daily murli 13 November

TODAY MURLI 13 NOVEMBER 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 13 November 2020

13/11/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, this is a game of a maze. You repeatedly forget the Father. Let your intellects have faith and you will not get trapped in this game.
Question: While seeing the time of settlement, what is the duty of you children?
Answer: Your duty is to keep very busy with this study and not to get involved in other matters. The Father will seat you in His eyes, make you into a garland around His neck and take you back with Him. Everyone has to settle their accounts and return home. The Father has come to take everyone back home with Him.
Song: The Resident of the faraway land has come to the foreign land.

Om shanti. The spiritual Father sits here and explains to you spiritual children that everyone in the world in general and Bharat in particular wants peace in the world. Let it be understood that only the Master of the World establishes peace in the world. One should only call out to God, the Father to spread peace in the world. However, the poor people don’t even know who it is they should be calling out to. This refers to the whole world, they want peace in the whole world. The land of peace, where you souls and the Father reside, is separate. Only the unlimited Father explains this. There are now innumerable human beings and religions in this world. They say: If there were one religion, there would be peace. However, the religions can’t all be united. There is the praise of the Trimurti. Many also keep a picture of the Trimurti. You know that establishment takes place through Brahma. Establishment of what? It wouldn’t just be of peace. There is establishment of peace and happiness. Five thousand years ago in Bharat, when it was their kingdom, all the other human beings had shed their bodies and gone home. Now they want one religion, one kingdom and one language. You children understand that the Father is now establishing peace, happiness and prosperity. The one kingdom will definitely exist here. Establishment of the one kingdom is taking place; this is nothing new. That one kingdom has been established many times before. As the number of religions expands, the tree continues to grow and the Father then has to come. It is souls that listen and study; the sanskars are in souls. I, a soul, adopt different bodies. It takes you children a lot of effort for your intellects to develop even this faith. You say: Baba, we forget this again and again. The Father explains: This is a game of a maze. It is as though you have become trapped in this. You don’t know how you can go back home or to your kingdom. The Father has now explained it to you, but you previously didn’t know anything. The intellects of souls have become like stone. Stone intellects and divine intellects are remembered in Bharat. It is here that kings with stone intellects and kings with divine intellects exist. There is also the temple to the Lord of Divinity. You souls now understand where you came from to play your parts. Previously, you didn’t know anything. This world is called a forest of thorns. The whole world is a forest of thorns. You have never heard of fire breaking out in a garden of flowers. It is always a forest that catches fire. This too is a forest; it is definitely going to be set ablaze. The haystack is going to be set ablaze. This whole world is called a haystack. You children now know the Father and you are sitting personally in front of Him. You used to sing: ‘I will only sit with You…’ All of that is now taking place. You are definitely studying the versions of God. God only speaks to you children. You know that God is teaching you. Who is God? Incorporeal Shiva is called God. God Shiva is worshipped here. Worshipping doesn’t take place in the golden age. They don’t even remember Him there. Devotees receive the kingdom of the golden age as the fruit of their devotion. You understand that you have performed the most devotion and this is why you are the first ones to have come to the Father. You will then go to the kingdom. You children have to make full effort to claim a high status in the new world. You children desire to go to the new home quickly. Only at the beginning is a home new; it then continues to grow older. The number of children in a home continues to grow. Children and grandchildren etc. will be in an old home. They would say: This home belongs to our grandfather or great grandfather. There are many who will come later. The more intense the efforts you make, the earlier you will go to the new home. The Father explains very easy ways that you can make effort. They also make effort in devotion. The names of those who do a lot of devotion are glorified; they even have stamps made of some devotees. No one knows about the rosary of knowledge. First there is knowledge and then there is devotion. It is now in the intellects of you children that there is knowledge for half the time, which means for the golden and silver ages. You children are now becoming knowledge-full. A teacher always has full knowledgeStudents receive marks, numberwise. That One is the unlimited Teacher. You are unlimited students. You students will pass, numberwise, just as you passed in the previous cycle. The Father explains that you are the ones who have taken 84 births. Over 84 births you have had 84 teachers. You definitely have to take rebirth. At first, the world is definitely satopradhan and it then becomes old and tamopradhan. Human beings also become tamopradhan. At first, the tree is new and satopradhan. New leaves are very good. This is an unlimited tree. There are many religions. Your intellects now have to go into the unlimited. The tree is so big! First of all, there is the original, eternal, deity religion, and then the variety of religions come. You have taken a variety of 84 births. That too is imperishable. You know that you go around the cycle of 84 births every cycle. You alone are the ones who go around the cycle of 84 births. No human soul takes 8.4 million births. There are many varieties of animal etc. No one could even count them. The human soul takes 84 births. You have now become completely tired from playing your parts. You have become unhappy. While coming down the ladder, you have become tamopradhan from satopradhan. From tamopradhan the Father makes you satopradhan again. The Father says: I come into the tamopradhan world and into a tamopradhan body. The whole world is now tamopradhan. Human beings ask how there can be peace in the whole world. They don’t know when there was peace in the world. The Father says: You have the pictures in your home, do you not? There was peace in the whole world when it was their kingdom. That is called heaven. The new world is called heaven, the golden age. This old world now has to change. The kingdom is being established. It was only their kingdom in the whole world. Many people go to the Lakshmi and Narayan Temple. It doesn’t enter their intellects that they were the masters of this Bharat, that there really was peace and happiness in their kingdom. It is a matter of 5000 years ago when their kingdom existed. After half the cycle, the world is said to be old. Businessmen have a swastika on their account books. That too has a meaning. They simply call it Ganesh. They consider Ganesh to be a deity, the destroyer of obstacles. The swastika has four equal parts. All of that is the path of devotion. People celebrate Deepawali (festival of lights). In fact, the true Diwali is the pilgrimage of remembrance through which the lights of you souls are ignited for 21 births. You earn a great income. You children should have a great deal of happiness. This is your new account for the new world. You now have to accumulate an income for 21 births. The Father is explaining this to you children. Are you listening now while considering yourselves to be souls? If you listen while considering yourselves to be souls, you experience happiness. The Father is teaching us! These are the versions of God! God is only one. He definitely comes and takes a body, because only then can there be the versions of God. No one knows this and that is why people have been saying “Neti, neti” (neither this nor that). They say that He is the Supreme Father, the Supreme soul. Then they say that they do not know Him. They call Shiva “Baba” and they also call Brahma “Baba.” They never call Vishnu “Baba.” Prajapita is also Baba. You are BKs. When you don’t use the title “Prajapita” they don’t understand. There are so many BKs, and so there must also surely be Prajapita. This is why you must definitely write the word “Prajapita”. Then they will understand that Prajapita is their father. The new world is definitely created through Prajapita. We souls are first brothers. Then, when we adopt bodies, we become brothers and sisters. The children of the Father are imperishable souls. Then, in the corporeal form, we are brothers and sisters. This is why there is the name Prajapita Brahma. However, we do not remember Brahma. Only worldly fathers and the Father from beyond the world are remembered. No one remembers Prajapita Brahma. At a time of sorrow people remember the Father, not Brahma. They say: Oh God! They never say: Oh Brahma! At a time of happiness they don’t remember anyone. There, there is nothing but happiness. No one knows this. You know that you have three fathers at this time. On the path of devotion they remember their worldly fathers and the Father from beyond. In the golden age they only remember their worldly fathers. At the confluence age, you remember all three fathers. You too have worldly fathers but you understand that they are limited fathers. You receive limited inheritances from them. We have now found the unlimited Father from whom we receive the unlimited inheritance. This is something to be understood. The unlimited Father has now entered the body of Brahma in order to give you children unlimited happiness. By belonging to Him you receive an unlimited inheritance. This is like receiving your Grandfather’s inheritance through Brahma. He says: I give you your inheritance. I teach you. I have knowledge. Neither human beings nor deities have knowledge. I give the knowledge that I have in Me to you children. This is spiritual knowledge. You know that you receive a status from the spiritual Father. Churn the ocean of knowledge in this way. It is remembered: “Those who conquer their minds conquer everything, whereas those who are defeated by their minds are defeated by everything.” In fact, “Those who conquer Maya…” should be said, because the mind cannot be conquered. Human beings ask: How can there be peace of mind? The Father asks: How can a soul say that he wants peace of mind? Souls are themselves residents of the land of peace. It is when a soul enters a body that he begins to act. The Father says: Now stabilise yourself in your original religion. Consider yourselves to be souls. The original religion of the soul is peace. Where else would you find peace? The example of the queen’s necklace is based on this. Sannyasis give this example and then they themselves go into a forest to seek peace. The Father says: The religion of you souls is peace. The land of peace, from where you came to play your parts, is your home. You have to act through bodies. When you become detached from your body, there is dead silence. A soul takes another body, and so why should you worry about anything? That soul is not going to come back again. However, attachment harasses you. There, attachment will not harass you. The five vices don’t exist there. There is no kingdom of Ravan there. That is the kingdom of Rama. If it were always the kingdom of Ravan, people would become tired. They would never be able to experience happiness. You have now become theists. You are also trikaldarshi. Human beings don’t know the Father and this is why they are called atheists. You children now understand that the scriptures from the past all belong to the path of devotion. You are now on the path of knowledge. The Father seats you in His eyes and takes you back home with Him with so much love. He says: I make you all into the garland around My neck and take you back. Everyone calls out to Him. He makes those who have become ugly by sitting on the pyre of lust sit on the pyre of knowledge. He makes them settle their accounts and takes them back home. Your duty now is to study. Why should you become involved in other matters? “How will people die? What will happen?” Why should you become involved in any of that? This is the time of settlement. Everyone will settle their accounts and return home. You children have the secret of this unlimited drama in your intellects; no one else has this. You children know that you come to Baba every cycle to claim your unlimited inheritance. We are living beings. The Father has come and entered a body. The Father says: I enter an ordinary body; I sit here and explain to him that he doesn’t know his own births. No one else can say: Children, become soul conscious and remember the Father! Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Stay on the pilgrimage of remembrance and celebrate the true Deepawali every day. You have to accumulate an income for 21 births in your new account.
  2. Keep the secret of the drama in your intellect and don’t become involved in anything other than this study. Settle all your karmic accounts.
Blessing: May you be a true server who ignites many other lamps with the flame of love from the one lamp.
On Deepawali, many lamps are ignited from one lamp and Deepmala (garland of lights) is then celebrated. There is a flame in a deepak (lamp). In the same way, you deepaks have the flame of love. When the love of each of the deepaks is connected to the one Deepak, it is then true Deepmala. So, you have to see that you deepaks become the form of a flame with your deep love. Those who dispel the darkness of ignorance with their own light are true servers.
Slogan: Always make the one lesson of “One strength and one faith” firm and you will easily be able to come away from any whirlpool (dilemma).

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 13 NOVEMBER 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 13 November 2020

Murli Pdf for Print : – 

13-11-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – यह भूल-भुलैया का खेल है, तुम घड़ी-घड़ी बाप को भूल जाते हो, निश्चयबुद्धि बनो तो इस खेल में फसेंगे नहीं”
प्रश्नः- कयामत के समय को देखते हुए तुम बच्चों का कर्तव्य क्या है?
उत्तर:- तुम्हारा कर्तव्य है – अपनी पढ़ाई में अच्छी रीति लग जाना, और बातों में नहीं जाना है। बाप तुम्हें नयनों पर बिठाकर, गले का हार बनाकर साथ ले जायेंगे। बाकी तो सबको अपना-अपना हिसाब-किताब चुक्तू करके जाना ही है। बाप आये हैं सबको अपने साथ घर ले जाने।
गीत:- दूर देश का रहने वाला……..

ओम् शान्ति। रूहानी बाप रूहानी बच्चों को बैठ समझाते हैं – भारत खास और दुनिया आम सब विश्व में शान्ति चाहते हैं। अब यह तो समझना चाहिए – जरूर विश्व का मालिक ही विश्व में शान्ति स्थापन करते हैं। गॉड फादर को ही पुकारना चाहिए कि आकर विश्व में शान्ति फैलाओ। किसको पुकारें वह भी बिचारों को पता नहीं है। सारे विश्व की बात है ना। सारे विश्व में शान्ति चाहते हैं। अब शान्ति का धाम तो अलग है, जहाँ बाप और आप आत्मायें रहती हो। यह भी बेहद का बाप ही समझाते हैं। अब इस दुनिया में तो ढेर के ढेर मनुष्य हैं, अनेक धर्म हैं। कहते हैं – एक धर्म हो जाए तो शान्ति हो। सब धर्म मिलकर एक तो हो नहीं सकते। त्रिमूर्ति की महिमा भी है। त्रिमूर्ति के चित्र बहुत रखते हैं। यह भी जानते हैं ब्रह्मा द्वारा स्थापना। किसकी? सिर्फ शान्ति की थोड़ेही होगी। शान्ति और सुख की स्थापना होती है। इस भारत में ही 5 हज़ार वर्ष पहले जब इनका राज्य था तो जरूर बाकी सब जीव आत्मायें, जीव को छोड़ अपने घर गई होंगी। अब चाहते हैं एक धर्म, एक राज्य, एक भाषा। अब तुम बच्चे जानते हो – बाप शान्ति, सुख, सम्पत्ति की स्थापना कर रहे हैं। एक राज्य भी जरूर यहाँ ही होगा ना। एक राज्य की स्थापना हो रही है – यह कोई नई बात नहीं। अनेक बार एक राज्य स्थापन हुआ है। फिर अनेक धर्मों की वृद्धि होते-होते झाड़ बड़ा हो जाता है फिर बाप को आना पड़ता है। आत्मा ही सुनती है, पढ़ती है, आत्मा में ही संस्कार हैं। हम आत्मा भिन्न-भिन्न शरीर धारण करती हैं। बच्चों को इस निश्चय बुद्धि होने में भी बड़ी मेहनत लगती है। कहते हैं बाबा घड़ी-घड़ी भूल जाते हैं। बाप समझाते हैं – यह खेल भूल-भुलैया का है। इसमें तुम जैसे फँस गये हो, पता नहीं है हम अपने घर अथवा राजधानी में कैसे जायेंगे। अब बाप ने समझाया है आगे कुछ नहीं जानते थे। आत्मा कितनी पत्थरबुद्धि बन जाती है। पत्थरबुद्धि और पारसबुद्धि का भारत में ही गायन है। पत्थरबुद्धि राजायें और पारसबुद्धि राजायें यहाँ ही हैं। पारसनाथ का मन्दिर भी है। अभी तुम जानते हो हम आत्मायें कहाँ से आई हैं पार्ट बजाने। आगे तो कुछ भी नहीं जानते थे। इनको कहते हैं कांटों का जंगल। यह सारी दुनिया कांटों का जंगल हैं। फूलों के बगीचे को आग लगी, ऐसा कभी सुना नहीं होगा। हमेशा जंगल को आग लगती है। यह भी जंगल है, इनको आग लगनी है जरूर। भंभोर को आग लगनी है। इस सारी दुनिया को ही भंभोर कहा जाता है। अभी तुम बच्चों ने बाप को जान लिया है। सम्मुख बैठे हो। जो गाते थे तुम्हीं से बैठूँ…..। वह सब कुछ हो रहा है। भगवानुवाच तो जरूर पढ़ेंगे ना। भगवानुवाच बच्चों प्रति ही होगा ना। तुम जानते हो भगवान पढ़ाते हैं। भगवान कौन है? निराकार शिव को ही कहेंगे। भगवान शिव की पूजा भी यहाँ होती है। सतयुग में पूजा आदि नहीं होती। याद भी नहीं करते। भक्तों को सतयुग की राजधानी का फल मिलता है। तुम समझते हो हमने सबसे जास्ती भक्ति की है इसलिए हम ही पहले-पहले बाप के पास आये हैं। फिर हम ही राजधानी में आयेंगे। तो बच्चों को पूरा पुरुषार्थ करना चाहिए – नई दुनिया में ऊंच पद पाने। बच्चों की दिल होती है अब हम जल्दी नये घर में जायें। शुरू में ही नया घर होगा फिर पुराना होता जायेगा। घर में बच्चों की वृद्धि होती जायेगी। पुत्र, पोत्रे, पर-पोत्रे वह तो पुराने घर में आयेंगे ना। कहेंगे हमारे दादा, परदादा का यह मकान है। पीछे आने वाले भी बहुत होते हैं ना। जितना जोर से पुरूषार्थ करेंगे तो पहले नये घर में आयेंगे। पुरुषार्थ की युक्ति बाप बहुत सहज समझाते हैं। भक्ति में भी पुरुषार्थ करते हैं ना। बहुत भक्ति करने वालों का नाम बाला होता है। कई भक्तों की स्टैम्प भी निकालते हैं। ज्ञान की माला का तो कोई को पता नहीं है। पहले है ज्ञान, पीछे है भक्ति। यह तुम बच्चों की बुद्धि में है। आधा समय है ज्ञान – सतयुग-त्रेता। अभी तुम बच्चे नॉलेजफुल बनते जाते हो। टीचर सदैव फुल नॉलेज वाले होते हैं। स्टूडेन्ट में नम्बरवार मार्क्स उठाते हैं। यह है बेहद का टीचर। तुम हो बेहद के स्टूडेन्ट, स्टूडेन्ट तो नम्बरवार ही पास होंगे। जैसे कल्प पहले हुए हैं। बाप समझाते हैं तुमने ही 84 जन्म लिए हैं। 84 जन्मों में 84 टीचर होते हैं। पुनर्जन्म तो जरूर लेना ही है। पहले जरूर सतोप्रधान दुनिया होती है फिर पुरानी तमोप्रधान दुनिया होती है। मनुष्य भी तमोप्रधान होंगे ना। झाड़ भी पहले नया सतोप्रधान होता है। नये पत्ते बहुत अच्छे-अच्छे होते हैं। यह तो बेहद का झाड़ है। ढेर धर्म हैं। तुम्हारी बुद्धि अब बेहद तरफ जायेगी। कितना बड़ा झाड़ है। पहले-पहले आदि सनातन देवी-देवता धर्म ही होगा। फिर वैरायटी धर्म आयेंगे। तुमने ही 84 वैरायटी जन्म लिए हैं। वह भी अविनाशी हैं। तुम जानते हो कल्प-कल्प 84 का चक्र हम फिरते रहते हैं। 84 के चक्र में हम ही आते हैं। 84 लाख जन्म कोई मनुष्य की आत्मा नहीं लेती है। वह तो वैरायटी जानवर आदि ढेर हैं। उनकी कोई गिनती भी नहीं कर सकते। मनुष्य की आत्मा ने 84 जन्म लिए हैं। तो यह पार्ट बजाते-बजाते एकदम जैसे टायर्ड हो गये हैं। दु:खी बन गये हैं। सीढ़ी उतरते सतोप्रधान से तमोप्रधान बन गये हैं। बाप फिर तमोप्रधान से सतोप्रधान बनाते हैं। बाप कहते हैं – मैं तमोप्रधान शरीर तमोप्रधान दुनिया में आया हूँ। अब सारी दुनिया तमोप्रधान है। मनुष्य तो ऐसे कह देते हैं – सारे विश्व में शान्ति कैसे हो। समझते नहीं कि विश्व में शान्ति कब थी। बाप कहते हैं तुम्हारे घर में तो चित्र रखे हैं ना। इनका राज्य था – तो सारे विश्व में शान्ति थी, उनको स्वर्ग कहा जाता है। नई दुनिया को ही हेविन गोल्डन एज कहा जाता है। अभी ये पुरानी दुनिया बदलनी है। वह राजधानी स्थापन हो रही है। विश्व में राज्य तो इनका ही था। लक्ष्मी-नारायण के मन्दिर में बहुत मनुष्य जाते हैं। यह थोड़ेही किसकी बुद्धि में है कि यही भारत के मालिक थे – इनके राज्य में जरूर सुख-शान्ति थी। 5 हजार वर्ष की बात है – जब इनका राज्य था। आधाकल्प के बाद पुरानी दुनिया कहा जाता है इसलिए धन्धे वाले स्वास्तिका रखते हैं चौपड़े में। उनका भी अर्थ है ना। वह तो गणेश कह देते हैं। गणेश को फिर विघ्न विनाशक देवता समझते हैं। स्वास्तिका में पूरे 4 भाग होते हैं। यह सब है भक्ति-मार्ग। अभी दीपावली मनाते हैं, वास्तव में सच्ची-सच्ची दीवाली याद की यात्रा ही है जिससे आत्मा की ज्योति 21 जन्मों के लिए जग जाती है। बहुत कमाई होती है। तुम बच्चों को बहुत खुशी होनी चाहिए। अभी तुम्हारा नया खाता शुरू होता है – नई दुनिया के लिए। 21 जन्मों के लिए खाता अभी जमा करना है। अब बाप बच्चों को समझाते हैं, अपने को आत्मा समझ सुन रहे हो। आत्मा समझ सुनेंगे तो खुशी भी रहेगी। बाप हमको पढ़ाते हैं। भगवानुवाच भी है ना। भगवान तो एक ही होता है। जरूर वह आकर शरीर लेता होगा, तब भगवानुवाच कहा जाता है। यह भी किसको पता नहीं है तब नेती-नेती करते आये हैं। कहते भी हैं वह परमपिता परमात्मा है। फिर कह देते – हम नहीं जानते। कहते भी हैं शिवबाबा, ब्रह्मा को भी बाबा कहते हैं। विष्णु को कभी बाबा नहीं कहेंगे। प्रजापिता तो बाबा ठहरा ना। तुम हो बी.के., प्रजापिता नाम न होने से समझते नहीं हैं। इतने ढेर बी.के. हैं तो जरूर प्रजापिता ही होगा इसलिए प्रजापिता अक्षर जरूर डालो। तो समझेंगे प्रजापिता तो हमारा ही बाप ठहरा। नई सृष्टि जरूर प्रजापिता द्वारा ही रची जाती है। हम आत्मायें भाई-भाई हैं फिर शरीर धारण कर भाई-बहन हो जाते। बाप के बच्चे तो अविनाशी हैं फिर साकार में बहन-भाई चाहिए। तो नाम है प्रजापिता ब्रह्मा। परन्तु ब्रह्मा को कोई हम याद नहीं करते। याद लौकिक को करते और पारलौकिक को करते हैं। प्रजापिता ब्रह्मा को कोई याद नहीं करते। दु:ख में बाप का सिमरण करते हैं, ब्रह्मा का नहीं। कहेंगे हे भगवान। हे ब्रह्मा नहीं कहेंगे। सुख में तो किसी को भी याद नहीं करते हैं। वहाँ सुख ही सुख है। यह भी किसको पता नहीं है। तुम जानते हो इस समय हैं 3 बाप। भक्तिमार्ग में लौकिक और पारलौकिक बाप को याद करते हैं। सतयुग में सिर्फ लौकिक को याद करते हैं। संगम पर तीनों को याद करते हैं। लौकिक भी है परन्तु जानते हैं वह है हद का बाप। उनसे हद का वर्सा मिलता है। अभी हमको बेहद का बाप मिला है जिससे बेहद का वर्सा मिलता है। यह समझ की बात है। अब बेहद का बाप आये हैं ब्रह्मा के तन में – हम बच्चों को बेहद का सुख देने। उनका बनने से हम बेहद का वर्सा पाते हैं। यह जैसे दादे का वर्सा मिलता है – ब्रह्मा द्वारा, वह कहते हैं वर्सा तुमको मैं देता हूँ। पढ़ाता मैं हूँ। ज्ञान मेरे पास है। बाकी न मनुष्यों में ज्ञान है, न देवताओं में। ज्ञान है मेरे में। जो मैं तुम बच्चों को देता हूँ। यह है रूहानी ज्ञान।

तुम जानते हो रूहानी बाप द्वारा हमको यह पद मिलता है। ऐसे-ऐसे विचार सागर मंथन करना चाहिए। गायन है मन के जीते जीत, मन से हारे हार……. वास्तव में कहना चाहिए – माया पर जीत क्योंकि मन को तो जीता नहीं जाता। मनुष्य कहते हैं मन की शान्ति कैसे हो? बाप कहते हैं आत्मा कैसे कहेगी कि मन की शान्ति चाहिए। आत्मा तो है ही शान्तिधाम में रहने वाली। आत्मा जब शरीर में आती है तब कार्य करने लग पड़ती है। बाप कहते हैं तुम अब स्वधर्म में टिको, अपने को आत्मा समझो। आत्मा का स्वधर्म है शान्त। बाकी शान्ति कहाँ से ढूंढेगी। इस पर रानी का भी दृष्टान्त है हार का। संन्यासी दृष्टान्त देते हैं और फिर खुद जंगल में जाकर शान्ति ढूढते हैं। बाप कहते हैं कि तुम आत्मा का धर्म ही शान्ति है। शान्तिधाम तुम्हारा घर है, जहाँ से पार्ट बजाने तुम आते हो। शरीर से फिर कर्म करना पड़ता है। शरीर से अलग होने से सन्नाटा हो जाता है। आत्मा ने जाकर दूसरा शरीर लिया फिर चिंता क्यों करनी चाहिए। वापिस थोड़ेही आयेगी। परन्तु मोह सताता है। वहाँ तुमको मोह नहीं सतायेगा। वहाँ 5 विकार होते नहीं। रावणराज्य ही नहीं। वह है रामराज्य। हमेशा रावण राज्य हो तो फिर मनुष्य थक जाएं। कभी सुख देख न सकें। अभी तुम आस्तिक बने हो और त्रिकालदर्शी भी बने हो। मनुष्य बाप को नहीं जानते इसलिए नास्तिक कहा जाता है।

अभी तुम बच्चे जानते हो यह शास्त्र आदि जो पास्ट हो चुके हैं, यह सब है भक्ति मार्ग। अभी तुम हो ज्ञान मार्ग में। बाप तुम बच्चों को कितना प्यार से नयनों पर बिठाकर ले जाते हैं। गले का हार बनाए सबको ले जाता हूँ। पुकारते भी सब हैं। जो काम चिता पर बैठ काले हो गये हैं उनको ज्ञान चिता पर बिठाए, हिसाब-किताब चुक्तू कराए वापिस ले जाते हैं। अब तुम्हारा काम है पढ़ने से, और बातों में क्यों जाना चाहिए। कैसे मरेंगे, क्या होगा…… इन बातों में हम क्यों जायें। यह तो कयामत का समय है, सब हिसाब-किताब चुक्तू कर वापिस चले जायेंगे। यह बेहद के ड्रामा का राज़ तुम बच्चों की बुद्धि में है, और कोई नहीं जानते। बच्चे जानते हैं हम बाबा के पास कल्प-कल्प आते हैं, बेहद का वर्सा लेने। हम जीव की आत्मायें हैं। बाबा ने भी देह में आकर प्रवेश किया है। बाप कहते हैं मैं साधारण तन में आता हूँ, इनको भी बैठ समझाता हूँ कि तुम अपने जन्मों को नहीं जानते हो। और कोई ऐसे कह न सके कि बच्चों, देही-अभिमानी बनो, बाप को याद करो। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) याद की यात्रा में रहकर सच्ची-सच्ची दीपावली रोज मनानी है। अपना नया खाता 21 जन्मों के लिए जमा करना है।

2) ड्रामा के राज़ को बुद्धि में रख पढ़ाई के सिवाए और किसी भी बात में नहीं जाना है। सब हिसाब-किताब चुक्तू करने हैं।

वरदान:- लगन की अग्नि द्वारा एक दीप से अनेक दीप जगाने वाले सच्चे सेवाधारी भव
जैसे दीपावली पर एक दीप से अनेक दीप जगाते, दीपमाला मनाते हैं। दीपक में अग्नि होती है ऐसे आप दीपकों में लगन की अग्नि है। अगर एक एक दीपक की एक दीपक के साथ लगन लग गई तो यही सच्ची दीपमाला है। तो देखना है कि हम दीपक लगन लगाकर अग्नि रूप बनने वाले, अपनी रोशनी से अज्ञानता का अंधकार मिटाने वाले ही सच्चे सेवाधारी हैं।
स्लोगन:- एक बल, एक भरोसा-इस पाठ को सदा पक्का रखो तो बीच भंवर से सहज निकल जायेंगे।

TODAY MURLI 13 NOVEMBER 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 13 November 2019

13/11/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, to follow the Father’s shrimat means to have regard for the Father.Those whofollow the dictates of their own minds have disregard for Him.
Question: What does Baba not object to in regard to those who live at home with their families, but which one direction does He give them?
Answer: Baba says: Children, by all means, come into connection with everyone. Do whatever job etc. you have to. You have to come into connection with people. If you have to wear coloured clothes, then do so. Baba does not object to this. The Father only gives the direction: Children, remove your attachment from all your bodily relations and your own bodies and remember Me.

Om shanti. Shiv Baba sits here and explains to you children, that is, He inspires you to make effort to become equal to Him. Just as I am the Ocean of Knowledge, so you children should become the same. You sweet children know that not all of you will become the same. Each one of you has to make your own individual effort. Many students study at school but they don’t all pass with honours. Nevertheless, their teacher inspires them all to make effort. You children also make effort. When the Father asks what you will become, you all reply: We have come here to become Narayan from an ordinary man and Lakshmi from an ordinary woman. That is all right, but you have to look at your activity too. The Father is the Highest on High. He is the Teacher and the Guru. No one knows this Father. You children know that Shiv Baba is our Baba, Teacher and Satguru. However, it is difficult to understand Him as He truly is. You may come to know the Father but you forget His role as the Teacher and the Guru. You children also have to have regard for the Father. What does it mean to have regard? To have regard means to study well that which the Father teaches. The Father is very sweet. The mercury of happiness should rise high inside you. There should be ecstatic happiness. Each of you should ask yourself: Do I have such happiness? Not everyone can be the same. There is also a vast difference in how everyone studies. In those schools, too, there is a lot of difference. There, it is a common teacher who teaches, whereas this One here is uncommon. There cannot be another teacher like this One. No one knows that the incorporeal Father also becomes the Teacher. Although they have used the name “Shri Krishna”, they don’t even know that he can’t be the Father. Krishna is a deity. Many have the name “Krishna”. However, as soon as people say “Krishna”, the form of Shri Krishna comes in front of them. He is a bodily being. You know that this body does not belong to that One. He Himself says: I have taken it on loan. This one was a human being before and he is still a human being now; he is not God. Only the incorporeal One is God. He now explains so many secrets to you children. However, it is not yet possible for you to understand finally (fully) the Father and the Teacher; you repeatedly forget. Your intellects are drawn to bodily beings. As yet, there isn’t the faith in your intellects that finally this is the Father, Teacher and Satguru; you still forget. Would students ever forget their teacher? Those who live in a hostel would never forget. Students living in a hostel definitely remember firmly, whereas here, you don’t have that firm faith. Each of you is sitting in the hostel, numberwise, according to your efforts and, although you are all students, you do not have that firm faith. Baba knows that each of you is claiming your status according to your own individual effort. In those studies, some become barristers and others become engineers or doctors. Here, you are becoming the masters of the world. Therefore, what should the intellects of such students be like? Their behaviour and way of speaking should be very good. The Father explains: Children, you must never cry; you are becoming the masters of the world. You must never cry out of distress. To cry out of distress is the highest (worst) form of crying. The Father says: Those who cry are the ones who lose. They lose the most elevated kingdom of the world. You say that you have come to change from an ordinary human into Narayan, but you don’t behave accordingly. Everyone is making effort, numberwise. Some pass very well and claim a scholarship, whereas others fail. All are numberwise. Even amongst you, some study and some don’t study at all. People from the villages don’t like studying. However, if you ask them to cut grass, they will do that happily. They consider that to be having an independent life. They consider studying to be bondage. Many are like that, even wealthy landowners. They consider themselves to be independent and very happy. At least it isn’t called a job. Other people have to do a job in an office etc. The Father is now teaching you children in order to make you into the masters of the world. He does not teach you to enable you to get a job. You are to become the masters of the world through this study. This study is very elevated. You become the masters of the world, those who are totally independent. This is a very simple aspect. This is the only study through which you can become such elevated emperors and empresses and pure too. You say that people of any religion can come and study here. They will understand that this study is very elevated. The Father is teaching you in order to make you into the masters of the world. Your intellects have now become very broad and subtle. From limited intellects, your intellects have now become unlimited intellects, numberwise, according to the effort you make. You have a lot of happiness that you are making others into the masters of the world. In fact, there are jobs there too. Maids and servants etc. are all needed there. Those who do not study will carry the burden for those who have studied. This is why the Father says: If you study well, this is what you can become. You say that you will become this but what will you become if you don’t study? If you do not study, it means you do not remember the Father with that much regard. The Father says: The more remembrance you have, the more your sins will be absolved. Children say: Baba, we will act according to Your directions. The Father will give us directions through this one. However, some don’t even accept this one’s directions. They continue to follow old, rotten dictates of human beings. Although they can see that Shiv Baba is giving directions through this chariot, they still continue to follow their own dictates. They follow the dictates that are only worth pennies and shells. By following the dictates of Ravan, you have now become as worthless as shells. Rama, Shiv Baba, is now giving you directions. There is victory through having faith. There will never be any loss in this. The Father will even change any loss into a profit, but only for those whose intellects have faith. Those whose intellects have doubt will continue to choke inside. Those whose intellects have faith can never choke; they can never experience loss. Baba Himself gives a guarantee: There can never be a loss when you follow shrimat. Human dictates are called bodily-being dictates. Here, there are only human dictates. It has been remembered that there are human instructions, God’s instruction and deity instructions. You have now received God’s instructions through which you become deities from human beings. Then, there, in heaven, you only experience happiness; there is no sorrow; there is constant happiness. You have to experience that feeling at this time. You feel the future. This is now the most auspicious confluence age when you receive shrimat. The Father says: I come, cycle after cycle, at the confluence age. Only you know that One. You follow His directions. The Father says: Children, by all means, stay at home with your families. Who says that you have to change your clothes etc.? Wear whatever you want! You have to come into connection with many. There are no objections to your wearing coloured clothes. You can wear whatever clothes you want; that has nothing to do with it. The Father says: Renounce the consciousness of bodies and all bodily relations. You can wear whatever you want. Simply consider yourselves to be souls and remember the Father. Let there be this firm faith. You also know that it is souls that become pure and impure. A mahatma is called a great soul. “Great Supreme Soul” is never said. It does not sound right to say that. These are such good points to understand. The Satguru who grants salvation to everyone is the one Father. Untimely death never takes place there. You children now understand that Baba is making you into deities once again. Previously, this was not in your intellects. You didn’t even know what the duration of the cycle is. You have now been reminded of everything. You children also know that it is a soul that is called a sinful soul or a charitable soul. “Sinful Supreme Soul” is never said. To say that God is omnipresent is such senselessness! The Father sits here and explains this. You now understand that the Father alone comes every 5000 years to change you from sinful souls into charitable souls. He doesn’t only change one; He changes all the children. The Father says: I am the unlimited Father who changes you children. I would surely give you children unlimited happiness. In the golden age, there are only pure souls. It is by conquering Ravan that you become pure, charitable souls. You feel how many obstacles Maya creates. She completely suffocates you. You understand how a war takes place with Maya, but they have shown a war between the Kauravas and the Pandavas and shown their armies etc. No one knows about this war; it is incognito. Only you know this. You souls have to battle with Maya. The Father says that lust is your greatest enemy. You gain victory over it with the power of yoga. No one understands the meaning of the power of yoga. Those who were satopradhan are the ones who have become tamopradhan. The Father Himself says: I enter this one at the end of the last birth of his many births. He has become tamopradhan and the same applies to you too. Baba does not say this to only one; He says this to everyone, numberwise. You understand who will claim what number, numberwise. As you progress further, you will come to know much more. You will be given a vision of the rosary. When children in a school are transferred, they come to know everything when they are given their results. Baba asked a child: Where did your examination papers come from? The child said: From London. Where will your papers come from now? Your papers will come from up above; you will have visions of everything. This is such a wonderful study. No one knows who teaches you. They say: God Krishna speaks. Everyone studies, numberwise, and so their happiness is also numberwise. It has been remembered that if you want to know about supersensuous joy, you should ask the gopes and gopis. This is the stage at the end. The Father has explained that even though He knows that a child is never going to fall, one can never tell what will happen. They don’t study; it is not in their fortune. If they were given the slightest indication: Go and set up your home, they would quickly go into that world. They go from one extreme to the other. Their behaviour, their manner of speaking is also accordingly. They think that if they were to receive a certain amount, they could go and live separately. This is understood from their behaviour. This means that they don’t have faith and sit here out of desperation. There are many who don’t even understand the first letter of knowledge. Some don’t even sit down to study; Maya does not allow them to study. There are such souls at all the centres. They never come to study. It is a wonder. This is such elevated knowledge. God is teaching you! When Baba tells them not to do something, they don’t listen and they still perform wrong actions. A kingdom is being established, and so all types are needed there from the top to the bottom. There is a difference in the status. Here, too, status is numberwise. What is different then? There, lifespan is long and there is happiness, whereas here, the lifespan is short and there is sorrow. These wonderful aspects are in the intellects of you children. Look how this drama is created! Each of you plays the same part every cycle. You continue to play it cycle after cycle. Such a tiny soul is filled with such a huge part! Souls adopt the same features and have the same activity. The cycle of the world continues to turn. That which is predestined is taking place. This cycle will repeat again. You will pass through the stages of satopradhan, sato, rajo and tamo. There is nothing to be confused about in this. OK, do you consider yourself to be a soul? You understand that the Father of souls is Shiv Baba. Those who become satopradhan are the ones who become tamopradhan once again. Then, by remembering the Father, you will again become satopradhan. This is good. You should stop at this point. Then, tell them that the unlimited Father gives you this inheritance of heaven. He alone is the Purifier. The Father gives knowledge. There is no question of scriptures etc. in this. Where did the scriptures come from in the beginning? It is when there is expansion that the scriptures are created. There are no scriptures in the golden age. There is nothing like tradition. The name and form will change. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. You must never cry out of distress. Let it remain in your intellects that you are the ones who are to become the masters of the world, and so your activity and your way of speaking have to be very good. You should never cry.
  2. Be the ones whose intellects have faith and continue to follow the Father’s instructions. Never become confused or choke. There is victory through faith. Therefore, do not follow your own dictates; they are only worth pennies.
Blessing: May you experience self-progress in your efforts and become a star of success.
Those who experience self-progress and success in their efforts are stars of success. In their personal efforts they never have such thoughts as, “I don’t know whether this will happen or not”, “Whether I will be able to do this or not”. They do not have the slightest trace of failure. They experience success in themselves as a right; they continue to receive success easily and automatically.
Slogan: Give happiness as an embodiment of happiness and blessings will be added to your efforts.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 13 NOVEMBER 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 13 November 2019

13-11-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – बाप की श्रीमत पर चलना ही बाप का रिगार्ड रखना है, मनमत पर चलने वाले डिसरिगार्ड करते हैं”
प्रश्नः- गृहस्थ व्यवहार में रहने वालों को किस एक बात के लिए बाबा मना नहीं करते लेकिन एक डायरेक्शन देते हैं – वह कौन सा?
उत्तर:- बाबा कहते – बच्चे, तुम भल सभी के कनेक्शन में आओ, कोई भी नौकरी आदि करो, सम्पर्क में आना पड़ता है, रंगीन कपड़े पहनने पड़ते हैं तो पहनो, बाबा की मना नहीं है। बाप तो सिर्फ डायरेक्शन देते हैं – बच्चे, देह सहित देह के सब सम्बन्धों से ममत्व निकाल मुझे याद करो।

ओम् शान्ति। शिवबाबा बैठ बच्चों को समझाते हैं अर्थात् आपसमान बनाने का पुरूषार्थ कराते हैं। जैसे मैं ज्ञान का सागर हूँ वैसे बच्चे भी बनें। यह तो मीठे बच्चे जानते हैं सब एक समान नहीं बनेंगे। पुरूषार्थ तो हरेक को अपना-अपना करना होता है। स्कूल में स्टूडेन्ट तो बहुत पढ़ते हैं परन्तु सब एक समान पास विद् ऑनर्स नहीं होते हैं। फिर भी टीचर पुरूषार्थ कराते हैं। तुम बच्चे भी पुरूषार्थ करते हो। बाप पूछते हैं तुम क्या बनेंगे? सब कहेंगे हम आये ही हैं नर से नारायण, नारी से लक्ष्मी बनने। यह तो ठीक है परन्तु अपनी एक्टिविटीज़ भी देखो ना। बाप भी ऊंच ते ऊंच है। टीचर भी है, गुरू भी है। इस बाप को कोई जानते नहीं। तुम बच्चे जानते हो शिवबाबा हमारा बाबा भी है, टीचर भी है, सतगुरू भी है। परन्तु वह जैसा है वैसा उनको जानना भी मुश्किल है। बाप को जानेंगे तो टीचरपना भूल जायेगा, फिर गुरूपना भूल जायेगा। रिगार्ड भी बाप का बच्चों को रखना होता है। रिगार्ड किसको कहा जाता है? बाप जो पढ़ाते हैं वह अच्छी रीति पढ़ते हैं गोया रिगार्ड रखते हैं। बाप तो बहुत मीठा है। अन्दर में बहुत खुशी का पारा चढ़ा रहना चाहिए। कापारी खुशी रहनी चाहिए। हरेक अपने से पूछे-हमको ऐसी खुशी है? एक समान सब तो रह नहीं सकते। पढ़ाई में भी वास्ट डिफरेन्ट है। उन स्कूलों में भी कितना फ़र्क रहता है। वह तो कॉमन टीचर पढ़ाते हैं, यह तो है अनकॉमन। ऐसा टीचर कोई होता ही नहीं। किसको यह पता ही नहीं है कि निराकार फादर टीचर भी बनते हैं। भल श्रीकृष्ण का नाम दिया है परन्तु उनको पता ही नहीं कि वह फादर कैसे हो सकता। कृष्ण तो देवता है ना। यूँ तो कृष्ण नाम भी बहुतों का है। परन्तु कृष्ण कहने से ही श्रीकृष्ण सामने आ जायेगा। वह तो देहधारी है ना। तुम जानते हो यह शरीर उनका नहीं है। खुद कहते हैं – मैंने लोन लिया है। यह पहले भी मनुष्य था, अब भी मनुष्य है। यह भगवान नहीं है। वह तो एक ही निराकार है। अब तुम बच्चों को कितने राज़ समझाते हैं। परन्तु फिर भी फाइनल ही बाप समझना, टीचर समझना यह अभी हो नहीं सकता, घड़ी-घड़ी भूल जायेंगे। देहधारी तरफ बुद्धि चली जाती है। फाइनल बाप, बाप, टीचर, सतगुरू है-यह निश्चय, बुद्धि में अभी नहीं है। अभी तो भूल जाते हैं। स्टूडेन्ट्स कभी टीचर को भूलेंगे क्या! हॉस्टिल में जो रहते हैं वह तो कभी नहीं भूलेंगे। जो स्टूडेण्ट हॉस्टिल में रहते हैं उन्हें तो पक्का होगा ना। यहाँ तो वह भी पक्का निश्चय नहीं है। नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार हॉस्टिल में बैठे हैं तो जरूर स्टूडेण्ट्स हैं परन्तु यह पक्का निश्चय नहीं है, जानते हैं सब अपने-अपने पुरूषार्थ अनुसार पद ले रहे हैं। उस पढ़ाई में तो फिर भी कोई बैरिस्टर बनते हैं, इन्जीनियर बनते हैं, डॉक्टर बनते हैं। यहाँ तो तुम विश्व के मालिक बन रहे हो। तो ऐसे स्टूडेण्ट की बुद्धि कैसी होनी चाहिए। चलन, वार्तालाप कैसा अच्छा होना चाहिए।

बाप समझाते हैं-बच्चे, तुमको कभी रोना नहीं है। तुम विश्व के मालिक बनते हो, याहुसेन नहीं मचानी चाहिए। याहुसेन मचाना-यह है हाइएस्ट रोना। बाप तो कहते हैं जिन रोया तिन खोया…… विश्व की ऊंच ते ऊंच बादशाही गँवा बैठते हैं। कहते तो हैं हम नर से नारायण बनने आये हैं परन्तु चलन कहाँ! नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार सब पुरूषार्थ कर रहे हैं। कोई तो अच्छी रीति पास हो स्कॉलरशिप ले लेते हैं, कोई नापास हो जाते हैं। नम्बरवार तो होते ही हैं। तुम्हारे में भी कोई तो पढ़ते हैं, कोई पढ़ते भी नहीं हैं। जैसे गाँव वालों को पढ़ना अच्छा नहीं लगता है। घास काटने लिए बोलो तो खुशी से जायेंगे। उसमें स्वतंत्र लाइफ समझते हैं। पढ़ना बन्धन समझते हैं, ऐसे भी बहुत होते हैं। साहूकारों में जमींदार लोग भी कम नहीं होते हैं। अपने को इन्डिपेन्डेंट बड़ा खुशी में समझते हैं। नौकरी नाम तो नहीं है ना। आफीसरी आदि में तो मनुष्य नौकरी करते हैं ना। अभी तुम बच्चों को बाप पढ़ाते हैं विश्व का मालिक बनाने। नौकरी के लिए नहीं पढ़ाते। तुम तो इस पढ़ाई से विश्व का मालिक बनने वाले हो ना। बड़ी ऊंची पढ़ाई ठहरी। तुम तो विश्व के मालिक बिल्कुल इन्डिपेन्डेंट बन जाते हो। बात कितनी सिम्पल है। एक ही पढ़ाई है जिससे तुम इतने ऊंच महाराजा-महारानी बनते हो सो भी पवित्र। तुम तो कहते हो कोई भी धर्म वाला हो, आकर पढ़े। समझेंगे यह पढ़ाई तो बहुत ऊंची है। विश्व के मालिक बनते हो, यह तो बाप पढ़ाते हैं। तुम्हारी अब बुद्धि कितनी विशाल बनी है। हद की बुद्धि से बेहद की बुद्धि में आये हो नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार। कितनी खुशी रहती है-हम सब औरों को विश्व का मालिक बनावे। वास्तव में नौकरी तो भल वहाँ भी होती है, दास-दासियां, नौकर आदि तो चाहिए ना। पढ़े के आगे अनपढ़े भरी ढोयेंगे इसलिए बाप कहते हैं अच्छी रीति पढ़ो तो तुम यह बन सकते हो। कहते भी हैं हम यह बनेंगे। परन्तु पढ़ेंगे नहीं तो क्या बनेंगे। नहीं पढ़ते हैं तो फिर बाप को इतना रिगॉर्ड से याद नहीं करते हैं। बाप कहते हैं जितना तुम याद करेंगे तो तुम्हारे विकर्म विनाश होंगे। बच्चे कहते हैं बाबा जैसे आप चलाओ, बाप भी मत इन द्वारा ही देंगे ना। परन्तु इनकी मत भी लेते नहीं, फिर भी पुरानी सड़ी हुई मनुष्य मत पर ही चलते हैं। देखते भी हैं शिवबाबा इस रथ द्वारा मत देते हैं फिर भी अपनी मत पर चलते हैं। जिसको पाई-पैसे की कौड़ी जैसी मत कहें, उस पर चलते हैं। रावण की मत पर चलते-चलते इस समय कौड़ी मिसल बन गये हैं। अब राम शिवबाबा मत देते हैं। निश्चय में ही विजय है, इसमें कभी नुकसान नहीं होगा। नुकसान को भी बाप फायदे में बदल देंगे। परन्तु निश्चय-बुद्धि वालों को। संशय-बुद्धि वाले अन्दर घुटका खाते रहेंगे। निश्चयबुद्धि वालों को कभी घुटका, कभी घाटा पड़ नहीं सकता। बाबा खुद गैरन्टी करते हैं – श्रीमत पर चलने से कभी अकल्याण हो नहीं सकता। मनुष्य मत को देहधारी की मत कहा जाता है। यहाँ तो है ही मनुष्य मत। गाया भी जाता है – मनुष्य मत, ईश्वरीय मत और दैवी मत। अब तुम्हें ईश्वरीय मत मिली है, जिससे तुम मनुष्य से देवता बनते हो। फिर वहाँ तो स्वर्ग में तुम सुख ही पाते हो। कोई दु:ख की बात नहीं। वह भी स्थाई सुख हो जाता है। इस समय तुमको फीलिंग में लाना होता है, भविष्य की फीलिंग आती है।

अभी यह है पुरूषोत्तम संगमयुग, जबकि श्रीमत मिलती है। बाप कहते हैं मैं कल्प-कल्प, कल्प के संगमयुग पर आता हूँ, उसको तुम जानते हो। उनकी मत पर तुम चलते हो। बाप कहते हैं – बच्चे, गृहस्थ व्यवहार में भल रहो, कौन कहता है तुम कपड़े आदि बदली करो। भल कुछ भी पहनो। बहुतों से कनेक्शन में आना पड़ता है। रंगीन कपड़ों के लिए कोई मना नहीं करते हैं। कोई भी कपड़ा पहनो, इनसे कोई तैलुक नहीं। बाप कहते हैं देह सहित देह के सब सम्बन्ध छोड़ो। बाकी पहनो सब कुछ। सिर्फ अपने को आत्मा समझ बाप को याद करो, यह पक्का निश्चय करो। यह भी जानते हो आत्मा ही पतित और पावन बनती है, महात्मा को भी महान् आत्मा कहेंगे, महान् परमात्मा नहीं कहेंगे। कहना भी शोभता नहीं। कितनी अच्छी प्वाइंट्स हैं समझने की। सतगुरू सर्व को सद्गति देने वाला तो एक ही बाप है। वहाँ कभी अकाले मृत्यु होती नहीं। अभी तुम बच्चे समझते हो बाबा हमको फिर से ऐसा देवता बनाते हैं। आगे यह बुद्धि में नहीं था। कल्प की आयु कितनी है, यह भी नहीं जानते थे। अभी तो सारी स्मृति आई है। यह भी बच्चे समझते हैं आत्मा को ही पाप आत्मा, पुण्य आत्मा कहा जाता है। पाप परमात्मा कभी नहीं कहा जाता। फिर कोई कहे परमात्मा सर्वव्यापी है तो भी कितनी बेसमझी है। यह बाप ही बैठ समझाते हैं। अभी तुम जानते हो 5 हज़ार वर्ष के बाद पाप आत्माओं को पुण्य आत्मा बाप ही आकर बनाते हैं। एक को नहीं, सब बच्चों को बनाते हैं। बाप कहते हैं तुम बच्चों को बनाने वाला मैं ही बेहद का बाप हूँ। जरूर बच्चों को बेहद का सुख दूँगा। सतयुग में होती ही हैं पवित्र आत्मायें। रावण पर जीत पाने से ही तुम पुण्य आत्मा बन जाते हो। तुम फील करते हो, माया कितने विघ्न डालती है। एकदम नाक में दम कर देती है। तुम समझते हो माया से युद्ध कैसे चलती है। उन्होंने फिर कौरवों और पाण्डवों की युद्ध, लश्कर आदि क्या-क्या बैठ दिखाये हैं। इस युद्ध का किसको भी पता नहीं। यह है गुप्त। इनको तुम ही जानते हो। माया से हम आत्माओं को युद्ध करनी है। बाप कहते हैं सबसे बड़ा तुम्हारा दुश्मन है ही काम। योगबल से तुम इस पर विजय पाते हो। योगबल का अर्थ भी कोई नहीं समझते हैं। जो सतोप्रधान थे वही तमोप्रधान बने हैं। बाप खुद कहते हैं बहुत जन्मों के अन्त में मैं इनमें प्रवेश करता हूँ। वही तमोप्रधान बना है, ततत्वम्। बाबा एक को थोड़ेही कहेंगे। नम्बरवार सबको कहते हैं। नम्बरवार कौन-कौन हैं, यहाँ तुमको पता पड़ा है। आगे चल तुमको बहुत पता पड़ेगा। माला का तुमको साक्षात्कार करायेंगे। स्कूल में जब ट्रांसफर होते हैं तो सब मालूम पड़ जाता है ना। रिजल्ट सारी निकल आती है।

बाबा ने बच्ची से पूछा – तुम्हारे इम्तहान के पेपर कहाँ से आते हैं? बोली लन्दन से। अब तुम्हारे पेपर्स कहाँ से निकलेंगे? ऊपर से। तुम्हारा पेपर ऊपर से आयेगा। सब साक्षात्कार करेंगे। कैसी वन्डरफुल पढ़ाई है। कौन पढ़ाते हैं, किसको पता नहीं है। कृष्ण भगवानुवाच कह देते हैं। पढ़ाई में सब नम्बरवार हैं। तो खुशी भी नम्बरवार होगी। यह जो गायन है अतीन्द्रिय सुख गोप-गोपियों से पूछो-यह पिछाड़ी की बात है। बाप ने समझाया है, भल बाबा जानते हैं-यह बच्चे कभी गिरने वाले नहीं हैं परन्तु फिर भी पता नहीं क्या होता है। पढ़ाई ही नहीं पढ़ते हैं, तकदीर में नहीं है। थोड़ा ही उनको कहा जाए कि जाकर अपना घर बसाओ उस दुनिया में, तो झट चले जायेंगे। कहाँ से निकल कहाँ चले जाते हैं। उनकी चलन, बोलना, करना ही ऐसा होता है। समझते हैं हमको अगर इतना मिले तो हम जाकर अलग रहें। चलन से समझा जाता है। इसका मतलब निश्चय नहीं, लाचारी बैठे हैं। बहुत हैं जो ज्ञान का “ग” भी नहीं जानते। कभी बैठते भी नहीं। माया पढ़ने नहीं देती। ऐसे सब सेन्टर्स पर हैं। कभी पढ़ने आते नहीं। वन्डर है ना। कितनी ऊंची नॉलेज है। भगवान पढ़ाते हैं। बाबा कहे यह काम न करो, मानेंगे नहीं। जरूर उल्टा काम करके दिखायेंगे। राजधानी स्थापन हो रही है, उसमें तो हर प्रकार के चाहिए ना। ऊपर से लेकर नीचे तक सब बनते हैं। मर्तबे में फ़र्क तो रहता है ना। यहाँ भी नम्बरवार मर्तबे हैं। सिर्फ फ़र्क क्या है? वहाँ आयु बड़ी और सुख रहता है। यहाँ आयु छोटी और दु:ख है। बच्चों की बुद्धि में यह वन्डरफुल बातें हैं। कैसा यह ड्रामा बना हुआ है। फिर कल्प-कल्प हम वही पार्ट बजायेंगे। कल्प-कल्प बजाते रहते हैं। इतनी छोटी-सी आत्मा में कितना पार्ट भरा हुआ है। वही फीचर्स, वही एक्टिविटी….. यह सृष्टि का चक्र फिरता ही रहता है। बनी बनाई बन रही…… यह चक्र फिर भी रिपीट होगा। सतोप्रधान, सतो, रजो, तमो में आयेंगे। इसमें मूँझने की बात नहीं। अच्छा, अपने को आत्मा समझते हो? आत्मा का बाप शिवबाबा है यह तो समझते हो ना। जो सतोप्रधान बनते हैं वही फिर तमोप्रधान बनते हैं फिर बाप को याद करो तो सतोप्रधान बन जायेंगे। यह तो अच्छा है ना। बस यहाँ तक ही ठहरा देना चाहिए। बोलो, बेहद का बाप यह स्वर्ग का वर्सा देते हैं। वही पतित-पावन है। बाप नॉलेज देते हैं, इसमें शास्त्रों आदि की तो बात ही नहीं। शास्त्र शुरू में कहाँ से आयेंगे। यह तो जब बहुत हो जाते हैं तब बाद में बैठ शास्त्र बनाते हैं। सतयुग में शास्त्र होते नहीं। परम्परा तो कोई चीज़ होती नहीं। नाम रूप तो बदल जायेगा। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) कभी भी याहुसैन नहीं मचाना है। बुद्धि में रहे हम विश्व का मालिक बनने वाले हैं, हमारी चलन, वार्तालाप बहुत अच्छा होना चाहिए। कभी भी रोना नहीं है।

2) निश्चयबुद्धि बन एक बाप की मत पर चलते रहना है, कभी मूँझना वा घुटका नहीं खाना है। निश्चय में ही विजय है, इसलिए अपनी पाई-पैसे की मत नहीं चलानी है।

वरदान:- अपने पुरुषार्थ की विधि में स्वयं की प्रगति का अनुभव करने वाले सफलता के सितारे भव
जो अपने पुरुषार्थ की विधि में स्वयं की प्रगति वा सफलता का अनुभव करते हैं, वही सफलता के सितारे हैं, उनके संकल्प में स्वयं के पुरुषार्थ प्रति भी कभी “पता नहीं होगा या नहीं होगा”, कर सकेंगे या नहीं कर सकेंगे – यह असफलता का अंश-मात्र भी नहीं होगा। स्वयं प्रति सफलता अधिकार के रूप में अनुभव करेंगे, उन्हें सहज और स्वत: सफलता मिलती रहती है।
स्लोगन:- सुख स्वरूप बनकर सुख दो तो पुरुषार्थ में दुआयें एड हो जायेंगी।

TODAY MURLI 13 NOVEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 13 November 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 12 November 2018 :- Click Here

13/11/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, during the day, earn a livelihood for your body and sit down at night and churn knowledge. Remember the Father. Make your intellect spin the discus of self-realisation and your intoxication will rise.
Question: Which children does Maya not allow to sit in remembrance?
Answer: Maya doesn’t allow those to sit in remembrance whose intellects are trapped in someone or other, whose intellects are locked and who don’t study well. They are unable to remain “Manmanabhav”. Then their intellects don’t work for service either. Because of not following shrimat, they defame the Father’s name and deceive Him and so punishment has to be experienced.
Song: My heart desires to call out to You. 

Om shanti. You children heard the song. They call out to God, the Father, not to Krishna. They say to the Father: Come and once again change the land of Kans into the land of Krishna. They would not call Krishna. The land of Krishna is called heaven. No one knows this because they have taken Krishna into the copper age. All of these mistakes have been made in the scriptures. The Father is now explaining things accurately to you. In fact, the Senior One of the whole world is God, the Father. Everyone has to remember that one God. People remember Christ, Buddha or the deities. Those of every religion remember the one who established their religion. It was in the copper age that remembrance began. In Bharat, it is remembered that everyone remembers God at the time of sorrow and that no one remembers Him at the time of happiness. It is later that, because of sorrow, the system of remembrance begins. It was the people of Bharat who first of all began remembrance. Seeing them, those of other religions began to remember the founders of their religions. The Father too is someone who establishes a religion. However, people have forgotten the Father and inserted Shri Krishna’s name. They don’t know about the religion of Lakshmi and Narayan. You must neither remember Lakshmi and Narayan nor Krishna. You have to remember the one Father who is establishing the original eternal deity religion. Later, when they begin to worship Shiva on the path of devotion, they believe that the God of the Gita is Krishna; they remember him. Seeing them, others also begin to remember the founders of their religions. They forget that it was God who established that deity religion. We can write that the Sermoniser of the Gita is not Krishna, but Shiv Baba. He is incorporeal. So this is something wonderful, is it not? No one has the introduction of Shiv Baba. He is a s tar. Everywhere, in all the Shiva Temples, they think that He has a big form, that He is the constant element of light. However, He resides in the great element of light where souls reside. The form of souls is truly like a star. The Supreme Father, the Supreme Soul, is also a s tar , but, because He is k nowledge-full and the Seed, He has that power. The Supreme Soul (the Seed) is called the Father of souls. He is incorporeal. Human beings cannot be called the Ocean of Knowledge or the Ocean of Love. This is why the children who explain knowledge should have that authority in them and their intellects have to be broad and unlimited. Amongst all of you, Mama is the main one. It is remembered: Salutations to the mothers. The arrows were made to be shot by the kumaris. Nowhere else do they have the secret of the half kumaris and the kumaris. This is proved just by the temple here. There is truly also Jagadamba, but those people don’t know who she is. The Father says: I tell you the secrets of the Creator and the beginning, the middle and the end of creation through the lotus-mouth of Brahma. It should enter the intellects of people what is in the drama. This is an unlimited drama. We are actors of this drama and so the secrets of the beginning, the middle and the end of the drama should remain in our intellects. Those who have this in their intellects have a lot of intoxication. Throughout the day, after you have done everything for the livelihood of your body, sit down at night and remember how this drama rotates. This is “Manmanabhav”. However, Maya doesn’t allow you to sit at night. The secrets of the drama should remain in the intellects of the actors. However, this is very difficult; they become trapped somewhere or other and so their intellects get locked by Baba. The destination is very high. Those who study well ask for a good salary. This too is a study, but, as soon as you go outside, you forget and then begin to follow the dictates of your own minds. The Father says: Sweet children, only in following shrimat is there benefit for you. This world is impure. The vice which the sannyasis renounce is called poison. The kingdom of Ravan begins in the copper age. The Vedas and scriptures etc. are all the paraphernalia of the path of devotion. Children’s intellects should work on service. If you follow shrimat, you can also imbibe knowledge. You children know that destruction is just ahead. Everyone will be unhappy and will cry out: O God, have mercy! At the time of crying out in distress, they will remember God. They used to remember God so much at the time of the partition: O God, have mercy! Protect us! How would He protect you? If people don’t know the One who protects them, how can He protect them? The Father has now come, but this scarcely sits in anyone’s intellect. The Father explains: Do service in such and such a way. You receive this shrimat from the Father. It is such a wonder that they are unable to recognise such a Father. These matters have to be understood. Let the remembrance of Shiv Baba be in your intellects throughout the whole day. This one is His chariot and companion. Baba sees that, today, children’s intellects have a lot of faith and that tomorrow their intellects develop doubts. Their stage falls when storms of Maya come, and so what can Baba do about that? You came into knowledge and surrendered yourselves and so you are trustees. Why do you worry? You have surrendered yourselves and you also have to do service and you will then receive the return. If you have surrendered yourself but don’t do service, you still have to be fed and so you use up all the money you gave on your food. They don’t do service. You have to do the service of making human beings become like diamonds. The main thing is that you have to do Baba’s spiritual service through which human beings can become elevated. If you don’t do service, you will go and become maids and servants. Those who study well are given very high regard whereas those who fail will go and become maids and servants. Baba says: Children, remember Me and claim your inheritance; that’s all! This term ‘Manmanabhav’ is right. The Ocean of Knowledge says: Remember Me and your sins will be absolved. Krishna cannot say this. Only the Father says: Constantly remember Me alone and remember your future royal status. This is Raja Yoga. The family path is proved through this. Only you can explain this. Amongst you too, those who are clever and serviceable are invited. It is understood when someone is a clever hand. You children have to be yogyukt. If you don’t follow shrimat, you defame the Father’s name. If you deceive Him, there has to be punishment. The T ribunal also sits. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Night class:

First of all, you children have to give the explanation of the Father. Only the unlimited Father is teaching us. They call Krishna, the one who studies the Gita, God. You have to explain to them that it is the Incorporeal who is called God. There are many bodily beings. There is only the One who is without a body. He is the Highest on High, Shiv Baba. Make this sit in their intellects very well: You receive the unlimited inheritance from the unlimited Father. He alone is the Highest on High, the incorporeal Supreme Father, the Supreme Soul. That One is the unlimited Father and this one is a limited father. No one else gives you the inheritance for 21 births. There isn’t any other father from whom you receive an immortal status. The golden age is the land of immortality. This is the land of death. When you give them the Father’s introduction, they will understand that they receive an inheritance, which is called deity self-sovereignty, from the Father. Only the Father gives you that. That Purifier is remembered. He says: Consider yourself to be a soul and remember Me, the Father, and your sins will be cut away. You can become pure from impure and become worthy of going to the pure world. The Father says every cycle: Constantly remember Me alone. Only through the pilgrimage of remembrance will you become pure. The pure world is now coming and the impure world is to be destroyed. First of, all give the Father’s introduction and make them understand this firmly. Only when they firmly understand about the Father can they receive the Father’s inheritance. This is where Maya makes you forget a lot. You try to remember Baba and then you forget Him. Only by remembering Shiv Baba will your sins be cut away. That Baba tells you through this one: Children, remember Me. Nevertheless, you forget Me when you become busy in your business etc. You should not forget Him. This is the thing that requires effort. You have to reach your karmateet stage by remembering the Father. Those who have the karmateet stage are called angels. Therefore, remember firmly how you can explain to someone. There should be the firm faith that you are explaining to your brothers (souls). Give everyone the Father’s message. Some say: I want to go to Baba and have a vision. However, there is no question of visions in this. God comes and teaches you and says through the mouth: Remember Me, your incorporeal Father. By remembering Me all your sins will be cut away. While sitting anywhere doing your business etc., you have to remember the Father again and again. The Father has given you the order: Remember Me! Only those who constantly remember Me will win. If you don’t remember Me, your marks will be reduced. This is the study to change from human beings into deities. Only the one Father teaches you this. You have to become the kings who rule the globe, and so you also have to remember the cycle of 84 births. You have to make effort to reach your karmateet stage. That will happen at the end. The end can come at any time, and so you have to make continuous effort. Your efforts should continue all the time. Your physical father would not say: Renounce all your bodily relations and consider yourself to be a soul. Renounce the consciousness of the body and remember Me and your sins will be cut away. It is only the unlimited Father who says: Children, remain in remembrance of Me alone and your sins will be cut away and you will become satopradhan. You should do this business in happiness. You have to remember the Father even when taking your meals. It is good if the incognito practice of you children of staying in remembrance continues all the time. There is only benefit for you in that. You have to check yourself and see for how long you remember Baba. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good night. Om shanti.

Essence for dharna:

  1. Do the spiritual service of making human beings become like diamonds. Never let your intellect develop doubts and thereby stop studying. Remain a trustee.
  2. While acting for the livelihood of your body, you have to remember the Father. Continue to move along while considering there to be benefit for you in following shrimat. Do not follow the dictates of your own mind.
Blessing: May you be an unlimited server who brings about transformation while having benevolent feelings for all.
The majority of children place a desire in front of BapDada that such-and-such a relative of theirs should change, or that their family members become their companions. However, because you have that desire while considering just those souls as belonging to you, there is a wall of limitation; your benevolent feelings do not reach those souls. An unlimited server has soul-conscious feelings for all and has unlimited vision of soul consciousness. When you have good wishes with the attitude of brotherhood, you definitely receive the fruit of that. This is the accurate way of serving through the mind.
Slogan: Only those who challenge Maya by filling the quivers of their intellects with arrows of knowledge are brave and courageous warriors.

*** Om Shanti ***

Sweet elevated versions of Mateshwari:

The reason for peacelessness of the mind is a bondage of karma and

the basis of peace is the karmateet stage

In fact, every human being has the desire to attain peace of mind and they make all sorts of efforts for this. However, until now, their minds have not found peace. What is the real reason for this? First of all, it is necessary to think about what the root of peacelessness is. The main reason for peacelessness of the mind is to be trapped in some bondage of karma. Until human beings are liberated from all bondages of karma of the five vices, they cannot become free from peacelessness. When the bondage of karma is broken, peace of mind, that is, liberation in life can then be attained. However, you have to think about how to break that bondage of karma and who it is that can liberate you from that? We know that no human soul can grant liberation to another human soul. It is only the one God who can break these karmic accounts of the bondage of karma and He is the One who comes and liberates us from the bondage of karma with knowledge and the power of yoga. This is why God is called the Bestower of Happiness. Until you know that you are a soul and whose child you are in reality and what your real virtues are, only when you have all of this in your intellect, can your bondage of karma be broken. We can only receive this knowledge from God, that is, it is only through God that our bondages of karma can break. Achcha.

BRAHMA KUMARIS MURLI 13 NOVEMBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 13 November 2018

To Read Murli 12 November 2018 :- Click Here
13-11-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – दिन में शरीर निर्वाह अर्थ कर्म करो, रात में बैठ ज्ञान का सिमरण करो, बाप को याद करो, बुद्धि में स्वदर्शन चक्र फिराओ तो नशा चढ़ेगा”
प्रश्नः- माया किन बच्चों को याद में बैठने ही नहीं देती है?
उत्तर:- जिनकी बुद्धि किसी न किसी में फँसी हुई रहती है, जिनकी बुद्धि को ताला लगा हुआ है, पढ़ाई अच्छी रीति नहीं पढ़ते हैं माया उन्हें याद में बैठने नहीं देती। वह मनमनाभव रह नहीं सकते। फिर सर्विस के लिए भी उनकी बुद्धि चलती नहीं। श्रीमत पर न चलने के कारण नाम बदनाम करते हैं, धोखा देते हैं तो सजायें भी खानी पड़ती हैं।
गीत:- तुम्हारे बुलाने को जी चाहता है…….. 

ओम् शान्ति। बच्चों ने गीत सुना। गॉड फादर को ही बुलाते हैं, कृष्ण को नहीं। बाप को कहेंगे – आओ, फिर से कंसपुरी के बदले कृष्णपुरी बनाओ। कृष्ण को तो नहीं बुलायेंगे। कृष्णपुरी को तो स्वर्ग कहा जाता है। यह कोई भी जानते नहीं, क्योंकि कृष्ण को द्वापर में ले गये हैं। यह सब भूलें शास्त्रों से हुई हैं। अभी बाप यथार्थ बात समझाते हैं। वास्तव में सारी दुनिया का बड़ा गॉड फादर है। सबको उस एक गॉड को ही याद करना है। भल मनुष्य क्राइस्ट, बुद्ध अथवा देवताओं आदि को याद करते हैं, हरेक धर्म वाले अपने धर्म स्थापक को याद करते हैं। याद करना शुरू हुआ है द्वापर से। भारत में गाया हुआ भी है दु:ख में सिमरण सब करे, सुख में करे न कोई। बाद में ही याद करने की रस्म पड़ती है, क्योंकि दु:ख है। पहले-पहले भारतवासियों ने याद शुरू किया। उन्हों को देखते दूसरे धर्म वाले भी अपने धर्म स्थापक को याद करने लग पड़ते हैं। बाप भी धर्म स्थापन करने वाला है। परन्तु मनुष्यों ने बाप को भूल श्रीकृष्ण का नाम डाल दिया है। लक्ष्मी-नारायण के धर्म का उन्हें पता नहीं है। याद तो न लक्ष्मी-नारायण को, न कृष्ण को करना है। याद एक बाप को करना है जो आदि सनातन देवी-देवता धर्म की स्थापना कर रहे हैं। फिर जब यह भक्ति मार्ग में शिव की पूजा करने लगते हैं तो समझते हैं गीता का भगवान् कृष्ण है। उनको याद करते हैं। उन्हों को देख वह भी अपने धर्म स्थापक को याद करते हैं। यह भूल जाते हैं कि यह देवता धर्म भगवान् ने स्थापन किया है। हम लिख सकते हैं कि गीता का सरमोनाइजर कृष्ण नहीं, शिवबाबा है। वह है निराकार – यह वन्डरफुल बात हुई ना। किसी के पास भी शिवबाबा का परिचय नहीं है। वह स्टॉर है। सब जगह शिव के मन्दिर हैं तो वह समझते हैं कि इतना बड़ा है, अखण्ड ज्योति तत्व है। परन्तु वह तो महतत्व में रहते हैं, जहाँ आत्मायें रहती हैं। आत्मा का रूप बरोबर स्टॉर मिसल है, परमपिता परमात्मा भी स्टॉर है। परन्तु वह नॉलेजफुल, बीजरूप होने कारण उनमें त़ाकत है। आत्माओं का पिता (बीज) परमात्मा को कहेंगे। है वह निराकार। मनुष्य को तो ओशन ऑफ नॉलेज, ओशन ऑफ लव कह न सकें इसलिए समझाने वाले बच्चों में अथॉरिटी चाहिए, जिनकी बुद्धि विशाल हो। तुम सबमें मुख्य है मम्मा, वन्दे मातरम् भी गाया हुआ है। कन्याओं द्वारा बाण मरवाये। अधर कन्या, कुँवारी कन्या का राज़ कहाँ है नहीं। सिर्फ मन्दिर से ही सिद्ध होता है। जगदम्बा भी बरोबर है। परन्तु वे जानते नहीं कि वह कौन है?

बाप कहते हैं मैं ब्रह्मा मुख कमल द्वारा रचयिता और रचना के आदि-मध्य-अन्त का राज़ बताता हूँ। ड्रामा में क्या है – यह मनुष्यों की बुद्धि में आना चाहिए। यह बेहद का ड्रामा है। इसके हम एक्टर हैं तो ड्रामा के आदि-मध्य-अन्त का राज़ बुद्धि में रहना चाहिए। जिनकी बुद्धि में यह रहता है उन्हें बहुत नशा रहता है। सारा दिन शरीर निर्वाह किया, रात को बैठ स्मृति में लाओ – यह ड्रामा कैसे चक्र लगाता है? यही मनमनाभव है। परन्तु माया रात को भी बैठने नहीं देती है। एक्टर्स की बुद्धि में तो ड्रामा का राज़ रहना चाहिए ना। परन्तु है बड़ा मुश्किल। कहाँ न कहाँ फँस पड़ते हैं तो बाबा बुद्धि का ताला बन्द कर देते हैं। बहुत बड़ी मंज़िल है। अच्छी पढ़ाई वाले फिर तनखाह भी अच्छी लेते हैं ना। यह पढ़ाई है। परन्तु बाहर जाने से भूल जाते हैं फिर अपनी मत पर चल पड़ते हैं। बाप कहते हैं – मीठे बच्चे, श्रीमत पर चलने में ही तुम्हारा कल्याण है। यह है पतित दुनिया। विकार को पॉइज़न कहा जाता है, जिसका सन्यासी लोग सन्यास करते हैं। यह रावण राज्य शुरू ही होता है द्वापर से, यह वेद-शास्त्र आदि सब भक्ति मार्ग की सामग्री हैं। सर्विस के लिए बच्चों की बुद्धि चलनी चाहिए। श्रीमत पर चलें तो धारणा भी हो। बच्चे जानते हैं विनाश सामने खड़ा है। सब दु:खी हो रड़ी मारेंगे – हे भगवान्, रहम करो। त्राहि-त्राहि करते समय भगवान् को याद करेंगे। पार्टीशन के समय कितना याद करते थे – हे भगवान्, रहम करो, रक्षा करो। अब रक्षा क्या करेंगे? रक्षा करने वाले को ही जानते नहीं तो रक्षा करेंगे कैसे? अभी बाप आया है परन्तु मुश्किल कोई की बुद्धि में बैठता है। बाप समझाते हैं ऐसे-ऐसे सर्विस करो। यह श्रीमत बाप की मिलती है। ऐसे बाप को पहचान नहीं सकते, यह भी कैसा वन्डर है! कितनी समझने की बातें हैं! सारा दिन शिवबाबा की याद बुद्धि में रहे। यह भी उनका रथ साथी ठहरा ना।

बाबा देखते हैं – बच्चे आज बहुत अच्छे निश्चयबुद्धि हैं, कल संशयबुद्धि बन जाते हैं। माया का तूफान लगने से अवस्था गिरती है तो बाबा इसमें क्या कर सकते हैं। तुम ज्ञान में आये, सरेन्डर हुए तो तुम ट्रस्टी ठहरे। तुम क्यों फिक्र करते हो? सरेन्डर किया है, फिर सर्विस भी करनी है तो रिटर्न में मिलेगा। अगर सरेन्डर हुआ है, सर्विस नहीं करता तो भी उनको खिलाना तो पड़े, तो उन पैसों से ही खाते-खाते अपना ख़त्म कर लेते हैं, सर्विस करते नहीं हैं। तुम्हें सर्विस करनी है मनुष्य को हीरे जैसा बनाने की। मुख्य बाबा की रूहानी सर्विस करनी है, जिससे मनुष्य ऊंचे बने। सर्विस नहीं करते तो जाकर दास-दासी बनेंगे। जो पढ़ाई अच्छी पढ़ते हैं, उनका मान भी ऊंचा होता है, जो नापास होंगे वह जाकर दास-दासी बनेंगे।

बाबा कहते हैं – बच्चे, मुझे याद करो और वर्सा लो। बस, यह मनमनाभव अक्षर ही राइट है। ओशन ऑफ नॉलेज कहते हैं कि मुझे याद करो तो तुम्हारे विकर्म विनाश होंगे। ऐसे कृष्ण कह न सके, बाप ही कहते हैं – मामेकम् याद करो और भविष्य राज्य पद को याद करो। यह राजयोग है ना। इससे प्रवृत्ति मार्ग सिद्ध होता है। यह तुम ही समझा सकते हो। तुम्हारे में भी जो सर्विसएबुल तीखे हैं, उन्हों को बुलाया जाता है। समझा जाता है यह होशियार हैण्ड है। बच्चों को योगयुक्त बनना है। श्रीमत पर अगर नहीं चलते तो नाम बदनाम करते हैं। धोखा देते हैं तो फिर सजायें खानी पड़ती हैं। ट्रिब्युनल भी बैठती है ना। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

रात्रि क्लास

बच्चों को पहले-पहले समझानी देनी है बाप की। बेहद का बाप ही हमको पढ़ाते हैं, गीता पढ़ने वाले कृष्ण को भगवान कहते हैं। उन्हें समझाना है कि भगवान तो निराकार को कहा जाता है। देहधारी तो बहुत हैं। बिगर देह है ही एक। वह है ऊंचे से ऊंचा शिवबाबा। यह अच्छी रीत बुद्धि में बिठाओ। बेहद के बाप से बेहद का वर्सा मिलता है, वही ऊंच ते ऊंच निराकार परमपिता परमात्मा है। वह है बेहद का बाप और यह है हद का बाप। और कोई 21 जन्मों का वर्सा नहीं देते हैं। ऐसा भी कोई बाप नहीं जिससे अमर पद मिले। अमरलोक है सतयुग। यह है मृत्युलोक। तो बाप का परिचय देने से समझेंगे, बाप से वर्सा मिलता है जिसको दैवी स्वराज्य कहा जाता है। वह बाप ही देते हैं। वही पतित-पावन गाया जाता है, वह कहते हैं अपने को आत्मा समझ मुझ बाप को याद करो तो पाप कट जायेंगे। पतित से पावन बन पावन दुनिया में चलने लायक बन सकते हो। कल्प-कल्प बाप कहते हैं मामेकम् याद करो। याद की यात्रा से ही पवित्र बनना है। अभी पावन दुनिया आ रही है। पतित दुनिया विनाश होनी है। पहले-पहले बाप का परिचय दे पक्का कराना है। जब पक्का बाप को समझ जायें तब बाप से वर्सा मिले। इसमें माया भुलाती बहुत है। तुम कोशिश करते हो बाबा को याद करने की फिर भूल जाते हो। शिवबाबा को याद करने से ही पाप कटेंगे। वह बाबा इनके द्वारा बताते हैं बच्चे मुझे याद करो। फिर भी धंधे आदि में भूल जाते हैं। यह भूलना नहीं चाहिए। यही मेहनत की बात है। बाप को याद करते-करते कर्मातीत अवस्था तक पहुँचना है। कर्मातीत अवस्था वाले को कहा जाता है फरिश्ता। तो यह पक्का याद करो कैसे किसको समझायें। पक्का निश्चय भी हो कि हम भाइयों को (आत्माओं को) समझाते हैं। सबको बाप का पैगाम देना है। कई कहते हैं बाबा पास चलूँ, दीदार करूँ। परन्तु इसमें दीदार आदि की तो बात ही नहीं है। भगवान आकर सिखलाते हैं और मुख से कहते हैं तुम मुझ अपने निराकार बाप को याद करो। याद करने से सब पाप कट जाते हैं। कहाँ भी धंधे आदि में बैठे घड़ी-घड़ी बाप को याद करना है। बाप ने हुक्म दिया है मुझे याद करो। निरन्तर याद करने वाले ही विन करेंगे। याद नहीं करेंगे तो मार्क्स कम हो जायेंगे। यह पढ़ाई है ही मनुष्य से देवता बनने की, जो एक बाप ही पढ़ाते हैं। तुम्हें चक्रवर्ती राजा बनना है, तो 84 जन्मों को (पा को) भी याद करना है। कर्मातीत अवस्था तक पहुँचने के लिए मेहनत करनी है। वह अन्त में होनी है। अन्त कोई भी समय आ सकती है, इसलिए पुरुषार्थ लगातार करना है। नित्य तुम्हारा पुरुषार्थ चलता रहे। लौकिक बाप तुम्हें ऐसे नहीं कहेंगे कि देह के सभी सम्बन्ध छोड़ अपने को आत्मा समझो। शरीर का भान छोड़ मुझे याद करो तो पाप कटेंगे। यह तो बेहद का बाप ही कहते हैं बच्चे मुझ एक की याद में रहो तो सब पाप कट जायेंगे। तुम सतोप्रधान बन जायेंगे। यह धंधा तो खुशी से करना चाहिए ना। भोजन खाते समय भी बाप को याद करना है। याद में रहने का गुप्त अभ्यास तुम बच्चों का चलता रहे तो अच्छा है। तुम्हारा ही कल्याण है। अपने को देखना है बाबा को कितना समय याद करता हूँ? अच्छा – मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति यादप्यार और गुडनाईट। ओम् शान्ति।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) मनुष्यों को हीरे जैसा बनाने की रूहानी सर्विस करनी है। कभी भी संशयबुद्धि बन पढ़ाई को नहीं छोड़ना है। ट्रस्टी होकर रहना है।

2) शरीर निर्वाह अर्थ कर्म करते भी बाप को याद करना है। श्रीमत में अपना कल्याण समझ चलते रहना है। अपनी मत नहीं चलानी है।

वरदान:- सर्व प्रति शुभ कल्याण की भावना रख परिवर्तन करने वाले बेहद सेवाधारी भव
मैजारिटी बच्चे बापदादा के आगे अपनी यह आश रखते हैं कि हमारा फलाना संबंधी बदल जाए। घर वाले साथी बन जाएं लेकिन सिर्फ उन आत्माओं को अपना समझ यह आश रखते हो तो हद की दीवार के कारण आपकी शुभ कल्याण की भावना उन आत्माओं तक पहुंचती नहीं। बेहद के सेवाधारी सर्व प्रति आत्मिक भाव वा बेहद की आत्मिक दृष्टि, भाई-भाई के संबंध की वृत्ति से शुभ भावना रखते हैं तो उसका फल अवश्य प्राप्त होता है – यही मन्सा सेवा की यथार्थ विधि है।
स्लोगन:- ज्ञान रुपी बाणों को बुद्धि रुपी तरकश में भरकर माया को ललकारने वाले ही महावीर योद्धे हैं।

मातेश्वरी जी के मधुर महावाक्य:

“मन के अशान्ति का कारण है कर्मबन्धन और शान्ति का आधार है कर्मातीत”

वास्तव में हरेक मनुष्य की यह चाहना अवश्य रहती है कि हमको मन की शान्ति प्राप्त हो जावे इसलिए अनेक प्रयत्न करते आये हैं मगर मन को शान्ति अब तक प्राप्त नहीं हुई, इसका यथार्थ कारण क्या है? अब पहले तो यह सोच चलना जरूरी है कि मन के अशान्ति की पहली जड़ क्या है? मन की अशान्ति का मुख्य कारण है – कर्मबन्धन में फंसना। जब तक मनुष्य इन पाँच विकारों के कर्मबन्धन से नहीं छूटे हैं तब तक मनुष्य अशान्ति से छूट नहीं सकते। जब कर्मबन्धन टूट जाता है तब मन की शान्ति अर्थात् जीवनमुक्ति को प्राप्त कर सकते हैं। अब सोच करना है – यह कर्मबन्धन टूटे कैसे? और उसे छुटकारा देने वाला कौन है? यह तो हम जानते हैं कोई भी मनुष्य आत्मा किसी भी मनुष्य आत्मा को छुटकारा दे नहीं सकती। यह कर्मबन्धन का हिसाब-किताब तोड़ने वाला सिर्फ एक परमात्मा है, वही आकर इस ज्ञान योगबल से कर्मबन्धन से छुड़ाते हैं इसलिए ही परमात्मा को सुख दाता कहा जाता है। जब तक पहले यह ज्ञान नहीं है कि मैं आत्मा हूँ, असुल में मैं किसकी सन्तान हूँ, मेरा असली गुण क्या है? जब यह बुद्धि में आ जाए तब ही कर्मबन्धन टूटे। अब यह नॉलेज हमें परमात्मा द्वारा ही प्राप्त होती है गोया परमात्मा द्वारा ही कर्मबन्धन टूटते हैं। अच्छा। ओम् शान्ति।

Font Resize