daily murli 13 February

TODAY MURLI 13 FEBRUARY 2021 DAILY MURLI (English)

13/02/21
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you have come to the Father to have your dormant fortune awakened. To have your fortune awakened means to become a master of the world.
Question: Which nourishment makes you children as wise as the Father?
Answer: This study is nourishment for the intellects of you children. The intellects of those who study this study every day, that is, those who take this nourishment every day, become divine. The Father, the Lord of Divinity, who is the Intellect of the Wise, makes the intellects of you children wise and divine, similar to His.
Song: I have come having awakened my fortune.

Om shanti. On hearing this line of that song, you sweetest children should have goose pimples of happiness.

It is a common song, but no one else understands the essence of it. Only the Father comes and tells you the meaning of the songs and the scriptures, etc. You sweetest children understand that, in the iron age, everyone’s fortune is dormant. In the golden age, everyone’s fortune is awakened. Only the one Father awakens your dormant fortune, gives you shrimat to create your fortune. He alone sits here and awakens the fortune of you children. As soon as children are born, their fortune awakens. After a child is born, he becomes aware that he is an heir. It is exactly the same here but this is an unlimited aspect. You children know that your fortune awakens every cycle and that it then becomes dormant. When you become pure, your fortune awakens. It is said: There is the pure household ashram. The word “ashram” is a pure word. There is the pure household ashram and, in contrast to that, there is the impure household religion. You wouldn’t say “ashram” of something impure. The household religion belongs to everyone. It also exists among the animals; all of them create children. Even animals are said to belong to the household religion. You children now know that you belonged to the pure household ashram in the golden age; you were deities. Their praise is sung: “Full of all virtues, 16 celestial degrees full”. You used to sing this yourselves. You now understand that you are once again changing from human beings into deities. It is sung that it didn’t take God long to change humans into deities. Brahma, Vishnu and Shankar are called deities. They say: “Salutations to the deity Brahma”, and then they say, “Salutations to the Supreme Soul Shiva.” You now understand the meaning of this. They simply say this out of blind faith. They even say, “Salutations to the deity Shankar.” For Shiva, they say, “Salutations to the Supreme Soul Shiva”, and so there is a difference. That one is a deity and this One is the Supreme Soul. You cannot say that Shiva and Shankar are one and the same. You know that you truly did have stone intellects and that you are now becoming those with divine intellects. Deities cannot be called those with stone intellects. According to the drama, you had to come down the ladder into Ravan’s kingdom. Now, from those with stone intellects, you have to become those with divine intellects. The one Father is the wisest of all. Your intellects now have no power at all. The Father sits here and makes the intellects of such ones divine. You come here to make your intellects divine. There are temples to the Lord of Divinity. They also have gatherings (melas) there, but no one knows who the Lord of Divinity is. In fact, it is only the one Father who makes everyone divine. He is the Intellect of the Wise. This knowledge is nourishment for the intellects of you children. The intellects are transformed so much. This world is called a forest of thorns. How much sorrow people give one another! This is the tamopradhan world of extreme hell. Many fearsome stories have been written in the Garuda Purana. The intellects of you children are now receiving nourishment. The unlimited Father is giving you nourishment. This is a study. This can also be called the nectar of knowledge. There is no water etc. Nowadays, they call everything nectar. They even say that the water of the Ganges is nectar. They wash the feet of the deity idols with that water and keep it, calling it nectar. This is also something to be understood with your intellects. Is that handful of water nectar or is the water of the Purifier Ganges nectar? The one who gives that handful of water doesn’t say that it will make the impure pure. They say of the water of the Ganges that it is the purifier. They say that when a person dies, he should have the water of the Ganges on his lips. They show that Arjuna shot an arrow and then gave nectar (nectar emerged where the arrow struck). You children have not shot any arrows. There is a village where they fight with bows and arrows. The king of that place is said to be an incarnation of God. However, no one can be an incarnation of God. In fact, there is only one true Satguru who is the Bestower of Salvation for all and He will now take all souls back with Him. No one, apart from the Father, can take you back home. There is no question of merging with the brahm element. This play is predestined; the world cycle continues to turn eternally. You now understand how the world history and geography repeat. No one else understands this. Human beings, that is, souls, don’t know their Father, the Creator, whom they remember and of whom they say, “O God, the Father“. They would never say “God, the Father” to a physical father. They use the term “God, the Father” with a lot of respect. It is to Him that they sing: O Purifier, Remover of Sorrow and Bestower of Happiness.” On the one hand, they say that He is the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness and, on the other hand, when they experience sorrow or their child dies, they say that God gives happiness and sorrow, and that God has taken away their child. What has He done? They sing praise of God but then, when something happens, they begin to insult Him. They say that God gave them that child. Therefore, if He has taken that child back, why should they cry? He has just gone to God. No one cries in the golden age. The Father explains: There is no need to cry. The soul has to go and play another part according to his karmic accounts. Because people don’t have knowledge, they cry so much, it is as though they have gone mad. Here, the Father explains: Even if your mother dies, you have to eat halva. You have to be a destroyer of attachment. Mine is the one unlimited Father and none other. You children should have such a stage. You have heard the story of the king who conquered attachment, have you not? All of those are tall stories. There is no question of sorrow in the golden age. There is never untimely death there. You children understand that you are conquering death. The Father is called the Great Death. The Death of all Deaths is enabling you to conquer death. This means you will never experience untimely death. Souls cannot experience death. A soul sheds his body and takes another. That is called experiencing death. Death isn’t anything else. People continue to sing praise but they don’t understand anything. They sing songs of praise but they don’t understand the meaning of those songs. Everything is now beyond the understanding of human beings. The Father explains: These five vices have made your intellects so poor. So many people go to Badrinath etc. Today, two to four hundred thousand people go. Even important officers go on a pilgrimage there. You don’t go there and so they say that the Brahma Kumaris have become atheists because they don’t perform devotion. You then tell them that those who don’t know God are atheists. No one knows the Father and this is why this is called a world of orphans; they continue to fight and quarrel among themselves so much. This whole world is Baba’s home, is it not? The Father comes to purify the children of the whole world. For half the cycle, there truly was the pure world. They even sing: As is King Rama, so are the subjects of Rama. As Rama is wealthy, so too are his subjects. How could there be anything unrighteous there? They even say that the lion and the lamb drink water together there. So, where could Ravan etc. come from? They don’t understand anything. When people abroad hear those things they are amused. You children know that the Father, the Ocean of Knowledge, has come and that he is now giving you knowledge. This world is impure. Would He purify the impure through inspiration? People call out: “O Purifier, come! Come and purify us!” Therefore, He must surely have come in Bharat. Even today, He tells us: I, the Ocean of Knowledge, have come. You children know that only Shiv Baba has all the knowledge. That Father sits here and explains all of these things to you children. In the scriptures, they are all tall stories. They mention the name of God Vyas. They say that he wrote the scriptures, that Vyas belonged to the path of devotion. This One is Vyas Dev and you, His children, are Sukh Deva (bestowers of happiness). You are now becoming deities (bestowers) of happiness. You are receiving your inheritance of happiness from Vyas, Shiva, the Teacher (Shivacharya). You are the children of Vyas. So that people don’t become confused, you are called the children of Shiva. His real name is Shiva. The Father now says: Since Shiv Baba is personally sitting in front of you, stop looking at bodily beings. Souls can be realised and the Supreme Soul can also be realised. He is the Supreme Father, the Supreme Soul, Shiva. He comes and shows you the path to become pure from impure. He says: I am the Father of you souls. A soul can be realised, it cannot be seen. The Father asks: Has each of you realised that you are a soul? An imperishable part is recorded in such a tiny soul just like a record. You know that you souls adopt bodies. At first you were soul conscious and then you became body conscious. You know that you souls take 84 births. There is no end to this. Some people ask when this drama began. However, this drama is eternal; it is never destroyed. This is called the predestined, imperishable world drama. The Father sits here and explains to you children, just as uneducated children are taught. The soul resides in the body. This is food for stone intellects. The intellect receives understanding. Baba has had pictures made for you children. It is very easy. This is the Trimurti: Brahma, Vishnu and Shankar. Why is Brahma called Trimurti? They say, “Deity, Deity, Great Deity”. They place one above the other, but they don’t understand the meaning of that. How can Brahma be a deity? Prajapita Brahma has to exist here. These things are not mentioned in the scriptures. The Father says: I enter this body and explain to you through him. I make this one belong to Me. I come in the last of his many births. This one also renounces the five vices. Those who adopt renunciation are called yogis and rishis. You have now become Raj Rishis. You have renounced the five vices and this is why your name is changed. You become Raja Yogis. You make a promise. Those sannyasis renounce their homes and families and go away. Here, husband and wife live together and promise that they will never indulge in vice. The main thing is vice. You children know that Shiv Baba is the Creator. He creates the new world. He is the Seed, the Truth, the Living Being, the Ocean of Bliss and the Ocean of Knowledge. Only the Father knows how establishment, destruction and sustenance take place; human beings don’t know this. They very quickly say: You Brahma Kumaris will bring about the destruction of the world. Achcha, may you have a rose in your mouth (May what you say come true)! They say that you are instruments to bring about destruction, that you don’t believe in the scriptures, in devotion or in gurus and that you just listen to your Dada. However, the Father, Himself, says: This is an impure body and I have entered him. There cannot be anyone pure in the impure world. People simply repeat the things they have heard from others. It was through such rumours that Bharat has become so degraded. It is then that the Father comes, tells you the truth and grants salvation to everyone. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Claim your inheritance of happiness from the Father and become a deity (bestower) of happiness. Give happiness to everyone. In order to become a Raj Rishi renounce all the vices.
  2. This study is real nourishment. In order to attain salvation, stop listening to rumours and follow shrimat. Listen to only the one Father. Become a conqueror of attachment.
Blessing: May you be worthy of respect and worthy of worship and give respect to everyone with your stage of humility by constantly remaining stable in your self-respect.
The Father’s praise is your self-respect. Remain stable in this self-respect and you will become humble and automatically continue to receive respect from everyone. You do not receive respect by asking for it, for it is by giving respect, by being stable in your self-respect and renouncing respect that you receive the fortune of being worthy of respect and worthy of worship, because to give respect is not giving it but receiving it.
Slogan: As well as being one who knows everything, be the one who does everything and who continues to distribute the prasad (holy food) of experience to weak (powerless) souls.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 13 FEBRUARY 2021 : AAJ KI MURLI

13-02-2021
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – तुम बाप के पास आये हो अपनी सोई हुई तकदीर जगाने, तकदीर जगना माना विश्व का मालिक बनना”
प्रश्नः- कौन सी खुराक तुम बच्चों को बाप समान बुद्धिवान बना देती है?
उत्तर:- यह पढ़ाई है तुम बच्चों के बुद्धि की खुराक। जो रोज़ पढ़ाई पढ़ते हैं अर्थात् इस खुराक को लेते हैं उनकी बुद्धि पारस बन जाती है। पारसनाथ बाप जो बुद्धिवानों की बुद्धि है वह तुम्हें आपसमान पारसबुद्धि बनाते हैं।
गीत:- तकदीर जगाकर आई हूँ……..

ओम् शान्ति। गीत की लाइन सुनकर के भी मीठे-मीठे बच्चों के रोमांच खड़े हो जाने चाहिए। है तो कॉमन गीत परन्तु इनका सार और कोई नहीं जानते। बाप ही आकर गीत, शास्त्र आदि का अर्थ समझाते हैं। मीठे-मीठे बच्चे यह भी जानते हैं कि कलियुग में सबकी तकदीर सोई हुई है। सतयुग में सबकी तकदीर जगी हुई है। सोई हुई तकदीर को जगाने वाला और श्रीमत देने वाला अथवा तदबीर बनाने वाला एक ही बाप है। वही बैठ बच्चों की तकदीर जगाते हैं। जैसे बच्चे पैदा होते हैं और तकदीर जग जाती है। बच्चा जन्मा और उनको यह पता पड़ जाता है कि हम वारिस हैं। हूबहू यह फिर बेहद की बात है। बच्चे जानते हैं – कल्प-कल्प हमारी तकदीर जगती है फिर सो जाती है। पावन बनते हैं तो तकदीर जगती है। पावन गृहस्थ आश्रम कहा जाता है। आश्रम अक्षर पवित्र होता है। पवित्र गृहस्थ आश्रम, उनके अगेन्स्ट फिर है अपवित्र पतित गृहस्थ धर्म। आश्रम नहीं कहेंगे। गृहस्थ धर्म तो सबका है ही। जानवरों में भी है। बच्चे तो सब पैदा करते ही हैं। जानवरों को भी कहेंगे गृहस्थ धर्म में हैं। अब बच्चे जानते हैं – हम स्वर्ग में पवित्र गृहस्थ आश्रम में थे, देवी-देवता थे। उन्हों की महिमा भी गाते हैं सर्वगुण सम्पन्न, 16 कला सम्पूर्ण…… तुम खुद भी गाते थे। अब समझते हो हम मनुष्य से देवता फिर से बन रहे हैं। गायन भी है मनुष्य से देवता…..। ब्रह्मा-विष्णु-शंकर को भी देवता कहते हैं। ब्रह्मा देवताए नम: फिर कहते हैं शिव परमात्माए नम:। अभी उनका अर्थ भी तुम जानते हो। वह तो अन्धश्रद्धा से सिर्फ कह देते हैं। अब शंकर देवताए नम: कहेंगे। शिव के लिए कहेंगे शिव परमात्माए नम: तो फ़र्क हुआ ना। वह देवता हो गया, वह परमात्मा हो गया। शिव और शंकर को एक कह नहीं सकते। तुम जानते हो हम बरोबर पत्थरबुद्धि थे, अब पारसबुद्धि बन रहे हैं। देवताओं को तो पत्थरबुद्धि नहीं कहेंगे। फिर ड्रामा अनुसार रावण राज्य में सीढ़ी उतरनी है। पारसबुद्धि से पत्थरबुद्धि बनना है। सबसे बुद्धिवान तो एक ही बाप है। अभी तुम्हारी बुद्धि में दम नहीं रहा है। बाप उनको बैठ पारसबुद्धि बनाते हैं। तुम यहाँ आते हो पारसबुद्धि बनने। पारसनाथ के भी मन्दिर हैं। वहाँ मेले लगते हैं। परन्तु यह किसको पता नहीं कि पारसनाथ कौन है। वास्तव में पारस बनाने वाला तो बाप ही है। वह है बुद्धिवानों की बुद्धि। यह ज्ञान है तुम बच्चों की बुद्धि के लिए खुराक, इससे बुद्धि कितना पलटती है। यह दुनिया है कांटों का जंगल। कितना एक-दो को दु:ख देते हैं। अभी है ही तमोप्रधान रौरव नर्क। गरुड़ पुराण में तो बहुत रोचक बातें लिख दी हैं।

अभी तुम बच्चों की बुद्धि को खुराक मिल रही है। बेहद का बाप खुराक दे रहे हैं। यह है पढ़ाई। इसको ज्ञान अमृत भी कह देते हैं। कोई जल आदि है नहीं। आजकल सब चीज़ों को अमृत कह देते हैं। गंगाजल को भी अमृत कहते हैं। देवताओं के पैर धोकर पानी रखते हैं, उसको अमृत कह देते हैं। अब यह भी बुद्धि से समझने की बात है ना। यह अंचली अमृत है वा पतित-पावनी गंगा का जल अमृत है? अचंली जो देते हैं वह ऐसे नहीं कहते कि यह पतितों को पावन बनाने वाला है, गंगाजल के लिए कहते हैं पतित-पावनी है। कहते भी हैं मनुष्य मरे तो गंगाजल मुख में हो। दिखाते हैं अर्जुन ने बाण मारा फिर अमृत जल पिलाया। तुम बच्चों ने कोई बाण आदि नहीं चलाये हैं। एक गांव हैं जहाँ बाणों से लड़ते हैं। वहाँ के राजा को ईश्वर का अवतार कहते हैं। अब ईश्वर का अवतार तो कोई हो नहीं सकता। वास्तव में सच्चा-सच्चा सतगुरू तो एक ही है, जो सर्व का सद्गति दाता है। जो सभी आत्माओं को साथ ले जाते हैं। बाप के सिवाए वापिस कोई भी ले जा नहीं सकता। ब्रह्म में लीन हो जाने की भी बात नहीं है। यह नाटक बना हुआ है। सृष्टि का चक्र अनादि फिरता ही रहता है। वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी कैसे रिपीट होती है, यह अभी तुम जानते हो और कोई नहीं जानता। मनुष्य अर्थात् आत्मायें अपने बाप रचयिता को भी नहीं जानती हैं, जिसको याद भी करते हैं ओ गॉड फादर। हद के बाप को कभी गॉड फादर नहीं कहेंगे। गॉड फादर अक्षर बहुत रिस्पेक्ट से कहते हैं। उनके लिए ही गाते हैं पतित-पावन, दु:ख हर्ता सुख कर्ता है। एक तरफ कहते हैं वह दु:ख हर्ता सुख कर्ता है और जब कोई दु:ख होता है वा बच्चा आदि मर जाता है तो कह देते ईश्वर ही दु:ख-सुख देता है। ईश्वर ने हमारा बच्चा ले लिया। यह क्या किया? अब महिमा एक गाते हैं और फिर कुछ होता है तो ईश्वर को गालियाँ देते हैं। कहते भी हैं ईश्वर ने बच्चा दिया है, फिर अगर उसने वापिस ले लिया तो तुम रोते क्यों हो? ईश्वर के पास गया ना। सतयुग में कभी कोई रोते नहीं। बाप समझाते हैं रोने की तो कोई दरकार नहीं। आत्मा को अपने हिसाब-किताब अनुसार जाए दूसरा पार्ट बजाना है। ज्ञान न होने कारण मनुष्य कितना रोते हैं, जैसे पागल हो जाते हैं। यहाँ तो बाप समझाते हैं – अम्मा मरे तो भी हलुआ खाना….. नष्टोमोहा होना है। हमारा तो एक ही बेहद का बाप है, दूसरा न कोई। ऐसी अवस्था बच्चों की होनी चाहिए। मोहजीत राजा की कथा भी सुनी है ना। यह हैं सब दन्त कथायें। सतयुग में कभी दु:ख की बात नहीं होती। न कभी अकाले मृत्यु होती है। बच्चे जानते हैं हम काल पर जीत पाते हैं, बाप को महाकाल भी कहते हैं। कालों का काल तुमको काल पर जीत पहनाते हैं अर्थात् काल कभी खाता नहीं। काल आत्मा को तो नहीं खा सकता। आत्मा एक शरीर छोड़ दूसरा लेती है, उसको कहते हैं काल खा गया। बाकी काल कोई चीज़ नहीं है। मनुष्य महिमा गाते रहते, समझते कुछ भी नहीं। गाते हैं अचतम् केशवम्…… अर्थ कुछ नहीं समझते। बिल्कुल ही मनुष्य समझ से बाहर हो गये हैं। बाप समझाते हैं यह 5 विकार तुम्हारी बुद्धि को कितना खराब कर देते हैं। कितने मनुष्य बद्रीनाथ आदि पर जाते हैं। आज दो लाख गये, 4 लाख गये….. बड़े-बड़े ऑफीसर्स भी जाते हैं तीर्थ करने। तुम तो जाते नहीं तो वह कहेंगे यह बी.के. तो नास्तिक हैं क्योंकि भक्ति नहीं करते। तुम फिर कहते हो जो भगवान को नहीं जानते वो नास्तिक हैं। बाप को तो कोई नहीं जानते इसलिए इनको आरफन की दुनिया कहा जाता है। कितना आपस में लड़ते-झगड़ते रहते हैं। यह सारी दुनिया बाबा का घर है ना। बाप सारी दुनिया के बच्चों को पतित से पावन बनाने आते हैं। आधाकल्प बरोबर पावन दुनिया थी ना। गाते भी हैं राम राजा, राम प्रजा, राम साहूकार है….. वहाँ फिर अधर्म की बात कैसे हो सकती। कहते भी हैं वहाँ शेर-बकरी इकट्ठे जल पीते हैं फिर वहाँ रावण आदि कहाँ से आये? समझते नहीं। बाहर वाले तो ऐसी बातें सुनकर हंसते हैं।

तुम बच्चे जानते हो – अभी ज्ञान का सागर बाप आकर हमें ज्ञान देते हैं। यह पतित दुनिया है ना। अब प्रेरणा से पतितों को पावन बनायेंगे क्या? बुलाते हैं हे पतित-पावन आओ, आकर हमको पावन बनाओ तो जरूर भारत में ही आया था। अब भी कहते हैं मैं ज्ञान का सागर आया हूँ। तुम बच्चे जानते हो शिवबाबा में ही सारा ज्ञान है, वही बाप बैठ बच्चों को यह सब बातें समझाते हैं। शास्त्रों में सब है दंत कथायें। नाम रख दिया है – व्यास भगवान ने शास्त्र बनाये। अब वह व्यास था भक्ति मार्ग का। यह है व्यास देव, उनके बच्चे तुम सुख देव हो। अब तुम सुख के देवता बनते हो। सुख का वर्सा ले रहे हो व्यास से, शिवाचार्य से। व्यास के बच्चे तुम हो। परन्तु मनुष्य मूंझ न जाएं इसलिए कहा जाता है शिव के बच्चे। उनका असुल नाम है ही शिव। तो अब बाप कहते हैं – किसी देहधारी को मत देखो। जबकि शिवबाबा सम्मुख बैठे हैं। आत्मा को जाना जाता है, परमात्मा को भी जाना जाता है। वह परमपिता परमात्मा शिव। वही आकर पतित से पावन बनने का रास्ता बताते हैं। कहते हैं मैं तुम आत्माओं का बाप हूँ। आत्मा को रियलाइज़ किया जाता है, देखा नहीं जाता है। बाप पूछते हैं अब तुमने अपनी आत्मा को रियलाइज़ किया? इतनी छोटी सी आत्मा में अविनाशी पार्ट नूंधा हुआ है। जैसे एक रिकार्ड है।

तुम जानते हो हम आत्मा ही शरीर धारण करती हैं। पहले तुम देह-अभिमानी थे, अब देही-अभिमानी हो। तुम जानते हो हम आत्मा 84 जन्म लेती हैं। उनका एन्ड (अन्त) नहीं होता। कोई-कोई पूछते हैं यह ड्रामा कब से शुरू हुआ? परन्तु यह तो अनादि है, कभी विनाश नहीं होता। इनको कहा जाता है बना-बनाया अविनाशी वर्ल्ड ड्रामा। तो बाप बैठ बच्चों को समझाते हैं। जैसे अनपढ़ बच्चों को पढ़ाई दी जाती है। आत्मा ही शरीर में रहती है। यह है पत्थरबुद्धि के लिए फूड (भोजन), बुद्धि को समझ मिलती है। तुम बच्चों के लिए बाबा ने चित्र बनवाये हैं। बहुत सहज हैं। यह है त्रिमूर्ति ब्रह्मा-विष्णु-शंकर। अब ब्रह्मा को भी त्रिमूर्ति क्यों कहते हैं? देव-देव महादेव। एक-दो के ऊपर रखते हैं, अर्थ कुछ भी नहीं जानते। अब ब्रह्मा देवता कैसे हो सकता। प्रजापिता ब्रह्मा तो यहाँ होना चाहिए। यह बातें कोई शास्त्रों में नहीं हैं। बाप कहते हैं मैं इस शरीर में प्रवेश कर इन द्वारा तुमको समझाता हूँ। इनको अपना बनाता हूँ। इनके बहुत जन्मों के अन्त में आता हूँ। यह भी 5 विकारों का संन्यास करते हैं। संन्यास करने वाले को योगी, ऋषि कहा जाता है। अभी तुम राजऋषि बने हो। 5 विकारों का संन्यास तुमने किया है तो नाम बदलता है। तुम तो राजयोगी बनते हो। तुम प्रतिज्ञा करते हो। वह संन्यासी लोग तो घरबार छोड़ चले जाते हैं। यहाँ तो स्त्री-पुरुष इकट्ठे रहते हैं, प्रतिज्ञा करते हैं हम विकार में कभी नहीं जायेंगे। मूल बात है ही विकार की।

तुम बच्चे जानते हो शिवबाबा रचयिता है। वह नई रचना रचते हैं। वह बीजरूप, सत् चित आनन्द का सागर, ज्ञान का सागर है। स्थापना, विनाश, पालना कैसे करते हैं – यह बाप जानते हैं, मनुष्य नहीं जानते। फट से कह देते तुम बी.के. तो दुनिया का विनाश करेंगी। अच्छा, तुम्हारे मुख में गुलाब। कहते हैं यह तो विनाश के लिए निमित्त बनी हैं। न शास्त्रों को, न भक्ति को, न गुरूओं को मानती हैं, सिर्फ अपने दादा को मानती हैं। लेकिन बाप तो खुद कहते हैं यह पतित शरीर है, मैंने इनमें प्रवेश किया है। पतित दुनिया में तो कोई पावन होता नहीं। मनुष्य तो जो सुनी-सुनाई बातें सुनते हैं वह बोले देते हैं। ऐसी सुनी-सुनाई बातों से तो भारत दुर्गति को पाया है, तब बाप आकर सच सुनाए सबकी सद्गति करते हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बाप से सुख का वर्सा लेकर सुख का देवता बनना है। सबको सुख देना है। राजऋषि बनने के लिए सर्व विकारों का संन्यास करना है।

2) पढ़ाई ही सच्ची खुराक है। सद्गति के लिए सुनी-सुनाई बातों को छोड़ श्रीमत पर चलना है। एक बाप से ही सुनना है। मोहजीत बनना है।

वरदान:- सदा स्वमान में स्थित रह निर्मान स्थिति द्वारा सर्व को सम्मान देने वाले माननीय, पूज्यनीय भव
जो बाप की महिमा है वही आपका स्वमान है, स्वमान में स्थित रहो तो निर्मान बन जायेंगे, फिर सर्व द्वारा स्वत: ही मान मिलता रहेगा। मान मांगने से नहीं मिलता लेकिन सम्मान देने से, स्वमान में स्थित होने से, मान का त्याग करने से सर्व के माननीय वा पूज्यनीय बनने का भाग्य प्राप्त हो जाता है क्योंकि सम्मान देना, देना नहीं लेना है।
स्लोगन:- जाननहार के साथ करनहार बन असमर्थ आत्माओं को अनुभूति का प्रसाद बांटते चलो।

TODAY MURLI 13 FEBRUARY 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 13 February 2020

13/02/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, in order to attain peace, become bodiless. It is only when you become body conscious that there is peacelessness. Therefore, remain stable in your original religion.
Question: What is accurate remembrance? To what particular aspect should you pay special attention at the time of remembrance?
Answer: Accurate remembrance is when you consider yourself to be a soul, distinct from your body, and you remember the Father. Pay attention that you don’t remember anyone’s body. In order to stay in remembrance, you should have the intoxication of knowledge. It should remain in your intellect that Baba is making you into a master of the world that you are to become a master of the whole world: the earth, sea and sky.
Song: Having found You, we have found the whole world; the earth and the sky all belong to us.

Om shanti. The meaning of “om” is: I am a soul. People believe that “om” means God, but that is not right. “Om” means: I am a soul and this is my body. People say, “Om shanti”. The original religion of myself, the soul, is peace. The soul gives his own introduction. Although people say “Om shanti” they do not understand the meaning of “Om” at all. The words “Om shanti” are very good. I am a soul and my original religion is peace. I, a soul, am a resident of the land of peace. The meaning is so simple. It is not a long and false explanation. People of today don’t even know whether the world is new or old. No one knows when the new world becomes old or when the old world becomes new again. When you ask anyone when the old world becomes new and how it then becomes old, no one is able to tell you. It is now the iron-aged, old world. The new world is called the golden age. How many years does it take for the new world to become old? No one knows this. Even though they are human beings, they do not know this. Therefore, human beings are said to be worse than animals. At least animals don’t say anything about themselves. However, human beings say: We are impure. They call out: “O Purifier come!”, but they don’t know who He is. The word “pure” is so good. Only the pure world, heaven, would be the new world. There are images of those deities but no one knows that Lakshmi and Narayan are the masters of the new, pure world. Only the unlimited Father sits here and explains all of these things to you children. The new world is called heaven and the deities are said to be the residents of heaven. At present, this old world is hell. People here are residents of hell. When someone dies, people say that he has gone to live in heaven. Therefore, this means that they are living in hell. According to their own understanding, this really is hell. However, if you told them directly that they are residents of hell, they would become upset with you. The Father explains: Although they look like human beings and their faces are like those of human beings, their characters are like those of monkeys. This too has been remembered. They themselves go in front of the deity idols in the temples and say: You are full of all virtues. However, what do they say of themselves? That they are degraded sinners, but if you told them directly that they are vicious, they would become upset with you. This is why the Father only talks and explains to you children. He doesn’t go to talk to people outside because iron-aged people are residents of hell. You are now residents of the confluence age. You are becoming pure. You understand that it is Shiv Baba who is teaching us Brahmins. He is the Purifier. The Father has come to take us souls back home. This is such a simple matter! The Father says: Children, you souls came from the land of peace to play your parts. Everyone is unhappy in this land of sorrow and this is why they ask for peace of mind. They don’t ask who their souls can become peaceful. You say: Om shanti. My original religion is peace. So, why do you ask for peace? Because you forgot that you yourself are a soul and that you have been body conscious. Souls reside in the land of peace, so how can there be peace here? It is only when you become bodiless that you can have peace. Each soul here is combined with a body and so they all definitely have to talk and walk. I, this soul, came from the land of peace to play a part. No one understands that Ravan is the enemy. When was it that Ravan became your enemy? None of them knows this. Not a single scholar or pundit etc. knows who Ravan is; they don’t know the one whose effigy they burn. They have been burning it for many births and yet they don’t know anything. If you ask any of them who Ravan is, they would say: It’s just imagination! They don’t know anything, and so what response could they give? It is mentioned in a scripture: Hey Rama, this world was not created, but it is all imagination. Many say this. Now, what is the meaning of imagination? It is said that this is a world of imagination. Whatever thoughts one has, that happens. They do not understand the meaning. The Father sits here and explains to you children. Some of you understand very clearly whereas others do not understand anything at all. Those who understand clearly are real children, whereas those who understand nothing at all are stepchildren. Stepchildren never become heirs. Baba has real children and stepchildren. Real children are those who follow the Father’s shrimat completely, whereas stepchildren do not. The Father then says: This one is not following My directions; he is following Ravan’s directions. There are the two words: Rama and Ravan. There is the kingdom of Rama whereas this is the kingdom of Ravan. It is now the confluence of the two. The Father explains to them. All of these Brahma Kumars and Kumaris are claiming their inheritance from Shiv Baba. Do you too want to claim it? Will you follow these elevated directions? They ask: Whose directions? The Father gives you shrimat for you to become pure. They then say: I will stay pure, but if my husband doesn’t accept this, to whom should I listen? My husband is my god. In Bharat they are told that their husband is their guru, their god, their everything! However, no one really believes it. They simply say “Yes” at that time but they don’t accept it at all. They still continue to go to their gurus and to the temples. The husband says: Don’t go out! I will give you an image of Rama and you can keep that and worship at home. Why do you wander to Ayodhya (Rama’s birthplace)? She wouldn’t listen to anything; it is the stumbling of the path of devotion. She will definitely continue to stumble along there; she won’t listen to anyone, because she believes that the temple there is Rama’s. However, who is it that you have to remember? Is it Rama or his temple? They don’t understand anything! Therefore, the Father explains: On the path of devotion you call out to God, “Come and grant us salvation”, because only He is the Bestower of Salvation for all. Achcha, when does He come? No one knows this. The Father explains that Ravan is your enemy. The wonder of Ravan is that, although people continue to burn effigies of him, he never dies. No one knows what Ravan is. You children now know that you receive your inheritance from the unlimited Father. They celebrate Shiv Jayanti but they do not know who Shiva is. You explain to the people of the Government that Shiv is God and that He comes in this one age every cycle and changes Bharat from hell into heaven. He changes beggars into princes. He purifies the impure. He is the Bestower of Salvation for all. All human beings are now here. Even the soul of Christ is here in some form. No one can return home yet. Only the one great Father can grant salvation to everyone, and He only comes in Bharat. In fact, you should only perform devotion of the One who grants salvation. That incorporeal Father doesn’t reside here. He is always thought of and remembered as being up above, whereas no one considers Krishna to be up above. They remember Krishna and everyone else as being down here. The remembrance of you children is accurate. You consider yourselves to be distinct from your bodies. You consider yourselves to be souls and you remember the Father. The Father says: You must not remember anyone’s body. It is most essential to pay attention to this. Simply consider yourselves to be souls and remember the Father. Baba is making us into the masters of the whole world. He makes us into the masters of the whole earth, sea and sky. It’s all now divided into bits and pieces. They don’t let you cross their borders. None of these things exist there. Only God is the Father. It isn’t that everyone is the Father. Although they say that the Hindus and the Chinese are brothers and that the Hindus and the Muslims are brothers, they don’t understand the meaning of that. They never say that the Hindus and Muslims are brothers and sisters; no. All souls are brothers, but they don’t understand that. When they listen to the scriptures etc., they simply say, “It’s true, it’s true”, but they don’t understand the meaning of them. In fact, they all are false. In the land of truth they only speak the truth, whereas here, there is nothing but falsehood. If you said to any of them that they were telling lies, they would become upset with you. Even though you spoke the truth, some people would start insulting you. Only you Brahmins now know the Father. You children are now imbibing divine virtues. You know that even the five elements are now totally impure. Nowadays, people even worship the devil spirit a lot. They continue to remember the devil spirit. The Father says: Consider yourselves to be souls and constantly remember Me alone. Do not remember the devil spirit. Whilst living at home with your families, keep your intellects in yoga with the Father. You now have to become soul conscious. Your sins will be absolved to the extent that you remember the Father. Each of you have now received a third eye of knowledge. You now have to become conquerors of sinful actions. That is the age of those who have conquered sinful acts, and this is the age of those who perform sinful acts. You gain victory over sinful acts with the power of yoga. The yoga of Bharat is very famous, but people do not know it. Sannyasis go abroad and say that they have come to teach them the yoga of Bharat, but the people there don’t know that sannyasis are hatha yogis who cannot teach Raj Yoga. You are Raj Rishis. They are limited sannyasis, whereas you are unlimited sannyasis. There is the difference of day and night. No one but you Brahmins can teach Raj Yoga. This is a new aspect. New ones that come cannot understand these things. This is why new ones are not allowed to come here. This is the Court of Indra (God who rains knowledge). Everyone now has a stone intellect. Everyone in the golden age has a divine intellect. It is now the confluence of the two. No one but the Father can change you from a stone into a diamond. You have come here to have your intellects made divine. Bharat truly was the “Golden Sparrow”. Lakshmi and Narayan were the masters of the world. No one knows when they used to rule. It used to be their kingdom 5000 years ago. Where did they go? You can explain that they have been taking 84 births. At present they are tamopradhan and are now being made satopradhan by the Father. The same applies to you. Only the Father, none of the sages or holy men etc., can give this knowledge. That is the path of devotion and this is the path of knowledge. By listening to the very good songs that you children have, you will have goose pimples and your mercury of happiness will rise very high. This intoxication has to remain constant. This is the nectar of knowledge. People become intoxicated from drinking alcohol, whereas you have the nectar of knowledge here. Your intoxication should not decrease; it should remain constantly high. You become happy on seeing the picture of Lakshmi and Narayan. You know that you are becoming that elevated by following shrimat. Whilst observing everything here, your intellects should remain in yoga with the Father and that inheritance. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to become a conqueror of sinful acts, you have to gain victory over them with the power of yoga. Whilst observing everything here, your intellects should be in yoga with the Father and the inheritance.
  2. In order to receive your full right to the inheritance from the Father, you have to become real children. Only follow the one Father’s shrimat. Clearly understand the things that the Father explains to you and then explain them to others.
Blessing: May you become a searchlight that removes the curtain of ignorance with the light of perfection.
The time for revelation is now coming close. Therefore, become introverted and fill yourself with jewels of deep experiences. Become such a searchlight that the curtain of ignorance is removed with your light of perfection. You are a star of the earth who will save the world from upheaval and make the world happy and golden. You are a most elevated soul who is an instrument to give the breath of happiness and peace to the world.
Slogan: Remain distant from any attraction of Maya and matter and you will stay constantly happy.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 13 FEBRUARY 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 13 February 2020

13-02-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – शान्ति चाहिए तो अशरीरी बनो, इस देह-भान में आने से ही अशान्ति होती है, इसलिए अपने स्वधर्म में स्थित रहो”
प्रश्नः- यथार्थ याद क्या है? याद के समय किस बात का विशेष ध्यान चाहिए?
उत्तर:- अपने को इस देह से न्यारी आत्मा समझकर बाप को याद करना – यही यथार्थ याद है। कोई भी देह याद न आये, यह ध्यान रखना जरूरी है। याद में रहने के लिए ज्ञान का नशा चढ़ा हुआ हो, बुद्धि में रहे बाबा हमें सारे विश्व का मालिक बनाते हैं, हम सारे समुद्र, सारी धरनी के मालिक बनते हैं।
गीत:- तुम्हें पाके हमने………….

ओम् शान्ति। ओम् का अर्थ ही है अहम्, मैं आत्मा। मनुष्य फिर समझते ओम् माना भगवान, परन्तु ऐसे है नहीं। ओम् माना मैं आत्मा, मेरा यह शरीर है। कहते हैं ना – ओम् शान्ति। अहम् आत्मा का स्वधर्म है शान्त। आत्मा अपना परिचय देती है। मनुष्य भल ओम् शान्ति कहते हैं परन्तु ओम् का अर्थ कोई भी नहीं समझते हैं। ओम् शान्ति अक्षर अच्छा है। हम आत्मा हैं, हमारा स्वधर्म शान्त है। हम आत्मा शान्तिधाम की रहने वाली हैं। कितना सिम्पुल अर्थ है। लम्बा-चौड़ा कोई गपोड़ा नहीं है। इस समय के मनुष्य मात्र तो यह भी नहीं जानते कि अभी नई दुनिया है वा पुरानी दुनिया है। नई दुनिया फिर पुरानी कब होती है, पुरानी से फिर नई दुनिया कब होती है-यह कोई भी नहीं जानते। कोई से भी पूछा जाए दुनिया नई कब होती है और फिर पुरानी कैसे होती है? तो कोई भी बता नहीं सकेंगे। अभी तो कलियुग पुरानी दुनिया है। नई दुनिया सतयुग को कहा जाता है। अच्छा, नई को फिर पुराना होने में कितने वर्ष लगते हैं? यह भी कोई नहीं जानते। मनुष्य होकर यह नहीं जानते इसलिए इनको कहा जाता है जानवर से भी बदतर। जानवर तो अपने को कुछ कहते नहीं, मनुष्य कहते हैं हम पतित हैं, हे पतित-पावन आओ। परन्तु उनको जानते बिल्कुल ही नहीं। पावन अक्षर कितना अच्छा है। पावन दुनिया स्वर्ग नई दुनिया ही होगी। चित्र भी देवताओं के हैं परन्तु कोई भी समझते नहीं, यह लक्ष्मी-नारायण नई पावन दुनिया के मालिक हैं। यह सब बातें बेहद का बाप ही बैठ बच्चों को समझाते हैं। नई दुनिया स्वर्ग को कहा जाता है। देवताओं को कहेंगे स्वर्गवासी। अभी तो है पुरानी दुनिया नर्क। यहाँ मनुष्य हैं नर्कवासी। कोई मरता है तो भी कहते हैं स्वर्गवासी हुआ तो गोया यहाँ नर्कवासी है ना। हिसाब से कह भी देंगे। बरोबर यह नर्क ठहरा परन्तु बोलो तुम नर्कवासी हो तो बिगड़ पड़ेंगे। बाप समझाते हैं देखने में तो भल मनुष्य हैं, सूरत मनुष्य की है परन्तु सीरत बन्दर जैसी है। यह भी गाया हुआ है ना। खुद भी मन्दिरों में जाकर देवताओं के आगे गाते हैं-आप सर्वगुण सम्पन्न……. अपने लिए क्या कहेंगे? हम पापी नीच हैं। परन्तु सीधा कहो कि तुम विकारी हो तो बिगड़ पड़ेंगे इसलिए बाप सिर्फ बच्चों से ही बात करते हैं, समझाते हैं। बाहर वालों से बात नहीं करते क्योंकि कलियुगी मनुष्य हैं नर्कवासी। अभी तुम हो संगमयुग वासी। तुम पवित्र बन रहे हो। जानते हो हम ब्राह्मणों को शिवबाबा पढ़ाते हैं। वह पतित-पावन है। हम सभी आत्माओं को ले जाने के लिए बाप आये हैं। कितनी सिम्पुल बातें हैं। बाप कहते हैं-बच्चे, तुम आत्मायें शान्तिधाम से आती हो पार्ट बजाने। इस दु:खधाम में सभी दु:खी हैं इसलिए कहते हैं मन को शान्ति कैसे हो? ऐसे नहीं कहते-आत्मा को शान्ति कैसे हो? अरे तुम कहते हो ना ओम् शान्ति। मेरा स्वधर्म है शान्ति। फिर शान्ति मांगते क्यों हो? अपने को आत्मा भूल देह-अभिमान में आ जाते हो। आत्मायें तो शान्तिधाम की रहने वाली हैं। यहाँ फिर शान्ति कहाँ से मिलेगी? अशरीरी होने से ही शान्ति होगी। शरीर के साथ आत्मा है, तो उनको बोलना चलना तो जरूर पड़ता है। हम आत्मा शान्तिधाम से यहाँ पार्ट बजाने आई हैं। यह भी कोई नहीं समझते कि रावण ही हमारा दुश्मन है। कब से यह रावण दुश्मन बना है? यह भी कोई नहीं जानते। बड़े-बड़े विद्वान, पण्डित आदि एक भी नहीं जानते कि रावण है कौन , जिसका हम एफीज़ी बनाकर जलाते हैं। जन्म-जन्मान्तर जलाते आये हैं, कुछ भी पता नहीं। कोई से भी पूछो-रावण कौन है? कह देंगे यह सब तो कल्पना है। जानते ही नहीं तो और क्या रेसपान्ड देंगे। शास्त्रों में भी है ना-हे राम जी संसार बना ही नहीं है। यह सब कल्पना है। ऐसे बहुत कहते हैं। अब कल्पना का अर्थ क्या है? कहते हैं यह संकल्पों की दुनिया है। जो जैसा संकल्प करता है वह हो जाता है, अर्थ नहीं समझते। बाप बच्चों को बैठ समझाते हैं। कोई तो अच्छी रीति समझ जाते हैं, कोई समझते ही नहीं हैं। जो अच्छी रीति समझते हैं उनको सगे कहेंगे और जो नहीं समझते हैं वह लगे अर्थात् सौतेले हुए। अब सौतेले वारिस थोड़ेही बनेंगे। बाबा के पास मातेले भी हैं तो सौतेले भी हैं। मातेले बच्चे तो बाप की श्रीमत पर पूरा चलते हैं। सौतेले नहीं चलेंगे। बाप कह देते हैं यह मेरी मत पर नहीं चलते हैं, रावण की मत पर हैं। राम और रावण दो अक्षर हैं। राम राज्य और रावण राज्य। अभी है संगम। बाप समझाते हैं-यह सब ब्रह्माकुमार-ब्रह्माकुमारियाँ शिवबाबा से वर्सा ले रहे हैं, तुम लेंगे? श्रीमत पर चलेंगे? तो कहते हैं कौन-सी मत? बाप श्रीमत देते हैं कि पवित्र बनो। कहते हैं हम पवित्र रहें फिर पति न माने तो मैं किसकी मानूँ? वह तो हमारा पति परमेश्वर है क्योंकि भारत में यह सिखलाया जाता है कि पति तुम्हारा गुरू, ईश्वर आदि सब कुछ है। परन्तु ऐसा कोई समझते नहीं हैं। उस समय हाँ कर देते हैं, मानते कुछ भी नहीं हैं। फिर भी गुरूओं के पास मन्दिरों में जाते रहते हैं। पति कहते हैं तुम बाहर मत जाओ, हम राम की मूर्ति तुमको घर में रखकर देते हैं फिर तुम अयोध्या आदि में क्यों भटकती हो? तो मानती नहीं। यह हैं भक्ति मार्ग के धक्के। वह जरूर खायेंगे, कभी मानेंगे नहीं। समझते हैं वह तो उनका मन्दिर है। अरे तुमको याद राम को करना है कि मन्दिर को? परन्तु समझते नहीं। तो बाप समझाते हैं भक्ति मार्ग में कहते भी हो हे भगवान आकर हमारी सद्गति करो क्योंकि वह एक ही सर्व का सद्गति दाता है। अच्छा वह कब आते हैं-यह भी कोई नहीं जानते।

बाप समझाते हैं रावण ही तुम्हारा दुश्मन है। रावण का तो वन्डर है, जो जलाते ही आते हैं लेकिन मरता ही नहीं है। रावण क्या चीज़ है, यह कोई भी नहीं जानते। अभी तुम बच्चे जानते हो हमको बेहद के बाप से वर्सा मिलता है। शिव जयन्ती भी मनाते हैं परन्तु शिव को कोई भी जानते नहीं हैं। गवर्मेन्ट को भी तुम समझाते हो। शिव तो भगवान है वही कल्प-कल्प आकर भारत को नर्कवासी से स्वर्गवासी, बेगर से प्रिन्स बनाते हैं। पतित को पावन बनाते हैं। वही सर्व के सद्गति दाता हैं। इस समय सभी मनुष्य मात्र यहाँ हैं। क्राइस्ट की आत्मा भी कोई न कोई जन्म में यहाँ है। वापिस कोई भी जा नहीं सकते। इन सबकी सद्गति करने वाला एक ही बड़ा बाप है। वह आते भी भारत में हैं। वास्तव में भक्ति भी उनकी करनी चाहिए जो सद्गति देते हैं। वह निराकार बाप यहाँ तो है नहीं। उनको हमेशा ऊपर समझकर याद करते हैं। कृष्ण को ऊपर नहीं समझेंगे। और सभी को यहाँ नीचे याद करेंगे। कृष्ण को भी यहाँ याद करेंगे। तुम बच्चों की है यथार्थ याद। तुम अपने को इस देह से न्यारा, आत्मा समझकर बाप को याद करते हो। बाप कहते हैं तुमको कोई भी देह याद नहीं आनी चाहिए। यह ध्यान जरूरी है। तुम अपने को आत्मा समझ बाप को याद करो। बाबा हमको सारे विश्व का मालिक बनाते हैं। सारा समुद्र, सारी धरनी, सारे आकाश का मालिक बनाते हैं। अभी तो कितने टुकड़े-टुकड़े हैं। एक-दो की हद में आने नहीं देते। वहाँ यह बातें होती नहीं। भगवान तो एक बाप ही है। ऐसे नहीं कि सभी बाप ही बाप हैं। कहते भी हैं हिन्दू-चीनी भाई-भाई, हिन्दू-मुस्लिम भाई-भाई परन्तु अर्थ नहीं समझते हैं। ऐसे कभी नहीं कहेंगे हिन्दू-मुस्लिम बहन-भाई। नहीं, आत्मायें आपस में सब भाई-भाई हैं। परन्तु इस बात को जानते नहीं हैं। शास्त्र आदि सुनते सत-सत करते रहते हैं, अर्थ कुछ नहीं। वास्तव में है असत्य, झूठ। सचखण्ड में सच ही सच बोलते हैं। यहाँ झूठ ही झूठ है। कोई को बोलो कि तुमने झूठ बोला तो बिगड़ पड़ेंगे। तुम सच बताते हो तो भी कोई तो गाली देने लग पड़ेंगे। अब बाप को तो तुम ब्राह्मण ही जानते हो। तुम बच्चे अभी दैवीगुण धारण करते हो। तुम जानते हो अभी 5 तत्व भी तमोप्रधान हैं। आजकल मनुष्य भूतों की पूजा भी करते हैं। भूतों की ही याद रहती है। बाप कहते हैं अपने को आत्मा समझ मामेकम् याद करो। भूतों को मत याद करो। गृहस्थ व्यवहार में रहते हुए बुद्धि का योग बाप के साथ लगाओ। अब देही-अभिमानी बनना है। जितना बाप को याद करेंगे तो विकर्म विनाश होंगे। ज्ञान का तीसरा नेत्र तुमको मिलता है।

अभी तुमको विकर्माजीत बनना है। वह है विकर्माजीत संवत। यह है विकर्मी संवत। तुम योगबल से विकर्मों पर जीत पाते हो। भारत का योग तो मशहूर है। मनुष्य जानते नहीं हैं। सन्यासी लोग बाहर में जाकर कहते हैं कि हम भारत का योग सिखलाने आये हैं, उनको तो पता नहीं यह तो हठयोगी हैं। वह राजयोग सिखला न सकें। तुम राजऋषि हो। वह हैं हद के सन्यासी, तुम हो बेहद के सन्यासी। रात-दिन का फर्क है। तुम ब्राह्मणों के सिवाए और कोई भी राजयोग सिखला न सके। यह हैं नई बातें। नया कोई समझ न सके, इसलिए नये को कभी एलाउ नहीं किया जाता है। यह इन्द्रसभा है ना। इस समय हैं सब पत्थर बुद्धि। सतयुग में तुम बनते हो पारस बुद्धि। अभी है संगम। पत्थर से पारस सिवाए बाप के कोई बना न सके। तुम यहाँ आये हो पारसबुद्धि बनने के लिए। बरोबर भारत सोने की चिड़िया था ना। यह लक्ष्मी-नारायण विश्व के मालिक थे ना। यह कभी राज्य करते थे, यह भी किसको पता थोड़ेही है। आज से 5 हज़ार वर्ष पहले इन्हों का राज्य था। फिर यह कहाँ गये। तुम बता सकते हो 84 जन्म भोगे। अभी तमोप्रधान हैं फिर बाप द्वारा सतोप्रधान बन रहे हैं, ततत्वम्। यह नॉलेज सिवाए बाप के साधू-सन्त आदि कोई भी दे न सके। वह है भक्ति मार्ग, यह है ज्ञान मार्ग। तुम बच्चों के पास जो अच्छे-अच्छे गीत हैं उन्हें सुनो तो तुम्हारे रोमांच खड़े हो जायेंगे। खुशी का पारा एक-दम चढ़ जायेगा। फिर वह नशा स्थाई भी रहना चाहिए। यह है ज्ञान अमृत। वह शराब पीते हैं तो नशा चढ़ जाता है। यहाँ यह तो है ज्ञान अमृत। तुम्हारा नशा उतरना नहीं चाहिए, सदैव चढ़ा रहना चाहिए। तुम इन लक्ष्मी-नारायण को देख कितने खुश होते हो। जानते हो हम श्रीमत से फिर श्रेष्ठाचारी बन रहे हैं। यहाँ देखते हुए भी बुद्धियोग बाप और वर्से में लगा रहे। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) विकर्माजीत बनने के लिए योगबल से विकर्मों पर जीत प्राप्त करनी है। यहाँ देखते हुए बुद्धियोग बाप और वर्से में लगा रहे।

2) बाप के वर्से का पूरा अधिकार प्राप्त करने के लिए मातेला बनना है। एक बाप की ही श्रीमत पर चलना है। बाप जो समझाते हैं वह समझकर दूसरों को समझाना है।

वरदान:- सम्पूर्णता की रोशनी द्वारा अज्ञान का पर्दा हटाने वाले सर्च लाइट भव
अभी प्रत्यक्षता का समय समीप आ रहा है इसलिए अन्तर्मुखी बन गुह्य अनुभवों के रत्नों से स्वयं को भरपूर बनाओ, ऐसे सर्च लाइट बनो जो आपके सम्पूर्णता की रोशनी से अज्ञान का पर्दा हट जाए। क्योंकि आप धरती के सितारे इस विश्व को हलचल से बचाए सुखी संसार, स्वर्णिम संसार बनाने वाले हो। आप पुरूषोत्तम आत्मायें विश्व को सुख-शान्ति की सांस देने के निमित्त हो।
स्लोगन:- माया और प्रकृति की आकर्षण से दूर रहो तो सदा हर्षित रहेंगे।

TODAY MURLI 13 FEBRUARY 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 13 February 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 12 February 2019 :- Click Here

13/02/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, always have thoughts of remembrance of the Father and churn the ocean of knowledgeand new points will continue to emerge and you will remain happy
Question: Whose wonder is the greatest in this drama and why?
Answer: 1. The greatest wonder is that of Shiva Baba because He makes you into angels in a second. He teaches you such a study that you become deities from human beings. No one in the world, only the Father, can teach you this study. 2. It is the Father’s task to give you the third eye of knowledge and take you from darkness into the light and save you from stumbling. No one else can perform such a wonderful task.

Om shanti. The spiritual Father explains every day to you children and you children listen while considering yourselves to be souls. Just as the Father is incognito, so the knowledge too is incognito. No one is able to understand what a soul is or what the Supreme Father, the Supreme Soul, is. You children should have the firm habit of considering yourselves to be souls. The Father is speaking knowledge to us souls. You have to use your intellect to understand this and then act. However, you still have to do your business etc. If someone calls you, it would surely be by your name. You have a name and form; that is why you are able to speak. You can do anything, but you simply have to make it firm that you are souls. The entire praise is of the incorporeal One. If there is praise of corporeal deities, it is because the Father made them praiseworthy. They were praiseworthy and the Father is again making them praiseworthy. This is why there is praise of the incorporeal One. If you think about it, there is so much praise of the Father and He does so much service. He is all powerful; He can do anything. We praise Him very little. There is a lot of praise of Him. Even Muslims say: God Allah commanded this. Now, in front of whom did He give this command? He gives this command in front of the children who become deities from human beings. God Allah would have given this command to someone. It is to you children that He explains. No one else has this knowledge. You children now know that this knowledge will disappear. Buddhists also say that and Christians too say that but no one knows what command He gave. The Father is explaining Alpha and beta to you. Souls cannot forget remembrance of the Father. Souls are imperishable and remembrance is also imperishable. The Father too is imperishable. They say: Allah said this. However, who is He and what did He say? They don’t know that at all. They have said that God Allah is in the pebbles and stones, and so how could they know Him? They pray on the path of devotion. You now know that whoever comes, they have to pass through the stages of sato, rajo and tamo. When Christ and Buddha come, everyone has to come down after them. There is no question of ascending. The Father comes and enables everyone to ascend. The Bestower of Salvation for all is One. No one else comes to grant salvation. Just think: If Christ came, to whom would he sit and explain? You need a very good intellect to understand these things. You should create new methods. You have to make effort and extract jewels. Therefore, Baba says: Churn the ocean of knowledge and write down points. Then read them to see what’s been missed out. Whatever part Baba has, that will continue. The Father is speaking the same knowledge as He did in the previous cycle. You children know that those who belong to a religion will come down after whoever comes to establish that religion. How would they enable others to ascend? They have to come down the ladder. First, there is happiness, then, sorrow. This play is made in a very fine way. It is necessary to churn the ocean of knowledge. They do not come to grant salvation to anyone. They come in order to establish a religion. There is only one Ocean of Knowledge; no one else has knowledge. The play of happiness and sorrow within this drama applies to everyone. You have more happiness than sorrow. Since you play parts in the drama, there must definitely be happiness. The Father would not create sorrow. The Father gives happiness to everyone. At that time there is peace in the whole world. There cannot be peace in the land of sorrow. You will only receive peace when you go back to the land of peace. The Father sits here and explains: Never forget that you are with Baba. Baba has come to make us into deities from devils. When the deities are living in salvation, the rest of the souls remain in the soul world. The greatest wonder in this drama is that of the unlimited Father, the One who makes you into angels. You become angels through this study. People on the path of devotion, don’t understand anything; they continue to rotate a rosary. Some remember Hanuman, some remember others. What is the benefit of remembering them? Baba said “maharathi” and they have shown someone riding an elephant. The Father explains all of these things. When an eminent person goes somewhere, he is treated with so much splendour. You would not do that for anyone else. You know that, at this time, the whole tree has reached its state of decay. All are born through poison. You should now have the feeling that there is no question of poison in the golden age. The Father says: I make you into multimillionaires. Sudama too became a multimillionaire. You all do everything for yourselves. The Father says: You become so elevated through this study. Everyone listens to that Gita and studies it. This one also used to study it but when the Father sat and spoke knowledge, he became wonderstruck. He attained salvation through the Father’s Gita. What did human beings sit and create? They say: God Allah said this. However they don’t understand who Allah is. If even those who belong to the deity religion don’t know God, how could those who come later know? The Gita, the jewel of all the scriptures, has been made wrong . So, what is there in the other scriptures? The things that the Father spoke to us children have disappeared. You are now listening to the Father and becoming deities. We all have to settle the accounts of this old world and we souls will then become pure. Whatever accounts we have to settle will be settled. We are the first ones to go and the first ones to come. All the rest will settle their accounts by having to endure punishment. Don’t go too much into those aspects. First enable everyone to have the faith that the Father is the Bestower of Salvation for all. Only the one Father is the Teacherand the Satguru. He is bodiless. How much knowledge there is contained within that soul! He is the Ocean of Knowledge and the Ocean of Happiness. There is so much praise of Him. He too is a soul. That soul comes and enters a body. No soul, other than the Supreme Father, the Supreme Soul, can be praised. They all praise bodily beings. That one is the Supreme Soul. No soul without a body apart from the incorporeal Father can be praised. The sanskars of knowledge are within the soul. How many sanskars of knowledge are within the Father? He is the Ocean of Love, the Ocean of Knowledge. Can this praise belong to a soul? This praise cannot be of any human being nor can it be of Krishna. He is the first number prince. The Father has the entire knowledge and He gives it to us children as our inheritance. This is why He is praised. The birth of Shiva is as valuable as a diamond. What do the founders of religions do when they come? For example, when Christ came, there were no Christians. What knowledge could he give to anyone? At the most, he would say: Behave well! Many other human beings continue to say that but no one can give the knowledge of how to attain salvation. They have all received their own individual parts. They have to pass through the stages of sato, rajo and tamo. How could a Christian church be built when he first comes? It is only when there are many of them and devotion begins that a church is built. A lot of money is required to build a church. Money is also required for wars. Therefore, the Father explains that this is the human world tree. Can a tree be hundreds of thousands of years old? That would be uncountable. The Father says: O children, you became so senseless! You are now becoming sensible. You will come and be ready to rule the kingdom at the start. They come alone and the number of them grows later. The deities are the foundation of the tree and then three tubes emerge from them. Then small sects later emerge. There is growth and later they are praised. However, there is no benefit. Everyone has to come down. You are now receiving the entire knowledge. They say: God is k nowledge-fu l l , but no one knows what knowledge that is. You are now receiving knowledge. The Lucky Chariot is definitely needed. Only when the Father enters this ordinary body does this one become lucky. In the golden age, all are multimillion times lucky. You are now receiving the third eye of knowledge through which you become Lakshmi and Narayan. You only receive knowledge once. People stumble along in the darkness on the path of devotion. Knowledge is the day. There is no stumbling in the day. The Father says: By all means, open a Gita Pathshala in your home. There are many who say: We cannot run it and so they give their space to others. That too is good. There should be a lot of s ilence here. This is the holiest of holy class es where you can sit and remember the Father peacefully. We now want to go the land of silence. Therefore, remember the Father with a lot of love. In the golden age, you attain peace and happiness for 21 births. The unlimited Father is the One who gives you the unlimited inheritance. Therefore, you should follow such a Father. You should not have arrogance; it will make you fall. You need to have a lot of patience; no stubbornness (physical force). Body consciousness is called force. You have to become very sweet. Deities are so sweet,; they have a lot of attraction. The Father is making you become like them. Therefore, you should remember such a Father so much. So you children should remember this again and again and remain cheerful. This one has the faith that, after leaving his body, he will become that (Narayan). You should first look at the picture of your aim and objective. Those who teach are physical teachers. Here, it is the incorporeal Father, the One who teaches souls, who is teaching you. You will remain happy simply by thinking about this. This one has the intoxication of how he becomes Vishnu from Brahma and how Vishnu becomes Brahma. You listen to these wonderful things, imbibe them and then relate them to others. The Father makes you all into the masters of the world, but it can be understood who will become worthy of ruling the kingdom. It is the Father’s duty to uplift the children. The Father makes you all into the masters of the world. The Father says: I do not become the Master of the world. The Father sits here and speaks knowledge through this one’s mouth. They speak of the voice from the ether (akashvani – radio), but they don’t understand the meaning of that. True akashvani is when the Father comes from up above and speaks through this Gaumukh (Cow’s mouth). Words emerge through this mouth. Children are very sweet. They say: Baba, give us toli today. Baba says: Children, you will get lots of toli. Good children would say that they are children as well as servant s. Baba feels very happy on seeing the children. You children know that very little time remains. So many bombs have been made. Would they just be thrown away like that? Whatever happened in the previous cycle, that is what will happen again. They think that there should be peace in the world. However, that cannot be possible. It is you who establish peace in the world. It is you who receive the prize of the kingdom of the world, and it is the Father who gives it to you. You claim the kingdom of the world through the power of yoga. Through physical power, there is destruction of the world. You gain victory through the power of silence. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Let your stage be that of a lot of patience. Follow the Father. Never show arrogance about anything. Become as sweet as the deities.
  2. In order to remain constantly cheerful, continue to churn knowledge. Churn the ocean of knowledge. Remain engaged in service with the awareness that you are God’s children as well as His servants.
Blessing: May you be a special soul who constantly stays in spiritual pleasure by considering every moment to be the final moment.
The confluence age is the age to stay in spiritual pleasure and so you must continue to experience spiritual pleasure at every moment. Never become confused about any situation or any test because this is the time of untimely death. If, instead of being in pleasure, you become confused for even a short time and that happens to be your final moment, what would then be the final moments? This is why you are taught the lesson of being ever ready. Any second can be deceptive and so you must consider yourself to be a special soul and create every thought, speak every word and perform every act while constantly staying in spiritual pleasure.
Slogan: In order to become unshakeable, finish anything wasteful or impure.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 13 FEBRUARY 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 13 February 2019

To Read Murli 12 February 2019 :- Click Here
13-02-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – सदा बाप की याद का चिंतन और ज्ञान का विचार सागर मंथन करो तो नई-नई प्वाइंट्स निकलती रहेंगी, खुशी में रहेंगे”
प्रश्नः- इस ड्रामा में सबसे बड़े से बड़ी कमाल किसकी है और क्यों?
उत्तर:- 1- सबसे बड़ी कमाल है शिवबाबा की क्योंकि वह तुम्हें सेकण्ड में परीज़ादा बना देते हैं। ऐसी पढ़ाई पढ़ाते हैं जिससे तुम मनुष्य से देवता बन जाते हो। दुनिया में ऐसी पढ़ाई बाप के सिवाए और कोई पढ़ा नहीं सकता। 2- ज्ञान का तीसरा नेत्र दे अन्धियारे से रोशनी में ले आना, ठोकर खाने से बचा देना, यह बाप का काम है इसलिए उन जैसी कमाल का वन्डरफुल कार्य कोई कर नहीं सकता।

ओम् शान्ति। रूहानी बाप रोज़-रोज़ बच्चों को समझाते हैं और बच्चे अपने को आत्मा समझ बाप से सुनते हैं। जैसे बाप गुप्त है वैसे ज्ञान भी गुप्त है, किसको भी समझ में नहीं आता है कि आत्मा क्या है, परमपिता परमात्मा क्या है। तुम बच्चों की पक्की आदत पड़ जानी चाहिए कि हम आत्मा हैं। बाप हम आत्माओं को सुनाते हैं। यह बुद्धि से समझना है और एक्ट में आना है। बाकी धन्धा आदि तो करना ही है। कोई बुलायेंगे तो जरूर नाम से बुलायेंगे। नाम रूप है तब तो बोल सकते हैं। कुछ भी कर सकते हैं। सिर्फ यह पक्का करना है कि हम आत्मा हैं। महिमा सारी निराकार की है। अगर साकार में देवताओं की महिमा है तो उन्हों को भी महिमा लायक बाप ने बनाया है। महिमा लायक थे, अब फिर बाप महिमा लायक बना रहे हैं इसलिए निराकार की ही महिमा है। विचार किया जाता है, बाप की कितनी महिमा है और कितनी उनकी सर्विस है। वह समर्थ है, वह सब-कुछ कर सकते हैं। हम तो बहुत थोड़ी महिमा करते हैं। महिमा तो उनकी बहुत है। मुसलमान लोग भी कहते हैं अल्लाह मिया ने ऐसे फ़रमाया। अब फ़रमाया किसके आगे? बच्चों के आगे फ़रमाते हैं, जो तुम मनुष्य से देवता बनते हो। अल्लाह मिया ने किसके प्रति तो फ़रमाया होगा ना। तुम बच्चों को ही समझाते हैं, जिसका कोई को पता ही नहीं। अभी तुमको पता पड़ा है फिर यह नॉलेज ही गुम हो जायेगी। बौद्धी भी ऐसे कहेंगे, क्रिश्चियन भी ऐसे कहेंगे। परन्तु क्या फ़रमाया था, यह किसको पता ही नहीं। बाप तुम बच्चों को अल्फ और बे समझा रहे हैं। आत्मा को बाप की याद भूल नहीं सकती। आत्मा अविनाशी है तो याद भी अविनाशी रहती है। बाप भी अविनाशी है। गाते हैं अल्लाह मिया ने ऐसे कहा था परन्तु वह कौन हैं, क्या कहते थे – यह कुछ भी नहीं जानते। अल्लाह मिया को ठिक्कर-भित्तर में कह दिया है तो जानेंगे फिर क्या? भक्ति मार्ग में प्रार्थना करते हैं। अब तुम समझते हो जो भी आते हैं, उनको सतो, रजो, तमो में आना ही है। क्राइस्ट बौद्ध जो आते हैं, उनके पीछे सबको उतरना है। चढ़ने की बात नहीं। बाप ही आकर सबको चढ़ाते हैं। सर्व का सद्गति दाता एक है। और कोई सद्गति करने नहीं आते। समझो क्राइस्ट आया, किसको बैठ समझायेंगे। इन बातों को समझने लिए अच्छी बुद्धि चाहिए। नई-नई युक्तियां निकालनी चाहिए। मेहनत करनी है, रत्न निकालना है इसलिए बाबा कहते हैं विचार सागर मंथन करके लिखो, फिर पढ़ो कि क्या-क्या मिस हुआ? बाबा का जो पार्ट है, वह चलता रहेगा। बाप कल्प पहले वाली नॉलेज सुनाते हैं। यह बच्चे जानते हैं कि जो धर्म स्थापन करने आते हैं उनके पीछे उनके धर्म वालों को भी नीचे उतरना है। वह किसको चढ़ायेंगे कैसे? सीढ़ी नीचे उतरनी ही है। पहले सुख, पीछे दु:ख। यह नाटक बड़ा फाइन बना हुआ है। विचार सागर मंथन करने की जरूरत है, वह कोई की सद्गति करने नहीं आते। वह आते हैं धर्म स्थापन करने। ज्ञान का सागर एक है और कोई में ज्ञान नहीं है। ड्रामा में दु:ख-सुख का खेल तो सभी के लिए है। दु:ख से भी सुख जास्ती है। ड्रामा में पार्ट बजाते हैं तो जरूर सुख होना चाहिए। बाप दु:ख थोड़ेही स्थापन करेंगे। बाप तो सबको सुख देते हैं। विश्व में शान्ति हो जाती है। दु:खधाम में तो शान्ति हो न सके। शान्ति तब मिलनी है जब वापिस शान्तिधाम में जायेंगे।

बाप बैठ समझाते हैं। यह कभी भूलना नहीं चाहिए कि हम बाबा के साथ हैं, बाबा आया हुआ है असुर से देवता बनाने। यह देवतायें सद्गति में रहते हैं तो बाकी सब आत्मायें मूलवतन में रहती हैं। ड्रामा में सबसे बड़ी कमाल है बेहद के बाप की, जो तुमको परीज़ादा बनाते हैं। पढ़ाई से तुम परी बनते हो। भक्ति मार्ग में समझते कुछ भी नहीं, माला फेरते रहते हैं। कोई हनुमान को, कोई किसको याद करते हैं, उनको याद करने से फायदा क्या? बाबा ने कहा है ‘महारथी’, तो उन्होंने बैठ हाथी पर सवारी दिखा दी है। यह सब बातें बाप ही समझाते हैं। बड़े-बड़े आदमी कहाँ जाते हैं तो कितनी आजयान (आवभगत) करते हैं। तुम और किसको आजयान नहीं देंगे। तुम जानते हो इस समय सारा झाड़ जड़ जड़ीभूत है। विष की पैदाइस है। तुमको अब फीलिंग आनी चाहिए कि सतयुग में विष की बात नहीं। बाप कहते हैं मैं तुमको पद्मापद्मपति बनाता हूँ। सुदामा पद्मापद्मपति बना ना। सब अपने लिए ही करते हैं। बाप कहते हैं इस पढ़ाई से तुम कितने ऊंच बनते हो। वह गीता सब सुनते, पढ़ते हैं। यह भी पढ़ता था परन्तु जब बाप ने बैठ सुनाया तो वन्डर खाया। बाप की गीता से सद्गति हुई। यह मनुष्यों ने क्या बैठ बनाया है। कहते हैं अल्लाह मिया ने ऐसे कहा। परन्तु समझते कुछ भी नहीं – अल्लाह कौन? देवी-देवता धर्म वाले ही भगवान् को नहीं जानते हैं तो जो पीछे आते हैं वह क्या जानें। सर्व शास्त्र मई शिरोमणी गीता ही रांग कर दी है तो बाकी फिर शास्त्रों में क्या होगा? बाप ने जो हम बच्चों को सुनाया वह प्राय: लोप हो गया। अब तुम बाप से सुनकर देवता बन रहे हो। पुरानी दुनिया का हिसाब तो सबको चुक्तू करना है फिर आत्मा पवित्र बन जाती है। उनका भी कुछ हिसाब-किताब होगा तो वह चुक्तू होगा। हम ही पहले-पहले जाते हैं फिर पहले-पहले आते हैं। बाकी सब सजायें खाकर हिसाब-किताब चुक्तू करेंगे। इन बातों में जास्ती न जाओ। पहले तो निश्चय कराओ कि सबका सद्गति दाता बाप है। टीचर गुरू भी वह एक ही बाप है। वह है अशरीरी। उस आत्मा में कितना ज्ञान है। ज्ञान का सागर, सुख का सागर है। कितनी उनकी महिमा है। है वह भी आत्मा। आत्मा ही आकर शरीर में प्रवेश करती है। सिवाए परमपिता परमात्मा के तो कोई आत्मा की महिमा कर नहीं सकते। और सब शरीरधारियों की महिमा करेंगे। यह है सुप्रीम आत्मा। बिगर शरीर आत्मा की महिमा सिवाए एक निराकार बाप के कोई की हो नहीं सकती। आत्मा में ही ज्ञान के संस्कार हैं। बाप में कितने ज्ञान के संस्कार हैं। प्यार का सागर, ज्ञान का सागर…. क्या यह आत्मा की महिमा है? कोई मनुष्य की यह महिमा हो न सके। कृष्ण की हो न सके। वह तो पहला नम्बर प्रिन्स है। बाप में सारी नॉलेज है जो आकर बच्चों को वर्सा देते हैं इसलिए महिमा गाई जाती है। शिव जयन्ती हीरे तुल्य है। धर्म स्थापक आते हैं, क्या करते हैं? समझो क्राइस्ट आया, उस समय क्रिश्चियन तो हैं नहीं। किसको क्या नॉलेज देंगे? करके कहेंगे अच्छी चलन चलो। यह तो बहुत मनुष्य समझाते रहते हैं। बाकी सद्गति की नॉलेज कोई दे न सके। उनको अपना-अपना पार्ट मिला हुआ है। सतो, रजो, तमो में आना ही है। आने से ही क्रिश्चियन की चर्च कैसे बनेंगी। जब बहुत होंगे, भक्ति शुरू होगी तब चर्च बनायेंगे। उसमें बहुत पैसे चाहिए। लड़ाई में भी पैसे चाहिए। तो बाप समझाते हैं यह मनुष्य सृष्टि झाड़ है। झाड़ कभी लाखों वर्ष का होता है क्या? हिसाब नहीं बनता। बाप कहते हैं – हे बच्चे, तुम कितने बेसमझ बन गये थे। अभी तुम समझदार बनते हो। पहले से ही तैयार होकर आते हो, राज्य करने। वह तो अकेले आते हैं फिर बाद में वृद्धि होती है। झाड़ का फाउन्डेशन देवी-देवता, उनसे फिर 3 ट्यूब निकलती हैं। फिर छोटे-छोटे मठ-पंथ आते हैं। वृद्धि होती है फिर उनकी कुछ महिमा हो जाती है। परन्तु फायदा कुछ भी नहीं। सबको नीचे आना ही है। तुमको अभी सारी नॉलेज मिल रही है। कहते हैं गॉड इज नॉलेजफुल। परन्तु नॉलेज क्या है-यह किसको मालूम नहीं है। तुमको अभी नॉलेज मिल रही है। भाग्यशाली रथ तो जरूर चाहिए। बाप साधारण तन में आते हैं तब यह भाग्यशाली बनते हैं। सतयुग में सब पद्मापद्म भाग्यशाली हैं। अब तुमको ज्ञान का तीसरा नेत्र मिलता है, जिससे तुम लक्ष्मी-नारायण जैसे बनते हो। ज्ञान तो एक ही बार मिलता है। भक्ति में तो धक्के खाते हैं। अन्धियारा है। ज्ञान है दिन, दिन में धक्के नहीं खाते। बाप कहते हैं भल घर में गीता पाठशाला खोलो। बहुत ऐसे हैं जो कहते हैं हम तो नहीं उठाते, दूसरों के लिए जगह देते हैं। यह भी अच्छा।

यहाँ बहुत साइलेन्स होनी चाहिए। यह है होलीएस्ट ऑफ होली क्लास। जहाँ शान्ति में तुम बाप को याद करते हो। हमको अब शान्तिधाम जाना है, इसलिए बाप को बहुत प्यार से याद करना है। सतयुग में 21 जन्म के लिए तुम सुख-शान्ति दोनों पाते हो। बेहद का बाप है बेहद का वर्सा देने वाला। तो ऐसे बाप को फालो करना चाहिए। अहंकार नहीं आना चाहिए, वह गिरा देता है। बहुत धैर्यवत अवस्था चाहिए। हठ नहीं। देह-अभिमान को हठ कहा जाता है। बहुत मीठा बनना है। देवतायें कितने मीठे हैं, कितनी कशिश होती है। बाप तुमको ऐसा बनाते हैं। तो ऐसे बाप को कितना याद करना चाहिए। तो बच्चों को यह बातें बार-बार सिमरण कर हर्षित होना चाहिए। इनको तो निश्चय है कि हम शरीर छोड़ यह (लक्ष्मी-नारायण) बनेंगे। एम ऑब्जेक्ट का चित्र पहले-पहले देखना चाहिए। वह तो पढ़ाने वाले देहधारी टीचर होते हैं। यहाँ पढ़ाने वाला निराकार बाप है, जो आत्माओं को पढ़ाते हैं। यह चिंतन करने से ही खुशी होती है। इनको यह नशा रहता होगा कि ब्रह्मा सो विष्णु, विष्णु सो ब्रह्मा कैसे बनते हैं। यह वन्डरफुल बातें तुम ही सुनकर धारण कर फिर सुनाते हो। बाप तो सबको विश्व का मालिक बनाते हैं। बाकी यह समझ सकते हैं कि राजाई के लायक कौन-कौन बनेंगे। बाप का फ़र्ज है बच्चों को ऊंचा उठाना। बाप सबको विश्व का मालिक बनाते हैं। बाप कहते हैं मैं विश्व का मालिक नहीं बनता हूँ। बाप इस मुख द्वारा बैठ नॉलेज सुनाते हैं। आकाशवाणी कहते हैं परन्तु अर्थ नहीं समझते। सच्ची आकाशवाणी तो यह है जो बाप ऊपर से आकर इस गऊमुख द्वारा सुनाते हैं। इस मुख द्वारा वाणी निकलती है।

बच्चे बहुत मीठे होते हैं। कहते हैं बाबा आज टोली खिलाओ। झझी (बहुत) टोली बच्चे। अच्छे बच्चे कहेंगे हम बच्चे भी हैं तो हम सर्वेन्ट भी हैं। बाबा को बहुत खुशी होती है बच्चों को देखकर। बच्चे जानते हैं समय बहुत थोड़ा है। इतने जो बाम्ब्स बनाये हैं, वह ऐसे ही फेंक देंगे क्या? जो कल्प पहले हुआ था सो फिर भी होगा। समझते हैं विश्व में शान्ति हो। परन्तु ऐसे तो हो न सके। विश्व में शान्ति तुम स्थापन करते हो। तुमको ही विश्व के बादशाही की प्राइज़ मिलती है। देने वाला है बाप। योगबल से तुम विश्व की बादशाही लेते हो। शारीरिक बल से विश्व का विनाश होता है। साइलेन्स से तुम विजय पाते हो। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अपनी अवस्था बहुत धैर्यवत बनानी है। बाप को फालो करना है। किसी भी बात में अंहकार नहीं दिखाना है। देवताओं जैसा मीठा बनना है।

2) सदा हर्षित रहने के लिए ज्ञान का सिमरण करते रहो। विचार सागर मंथन करो। हम भगवान् के बच्चे भी हैं तो सर्वेन्ट भी हैं – इसी स्मृति से सेवा पर तत्पर रहो।

वरदान:- हर घड़ी को अन्तिम घड़ी समझ सदा रूहानी मौज में रहने वाली विशेष आत्मा भव
संगमयुग रूहानी मौजों में रहने का युग है इसलिए हर घड़ी रूहानी मौज का अनुभव करते रहो, कभी किसी भी परिस्थिति या परीक्षा में मूंझना नहीं क्योंकि यह समय अकाले मृत्यु का है। थोड़ा समय भी अगर मौज के बजाए मूंझ गये और उसी समय अन्तिम घड़ी आ जाए तो अन्त मती सो गति क्या होगी इसलिए एवररेडी का पाठ पढ़ाया जाता है। एक सेकण्ड भी धोखा देने वाला हो सकता है इसलिए स्वयं को विशेष आत्मा समझकर हर संकल्प, बोल और कर्म करो और सदा रूहानी मौज में रहो।
स्लोगन:- अचल बनना है तो व्यर्थ और अशुभ को समाप्त करो।
Font Resize