daily murli 13 august

TODAY MURLI 13 AUGUST 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 13 August 2020

13/08/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, think about who has come to teach you and you will have goose pimples of happiness. The highest-on-high Father is teaching you. Never stop studying such a study.
Question: What faith have you children now developed? What is the sign of those who have faithful intellects?
Answer: You now have the faith that you are studying the study to become double-crowned kings of kings. God Himself is teaching you and making you into the masters of the world. You have now become His children. Therefore, you should now become busy in this study. Just as small children don’t like to go to anyone except their parents, so you too have found the unlimited Father and should therefore not like to go to anyone else. You should have remembrance of the One alone.
Song: Who has come in the early hours of the morning? Audio Player

Om shanti. You sweetest children heard the song. Who has come and who is teaching you? This is something to be understood. Some are very clever and some less so. Those who are very well educated are said to be very clever. Those who have studied the scriptures receive a lot of respect from others. Those who have studied less receive less respect. You heard the words of the song as to who has come to teach you. The Teacher has come. Those studying in a school know when their teacher comes. Who has come here? You should have goose pimples thinking about this. The highest-on-high Father has come once again to teach you. This is something to be understood. It is also a question of fortune. Who is teaching you? God! He comes and teaches you. The conscience says that, no matter how elevated a study someone may be studying, he should instantly leave that study and come to study with God; he should leave everything in a second and come to study with God. Baba has explained: You have now become those of the most elevated confluence age. Lakshmi and Narayan are the most elevated beings of all. No one in the world knows what education they studied to claim their status. You are studying to claim that status. Who is teaching you? God! Therefore, you should leave all your other studies and busy yourself in this study because it will only be after a cycle that the Father will come again. The Father says: I come every 5000 years to teach you personally. It is a wonder! You say that God is teaching you to enable you to attain a status. In spite of that, some don’t study. The Father would then say: This one is not sensible; he doesn’t pay full attention to the Father’s study. He forgets the Father. You say: “Baba, I forget. I even forget the Teacher. These are storms of Maya, but you must study this education. The conscience says that, since God is teaching this study, you should keep yourself completely busy in it. It is little children who have to study. Each one is a soul. It is the body that is big or small. The soul says: I have become your young child. Achcha, now that you belong to Me, you must study. You are no longer little babies just living on milk. Study has to come first. A lot of attention has to be paid to this. Students come here to the Supreme Teacher. There are teachers who are appointed to teach you. Nevertheless, this Supreme Teacher is also here. “Seven days in a furnace” has been remembered. The Father says: Remain pure and remember Me. If you imbibe divine virtues you will become this. You have to remember the unlimited Father. If someone, other than the parents, tries to pick up a little child, that child would not go to them. You also now belong to the unlimited Father. Therefore, you shouldn’t even want to look at anyone else, no matter who that person may be. You know that you belong to the highest-on-high Father. He is making you into the double-crowned kings of kings. “Manmanabhav” is the crown of light and “madhyajibhav” is the crown studded with jewels. You have developed the faith that you are to become the masters of the world through this study. History repeats every 5000 years. You are to receive a kingdom. All other souls will go to their home, to the land of peace. You children have now come to know that, as souls, you originally reside in the home with the Father. By belonging to the Father now, you become the masters of heaven. Then, by forgetting the Father, you become orphans. All the people of Bharat are orphans at this time. Orphans are those who don’t have parents; they continue to stumble around. You have now found the Father. You now know the whole world cycle. Therefore, you should be bubbling with happiness inside. We are the children of the unlimited Father. The Supreme Father, the Supreme Soul, creates the new world of Brahmins through Prajapita Brahma. This is something that can be understood very easily. There are your images; the variety-form image has been created; it shows the story of your 84 births. We become deities, then warriors, then merchants and then shudras. No human being knows this because they have made all name and trace of the Brahmins and the Father, who teaches the Brahmins, disappear. You can explain all of these aspects in English very well. Those who understand English should translate these things and explain them to others. The Father is knowledge-full. Only He has the knowledge of how the world cycle turns. This is a study. Yoga is also called remembrance of the Father. In English it is called communionCommunion with the Father; communion with the Teacher and communion with the Guru. This is communion with God, the Father. The Father, Himself, says: Remember Me. Do not remember bodily beings. Human beings adopt gurus and study scriptures. They don’t have any aim or objective. They don’t receive salvation through that. The Father says: I have come to take everyone back home. You now have to keep your intellects connected in yoga with the Father. Only then will you reach there. By remembering Him well you will become the masters of the world. Lakshmi and Narayan were the masters of Paradise. Who is explaining this? The Father is called knowledge-full. Human beings say that He is Antaryami (One who knows everything within us). In fact, there is no such thing as the word “antaryami”. The one who resides within each one is a soul. Everyone knows what his soul does; all human beings are antaryami. It is souls that study. The Father makes you children soul conscious. You souls are residents of the incorporeal world. You souls are so tiny. You have come here many times to play your parts. The Father says: I am a point. I cannot be worshipped. Why should they do it? There is no need for it. I come to teach you souls. I give you the kingdom. Then, when you go into the kingdom of Ravan, you completely forget Me. You souls come down first to play your parts. Human beings say that we take 8.4 million births, but the Father says: The maximum is 84 births. If you went abroad and spoke these things, they would ask you to teach them this knowledge in their country. They would say: You receive 1000 rupees there, but we will give you 10 to 20,000 rupees. Give us this knowledge too. God, the Father, is teaching us souls. It is souls that become judges etc. All human beings are body conscious. None of them has this knowledge. Although there are many great philosophers, none of them has this knowledge. Incorporeal God, the Father, comes to teach us. We study with Him. They will be amazed when they hear these things. No one has heard or read about these things. Only the one Father is the Liberator and the Guide. Since He is the Liberator, why do you remember Christ? Explain these aspects to them very clearly and they will be amazed. They will say: At least let us listen to these things. Paradise is being established. There is this Mahabharat War for that. The Father says: I am making you into the double-crowned kings of kings. There used to be puritypeace and prosperity;everything. Just think about how many years ago that was. It became their kingdom 3000 years before Christ. You say that this is spiritual knowledge. This one is the direct child of that Supreme Father. We are studying Raj Yoga with Him. This knowledge is of how the history and geography of the world repeat. Each of us souls has a whole part of 84 births recorded in us. Through the power of this yoga, souls become satopradhan and go to the golden age. Therefore, a kingdom is required for them. There also has to be the destruction of the old world. That lies just ahead of you. Then there will be a world of just one religion. This is the world of sinful souls. You are now becoming pure. Tell them: We will become pure with the power of this remembrance and everything else will then be destroyed. There will also be natural calamities. We have realised all of this and also seen it in divine visions. All of this is going to be destroyed. The Father has come to establish the deity world. When they hear this, they will say: Oho, these must be the children of God, the FatherYou children know that this war will take place and that there will also be natural calamities. What will conditions be like then? All the big buildings etc., will begin to fall. You know that they also created those bombs 5000 years ago for their own destruction. The bombs are already prepared. What is the power of yoga with which you conquer the world? No one else knows this. Tell them: Science destroys you. We have yoga with the Father. It is through the power of silence that we become satopradhan and conquer the world. Only the Father is the Purifier. He will definitely establish the pure world before He departs. This is predestined in the drama. They have created those bombs, and so they are not just going to leave them. When you explain in this way, they will feel that you are an authority and that God has come and entered you. This too is fixed in the drama. When you tell them such things they will become happy. How souls have their parts recorded in them is predestined in the dramaChrist will come down at his own time to establish a religion. When you explain with such authority, they will understand that the Father explains to all the children. Therefore, you children should busy yourselves in this study. The Father, the Teacher and the Guru are all One. You also understand how He gives you knowledge. He purifies everyone and takes them back home. When there was the deity dynasty you were pure. You were gods and goddesses. You should be very clever in the way you speak to them and also have a good speed. Tell them that all the other souls reside in the sweet home. Only the Father can take you back home. That Father is the Bestower of Salvation for All. Bharat is His birthplace. This pilgrimage is so great. You know that everyone has to become tamopradhan. Everyone has to take rebirth. No one can return home yet. When you explain these things, people will be very amazed. Baba says: When you speak to them as a couple, they will be able to understand you very well. At first there was purity in Bharat. So, how did you become impure? You can also tell them this. Worthy-of-worship ones then become worshippers. When they become impure they start worshipping themselves. The kings have images of the deities in their homes. The impure kings, without a crown of light, worship the idols of those who were double-crowned deities. Those kings are worshippers. They cannot be called gods and goddesses because they worship the deities. They become worthy of worship and then become worshippers. They become impure when the kingdom of Ravan begins. It is now the kingdom of Ravan. If you were to sit with them and explain these things they would experience great pleasure. When the two wheels of a car, a couple, explain together, they can show many wonders. We couples are becoming worthy of worship. We are claiming our inheritance of purity, peace and prosperity. Your pictures have been created. This is the family of God. There are the Father’s children, His grandsons and granddaughters, that’s all. There are no other relationships. This is called the new world in which there are the few who become deities. Then expansion gradually takes place. This knowledge has to be understood. This Baba was a great merchant in business. He was not concerned about anything. When he saw that the Father was teaching and that destruction was just ahead, he instantly renounced everything. He clearly understood that he was going to receive a kingdom. So, of what use was that “donkeyship”? You understand that God is teaching you. Therefore, you should study very well. Follow His directions. The Father says: Consider yourselves to be souls and remember the Father. Aren’t you ashamed that you forget the Father? Don’t you have that intoxication? Some leave here very refreshed and then become like soda water. You children are now making effort to serve all the villages. Baba says: First of all, tell them who the Father of souls is. God is the Incorporeal. Only He will make this impure world pure. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. God, Himself, as the Supreme Teacher, is teaching us. Therefore, study very well and follow His directions.
  2. Have such yoga with the Father that you accumulate the power of silence. Conquer the world with the power of silence. Become pure from impure.
Blessing: May you be courageous and make the land fruitful with your constant and stable stage of following one direction.
When you children become courageous with your constant and stable stage of following one direction in a gathering, and you remain engaged in just one task, you will always remain in blossom and the land will also becomes fruitful. Nowadays, through science, you plant something and immediately receive its fruit. In the same way, with the power of silence, you will easily and quickly see revelation. When you remain free from obstacles and are merged in love for the one Father, when you follow the directions of One and are constant and stable, many other souls will automatically co-operate with you and the land will become fruitful.
Slogan: Those who consider arrogance to be their pride cannot remain humble.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 13 AUGUST 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 13 August 2020

Murli Pdf for Print : – 

13-08-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – तुम्हें कौन पढ़ाने आया है, विचार करो तो खुशी में रोमांच खड़े हो जायेंगे, ऊंचे ते ऊंचा बाप पढ़ाते हैं, ऐसी पढ़ाई कभी छोड़नी नहीं है”
प्रश्नः- अभी तुम बच्चों को कौन-सा निश्चय हुआ है? निश्चयबुद्धि की निशानी क्या होगी?
उत्तर:- तुम्हें निश्चय हुआ हम अभी ऐसी पढ़ाई पढ़ रहे हैं, जिससे डबल सिरताज राजाओं का राजा बनेंगे। स्वयं भगवान पढ़ाकर हमें विश्व का मालिक बना रहे हैं। अभी हम उनके बच्चे बने हैं तो फिर इस पढ़ाई में लग जाना है। जैसे छोटे बच्चे अपने माँ-बाप के सिवाए किसी के पास भी नहीं जाते। ऐसा बेहद का बाप मिला है तो और कोई भी पसन्द न आये। एक की ही याद रहे।
गीत:- कौन आया आज सवेरे-सवेरे…….. Audio Player

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे बच्चों ने गीत सुना – कौन आया है और कौन पढ़ाता है? यह समझ की बात है। कोई बहुत अक्लमंद होते हैं, कोई कम अक्लमंद होते हैं। जो बहुत पढ़ा लिखा होता है, उसे बहुत अक्लमंद कहेंगे। शास्त्र आदि जो भी पढ़े लिखे होते हैं, उनका मान होता है। कम पढ़े हुए को कम मान मिलता है। अब गीत का अक्षर सुना – कौन आया पढ़ाने! टीचर आते हैं ना। स्कूल में पढ़ने वाले जानते हैं टीचर आया। यहाँ कौन आया है? एकदम रोमांच खड़े हो जाने चाहिए। ऊंच ते ऊंच बाप फिर से पढ़ाने आये हैं। समझने की बात है ना! तकदीर की भी बात है। पढ़ाने वाला कौन है? भगवान। वह आकर पढ़ाते हैं। विवेक कहता है – भल कोई कितनी भी बड़े ते बड़ी पढ़ाई पढ़ता हो, फट से वह पढ़ाई छोड़कर आए भगवान से पढ़े। एक सेकण्ड में सब कुछ छोड़ बाप के पास पढ़ने आए।

बाबा ने समझाया है – अभी तुम पुरूषोत्तम संगमयुगी बने हो। उत्तम ते उत्तम पुरुष हैं यह लक्ष्मी-नारायण। दुनिया में किसको भी पता नहीं है कि किस एज्युकेशन से इन्होंने यह पद पाया है। तुम पढ़ते हो – यह पद पाने लिए। कौन पढ़ाते हैं? भगवान। तो और सब पढ़ाईयाँ छोड़ इस पढ़ाई में लग जाना चाहिए क्योंकि बाप आते ही हैं कल्प के बाद। बाप कहते हैं – मैं हर 5 हज़ार वर्ष के बाद आता हूँ सम्मुख पढ़ाने। वन्डर है ना। कहते भी हैं भगवान हमको पढ़ाते हैं, यह पद प्राप्त कराने। फिर भी पढ़ते नहीं। तो बाप कहेंगे ना यह सयाना नहीं है। बाप की पढ़ाई पर पूरा ध्यान नहीं देते हैं। बाप को भूल जाते हैं। तुम कहते हो कि बाबा हम भूल जाते हैं। टीचर को भी भूल जाते हैं। यह हैं माया के तूफान। परन्तु पढ़ाई तो पढ़नी चाहिए ना। विवेक कहता है भगवान पढ़ाते हैं तो उस पढ़ाई में एकदम लग जाना चाहिए। छोटे बच्चों को ही पढ़ना होता है। आत्मा तो सबकी है। बाकी शरीर छोटा-बड़ा होता है। आत्मा कहती है मैं आपका छोटा बच्चा बना हूँ। अच्छा मेरे बने हो तो अब पढ़ो। दूध-पाक तो नहीं हो। पढ़ाई फर्स्ट। इसमें बहुत अटेन्शन देना है। स्टूडेन्ट फिर आते हैं यहाँ सुप्रीम टीचर के पास। वह पढ़ाने वाले टीचर्स भी मुकरर हैं। तो भी सुप्रीम टीचर तो है ना। 7 रोज़ भट्ठी भी गाई हुई है। बाप कहते हैं पवित्र रहो और मुझे याद करो। दैवीगुण धारण किये तो तुम यह बन जायेंगे। बेहद के बाप को याद करना पड़े। छोटे बच्चे को माँ-बाप के सिवाए दूसरा कोई उठाते हैं तो उनके पास जाते नहीं। तुम भी बेहद के बाप के बने हो तो और कोई को देखना पसन्द भी नहीं आयेगा, फिर कोई भी हो। तुम जानते हो हम ऊंच ते ऊंच बाप के हैं। वह हमको डबल सिरताज राजाओं का राजा बनाते हैं। लाइट का ताज मनमनाभव और रतन जड़ित ताज मध्याजीभव। निश्चय हो जाता है हम इस पढ़ाई से विश्व का मालिक बनते हैं, 5 हज़ार वर्ष बाद हिस्ट्री रिपीट होती है ना। तुमको राजाई मिलती है। बाकी सब आत्मायें शान्तिधाम अपने घर चली जाती हैं। अभी तुम बच्चों को मालूम पड़ा है – असुल में हम आत्मायें बाप के साथ अपने घर में रहती हैं। बाप का बनने से अभी तुम स्वर्ग के मालिक बनते हो फिर बाप को भूल आरफन बन पड़ते हो। भारत इस समय आरफन है। आरफन उनको कहा जाता है जिनको माँ-बाप नहीं होते। धक्का खाते रहते हैं। तुमको तो अब बाप मिला है, तुम सारे सृष्टि चक्र को जानते हो तो खुशी में गदगद होना चाहिए। हम बेहद के बाप के बच्चे हैं। परमपिता परमात्मा प्रजापिता ब्रह्मा द्वारा नई सृष्टि ब्राह्मणों की रचते हैं। यह तो बहुत सहज समझने की बात है। तुम्हारे चित्र भी हैं, विराट रूप का चित्र भी बनाया है। 84 जन्मों की कहानी दिखाई है। हम सो देवता फिर क्षत्रिय, वैश्य, शूद्र बनते हैं। यह कोई भी मनुष्य नहीं जानते क्योंकि ब्राह्मण और ब्राह्मणों को पढ़ाने वाले बाप का, दोनों का नाम-निशान गुम कर दिया है। इंगलिश में भी तुम लोग अच्छी रीति समझा सकते हो। जो इंगलिश जानते हैं तो ट्रांसलेशन कर फिर समझाना चाहिए। फादर नॉलेजफुल है, उनको ही यह नॉलेज है कि सृष्टि का चक्र कैसे फिरता है। यह है पढ़ाई। योग को भी बाप की याद कही जाती है, जिसको अंग्रेजी में कम्यूनियन कहा जाता है। बाप से कम्यूनियन, टीचर से कम्यूनियन, गुरू से कम्यूनियन। यह है गॉड फादर से कम्यूनियन। खुद बाप कहते हैं मुझे याद करो और कोई भी देहधारी को याद नहीं करो। मनुष्य गुरू आदि करते हैं, शास्त्र पढ़ते हैं। एम ऑब्जेक्ट कुछ भी नहीं। सद्गति तो होती नहीं। बाप तो कहते हैं हम आये हैं सबको वापिस ले जाने। अभी तुमको बाप के साथ बुद्धि का योग रखना है, तो तुम वहाँ जाए पहुँचेंगे। अच्छी रीति याद करने से विश्व के मालिक बनेंगे। यह लक्ष्मी-नारायण पैराडाइज़ के मालिक थे ना। यह कौन समझाने वाला है। बाप को कहा जाता है नॉलेजफुल। मनुष्य फिर कह देते अन्तर्यामी। वास्तव में अन्तर्यामी का अक्षर है नहीं। अन्दर रहने वाली, निवास करने वाली तो आत्मा है। आत्मा जो काम करती है, वह तो सब जानते हैं। सब मनुष्य अन्तर्यामी हैं। आत्मा ही सीखती है। बाप तुम बच्चों को आत्म-अभिमानी बनाते हैं। तुम आत्मा हो मूलवतन की रहने वाली। तुम आत्मा कितनी छोटी हो। अनेक बार तुम आई हो पार्ट बजाने। बाप कहते हैं मैं बिन्दी हूँ। मेरी पूजा तो कर नहीं सकते। क्यों करेंगे, दरकार ही नहीं। मैं तुम आत्माओं को पढ़ाने आता हूँ। तुमको ही राजाई देता हूँ फिर रावण राज्य में चले जाते हो तो मुझे ही भूल जाते हो। पहले-पहले आत्मा आती है पार्ट बजाने। मनुष्य कहते हैं 84 लाख जन्म लेते हैं। परन्तु बाप कहते हैं मैक्सीमम हैं ही 84 जन्म। फॉरेन में जाकर यह बातें सुनायेंगे तो उनको कहेंगे यह नॉलेज तो हमको यहाँ बैठ पढ़ाओ। तुमको वहाँ 1000 रूपया मिलते हैं, हम आपको 10-20 हज़ार रूपया देंगे। हमको भी नॉलेज सुनाओ। गॉड फादर हम आत्माओं को पढ़ाते हैं। आत्मा ही जज आदि बनती है। बाकी मनुष्य तो सब हैं देह-अभिमानी। कोई को भी ज्ञान नहीं है। भल बड़े-बड़े फिलॉसाफर आदि बहुत हैं, परन्तु यह नॉलेज किसको भी नहीं है। गॉड फादर निराकार पढ़ाने आते हैं। हम उनसे पढ़ते हैं, यह बातें सुनकर चािढत हो जायेंगे। यह बातें तो कभी सुनी पढ़ी नहीं। एक बाप को ही कहते हो लिबरेटर, गाइड जबकि वही लिबरेटर है तो फिर क्राइस्ट को क्यों याद करते हो? यह बातें अच्छी रीति समझाओ तो वह चािढत हो जायेंगे। कहेंगे यह हम सुनें तो सही। पैराडाइज़ की स्थापना हो रही है, उसके लिए यह महाभारत लड़ाई भी है। बाप कहते हैं मैं तुमको राजाओं का राजा डबल सिरताज बनाता हूँ। प्योरिटी, पीस, प्रासपर्टी सब थी। विचार करो, कितने वर्ष हुए? क्राइस्ट से 3 हज़ार वर्ष पहले इन्हों का राज्य था ना। कहेंगे यह तो स्प्रीचुअल नॉलेज है। यह तो डायरेक्ट उस सुप्रीम फादर का बच्चा है, उनसे राजयोग सीख रहा है। वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी कैसे रिपीट होती है, यह सारी नॉलेज है। हमारी आत्मा में 84 जन्मों का पार्ट भरा हुआ है। इस योग की ताकत से आत्मा सतोप्रधान बन गोल्डन एज में चली जायेगी, फिर उनके लिए राज्य चाहिए। पुरानी दुनिया का विनाश भी चाहिए। सो सामने खड़ा है फिर एक धर्म का राज्य होगा। यह पाप आत्माओं की दुनिया है ना। अभी तुम पावन बन रहे हो, बोलो इस याद के बल से हम पवित्र बनते हैं और सबका विनाश हो जायेगा। नैचुरल कैलेमिटीज भी आने वाली हैं। हमारा रियलाइज़ किया हुआ है और दिव्य दृष्टि से देखा हुआ है। यह सब खलास होना है। बाप आये हैं डीटी वर्ल्ड स्थापन करने। सुनकर कहेंगे ओहो! यह तो गॉड फादर के बच्चे हैं। तुम बच्चे जानते हो यह लड़ाई लगेगी, नैचुरल कैलेमिटीज़ होगी। क्या हाल होगा? यह बड़े-बड़े मकान आदि सब गिरने लग पड़ेंगे। तुम जानते हो यह बाम्ब्स आदि 5 हज़ार वर्ष पहले भी बनाये थे अपने ही विनाश के लिए। अभी भी बॉम्ब्स तैयार हैं। योगबल क्या चीज़ है, जिससे तुम विश्व पर विजय पाते हो और कोई थोड़ेही जानते। बोलो, साइंस तुम्हारा ही विनाश करती है। हमारा बाप के साथ योग है तो उस साइलेन्स के बल से हम विश्व पर जीत पाकर सतोप्रधान बन जाते हैं। बाप ही पतित-पावन है। पावन दुनिया जरूर स्थापन करके ही छोड़ेंगे। ड्रामा अनुसार नूँध है। बॉम्बस जो बनाये हैं तो रख देंगे क्या! ऐसे-ऐसे समझायेंगे तो समझेंगे यह तो कोई अथॉरिटी है, इनमें गॉड ने आकर प्रवेश किया है। यह भी ड्रामा में नूँध है। ऐसी-ऐसी बातें बताते रहेंगे तो वह खुश होंगे। आत्मा में कैसे पार्ट है, यह भी अनादि बना-बनाया ड्रामा है। फिर अपने समय पर क्राइस्ट आकर तुम्हारा धर्म स्थापन करेंगे। ऐसी अथॉरिटी से बोलेंगे तो वह समझेंगे बाप सब बच्चों को बैठ समझाते हैं। तो इस पढ़ाई में बच्चों को लग जाना चाहिए। बाप, टीचर, गुरू तीनों एक ही हैं। वह कैसे नॉलेज देते हैं, यह भी तुम समझते हो। सबको पवित्र बनाकर ले जाते हैं। डीटी डिनायस्टी थी तो पवित्र थे। गॉड-गाडेज थे। बात करने का बड़ा होशियार हो, स्पीड भी अच्छी हो। बोलो बाकी सब आत्मायें स्वीट होम में रहती हैं। बाप ही ले जाते हैं, सर्व का सद्गति दाता वह बाप है। उनका बर्थ प्लेस है भारत। यह कितना बड़ा तीर्थ हो गया।

तुम जानते हो सबको तमोप्रधान बनना ही है। पुनर्जन्म सबको लेना है, वापिस कोई भी जा नहीं सकते। ऐसी-ऐसी बातें समझाने से बहुत वन्डर खायेंगे। बाबा तो कहते हैं जोड़ी हो तो बहुत अच्छा समझा सकते हैं। भारत में पहले पवित्रता थी। फिर अपवित्र कैसे होते हैं। यह भी बता सकते हैं। पूज्य ही पुजारी बन जाते हैं। इमप्योर बनने से फिर अपनी ही पूजा करने लगते हैं। राजाओं के घर में भी इन देवताओं के चित्र रहते हैं, जो पवित्र डबल सिरताज थे उन्हों को बिगर ताज वाले अपवित्र पूजते हैं। वो हो गये पुजारी राजायें। उनको तो गॉड-गॉडेज नहीं कहेंगे क्योंकि इन देवताओं की पूजा करते हैं। आपेही पूज्य, आपेही पुजारी, पतित बन जाते हैं तो रावण राज्य शुरू हो जाता है। इस समय रावण राज्य है। ऐसे-ऐसे बैठ समझायें तो कितना मज़ा कर दिखायें। गाड़ी के दो पहिये युगल हो तो बहुत वन्डर कर दिखायें। हम युगल ही फिर सो पूज्य बनेंगे। हम प्योरिटी, पीस, प्रासपर्टी का वर्सा ले रहे हैं। तुम्हारे चित्र भी निकलते रहते हैं। यह है ईश्वरीय परिवार। बाप के बच्चे हैं, पोत्रे और पोत्रियां हैं, बस और कोई संबंध नहीं। नई सृष्टि इनको कही जाती है फिर देवी-देवता तो थोड़े बनेंगे। फिर आहिस्ते-आहिस्ते वृद्धि होती है। यह नॉलेज कितनी समझने की है। यह बाबा भी धन्धे में जैसे नवाब था। कोई बात की परवाह नहीं रहती थी। जब देखा यह तो बाप पढ़ाते हैं, विनाश सामने खड़ा है तो फट से छोड़ दिया। यह जरूर समझा हमको बादशाही मिलती है तो फिर गदाई क्या करेंगे। तो तुम भी समझते हो भगवान पढ़ाते हैं, यह तो पूरी रीति पढ़ना चाहिए ना। उनकी मत पर चलना चाहिए। बाप कहते हैं अपने को आत्मा समझ बाप को याद करो। बाप को तुम भूल जाते हो, लज्जा नहीं आती है, वह नशा नहीं चढ़ता है। यहाँ से बहुत अच्छा रिफ्रेश हो जाते हैं फिर वहाँ सोडावाटर हो जाते हैं। अब तुम बच्चे पुरुषार्थ करते हो – गांव-गांव में सर्विस करने का। बाबा कहते हैं पहले-पहले तो यह बताओ कि आत्माओं का बाप कौन है। भगवान तो निराकार ही है। वही इस पतित दुनिया को पावन बनायेंगे। अच्छा।

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) स्वयं भगवान सुप्रीम टीचर बनकर पढ़ा रहे हैं इसलिए अच्छी रीति पढ़ना है, उनकी मत पर चलना है।

2) बाप के साथ ऐसा योग रखना है जिससे साइलेन्स का बल जमा हो। साइलेन्स बल से विश्व पर जीत पानी है, पतित से पावन बनना है।

वरदान:- एकमत और एकरस अवस्था द्वारा धरनी को फलदायक बनाने वाले हिम्मतवान भव
जब आप बच्चे हिम्मतवान बनकर संगठन में एकमत और एकरस अवस्था में रहते वा एक ही कार्य में लग जाते हो तो स्वयं भी सदा प्रफुल्लित रहते और धरनी को भी फलदायक बनाते हो। जैसे आजकल साइन्स द्वारा अभी-अभी बीज डाला अभी-अभी फल मिला, ऐसे ही साइलेन्स के बल से सहज और तीव्रगति से प्रत्यक्षता देखेंगे। जब स्वयं निर्विघ्न एक बाप की लगन में मगन, एकमत और एकरस रहेंगे तो अन्य आत्मायें भी स्वत: सहयोगी बनेंगी और धरनी फलदायक हो जायेगी।
स्लोगन:- जो अभिमान को शान समझ लेते, वह निर्मान नहीं रह सकते।

TODAY MURLI 13 AUGUST 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 13 August 2019

Today Murli in Hindi:- Click Here

Read Murli 12 August 2019:- Click Here

13/08/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, do not have love for perishable bodies, but have love for the imperishable Father and you will become liberated from crying.
Question: What is unrighteous love and what are its consequences?
Answer: To have attachment to perishable bodies is unrighteous love. Those who have attachment to perishable things cry. There is crying because of body consciousness. In the golden age, all are soul conscious and there is therefore no question of crying. Those who cry end up losing everything. The imperishable children of the imperishable Father now receive the teachings: Become soul conscious and you will be liberated from crying.

Om shanti. Only you children know that souls are imperishable and that the Father is also imperishable. So, whom should you love? Imperishable souls. It is only imperishable ones that should be loved. One should not love perishable bodies. The whole world is perishable. Everything is perishable. This body is also perishable whereas the soul is imperishable. Love for a soul is imperishable; a soul never dies. This is said to be righteous. The Father says: You have become unrighteous. In fact, imperishable ones should have love for the imperishable One. You have love for perishable bodies and this is why you end up crying; you don’t have love for imperishable souls. Because of having love for the perishable, you have to cry. You now consider yourselves to be imperishable souls, and so there is no question of crying because you are soul conscious. So, the Father is now making you children soul conscious. By being body conscious, you end up crying; you cry over perishable bodies. You understand that souls never die. The Father says: Consider yourselves to be souls. So, you are imperishable souls, imperishable children of the imperishable Father. You don’t need to cry. A soul sheds a body and goes and plays another part. This is a play. Why do you have attachment to the body? Break the intellect’s yoga away from your body and all its relationships and consider yourself to be an imperishable soul. Souls never die. It is also remembered: Those who cry lose out. By becoming soul conscious, you will become worthy. So, the Father comes and makes you soul conscious from body conscious. He says: How is it that you have forgotten everything? You have had to cry for birth after birth. You are now being given teachings to become soul conscious once again. Then, you will never cry. This is the world of tears whereas that is the world of laughter. This is the world of sorrow whereas that is the world of happiness. The Father gives you teachings in a very nice way. The imperishable children of the imperishable Father are receiving teachings. Those people are body conscious and they only give teachings while looking at bodies. People cry when they remember the body. They even see that the body has been destroyed, and so what would be the benefit of remembering it? Would you remember ashes? The imperishable thing (soul) went and took another body. You children know that those who perform good deeds also receive good bodies. Some receive badly diseased bodies. That too is according to their karma. It isn’t that if they have performed good deeds, they go up above; no. No one can go up above. Those who have performed good deeds would be called good and they would receive a good birth, but they still have to come down. You know how we ascend. Although someone might become a mahatma (great soul) by performing good deeds, his degrees would still continue to decrease. The Father says: Even so, they remember God and perform good deeds, and so I give them temporary happiness. Nevertheless, they still have to come down the ladder. Perhaps they have a good name, but people here can’t even distinguish between good and bad deeds. Those who have occult powers are given so much regard. People go crazy chasing after them. All of that is ignorance. For instance, someone makes donations and performs charity indirectly or builds a dharamshala or a hospital, so he would surely receive the return of that in his next birth. They also remember the Father and, even though they insult others, they still take the name of God. However, because of being ignorant, they don’t know anything. They remember God and worship Rudra. They consider Rudra to be God. They create a sacrificial fire of Rudra. They worship Shiva or Rudra. The Father says: They worship Me, but look at what they create and what all they do out of senselessness! There are as many gurus for human beings as there are human beings. When new leaves and branches emerge on a tree, they look so beautiful. Because of being satoguni, they are praised. The Father says: This is a world of those who have love for perishable things. Some have so much love that it is as though they go crazy out of attachment. Even important businessmen go crazy out of attachment. Because mothers don’t have knowledge, when they become widows, they cry so much in remembrance of those perishable bodies. You now consider yourselves to be souls and look at others as souls, and so there isn’t the slightest sorrow. To study is said to be a source of income. There is also an aim and objective in studying. However, that is for one birth. They receive a salary from the Government. They study and then do business. Only then do they receive money. Here, this is something new. How do you fill your aprons with the imperishable jewels of knowledge? The soul understands that Baba is giving us the imperishable treasure of knowledge. God is teaching you, and so He would surely make you into gods and goddesses. However, it is in fact wrong to consider Lakshmi and Narayan to be a god and goddess. You children now know that when we become body conscious, our intellects become so degraded. It is as though your intellects become like animal intellects. They take care of animals so well. The service of human beings is nothing at all. Race horses are looked after so well. Look at the condition of people here! They look after dogs with so much love; they even let them lick them. They even let animals go to sleep with them. Look what the condition of the world has become. This business does not exist there in the golden age. So, the Father says: Children, Maya, Ravan, has made you unrighteous. This is the unrighteous kingdom. People are unrighteous and so the whole world becomes unrighteous. Look how much difference there is between the righteous world and the unrighteousworld! Look at the condition of the iron age. I am establishing heaven and so Maya also shows you her heaven; she tempts you. There is so much artificialwealth. They believe that they are sitting in heaven here. There aren’t such tall buildings of a hundred storeys in heaven. Look how they decorate the buildings. There aren’t even two-storey buildings there. There are very few people there. What would you do with so much land? Here, people fight and quarrel so much over land. There, all the land belongs to you. There is the difference of day and night. That one is a worldly father and this one is the parlokik Father. What does the parlokik Father not give you children? You have been performing devotion for half the cycle. The Father tells you clearly: You don’t receive liberation through that, that is, you cannot meet Me through that. You meet Me in the land of liberation. I reside in the land of liberation and you too reside in the land of liberation. You then go to heaven from there. I am not there in heaven. This too is in the drama. It will then repeat identically. You will then forget this knowledge; it will disappear. How could there be the knowledge of the Gita until the confluence age comes? All the scriptures etc. that exist are scriptures of the path of devotion. You are now listening to this knowledge. I am the Seed, the Ocean of Knowledge. I don’t allow you to do anything, not even to fall at My feet. Whose feet would you fall at? Shiv Baba doesn’t have feet. That would be falling at the feet of Brahma. I am your Slave. He is said to be incorporeal and egoless. However, it is only when He comes here to act that He is said to be egoless. The Father gives you a lot of knowledge. This is the donation of the imperishable jewels of knowledge. It is then up to you as to how much you take. Continue to take the imperishable jewels of knowledge and then donate them to others. It is said of these jewels: Each jewel is worth hundreds of thousands. It is only the one Father who gives you multimillions at every step. You need to pay a lot of attention to doing service. Your steps are of the pilgrimage of remembrance. You become immortal through that. There, there is no fear of dying; you shed a body and take another. You have heard the story of the king who conquered attachment. The Father sits here and explains to you. The Father is now making you like that. This refers to the present time. People celebrate the Raksha Bandhan festival. That is a symbol of what time? When did God say: Become pure? What do people know of when the old world exists and when the new world exists? No one knows that. They definitely say that it is now the iron age. They say that it was the golden age, but that it is not that now. They also believe in rebirth. They speak of 8.4 million births and so that definitely means rebirth. Everyone remembers the incorporeal Father. He is the Father of all souls. He alone comes and explains to you. There are many physical fathers. Even animals are fathers of their children. You would not say of this One that He is the Father of animals. In the golden age, there is no rubbish. As are human beings, so is their furniture. There, even birds etc. are firstclass and beautiful. Everything there is very good. The fruit there is so sweet and large. Where does all of that go? The sweetness is removed and there is bitterness instead. When you become thirdclass, everything else also becomes thirdclass. The golden age is firstclass and so everything you receive there is firstclass. In the iron age, everything is thirdclass. Everything goes through the stages of sato, rajo and tamo. There is no pleasure here. Souls are tamopradhan and so the bodies too are tamopradhan. You children now have knowledge. There is the difference of day and night between that and the present. The Father is making you so elevated! The more you remember Him, the more you will receive both health and wealth. What else do you need? If you don’t have one of the two, there won’t be happiness. For instance, if you have health, but no wealth, of what use is that? It is remembered: If you have money, go and tour around. Children understand that Bharat was “The Golden Sparrow”. Where is the gold now? Gold, silver and copper have gone, and now there is nothing but paper. Where would you get money from if the paper were to flow away in the water? Gold is very heavy. It would remain where it is. Even fire cannot burn gold. So, here, everything causes sorrow. None of these things exist there. There is limitless sorrow here at this time. The Father comes when there is limitless sorrow. Tomorrow, there will be limitless happiness. Baba comes and teaches you every cycle. This is not anything new. You should remain happy. You have nothing but happiness. This is the state of the final period. Ask the gopes and gopis about supersensuous joy. At the end, you will understand everything very well. Only the Father tells you what real peace is. You claim the inheritance of peace from the Father. Everyone remembers Him. The Father is the Ocean of Peace. The Father explains who can go to Him. Such-and-such a religion comes at such-and-such a time; they cannot go to heaven. Many sages and holy men have now emerged. So they are praised. Since they are pure, they should definitely be praised. They have just newly come down. Older ones cannot be praised as much; they experienced happiness and have become tamopradhan. So many different types of gurus continue to emerge. No one knows this unlimited tree. The Father explains: There is as much expansion of devotion as the spread of a tree, whereas knowledge, the seed, is so small. Devotion takes half the cycle, whereas this knowledge is just for this one final birth. You receive knowledge and become the masters for half the cycle. Devotion ends and it becomes the day. You are now becoming cheerful for all time. This is called the imperishable lottery from God. You have to make effort for this. There is so much difference between the Godly lottery and a devilish lottery! Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. You earn multimillions in every step of remembrance. It is by doing this that you attain an immortal status. Donate the imperishable jewels of knowledge that you receive from the Father.
  2. Be soul conscious and experience limitless happiness. Remove your attachment from bodies and remain constantly cheerful. Become a conqueror of attachment.
Blessing: May you be a karma yogi and receive blessings by keeping a balanceof doing service and making effort on the self.
A karma yogi is someone who has a balanceof yoga and performing actions. Service means acting and effort on the self means being yogyukt. In order to keep a balanceof these two, just remember one expression, “The Father is Karavanhar” and “I, the soul, am karanhar” (One who inspires and one who does). This one expression will enable you to keep a very good balanceand you will receive blessingsfrom everyone. When you consider yourself to be karavanhar instead of considering yourself to be karanhar, there isn’t a balance, and Maya then takes her chance.
Slogan: In order to do the service of taking others beyond with a glance, keep BapDada merged in your eyes.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 13 AUGUST 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 13 August 2019

To Read Murli 12 August 2019:- Click Here
13-08-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – विनाशी शरीरों से प्यार न करके अविनाशी बाप से प्यार करो तो रोने से छूट जायेंगे”
प्रश्नः- अनराइटियस प्यार क्या है और उसका परिणाम क्या होता है?
उत्तर:- विनाशी शरीरों में मोह रखना अनराइटियस प्यार है। जो विनाशी चीज़ों में मोह रखते हैं, वह रोते हैं। देह-अभिमान के कारण रोना आता है। सतयुग में सब आत्म-अभिमानी हैं, इसलिए रोने की बात ही नहीं रहती। जो रोते हैं वह खोते हैं। अविनाशी बाप की अविनाशी बच्चों को अब शिक्षा मिलती है, देही-अभिमानी बनो तो रोने से छूट जायेंगे।

ओम् शान्ति। यह तो बच्चे ही जानते हैं कि आत्मा अविनाशी है और बाप भी अविनाशी है, तो प्यार किसको करना चाहिए? अविनाशी आत्मा को। अविनाशी को ही प्यार करना है, विनाशी शरीर को थोड़ेही प्यार करना चाहिए। सारी दुनिया विनाशी है, हर एक चीज़ विनाशी है, यह शरीर विनाशी है, आत्मा अविनाशी है। आत्मा का प्यार अविनाशी होता है। आत्मा कभी मरती नहीं, उसको कहा जाता है राइटियस। बाप कहते हैं तुम अनराइटियस बन गये हो। वास्तव में अविनाशी का अविनाशी के साथ प्यार होना चाहिए। तुम्हारा प्यार विनाशी शरीर के साथ हो गया है इसलिए रोना पड़ता है। अविनाशी के साथ प्यार नहीं। विनाशी के साथ प्यार होने से रोना पड़ता है। अभी तुम अपने को अविनाशी आत्मा समझते हो तो रोने की बात नहीं क्योंकि आत्म-अभिमानी हैं। तो बाप अब तुम बच्चों को आत्म-अभिमानी बनाते हैं। देह-अभिमानी होने से रोना होता है। विनाशी शरीर पिछाड़ी रोते हैं। समझते भी हैं आत्मा मरती नहीं है। बाप कहते हैं अपने को आत्मा समझो। तुम अविनाशी बाप के बच्चे अविनाशी आत्मा हो, तुमको रोने की दरकार नहीं। आत्मा एक शरीर छोड़ जाए दूसरा पार्ट बजाती है। ये तो खेल है। तुम शरीर में ममत्व क्यों रखते हो। देह सहित देह के सब सम्बन्धों से बुद्धियोग तोड़ो। अपने को अविनाशी आत्मा समझो। आत्मा कभी मरती नहीं। गायन भी है जो रोया सो खोया। आत्म-अभिमानी बनने से ही लायक बन जायेंगे। तो बाप आकर देह-अभिमानी से आत्म-अभिमानी बनाते हैं। कहते हैं तुम कैसे भूले हुए हो। जन्म-जन्मान्तर तुमको रोना पड़ा है। अब फिर से तुमको आत्म-अभिमानी बनने की शिक्षा मिलती है। फिर तुम कभी रोयेंगे ही नहीं। यह है रोने वाली दुनिया, वह है हँसने की दुनिया। यह दु:ख की दुनिया, वह सुख की दुनिया। बाप बहुत अच्छी रीति से शिक्षा देते हैं। अविनाशी बाप की अविनाशी बच्चों को शिक्षा मिलती है। वह देह-अभिमानी हैं तो देह को ही देख शिक्षा देते हैं। तो देह की याद आने से रोते हैं। देखते भी हैं शरीर खत्म हो गया फिर उनको याद करने से क्या फायदा। मिट्टी को याद किया जाता है क्या? अविनाशी चीज़ ने जाकर दूसरा शरीर लिया।

यह तो बच्चे जानते हैं – जो अच्छा कर्म करता है, उनको फिर शरीर भी अच्छा मिलता है। कोई को खराब रोगी शरीर मिलता है, वह भी कर्मों अनुसार है। ऐसा नहीं कि अच्छा कर्म किया है तो ऊपर चले जायेंगे। नहीं, ऊपर तो कोई जा नहीं सकते। अच्छे कर्म किये हैं तो अच्छा कहलायेंगे। जन्म अच्छा मिलेगा फिर भी नीचे तो उतरना ही है। तुम जानते हो कि हम चढ़ते कैसे हैं। भल अच्छे कर्मों से कोई महात्मा बनेगा फिर भी कला तो कम होती ही जायेगी। बाप कहते हैं फिर भी ईश्वर को याद कर अच्छा कर्म करते हैं तो उनको अल्पकाल क्षण भंगुर सुख देता हूँ। फिर भी सीढ़ी नीचे तो उतरना ही है। नाम करके अच्छा हो। यहाँ तो मनुष्य अच्छे-बुरे कर्मों को भी नहीं जानते हैं। रिद्धि-सिद्धि वालों को कितना मान देते हैं। उन्हों के पिछाड़ी मनुष्य जैसे हैरान होते हैं। है तो सारा अज्ञान। समझो कोई इनडायरेक्ट दान-पुण्य करते हैं, धर्मशाला, हॉस्पिटल बनाते हैं। तो दूसरे जन्म में उसका एवज़ा जरूर मिलता है। बाप को याद करते हैं, भल गालियाँ भी देते हैं तो भी मुख से भगवान् का नाम कहते हैं। बाकी अन्जान होने कारण जानते कुछ नहीं। भगवान को याद कर रूद्र पूजा करते हैं, रूद्र को भगवान समझते हैं। रूद्र यज्ञ रचते हैं। शिव वा रूद्र की पूजा करते हैं। बाप कहते हैं मेरी पूजा करते हैं परन्तु बेसमझी से क्या-क्या बनाते हैं, क्या-क्या करते हैं। जितने मनुष्य उतने उन्हों के गुरू हैं। झाड़ में नये-नये पत्ते, टाल-टालियां आदि निकलते हैं तो वह कितना शोभते हैं। सतोगुणी होने के कारण उनकी महिमा होती है। बाप कहते हैं कि यह दुनिया है ही विनाशी चीज़ों को प्यार करने वाली। कोई-कोई का बहुत प्यार होता है तो मोह में जैसे पागल बन जाते हैं। बड़े-बड़े सेठ लोग मोहवश पागल हो जाते हैं। माताओं को ज्ञान न होने कारण विनाशी शरीर पिछाड़ी विधवा बन कितना रोती, याद करती रहती हैं। अभी तुम अपने को आत्मा समझ, दूसरे को भी आत्मा देखते हो तो ज़रा भी दु:ख नहीं होता। पढ़ाई को सोर्स ऑफ इनकम कहा जाता है। पढ़ाई में एम ऑबजेक्ट भी होती है। परन्तु वह है एक जन्म के लिए। गवर्मेन्ट से पगार मिलता है। पढ़कर धंधाधोरी करते हैं, तब पैसे आदि मिलते हैं। यहाँ तो फिर बात ही नई है। तुम अविनाशी ज्ञान रत्नों से झोली कैसे भरते हो। आत्मा समझती है कि बाबा हमको अविनाशी ज्ञान खजाना देते हैं। भगवान पढ़ाते हैं तो जरूर भगवान भगवती ही बनायेंगे। परन्तु वास्तव में इन लक्ष्मी-नारायण को भगवान-भगवती समझना रांग है। अभी तुम बच्चे जानते हो – ओहो, जब हम देह-अभिमानी हो जाते हैं तो हमारी बुद्धि कितनी डिग्रेट हो जाती है। जैसे जानवर बुद्धि बन जाते हैं। जानवरों की सेवा भी बहुत अच्छी होती है। मनुष्यों की तो कुछ भी नहीं। रेस के घोड़ों आदि की कितनी सम्भाल होती है। यहाँ के मनुष्यों की देखो क्या हालत है। कुत्ते को कितना प्यार से सम्भालते हैं। चाटते रहते हैं, साथ में सुलाते भी हैं। देखो, दुनिया का क्या हाल हो गया है। वहाँ सतयुग में यह धंधा होता नहीं।

तो बाप कहते हैं – बच्चों, तुमको माया रावण ने अनराइटियस बना दिया है। अनराइटियस राज्य है ना। मनुष्य अनराइटियस तो सारी दुनिया भी अनराइटियस हो जाती है। राइटियस और अनराइटियस दुनिया में देखो फर्क कितना है! कलियुग की हालत देखो क्या है! मैं स्वर्ग स्थापन कर रहा हूँ तो माया भी अपना स्वर्ग दिखाती है, टैम्पटेशन देती है। आर्टीफिशल धन कितना है। समझते हैं हम यहाँ ही स्वर्ग में बैठे हैं। स्वर्ग में थोड़ेही इतने ऊंचे 100 मंजिल के मकान आदि होते हैं। कैसे-कैसे मकान सजाते हैं, वहाँ तो डबल स्टोरी के भी मकान नहीं होते। मनुष्य ही बहुत थोड़े होते हैं। इतनी जमीन तुम क्या करेंगे। यहाँ जमीन के पिछाड़ी कितना लड़ते-झगड़ते हैं। वहाँ सारी जमीन तुम्हारी रहती है। कितना रात-दिन का फ़र्क है। वह लौकिक बाप, यह पारलौकिक बाप है। पारलौकिक बाप बच्चों को क्या नहीं देते हैं। आधाकल्प तुम भक्ति करते हो। बाप साफ कहते हैं इनसे मुक्ति नहीं मिलती है अर्थात् मेरे से नहीं मिलते। तुम मुक्तिधाम में मेरे से मिलते हो। मैं भी मुक्तिधाम में रहता हूँ। तुम भी मुक्तिधाम में रहते हो फिर वहाँ से तुम स्वर्ग में जाते हो। वहाँ स्वर्ग में मैं नहीं होता। यह भी ड्रामा है। फिर हूबहू ऐसे रिपीट होगा फिर यह ज्ञान भूल जायेगा। प्राय: लोप हो जायेगा। जब तक संगमयुग नहीं आया है तब तक गीता का ज्ञान हो कैसे सकता। बाकी जो भी शास्त्र आदि हैं, वह हैं भक्ति मार्ग के शास्त्र।

अब तुम नॉलेज सुन रहे हो। मैं बीजरूप, ज्ञान का सागर हूँ। तुमको कुछ भी करने नहीं देता, पाँव भी पड़ने नहीं देता। पाँव किसका पड़ेंगे। शिवबाबा के तो पांव हैं नहीं। यह तो ब्रह्मा के पांव पड़ना हो जायेगा। मैं तो तुम्हारा गुलाम हूँ। उनको कहते हैं निराकारी, निरहंकारी, सो भी जब वह एक्ट में आये तब तो निरहंकारी कहा जाये। बाप तुमको अथाह ज्ञान देते हैं। यह है अविनाशी ज्ञान रत्नों का दान। फिर जो जितना लेवे। अविनाशी ज्ञान रत्न लेकर फिर औरों को दान करते जाओ। इन रत्नों के लिए ही कहा जाता है – एक-एक रत्न लाखों का है। कदम-कदम पर पद्म देने वाला तो एक ही बाप है। सर्विस पर बड़ा अटेन्शन चाहिए। तुम्हारा कदम है याद की यात्रा का, उनसे तुम अमर बन जाते हो। वहाँ मरने आदि का फा होता नहीं। एक शरीर छोड़ दूसरा लिया। मोहजीत राजा की कथा भी सुनी होगी। यह तो बाप बैठ समझाते हैं। अब बाप तुमको ऐसा बनाते हैं, अभी की ही बाते हैं।

रक्षाबंधन का पर्व भी मनाते हैं। यह कब की निशानी है? कब भगवान ने कहा कि पवित्र बनो? यह मनुष्यों को क्या पता कि नई दुनिया कब, पुरानी दुनिया कब होती है? यह भी किसको पता नहीं। इतना कहते हैं कि अभी कलियुग है। सतयुग था, अभी नहीं है। पुनर्जन्म को भी मानते हैं। 84 लाख कह देते हैं तो जरूर पुनर्जन्म हुआ ना। निराकार बाप को सब याद करते हैं। वह है सब आत्माओं का बाप, वही आकर समझाते हैं। देहधारी बापू तो बहुत हैं। जानवर भी अपने बच्चों के बापू हैं। उनके लिए तो ऐसा नहीं कहेंगे कि जानवरों का बाप। सतयुग में कोई कुछ किचड़पट्टी होती नहीं। जैसा मनुष्य वैसा फर्नीचर होता है। वहाँ पंछी आदि भी फर्स्टक्लास खूबसूरत होते हैं। सब अच्छी-अच्छी चीज़े होंगी। वहाँ फल कितना स्वीट बड़े होते हैं। फिर वह सब कहाँ चला जाता है! स्वीट से निकल कड़ुवाहट आ जाती है। थर्ड क्लास बनते हैं तो चीज़ें भी थर्ड क्लास बन जाती हैं। सतयुग है फर्स्टक्लास तो सब चीज़ें फर्स्टक्लास मिलती हैं। कलियुग में हैं थर्ड क्लास। सब चीज़ें सतो, रजो, तमो……. से पास होती हैं। यहाँ तो कोई मजा नहीं है। आत्मा भी तमोप्रधान तो शरीर भी तमोप्रधान है। अभी तुम बच्चों को ज्ञान है, कहाँ वह, कहाँ यह, रात-दिन का फर्क है। बाप तुमको कितना ऊंच बनाते हैं। जितना याद करेंगे, हेल्थ-वेल्थ दोनों मिल जायेंगे। बाकी क्या चाहिए। दोनों चीज़ों से एक नहीं होगी तो हैप्पीनेस नहीं होगी। समझो हेल्थ है, वेल्थ नहीं तो क्या काम के। गाते भी हैं – “पैसा है तो लाडकाना घूमकर आओ।” बच्चे समझते हैं – भारत सोने की चिड़िया था, अभी सोना कहाँ। सोना, चांदी, ताम्बा गया, अभी तो कागज ही कागज हैं। कागज पानी में बह जाये तो पैसे कहाँ से मिलें। सोना तो बहुत भारी होता है, वह वहाँ ही पड़ा रहता है। आग भी सोने को जला न सकें। तो यहाँ सब दु:ख की बातें हैं। वहाँ यह सब बातें होती नहीं। यहाँ इस समय अपार दु:ख हैं। बाप आते ही तब हैं जब अपार दु:ख हैं, कल फिर अपार सुख होगा। बाबा तो कल्प-कल्प आकर पढ़ाते हैं, यह कोई नई बात थोड़ेही है। खुशी में रहना चाहिए। खुशी ही खुशी, यह अन्त की बात है। अतीन्द्रिय सुख गोप-गोपियों से पूछो। पिछाड़ी में तुम बहुत अच्छी रीति समझ जाते हो।

रीयल शान्ति किसे कहा जाता है, यह बाप ही बतलाते हैं। तुम बाप से शान्ति का वर्सा लेते हो। उनको सब याद करते हैं। बाप शान्ति का सागर है। बाप समझाते हैं मेरे पास आ कौन सकते हैं। फलाना-फलाना धर्म फलाने-फलाने समय पर आते हैं। स्वर्ग में तो आ न सकें। अभी साधू सन्त ढेर निकल पड़े हैं तो उन्हों की महिमा होती है। पवित्र हैं तो उनकी महिमा जरूर होनी चाहिए। अभी नये उतरे हैं। पुरानों की तो इतनी महिमा हो न सकें। वह तो सुख भोग तमोप्रधान में चले गये हैं। कितने ढेर गुरू किस्म-किस्म के निकलते जाते हैं, इस बेहद के झाड़ को कोई जानते नहीं हैं। बाप समझाते हैं कि भक्ति की सामग्री इतनी है, जितना झाड़ फैला होता है। ज्ञान बीज कितना थोड़ा है। भक्ति को आधाकल्प लगता है। यह ज्ञान तो सिर्फ इस एक अन्तिम जन्म के लिए है। ज्ञान को प्राप्त कर तुम आधाकल्प के लिए मालिक बन जाते हो। भक्ति बंद हो जाती है, दिन हो जाता है। अभी तुम सदाकाल के लिए हर्षित बनते हो, इसको कहा जाता है ईश्वर की अविनाशी लॉटरी। उसके लिए पुरूषार्थ करना पड़ता है। ईश्वरीय लॉटरी और आसुरी लॉटरी में कितना फ़र्क होता है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) तुम्हारे याद के हर कदमों में पद्म हैं, इससे ही अमर पद प्राप्त करना है। अविनाशी ज्ञान रत्न जो बाप से मिलते हैं, उनका दान करना है।

2) आत्म-अभिमानी बन अपार खुशी का अनुभव करना है। शरीरों से मोह निकाल सदा हर्षित रहना है, मोहजीत बनना है।

वरदान:- सेवा और स्व पुरुषार्थ के बैलेन्स द्वारा ब्लैसिंग प्राप्त करने वाले कर्मयोगी भव
कर्मयोगी अर्थात् कर्म के समय भी योग का बैलेन्स हो। सेवा अर्थात् कर्म और स्व पुरुषार्थ अर्थात् योगयुक्त – इन दोनों का बैलेन्स रखने के लिए एक ही शब्द याद रखो कि बाप करावनहार है और मैं आत्मा करनहार हूँ। यह एक शब्द बैलेन्स बहुत सहज बनायेगा और सर्व की ब्लैसिंग मिलेगी। जब करनहार के बजाए अपने को करावनहार समझ लेते हो तो बैलेन्स नहीं रहता और माया अपना चांस ले लेती है।
स्लोगन:- नज़र से निहाल करने की सेवा करनी है तो बापदादा को अपनी नज़रों में समा लो।

TODAY MURLI 13 AUGUST 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 13 August 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 12 August 2018 :- Click Here

13/08/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, the time of Brahmins is at this confluence age when you become the children of Brahma.You have to claim your inheritance from the unlimited Father and also enable others to claim it.
Question: What type of intellect do you need in order to understand this knowledge very well?
Answer: Those with business intellects will understand this knowledge very well. This is an unlimited business. The Father continues to show you children many different methods with which you can earn an income. The duty of you children is to make effort. You should invent such methods that you continue to accumulate an income for yourselves and in which there is also benefit for others. Remembering the Father and doing service are the means of your earning an income.
Song: O traveller of the night do not become weary! Your days of happiness are about to come. 

Om shanti. The Father from beyond explains to the children. He says: Children, don’t forget Me, your Supreme Father from beyond, the Supreme Soul. The God of the Gita is remembered. No one ever speaks of the God of the Bible or the God of the Koran. None of the founders of religions have said: O children, remember Me, your Father from beyond. No one would be able to say this to anyone. When a baby is born, it recognises his father. Because he is an heir, he will continue to remember his father. Now, the Father from beyond says: O My long-lost and now-found children, you now have to come to Me. I have come to take you children back to the supreme abode, the land of nirvana. You devotees used to remember Me, God. I now tell you to remember Me constantly. I take you to the land of happiness. Look in the mirror of your heart and see how much sorrow you have experienced for half a cycle. You didn’t experience as much sorrow in the beginning. It is later that sorrow increases. The Father from beyond now says: Remember Me! He says to souls of all religions: O My children, you have all been considering yourselves to be brothers. Now, the Father from beyond of you children, the One all human souls remember at the time of sorrow, has come and explains to you children through the lotus mouth of Brahma. Explanation is given to Brahmins, the mouth-born children of Brahma. Prajapita Brahma did not only have kumaris; he had both kumars and kumaris. There were brothers and sisters, Brahma Kumars and Kumaris. All are the children of the one Father, the granddaughters and grandsons of the one Grandfather. You children are having it explained to you personally. You listen personally and you understand that you are all children of incorporeal Shiv Baba. You are definitely studying Raja Yoga in order to claim your sovereignty of heaven from Shiv Baba through Brahma. Whatever the Supreme Father, the Supreme Soul, explains through Brahma’s mouth, you have to explain that to others. You have to explain to your physical brothers and sisters. You are now called parlokik (from beyond). You are claiming your inheritance from the Father from beyond. Therefore, you call yourselves parlokik brothers and sisters, whereas others are physical brothers and sisters. The Father explains: Children, connect your intellects in yoga to Me, exactly as you did 5000 years ago and your sins will be absolved; your sins will be burnt away. Remembrance of the Father is called the fire of yoga. By staying in remembrance of the Almighty Authority you receive power. He is the one and only incorporeal Father. He gives you knowledge through this Brahma’s mouth. He definitely needs a chariot to do this, a chariot in which He can ride. This is the chariot which the Supreme Father, the Supreme Soul, enters and teaches these things to you children. He gives you the explanation of this world from its beginning, through its middle to its end whereby you become rulers of the globe, future kings and queens. By staying in constant remembrance, you will become conquerors of vice; you will become pure, charitable souls. You will become rulers of the globe, world emperors and empresses for 21 births in the heaven that Baba establishes. We can relate the importance of all the festivals that take place in Bharat such as Shiv Jayanti, Holi, Rakhi, Janamashtami, Diwali etc., and also the biographies of all the deities. Come, brothers and sisters, we will give you the introduction of your Father from beyond. By receiving this introduction and studying easy Raja Yoga, you can become the masters of the world. You will rule the unshakeable and constant World Almighty kingdom of purity, peace and happiness. It is very easy to explain this to anyone. You should also write in this way: We will explain the secrets that the Father has explained to us. You will claim your inheritance from the Father if you become a child of Him. You too can come and claim your unlimited inheritance from your unlimited Father. For birth after birth you have been claiming limited inheritances. Those are inheritances of sorrow, because it is the kingdom of Ravan. There was constant happiness in the kingdom of Rama. Then, in the kingdom of Maya, Ravan, you became unhappy. You can explain this to anyone. You can also explain these things in a public lecture. God is the Highest on High. Then there are Brahma, Vishnu and Shankar and their praise. It is remembered that establishment took place through Brahma. Therefore, he must surely have been in the corporeal world. Brahmins are the children of Brahma. He is called Brahma, the Father of Humanity. So, the Brahmin caste is needed first. The Brahmin caste is the highest of all. Who creates this caste? The Supreme Father, the Supreme Soul. All are children of the Father. He sits here and teaches you Brahma Kumars and Kumaris through Brahma. This confluence age is the land of Brahmins. Then you will go to the land of Rudra and then to the land of Vishnu. The ones who stay in constant remembrance will be the first ones to go into the rosary of Rudra. They will become the kings and queens of the sun dynasty and the moon dynasty. Therefore, by studying Raja Yoga from the Supreme Father, the Supreme Soul, at this time you can claim a royal status. The Father says: Constantly remember Me, your Father. Connect your intellects in yoga to Me. This is a spiritual pilgrimage. You have been going on physical pilgrimages for birth after birth. The Father now comes and teaches you the spiritual pilgrimage. He says: Remember Me, your Father and your sweet home, the place from where you came to play your parts. When you were beautiful you ruled the world. Then, when you sat on the pyre of lust, you became ugly; from beautiful, you became ugly. Bharat was very beautiful; the very name was heaven; now it is hell. You are those who become worshippers from being worthy of worship. Therefore, the Highest on High is God Shiva, who accomplishes His tasks through Brahma, Vishnu and Shankar. They have been made the instruments responsible for this. He is Karankaravanhar. He teaches Raja Yoga through Brahma in order to make Bharat into heaven. The Father says: Only when I finish the task of teaching you Raja Yoga will destruction take place. You will then go and rule the kingdom of the new world, which is now being established. However, this depends on how much effort you make. Everything depends on effort. They say that the Ganges is the Purifier. So, why do they call out to the Supreme Soul, “O Purifier, come.”? The worshipper devotees have to receive the fruit of their worship and devotion. They receive the reward of liberation-in-life in heaven and all the rest receive their reward of peace. All those who studied Raja Yoga were happy in heaven; there was both peace and happiness. You have to have your sins absolved. All the karmic accounts have to be settled, and you then have to play your partsagain from the beginning. The Father enables everyone to settle their karmic accounts. He makes them pure and takes them back with Him. The significance of this aspect has to be understood. Human beings remember God. Therefore, He definitely has to come onto this earth. He says: I come onto this earth to give devotees the fruit of their devotion. I grant them liberation and liberation-in-life and also peace and happiness. People everywhere in the world ask for peace, happiness and wealth. Human beings make so much effort to attain money so that they can become wealthy. They consider happiness to be in wealth. However, it doesn’t matter how much wealth anyone has, this is still the kingdom of Maya; it is still the impure world. Therefore, there must definitely be sin here. People commit a lot of sin to attain wealth. This is the world of sinful souls. There is not a single pure, charitable soul here, whereas there are no sinful souls in the world of pure, charitable souls. The king, queen and subjects are all pure, charitable souls. Kings in the impure world also worship those pure deities because they consider the deities to be completely virtuous and that they themselves have no virtue. They say: Have mercy on us! Then they say that they are God! There is only the one Father who purifies the impure. By saying “Purifier” your intellect should go up to incorporeal God. There are worshippers who worship the incorporeal One. Therefore, the incorporeal Father is the Highest-on-High. Until they have His proper introduction, how can they worship Him? They say that Shiva is God, because they remember the Incorporeal, but who is He? They need His full introduction. Why do they remember the incorporeal One? What do they receive from Him? Will they go to the incorporeal world? Souls do not know the path to the incorporeal world. Even though everyone remembers Him, they don’t have His introduction. No one can become pure through that type of remembrance. The incorporeal One, Himself, comes here into the corporeal. People study so many scriptures etc. in order to go to the incorporeal world, but no one can go there. They don’t know the way there. The guides of physical pilgrimages know those ways, which is why they are able take people there. No one here knows this path, so how could they explain? This is why they say that God is infinite. In that case, how could they remember Him? They don’t understand anything at all. Someone said that He was infinite and someone else said that He was incorporeal. Therefore, they became worshippers of the incorporeal One. Nowadays, they say that they are God! Day by day, people’s ideas are becoming tamopradhan; they say whatever they think. The Father explains that He has been remembered as the Highest on High. Through the idea of omnipresence, everyone becomes the Highest on High. How can those who are impure and unhappy be the Highest on High? On the one hand, they say that He is beyond name and form, and on the other, they put Him into the pebbles and stones. That is called defamation of religion. Now they say: We are the Supreme Soul. Whatever has passed was in the drama. It will happen again. By them making mistake after mistake, by giving insult after insult, Bharat has become so impure. Everyone has to receive the Father’s introduction. Your influence will spread. People receive knowledge through so many Brahma Kumars and Kumaris. These things are surely spoken by the Supreme Father, the Supreme Soul. The highest of all is the Supreme Father, the Supreme Soul. He is praised a great deal; there is no limit to His praise. The Father now sits here and gives His own introduction. What do I do? I come and teach Raja Yoga and transform impure souls into pure souls. It is remembered: “God, Your ways and means are unique!” Therefore, it is definitely when He comes here that He would give directions. The Christ soul came to establish the Christian religion. The Father’s directions are unique. This Father is the highest of all. Out of all the human beings in Bharat, it is the highest-on-high deities who wear the double crown. This is the Father’s shrimat. God speaks: I teach you Raja Yoga, which no one else can teach. It is written: “God speaks”. He is Heavenly God, the Father , who establishes heaven. He teaches you Brahmins Raja Yoga for heaven. The Brahmin caste is the highest of all. The Father shows you many methods for doing service. Even though someone insults you, you must still put up the pictures. It must be written on them that Bharat goes through these castes. Now that it is the iron age, it is the shudra caste. Then you become Brahmins through the Father. You are called Brahma Kumars and Kumaris. Your pictures should be such that human beings become amazed and say that they have never seen such pictures anywhere else. Those with business intellects can understand these things very well. This business is very good, and the One who gives elevated directions is also the most elevated. However, there are many children who don’t make effort at all; they stay at home sleeping. So Baba comes to uplift them. If you create one picture, thousands will experience benefit from that. Everyone will sing your praise. They will say: Salutations to you mothers. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to become the first ones in the rosary of Rudra, stay in constant remembrance of the Father. Make yourself pure by remembering the Father and the sweet home.
  2. Become a spiritual guide and take everyone on the true pilgrimage. Follow the shrimat of the one Father and make yourself double crowned.
Blessing: May you become a most elevated being by following the highest codes of conduct and who moves along according to the codes of conduct from amrit vela till night time.
The codes of conduct of the confluence age make you great and this is why you are called “maryada purshottam” (Those who become the highest by following the highest codes of conduct). The easiest way to protect yourself from the tamoguni atmosphere and its vibrations is to follow the codes of conduct. Those who stay within the codes of conduct are saved from labouring. You have received the codes of conduct for every step you take and by taking steps accordingly, you automatically become maryada purshottam. So, from amrit vela till night time, let your life be according to the codes of conduct and you will then be said to be the highest beings, that is, the elevated souls amidst ordinary people.
Slogan: Those who mould themselves to any situation become worthy of everyone’s blessings.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 13 AUGUST 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 13 August 2018

To Read Murli 12 August 2018 :- Click Here
13-08-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – यह संगमयुग है ब्राह्मणों की पुरी, इसमें तुम ब्रह्मा के बच्चे बने हो, तुम्हें बेहद के बाप का वर्सा लेना है और सभी को दिलाना है”
प्रश्नः- इस ज्ञान को अच्छी रीति समझने के लिए किस प्रकार की बुद्धि चाहिए?
उत्तर:- व्यापारी बुद्धि वाले ही इस ज्ञान को अच्छी रीति समझेंगे। यह है बेहद का व्यापार। बाप बच्चों को भिन्न-भिन्न कमाई की युक्तियां बताते रहते हैं। बच्चों का काम है मेहनत करना। ऐसी युक्ति निकालनी चाहिए जिससे स्वयं की भी कमाई जमा होती रहे और सर्व का भी कल्याण हो। बाप की याद और सेवा ही कमाई का साधन है।
गीत:- रात के राही थक मत जाना…….. 

ओम् शान्ति। पारलौकिक बाप बच्चों के प्रति समझा रहे हैं, कहते हैं कि बच्चे मुझ अपने पारलौकिक परमपिता परमात्मा को भूलना नहीं है। गाया भी जाता है गीता का भगवान्। बाइबिल का भगवान् वा कुरान का भगवान् कभी कोई नहीं कहेंगे। कोई भी धर्म स्थापन करने वाले ऐसे नहीं कहेंगे कि हे बच्चे अब मुझ पारलौकिक बाप को याद करो। ऐसे कोई किसको कह नहीं सकते। बच्चा पैदा होता है, बाप को जानते हैं। बाप को ही याद करते रहेंगे क्योंकि वारिस है। अब पारलौकिक बाप कहते हैं – हे मेरे सिकीलधे बच्चे, अब तुमको मेरे पास आना है। मैं तुम बच्चों को परमधाम निर्वाणधाम ले चलने लिए आया हूँ। तुम भक्त मुझ भगवान् को याद करते थे। अब मैं कहता हूँ तुम मुझे निरन्तर याद करो। मैं तुमको सुखधाम ले चलता हूँ। अपने दिल अन्दर देखो – तुमने आधाकल्प कितना दु:ख उठाया है! पहले से ही इतना दु:ख नहीं मिलता है। पीछे दु:ख वृद्धि को पाता है। अब पारलौकिक बाप कहते हैं मुझे याद करो। सभी धर्म वालों को कहते हैं – हे मेरे बच्चे, तुम अपने को भाई-भाई समझते आये हो। अब तुम आत्माओं का जो पारलौकिक बाप है, जिसको सब जीव आत्मायें दु:ख में याद करती आई हैं – वह अब ब्रह्मा मुख कमल द्वारा तुम बच्चों को समझा रहे हैं। समझानी दी जाती है – ब्रह्मा मुख वंशावली ब्राह्मणों को। प्रजापिता ब्रह्मा को सिर्फ कुमारियां ही नहीं थी। कुमार-कुमारियां दोनों थे। भाई-बहिन थे – ब्रह्माकुमार-कुमारियां। एक ही बाप के बच्चे एक ही दादे के पोत्रे पोत्रियां ठहरे। तुम बच्चों को सम्मुख समझाया जाता है। तुम सम्मुख सुनते हो, समझते हो कि हम निराकार शिवबाबा के सब बच्चे हैं। बरोबर हम ब्रह्मा द्वारा शिवबाबा से स्वर्ग की बादशाही पाने के लिए राजयोग सीख रहे हैं। परमपिता परमात्मा ब्रह्मा मुख द्वारा जो तुमको समझाते हैं वह फिर औरों को समझाना है। जो लौकिक भाई-बहन हैं, उन्हों को समझाना है। तुम हो गये पारलौकिक। पारलौकिक बाप से तुम वर्सा लेते हो। तुम कहलायेंगे पारलौकिक भाई-बहन। वह हुए लौकिक भाई-बहन।

तो बाप समझाते हैं – बच्चे, हूबहू 5 हजार वर्ष पहले मुआफिक तुम बुद्धि का योग लगाओ तो तुम्हारे विकर्म विनाश हो जायेंगे। पाप भस्म हो जायेंगे। बाप की याद को ही योग-अग्नि कहा जाता है। इस सर्व-शक्तिमान बाप की याद में रहने से तुमको शक्ति मिलेगी। वह एक ही निराकार बाप है, इस ब्रह्मा मुख से सुनाते हैं। जरूर रथ तो चाहिए ना, जिस रथ के ऊपर उनकी सवारी हो। यह रथ है, इसमें परमपिता परमात्मा सवार हो बच्चों को यह सिखलाते हैं। इस सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त की समझानी देते हैं, जिससे तुम भविष्य में चक्रवर्ती राजा-रानी बन जायेंगे और निरन्तर याद करने से विकर्माजीत बन जायेंगे, पावन पुण्य आत्मायें बन जायेंगे। बाबा जो स्वर्ग स्थापन करते हैं उस स्वर्ग के तुम चक्रवर्ती महाराजा-महारानी बनेंगे। सो भी 21 जन्मों के लिए और भारत में जो भी उत्सव होते हैं – शिव जयन्ती, होली, राखी, जन्माष्टमी, दीवाली आदि इन सब उत्सवों का महत्व और हरेक की बायोग्राफी हम आपको सुनाते हैं। आओ बहनों-भाइयों, हम आपको पारलौकिक बाप का परिचय देवें। परिचय ले सहज राजयोग सीख तुम विश्व के मालिक बनेंगे। वर्ल्ड ऑलमाइटी, पवित्रता-सुख-शान्तिमय अटल-अखण्ड राज्य करेंगे। यह किसको भी समझाना बहुत सहज है। इस रीति लिखना भी है। बाप के समझाये हुए यह राज़ हम तुमको समझायेंगे। बाप के बच्चे बनेंगे तब तो वर्सा मिलेगा ना। तुम भी बेहद के बाप से बेहद का वर्सा आकर लो। जन्म-जन्म तो हद का वर्सा लेते आये हो। वह है दु:ख का वर्सा क्योंकि यह है ही रावण राज्य। राम के राज्य में सदा सुख था। फिर माया रावण के राज्य में तुम दु:खी हुए हो। यह तो तुम कोई को भी समझा सकते हो। पब्लिक भाषण में भी तुम समझा सकते हो। ऊंच ते ऊंच है भगवान्। फिर हैं ब्रह्मा, विष्णु, शंकर, फिर उन्हों की महिमा। गाया भी हुआ है ब्रह्मा द्वारा स्थापना। तो जरूर वह स्थूलवतन में होगा। ब्राह्मण हैं ब्रह्मा की सन्तान। उनको ही प्रजापिता ब्रह्मा कहा जाता है। पहले-पहले ब्राह्मण वर्ण चाहिए। ऊंच ते ऊंच है ब्राह्मण वर्ण। कौन स्थापन करते हैं? परमपिता परमात्मा। पिता के सब बच्चे ठहरे। ब्रह्मा द्वारा इन ब्रह्माकुमार-कुमारियों को बैठ पढ़ाते हैं। यह संगमयुग है ब्राह्मणों की पुरी। फिर रुद्र पुरी में जाकर विष्णुपुरी में आते हैं। पहले-पहले रुद्र माला में वह आयेंगे जो निरन्तर याद करेंगे। सूर्यवंशी-चन्द्रवंशी राजायें बनते हैं ना। तो इस समय परमपिता परमात्मा द्वारा राजयोग सीखने से राजाई पद पाते हैं। बाप कहते हैं कि निरन्तर मुझ बाप को याद करो, बुद्धि का योग मेरे साथ लगाओ। यह है रूहानी यात्रा। जन्म-जन्म से तो जिस्मानी यात्रायें करते आये, अब बाप आकर रूहानी यात्रा सिखलाते हैं। कहते हैं मुझ बाप को और स्वीट होम को याद करो, जहाँ से तुम आये हो पार्ट बजाने। तुम गोरे थे, विश्व पर राज्य करते थे फिर तुम काम चिता पर बैठ काले हो गये हो, सुन्दर से श्याम बन गये हो। भारत बड़ा सुन्दर था। नाम ही था स्वर्ग, अब तो नर्क है ना। तुम ही पूज्य से फिर पुजारी बनते हो तो ऊंच ते ऊंच भगवान् शिव फिर ब्रह्मा विष्णु, शंकर, इन द्वारा बाप कार्य करवाते हैं। इन्हों को निमित्त बनाया है। करनकरावनहार है ना। ब्रह्मा द्वारा भारत को स्वर्ग बनाने के लिए राजयोग सिखलाते हैं। बाप कहते हैं कि यह राजयोग सिखलाकर पूरा करुँगा तो फिर विनाश होगा। फिर जो नई दुनिया स्थापन करते हैं उनमें जाकर राज्य करेंगे फिर जितना जो पुरुषार्थ करे। सारा पुरुषार्थ पर मदार है। कहते हैं गंगा पतित-पावनी फिर परमात्मा को पुकारते क्यों हो – हे पतित पावन आओ? तो पुजारी भक्तों को भक्ति का फल मिलना चाहिए ना। स्वर्ग में तुमको जीवन्मुक्ति का फल मिलता है और सबको शान्ति का फल मिल जाता है। स्वर्ग में सुख-शान्ति दोनों ही थे, सब सुखी थे – जिन्होंने राजयोग सीखा। विकर्म विनाश तो करना ही है, हिसाब-किताब चुक्तू तो होना ही है। फिर नयेसिर पार्ट बजाना है। सबका हिसाब-किताब चुक्तू कराए पावन बनाए बाप साथ में ले जाते हैं। यह सब राज़ समझने के हैं।

मनुष्य भगवान् को याद करते हैं तो जरूर भगवान् को सृष्टि पर आना पड़े। कहते हैं कि सृष्टि पर आकर भक्तों को भक्ति का फल देता हूँ। मुक्ति वा जीवनमुक्ति, शान्ति वा सुख देता हूँ। दुनिया में सुख, शान्ति वा सम्पत्ति ही मांगते हैं। मनुष्य तो सम्पत्ति के लिए ही पुरुषार्थ करते हैं कि धनवान बनें। समझते हैं सम्पत्ति में ही सुख होगा। परन्तु भल किसको कितनी भी सम्पत्ति है, राज्य तो फिर भी माया का है ना। पतित दुनिया है ना, तो पाप जरूर होंगे। सम्पत्ति के लिए बहुत पाप करते हैं। यह है ही पाप आत्माओं की दुनिया। इसमें कोई भी पुण्य आत्मा होती नहीं। पुण्य आत्माओं की दुनिया में फिर कोई पाप आत्मा नहीं होती। यथा राजा रानी तथा प्रजा पुण्य आत्मा होते हैं। इन पावन देवी-देवताओं को पतित दुनिया में राजा लोग भी पूजते हैं क्योंकि समझते हैं – यह सर्वगुण सम्पन्न हैं। हमारे में कोई गुण नाहीं, आपेही तरस परोई….. फिर यह कहते हम ही भगवान् हैं। पतितों को पावन बनाने वाला तो एक ही बाप है। पतित-पावन कहने से बुद्धि चली जानी चाहिए निराकार भगवान् की तरफ। निराकार उपासी भी होते हैं ना। तो वह निराकार बाप है ऊंच ते ऊंच, जब तक उनका पूरा परिचय नहीं तो उपासना क्या करेंगे? भल कहते हैं परमपिता परमात्मा शिव है। निराकार उपासी हैं ना। निराकार को याद करने वाले। परन्तु वह है कौन? पूरा परिचय चाहिए ना। निराकार को क्यों याद करते हैं, उससे क्या मिलेगा? क्या निराकारी दुनिया में जायेंगे? आत्माओं को तो निराकारी दुनिया में जाने के रास्ते का पता नहीं है। भल सब याद करते हैं परन्तु बिगर परिचय। इस प्रकार याद करने से तो कोई पावन नहीं बनेंगे। यहाँ तो निराकार खुद साकार में आते हैं। मनुष्य तो निराकारी दुनिया में जाने के लिए कितने शास्त्र आदि पढ़ते हैं! परन्तु कोई जा नहीं सकते। रास्ते का भी पता नहीं है। जिस्मानी यात्रा के पण्डे लोग रास्ता जानते हैं तब तो ले जाते हैं ना। यहाँ इस रास्ते को कोई जानता नहीं, जो समझाये। इसके लिए कहते – बेअन्त है, तो फिर याद कैसे करें? कुछ भी समझते नहीं। कोई ने कहा बेअन्त है, फिर कोई ने कहा निराकार है, तो फिर निराकार उपासी बने। आजकल तो फिर कह देते कि हम वही हैं। दिन-प्रतिदिन तमोप्रधान मत होती जाती है। जो आता वह कहते रहते हैं। बाप समझाते हैं ऊंच ते ऊंच बाप गाया जाता है। सर्वव्यापी कहने से तो सब ऊंच ते ऊंच हो जाते हैं। इतने पतित-दु:खी वह फिर ऊंच ते ऊंच कैसे होंगे। एक तरफ कहते नाम रूप से न्यारा है फिर उनको पत्थर भित्तर में लगाना इसको ही धर्म ग्लानी कहा जाता है। अभी फिर कहते हम ही परमात्मा हैं। अभी जो कुछ पास्ट हुआ, सब ड्रामा है। वह फिर भी होगा। भूल पिछाड़ी भूल, ग्लानी पिछाड़ी ग्लानि करते-करते भारत ऐसा पतित हो गया है। बाप का परिचय तो सबको मिलना है। तुम्हारा प्रभाव निकलेगा इतने ढेर ब्रह्माकुमार कुमारियों द्वारा ज्ञान मिलता है। यह तो बरोबर परमपिता परमात्मा की ही बात है। सबसे ऊंच ते ऊंच है परमपिता परमात्मा, उनकी महिमा बहुत है, पारावार नहीं। अब बाप बैठ अपना परिचय देते हैं – मैं क्या करता हूँ? मैं आकर सभी पाप आत्माओं को पुण्य आत्मा बनाता हूँ, राजयोग सिखलाता हूँ। गाया भी जाता है ईश्वर की गत-मत न्यारी। सो तो जरूर जब यहाँ आयेंगे तब तो मत देंगे ना। क्राइस्ट की सोल आई, क्रिश्चियन धर्म स्थापन करने। बाप की मत तो सबसे न्यारी है। यह बाप तो है सबसे ऊंच। भारत में मनुष्य मात्र में श्रेष्ठ ते श्रेष्ठ देवी-देवतायें ही डबल सिरताज बने हैं। बाप की है श्रीमत। भगवानुवाच – मैं तुमको राजयोग सिखलाता हूँ जो और कोई सिखला न सके। लिखा हुआ है भगवानुवाच। वह है ही हेविनली गॉड फादर जो स्वर्ग की स्थापना करते हैं, स्वर्ग के लिए तुम ब्राह्मणों को राजयोग सिखलाते हैं। ब्राह्मण वर्ण सबसे ऊंच हो गया। बाप सर्विस की युक्तियां बहुत बतलाते हैं। भल कोई गालियां भी दे, तुम चित्र रख दो, उनमें लिखा होगा कि इन वर्णों में भारत ही आता है। अब है कलियुग, शूद्र वर्ण। फिर तुम बाप द्वारा ब्राह्मण बने हो। तुम्हारा नाम है – ब्रह्माकुमार-कुमारी। तुम्हारे चित्र ऐसे होने चाहिए जो मनुष्यों को वन्डर लगे कि ऐसे चित्र तो कहीं नहीं देखे। यह ज्ञान व्यापारी बुद्धि वाले अच्छी रीति समझ सकते हैं। यह व्यापार भी अच्छा है। तो श्रीमत देने वाला भी सर्वोत्तम है। परन्तु बहुत बच्चे मेहनत नहीं करते। घर में सोये पड़े रहते तो बाबा खड़ा करते हैं। तुम एक चित्र बनायेंगे, इससे हजारों का कल्याण होगा, सब तुम्हारी वाह-वाह करेंगे। वन्दे मातरम् कहेंगे। अच्छा!

मात-पिता बापदादा का मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) रुद्र माला में पहला नम्बर आने के लिए निरन्तर बाप की याद में रहना है। बाप और स्वीट होम की याद से स्वयं को पावन बनाना है।

2 रूहानी पण्डा बन सबको सच्ची यात्रा करानी है। एक बाप की श्रीमत से स्वयं को डबल सिरताज बनाना है।

वरदान:- अमृतवेले से लेकर रात तक मर्यादापूर्वक चलने वाले मर्यादा पुरुषोत्तम भव
संगमयुग की मर्यादायें ही पुरुषोत्तम बनाती हैं इसलिए मर्यादा पुरुषोत्तम कहा जाता है। तमो-गुणी वायुमण्डल, वायब्रेशन से बचने का सहज साधन यह मर्यादायें हैं। मर्यादाओं के अन्दर रहने वाले मेहनत से बच जाते हैं। हर कदम के लिए बापदादा द्वारा मर्यादायें मिली हुई हैं, उसी प्रमाण कदम उठाने से स्वत: ही मर्यादा पुरुषोत्तम बन जाते हैं। तो अमृतवेले से रात तक मर्यादापूर्वक जीवन हो तब कहेंगे पुरूषोत्तम अर्थात् साधारण पुरुषों से उत्तम आत्मायें।
स्लोगन:- जो किसी भी बात में स्वयं को मोल्ड कर लेते हैं वही सर्व की दुआओं के पात्र बनते हैं।
Font Resize