daily murli 12 june

TODAY MURLI 12 JUNE 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 12 June 2020

12/06/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you have now become God’s children. Therefore, there should be no devilish traits in you. Make progress, not mistakes.
Question: What faith and intoxication do you Brahmin children of the confluence age have?
Answer: We children have the faith and intoxication that we now belong to God’s community. We are to become residents of heaven, the masters of the world. We are being transferred at the confluence age. From being devilish children, we have become Godly children and are to become residents of heaven for 21 births. There is nothing greater than this.

Om shanti. The Father sits here and explains to the children. Human beings generally like peace. When there is disagreement between the children in a family, there is peacelessness. When there is peacelessness, sorrow is experienced. When there is peace, happiness is experienced. You children sitting here have true peace. You have been told: Remember the Father. Consider yourselves to be souls. The peacelessness that has been in you souls for half the cycle will be removed by your remembering the Father, the Ocean of Peace. You are receiving your inheritance of peace. You know that the world of peace is completely separate from the world of peacelessness. Human beings do not understand what the devil’s world is or what God’s world is, what the golden age is or what the iron age is. No matter how great a position you had, you too say that you didn’t know this. Those who have wealth are said to have a position. You can understand who the poor are and who the wealthy are. In the same way, you can also understand that there are God’s children and the devil’s children. You sweet children now understand that you are God’s children. You have this firm faith, do you not? You Brahmins, who belong to God’s community, understand that you are becoming the residents of heaven and the masters of the world. There should be this happiness all the time. Very few of you understand this accurately. In the golden age, there is God’s community, whereas in the iron age, there is the devil’s community. The devil’s community changes at the most auspicious confluence age. We have now become the children of Shiv Baba. We forgot this in the middle period. We understand at this time that we have become the children of Shiv Baba. There, in the golden age, no one would call himself a child of God. There, they are children of the deities. Before now, we were devilish children. We have now become God’s children. We Brahmins are Brahma Kumars and Kumaris. We are the creation of the one Father. All of you are brothers and sisters and you are the children of God. You know that you are to receive your kingdom from Baba. In the future, we will attain our divine self-sovereignty and will be happy. The golden age really is the land of happiness and the iron age really is the land of sorrow. Only you Brahmins of the confluence age know this. Souls are the children of God. You know that Baba is establishing heaven. He is the Creator. He is not the creator of hell – who would remember him? You sweetest children know that the Father is establishing heaven. He is our very sweet Father. He is making us into the residents of heaven for 21 births. There is nothing greater than this. You should have the understanding that you are the children of God, and you should therefore not have any devilish traits in you. You have to make progress. Very little time remains. Therefore, make no mistakes. Do not forget this. You can see that the Father, whose children you are, is sitting in front of you, face to face. We are studying with God, the Father, in order to become the children of deities. Therefore, there should be so much happiness. Baba simply says: Just remember Me and your sins will be absolved. The Father has come to take everyone back home. The more you remember Him, the more your sins will be absolved. On the path of ignorance, when a girl gets engaged, that remembrance is firmly imprinted on her. As soon as a baby is born, that remembrance is imprinted. In heaven and also in hell that remembrance is imprinted. A child would say, “This is my father.” However, that One is your unlimited Father from whom you are to receive your inheritance of heaven. Therefore, it is remembrance of Him that should now be imprinted on you. We are once again receiving our inheritance from the Father for our future 21 births. Only that inheritance should be in your intellects. You know that everyone has to die. Not a single one will remain here. Even your dearest of dearest have to return. Only you Brahmins know that this old world is now about to end. Before it ends, make full effort. Since you are the children of God, you should have limitless happiness. The Father continually says: Children, make your lives like diamonds. That is the deity world and this is the devil world. There is limitless happiness in the golden age. Only the Father can give that happiness. You have come here to the Father. You cannot just stay here. You cannot all stay here together because you children are unlimited. You come here feeling a lot of enthusiasm that you have come to the unlimited Father. We are the children of God. We are the children of God, the Father. So, why are we not in heaven? God, the Father, creates heaven, does He not? The history and geography of the whole world is in your intellects. You know that Heavenly God, the Father, is making you worthy of heaven. He makes you that every cycle. Not a single human being knows that he is an actor. We are the children of God, the Father, and so why should we be unhappy? Why do we fight among ourselves? All of us souls are brothers. Look how brothers fight among themselves. They will fight and destroy one another. Here, we are claiming our inheritance from the Father. Brothers should never be like salt water with each other. Even here, some become like salt water with the Father. Even very good children become like salt water. Maya is so powerful! The Father definitely remembers very good children. The Father has so much love for the children. The Father has no one but His children to remember. You have many to remember. Your intellects go here and there. Your intellects also go to your businesses etc. I don’t have any business etc. All of you children have many businesses. I just have the one business. I have come to make you children into the heirs of heaven. The only property that the unlimited Father has is you children. He is God, the Father. All souls are His property. Maya has made you dirty. The Father now makes you beautiful. The Father says: I only have you. I have attachment to you. When you don’t write a letter, the Father becomes concerned. Even some very good children don’t send a letter. Maya completely finishes off good children. There must definitely be body consciousness. The Father tells you always to write to Him about your welfare. Baba asks: Children, Maya isn’t troubling you, is she? You remain courageous and are conquering Maya, are you not? You are on the battlefield, are you not? You should be controlling your physical organs in such a way that they don’t cause any mischief. In the golden age, all your physical senses are under control. Your physical organs play no mischief there. There is no question of any type of mischief of your mouth, hands or ears. There is no mischief there. There is nothing dirty there. Here, you gain victory over your physical organs with the power of yoga. The Father says: There is nothing dirty there. You have to control your physical organs. Make effort very well; very little time remains. It is remembered that a lot of time has passed and that only a little time remains. Now, even less time remains. When a new house is being built, it remains in one’s intellect that very little time is left, that it will soon be ready, that only a little work has to be done. That aspect is limited whereas this aspect is unlimited. It has been explained to you children that theirs is the power of science whereas yours is the power of silence. Their power is of intellects and your power too is of intellects. So many inventions have been created through science. They say that they have now invented such bombs that wherever they may be, they can have those bombs dropped and wipe out a whole city. In that case, none of the armies and aeroplanes etc. will be of any use. Therefore, those intellects are of science. Your intellects are of silence. They are instruments for destruction. You have become instruments for claiming an imperishable status. Even to understand this, you need an intellect. You children can understand how easy the path that the Father is showing you is. No matter how stone headed or hunchbacked you are, simply remember two words: The Father and the inheritance. Then, everything depends on how much remembrance you have. Break away from everyone else and remember the one Father. The Father says: On the path of devotion, you called out to Me when I was in my home in the supreme abode: Baba, when You come, I will surrender everything to You. That was like the special brahmin priest who takes all the old things of someone who has died. What will you give to the Father? You do not give everything to this one (Brahma), do you? This one also gave away everything he had. This one is not going to sit here and build a palace for himself. All of this is for Shiv Baba. We are doing everything according to His directions. He is Karankaravanhar. He continues to give directions. Children say: Baba, You are the only One for me, but You have many children. Baba then says: I only have you children, whereas you have so many others. You remember so many bodily relatives. The Father says to His sweetest children: Remember the Father as much as possible and continue to forget everyone else. You receive the butter of the sovereignty of heaven. Just think about how this play has been created. Simply by remembering the Father and spinning the discus of self-realisation, you become rulers of the globe. You children now experience this in a practical way. Human beings believe that devotion has continued from time immemorial and that the vices have also continued from time immemorial. Lakshmi and Narayan, who were Radhe and Krishna, also had children, did they not? Yes, why would they not have had children? They are called completely viceless. Here, everyone is completely vicious. They continue to insult one another. You children are now receiving shrimat from the Shri Shri (doubly elevated) Father. He is making you elevated. You can’t become this if you don’t obey the Father. It is up to you whether or not you obey Him. Obedient children will instantly obey Him. When you don’t help fully, you cause yourself a loss. The Father says: I come every cycle. I inspire you so much to make effort. I bring you so much happiness. While you are claiming your full inheritance from the Father, Maya inspires you to make mistakes. However, you mustn’t get caught in that trap. Your only war is with Maya. Many very big storms will come. In those too, Maya will attack the heirs the most. She becomes powerful and fights with the powerful ones. When a herbalist gives someone medicine, all his internal illness erupts. Here, too, when you belong to Me, you will begin to remember everyone. Storms will come, but you must keep your line clear. For the first half cycle, we were pure. Then, for the second half, we became impure. We now have to return home. The Father says: Remember Me and your sins will be absolved with this fire of yoga! The more you remember Me, the higher the status you will claim. While remembering Me, you will return home. You need to be completely introverted in this. Knowledge is imbibed by the soul. It is the soul that studies. It is the Father, the Supreme Soul, who comes and gives knowledge of the soul. You are receiving such important knowledge in order to become the masters of the world. You call Me the Purifier, the Ocean of Knowledge and the Ocean of Peace. I give you everything I have. The only thing I don’t give you is the key to divine vision. Instead of that, I make you into the masters of the world. There is nothing to gain by having visions. The main thing is this study. You receive happiness for 21 births through this study. Compare the happiness you have against the happiness Meera had. She was in the iron age; she had visions, but then what? The rosary of devotion is separate from the rosary of the path of knowledge. Ravan’s kingdom is separate from your kingdom. That is called the night whereas this is called the day. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Control your physical organs with the power of yoga in such a way that no mischief remains. There is very little time left. Therefore, make effort very well and become a conqueror of Maya.
  2. Remain introverted and imbibe the knowledge that the Father gives you. Never become like salt water with each other. Definitely send the Father news of your welfare.
Blessing: May you be altruistically merciful and save all souls from wandering or becoming beggars.
The children who are altruistically merciful have merciful thoughts to remind many other souls of their spiritual form and destination in a second. With the children’s thoughts of mercy, beggars will have glimpses of all treasures. Wandering souls will see the shores or destination of liberation and liberation-in-life in front of them. They will play the parts of being removers of sorrow and bestowers of happiness and they will always keep the magic key with them and have a method to make unhappy souls happy.
Slogan: Become a server and do altruistic service and you will definitely receive the fruit of service.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 12 JUNE 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 12 June 2020

Murli Pdf for Print : – 

12-06-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – अभी तुम ईश्वरीय औलाद बने हो, तुम्हारे में कोई आसुरी गुण नहीं होने चाहिए, अपनी उन्नति करनी है, ग़फलत नहीं करनी है”
प्रश्नः- आप संगमयुगी ब्राह्मण बच्चों को कौन-सा निश्चय और नशा है?
उत्तर:- हम बच्चों को निश्चय और नशा है कि अभी हम ईश्वरीय सम्प्रदाय के हैं। हम स्वर्गवासी विश्व के मालिक बन रहे हैं। संगम पर हम ट्रांसफर हो रहे हैं। आसुरी औलाद से ईश्वरीय औलाद बन 21 जन्मों के लिए स्वर्गवासी बनते हैं, इससे भारी कोई वस्तु होती नहीं।

ओम् शान्ति। बाप बैठ बच्चों को समझाते हैं, अक्सर करके मनुष्य शान्ति को पसन्द करते हैं। घर में अगर बच्चों की खिट-खिट है, तो अशान्ति रहती है। अशान्ति से दु:ख भासता है। शान्ति से सुख भासता है। यहाँ तुम बच्चे बैठे हो, तुमको सच्ची शान्ति है। तुमको कहा गया है बाप को याद करो। अपने को आत्मा समझो। आत्मा में जो आधाकल्प से अशान्ति है, वह निकलनी है शान्ति के सागर बाप को याद करने से। तुमको शान्ति का वर्सा मिल रहा है। यह भी तुम जानते हो शान्ति की दुनिया और अशान्ति की दुनिया बिल्कुल अलग है। आसुरी दुनिया, ईश्वरीय दुनिया, सतयुग, कलियुग किसको कहा जाता है, यह कोई मनुष्य मात्र नहीं जानते। तुम कहेंगे हम भी नहीं जानते थे। भल कितने भी पोजीशन वाले थे। पैसे वाले को पोजीशन वाला कहा जाता है। गरीब और साहूकार समझ तो सकते हैं ना। वैसे तुम भी समझ सकते हो बरोबर ईश्वरीय औलाद और आसुरी औलाद। अभी तुम मीठे बच्चे समझते हो हम ईश्वरीय सन्तान हैं। यह पक्का निश्चय है ना। तुम ब्राह्मण समझते हो हम ईश्वरीय सम्प्रदाय स्वर्गवासी विश्व के मालिक बन रहे हैं। हरदम वह खुशी रहनी चाहिए। बहुत थोड़े हैं जो यथार्थ रीति से समझते हैं। सतयुग में हैं ईश्वरीय सम्प्रदाय। कलियुग में हैं आसुरी सम्प्रदाय। पुरूषोत्तम संगमयुग पर आसुरी सम्प्रदाय बदली होती है। अभी हम शिवबाबा की औलाद बने हैं। बीच में भूल गये थे। अभी फिर इस समय जाना है कि हम शिवबाबा की सन्तान हैं। वहाँ सतयुग में कोई अपने को ईश्वरीय औलाद नहीं कहलाते। वहाँ हैं दैवी औलाद। इनके पहले हम आसुरी औलाद थे। अभी ईश्वरीय औलाद बने हैं। हम ब्राह्मण बी.के. हैं। रचना है एक बाप की। तुम सब भाई-बहन हो और ईश्वरीय औलाद हो। तुम जानते हो बाबा से राज्य मिल रहा है। भविष्य में जाकर हम दैवी स्वराज्य पायेंगे, सुखी होंगे। बरोबर सतयुग है सुख का धाम, कलियुग है दु:खधाम। यह सिर्फ तुम संगमयुगी ब्राह्मण जानते हो। आत्मा ही ईश्वरीय औलाद है। यह भी जानते हो बाबा स्वर्ग की स्थापना करते हैं। वह रचता है ना। नर्क का क्रियेटर तो नहीं है। उनको कौन याद करेंगे। तुम मीठे-मीठे बच्चे जानते हो-बाप स्वर्ग की स्थापना कर रहे हैं। वह हमारा बहुत मीठा बाप है। हमको 21 जन्मों के लिए स्वर्गवासी बनाते हैं, इससे भारी वस्तु कोई होती नहीं। यह समझ रखनी चाहिए। हम ईश्वरीय औलाद हैं, तो हमारे में कोई आसुरी अवगुण होना नहीं चाहिए। अपनी उन्नति करनी है। समय बाकी थोड़ा है, इसमें ग़फलत नहीं करनी चाहिए। भूल न जाओ। देखते हो बाप सम्मुख बैठा है, जिनकी हम औलाद हैं। हम ईश्वर बाप से पढ़ रहे हैं दैवी औलाद बनने के लिए, तो कितनी खुशी होनी चाहिए। बाबा सिर्फ कहते हैं मुझे याद करो तो विकर्म विनाश हो जाएं। बाप आये ही हैं सबको ले जाने। जितना-जितना याद करेंगे उतना विकर्म विनाश होंगे। अज्ञान में जैसे कन्या की सगाई होती है तो याद बिल्कुल छप जाती है। बच्चा पैदा हुआ और याद छप जाती है। यह याद तो स्वर्ग में भी छप जाती, नर्क में भी छप जाती। बच्चा कहेगा यह हमारा बाप है, अब यह तो है बेहद का बाप। जिससे स्वर्ग का वर्सा मिलता है तो उनकी याद छप जानी चाहिए। बाप से हम भविष्य 21 जन्मों का फिर से वर्सा ले रहे हैं। बुद्धि में वर्सा ही याद है।

यह भी जानते हो मरना तो सबको है। एक भी रहने का नहीं है जो भी डियरेस्ट से डियरेस्ट (प्यारा से प्यारा) है, सब चले जायेंगे। यह सिर्फ तुम ब्राह्मण ही जानते हो कि यह पुरानी दुनिया अब गई कि गई। उसके जाने के पहले पूरा पुरूषार्थ करना है। जबकि ईश्वरीय औलाद हैं तो अथाह खुशी होनी चाहिए। बाप कहते रहते हैं-बच्चे, अपना जीवन हीरे जैसा बनाओ। वह है डीटी वर्ल्ड, यह है डेविल वर्ल्ड। सतयुग में कितना अथाह सुख रहता है। वह बाप ही देते हैं। यहाँ तुम बाप के पास आये हो। यहाँ बैठ तो नहीं जायेंगे। ऐसे तो नहीं सब इकट्ठे रहेंगे क्योंकि बेहद बच्चे हैं। यहाँ तुम बहुत उमंग से आते हो। हम जाते हैं बेहद के बाप पास। हम ईश्वरीय औलाद हैं। गॉड फादर के बच्चे हैं, तो हम क्यों न स्वर्ग में होने चाहिए। गॉड फादर तो स्वर्ग रचते हैं ना। अब तुम्हारी बुद्धि में सारे वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी है। जानते हो हेविनली गॉड फादर हमको हेविन के लायक बना रहे हैं। कल्प-कल्प बाद बनाते हैं। एक भी मनुष्य नहीं जिसको यह पता हो कि हम एक्टर हैं। गॉड फादर के बच्चे फिर हम दु:खी क्यों हैं! आपस में लड़ते क्यों हैं! हम आत्मायें सब ब्रदर्स हैं ना। ब्रदर्स आपस में कैसे लड़ते रहते हैं। लड़कर खत्म हो जायेंगे। यहाँ हम बाप से वर्सा ले रहे हैं। ब्रदर्स को आपस में कभी लून-पानी नहीं होना चाहिए। यहाँ तो बाप से भी लून-पानी होते हैं। अच्छे-अच्छे बच्चे लून-पानी हो जाते हैं। माया कितनी जबरदस्त है। जो अच्छे-अच्छे बच्चे हैं वह बाप को याद तो पड़ते हैं। बाप का कितना लव है बच्चों पर। बाप को तो सिवाए बच्चों के और कोई है नहीं जिसको याद करें। तुम्हारे लिए तो बहुत हैं। तुम्हारी बुद्धि इधर-उधर जाती है। धन्धे आदि में भी बुद्धि जाती है। हमारे लिए तो कोई धन्धा आदि भी नहीं है। तुम अनेक बच्चों के अनेक धन्धे हैं। हमारा तो एक ही धन्धा है। हम आये ही हैं बच्चों को स्वर्ग का वारिस बनाने। बेहद के बाप की प्रापर्टी सिर्फ तुम बच्चे हो। गॉड फादर है ना। सभी आत्मायें उनकी प्रापर्टी हैं। माया ने छी-छी बना दिया है। अब गुल-गुल बनाते हैं बाप। बाप कहते हैं मेरे तो तुम ही हो। तुम्हारे ऊपर हमारा मोह भी है। चिट्ठी नहीं लिखते हो तो ओना हो जाता है। अच्छे-अच्छे बच्चों की चिट्ठी नहीं आती है। अच्छे-अच्छे बच्चों को एकदम माया खत्म कर देती है। जरूर देह-अभिमान है। बाप कहते रहते हैं अपनी खुशखैराफत लिखो। बाबा बच्चों से पूछते हैं बच्चे तुमको माया हैरान तो नहीं करती है? बहादुर बन माया पर जीत पहन रहे हो ना! तुम युद्ध के मैदान में हो ना। कर्मेन्द्रियां ऐसे वश करनी चाहिए जो कुछ भी चंचलता न हो। सतयुग में सब कर्मेन्द्रियां वश में रहती हैं। कर्मेन्द्रियों की कोई चंचलता नहीं होती है। न मुख की, न हाथ की, न कान की….. कोई भी चंचलता की बात नहीं होती। वहाँ कोई भी गन्द की चीज़ होती नहीं। यहाँ योगबल से कर्मेन्द्रियों पर जीत पाते हो। बाप कहते हैं कोई भी गन्दी बात नहीं। कर्मेन्द्रियों को वश करना है। अच्छी रीति पुरूषार्थ करना है। टाइम बहुत थोड़ा है। गायन भी है बहुत गई थोड़ी रही। अभी थोड़ी रहती जाती है। नया मकान बनता रहता है तो बुद्धि में रहता है ना-बाकी थोड़ा समय है। अभी यह तैयार हो जायेगा, बाकी यह थोड़ा काम है। वह है हद की बात, यह है बेहद की बात। यह भी बच्चों को समझाया गया है उन्हों का है साइंस बल, तुम्हारा है साइलेन्स बल। है उनका भी बुद्धि बल, तुम्हारा भी बुद्धि बल। साइंस की कितनी इन्वेन्शन निकालते रहते हैं। अभी तो ऐसे बाम्ब्स बनाते रहते हैं जो कहते हैं वहाँ बैठे-बैठे छोड़ेंगे तो सारा शहर खत्म हो जायेगा। फिर यह सेनायें, एरोप्लेन आदि भी काम में नहीं आयेंगे। तो वह है साइंस बुद्धि। तुम्हारी है साइलेन्स बुद्धि। वह विनाश के लिए निमित्त बने हुए हैं। तुम अविनाशी पद पाने के लिए निमित्त बने हो। यह भी समझने की बुद्धि चाहिए ना।

तुम बच्चे समझ सकते हो – बाप कितना सहज रास्ता बताते हैं। भल कितनी भी अहिल्यायें, कुब्जायें हो, सिर्फ दो अक्षर याद करने हैं – बाप और वर्सा। फिर जितना जो याद करे। और संग तोड़ एक बाप को याद करना है। बाप कहते हैं मैं जब अपने घर परमधाम में था तो भक्ति मार्ग में तुम पुकारते थे-बाबा आप आयेंगे तो हम सब कुछ कुर्बान करेंगे। यह हुए जैसे करनीघोर, करनीघोर को पुराना सामान दिया जाता है। तुम बाप को क्या देंगे? इनको (ब्रह्मा को) तो नहीं देते हो ना। इसने भी सब कुछ दे दिया। यह थोड़ेही यहाँ बैठ महल बनायेंगे। यह सब कुछ शिवबाबा के लिए है। उनके डायरेक्शन से कर रहे हैं। वह करन-करावनहार है, डायरेक्शन देते रहते हैं। बच्चे कहते हैं बाबा आप हमारे लिए एक ही हो। आपके लिए तो बहुत बच्चे हैं। बाबा फिर कहते हमारे लिए सिर्फ तुम बच्चे हो। तुम्हारे लिए तो बहुत हैं। कितने देह के सम्बन्धियों की याद रहती है। मीठे-मीठे बच्चों को बाप कहते हैं जितना हो सके बाप को याद करो और सबको भुलाते जाओ। स्वर्ग की राजाई का मक्खन तुमको मिलता है। ज़रा ख्याल तो करो, कैसे यह खेल की रचना है। तुम सिर्फ बाप को याद करते हो और स्वदर्शन चक्रधारी बनने से चक्रवर्ती राजा बनते हो। अभी तुम बच्चे प्रैक्टिकल में अनुभवी हो। मनुष्य तो समझते हैं भक्ति परम्परा से चली आई है। विकार भी परम्परा से चले आये हैं। इन लक्ष्मी-नारायण, राधे-कृष्ण को भी तो बच्चे थे ना। अरे हाँ, बच्चे क्यों नहीं थे परन्तु उन्हों को कहा जाता है सम्पूर्ण निर्विकारी। यहाँ हैं सम्पूर्ण विकारी। एक-दो को गालियाँ देते रहते हैं। अब तुम बच्चों को बाप श्री श्री की श्रीमत मिलती है। तुमको श्रेष्ठ बनाते हैं। अगर बाप का कहना नहीं मानेंगे तो फिर थोड़ेही बनेंगे। अब मानो न मानो। सपूत बच्चे तो फौरन मानेंगे। पूरी मदद नहीं देते हैं तो अपने को घाटा डालते हैं। बाप कहते हैं मैं कल्प-कल्प आता हूँ। कितना पुरूषार्थ कराता हूँ। कितना खुशी में ले आते हैं। बाप से पूरा वर्सा लेने में ही माया ग़फलत कराती है। परन्तु तुम्हें उस फन्दे में नहीं फँसना है। माया से ही लड़ाई होती है। बहुत बड़े-बड़े तूफान आयेंगे। उसमें भी वारिसों पर जास्ती माया वार करेगी। रूसतम से रूसतम हो लड़ेगी। जैसे वैद्य दवाई देते हैं तो बीमारी सारी बाहर निकल आती है। यहाँ भी मेरे बनेंगे तो फिर सबकी याद आने लग पड़ेगी। तूफान आयेंगे, इसमें लाइन क्लीयर चाहिए। हम पहले पवित्र थे फिर आधाकल्प अपवित्र बनें। अब फिर वापिस जाना है। बाप कहते हैं मुझे याद करो तो इस योग अग्नि से तुम्हारे विकर्म विनाश होंगे। जितना याद करेंगे उतना ऊंच पद पायेंगे। याद करते-करते तुम घर चले जायेंगे, इसमें बिल्कुल अन्तर्मुखता चाहिए। नॉलेज भी आत्मा में धारण होती है ना। आत्मा ही पढ़ती है। आत्मा का ज्ञान भी परमात्मा बाप ही आकर देते हैं। इतना भारी ज्ञान तुम लेते हो विश्व का मालिक बनने के लिए। मुझे तुम कहते ही हो-पतित-पावन, ज्ञान का सागर, शान्ति का सागर। जो मेरे पास है वह तुमको सब देता हूँ। बाकी सिर्फ दिव्य दृष्टि की चाबी नहीं देता हूँ। उसके बदले फिर तुमको विश्व का मालिक बनाता हूँ। साक्षात्कार में कुछ है नहीं। मुख्य है पढ़ाई। पढ़ाई से तुमको 21 जन्म का सुख मिलता है। मीरा की भेंट में तुम अपने सुख की भेंट करो। वह तो कलियुग में थी, दीदार किया फिर क्या। भक्ति की माला ही अलग है। ज्ञान मार्ग की माला अलग है। रावण की राजाई अलग, तुम्हारी राजाई अलग। उनको दिन, उनको रात कहा जाता है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) याद के बल से अपनी कर्मेन्द्रियाँ ऐसी वश करनी है जो कोई भी चंचलता न रहे। टाइम बहुत थोड़ा है इसलिए अच्छी रीति पुरूषार्थ कर मायाजीत बनना है।

2) बाप जो ज्ञान देते हैं उसे अन्तर्मुखी बन धारण करना है। कभी भी आपस में लून-पानी नहीं होना है। बाप को अपनी खुशखैऱाफत का समाचार जरूर देना है।

वरदान:- हर आत्मा को भटकने वा भिखारीपन से बचाने वाले निष्काम रहमदिल भव
जो बच्चे निष्काम रहमदिल हैं उनके रहम के संकल्प से अन्य आत्माओं को अपने रूहानी रूप वा रूह की मंजिल सेकण्ड में स्मृति में आ जायेगी। उनके रहम के संकल्प से भिखारी को सर्व खजानों की झलक दिखाई देगी। भटकती हुई आत्माओं को मुक्ति वा जीवनमुक्ति का किनारा व मंजिल सामने दिखाई देगी। वे सर्व के दु:ख हर्ता सुख कर्ता का पार्ट बजायेंगे, दु:खी को सुखी करने की युक्ति व साधन सदा उनके पास जादू की चाबी के मुआफिक होगा।
स्लोगन:- सेवाधारी बन नि:स्वार्थ सेवा करो तो सेवा का मेवा मिलना ही है।

TODAY MURLI 12 JUNE 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 12 June 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 11 June 2019 :- Click Here

12/06/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, do not waste your time chasing after a handful of chick peas (things of little value). Now become the Father’s helpers and glorify the Father’s name. (Especially for the Kumaris)
Question: What are the signs that you are moving forward on this path of knowledge?
Answer: The children who always remember the land of peace and the land of happiness and whose intellects do not wander anywhere at the time of remembrance, those whose intellects don’t have wasteful thoughts, whose intellects are concentrated, who don’t nod off and whose mercury of happiness is high prove that they are moving forward on this path of knowledge.

Om shanti. You children have been sitting here for so long. It enters your hearts that it is as though you are sitting in Shivalaya (Temple of Shiva). You remember Shiv Baba and you also remember heaven. Only by having remembrance do you receive happiness. Even if your intellects remember that you are sitting in Shivalaya, you will be happy. Eventually, you all have to go to Shivalaya. No one is going to sit permanently in the land of peace. In fact, the land of peace is called Shivalaya and the land of happiness is also called Shivalaya. Both are established by the Father. You children have to remember both of them. That Shivalaya is for peace and the other Shivalaya is for happiness. This is the land of sorrow. You are now sitting at the confluence age. You must not remember anything except the land of peace and the land of happiness. No matter where you may be sitting, even if you are at your business, your intellect should remember both Shivalayas. You have to forget the land of sorrow. You children know that this brothel, this land of sorrow, is now to end. You children should not nod off while sitting here. The intellects of many children wander off in other directions. There are obstacles of Maya. The Father repeatedly tells you children: Children, Manmanabhav! He also tells you various tactics. While you are sitting here, make your intellects remember that you will first go to Shivalaya, the land of peace, and that you will then go to the land of happiness. By remembering this, your sins will continue to be cut away. The more you stay in remembrance, the more you will move forward. You should not sit here with any other thoughts. Otherwise, you would be causing a loss for others. Instead of benefiting them, you would be causing them a loss. Previously, when you were made to sit in meditation, someone was made to sit in front of you to check who were nodding off and who were sitting with their eyes closed. Therefore, you remained very cautious. The Father also used to see whether your intellects’ yoga was wandering anywhere or if you were nodding off. Many come here and don’t understand anything. Brahmin teachers bring them. Very good children should be in front of Shiv Baba so that they don’t create the wrong impression because that One is not an ordinary teacher. The Father sits here and teaches you. You should sit here with great caution. Baba makes you sit in silence for 15 minutes, but you sit for an hour or two hours. Not everyone is a maharathi. Those who are weak have to be cautioned. By being cautioned, they will become alert and careful. It is as though those who don’t stay in remembrance but simply continue to have waste thoughts are creating obstacles because their intellects keep wandering somewhere or other. All – elephant riders, horse riders and foot soldiers – are sitting here. Baba has come today having churned the ocean of knowledge: The models of Shivalaya, the brothel and the most auspicious confluence age, all three that you children show at the museums and exhibitions, are a very good way to explain knowledge to people. You should make very big ones. You should get the biggest and best halls for them so that this quickly sits in people’s intellects. You children should think about these things and think about how to improve them. You should make the most auspicious confluence age very good. People can receive a very good understanding through that. You show five to six people sitting in tapasya, but no; you should show 10 to 15 people sitting in tapasya. You should make very big pictures and write in very clear writing. You explain so much and yet people don’t really understand. You make effort to explain, but they have stone intellects. So, as much as possible, you should explain very clearly. Those who remain engaged in service should think about how to increase service. There isn’t as much pleasure in explaining using the projector and exhibitions as there is when explaining at museums. They don’t understand anything through the projectors. The best of all is the museum, even though it may be small. In one room, there should be the scenes of Shivalaya, the brothel and the most auspicious confluence age. A very broad intellect is needed to explain this. The unlimited Father and the unlimited Teacher has come, but He is not just going to sit down thinking that the children should pass their M.A. or B.A. The Father is not just going to remain seated here. He will go away in a short time. There is little time left and people still don’t awaken. Those who are good daughters would say: Why should I waste my time for just these 400 to 500 rupees? What status would then I claim in Shivalaya? Baba sees that the kumaris are free. No matter how high a salary you receive, it is just like a handful of chick peas. All of that is going to end. Nothing will remain. The Father has now come to make you give up the handful of chick peas. However, some don’t let go at all. There, you receive a handful of chick peas whereas here, you receive the sovereignty of the world. Those are just chick peas worth a few pennies, so why do you distress yourselves chasing after them? Kumaris are free. That study is only worth a few pennies. If you stop that study and continue to study this knowledge, your intellect can open. Little daughters should sit and give knowledge to the older ones and explain that the Father has come to establish Shivalaya. You know that everything here is going to turn to dust. You won’t even have those chick peas in your fortune. Some might have five chick peas, that is, 500,000 rupees in their hands but that too would be destroyed. There is now very little time left. Day by day, conditions are getting worse. Suddenly there are calamities; death takes place suddenly. Even while holding chick peas in their fists they leave their bodies. So, people have to be liberated from this monkey-likebehaviour. Don’t become happy on just seeing the museumyou have to show wonders. People have to be reformed. The Father is giving you children the sovereignty of the world. However, some won’t even have chick peas in their fortune; everything will be destroyed. Instead, why not claim the sovereignty from the Father? There isn’t any difficulty in this. You simply have to remember the Father and spin the discus of self-realisation. You have to empty your fists of chick peas and fill them with diamonds and jewels and return home. The Father explains: Sweet children, why do you waste your time chasing after a handful of chick peas? Yes, if someone is old and has many children, he has to look after them. It is very easy for kumaris. When anyone comes, just explain to them that the Father is giving us this sovereignty. So, you should claim the sovereignty. Your fists are now becoming full of diamonds. Everything else is going to be destroyed. The Father explains: You have been committing sin for 63 births. Another sin is of defaming the Father and the deities. You became vicious and you also insulted the Father. You insulted the Father so much! The Father sits here and explains to you children: Children, do not waste your time. Do not say: Baba, I cannot stay in remembrance. Say: Baba, I am unable to remember myself as a soul. I forget myself. To become body conscious means to forget yourself. If you are unable to remember yourself as a soul, how would you be able to remember the Father? The destination is very high. This is very easy, but yes, there is also oppositionfrom Maya. Although people study the Gita etc., they don’t understand the meaning of it at all. The main scripture of Bharat is the Gita. Each religion has its own scripture. None of those who establish a religion can be called the Satguru. That is a big mistake. There is only the one Satguru, but there are many who call themselves gurus. If someone teaches the work of a carpenter or an engineer, he too is a guru. Anyone who teaches something is a guru, but there is just the one Satguru. You have now found the Satguru. He is also the true Father and the true Teacher. This is why you children should not be careless. You leave here having become very well refreshed but you forget everything as soon as you arrive home. A lot of punishment is received in the jail of a womb. There, a womb is a palace. There are no sinful acts performed that one would have to experience punishment. Here (in Madhuban), you children understand that you are personally studying with the Father. Outside, at your home, you would not say the same. There, you would understand that your brother is teaching you. You have come heredirectly in front of the Father. The Father explains to you children very well. There is a difference between the way the Father explains and the way you children explain. The Father sits here and cautions you children. He says, “Child, child” and explains to you. You understand Shivalaya (Temple of Shiva) and the brothel (Vaishyalaya). It is a matter of the unlimited. Show this clearly so that people can enjoy it. There, you explain in a light manner, but you have to explain to them seriously so that they can understand it very clearly: Have mercy for yourselves. Are you just going to stay in this brothel? Baba has thoughts about how to explain. Children make so much effort, yet it is as though nothing sinks in. They continue to say, “Yes, yes, it is very good and you should also explain this in the villages”, though they don’t understand anything themselves. Wealthy people with a lot of money will not understand at all. They do not pay any attention to this at all. They will come at the end but it will then be too late. Neither will their wealth be useful nor will they be able to stay in yoga. However, yes, if they listen to this, they will become part of the subjects. The poor can claim a very high status. What do you kumaris have? A kumari is said to be poor because it is the sons who receive their father’s inheritance, but yes, after a kumari is given away, she indulges in vice. They say: Get married and I will then give you money. If you want to remain pure, you won’t get a single penny. Look at their attitude! You must not be afraid of anyone. You should explain everything openly. You should be very active. You are telling the complete truth. This is the confluence age. On that side is a handful of chick peas and on this side is a handful of diamonds. From being like a monkey you are now becoming worthy of being in a temple. You should make effort and claim a birth like a diamond. Your faces should be like that of a courageous lioness. Some people’s faces are like timid goats; they would be afraid of even a little sound. The Father cautions all of you children. Kumaris should not become trapped. If you become trapped in bondages, you will be beaten for vice. If you imbibe knowledge well, you will become an empress of the world. The Father says: I have come to give you the sovereignty of the world. However, it is not in the fortune of some. The Father is the Lord of the Poor. Kumaris are poor. When parents are unable to get their daughter married, they give her away. So, kumaris should be very intoxicated. “I should study well and claim a good status.” Good students pay attention to their studies so that they pass with honours. They are the ones who then receive a scholarship. The more effort you make, the higher the status you will receive, and that too will be for 21 births. Here, there is temporary happiness. Today, you receive a status but if you die the next day, everything is finished. There is a difference between yogis and bhogis (those who indulge in sensual pleasure). The Father says: Pay greater attention to the poor. Scarcely any wealthy ones take this up. They simply say: This is very good; this organisation is very good and it will benefit many people. They don’t benefit themselves at all. They say that this is very good but, as soon as they go outside, everything is over. Maya is sitting with a stick and makes them lose all enthusiasm. By slapping them just once, she makes them lose all their wisdom. The Father explains: Look what the condition of Bharat has become! You children have understood the drama very well. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Let go of the handful of chick peas and make full effort to claim the sovereignty of the world from the Father. Do not be afraid of anything. Become fearless and remain free from bondage. Use your time in a worthwhile way in earning a true income.
  2. Forget this land of sorrow and remember Shivalaya, that is, the land of peace and the land of happiness. Recognise the obstacles of Maya and remain cautious of them.
Blessing: May you become an easy yogi and claim the three certificates of contentment while making an impact on others with your yogi life.
Contentment is the special aim of a yogi life. Those who remain constantly content and make others content automatically make an impact with their yogi life on others. Just as the facilities of science make an impact on the environment, so, an easy yogi life too makes an impact. The three certificates of a yogi life are to be content with the self, content with the Father and the third is to be content with the lokik and alokik families.
Slogan: Those who have the tilak of self-sovereignty, the crown of world benefit and are seated on the throne of their stage are Raj yogis.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 12 JUNE 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 12 June 2019

To Read Murli 11 June 2019 :- Click Here
12-06-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – अब चने मुट्ठी के पीछे अपना समय बरबाद नहीं करो, अब बाप के मददगार बन बाप का नाम बाला करो” (विशेष कुमारियों प्रति)
प्रश्नः- इस ज्ञान मार्ग में तुम्हारे कदम आगे बढ़ रहे हैं, उसकी निशानी क्या है?
उत्तर:- जिन बच्चों को शान्तिधाम और सुखधाम सदा याद रहता है। याद के समय बुद्धि कहाँ पर भी भटकती नहीं है, बुद्धि में व्यर्थ के ख्यालात नहीं आते, बुद्धि एकाग्र है, झुटका नहीं खाते, खुशी का पारा चढ़ा हुआ है तो इससे सिद्ध है कि कदम आगे बढ़ रहे हैं।

ओम् शान्ति। बच्चे इतना समय यहाँ बैठे हैं। दिल में भी आता है कि हम जैसे शिवालय में बैठे हैं। शिवबाबा भी याद आ जाता है। स्वर्ग भी याद आ जाता है। याद से ही सुख मिलता है। यह भी बुद्धि में याद रहे, हम शिवालय में बैठे हैं तो भी खुशी होगी। जाना तो आखरीन सभी को शिवालय में है। शान्तिधाम में कोई को बैठ नहीं जाना है। वास्तव में शान्तिधाम को भी शिवालय कहेंगे, सुखधाम को भी शिवालय कहेंगे। दोनों स्थापन करते हैं। तुम बच्चों को याद भी दोनों को करना है। वह शिवालय है शान्ति के लिए और वह शिवालय है सुख के लिए। यह है दु:खधाम। अभी तुम संगम पर बैठे हो। शान्तिधाम और सुखधाम के सिवाए और किसकी भी याद नहीं होनी चाहिए। भल कहाँ भी बैठे हो, धन्धे आदि में बैठे हो तो भी बुद्धि में दोनों शिवालय याद आने चाहिए। दु:खधाम भूल जाना है। बच्चे जानते हैं यह वेश्यालय, दु:खधाम अब खत्म हो जाना है।

यहाँ बैठे तुम बच्चों को झुटका आदि भी नहीं आना चाहिए। बहुतों की बुद्धि कहाँ-कहाँ और तरफ चली जाती है। माया के विघ्न पड़ते हैं। तुम बच्चों को बाप घड़ी-घड़ी कहते हैं – बच्चे, मनमनाभव। भिन्न-भिन्न प्रकार की युक्तियां भी बतलाते हैं। यहाँ बैठे हो, बुद्धि में यह याद करो कि हम पहले शान्तिधाम, शिवालय में जायेंगे फिर सुखधाम में आयेंगे। ऐसा याद करने से पाप कटते जायेंगे। जितना तुम याद करते हो उतना कदम बढ़ाते हो। यहाँ और कोई ख्यालात में नहीं बैठना चाहिए। नहीं तो तुम औरों को नुकसान पहुँचाते हो। फायदे के बदले और ही नुकसान करते हो। आगे जब बैठते थे तो सामने कोई को जांच करने के लिए बिठाया जाता था – कौन झुटका खाते हैं, कौन आंखें बन्द कर बैठते हैं, तो बड़ा खबरदार रहते थे। बाप भी देखते थे इनका बुद्धियोग कहाँ भटकता है क्या या झुटका खाते हैं क्या? ऐसे भी बहुत आते हैं, जो कुछ भी समझते नहीं हैं। ब्राह्मणियां ले आती हैं। शिवबाबा के आगे बच्चे बड़े अच्छे होने चाहिए, जो ग़फलत में नहीं रहें क्योंकि यह कोई ऑर्डनरी टीचर नहीं। बाप बैठ सिखलाते हैं। यहाँ बहुत सावधान होकर बैठना चाहिए। बाबा 15 मिनट शान्ति में बिठाते हैं। तुम तो घण्टा दो घण्टा बैठते हो। सब तो महारथी नहीं हैं। जो कच्चे हैं, उनको सावधान करना है। सावधान करने से सुज़ाग हो जायेंगे। जो याद में नहीं रहते, व्यर्थ ख्यालात चलाते रहते हैं, वह जैसे विघ्न डालते हैं क्योंकि बुद्धि कहाँ न कहाँ भटकती है। महारथी, घोड़ेसवार, प्यादे सब बैठे हैं।

बाबा आज विचार सागर मंथन करके आये थे – म्युज़ियम में अथवा प्रर्दशनी में तुम बच्चे जो शिवालय, वेश्यालय और पुरूषोत्तम संगमयुग तीनों ही बताते हो, यह बहुत अच्छा है समझाने के लिए। यह बहुत बड़े-बड़े बनाने चाहिए। सबसे अच्छा बड़ा हाल इनके लिए होना चाहिए, जो मनुष्यों की बुद्धि में झट बैठे। बच्चों का विचार चलना चाहिए कि इसमें हम इप्रूवमेंट कैसे लायें। पुरूषोत्तम संगमयुग बहुत अच्छा बनाना चाहिए। उससे मनुष्यों को बहुत अच्छी समझानी मिल सकती है। तपस्या में भी तुम 5-6 को बिठाते हो परन्तु नहीं, 10-15 को तपस्या में बिठाना चाहिए। बड़े-बड़े चित्र बनाकर क्लीयर अक्षर में लिखना चाहिए। तुम इतना समझाते हो फिर भी समझते थोड़ेही हैं। तुम मेहनत करते हो समझाने के लिए, पत्थर बुद्धि हैं ना। तो जितना हो सके अच्छी रीति समझाना चाहिए। जो सर्विस में रहते हैं उन्हों को सर्विस बढ़ाने का ख्याल करना है। प्रोजेक्टर, प्रदर्शनी में इतना मज़ा नहीं है, जितना म्युज़ियम में। प्रोजेक्टर से तो कुछ भी समझते नहीं। सबसे अच्छा है म्युज़ियम, भल छोटा हो। एक कमरे में तो यह शिवालय, वेश्यालय और पुरूषोत्तम संगमयुग का सीन हो। समझाने में बड़ी विशाल बुद्धि चाहिए।

बेहद का बाप, बेहद का टीचर आये हैं तो बैठ थोड़ेही जायेंगे कि बच्चे एम.ए., बी.ए. पास कर लें। बाप बैठा थोड़ेही रहेगा। थोड़े टाइम में चला जायेगा। बाकी थोड़ा समय है तो भी जागते नहीं। अच्छी-अच्छी जो बच्चियां होंगी वह कहेंगी कि इन 4-5 सौ रूपयों के लिए क्यों हम मुफ्त अपना टाइम बरबाद करें। फिर शिवालय में हम क्या पद पायेंगे! बाबा देखते हैं कुमारियां तो फ्री हैं। भल कितना भी बड़ा पगार हो, तो भी यह तो जैसे मुट्ठी में चने हैं, यह सब खलास हो जायेंगे। कुछ भी रहेगा नहीं। बाप चने मुट्ठी अब छुड़ाने आये हैं परन्तु छोड़ते ही नहीं हैं। उसमें हैं चने मुट्ठी, इसमें है विश्व की बादशाही। वह तो पाई पैसे के चने हैं उनके पिछाड़ी कितना हैरान होते हैं। कुमारियां तो फ्री हैं। वह पढ़ाई तो पाई पैसे की है। उनको छोड़ यह नॉलेज पढ़ते रहें तो दिमाग भी खुले। ऐसी छोटी-छोटी बच्चियां बड़ों-बड़ों को बैठ नॉलेज दें, बाप आये हैं – शिवालय स्थापन करने। यह तो जानते हैं कि यहाँ का सब कुछ मिट्टी में मिल जाना है। यह चने भी नसीब में नहीं आयेंगे। किसकी मुट्ठी में 5 चने अर्थात् 5 लाख होंगे, वह भी खत्म हो जायेंगे। अभी टाइम बहुत थोड़ा है। दिन-प्रतिदिन हालत खराब होती जाती है। अचानक आ़फतें आ जाती हैं। मौत भी अचानक होते रहते हैं, मुट्ठी में चने होते ही प्राण निकल जाते हैं। तो मनुष्यों को इस बन्दरपने से छुड़ाना है। सिर्फ म्युजियम देख खुश नहीं होना है, कमाल कर दिखाना है। मनुष्यों को सुधारना है। बाप तुम बच्चों को विश्व की बादशाही दे रहे हैं। बाकी तो भूगरा (चना) भी किसको नसीब में नहीं आयेगा। सब खत्म हो जायेंगे, इससे तो क्यों न बाप से बादशाही ले लो। कोई तकल़ीफ की बात नहीं। सिर्फ बाप को याद करना है और स्वर्दशन चक्र फिराना है। भूगरों से (चनों से) मुट्ठी खाली कर हीरे-जवाहरों से मुट्ठी भरकर जाना है।

बाप समझाते हैं – मीठे बच्चे, इन चने मुट्ठी के पिछाड़ी तुम अपना समय क्यों बरबाद करते हो? हाँ, कोई बुजुर्ग हैं, बाल-बच्चे बहुत हैं तो उनको सम्भालना होता है। कुमारियों के लिए तो बहुत सहज है, कोई भी आये तो उनको समझाओ कि बाप हमको यह बादशाही देते हैं। तो बादशाही लेनी चाहिए ना। अभी तुम्हारी मुट्ठी हीरों से भर रही है। बाकी और तो सब विनाश हो जायेंगे। बाप समझाते हैं तुमने 63 जन्म पाप किये हैं। दूसरा पाप है बाप और देवताओं की ग्लानि करना। विकारी भी बने हैं और गाली भी दिया है। बाप की कितनी ग्लानि की है। बाप बच्चों को बैठ समझाते हैं – बच्चे, टाइम नहीं गंवाना चाहिए। ऐसे नहीं, बाबा हम याद नहीं कर सकते। बोलो, बाबा हम अपने को आत्मा याद नहीं कर सकते। अपने को भूल जाते हैं। देह-अभिमान में आना गोया अपने को भूलना। अपने को आत्मा याद नहीं कर सकते तो बाप को फिर कैसे याद करेंगे। बहुत बड़ी मंजिल है। सहज भी बहुत है। बाकी हाँ, माया का आपोजीशन होता है।

मनुष्य गीता आदि भल पढ़ते हैं परन्तु अर्थ कुछ भी नहीं समझते। भारत की है ही मुख्य गीता। हर एक धर्म का अपना-अपना एक शास्त्र है। जो धर्म स्थापन करने वाले हैं उनको सतगुरू नहीं कह सकते। यह बड़ी भूल है। सतगुरू तो एक ही है, बाकी गुरू कहलाने वाले तो ढेर हैं। कोई ने कारपेन्टर का काम सिखाया, इन्जीनियर का काम सिखाया तो वह भी गुरू हो गया। हर एक सिखलाने वाला गुरू होता है, सतगुरू एक ही है। अब तुमको सतगुरू मिला है वह सत्य बाप भी है तो सत्य टीचर भी है इसलिए बच्चों को जास्ती ग़फलत नहीं करनी चाहिए। यहाँ से अच्छी रीति रिफ्रेश होकर जाते हैं फिर घर जाने से यहाँ का सब भूल जाते हैं। गर्भजेल में बहुत सजायें मिलती हैं। वहाँ तो गर्भ महल होता है। विकर्म कोई होता नहीं जो सजा खानी पड़े। यहाँ तुम बच्चे समझते हो हम बाप से सम्मुख पढ़ रहे हैं। बाहर अपने घर में तो ऐसे नहीं कहेंगे। वहाँ समझेंगे भाई पढ़ाते हैं। यहाँ तो डायरेक्ट बाप के पास आये हैं। बाप बच्चों को अच्छी रीति समझाते हैं। बाप की और बच्चों की समझानी में फ़र्क हो जाता है। बाप बैठ बच्चों को सावधान करते हैं। बच्चे-बच्चे कह समझाते हैं। तुम शिवालय और वेश्यालय को समझते हो, बेहद की बात है। यह क्लीयर कर दिखाओ तो मनुष्यों को कुछ मज़ा आये। वहाँ तो ऐसे ही हंसी-कुड़ी में समझाते हो, सीरियस हो समझाओ तो अच्छी रीति समझें। रहम करो अपने पर, क्या इस वेश्यालय में ही रहना है! बाबा के ख्यालात तो चलते हैं ना – कैसे-कैसे समझायें। बच्चे कितनी मेहनत करते हैं फिर भी जैसे डिब्बी में ठिकरी । हाँ-हाँ करते जाते, बहुत अच्छा है, गांव में समझाना चाहिए। खुद नहीं समझते। साहूकार पैसे वाले लोग तो समझेंगे भी नहीं। बिल्कुल अटेन्शन ही नहीं देंगे। वह पिछाड़ी में आयेंगे। फिर तो टू लेट हो जायेंगे। न उनका धन काम में आयेगा, न योग में रह सकेंगे। बाकी हाँ, सुनेंगे तो प्रजा में आयेंगे। गरीब बहुत ऊंच पद पा सकते हैं। तुम कन्याओं के पास क्या है। कन्या को गरीब कहा जाता है क्योंकि बाप का वर्सा तो बच्चे को मिलता है। बाकी कन्यादान दिया जाता है, तब विकार में जाती है। कहेंगे शादी करो तो पैसे देंगे। पवित्र रहना है तो एक पाई भी नहीं देंगे। मनोवृत्ति देखो कैसी है। तुम कोई से भी डरो मत। खुली रीति समझाना चाहिए। फुर्त होना चाहिए। तुम तो बिल्कुल सच कहते हो। यह है संगमयुग। उस तरफ है चने मुट्ठी, इस तरफ है हीरों की मुट्ठी। अभी तुम बन्दर से मन्दिर लायक बनते हो। पुरूषार्थ कर हीरे जैसा जन्म लेना चहिए ना। शक्ल भी बहादुर शेरनी जैसी होनी चाहिए। कोई-कोई की शक्ल जैसे रिढ़ बकरी मिसल है। थोड़ा आवाज़ से डर जायेंगे। तो बाप सभी बच्चों को खबरदार करते हैं। कन्याओं को तो फंसना नहीं चाहिए। और ही बंधन में फँसेंगे तो फिर विकार के लिए डन्डे खायेंगे। ज्ञान अच्छी रीति धारण करेंगी तो विश्व की महारानी बनेंगी। बाप कहते हैं मैं तुमको विश्व की बादशाही देने आया हूँ। परन्तु किसी-किसी के नसीब में नहीं है। बाप है ही गरीब निवाज़। गरीब हैं कन्यायें। मां-बाप शादी नहीं करा सकते हैं तो दे देते हैं। तो उनको नशा चढ़ना चाहिए। हम अच्छी रीति पढ़कर पद तो अच्छा पायें। अच्छे स्टूडेन्ट जो होते हैं, वह पढ़ाई पर ध्यान देते हैं – हम पास विद् आनर हो जायें। उनको ही फिर स्कॉलरशिप मिलती है। जितना पुरूषार्थ करेंगे उतना ऊंच पद पायेंगे, वह भी 21 जन्म लिए। यहाँ है अल्पकाल का सुख। आज कुछ मर्तबा, कल मौत आ गया, खलास। योगी और भोगी में फ़र्क है ना। तो बाप कहते हैं गरीबों पर ज्यादा अटेन्शन दो। साहूकार मुश्किल उठायेंगे। सिर्फ कहते बहुत अच्छा है। यह संस्था बहुत अच्छी है, बहुतों का कल्याण करेगी। अपना कुछ भी कल्याण नहीं करते। बहुत अच्छा कहा, बाहर गये, खलास। माया डन्डा उठाकर बैठी है, जो हौंसला ही गुम कर देती है। एक ही थप्पड़ लगाने से अक्ल चट कर देती है। बाप समझाते हैं – भारत का हाल देखो क्या हो गया है। बच्चों ने ड्रामा को तो अच्छी रीति समझा है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) चने मुट्ठी छोड़ बाप से विश्व की बादशाही लेने का पूरा पुरूषार्थ करना है। किसी भी बात में डरना नहीं है, निडर बन बंधनों से मुक्त होना है। अपना समय सच्ची कमाई में सफल करना है।

2) इस दु:खधाम को भूल शिवालय अर्थात् शान्तिधाम, सुखधाम को याद करना है। माया के विघ्नों को जान उनसे सावधान रहना है।

वरदान:- सन्तुष्टता के तीन सर्टीफिकेट ले अपने योगी जीवन का प्रभाव डालने वाले सहजयोगी भव
सन्तुष्टता योगी जीवन का विशेष लक्ष्य है, जो सदा सन्तुष्ट रहते और सर्व को सन्तुष्ट करते हैं उनके योगी जीवन का प्रभाव दूसरों पर स्वत: पड़ता है। जैसे साइन्स के साधनों का वायुमण्डल पर प्रभाव पड़ता है, ऐसे सहजयोगी जीवन का भी प्रभाव होता है। योगी जीवन के तीन सर्टीफिकेट हैं एक – स्व से सन्तुष्ट, दूसरा – बाप सन्तुष्ट और तीसरा – लौकिक अलौकिक परिवार सन्तुष्ट।
स्लोगन:- स्वराज्य का तिलक, विश्व कल्याण का ताज और स्थिति के तख्त पर विराजमान रहने वाले ही राजयोगी हैं।

TODAY MURLI 12 JUNE 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 12 June 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 11 June 2018 :- Click Here

12/06/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you clouds come to the Father, the Ocean of Knowledge, to meet Him personally and fill yourselves. You do not come here to go on a pilgrimage or for the fresh mountain air.
Question: While living at home with your family, what method should you move along with so that you become ever healthy?
Answer: In order to become ever healthy, always say: “Baba, Baba. I want to eat with only You, I want to go around with only You.” Hand over everything to the Father with your intellect. Have the consciousness that you are being sustained by Shiv Baba. Have no attachment to anything. Offer everything to Him and eat according to His orders and everything will become pure and you will become ev er healthy.
Song: The Resident of the faraway land has come into the foreign land.

Om shanti. You daughters come here to meet the One who resides in the faraway land. You daughters don’t come on a pilgrimage or for the fresh mountain air. People go to the mountains for fresh air, but you children come here to meet the Mother and Father. You know that the Mother and Father who resides in the faraway land has come into the foreign land. Why does He come? To create heaven. Children come from very far away, from different villages, to meet Him. They will also come from abroad. For what? It is not to see anything. Souls, that is, human souls, come to meet the Mother and Father. The Mother and Father is the Resident of the faraway land. In front of whom are you sitting? You are sitting in front of the Mother and Father from whom you will receive the happiness of heaven. However, you will only receive that by following His directions. This is why shrimat is praised so much. God’s versions, shrimat, have been remembered. The shrimat of Brahma, Vishnu or Shankar is not remembered. The Mother and Father whose praise is sung is the highest of all. They invoke the Creator of the world, the Mother and Father: Come into this dirty, impure world and purify us. He has now come into the foreign land. You too are sitting in the foreign land. This is Ravan’s land. Akasur, Bakasur, Putna, Supnaka, Hirnakashpa etc. (names of devils) are all names of human beings in this world. There is no other form of devil. Deities neither have any other form nor do they have four arms. Just as these are human beings, so the deities are also human beings, but they take rebirth in the pure land. The golden and silver ages are like God’s home. When you go to heaven, you go to your home. You are now in a foreign home, in Ravan’s home. Therefore, the Father comes and liberates you from Ravan’s home. For half a cycle you have been taking rebirth in the land of Maya. In the golden and silver ages it used to be the kingdom of Rama, the kingdom of God, because it was established by God. For half a cycle you took rebirth there. Then, for half a cycle, you took rebirth in Ravan’s kingdom. You children understand who it is you are now sitting in front of. That One is the Teacher as well as the Satguru. You mothers are also teachers and you are satgurus as well. You also teach in order to change human beings into deities. You are now becoming those who belong to the divine community from the devilish community. The Father is present in this chariot in order to change you from thorns into flowers. That One goes to meet the children in other countries as well, because He is the living Ocean of Knowledge. He is not a non-living ocean who would drown anyone. No, that One is living. It is has been remembered that the soul and the Supreme Soul were separated for a long time. Therefore, God comes here and souls also come here to meet Him. Children come from all directions. The Father also goes around. Devotees have built temples everywhere. They create non-living images of Christ, but he is a bodily being. Brahma, Vishnu and Shankar are also bodily beings. God is the highest of them all. He doesn’t have a body of His own. Everyone calls Him Father, the Supreme Soul, God the Father. He doesn’t have a physical or a subtle body, yet He definitely does come. How does He come? Everyone has forgotten this. It cannot be said that Krishna is the Purifier or that God enters the body of Krishna to purify the impure. Therefore, it is wrong to say that God Shri Krishna speaks. What could He create through Krishna’s mouth? Deities? No. Firstly, Brahmins are needed and for that Brahma is needed. Otherwise, what would Brahma’s occupation be? Because Krishna’s name is used, Brahma’s biography disappears. If the golden age was established through Krishna, then Brahma’s occupation disappears. The children who come here understand, but those who don’t understand think that this is just another satsang where they recite the Gita. You children understand who speaks here. It is the Ocean of Knowledge, the most beloved Mother and Father, who speaks. How sweet and lovely He is! You cannot call any human being sweet, because all are very bitter and vicious. The Father is purifying them. Therefore, God is the Highest on High. Below Him, out of all the human beings who have been and gone, it is Lakshmi and Narayan, and then Rama and Sita. Even they are now impure. Until the Father comes and purifies everyone, they all remain impure and unhappy. Human beings say that the iron age lasts for thousands of years. That is impossible. The great Mahabharat War, through which the gates to the lands of liberation and liberation-in-life will open, is standing ahead. Until then, no one can receive liberation or liberation-in-life. Everyone continues to wander around here. It is as though they are in a maze: they continue to stumble around and are unable to find the exit. They want to go through the gates of liberation and liberation-in-life. When someone dies, they say that he has become a resident of heaven. However, this is hell. They can only go to heaven when the Father comes and teaches Raja Yoga. Only then can they claim the status of a king or subject. This is an income. People ask: What sort of income did so-and-so earn that he became so wealthy? Similarly, when and what sort of income did the deities of the golden age earn in order to become like that? Surely, they must have earned it at the end of the iron age, because that is how they became deities in the golden age. You now understand you are earning such an income that you will become the masters of heaven. You will definitely experience the results of that in heaven. You are now at the confluence of the iron and golden ages. They have made it a separate age. The Father explains the philosophy of karma, neutral karma and sinful karma. He says: Children, now only perform the actions that I teach you. This age cannot be called the iron age; no one knows about the confluence age. Even when the golden age changes into the silver age, no one at that time knows that they are passing through the confluence of the golden and silver ages. It is remembered later on that so-and-so used to rule in the golden age and that so-and-so used to rule in the silver age. When the copper age began, the deities fell onto the path of sin. Only you now understand all of these aspects. No one else has this knowledge. It is only you who study the history and geography of the world. You have the aim and objective. Wherever in the world there are Gita pathshalas they recite the Vedas and scriptures, but they don’t have any aim or objectiveSchools and colleges are called pathshalas (Place of studying). Those studies are at least source s of income. Through this study you have the aim and objective of becoming pure and going to the land of liberation. Then, from there, you will come down to play your part s in the golden age. You know all about the part s you have to play from the beginning of the golden age to the end of the iron age. You clouds have come here to fill yourselves in order to create your source of income for 21 births. This study is very elevated, and the One who teaches it is the one God, the Highest on High. All the rest are brothers and sisters. Brahma, Saraswati, Shankar, Parvati and Vishnu are all His children. Children cannot receive an inheritance from children. An inheritance is received from a father. Whatever effort you make, you will receive an inheritance accordingly. Effort is very easy. Achcha, if you are unable to speak much knowledge, then acquire a small room on three feet of land and open a Gita Pathshala. Put up a board that says: Come and claim your inheritance for 21 births from the Father. Put up a small board. Write on it: To claim the kingdom of heaven for 21 births is your Godly birthright. By all means, come in and inquire. The One whom you call Mother and Father is definitely the Creator of heaven. Therefore, you would surely receive your inheritance of heaven from Him. He says: Constantly remember Me and forget all others. Although you live with this one and see this one in front of you, your intellects should go up above. You receive Baba’s orders, so you should place them on your heads. The Father issues an ordinance: Children, stop the business of drinking poison. He does not speak to anyone else. He only explains to the children. None from outside can sit in this gathering until they have done the seven days’ course. There is a story of how an angel brought an impure human being into the Court of Indra and how she was punished. It is against the rules for anyone to sit here before he has been in a bhatthi for seven days and become clean. Yes, if an important person comes to meet you and, after listening to you, he wants to see the morning class, you can ask permission from the seniors to let him come. When you see that he is good and that he won’t pick up wrong things, you can first explain a little to him and then he can be given permission to come. Explain to everyone: This is our Mother and Father through whom we receive the happiness of heaven. This is our Father, Teacher and Guru, all three. It is as though you have received three engines together. It is at present that you meet all three at once. Outside, you meet them separately: firstly it is the father, then the teacher and then, in old age, a guru is adopted. Who are you now being sustained by? Shiv Baba. Because you offer whatever you have to Shiv Baba, it is as though you are being sustained from Shiv Baba’s treasure-store. You donated everything you had to Shiv Baba, and you are now being sustained from that. You receive very pure food. Elsewhere, it isn’t possible for someone to give a donation and then be sustained from that. There, whoever receives the donation keeps it. Here, whatever you give to Shiv Baba is made very pure and it is from that that you are sustained. The Father says: While living at home, have the consciousness that everything belongs to Baba. When you eat in this consciousness it is as though you are eating from Shiv Baba’s treasure-store. You do not have attachment to it, but you consider it to belong to the Father. It has been given to you by the Father and you have offered it to Him. You eats according to His orders. Although you live at home, you eat from Shiv Baba’s treasure-store. You say: I will eat with only You and I will tour around with only You. By saying “Baba, Baba” your yoga will remain linked to Him. You will become ever healthy. This is the sanatorium to become healthy. People don’t stay in those sanatoriums throughout their whole life. They stay there for a short time and then leave. You are sitting here and becoming ever healthy for 21 births. Why do you come here? In order to become ever healthyever wealthy and ever happy for half a cycle. You come here with this thought. You do not come here for fresh air or to go on a pilgrimage. You come here to meet Shiv Baba. The Father also comes into this foreign land and enters a foreign body. The Gita that has been remembered must be right in some aspects. They invoke the Father to come. Therefore, He surely has to come to purify the impure. Impure ones cannot go to Him in the supreme abode to be purified; they cannot go there. Every devotee soul calls out: Baba come! The Father says: I come in order to grant salvation and liberation to all. There is only the one Father who has mercy for all. What mercy does He have? He gives shrimat. Shrimat is very famous. By following it you will become elevated, that is, the masters of heaven. It all depends on how much you follow these directions. He doesn’t give you any other difficulty such as doing hatha yoga or stumbling to pilgrimage places. Wherever you are, whether in America or the Philippines, you have to live at home with your family and remain like a lotus flower. There is the example of King Janak. Yours is Raja Yoga. Sannyasis say that the happiness of heaven is like the droppings of a crow. However, the Raja Yoga of Bharat is very famous. No one knows it. Only the ancient Father can teach ancient Raja Yoga. The Gita, the Vedas and the scriptures etc. are all the paraphernalia of the path of devotion. The tree has to grow fully and later on that same tree has to bear fruit. You have come to the Mother and Father in order to be refreshed and you will come again and again because you experience pleasure in being personally in front of Him. However, you cannot sit here for ever; that is not the law. You definitely have to take care of your home and family. This study place will still continue to grow a great deal. If these obstacles etc. did not arise, it would grow so much. That is why obstacles come. How can 5000 sit here together and study? That is why a limit is set, so that the Father can see them personally. He only sees souls; He does not see bodies. Those whom Baba looks at with His powerful vision even forget their bodies. Because He is the Magnet, it is as though they become unconscious. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to reach the high destination, you have received three engines in the form of the Father, the Teacher and the Guru. Constantly move forward in this consciousness.
  2. Let your intellect remain aware that you have handed over everything to the Father and that you are being sustained by Him. Remove all your bitterness of impurity and become very sweet and pure.
Blessing: May you experience newness at every second in this new age of the confluence age and become a fast effort maker.
Everything becomes new at the confluence age. This is why it is called the new age. Your way of waking up is new, your way of speaking is new, your way of walking is new. “New” means spiritual. There is newness even in your awareness. All situations are new, your way of meeting is new, your way of seeing is new. When you look, the soul sees the soul, not the body. You have connections with the vision of brotherhood, not with any bodily relationship. In this way, you experience newness in yourself at every second. Whatever stage you had a second before, let it not be the same the next second; move ahead. This is known as being a fast effort-maker.
Slogan: To experience constant supersensuous joy and bliss in your life through God’s love is easy yoga.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 12 JUNE 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 12 June 2018

To Read Murli 11 June 2018 :- Click Here
12-06-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – तुम ज्ञान सागर बाप के पास आते हो – सम्मुख मिलन मनाने, बादल भरने, तुम यहाँ कोई तीर्थ करने वा पहाड़ी की हवा खाने नहीं आते हो।”
प्रश्नः- गृहस्थ व्यवहार में रहते हुए किस विधि से चलते रहो तो एवरहेल्दी बन जायेंगे?
उत्तर:- एवरहेल्दी बनने के लिए सदैव बाबा-बाबा करते रहो। तुम्हीं से खाऊं, तुम्ही संग घूमूं…. सब कुछ बुद्धि से बाप हवाले कर दो। ऐसा समझकर चलो कि हम शिवबाबा की परवरिश के अन्दर पल रहे हैं। किसी भी चीज़ में ममत्व न रहे। अर्पण करके उसके हुक्म से खाओ तो सब पवित्र हो जायेगा और तुम एवरहेल्दी बन जायेंगे।
गीत:- दूर देश का रहने वाला….

ओम् शान्ति। दूर देश के रहने वाले पास बच्चियाँ मिलने आती हैं। बच्चियाँ कोई तीर्थ पर नहीं आती हैं वा पहाड़ी पर हवा खाने नहीं आती हैं। मनुष्य तो पहाड़ों पर जाते हैं हवा खाने। परन्तु बच्चे यहाँ पर आते हैं मात-पिता पास मिलने। यह जानते हो मात-पिता दूरदेश के रहने वाले आते हैं पराये देश में। क्यों आते है? स्वर्ग रचने। उनसे मिलने लिए बच्चे भिन्न-भिन्न गाँव से, कितना दूरदेश से आते हैं। विलायत से भी आयेंगे। किसलिए? कोई चीज देखने लिए नहीं। आत्मायें अथवा जीव आत्मायें आती हैं मात-पिता से मिलने। मात-पिता भी है दूरदेश का रहने वाला। अब तुम किसके आगे बैठे हो? मात-पिता के सामने बैठे हैं, जिससे स्वर्ग के सुख मिलने हैं परन्तु उनकी मत पर चलने से, इसलिए श्रीमत का इतना गायन है। भगवानुवाच श्रीमत गाई हुई है। ब्रह्मा-विष्णु-शंकर की श्रीमत का गायन नहीं है। सबसे श्रेष्ठ मात-पिता है जिसका गायन करते हैं। इस सृष्टि के रचयिता मात-पिता का आह्वान करते हैं कि इस छी-छी पतित दुनिया में आओ, हमको पावन बनाओ। अब वह पराये देश में आया है। तुम भी पराये देश में बैठे हो। यह रावण का देश है। यह अकासुर, बकासुर, पूतनायें, सूपनखायें, हिरण्यकश्यप आदि सब इस मनुष्य सृष्टि के मनुष्यों पर नाम हैं। असुरों का कोई दूसरा रूप नहीं है। न देवताओं का कोई दूसरा रूप है, न 4 भुजायें हैं। हैं तो वह भी मनुष्य और देवतायें भी मनुष्य। परन्तु देवताओं का पावन देश में पुनर्जन्म था।

सतयुग-त्रेता जैसे ईश्वर का घर है। स्वर्ग में आते हो तो अपने घर में आते हो। अब हो पराये घर रावण के घर में। तो बाप आकर तुमको रावण के घर से छुड़ाते हैं, लिबरेट करते हैं। आधा कल्प तो तुम माया के देश में पुनर्जन्म लेते रहते हो। सतयुग-त्रेता में तो राम राज्य अर्थात् ईश्वर का राज्य है क्योंकि ईश्वर ने स्थापन किया है। आधा कल्प वहाँ पुनर्जन्म लेते आये। आधा कल्प रावण के राज्य में पुनर्जन्म लिया। अब बच्चों को समझ पड़ी है कि हम किसके सामने बैठे हैं। यह टीचर भी है, सतगुरू भी है। तुम मातायें भी टीचर हो, सतगुरू भी हो। तुम भी पढ़ाती हो – मनुष्य से देवता बनाने लिए। अब तो तुम आसुरी सम्प्रदाय से दैवी सम्प्रदाय बन रहे हो। तुमको काँटों से फूल बनाने इस रथ पर बाप सवार हो आये हैं। यह तो बच्चों से मिलने और देशों में भी जाते हैं क्योंकि चैतन्य ज्ञान सागर है। जड़ सागर तो नहीं है जो डुबो दे। नहीं, यह चैतन्य है। गायन है – आत्मा परमात्मा अलग रहे… तो परमात्मा भी आते हैं। तो उनसे मिलने आत्मायें भी आती हैं। कहाँ-कहाँ से बच्चियाँ आती हैं। बाप भी चक्र लगाते हैं। भक्तों ने तो जहाँ-तहाँ मन्दिर बनाये हैं। जैसे क्राइस्ट के जड़ चित्र भी बनाते हैं। अब वह तो है देहधारी और जो भी हैं ब्रह्मा, विष्णु, शंकर देहधारी हैं। इन सबसे ऊंच ते ऊंच है भगवान, उनको अपना शरीर नहीं है। उनको तो सभी बाप कहेंगे। परमपिता गॉड फादर। उनको तो न स्थूल शरीर है, न सूक्ष्म शरीर है। आते भी हैं जरूर। कैसे आते हैं? यह सब भूल गये हैं। ऐसे तो नहीं कहेंगे कृष्ण पतित-पावन है। न कृष्ण के शरीर में आकर पावन बनाते हैं। तो श्रीकृष्ण भगवानुवाच राँग हो गया। कृष्ण के मुख द्वारा क्या रचे? क्या देवतायें? नहीं। पहले तो ब्राह्मण चाहिए। उसके लिए ब्रह्मा चाहिए। नहीं तो ब्रह्मा का आक्यूपेशन कहाँ? कृष्ण का नाम लगाने से ब्रह्मा की बायोग्राफी गुम हो जाती है। कृष्ण द्वारा सतयुग स्थापन किया तो ब्रह्मा का आक्यूपेशन ही गुम कर दिया। परन्तु तुम बच्चे जानते हो जो यहाँ आते हो, बाकी जो नहीं जानते वह समझेंगे कि यह भी एक सतसंग है जहाँ गीता सुनाते हैं। परन्तु यहाँ कौन सुनाते हैं – यह तुम बच्चे जानते हो। ज्ञान का सागर मोस्ट बिलवेड मात-पिता सुनाते हैं। कितना मीठा, कितना प्यारा है! तुम कोई मनुष्य को मीठा कह नहीं सकते क्योंकि सभी कड़ुवे विकारी हैं। बाप उनको पावन बना रहे हैं। तो ऊंच ते ऊंच है भगवान। उसके बाद जो भी मनुष्य होकर गये हैं, उसमें लक्ष्मी-नारायण और सीताराम। अब तो वह भी पतित हैं। जब तक बाप आकर पावन न बनाये तो सब पतित दु:खी रह जाते हैं। जैसे मनुष्य कहते हैं – कलियुग हजारों वर्ष का है, यह तो इम्पासिबुल है। महाभारी लड़ाई सामने खड़ी है, जिसमें मुक्ति-जीवन्मुक्ति के गेट्स खुलते हैं, तब तक कोई मुक्ति-जीवन्मुक्ति में जा नहीं सकते। सभी यहाँ भटकते रहते हैं। जैसे भूल-भुलैया है। सभी ठोकर खाते रहते हैं। दरवाजा मिलता नहीं। चाहते हैं मुक्ति-जीवन्मुक्ति के गेट में जायें। कोई मरता है तो भी कहते हैं स्वर्गवासी हुआ। परन्तु यह तो नर्क है। स्वर्ग में तब जा सकते हैं जब बाप आये, राजयोग सिखलाये, तब राजाई वा प्रजा पद पा सकते हैं। अब यह है कमाई। कहते हैं ना – इसने कौन-सी कमाई की जो यह इतना साहूकार बना। तो सतयुग के देवताओं ने कौन-सी कमाई और कब की जो यह ऐसे बनें? जरूर कलियुग के अन्त में की होगी तब सतयुग में बनें। अब तुम जानते हो हम ऐसी कमाई कर रहे हैं, जो स्वर्ग के मालिक बनेंगे। जरूर उसकी रिजल्ट तुम स्वर्ग में भोगेंगे। अब तुम कलियुग और सतयुग के संगम पर हो। उनको अलग युग कर दिया है। सारे कर्म-अकर्म-विकर्म की गति बाप समझाते हैं। कहते हैं – बच्चे, अब जो कर्म मैं तुमको सिखाता हूँ वही करो। इसको कलियुग नहीं कहेंगे, संगमयुग का किसको पता नहीं है। जब सतयुग से त्रेता होता है तब भी किसको पता नहीं पड़ता कि सतयुग-त्रेता का संगम पास हो रहा है। यह पीछे गाया जाता है कि सतयुग में फलाने राज्य करते थे, त्रेता में फलाने राज्य करते थे। द्वापर हुआ तो देवी-देवता वाम मार्ग में चले गये, यह सब अब तुमको पता पड़ता है। यह ज्ञान और कोई में नहीं है। तुम ही वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी पढ़ते हो। तुम्हारे पास एम आब्जेक्ट है। जो भी दुनिया में गीता पाठशालायें हैं वहाँ वेद-शास्त्र सुनाते हैं। एम आब्जेक्ट कोई नहीं है। स्कूल-कॉलेज को पाठशाला कहते हैं। वह पढ़ाई फिर भी सोर्स ऑफ इन्कम है। तो तुम्हारे पास एम ऑब्जेक्ट है कि इस पढ़ाई से पावन बन मुक्तिधाम में जायेंगे। फिर वहाँ से पार्ट बजाने सतयुग में आयेंगे। तुमको सतयुग से कलियुग तक कौन-सा पार्ट बजाना है – वह सारा पता है। तुम बादल यहाँ आये हो भरने के लिए। 21 जन्म के लिए सोर्स आफ इनकम बनाने। कितनी ऊंच पढ़ाई है तो पढ़ाने वाला भी ऊंच ते ऊंच भगवान एक है। बाकी तो सब हैं बहन-भाई। ब्रह्मा-सरस्वती, शंकर-पार्वती, विष्णु सब इनके बच्चे हैं। बच्चों को बच्चों से वर्सा नहीं मिलता है। वर्सा बाप से मिलता है। जो जैसा पुरुषार्थ करेंगे वैसा वर्सा मिलेगा। और पुरुषार्थ कितना सहज है। अच्छा, इतना ज्ञान नहीं सुना सकते तो तीन पैर पृथ्वी का लेकर छोटे कमरे में ही गीता पाठशाला खोल दो। बोर्ड में लिख दो – आकर बाप से 21 जन्मों के लिए वर्सा लो। छोटा बोर्ड ही लगाओ। उसमें लिखो कि 21 जन्मों के लिए स्वर्ग की बादशाही तुम्हारा ईश्वरीय जन्म सिद्ध अधिकार है। भल आकर पूछो। तुम जिसको मात-पिता कहते हो वह तो जरूर स्वर्ग का रचता है तो तुमको जरूर स्वर्ग का वर्सा मिलना चाहिए। वह कहते हैं निरन्तर मुझे याद करो और सबको भूलो। इनके साथ रहते हुए, सामने देखते हुए बुद्धि वहाँ लगानी है। बाबा का फरमान मिलता है तो सिर पर रखना चाहिए ना। बाप आर्डीनेन्स निकालते हैं – बच्चे, अब विष का धन्धा बन्द करो। और कोई से बात नहीं करते, बच्चों को ही समझाते हैं। बाहर वाला तो यहाँ सभा में कोई बैठ नहीं सकता। जब तक 7 रोज आकर न समझे। कहानी है ना इन्द्रप्रस्थ में पुखराज परी एक पतित मनुष्य को ले आई तो उनको सजा मिल गई। तो यह कायदा नहीं। जब तक 7 रोज भट्ठी में नहीं डाला है। भट्ठी में स्वच्छ होने बिगर बैठ नहीं सकते। हाँ, कोई बड़े मनुष्य मिलने को आते हैं, सुनते तो हैं ना सुबह का क्लास देखें, तो ऊपर से पूछ कर श्रीमत से बताते हैं। देखते हैं अच्छा है, उल्टा नहीं उठायेगा तो उनको थोड़ा पहले समझाया जाता है। फिर आने की छुट्टी देनी पड़ती है।

तुम सबको समझाओ कि यह हमारे मात-पिता हैं जिससे स्वर्ग के सुख मिलते हैं। यह बाप, टीचर, सतगुरू तीनों हैं। तुमको जैसे 3 इन्जन मिले हैं। इसी समय तीनों इकट्ठे मिलते हैं। वहाँ तो अलग-अलग मिलते हैं। पहले बाप फिर टीचर और वृद्ध अवस्था में गुरू करते हैं। तुम अब किसकी परवरिश के नीचे हो? शिवबाबा की क्योंकि तुम्हारे पास जो कुछ भी है वह शिवबाबा को अर्पण किया है। तुम्हारी परवरिश जैसेकि शिवबाबा के भण्डारे से होती है। तुमने अपना सब कुछ शिवबाबा को दान किया है। अब उनसे ही तुम पलते हो। कितना पवित्र अन्न मिलता है। ऐसे कभी होता नहीं जो कोई धर्म (दान) करे उससे ही उनकी परवरिश हो। वह तो जिसको दान करते वह खा जाता है। यहाँ तो तुम शिवबाबा को देते हो तो कितना पवित्र बन जाता है! इससे तुम्हारी ही परवरिश होती है। बाप कहते हैं घर में रहकर ऐसा समझो सब बाबा का है। ऐसे समझ खाते हो तो हू-ब-हू तुम शिव के भण्डारे से खाते हो। इसमें कोई ममत्व नहीं। बाप का समझते हो। बाप का दिया हुआ है। बाप को अर्पण किया हुआ है। उनके हुक्म से खा रहे हैं। भल बैठा घर में है परन्तु शिव के भण्डारे से खाते हैं। कहते हो ना तुम्हीं से खाऊं… तुम्हीं से घूमूं। बाबा-बाबा कहने से उनसे योग लगा रहेगा। एवरहेल्दी बन जायेंगे। यह है हेल्दी बनने की सेनेटोरियम। उस सेनेटोरियम में सारी आयु थोड़ेही रहते हैं। थोड़ा टाइम रहकर चले जाते हैं। यहाँ तो तुम बैठे हुए हो। एवरहेल्दी 21 जन्मों लिए बनते हो। यहाँ आते हो किसलिए? आधा कल्प लिए एवरहेल्दी, एवरवेल्दी, एवरहैप्पी बनने लिए। इस ख्यालात से आते हो ना। यहाँ हवा खाने लिए वा तीर्थ करने तो नहीं आते हो। यहाँ आते हो शिवबाबा पास। बाप भी आते हैं पराये देश, पराये तन में। गीता जो गाई हुई है, कुछ तो राइट होगा। आह्वान करते हैं – बाप के आने लिए। तो जरूर उनको पतित से पावन बनाने लिए आना पड़े। पतित तो नहीं परमधाम में उनके पास जायेंगे, पावन होने लिए। जा नहीं सकते। हरेक भक्त की आत्मा पुकारती है कि बाबा आओ। बाप कहते हैं मैं आता हूँ सबकी गति-सद्गति करने। सर्व के ऊपर दया करने वाला, सर्वोदया तो एक बाप है ना। कौन-सी दया करते हैं? श्रीमत देते हैं। श्रीमत तो मशहूर है। जिस पर चलने से श्रेष्ठ अर्थात् स्वर्ग के मालिक बनेंगे। फिर जो जितना डायरेक्शन पर चले। कोई तकलीफ तो नहीं देते – हठयोग करने अथवा तीर्थों पर धक्का खाने की। अमेरिका हो, फिलीपाइन हो…. कहाँ भी हो गृहस्थ व्यवहार में तो रहना चाहिए। परन्तु रहते हुए कमल पुष्प समान रहना है। जनक का मिसाल है। तुम्हारा है राजयोग। वह तो कहेंगे स्वर्ग के सुख तो काग विष्टा के समान हैं। परन्तु भारत का राजयोग तो मशहूर है। इसको कोई जानते नहीं। प्राचीन योग तो प्राचीन बाप ही सिखायेंगे। गीता वेद शास्त्र आदि सब भक्तिमार्ग की सामग्री है। झाड़ को पूरा होना ही है, फिर इसी झाड़ को सब्ज होना है। तो तुम आये हो मात-पिता पास रिफ्रेश होने और घड़ी-घड़ी आयेंगे क्योंकि सम्मुख मज़ा आता है। यहाँ सदा के लिए तो बैठ नहीं सकते। लॉ नहीं। अपना गृहस्थ व्यवहार भी सम्भालना है जरूर।

बाकी यह पाठशाला अजुन बहुत वृद्धि को पायेगी। यह विघ्न आदि न पड़ें तो यह बहुत बढ़ जायें इसलिए विघ्न पड़ते हैं। पाँच हजार इकट्ठे बैठ कैसे पढ़ेंगे इसलिए लिमिट है, जिनको बाप सम्मुख देख भी सके। बाप देखते तो आत्माओं को हैं ना। शरीर को नहीं देखते। जोर से देखेंगे तो उनको शरीर ही भूल जायेगा। चुम्बक है ना। तो जैसे अनकॉन्सेस होता जायेगा। अच्छा।

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद, प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) ऊंची मंजिल पर जाने के लिए बाप-टीचर-गुरू के रूप में हमें तीन इन्जन मिले हैं – सदा इसी स्मृति से आगे बढ़ना है।

2) बुद्धि से सब कुछ बाप हवाले कर उनकी परवरिश के नीचे पलना है। बहुत मीठा पावन बनना है। पतितपने का कड़ुवापन निकाल देना है

वरदान:- संगमयुग के इस नये युग में हर सेकण्ड नवीनता का अनुभव करने वाले फास्ट पुरुषार्थी भव
संगमयुग पर सब कुछ नया हो जाता है, इसलिए इसे नया युग भी कहते हैं। यहाँ उठना भी नया, बोलना भी नया, चलना भी नया। नया अर्थात् अलौकिक। स्मृति में भी नवीनता आ गई। बातें भी नई, मिलना भी नया, देखना भी नया। देखेंगे तो आत्मा, आत्मा को देखेंगे, शरीर को नहीं। भाई-भाई की दृष्टि से सम्पर्क में आयेंगे, दैहिक संबंध से नहीं। ऐसे हर सेकण्ड अपने में नवीनता का अनुभव करना, जो एक सेकण्ड पहले अवस्था थी वह दूसरे सेकण्ड नहीं, उससे आगे हो इसको ही फास्ट पुरुषार्थी कहा जाता है।
स्लोगन:- परमात्म प्यार द्वारा जीवन में सदा अतीन्द्रिय सुख व आनंद की अनुभूति करना ही सहजयोग है।
Font Resize