है, जल्दी बन्धनमुक्त नहीं होते। अपनी जीवन कहानी का मालूम तो सबको रहता है। संन्यासी समझते होंगे पहले हम गृहस्थी थे फिर संन्यास किया। तुम्हारा है बड़ा संन्यास इसलिए मेहनत होती है। वह संन्यासी भभूत लगाते, बाल उतारते, वेष बदलते। तुम्हें तो ऐसा करने की दरकार नहीं। यहाँ तो ड्रेस बदलने की भी बात नहीं। तुम सफेद साड़ी नहीं पहनो तो भी हर्जा नहीं। यह तो बुद्धि का ज्ञान है। हम आत्मा हैं, बाप को याद करना है इससे ही कट निकलेगी और हम सतोप्रधान बन जायेंगे। वापिस तो सबको जाना है। कोई योगबल से पावन बन जायेंगे, कोई सज़ा खाकर जायेंगे। तुम बच्चों को जंक उतारने की ही मेहनत करनी पड़ती है, इसलिए इनको योग अग्नि भी कहते हैं। अग्नि से पाप भस्म होते हैं। तुम पवित्र हो जायेंगे। काम चिता को भी अग्नि कहते हैं। काम अग्नि में जलकर काले बन गये हैं। अब बाप कहते हैं गोरा बनो। यह बातें तुम ब्राह्मणों के सिवाए कोई की बुद्धि में बैठ नहीं सकती। यह बातें ही न्यारी हैं। तुमको कहते हैं यह तो शास्त्रों को भी नहीं मानते। नास्तिक बन पड़े हैं। बोलो, शास्त्र तो हम पढ़ते थे फिर बाप ने ज्ञान दिया है। ज्ञान से सद्गति होती है। भगवानुवाच, वेद-उपनिषद आदि पढ़ने, दान-पुण्य आदि करने से कोई भी मेरे को प्राप्त नहीं करते। मेरे द्वारा ही मेरे को प्राप्त कर सकते हैं। बाप ही आकर लायक बनाते हैं। आत्मा पर जंक चढ़ जाती है तब बाप को बुलाते हैं कि आकर पावन बनाओ। आत्मा जो तमोप्रधान बनी है उसे सतोप्रधान बनना है, तमोप्रधान से तमो रजो सतो फिर सतोप्रधान बनना है। अगर बीच में गड़बड़ हुई तो कट चढ़ जायेगी।

बाप हमको इतना ऊंच बनाते हैं तो वह खुशी रहनी चाहिए ना। विलायत में पढ़ने के लिए खुशी से जाते हैं ना। अभी तुम कितना समझदार बनते हो। कलियुग में कितना तमोप्रधान बेसमझ बन पड़ते हैं। जितना प्यार करो उतना और ही सामना करते। तुम बच्चे समझते हो कि हमारी राजधानी स्थापन होती है। जो अच्छी रीति पढ़ेंगे, याद में रहेंगे वह अच्छा पद पायेंगे। सैपलिंग भारत से ही लगता है। दिन-प्रतिदिन अखबार आदि से तुम्हारा नाम बाला होता जायेगा। अखबारें तो सब तरफ जाती हैं। वही अखबार वाला कभी देखो तो अच्छा डालेगा, कभी खराब क्योंकि वह भी सुनी-सुनाई पर चलते हैं ना। जिसने जो सुनाया वह लिख देंगे। सुनी-सुनाई पर बहुत चलते हैं, उसको परमत कहा जाता है। परमत आसुरी मत हो गई। बाप की है श्रीमत। कोई ने उल्टी बात बताई तो बस आना ही छोड़ देते हैं। जो सर्विस पर रहते हैं, उन्हों को सब मालूम रहता है। यहाँ तुम जो भी सेवा करते हो, यह है तुम्हारी नम्बरवन सेवा। यहाँ तुम सेवा करते हो, वहाँ फल मिलता है। कर्तव्य तो यहाँ बाप के साथ करते हो ना। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) आत्मा रूपी सुई पर जंक चढ़ी है, उसे योगबल से उतार सतोप्रधान बनने की मेहनत करनी है। कभी भी सुनी-सुनाई बातों पर चलकर पढ़ाई नहीं छोड़नी है।

2) बुद्धि को ज्ञान की प्वाइंट्स से भरपूर रख सर्विस करनी है। रग देखकर ज्ञान देना है। बहुत शुरूड (तीक्ष्ण) बुद्धि बनना है।

वरदान:- आदि और अनादि स्वरूप की स्मृति द्वारा अपने निजी स्वधर्म को अपनाने वाले पवित्र और योगी भव
ब्राह्मणों का निजी स्वधर्म पवित्रता है, अपवित्रता परधर्म है। जिस पवित्रता को अपनाना लोग मुश्किल समझते हैं वह आप बच्चों के लिए अति सहज है क्योंकि स्मृति आई कि हमारा वास्तविक आत्म स्वरूप सदा पवित्र है। अनादि स्वरूप पवित्र आत्मा है और आदि स्वरूप पवित्र देवता है। अभी का अन्तिम जन्म भी पवित्र ब्राह्मण जीवन है इसलिए पवित्रता ही ब्राह्मण जीवन की पर्सनालिटी है। जो पवित्र है वही योगी है।
स्लोगन:- सहजयोगी कहकर अलबेलापन नहीं लाओ, शक्ति रूप बनो।

TODAY MURLI 15 DECEMBER 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 15 December 2019

15/12/19
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
21/03/85

Winning the medal of victory with the discus of self-realisation.

Today, BapDada, in His form of the Commander of the spiritual army, is seeing His spiritual army. In this spiritual army, He sees who the mahavirs are and what powerful weapons they carry. Just as those with physical weapons continue to make weapons daily that are extremely subtle and have a very powerful speed, has the spiritual army become, in the same way, those who hold extremely subtle and powerful weapons? Souls who are to bring about destruction have already made such weapons that they will bring about destruction with their rays, even whilst they themselves are sitting at home miles away. They won’t need to go there. While sitting at a distance, they are able to hit their target. Similarly, is the spiritual army such an army carrying out construction? They are those who bring about destruction and you are those who carry out construction. They think of plans for destruction and you think of plans for the new creation and for world transformation. You, the army carrying out construction, have you adopted the spiritual means of an equally fast speed? Whilst sitting in one place, are you able to touch any soul wherever that soul may be with the rays of spiritual remembrance? Is your power of transformation ready to work at such a fast speed? All of you are receiving knowledge, that is, power. With the power of knowledge, have you become those with powerful weapons? Have you become mahavirs (great warriors) or virs (warriors)? Have you attained the medals of victory? Those in a physical army receive many types of medals as awards. Have all of you received a medal of victory as an award of success? Victory is already guaranteed. Mahavir souls whose intellects have such faith have a right to the medal of victory.

BapDada was seeing who have won their medals of victory. You win the medal of victory with the discus of self-realisation. So, have all of you become those who hold weapons? The memorial of these spiritual weapons has been shown physically in the images of your memorial. The images of the goddesses portray them holding weapons. The Pandavas are also shown holding weapons, are they not? The spiritual weapons, that is, the spiritual powers, have been shown in the form of physical weapons. In fact, all you children receive from BapDada the same power of knowledge at the same time. He doesn’t give different knowledge to each one, and so why do you become numberwise? Has BapDada ever taught anyone separately? He teaches all of you at the same time, does He not? He teaches all of you the same study, does He not? Or, is it that He teaches one group one thing and another group something else?

Here, whether you are a Godly student of six months or 50 years, you sit in the same class. Do you sit separately? BapDada teaches just the one study at the same time and to everyone at the same time. Even if some have come later, whatever study has already taken place, you continue to teach them that same study even now. You are also studying the revised course. Or, is it that the older ones have a different course from your course? It is the same course, is it not? It isn’t that the murli you have for those who have been here 40 years is different from the murli for those who have been here only six months, is it? It is the same murli, is it not? The study is the same, the Teacher is the same, and so why does it become numberwise? Or, are all of you number one? How are numbers created? It is because, even though everyone studies, the difference lies in whether you take each point of the study or knowledge in the form of a weapon or power, or you just imbibe knowledge in the form of a point – this is what creates the number. Some listen to this and their intellects simply imbibe it in the form of a point. They even speak very well about the point they have imbibed. The majority of you are clever when it comes to giving lectures and courses. BapDada is also pleased to see the way children give lectures and courses. Some children even give better lectures than BapDada; they speak very good points. However, the difference lies in imbibing knowledge as a point of knowledge and in imbibing every point of knowledge as a form of power. For instance, take up the point of the drama. This is a very big and powerful weapon to enable you to attain victory. Those who have inculcated the power of knowledge of the drama into their practical lives can never shake. The special power to remain constantly stable, unshakeable and immovable is this point of the drama. Those who imbibe it as a power can never be defeated. However, what do those who simply imbibe it as a point do? They even speak of the point of the drama. They come into upheaval and they still speak of the point of the drama! Sometimes, their eyes even continue to shed tears, “I don’t know what happened, I don’t know what it is.” yet they still continue to speak of the point of the drama! “Yes, I have to become victorious. I am a victorious jewel anyway. I remember the drama, but I don’t know what happened!”

So what would you call this? Is it knowledge imbibed in the form of a power or weapon or is it imbibed simply as a point? In the same way, a soul would also say of himself, “I am a powerful soul, I am the child of the Almighty Authority, but this situation is very big. I never even thought something like this would happen.” There is a vast difference between being a master almighty authority soul and speaking those words. Do you like them? So, what would you call that? So there is the lesson of the soul, the lesson of God, the lesson of the drama, the lesson of 84 births. How many lessons are there? To imbibe all of them in the form of powers, that is, as weapons, means to become victorious. If you simply imbibe them as points, then sometimes the point works and at other times it doesn’t. Nevertheless, you imbibe them as points and, because you keep busy in service and you repeat the points over and over again, you remain safe from Maya. However, when any situation or royal form of Maya comes in front of you, you are not able to be constantly victorious. You speak the same point but, because of not having power, you are unable to be a constant conqueror of Maya.

So, do you understand how you become numberwise? Therefore, now check if you have imbibed every point of knowledge as a weapon or power. Have you just become knowledge-full or have you also become powerful? Together with being knowledge-full, have you also become powerfulOr, have you just become knowledge-full? Accurate knowledge is the form of light and might. Have you imbibed it in that form? If knowledge doesn’t make you victorious at the right time, then you haven’t imbibed knowledge in the form of power. If a warrior doesn’t use his weapons at the right time, what would you call him? Would you call him a mahavir? Why have you received the power of knowledge? You have received it in order to become a conqueror of Maya, have you not? Or, is it that you will remember the point after that time has passed: “I ought to have done this, I ought to have thought of this.” Therefore, check to see to what extent you have done the course of force. All of you are ready to give the course, are you not? Is there anyone who is unable to give the course? All of you are able to give the course and you do that with a lot of love and very well. BapDada sees that you do give others the course with a lot of love, tirelessly, and with eagerness. You have very good programmes. You use your bodies, minds and wealth for those. This is why there has been so much growth. This is something you do very well. However, according to the time, you have now passed this. Your childhood has ended, has it not? Are you now in your youth stage or retirement stage? What stage have you reached? In this group, the majority is of new ones. However, so many years of service abroad have now been completed, and so it is no longer childhood. You have now reached the youth stage. Now, do the course of force and give it to others.

In any case, youth have a lot of power. The age of youth is very powerful, they can do what they want. This is why you must have seen that, nowadays, even the Government is afraid of the youth because, when it comes to worldly matters, the youth group has the power of the intellect and also physical strength. However, here, you are not those who break everything. You are those who mend. There, they use force, whereas here, you are souls who are embodiments of peace. You are those who put right what has gone wrong. You are those who remove everyone’s sorrow. They are those who cause sorrow and you are those who remove sorrow. You are removers of sorrow and bestowers of happiness. As is the Father, so are the children. Your every thought for every soul, for yourself and for others, is one that gives happiness, because you have left the world of sorrow. You are no longer in the world of sorrow. You have come away from the land of sorrow and into the confluence age. You are sitting in the most auspicious confluence age. Those youths are iron aged. You are confluence-aged youths. Therefore, always imbibe this knowledge in yourself in the form of power and also enable others to do the same. If you don’t give the course of force, you would otherwise just give the course of giving points. Therefore, now, revise the course once again. You can now give yourself training in which powers each point of knowledge has, how much power it has, which powers can be used at which time and in what way. Therefore, now check: did you use the powerful weapon of the point of the soul in a practical way throughout the day? You can give yourself this training, because you are knowledge-full anyway. If you were told to extract points about the soul, how many points would you extract? A lot. You are clever when it comes to giving lectures. However, look at each point to see to what extent you are able to use it practically in a situation. Don’t think, “I am fine anyway, but something happened; it was because of this situation that that happened.” What are the weapons for? Are they for you to use when enemies come? Or, is it because enemies come that you are defeated, that you fluctuated because Maya came? The weapons are for when Maya (your enemy) comes! Why have you imbibed the powers? You have become powerful so that you can be victorious at the right time. So, do you understand what you have to do? You continue to have very good heart-to-heart conversations amongst yourselves. BapDada receives all the news. BapDada is pleased to see this enthusiasm of you children, and that you love the study and the Father. You love service too, but you sometimes become delicate and you drop your weapons. You should be filmed at that time and it should then be shown to you. It only lasts for a short time, not for long, but nevertheless, there is a difference between being constantly free from obstacles and sometimes having obstacles and sometimes being free from obstacles, is there not? The more knots there are in a string, the weaker it is. It does become joined again, but there is a difference between something that has been joined and something that is whole. Would you like something that has been mended? So, here too, an obstacle comes and then you become free from obstacles and then obstacles come again. That is like something breaking and then being mended. Therefore, there is that join, is there not? This is why it also affects your stage.

Some are very good, intense effort-makers. They are also knowledge-full and serviceable; they are in the eyes of BapDada and the family. However, a soul who breaks and is then mended does not remain constantly powerful. Such souls have to make effort over trivial things. Sometimes, they are constantly light and cheerful and dance in happiness, but you won’t see them like that all the time. They would be in the list of maharathis, but those who have such sanskars would definitely be weak. What is the reason for this? These sanskars of breaking and mending make them weak inside. Externally, there wouldn’t be anything. They would appear to be very good. Therefore, never create these sanskars. Don’t think that even though Maya has come, you are moving along well. Because, to move along whilst sometimes being broken and then being mended again, what is that? Always remain whole. Remain constantly free from obstacles, constantly cheerful and constantly under the canopy of protection. There is a difference between that life and this life, is there not? This is why BapDada says that the papers of the horoscopes of some are completely clean. Others have marks on them. Even though the marks have been erased, they are still visible, are they not? Let there not be any marks. Which one would you prefer – a clean paper or a paper that has had the marks on it removed? The basis of keeping the paper clean is very easy. Don’t be afraid thinking that this is very difficult. No; it is very easy because time is coming close. Time has also received a special blessing. The later someone comes, so, according to the time, he receives the gift of an extra lift, and the part now of the avyakt form is the part of being blessed. So, you also have the help of time. You have help of the avyakt part and of avyakt co-operation. This is the time of fast speed; you also have this help. Previously, it took some time for an invention to be manufactured. Now, everything is ready-made. You have come at a time when everything is ready-made. This blessing is not a small thing. Those who came first extracted the butter and you have come at the time of eating the butter. So, you are blessed, are you not? Simply pay a little attention, but otherwise, it is not a big deal. You have all types of help. The souls at the beginning did not receive as much sustenance as you receive now from the instrument maharathi souls. They make so much effort on each of you and give you time. At first, there was general sustenance received. However, you are being sustained as specially beloved, long-lost and now-found ones. You are those who will also give the return of sustenance, are you not? It is not difficult. Simply pay attention to using every point as a power. Do you understand? Achcha.

To the souls who are constantly mahavirs and remain under the canopy of protection, to those who constantly use the power of knowledge according to the time, to those who adopt a firm, unshakeable and constant stage, to those who experience themselves to be master almighty authorities, to the children who are constantly elevated conquerors of Maya, BapDada’s love, remembrance and namaste.

BapDada meeting Dadis:The specially beloved jewels not only earn an income of multimillions in their every step, but others also earn multimillions. The specially beloved jewels constantly continue to move forward at every step. You have received the eternal key; it is an automatic key. To be an instrument means to apply the automatic key. The specially beloved jewels definitely have to move forward with the eternal key. Service is merged in every thought of all of you. One person becomes an instrument to put zeal and enthusiasm into many other souls. They don’t have to make effort, but when they just see the instrument, that wave spreads, just as some are coloured just by seeing one another. So, this automatic wave of zeal and enthusiasm also increases the zeal and enthusiasm of others. Generally, when someone performs a good dance, the feet of others start dancing and that wave spreads everywhere; your hands and feet dance even against your conscious wish. Achcha.

All the activities of Madhuban are functioning well. Madhuban is decorated with the residents of Madhuban. BapDada is always carefree when He sees the instrument children because the children are so clever. The children are no less. The Father has full faith in the children and so the children are even ahead of the Father. The instruments are those who make the Father carefree. In any case, there isn’t any worry, but you give the Father good news. There wouldn’t be any other children anywhere who are each ahead of the other, where each child is special. No one could have so many such children; there would be some who fight and others who study. Here, each one is a special jewel, each one has a speciality.

Blessing: May you become a remover of sorrow and a bestower of happiness with all attainments by having the powerful vision and attitude of purity.
Themedicine of science has the temporary power to stop pain and suffering, but the power of purity, that is, the power of silence, has the power of blessings. This powerful vision and attitude of purity enables you to have attainment for all time. This is why they go in front of your non-living images and call out to you and ask for mercy. It is because you have become master removers of sorrow and bestowers of happiness and have been compassionate in the living form that you are worshipped on the path of devotion.
Slogan: According to the closeness of time, true tapasya and spiritual endeavour is unlimited disinterest.

 

*** Om Shanti ***

Special Notice:

Today is the third Sunday of the month, when everyone will collectively gather in the evening from 6.30 – 7.30 pm to have international yoga. Consider yourself to be a soul who is an incarnation that has just incarnated – enter your body with this awareness and become detached from the body. Sit in the stage of your seed-form and do the service of spreading God’s powers in the atmosphere.

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 15 DECEMBER 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 15 December 2019

15-12-19
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 21-03-85 मधुबन

स्वदर्शन चक्र से विजय चक्र की प्राप्ति

आज बापदादा रूहानी सेनापति के रूप में अपनी रूहानी सेना को देख रहे हैं। इस रूहानी सेना में कौन से, कौन से महावीर हैं, कौन से शक्तिशाली शस्त्र धारण किये हुए हैं। जैसे जिस्मानी शस्त्रधारी दिन प्रतिदिन अति सूक्ष्म और तीव्रगति के शक्ति सम्पन्न साधन बनाते जाते हैं, ऐसे रूहानी सेना अति सूक्ष्म शक्तिशाली शस्त्रधारी बनी है? जैसे विनाशकारी आत्माओं ने एक स्थान पर बैठे हुए कितने माइल दूर विनाशकारी रेज़िज़ (किरणों) द्वारा विनाश कराने के लिए साधन बना लिए हैं। वहाँ जाने की भी आवश्यकता नहीं। दूर बैठे निशाना लगा सकते हैं। ऐसे रूहानी सेना स्थापनाकारी सेना है। वह विनाशकारी, आप स्थापनाकारी हो। वह विनाश के प्लैन सोचते आप नई रचना के, विश्व परिवर्तन के प्लैन सोचते। स्थापनाकारी सेना, ऐसे तीव्रगति के रूहानी साधन धारण कर लिए है? एक स्थान पर बैठे जहाँ चाहो वहाँ रूहानी याद की रेज़िज़ (किरणों) द्वारा किसी भी आत्मा को टच कर सकते हो। परिवर्तन शक्ति इतनी तीव्रगति की सेवा करने लिए तैयार है? नॉलेज अर्थात् शक्ति सभी को प्राप्त हो रही है ना। नॉलेज की शक्ति द्वारा ऐसे शक्तिशाली शस्त्रधारी बने हो? महावीर बने हो वा वीर बने हो? विजय का चक्र प्राप्त कर लिया है? जिस्मानी सेना को अनेक प्रकार के चक्र इनाम में मिलते हैं। आप सभी को सफलता का इनाम विजय चक्र मिला है? विजय प्राप्त हुई पड़ी है! ऐसे निश्चय बुद्धि महावीर आत्मायें विजय चक्र के अधिकारी हैं।

बापदादा देख रहे थे कि किसको विजय चक्र प्राप्त है! स्वदर्शन चक्र से विजय चक्र प्राप्त करते हो। तो सभी शस्त्रधारी बने हो ना! इन रूहानी शस्त्रों का यादगार स्थूल रूप में आपके यादगार चित्रों में दिखाया है। देवियों के चित्रों में शस्त्रधारी दिखाते हैं ना। पाण्डवों को भी शस्त्रधारी दिखाते हैं ना। यह रूहानी शस्त्र अर्थात् रूहानी शक्तियाँ स्थूल शस्त्र रूप में दिखा दी हैं। वास्तव में सभी बच्चों को बापदादा द्वारा एक ही समय एक जैसी नॉलेज की शक्ति प्राप्त होती है। अलग-अलग नॉलेज नहीं देते फिर भी नम्बरवार क्यों बनते हैं? बापदादा ने कभी किसी को अलग पढ़ाया है क्या? इकट्ठा ही पढ़ाई पढ़ाते हैं ना। सभी को एक ही पढ़ाई पढ़ाते हैं ना, कि किसी ग्रुप को कोई पढ़ाई पढ़ाते, किसको कोई!

यहाँ 6 मास का गाडली स्टूडेन्ट हो या 50 वर्ष का हो, एक ही क्लास में बैठते हैं। अलग-अलग बैठते हैं क्या? बापदादा एक ही समय एक पढ़ाई और सभी को इकट्ठा ही पढ़ाता है। अगर कोई पीछे भी आये हैं तो जो पहले पढ़ाई चल चुकी है वही पढ़ाई आप सब अभी भी पढ़ाते रहते हो। जो रिवाइज कोर्स चल रहा है वही आप भी पढ़ रहे हो कि पुरानों का कोर्स अलग है, आपका अलग है? एक ही कोर्स है ना। 40 वर्ष वालों के लिए अलग मुरली और 6 मास वालों के लिए अलग मुरली तो नहीं है ना। एक ही मुरली है ना! पढ़ाई एक, पढ़ाने वाला एक फिर नम्बरवार क्यों होते? वा सभी नम्बरवन हैं? नम्बर क्यों बनते? क्योंकि पढ़ाई भले सब पढ़ते हैं लेकिन पढ़ाई की अर्थात् ज्ञान की एक-एक बात को शस्त्र वा शक्ति के रूप में धारण करना, और ज्ञान की बात को प्वाइंट के रूप में धारण करना – इसमें अन्तर हो जाता है। कोई सुनकर सिर्फ प्वाइंट्स के रूप में बुद्धि में धारण करते हैं। और उन धारण की हुई प्वाइंट्स का वर्णन भी बहुत अच्छा करते हैं। भाषण करने में कोर्स देने में मैजारटी होशियार हैं। बापदादा भी बच्चों के भाषण वा कोर्स कराना देख खुश होते हैं। कई बच्चे तो बापदादा से भी अच्छा भाषण करते हैं। प्वाइंट्स भी बहुत अच्छी वर्णन करते हैं लेकिन अन्तर यह है-ज्ञान को प्वाइंट्स के रूप में धारण करना और ज्ञान की एक-एक बात को शक्ति के रूप में धारण करना-इसमें अन्तर पड़ जाता है। जैसे ड्रामा की प्वाइंट्स उठाओ। यह बहुत बड़ा विजय प्राप्त करने का शक्तिशाली शस्त्र है। जिसको ड्रामा के ज्ञान की शक्ति प्रैक्टिकल जीवन में धारण है वह कभी भी हलचल में नहीं आ सकता। सदा एकरस अचल अडोल बनने और बनाने की विशेष शक्ति यह ड्रामा की प्वाइंट है। शक्ति के रूप में धारण करने वाला कभी हार नहीं खा सकता। लेकिन जो सिर्फ प्वाइंट के रूप में धारण करते हैं वह क्या करते हैं? ड्रामा की प्वाइंट वर्णन भी करेंगे। हलचल में भी आ रहे हैं और ड्रामा की प्वाइंट भी बोल रहे हैं। कभी-कभी ऑखों से ऑसू भी बहाते जाते हैं! पता नहीं क्या हो गया, पता नहीं क्या है। और ड्रामा की प्वाइंट भी बोलते जाते हैं। हाँ विजयी तो बनना ही है। हूँ तो विजयी रत्न। ड्रामा याद है लेकिन पता नहीं क्या हो गया।

तो इसको क्या कहेंगे? शक्ति के रूप से, शस्त्र के रूप से धारण किया वा सिर्फ प्वाइंट के रीति से धारण किया? ऐसे ही आत्मा के प्रति भी कहेंगे हूँ तो शक्तिशाली आत्मा, सर्व शक्तिवान की बच्ची हूँ लेकिन यह बात बहुत बड़ी है। ऐसी बात कब हमने सोची नहीं थी। कहाँ मास्टर सर्वशक्तिवान आत्मा और कहाँ यह बोल? अच्छे लगते हैं? तो इसको क्या कहेंगे? तो एक आत्मा का पाठ, परम आत्मा का पाठ, ड्रामा का पाठ, 84 जन्मों का पाठ, कितने पाठ हैं? सभी को शक्ति अर्थात् शस्त्र के रूप में धारण करना अर्थात् विजयी बनना है। सिर्फ प्वाइंट की रीति से धारण करना तो कभी प्वाइंट काम करती भी है कभी नहीं करती। फिर भी प्वाइंट के रूप में भी धारण करने वाले सेवा में बिजी होने कारण और प्वाइंट्स का बार-बार वर्णन करने के कारण माया से सेफ रहते हैं। लेकिन जब कोई परिस्थिति वा माया का रॉयल रूप सामने आता है तो सदा विजयी नहीं बन सकते हैं। वही प्वाइंट्स वर्णन करते रहेंगे लेकिन शक्ति न होने कारण सदा मायाजीत नहीं बन सकते हैं।

तो समझा नम्बरवार क्यों बनते हैं? अब यह चेक करो कि हर ज्ञान की प्वाइंट शक्ति के रूप से, शस्त्र के रूप से धारण की? सिर्फ ज्ञानवान बने हो वा शक्तिशाली भी बने हो? नॉलेजफुल के साथ पावरफुल भी बने हो वा सिर्फ नॉलेजफुल बने हो! यथार्थ नॉलेज लाइट और माइट का स्वरूप है। उसी रूप से धारण किया है? अगर समय पर नॉलेज विजयी नहीं बनाती है तो नॉलेज को शक्ति रूप से धारण नहीं किया है। अगर कोई योद्धा समय पर शस्त्र कार्य में नहीं ला सके तो उसको क्या कहेंगे? महावीर कहेंगे? यह नॉलेज की शक्ति किसलिए मिली है? मायाजीत बनने के लिए मिली है ना! कि समय बीत जाने के बाद प्वाइंट याद करेंगे, करना तो यह था, सोचा तो यह था। तो यह चेक करो। अभी फोर्स का कोर्स कहाँ तक किया है! कोर्स कराने के लिए सब तैयार हो ना! ऐसा कोई है जो कोर्स नहीं करा सकता! सभी करा सकते हैं और बहुत प्यार से अच्छे रूप से कोर्स कराते हो। बापदादा देखते हैं कि बहुत प्यार से, अथक बन करके, लगन से करते और कराते हो। बहुत अच्छे प्रोग्राम्स करते हो। तन-मन-धन लगाते हो। तब तो इतनी वृद्धि हुई है। यह तो बहुत अच्छा करते हो। लेकिन अभी समय प्रमाण यह तो पास कर लिया। बचपन पूरा हुआ ना, अब युवा अवस्था में हो वा वानप्रस्थ में हो। कहाँ तक पहुँचे हो? इस ग्रुप में मैजारटी नये-नये हैं। लेकिन विदेश सेवा के इतने वर्ष पूरे हुए तो अभी बचपन नहीं, अभी युवा तक पहुँच गये हो। अब फोर्स का कोर्स करो और कराओ।

ऐसे भी यूथ में शक्ति बहुत होती है। यूथ आयु बहुत शक्तिशाली होती है। जो चाहे वह कर सकते हैं इसलिए देखो आजकल की गवर्मेन्ट भी यूथ से घबराती है क्योंकि यूथ ग्रुप में लौकिक रूप से बुद्धि की भी शक्ति है तो शरीर की भी शक्ति है। और यहाँ तोड़-फोड़ करने वाले नहीं हैं। बनाने वाले हैं। वह जोश वाले हैं और यहाँ शान्त स्वरूप आत्मायें हैं। बिगड़ी को बनाने वाली हैं। सबके दु:ख दूर करने वाले हैं। वह दु:ख देने वाले हैं और आप दु:ख दूर करने वाले हो। दु:ख हर्ता सुख कर्ता। जैसे बाप वैसे बच्चे। सदा हर संकल्प, हर आत्मा के प्रति वा स्व के प्रति सुख-दाई संकल्प है क्योंकि दु:ख की दुनिया से निकल गये। अभी दु:ख की दुनिया में नहीं हो। दु:खधाम से संगमयुग में पहुँच गये हो। पुरुषोत्तम युग में बैठे हो। वह कलियुगी यूथ हैं। आप संगमयुगी यूथ हो इसलिए अभी यह सदा अपने में नॉलेज को शक्ति के रूप में धारण करो भी और कराओ भी। जितना स्वयं फोर्स का कोर्स किया हुआ होगा उतना दूसरे को भी करायेंगे। नहीं तो सिर्फ प्वाइंट का कोर्स कराते हैं। अब कोर्स को फिर से रिवाइज करना, एक-एक प्वाइंट में क्या-क्या शक्ति है, कितनी शक्ति है, किस समय कौन-सी शक्ति को किस रूप से यूज कर सकते हैं, यह ट्रेनिंग स्वयं को स्वयं भी दे सकते हो। तो यह चेक करो-आत्मा के प्वाइंट रूपी शक्तिशाली शस्त्र सारे दिन में प्रैक्टिकल कार्य में लाया? अपनी ट्रेनिंग आपे ही कर सकते हो क्योंकि नॉलेजफुल तो हैं ही। आत्मा के प्रति प्वाइंट्स निकालने के लिए कहें तो कितनी प्वाइंट्स निकालेंगे! बहुत हैं ना! भाषण करने में तो होशियार हो। लेकिन एक-एक प्वाइंट को देखो परिस्थिति के समय कहाँ तक कार्य में लाते हैं। यह नहीं सोचो वैसे तो ठीक रहते, लेकिन ऐसी बात हो गई, परिस्थिति आई तब ऐसे हुआ। शस्त्र किसलिए होता है? जब दुश्मन आता है उसके लिए होता है या दुश्मन आ गया इसलिए मैं हार गया! माया आ गई इसलिए डगमग हो गये! लेकिन माया (दुश्मन) के लिए ही तो शस्त्र हैं ना! शक्तियाँ किसलिए धारण की हैं? समय पर विजय पाने के लिए शक्तिशाली बने हो ना! तो समझा क्या करना है? आपस में अच्छी रूह-रूहाण करते रहते हैं। बापदादा को सब समाचार मिलता है। बाप-दादा तो बच्चों का यह उमंग देख खुश होते हैं, पढ़ाई से प्यार है। बाप से प्यार है। सेवा से प्यार है लेकिन कभी-कभी जो नाजुक बन जाते हैं, शस्त्र छूट जाते हैं, उस समय इन्हों की फिल्म निकाल फिर इन्हों को ही दिखानी चाहिए। होता थोड़े टाइम के लिए ही है, ज्यादा नहीं होता लेकिन फिर भी लगातार अर्थात् सदा निर्विघ्न रहना और विघ्न निर्विघ्न चलता रहे, फर्क तो है ना! धागे में जितना गाँठ पड़ती है उतना धागा कमजोर होता है। जुड़ तो जाता है लेकिन जुड़ी हुई चीज और साबुत चीज़ में फर्क तो होता है ना। जोड़ वाली चीज़ अच्छी लगेगी? तो यह विघ्न आया फिर निर्विघ्न बने फिर विघ्न आवे, टूटा जोड़ा तो जोड़ तो हुआ ना इसलिए भी इसका प्रभाव अवस्था पर पड़ता है।

कोई बहुत अच्छे तीव्र पुरूषार्थी भी हैं। नॉलेजफुल, सर्विसएबुल भी हैं। बापदादा, परिवार की नज़रों में भी हैं लेकिन जोड़ तोड़ होने वाली आत्मा सदा शक्तिशाली नहीं रहेगी। छोटी-छोटी बात पर उसको मेहनत करनी पड़ेगी। कभी सदा हल्के, हर्षित खुशी में नाचने वाले होंगे। लेकिन ऐसे सदा नज़र नहीं आयेंगे। होंगे महारथी की लिस्ट में लेकिन ऐसे संस्कार वाले कमजोर जरूर रहते हैं। इसका कारण क्या होता है? यह तोड़ने जोड़ने के संस्कार उनको अन्दर से कमजोर कर देते हैं। बाहर से कोई बात नहीं होगी। बहुत अच्छे दिखाई देंगे इसलिए यह संस्कार कभी नहीं बनाना। यह नहीं सोचना माया आ गई। चल तो रहे हैं। लेकिन ऐसे चलना, कभी तोड़ना कभी जुड़ना यह क्या हुआ? सदा जुटा रहे, सदा निर्विघ्न रहे, सदा हर्षित, सदा छत्रछाया में रहे वह और यह जीवन में अन्तर है ना इसलिए बापदादा कहते हैं कोई-कोई की जन्म-पत्री का कागज़ बिल्कुल ही साफ है। कोई-कोई का बीच-बीच में दाग है। भले दाग मिटाते हैं लेकिन वह भी दिखाई तो देते हैं ना। दाग हो ही नहीं। साफ कागज और दाग मिटाया हुआ कागज…अच्छा क्या लगेगा? साफ कागज़ रखने का आधार बहुत सहज है। घबरा नहीं जाना कि यह तो बड़ा मुश्किल है। नहीं। बहुत सहज है क्योंकि समय समीप आ रहा है। समय को भी विशेष वरदान मिले हुए हैं। जितना जो पीछे आता है उसको समय प्रमाण एकस्ट्रा लिफ्ट की गिफ्ट भी मिलती है। और अब तो अव्यक्त रूप का पार्ट है ही वरदानी पार्ट। तो समय की भी आपको मदद है। अव्यक्ति पार्ट की, अव्यक्त सहयोग की भी मदद है। फास्ट गति का समय है, इसकी भी मदद है। पहले इन्वेन्शन निकलने में समय लगा। अभी बना बनाया है। आप बने बनाये पर पहुँचे हो। यह भी वरदान कम नहीं है। जो पहले आये उन्हों ने माखन निकाला, आप लोग माखन खाने पर पहुँच गये। तो वरदानी हो ना! सिर्फ थोड़ा-सा अटेन्शन रखो। बाकी कोई बड़ी बात नहीं है। सभी प्रकार की मदद आपके साथ है। अभी आप लोगों को महारथी निमित्त आत्माओं की जितनी पालना मिलती है उतनी पहले वालों को नहीं मिली। एक-एक से कितनी मेहनत करते टाइम देते हैं। पहले जनरल पालना मिली। लेकिन आप तो सिकीलधे बन पल रहे हो। पालना का रिटर्न भी देने वाले हो ना। मुश्किल नहीं है। सिर्फ एक-एक बात को शक्ति के रूप से यूज़ करने का अटेन्शन रखो। समझा! अच्छा!

सदा महावीर बन विजय छत्रधारी आत्मायें, सदा ज्ञान की शक्ति को समय प्रमाण कार्य में लाने वाली, सदा अटल, अचल अखण्ड स्थिति धारण करने वाली, सदा स्वयं को मास्टर सर्वशक्तिवान अनुभव करने वाली, ऐसी श्रेष्ठ सदा मायाजीत विजयी बच्चों को बापदादा का यादप्यार और नमस्ते।

दादियों से:- अनन्य रत्नों के हर कदम में स्वयं को तो पदमों की कमाई है लेकिन औरों को भी पदमों की कमाई है। अनन्य रत्न सदा ही हर कदम में आगे बढ़ते ही रहते हैं। अनादि चाबी मिली हुई है। आटोमेटिक चाबी है। निमित्त बनना अर्थात् आटोमेटिक चाबी लगाना। अनन्य रत्नों को अनादि चाबी से आगे बढ़ना ही है। आप सबके हर संकल्प में सेवा भरी हुई है। एक निमित्त बनता है अनेक आत्माओं को उमंग-उत्साह में लाने के। मेहनत नहीं करनी पड़ती लेकिन निमित्त को देखने से ही वह लहर फैल जाती है। जैसे एक दो को देखकर रंग लग जाता है ना। तो यह आटोमेटिक उमंग उत्साह की लहर औरों के भी उमंग-उत्साह को बढ़ाती है। वैसे भी कोई अच्छी डांस करता है तो देखने वालों के पांव नाचने लग जाते हैं, लहर फैल जाती है। तो न चाहते भी हाथ पांव चलने लगते हैं। अच्छा!

मधुबन की सब करोबार ठीक है। मधुबन निवासियों से मधुबन सजा हुआ है। बापदादा तो निमित्त बच्चों को देख सदा निश्चिन्त हैं क्योंकि बच्चे कितने होशियार हैं। बच्चे भी कम नहीं हैं। बाप का बच्चों में पूरा फेथ है तो बच्चे बाप से भी आगे हैं। निमित्त बने हुए सदा ही बाप को भी निश्चिन्त करने वाले हैं। ऐसे चिन्ता तो है भी नहीं फिर भी बाप को खुशखबरी सुनाने वाले हैं। ऐसे बच्चे कहाँ भी नहीं होंगे जो एक-एक बच्चा एक दो से आगे हो, हरेक बच्चा विशेष हो। कोई के इतने बच्चे ऐसे नहीं हो सकते। कोई लड़ने वाला होगा, कोई पढ़ने वाला होगा। यहाँ तो हरेक विशेष मणियाँ हो, हरेक की विशेषता है।

वरदान:- पवित्रता की शक्तिशाली दृष्टि वृत्ति द्वारा सर्व प्राप्तियां कराने वाले दु:ख हर्ता सुख कर्ता भव
साइंस की दवाई में अल्पकाल की शक्ति है जो दु:ख दर्द को समाप्त कर लेती है लेकिन पवित्रता की शक्ति अर्थात् साइलेन्स की शक्ति में तो दुआ की शक्ति है। यह पवित्रता की शक्तिशाली दृष्टि वा वृत्ति सदाकाल की प्राप्ति कराने वाली है इसलिए आपके जड़ चित्रों के सामने ओ दयालू, दया करो कहकर दया वा दुआ मांगते हैं। तो जब चैतन्य में ऐसे मास्टर दु:ख हर्ता सुख कर्ता बन दया की है तब तो भक्ति में पूजे जाते हो।
स्लोगन:- समय की समीपता प्रमाण सच्ची तपस्या वा साधना है ही बेहद का वैराग्य।

 

सूचनाः-आज मास का तीसरा रविवार है, सभी संगठित रूप में सायं 6.30 से 7.30 बजे तक अन्तर्राष्ट्रीय योग में सम्मिलित हो, अपने को अवतरित हुई अवतार आत्मा हूँ, इस स्मृति से शरीर में प्रवेश करें और शरीर से न्यारे हो जाएं। अपने बीज स्वरूप स्थिति में बैठ परमात्म शक्तियों को वायुमण्डल में फैलाने की सेवा करें।

TODAY MURLI 15 DECEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 15 December 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 14 December 2018 :- Click Here

15/12/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you have to serve through your royal behaviour and make your intellects refined by following shrimat. You also have to give r egard to the mothers.
Question: Which task is only the one Father’s and not that of any human being?
Answer: To establish peace in the whole world is the Father’s task. No matter how many peace conferences etc. people have, there cannot be peace. When the Father, the Ocean of Peace, makes you children promise to remain pure, peace then become established. Only in the pure world is there peace. When you children explain this aspect very tactfully and with great pomp, the Father’s name will be glorified.
Song: I am a small child and You are the Almighty Authority!

Om shanti. This song is sung on the path of devotion because, on the one side, there is the influence of devotion and on the other side, there is the influence of knowledge. There is the difference of day and night between devotion and knowledge. What is the difference? This is very easy. Devotion is the night and knowledge is the day. In devotion, there is sorrow. When devotees become unhappy, they call out to God. God then has to come to remove the sorrow of those who are unhappy. So, you ask the Father: Is there a mistake in the drama? The Father says: Yes, the big mistake is that you forget Me. Who makes you forget? Maya, Ravan. The Father sits here and explains: Children, this play is predestined. Heaven and hell exist in Bharat. It is only in Bharat that people say when someone dies that he has become a resident of Paradise. They don’t know when heaven or Paradise exists. When it is heaven, human beings surely take rebirth in heaven. It is now hell and so, until heaven is established, they would surely take rebirth in hell. People don’t know these things. One is the Godly community, that is, the community of Rama, and the other is the community of Ravan. In the golden and silver ages, there is the community of Rama. They don’t have any sorrow; they live in the cottage that is free from sorrow. Then, after half the cycle, the kingdom of Ravan begins. The Father is now once again establishing the original, eternal, deity religion. That is the most elevated religion. There are all religions. They are holding a conference of the religions. Those of all the innumerable religions come to Bharat and hold conferences. However, what conferences would the people of Bharat who don’t believe in religion have? In fact, the ancient religion of Bharat is the original, eternal, deity religion. There is no such thing as the Hindu religion. The highest of all is the deity religion. The law says that those of the most elevated religion should be made to sit on the gaddi. Who should be made to sit in front? Sometimes, they even quarrel over this (the seat). There was once a fight over this at the Kumbh mela. One group said that they should go first and another group said that they should go first. They quarrelled over this. You children should now explain at this conference which religion is the highest of all. They don’t know that. The Father tells you that the original eternal religion was the deity religion which disappeared and that they therefore began to call themselves Hindus. Those who live in China would not say that their religion is Chinese. They make whomever they regard as the most important person the principal one and make him sit on the gaddi. According to the law, not that many can come to the conference. Only religious heads are invited. Many then argue about things. There is no one to give them advice. You are the ones who belong to the highest-on-high deity religion. You are now establishing the deity religion. Only you can say that the head of Bharat’s main religion, which is the mother and father of all religions, should be made the main person for this conference. He should be the one seated on the main chair. All the rest are below him. So the intellects of the main children should work on this. God sits and explains to Arjuna. That one is Sanjay. Arjuna is a charioteer. The Father is the One riding in the chariot, but people think that He changed His form, entered the body of Krishna and gave knowledge. However, it was not like that. There is now also Prajapita. This can be explained very clearly using the picture of the Trimurti. You definitely need the image of Shiv Baba above the Trimurti. That is the creation of the subtle region. You children understand that Vishnu is the sustainer. Prajapita Brahma is the one who establishes. Therefore, his picture is also needed. This is something to be understood. It enters your intellects that there is definitely Prajapita Brahma. Vishnu is also needed. The one through whom He establishes will also be the one through whom He sustains. He carries out establishment through Brahma. Together with Brahma, there is also Saraswati and many children. In fact, this one is also becoming pure from impure. So, the head of the conferenceshould be Jagadamba, the head of the original eternal deity religion, because there is a lot of regard for the mothers. A very big mela takes place for Jagadamba. She is the daughter of Jagadpita. The original eternal deity religion is now being established. The Gita episode is being repeated ; that is, the same Mahabharat War is in front of us. The Father says: I come every cycle at the confluence age of the cycle to make the corrupt world elevated. Jagadamba has been remembered as the Goddess of K nowledge. Together with her, there are also the Ganges of knowledge. You can ask them: Whom did you receive this knowledge from? Knowledge-full God, the Father , is only One. How is He able to give you knowledge? He definitely has to take a body. So, He speaks through the lotus mouth of Brahma. These mothers will sit there and explain. At the conference, they should know what the greatest religion is. No one believes that we belong to the original eternal deity religion. The Father says: When this religion has disappeared, I come and establish it once again. The deity religion doesn’t exist now. The other three religions are continuing to grow. So, surely, the deity religion has to be established once again. Then, none of those religions will remain. The Father comes to establish the original eternal deity religion. Only you daughters can tell them how peace is established. The Supreme Father, the Supreme Soul, is the Ocean of Peace. So, He would surely establish peace. He is the Ocean of Knowledge and the Ocean of Happiness. People sing: O Purifier, come! Come and make Bharat into the pure kingdom of Rama. He alone will make it peaceful. This is the task of the Father alone. You claim an elevated status by following His directions. The Father says: Those who belong to Me and who study Raja Yoga and make a promise for purity, by saying: Baba, I will become pure and claim the inheritance for 21 births, will become the masters. They will become pure from impure. Lakshmi and Narayan are pure beings, the most elevated of all. The pure world is now being established once again. You are holding a conference for peace, but human beings will not bring about peace. That is the task of the Father, the Ocean of Peace. Eminent people attend conferences. Many become delegates and so they have to be advised. Father shows son. The grandchildren of Shiv Baba and the children of Brahma are goddesses of knowledgeGod gave them knowledge. Human beings study the knowledge of the scriptures. If you explain with such pomp, they will enjoy themselves a great deal. You definitely have to create a method. On the one side is their conference and on the other side is your conference with a lot of pomp. The pictures too are very clear and people will understand very quickly from them. Their occupation s are different and that One’s occupation is different. It isn’t that all are the same; no. The parts of all the religions are different. They get together and carry on working for peace. They say: Religion is might. However, who is the one who has the most power? He is the One who comes and establishes the foremost deity religion. Only you children know this. Day by day, you children continue to receive points. You should also have the powerto explain them. A yogi would have very good power. Baba says: I only love gyani souls. This doesn’t mean that He doesn’t love yogi souls. Those who are gyani would surely also be yogi. You have yoga with the Supreme Father, the Supreme Soul. Without yoga, there cannot be dharna. Those who don’t have yoga don’t have dharna either because they have a lot of body consciousness. The Father explains: You have to change your devilish intellects into divine intellects. It is God, the Father, who makes those with stone intellects into those with divine intellects. Ravan comes and makes you into those with stone intellects. Their name is the devilish community. They say in front of the deity idols: I have no virtues. I am lustful, a cheat. You mothers can explain very well. You have to have that much enthusiasm and courage to share knowledge. You have to explain such things in the big gatherings. Mama is the Goddess of Knowledge. Brahma is never called the God of Knowledge. Saraswati’s name is remembered. Whatever someone’s name is, that name is kept. The name of the mothers has to be glorified. Some brothers have a lot of body consciousness. They think: Are we Brahma Kumars not gods of knowledge? Oh! but Brahma himself does not call himself the G od of K nowledge. The mothers have to be given a lot of regard. It is these mothers who will change your lives. They are the ones who change human beings into deities. There are mothers and also kumaris. No one understands the secret of “half-kumari”. Although they are married, they are Brahma Kumaris. These things are so wonderful! Those who are to claim the inheritance from the Father do understand this, but what would those who don’t have it in their fortune understand? Status is definitely numberwise. There, some will be maids and servants whereas others will be subjects; subjects too are needed. The human world will continue to expand and so subjects will also continue to increase. Those who consider themselves to be the main ones should remain ready for when such conferences take place. Those who don’t have knowledge are like young ones; they don’t have that much of an intellect (wisdom). Although they may be older physically, they don’t have that much of an intellect; they are still young. The intellects of some are very good. Everything depends on the intellect. Even young ones go ahead. Some have a lot of sweetness in their way of explaining. They speak in a very royal manner. It would be understood that that one is a refined child. One is still revealed through one’s behaviour. The behaviour of you children should be very royal. You shouldn’t perform any “unroyal  task. Those who defame the name cannot claim a high status. When some of you defame Shiv Baba’s name, the Father also has the right to tell you. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Night class:

You children now understand that you are embodied souls who are sitting personally in front of the Supreme Father, the Supreme Soul. This is called an auspicious meeting. It is remembered: “God Vishnu is the one who brings auspicious omens.” There are now the auspicious omens of the meeting. God gives you the inheritance of the Vishnu clan. This is why He is called God Vishnu, the one who brings auspicious omens. The meeting, when the Father meets you living human beings, is very beautiful. You also understand that you have now become the children of God in order to claim the inheritance from God. You children know that, after receiving the inheritance from God, you receive the inheritance of deities, that is, you take rebirth in heaven. Therefore, the mercury of happiness of you children should remain high. There is no one as happy or as fortunate as you children. There cannot be anyone in the world as fortunate as the Brahmin clan. The Vishnu clan is the second number. That is the lap of the deities. You now have God’s lap which is higher. The Dilwala Temple is the temple of God’s lap. Similarly, there is also the Amba Temple. That temple doesn’t give as much of a vision of the confluence age. The Dilwala Temple gives a vision of the confluence age. Other human beings cannot have as much understanding as you children have. Even the deities don’t have the understanding that you Brahmins have. You are the confluence-aged Brahmins. Those people sing praise of the Brahmins of the confluence age. It is said: Brahmins then become deities. Salutations to such Brahmins! It is only Brahmins who do the service of changing hell into heaven. Baba says namaste to such children (Brahmins). Achcha. Good night.

Essence for dharna:

  1. In order to be loved by God, become gyani and yogi. Don’t be body conscious.
  2. Have the enthusiasm and courage to speak knowledge. Show (reveal) the Father through your behaviour. Speak with great sweetness.
Blessing: May you be an intense effort-maker who uses the powers of the mind and speech accurately and powerfully.
Intense effort-makers, that is, the children who are going to go into the first division use the power of thought and the power of speech accurately and powerfully. They are not loose in this. They always remember the slogan: Speak less, speak gently speak sweetly. Their every word is yogyukt and yuktiyukt. They only speak words which are necessary and do not waste their energy in speaking wasteful words or words of expansion. They always stay in solitude.
Slogan: A complete destroyer of attachment is one who even renounces any right to the consciousness of “mine”.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 15 DECEMBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 15 December 2018

To Read Murli 14 December 2018 :- Click Here
15-12-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
”मीठे बच्चे – अपनी रॉयल चलन से सेवा करनी है, श्रीमत पर बुद्धि को रिफाइन बनाना है, माताओं का रिगॉर्ड रखना है”
प्रश्नः- कौन-सा कर्तव्य एक बाप का है, किसी मनुष्य का नहीं?
उत्तर:- सारे विश्व में पीस स्थापन करना, यह कर्तव्य बाप का है। मनुष्य भल कितनी भी कान्फ्रेन्स आदि करते रहें पीस हो नहीं सकती। शान्ति का सागर बाप जब बच्चों से पवित्रता की प्रतिज्ञा कराते हैं तब पीस स्थापन होती है। पवित्र दुनिया में ही शान्ति है। तुम बच्चे यह बात सबको बड़ी युक्ति से और भभके से समझाओ तब बाप का नाम बाला हो।
गीत:- मैं एक नन्हा सा बच्चा हूँ…….. 

ओम् शान्ति। यह गीत तो भक्ति मार्ग का गाया हुआ है क्योंकि एक तरफ भक्ति का प्रभाव है दूसरे तरफ अब ज्ञान का प्रभाव है। भक्ति और ज्ञान में रात-दिन का फ़र्क है। कौन-सा फ़र्क है? यह तो बहुत सहज है। भक्ति है रात और ज्ञान है दिन। भक्ति में है दु:ख, जब भक्त दु:खी होते हैं तो भगवान् को पुकारते हैं। फिर भगवान् को आना पड़ता है दु:खियों का दु:ख दूर करने। फिर बाप से पूछा जाता है – ड्रामा में क्या कोई भूल है? बाप कहते हैं – हाँ, बड़ी भूल है, जो तुम मुझे भूल जाते हो। कौन भुलाते हैं? माया रावण। बाप बैठ समझाते हैं – बच्चे, यह खेल बना हुआ है। स्वर्ग और नर्क होता तो भारत में ही है। भारत में ही कोई मरता है तो कहते हैं बैकुण्ठवासी हुआ। यह तो जानते नहीं कि स्वर्ग अथवा बैकुण्ठ कब होता है? जब स्वर्ग होता है तो मनुष्य पुनर्जन्म जरूर स्वर्ग में ही लेंगे। अभी तो है ही नर्क तो पुनर्जन्म भी जरूर नर्क में ही लेंगे, जब तक स्वर्ग की स्थापना हो। मनुष्य यह बातें नहीं जानते हैं। एक है ईश्वरीय अथवा राम सम्प्रदाय, दूसरा है रावण सम्प्रदाय। सतयुग-त्रेता में है राम सम्प्रदाय, उनको कोई दु:ख नहीं है। अशोक वाटिका में रहते हैं। फिर आधाकल्प बाद रावण राज्य शुरू होता है। अब बाप फिर से आदि सनातन देवी-देवता धर्म स्थापन करते हैं। वह है सबसे सर्वोत्तम धर्म। धर्म तो सब हैं ना। धर्मों की कान्फ्रेन्स होती है। भारत में अनेक धर्म वाले आते हैं, कान्फ्रेन्स करते हैं। अब जो भारतवासी धर्म को मानने वाले ही नहीं, वह कान्फ्रेन्स क्या करेंगे? वास्तव में भारत का प्राचीन धर्म तो है ही आदि सनातन देवी-देवता धर्म। हिन्दू धर्म तो है नहीं। सबसे ऊंच है देवी-देवता धर्म। अब कायदा कहता है सबसे ऊंच ते ऊंच धर्म वाले को गद्दी पर बिठाना चाहिए। सबसे आगे किसको बिठायें? इस पर भी कभी उन्हों का झगड़ा लग पड़ता है। जैसे एक बार कुम्भ के मेले में झगड़ा हो गया था। वह कहे पहले हमारी सवारी चले, वह कहे पहले हमारी। लड़ पड़े थे। तो अब इस कान्फ्रेन्स में बच्चों को यह समझाना है कि ऊंच ते ऊंच कौन-सा धर्म है? वह तो जानते नहीं। बाप कहते हैं आदि सनातन है ही देवी-देवता धर्म। जो अब प्राय: लोप हो गया है और अपने को हिन्दू कहलाने लग पड़े हैं। अब चीन में रहने वाले अपना धर्म चीन तो नहीं कहेंगे, वो लोग तो जिसको नामीग्रामी देखते हैं उनको मुख्य करके बिठा देते हैं। कायदे अनुसार कान्फ्रेन्स में बहुत तो आ नहीं सकते। सिर्फ रिलीजन के हेड्स को ही निमंत्रण दिया जाता है। बहुतों से फिर बहुत बोलचाल हो जाता है। अब उन्हों को राय देने वाला तो कोई है नहीं। तुम हो ऊंच ते ऊंच देवी-देवता धर्म वाले। अब देवता धर्म की स्थापना कर रहे हो। तुम ही बता सकते हो भारत का जो मुख्य धर्म है, जो सब धर्मों का माई-बाप है उनके हेड को इस कान्फ्रेन्स में मुख्य बनाना चाहिए। गद्दी नशीन उनको करना चाहिए। बाकी तो सब हैं उनके नीचे। तो मुख्य बच्चे जो हैं उनकी बुद्धि चलनी चाहिए।

भगवान् अर्जुन को बैठ समझाते हैं। संजय यह है। अर्जुन तो है रथी। उनमें रथवान है बाप, वह समझते हैं रूप बदलकर कृष्ण के तन में आकर ज्ञान दिया है। परन्तु ऐसे तो है नहीं। अब प्रजापिता भी है, त्रिमूर्ति के ऊपर बहुत अच्छी रीति समझाया जा सकता है। त्रिमूर्ति के ऊपर शिवबाबा का चित्र जरूर चाहिए। वह है सूक्ष्मवतन की रचना। बच्चे समझते हैं यह विष्णु है पालनकर्ता। प्रजापिता ब्रह्मा है स्थापन कर्ता। तो उनका भी चित्र चाहिए। यह बड़ी समझ की बात है। बुद्धि में रहता है प्रजापिता ब्रह्मा जरूर है। विष्णु भी तो चाहिए। जिससे स्थापना करायेंगे उससे ही पालना भी करायेंगे। स्थापना कराते हैं ब्रह्मा से। ब्रह्मा के साथ सरस्वती आदि बहुत बच्चे हैं। वास्तव में यह भी पतित से पावन बन रहे हैं। तो कान्फ्रेन्स में आदि सनातन देवी-देवता धर्म की हेड जगदम्बा होनी चाहिए क्योंकि माताओं का बहुत मान है। जगत अम्बा का मेला बड़ा भारी लगता है। वह है जगत पिता की बेटी। अब आदि सनातन देवी-देवता धर्म की स्थापना हो रही है। गीता एपीसोड रिपीट हो रहा है। यह वही महाभारत की लड़ाई सामने खड़ी है। बाप भी कहते हैं मैं कल्प-कल्प, कल्प के संगमयुग पर आता हूँ, भ्रष्टाचारी दुनिया को श्रेष्ठाचारी बनाने। जगत अम्बा गॉडेज ऑफ नॉलेज गाई हुई है। उनके साथ ज्ञान गंगायें भी हैं। उनसे पूछ सकते हैं कि उनको यह नॉलेज कहाँ से मिली हुई है! नॉलेजफुल गॉड फादर तो एक ही है, वह नॉलेज कैसे दे? जरूर उनको शरीर लेना पड़े। तो ब्रह्मा मुख कमल से सुनाते हैं। ये मातायें बैठ समझायेंगी। कान्फ्रेन्स में उन्हों को यह मालूम होना चाहिए ना कि बड़ा धर्म कौन-सा है? यह तो कोई समझते ही नहीं कि हम आदि सनातन देवी-देवता धर्म के हैं। बाप कहते हैं यह धर्म जब प्राय: लोप हो जाता है तो मैं आकर फिर स्थापन करता हूँ। अभी देवता धर्म है नहीं। बाकी 3 धर्मों की वृद्धि होती जा रही है। तो जरूर देवी-देवता धर्म फिर से स्थापन करना पड़े। फिर यह सब धर्म रहेंगे ही नहीं। बाप आते ही हैं आदि सनातन देवी-देवता धर्म की स्थापना करने। तुम बच्चियां ही बता सकती हो कि पीस कैसे स्थापन हो सकती है? शान्ति का सागर तो है ही परमपिता परमात्मा। तो पीस जरूर वही स्थापन करेंगे। ज्ञान का सागर, सुख का सागर वही है। गाते भी हैं पतित-पावन आओ, आकर के भारत को पावन रामराज्य बनाओ। पीसफुल तो वही बनायेंगे। यह बाप का ही कर्तव्य है। तुम उनकी मत पर चलने से श्रेष्ठ पद पाते हो। बाप कहते हैं जो मेरे बनेंगे, राजयोग सीखेंगे और पवित्रता की प्रतिज्ञा करेंगे कि बाबा हम पवित्र बन 21 जन्मों का वर्सा लेंगे वही मालिक बनेंगे, पतित से पावन बनेंगे। पावन हैं लक्ष्मी-नारायण सबसे ऊंच। फिर अभी पावन दुनिया की स्थापना हो रही है। तुम पीस के लिए कान्फ्रेन्स कर रहे हो परन्तु मनुष्य थोड़ेही पीस करेंगे। यह तो शान्ति के सागर बाप का काम है। कान्फ्रेन्स में बड़े आदमी आते हैं, बहुत मेम्बर्स बनते हैं तो उन्हों को राय भी देनी पड़े। फादर शोज़ सन। शिवबाबा के पोत्रे ब्रह्मा के बच्चे हैं गॉडेज ऑफ नॉलेज। उनको गॉड ने नॉलेज दी है। मनुष्य तो शास्त्रों की नॉलेज पढ़ते हैं। ऐसे भभके से समझाओ तो बड़ा मजा हो। युक्ति जरूर रचनी पड़ती है। एक तरफ उन्हों की कान्फ्रेन्स हो और दूसरे तरफ फिर तुम्हारी भी भभके से कान्फ्रेन्स हो। चित्र भी क्लीयर हैं, जिनसे झट समझ जायेंगे। उनका आक्यूपेशन अलग है, उनका अलग है। ऐसे थोड़ेही सब एक ही एक हैं। नहीं। सभी धर्मों का पार्ट अलग-अलग है। शान्ति के लिए मिल करके कार्य करते हैं, कहते हैं रिलीजन इज़ माइट। परन्तु सबसे ताकत वाला कौन? वही आकरके पहला नम्बर देवी-देवता धर्म की स्थापना करते हैं। यह तुम बच्चे ही जानते हो। दिन-प्रतिदिन तुम बच्चों को प्वाइन्ट्स मिलती रहती हैं। समझाने की पॉवर भी है। योगी की पॉवर अच्छी होगी। बाबा कहते ज्ञानी तू आत्मा ही मुझे प्रिय हैं। ऐसे नहीं कि योगी प्रिय नहीं हैं। जो ज्ञानी होंगे वह योगी भी जरूर होंगे। योग परमपिता परमात्मा के साथ रखते हैं। योग बिगर धारणा नहीं होगी। जिनका योग नहीं है तो धारणा भी नहीं है क्योंकि देह-अभिमान बहुत है। बाप तो समझाते हैं – आसुरी बुद्धि को दैवी बुद्धि बनाना है। पत्थरबुद्धि को पारस बुद्धि बनाने वाला बाप ईश्वर है। रावण आकरके पत्थरबुद्धि बनाते हैं। उन्हों का नाम ही है आसुरी सम्प्रदाय। देवताओं के आगे कहते हैं हमारे में कोई गुण नाही, हम कामी कपटी हैं। तुम मातायें अच्छी रीति समझा सकती हो। मुरली चलाने का इतना हौंसला चाहिए। बड़ी-बड़ी सभाओं में ऐसी-ऐसी बातें करनी पड़े। मम्मा है गॉडेज ऑफ नॉलेज। ब्रह्मा को कभी गॉड ऑफ नॉलेज नहीं कहा जाता है। सरस्वती का नाम गाया हुआ है। जिसका जो नाम है वही रखते हैं। माताओं का नाम बाला करना है। कई गोपों को बहुत देह-अभिमान है। समझते हैं हम ब्रह्माकुमार गॉड आफ नॉलेज नहीं हैं क्या! अरे, खुद ब्रह्मा ही अपने को गॉड आफ नॉलेज नहीं कहते। माताओं का बहुत रिगॉर्ड रखना पड़े। यह मातायें ही जीवन पलटाने वाली हैं। मनुष्य से देवता बनाने वाली हैं। मातायें भी हैं, कन्यायें भी हैं। अधर कुमारी का राज़ तो कोई समझते नहीं हैं। भल शादी की हुई है तो भी ब्रह्माकुमारियां हैं। यह बड़ी वन्डरफुल बातें हैं। जिन्हों को बाप से वर्सा लेना है वह समझते हैं। बाकी जिनकी तकदीर में नहीं है वह क्या समझेंगे, नम्बरवार दर्जे जरूर हैं। वहाँ भी कोई दास-दासियां होंगे, कोई प्रजा होंगे। प्रजा भी चाहिए। मनुष्य सृष्टि वृद्धि को पाती रहेगी तो प्रजा भी वृद्धि को पाती रहेगी। तो ऐसी-ऐसी कान्फ्रेन्स जो होती हैं उसके लिए जो अपने को मुख्य समझते हैं उनको तैयार रहना चाहिए। जिनमें ज्ञान नहीं है वह जैसे छोटे ठहरे। इतनी बुद्धि नहीं। देखने में भल बड़े हैं परन्तु बुद्धि नहीं है, वह छोटे हैं। कोई-कोई की बुद्धि बड़ी अच्छी है। सारा मदार बुद्धि पर है। छोटे-छोटे भी तीखे चले जाते हैं। कोई की समझानी में बड़ा मिठास होता है। बातचीत बड़ी रायॅल करते हैं। समझेंगे यह रिफाइन बच्चे हैं। चलन से भी शो होता है ना। बच्चों की चलन बहुत रायॅल होनी चाहिए। कोई अनरॉयल काम नहीं करना चाहिए। नाम बदनाम करने वाले ऊंच पद पा नहीं सकते। शिवबाबा का नाम बदनाम करते हैं तो बाप का भी हक है समझाने का। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

रात्रि क्लास –

अब तुम बच्चे समझते हो कि हम जीव आत्मायें परमपिता परमात्मा के सम्मुख बैठे हैं। इसको ही मंगल मिलन कहा जाता है। गाया जाता है ना – ‘मंगलम् भगवान् विष्णु’। अभी मंगल है ना, मिलन का। भगवान् वर्सा देते हैं विष्णु कुल का, इसलिए उनको ‘मंगलम् भगवान् विष्णु’ कहा जाता है। जब बाप मिलते हैं जीव आत्माओं से, वह मिलन बड़ा सुन्दर है। तुम भी समझते हो अभी हम ईश्वरीय बच्चे बने हैं, ईश्वर से अपना वर्सा लेने लिए। बच्चे जानते हैं ईश्वर के वर्से बाद दैवी वर्सा मिलता है अर्थात् स्वर्ग में पुनर्जन्म मिलता है। तो तुम बच्चों को खुशी का पारा चढ़ा रहना चाहिए। तुम जैसा खुशनसीब वा सौभाग्यशाली तो कोई नहीं। दुनिया में सिवाए ब्राह्मण कुल के और कोई भी भाग्यशाली हो नहीं सकता। विष्णु कुल सेकेण्ड नम्बर में हो गया। वह दैवी गोद हो जाती। अभी ईश्वरीय गोद है। यह तो ऊंच ठहरे ना। देलवाड़ा मन्दिर ईश्वरीय गोद का मन्दिर है। जैसे अम्बा के भी मन्दिर हैं, वह इतना संगमयुग का साक्षात्कार नहीं कराते हैं, यह देलवाड़ा मन्दिर संगमयुग का साक्षात्कार कराता है। बच्चों को जितनी समझ है उतना और कोई मनुष्य मात्र को हो न सके। जितना तुम ब्राह्मणों को समझ है, उतनी देवताओं को भी नहीं। तुम संगमयुगी ब्राह्मण हो। वह संगमयुगी ब्राह्मणों की महिमा करते हैं। कहते हैं ब्राह्मण सो देवता बनते हैं। ऐसे ब्राह्मणों को नम:। ब्राह्मण ही नर्क को स्वर्ग बनाने की सर्विस करते हैं, ऐसे बच्चों (ब्राह्मणों) को नमस्ते करते हैं। अच्छा! गुडनाइट।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बाप का प्रिय बनने के लिए ज्ञानी और योगी बनना है। देह-अभिमान में नहीं आना है।

2) मुरली चलाने का हौंसला रखना है। अपनी चलन से बाप का शो करना है। बातचीत बड़े मिठास से करनी है।

वरदान:- मन्सा और वाचा की शक्ति को यथार्थ और समर्थ रूप से कार्य में लगाने वाले तीव्र पुरुषार्थी भव
स्लोगन:- तीव्र पुरुषार्थी अर्थात् फर्स्ट डिवीजन में आने वाले बच्चे संकल्प शक्ति और वाणी की शक्ति को यथार्थ और समर्थ रीति से कार्य में लगाते हैं। वे इसमें लूज़ नहीं होते। उन्हें यह स्लोगन सदा याद रहता कि कम बोलो, धीरे बोलो और मधुर बोलो। उनका हर बोल योगयुक्त, युक्तियुक्त होता। वे आवश्यक बोल ही बोलते, व्यर्थ बोल, विस्तार के बोल बोलकर अपनी एनर्जी समाप्त नहीं करते। वे सदा एकान्तप्रिय रहते हैं।

स्लोगन:- सम्पूर्ण नष्टोमोहा वह है जो मेरे पन के अधिकार का भी त्याग कर दे।

Font Resize