daily murli 14 june

TODAY MURLI 14 JUNE 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 14 June 2020

14/06/20
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
22/01/86

BapDadas Hopes are that you become Perfect and Complete.

Today, the Resident of the faraway land has especially come to meet the children who are residents of faraway lands. He has come from so far away to meet you. With what deep love does He come from so far away? BapDada knows the love of you children. On the one hand, you have deep love in your hearts for a meeting and, on the other hand, you also wait patiently to have a meeting with the Father. This is why the Father has come to give you the fruit of your patience in a special form. He has especially come to meet you. BapDada sees and hears at every moment the thoughts of love and the enthusiasm for a meeting in the hearts of all the double-foreign children. Even though you are sitting far away, because of your love, you are close. At every moment, BapDada sees how you children stay awake night after night and catch the love and power through drishti and vibrations. Today, Baba has not come especially to speak a murli. You have heard many murlis. Now, this year, BapDada especially wants to see the visible form, the form of the proof of love for BapDada, the close form of becoming complete and perfect, and the elevated form of elevated thoughts, elevated words, elevated acts, elevated relationships and connections. BapDada wants to see you become the embodiment of what you have heard. He wishes to see the elevated ceremony of the practical transformation. This year, you have celebrated or will celebrate the Golden and Silver Jubilees, but BapDada wants to make a garland of true, flawless, invaluable diamonds. Each and every diamond has to be invaluable and sparkling, so that the sparkle of its light and might is not limited but reaches the unlimited. BapDada has seen the limited thoughts, limited words, limited service and limited relationships of you children for a long time. However, since He is the unlimited Father, there is a need for unlimited service. What would the light of these lamps seem like in front of Him? You now have to become lighthouses and mighthouses. Keep your vision towards the unlimited. Only when your vision becomes unlimited will the world be transformed. The huge task of world transformation has to be completed in a short time. So the speed and the method for the unlimited also have to be fast.

From your attitude, let there be just the one sound echoing into the atmosphere in this land and abroad: Our masters of the unlimited, the masters of the world, the unlimited ones who have a right to the kingdom, the true unlimited servers, our deity souls have come. Now, let this one unlimited sound echo in this land and abroad. Only then will perfection and completion be experienced as close. Do you understand? Achcha.

To all those everywhere who fulfil the elevated feelings and elevated desires, to the souls who are angels and so deities, to the special souls who are always lighthouses and mighthouses in a high stage, to the children with broad and unlimited intellects who understand BapDada’s subtle signals, love, remembrance and namaste from BapDada.

BapDada giving love and remembrance in the form of a message to all the children from this land and abroad:

Seeing the letters of different waves from all the loving, co-operative and powerful children from everywhere, BapDada became merged in the ocean of love. The different waves of each one are elevated according to each one’s own zeal and enthusiasm, and BapDada is pleased to see those waves. You have very good enthusiasm and the plans are also very good. You now have to claim marks from BapDada for putting them into practice and also accumulating in your future account. At this time, BapDada is noting down the marks of every child for the practical course. This year is the special year to claim extra marks for the practical course and practical force. Therefore, whatever signals you have been given from time to time, each one of you should consider them to be for you personally and put them into practice and thereby claim number one. You children from this land and abroad always experience love, you experience being close, whilst sitting at a distance, and always have the enthusiasm to do something, to do one thing or another. Because you have this enthusiasm, you now have a special chance to become the proof of unlimited service and to put this enthusiasm into practice. Therefore, have a race of the flying stage. This year, you have a special chance to claim a number in the race of the flying stage in all four subjects of remembrance, service, becoming an embodiment of divine virtues and also being an embodiment of knowledge and discussing knowledge. Take this special chance. Have a new experience. You like newness, do you not? So, you can bring about this newness and claim a number. Now, this year, you have extra marks for this extra race. You have received extra time. You always receive a reward according to your efforts, but this year is for something extra special. Therefore, become very experienced in the flying stage and continue to move forward and enable others to move forward. The Father is garlanding all of you children with the garland of His arms around your necks. If you have a big heart, it will be easy to come here in the physical form. Where there is a big heart, money automatically comes. The heart brings money from somewhere or other. This is why BapDada doesn’t believe it if you say you have a heart but no money. Those with hearts receive a touching in one way or another and they arrive here. It has to be money earned by making effort. Money received through efforts brings multimillion-fold benefit. You earn it whilst staying in remembrance, do you not? So that is accumulated in the account of remembrance and you also arrive here. Achcha. Each one of you accept love and remembrance, along with the garland of arms, personally by your name and your speciality.

Elevated avyakt versions for the teachers who have come for the Silver Jubilee.

All of you celebrated the Silver Jubilee. However, you have to become goldenaged, not silver. What plans have you made for this year in order to become goldenaged? You make plans for service anyway, but what plans have you made for self-transformation and unlimited transformation? When you say that you will do this, you are just making plans for your own places. However, you are the original instruments and so you are those with the unlimited plans. Does it remain emerged in your intellects that you have to benefit this whole world? Or, do you think that it is for those whose task this is to be concerned about it? Do you ever have thoughts of the unlimited or do you only think about your own place? Your very name is “World Benefactors”. You are not called the benefactors of a particular place. What thoughts do you have for unlimited service? You want to become masters of the unlimited, do you not? You do not want to become masters of a particular state, do you? When this wave is created in you server instrument souls, that wave will then also be created in others. If you people do not have this wave in you, there cannot be the same wave in others. So, always consider yourselves to be unlimited servers and make plans for the unlimited. The first main thing is to check that you are not tied in any way by a limited bondage. Only those who are free from bondage can be successful in unlimited service. This is being revealed here and it will continue to be revealed. So, what speciality will you show this year? You have determined thoughts every year. Whenever there is any such chance, you have determined thoughts and you ask everyone to have a determined thought. So, it has become common to have determined thoughts. They are called determined thoughts but they are in fact just thoughts. If they were determined thoughts, you would not have to have those thoughts a second time. The words “determined thoughts” have become common. Now, whenever you do any such thing, you say, “We shall have a determined thought”, but now invent a new method through which your thinking and doing become equal. Let both the plans and the practice be simultaneous. There are many plans, but there are also problems in the practice: it takes effort. You have to face everything. This happens and will continue to happen. However, when you have the aim, you will constantly continue to move forward in the practical application of it. Now make such a plan in which newness is visible. Otherwise, you get together every year, and you say that everything is still the same. You see one another as being the same. It is not as you would like it to be. It is not to the extent that you like it to be. How can you achieve that? For that, those who take the initiative are Arjuna. When even one person becomes an instrument, there is also zeal and enthusiasm in others. So, all of you have gathered together. Therefore, make a practical plan. There are papers of theory and papers of the practical too. It is true that the fortune of those who have been here from the beginning is elevated anyway. What new things will you now do?

Let there be special attention paid to this: before performing any act, aim to become complete and become a sample. What happens is that there is benefit in a gathering but also loss in a gathering. Seeing one another in a gathering, there is carelessness, and seeing one another in a gathering, there is also zeal and enthusiasm; there are both. So, do not look at the gathering with carelessness. It has now become a system to think: That one is doing it and that one is also doing it, and so what does it matter if I also do it? It continues like that anyway. So, this is loss through carelessness in a gathering. To take co-operation from a gathering in order to become elevated is something different. If you have the aim, “I want to do this,”, or “I have to do this and inspire others to do it”, there will be the zeal and enthusiasm to do something and it will also inspire others to do it. Repeatedly make this aim emerge. If you simply have the aim, that too becomes merged and it therefore doesn’t happen practically. So, from time to time, continue to make your aim emerge. Continue to check the aim against the qualifications and it will then become powerful. Otherwise, it remains ordinary. Now, this year, each one of you has to think: I have to become a simple and make others samples. This household (field) of service continues to increase, but let this household not be an obstacle to progress. If it becomes an obstacle to progress, it cannot be called service. Achcha, this is a very big group. Since even one tiny atom bomb can perform such a wonder, then what can so many atmic (soul conscious) bombs not do? You are the ones who will come onto the stage, are you not? Those of the Golden Jubilee are the backbone, but you are the ones who will come onto the stage in practice. Now, show this by doing something. Just as the gathering of love of the instrument souls of the Golden Jubilee was revealed, and the gathering of that love showed the visible fruit with the expansion of service and success in service, in the same way, create such a gathering like a fortress. Just as the instrument Dadis and Didis of the Golden Jubilee showed the visible fruit of love and the power of a gathering, similarly, you too show the visible fruit. So, in order to come close to one another, you will have to become equal. There is a variety of sanskars and it will remain like that. Now, look at Jagadamba and Brahma. Their sanskars remained different. The Dadis and Didis who are now instruments do not have the same sanskars either, but to harmonise sanskars is the proof of love. Do not think that there can only be a gathering when the sanskars are harmonised; no. By harmonising your sanskars, the gathering automatically becomes strong. Achcha, this too will definitely happen. Service is one thing and to be an instrument and move along as an instrument is also a speciality. There is this limitation that has to be removed, is there not? It was for this that you had the thought of transferring everyone, did you not that those from one centre should go to another centre? Are all of you ready? An order will be given. Your hands are up, are they not? There is benefit in making a change. This year, let us do this new thing, shall we? You will definitely have to become destroyers of attachment. Since you have become renunciates and tapaswis, this is not such a big thing. Renunciation is also fortune. So, what is this renunciation in front of your fortune? Those who volunteer (offer) receive thanks. So, all of you are courageous. A change (transfer) means a change. Anyone can be transferred. If you have courage, it is not such a big thing. Achcha, so this year, we will bring about this newness. Do you like it? Those who have learnt the lesson of being everready from the beginning are filled with that power internally. You automatically receive power from following any order you are given, and so you have already received the power to remain constantly obedient. Achcha. You always have elevated fortune and because of this fortune, you will continue to receive help. Do you understand?

Service makes both your present and your future elevated. The power of service is no less. There has to be the balance of both remembrance and service. So, service will give you the experience of progress. Let it be natural to have remembrance in service. What is the nature of Brahmin life? To stay in remembrance. To take a Brahmin birth means to be tied by a bond of remembrance. Just as they have one sign or other of that in their brahmin lives, so too, the sign of this Brahmin life is remembrance. Let it be natural to stay in remembrance. For this, let it not be that you have separate remembrance and do separate service; no. Let both be together. You don’t have that much time to do service and have remembrance separately. For this reason, remembrance and service are always together. It is in this that you have to become experienced and also successful. Achcha.

Blessing: May you be a master remover of sorrow and a bestower of happiness and, by understanding the philosophy of karma, decide between liberation and salvation.
Do not be always busy seeing and speaking about your life story up to now, but understand the state of everyone’s karma and decide whether to give them liberation or salvation. Play the part of being a master remover of sorrow and a bestower of happiness. Finish the sorrow and peacelessness of your creation and give them great donations and blessings. Do not take the facilities for yourself, but now be a bestower and give. If you experience self-progress on the basis of some salvation (help) you have received or you achieve success in service for a temporary period, then, today you would be a great soul and tomorrow, you would thirst for that greatness.
Slogan: Not to have any experience is the stage of battling, so be a yogi, not a warrior.

 

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 14 JUNE 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 14 June 2020

Murli Pdf for Print : – 

14-06-20
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 22-01-86 मधुबन

बापदादा की आशा – सम्पूर्ण और सम्पन्न बनो

आज विशेष दूरदेशवासी दूरदेश निवासी बच्चों से मिलने के लिए आये हैं। इतने दूर से मिलने के लिए आये हैं। इतने दूर से किस लगन से आते हैं? बापदादा बच्चों की लगन को जानते हैं। एक तरफ दिल के मिलन की लगन है। दूसरे तरफ बाप से मिलने के लिए धैर्य भी धरा है इसलिए धैर्य का फल विशेष रूप में देने के लिए आये हैं। विशेष मिलने के लिए आये हैं। सभी डबल विदेशी बच्चों के स्नेह के संकल्प, दिल मे मिलन के उमंग हर समय बापदादा देखते और सुनते रहते हैं। दूर बैठे भी स्नेह के कारण समीप हैं। बापदादा हर समय देखते हैं कि कैसे रात-रात जागरण कर बच्चे दृष्टि और वायब्रेशन से स्नेह और शक्ति कैच करते हैं। आज विशेष मुरली चलाने नहीं आये हैं। मुरलियां तो बहुत सुनी- अब तो बापदादा को यह वर्ष विशेष प्रत्यक्ष स्वरूप, बापदादा के स्नेह का प्रमाण स्वरूप, सम्पूर्ण और सम्पन्न बनने के समीपता का स्वरूप, श्रेष्ठ संकल्प, श्रेष्ठ बोल, श्रेष्ठ कर्म, श्रेष्ठ सम्बन्ध और सम्पर्क ऐसा श्रेष्ठ स्वरूप देखना चाहते हैं। जो सुना, सुनना और स्वरूप बनना यह समानता देखना चाहते हैं। प्रैक्टिकल परिवर्तन का श्रेष्ठ समारोह देखने चाहते हैं। इस वर्ष में सिल्वर, गोल्डन जुबली तो मनाई और मनायेंगे लेकिन बापदादा सच्चे बेदाग, अमूल्य हीरों का हार बनाने चाहते हैं। ऐसा एक-एक हीरा अमूल्य चमकता हुआ हो जो उसके लाइट माइट की चमक हद तक नहीं लेकिन बेहद तक जाए। बापदादा ने बच्चों के हद के संकल्प, हद के बोल, हद की सेवायें, हद के सम्बन्ध बहुत समय देखे, लेकिन अभी बेहद का बाप है – बेहद के सेवा की आवश्यकता है। उसके आगे यह दीपकों की रोशनी क्या लगेगी। अभी लाइट हाउस, माइट हाउस बनना है। बेहद के तरफ दृष्टि रखो। बेहद की दृष्टि बने तब सृष्टि परिवर्तन हो। सृष्टि परिवर्तन का इतना बड़ा कार्य थोड़े समय में सम्पन्न करना है। तो गति और विधि भी बेहद की फास्ट चाहिए।

आपकी वृत्ति से देश-विदेश के वायुमण्डल में यह एक ही आवाज गूँजे कि बेहद के मालिक विश्व के मालिक, बेहद के राज्य अधिकारी, बेहद के सच्चे सेवाधारी हमारे देव आत्मायें आ गये। अभी यह बेहद का एक अवाज देश-विदेश में गूंजे। तब सम्पूर्णता और समाप्ति समीप अनुभव होगी। समझा – अच्छा।

चारों ओर के श्रेष्ठ भावना, श्रेष्ठ कामना पूर्ण करने वाले, फरिश्ता सो देवता आत्माओं को, सदा ऊंच स्थिति में स्थित रहने वाले लाइट हाउस, माइट हाउस विशेष आत्माओं को, बापदादा के सूक्ष्म इशारों को समझने वाले विशालबुद्धि बच्चों को बापदादा का यादप्यार और नमस्ते।

देश-विदेश के सभी बच्चों प्रति बापदादा ने सन्देश के रूप में यादप्यार दी

चारों ओर के स्नेही सहयोगी और शक्तिशाली बच्चों के भिन्न-भिन्न लहरों के पत्र देख बापदादा स्नेह के सागर में समा गये हैं। सभी की भिन्न-भिन्न लहरें अपने-अपने उमंग-उत्साह के अनुसार श्रेष्ठ हैं और बापदादा उन लहरों को देख हर्षित होते हैं। उमंग भी बहुत अच्छे हैं, प्लैन भी बड़े अच्छे हैं। अभी प्रैक्टिकल की मार्क्स बापदादा से लेनी है, और भविष्य खाता जमा करना है। इस समय बापदादा प्रैक्टिकल कोर्स की मार्क्स हर बच्चे की नोट कर रहे हैं। और यह वर्ष विशेष प्रैक्टिकल कोर्स और प्रैक्टिकल फोर्स की एकस्ट्रा मार्क्स लेने का है इसलिए जो इशारे समय प्रति समय मिले हैं, उन इशारों को हर एक स्वयं प्रति समझ प्रैक्टिकल में लाये तो नम्बर वन ले सकते हैं। विदेश के वा देश के बच्चे जिन्हों को दूर बैठे भी समीप के स्नेह का सदा अनुभव होता है और सदा उमंग रहता है, कुछ करके दिखायें, यह करें- ऐसा करें… यह उमंग है तो अभी बेहद की सेवा का सबूत बन उमंग को प्रैक्टिकल में लाने का विशेष चांस है इसलिए उड़ती कला की रेस करो। याद में, सेवा में, दिव्य गुण मूर्त बनने में और साथ-साथ ज्ञान स्वरूप बन ज्ञान चर्चा करने में, चार ही सब्जेक्ट में उड़ती कला की रेस में नम्बर विशेष लेने का यह वर्ष का चांस है। यह विशेष चांस ले लो। नया अनुभव कर लो। नवीनता पसन्द करते हो ना। तो यह नवीनता करके नम्बर ले सकते हो। अभी इस वर्ष में एकस्ट्रा रेस की एकस्ट्रा मार्क्स है। समय एकस्ट्रा मिला है। पुरूषार्थ अनुसार प्रालब्ध तो सदा ही है। लेकिन यह वर्ष विशेष एकस्ट्रा मार्क्स का है इसलिए खूब उड़ती कला के अनुभवी बन आगे बढ़ते औरों को भी आगे बढ़ाओ। बाप सभी बच्चों के गले में बांहो की माला डाल देते हैं। दिल बड़ी करेंगे तो साकार में पहुंचना भी सहज हो जायेगा। जहाँ दिल है वहाँ धन आ ही जाता है। दिल धन को कहाँ न कहाँ से लाता है इसलिए दिल है और धन नहीं है, यह बापदादा नहीं मानते हैं। दिल वाले को किसी न किसी प्रकार से टचिंग होती है और पहुंच जाते हैं। मेहनत का पैसा हो, मेहनत का धन पदमगुणा लाभ देता है। याद करते-करते कमाते हैं ना। तो याद के खाते में जमा हो जाता है और पहुंच भी जाते हैं। अच्छा – सभी अपने-अपने नाम और विशेषता से बांहो की माला सहित यादप्यार स्वीकार करना।

सिल्वर जुबली में आई हुई टीचर्स बहनों के प्रति अव्यक्त महावाक्य

सभी ने सिल्वर जुबली मनाई! बनना तो गोल्डन एजड है, सिल्वर तो नहीं बनना है ना! गोल्डन एजड बनने के लिए इस वर्ष क्या प्लैन बनाया है? सेवा का प्लैन तो बनाते ही हो लेकिन स्व परिवर्तन और बेहद का परिवर्तन उसके लिए क्या प्लैन बनाया है? यह तो अपने-अपने स्थान का प्लैन बनाते हो यह करेंगे। लेकिन आदि निमित्त हो तो बेहद के प्लैन वाले हो। ऐसे बुद्धि में इमर्ज होता है कि हमें इतने सारे विश्व का कल्याण करना है, यह इमर्ज होता है? या समझते हो कि यह तो जिनका काम है वही जानें! कभी बेहद का ख्याल आता है या अपने ही स्थानों का ख्याल रहता है? नाम ही है विश्व कल्याणकारी, फलाने स्थान के कल्याणकारी तो नहीं कहते। लेकिन बेहद सेवा का क्या संकल्प चलता है? बेहद के मालिक बनने हैं ना। स्टेट के मालिक तो नहीं बनना है। सेवाधारी निमित्त आत्माओं में जब यह लहर पैदा हो तब वह लहर औरों में भी पैदा होगी। अगर आप लोगों में यह लहर नहीं होगी। तो दूसरों में आ नहीं सकती। तो सदा बेहद के अधिकारी समझ बेहद का प्लैन बनाओ। पहली मुख्य बात है – किसी भी प्रकार के हद के बन्धन में बंधे हुए तो नहीं हैं ना! बन्धन मुक्त ही बेहद की सेवा में सफल होंगे। यहाँ ही यह प्रत्यक्ष होता जा रहा है और होता रहेगा। तो इस वर्ष में क्या विशेषता दिखायेंगे? दृढ़ संकल्प तो हर वर्ष करते हो। जब भी कोई ऐसा चांस बनता है उसमें भी दृढ़ संकल्प तो करते भी हो, कराते भी हो। तो दृढ़ संकल्प लेना भी कामन हो गया है। कहने में दृढ़ संकल्प आता है लेकिन होता है संकल्प। अगर दृढ़ होता तो दुबारा नहीं लेना पड़ता। दृढ़ संकल्प यह शब्द कामन हो गया है। अभी कोई भी काम करते हैं तो कहते ऐसे ही हैं कि हाँ दृढ़ संकल्प करते हैं लेकिन ऐसा कोई नया साधन निकालो जिससे सोचना और करना समान हो। प्लैन और प्रैक्टिकल दोनों साथ हों। प्लैन तो बहुत हैं लेकिन प्रैक्टिकल में समस्यायें भी आती हैं, मेहनत भी लगती है, सामना करना भी पड़ता है, यह तो होगा और होता ही रहेगा। लेकिन जब लक्ष्य है तो प्रैक्टिकल में सदा आगे बढ़ते रहेंगे। अभी ऐसा प्लैन बनाओ जो कुछ नवीनता दिखाई दे। नहीं तो हर वर्ष इकट्ठे होते हो, कहते हो वैसे का वैसा ही है। एक दो को वैसा ही देखते। मनपसन्द नहीं होता। जितना चाहते हैं उतना नहीं होता। वह कैसे हो? इसके लिए जो ओटे सो अर्जुन। एक भी निमित्त बन जाता है तो औरों में भी उमंग उत्साह तो आता ही है। तो इतने सभी इकट्ठे हुए हो, ऐसा कोई प्लैन प्रैक्टिकल का बनाओ। थ्योरी के भी पेपर्स होते हैं प्रैक्टिकल के भी होते हैं। यह तो है कि जो आदि से निमित्त बने हैं उन्हों का भाग्य तो श्रेष्ठ है ही। अभी नया क्या करेंगे?

इसके लिए विशेष अटेन्शन – हर कर्म करने के पहले यह लक्ष्य रखो कि मुझे स्वयं को सम्पन्न बनाए सैम्पुल बनाना है। होता क्या है कि संगठन का फायदा भी होता है तो नुकसान भी होता है। संगठन में एक दो को देख अलबेलापन भी आता है और संगठन में एक दो को देख करके उमंग-उत्साह भी आता है, दोनों होता है। तो संगठन को अलबेलेपन से नहीं देखना है। अभी यह एक रीति हो गई है, यह भी करते हैं, यह भी करते हैं, हमने भी किया तो क्या हुआ। ऐसे चलता ही है। तो यह संगठन में अलबेलेपन का नुकसान होता है। संगठन से श्रेष्ठ बनने का सहयोग लेना वह अलग चीज है। अगर यह लक्ष्य रहे- कि मुझे करना है। मुझे करके औरों को कराना है। फिर उमंग-उत्साह रहेगा करने का भी और कराने का भी। और बार-बार इस लक्ष्य को इमर्ज करें। अगर सिर्फ लक्ष्य रखा तो भी वह मर्ज हो जाता है। इसीलिए प्रैक्टिकल नहीं होता। तो लक्ष्य को समय प्रति समय इमर्ज करो। लक्ष्य और लक्षण भी बार-बार मिलाते चलो। फिर शक्तिशाली हो जायेंगे। नहीं तो साधारण हो जाता है। अभी इस वर्ष हर एक यही समझे कि हमें सिम्पल और सैम्पल बनना है। यह सेवा की प्रवृत्ति वृद्धि को तो पाती रहती है लेकिन यह प्रवृत्ति उन्नति में विघ्न रूप नहीं बननी चाहिए। अगर उन्नति में विघ्न रूप बनती है तो उसे सेवा नहीं कहेंगे। अच्छा – है तो बहुत बड़ा झुण्ड। जब एक इतना छोटा-सा एटम बाम्ब भी कमाल कर दिखाता है तो यह इतने आत्मिक बाम्बस क्या नहीं कर सकते हैं। स्टेज पर तो आने वाले आप लोग हो ना! गोल्डन जुबली वाले तो हो गये बैकबोन लेकिन प्रैक्टिकल में स्टेज पर तो आने वाले आप हो। अभी ऐसा कुछ करके दिखाओ – जैसे गोल्डन जुबली के निमित्त आत्माओं का स्नेह का संगठन दिखाई देता है और उस स्नेह के संगठन ने प्रत्यक्षफल दिखाया – सेवा की वृद्धि, सेवा में सफलता। ऐसे ही ऐसा संगठन बनाओ जो किले के रूप में हो। जैसे गोल्डन जुबली वाली निमित्त दीदियां दादियां जो भी हैं, उन्होंने जब स्नेह और संगठन की शक्ति का प्रत्यक्षफल दिखाया तो आप भी प्रत्यक्षफल दिखाओ। तो एक दो के समीप आने के लिए समान बनना पड़ेगा। संस्कार भिन्न-भिन्न तो हैं भी और रहेंगे भी। अभी जगदम्बा को देखो और ब्रह्मा को देखो- संस्कार भिन्न-भिन्न ही रहे। अभी जो भी निमित्त दीदी दादियां हैं, संस्कार एक जैसे तो नहीं हैं लेकिन संस्कार मिलाना यह है स्नेह का सबूत। यह नहीं सोचो- कि संस्कार मिलें तो संगठन हो, यह नहीं। संस्कार मिलाने से संगठन मजबूत बन ही जाता है। अच्छा- यह भी हो ही जायेगा। सेवा एक है लेकिन निमित्त बनना, निमित्त भाव में चलना यही विशेषता है। यही तो हद निकलनी है ना? इसके लिए सोचा ना – तो सबको चेन्ज करें। एक सेन्टर वाले दूसरे सेन्टरों में जाने चाहिए। सभी तैयार हो? आर्डर निकलेगा। आपका तो हैंडसअप है ना। बदलने में फायदा भी है। इस वर्ष यह नई बात करें ना। नष्टोमोहा तो होना ही पड़ेगा। जब त्यागी, तपस्वी बन गये तो यह क्या है? त्याग ही भाग्य है। तो भाग्य के आगे यह क्या त्याग है! आफर करने वालों को आफरीन मिल जाती है। तो सभी बहादुर हो! बदली माना बदली। कोई को भी कर सकते हैं। हिम्मत है तो क्या बड़ी बात है। अच्छा तो इस वर्ष यह नवीनता करेंगे। पसन्द हैं ना! जिन्होंने एवररेडी का पाठ आदि से पढ़ा हुआ है उनमें यह भी अन्दर ही अन्दर बल भरा हुआ होता है। कोई भी आज्ञा पालन करने का बल स्वत: ही मिलता है तो सदा आज्ञाकारी बनने का बल मिला हुआ है। अच्छा – सदा श्रेष्ठ भाग्य है और भाग्य के कारण सहयोग प्राप्त होता ही रहेगा। समझा!

(2) सेवा वर्तमान और भविष्य दोनों को ही श्रेष्ठ बनाती है। सेवा का बल कम नहीं है। याद और सेवा दोनों का बैलन्स चाहिए। तो सेवा उन्नति का अनुभव करायेगी। याद में सेवा करना नैचुरल हो। ब्राह्मण जीवन की नेचर क्या है? याद में रहना। ब्राह्मण जन्म लेना अर्थात् याद का बन्धन बांधना। जैसे वह ब्राह्मण जीवन में कोई न कोई निशानी रखते हैं – तो इस ब्राह्मण जीवन की निशानी है याद। याद में रहना नैचुरल हो इसलिए याद अलग की, सेवा अलग की, नहीं। दोनों इकट्ठे हों। इतना टाइम कहाँ है जो याद अलग करो, सेवा अलग करो। इसलिए याद और सेवा सदा साथ है ही। इसी में ही अनुभवी भी बनते हैं, सफलता भी प्राप्त करते हैं। अच्छा।

वरदान:- कर्मो की गति को जान गति-सद्गति का फैंसला करने वाले मास्टर दु:ख हर्ता सुख कर्ता भव
अभी तक अपने जीवन की कहानी देखने और सुनाने में बिजी नहीं रहो। बल्कि हर एक के कर्म की गति को जान गति सद्गति देने के फैंसले करो। मास्टर दु:ख हर्ता सुख कर्ता का पार्ट बजाओ। अपनी रचना के दु:ख अशान्ति की समस्या को समाप्त करो, उन्हें महादान और वरदान दो। खुद फैसल्टीज़ (सुविधायें) न लो, अब तो दाता बनकर दो। यदि सैलवेशन के आधार पर स्वयं की उन्नति वा सेवा में अल्पकाल के लिए सफलता प्राप्त हो भी जाये तो भी आज महान होंगे कल महानता की प्यासी आत्मा बन जायेंगे।
स्लोगन:- अनुभूति न होना-युद्ध की स्टेज है, योगी बनो योद्धे नहीं।

TODAY MURLI 14 JUNE 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 14 June 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 13 June 2018 :- Click Here

14/06/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, continue to invent new methods for service. Become the Father’s full helpers in making Bharat into the deity self-sovereignty.
Question: Which hope does the Father have in you by reminding you of one thing in particular?
Answer: Baba reminds you: Children, you have become conquerors of Maya and conquerors of the world every cycle. You gained the throne of the mother and father and this is why you must now not be afraid of the storms of Maya. Never be influenced by Maya and thereby defame the name of the clan. Beloved children, maintain the honour of this old father’s beard. Don’t perform any such actions that would defame the name of the father. Chase away the vices with the power of yoga and become incorporeal and egoless, the same as the Father.
Song: Having taken an oath, I have come to Your door.

Om shanti. Sweetest beloved, long-lost and now-found children, you know very well that you children definitely receive love from the unlimited Father. A physical, limited father loves the children he has created, looks after them very well and serves them so that his clan grows. On the path of devotion, too, everyone remembers the unlimited Father. You must definitely meet the Father at some time. Here, the Father says: I am your Father, the One who gives you teachings, that is, I am the One who gives you the knowledge of the beginning, the middle and the end of the drama. This is called knowledge. In the scriptures, they have knowledge of the path of devotion. No one can receive liberation or liberation-in-life through that. The Father says: I am the Bestower of Liberation and Liberation-in-Life for all. I Myself have to come to give you liberation and liberation-in-life. So, I Myself have to come every cycle at the confluence age. According to the drama, the five vices of Maya make you experience sorrow. You know that mountains of sorrow are to fall and that destruction is to take place. At that time, the part of bloodshed without cause will be enacted. So many rivers of blood will flow. In the golden age, rivers of ghee are to flow. When the rivers of blood flow, there will be cries of distress; they will become very unhappy. You children now have to increase Baba’s servicevery well. It is only through you helpers that Bharat becomes heaven. You children know that you beloved, long-lost and now-found decoration of the Brahmin clan will make Bharat into the deity self-sovereignty once again. You claim your inheritance of the deity self-sovereignty from the Father. Baba says: Children, continue to invent methods for service. Baba has thoughts about this. This is what is called the discus of self-realisation. This is a very good thing. You can do very good service with it. There is no expense in establishing the kingdom, that is, in changing Bharat from the kingdom of Ravan into the kingdom of Rama. You are nonviolent, full of all virtues, 16 celestial degrees full, completely viceless and those who follow the supreme religion of non-violence. You say that you have to become Baba’s helpers and make Bharat like a diamond. We continue to do this service every cycle. We are now on God f atherly service. We are also God f atherly students and God f atherly children. We have a very big responsibility. Those who become the children have a responsibility. Baba says: Remain cautious. Don’t make mistakes. Baba tells you about different types of service. In which way did Baba show the people of Bharat the method to claim the inheritance from the unlimited Father? It is explained that this inheritance is a birthright for 21 births in the golden age. The golden-aged deity sovereignty is your God f atherly birthright. The Father is the One who establishes heaven. You have to make effort here. Don’t think that you will make effort in the golden age. Baba has to explain so that all the children listen. This cycle is the discus of self-realisation. Make a big picture of this on iron sheets and place them in big places. Everything should be written clearly at the bottom of the picture. Those who see this will understand that this is right. The time will continue to come close. It will enter people’s hearts that the golden age is now really close. Baba continues to give you children advice for service from time to time. Do this and service will grow. Each one of you can put up this board outside your home. Let there also be this picture of Shiv Baba: This is the God of the Gita. Then, it should be written: Deity world sovereignty is your birthright. Each of you can put up this board outside your home. You are the Ganges of knowledge. Many who see the board will come. Explain to them: The Father of you souls is that incorporeal One. You are all brothers. We are claiming our inheritance from that Father. As you progress further, there will be a lot of pomp and show that that same God has come here. There is the name of Brahma Kumars and Kumaris. Shiv Baba’s name is also mentioned. As you progress further, people will understand that the kingdom will definitely be established. There are obstacles in a sacrificial fire because there are no kings or queens: it is the rule of people over people. If you explain to someone and he takes the side of the Brahma Kumaris, other people cause upheaval. They feel that all religions should be united. How can all the different religions be united? They themselves say that they don’t believe in religion. To forget your own religion is also in the drama. When other religions are established, the deity religion disappears. This is why all of them call themselves Hindus. The deity religion has disappeared. Therefore, Baba says: I have come once again to establish the deity religion. The destruction of the innumerable religions is also in front of you. However, for how long will the Father stay here? There will also be calamities. People say that there are hundreds of thousands of years before the golden age comes. You know that you are in hell today and that you will go to heaven tomorrow. We souls are racing. Our 84 births have now come to an end. Our part s of sorrow have ended. Baba, we are now about to come to You. This is our final birth. Baba, the Bridegroom, has come. He says: Become worthy of the pure world and I will take you back with Me. If you don’t become worthy through yoga, there will have to be punishment and the status will then be reduced. This is a very easy matter. You receive unlimited happiness from the unlimited Father. Therefore, you have to remember the unlimited Father and the inheritance of unlimited happiness. Remember Him as much as you want. To the extent that you remember Him, you will accordingly receive a status. You should definitely remember Him for eight hours. You have to make effort. He knows that children will make effort exactly as they did in the previous cycle. Observe as detached observers how much effort everyone is making to claim their inheritance from the most beloved Father. They are the ones who will claim a right to receive that for cycle after cycle. The Father taught you Raja Yoga for heaven. A physical father looks after his children so well! The unlimited Father also has to look after the children. Maya causes a lot of distress and makes you ill. Then, Baba comes and gives you medicine. This is the life-giving herb. It isn’t that Hanuman brought the life-giving herb from the mountains. You simply have to remember the Father and the inheritance. You will not be able to remember your inheritance without remembering the Father. The path of devotion, that is, the night of Brahma, is now coming to an end. Baba has come and is establishing the day. For half the cycle, it is the day of Brahma and for half the cycle, it is the night of Brahma. There is extreme darkness. If you daughters sit and repeatedly explain to others, you can show (reveal) the lokik and parlokik mother and Father very well. It is the task of a father, the creator, to make his wife and children his companions. He has to show his creation the path. He has to change the deal of sitting on the pyre of lust and make a deal to sit on the pyre of knowledge. A very good board can be made of this. The Father is very much concerned. The Father is incorporeal and egoless. Look how He sits and sustains you children! It is said: Whilst walking along the path, the brahmin became trapped. Baba did not know that He would enter him or that he would become Brahma and then Shri Narayan. He had to take so many insults. Baba says: They defame Me even more than they defame you. They insult you with one or two insults, but they have put Me into the pebbles and stones. They have defamed Me so much. You have to claim your fortune of the kingdom, and so what is the big deal if you have to take a few insults? They have been insulting Me for half the cycle. This too is a game in the predestined drama. Baba says: Beloved children, I have entered this one. Think about the honour of this one’s beard. This one’s beard means that One’s beard. You mustn’t accuse Him any more. Continue to chase away the vices with the power of yoga. Every cycle, you conquer Maya and become conquerors of the world. Even the subjects become the masters of heaven. However, you have to make effort and gain the throne of the mother and father. This is Raja Yoga. The Father knows that Mama and Baba become number one. Mama is a kumari and this one is a half kumar. If children do something wrong in a family, the father would say: Maintain the honour of my beard. Do not defame my name. Place these boards outside your homes that say very clearly: Come and claim your inheritance from the unlimited Father. Kings and sannyasis have to awaken at the end. Day by day, you continue to become cleverer and you continue to receive power. You can see that destruction is just ahead of you. War is to take place and this is the sacrificial fire of the knowledge of Rudra. We are Brahmins. Brahmins will then become deities once again. To the extent that you make effort, so you will accordingly claim a high status. Day by day, it continues to become very easy. The form of the Father has also been explained to you. He is a s tar, but you mustn’t explain this to new ones as soon as they come. Only when they understand everything very clearly and ask if God has such a big form should you explain to them. Many have these visions, but they don’t understand the meaning of them at all. Just as a soul is a sparkling star, so the Father is also the same. He alone is called the Supreme Father, the Supreme Soul, and so He is God. He enters this one. He comes and sits beside this one. A disciple sits next to his guru. He teaches you children. This one also sits beside Me. Bap and Dada are combined. However, this is a deep secret. Only when someone asks you about it should you explain. Otherwise, continue to say, “Baba, Baba”. Baba is teaching you Raja Yoga for heaven. You children know that whatever has happened until now is in the drama. Obstacles will continue to come. Maya will bring obstacles to you children with great force, but you mustn’t let go of Baba’s hand. Maya is an alligator who swallows even good, beloved children. This happened in the previous cycle too. So, those who have sharp and clever intellects are able to understand everything. They will churn the ocean of knowledge: I will explain to others in this way and donate knowledge to them. Baba is Rup and Basant and you too are rup and basant. Baba says: I am a s tar. I have this part recorded in Me. Each soul has a part recorded in him. Those with the arrogance of theirscience cannot understand these things. That record may become worn out or break, but this soul is an immortal star in which an immortal part is recorded; it has no end. If there is no end, there is no beginning; it continues all the time. You continue to understand the secrets of this drama. You are sticks for the blind ones without sight. You have to show them the path. It is now everyone’s stage of retirement. You have to go beyond sound. Baba says: I will take everyone back. Therefore, remember the Father as much as possible and your sins will be absolved. This is called a spiritual pilgrimage. Baba says: O My traveller children, do not become weary! Remember the Father and creation. Become the masters of creation. This is extremely easy. Always continue to remember Shiv Baba. Even while driving, where should your intellect’s yoga be? Baba gives you his own example. When I used to sit and worship Narayan, my intellect would go in other directions and so I would then slap myself. Even now, the intellect races. While making effort, you have to shed your bodies in remembrance of that One. People do devotion in order to shed their bodies in remembrance of Krishna so that they can reach the land of Krishna. However, Krishna is not everyone’s Father. The Father of all is One. The Father, Rama, the Bestower of Salvation for all, comes and grants salvation to all. Everyone receives liberation. Then, those who come down definitely have to see happiness first. New souls come from up above and this is why they are given respect, even though it is the name of the one whose body they enter that is glorified. You children know that the kingdom is being established. We are becoming deities. Only you Brahmins are at the confluence age. All the rest are in the iron age. Those who come here will believe that it truly is the end of the iron age and that the world is changing. This is why there is to be the great Mahabharat War. Everyone receives knowledge through you. The Father comes to give a liftto the mothers because they are assaulted a great deal. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. While seeing the effort of each one as a detached observer, you yourself have to practise staying in remembrance of the most beloved Father for eight hours.
  2. Become rup and basant the same as the Father, churn the ocean of knowledge and donate knowledge. Become a stick for the blind.
Blessing: May you be a great donor and a bestower of blessings who transforms your temporary sanskars with your eternal sanskars.
Temporary sanskars make you speak and act against your conscious wish and this is why you say, “That was not my intention or my aim, but it happened”. Many say that they didn’t get angry, but that their sanskar of speaking is like that. Therefore those temporary sanskars also compel you. Now transform those sanskars with your eternal sanskars. The eternal and original sanskars of you souls are for you to be constantly perfect, great donors and bestowers of blessings.
Slogan: To be able to cross the mountain of any adverse situations with the effort of the flying stage is to be a flying yogi.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 14 JUNE 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 14 June 2018

To Read Murli 13 June 2018 :- Click Here
14-06-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – सर्विस की नई-नई युक्तियाँ निकालते रहो। भारत को दैवी स्वराज्य बनाने में बाप का पूरा-पूरा मददगार बनो”
प्रश्नः- बाप बच्चों को कौन-सी स्मृति दिलाकर एक आश रखते हैं?
उत्तर:- बाबा स्मृति दिलाते – बच्चे, तुम कल्प-कल्प मायाजीत जगतजीत बने हो। तुमने मात-पिता के तख्त पर जीत पाई है इसलिए अभी तुम्हें माया के तूफानों से डरना नहीं है। कभी भी माया के वश होकर कुल कलंकित नहीं बनना है। लाडले बच्चे, इस बूढ़े बाप की दाढ़ी की लाज रखना। ऐसा कोई काम न हो जो बाप का नाम बदनाम हो जाये। तुम योग बल से विकारों को भगाते रहो, बाप समान निराकारी, निरहंकारी बनो।
गीत:- दर पर आये हैं कसम ले के… 

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चे अच्छी रीति जान गये हैं कि बेहद के बाप से बच्चों को प्यार मिलता है जरूर। जैसे हद के लौकिक बाप अपने रचे हुए बच्चों को प्यार करते हैं। अच्छी तरह से सम्भालते हैं, उनकी सेवा करते हैं कि हमारा कुल वृद्धि को पाये। भक्ति मार्ग में भी बेहद के बाप को सभी याद करते हैं। जरूर कभी बाप से मिलना होता है। यहाँ भी बाप तो कहते हैं – मैं तुम्हारा बाप भी हूँ, शिक्षा देने वाला भी हूँ अर्थात् ड्रामा के आदि, मध्य, अन्त की नॉलेज देने वाला भी हूँ। इसको ही ज्ञान कहा जाता है। बाकी शास्त्रों में है भक्ति मार्ग का ज्ञान। उससे कोई मुक्ति-जीवनमुक्ति नहीं मिल सकती। बाप कहते हैं सर्व का मुक्ति-जीवन्मुक्ति दाता मैं हूँ। मुझे ही मुक्ति-जीवन्मुक्ति देने के लिए आना पड़ता है। तो कल्प-कल्प, कल्प के संगम पर मुझे ही आना पड़ता है। ड्रामा अनुसार माया 5 विकार तुमको दु:खी बना देते हैं। तुम जानते हो अभी दु:ख के पहाड़ गिरने हैं। विनाश होना है। उसी समय खूनी नाहेक खेल का पार्ट बजना है। कितनी खून की नदियाँ बहेंगी और सतयुग में घी की नदियाँ बहनी हैं। खून की नदियाँ बहती हैं फिर उसी समय हाहाकार हो जाता है। बहुत दु:खी होंगे। अब बच्चों को अच्छी तरह बाबा की सर्विस भी बढ़ानी है। तुम मददगारों से ही भारत स्वर्ग बनता है। तुम जानते हो हम ही सिकीलधे ब्राह्मण कुल भूषण बच्चे भारत को फिर से दैवी स्वराज्य बनाते हैं। बाबा से दैवी स्वराज्य का वर्सा लेते हैं। बाबा कहते हैं – बच्चे, सर्विस की युक्तियाँ निकालते रहो। बाबा का भी ख्याल चलता है ना। इसको ही स्वदर्शन चक्र कहा जाता है। यह बहुत अच्छी चीज़ है, इससे तुम सर्विस बहुत अच्छी कर सकते हो। यह राजधानी स्थापन करने में अथवा भारत को रावण राज्य से बदल राम राज्य स्थापन करने में कोई खर्चा नहीं है। तुम हो ही नान-वायोलेन्स, अहिंसक। सर्व गुण सम्पन्न, 16 कला सम्पूर्ण, सम्पूर्ण निर्विकारी, अहिंसा परमो-धर्म वाले तुम बनते हो।

तुम कहते हो हमको बाबा का मददगार बनकर भारत को हीरे जैसा बनाना है। कल्प-कल्प हम यह सर्विस करते रहते हैं। अभी हम हैं गॉड फादरली सर्विस पर। गॉड फादरली स्टूडेण्ट भी हैं, गॉड फादरली चिल्ड्रेन भी हैं। हमारे ऊपर बहुत बड़ी रेस्पान्सिबिलिटी है। बच्चे जो बनते हैं उन पर रेस्पान्सिबिलिटी रहती है। बाबा कहते हैं खबरदार रहना, कोई भूल चूक नहीं करना। बाबा किस्म-किस्म की सर्विस बताते हैं। किस प्रकार भारतवासियों को बेहद के बाप से वर्सा लेने का रास्ता बतायें। समझाया जाता है यह वर्सा तो 21 जन्म सतयुग का जन्म-सिद्ध अधिकार है। सतयुगी डीटी सावरन्टी इज योर गॉड फादरली बर्थ राइट। बाप है ही स्वर्ग की स्थापना करने वाला। पुरुषार्थ यहाँ करना है। ऐसे नहीं सतयुग में करेंगे। बाबा को समझाना पड़ता है तो सभी बच्चे सुनें। यह गोला है स्वदर्शन पा, यह आइरन सीट पर बड़े-बड़े बनवाकर फिर बड़े-बड़े स्थानों पर रखो। नीचे सब कुछ लिखा हुआ है। जो देखेंगे, समझेंगे यह तो राइट बात है। समय नजदीक होता जायेगा। मनुष्यों को यह दिल अन्दर आयेगा बरोबर अब सतयुग नजदीक है। समय प्रति समय बच्चों को सर्विस प्रति राय देते रहते हैं। ऐसे करो तो सर्विस बढ़ेगी। हरेक अपने घर में भी यह बोर्ड लगाओ। शिवबाबा का चित्र भी हो, यह है गीता का भगवान। फिर लिखा हुआ हो डीटी वर्ल्ड सावरन्टी आपका जन्म सिद्ध अधिकार है। हरेक अपने घर पर बोर्ड लगा दे। तुम ज्ञान गंगायें हो ना। बोर्ड देखकर बहुत आयेंगे। उनको समझाना है। तुम आत्माओं का बाप वह निराकार है। तुम भाई-भाई हो। हम उस बाप से वर्सा ले रहे हैं। आगे चलकर बहुत धूमधाम होगी कि वही भगवान आकर पधारे हैं। नाम तो है ब्रह्माकुमार-कुमारी। शिवबाबा का भी नाम है। आगे चलकर मनुष्य समझेंगे राजधानी तो जरूर स्थापन होगी। यज्ञ में विघ्न पड़ते हैं क्योंकि राजा-रानी तो कोई है नहीं। प्रजा का प्रजा पर राज्य है। कोई को समझाओ और वह ब्रह्माकुमारियों का तरफ ले तो भी हंगामा कर देंगे। समझते हैं सब धर्म मिल एक हो जायें। अब जो धर्म भिन्न-भिन्न हैं, वह सब एक कैसे होंगे। खुद कहते हैं हम कोई धर्म को नहीं मानते। अपने धर्म को भूलना, यह भी ड्रामा है। और धर्म स्थापन होते हैं तो देवी-देवता धर्म प्राय:लोप हो जाता है इसलिए सब अपने को हिन्दू कह देते हैं। देवता धर्म लोप है, तब बाबा कहते हैं फिर से हम देवी-देवता धर्म की स्थापना करने आये हैं। अनेक धर्मों का विनाश भी सामने खड़ा है। बाकी कितना समय ठहरेंगे। आफतें भी आनी हैं। मनुष्य तो कहते हैं सतयुग आने में लाखों वर्ष हैं। तुम जानते हो आज नर्क में हैं, कल स्वर्ग में जायेंगे। हम आत्मायें दौड़ रही हैं। अभी 84 जन्म पूरे हुए। दु:ख का पार्ट पूरा हुआ। बस बाबा, अभी हम आये कि आये। यह अन्तिम जन्म है। बाबा साजन आया हुआ है। कहते हैं अभी पवित्र दुनिया के लायक बनो तो साथ ले जाऊंगा। योग से लायक नहीं बनेंगे तो सजा खायेंगे। फिर पद भी कम हो जायेगा। बात तो बहुत सहज है। बेहद के बाप से बेहद का सुख मिलता है, इसलिए बेहद के बाप को और बेहद सुख के वर्से को याद करना है। जितना चाहिए याद करो, जितना याद करेंगे वैसा पद मिलेगा। आठ घण्टा जरूर याद करना चाहिए। पुरुषार्थ करना है। यह भी जानते हैं कल्प पहले मुआफिक ही बच्चे पुरुषार्थ करते हैं। इसको साक्षी हो देखा जाता है – कौन कितना पुरुषार्थ करते हैं, मोस्ट बिलवेड बाप से वर्सा लेने। कल्प-कल्पान्तर वही लेने लिए अधिकारी बनेंगे।

बाप ने राजयोग सिखाया है स्वर्ग के लिए। लौकिक बाप भी बच्चों की कितनी सम्भाल करते हैं! बेहद के बाप को भी कितनी सम्भाल करनी पड़ती है। माया बड़ा हैरान करती है, बीमार कर देती है। फिर बाबा आकर दवाई देते हैं। यह है संजीवनी बूटी। बाकी कोई पहाड़ की बूटी हनूमान नहीं ले आया। सिर्फ बाप और वर्से को याद करना है। बाप को याद करने बिगर वर्से को याद नहीं कर सकेंगे। अब भक्ति मार्ग अर्थात् ब्रह्मा की रात पूरी होती है। फिर बाबा आकर दिन स्थापन करते हैं। आधा कल्प है ब्रह्मा का दिन, आधा कल्प है ब्रह्मा की रात। घोर अंधियारा है ना। घड़ी-घड़ी बच्चियाँ बैठ समझायें तो लौकिक-पारलौकिक मात-पिता का अच्छा शो करेंगी। बाप रचयिता का काम है – स्त्री-बच्चों आदि को अपना साथी बनाना। अपनी रचना को भी रास्ता बताना है। काम चिता का सौदा बदल ज्ञान चिता पर बैठना है। यह बोर्ड बहुत अच्छे बन सकते हैं। बाप को तो बहुत ओना रहता है। बाप निराकार, निरहंकारी है। कैसे बैठ बच्चों की पालना करते हैं। कहते हैं ना वाट वेंदे वामन फाथो…. (रास्ते चलते ब्राह्मण फँस गया) बाबा को थोड़ेही पता था कि ऐसे प्रवेश करेंगे, मैं ब्रह्मा बन फिर श्री नारायण बनूंगा। कितनी गाली खाई है! बाबा कहते हैं तुम्हारे से भी मेरी ग्लानी जास्ती करते हैं। तुमको तो करके एक दो गाली देते हैं, मुझे तो पत्थर भित्तर में ठोक दिया है। मेरी कितनी निन्दा की है! राज्य-भाग्य पाना है, तो गाली खाई तो क्या बड़ी बात है। मुझे तो आधा कल्प से गाली देते रहते हैं। यह भी ड्रामा का खेल बना हुआ है।

बाबा कहते हैं – लाडले बच्चे, मैं इसमें आया हुआ हूँ। इनकी दाढ़ी का कुछ ख्याल रखो। इनकी दाढ़ी सो उनकी। अब कोई कलंक नहीं लगाना है। विकारों को योगबल से भगाते रहो। कल्प-कल्प तुम माया पर जीत पाकर जगत-जीत बनते आये हो। स्वर्ग का मालिक प्रजा भी बनती है। परन्तु पुरुषार्थ कर मात-पिता के तख्त पर जीत पहनो। यह है ही राजयोग। बाप जानते हैं यह मम्मा-बाबा पहले नम्बर में जाते हैं। मम्मा कुवांरी कन्या, यह अधरकुमार है। घर में बच्चे ऐसा कुछ काम करते हैं तो बाप कहते हैं हमारे दाढ़ी की लाज़ रखो। नाम बदनाम न करो। अच्छी रीति घर-घर में बोर्ड लगा हुआ हो – आकर बेहद के बाप से वर्सा लो। राजाओं को, सन्यासियों को पिछाड़ी में जगना है। दिन-प्रतिदिन तुम भी तीखे होते जाते हो। शक्ति मिलती जाती है। देखते हो सामने विनाश खड़ा है, लड़ाईयाँ लग रही हैं और यह है रुद्र ज्ञान यज्ञ। हम ब्राह्मण हैं। ब्राह्मण फिर सो देवता बनेंगे। जितना पुरुषार्थ करेंगे, उतना ऊंच पद पायेंगे। दिन-प्रतिदिन बहुत सहज होता जाता है। बाप का रूप भी तो समझाया है। वह स्टॉर है। परन्तु नये को पहले ही यह नहीं बताना है। जब अच्छी रीति समझें। पूछे इतना बड़ा रूप है? तब समझाना है। यह साक्षात्कार तो बहुतों को होता है। परन्तु मतलब कुछ भी नहीं समझते। जैसे आत्मा चमकता हुआ स्टार है, वैसे ही बाप है। उनको भी परमपिता परम-आत्मा कहा जाता है। तो हो गया परमात्मा। वह इनमें आते हैं। आकर बाजू में बैठ जाते हैं। गुरू के बाजू में शिष्य बैठ जाते हैं ना। वह सिखलाते हैं तुम बच्चों को। यह भी बाजू में रहते हैं। बापदादा कम्बाइण्ड है। परन्तु गुह्य राज़ है। जब कोई पूछे तब समझाना है। नहीं तो बाबा-बाबा कहते रहो। बाबा स्वर्ग के लिए राजयोग सिखलाते हैं। यह तो बच्चे जानते हैं इस समय तक जो पास्ट हुआ सो ड्रामा। विघ्न तो पड़ते रहेंगे। बच्चों को भी माया जोर से तूफान में लायेगी। परन्तु हाथ नहीं छोड़ना है। माया अजगर है। अच्छे-अच्छे लाल को भी खा लेगी। कल्प पहले भी हुआ था। जो तीखे विशालबुद्धि बच्चे हैं वह हर बात को समझ सकते हैं। विचार सागर मंथन करेंगे – हम ऐसे-ऐसे किसको समझायें, दान करें। बाबा रूप-बसन्त है। तुम भी रूप-बसन्त हो। बाबा कहते हैं मैं स्टार हूँ, मेरे में ये पार्ट भरा हुआ है। हर एक आत्मा में पार्ट भरा हुआ है। यह बातें साइन्स घमण्डी समझ न सकें। वह रिकॉर्ड घिस जाये, टूट-फूट जाये, यह आत्मा स्टार इमार्टल है, जिसमें इमार्टल पार्ट भरा हुआ है। इसका कभी एण्ड (अन्त) नहीं होता। एण्ड नहीं तो आदि भी नहीं, चलता आता है। इस ड्रामा के राज़ को भी तुम समझते जाते हो। तुम हो – नैनहीन अन्धों की लाठी। उन्हों को रास्ता बताना है। अभी सबकी वानप्रस्थ अवस्था है। वाणी से परे जाना है। बाबा कहते हैं मैं सबको ले जाऊंगा इसलिए जितना हो सके बाप को याद करो तो विकर्म विनाश होंगे। इसको रूहानी यात्रा कहा जाता है। बाबा कहते हैं – हे राही बच्चे, थक मत जाना। बाप और रचना को याद करना है। रचना का मालिक बनना है। यह तो अति सहज है। हमेशा शिवबाबा को याद करते रहो। मोटर चलाते भी बुद्धि का योग कहाँ रहना चाहिए? बाबा अपना मिसाल बताते हैं – हम नारायण की पूजा करने बैठता था तो बुद्धि और तरफ चली जाती थी। फिर अपने को चमाट मारता था। तो अभी भी बुद्धि दौड़ती है। पुरुषार्थ करते-करते उनकी याद में शरीर छोड़ना है। मनुष्य भक्ति करते हैं कि कृष्ण की याद में हम शरीर छोड़ें तो कृष्णपुरी पहुँच जायें। परन्तु कृष्ण तो सबका बाप नहीं है। बाप सभी का एक है। सबका सद्गति दाता राम बाप ही आकर सब की सद्गति करते हैं। मुक्ति तो सबको मिल जाती है फिर जो भी आते हैं पहले उनको सुख देखना है जरूर। नई आत्मा ऊपर से आती है इसलिए उनका मान होता है। भल किसमें भी प्रवेश करती है तो उनका नाम बाला हो जाता है। तुम बच्चे जानते हो राजधानी स्थापन हो रही है। हम सो देवी-देवता बन रहे हैं। सिर्फ तुम ब्राह्मण ही संगमयुग पर हो, बाकी सब हैं कलियुग में। यहाँ आने वाले मानते जायेंगे बरोबर कलियुग का अन्त है। दुनिया बदल रही है। इसलिए ही यह महाभारी महाभारत लड़ाई है। तुम्हारे द्वारा सबको नॉलेज मिलती है। माताओं को लिफ्ट देने बाप आते हैं क्योंकि माताओं पर अत्याचार बहुत होते हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद, प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) मोस्ट बिलवेड बाप को याद करने का पुरुषार्थ कौन कितना करते हैं, यह साक्षी हो देखते, स्वयं 8 घण्टे तक बाप की याद में रहने का अभ्यास करना है।

2) बाप समान रूप बसन्त बन विचार सागर मंथन कर ज्ञान दान देना है। अन्धों की लाठी बनना है।

वरदान:- अल्पकाल के संस्कारों को अनादि संस्कारों से परिवर्तन करने वाले वरदानी महादानी भव
अल्पकाल के संस्कार जो न चाहते हुए भी बोल और कर्म कराते रहते हैं इसलिए कहते हो मेरा भाव नहीं था, मेरा लक्ष्य नहीं था लेकिन हो गया। कई कहते हैं हमने क्रोध नहीं किया लेकिन मेरे बोलने के संस्कार ही ऐसे हैं…तो यह अल्पकाल के संस्कार भी मजबूर बना देते हैं। अब इन संस्कारों को अनादि संस्कारों से परिवर्तन करो। आत्मा के अनादि ओरीज्नल संस्कार हैं सदा सम्पन्न, सदा वरदानी और महादानी।
स्लोगन:- परिस्थिति रूपी पहाड़ को उड़ती कला के पुरुषार्थ द्वारा पार कर लेना ही उड़ता योगी बनना है।

TODAY MURLI 14 June 2017 DAILY MURLI (English)

[wp_ad_camp_1]

 

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 13 June 2017 :- Click Here

14/06/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, the soul is the charioteer driving the chariot of this body. Perform actions in the consciousness of being a charioteer and you will shed your body consciousness.
Question: How is the Father’s style of speaking completely different from that of human beings?
Answer: The Father speaks as the Charioteer of this chariot and He only speaks to souls; He does not see the bodies. Human beings do not consider themselves to be souls nor do they speak to souls. This is the practice that you children must have. Even while seeing the subtle or corporeal form of someone, do not see it. See the soul and remember the one bodiless Father.
Song: You are the Mother and Father.

 

Om shanti. The meaning of ‘Om shanti’ has been easily explained to the children. In order for you to claim your kingdom easily, every aspect is made easy. For which place are you preparing? For the golden age, which is known as the place of liberation-in-life. The evil spirits of Ravan do not exist there. When someone gets angry, it is said: There is an evil spirit in that one. The meaning of yoga is: I am a soul and this is my body. The soul, the charioteer, is sitting in the body, the chariot, of each one of you. The chariot functions with the power of the soul. The soul sheds a body and takes another again and again. You children understand that Bharat is now the land of sorrow. Some time ago, when there was the A lmighty G overnment, it was the land of happiness. The Almighty Authority had established the kingdom of deities in Bharat. There was only the one religion. Five thousand years before today, it definitely became the kingdom of Lakshmi and Narayan. Surely, it must have been the Father who established the kingdom. They must have received their inheritance from the Father. Those souls have been around the cycle of 84 births. Only the residents of Bharat go through these castes. After the clan of shudras, there is the most elevated Brahmin clan. The Brahmin clan means the mouth-born progeny of Brahma. Other brahmins are born through vice. They cannot say: We are the mouth-born progeny of Brahma. Surely, Prajapita Brahma must have adopted his children. You children understand that Bharat was worthy of worship and that it has now become a worshipper. The Father is eternally worthy of worship. He definitely comes to purify the impure. The golden age is the pure world. In the golden age there would not be any expression such as ‘The Ganges is the Purifier’, because that is the pure world. All are pure charitable souls, there are no sinful souls there, whereas there are no pure charitable souls in the iron age; all are sinful souls. Pure souls are known as charitable souls. Only in Bharat is there so much charity done and donations given. At this time, when the Father comes, you sacrifice yourself completely to Him. Sannyasis leave their homes and children, whereas here, you say: Baba, everything belongs to You. You gave us limitless wealth in the golden age, but then Maya made us as worthless as shells. This soul has now become impure. Mind, body, wealth – everything is impure. To begin with, souls are pure and then, later, after going around the cycle, they become tamopradhan, false jewellery. While playing their parts they become impure. A human being must definitely go through the stages of golden and silver etc. It is sung: You are the Mother and Father. People go in front of Lakshmi and Narayan and sing this praise, but they only have their one son and one daughter. As is the happiness of the king and queen, so the happiness of their children. Everyone there has a lot of happiness. Now that they are in their final 84th birth, they experience a lot of sorrow. The Father says: I am once again teaching you Raja Yoga. It has been explained to you children that the soul, the charioteer, is sitting in this chariot. Previously, this charioteer was sixteen celestial degrees full. Now, there are no celestial degrees. They even say: We are without virtues, have mercy on us! No one has any virtues. People go to bathe in the Ganges because they have become impure. They do not do that in the golden age, although it is the same river. Yes, it can be said that everything is satopradhan at that time. The rivers will be very clean in the golden age; there will not be any rubbish in them. Look how much rubbish there is here! All the dirt goes into the ocean. Such things are not possible in the golden age. There is no law that would make anything impure; everything remains pure. So, the Father explains: This is everyone’s last birth, the play is about to end. The limit of this play is 5000 years. Incorporeal Shiv Baba explains. He is incorporeal, the highest of all and He resides in the supreme abode. We all come down from the supreme abode. It is now the end of the iron age and the drama is going to end and the history will then repeat once again. The Gita and the scriptures etc. that human beings read all begin in the copper age. This knowledge disappears. No one can teach Raja Yoga. People just write books as a memorial to the founders of religions. They themselves establish their religions and take rebirth, but their books are created later as memorials. The deity religion is established now at the confluence age. The Father comes and sits in this chariot. It is not a question of a horse chariot; He enters this ordinary, old chariot. He is the Charioteer. It is said that the Brahma Kumars and Kumaris are the mouth-born progeny of Brahma. This Brahma has also been adopted. The Father Himself says: I come and become the Charioteer of this chariot. I give knowledge to this one. I start with this one. I give the urn of nectar to the mothers. This one is also a mother. This one hears first and then you hear. I am present in this one, but whom should I speak to? I sit here and speak to souls. There cannot be any scholar etc. who would sit and say to souls in this way: “I am your Father. You souls are incorporeal and I too am incorporeal. I am the Ocean of Knowledge, the Creator of heaven. I do not create hell; Maya creates this hell.” The Father says: I am the Creator, so I would surely only create heaven. You residents of Bharat were residents of heaven. You have now become residents of hell. Ravan made you into residents of hell, because souls began to follow the dictates of Ravan. At this time, you children follow the directions of Rama, Shiv Baba, the doubly-elevated one. The Father explains: Everyone’s part has now come to an end. All souls will gather together. When all have come down, the return journey will begin and then destruction will start. There are now countless religions in Bharat. Only the one original deity religion does not exist any more. No one calls himself a deity. People sing praise of the deities, saying that they are full of all the virtues, and then they call themselves degraded sinners. The kingdom of Ravan starts from the copper age. The kingdom of Rama is the day of Brahma and the kingdom of Ravan is the night of Brahma. When would the Father come? He would come when the night of Brahma ends. It is when He comes into the body of this Brahma that Brahmins are created through the mouth of Brahma. He then teaches Raja Yoga to these Brahmins. The Father says: You must not remember any of the corporeal, subtle or even incorporeal images. You have been given this aim. People always look at pictures and remember them. Baba says: Stop looking at the images. That belongs to the path of devotion. You souls now have to return to Me. There is a burden of sin on each of your heads. You had to become sinful souls. It is not possible for the sins to be absolved in the jail of a womb each birth; some are absolved but some still remain. I have now come as the Guide. At this time, all souls are following the dictates of Maya. The Father says: I am the Purifier, the Creator of heaven. My business is to change hell into heaven. In heaven, there is the one kingdom, one religion. There are no partitions. The Father says: I do not become the master of the world; I make you that. Ravan comes later on and snatches the kingdom away from you. At the moment, everyone has a tamopradhan stone intellect. In the golden age, all have divine intellects. The Father says: Remember Me alone. Let your intellect’s yoga be attached up above: remember the place you have to return to. Only remember the one Father and no one else. He is the true Emperor, the one who speaks the truth. So you have no need to remember any images. You must not even remember this image of Shiva, because Shiva is not really like that. Just as a soul resides in the centre of the forehead, Baba says: In the same way, I also take a little bit of space and sit next to this soul. I become the Charioteer and give knowledge to this one. This one’s soul did not have knowledge. Just as this soul, the charioteer, speaks through the body, in the same way I speak through these organs. Otherwise, how could I explain? In order to create Brahmins, Brahma is surely needed. This is the Brahma who will later become Narayan. You are now the children of Brahma. Then, later on, you will go into the sun dynasty, the dynasty of Shri Narayan. At present you have become absolutely poverty-stricken. People continue to fight and quarrel; they are worse than monkeys. Monkeys have the five vices very strongly. Monkeys have such vices of lust and anger etc., don’t even ask! When their baby dies, they won’t even let go of its bones. Human beings are also like that these days. If a child dies, they keep crying for six to eight months. Untimely death does not take place in the golden age, nor does anyone weep and wail. There is no evil there. At this time, the Father is speaking to the children: Take care of your home and business. While staying in it, perform such wonders that even sannyasis have not been able to do. Only God teaches this satopradhan renunciation. He says: This entire old world is now to end; this is why you must finish your attachment to it. Everyone has to return home. Along with the body, forget everything else that is old. Give Me the five vices. If you become impure, you will not be able to go to the pure world. Make a promise to the Father for this last birth. Your purity will be permanent in the future. Bydrowning in poison for 63 births you have become absolutely dirty. You have forgotten your karma and your dharma (religion). You speak of the Hindu religion. The Father says: Why don’t you understand that Bharat was heaven? You were deities. I taught you Raja Yoga, but you say that Krishna taught it. Is Krishna the Father of all, the Creator of heaven? The Father is incorporeal, the Father of all souls, but you say that He is omnipresent. You have mixed up Shiva and Shankar. Shiva is Supreme Soul. Supreme Soul says: I come only to establish the deity religion. The ones that carry out establishment will then rule the kingdom as Lakshmi and Narayan, the dual form of Vishnu. The word ‘Vaishnav’ (pure, vegetarian) is derived from the word ‘Vishnu’. These days, all are sinful souls, whereas there, they do not use the sword of lust and wound each other. Only the one Satguru establishes the land of truth; all others drown you. Because of the closeness of the confluence age to heaven, they have taken the stories of hell into heaven. In fact, Kans and Ravan etc. all exist here at this time; they cannot exist there. They show the charioteer in the chariot, whereas this is, in fact, the chariot which is also called Nandigan (Little Bull) and Bhagirath (Lucky Chariot). You all are Arjunas and you are told: I have come into this chariot to inspire you to conquer Maya on the battlefield. There is no Ravan in the golden age nor is he burnt. They will continue to burn him until destruction takes place. No matter how many difficulties arise, they definitely burn Ravan on Dashera. Then, the community of Ravan will at last be destroyed. The Bestower of Salvation is only one. No human being can grant salvation to a human being. When it was the kingdom of deities, that kingdom covered the entire world and other religions did not exist. All the religions are now here except for the deity religion which is being established. Only those of the deity religion come and change from shudras into Brahmins. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Have satopradhan renunciation. While living in this old world, finish your attachment to it. Along with your body, forget all the old things.
  2. Let your intellect’s yoga be attached up above. Do not remember any image or bodily being. Internally, continue to remember the one Father.
Blessing: May you be an embodiment of experience and overcome obstacles by considering them to be a game with the awareness of “nothing new”.
It is fixed in the drama from the beginning to the end for obstacles to come, but those obstacles give the experience of the impossible being possible. For experienced souls, obstacles are like a game. Just as you kick the ball in playing football when it comes to you, and you enjoy playing that game, so, this game of obstacles will continue; it is nothing new. The d rama shows you games and also total success.
Slogan: Seeing everyone’s virtues, spread the fragrance of specialities and this world will become a world of happiness.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_5]

 

Read Murli 12 June 2017 :- Click Here

Read Murli 11 June 2017 :- Click Here

DAILY MURLI BRAHMA KUMARIS 14 JUNE 2017 – BK MURLI HINDI

[wp_ad_camp_5]

 

Read Murli 13 June 2017 :- Click Here

14/06/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – इस शरीर रूपी रथ पर विराजमान आत्मा रथी है, रथी समझकर कर्म करो तो देह-अभिमान छूट जायेगा”
प्रश्नः- बाप के बात करने का ढंग मनुष्यों के ढंग से बिल्कुल ही निराला है, कैसे?
उत्तर:- बाप इस रथ पर रथी होकर बात करते हैं और आत्माओं से ही बात करते हैं। शरीरों को नहीं देखते। मनुष्य न तो स्वयं को आत्मा समझते और न आत्मा से बात ही करते। तुम बच्चों को अब यह अभ्यास करना है। किसी भी आकारी वा साकारी चित्र को देखते भी नहीं देखो। आत्मा को देखो और एक विदेही को याद करो।
गीत:- तुम्हीं हो माता-पिता…

ओम् शान्ति। बच्चों को ओम् शान्ति का अर्थ तो बिल्कुल सहज समझाया जाता है। हर एक बात सहज है। सहज राजाई प्राप्त करनी है, कहाँ के लिए? सतयुग के लिए। उनको जीवनमुक्ति कहा जाता है। वहाँ रावण के यह भूत होते नहीं। कोई को क्रोध आता है तो कहा जाता है कि तुम्हारे में यह भूत है। योग का अर्थ है – अपने को आत्मा समझ परमात्मा को याद करना। मैं आत्मा हूँ, यह मेरा शरीर है। हर एक के शरीर रूपी रथ में आत्मा रथी बैठी हुई है। आत्मा की ताकत से यह रथ चलता है। आत्मा को यह शरीर घड़ी-घड़ी लेना और छोड़ना पड़ता है। यह तो बच्चे जानते हैं भारत अब दु:खधाम है। कुछ समय पहले सुखधाम था। आलमाइटी गवर्मेन्ट थी क्योंकि आलमाइटी अथॉरिटी ने भारत में देवताओं के राज्य की स्थापना की। वहाँ एक धर्म था। आज से 5 हजार वर्ष पहले बरोबर लक्ष्मी-नारायण का राज्य था। वह राज्य स्थापन करने वाला जरूर बाप होगा। बाप से उन्हों को वर्सा मिला होगा। इन्हों की आत्मा ने 84 जन्मों का चक्र लगाया है। भारतवासी ही इन वर्णों में आते हैं। शूद्र वर्ण के बाद सर्वोत्तम ब्राह्मण वर्ण आता है। ब्राह्मण वर्ण माना ब्रह्मा के मुख वंशावली। वह ब्राह्मण हैं कुख वंशावली। वह कह न सकें कि हम ब्रह्मा मुख वंशावली हैं। प्रजापिता ब्रह्मा के जरूर एडाप्टेड चिल्ड्रेन होंगे। बच्चे जानते हैं यह भारत पूज्य था, अब पुजारी है। बाप तो सदा पूज्य है वह आते जरूर हैं, पतितों को पावन बनाने। सतयुग है पावन दुनिया। सतयुग में पतित-पावनी गंगा, यह नाम ही नहीं होगा क्योंकि वह है ही पावन दुनिया। सभी पुण्य आत्मायें हैं। नो पाप आत्मा। कलियुग में फिर नो पुण्य आत्मा। सभी पाप आत्मा हैं। पुण्य आत्मा पवित्र को कहा जाता है। भारत में ही बहुत दान-पुण्य करते हैं। इस समय जब बाप आते हैं तो उनके ऊपर बलि चढ़ते हैं। सन्यासी तो घर बार छोड़ जाते हैं। यहाँ तो कहते हैं बाबा यह सब कुछ आपका है। आपने सतयुग में अथाह धन दिया था फिर माया ने कौड़ी जैसा बना दिया। अभी यह आत्मा भी पतित हो गई है। तन-मन-धन सब पतित है। आत्मा पहले-पहले पवित्र रहती है फिर चक्र लगाए पिछाड़ी में तमोप्रधान झूठा जेवर बना है। पार्ट बजाते-बजाते पतित बन जाती है। गोल्डन, सिल्वर… इन स्टेजेस में मनुष्य को आना है जरूर। गाते भी हैं तुम मात-पिता… लक्ष्मी नारायण के आगे भी जाकर यह महिमा करते हैं। परन्तु उनको तो अपना एक बच्चा, एक बच्ची होती है। जैसा सुख राजा रानी को वैसा बच्चों को रहता है। सबको सुख घनेरे हैं। अब तो 84 वें अन्तिम जन्म में हैं दु:ख घनेरे। बाप कहते हैं अब फिर से मैं तुमको राजयोग सिखलाता हूँ। बच्चों को समझाया कि इस रथ में रथी आत्मा बैठा हुआ है। यह रथी पहले 16 कला सम्पूर्ण था। अब नो कला। कहते भी हैं मैं निर्गुण हारे में अब कोई गुण नाहीं। आपेही तरस परोई अर्थात् रहम करो। कोई में भी गुण नहीं हैं। पतित हैं तब तो गंगा में पाप धोने जाते हैं। सतयुग में नहीं जाते। नदी तो वही है ना। बाकी हाँ, ऐसे कहेंगे कि उस समय हर चीज़ सतोप्रधान है। सतयुग में नदियां भी बड़ी साफ स्वच्छ होंगी। नदियों में किचड़ा आदि कुछ भी नहीं रहता। यहाँ तो देखो किचड़ा पड़ता रहता है। सागर में सारा गन्द जाता है। सतयुग में ऐसा हो नहीं सकता। लॉ नहीं है किसको अपवित्र बनाना। सब चीजें पवित्र रहती हैं। तो बाप समझाते हैं कि अभी सबका यह अन्तिम जन्म है। खेल पूरा होता है। इस खेल की लिमिट ही है 5 हजार वर्ष। यह निराकार शिवबाबा समझाते हैं। वह है निराकार सबसे ऊंच परमधाम में रहने वाला, परमधाम से तो हम सब आते हैं। अब कलियुग अन्त में ड्रामा पूरा हो फिर से हिस्ट्री रिपीट होनी है। मनुष्य जो यह गीता शास्त्र आदि पढ़ते हैं वह सब बने हैं द्वापर से। यह ज्ञान प्राय: लोप हो जाता है। राजयोग तो कोई सिखला न सके, सिर्फ उन्हों के यादगार लिए पुस्तक बनाते रहते हैं। वह खुद तो धर्म स्थापन कर पुनर्जन्म में आने लगे। उनका यादगार पुस्तक रहने लगा। अब देवी-देवता धर्म की स्थापना होती है संगम पर। बाप आकर इस रथ में विराजमान होते हैं। घोड़े गाड़ी की बात नहीं। इस साधारण बूढ़े रथ में प्रवेश करते हैं। वह है रथी। गाया भी जाता है ब्रह्मा मुख वंशावली ब्रह्माकुमार कुमारियां हैं। यह ब्रह्मा भी एडाप्ट किया हुआ है। बाप खुद कहते हैं मैं इस रथ का आए रथी बनता हूँ, इनको ज्ञान देता हूँ। शुरू इनसे करता हूँ। कलष देता हूँ माताओं को। माता तो यह भी ठहरी। पहले-पहले यह सुनते हैं फिर तुम, इनमें तो विराजमान हैं, परन्तु सामने किसको सुनावें। फिर आत्माओं से बैठ बात करते हैं और कोई भी विद्वान आदि नहीं होगा जो ऐसे आत्माओं से बैठ बात करे। मैं तुम्हारा बाप हूँ। तुम आत्मायें निराकार हो, मैं भी निराकार हूँ। मैं ज्ञान सागर स्वर्ग का रचयिता हूँ। मैं नर्क नहीं रचता हूँ। यह तो माया नर्क बनाती है। बाप कहते हैं मैं तो हूँ ही रचता, तो स्वर्ग ही बनाऊंगा। तुम भारतवासी स्वर्गवासी थे। अब नर्कवासी बने हो। नर्कवासी बनाया रावण ने क्योंकि आत्मा रावण की मत पर चलती है। इस समय तुम आत्मायें राम शिवबाबा श्री श्री की मत पर चलते हो। बाप समझाते हैं अब सबका पार्ट पूरा हुआ। जब सभी आत्मायें इकट्ठी होंगी, ऊपर से सब आ जायेंगी, तब जाना शुरू होगा। फिर विनाश शुरू हो जायेगा। भारत में अब अनेक धर्म हैं। सिर्फ एक आदि सनातन देवी-देवता धर्म है नहीं। कोई भी अपने को देवता नहीं कहलाते। देवताओं की महिमा गाते हैं सर्वगुण सम्पन्न… फिर अपने को कहेंगे हम पापी नींच…द्वापर से रावण का राज्य शुरू होता है। रामराज्य है ब्रह्मा का दिन, रावण राज्य है ब्रह्मा की रात। अब बाप कब आवे? जब ब्रह्मा की रात पूरी हो तब तो आयेगा ना। और इस ब्रह्मा के तन में आवे तब ब्रह्मा मुख से ब्राह्मण पैदा हों। उन ब्राह्मणों को ही राजयोग सिखलाते हैं। बाप कहते हैं जो भी आकारी, साकारी वा निराकारी चित्र हैं – उन्हें तुम्हें याद नहीं करना है। तुमको तो लक्ष्य दिया जाता है। मनुष्य तो चित्र देख याद करते हैं। बाबा तो कहते हैं चित्रों को देखना अब बंद करो। यह है भक्ति मार्ग। अभी तो तुम आत्माओं को वापिस मेरे पास आना है। पापों का बोझा सिर पर है, पाप आत्मा बनना ही है। ऐसे नहीं गर्भ जेल में हर जन्म के पाप खत्म हो जाते हैं। कुछ खत्म हो जाते हैं, कुछ रहते हैं। अब मैं पण्डा बनकर आया हूँ। इस समय सब आत्मायें माया की मत पर चलती हैं। बाप कहते मैं तो हूँ ही पतित-पावन, स्वर्ग का रचयिता। मेरा धन्धा ही है नर्क को स्वर्ग बनाना। स्वर्ग में तो है ही एक धर्म, एक राज्य। वहाँ कोई पार्टीशन नहीं था। बाप कहते हैं मै विश्व का मालिक नहीं बनता हूँ। तुमको बनाता हूँ। फिर रावण आकर तुमसे राज्य छीनते हैं। अभी हैं सब तमोप्रधान, पत्थरबुद्धि। संगमयुग में तुम पारसबुद्धि बनते हो। बाप कहते हैं मामेकम् याद करो, बुद्धियोग ऊपर में लटकाओ। जहाँ जाना है उनको ही याद करना है। एक बाप, दूसरा न कोई। वही सच्चा पातशाह है, सच सुनाने वाला। तो कोई भी चित्र का सिमरण नहीं करना है। यह जो शिव का चित्र है उनका भी ध्यान नहीं करना है, क्योंकि शिव तो ऐसा है नहीं। जैसे हम आत्मा भृकुटी के बीच में रहती है वैसे बाबा भी कहते हैं मैं थोड़ी जगह लेकर इस आत्मा के बाजू में बैठ जाता हूँ। रथी बन इनको बैठ ज्ञान देता हूँ। इनकी आत्मा में भी ज्ञान नहीं था। जैसे इनकी आत्मा रथी बोलती है शरीर द्वारा, वैसे मैं भी इन आरगन्स से बोलता हूँ। नहीं तो कैसे समझाऊं। ब्राह्मण रचने के लिए ब्रह्मा जरूर चाहिए। जो ब्रह्मा ही फिर नारायण बनेगा। अभी तुम ब्रह्मा की औलाद हो फिर सूर्यवंशी श्री नारायण के घराने में आयेंगे। अभी तो बिल्कुल कंगाल बन पड़े हैं। लड़ते, झगड़ते रहते हैं। बन्दर से भी बदतर हैं। बन्दर में 5 विकार बड़े कड़े होते हैं। काम, क्रोध… सब विकार बन्दर में ऐसे होते हैं जो बात मत पूछो, बच्चा मरेगा तो उनकी हड्डियों को भी छोड़ेगा नहीं। मनुष्य भी आजकल ऐसे-ऐसे हैं। बच्चा मरा तो 6-8 मास रोते रहेंगे। सतयुग में तो अकाले मृत्यु होती नहीं। न कोई रोते पीटते। वहाँ कोई शैतान होता नहीं।

बाप इस समय तुम बच्चों से बात कर रहे हैं। घरबार भी भल सम्भालो। उनमें रहते हुए ऐसी कमाल कर दिखाओ जो सन्यासी कर न सकें। यह सतोप्रधान सन्यास परमात्मा ही सिखलाते हैं। कहते हैं यह पुरानी दुनिया अब खत्म होनी है इसलिए इससे ममत्व मिटाओ। सभी को वापिस जाना है। देह सहित जो भी पुरानी चीज़ें हैं, उनको भूल जाओ। 5 विकार मुझे दे दो। अगर अपवित्र बनेंगे तो पवित्र दुनिया में आ नहीं सकेंगे। बाप से प्रतिज्ञा करो इस अन्तिम जन्म के लिए। फिर तो पवित्रता कायम हो ही जायेगी। 63 जन्म तो विष में गोते खाये, एकदम गन्दे बन पड़े हो। अपने धर्म कर्म को भूल गये हो। हिन्दू धर्म कहते रहते हो। बाप कहते हैं क्यों नहीं समझते हो भारत स्वर्ग था, हम ही देवता थे। मैंने तुमको राजयोग सिखलाया। तुम फिर कहते हो कृष्ण ने सिखलाया। क्या कृष्ण सभी का बाप स्वर्ग का रचयिता है? बाप तो है निराकार सभी आत्माओं का बाप। फिर उनके लिए कहते हो सर्वव्यापी। शिव-शंकर को भी मिला देते हो। शिव तो है परमात्मा। परमात्मा कहते हैं मैं आता ही हूँ देवी-देवता धर्म स्थापन करने। जो अभी स्थापन करते हैं फिर विष्णु के दो रूप लक्ष्मी-नारायण राज्य करेंगे। विष्णु से ही वैष्णव अक्षर निकलता है।

आजकल तो सब पाप आत्मायें हैं। वहाँ यह काम कटारी चलाकर एक दो का घात नहीं करते हैं। सचखण्ड स्थापन करने वाला एक ही सतगुरू है। बाकी सब हैं डुबोने वाले, संगम और स्वर्ग एक दो के नजदीक होने के कारण नर्क की बात स्वर्ग में ले गये हैं। वास्तव में कंस, रावण आदि सब अभी हैं। वहाँ यह हो नहीं सकते। तो रथ में जो रथी दिखाते हैं – वास्तव में रथ यह है, जिसको नंदीगण, भागीरथ भी कहा जाता है। तुम सब अर्जुन हो, तुम्हें कहते हैं इस रथ में आया हूँ, युद्ध के मैदान में तुमको माया पर जीत प्राप्त कराने। सतयुग में न रावण होता, न जलाते। अब तो रावण को जलाते ही रहेंगे, जब तक विनाश नहीं होगा। कितनी भी आपदायें आयेंगी, दशहरे पर रावण को जरूर जलायेंगे। फिर आखरीन यह रावण सप्रदाय खलास हो जायेगी। सद्गति दाता है ही एक। मनुष्य, मनुष्य को सद्गति दे न सकें। जब इन देवताओं का राज्य था तो सारे विश्व पर इन्हों का ही राज्य था और धर्म थे ही नहीं। अभी और सब धर्म हैं, देवताओं का धर्म है नहीं। जिसकी अब स्थापना हो रही है। देवता धर्म वाले ही आकर शूद्र से ब्राह्मण बनेंगे। अच्छा-

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) सतोप्रधान सन्यास करना है। इस पुरानी दुनिया में रहते इससे ममत्व मिटा देना है। देह सहित जो भी पुरानी चीज़ें हैं उनको भूल जाना है।

2) अपना बुद्धियोग ऊपर लटकाना है। किसी भी चित्र वा देहधारी को याद नहीं करना है। एक बाप का ही सिमरण करना है।

वरदान:- नथिंगन्यु की स्मृति से विघ्नों को खेल समझकर पार करने वाले अनुभवी मूर्त भव
विघ्नों का आना – यह भी ड्रामा में आदि से अन्त तक नूंध है लेकिन वह विघ्न असम्भव से सम्भव की अनुभूति कराते हैं। अनुभवी आत्माओं के लिए विघ्न भी खेल लगते हैं। जैसे फुटबाल के खेल में बाल आता है, ठोकर लगाते हैं, खेल खेलने में मजा आता है। ऐसे यह विघ्नों का खेल भी होता रहेगा, नथिंगन्यु। ड्रामा खेल भी दिखाता है और सम्पन्न सफलता भी दिखाता है।
स्लोगन:- सबके गुणों को देख विशेषताओं की खुशबू फैलाओ तो यह संसार सुखमय बन जायेगा।

[wp_ad_camp_1]

 

Read Murli 12  June 2017 :- Click Here

Read Daily Murli 11 June 2017 :- Click Here

 
Font Resize