daily murli 14 February

TODAY MURLI 14 FEBRUARY 2021 DAILY MURLI (English)

14/02/21
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
02/11/87

The basis of self-transformation is realisation with an honest heart.

Today, the World Transformer, the World Benefactor, BapDada, is seeing His loving, co-operative and world-transformer children. Through your self-transformation each of you is engaged in the service of world transformation. You all have the same zeal and enthusiasm in your minds that you definitely have to transform this world and you also have the faith that transformation will take place, that is, it can be said that transformation has already happened. You have just become BapDada’s co-operative easy yogi children in name and are making your present and future elevated.

Today, BapDada was looking at the world-transformer, instrument children and was especially looking at one thing. All are instruments for the one task; everyone’s aim is self-transformation and world transformation and yet, while being instruments for self-transformation and world transformation, why does it become numberwise? Some children bring about self-transformation very easily and quickly, whereas others have the thought of transformation one moment, but their own sanskars, the situations that come through Maya or the elements or the karmic accounts that are to be settled through the Brahmin family weaken the elevated enthusiasm for transformation. Then, there are some children who are lack the courage to bring about transformation. Where there is no courage, there is no zeal or enthusiasm and, without self-transformation there isn’t the success you would like to have in the task of world transformation. This is because this alokik, Godly service demonstrates three types of service happening at the same time. What are these three types of service that take place at the same time? 1. Attitude. 2. Vibrations. 3. Words. All three. As an instrument with humility and altruism become powerful on the basis of these, for this is how you achieve the success you would like to have. Otherwise, service takes place and you please yourself and others for a short time due to some success in service, but there isn’t the success that you would truly like to have and which BapDada wants. BapDada also becomes pleased that you children have happiness, but the result, according to your capacity, is definitely noted in the heart of the Comforter of Hearts. He would definitely say, “Well done, well done”, because the Father’s vision and attitude of blessings for every child is always there that, if not today, then tomorrow, these children will definitely become embodiments of success. However, along with being the Bestower of Blessings, He is also the Teacher and this is why He draws your attention to the future.

So, today, BapDada was seeing the result of the task of world transformation and of the world-transformer children. There is growth, the sound is spreading everywhere and the curtain of revelation has begun to open. The desire is now being created in all souls everywhere that they definitely want to come closer and have a look. Whatever they had heard has now been transformed into wanting to see. All of this transformation is taking place. Nevertheless, according to the drama, what is visible now is the result of the powerful impact of the Father and of some elevated instrument souls. If the majority were to attain success in this way, all Brahmins would very soon be revealed as embodiments of success. BapDada saw that the basis of success – the self-transformation which would be liked by yourself, by other people and by the Father – is lacking at the moment. So, why is there a lack of this self-transformation? The main reason for this is that one particular power is missing. That special power is the power of realisation.

The easy basis of any transformation is the power of realisation. Until you have the power of realisation, you cannot have experience, and until you have experience, the foundation of the speciality of Brahmin life cannot become strong. Bring your Brahmin life from the beginning in front of you.

The first transformation: I am a soul and the Father is mine. On what basis did this transformation take place? It was when you realised, “Yes, I am a soul and this One alone is my Father.” This realisation enables you to have experience, for only then does transformation take place. Until you realise this, you continue to move along at an ordinary speed, but the moment the power of realisation makes you experienced, you become an intense effort-maker. In the same way, all the specific things about transformation, whether it is about the Creator or creation, until you realise every aspect, that, yes, this is that time, this is that same yoga and I am that elevated soul, you will not have that same zeal or enthusiasm in your activity. For some – there will be transformation for a short time due to the impact of the atmosphere, but it will not be for all time. The power of realisation brings about easy transformation for all time.

In the same way, unless you also have the power of realisation in self-transformation, there cannot be elevated transformation for all time. In this, the realisation of two things in particular is needed. 1. The realisation of your own weaknesses. 2. The realisation of the situation and the desires and feelings in the mind of the one who becomes instrumental (for that situation), the weakness of the person or of that one’s stage due to being under an external influence. By knowing the reason for the test through that situation, let there be the realisation of passing in that with your elevated form: “I am elevated, my stage is elevated and that situation is just a paper.” This realisation will easily bring about transformation and you will pass. The realisation of the desires of others and the realisation of what is needed for their self-progress is the basis of your self-progress. So, self-transformation cannot take place without the power of realisation. In this too, one is realisation with an honest heart and the other is realisation in a clever way because you have become very knowledge-full. So, by considering the time and in order to justify your task and glorify your name, you would have realisation at that time, but that realisation won’t have the power to bring about transformation. So, it is realisation from the heart that enables you to receive blessings from the Comforter of Hearts, whereas realisation with cleverness will make you and others happy for a short time.

The third type of realisation is that your mind accepts that something is not right, your conscience also tells you that that is not right but, in order to keep up appearances of being a maharathi or, because of not wanting to make yourself look weak or any less in the family, you continue to kill your conscience. To kill your conscience in this way is also a sin. Just as committing suicide is a great sin, so this too accumulates in the account of sin. This is why BapDada continues to smile and also continues to listen to the dialogues in their minds. They are very beautiful dialogues. The main thing is that those who have this type of realisation think: What does anyone else know? This continues to happen. However, the Father knows about every leaf. He doesn’t know about something only when He is told about. However, even while knowing about it, He becomes ignorant and, with innocence, in His innocent form, He makes the children move. Since He knows, why does He become innocent? Because He is the Merciful Father and so that you don’t accumulate further sin with that sin, He has mercy. Do you understand? Such children become very clever and come in front of the Clever Father or the instrument souls. This is why the Father becomes merciful and the Innocent Lord.

BapDada has a very clear account of every action and every thought in the mind of every child. There is no need to know what is in their hearts, for the image of each heartbeat of every child’s heart is clear. This is why He says that He doesn’t know what is in each one’s heart – because there is no need to know it; it is already clear. The chart of the heartbeat of every moment and every thought in the mind is in front of BapDada. He can tell you about it; it isn’t that He cannot tell you about it. He can tell you the date, place, time and exactly what you did. He can tell you everything. However, while knowing all of that, He remains oblivious. So, today Baba saw the whole chart.

The reason for self-transformation not happening at a fast speed is the lack of realisation with an honest heart. The power of realisation can give you very sweet experiences. You understand this, do you not? Sometimes, consider yourself to be a soul who is a jewel of the Father’s eyes, that is, realise yourself to be an elevated point merged in the eyes. Only the point can merge in the eyes; the body cannot merge in the eyes. Sometimes, consider yourself to be a jewel of the forehead, sparkling on the forehead. Sometimes, realise that you are a sparkling star. Sometimes, experience and realise that you are Father Brahma’s co-operative right hand, Brahma’s arm in the corporeal Brahmin form. Sometimes, realise that you are an ayvakt angelic form. With the power of realisation, have many unique, alokik experiences. Do not just speak about them in the form of knowledge, but realise them. Increase the power of this type of realisation, and then realisation of the other type, of weaknesses, will automatically become very clear. Even a tiny spot would very clearly be seen in a powerful mirror and you would be able to transform it. So, do you understand? The power of realisation is the basis of self-transformation. Use the powers, do not just count them and be happy with that, thinking, “Yes, I have this power and I also have this power”, but constantly use them for yourself, for others and for service in every task. Do you understand? Some children ask: Does the Father just do this all the time? However, what can the Father do? He has to take each one of you. Since He has to take you with Him, He needs to have such companions. Therefore, He continues to look at you and continues to give you the news so that you companions become equal. It isn’t even a question of those who are going to follow behind; there will be many of them, but the companions have to be equal. So, are you companions or those who are part of the procession? The procession will be very long; this is why the procession of Shiva is very well known. There will be a variety of those in the procession, but the companions have to be like this (like the Father). Achcha.

This is the Eastern Zone. What is the Eastern Zone doing? Where will you make the sun of revelation rise? That the Father incarnates is now old news. However, what will you do now? You have very good intoxication of that being the old kingdom (Brahma Baba’s original place – Calcutta), but what will you do now? Now let the sun of some newness rise so that it emerges from everyone’s lips that the sun of newness has risen in the Eastern Zone. Now, demonstrate this in a practical way by carrying out a task that no one else has yet done. You have had functionsseminars, served IPs and also served through the newspapers, but everyone does that; so now show some sparkle of newness. Do you understand?

The Father’s home is your home. You have arrived here comfortably. Comfort of the heart also gives you physical comfort. When there isn’t comfort of the heart, then, although all the facilities for comfort are available, you feel uncomfortable. You have comfort of the heart, that is, Rama is always in your heart with you and this is why you experience comfort in every situation. You have comfort, do you not? Or, does coming and going make you restless? Nevertheless, consider it to be the destiny of the sweet drama. You are celebrating the mela, are you not? To meet the Father, to meet the family; to celebrate the mela is also sweet destiny. Achcha.

To all the most powerful elevated souls, to all the intense effort-making souls who use every power at the right time, to all the happy-hearted, children who always achieve the success they want in service through their self-transformation, to the embodiments of success who constantly remain clear with honest hearts in front of the Father, the Comforter of Hearts, BapDada’s love and remembrance from the heart and namaste.

BapDada meeting a group:

Do you experience yourselves to be special souls who are always under the Father’s canopy of protection? Where there is the Father’s canopy of protection, you will always be safe from Maya. Maya cannot come under the canopy. You will automatically be far from having to work hard and will always be in pleasure, because where there is hard work, it does not allow you to enjoy yourself. For instance, when children are studying, there is hard work in that. During the days of their examinations they work very hard, they don’t play and enjoy themselves. Then, when the hard work is finished, when their examinations are over, they enjoy themselves. So, where there is hard work, there isn’t pleasure. Where there is pleasure, there is no hard work. To stay under the canopy is to be constantly enjoying yourselves because here, although you study the highest study, and even though this is the highest study, you have the faith that you are definitely victorious, that you have already passed and this is why you enjoy yourselves. This is the study of cycle after cycle. It isn’t anything new. So, constantly enjoy yourselves and continue to give others the message of enjoying themselves and continue to serve, because you will continue to eat the fruit of service at this time and also in the future. Only when you do service would you receive its fruit.

At the time of taking leave, speaking to senior brothers and sisters:

BapDada wants to make all the children fly with pure wishes for making them equal. The instrument servers are definitely going to become equal to the Father. No matter how, the Father has to make you that, because He will not take just anyone with Him. The Father has His pride too. If the Father is complete, but the companions are disabled or handicapped, it would not be fitting. The disabled and the handicapped would be those who are part of the procession; they would not be companions. This is why the procession of Shiva has always been shown as those who are disabled and handicapped, because some weak souls will become worthy after passing through the land of Dharamraj.

Blessing: May you be a master ocean with the power to accommodate and thereby become an embodiment of success on the stage of service.
When you come onto the stage of service, many types of situations come in front of you. Therefore, accommodate those situations within yourself and you will become an embodiment of success. To accommodate means not to have the slightest trace of anything gross, even in the form of a thought or feeling merged in you. Transform words that are not benevolent into benevolent feelings in such a way that it is as though those words that were not benevolent were never spoken. Transform defects into virtues and defamation into praise, and you will then be called a master ocean.
Slogan: One who doesn’t see the expansion but sees the essence and merges that in the self is an intense effort-maker.

 

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 14 FEBRUARY 2021 : AAJ KI MURLI

14-02-21
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 02-11-87 मधुबन

स्व-परिवर्तन का आधार – ‘सच्चे दिल की महसूसता’

आज विश्व-परिवर्तक, विश्व-कल्याणकारी बापदादा अपने स्नेही, सहयोगी, विश्व परिवर्तक बच्चों को देख रहे हैं। हर एक स्व-परिवर्तन द्वारा विश्व-परिवर्तन करने की सेवा में लगे हुए हैं। सभी के मन में एक ही उमंग-उत्साह है कि इस विश्व को परिवर्तन करना ही है और निश्चय भी है कि परिवर्तन होना ही है अथवा यह कहें कि परिवर्तन हुआ ही पड़ा है। सिर्फ निमित्त बापदादा के सहयोगी, सहजयोगी बन वर्तमान और भविष्य श्रेष्ठ बना रहे हैं।

आज बापदादा चारों ओर के निमित्त विश्व-परिवर्तक बच्चों को देखते हुए एक विशेष बात देख रहे थे – हैं सभी एक ही कार्य के निमित्त, लक्ष्य भी सभी का स्व-परिवर्तन और विश्व-परिवर्तन ही है लेकिन स्व-परिवर्तन वा विश्व-परिवर्तन में निमित्त होते हुए भी नम्बरवार क्यों? कोई बच्चे स्व-परिवर्तन बहुत सहज और शीघ्र कर लेते और कोई अभी-अभी परिवर्तन का संकल्प करेंगे लेकिन स्वयं के संस्कार वा माया और प्रकृति द्वारा आने वाली परिस्थितियाँ वा ब्राह्मण परिवार द्वारा चुक्तु होने वाले हिसाब-किताब श्रेष्ठ परिवर्तन के उमंग को कमजोर कर देते हैं और कई बच्चे परिवर्तन करने की हिम्मत में कमजोर हैं। जहाँ हिम्मत नहीं, वहाँ उमंग-उत्साह नहीं। और स्व-परिवर्तन के बिना विश्व-परिवर्तन के कार्य में दिल-पसन्द सफलता नहीं होती क्योंकि यह अलौकिक ईश्वरीय सेवा एक ही समय पर तीन प्रकार के सेवा की सिद्धि है, वह तीन प्रकार की सेवा साथ-साथ कौनसी है? एक – वृत्ति, दूसरा – वायब्रेशन, तीसरा – वाणी। तीनों ही शक्तिशाली निमित्त, निर्माण और नि:स्वार्थ इस आधार से हैं, तब दिल-पसन्द सफलता होती है। नहीं तो सेवा होती है, अपने को वा दूसरों को थोड़े समय के लिए सेवा की सफलता से खुश तो कर लेते हैं लेकिन दिल-पसन्द सफलता जो बापदादा कहते हैं, वह नहीं होती है। बापदादा भी बच्चों की खुशी में खुश हो जाते हैं लेकिन दिलाराम की दिल पर यथा-शक्ति रिजल्ट नोट जरूर होती रहती। ‘शाबास, शाबाश!’ जरूर कहेंगे क्योंकि बाप की हर बच्चे के ऊपर सदा वरदान की दृष्टि और वृत्ति रहती है कि यह बच्चे आज नहीं तो कल सिद्धि-स्वरूप बनने ही हैं। लेकिन वरदाता के साथ-साथ शिक्षक भी है, इसलिए आगे के लिए अटेन्शन भी दिलाते हैं।

तो आज बापदादा विश्व-परिवर्तन के कार्य की और विश्व-परिवर्तक बच्चों की रिजल्ट को देख रहे थे। वृद्धि हो रही है, आवाज़ चारों ओर फैल रहा है, प्रत्यक्षता का पर्दा खुलने का भी आरम्भ हो गया है। चारों ओर की आत्माओं में अभी इच्छा उत्पन्न हो रही है कि नजदीक जाकर देखें। सुनी-सुनाई बातें अभी देखने के परिवर्तन में बदल रही हैं। यह सब परिवर्तन हो रहा है। फिर भी ड्रामा अनुसार अभी तक बाप और कुछ निमित्त बनी हुई श्रेष्ठ आत्माओं के शक्तिशाली प्रभाव का परिणाम यह दिखाई दे रहा है। अगर मैजारिटी इस विधि से सिद्धि को प्राप्त करें तो बहुत जल्दी सर्व ब्राह्मण सिद्धि-स्वरूप में प्रत्यक्ष हो जायेंगे। बापदादा देख रहे थे – दिलपसन्द, लोकपसन्द, बाप-पसन्द सफलता का आधार ‘स्व परिवर्तन’ की अभी कमी है और ‘स्व-परिवर्तन’ की कमी क्यों हैं? उसका मूल आधार एक विशेष शक्ति की कमी है। वह विशेष शक्ति है महसूसता की शक्ति।

कोई भी परिवर्तन का सहज आधार महसूसता-शक्ति है। जब तक महसूसता-शक्ति नहीं आती, तब तक अनुभूति नहीं होती और जब तक अनुभूति नहीं तब तक ब्राह्मण जीवन की विशेषता का फाउन्डेशन मजबूत नहीं। आदि से अपने ब्राह्मण जीवन को सामने लाओ।

पहला परिवर्तन – मैं आत्मा हूँ, बाप मेरा है – यह परिवर्तन किस आधार से हुआ? जब महसूस करते हो कि ‘हाँ, मैं आत्मा हूँ, यही मेरा बाप है।’ तो महसूसता अनुभव कराती है, तब ही परिवर्तन होता है। जब तक महसूस नहीं करते, तब तक साधारण गति से चलते हैं और जिस घड़ी महसूसता की शक्ति अनुभवी बनाती है तो तीव्र पुरूषार्थी बन जाते हैं। ऐसे जो भी परिवर्तन की विशेष बातें है – चाहे रचयिता के बारे में, चाहे रचना के बारे में, जब तक हर बात को महसूस नहीं करते कि हाँ, यह वही समय है, वही योग है, मैं भी वही श्रेष्ठ आत्मा हूँ – तब तक उमंग-उत्साह की चाल नहीं रहती। कोई के वायुमण्डल के प्रभाव से थोड़े समय के लिए परिवर्तन होगा लेकिन सदाकाल का नही होगा। महसूसता की शक्ति सदाकाल का सहज परिवर्तन कर लेगी।

इसी प्रकार स्व-परिवर्तन में भी जब तक महसूसता की शक्ति नहीं, तब तक सदाकाल का श्रेष्ठ परिवर्तन नहीं हो सकता है। इसमें विशेष दो बातों की महसूसता चाहिए। एक – अपनी कमज़ोरी की महसूसता। दूसरा – जो परिस्थिति वा व्यक्ति निमित्त बनते हैं, उनकी इच्छा और उनके मन की भावना वा व्यक्ति की कमजोरी या परवश के स्थिति की महसूसता। परिस्थिति के पेपर के कारण को जान स्वयं को पास होने के श्रेष्ठ स्वरूप की महसूसता में हो कि मैं श्रेष्ठ हूँ, स्वस्थिति श्रेष्ठ है, परिस्थिति पेपर है। यह महसूसता सहज परिवर्तन करा लेगी और पास कर लेंगे। दूसरे की इच्छा वा दूसरे के स्व-उन्नति की भी महसूसता अपने स्व-उन्नति का आधार है। तो स्व-परिवर्तन महसूसता की शक्ति बिना नहीं हो सकता। इसमें भी एक है सच्चे दिल की महसूसता, दूसरी – चतुराई की महसूसता भी है क्योंकि नॉलेजफुल बहुत बन गये हैं। तो समय देख अपना काम सिद्ध करने के लिए, अपना नाम अच्छा करने के लिए उस समय महसूस भी कर लेंगे लेकिन उस महसूसता में शक्ति नहीं होती जो परिवर्तन कर लेंवे। तो दिल की महसूसता दिलाराम की आशीर्वाद प्राप्त कराती है और चतुराई वाली महसूसता थोड़े समय के लिए दूसरे को भी खुश कर लेते, अपने को भी खुश कर देते।

तीसरे प्रकार की महसूसता – मन मानता है कि यह ठीक नहीं है, विवेक आवाज देता है कि यह यथार्थ नहीं है लेकिन बाहर के रूप से अपने को महारथी सिद्ध करने के लिए, अपने नाम को किसी भी प्रकार से परिवार के बीच कमजोर या कम न करने के कारण विवेक का खून करते रहते हैं। यह विवेक का खून करना भी पाप है। जैसे आपघात महापाप है, वैसे यह भी पाप के खाते में जमा होता है इसलिए बापदादा मुस्कराते रहते हैं और उनके मन के डॉयलाग भी सुनते रहते हैं। बहुत सुन्दर डॉयलाग होते हैं। मूल बात – ऐसी महसूसता वाले यह समझते हैं कि किसको क्या पता पड़ता है, ऐसे ही चलता है… लेकिन बाप को पता हर पत्ते का है। सिर्फ मुख से सुनने से पता नहीं पड़ता, लेकिन पता होते भी बाप अन्जान बन भोलेपन में भोलानाथ के रूप से बच्चों को चलाते हैं। जबकि जानते हैं, फिर भोला क्यों बनते? क्योंकि रहमदिल बाप है और पाप में पाप न बढ़ते जायें, यह रहम करता है। समझा? ऐसे बच्चे चतुरसुजान बाप से भी अथवा निमित्त आत्माओं से भी बहुत चतुर बन सामने आते हैं इसलिए बाप रहमदिल, भोलानाथ बन जाते हैं।

बापदादा के पास हर बच्चे के कर्म का, मन के संकल्पों का खाता हर समय का स्पष्ट रहता है। दिलों को जानने की आवश्यकता नहीं है लेकिन हर बच्चे के दिल की हर धड़कन का चित्र स्पष्ट ही है इसलिए कहते हैं कि मैं हर एक के दिल को नहीं जानता क्योंकि जानने की आवश्यकता ही नहीं, स्पष्ट है ही। हर घड़ी के दिल की धड़कन वा मन के संकल्प का चार्ट बापदादा के सामने है। बता भी सकते हैं, ऐसे नहीं कि नहीं बता सकते हैं। तिथि, स्थान, समय और क्या-क्या किया – सब बता सकते हैं। लेकिन जानते हुए भी अन्जान रहते हैं। तो आज सारा चार्ट देखा।

स्व-परिवर्तन तीव्रगति से न होने के कारण ‘सच्ची दिल के महसूसता’ की कमी है। महसूसता की शक्ति बहुत मीठे अनुभव करा सकती है। यह तो समझते हो ना। कभी अपने को बाप के नूरे रत्न आत्मा अर्थात् नयनों में समाई हुई श्रेष्ठ बिन्दु महसूस करो। नयनों में तो बिन्दु ही समा सकता है, शरीर तो नहीं समा सकेगा। कभी अपने को मस्तक पर चमकने वाली मस्तकमणि, चमकता हुआ सितारा महसूस करो, कभी अपने को ब्रह्मा बाप के सहयोगी, राइट हैण्ड साकार ब्राह्मण रूप में ब्रह्मा की भुजायें अनुभव करो, महसूस करो। कभी अव्यक्त फरिश्ता स्वरूप महसूस करो। ऐसे महसूसता शक्ति से बहुत अनोखे, अलौकिक अनुभव करो। सिर्फ नॉलेज की रीति वर्णन नही करो, महसूस करो। इस महसूसता-शक्ति को बढ़ाओ तो दूसरे तरफ की कमजोरी की महसूसता स्वत: ही स्पष्ट होगी। शक्तिशाली दर्पण के बीच छोटा-सा दाग भी स्पष्ट दिखाई देगा और परिवर्तन कर लेंगे। तो समझा, स्व परिवर्तन का आधार महसूसता शक्ति है। शक्ति को कार्य में लगाओ, सिर्फ गिनती करके खुश न हो – हाँ, यह भी शक्ति है, यह भी शक्ति है। लेकिन स्व प्रति, सर्व प्रति, सेवा प्रति सदा हर कार्य में लगाओ। समझा? कई बच्चे कहते कि बाप यही काम करते रहते हैं क्या? लेकिन बाप क्या करे, साथ तो ले ही जाना है। जब साथ ले जाना है तो साथी भी ऐसे ही चाहिए ना इसलिए देखते रहते हैं और समाचार सुनाते रहते कि साथी समान बन जाएं। पीछे-पीछे आने वालों की तो बात ही नहीं है, वह तो ढेर के ढेर होंगे। लेकिन साथी तो समान चाहिए ना। आप साथी हो या बाराती हो? बारात तो बहुत बड़ी होगी, इसलिए शिव की बारात मशहूर है। बारात तो वैराइटी होगी लेकिन साथी तो ऐसे चाहिए ना। अच्छा।

यह ईस्टर्न ज़ोन है। ईस्टर्न ज़ोन क्या कर रहा है? प्रत्यक्षता का सूर्य कहाँ से उदय करेंगे? बाप में प्रत्यक्षता हुई, वह बात तो अब पुरानी हो गई। लेकिन अब क्या करेंगे? पुरानी गद्दी है – यह तो नशा अच्छा है लेकिन अब क्या करेंगे? अभी कोई नवीनता का सूर्य उदय करो जो सब के मुख से निकले कि यह ईस्टर्न ज़ोन से नवीनता का सूर्य प्रकट हुआ! जो कार्य अभी तक किसी ने न किया हो, वह अब करके दिखाओ। फंक्शन, सेमीनार किये, आई. पी. (विशिष्ट व्यक्ति) की सेवा की, अखबारों में डाला – यह तो सभी करते लेकिन नवीनता की कुछ झलक दिखाओ। समझा।

बाप का घर सो अपना घर है। आराम से सब पहुँच गये हैं। दिल का आराम स्थूल आराम भी दिला देता है। दिल का आराम नहीं तो आराम के साधन होते भी बेआराम होते। दिल का आराम है अर्थात् दिल में सदा राम साथ में है, इसलिए कोई भी परिस्थिति में आराम अनुभव करते हो। आराम है ना, कि आना-जाना बेआराम लगता है? फिर भी मीठे ड्रामा की भावी समझो। मेला तो मना रहे हो ना। बाप से मिलना, परिवार से मिलना – यह मेला मनाने की भी मीठी भावी है। अच्छा।

सर्वशक्तिशाली श्रेष्ठ आत्माओं को, हर शक्ति को समय पर कार्य में लाने वाले सर्व तीव्र पुरूषार्थी बच्चों को, सदा स्व-परिवर्तन द्वारा सेवा में दिलपसन्द सफलता पाने वाले दिलखुश बच्चों को, सदा दिलाराम बाप के आगे सच्ची दिल से स्पष्ट रहने वाले सफलता-स्वरूप श्रेष्ठ आत्माओं को दिलाराम बापदादा का दिल से यादप्यार और नमस्ते।

पार्टियों के साथ अव्यक्त-बापदादा की मुलाकात

सदा अपने को बाप की छत्रछाया में रहने वाली विशेष आत्मायें अनुभव करते हो? जहाँ बाप की छत्रछाया है, वहाँ सदा माया से सेफ रहेंगे। छत्रछाया के अन्दर माया आ नहीं सकती। मेहनत से स्वत: ही दूर हो जायेंगे। सदा मौज में रहेंगे क्योंकि जब मेहनत होती है, तो मेहनत मौज अनुभव नहीं कराती। जैसे, बच्चों की पढ़ाई जब होती है तो पढ़ाई में मेहनत होती है ना। जब इम्तिहान के दिन होते हैं तो बहुत मेहनत करते हैं, मौज से खेलते नहीं है। और जब मेहनत खत्म हो जाती है, इम्तिहान खत्म हो जाते हैं तो मौज करते हैं। तो जहाँ मेहनत है, वहाँ मौज नहीं। जहाँ मौज है, वहाँ मेहनत नहीं। छत्रछाया में रहने वाले अर्थात् सदा मौज में रहने वाले क्योंकि यहाँ पढ़ाई ऊंची पढ़ते हो लेकिन ऊंची पढ़ाई होते हुए भी निश्चय है कि हम विजयी हैं ही, पास हुए ही पड़े हैं इसलिए मौज में रहते हैं। कल्प-कल्प की पढ़ाई है, नयी बात नहीं है। तो सदा मौज में रहो और दूसरों को भी मौज में रहने का सन्देश देते रहो, सेवा करते रहो क्योंकि सेवा का फल इस समय भी और भविष्य में भी खाते रहेंगे। सेवा करेंगे तब तो फल मिलेगा।

विदाई के समय – मुख्य भाई-बहिनों के साथ

बापदादा सभी बच्चों को समान बनाने की शुभ भावना से उड़ाने चाहते हैं। निमित्त बने हुए सेवाधारी बाप-समान बनने ही हैं, कैसे भी बाप को बनाना ही है क्योंकि ऐसे-वैसे को तो साथ ले ही नहीं जायेंगे। बाप का भी तो शान है ना। बाप सम्पन्न हो और साथी लंगड़ा या लूला हो तो सजेगा नहीं। लूले-लंगड़े बाराती होंगे, साथी नहीं, इसलिए शिव की बरात सदा लूली-लंगड़ी दिखाई गई है क्योंकि कुछ कमजोर आत्मायें धर्मराजपुरी में पास होते लायक बनेंगी। अच्छा।

वरदान:- सेवा की स्टेज पर समाने की शक्ति द्वारा सफलता मूर्त बनने वाले मास्टर सागर भव
जब सेवा की स्टेज पर आते हो तो अनेक प्रकार की बातें सामने आती हैं, उन बातों को स्वयं में समा लो तो सफलतामूर्त बन जायेंगे। समाना अर्थात् संकल्प रूप में भी किसी की व्यक्त बातों और भाव का आंशिक रूप समाया हुआ न हो। अकल्याणकारी बोल कल्याण की भावना में ऐसे बदल दो जैसे अकल्याण का बोल था ही नहीं। अवगुण को गुण में, निंदा को स्तुति में बदल दो – तब कहेंगे मास्टर सागर।
स्लोगन:- विस्तार को न देख सार को देखने वा स्वयं में समाने वाले ही तीव्र पुरुषार्थी हैं।

TODAY MURLI 14 FEBRUARY 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 14 February 2020

14/02/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, the original religion of you souls is peace. The land of souls is the land of peace. You souls are embodiments of peace. Therefore, you cannot ask for peace.
Question: What wonders does your power of yoga perform?
Answer: With the power of yoga, you purify the whole world. There are very few of you children with the power of yoga to remove the whole of this mountain and establish the mountain of gold. Even the five elements will become satopradhan and give very good fruit. When matter is satopradhan, your bodies will also be satopradhan. The fruit there is very large and delicious.

Om shanti. When you say “Om shanti”, you should have great happiness. In fact, you souls are embodiments of peace; the original religion of you souls is peace. Sannyasis say of this that peace is the garland around your neck. Why do you search for peace outside? Souls themselves are embodiments of peace. They have to enter bodies in order to play their parts. If souls always remained in silence, how could they act? Actions have to be performed. Yes, in the land of silence, souls remain silent. There are no bodies there. None of the sannyasis etc. understand that each of them is a soul, that they are residents of the land of silence. You children have been told that the land of silence is your home. Then you go to the land of happiness to play your parts and then it is Ravan’s kingdom in the land of sorrow. This is the story of 84 births. God says to Arjuna: You do not know your own births. Why does He only speak to one? Because there is the guarantee for one. There is the guarantee for Radhe and Krishna and so He speaks to them. The Father knows and you children also know that not all of the children will take 84 births. Some will come in the middle, some will come at the end, but for this one it is certain. Baba says to this one: O child! Therefore, this one is Arjuna. He is sitting in this chariot. You children can understand for yourselves how you will take birth. If you do not do any service, how could you go to the new, golden-aged world at the beginning? It would not be in your fortune. Those who take birth at the end will go there when the house has become old. I am speaking for this one, for the one for whom it is certain. You can understand that Mama and Baba take 84 births. There are also Kumarka and Janak. Such maharathis take 84 births. Those who do not do service will definitely come a few births later. They can understand for themselves that they will fail and come later. In a school they race to the finishing line and return. Not everyone can be the same. In a race, if there is the difference of even a quarter of an inch, that one claims a number ahead. This is also a horse race. This is the ashwa race. “Ashwa” means a horse. This chariot is also called a horse. None of those things that have been said about Daksh Prajapita creating a sacrificial fire and sacrificing a horse in that sacrificial fire happened. Neither was there Daksh Prajapita, nor was there any sacrificial fire created by him. So many false books have been written on the path of devotion. They are just called stories. They listen to many stories, whereas you study. A study wouldn’t be called a story. You have an aim and objective in what you study at school. You find employment through that study; you receive something or other. You children now have to become very soul conscious. This does take effort. Only by remembering the Father can your sins be absolved. You especially do have to remember Him. You shouldn’t think that you are Shiv Baba’s child anyway, so why should you therefore remember Him; no. You have to remember Him whilst also considering yourselves to be His students. Shiv Baba is teaching us souls. You also forget this. Shiv Baba is the only Teacher who teaches you the secrets of the beginning, the middle and the end of the world. You do not even remember this. Each one of you children can ask your heart how long you stayed in remembrance of the Father. You spend most of your time in extroversion. This remembrance is the main thing. There is great praise of this yoga of Bharat, but who can teach you this yoga of Bharat? No one knows this. They have put Krishna’s name in the Gita. Not a single sin can be cut away by remembering Krishna because he is a bodily being, made of the five elements. To remember him means to remember clay. It means that you remember the five elements. Shiv Baba is bodiless and this is why He says: Become bodiless! Remember Me, your Father! You call out: O Purifier! Therefore, He is the only One. Ask them tactfully who the God of the Gita is. There is only the one God who is the Creator. Even though people call themselves God, they never say that everyone is their child. They either say, “I am God and the same applies to you”, or they say that God is omnipresent. They say, “I am God and you are God and wherever I look I only see You. You are even in the stones.” They just say this. They wouldn’t say that you are their children. Only the Father says: O My beloved, spiritual children. No one else says this. If you said: “O my beloved child” to a Muslim, he would slap you. Only the one parlokik Father can say this. No one else can give you the knowledge of the beginning, the middle and the end of the world. No one but the incorporeal Father can explain the secrets shown in the picture of the ladder of 84 births. Although He has been given many names, His real name is Shiva. There are many languages, and so they name Him in their own language, just as in Bombay they call Him Babulnath (Lord of Thorns). However, they don’t understand the meaning of that. You understand that He is the One who changes thorns into flowers. In Bharat, Shiv Baba has probably been given a thousand names, but no one understands the meanings of them. The Father only explains to you children and, in this, Baba keeps the mothers in front. Since the Father came, there is greater regard for women. The Father has increased the praise of mothers. You are the Shiv Shakti Army. Only you know Shiv Baba. There is only the One who is called the Truth. It is remembered that although the boat of truth may rock, it will never sink. Therefore, you are the true ones, the ones who are establishing the new world. All the things of falsehood are to be destroyed. You are not going to rule here. In your next birth you will come and rule here. These matters are very incognito and only you understand them. You now know that if you hadn’t met Baba, you wouldn’t have understood anything. You now understand this. This one is Yudhishthira, the one who alerts you children on the battlefield. This is a non-violent battle. People think that only fighting with one another is violence. The Father says: The first and main violence is using the sword of lust. This is why lust is said to be your greatest enemy. You have to conquer it. The main thing you have to conquer is the vice of lust. To be impure means to be vicious. Those who are impure are said to be vicious; they are those who indulge in vice. You wouldn’t call a person who gets angry vicious. A person who becomes angry is an angry person, and a person who becomes greedy is a greedy person. Deities are said to be completely viceless, free from greed, free from attachment and free from vice; they never indulge in vice. When people ask you how children can be created without vice, tell them: You consider the deities to be viceless and that is the viceless world. The copper and iron ages are the vicious world. You call yourselves vicious and the deities viceless. You know that you used to be vicious and that you are now becoming as viceless as them. Lakshmi and Narayan claimed their status with the power of yoga and are also claiming it once again. We were deities; we claimed our kingdom a cycle ago. We then lost it and are claiming it back once again. Even if your intellects churned this, you would have great happiness. However, Maya makes you forget to maintain this awareness. Baba knows that you can’t stay in remembrance constantly. When you children remain unshakeable and stay in remembrance, you will quickly reach your karmateet stage and you souls will be able to return home; but no! This one is the one who has to go first. There will be the wedding procession of Shiv Baba. Mothers take earthenware lamps to a wedding. That lamp symbolizes Shiv Baba, the Bridegroom, who is the constantly ignited Light. He has now ignited us lights. They have taken the things of the present time on to the path of devotion. You light your flame with the power of yoga. You become pure through yoga and you receive wealth through knowledge. This study is your source of income. With the power of yoga, you purify Bharat in particular and the whole world in general. Kumaris can become very good helpers in this. You claim a very good status by doing this service. You have to make your lives like a diamond, nothing less. It is said: Follow the mother and fatherSee the mother, father and the special brothers and sisters. You children can explain at the exhibitions that you have two fathers: your worldly father and the parlokik Father. Which one is greater? The unlimited Father would surely be greater. He is the One from whom you receive the inheritance. He is now giving you the inheritance. He is making you into the masters of the world. God speaks: I now teach you Raj Yoga and then, in your next birth, you become the masters of the world. The Father comes into Bharat every cycle and makes Bharat very wealthy. You become the masters of the world through this study. What do you receive from other studies? Here, you become like diamonds for 21 births. There is the difference of day and night between this study and other studies. Here, the Father, Teacher and Guru are one. Therefore, you are given the inheritance by the Father, the inheritance by the Teacher and the inheritance by the Guru. The Father says: Now forget everything including your own bodies. When you die, the whole world is dead for you. You have become the Father’s adopted children, and so who else would you remember? Even whilst seeing others, it should be as though you don’t see them. You came to play your parts but your intellects understand that you now have to return home and then come down again to play your parts. If you even kept this in your intellects, you would experience great happiness. You children must let go of body consciousness. We have to leave these old things here because we now have to return home. Now that the play is coming to an end, the old world is to be set ablaze. Both the blind and the children of the blind are sleeping in the sleep of ignorance. This is not the usual sleep that people have, but it is a matter of the sleep of ignorance. You have to awaken them from this. Knowledge is the day, the golden age; ignorance is the night, the iron age. These things have to be understood. When a girl gets married, she remembers her parents and her in-laws etc. They now have to be forgotten. Some couples are such that they show the sannyasis how they are able to refrain from lust, even though they are a couple, that they keep the sword of knowledge between them. The Father’s order is: Remain pure! Just look at Ramesh and Usha: there has never been impurity between them because of the fear of losing their kingdom of 21 births; that they would go bankrupt. There are some who fail in this. There is also marriage in name only. You know that you can claim a very high status by remaining pure. You only have to remain pure for this one birth. When you gain the power of yoga you can control your sense organs. You also purify the whole world with the power of yoga. There are very few of you children with the power of yoga to remove the whole mountain and establish the mountain of gold. People don’t understand any of this. They simply go around the Goverdhan mountain. Only the Father makes the whole world goldenaged. It isn’t that the Himalayas will become gold. There, the mines of gold remain full. The five elements are satopradhan. They give very good fruit. Because matter becomes satopradhan, your bodies too are satopradhan. The fruits there are very large and delicious. The very name is heaven. Only when you consider yourselves to be souls and you remember the Father can you become free from vice. When you become body conscious, you have a desire for lust. Yogis never indulge in vice. Even though you might have some power of knowledge, if you are not a yogi, you fall. When you are asked whether the effort or the reward is greater, you say that the effort is greater. Similarly, you would say that, in this, yoga is greater. It is only by having yoga that you can become pure from impure. You children say that you are now studying with the unlimited Father. What would you receive by studying with human beings? What would your monthly salary be? Each jewel you imbibe here is worth hundreds of thousands of rupees. There, money is never counted; there is countless wealth. Everyone has his own farm etc. The Father says: It is now that I teach you Raj Yoga. That is the aim and objective. You have to become elevated by making effort. Your kingdom is being established. How did Lakshmi and Narayan claim their reward? Once you have understood their reward, what else do you need? You now know that the Father comes every cycle, every 5000 years, and makes the people of Bharat into the residents of heaven. Therefore, you children should have such enthusiasm for doing service that you won’t eat until you have shown someone the path. Only when you have such zeal and enthusiasm can you claim a high status. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. You have to make your life like a diamond for 21 births by doing Godly service. You must only follow the mother and father and the special brothers and sisters.
  2. In order to make your stage karmateet, forget everyone including your own body. You have to make your remembrance unshakeable and constant. You have to become free from greed and attachment and as viceless as the deities.
Blessing: May you be especially influential with a particular speciality as well as being filled with all virtues.
Doctors have knowledge of all general illnesses but, together with those, some become well- known with special knowledge in a particular field. In the same way, you children definitely have to become filled with all virtues, but you should now continue to move forward by becoming experienced in a particular speciality and use it for service. Just as Saraswati is worshipped as the goddess of knowledge, Lakshmi is worshipped as the goddess of wealth, in the same way, while having all virtues and all powers in yourself, especially do research in a particular speciality and make yourself influential in that.
Slogan: Make the snake of vices the bed of easy yoga and you will remain constantly carefree.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 14 FEBRUARY 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 14 February 2020

14-02-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – तुम आत्माओं का स्वधर्म शान्ति है, तुम्हारा देश शान्तिधाम है, तुम आत्मा शान्त स्वरूप हो इसलिए तुम शान्ति मांग नहीं सकते”
प्रश्नः- तुम्हारा योगबल कौन-सी कमाल करता है?
उत्तर:- योगबल से तुम सारी दुनिया को पवित्र बनाते हो, तुम कितने थोड़े बच्चे योगबल से यह सारा पहाड़ उठाए सोने का पहाड़ स्थापन करते हो। 5 तत्व सतोप्रधान हो जाते हैं, अच्छा फल देते हैं। सतोप्रधान तत्वों से यह शरीर भी सतोप्रधान होते हैं। वहाँ के फल भी बहुत बड़े-बड़े स्वादिष्ट होते हैं।

ओम् शान्ति। जब ओम् शान्ति कहा जाता है तो बहुत खुशी होनी चाहिए क्योंकि वास्तव में आत्मा है ही शान्त स्वरूप, उसका स्वधर्म ही शान्त है। इस पर सन्यासी भी कहते हैं, शान्ति का तो तुम्हारे गले में हार पड़ा है। शान्ति को बाहर कहाँ ढूँढते हो। आत्मा स्वत: शान्त स्वरूप है। इस शरीर में पार्ट बजाने आना पड़ता है। आत्मा सदा शान्त रहे तो कर्म कैसे करेगी? कर्म तो करना ही है। हाँ, शान्तिधाम में आत्मायें शान्त रहती हैं। वहाँ शरीर है नहीं, यह कोई भी सन्यासी आदि नहीं समझते कि हम आत्मा हैं, शान्तिधाम में रहने वाली हैं। बच्चों को समझाया गया है-शान्तिधाम हमारा देश है, फिर हम सुखधाम में आकर पार्ट बजाते हैं फिर रावण राज्य होता है दु:खधाम में। यह 84 जन्मों की कहानी है। भगवानुवाच है ना अर्जुन प्रति कि तुम अपने जन्मों को नहीं जानते हो। एक को क्यों कहते हैं? क्योंकि एक की गैरन्टी है। इन राधे-कृष्ण की तो गैरन्टी है ना तो इनको ही कहते हैं। यह बाप भी जानते हैं, बच्चे भी जानते हैं कि यह जो सब बच्चे हैं सब तो 84 जन्म लेने वाले नहीं हैं। कोई बीच में आयेंगे, कोई अन्त में आयेंगे। इनकी तो सर्टेन है। इनको कहते हैं-हे बच्चे। तो यह अर्जुन हुआ ना। रथ पर बैठा है ना। बच्चे खुद भी समझ सकते हैं-हम जन्म कैसे लेंगे? सर्विस ही नहीं करते हैं तो सतयुग नई दुनिया में पहले कैसे आयेंगे? इनकी तकदीर कहाँ है। पीछे जो जन्म लेंगे उनके लिए तो पुराना घर होता जायेगा ना। मैं इनके लिए कहता हूँ, जिनके लिए तुमको भी सर्टेन है। तुम भी समझ सकते हो-मम्मा-बाबा 84 जन्म लेते हैं। कुमारका है, जनक है, ऐसे-ऐसे महारथी जो हैं वह 84 जन्म लेते हैं। जो सर्विस नहीं करते हैं तो जरूर कुछ जन्म बाद में आयेंगे। समझते हैं हम तो नापास हो जायेंगे, पिछाड़ी में आ जायेंगे। स्कूल में दौड़ी पहन निशाने तक आकर फिर वापिस लौटते हैं ना। सब एक-रस हो न सकें। रेस में ज़रा पाव इंच का भी फर्क पड़ता है तो प्लस में आ जाता है, यह भी अश्व रेस है। अश्व घोड़े को कहा जाता है। रथ को भी घोड़ा कहा जाता है। बाकी यह जो दिखाते हैं दक्ष प्रजापिता ने यज्ञ रचा, उसमें घोड़े को हवन किया, यह सब बातें हैं नहीं। न दक्ष प्रजापिता है, न कोई यज्ञ रचा है। पुस्तकों में भक्ति मार्ग की कितनी दन्त कथायें हैं। उनका नाम ही कथा है। बहुत कथायें सुनते हैं। तुम तो यह पढ़ते हो। पढ़ाई को कथा थोड़ेही कहेंगे। स्कूल में पढ़ते हैं, एम ऑब्जेक्ट रहती है। हमको इस पढ़ाई से यह नौकरी मिलेगी। कुछ न कुछ मिलता है। अभी तुम बच्चों को देही-अभिमानी बहुत बनना है। यही मेहनत है। बाप को याद करने से ही विकर्म विनाश होंगे। खास याद करना होता है, ऐसे नहीं कि मैं तो शिवबाबा का बच्चा हूँ ना फिर याद क्या करें। नहीं, याद करना है अपने को स्टूडेन्ट समझकर। हम आत्माओं को शिवबाबा पढ़ा रहे हैं, यह भी भूल जाते हैं। शिवबाबा एक ही टीचर है जो सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त का राज़ सुनाते हैं, यह भी याद नहीं रहता है। हर एक बच्चे को अपने दिल से पूछना है कि कितना समय बाप की याद ठहरती है? जास्ती टाइम तो बाहरमुखता में ही जाता है। यह याद ही मुख्य है। इस भारत के योग की ही बहुत महिमा है। परन्तु योग कौन सिखलाते हैं-यह किसको पता नहीं है। गीता में कृष्ण का नाम डाल दिया है। अब कृष्ण को याद करने से तो एक भी पाप नहीं कटेगा क्योंकि वह तो शरीरधारी है। पांच तत्वों का बना हुआ है। उनको याद किया तो गोया मिट्टी को याद किया, 5 तत्वों को याद किया। शिवबाबा तो अशरीरी है इसलिए कहते हैं अशरीरी बनो, मुझ बाप को याद करो।

कहते भी हो-हे पतित-पावन, वह तो एक हुआ ना। युक्ति से पूछना चाहिए-गीता का भगवान कौन? भगवान रचयिता तो एक होता है। अगर मनुष्य अपने को भगवान कहलाते भी हैं तो ऐसे कभी नहीं कहेंगे कि तुम सब हमारे बच्चे हो। या तो कहेंगे ततत्वम् या कहेंगे ईश्वर सर्वव्यापी है। हम भी भगवान, तुम भी भगवान, जिधर देखता हूँ तू ही तू है। पत्थर में भी तू, ऐसे कह देते। तुम हमारे बच्चे हो, यह कह नहीं सकते। यह तो बाप ही कहते हैं – हे मेरे लाडले रूहानी बच्चों। ऐसे और कोई कह न सके। मुसलमान को अगर कोई कहे मेरे लाडले बच्चों, तो थप्पड़ मार दें। यह एक ही पारलौकिक बाप कह सकते हैं। और कोई सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त का ज्ञान दे न सके। 84 के सीढ़ी का राज़ कोई समझा न सके सिवाए निराकार बाप के। उनका असली नाम ही है शिव। यह तो मनुष्यों ने अथाह नाम रख दिये हैं। अनेक भाषायें हैं। तो अपनी-अपनी भाषा में नाम रख देते हैं। जैसे बाम्बे में बबुलनाथ कहते हैं, परन्तु वह अर्थ थोड़ेही समझते। तुम समझते हो कांटों को फूल बनाने वाला है। भारत में शिवबाबा के हजारों नाम होंगे, अर्थ कुछ नहीं जानते। बाप बच्चों को ही समझाते हैं। उसमें भी माताओं को बाबा जास्ती आगे करते हैं। आजकल फीमेल्स का मान भी है क्योंकि बाप आये हैं ना। बाप माताओं की महिमा ऊंच करते हैं। तुम शिव शक्ति सेना हो, तुम ही शिवबाबा को जानते हो। सच तो एक ही है। गाया भी जाता है सच की बेड़ी हिले डुले, डूबे नहीं। तो तुम सच्चे हो, नई दुनिया की स्थापना कर रहे हो। बाकी झूठी बेड़ियां सब खत्म हो जायेंगी। तुम भी कोई यहाँ राज्य करने वाले नहीं हो। तुम फिर दूसरे जन्म में आकर राज्य करेंगे। यह बड़ी गुप्त बातें हैं जो तुम ही जानते हो। यह बाबा न मिला होता तो कुछ भी नहीं जानते थे। अभी जाना है।

यह है युधिष्ठिर, युद्ध के मैदान में बच्चों को खड़ा करने वाला। यह है नानवायोलेन्स, अहिंसक। मनुष्य हिंसा समझ लेते हैं मारामारी को। बाप कहते हैं पहली मुख्य हिंसा तो काम कटारी की है इसलिए काम महाशत्रु कहा है, इन पर ही विजय पानी है। मूल बात है ही काम विकार की, पतित माना विकारी। विकारी कहा ही जाता है पतित बनने वाले को, जो विकार में जाते हैं। क्रोध करने वाले को ऐसे नहीं कहेंगे कि यह विकारी है। क्रोधी को क्रोधी, लोभी को लोभी कहेंगे। देवताओं को निर्विकारी कहा जाता है। देवतायें निर्लोभी, निर्मोही, निर्विकारी हैं। वह कभी विकार में नहीं जाते। तुमको कहते हैं विकार बिगर बच्चे कैसे होंगे? उन्हों को तो निर्विकारी मानते हो ना। वह है ही वाइसलेस दुनिया। द्वापर कलियुग है विशश दुनिया। खुद को विकारी, देवताओं को निर्विकारी कहते तो हैं ना। तुम जानते हो हम भी विकारी थे। अब इन जैसा निर्विकारी बन रहे हैं। इन लक्ष्मी-नारायण ने भी याद के बल से यह पद पाया है फिर पा रहे हैं। हम ही देवी-देवता थे, हमने कल्प पहले ऐसे राज्य पाया था, जो गँवाया, फिर हम पा रहे हैं। यही चिंतन बुद्धि में रहे तो भी खुशी रहेगी। परन्तु माया यह स्मृति भुला देती है। बाबा जानते हैं तुम स्थाई याद में रह नहीं सकेंगे। तुम बच्चे अडोल बन याद करते रहो तो जल्दी कर्मातीत अवस्था हो जाए और आत्मा वापिस चली जाए। परन्तु नहीं। पहले नम्बर में तो यह जाने वाला है। फिर है शिवबाबा की बरात। शादी में मातायें मिट्टी के मटके में ज्योति जगाकर ले जाती हैं ना, यह निशानी है। शिवबाबा साजन तो सदा जागती ज्योत है। बाकी हमारी ज्योति जगाई है। यहाँ की बात फिर भक्ति मार्ग में ले गये हैं। तुम योगबल से अपनी ज्योति जगाते हो। योग से तुम पवित्र बनते हो। ज्ञान से धन मिलता है। पढ़ाई को सोर्स ऑफ इनकम कहा जाता है ना। योगबल से तुम खास भारत और आम सारे विश्व को पवित्र बनाते हो। इसमें कन्यायें बहुत अच्छी मददगार बन सकती हैं। सर्विस कर ऊंच पद पाना है। जीवन हीरे जैसा बनाना है, कम नहीं। गाया जाता है फालो फादर मदर। सी मदर फादर और अनन्य ब्रदर्स, सिस्टर्स।

तुम बच्चे प्रदर्शनी में भी समझा सकते हो कि तुमको दो फादर हैं – लौकिक और पारलौकिक। इसमें बड़ा कौन? बड़ा तो जरूर बेहद का बाप हुआ ना। वर्सा उनसे मिलना चाहिए। अभी वर्सा दे रहे हैं, विश्व का मालिक बना रहे हैं। भगवानुवाच-तुमको राजयोग सिखाता हूँ फिर तुम दूसरे जन्म में विश्व के मालिक बनेंगे। बाप कल्प-कल्प भारत में आकर भारत को बहुत साहूकार बनाते हैं। तुम विश्व के मालिक बनते हो इस पढ़ाई से। उस पढ़ाई से क्या मिलेगा? यहाँ तो तुम हीरे जैसा बनते हो 21 जन्म लिए। उस पढ़ाई में रात-दिन का फर्क है। यह तो बाप, टीचर, गुरू एक ही है। तो बाप का वर्सा, टीचर का वर्सा और गुरू का वर्सा सब देते हैं। अब बाप कहते हैं देह सहित सबको भूलना है। आप मुये मर गई दुनिया। बाप के एडाप्टेड बच्चे बने, बाकी किसको याद करेंगे। दूसरों को देखते हुए जैसे कि देखते नहीं। पार्ट में भी आते हैं परन्तु बुद्धि में है-अब हमको घर जाना है फिर यहाँ आकर पार्ट बजाना है। यह बुद्धि में रहे तो भी बहुत खुशी रहेगी। बच्चों को देह भान छोड़ देना चाहिए। यह पुरानी चीज़ यहाँ छोड़नी है, अब वापिस जाना है। नाटक पूरा होता है। पुरानी सृष्टि को आग लग रही है। अन्धे की औलाद अन्धे अज्ञान नींद में सोये पड़े हैं। मनुष्य तो समझेंगे यह सोया हुआ मनुष्य दिखाया है। परन्तु यह अज्ञान नींद की बात है, जिससे तुम जगाते हो। ज्ञान अर्थात् दिन है सतयुग, अज्ञान अर्थात् रात है कलियुग। यह बड़ी समझने की बातें हैं। कन्या शादी करती है तो माता-पिता, सासू-ससुर आदि भी याद आयेगा। उनको भूलना पड़े। ऐसे भी युगल हैं, जो सन्यासियों को दिखाते हैं-हम युगल बनकर कभी विकार में नहीं जाते हैं। ज्ञान तलवार बीच में है। बाप का फरमान है-पवित्र रहना है। देखो रमेश-उषा हैं, कभी भी पतित नहीं बने हैं, यह डर है अगर हम पतित बनें तो 21 जन्मों की राजाई खत्म हो जायेगी। देवाला मार देंगे। ऐसे कोई-कोई फेल हो पड़ते हैं। गन्धर्वी विवाह का नाम तो है ना। तुम जानते हो पवित्र रहने से पद बहुत ऊंच मिलेगा। एक जन्म के लिए पवित्र बनना है। योगबल से कर्मेन्द्रियों पर भी कन्ट्रोल आ जाता है। योगबल से तुम सारी दुनिया को पवित्र बनाते हो। तुम कितने थोड़े बच्चे योगबल से यह सारा पहाड़ उड़ाए सोने का पहाड़ स्थापन करते हो। मनुष्य थोड़ेही समझते हैं, वह तो गोवर्धन पर्वत पिछाड़ी परिक्रमा देते रहते हैं। यह तो बाप ही आकर सारी दुनिया को गोल्डन एजेड बनाते हैं। ऐसे नहीं कि हिमालय कोई सोने का हो जायेगा। वहाँ तो सोने की खानियाँ भरतू हो जायेंगी। 5 तत्व सतोप्रधान हैं, फल भी अच्छा देते हैं। सतोप्रधान तत्वों से यह शरीर भी सतोप्रधान होते हैं। वहाँ के फल भी बहुत बड़े-बड़े स्वादिष्ट होते हैं। नाम ही है स्वर्ग। तो अपने को आत्मा समझ बाप को याद करने से ही विकार छूटेंगे। देह-अभिमान आने से विकार की चेष्टा होती है। योगी कभी विकार में नहीं जायेंगे। ज्ञान बल तो है, परन्तु योगी नहीं होगा तो गिर पड़ेगा। जैसे पूछा जाता है-पुरूषार्थ बड़ा या प्रालब्ध? तो कहते हैं पुरूषार्थ बड़ा। वैसे इसमें कहेंगे योग बड़ा। योग से ही पतित से पावन बनते हैं। अब तुम बच्चे तो कहेंगे हम बेहद के बाप से पढ़ेंगे। मनुष्य से पढ़ने से क्या मिलेगा? मास में क्या कमाई होगी? यह तुम एक-एक रत्न धारण करते हो। यह है लाखों रूपयों के। वहाँ पैसे की गिनती नहीं की जाती। अनगिनत धन होता है। सबको अपनी-अपनी खेतियां आदि होती हैं। अब बाप कहते हैं हम तुमको राजयोग सिखलाते हैं। यह है एम ऑब्जेक्ट। पुरूषार्थ करके ऊंच बनना है। राजधानी स्थापन हो रही है। इन लक्ष्मी-नारायण ने कैसे प्रालब्ध पाई, इनकी प्रालब्ध को जान गये तो बाकी क्या चाहिए। अभी तुम जानते हो कल्प 5 हज़ार वर्ष बाद बाप आते हैं, आकर भारत को स्वर्ग बनाते हैं। तो बच्चों को सर्विस करने का उमंग होना चाहिए। जब तक कोई को रास्ता नहीं बताया है, खाना नहीं खायेंगे-इतना उल्लास-उमंग हो तब ऊंच पद पा सकते हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) ईश्वरीय सर्विस कर अपना जीवन 21 जन्मों के लिए हीरे जैसा बनाना है। मात-पिता और अनन्य भाई-बहिनों को ही फालो करना है।

2) कर्मातीत अवस्था बनाने के लिए देह सहित सबको भूलना है। अपनी याद अडोल और स्थाई बनानी है। देवताओं जैसा निर्लोभी, निर्मोही, निर्विकारी बनना है।

वरदान:- सर्वगुण सम्पन्न बनने के साथ-साथ किसी एक विशेषता में विशेष प्रभावशाली भव
जैसे डाक्टर्स जनरल बीमारियों की नॉलेज तो रखते ही हैं लेकिन साथ-साथ किसी बात की विशेष नॉलेज में नामीग्रामी हो जाते हैं ऐसे आप बच्चों को सर्वगुण सम्पन्न तो बनना ही है फिर भी एक विशेषता को विशेष रूप से अनुभव में लाते, सेवा में लाते आगे बढ़ते चलो। जैसे सरस्वती को विद्या की देवी, लक्ष्मी को धन की देवी कहकर पूजते हैं। ऐसे अपने में सर्वगुण, सर्वश-क्तियां होते भी एक विशेषता में विशेष रिसर्च कर स्वयं को प्रभावशाली बनाओ।
स्लोगन:- विकारों रूपी सांपों को सहजयोग की शैया बना दो तो सदा निश्चितं रहेंगे।

TODAY MURLI 14 FEBRUARY 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 14 February 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 13 February 2019 :- Click Here

14/02/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, prove to the people of Bharat that Shiva Jayanti is the Gita Jayanti and that Shri Krishna Jayanti then takes place through the Gita.
Question: What is the main basis for the establishment of any religion? What task, which only the Father carries out, do the founders of religions not perform?
Answer: For the establishment of any religion, the power of purity is required. All religions are established on the basis of the power of purity. However, no founder of a religion can purify anyone because when the religions are established, it is the kingdom of Maya and they have all become impure. It is the duty of the Father alone to make impure ones pure. He alone gives the shrimat to become pure.
Song: Take us away from this world of sin to a place of rest and comfort!

Om shanti. You children have now understood what the world of sin is and what the world of charity is, that is, what the pure world is. In fact, this Bharat is the world of sin and Bharat itself then becomes the world of charity, heaven. Bharat itself was Paradise and Bharat has become the extreme depths of hell because they continue to burn on the pyre of lust. There, no one burns on the pyre of lust; there is no pyre of lust there. You would not say that there is the pyre of lust in the golden age. These matters have to be understood. First of all, a question arises. The Bharat that is impure and unhappy definitely was pure and happy. They even speak of the original, eternal Hindu religion, but who are called the original, eternal people? What does ‘original’ mean and what does ‘eternal’ mean? ‘Original’ means the golden age. Who existed in the golden age? Everyone knows that Lakshmi and Narayan existed then. Surely, they would have been the children of someone too that they became the masters of the golden age. They were the children of the Supreme Father, the Supreme Soul, who established the golden age. However, they don’t consider themselves to be His children at this time (in the iron age). If they were to consider themselves to be His children, they would know the Father, but they don’t know Him. The Hindu religion is not mentioned in the Gita. The name Bharat is mentioned in the Gita and those people are called those of the Hindu Mahasabha. The Shrimad Bhagawad Gita is the jewel, the mother, of all scriptures. They celebrate the Gita Jayanti and also Shiva Jayanti. You should know when it is Shiva Jayanti. Then, there is Krishna Jayanti. You children now know that after Shiva Jayanti, there is the Gita Jayanti. After the Gita Jayanti, there is Krishna Jayanti. It is only through the Gita Jayanti that the deity religion is established. The Gita Jayanti also has a connection with the Mahabharata and there are things about a battle mentioned in that. They show that there were three armies on the battlefield. They show the Yadavas, the Kauravas and the Pandavas. The Yadavas were those who invented the missiles. They drank alcohol and made the missiles emerge. You know that the missiles are now truly being invented. They are threatening one another, to destroy their own clan. They are all Christians ; the people of Europe are also the same Yadavas. So, that is their gathering. They were destroyed by them fighting amongst themselves. The whole of Europe was included in that. Those of Islam, the Buddhists and the Christians were all included in that. Here, there are the Kauravas and Pandavas. The Kauravas were also destroyed and the Pandavas gained victory. Now, the question arises: Who was the God of the Gita who taught easy Yoga and easy knowledge and made you into kings of kings, that is, who established the pure world? Did Shri Krishna come to do that? The Kauravas were in the iron age. How could Shri Krishna come at the time of the Kauravas and the Pandavas? They celebrate Shri Krishna Jayanti; he was 16 celestial degrees at the beginning of the golden age. After Shri Krishna, there was the jayanti of Rama who was 14 degrees. Krishna was the king of kings, that is, the prince of all princes. Even vicious princes worship Shri Krishna because they know that he was 16 celestial degrees full, the complete prince of the golden age and that they themselves are vicious. Surely, the princes would say this. There is now to be Shiva Jayanti. The biggest images of Him are in the temples. That is the temple of incorporeal Shiva. He alone is called the Supreme Father, the Supreme Soul. Brahma, Vishnu and Shankar are deities. Shiva Jayanti is only celebrated in Bharat. Shiva Jayanti is now about to come. You have to explain and prove that Shiva alone is called the Ocean of Knowledge, that is, it is the Supreme Father, the Supreme Soul, who makes the world pure. Gandhiji also used to sing this, but he didn’t mention Krishna’s name. So, the question now arises: Is it Shiva Jayanti which then brings the Gita Jayanti or is it Krishna Jayanti which then brings the Gita Jayanti? Krishna Jayanti would be said to be in the golden age. No one knows when it was the Jayanti of Shiva. Shiva is the incorporeal Supreme Father, the Supreme Soul, and He created the world at the confluence age. In the golden age, it was the kingdom of Shri Krishna. So, surely, Shiva Jayanti would have been before that. The children who are the decoration of the Brahmin clan, those who are ready to do service , should take these things into their intellects and understand how to explain and prove to the people of Bharat that it is through Shiva Jayanti that there is the Gita Jayanti. Then, from the Gita, there is the Krishna Jayanti, that is, the jayanti of the king of kings. Krishna is a king of the pure world. That was the kingdom there. Shri Krishna did not take birth there and speak the Gita. There could not have been the Mahabharat War there in the golden age. That must definitely have taken place at the confluence age. You children have to explain these things very clearly. The Pandava and Kaurava gatherings are very well known. They show Shri Krishna as the head of the Pandavas. They believe that he taught easy Raj Yoga and easy knowledge. In fact, there is no question of a battle etc. The Pandavas, to whom the Supreme Father, the Supreme Soul, taught easy Raj Yoga, became victorious. They were the ones who became part of the sun and moon dynasties for 21 births. Therefore, first of all, explain to those of the Hindu Mahasabha. There are also other gatherings, such as the Lok Sabha, Rajya Sabha (different political parties). The Hindu Sabha is the main one. The three remembered armies were the Yadavas, the Kauravas and the Pandavas and they existed at the confluence age. The golden age is now being established. Preparations for the birth of Krishna are now being made. The Gita was definitely spoken at the confluence age, so whom should you now show at the confluence age? Krishna cannot come here now. Why would he leave the pure world and come into the impure world? In fact, Krishna doesn’t exist at this time. You know that he is now in his 84th birth. They think that Krishna is present everywhere, that he is omnipresent. The devotees of Krishna say that all are Krishna, that Krishna has adopted those forms. Those who belong to the path of Radhe say that Radhe is in everyone – I am Radhe and you are Radhe. Many dictates have emerged. Some say that God is omnipresent, some say that Krishna is omnipresent, some say that Radhe is omnipresent. The Father is now explaining to you children. That Father is the World Almighty Authority and so He is giving you children the authority to explain to all of those people. Explain to those of the Hindu Mahasabha. They would be able to understand these things; they consider themselves to be religiousminded. The Government doesn’t believe in any particular religion. They themselves are confused. Shiva, the Supreme Soul, is the incorporeal Ocean of Knowledge. No one else can be called the Ocean of Knowledge. Only when He personally comes here and gives you knowledge can the kingdom be established. Then the kingdom is established. He would come once again in person when you have lost your kingdom. So you have to prove that Shiva, the Supreme Soul, is the incorporeal Ocean of Knowledge and that it is Shiva Jayanti which brings the Gita Jayanti. You should make plays based on this so that the aspect of Krishna is removed from people’s intellects. Only the incorporeal Supreme Soul, Shiva, is called the Purifier. All the scriptures have been written by human beings and are based on human dictates. Baba doesn’t have any scriptures. The Father says: I personally come and make you children into princes from beggars, and then I depart. Only I can give you this knowledge personally. Although those people who relate the Gita recite it, God is not there personally in front of them. They say that the God of the Gita was personally there, that He created heaven and then departed. So, is it that people can become residents of heaven by listening to that Gita? When someone is dying, they read the Gita to him; they don’t read any other scripture. They believe that heaven was established through the Gita and that is why they only read the Gita. So, there should only be one Gita. All the other religions came later. No one else can say that they will become residents of heaven. They give people Ganges water to drink; they don’t give the water of the River Jamuna. Importance is given to only the water of the Ganges. Many Vaishnavas go there and bring back urns of that water. They say that by drinking a drop of that water mixed with ordinary water, all their illnesses end. In fact, it is the stream of the nectar of knowledge through which your sorrow is removed for 21 births. By them bathing in the living Ganges of knowledge, people can become residents of heaven. So the Ganges of knowledge would definitely have emerged at the end. There are rivers of water anyway. It isn’t that, by drinking water, anyone can become a deity. Here, if someone hears even a little knowledge, he claims a right to heaven. These are the Ganges of knowledge of Shiv Baba, the Ocean of Knowledge. The Ocean of Knowledge, the Bestower of the Knowledge of the Gita, is only the one Shiva, not Krishna. There is no one impure in the golden age to whom knowledge would be given. God sits here and explains all of these things. O Arjuna! Or, O Sanjay! The names have become famous. He was very clever at writing and so he became an instrument. Now, Shiva Jayanti is coming and so you should write this in big writing. Shiva is incorporeal. He is called the Ocean of Knowledge, the Blissful One. Krishna cannot be called knowledge-full or blissful. Only Shiva, the Supreme Soul, gives knowledge and has mercy. His knowledge is His mercy. A m aster has mercy and teaches you and you thereby become a barrister or an engineer. There is no need for bliss in the golden age. So, first of all, you have to prove whether it is Shiva Jayanti, the incorporeal Ocean of Knowledge, that brings the Gita Jayanti or whether it is the golden-aged corporeal Krishna Jayanti that brings the Gita Jayanti. You children have to prove this. You know that none of the messengers who come can make anyone pure. Because it has been the kingdom of Maya from the copper age, all have become impure. When people become distressed they say that they want to leave here. The religion that is established then grows. The religions are established with the power of purity and then they have to become impure. There are four main religions and expansion takes place through them; the branches and twigs emerge. When it is proved that it is Shiva Jayanti which brings the Gita Jayanti, all the other scriptures will be proved useless because they were written by human beings. In fact, the scripture of Bharat is just the one Gita. The most b eloved Father explains and makes it so easy for you. His directions are the most elevated of all. You now have to prove whether it is the incorporeal Ocean of Knowledge Jayanti that brings the Gita Jayanti or the golden-aged corporeal Shri Krishna Jayanti that brings the Gita Jayanti. You have to hold a big conference to do this. If this is proved, all the pandits will then come to you and take this aim. You have to do something at Shiva Jayanti. Explain to those of the Hindu Mahasabha. Theirs is a large organisation. In the golden age there is the original, eternal deity religion. There aren’t any other sabhas (gatherings) there. The sabhas exist at the confluence age. First of all, you have to prove that the original, eternal sabha is in fact the Brahmins or Pandavas. The Pandavas gained victory and then became residents of heaven. No one can say that the original, eternal deity sabha (religion) exists now. You would not say that it is a sabha of the deities. They have a sovereignty. Those sabhas existed at the confluence age of the cycle. One of those was the Pandavas Sabha which would also be called the original, eternal sabha of the Brahmins. No one knows this. There are no Brahmins with the name of Krishna. The topknot of Brahmins is named because of Brahma’s name. The sabha of you Brahmins would be in the name of Brahma. Someone wise is needed to explain all of these things. He needs to have the enlightenment of knowledge. Only incorporeal Shiva is the Bestower of the Knowledge of the Gita, the Bestower of the divine eye. Imbibe all of these things and then hold conferences. Those who feel that they can prove this should meet as a group. There is a sabha of m ajors and commanders on a battlefield. Here, a maharathi is called a commander. Baba is the Creator and Director. He is creating heaven and so He gives directions for this: Set up a mahasabha and then take up this topic. When it is proved who the God of the Gita is, everyone will understand that they should have yoga with Him. Baba says: I have come as the Guide. You should at least become worthy and able to fly! Maya has broken your wings. By having yoga, you souls will become pure and fly! Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Do the service of making everyone free from disease and residents of heaven with the nectar of knowledge. Human beings have to be made into deities. Become ‘master merciful’ like the Father.
  2. Become wise with the enlightenment of knowledge and prove at Shiva Jayanti that Shiva Jayanti is itself the Gita Jayanti, that it is only through the knowledge of the Gita that Shri Krishna takes birth.
Blessing: May you be a truly loving soul and stay free from all attractions by your heart remaining filled with the Father’s love.
The Father gives all the children equal love, but children take that love according to their own capacity. Those who take the Father’s love at the beginning of the day at amrit vela are not attracted by anyone else’s love because they have God’s love in their hearts. If they do not fill their hearts fully with love, then because of having some space in their hearts, Maya attracts them with different forms of love. Therefore, be truly loving and remain filled with God’s love.
Slogan: Those who fly beyond their bodies, the old world and the old relationships of bodies are said to be residents of Indraprasth.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 14 FEBRUARY 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 14 February 2019

To Read Murli 13 February 2019 :- Click Here
14-02-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – भारतवासियों को सिद्धकर बताओ कि शिव जयन्ती ही गीता जयन्ती है, गीता से फिर होती है श्रीकृष्ण जयन्ती”
प्रश्नः- किसी भी धर्म की स्थापना का मुख्य आधार क्या है? धर्म स्थापक कौन-सा कार्य नहीं करते जो बाप करते हैं?
उत्तर:- किसी भी धर्म की स्थापना के लिए पवित्रता का बल चाहिए। सभी धर्म पवित्रता के बल से स्थापन हुए। लेकिन कोई भी धर्म स्थापक किसी को पावन नहीं बनाते क्योंकि जब धर्म स्थापन होते हैं तब माया का राज्य है, सबको पतित बनना ही है। पतितों को पावन बनाना – यह बाप का ही काम है। वही पावन बनने की श्रीमत देते हैं।
गीत:- इस पाप की दुनिया से……..

ओम् शान्ति। अब बच्चों ने समझ लिया है कि पाप की दुनिया किसको और पुण्य की दुनिया अथवा पावन दुनिया किसको कहा जाता है। वास्तव में पाप की दुनिया यह भारत ही है और भारत ही फिर पुण्य की दुनिया स्वर्ग बनता है। भारत ही बहिश्त था, भारत ही दोज़क बना है क्योंकि काम चिता पर जलते रहते हैं। वहाँ काम चिता पर कोई जलता नहीं, वहाँ काम चिता है ही नहीं। ऐसे भी नहीं कहेंगे कि सतयुग में काम चिता है, यह समझने की बातें हैं ना। पहले-पहले प्रश्न उठता है भारत जो पतित-दु:खी है सो वही भारत पावन-सुखी था जरूर। कहते भी हैं आदि सनातन हिन्दू धर्म था। अब आदि सनातन किसको कहा जाता है? आदि माना क्या और सनातन माना क्या? आदि माना सतयुग। तो सतयुग में कौन थे? यह तो सबको मालूम है कि लक्ष्मी-नारायण थे। जरूर वे भी किसकी सन्तान होंगे जो फिर सतयुग के मालिक बनें। सतयुग स्थापन करने वाला था परमपिता परमात्मा, उनकी सन्तान थे। परन्तु इस समय अपने को उनकी सन्तान नहीं समझते। अगर सन्तान समझते तो बाप को जानते, बाप को तो जानते ही नहीं। अब हिन्दू धर्म तो गीता में है नहीं। गीता में तो भारत नाम पड़ा है वह कहलाते हैं हिन्दू महासभा। अब श्रीमत भगवत गीता है सर्वशास्त्रमई शिरोमणी। गीता जयन्ती भी मनाई जाती है, शिव जयन्ती भी मनाई जाती है। अब शिव जयन्ती कब हुई है – यह भी मालूम होना चाहिए। फिर है कृष्ण जयन्ती। अभी तुम बच्चे जान चुके हो कि शिव जयन्ती के बाद है गीता जयन्ती। गीता जयन्ती के बाद है कृष्ण जयन्ती। गीता जयन्ती से ही देवी-देवता धर्म की स्थापना होती है। फिर गीता जयन्ती के साथ महाभारत का भी कनेक्शन है। उसमें फिर आती है युद्ध की बात। दिखाते हैं युद्ध के मैदान में 3 सेनायें थी। यादव, कौरव और पाण्डव दिखाते हैं। यादव मूसल निकालते हैं। वहाँ शराब पिया और मूसल निकाले। तुम जानते हो अभी बरोबर मूसल भी निकल रहे हैं। वह भी अपने कुल का विनाश करने एक-दूसरे को धमकी दे रहे हैं। सब क्रिश्चियन लोग हैं। वही यूरोपवासी यादव ठहरे। तो एक है उन्हों की सभा। उनका विनाश हुआ, आपस में लड़ मरे। उसमें सारा यूरोप आ गया। उसमें इस्लामी, बौद्धी, क्रिश्चियन सब आ जाते हैं। यहाँ फिर है कौरव और पाण्डव। कौरव भी विनाश को प्राप्त हुए और विजय पाण्डवों की हुई। अब प्रश्न उठता है गीता का भगवान् कौन, जिसने सहज योग और सहज ज्ञान सिखलाकर राजाओं का राजा बनाया अथवा पावन दुनिया स्थापन की? क्या श्रीकृष्ण आया? कौरव तो कलियुग में थे। कौरव-पाण्डवों के समय श्रीकृष्ण कैसे आ सकता? श्रीकृष्ण जयन्ती मनाते हैं, सतयुग आदि में 16 कला। श्रीकृष्ण के बाद फिर त्रेता में 14 कला राम की। कृष्ण है राजाओं का राजा अथवा प्रिन्स का प्रिन्स। विकारी प्रिन्स लोग भी श्रीकृष्ण को पूजते हैं क्योंकि जानते हैं वह सतयुग का 16 कला सम्पूर्ण प्रिन्स था, हम विकारी हैं। जरूर प्रिन्स लोग भी ऐसे कहेंगे ना। अब फिर शिव जयन्ती भी है, मन्दिर भी बड़े से बड़ा उनका ही बना हुआ है। वह है निराकार शिव का मन्दिर। उनको ही परमपिता परमात्मा कहेंगे। ब्रह्मा-विष्णु-शंकर भी देवता ही ठहरे।

शिव जयन्ती भारत में ही मनाई जाती है। अब देखो शिव जयन्ती आने वाली है। सिद्धकर समझाना है शिव को ही कहा जाता है ज्ञान का सागर अर्थात् सृष्टि को पावन करने वाला परमपिता परमात्मा। गांधी भी गाते थे, कृष्ण का नाम नहीं लेते थे। अब प्रश्न उठता है शिव जयन्ती सो गीता जयन्ती या कृष्ण जयन्ती सो गीता जयन्ती? अब कृष्ण जयन्ती तो सतयुग में कहेंगे। शिव की जयन्ती कब हुई थी – किसको पता नहीं। शिव तो है निराकार परमपिता परमात्मा, उसने सृष्टि रची संगम पर। सतयुग में था श्रीकृष्ण का राज्य। तो जरूर पहले शिव जयन्ती होगी। बच्चे जो ब्राह्मण कुल भूषण सर्विस में तत्पर रहते हैं उन्हों को यह बातें बुद्धि में लानी हैं कि भारतवासियों को कैसे सिद्धकर बतायें कि शिवजयन्ती सो गीता जयन्ती। फिर गीता से होती है कृष्ण जयन्ती अथवा राजाओं के राजा की जयन्ती। कृष्ण है पावन दुनिया का राजा। वहाँ तो है राजाई। वहाँ श्रीकृष्ण ने जन्म लेकर गीता तो गाई नहीं और सतयुग में महाभारत लड़ाई आदि तो हो नहीं सकती। वह जरूर संगम पर हुई होगी। तुम बच्चों को अच्छी तरह इन बातों पर समझाना है।

पाण्डव और कौरव सभा मशहूर है। पाण्डव पति दिखलाते हैं श्रीकृष्ण को। समझते हैं उसने सहज ज्ञान और सहज राजयोग सिखलाया। अब वास्तव में लड़ाई की तो कोई बात ही नहीं। विजय पाण्डवों की हुई है, जिन्हों को परमपिता परमात्मा ने सहज राजयोग सिखलाया। वही 21 जन्म सूर्यवंशी-चन्द्रवंशी बन गये। तो पहले समझाना है, हिन्दू महासभा वालों को। सभायें तो और भी हैं – लोक सभा, राज्य सभा। यह हिन्दू सभा है मुख्य। जैसे 3 सेनायें गाई हुई हैं यादव, कौरव और पाण्डव… और यह हुए भी संगम पर। अभी सतयुग की स्थापना हो रही है। कृष्ण के जन्म की तैयारी हो रही है। गीता जरूर संगम पर ही गाई है। अब संगम पर किसको लायें? कृष्ण तो आ न सकें। उनको क्या पड़ी है जो पावन दुनिया छोड़ पतित दुनिया में आये और कृष्ण तो है भी नहीं। तुम जानते हो अब वह 84वें जन्म में है कई लोग फिर समझते हैं श्रीकृष्ण हाज़िराहज़ूर है, सर्वव्यापी है। कृष्ण के भक्त कहेंगे यह सब कृष्ण ही कृष्ण हैं। कृष्ण ने यह रूप धरे हैं। राधे पंथी होंगे वह फिर कहेंगे राधे ही राधे… हम भी राधे, तुम भी राधे। अनेक मतें निकल पड़ी हैं, कोई कहे ईश्वर सर्वव्यापी, कोई कहे कृष्ण सर्वव्यापी, कोई कहे राधे सर्वव्यापी। अब बाप तुम बच्चों को समझाते हैं। वह बाप वर्ल्ड ऑलमाइटी अथॉरिटी है तो अब तुम बच्चों को भी अथॉरिटी दे रहे हैं कि कैसे इन सबको समझायें। हिन्दू महासभा वालों को समझाओ, वह इन बातों को समझ सकेंगे। वह अपने को रिलीजस माइन्डेड मानते हैं। गवर्मेन्ट तो कोई धर्म को मानती नहीं। वह खुद ही मूंझ गये हैं। शिव परमात्मा है निराकार ज्ञान सागर और कोई को ज्ञान का सागर कह नहीं सकते। वह जब सम्मुख आकर ज्ञान दे, तब राजाई स्थापन हो। फिर तो बस राजाई स्थापन हो गई फिर सम्मुख तब आए जब राजाई गंवाओ। तो तुमको सिद्ध करना है शिव परमात्मा है निराकार ज्ञान सागर, शिव जयन्ती सो गीता जयन्ती। इस पर नाटक बनाने हैं, जो मनुष्यों की बुद्धि से कृष्ण की बात निकल जाये। निराकार शिव परमात्मा को ही पतित-पावन कहा जाता है। शास्त्र आदि जो भी बने हैं। वह सब मनुष्य मत पर, मनुष्यों ने बनाये हैं। बाबा का शास्त्र तो कोई है नहीं। बाप कहते हैं मैं सम्मुख आकर तुम बच्चों को बेगर टू प्रिन्स बनाता हूँ और फिर मैं चला जाता हूँ। यह नॉलेज मैं ही सम्मुख सुना सकता हूँ। वह गीता सुनाने वाले भल गीता सुनाते हैं परन्तु वहाँ भगवान् सम्मुख तो है नहीं। कहते हैं गीता का भगवान् सम्मुख था जो स्वर्ग बनाकर चला गया। तो क्या वह गीता सुनने से कोई मनुष्य स्वर्गवासी हो सकता है? मरने समय भी मनुष्यों को गीता सुनाते हैं और कोई शास्त्र नहीं सुनाते हैं। समझते हैं गीता से स्वर्ग की स्थापना हुई है इसलिए गीता ही सुनाते हैं। तो वह गीता एक होनी चाहिए ना। दूसरे धर्म सब पीछे आये हैं। और कोई कह नहीं सकते तुम स्वर्गवासी बनेंगे। फिर मनुष्यों को पिलाते भी गंगा जल है, जमुना जल नहीं पिलाते। गंगा जल का ही महत्व है। बहुत वैष्णव लोग जाते हैं, मटके भरकर ले आते हैं। फिर उनमें से बूंद-बूंद डालकर पीते रहते कि सब रोग मिट जायें। वास्तव में है यह ज्ञान अमृत की धारा जिससे 21 जन्म के दु:ख मिट जाते हैं। तुम चैतन्य ज्ञान गंगाओं में स्नान करने से मनुष्य स्वर्गवासी बन जाते हैं। तो जरूर पिछाड़ी में ज्ञान गंगायें निकली होंगी। वह पानी की नदियां तो हैं ही हैं। ऐसे थोड़ेही कोई पानी पीने से देवता बन जायेंगे। यहाँ कोई थोड़ा ही ज्ञान सुनते हैं तो स्वर्ग के हकदार बन जाते हैं। यह है ज्ञान के सागर शिवबाबा की ज्ञान गंगायें। ज्ञान सागर, गीता ज्ञान दाता एक शिव है, कृष्ण नहीं है। सतयुग में पतित कोई होता नहीं, जिसको ज्ञान दें। यह सब बातें भगवान् बैठ समझाते हैं। हे अर्जुन वा हे संजय…. नाम मशहूर हो गया है। लिखने में बहुत तीखा है, निमित्त बना हुआ है। अब शिवजयन्ती आती है तो उस पर बड़े-बड़े अक्षरों में लिखना है। शिव हो गया निराकार। उनको ज्ञान सागर, ब्लिसफुल कहा जाता है। कृष्ण को नॉलेजफुल, ब्लिसफुल नहीं कहेंगे। शिव परमात्मा ही नॉलेज देते हैं, रहम करते हैं। नॉलेज ही रहम है। मास्टर रहम कर पढ़ाते हैं तो बैरिस्टर, इन्जीनियर आदि बन जाते है। सतयुग में ब्लिस की दरकार नहीं। तो पहले-पहले सिद्ध करना है कि निराकार ज्ञान सागर शिवजयन्ती सो गीता जयन्ती वा सतयुगी साकार कृष्ण जयन्ती सो गीता जयन्ती। यह है तुम बच्चों को सिद्ध करना।

तुम जानते हो जो भी पैगम्बर आदि आते हैं वह पावन नहीं बनाते। द्वापर से माया का राज्य होने से सब पतित हो जाते हैं। फिर जब तंग होते हैं तो चाहते हैं हम जायें। जो धर्म स्थापन करते हैं वही फिर वृद्धि को पाते हैं। पवित्रता के बल से धर्म स्थापन करते हैं फिर अपवित्र बनना ही है। मुख्य हैं 4 धर्म, इनसे ही वृद्धि होती है। टाल-टालियाँ निकलती हैं। शिव जयन्ती, गीता जयन्ती सिद्ध होने से और सब शास्त्र उड़ जायेंगे क्योंकि वह हैं मनुष्यों के बनाये हुए। वास्तव में भारत का शास्त्र एक ही गीता है। मोस्ट बिलवेड बाप कितना सहज कर समझाते हैं। उनकी श्रेष्ठ ते श्रेष्ठ मत है। अब तुमको यह सिद्ध करना है कि निराकार ज्ञान सागर जयन्ती सो गीता जयन्ती या सतयुगी साकार श्रीकृष्ण जयन्ती सो गीता जयन्ती? इनके लिए बड़ी कान्फ्रेन्स बुलानी पड़े। यह बात सिद्ध हो जाये तो फिर सब पण्डित तुमसे आकर यह लक्ष्य लेंगे। शिव जयन्ती पर कुछ तो करना है ना। हिन्दू महासभा वालों का समझाओ, उनकी बड़ी संस्था है। सतयुग में है आदि सनातन देवी-देवता धर्म। बाकी सभा आदि कोई नहीं। सभायें हैं संगम पर। पहले-पहले तो सिद्ध करना है कि वास्तव में आदि सनातन सभा है यह ब्राह्मणों की, पाण्डवों की। पाण्डवों ने ही विजय पाई जो फिर स्वर्गवासी हुए। अब तो कोई आदि सनातन देवी-देवताओं की सभा कह न सके। देवताओं की सभा नहीं कहेंगे, वह है सावरन्टी। कल्प के संगम पर यह सभायें थी। उनमें एक थी पाण्डव सभा, जिसको आदि सनातन ब्राह्मणों की सभा कहेंगे। यह कोई नही जानते। कृष्ण के नाम से ब्राह्मण हैं नहीं। ब्राह्मणों की चोटी ब्रह्मा के नाम से है। ब्रह्मा के नाम से तुम ब्राह्मण सभा कहेंगे। यह बातें समझाने वाला भी बुद्धिवान चाहिए। इसमें ज्ञान की पराकाष्ठा चाहिए। निराकार शिव ही गीता ज्ञान दाता दिव्य चक्षु विधाता है। यह सब धारण कर फिर कान्फ्रेंस बुलाते हैं, जो समझते हैं हम सिद्धकर बता सकेंगे उनको आपस में मिलना चाहिए। लड़ाई के मैदान में मेजर्स, कमान्डर्स आदि की सभा होती है। यहाँ कमान्डर महारथी को कहा जाता है। बाबा क्रियेटर, डायरेक्टर हैं, स्वर्ग की रचना करते हैं फिर डायरेक्शन देते हैं – महासभा बनाओ फिर इस बात को उठाओ। गीता का भगवान् सिद्ध होने से फिर सब समझेंगे कि उनसे योग लगाना चाहिए। बाबा कहते हैं मैं गाइड बनकर आया हूँ, तुम उड़ने लायक तो बनो। माया ने पंख तोड़ डाले हैं। योग लगाने से तुम्हारी आत्मा पवित्र हो जायेगी और उड़ेंगे। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) ज्ञान अमृत धारा से सबको निरोगी वा स्वर्गवासी बनाने की सेवा करनी है। मनुष्यों को देवता बनाना है। बाप समान मास्टर रहमदिल बनना है।

2) ज्ञान की पराकाष्ठा से बुद्धिवान बन शिवजयन्ती पर सिद्ध करना है कि शिव जयन्ती ही गीता जयन्ती है, गीता ज्ञान से ही श्रीकृष्ण का जन्म होता है।

वरदान:- बाप के स्नेह को दिल में धारण कर सर्व आकर्षणों से मुक्त रहने वाले सच्चे स्नेही भव
बाप सभी बच्चों को एक जैसा स्नेह देते हैं लेकिन बच्चे अपनी शक्ति अनुसार स्नेह को धारण करते हैं। जो अमृतवेले के आदि समय पर बाप के स्नेह को धारण कर लेते हैं, तो दिल में परमात्म स्नेह समाया होने के कारण और कोई स्नेह उन्हें आकर्षित नहीं करता। अगर दिल में पूरा स्नेह धारण नहीं करते तो दिल में जगह होने के कारण माया भिन्न-भिन्न रूप से अनेक स्नेह में आकर्षित कर लेती है इसलिए सच्चे स्नेही बन परमात्म प्यार से भरपूर रहो।
स्लोगन:- देह, देह की पुरानी दुनिया और सम्बन्धों से ऊपर उड़ने वाले ही इन्द्रप्रस्थ निवासी हैं।
Font Resize