daily murli 12 november

TODAY MURLI 12 NOVEMBER 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 12 November 2020

12/11/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, the things that the Father teaches you now are your source of income for 21 births. Therefore, study very well and you will be constantly happy.
Question: Why is the supersensuous joy of you children remembered?
Answer: Because it is only you children who know the Father at this time. Only you come to know the beginning, the middle and the end of the world from the Father. You are now standing at the confluence, in the unlimited. You know that you are now going across the salty channel to the sweet channel of nectar. God, Himself, is teaching you! Only you Brahmins experience this happiness. This is why only your supersensuous joy has been remembered.

Om shanti. The unlimited, spiritual Father speaks to you unlimited, spiritual children, that is, He gives you His directions. You definitely do understand that you are living beings; but you also have to have the faith that you are souls. We are not studying in any new school. We come here to study every 5000 years. When Baba asks you, “Did you come to study here before?”, everyone replies, “We come here every 5000 years to Baba at the most elevated confluence age”. You do remember this, do you not? Or, have you forgotten this? Students definitely remember their school. Your aim and objective is the same. Whoever becomes a child of Baba, whether he is two days old or someone who has been coming for a long time, the aim and objective is the same for everyone. There cannot be a loss for anyone. There is an income in studying. Those people sit and relate the Granth (Sikh scripture) through which they earn an income and they are very quickly able to earn a livelihood for their bodies. Some become sadhus and sit and relate one or two scriptures and become able to earn an income. All of those are sources of income. There has to be an income for everything. If you have money, you can go touring anywhere. You children know that Baba is giving you a very good education through which you receive an income for 21 births. This income is such that you become ever happy. You will never fall ill and you will remain immortal. You have to have this faith. By having faith in this way, you will also have enthusiasm. Otherwise, you will continue to choke about something or other. You should constantly remember internally that you are studying with the unlimited Father. These are the versions of God. This is the Gita. There is the age of the Gita. They have simply forgotten that it is the fifth age. This confluence age is very short. In fact, it is not even a quarter of the other ages. You can work out the percentage. The Father will continue to explain everything as you make further progress. It is all fixed for the Father to explain to you. The parts that are fixed for all of you souls are being repeated. Whatever you are learning is also a repetition. You children now understand the significance of this repetition. Your parts change at every step; one second cannot be the same as the next. Time continues to tick away like a louse – ticktick – the seconds pass by. You are now standing in the unlimited. No other human being is in the unlimited. No one else has the knowledge of the unlimited, that is, the knowledge of the beginning, the middle and the end. You now know the future. We are going to the new world. This is the confluence age which we have to cross. There is the salty channel. This is the channel of sweet nectar. The other is one of poison. You are now leaving the ocean of poison and going to the ocean of milk. This is an unlimited aspect. No one in the world knows about these things. This is something new, is it not? Only you know who is called God and what part He plays. One of the topics in your list is: Come, and we will tell you the biography of the Supreme Father, the Supreme Soul. In fact, it is common for children to relate the biography of their father. That One, however, is the Father of all fathers, but even you too understand this, numberwise, according to your efforts. You now have to give the accurate introduction of the Father. The Father has given it to you and this is why you can explain to others; no one else knows the unlimited Father. It is also only at the confluence age that you know Him. Whether human beings are deities or shudras, whether souls are pure or impure, no one knows Him. Only you Brahmins of the confluence age know Him. Therefore, you children should have so much happiness! This is why there is the praise: If you want to know about supersensuous joy, ask the gopes and gopis. Baba is the Father, the Teacher and also the Satguru. Therefore, you must definitely write the word “Supreme“. Sometimes, you children forget this. All of these things should remain in the intellects of you children. You must definitely write this word in the praise of Shiv Baba. No one, apart from you, knows this. It is you who can explain this, which means that it is your victory. You know that the unlimited Father is the Teacher of all and the Bestower of Salvation for all. He is the One who gives us unlimited happiness and unlimited knowledge. Even then, you forget such a Father! Maya is so powerful! God is said to be powerful, but Maya is no less. You children understand the accurate meaning of the word. Maya has also been given the name “Ravan”. There is the kingdom of Rama and the kingdom of Ravan. You have to explain this accurately. Since there is the kingdom of Rama, there must also be the kingdom of Ravan. It cannot be the kingdom of Rama all the time. The unlimited Father sits here and explains who establishes the kingdom of Rama, the kingdom of Shri Krishna. You have to praise the land of Bharat a great deal. Bharat was the land of truth. That land is praised so much! It was the Father who made it that. You love the Father so much! You have an aim and objective in your intellects. You students also understand that you should have intoxication of your study. You must also be concerned about your character. Your consciences tell you that, since this is God’s study, you must not miss it for even a day, nor should you come to class late, after your teacher has arrived. It is an insult to arrive in class after your teacher. When students arrive after their teacher at school, they are told to stand outside the classroom. Baba gives you the example of his childhood: My teacher was very strict; he never even allowed us to enter the classroom. Here, many come late. The obedient children who do service are definitely loved by the Father. You now understand that this is the original eternal deity religion. When was this religion established? It doesn’t enter the intellect of anyone. It also slips away from your intellects again and again. You are now making effort to become deities. Who is teaching you? The Supreme Father, the Supreme Soul, Himself. You understand that this is your Brahmin clan. There is no dynasty. This is the most elevated Brahmin clan. The Father is also the most elevated of all, is He not? He is the Highest on High. Therefore, the income that He gives is also definitely the highest. Only He should be called Shri Shri. He makes you elevated. Only you children know who makes you elevated. No one else understands anything. You say: Our Father is the Father, the Teacher and the Satguru and He is teaching us. We are souls. The Father has reminded us souls: You are My children. This is a brotherhood, is it not? They remember the Father and they understand that the Father is incorporeal, and so souls too would surely be incorporeal. A soul sheds his body and takes another and continues to play his part. Instead of souls, people consider themselves to be bodies; they have forgotten that they are souls. I never forget this. All of you souls are saligrams. I am the Supreme Father which means the Supreme Soul. He doesn’t have any other name. The name of the Supreme Soul is Shiva. All of you are also souls, like Him, but you are called saligrams. In the Shiva Temple, they have placed many saligrams. When they worship Shiva, they also worship the saligrams at the same time. This is why Baba has explained that you souls and your bodies are both worshipped. Since I don’t have a body, it is just Myself, the soul, that is worshipped. You become so elevated! Baba is very pleased. Sometimes, a father is poor and his child studies and attains a high status. They become something from nothing. The Father understands that you too were so elevated. You then became orphans because you didn’t know your Father. You now belong to the Father. Therefore, you are becoming the masters of the whole world. The Father says: You called Me Heavenly God, the Father. You know that heaven is now being established. No one’s intellect, but yours, is aware of what will exist there. It is only in the intellects of you children that you were the masters of the world and that you are now becoming that again. The subjects will also say that they are the masters. These things are only in the intellects of you children. Therefore, you should have so much happiness! After hearing these things, you have to relate them to others. This is why centres and museums are being opened. Whatever happened in the previous cycle will continue to happen. Many people will offer to open a museum or a centre for you; many will emerge. The bones of everyone are continuing to be softened. You are continuing to soften the bones of the whole world. There is so much power in your yoga. The Father says: You have a lot of power. Prepare food in yoga and serve it to others in that stage and their intellects will be pulled in this direction. People on the path of devotion even eat from the plate of their guru. You children understand that there is so much expansion of the path of devotion that you can’t even describe it! This is the Seed and that is the tree. You can speak of the Seed, but if you were to ask someone to count the leaves, no one could do that. There are countless leaves. There is no sign of leaves in a seed. It is a wonder! This too is called nature. All insect life is so wonderful! There are so many different types of insect and just see how they are created. It is a wonderful drama. It is this that is said to be nature. This play is predestined. What will you see in the golden age? Everything there will be new. Everything new is there. Baba has explained that the peacock is called the national bird of Bharat because a peacock feather has been portrayed in the crown of Shri Krishna. The male and female peacocks are very beautiful. Their creation takes place through tears and this is why it is called the national bird. There are beautiful birds abroad as well. The secrets of the beginning, the middle and the end of the whole world have now been explained to you children. No one else knows this. Tell them: We will tell you the biography of the Supreme Father, the Supreme Soul. Since there is the Creator, there must also be His creation. We know the history and geography of that. We know the role that the Highest on High, the unlimited Father, plays. The world knows nothing of that at all. This world is very dirty. Nowadays, being beautiful is also a problem: just look how they abduct children! You children should have distaste for this vicious world. This is a dirty world and a dirty body. We have to remember the Father and make ourselves, souls, pure. We were satopradhan and happy. Now that we are tamopradhan, we are unhappy; we have to become satopradhan once again. You want to become pure from impure. Although they sing: You are the Purifier of the impure, they don’t have distaste (for impurity). You children understand that this world is dirty. We will receive beautiful bodies in the new world. We are now becoming the masters of the land of immortality. You children should always remain happy and cheerful. You children are very sweet. The Father comes and meets the same children every 5000 years, so there should definitely be that happiness. I have come to meet you children once again. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. We are Godly students. Therefore, we should have the intoxication of the study and also be concerned about our character. Do not miss this study for even a day. Do not insult the Teacher by arriving late for class.
  2. Have distaste for this vicious, dirty world. Make effort to make yourself, a soul, pure and satopradhan by having remembrance of the Father. Always remain happy and cheerful.
Blessing: May you remain free from karmic bondage and become double-light while doing service with the vehicle of your subtle body.
Just as you remain busy in doing physical Godly service with your physical body, in the same way, you also simultaneously have to do subtle service with your subtle body. Just as the establishment grew through Brahma, in the same way, with this use of your subtle body and the vision of your combined Shiv-Shakti form, the task of visions and giving the message will take place. However, to do this service, you have to remain constantly free from karmic bondage and be double-light even while you work.
Slogan: The fortune of being respected by everyone is merged in the renunciation of respect.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 12 NOVEMBER 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 12 November 2020

Murli Pdf for Print : – 

12-11-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – बाप जो पढ़ाते हैं, उसे अच्छी रीति पढ़ो तो 21 जन्मों के लिए सोर्स आफ इनकम हो जायेगी, सदा सुखी बन जायेंगे”
प्रश्नः- तुम बच्चों के अतीन्द्रिय सुख का गायन क्यों है?
उत्तर:- क्योंकि तुम बच्चे ही इस समय बाप को जानते हो, तुमने ही बाप द्वारा सृष्टि के आदि मध्य अन्त को जाना है। तुम अभी संगम पर बेहद में खड़े हो। जानते हो अभी हम इस खारी चेनल से अमृत के मीठे चेनल में जा रहे हैं। हमें स्वयं भगवान पढ़ा रहे हैं, ऐसी खुशी ब्राह्मणों को ही रहती है इसलिए अतीन्द्रिय सुख तुम्हारा ही गाया हुआ है।

ओम् शान्ति। रूहानी बेहद का बाप रूहानी बेहद के बच्चों प्रति समझा रहे हैं – यानी अपनी मत दे रहे हैं। यह तो जरूर समझते हो कि हम जीव आत्मायें हैं। परन्तु निश्चय तो अपने को आत्मा करना है ना। यह कोई हम नया स्कूल नहीं पढ़ते हैं। हर 5 हजार वर्ष के बाद पढ़ते आते हैं। बाबा पूछते हैं ना आगे कभी पढ़ने आये हो? तो सब कहते हैं हम हर 5 हजार वर्ष बाद पुरूषोत्तम संगमयुगे बाबा के पास आते हैं। यह तो याद होगा ना कि यह भी भूल जाते हो? स्टूडेन्ट को स्कूल तो जरूर याद आयेगा ना। एम आब्जेक्ट तो एक ही है। जो भी बच्चे बनते हैं फिर दो दिन का बच्चा हो या पुराना हो परन्तु एम आब्जेक्ट एक है। कोई को भी घाटा नहीं हो सकता। पढ़ाई में इनकम है। वह भी ग्रंथ बैठ पढ़कर सुनाते हैं तो कमाई होती है, झट शरीर निर्वाह निकल आयेगा। साधू बना एक दो शास्त्र बैठ सुनाया, इनकम हो जायेगी। अभी यह सब सोर्स आफ इनकम है। हर एक बात में इनकम चाहिए ना। पैसे हैं तो कहाँ भी घूम फिर आओ। तुम बच्चे जानते हो – बाबा हमको बहुत अच्छी पढ़ाई पढ़ाते हैं जिससे 21 जन्मों की इनकम मिलती है। यह इनकम ऐसी है जो हम सदा सुखी बन जायेंगे। कभी बीमार नही होंगे, सदा अमर रहेंगे। यह निश्चय करना होता है। ऐसे-ऐसे निश्चय रखने से तुमको हुल्लास आयेगा। नहीं तो कोई न कोई बात में घुटका आता रहेगा। अन्दर में सिमरण करना चाहिए – हम बेहद के बाप से पढ़ रहे हैं। भगवानुवाच – यह तो गीता है। गीता का भी युग आता है ना। सिर्फ भूल गये हैं – यह है पाचवां युग। यह संगम बहुत छोटा है। वास्तव में चौथाई भी नहीं कहेंगे। परसेन्टेज़ लगा सकते हैं। सो भी आगे चल बाप बतलाते रहेंगे। कुछ तो बाप के बतलाने की भी नूँध है ना। तुम सभी आत्माओं में पार्ट की नूंध है जो रिपीट हो रही है। तुम जो सीखते हो वह भी रिपीटेशन है ना। रिपीटेशन के राज़ का तुम बच्चों को मालूम हुआ है। कदम-कदम पर पार्ट बदलता जा रहा है। एक सेकेण्ड न मिले दूसरे से। जूँ मिसल टिक-टिक चलती रहती है। टिक हुई सेकेण्ड पास हुआ। अभी तुम बेहद में खड़े हो। दूसरा कोई भी मनुष्य मात्र बेहद में नहीं खड़ा है। कोई को भी बेहद की अर्थात् आदि-मध्य-अन्त की नॉलेज नहीं है। अभी तुमको फ्युचर का भी मालूम है। हम नई दुनिया में जा रहे हैं। यह है संगमयुग, जिसको क्रास करना है। खारी चेनल है ना। यह है मीठे-मीठे अमृत की चेनल। वह है विष की। अभी तुम विष के सागर से क्षीर सागर में जाते हो। यह है बेहद की बात। दुनिया में इन बातों का कुछ भी पता नहीं है। नई बात है ना। यह भी तुम जानते हो भगवान किसको कहा जाता है। वह क्या पार्ट बजाते हैं। टॉपिक में भी बताते हो, आओ तो परमपिता परमात्मा की बायोग्राफी तुमको समझायें। यूँ तो बच्चे बाप की बायोग्राफी सुनाते हैं। कॉमन है। यह तो फिर बापों का बाप है ना। तुम्हारे में भी नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार जानते हैं। अब तुमको यथार्थ रीति बाप का परिचय देना है। तुमको भी बाप ने दिया है तब तो समझाते हो और तो कोई बेहद के बाप को जान न सकें। तुम भी संगम पर ही जानते हो। मनुष्य मात्र देवता हो वा शूद्र हो, पुण्य आत्मा हो, पाप आत्मा हो, कोई भी नहीं जानते सिर्फ तुम ब्राह्मण जो संगमयुग पर हो, तुम ही जान रहे हो। तो तुम बच्चों को कितनी खुशी होनी चाहिए। तब तो गायन भी है – अतीन्द्रिय सुख पूछना हो तो गोप गोपियों से पूछो।

बाबा बाप भी है, टीचर, सतगुरू भी है, सुप्रीम अक्षर तो जरूर डालना है। कभी-कभी बच्चे भूल जाते हैं। यह सब बातें बच्चों की बुद्धि में रहनी चाहिए। शिवबाबा की महिमा में यह अक्षर जरूर डालने हैं। सिवाए तुम्हारे और तो कोई जानते ही नहीं। तुम समझा सकते हो तो गोया तुम्हारी विजय हुई ना। तुम जानते हो बेहद का बाप सर्व का शिक्षक, सर्व का सद्गति दाता है। बेहद का सुख, बेहद का ज्ञान देने वाला है। फिर भी ऐसे बाप को भूल जाते हो। माया कितनी समर्थ है। ईश्वर को तो समर्थ कहते हैं परन्तु माया भी कम नहीं है। तुम बच्चे अभी एक्यूरेट जानते हो – इनका तो नाम ही रखा है रावण। रामराज्य और रावणराज्य। इस पर भी एक्यूरेट समझाना चाहिए। राम राज्य है तो जरूर रावण राज्य भी है। सदैव रामराज्य तो हो न सके। राम राज्य, श्रीकृष्ण का राज्य कौन स्थापन करते हैं, यह बेहद का बाप बैठ समझाते हैं। तुमको भारत खण्ड की बहुत महिमा करनी चाहिए। भारत सचखण्ड था, कितनी महिमा थी। बनाने वाला बाप ही है। तुम्हारा बाप के साथ कितना लव है। एम आब्जेक्ट बुद्धि में है। यह भी जानते हो हम स्टूडेन्ट को अपनी पढ़ाई का नशा होना चाहिए। कैरेक्टर का भी ख्याल होना चाहिए। विवेक कहता है जबकि गाडली पढ़ाई है तो उसमें एक दिन भी मिस नहीं करना चाहिए और टीचर के आने बाद लेट भी नहीं पहुँचना चाहिए। टीचर के बाद आना यह भी एक इनसल्ट है। स्कूल में भी पिछाड़ी में आते हैं तो उनको टीचर बाहर में खड़ा कर देते हैं। बाबा अपने छोटेपन का मिसाल भी बताते हैं। हमारा टीचर तो बहुत सख्त था। अन्दर आने भी नहीं देता था। यहाँ तो बहुत हैं जो देरी से आते हैं। सर्विस करने वाला सपूत बच्चा जरूर बाप को प्यारा लगता है ना। अभी तुम समझते हो – आदि सनातन देवी देवता धर्म तो यह था ना। इनका धर्म कब स्थापन हुआ। जरा भी किसकी बुद्धि में नहीं है। तुम्हारी बुद्धि से भी घड़ी-घड़ी खिसक जाता है। तुम अभी देवी देवता बनने के लिए पुरूषार्थ कर रहे हो। कौन पढ़ा रहे हैं? खुद परमपिता परमात्मा। तुम समझते हो हमारा यह ब्राह्मण कुल है। डिनायस्टी नहीं होती है। यह है सर्वोत्तम ब्राह्मण कुल। बाप भी सर्वोत्तम है ना। ऊचं ते ऊंच है तो जरूर उनकी आमदनी भी ऊंची होगी। उनको ही श्री श्री कहते हैं। तुमको भी श्रेष्ठ बनाते हैं। तुम बच्चे ही जानते हो कि हमको श्रेष्ठ बनाने वाला कौन है? और कुछ भी नहीं समझते। तुम कहेंगे – हमारा बाप, बाप भी है, टीचर भी है, सतगुरू भी है, पढ़ा रहे हैं। हम आत्मायें हैं। हम आत्माओं को बाप ने स्मृति दिलाई है। तुम हमारी सन्तान हो। ब्रदरहुड है ना। बाप को याद भी करते हैं। समझते हैं वह निराकारी बाप है तो जरूर आत्मा को भी निराकार ही कहेंगे। आत्मा ही एक शरीर छोड़ दूसरा लेती है। फिर पार्ट बजाती है। मनुष्य फिर आत्मा के बदले अपने को शरीर समझ लेते हैं। मैं आत्मा हूँ, यह भूल जाते हैं। मैं कभी भूलता नहीं हूँ। तुम आत्मायें सभी हो सालिग्राम। मैं हूँ परमपिता माना परम आत्मा। उनके ऊपर कोई दूसरा नाम नहीं है। उस परम आत्मा का नाम है शिव। हो तुम भी ऐसे ही आत्मा परन्तु तुम सब सालिग्राम हो। शिव के मन्दिर में जाते हो, वहाँ भी सालिग्राम बहुत रखते हैं। शिव की पूजा करते हैं तो सालिग्राम की भी साथ में करते हैं ना। तब बाबा ने समझाया था कि तुम्हारी आत्मा और शरीर दोनों की पूजा होती है। हमारी तो सिर्फ आत्मा की ही होती है। शरीर है नहीं। तुम कितना ऊंच बनते हो। बाबा को तो खुशी होती है ना। बाप गरीब होता है, बच्चे पढ़कर कितना चढ़ जाते हैं। क्या से क्या बन जाते हैं। बाप भी जानते हैं तुम कितने ऊंच थे। अब कितने आरफन बन गये हो, बाप को ही नहीं जानते। अभी तुम बाप के बने हो तो सारे विश्व के मालिक बन जाते हो।

बाप कहते हैं – मुझे कहते ही हो – हेविनली गॉड फादर। यह भी तुम जानते हो अभी स्वर्ग की स्थापना हो रही है। वहाँ क्या-क्या होगा – यह सिवाए तुम्हारे और कोई की बुद्धि में नहीं है। तुम्हारी बुद्धि में है कि हम विश्व के मालिक थे, अब बन रहे हैं। प्रजा भी ऐसे कहेगी ना कि हम मालिक हैं। यह बातें तुम बच्चों की ही बुद्धि में हैं तो खुशी रहनी चाहिए ना! यह बातें सुनकर फिर दूसरों को भी सुनानी है, इसलिए सेन्टर वा म्यूज़ियम खोलते रहते हैं। जो कल्प पहले हुआ था वही होता रहेगा। म्युज़ियम सेन्टर्स आदि के लिए तुमको बहुत ऑफर करेंगे, फिर बहुत निकल पड़ेंगे। सबकी हड्डियां नर्म होती जाती हैं। सारी दुनिया की अब तुम हड्डियां नर्म करते जाते हो। तुम्हारे योग में ताकत कितनी जबरदस्त है। बाप कहते हैं तुम्हारे में ताकत बहुत है। भोजन तुम योग में रहकर बनाओ, खिलाओ तो बुद्धि इस तरफ खीचेंगी। भक्ति मार्ग में तो गुरूओं का जूठा भी खाते हैं। तुम बच्चे समझते हो भक्ति मार्ग का विस्तार तो बहुत है, उनका वर्णन नहीं कर सकते। यह बीज वह झाड़ है। बीज का वर्णन कर सकते हैं। बाकी कोई को बोलो पेड़ के पत्ते गिनती करो तो कर नहीं सकेंगे। अथाह पत्ते होते हैं। बीज में तो पत्ते की निशानी दिखाई नहीं पड़ती है। वन्डर है ना। इनको भी कुदरत कहेंगे। जीव जन्तु कितने वन्डरफुल हैं। अनेक प्रकार के कीड़े हैं, कैसे पैदा होते हैं, बहुत वन्डरफुल ड्रामा है, इसको कहा ही जाता है नेचर। यह भी बना बनाया खेल है। सतयुग में क्या-क्या देखेंगे। वह भी नई चीजें ही होंगी, एवरीथिंग न्यु होता है। मोर के लिए तो बाबा ने समझाया है उनको भारत का नेशनल बर्ड कहते हैं क्योंकि श्रीकृष्ण के मुकुट में मोर का पंख दिखाते हैं। मोर और डेल खूबसूरत भी होते हैं। गर्भ भी आंसू से होता है, इसलिए नेशनल बर्ड कहते हैं। ऐसे खूबसूरत पक्षी विलायत के तरफ भी होते हैं।

अब तुम बच्चों को सारे सृष्टि के आदि मध्य अन्त का राज़ समझाया है जो और कोई नहीं जानते। बोलो, हम आपको परमपिता परमात्मा की बॉयोग्राफी बताते हैं। रचता है तो जरूर उनकी रचना भी होगी। उनकी हिस्ट्री-जॉग्राफी हम जानते हैं। ऊंच ते ऊंच बेहद के बाप का क्या पार्ट है यह हम जानते हैं, दुनिया तो कुछ भी नहीं जानती। यह बहुत छी-छी दुनिया है। इस समय खूबसूरती में भी मुसीबत है। बच्चियों को देखो कैसे-कैसे भगाते रहते हैं। तुम बच्चों को इस विकारी दुनिया से तो ऩफरत होनी चाहिए। यह छी-छी दुनिया, छी-छी शरीर हैं। हमको तो अब बाप को याद कर अपनी आत्मा को पवित्र बनाना है। हम सतोप्रधान थे, सुखी थे। अभी तमोप्रधान बने हैं तो दु:खी हैं फिर सतोप्रधान बनना है। तुम चाहते हो हम पतित से पावन बनें। भल गाते भी हैं पतित-पावन परन्तु ऩफरत कुछ भी नहीं आती। तुम बच्चे समझते हो – यह छी-छी दुनिया है। नई दुनिया में हमको शरीर भी गुल-गुल मिलेगा। अभी हम अमरपुरी के मालिक बन रहे हैं। तुम बच्चों को सदैव खुश, हर्षितमुख रहना चाहिए। तुम बहुत स्वीट चिल्ड्रेन हो। बाप 5 हजार वर्ष बाद उन्हीं बच्चों से आकर मिलते हैं। तो जरूर खुशी होगी ना। हम फिर से आये हैं बच्चों से मिलने। अच्छा – मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) हम गॉडली स्टूडेन्ट हैं, इसलिए पढ़ाई का नशा भी रहे तो अपने कैरेक्टर्स पर भी ध्यान हो। एक दिन भी पढ़ाई मिस नहीं करनी है। देर से क्लास में आकर टीचर की इनसल्ट नहीं करना है।

2) इस विकारी छी-छी दुनिया से ऩफरत रखनी है, बाप की याद से अपनी आत्मा को पवित्र सतोप्रधान बनाने का पुरूषार्थ करना है। सदैव खुश, हर्षितमुख रहना है।

वरदान:- अन्त:वाहक शरीर द्वारा सेवा करने वाले कर्मबन्धन मुक्त डबल लाइट भव
जैसे स्थूल शरीर द्वारा साकारी ईश्वरीय सेवा में बिजी रहते हो ऐसे अपने आकारी शरीर द्वारा अन्त:वाहक सेवा भी साथ-साथ करनी है। जैसे ब्रह्मा द्वारा स्थापना की वृद्धि हुई वैसे अभी आपके सूक्ष्म शरीरों द्वारा, शिव शक्ति के कम्बाइन्ड रूप के साक्षात्कार द्वारा साक्षात्कार और सन्देश मिलने का कार्य होना है। लेकिन इस सेवा के लिए कर्म करते भी किसी भी कर्मबन्धन से मुक्त सदा डबल लाइट रूप में रहो।
स्लोगन:- मान के त्याग में सर्व के माननीय बनने का भाग्य समाया हुआ है।

TODAY MURLI 12 NOVEMBER 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 12 November 2019

12/11/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you now have to become teachers and give everyone the mantra that disciplines the mind. This is the duty of all you children.
Question: From which children does Baba not accept anything?
Answer: Baba does not accept anything from those who are arrogant about how much they give or how much they can help. Baba says: I have the key in My hand. If I wish, I can make anyone poor and I can make anyone wealthy. This too is a secret in the drama. Those who are arrogant about their wealth will tomorrow become poor, whereas poor people who use every penny they have in a worthwhile way to help in the Father’s task will become wealthy.

Om shanti. You spiritual children know that the Father has come to give us our inheritance of the new world. You children do have the firm understanding that you will become pure to the extent that you remember the Father; to the extent that you become a good teacher, so you will claim a high status. The Father, as the Teacher,teaches you how to teach. You then have to teach others. You definitely become teachers who teach others, but you cannot become anyone’s guru; you can only become a teacher. The Guru is only the one Satguru who teaches you. The Satguru of everyone is One. He makes you into teachers. You teach everyone and show them the path of “Manmanabhav”. The Father has given you the duty to remember Him and also to become teachers. It is also the duty of those to whom you give the Father’s introduction to remember the Father. As the Teacher, He has to give you the knowledge of the world cycle. You definitely have to remember the Father. It is by having remembrance of the Father that your sins will be erased. You children know that you are sinful souls. This is why the Father tells everyone: Consider yourself to be a soul and remember the Father and your sins will be erased. The Father alone is the Purifier. He gives you the method. Sweet children, you souls have become impure and, due to this, your bodies have also become impure. At first, you were pure and you have now become impure. Baba now tells you a very easy way to make yourself pure from impure. He says: Remember the Father and you will become pure. Whilst walking, sitting and moving around, remember the Father. Those people go to bathe in the Ganges; they remember the Ganges. They think that that is the Purifier and that, by remembering it, they will become pure. However, the Father says: No one can become pure by doing that. How can anyone become pure with water? The Father says: I am the Purifier. O children, renounce your bodies and all bodily religions, remember Me and become pure and you will then once again reach your home, the land of liberation. You forgot the home for the whole cycle. Throughout the whole cycle, no one knows the Father. The Father Himself only comes once and gives His introduction through this mouth. There is so much praise of this mouth. People speak of a gaumukh (cow’s mouth). That cow is an animal, but this refers to a human being. You know that this one is the senior mother through whom Shiva Baba adopts all of you. You have now started to say: Baba, Baba. The Father also says: Your sins will be cut away through this pilgrimage of remembrance. Children remember their father. They all have the faces of their fathers imprinted on their hearts. You children know that just as you are souls, so too, He is the Supreme Soul. There is no difference between His image and yours. The features etc. of all bodies are different, but all souls are alike. As are you souls, so is the Father, the Supreme Soul. You children know that the Father resides in the supreme abode. We souls also reside in the supreme abode. There is no other difference between the Father’s soul and us souls. He is a point and we too are points. No one else has this knowledge. You are the only ones whom the Father tells. Others say so many things about the Father, that He is omnipresent, that He is in the pebbles and stones etc. They all say whatever enters their minds. According to the drama plan, on the path of devotion, they forget the name, form, land and time of the Father. You also forget these things. Souls forget their Father. Children forget the Father and so what can they know? This means that they have become orphans. They don’t even remember the Lord and Master. They don’t even know the part of the Lord and Master. They even forget themselves. You now know very well that you truly did forget everything. Previously, we were such deities and then we became even worse than animals. The main thing is that we even forgot ourselves as being souls. Now, who could make us realize this? No human soul knows what he, the soul, is or how he plays his whole part. We are all brothers. No one else has this knowledge. At this time, the whole world has become tamopradhan. They do not have any knowledge. You souls now have knowledge and your intellects understand that you had been defaming your Father for so long. By defaming Him, you continued to distance yourself from the Father. According to the dramaplan you continued to come down the ladder. The main thing is to remember the Father. The Father does not give you any other difficulty. You children simply have the difficulty of remembering the Father. Could the Father ever give any difficulty to His children? That would not be the law. The Father says: I do not give you any difficulty. When they ask questions, I tell them: Why do you waste your time on those matters? Remember the Father! I have come only to take you back home. This is why you children have to stay on the pilgrimage of remembrance and become pure; that’s all! I alone am the Purifier Father. The Father shows you the method: Wherever you go, remember the Father. The Father has also explained the secrets of 84 births to you. You now have to check yourself to see to what extent you remember the Father, that’s all! You must not think of anything else. To remember the Father is most easy! When a child grows a little, he automatically begins to remember his parents. You too should realise that you souls are the children of the Father. Why do you have to remember Him? Because the sins you have accumulated can only be absolved by having this remembrance. This is why it is remembered that you can attain liberation-in-life in a second. Liberation-in-life depends on your study and liberation depends on your remembrance. To the extent that you remember the Father and pay attention to your study, accordingly you will claim a high numbered status. You may continue to carry on with your business, etc. The Father does not forbid you to do that. Day and night, you remember the business, etc. that you do, do you not? So, the Father now gives you this spiritual business to do. Consider yourselves to be souls and remember Me and remember the cycle of your 84 births. Only by remembering Me will you become satopradhan. You understand that your costumes are now old and that you are to receive new, satopradhan costume. You have to keep the essence of this knowledge in your intellects. By doing this you will experience a lot of benefit. Out of the many subjects you have in school, it is in English that you have to receive good marks, because English is the main language. Because it used to be their kingdom previously, it is used more. Even now, the people of Bharat are in debt to them. No matter how wealthy people are, they have it in their intellects that the heads of the Government are in debt. This means that we people of Bharat are in debt. People would say, would they not, that they are in debt? You need to have this understanding. Since you are establishing a kingdom, you know that you are being liberated from all of those debts and are becoming solvent. Then, for half a cycle, you won’t be in debt to anyone. The masters of the impure world are in debt. At present, we are in debt and also the masters of the impure world. People sing the praise of Bharat: Our Bharat is like this! You children know that you used to be very wealthy; you were princes and princesses. You remember that you were the masters of such a world. You have now become impure and totally in debt. The Father tells you the result of this game. What is the result? You children now remember how wealthy you were in the golden age. Who made you so wealthy? Children say: Baba, You made us so wealthy! Only the one Father can make you so wealthy. No one in the world knows these things. By speaking of hundreds of thousands of years they have forgotten everything. They do not know anything. You now understand everything. We were multimillion times wealthy. We were very pure and happy. There were no lies or sin etc. there. You had conquered the whole world. It is sung: Shiv Baba, no one else can give us what You give us. No one has the strength to give happiness for half a cycle. The Father says: On the path of devotion too, you had a lot of happiness and an abundance of wealth. You had so many jewels and diamonds which then came into the hands of those who came after you. You cannot even see those things anywhere now. You can see the difference. You were worthy of worship deities and you then became worshippers. You were worthy-of-worship souls and then worshippers. The Father does not become a worshipper, but He does enter the world of worshippers. The Father is everworthy of worship. He never becomes a worshipper. His business is to make you worthy of worship from worshippers, and Ravan’s business is to make you into worshippers. No one in the world knows this. You also forget this. The Father explains every day. It is in the Father’s hands to make anyone wealthy or poor. The Father says: Those who are wealthy now definitely have to become poor; they will definitely become poor. Such are their parts! They would never be able to stay here. Wealthy people have a lot of arrogance of being such-and-such and of having this and that. In order to break their arrogance, Baba says: When they come to offer something to Baba, Baba would tell them that He has no need of it and to keep it with them. He will ask for it when He needs it, because He sees that it is of no use. They have their own arrogance. So, whether to accept something or not is all in Baba’s hands. What would the Father do with money? He does not need it. These buildings are being built for you children. You come here to meet Baba and you then have to go back; you cannot stay here all the time. Baba does not need money. He does not need armies or bombs etc. You become the masters of the world. You are now on the battlefield. You do nothing but remember the Father. The Father has ordered you: Remember Me and you will receive this much power. This religion of yours gives a lot of happiness. The Father is the Almighty Authority. You belong to Him. Everything depends on your pilgrimage of remembrance. Here, you have to churn everything you hear, just as cows eat grass and then chew the cud; their mouths keep working. Baba also tells you children to think a lot about the things of knowledge: What should we ask Baba? The Father says: Manmanabhav! Through this you will become satopradhan. Your aim and objective is in front of you. You know that you have to become full of all virtues and sixteen celestial degrees full. You should automatically feel this inside you. You should not defame anyone or perform any sinful acts. You should not perform any wrong acts. Deities are number one. They claimed a high status by making effort. It is remembered of the deities that they belonged to the supreme deity religion of non-violence. To kill someone is violence. The Father explains to you, and so you children have to remain introverted and check yourselves to see what you have become. Do I remember Baba? For how long do I remember Baba? Your hearts should be so attached to Baba that you never forget to remember Him. The unlimited Father now says: You souls are My children; you are My eternal children. The remembrance of those lovers and beloveds is of physical beings. They have a vision of one another and it is as though they are in front of one another and then the vision disappears. They eat, drink and remember one another in that happiness. There is a lot of power in this remembrance of yours. You will continue to remember the one Father. You will then remember your future. You will have visions of destruction. As you progress further, you will frequently have visions of destruction. Then, you will be able to tell others that destruction is to take place and to remember the Father. Baba renounced everything. Nothing should be remembered at the end. We are now going to our kingdom. You definitely have to go to the new world. You have to burn all your sins away with the power of yoga. A lot of effort is needed for this. You forget the Father again and again because these are very subtle things. The examples of the snake and the buzzing moth belong to this time. A buzzing moth performs wonders, but your wonders are greater than hers. Baba writes: Continue to buzz knowledge, and they will eventually wake up. Where else can they go? They will continue to come to you. They will be added to you. Your name will be glorified. There are very few of you at present. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. You have to churn the ocean of knowledge a great deal. You have to continue to digest all that you have heard. Be introspective and check whether your heart is attached to the Father to such an extent that you never forget Him.
  2. Instead of wasting time asking questions, stay on the pilgrimage of remembrance and make yourself pure. There should be no thoughts at the end; nothing except remembrance of the Father. Practise this from now on.
Blessing: May you be a spiritual star of knowledge who makes night into day by becoming a companion of the Sun of Knowledge and the moon of knowledge.
Just as those stars come out at night, in the same way, you spiritual stars of knowledge, you sparkling stars, come out in the night of Brahma. Those stars do not make night into day, but you become companions of the Sun of Knowledge and the moon of knowledge and make night into day. Those are stars of the sky and you are stars of the earth. That is the authority of matter and you are Godly stars. Just as there are many types of sparkling stars visible in the physical galaxy, in the same way, you are the sparkling, spiritual stars in this galaxy of God.
Slogan: To have a chance for doing service means to fill your apron with blessings.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 12 NOVEMBER 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 12 November 2019

12-11-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – तुम्हें अब टीचर बन सबको मन वशीकरण मंत्र सुनाना है, यह तुम सब बच्चों की ड्युटी है”
प्रश्नः- बाबा किन बच्चों का कुछ भी स्वीकार नहीं करते हैं?
उत्तर:- जिन्हें अहंकार है मैं इतना देता हूँ, मैं इतनी मदद कर सकता हूँ, बाबा उनका कुछ भी स्वीकार नहीं करते। बाबा कहते मेरे हाथ में चाबी है। चाहे तो मैं किसी को गरीब बनाऊं, चाहे किसको साहूकार बनाऊं। यह भी ड्रामा में राज़ है। जिन्हें आज अपनी साहूकारी का घमण्ड है वह कल गरीब बन जाते और गरीब बच्चे बाप के कार्य में अपनी पाई-पाई सफल कर साहूकार बन जाते हैं।

ओम् शान्ति। यह तो रूहानी बच्चे जानते हैं कि बाप आये हैं हमको नई दुनिया का वर्सा देने। यह तो बच्चों को पक्का है ना कि जितना हम बाप को याद करेंगे उतना पवित्र बनेंगे। जितना हम अच्छा टीचर बनेंगे उतना ऊंच पद पायेंगे। बाप तुम्हें टीचर के रूप में पढ़ाना सिखाते हैं। तुमको फिर औरों को सिखाना है। तुम पढ़ाने वाले टीचर जरूर बनते हो बाकी तुम कोई का गुरू नहीं बन सकते हो, सिर्फ टीचर बन सकते हो। गुरू तो एक सतगुरू ही है वह सिखलाते हैं। सर्व का सतगुरू एक ही है। वह टीचर बनाते हैं। तुम सबको टीच करके रास्ता बताते रहते हो मनमनाभव का। बाप ने तुम्हारे पर यह ड्यूटी रखी है कि मुझे याद करो और फिर टीचर भी बनो। तुम कोई को बाप का परिचय देते हो तो उनका भी फ़र्ज है बाप को याद करना। टीचर रूप में सृष्टि चक्र की नॉलेज देनी पड़ती है। बाप को जरूर याद करना पड़े। बाप की याद से ही पाप मिट जाने हैं। बच्चे जानते हैं हम पाप आत्मा हैं, इसलिए बाप सबको कहते हैं अपने को आत्मा समझ बाप को याद करो तो तुम्हारे पाप मिट जायेंगे। बाप ही पतित-पावन है। युक्ति बताते हैं-मीठे बच्चे, तुम्हारी आत्मा पतित बनी है, जिस कारण शरीर भी पतित बना है। पहले तुम पवित्र थे, अभी तुम अपवित्र बने हो। अब पतित से पावन होने की युक्ति तो बहुत सहज समझाते हैं। बाप को याद करो तो तुम पवित्र बन जायेंगे। उठते, बैठते, चलते बाप को याद करो। वो लोग गंगा स्नान करते हैं तो गंगा को याद करते हैं। समझते हैं वह पतित-पावनी है। गंगा को याद करने से पावन बन जाना है। परन्तु बाप कहते हैं कोई भी पावन बन नहीं सकते हैं। पानी से कैसे पावन बनेंगे। बाप कहते हैं मैं पतित-पावन हूँ। हे बच्चों, देह सहित देह के सब धर्म छोड़ मुझे याद करने से तुम पावन बन फिर से अपने घर मुक्तिधाम पहुँच जायेंगे। सारा कल्प घर को भूले हो। बाप को सारा कल्प कोई जानता ही नहीं है। एक ही बार बाप खुद आकर अपना परिचय देते हैं-इस मुख द्वारा। इस मुख की कितनी महिमा है। गऊमुख कहते हैं ना। वह गऊ तो जानवर है, यह है मनुष्य की बात।

तुम जानते हो यह बड़ी माता है। जिस माता द्वारा शिवबाबा तुम सबको एडाप्ट करते हैं। तुम अभी बाबा-बाबा कहने लगे हो। बाप भी कहते हैं इस याद की यात्रा से ही तुम्हारे पाप कटने हैं। बच्चे को बाप याद पड़ जाता है ना। उसकी शक्ल आदि दिल में बैठ जाती है। तुम बच्चे जानते हो जैसे हम आत्मा हैं वैसे वह परम आत्मा है। शक्ल में और कोई फ़र्क नहीं है। शरीर के सम्बन्ध में तो फीचर्स आदि अलग हैं, बाकी आत्मा तो एक जैसी ही है। जैसे हमारी आत्मा वैसे बाप भी परम आत्मा है। तुम बच्चे जानते हो-बाप परमधाम में रहते हैं, हम भी परमधाम में रहते हैं। बाप की आत्मा और हमारी आत्मा में और कोई फ़र्क है नहीं। वह भी बिन्दी है, हम भी बिन्दी हैं। यह ज्ञान और कोई को है नहीं। तुमको ही बाप ने बताया है। बाप के लिए भी क्या-क्या कह देते हैं। सर्वव्यापी है, पत्थर ठिक्कर में है, जिसको जो आता है वह कह देते हैं। ड्रामा प्लैन अनुसार भक्ति मार्ग में बाप के नाम, रूप, देश, काल को भूल जाते हैं। तुम भी भूल जाते हो। आत्मा अपने बाप को भूल जाती है। बच्चा बाप को भूल जाता है तो बाकी क्या जानेंगे। गोया निधनके हो गये। धनी को याद ही नहीं करते हैं। धनी के पार्ट को ही नहीं जानते हैं। अपने को भी भूल जाते हैं। तुम अच्छी रीति जानते हो-बरोबर हम भूल गये थे। हम पहले ऐसे देवी-देवता थे, अब जानवर से भी बदतर हो गये हैं। मुख्य तो हम अपनी आत्मा को भी भूले हुए हैं। अब रियलाइज़ कौन करावे। कोई भी जीव आत्मा को यह पता नहीं होगा कि हम आत्मा क्या हैं, कैसे सारा पार्ट बजाते हैं? हम सब भाई-भाई हैं-यह ज्ञान और कोई में नहीं है। इस समय सारी सृष्टि ही तमोप्रधान बन चुकी है। ज्ञान नहीं है। तुम्हारे में अब ज्ञान है, बुद्धि में आया हम आत्मा इतना समय अपने बाप की ग्लानि करते आये हैं। ग्लानि करने से बाप से दूर होते जाते हैं। सीढ़ी नीचे उतरते गये हैं ड्रामा प्लैन अनुसार। मूल बात हो जाती है बाप को याद करने की। बाप और कोई तकलीफ नहीं देते हैं। बच्चों को सिर्फ बाप को याद करने की तकलीफ है। बाप कभी बच्चों को कोई तकलीफ दे सकते हैं क्या! लॉ नहीं कहता। बाप कहते हैं मैं कोई भी तकलीफ नहीं देता हूँ। कुछ भी प्रश्न आदि पूछते हैं, कहता हूँ इन बातों में टाइम वेस्ट क्यों करते हो? बाप को याद करो। मैं आया ही हूँ तुमको ले जाने, इसलिए तुम बच्चों को याद की यात्रा से पावन बनना है। बस मैं ही पतित-पावन बाप हूँ। बाप युक्ति बताते हैं-कहाँ भी जाओ बाप को याद करना है। 84 के चक्र का राज़ भी बाप ने समझा दिया है। अब अपनी जांच करनी है-कहाँ तक हम बाप को याद करते हैं। बस और कोई तरफ का विचार नहीं करना है। यह तो मोस्ट इज़ी है। बाप को याद करना है। बच्चा थोड़ा बड़ा होता है तो ऑटोमेटिकली माँ-बाप को याद करने लग पड़ता है। तुम भी समझो हम आत्मा बाप के बच्चे हैं, याद क्यों करना पड़ता है! क्योंकि हमारे ऊपर जो पाप चढ़े हुए हैं, वह इस याद से ही खत्म होंगे। इसलिए गायन भी है एक सेकण्ड में जीवनमुक्ति। जीवनमुक्ति का मदार पढ़ाई पर है और मुक्ति का मदार याद पर है। जितना तुम बाप को याद करेंगे और पढ़ाई पर ध्यान देंगे तो ऊंच नम्बर में मर्तबा पायेंगे। धन्धा आदि तो भल करते रहो, बाप कोई मना नहीं करते। धन्धा आदि जो तुम करते हो-वह भी दिन-रात याद रहता है ना। तो अब बाप यह रूहानी धन्धा देते हैं-अपने को आत्मा समझ मुझे याद करो और 84 के चक्र को याद करो। मुझे याद करने से ही तुम सतोप्रधान बनेंगे। यह भी समझते हो, अभी पुराना चोला है फिर सतोप्रधान नया चोला मिलेगा। अपने पास बुद्धि में तन्त रखना है, जिससे बहुत फायदा होना है। जैसे स्कूल में सब्जेक्ट तो बहुत होते हैं फिर भी इंगलिस पर मार्क अच्छी होती हैं क्योंकि इंगलिश है मुख्य भाषा। उन्हों का पहले राज्य था इसलिए वह जास्ती चलती है। अभी भी भारतवासी कर्जदार है। भल कोई कितने भी धनवान हैं परन्तु बुद्धि में यह तो है ना कि हमारे राज्य के जो हेड्स हैं, वह कर्जदार हैं। गोया हम भारतवासी कर्ज़दार हैं। प्रजा जरूर कहेगी ना हम कर्जदार हैं। यह भी समझ चाहिए ना। जबकि तुम राजाई स्थापन कर रहे हो। तुम जानते हो हम सभी इन सब कर्जों से छूटकर सालवेन्ट बनते हैं फिर आधाकल्प हम कोई से भी कर्जा उठाने वाले नहीं हैं। कर्जदार पतित दुनिया के मालिक हैं। अभी हम कर्जदार भी हैं, पतित दुनिया के मालिक भी हैं। हमारा भारत ऐसा है-गाते हैं ना।

तुम बच्चे जानते हो हम बहुत साहूकार थे। परीजादे, परीजादियाँ थे। यह याद रहता है। हम ऐसे विश्व के मालिक थे। अभी बिल्कुल कर्जदार और पतित बन पड़े हैं। यह खेल की रिजल्ट बाप बतला रहे हैं। रिजल्ट क्या हुई है। तुम बच्चों को स्मृति आई है। सतयुग में हम कितने साहूकार थे, किसने तुमको साहूकार बनाया? बच्चे कहेंगे-बाबा, आपने हमको कितना साहूकार बनाया था। एक बाप ही साहूकार बनाने वाला है। दुनिया इन बातों को नहीं जानती। लाखों वर्ष कह देने से सब भूल गये हैं, कुछ नहीं जानते हैं। तुम अभी सब कुछ जान गये हो। हम पदमापदम साहूकार थे। बहुत पवित्र थे, बहुत सुखी थे। वहाँ झूठ पाप आदि कुछ होता नहीं। सारे विश्व पर तुम्हारी जीत थी। गायन भी है शिवबाबा आप जो देते हो वह और कोई दे नहीं सकता। कोई की ताकत नहीं जो आधाकल्प का सुख दे सके। बाप कहते हैं भक्ति मार्ग में भी तुमको बहुत सुख अथाह धन रहता है। कितने हीरे जवाहर थे जो फिर पिछाड़ी वालों के हाथ में आते हैं। अभी तो वह चीज़ ही देखने में नहीं आती है। तुम फ़र्क देखते हो ना। तुम ही पूज्य देवी-देवता थे फिर तुम ही पुजारी बने हो। आपेही पूज्य, आपेही पुजारी। बाप कोई पुजारी नहीं बनते हैं परन्तु पुजारी दुनिया में तो आते हैं ना। बाप तो एवर पूज्य है। वह कभी पुजारी होते नहीं, उनका धन्धा है तुमको पुजारी से पूज्य बनाना। रावण का काम है तुमको पुजारी बनाना। यह दुनिया में किसको पता नहीं है। तुम भी भूल जाते हो। रोज़-रोज़ बाप समझाते रहते हैं। बाप के हाथ में है-किसको चाहे साहूकार बनाये, चाहे गरीब बनाये। बाप कहते हैं जो साहूकार हैं उन्हों को गरीब जरूर बनना है, बनेंगे ही। उन्हों का पार्ट ऐसा है। वह कभी ठहर न सकें। धनवान को अहंकार भी बहुत रहता है ना-मैं फलाना हूँ, यह-यह हमको है। घमण्ड तोड़ने लिए बाबा कहते हैं-यह जब आयेंगे देने के लिए तो बाबा कहेंगे दरकार नहीं है। यह अपने पास रखो। जब जरूरत होगी तो फिर ले लेंगे क्योंकि देखते हैं-काम का नहीं है, अपना घमण्ड है। तो यह सब बाबा के हाथ में है ना-लेना वा न लेना। बाबा पैसे क्या करेंगे, दरकार नहीं। यह तो तुम बच्चों के लिए मकान बन रहे हैं, आकरके बाबा से मिलकर ही जाना है। सदैव तो रहना नहीं है। पैसे की क्या दरकार रहेगी। कोई लश्कर वा तोपे आदि तो नहीं चाहिए। तुम विश्व के मालिक बनते हो। अभी युद्ध के मैदान में हो, तुम और कुछ भी नहीं करते हो सिवाए बाप को याद करने के। बाप ने फरमान किया है मुझे याद करो तो इतनी शक्ति मिलेगी। यह तुम्हारा धर्म बहुत सुख देने वाला है। बाप है सर्वशक्तिमान्। तुम उनके बनते हो, सारा मदार याद की यात्रा पर है। यहाँ तुम सुनते हो फिर उस पर मंथन चलता है। जैसे गाय खाना खाकर फिर उगारती है, मुख चलता ही रहता है। तुम बच्चों को भी कहते हैं ज्ञान की बातों पर खूब विचार करो। बाबा से हम क्या पूछें। बाप तो कहते हैं मनमनाभव, जिससे ही तुम सतोप्रधान बनते हो। यह एम ऑबजेक्ट सामने है।

तुम जानते हो – सर्वगुण सम्पन्न, 16 कला सम्पन्न बनना है। यह ऑटोमेटिकली अन्दर में आना चाहिए। कोई की ग्लानि वा पाप कर्म आदि कुछ भी न हो। कोई भी तुमको उल्टा कर्म नहीं करना चाहिए। नम्बरवन हैं यह देवी-देवतायें। पुरूषार्थ से ऊंच पद पाया है ना। उन्हों के लिए गाया जाता है अहिंसा परमो देवी-देवता धर्म। किसको मारना यह हिंसा हुई ना। बाप समझाते हैं तो फिर बच्चों को अन्तर्मुख हो अपने को देखना है-हम कैसे बने हैं? बाबा को हम याद करते हैं? कितना समय हम याद करते हैं? इतनी दिल लग जाए जो यह याद कभी भूले ही नहीं। अब बेहद का बाप कहते हैं तुम आत्मायें मेरी सन्तान हो। सो भी तुम अनादि सन्तान हो। वह जो आशिक-माशूक होते हैं उन्हों की है जिस्मानी याद। जैसे साक्षात्कार होता है फिर गुम हो जाते हैं वैसे वह भी सामने आ जाते हैं। उस खुशी में ही खाते पीते याद करते रहते हैं। तुम्हारे इस याद में तो बहुत बल है। एक बाप को ही याद करते रहेंगे। और तुमको फिर अपना भविष्य याद आयेगा। विनाश का साक्षात्कार भी होगा। आगे चल जल्दी-जल्दी विनाश का साक्षात्कार होगा। फिर तुम कह सकेंगे कि अभी विनाश होना है। बाप को याद करो। बाबा ने यह सब कुछ छोड़ दिया ना। कुछ भी पिछाड़ी में याद न आये। अभी तो हम अपनी राजधानी में चलें। नई दुनिया में जरूर जाना है। योगबल से सब पापों को भस्म करना है, इसमें ही बड़ी मेहनत करनी है। घड़ी-घड़ी बाप को भूल जाते हैं क्योंकि यह बड़ी महीन चीज़ है। मिसाल जो देते हैं सर्प का, भ्रमरी का, वह सब इस समय के हैं। भ्रमरी कमाल करती है ना। उनसे तुम्हारी कमाल जास्ती है। बाबा लिखते हैं ना-ज्ञान की भूँ-भूँ करते रहो। आखरीन जाग पड़ेंगे। जायेंगे कहाँ। तुम्हारे पास ही आते जायेंगे। एड होते जायेंगे। तुम्हारा नामाचार होता जायेगा। अभी तो तुम थोड़े हो ना। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) ज्ञान का खूब विचार सागर मंथन करना है। जो सुना है उसे उगारना है। अन्तर्मुख हो देखना है कि बाप से ऐसी दिल लगी हुई है जो वह कभी भूले ही नहीं।

2) कोई भी प्रश्न आदि पूछने में अपना टाइम वेस्ट न कर याद की यात्रा से स्वयं को पावन बनाना है। अन्त समय में एक बाप की याद के सिवाए और कोई भी विचार न आये-यह अभ्यास अभी से करना है।

वरदान:- ज्ञान सूर्य, ज्ञान चन्द्रमा के साथ साथी बन रात को दिन बनाने वाले रूहानी ज्ञान सितारे भव
जैसे वह सितारे रात में प्रगट होते हैं ऐसे आप रूहानी ज्ञान सितारे, चमकते हुए सितारे भी ब्रह्मा की रात में प्रगट होते हो। वह सितारे रात को दिन नहीं बनाते लेकिन आप ज्ञान सूर्य, ज्ञान चन्द्रमा के साथ साथी बन रात को दिन बनाते हो। वह आकाश के सितारे हैं आप धरती के सितारे हो, वह प्रकृति की सत्ता है आप परमात्म सितारे हो। जैसे प्रकृति के तारामण्डल में अनेक प्रकार के सितारे चमकते हुए दिखाई देते हैं, ऐसे आप परमात्म तारामण्डल में चमकते हुए रूहानी सितारे हो।
स्लोगन:- सेवा का चांस मिलना अर्थात् दुआओं से झोली भरना।

TODAY MURLI 12 NOVEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 12 November 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 11 November 2018 :- Click Here

12/11/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, become nightingales of knowledge and continue to chirp knowledge throughout the day and you will be able to show (reveal) your physical and spiritual mothers and fathers.
Question: It is said: Grind your own ingredients and your intoxication will rise. What is the meaning of this?
Answer: To grind your own ingredients means not to let your intellect’s yoga wander here and there, but to remember the one Father. If only the one Father remains in your intellect, your intoxication can rise. However, body consciousness causes a lot of obstacles in this. When some are even a little ill, they become distressed. They begin to remember their friends and relatives and this is why their intoxication doesn’t rise. If they were to stay in yoga, their pain would lessen.
Song: You wasted the night in sleeping and the day in eating. 

Om shanti. All of these things are also written in the scriptures. They even explain them to one another. Gurus give many types of direction. Many very good devotees sit in a little room with their hand in a little cloth bag, which they call a gaumukh and turn the beads of a rosary. That too is a fashion they have been taught. The Father now says: Renounce all of that. The soul has to remember his Father. There is no question of turning the beads of a rosary in this. The best song is: Salutations to Shiva. It is only in this song that they have said: You are the Mother and Father. God alone is called the Father, the Creator. Since He is called the Creator, what does He create? Surely, everyone understands that He would only create the new world. People also sing: You are the Mother and Father and we are Your children. So, first of all, God is the Father of all. Since there is the Father, the M other is also needed. He cannot create without the Mother. It is just that people don’t know how He creates. Secondly, we all are brothers and sisters. So, then, there cannot be any vision of vice. There is the one Mother and Father. So, these points are very good to understand and then explain. Thirdly, the Father must definitely have created the world. We were His children and we have now become that once again. After completing the cycle of 84 births, we now belong to the Mother and Father, whom the people on the path of devotion remember. The Mother and Father create the world, we become His children and so He must definitely give us a lot of happiness. No one knows that God becomes the Mother and Father. He is also the Teacher and also the Satguru. We children of Brahma are brothers and sisters among ourselves. We are called Brahma Kumars and Kumaris. He is also the One who creates us. We are studying Raja Yoga from the Mother and Father in order to receive a lot of happiness. Only when we are in sorrow can we receive a lot of happiness. It is not that He will come here in the future, when we are happy, to give us these teachings. It is when we are in sorrow that we receive the teachings for going into happiness. That Mother and Father comes and gives us happiness. Adam and Eve are very well known. They too are definitely the children of God. So, who then is God? You children know that the knowledge the Father gives is for those of all religions. The intellect’s yoga of the whole world has broken away from that Father. Maya, the ghost, doesn’t allow you to connect your intellect’s yoga. Instead, she breaks the intellect’s yoga away even more. The Father comes and enables you to conquer the ghost. Nowadays, there are many people in the world with occult powers. This is the world of ghosts. The ghost of the vice of lust makes you cause sorrow for one another from its beginning, through the middle to the end. It is the work of a ghost to make you cause sorrow for one another. Ghosts don’t exist in the golden age. It has been explained that a ghost is also mentioned in the Bible. Ravan means the ghost. This is the kingdom of ghosts. There are no ghosts in the golden age, the kingdom of Rama. There is a lot of happiness there. The song “Salutations to Shiva” is very good. Shiva is the Mother and Father. Brahma, Vishnu and Shankar cannot be called the Mother and Father. Shiva would still be called the Father. Adam and Eve, that is, Brahma and Saraswati, are here. There, the Christians pray to God, the Father. This Bharat is the land of the Mother and Father. His birth takes place here. So you have to explain: Since you remember the Mother and Father, we are brothers and sisters. He creates creation through Prajapita Brahma. He adopts them. Saraswati is also adopted. Prajapita Brahma has adopted us and this is how so many have become Brahma Kumars and Kumaris. Shiv Baba continues to have us adopted. Only through Brahma is the new world created. There are many methods with which to explain, but you don’t explain fully. Baba has told you many times: Play the song “Salutations to Shiva” everywhere. How are we the children of the Mother and Father? The Father sits here and explains this. The new world was established through Brahma. It is now the end of the iron age and we are establishing the golden age once again. This has to be imbibed by the intellect. K nowledge is very easy. Storms of Maya do not allow you to stay in knowledge and yoga. The intellect is amazed. You should always explain: God, the Creator of all, is One. Everyone would call Him the Father, would they not? That incorporeal One is beyond birth and death. Brahma, Vishnu and Shankar have subtle costumes. It is here that people take 84 births; they don’t take them in the subtle region. You know that we are the children of the Mother and Father. We are new children. The Father has adopted us. Since he is Prajapita, the Father of the People, there would be so many people! He must surely have adopted them. They portray Brahma with many arms, but they don’t understand the meaning of that. All the images and scriptures that have emerged have to be based on the drama. It was the day of Brahma and then the path of devotion began. That has been continuing. Only the Father comes and teaches us this Raja Yoga. This should remain in your intellects. It is said: Grind your own ingredients and your intoxication will rise. However, your intellect’s yoga has to be connected to the Father. Here, the intellect’s yoga of many wanders; they remain trapped in the friends and relatives of the old world or in body consciousness. When they become even slightly ill, they become greatly distressed. Oh! but if you were to stay in yoga, your pain would decrease. If there is no yoga, how can you become free from illness etc? You should think about it: The mother and father who become the number one pure souls are the ones who come down the furthest. They have to go through a lot of settling of karma. However, because of staying in yoga, their illnesses continue to be removed. Otherwise, they would have had to have the maximum suffering of karma. However, their suffering is removed with the power of yoga, and they have a lot of happiness: We are receiving a lot of happiness of heaven from Baba. Many children don’t consider themselves to be souls. Throughout the day, they only think about their bodies. Baba comes and teaches you how tochirp knowledge. So you have to become nightingales of knowledge. Outside, there are many very good, very young daughters who continue to chirp this knowledge. It was through the kumaris that Bhishampitamai was given knowledge. The little children have to be made to become alert and active. Little children show (reveal) their physical mothers and fathers and the spiritual Mother and Father. Then, both this world and that world are glorified. So the physical mothers and fathers also have to be uplifted. You will see how little daughters uplift their mothers and fathers. Kumaris are given respect. Everyone bows down to kumaris. In the Shiv Shakti Army, all are kumaris. Although some are mothers, they are still called kumaris. Very good kumaris will emerge. It is the young daughters who will show everyone. Some young daughters are very good but some also have a lot of attachment. This attachment is very bad. This too is an evil spirit that turns you away from the Father. It is the business of Maya, the ghost, to turn you away from the Supreme Father, the Supreme Soul. This song “Salutations to Shiva” is the best song of all. It is in this that they say: You are the Mother and Father. Generally, in the Radhe and Krishna Temple, they show the form of a couple. There is no mention in the Gita of Radhe together with Krishna. The praise of Krishna is separate: Full of all virtues, sixteen celestial degrees full… The praise of Shiva is different. When people sing an arti (form of worship with a steel plate (thali) with a lamp on it) to Shiva, they sing so much praise, but they don’t understand the meaning of it at all. They have become tired by worshipping all the time. You know that Mama, Baba and you Brahmins are the ones who have done the most worship. You have now come and become Brahmins. It is numberwise in this too. There is also the suffering of karma which has to be settled through yoga. You have to break your body consciousness. You have to remember the Father and stay in a lot of happiness. We receive a lot of happiness from the Mother and Father. This Brahma says: I receive the inheritance from Baba. Baba has taken my chariot on loan. So Baba would offer special hospitality to this chariot. Previously, I used to think: I, the soul, am feeding this chariot. This is also a chariot. Now it would be said: That One is the One who feeds this one. This chariot has to be looked after. After a lord sits on a horse, he would also feed it with his own hands. Sometimes, he would rub its back. They look after them well because they ride them. Baba rides this one and so, would Baba not offer him that special hospitality? When Baba bathes, he thinks: I am bathing and I also have to give a bath to Baba because He has taken this chariot on loan. Shiv Baba says: I also give a bath and feed your body. I don’t eat but I do feed the body. Baba feeds it, but He Himself doesn’t eat. Baba has all of these different thoughts at the time of bathing and while walking around. This is something of his experience. Baba Himself says: I enter this one at the end of his many births. This one doesn’t know about his births; I know them. You say that Baba is once again giving you knowledge. You have to claim your inheritance of heaven. In the golden age there are kings and also subjects. You have to make effort to claim your full inheritance from the Father. If you don’t claim it now you, will miss it every cycle. You won’t be able to claim such a high status. It is a deal for birth after birth. Therefore, you have to follow shrimat so much! You will become instruments every cycle. You have been receiving your inheritance every cycle. This study is for cycle after cycle. You have to pay a lot of attention to this. You can keep the aim for seven days and then also study the murli at home. It is made very easy for you. The drama should remain in your intellects. This is called The W orld U niversity,so if you go anywhere, even to America, you can claim your inheritance from the Father. You simply just have to imbibe this for a week. You are the children of God and so you are brothers and sisters. There is Prajapita Brahma and so all of his children are brothers and sisters. When you live at home with your family as brothers and sisters, you would surely remain pure. It is very easy. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to save yourself from Maya, the ghost, remain engaged in knowledge and yoga. Renounce the evil spirit of attachment and show the Father. Chirp knowledge.
  2. Pay full attention to the study and claim your inheritance from the Father. Under no circumstances should you lose this chance every cycle.
Blessing: May you become a victorious jewel who gains victory over the suffering of karma with the stage of a karma yogi.
When you become a karma yogi, any suffering of karma through the body is not experienced as suffering. If some has an illness in the mind, that person would be said to be ill. However, if your mind is free from any form of illness, you are then constantly healthy. Simply lie down on the bed of the snake like Vishnu and churn knowledge and remain cheerful. With churning power, you will have the chance of diving even deeper into the ocean. Only such karma yogis are able to gain victory over the suffering of karma and become victorious jewels.
Slogan: Make courage your companion and you will achieve success in every deed.

*** Om Shanti ***

Sweet elevated versions of Mateshwari

What people pray to God for and what they attain

“You are the Mother and Father and we are Your children, and due to Your grace, we have an abundance of happiness” To whom is this praise sung? Definitely, this is sung to God because God Himself came in the form of the Mother and Father and gave limitless happiness to this world. Definitely, God created a world of happiness at some point, for this is why they call out to Him as the Mother and Father. However, people do not know what happiness is. When there was limitless happiness on this earth, there was also peace on the earth, but there isn’t that happiness any more. People definitely have that desire for happiness. However, some then ask for wealth, some ask for children and some even ask that they remain a faithful wife, that they never become widows, their desire is only for happiness. So, God will definitely fulfil their desires at some point. In the golden age, when there is heaven on earth, there is constant happiness there, where women are never widowed. So, that desire is fulfilled in the golden age where there is limitless happiness. Otherwise, it is hell at this time. At this time, human beings are only suffering in sorrow. Achcha.

BRAHMA KUMARIS MURLI 12 NOVEMBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 12 November 2018

To Read Murli 11 November 2018 :- Click Here
12-11-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – ज्ञान की बुलबुल बन सारा दिन ज्ञान की टिकलू-टिकलू करते रहो तो लौकिक और पारलौकिक मात-पिता का शो कर सकेंगे”
प्रश्नः- कहावत है – “अपनी घोट तो नशा चढ़े” इसका भावार्थ क्या है?
उत्तर:- अपनी घोटना अर्थात् बुद्धियोग इधर-उधर न भटकाकर एक बाप को याद करना। एक बाप बुद्धि में याद रहे तो नशा चढ़े। परन्तु इसमें देह-अभिमान बहुत विघ्न डालता है। थोड़ी-सी बीमारी हुई तो परेशान हो जाते हैं, मित्र-सम्बन्धी याद पड़ते हैं, इसलिए नशा नहीं चढ़ता। योग में रहें तो दर्द भी कम हो जाए।
गीत:- तूने रात गंवाई सोके…….. 

ओम् शान्ति। यह सब बातें शास्त्रों में भी लिखी हुई हैं। एक-दो को समझाते भी हैं। अनेक प्रकार की मतें गुरू लोग देते हैं। बहुत अच्छे-अच्छे भक्त कोठरी में बैठ, एक गउमुख कपड़ा होता है, उसमें अन्दर हाथ डाल माला फेरते हैं। यह भी सिखलाया हुआ फैशन है। अब बाप कहते हैं – यह सब छोड़ो। आत्मा को तो सिमरण करना है बाप का। इसमें माला सिमरने की बात नहीं। सबसे अच्छा गीत है शिवाए नम: का। इसमें ही समझाया जाता है तुम मात-पिता हो। भगवान् को ही रचता बाप कहते हैं। अब रचता कहा जाता है तो क्या क्रियेट करते हैं? जरूर यह तो सब समझते हैं नई दुनिया ही रचेंगे। गाते भी हैं तुम मात-पिता हम बालक तेरे…. तो पहला – ईश्वर सबका फादर ठहरा। फादर है तो मदर भी जरूर चाहिए। मदर के सिवाए क्रियेट कर न सकें। सिर्फ यह कोई नहीं जानते कि क्रियेट कैसे करते हैं? दूसरा – आपस में सब भाई-बहन हो गये। फिर विकार की दृष्टि जा न सके। एक मात-पिता है ना। तो यह प्वाइन्ट् बहुत अच्छी है समझने और समझाने के लिए। तीसरा – जरूर बाप ने सृष्टि रची होगी। हम बालक थे अब फिर बने हैं। 84 जन्मों का चक्र पूरा होने के बाद फिर अब मात-पिता के बने हैं। जिसका ही भक्ति मार्ग में गायन चलता है। मात-पिता सृष्टि रचते हैं, उनके बालक बनते हैं तो जरूर सुख घनेरे देते होंगे। यह कोई भी नहीं जानते कि परमात्मा मात-पिता भी बनते हैं। टीचर भी है, सतगुरू भी है।

हम ब्रह्मा की औलाद आपस में भाई-बहन ठहरे। कहलाते भी हैं ब्रह्माकुमार-कुमारियां, उनको भी रचने वाला वह है। सुख घनेरे पाने के लिए मात-पिता से राजयोग सीख रहे हैं। सुख घनेरे तब मिलते हैं जबकि हम दु:ख में हैं, ऐसे नहीं कि भविष्य सुख में आकर शिक्षा देंगे। जब हम दु:ख में हैं तब शिक्षा मिलती है सुख में जाने की। वही मात-पिता आकर सुख देते हैं। एडम और ईव तो मशहूर हैं। वह भी जरूर गॉड की सन्तान ठहरे। तो गॉड फिर कौन?

बच्चे यह तो जानते हैं कि बाप जो नॉलेज देते हैं यह सब धर्म वालों के लिए है। सारी दुनिया का उस बाप से बुद्धियोग टूटा हुआ है। माया घोस्ट बुद्धियोग लगाने नहीं देती है और ही बुद्धियोग तोड़ती है। बाप आकर घोस्ट पर जीत पहनाते हैं। आजकल दुनिया में रिद्धि-सिद्धि वाले भी बहुत हैं। यह है ही घोस्टों की दुनिया। काम विकार रूपी घोस्ट एक-दो को आदि, मध्य, अन्त दु:ख देते हैं। एक-दो को दु:ख देना घोस्ट का काम है। सतयुग में घोस्ट होता नहीं। तो यह भी समझाया है घोस्ट नाम बाइबिल में है। रावण माना घोस्ट, यह है ही घोस्ट का राज्य। सतयुग रामराज्य में घोस्ट होता नहीं। वहाँ सुख घनेरे होते हैं।

ओम् नमो शिवाए का गीत बहुत अच्छा है। शिव है मात-पिता। ब्रह्मा, विष्णु, शंकर को मात-पिता नहीं कहेंगे। शिव को ही फादर कहेंगे। एडम-ईव अर्थात् ब्रह्मा-सरस्वती यहाँ हुए हैं। वहाँ क्रिश्चियन लोग गॉड फादर से प्रार्थना करते हैं। यह भारत तो मात-पिता का गांव है। उनका जन्म ही यहाँ है। तो समझाना है तुम मात-पिता गाते हो तो आपस में भाई-बहन ठहरे ना। प्रजापिता ब्रह्मा द्वारा रचना रचते हैं। वह तो एडाप्ट करते हैं। सरस्वती भी एडाप्ट हुई है। प्रजापिता ब्रह्मा ने एडाप्ट किया है, तब तो इतने ब्रह्माकुमार-कुमारियां बने हैं। शिवबाबा एडाप्ट कराते जाते हैं। नई सृष्टि ब्रह्मा द्वारा ही रची जाती है। समझाने की बहुत युक्तियाँ हैं। परन्तु पूरा समझाते नहीं हैं। बाबा ने बहुत बार समझाया है – यह शिवाए नम: का गीत जहाँ-तहाँ बजाओ। हम मात-पिता के बालक कैसे हैं? वह बैठ समझाते हैं। ब्रह्मा द्वारा नई सृष्टि स्थापन की थी। अब कलियुग का अन्त है फिर से सतयुग स्थापन कर रहे हैं। बुद्धि में धारणा करनी है। नॉलेज बड़ी सहज है। माया के तूफान ज्ञान-योग में ठहरने नहीं देते हैं। बुद्धि चािढत हो जाती है। हमेशा समझाना चाहिए भगवान् रचता तो सबका एक है, फादर तो सब कहेंगे ना। वह निराकार तो जन्म-मरण रहित है। ब्रह्मा, विष्णु, शंकर को सूक्ष्म चोला है। मनुष्य 84 जन्म यहाँ ही लेते हैं, सूक्ष्मवतन में तो नहीं लेते। तुम जानते हो हम मात-पिता के बालक हैं। हम हैं नये बच्चे। बाप ने एडाप्ट किया है। जब प्रजापिता ब्रह्मा है तो कितनी प्रजा होगी? जरूर एडाप्ट किया होगा। ब्रह्मा को भुजायें बहुत दिखाते हैं, अर्थ तो कुछ भी समझते नहीं। जो भी चित्र निकले हैं अथवा शास्त्र निकले हैं – यह सब ड्रामा के ऊपर आधार रखना पड़ता है। ब्रह्मा का दिन था फिर भक्ति मार्ग शुरू हुआ है, वह चला आ रहा है। यह राजयोग बाप ही आकर सिखलाते हैं। यह स्मृति में रहना चाहिए।

कहते हैं ना – अपनी घोट तो नशा रहे। परन्तु बुद्धियोग बाप के साथ चाहिए। यहाँ तो बहुतों का बुद्धियोग भटकता रहता है। पुरानी दुनिया के मित्र-सम्बन्धी आदि के तरफ या देह-अभिमान में फँसे रहते हैं। थोड़ी बीमारी होती है, परेशान हो जाते हैं। अरे, योग में रहेंगे तो दर्द आदि भी कम होगा। योग नहीं तो बीमारी आदि कैसे छूटे? ख्याल करना चाहिए – मात-पिता जो नम्बरवन पावन बनते हैं वही फिर सबसे जास्ती नीचे उतरते हैं। उनको तो बहुत भोगना भोगनी पड़े। परन्तु योग में रहने के कारण बीमारी हटती जाती है। नहीं तो इनको सबसे जास्ती भोगना चाहिए। परन्तु योगबल से दु:ख दूर होते हैं और बहुत खुशी में रहते हैं – बाबा से हम स्वर्ग के सुख घनेरे लेते हैं। बहुत बच्चे अपने को आत्मा समझते नहीं। सारा दिन देह का ही ध्यान है।

बाबा आकर ज्ञान की टिकलू-टिकलू सिखलाते हैं। तो तुम्हें ज्ञान की बुलबुल बनना है। बाहर में बहुत अच्छी छोटी-छोटी बच्चियाँ हैं, ज्ञान की टिकलू-टिकलू करती हैं। भीष्म पितामह आदि को भी कुमारियों के द्वारा ज्ञान दिया है। छोटे-छोटे बच्चों को खड़ा करना है। छोटे बच्चे लौकिक-पारलौकिक मात-पिता का शो करते हैं। लोक-परलोक सुहैला होता है ना। तो लौकिक मात-पिता को भी उठाना पड़े। यह भी तुम देखेंगे छोटी-छोटी बच्चियाँ माँ-बाप को उठायेंगी। कुमारी का मान होता है। कुमारी को सब नमन करते हैं। शिव शक्ति सेना में सब कुमारियाँ हैं। भल मातायें हैं परन्तु वह भी कहलाती तो कुमारी हैं ना। कुमारियाँ बड़ी अच्छी-अच्छी निकलेंगी। छोटी-छोटी बच्चियाँ ही बड़ा शो करेंगी। कोई-कोई छोटी बच्चियाँ बड़ी अच्छी हैं। परन्तु कोई-कोई में मोह भी बहुत है ना। यह मोह बड़ा खराब है। यह भी एक भूत है, बाप से बेमुख कर देता हैं। घोस्ट माया का धन्धा ही है परमपिता परमात्मा से बेमुख करना।

यह ओम नमो शिवाए वाला गीत सबसे अच्छा है। इनसे ही अक्षर मिलते हैं तुम मात-पिता…….. अक्सर करके राधे-कृष्ण के मन्दिर में जोड़ा ही दिखाते हैं। गीता में कृष्ण के साथ राधे का नाम है ही नहीं। कृष्ण की महिमा अलग है – सर्वगुण सम्पन्न, 16 कला सम्पूर्ण…….., शिव की महिमा अलग है। शिव की आरती पर कितनी महिमा गाते हैं। अर्थ कुछ भी नहीं समझते। पूजा करते-करते थक गये हैं। तुम जानते हो मम्मा-बाबा और हम ब्राह्मण सबसे जास्ती पुजारी बने हैं। अभी फिर आकर ब्राह्मण बने हैं। उनमें भी नम्बरवार हैं। कर्म भोग भी होता है, उनको तो योग से मिटाना है। देह-अभिमान को तोड़ना है। बाप को याद कर बहुत खुशी में रहना है। मात-पिता से हमको बहुत सुख घनेरे मिलते हैं। यह ब्रह्मा कहेंगे ना – बाबा से हमें वर्सा मिलता है। बाबा ने हमारा रथ लोन लिया है। अब बाबा तो इस रथ की ख़ातिरी करेंगे। पहले तो समझता था – मैं आत्मा इस रथ को खिलाता हूँ। यह भी रथ है ना। अब कहेंगे इनको वही खिलाने वाला है। इस रथ की सम्भाल करनी है। घोड़े पर साहेब लोग चढ़ते हैं तो घोड़े को हाथ से खिलायेंगे, कभी पीठ पर हाथ फेरेंगे। बहुत ख़ातिरी करते हैं क्योंकि उन पर सवारी करते हैं। बाबा इस पर सवारी करते हैं तो क्या बाबा ख़ातिरी नहीं करते होंगे? बाबा जब स्नान करते हैं तो समझते हैं हम भी स्नान करते हैं, बाबा को भी कराना है क्योंकि उसने भी इस रथ का लोन लिया है। शिवबाबा कहते हैं मैं भी तुम्हारे शरीर को स्नान कराता हूँ, खिलाता हूँ। मैं नहीं खाता हूँ, शरीर को खिलाता हूँ। बाबा खिलाते हैं, खाते नहीं हैं। यह सब किस्म-किस्म के ख्यालात चलते हैं – स्नान के समय, घूमने के समय। यह तो अनुभव की बात है ना। बाबा खुद ही कहते हैं – बहुत जन्मों के अन्त के जन्म में प्रवेश करता हूँ। यह अपने जन्मों को नहीं जानते हैं, मैं जानता हूँ। तुम कहते हो बाबा फिर हमको ज्ञान दे रहे हैं। वर्सा लेना है स्वर्ग का। सतयुग में तो राजा, प्रजा आदि सब हैं। पुरुषार्थ करना है बाप से पूरा वर्सा लेने का। अब नहीं लेंगे तो कल्प-कल्प मिस करते रहेंगे, इतना ऊंच पद पा नहीं सकेंगे। जन्म-जन्मान्तर की बाजी है तो कितना श्रीमत पर चलना चाहिए! कल्प-कल्प निमित्त बनेंगे। कल्प-कल्प वर्सा लेते आये हैं। कल्प-कल्प के लिए यह पढ़ाई है। इसमें बहुत ध्यान देना पड़ता है। 7 रोज लक्ष्य लेकर फिर मुरली तो घर में भी पढ़ सकते हैं। बिल्कुल सहज कर देते हैं। ड्रामा तो बुद्धि में रहना चाहिए ना।

इसको वर्ल्ड युनिवर्सिटी कहा जाता है। तो कहाँ भी अमेरिका आदि तरफ चले जाओ, बाप से वर्सा ले सकते हो। सिर्फ एक हफ्ता धारणा करके जाओ। भगवान् के बच्चे हैं तो भाई-बहन ठहरे ना। प्रजापिता ब्रह्मा है तो उनके सब बच्चे आपस में भाई-बहन ठहरे। जरूर गृहस्थ व्यवहार में रहते आपस में भाई-बहन होकर रहेंगे तो पवित्र हो रह सकेंगे। बहुत सहज है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) स्वंय को माया घोस्ट से बचाने के लिए ज्ञान-योग में तत्पर रहना है। मोह रूपी भूत का त्याग कर बाप का शो करना है। ज्ञान की टिकलू-टिकलू करनी है।

2) पढ़ाई पर पूरा ध्यान देकर बाप से वर्सा लेना है। कल्प-कल्प की इस बाजी को किसी भी हालत में गंवाना नहीं है।

वरदान:- कर्मयोग की स्टेज द्वारा कर्मभोग पर विजय प्राप्त करने वाले विजयी रत्न भव
कर्मयोगी बनने से शरीर का कोई भी कर्मभोग भोगना का अनुभव नहीं कराता है। मन में कोई रोग होगा तो रोगी कहा जायेगा, अगर मन निरोगी है तो सदा तन्दुरूस्त हैं। सिर्फ शेश शैया पर विष्णु के समान ज्ञान का सिमरण कर हर्षित होते, मनन शक्ति द्वारा और ही सागर के तले में जाने का चांस मिलता है। ऐसे कर्मयोगी ही कर्मभोग पर विजय प्राप्त कर विजयी रत्न बनते हैं।
स्लोगन:- साहस को साथी बना लो तो हर कर्म में सफलता मिलती रहेगी।

मातेश्वरी जी के मधुर महावाक्य

“मनुष्यात्माओं की परमात्मा से मांगनी और प्राप्ति”

तुम मात-पिता हम बालक तेरे तुम्हरी कृपा से सुख घनेरे… अब यह महिमा किसके लिये गाई हुई है? अवश्य परमात्मा के लिये गायन है क्योंकि परमात्मा खुद माता पिता रूप में आए इस सृष्टि को अपार सुख देता है। जरूर परमात्मा ने कब सुख की सृष्टि बनाई है तभी तो उनको माता पिता कहकर बुलाते हैं। परन्तु मनुष्यों को यह पता ही नहीं कि सुख क्या चीज़ है? जब इस सृष्टि पर अपार सुख थे तब सृष्टि पर शान्ति थी, परन्तु अब वो सुख नहीं हैं। अब मनुष्य को यह चाहना उठती अवश्य है कि वो सुख हमें चाहिए, फिर कोई धन पदार्थ मांगते हैं, कोई बच्चे मांगते हैं, कोई तो फिर ऐसे भी मांगते हैं कि हम पतिव्रता नारी बनें, सदा सुहागिन बनें, चाहना तो सुख की ही रहती है ना। तो परमात्मा भी कोई समय उन्हों की आश अवश्य पूर्ण करेंगे। तो सतयुग के समय जब सृष्टि पर स्वर्ग है तो वहाँ सदा सुख है, जहाँ स्त्री कभी दुहागिन (विधवा) नहीं बनती, तो वो आश सतयुग में पूर्ण होती है जहाँ अपार सुख है। बाकी तो इस समय है ही कलियुग। इस समय तो मनुष्य दु:ख ही दु:ख भोगते हैं। अच्छा।

Font Resize