daily murli 13 september

TODAY MURLI 13 SEPTEMBER 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 13 September 2020

13/09/20
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
22/03/86

Purity is the foundation of happiness, peace and joy.

Today, BapDada is looking at all His children from everywhere who have holiness and happiness. At no other time in this whole drama, can there be a gathering of so many children, of such a large number who have the specialty of being both holy and happy. Nowadays, people are given the title of ‘His Holiness or ‘His Highness, but if you look at the practical proof of that, that purity and greatness are not visible. BapDada was looking to see where else a gathering of such great and pure souls could take place. Every child has the determined thought to become pure, not just in their actions, but definitely to become pure in all three: thoughts, words and deeds. Nowhere else can anyone have this elevated and determined thought to become pure. Nowhere else can it be everlasting; nowhere else can it be easy. However, all of you consider it very easy to imbibe purity. This is because you have received knowledge from BapDada and, with the power of knowledge, you have recognised that the original and eternal form of “I, the soul” is pure. Because you have become aware of your original and eternal form, this awareness makes you powerful and enables you to experience everything to be easy. You now know that your real form is, in fact, of purity. The form of the influence of bad company is of impurity. Therefore, it has become easy to adopt the reality.

You have received knowledge of your original religion, your original home, your Father and, your original form and actions. So, because you have the power of knowledge, that difficult thing has become extremely easy. Even those souls of today, who are called great souls, consider that thing to be impossible and unnatural, whereas you pure souls have experienced that impossibility to be so easy. Is it easy or difficult to adopt purity? You can issue a challenge to the whole world that purity is your original form. Because of the power of purity, where there is purity, there is automatically peace and happiness. Purity is the foundation. Purity is said to be the mother of peace and happiness, its children. So, where there is purity, there is automatically peace and happiness. That is why you are also happy. You can never be unhappy. You are those who remain constantly happy. When you are holy, you are also definitely happy. The sign of pure souls is that they are always happy. So, BapDada was seeing how many pure souls, whose intellects have faith are sitting here. People of the world are running around for peace and happiness, but the foundation of peace and happiness is purity. Because they don’t know about that foundation, because the foundation of purity is not strong, they only attain temporary peace and happiness; they have it one moment and not the next. Without purity, it is impossible to attain permanent peace or happiness. All of you have adopted the foundation. This is why you don’t have to run around for peace and happiness. Peace and happiness themselves automatically come to pure souls, just as children automatically go to their mother. No matter how much you try to separate them, they will still go to their mother. So, the mother of peace and happiness is purity. Where there is purity, there is automatically peace, happiness and joy. So, what have you become? Emperors of the land without sorrow. You are not emperors of this old world, but emperors of the land without sorrow. This Brahmin family is without any sorrow, that is, it is a world of happiness. So, you have become emperors of this world of happiness, emperors of the land without sorrow. You are also “His Holiness”, are you not? Each of you has a crown and also a throne. What more is lacking? It is such a beautiful crown. The crown of light is a symbol of purity and you are seated on BapDada’s heart-throne. So, the crowns of the emperors of the land without sorrow are unique and your throne is also unique. Your sovereignty is unique and you emperors are also unique.

Seeing all human souls running around so much nowadays, BapDada feels mercy for those children. They continue to make so much effort. Effort means running around; they make a lot of effort, but with what attainment? There will be happiness, but with happiness they will also have received sorrow from something or other. If nothing else, then, together with temporary happiness, there will also be two other things – worry and fear. So, where there is worry, there cannot be restfulness. Where there is fear, there cannot be peace. So, together with happiness, there are also those causes of sorrow and peacelessness, whereas all of you have found the solution to the causes of sorrow. You have now become embodiments of solutions, who find solutions to all problems. Problems come as toys to play with you. They come to play with you and not to make you afraid. You are not those who become afraid, are you? Where you have the treasure of all powers as your birthright, what could be lacking? You are full, are you not? There are no problems in front of someone who is a master almighty authority. If an ant is trampled under the foot of an elephant would it be noticed? So, those problems are also like ants in front of you maharathis. By considering everything to be a game, you will remain happy. Then, no matter how big a situation is, it will become small. What game are children made to play with their intellects nowadays? If you were to ask children to do arithmetic, they would get fed up, but they would very happily do their maths as a game. So, for all of you too, problems are like ants, are they not? Where there are the powers of purity, peace and happiness, there cannot be any waves of sorrow or peacelessness even in your dreams. Sorrow and peacelessness do not have the courage to come in front of powerful souls. Pure souls are souls who remain constantly cheerful. Always keep this in your awareness. You have now moved away from the many types of webs of confusion, stumbling, sorrow and peacelessness, because there isn’t the sorrow of even one thing. Even one sorrow brings along all its progeny. However, you have moved away from those webs. You consider yourselves to be so fortunate, do you not?

Today, those from Australia are sitting here. BapDada always speaks of the specialities of those from Australia – for their tapasya and attitude of being great donors. The tapasya of deep love for constantly serving continues to give fruit to you tapaswi souls and many other souls. Seeing the method and expansion according to the land, BapDada is extra pleased. Australia is extra-ordinary anyway. Everyone there very quickly develops the attitude of renunciation for the sake of doing service. This is why so many centres have been opened. There is the thought: Just as we have received fortune, we now have to create fortune for others. To have a determined thought is tapasya. So, with the method of renunciation and tapasya, you are progressing. The motive of doing service finishes many different, limited feelings. Renunciation and tapasya have been the basis for success. Do you understand? You have the power of the gathering. One says something and the other one did it. It is not that one says something and the other one says that it is not possible. A gathering would become split through that. One says something and the other one becomes co-operative with enthusiasm and puts it into a practical form. That is the power of the gathering. There is also a good gathering of Pandavas. They never get involved in “you or I”. They simply say, “Baba, Baba”, and situations finish. Conflict only arises when you get caught up in “you or I” or in “mine and yours”. When you keep the Father in front of you, no obstacles can come in front of you. You are the souls who constantly experience being free from obstacles and who experience the stage of flying at a fast speed. The stage of being free from obstacles over a long period of time is a strong stage. Those who are repeatedly influenced by obstacles weaken their foundation. Souls who remain free from obstacles over a long period of time are themselves powerful and they also make others powerful, because they have a strong foundation. When anything that has been broken is glued back together, it becomes weak. Souls who have been powerful and free from obstacles over a long period of time also become free from obstacles at the end and pass with honours and go into the first division. So, constantly, definitely aim to experience the stage of being free from obstacles over a long period of time. Do not think that, even though an obstacle came, you were able to finish it and that it therefore does not matter. By repeatedly having to finish obstacles when they come, your time and energy are wasted. If you use that time and energy for doing service, you will accumulate multimillionfold return of one. This is why souls who have been free from obstacles over a long period of time are worshipped as destroyers of obstacles. The title of being a destroyer of obstacles belongs to worthy of worship souls. “I am a worthy of worship soul who is a destroyer of obstacles.” By having this awareness, you will constantly remain free from obstacles and continue to fly in the flying stage and also make others fly. Do you understand? You have destroyed your own obstacles, but you also have to be a destroyer of obstacles for others. Look, you have found such an instrument soul (Dr. Nirmala) who, from the beginning, has never faced an obstacle. She has always been loving and detached. She does remain a little strict, but this is also essential. If you did not have such a strict teacher, there would not have been such expansion. This is also essential. Just as bitter medicine is necessary for curing an illness, in the same way, according to the drama, you are definitely coloured by the colour of the instrument souls. Just as she became an instrument for service as soon as she came, so too, as soon as souls go to Australia, they become instruments for the service of opening centres. Expansion is brought about over all of Australia and the places in connection with it with these vibrations of the feeling of renunciation. Those who have tapasya and renunciation are elevated souls. All of you souls are fast effort-makers but although you are effort-makers, specialities too definitely cast their influence. Everyone is at this time becoming complete. No one has as yet received the certificate of having become complete. However, you have come close to perfection. It is numberwise. Some have come very close and others are ahead or behind, numberwise. Those from Australia are lucky. The seed of renunciation is enabling you to attain your fortune. The Shakti Army is very much loved by BapDada, because you have courage. Where there is courage, help from BapDada is constantly with you. You are those who constantly remain content, are you not? Contentment is the basis of success. All of you are contented souls and so success is your birthright. Do you understand? Those from Australia are nearest and dearest and this is why there is an extra right over them. Achcha.

Questions and Answers from Avyakt murlis.

Question: When will the name of the Shakti Army be glorified in the world?

Answer: When there is the collective practice of a constant and stable stage and of being stable in one pure thought. In a gathering, not a single person should have another thought. When everyone practises being absorbed in One and remains stable in the one pure thought of being bodiless, the name of the Shakti Army will then be glorified in the world.

Question: On what basis are soldiers victorious on the battlefield in a physical war? When will your drums for victory beat?

Answer: When army soldiers go onto a battlefield, they begin shooting on just one order. On just one order, they simultaneously surround the opposition and only then are they victorious. In the same way, only when everyone in the spiritual army, in a collective way, altogether, becomes stable in a constant stage in a second with just a signal will the drums of victory beat.

Question: Which of the Father’s orders should you be everready to follow so, that the iron-aged mountain can be lifted?

Answer: The Father would give just this order: Everyone become stable in a constant and stable stage in one second. When everyone’s thoughts become merged in the one thought, the iron-aged mountain will then be lifted. That one second will be a second that lasts for eternity. Not that you become stable in a second and then come down.

Question: What is the responsibility of each Brahmin child?

Answer: To co-operate with the whole gathering to become stable in a constant and stable stage is the responsibility of each Brahmin. You always have good wishes and pure feelings to continue to try and give ignorant souls the enlightenment of knowledge. In the same way, in order to enable this divine gathering to become stable in a constant and stable stage and to increase the power of the gathering, make effort to have good wishes for one another in various ways. Make plans for this. Do not become complacent and think “I am fine by myself.”

Question: What is the speciality of God’s knowledge?

Answer: The power of the gathering is the speciality of God’s knowledge. The speciality of Brahmin gatherings continues in a practical way in the deity form as one religion, one kingdom and one direction.

Question: Complete transformation in which one aspect will bring completion and perfection close?

Answer: Each one has one main sanskar of body consciousness, which you all refer to as natureDo not let the slightest trace of that sanskar remain. Transform that sanskar of yours and imbibe BapDada’s sanskars. This is the last effort.

Question: On what basis will BapDada’s revelation take place?

Answer: When BapDada’s sanskars are visible in each one. Copy BapDada’s sanskars and become equal to Him and time and energy will be saved and you will then easily be able to reveal BapDada. On the path of devotion, they just have the saying, “Wherever I look, I see only You”, but you can see BapDada’s sanskars in whoever you look at here.

Blessing: May you be a charitable soul who has self-respect by renouncing any trace of bossiness.
Children who have self-respect are bestowers who give everyone respect. A bestower means one who is merciful. He would not have even the slightest thought of bossiness towards any soul. “Why is this like this?” “You should not have done this. It should not be like this. Does knowledge say this?” All of these are traces of bossiness in a subtle form. However, charitable souls who have self-respect will uplift those who have fallen and will make them co-operative. They can never think that that one is suffering the consequences of his own karma, or that anyone who does something will definitely receive the result of it and should fall. You children cannot have such thoughts.
Slogan: The specialities of contentment and happiness enable you to experience the flying stage.

 

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 13 SEPTEMBER 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 13 September 2020

Murli Pdf for Print : – 

13-09-20
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 22-03-86 मधुबन

सुख, शान्ति और खुशी का आधार- पवित्रता

आज बापदादा अपने चारों ओर के सर्व होलीनेस और हैपीनेस बच्चों को देख रहे हैं। इतने बड़े संगठित रूप में ऐसे होली और हैपी दोनों विशेषता वाले, इस सारे ड्रामा के अन्दर और कोई इतनी बड़ी सभा व इतनी बड़ी संख्या हो ही नहीं सकती। आजकल किसी को भल हाइनेस वा होलीनेस का टाइटिल देते भी हैं लेकिन प्रत्यक्ष प्रमाण रूप में देखो तो वह पवित्रता, महानता दिखाई नहीं देगी। बापदादा देख रहे थे इतनी महान पवित्र आत्माओं का संगठन कहाँ हो सकता है। हर एक बच्चे के अन्दर यह दृढ़ संकल्प है कि न सिर्फ कर्म से लेकिन मन-वाणी-कर्म तीनों से पवित्र बनना ही है। तो यह पवित्र बनने का श्रेष्ठ दृढ़ संकल्प और कहाँ भी रह नहीं सकता। अविनाशी हो नहीं सकता, सहज हो नहीं सकता। और आप सभी पवित्रता को धारण करना कितना सहज समझते हो क्योंकि बापदादा द्वारा नॉलेज मिली और नॉलेज की शक्ति से जान लिया कि मुझ आत्मा का अनादि और आदि स्वरूप है ही पवित्र। जब आदि अनादि स्वरूप की स्मृति आ गई तो यह स्मृति समर्थ बनाए सहज अनुभव करा रही है। जान लिया कि हमारा वास्तविक स्वरूप पवित्र है। यह संग-दोष का स्वरूप अपवित्र है। तो वास्तविक को अपनाना सहज हो गया ना।

स्वधर्म, स्वदेश, स्व का पिता और स्व स्वरूप, स्व कर्म सबकी नॉलेज मिली है। तो नॉलेज की शक्ति से मुश्किल अति सहज हो गया। जिस बात को आजकल की महान आत्मा कहलाने वाले भी असम्भव समझते हैं, अननेचुरल समझते हैं लेकिन आप पवित्र आत्माओं ने उस असम्भव को कितना सहज अनुभव कर लिया। पवित्रता को अपनाना सहज है वा मुश्किल है? सारे विश्व के आगे चैलेन्ज से कह सकते हो कि पवित्रता तो हमारा स्व-स्वरूप है। पवित्रता की शक्ति के कारण जहाँ पवित्रता है वहाँ सुख और शान्ति स्वत: ही है। पवित्रता फाउण्डेशन है। पवित्रता को माता कहते हैं। और सुख शान्ति उनके बच्चे हैं। तो जहाँ पवित्रता है वहाँ सुख शान्ति स्वत: ही है इसलिए हैपी भी हो। कभी उदास हो नहीं सकते। सदा खुश रहने वाले। जहाँ होली है तो हैपी भी जरूर है। पवित्र आत्माओं की निशानी सदा खुशी है। तो बापदादा देख रहे हैं कि कितने निश्चय बुद्धि पावन आत्मायें बैठी हैं। दुनिया वाले सुख शान्ति के पीछे भाग दौड़ करते हैं। लेकिन सुख शान्ति का फाउण्डेशन ही पवित्रता है। उस फाउण्डेशन को नहीं जानते हैं इसलिए पवित्रता का फाउण्डेशन मजबूत न होने के कारण अल्पकाल के लिए सुख वा शान्ति प्राप्त होती भी है लेकिन अभी-अभी है, अभी-अभी नहीं है। सदाकाल की सुख शान्ति की प्राप्ति सिवाए पवित्रता के असम्भव है। आप लोगों ने फाउण्डेशन को अपना लिया है इसलिए सुख शान्ति के लिए भाग दौड़ नहीं करनी पड़ती है। सुख शान्ति, पवित्र-आत्माओं के पास स्वयं स्वत: ही आती है। जैसे बच्चे माँ के पास स्वत: ही जाते हैं ना। कितना भी अलग करो फिर भी माँ के पास जरूर जायेंगे। तो सुख शान्ति की माता है पवित्रता। जहाँ पवित्रता है वहाँ सुख शान्ति खुशी स्वत: ही आती है। तो क्या बन गये? बेगमपुर के बादशाह। इस पुरानी दुनिया के बादशाह नहीं, लेकिन बेगमपुर के बादशाह। यह ब्राह्मण परिवार बेगमपुर अर्थात् सुख का संसार है। तो इस सुख के संसार बेगमपुर के बादशाह बन गये। हिज़ होलीनेस भी हो ना। ताज भी है, तख्त भी है। बाकी क्या कमी है! कितना बढ़िया ताज है! लाइट का ताज पवित्रता की निशानी है। और बापदादा के दिलतख्तनशीन हो। तो बेगमपुर के बादशाहों का ताज भी न्यारा और तख्त भी न्यारा है। बादशाही भी न्यारी तो बादशाह भी न्यारे हो।

आजकल की मनुष्यात्माओं को इतनी भाग दौड़ करते हुए देख बापदादा को भी बच्चों पर तरस पड़ता है। कितना प्रयत्न करते रहते हैं। प्रयत्न अर्थात् भाग दौड़, मेहनत भी ज्यादा करते लेकिन प्राप्ति क्या? सुख भी होगा तो सुख के साथ कोई न कोई दु:ख भी मिला हुआ होगा। और कुछ नहीं तो अल्पकाल के सुख के साथ चिंता और भय यह दो चीजें तो हैं ही है। तो जहाँ चिंता है वहाँ चैन नहीं हो सकता। जहाँ भय है वहाँ शान्ति नहीं हो सकती। तो सुख के साथ यह दु:ख अशान्ति के कारण हैं ही हैं और आप सबको दु:ख का कारण और निवारण मिल गया। अभी आप समस्याओं को समाधान करने वाले समाधान स्वरूप बन गये हो ना। समस्याएं आप लोगों से खेलने के लिए खिलौने बन कर आती है। खेल करने के लिए आती हैं न कि डराने के लिए। घबराने वाले तो नहीं हो ना। जहाँ सर्व शक्तियों का खजाना जन्म-सिद्ध अधिकार हो गया तो बाकी कमी क्या रही, भरपूर हो ना। मास्टर सर्वशक्तिवान के आगे समस्या कोई नहीं। हाथी के पांव के नीचे अगर चींटी आ जाए तो दिखाई देगी? तो यह समस्याएं भी आप महारथियों के आगे चींटी समान हैं। खेल समझने से खुशी रहती, कितनी भी बड़ी बात छोटी हो जाती है। जैसे आजकल बच्चों को कौन से खेल कराते हैं, बुद्धि के। वैसे बच्चों को हिसाब करने दो तो तंग हो जायेंगे। लेकिन खेल की रीति से हिसाब खुशी-खुशी करेंगे। तो आप सबके लिए भी समस्या चींटी समान है ना। जहाँ पवित्रता, सुख शान्ति की शक्ति है वहाँ स्वप्न में भी दु:ख अशान्ति की लहर आ नहीं सकती। शक्तिशाली आत्माओं के आगे यह दु:ख और अशान्ति हिम्मत नहीं रख सकती आगे आने की। पवित्र आत्मायें सदा हर्षित रहने वाली आत्मायें हैं, यह सदा स्मृति में रखो। अनेक प्रकार की उलझनों से भटकने से दु:ख अशान्ति की जाल से निकल आये क्योंकि सिर्फ एक दु:ख नहीं आता है। लेकिन एक दु:ख भी वंशावली के साथ आता है। तो उस जाल से निकल आये। ऐसे अपने को भाग्यवान समझते हो ना!

आज आस्ट्रेलिया वाले बैठे हैं। आस्ट्रेलिया वालों की बापदादा सदा ही तपस्या और महादानी-पन की विशेषता वर्णन करते हैं। सदा सेवा के लगन की तपस्या अनेक आत्माओं को और आप तपस्वी आत्माओं को फल दे रही है। धरनी के प्रमाण विधि और वृद्धि दोनों को देख बापदादा एक्स्ट्रा खुश हैं। आस्ट्रेलिया है ही एक्स्ट्रा आर्डनरी। त्याग की भावना, सेवा के लिए सभी में बहुत जल्दी आती है इसलिए तो इतने सेन्टर्स खोले हैं। जैसे हमको भाग्य मिला है ऐसे औरों का भाग्य बनाना है। दृढ़ संकल्प करना यह तपस्या है। तो त्याग और तपस्या की विधि से वृद्धि को प्राप्त कर रहे हैं। सेवा-भाव अनेक हद के भाव समाप्त कर देता है। यही त्याग और तपस्या सफलता का आधार बना है, समझा। संगठन की शक्ति है। एक ने कहा और दूसरे ने किया। ऐसे नहीं एक ने कहा और दूसरा कहे यह तो हो नहीं सकता। इसमें संगठन टूटता है। एक ने कहा दूसरे ने उमंग से सहयोगी बन प्रैक्टिकल में लाया, यह है संगठन की शक्ति। पाण्डवों का भी संगठन है, कभी तू मैं नहीं। बस बाबा-बाबा कहा तो सब बातें समाप्त हो जाती हैं। खिटखिट होती ही है तू मैं, मेरा तेरा में। बाप को सामने रखेंगे तो कोई भी समस्या आ नहीं सकती। और सदा निर्विघ्न आत्मायें तीव्र पुरूषार्थ से उड़ती-कला का अनुभव करती हैं। बहुत काल की निर्विघ्न स्थिति, मजबूत स्थिति होती है। बार-बार विघ्नों के वश जो होते उन्हों का फाउण्डेशन कच्चा हो जाता है और बहुत काल की निर्विघ्न आत्मायें फाउण्डेशन पक्का होने कारण स्वयं भी शक्तिशाली दूसरों को भी शक्तिशाली बनाती हैं। कोई भी चीज़ टूटी हुई को जोड़ने से वह कमजोर हो जाती है। बहुतकाल की शक्तिशाली आत्मा, निर्विघ्न आत्मा अन्त में भी निर्विघ्न बन पास विद आनर बन जाती है या फर्स्ट डिवीजन में आ जाती है। तो सदा यही लक्ष्य रखो कि बहुतकाल की निर्विघ्न स्थिति का अनुभव अवश्य करना है। ऐसे नहीं समझो विघ्न आया, मिट तो गया ना। कोई हर्जा नहीं। लेकिन बार-बार विघ्न आना और मिटाना इसमें टाइम वेस्ट जाता है। एनर्जी वेस्ट जाती है। वह टाइम और एनर्जी सेवा में लगाओ तो एक का पदम जमा हो जायेगा। इसलिए बहुतकाल की निर्विघ्न आत्मायें, विघ्न-विनाशक रूप से पूजी जाती हैं। विघ्न-विनाशक टाइटिल पूज्य आत्माओं का है। मैं विघ्न-विनाशक पूज्य आत्मा हूँ इस स्मृति से सदा निर्विघ्न बन आगे उड़ती कला द्वारा उड़ते चलो और उड़ाते चलो। समझा। अपने विघ्न विनाश तो किये लेकिन औरों के लिए विघ्न-विनाशक बनना है। देखो, आप लोगों को निमित्त आत्मा भी ऐसी मिली है (निर्मला डाक्टर) जो शुरू से लेकर किसी भी विघ्न में नहीं आयी। सदा न्यारी और प्यारी रही है। थोड़ा सा स्ट्रिक्ट रहती। यह भी जरूरी है। अगर ऐसी स्ट्रिक्ट टीचर नहीं मिलती तो इतनी वृद्धि नहीं होती। यह आवश्यक भी होता है। जैसे कड़वी दवाई बीमारी के लिए जरूरी होती है ना। तो ड्रामा अनुसार निमित्त आत्माओं का भी संग तो लगता ही है और जैसे स्वयं आने से ही सेवा के निमित्त बन गयी, तो आस्ट्रेलिया में भी आने से ही सेन्टर खोलने की सेवा में लग जाते हैं। यह त्याग की भावना का वायब्रेशन सारी आस्ट्रेलिया और जो भी सम्पर्क वाले स्थान हैं उनमें उसी रूप से वृद्धि हो रही है। तपस्या और त्याग जिसमें है, वही श्रेष्ठ आत्मा है। तीव्र पुरूषार्थी तो सभी आत्मायें हैं लेकिन पुरुषार्थी होते हुए भी विशेषताएं अपना प्रभाव जरूर डालती हैं। सम्पन्न तो अभी सब बन रहे हैं ना। सम्पन्न बन गये, यह सर्टिफिकेट किसको भी मिला नहीं है। लेकिन सम्पन्नता के समीप पहुँच गये हैं, इसमें नम्बरवार हैं। कोई बहुत समीप पहुँचे हैं, कोई नम्बरवार आगे पीछे हैं। आस्ट्रेलिया वाले लकी है। त्याग का बीज भाग्य प्राप्त करा रहा है। शक्ति सेना भी बापदादा को अति प्रिय है क्योंकि हिम्मत-वाली है। जहाँ हिम्मत है वहाँ बापदादा की मदद सदा ही साथ है। सदा सन्तुष्ट रहने वाले हो ना। सन्तुष्टता, सफलता का आधार है। आप सब सन्तुष्ट आत्मायें हो तो सफलता आपका जन्म सिद्ध अधिकार है। समझा। तो आस्ट्रेलिया वाले नियरेस्ट और डियरेस्ट हैं इसलिए एकस्ट्रा हुज्जत है। अच्छा।

अव्यक्त मुरलियों से चुने हुए महावाक्य (प्रश्न-उत्तर)

प्रश्न:- शक्ति सेना का नाम सारे विश्व में कब बाला होगा?

उत्तर:- जब संगठित रूप में एकरस स्थिति वा एक शुद्ध संकल्प में स्थित होने का अभ्यास होगा। संगठन में किसी एक का भी दूसरा कोई संकल्प न हो। सब एक ही लगन, एक ही अशरीरी बनने के शुद्ध संकल्प में स्थित होने के अभ्यासी बनें तब सारे विश्व के अन्दर शक्ति सेना का नाम बाला होगा।

प्रश्न:- स्थूल सैनिक युद्ध के मैदान में विजयी किस आधार पर होते हैं? आपके विजय का नगाड़ा कब बजेगा?

उत्तर:- स्थूल सैनिक जब युद्ध के मैदान में जाते हैं तो एक ही आर्डर से चारों ओर अपनी गोली चलाना शुरु कर देते हैं। एक ही समय, एक ही ऑर्डर से चारों ओर घेराव डालते हैं तब विजयी बनते हैं। ऐसे ही रूहानी सेना, संगठित रुप में, एक ही इशारे से और एक ही सेकेण्ड में, सभी एक-रस स्थिति में स्थित हो जायेंगे, तब ही विजय का नगाड़ा बजेगा।

प्रश्न:- बाप के किस ऑर्डर को प्रैक्टिकल में लाने के लिए एवररेडी बनो तो यह कलियुगी पर्वत उठ जायेगा?

उत्तर:- बाप यही आर्डर करेंगे कि एक सेकण्ड में सभी एकरस स्थिति में स्थित हो जाओ। जब सभी के सर्व-संकल्प एक संकल्प में समा जायेंगे तब यह कलियुगी पर्वत उठेगा। वह एक सेकण्ड सदाकाल का सेकेण्ड होता है। ऐसे नहीं कि एक सेकण्ड स्थित हो फिर नीचे आ जाओ।

प्रश्न:- हर एक ब्राह्मण बच्चे की जवाबदारी कौन सी है?

उत्तर:- सारे संगठन को एकरस स्थिति में स्थित कराने के लिए सहयोगी बनना-यह हर एक ब्राह्मण की जवाबदारी है। जैसे अज्ञानी आत्माओं को ज्ञान की रोशनी देने के लिये सदैव शुभ भावना व कल्याण की भावना रखते हुए प्रयत्न करते रहते हो। ऐसे ही अपने इस दैवी संगठन को भी एकरस स्थिति में स्थित करने व संगठन की शक्ति को बढ़ाने के लिए एक-दूसरे के प्रति भिन्न-भिन्न रूप से प्रयत्न करो। इसके प्लैन्स बनाओ। ऐसे नहीं खुश हो जाना कि मैं अपने रूप से ठीक ही हूँ।

प्रश्न:- परमात्म ज्ञान की विशेषता क्या है?

उत्तर:- संगठन की शक्ति ही इस परमात्म ज्ञान की विशेषता है। इस ब्राह्मण संगठन की विशेषता देवता रूप में प्रैक्टिकल एक धर्म, एक राज्य, एक मत के रुप में चलती है।

प्रश्न:- किस एक बात का सम्पूर्ण परिवर्तन ही सम्पूर्णता को समीप लायेगा?

उत्तर:- हरेक में जो देह अभिमान वाले मूल संस्कार हैं, जिसको आप लोग नेचर कहते हो, वह संस्कार अंश-मात्र में भी न रहें। अपने इन संस्कारों को परिवर्तन कर बापदादा के संस्कारों को धारण करना-यही लास्ट पुरूषार्थ है।

प्रश्न:- बापदादा की प्रत्यक्षता किस आधार पर होगी?

उत्तर:- जब एक-एक में बापदादा के संस्कार दिखाई देंगे। बापदादा के संस्कारों को कॉपी कर, उनके समान बनो तो समय और शक्तियां बच जायेंगी और सारे विश्व में बापदादा को सहज प्रत्यक्ष कर सकेंगे। भक्ति मार्ग में तो सिर्फ कहावत है कि जिधर देखते हैं उधर तू ही तू है लेकिन यहाँ प्रैक्टिकल में जहाँ देखें, जिसको देखें वहाँ बापदादा के संस्कार ही दिखाई दें।

वरदान:- रोब के अंश का भी त्याग करने वाले स्वमानधारी पुण्य आत्मा भव
स्वमानधारी बच्चे सभी को मान देने वाले दाता होते हैं। दाता अर्थात् रहमदिल। उनमें कभी किसी भी आत्मा के प्रति संकल्प मात्र भी रोब नहीं रहता। यह ऐसा क्यों? ऐसा नहीं करना चाहिए, होना नहीं चाहिए, ज्ञान यह कहता है क्या…यह भी सूक्ष्म रोब का अंश है। लेकिन स्वमानधारी पुण्य आत्मायें गिरे हुए को उठायेंगी, सहयोगी बनायेंगी वह कभी यह संकल्प भी नहीं कर सकती कि यह तो अपने कर्मो का फल भोग रहे हैं, करेंगे तो जरूर पायेंगे.. इन्हें गिरना ही चाहिए…। ऐसे संकल्प आप बच्चों के नहीं हो सकते।
स्लोगन:- सन्तुष्टता और प्रसन्नता की विशेषता ही उड़ती कला का अनुभव कराती है।

TODAY MURLI 13 SEPTEMBER 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 13 September 2019

Today Murli in Hindi:- Click Here

Read Murli 12 September 2019:- Click Here

13/09/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, all of you have to make effort to have remembrance. Consider yourselves to be souls and remember Me, the Father, and I will liberate you from all sins.
Question: What is the place for all to attain salvation, the importance of which the whole world will come to know?
Answer: The land of Abu is the place for everyone to attain salvation. Beside the words, “Brahma Kumaris”, you can write on the board in brackets (“This is the most elevated pilgrimage place.”) Everyone in the whole world will receive salvation here. The Bestower of Salvation for all, the Father, and Adam (Brahma), sit here and grant salvation to everyone. Adam means a human being. Neither is he a deity nor can he be called God.

Om shanti. Double om shanti because one is from the Father and the other is from Dada; there are both souls. That One is the Supreme Soul and this one is a soul. That One gives you the aim: I am a resident of the supreme abode. This one also says the same. The Father says “Om shanti” and this one also says “Om shanti.” Children too say “Om shanti”, that is, we are souls, residents of the land of peace. Here, you have to sit apart, not touching one another. You must not touch the person you are sitting next to because there is difference of night and day in each one’s stage and yoga. Some stay in remembrance very well whereas others don’t have any remembrance at all. So, those who don’t have any remembrance at all are sinful souls, tamopradhan, whereas those who have remembrance become charitable souls, satopradhan. There is a lot of difference. Although you may be living together at home, there is a difference. This is why there are devilish names in the Bhagawad that are remembered; these refer to this time. The Father sits here and explains to you children: These are the divine activities that are remembered on the path of devotion. You wouldn’t remember anything in the golden age; you will have forgotten everything. It is only at this time that the Father gives you these teachings. You will have completely forgotten this in the golden age. Then, in the copper age, they write scriptures etc. and try to teach Raj Yoga. However, they cannot teach Raj Yoga. It is only when the Father comes here personally that He teaches it to you. You know how the Father teaches you Raj Yoga. Then, after 5000 years, He will say the same again: Sweetest, spiritual children. Neither can human beings say this to other human beings nor can deities say it to deities. It is only the spiritual Father who says this to the spiritual children. Once you have played your parts, you will then play your parts again after 5000 years because you will have then come down the ladder. You now have the secrets of the beginning, middle and end in your intellects. You know that that is the land of peace, that it is the supreme abode. We souls of all different religions live there, numberwise, in the incorporeal world. You can see how the stars are up there. You cannot see anything else there. There isn’t anything up above. There is just the element of brahm. Here, you are standing on the earth; this is the field of action. You come here, adopt bodies and perform actions. The Father has explained: When you receive the inheritance from Me, your actions become neutral for 21 births because there is no kingdom of Ravan there. That is the Godly kingdom which God is now establishing. He continues to explain to you children: Remember Shiv Baba and you can become the masters of heaven. Shiv Baba established heaven. So, remember Shiv Baba and the land of happiness. First of all, remember the land of peace and you will also remember the cycle. You children forget this and so you have to be reminded over and over again. O sweetest children, consider yourselves to be souls and remember the Father and your sins will be burnt away. He promises: If you stay in remembrance, I will liberate you from your sins. The Father alone is the Purifier, the Almighty Authority. He is called the World Almighty Authority. He knows the beginning, middle and end of the whole world. He knows all the Vedas and scriptures etc., and that is why He says: There is no essence in them. There is no essence in the Gita either, even though it is the jewel of all scriptures, the mother and father; the rest are its children. Similarly, there is first of all Prajapita Brahma and the rest are all the children. Prajapita Brahma is called Adam, the first man. Adam means a human being (aadmi). He is a human being and so he cannot be called a deity. Adam is the first human being. Devotees call Brahma, Adam, a deity. The Father sits here and explains to you that Adam means a human being. He is neither a deity nor God. Lakshmi and Narayan are deities. There is deityism in Paradise. That is the new world. That is the wonder of the world. All the rest are the wonders of Maya. The wonders of Maya come into existence after the copper age begins. The Godly wonder is heaven which is established by the Father alone. It is now being established. No one knows the value of the Dilwala Temple. People go on pilgrimages and this is the best pilgrimage place. You write, Brahma Kumaris Ishwariya Vishwa Vidhyalaya, Mt. Abu. So, you should also write in brackets “(The most elevated pilgrimage place)” because you know that it is here that everyone receives salvation. No one else knows this. So, just as the Gita is the jewel of all scriptures, so too, the greatest of all pilgrimage places is Abu. Then, when people read it, their attention will be drawn. This is the greatest pilgrimage place of all pilgrimage places in the world, where the Father sits and grants salvation to everyone. There are many pilgrimage places. They even consider the memorial place of Gandhi to be a pilgrimage place. Everyone goes there and offers flowers etc. They don’t know anything at all. You children know this and so, while sitting here, you should have a lot of happiness in your hearts. We are establishing heaven. The Father now says: Consider yourselves to be souls and remember Me. The study is very easy; it doesn’t cost you anything. Did it cost your Mama even a single penny? She studied without spending even a penny and became so clever that she claimed number one. She became a Raj Yogini. No one like Mama has emerged. Look, the Father sits here and teaches you souls alone. It will be souls that receive the kingdom. It was souls that lost the kingdom. Such a tiny soul does so much work. The worst work of all is to indulge in vice. Souls play parts for 84 births. Such a tiny soul has so much power; he rules the whole world. Those deity souls have so much power. Each religion has its own strength. The Christian religion has so much strength. When a soul has strength, he performs actions through a body. It is souls that come here and performs actions on this field of action. There are no bad activities performed there. Souls go on to the path of sin when it becomes the kingdom of Ravan. People say that vices exist all the time. You can explain that as there is no kingdom of Ravan there, how could there be vices there? There, there is just the power of yoga. The Raj Yoga of Bharat is very well known. Many people want to learn it, but only you can teach it. No one else can teach it. For instance, Maharishi would make so much effort to teach yoga. However, the world doesn’t know that it’s not possible for hatha yogis to teach Raj Yoga. So many people go to Chimyananda. If he said, even once, that no one except the BKs can truly teach the ancient Raj Yoga of Bharat, then that would be enough. However, it isn’t the law for that sound to spread now. Not everyone will understand. It requires a lot of effort and there will also be your praise. At the end, they will say: O Prabhu! O Shiv Baba, Your divine activities are wonderful! You now understand that no one apart from you considers the Father to be the Supreme Father, the Supreme Teacher and the Supreme Satguru. Here, too, there are many who, while moving along, are harassed by Maya, and so they become completely senseless. The destination is very high. This is a battlefield and Maya causes a lot of obstacles on it. Those people are making preparations for destruction. You make effort here to conquer the five vices. You make effort for victory whereas they make effort for destruction. Both tasks will be accomplished at the same time. There is still time. Our kingdom has not yet been established. Kings and subjects are all still to be created. You claim your inheritance from the Father for half the cycle. However, no one has yet received liberation. Although those people say that So-and-so attained liberation, no one knows where he went when he died. They simply continue to tell lies in that way. You know that those who shed their bodies will definitely take other bodies; they cannot attain eternal liberation. It isn’t that a bubble would merge into the water. The Father says: All of those scriptures etc. are the paraphernalia of the path of devotion. You children listen to the Father personally. You eat hot halva. Who eats the hottest halva? (Brahma.) This one is sitting right next to Him. He hears everything immediately and imbibes it and then he claims a high status. People have visions of this one in Paradise and in the subtle region. Here, too, people see him with their physical eyes. The Father teaches everyone, but then, effort is needed to have remembrance. Just as you find it difficult to stay in remembrance, so this one too finds it the same. There is no question of mercy in this. The Father says: I have taken this body on loan, and I will settle that account. However, this one also has to make effort to have remembrance. I understand that He is sitting next to me. I remember the Father, but then I forget Him. This one has to make the most effort. Maya tested those who were strong maharathis on the battlefield. There is the example Hanuman who was a mahavir. The stronger you become, the more Maya tests you and the more the storms come. Children write: Baba, this and that happens to me. Baba says: All of that will happen. Baba explains to you every day: Remain cautious! You write: Maya brings many storms. Some are body conscious and they don’t tell Baba anything. You are now becoming very wise. When souls become pure, they receive pure bodies. Souls then sparkle so much. First of all, it is the poor who take this knowledge. The Father is also remembered as the Lord of the Poor. All the others come later. You understand that it is not possible for them to become brothers until they become brothers and sisters. The children of Prajapita Brahma are brothers and sisters. The Father now explains: Consider yourselves to be brothers; this is the final relationship. You will then go up above and meet your brothers. Then, the new relationships will begin in the golden age. There, there won’t be many relatives such as brother-in-laws, uncles etc. The relationships there are very few. Later, they continue to increase. The Father now says: Do not consider yourselves to be even brothers and sisters, but just brothers. You also have to go beyond name and form. The Father only teaches you brothers (souls). It is when Prajapita Brahma is here that you are brothers and sisters. Krishna himself is just a child. How could he make you all into brothers? These things are not even mentioned in the Gita. This knowledge is completely unique. Everything is fixed in the drama. The part of one second cannot be the same as the part of the next second. So many months, days, hours are to pass by and then, 5000 years later, they will pass by in the same way. Those with small intellects cannot imbibe that much. This is why the Father says: It is very easy to consider yourself to be a soul and remember the unlimited Father. The old world is going to be destroyed. The Father says: I come when it is the confluence age. You were deities. You know that at the time when it was their kingdom, there were no other religions. It is no longer their kingdom. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. It is now the final moments and you have to return home, so remove your intellect from anyone’s name or form. Practise the awareness: We souls are brothers. Don’t become body conscious.
  2. There is the difference of day and night between each one’s stage and yoga. Therefore, sit separately, not touching one another. In order to become charitable souls, make effort to have remembrance.
Blessing: May you become a soul who is worthy of experiencing the Father’s help and receiving blessings by keeping a balance of remembrance and service.
Where you keep a balance of remembrance and service, that is, where there is equality of two, you especially experience the Father’s help. This help becomes blessings because BapDada does not give blessings in the same way as other souls do. The Father is bodiless and so BapDada’s blessings are to receive His help easily and naturally through which impossible things become possible. This help means to receive blessings. You are souls who are so worthy of such blessings that you earn an income of multimillions in each step.
Slogan: In order to give sakaash, accumulate a stock of imperishable happiness, peace and true love.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 13 SEPTEMBER 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 13 September 2019

To Read Murli 12 September 2019:- Click Here
13-09-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – याद की मेहनत तुम सबको करनी है, तुम अपने को आत्मा समझ मुझ बाप को याद करो तो मैं तुम्हें सब पापों से मुक्त कर दूँगा”
प्रश्नः- सर्व की सद्गति का स्थान कौन-सा है, जिसके महत्व का सारी दुनिया को पता चलेगा?
उत्तर:- आबू भूमि है सबकी सद्गति का स्थान। तुम ब्रह्माकुमारीज़ के सामने ब्रैकेट में लिख सकते हो यह सर्वोत्तम तीर्थ स्थान है। सारे दुनिया की सद्गति यहाँ से होनी है। सर्व का सद्गति दाता बाप और आदम (ब्रह्मा) यहाँ पर बैठकर सबकी सद्गति करते हैं। आदम अर्थात् आदमी, वह देवता नहीं है। उसे भगवान् भी नहीं कह सकते।

ओम् शान्ति। डबल ओम् शान्ति क्योंकि एक है बाप की, दूसरी है दादा की। दोनों की आत्मा है ना। वह है परम आत्मा, यह है आत्मा। वह भी लक्ष्य बतलाते हैं कि हम परमधाम के रहवासी हैं, दोनों ऐसे कहते हैं। बाप भी कहते हैं ओम् शान्ति, यह भी कहते हैं ओम् शान्ति। बच्चे भी कहते हैं ओम् शन्ति अर्थात् हम आत्मा शान्तिधाम की निवासी हैं। यहाँ अलग-अलग होकर बैठना है। अंग से अंग नहीं मिलना चाहिए क्योंकि हर एक की अवस्था में, योग में रात-दिन का फ़र्क है। कोई बहुत अच्छा याद करते हैं, कोई बिल्कुल याद नहीं करते। तो जो बिल्कुल याद नहीं करते – वह हैं पाप आत्मा, तमोप्रधान और जो याद करते हैं वह हो गये पुण्य आत्मा, सतोप्रधान। बहुत फर्क हो गया ना। घर में भल इकट्ठे रहते हैं परन्तु फर्क तो पड़ता है ना इसलिए ही तो भागवत में आसुरी नाम गाये हुए हैं। इस समय की ही बात है। बाप बैठ बच्चों को समझाते हैं – यह हैं ईश्वरीय चरित्र, जो भक्ति मार्ग में गाते हैं। सतयुग में तो कुछ भी याद नहीं रहेगा, सब भूल जायेंगे। बाप अभी ही शिक्षा देते हैं। सतयुग में तो यह बिल्कुल भूल जाते हैं, फिर द्वापर में शास्त्र आदि बनाते हैं और कोशिश करते हैं राजयोग सिखलाने की। परन्तु राजयोग तो सिखा न सकें। वह तो बाप जब सम्मुख आते हैं तब ही आकर सिखलाते हैं। तुम जानते हो कैसे बाप राजयोग सिखलाते हैं। फिर 5 हज़ार वर्ष बाद आकर ऐसे ही कहेंगे – मीठे-मीठे रूहानी बच्चों, ऐसे कभी भी कोई मनुष्य, मनुष्य को कह न सकें। न देवतायें, देवताओं को कह सकते हैं। एक रूहानी बाप ही रूहानी बच्चों को कहते हैं – एक बार पार्ट बजाया फिर 5 हज़ार वर्ष के बाद पार्ट बजायेंगे क्योंकि फिर तुम सीढ़ी उतरते हो ना। तुम्हारी बुद्धि में अब आदि-मध्य-अन्त का राज़ है। जानते हो वह है शान्तिधाम अथवा परमधाम। हम आत्मायें भिन्न-भिन्न धर्म की सब नम्बरवार वहाँ रहती हैं, निराकारी दुनिया में। जैसे स्टार्स देखते हो ना – कैसे खड़े हैं, कुछ देखने में नहीं आता। ऊपर में कोई चीज़ नहीं है। ब्रह्म तत्व है। यहाँ तुम धरती पर खड़े हो, यह है कर्म क्षेत्र। यहाँ आकर शरीर लेकर कर्म करते हैं। बाप ने समझाया है तुम जब मेरे से वर्सा पाते हो तो 21 जन्म तुम्हारे कर्म अकर्म हो जाते हैं क्योंकि वहाँ रावण राज्य ही नहीं होता है। वह है ईश्वरीय राज्य जो अब ईश्वर स्थापन कर रहे हैं। बच्चों को समझाते रहते हैं – शिवबाबा को याद करो तो स्वर्ग के मालिक बनो। स्वर्ग शिवबाबा ने स्थापन किया ना। तो शिवबाबा को और सुखधाम को याद करो। पहले-पहले शान्तिधाम को याद करो तो चक्र भी याद आयेगा। बच्चे भूल जाते हैं, इसलिए घड़ी-घड़ी याद कराना पड़ता है। हे मीठे-मीठे बच्चों, अपने को आत्मा समझो और बाप को याद करो तो तुम्हारे पाप भस्म हों। प्रतिज्ञा करते हैं तुम याद करेंगे तो पापों से मुक्त करूँगा। बाप ही पतित-पावन सर्वशक्तिमान् अथॉरिटी हैं, उनको वर्ल्ड आलमाइटी अथॉरिटी कहा जाता है। वह सारे सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त को जानते हैं। वेदों-शास्त्रों आदि सबको जानते हैं तब तो कहते हैं इनमें कोई सार नहीं है। गीता में भी कोई सार नहीं है। भल वह सर्व शास्त्रमई शिरोमणी है माई बाप, बाकी सब हैं बच्चे। जैसे पहले-पहले प्रजापिता ब्रह्मा है, बाकी सब बच्चे हैं। प्रजापिता ब्रह्मा को आदम कहते हैं। आदम माना आदमी। मनुष्य है ना, तो इनको देवता नहीं कहेंगे। एडम को आदम कहते हैं। भक्त लोग ब्रह्मा एडम को देवता कह देते। बाप बैठ समझाते हैं एडम अर्थात् आदमी। न देवता है, न भगवान् है। लक्ष्मी-नारायण हैं देवता। डिटीज्म है पैराडाइज़ में। नई दुनिया है ना। वह है वन्डर ऑफ दी वर्ल्ड। बाकी तो वह सब हैं माया के वन्डर। द्वापर के बाद माया के वन्डर्स होते हैं। ईश्वरीय वन्डर है – हेविन, स्वर्ग, जो बाप ही स्थापन करते हैं। अभी स्थापन हो रहा है। यह जो देलवाड़ा मन्दिर है, इसकी वैल्युज़ का किसको भी पता नहीं है। मनुष्य यात्रा करने जाते हैं, तो सबसे अच्छा तीर्थ स्थान यह है। तुम लिखते हो ना ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व-विद्यालय, आबू पर्वत। तो ब्रैकेट में यह भी लिखना चाहिए – (सर्वोत्तम तीर्थ स्थान) क्योंकि तुम जानते हो सर्व की सद्गति यहाँ से होती है। यह कोई जानते नहीं। जैसे सर्व शास्त्रमई शिरोमणी गीता है वैसे सर्व तीर्थों में श्रेष्ठ तीर्थ आबू है। तो मनुष्य पढ़ेंगे, अटेन्शन जायेगा। सारे वर्ल्ड के तीर्थों में यह है सबसे बड़ा तीर्थ, जहाँ बाप बैठ सबकी सद्गति करते हैं। तीर्थ तो बहुत हो गये हैं। गांधी की समाधि को भी तीर्थ समझते हैं। सब जाकर वहाँ फूल आदि चढ़ाते हैं, उनको कुछ पता नहीं है। तुम बच्चे जानते हो ना – तो तुमको यहाँ बैठे दिल अन्दर बड़ी खुशी होनी चाहिए। हम हेविन की स्थापना कर रहे हैं। अब बाप कहते हैं – अपने को आत्मा समझ मुझे याद करो। पढ़ाई भी बहुत सहज है। कुछ भी खर्चा नहीं लगता है। तुम्हारी मम्मा को एक पाई खर्चा लगा? बिगर कौड़ी खर्चा पढ़कर कितनी होशियार नम्बरवन बन गई। राजयोगिन बन गई ना। मम्मा जैसी कोई भी नहीं निकली है।

देखो, आत्माओं को ही बाप बैठ पढ़ाते हैं। आत्माओं को ही राज्य मिलता है, आत्मा ने ही राज्य गँवाया है। इतनी छोटी-सी आत्मा कितना काम करती है। बुरे ते बुरा काम है विकार में जाना। आत्मा 84 जन्मों का पार्ट बजाती है। छोटी-सी आत्मा में कितनी ताकत है! सारे विश्व पर राज्य करती है। इन देवताओं की आत्मा में कितनी ताकत है। हर एक धर्म में अपनी-अपनी ताकत होती है ना। क्रिश्चियन धर्म में कितनी ताकत है। आत्मा में ताकत है जो शरीर द्वारा कर्म करती है। आत्मा ही यहाँ आकर इस कर्मक्षेत्र पर कर्म करती है। वहाँ बुरा कर्तव्य होता नहीं। आत्मा विकारी मार्ग में जाती ही तब है जब रावणराज्य होता है। मनुष्य तो कह देते विकार सदैव हैं ही। तुम समझा सकते हो वहाँ रावणराज्य ही नहीं तो विकार हो कैसे सकते। वहाँ है ही योगबल। भारत का राजयोग मशहूर है। बहुत सीखना चाहते हैं परन्तु जब तुम सिखलाओ। और तो कोई सिखला न सके। जैसे महर्षि था, कितनी मेहनत करता था योग सिखलाने के लिए। परन्तु दुनिया थोड़ेही जानती कि यह हठयोगी राजयोग कैसे सिखलायेंगे। चिन्मियानंद के पास कितने जाते हैं, एक बार वह कह दें कि सचमुच भारत का प्राचीन राजयोग सिवाए बी.के. के कोई समझा नहीं सकते हैं तो बस। परन्तु ऐसा कायदा नहीं है, जो अभी यह आवाज़ हो। सब थोड़ेही समझेंगे। बड़ी मेहनत है, महिमा भी होगी पिछाड़ी में, कहते हैं ना – अहो प्रभू, अहो शिवबाबा आपकी लीला। अभी तुम समझते हो तुम्हारे सिवाए बाप को सुप्रीम बाप, सुप्रीम टीचर, सुप्रीम सतगुरू और कोई समझते नहीं। यहाँ भी बहुत हैं, जिनको चलते-चलते माया हैरान कर देती है तो बिल्कुल बेसमझ बन पड़ते हैं। बड़ी मंजिल है। युद्ध का मैदान है, इसमें माया विघ्न बहुत डालती है। वो लोग विनाश के लिए तैयारी कर रहे हैं। तुम यहाँ 5 विकारों को जीतने के लिए पुरूषार्थ कर रहे हो। तुम विजय के लिए, वह विनाश के लिए पुरूषार्थ कर रहे हैं। दोनों काम इकट्ठा होगा ना। अभी टाइम पड़ा है। हमारा राज्य थोड़ेही स्थापन हुआ है। राजायें, प्रजा अभी सब बनने हैं। तुम आधाकल्प के लिए बाप से वर्सा लेते हो। बाकी मोक्ष तो कोई को मिलता नहीं। वह लोग भल कहते हैं फलाने ने मोक्ष को पाया, मरने के बाद उनको थोड़ेही मालूम है कि कहाँ गया। ऐसे ही गपोड़े मारते रहते हैं।

तुम जानते हो जो शरीर छोड़ते हैं वह फिर दूसरा शरीर जरूर लेंगे। मोक्ष पा नहीं सकते। ऐसे नहीं कि बुदबुदा पानी में लीन हो जाता है। बाप कहते हैं – यह शास्त्र आदि सब भक्ति मार्ग की सामग्री है। तुम बच्चे सम्मुख सुनते हो। गर्म-गर्म हलुआ खाते हो। सबसे जास्ती गर्म हलुआ कौन खाते हैं? (ब्रह्मा) यह तो बिल्कुल उनके बाजू में बैठे हैं। झट सुनते हैं और धारण करते हैं फिर यही ऊंच पद पाते हैं। सूक्ष्मवतन में, वैकुण्ठ में इनका ही साक्षात्कार करते हैं। यहाँ भी उनको ही देखते हैं इन आंखों से। बाप पढ़ाते तो सबको हैं। बाकी है याद की मेहनत। याद में रहना जैसे तुमको डिफीकल्ट लगता है, वैसे इनको भी। इसमें कोई कृपा की बात नहीं। बाप कहते हैं हमने लोन लिया है, उनका हिसाब-किताब दे देंगे। बाकी याद का पुरूषार्थ तो इनको भी करना है। समझता भी हूँ – बाजू में बैठा है। बाप को हम याद करते फिर भी भूल जाता हूँ। सबसे जास्ती मेहनत इनको करनी पड़ती है। युद्ध के मैदान में जो महारथी पहलवान होते हैं, जैसे हनूमान का मिसाल है, तो उनकी ही माया ने परीक्षा ली क्योंकि वह महावीर था। जितना जास्ती पहलवान उतना जास्ती माया परीक्षा लेती है। तूफान जास्ती आते हैं। बच्चे लिखते हैं – बाबा हमको यह-यह होता है। बाबा कहते हैं यह तो सब कुछ होगा। बाबा रोज़ समझाते हैं – खबरदार रहना। लिखते हैं – बाबा, माया बहुत तूफान लाती है। कोई-कोई देह-अभिमानी होते हैं तो बाबा को बतलाते नहीं है। तुम अभी बहुत अक्लमंद बनते हो। आत्मा पवित्र होने से फिर शरीर भी पवित्र मिलता है। आत्मा कितना चमत्कारी हो जाती है। पहले तो गरीब ही उठाते हैं। बाप भी गरीब निवाज़ गाया हुआ है। बाकी तो वो लोग देरी से आयेंगे। तुम समझते हो जब तक भाई-बहन नहीं बने हैं तो भाई-भाई कैसे बनेंगे। प्रजापिता ब्रह्मा की सन्तान तो भाई-बहन ठहरे ना। फिर बाप समझाते हैं भाई-भाई समझो। यह है पिछाड़ी का सम्बन्ध फिर ऊपर भी भाइयों से जाकर मिलेंगे। फिर सतयुग में नया सम्बन्ध शुरू होगा। वहाँ पर साला, चाचा, मामा आदि बहुत सम्बन्ध नहीं होते। सम्बन्ध बहुत हल्का होता है। फिर बढ़ता जाता है। अब तो बाप कहते हैं भाई-बहन भी नहीं, भाई-भाई समझना है। नाम-रूप से भी निकल जाना है। बाप भाइयों (आत्माओं) को ही पढ़ाते हैं। प्रजापिता ब्रह्मा है, तब भाई-बहन हैं ना। कृष्ण तो खुद ही बच्चा है। वह कैसे भाई-भाई बनायेंगे। गीता में भी यह बातें नहीं हैं। यह है बिल्कुल न्यारा ज्ञान। ड्रामा में सब नूँध है। एक सेकण्ड का पार्ट न मिले दूसरे सेकण्ड से। कितने मास, कितने घण्टे, कितने दिन पास होने हैं, फिर 5 हज़ार वर्ष के बाद ऐसे ही पास होंगे। कम बुद्धि वाले तो इतनी धारणा कर न सकें इसलिए बाप कहते हैं यह तो बहुत सहज है – अपने को आत्मा समझो, बेहद के बाप को याद करो। पुरानी दुनिया का विनाश भी होना है। बाप कहते हैं मैं आता ही तब हूँ जबकि संगम है। तुम ही देवी-देवता थे। यह जानते हो जब इनका राज्य था तब और कोई धर्म नहीं था। अभी तो इन्हों का राज्य है नहीं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अब पिछाड़ी का समय है, वापस घर चलना है इसलिए अपनी बुद्धि नाम-रूप से निकाल देनी है। हम आत्मा भाई-भाई हैं – यह अभ्यास करना है। देह-अभिमान में नहीं आना है।

2) हर एक की अवस्था और योग में रात-दिन का फर्क है इसलिए अलग-अलग होकर बैठना है। अंग, अंग से न लगे। पुण्य आत्मा बनने के लिए याद की मेहनत करनी है।

वरदान:- याद और सेवा के बैलेन्स द्वारा बाप की मदद का अनुभव करने वाले ब्लैसिंग की पात्र आत्मा भव
जहाँ याद और सेवा का बैलेन्स अर्थात् समानता है वहाँ बाप की विशेष मदद अनुभव होती है। यह मदद ही आशीर्वाद है क्योंकि बापदादा अन्य आत्माओं के मुआफिक आशीर्वाद नहीं देते। बाप तो है ही अशरीरी, तो बापदादा की आशीर्वाद है सहज, स्वत: मदद मिलना जिससे जो असम्भव बात है वह सम्भव हो जाए। यही मदद अर्थात् आशीर्वाद है। ऐसी आशीर्वाद की पात्र आत्मायें हो जो एक कदम में पदमों की कमाई जमा हो जाती है।
स्लोगन:- सकाश देने के लिए अविनाशी सुख, शान्ति वा सच्चे प्यार का स्टाक जमा करो।

TODAY MURLI 13 SEPTEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 13 September 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 12 September 2018 :- Click Here

12/09/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you are sitting in the sacrificial fire of the knowledge of Rudra. You definitely have to listen to whatever Rudra Shiv Baba tells you and relate it to others.
Question: What is the main difference between the sacrificial fire created by the Father and those created by human beings?
Answer: Human beings create sacrificial fires of Rudra for there to be peace, that is, so that destruction is prevented from taking place. However, the Father has created this sacrificial fire of the knowledge of Rudra for the flames of destruction to emerge so that Bharat can become heaven. Through this sacrificial fire of the knowledge of Rudra created by the Father, you become Narayan from an ordinary man, that is, you become deities from human beings. You don’t gain anything from those other sacrificial fires.
Song: My heart desires to call out to You. 

Om shanti. This is such a sweet song! It is so meaningful! Those who have unlimited and broad intellects will be able to understand it very well. Intellects too are numberwise; there are the highest, the middle and the lowest. Those who have elevated intellects can understand the meaning of this song very well. “My heart desires to call out to You”. Who is remembering this? (Children) Which children? There are many children. It is those who were deities and who have now become Brahmins, those who have taken the full 84 births who are the ones who have been calling out a great deal. They are also the ones who built the Shiva Temple, that is, the Temple to Somnath. It proves that we, who were worthy-of-worship deities, have now become worshippers. We truly were worthy of worship and we then became worshippers. So we worshipped Somnath, Shiva. Many create sacrificial fires of Rudra, but no one creates the sacrificial fire of the knowledge of Rudra. They call it a Rudra Yagya. Even now, they are creating a sacrificial fire of Rudra. You can explain to them very clearly who Rudra is. Did Rudra ever create a sacrificial fire? How did He create it, was it successful and what was the result of it? No one knows this. You have now each received a third eye of knowledge. No one, except the Supreme Father, the Supreme Soul, can bestow the third eye of knowledge. The Supreme Father, the Supreme Soul, is remembered as the Ocean of Knowledge. Human beings cannot be called the Ocean of Knowledge. You know that you are now receiving your inheritance from the Grandfather, the One whom you have been remembering and saying: Baba, come and bestow the imperishable jewels of knowledge on us. We will take this donation and then donate it to others. It is very easy. Simply remind them that they have two fathers. On the path of devotion, you have two fathers. In the golden and silver ages, you only have a physical father. The inheritance you receive there is according to the efforts you make here at this time. So, the heads of you children should work on how to go to such places where you can ask them: Who created the sacrificial fire of Rudra? Is it the sacrificial fire of the knowledge of Rudra or the sacrificial fire of Rudra? Its real name is: Sacrificial fire of the knowledge of Rudra. Rudra is incorporeal. How can He create a sacrificial fire? He would definitely have to adopt a body. People also have a sacrificial fire for Daksh Prajapati. They have shown (in the scriptures) Daksh Prajapati sacrificing a horse in the sacrificial fire. They cut a horse into pieces and burn it and they call that a Daksh Prajapati Yagya. It is now that you understand this and so you should write what type of sacrificial fire this is. People hold sacrificial fires with great pomp and splendour. They collect a lot of money. Eminent and wealthy people donate money. Some donate 100 whereas others donate 500. You sacrifice yourselves completely into this sacrificial fire of the knowledge of Rudra. In other yagyas, they accumulate money bit by bit and then brahmin priests are given alms from that. Here, you have to sacrifice yourselves completely. There, there is no question of sacrificing oneself. Here, children say: Baba, I am coming with my mind, body and wealth. No one would say this there. They do not put such offerings into a sacrificial fire. They perform arti (worship ritual with lamps) and they ask for donations. They take from important people. You children understand that the flames of destruction emerged from this sacrificial fire of the knowledge of Rudra. Those people create sacrificial fires for peace, not for destruction. There, they make a great deal of noise for peace. Peace is needed throughout the whole world. The Supreme Soul is the Ocean of Peace. The meaning is explained to you children. When you read newspapers, you should think about how to explain to everyone. The Father knows how the Brahma Kumaris are looking after the shops. Only the jaggery and its bag know which of the Businessman’s shops are running well and which of the managers are good. This Brahma is the bag. These are very entertaining things! Therefore, it is written of the sacrificial fire of the knowledge of Rudra that the flames of destruction emerged from that. People create sacrificial fires for peace. This is the real sacrificial fire. Those brahmins have many patrons whereas you Brahmins only have the one Patron and that is the Father, Rudra. Whether you call Him the Father, Rudra or Shiva or Somnath (Lord of Nectar), it is He who creates this sacrificial fire of the knowledge of Rudra in which you are now sitting. Those sacrificial fires last from two to four days, whereas your sacrificial fire of the knowledge of Rudra is huge and so it takes time. This is the sacrificial fire in which you become Narayan from an ordinary man, that is, you become deities from human beings. Those people would not say this. The Father sits here and explains how you should caution them. Tell the important people that there is a mistake in the sacrificial fires they create. The Supreme Father, the Supreme Soul, comes at the confluence age of every cycle. They have made a mistake in the scriptures and said that He comes in every age. In any case, they say that they create a sacrificial fire of Rudra, whereas it is really the sacrificial fire of the knowledge of Rudra. Shiva’s name is Rudra and He is the One who creates the sacrificial fire of knowledge. Just as Abraham established his Islam religion and Buddha established the Buddhist religion, so, in the same way, Rudra establishes the sacrificial fire of knowledge through which the flames of destruction emerge. In fact, those people create sacrificial fires for peace, that is, they do not want destruction. It is good to destroy hell for the sake of creating heaven. Bharat is the imperishable land. Surely, the human community of Bharat should be very large. There was the original eternal deity religion and that began a whole cycle ago. It is mentioned in the scriptures that there were 330 million deities in Bharat. However, it has to be explained that the population of the deity religion would surely be the largest of all the religions, but many were converted. So, how can they emerge? Many left and became Buddhists, Christians and Muslims etc. This is why the population has decreased. This too is in the drama. You need an unlimited and broad intellect to understand this. Until this knowledge sits in their intellects, what benefit is there in them just surrendering? Many surrender themselves, but only those who imbibe this knowledge well and inspire others to imbibe it very well and who create subjects are able to claim a good status. So, this song, “My heart desires to call out to You”, is accurate. Who were the first ones to take 84 births? The ones who existed at the beginning were actually the deities and they existed in Bharat. Many have now been converted; some went to one place and others to another; some even left Bharat completely. However, there is truly no other pilgrimage place as elevated as Bharat was. God has to come into Bharat and purify everyone, even all the founders of religions, because everyone is now impure and there is only the One who purifies everyone. You know this, but, among you too, the accuracy of your understanding is numberwise. You say that you are sitting in the sacrificial fire of the knowledge of Rudra. Can there be a sacrificial fire like this in which people sit for so long? What do you sit and do? You continue to listen to the knowledge that Rudra explains. As long as Rudra Baba is in this body, He will continue to explain. Surely, Prajapita Brahma would also be here. “The day of Brahma and the night of Brahma”, has been remembered. It cannot be the day and night of the Brahma who resides in the subtle region. He is the deity who resides in the subtle region. The question of day and night applies here. The night of Brahma means the time he is impure and, when he becomes pure. it becomes the day. It is the one Satguru who purifies Brahma. He is the true Baba, the true Teacher and the Satguru – all three combined. Firstly, you are the children of the Father and then, you attain your status from the Teacher. This is numberwise. If you even retained this in your intellects, you would remain very happy. Originally, you belonged to the unlimited Father. You came down here to play your parts. You have been remembering the unlimited Father from the beginning of the path of devotion, because He is the Creator of heaven. Surely, He must be the One who gives us the kingdom of heaven. It is very easy to explain this. Only sensible ones are able to explain. In fact, it is you Brahmins who are sensible. Those among you who are intelligent are also numberwise. The people who are intelligent in the world are numberwise too. Here, those who continue to become more sensible will also definitely claim a good number. Each one of you should ask your own heart: To what extent have I become sensible? Just as Baba speaks the murli here, in the same way, it is possible for you to speak the murli there. You should explain to them that there is the difference of day and night between the sacrificial fire of Rudra and the sacrificial fire of the knowledge of Rudra. When the sacrificial fire of the knowledge of Rudra was created, the flames of destruction emerged and Bharat became heaven, whereas those people create sacrificial fires so that destruction doesn’t take place, so that heaven is not established. That is completely the opposite thing. This is why Baba says: I come to uplift all of those people. I come and create the sacrificial fire of the knowledge of Rudra. Therefore, you make a promise: Baba, whatever we hear from You, we will relate that to others. Achcha, relate it to others, but repeat it here first. Repeat it as often as possible so that you can explain it anywhere. These are first-class points. In other sacrificial fires people offer barley and sesame seeds, whereas the material of the whole of the old world is sacrificed into My sacrificial fire of the knowledge of Rudra. However, not all of these aspects are imbibed very well by the intellects of some. If you do not remember the Father, the lock on your intellect doesn’t open. Baba says: What can I do even? At this time, the intellect of everyone is impure. I come and purify them. Those who do not remember Me are not able to imbibe this knowledge, and so, how would the locks on their intellects open? It is only by having remembrance that they can open. The Father is the most beloved One, and so people praise Him a great deal. There is a great deal of praise of Shiv Baba. Shiva is also worshipped, so He must surely have come, but what could He do without organs? Therefore, I have now entered Brahma. You children are sitting in front of BapDada but, because of body consciousness, you are not able to maintain that much love and regard for the Father; you hardly follow His directions and you become arrogant. The Father says: I am completely egoless. So, why do you have so much arrogance? You think that only you are very clever. You become so body conscious! Now, when someone’s husband dies, the soul leaves and the body is destroyed. Then, that soul is invoked into a brahmin priest. It is not the body that is invoked. They have that feeling of love and devotion and thereby receive the return for it. If a wife continues to remember her husband, she receives a vision of him. It is Baba who grants visions; many have such love. However, it is the soul that comes. When a man is so devoted to his dead wife, he too would receive the return for his devoted feelings; he would see his wife. He would bring something and would adorn her with it himself. Many such things used to take place in the past. Previously, they used to feed the soul with great ceremony. When people remember Ganesh or Nanak etc., they have a vision of them. This can happen to many but only the one Father holds the key to it. The Father says: These things about visions are also fixed in the drama. You are granted visions and the drama continues; it doesn’t wait! You have to understand the drama very well. Ah, you must also have very good regard for Baba. Some find it very difficult to have that much love and regard for the Father; they think that He is incorporeal. When they are told that this one is His chariot, they think: What have I got to do with him? I’m only going to remember the incorporeal One. Achcha, see if you are able to go into the lap of the incorporeal One or eat and drink with the incorporeal One. Why do you come to this one? Then they say: But Baba, You are in this one; we move along believing that You are present in this one. It is difficult for the intellects of some to retain this. There are many who tell lies when they say: I have a great deal of love for Baba. I stay in remembrance of Baba for so many hours. This Baba says: Even I am not able to stay in complete remembrance. I am the only specially loved, long-lost and now-found child, nevertheless, I make a lot of effort. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Along with surrendering yourself, you must also broaden your intellect. In order to claim a high status, imbibe this knowledge very well and inspire others to imbibe it.
  2. Become egoless like the Father. Let go of arrogance and have deep love and regard for the Father. Do not become body conscious.
Blessing: May you be a knowledge-full and sensible soul who accumulates an income of multimillions at every step.
A sensible and knowledge-full soul is one who first considers everything before he acts. Eminent people first have their food checked before they eat it. Similarly, thoughts are food for the intellect and so first of all check them and then put them into practice. By checking your thoughts, your words and deeds automatically become powerful. Where there is power, there is an income. So, become powerful and accumulate an income of multimillions at every step, that is, from every thought, word and deed. This is the qualification of a knowledge-full soul.
Slogan: Only those who fly in the aeroplane of blessings from the Father and everyone are flying yogis.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 13 SEPTEMBER 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 13 September 2018

To Read Murli 12 September 2018 :- Click Here
12-09-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – तुम रूद्र ज्ञान यज्ञ में बैठे हो, रूद्र शिवबाबा तुम्हें जो सुनाते हैं वह सुनकर दूसरों को जरूर सुनाना है”
प्रश्नः- बाप ने भी यज्ञ रचा है और मनुष्य भी यज्ञ रचते हैं – दोनों में कौन सा मुख्य अन्तर है?
उत्तर:- मनुष्य रूद्र यज्ञ रचते हैं कि शान्ति हो अर्थात् विनाश न हो लेकिन बाप ने रूद्र यज्ञ रचा है कि इस यज्ञ से विनाश ज्वाला निकले और भारत स्वर्ग बनें। बाप के इस रूद्र ज्ञान यज्ञ से तुम नर से नारायण अर्थात् मनुष्य से देवता बन जाते हो। उस यज्ञ से तो कोई भी प्राप्ति नहीं होती है।
गीत:- तुम्हारे बुलाने को जी चाहता है…… 

ओम् शान्ति। यह कितना मीठा गीत है और कितना अर्थ सहित है, जो विशाल बुद्धि वाले होंगे वह अच्छी रीति समझ सकेंगे। बुद्धि भी नम्बरवार है ना। उत्तम-मध्यम-कनिष्ट होते हैं। उत्तम बुद्धि वाले इसका अर्थ अच्छी रीति समझ सकते हैं। तुम्हारे बुलाने को जी चाहता है, यह कौन याद करते हैं? (बच्चे) कौन से बच्चे? बच्चे तो ढेर हैं। जो ब्राह्मण बने हैं, जो देवता थे, जिन्होंने ही पूरे 84 जन्म लिए हैं उन्होंने ही जास्ती बुलाया है। वही शिव अथवा सोमनाथ के मन्दिर की स्थापना करते हैं। सिद्ध होता है हम जो पूज्य देवी-देवता थे, अभी पुजारी बने हैं। बरोबर हम पूज्य थे फिर पुजारी बने तो सोमनाथ शिव की पूजा करते हैं। रूद्र यज्ञ बहुत रचते हैं, रूद्र ज्ञान यज्ञ कभी नहीं रचते। रूद्र यज्ञ नाम रखते हैं। अभी भी रूद्र यज्ञ रच रहे हैं। तुम बहुत अच्छा समझा सकते हो – रूद्र कौन है? क्या रूद्र ने कभी यज्ञ रचा था? कैसे रचा फिर क्या उसकी सिद्धि हुई? यह तो कोई नहीं जानते। तुमको अभी ज्ञान का तीसरा नेत्र मिला है। परमपिता परमात्मा के सिवाए ज्ञान का तीसरा नेत्र कोई दे नहीं सकता। ज्ञान सागर परमपिता परमात्मा को ही गाया जाता है। मनुष्य को ज्ञान सागर नहीं कह सकते। अभी तुम जानते हो हमको दादे का वर्सा मिल रहा है जिसको ही याद करते हैं कि बाबा आकर अविनाशी ज्ञान रत्नों का दान करो। फिर हम भी दान लेकर औरों को करेंगे। बहुत सहज है। सिर्फ याद दिलायेंगे कि तुम्हारे दो बाप हैं। भक्ति मार्ग में दो बाप हो जाते हैं। सतयुग-त्रेता में लौकिक बाप ही होता है। वहाँ वर्सा भी तुम इस समय के पुरुषार्थ अनुसार पाते हो। तो तुम बच्चों का माथा फिरना चाहिए। ऐसी-ऐसी जगह जाकर पूछना चाहिए कि रूद्र यज्ञ किसने रचा था? क्या रूद्र ज्ञान यज्ञ है या रूद्र यज्ञ है? असुल नाम है रूद्र ज्ञान यज्ञ। रूद्र तो है निराकार। वह कैसे यज्ञ रचेगा? जरूर शरीर धारण करना पड़े। दक्ष प्रजापति का यज्ञ भी मनाते आते हैं। दिखाते हैं दक्ष प्रजापति यज्ञ में अश्व को स्वाहा करते हैं। घोड़े को टुकड़े-टुकड़े कर जलाते हैं। उनको दक्ष प्रजापति यज्ञ कहते हैं। यह तुम अभी जानते हो तो वहाँ लिखना चाहिए यह कौन सा यज्ञ है? बड़ा भभके से यज्ञ करते हैं। बहुत पैसे इकट्ठे करते हैं। बड़े-बड़े आदमी दान करते हैं। कोई 100 निकालते, कोई 500 निकालते। इस रूद्र ज्ञान यज्ञ में तो तुम सारे स्वाहा होते हो। उसमें तो थोड़ा-थोड़ा पैसा निकाल इकट्ठा करते हैं फिर ब्राह्मण को दक्षिणा मिलती है। यहाँ तो तुमको स्वाहा होना पड़ता है। वहाँ स्वाहा होने की बात नहीं। यहाँ बच्चे कहते हैं बाबा तन-मन-धन सहित मैं आता हूँ, वहाँ ऐसे नहीं कहेंगे। आहुति में कभी ऐसे नहीं डालेंगे। आरती आदि होगी, चंदा चीरा होगा। बड़ों-बड़ों से लेते हैं। तुम बच्चे जानते हो इस रूद्र ज्ञान यज्ञ से ही विनाश ज्वाला प्रज्जवलित हुई है। वह यज्ञ रचते हैं शान्ति के लिए, विनाश के लिए नहीं। वहाँ शान्ति का बड़ा आवाज़ करते हैं। शान्ति तो सारी दुनिया में चाहिए ना। परमात्मा है शान्ति का सागर। तुम बच्चों को अर्थ समझाया जाता है। अ़खबार पढ़ते हो तो ख्याल चलना चाहिए – कैसे हम सबको समझायें?

बाप जानते हैं कैसे बी.के. दुकान सम्भाल रहे हैं। सेठ का कौन सा दुकान अच्छा चलता है, कौन सा मैनेजर अच्छा है, वह तो गुड़ जाने गुड़ की गोथरी जाने। यह ब्रह्मा है गोथरी। यह बड़ी रमणीक बातें हैं। तो रूद्र ज्ञान यज्ञ के लिए तो लिखा हुआ है इससे विनाश ज्वाला निकली। वह यज्ञ करते हैं शान्ति के लिए। यह है सच्चा-सच्चा यज्ञ। उन ब्राह्मणों के तो अनेक सेठ होते हैं। यह तुम ब्राह्मणों का एक ही सेठ है। बाप है रूद्र। रूद्र बाप कहो, शिव कहो, सोमनाथ कहो, उसने ज्ञान यज्ञ रचा है, जिसमें तुम बैठे हो। वह यज्ञ तो दो-चार दिन चलेगा। तुम्हारा यह रूद्र ज्ञान यज्ञ तो बहुत बड़ा है। उसमें टाइम लगता है। यह है नर से नारायण अथवा मनुष्य से देवता बनने का यज्ञ। वह तो ऐसे नहीं कहेंगे। बाप बैठ समझाते हैं कैसे उन्हों को सावधान करो। बड़ों-बड़ों को बोलो – यह तुम जो यज्ञ रचते हो, उसमें भूल है। परमपिता परमात्मा कल्प-कल्प संगम पर आते हैं। शास्त्रों में युगे-युगे लिख दिया है। यह भूल कर दी है। वैसे ही रूद्र यज्ञ रचते हैं। वास्तव में रूद्र ज्ञान यज्ञ है। शिव का नाम है रूद्र, उसने ही ज्ञान यज्ञ रचा है। जैसे इब्राहम ने अपना इस्लाम धर्म स्थापन किया, बुद्ध ने बौद्धी धर्म स्थापन किया, वैसे रूद्र का है ज्ञान यज्ञ जिससे विनाश ज्वाला प्रज्जवलित होगी। तो गोया वो लोग शान्ति के लिए यज्ञ रचते हैं अर्थात् विनाश नहीं चाहते। स्वर्ग की स्थापना के लिए नर्क का विनाश हो, तो अच्छा ही है ना।

भारत है अविनाशी खण्ड। जरूर भारत के मनुष्य सम्प्रदाय बहुत ज्यादा होने चाहिए। आदि सनातन देवी-देवता धर्म था। उनको सारा कल्प हुआ है। शास्त्रों में 33 करोड़ लिख दिया है। परन्तु यह तो समझाना चाहिए – जरूर और धर्म वालों से देवता धर्म की आदमशुमारी जास्ती होगी, लेकिन वह कनवर्ट हो गये हैं तो कैसे निकलें। बौद्धी, क्रिश्चियन, मुसलमान आदि जाकर ढेर बने हैं, इसलिए थोड़ी संख्या हो जाती है। यह भी ड्रामा। इसमें समझने की बड़ी विशाल बुद्धि चाहिए। जब तक बुद्धि में ज्ञान नहीं बैठा है तो सिर्फ अर्पणमय होने से क्या फायदा? अर्पणमय तो ढेर बनते हैं परन्तु जो अच्छी रीति धारणा कर और कराते हैं, प्रजा बनाते हैं वही अच्छा पद पा सकते हैं।

तो यह गीत एक्यूरेट है – बुलाने को जी चाहता है…….। सबसे पहले 84 जन्म किसने लिए होंगे? जो पहले-पहले थे, वह थे ही देवी-देवतायें। सो भी भारत में थे। अभी तो कोई कहाँ, कोई कहाँ कनवर्ट हो गये हैं। कई तो भारत से बाहर चले गये हैं। नहीं तो वास्तव में भारत जैसा बड़े ते बड़ा तीर्थ और कोई है नहीं। और सभी धर्म स्थापक जो हैं उन्हों को भी पावन बनाने के लिए भगवान् को भारत में आना पड़ता है क्योंकि सब पतित हैं, सबको पावन बनाने वाला एक है। यह तुम जानते हो। तुम्हारे में भी नम्बरवार यथार्थ रीति जान सकते हैं। तुम कहेंगे हम रूद्र ज्ञान यज्ञ में बैठे हैं, ऐसा कोई यज्ञ होता है क्या, जिसमें इतना समय बैठे हों? क्या बैठ करते हो? रूद्र जो ज्ञान सुनाते हैं वह सुनते ही रहते हो। जहाँ तक रूद्र बाबा इस शरीर में है, सुनाते ही रहेंगे। प्रजापिता ब्रह्मा भी तो जरूर यहाँ होगा ना। ब्रह्मा का दिन और ब्रह्मा की रात गाई हुई है। सूक्ष्मवतनवासी ब्रह्मा का थोड़ेही दिन और रात बनायेंगे। वह तो सूक्ष्मवतनवासी देवता है। दिन और रात का प्रश्न यहाँ का है। ब्रह्मा की रात माना पतित। फिर वही पावन बनते हैं तो दिन होता है। ब्रह्मा को भी पावन बनाने वाला वह एक सतगुरू है। सत बाबा, सत टीचर, सतगुरू तीनों इकट्ठे हैं। पहले जरूर बाप के बच्चे होंगे फिर पद टीचर से पायेंगे। नम्बरवार हैं ना। यह भी बुद्धि में रहे तो कितनी खुशी रहे। तुम पहले बेहद के बाप के थे ना। यहाँ आये हो पार्ट बजाने। भक्ति मार्ग में बेहद के बाप को याद करते आये हो क्योंकि वह है स्वर्ग का रचयिता। जरूर स्वर्ग की राजाई देने वाला होगा। यह समझाना तो बड़ा सहज है। सेन्सीबुल ही समझा सकेंगे। वास्तव में सेन्सीबुल तुम ब्राह्मण हो। तुम्हारे में जो अक्लमंद हैं, उनमें भी नम्बरवार हैं। दुनिया के अक्लमंद भी नम्बरवार हैं ना। यहाँ भी जो सेन्सीबुल बनते जायेंगे वह जरूर अच्छा नम्बर पायेंगे। हर एक अपनी दिल से पूछे हम कहाँ तक सेन्सीबुल बना हूँ? जैसे बाबा मुरली चलाते हैं वैसे वहाँ भी तुम्हारी मुरली चल सकती है। तुम उन्हें समझाओ कि रूद्र यज्ञ और रूद्र ज्ञान यज्ञ में रात-दिन का फ़र्क है। रूद्र ज्ञान यज्ञ रचा तो उससे विनाश ज्वाला निकली, भारत स्वर्ग बना और यह फिर यज्ञ रचते हैं विनाश न हो अर्थात् स्वर्ग स्थापन न हो। यह तो उल्टी बात हो गई। तब तो बाबा कहते हैं मैं इन सबका उद्धार करने आता हूँ। रूद्र ज्ञान यज्ञ रचता हूँ। तो तुम प्रतिज्ञा करते हो – बाबा, हम आपसे सुनकर और सुनायेंगे। अच्छा, औरों को सुनाओ। पहले यहाँ तो रिपीट करो। घड़ी-घड़ी रिपीट करो जो फिर कहाँ समझा सको। फर्स्टक्लास प्वाइंट है। उस यज्ञ में तो जौ-तिल आदि डालते हैं, मेरे रूद्र ज्ञान यज्ञ में तो सारी पुरानी दुनिया की सामग्री स्वाहा हुई थी। परन्तु यह सब बातें कोई की बुद्धि में अच्छी रीति धारण नहीं होती। बाप को याद नहीं करते हैं तो बुद्धि का ताला नहीं खुलता। बाबा कहते हैं – हम भी क्या करें? इस समय सबकी बुद्धि पतित है, उनको पावन बनाता हूँ। जो मेरे को याद नहीं करते, उनमें धारणा नहीं हो सकती। बुद्धि का ताला कैसे खुले? याद से ही खुलेगा। मोस्ट बिलवेड बाप है, उनकी बड़ी महिमा करते हैं। शिवबाबा की कितनी महिमा है! शिव की पूजा भी होती है, तो जरूर आता होगा ना। बिगर आरगन्स क्या आकर करेंगे? तो अब ब्रह्मा में आया हुआ हूँ। तुम बच्चे बापदादा के सामने बैठे हुए हो परन्तु देह-अभिमान होने कारण इतना लॅव, बाप के लिए रिगार्ड नहीं रहता। डायरेक्शन पर मुश्किल चलते हैं। अहंकार में आ जाते हैं। बाप कहते हैं – मैं निरहंकारी हूँ, तुमको इतना अहंकार क्यों आता है? बस, समझते हैं मैं ही होशियार हूँ। इतना देह-अभिमान आ जाता है।

अब कोई का पति मर जाता है तो उसकी देह ख़त्म हो गई। बाकी आत्मा निकल गई फिर ब्राह्मण में आत्मा को बुलाते हैं। देह को तो नहीं बुलाते। भावना रखते हैं तो भावना का भाड़ा मिलता है। पति को याद करते रहे तो पति का साक्षात्कार कर लेंगे। बाबा साक्षात्कार तो कराते हैं ना। ऐसे बहुतों का प्यार होता है। आयेगी तो आत्मा ना। कोई का स्त्री में प्यार है तो भावना का भाड़ा मिल जाता है। स्त्री को देख लेते हैं। चीज़ ले आते हैं, खुद उनको पहनाते हैं। ऐसे बहुत कुछ होता आया है। आगे बहुत विधि से खिलाते थे। जैसे गणेश को अथवा नानक आदि को याद करते हैं तो साक्षात्कार हो जाता है, ऐसे बहुतों को हो सकता है। परन्तु वह चाबी एक ही बाप के हाथ में है। बाप कहते हैं यह साक्षात्कार की बातें भी ड्रामा में नूंधी हुई हैं। साक्षात्कार कराया, ड्रामा चला, ठहरता नहीं है। ड्रामा को भी अच्छी रीति जानना होता है। अरे, बाबा का तो अच्छी रीति रिगार्ड रखो। बाप में इतना रिगार्ड प्यार रखना बड़ा मुश्किल समझते हैं, समझते हैं वह तो निराकार है। कहते हैं यह तो उनका रथ है, इनको हम क्या करेंगे? हम तो निराकार को ही याद करेंगे। अच्छा, निराकार की गोद में जाकर दिखाओ? निराकार साथ खाओ, पियो। तुम इनके पास क्यों आते हो? कहते हैं – नहीं बाबा, आप इसमें हो, आपको ही इसमें विराजमान समझ चलते हैं। यह बड़ा मुश्किल किसकी बुद्धि में रहता है। ऐसे बहुत हैं जो गपोड़े लगाते हैं – हमारा बाबा में बहुत प्यार है, हम इतने घण्टे बाबा को याद करते हैं। बाबा कहते हैं मैं भी पूरा याद नहीं करता हूँ। मैं तो एक ही सिकीलधा बच्चा हूँ फिर भी मैं पुरुषार्थ बहुत करता हूँ। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अर्पण होने के साथ-साथ अपनी बुद्धि को विशाल बनाना है। ऊंच पद के लिए अच्छी रीति धारणा करनी और करानी है।

2) बाप समान निरहंकारी बनना है। अहंकार छोड़ बाप से अति लॅव वा रिगार्ड रखना है। देह-अभिमान में नहीं आना है।

वरदान:- हर कदम में पदमों की कमाई जमा करने वाले समझदार ज्ञानी तू आत्मा भव
समझदार ज्ञानी तू आत्मा वह है जो पहले सोचता है फिर करता है। जैसे बड़े आदमी पहले भोजन को चेक कराते हैं फिर खाते हैं। तो यह संकल्प बुद्धि का भोजन है इसे पहले चेक करो फिर कर्म में लाओ। संकल्प को चेक कर लेने से वाणी और कर्म स्वत: समर्थ हो जायेंगे। और जहाँ समर्थ है वहाँ कमाई है। तो समर्थ बन हर कदम अर्थात् संकल्प, बोल और कर्म में पदमों की कमाई जमा करो, यही ज्ञानी तू आत्मा का लक्षण है।
स्लोगन:- बाप और सर्व की दुआओं के विमान में उड़ने वाले ही उड़ता योगी हैं।
Font Resize