daily murli 11 september

TODAY MURLI 11 SEPTEMBER 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 11 September 2020

11/09/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, the performance of this drama is moving accurately. Whatever part is to be played at any specific time, it will repeat accordingly. This has to be understood accurately.
Question: When will you children influence others? What power is still lacking at present?
Answer: You will influence others when you are strong in yoga. As yet, there isn’t that power. It is only by having remembrance that you receive power. The power of remembrance that is still lacking is required in the sword of knowledge. When you consider yourselves to be souls and continue to remember the Father, your boats can go across. This is a matter of a second.

Om shanti. The spiritual Father sits here and explains to you spiritual children. Only the One is called the spiritual Father and all the rest are souls. He is called the Supreme Soul. The Father says: I too am a soul, but I am the Supreme, I am the Truth. Only I am the Purifier and the Ocean of Knowledge. The Father says: I only come in Bharat in order to make you children into the masters of the world. You were the masters, were you not? You have now remembered this. Baba reminds you children: You first came in the golden age and played your parts of 84 births and have now reached the end. Consider yourselves to be souls. Souls are imperishable and bodies are perishable. It is souls that converse with souls through bodies. When you are not remain soul conscious, you are definitely body conscious. Everyone has forgotten that they are souls. It is said: Sinful soul, charitable soul, great soul. Souls cannot become the Supreme Soul. No soul can call himself Shiva. Many have the name “Shiva” given to their bodies. It is when a soul enters a body that a name is given because he has to play his part through his body. This is why people become conscious of their bodies and think, “I am so-and-so.” You now understand, “Yes, I am a soul and I have played my part of 84 births. I now understand about souls. I, this soul, was satopradhan and have now become tamopradhan. The Father only comes when all souls have become rusty, just like gold that has alloy mixed into it. At first you are real gold, then you become silver, then copper and then iron until you are completely tarnished. No one else can explain these things. Everyone says that souls are immune to the effect of action. The Father has explained to you children how alloy gets mixed into you. The Father says: I only come in Bharat. I come when you have become completely tamopradhan. Just as the drama is acted accurately, so I too come at My accurate time. Whatever part is to be played at any specific time, it will be repeated accordingly; there cannot be the slightest change in this. Those dramas are limited whereas this drama is unlimited. All of these matters are very subtle and have to be understood. The Father says: Whatever part you have played, it was according to the drama. No human being knows the Creator or the beginning, middle or end of creation. Even the Rishis and Munis have been saying, “Neti, neti” (Neither this nor that). If someone asks you whether you know the Creator or the beginning, middle and end of creation, you would quickly reply, “Yes.” However, you too can only know it at this time and at no other time. Baba has explained that only you know Him, the Creator, and the beginning, middle and end of creation. Achcha, do they know when there is the kingdom of Lakshmi and Narayan? No; they have no knowledge whatsoever. This is a wonder. You say that you have knowledge. You also understand that the Father’s part is only played once. Your aim and objective is to become Lakshmi or Narayan. Once you have become that, there is no need for this study. Once you have become a barrister, that’s it! Therefore, remember the Father who is teaching you. He has made everything easy for you. Baba repeatedly tells you: First of all, consider yourselves to be souls. I belong to Baba. Previously you were atheists and you are now theists. After they became theists, Lakshmi and Narayan claimed the inheritance that you too are now claiming. You are now becoming theists. The terms “theists” and “atheists” only exist at this time. These terms will not exist there. There is nothing left to ask there. It is here that these questions arise. Therefore, you ask: “Do you know the Creator and creation?” and they reply: “No”. The Father, Himself, comes and gives His own introduction and also explains the secrets of the beginning, the middle and the end. The Father is the Master of the unlimited, the Creator. It has been explained to you children that all other founders of religions also definitely come here. You were given visions of how Abraham, Christ, etc. come down. They will come here towards the end when this sound has spread a great deal. The Father says: Children, renounce your bodies and all bodily religions and remember Me. You are now sitting personally in front of Me. Don’t consider yourselves to be bodies. “I am a soul.” Each of you must consider yourself to be a soul and continue to remember the Father and your boat will go across. This is a matter of a second. People do devotion for half the cycle in order to go into liberation. However, no soul can return home yet. The Father explained this 5000 years ago and He is explaining it again now. Shri Krishna cannot explain these things; he cannot be called the Father. Fathers are lokik, alokik, and parlokik. Your physical fathers are limited. The Father from beyond this world is the unlimited Father, the Father of souls, and this confluence-aged father is the wonderful father who is called the alokik father. No one remembers Prajapita Brahma. It doesn’t enter their intellects that he is their great-great-grandfather. They speak of Adi Dev and Adam etc., but that is just for the sake of saying it. There is the image of Adi Dev in the temple (Dilwara). When you go there, you understand that that is your memorial. Baba is sitting there and we are also sitting there. The Father is sitting here in a living form, whereas they have non-living idols there. Heaven, shown on the ceiling, is also good. Those who have seen the temple know this. Baba is teaching us Raja Yoga now in the living form. Then, later, temples will be built. It should enter your awareness that all of those are your memorials. We are now becoming Lakshmi and Narayan. We did become that and then we came down the ladder. Now, we shall go home and then enter the kingdom of Rama (God). Then the kingdom of Ravan will come and we will go onto the path of sin. The Father explains everything so clearly. All human beings are impure at this time and this is why they call out: O Purifier, come and purify us! Remove our sorrow and show us the path to happiness. They say that God will definitely come in some form. However, He does not come in the form of a cat, a dog, a pebble or a stone. It is remembered that He comes in the Lucky Chariot. The Father Himself says: I enter this ordinary chariot. This one does not know his own births. You now know this. When he reaches his stage of retirement at the end of his many births, I enter him. On the path of devotion, they have shown very big idols of the Pandavas. In Rangoon, they have a huge idol of Buddha. Human beings cannot be so big. You children must be amused at the image of Ravan they have now created. Day by day, they continue to make it bigger. What is it that they burn every year? He must have been an enemy. Only an enemy’s effigy would be burnt. Achcha, who is Ravan? When did he become your enemy that you burn his effigy every year? No one knows about this enemy. No one knows the meaning of this at all. The Father explains: They are the community of Ravan and you are the community of Rama. The Father now says: While living at home with your family, live like a lotus flower and continue to remember Me. Some ask: How can swans and storks live together? There would then be conflict. That would definitely be there. That has to be tolerated. There are many tactics for that. The Father is called the Clever Entertainer. Everyone remembers Him: O God, remove our suffering! Have mercy on us! Liberate us! The Father, the Liberator of all, is only One. Explain individually to whoever comes to you. In Karachi, you used to sit with each one individually and explain to him or her. When you children become strong in yoga, your influence will spread. As yet, you don’t have that strength. You receive power by having remembrance, not through the study. The sword of knowledge needs the power of remembrance in it. That power is still lacking. The Father tells you every day: Children, stay on the pilgrimage of remembrance and you will receive power. Not much power is received through the study. You become the masters of the whole world by having remembrance. Everything you do is for yourself. Many came and then went away. Maya is very powerful. Many don’t come back. They say that this knowledge is very good and they also experience happiness, but everything is finished as soon as they go out. Maya doesn’t allow them to stay here at all. Some experience a lot of happiness: Oho! Baba has now come and we will go to our land of happiness! The Father says: The whole kingdom has not been established yet. At this time, you are the children of God and you will then be deities. Your degrees then decrease. Points are recorded on a meter; your points have decreased by this much. You become the most elevated and your degrees then gradually decrease, as you come down. You do have to come down the ladder. The knowledge of the ladder is now in your intellects. When it is your stage of ascending, there is benefit for everyone. Then, gradually, there is the stage of descending. You have to understand the cycle very well from the very beginning. At this time, it is your stage of ascending because the Father is with you. God, whom people call omnipresent, continues to call you: “Sweet children, sweet children”, and you children then continue to say, “Baba, Baba!” Baba has come to teach us. It is souls that study, souls that have to perform actions. I, this soul, am an embodiment of peace. I perform actions through this body. The word “peaceless” is used when there is sorrow. However, peace is our original religion. Many people ask for peace of mind. Oh! but souls are themselves embodiments of peace and their home is the abode of peace. You have forgotten yourselves. You were residents of the abode of peace. You will receive peace there. Nowadays, they speak of there being one kingdom, one religion and one language: One caste, one religion and one God. The Government also writes that there is one God. So, why do they then say that He is omnipresent? No one believes in just one God. So you have to write this once again. When you make the picture of Lakshmi and Narayan, write on it: “When it was their kingdom in the golden age, there was one God and one deity religion.” However, human beings don’t understand anything. They don’t pay that much attention. Only those who belong to our Brahmin clan will pay attention. No one else will understand anything. This is why Baba says: Sit with them individually and explain to them. Make them fill in the form so that you can understand what their beliefs are, because some believe in one and others believe in someone else. You can’t explain to all of them at the same time. Each one would begin to tell you about his own beliefs. First of all, ask them where they have come to: Have you ever heard the name of the Brahma Kumars and Kumaris? What is Prajapita Brahma to you? Have you ever heard his name? Are you not the children of Prajapita Brahma? We are this in a practical way. You are this too, but you don’t understand this. You must explain to them using the right tactics. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and Good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. When visiting temples, always be aware that they are all your memorials, and that you are now becoming like Lakshmi and Narayan.
  2. While living at home with your family, live like a lotus flower. When swans and storks live together they have to live with great diplomacy and also tolerate a great deal.
Blessing: May you be yogyukt and become free from bondage and remain constantly free from the bondage of responsibilities and the bondage of Maya.
The sign of being free from bondage is to be constantly yogyukt. Yogyukt children are free from the bondage of responsibilities and the bondage of Maya. Let there not even be any bondage of the mind. Worldly responsibilities are a game and so play this game with laughter, according to the directions, and you will never get tired because of trivial matters. If you consider it to be a bondage you will get distressed and questions of “What?” and “Why?” will arise. However, the Father is responsible and you are just an instrument. Become free from bondage by having this awareness and you will become yogyukt.
Slogan: Have the awareness of Karankaravanhar and finish ego and arrogance.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 11 SEPTEMBER 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 11 September 2020

Murli Pdf for Print : – 

11-09-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
”मीठे बच्चे – यह ड्रामा का खेल एक्यूरेट चल रहा है, जिसका जो पार्ट जिस घड़ी होना चाहिए, वही रिपीट हो रहा है, यह बात यथार्थ रीति समझना है”
प्रश्नः- तुम बच्चों का प्रभाव कब निकलेगा? अभी तक किस शक्ति की कमी है?
उत्तर:- जब योग में मजबूत होंगे तब प्रभाव निकलेगा। अभी वह जौहर नहीं है। याद से ही शक्ति मिलती है। ज्ञान तलवार में याद का जौहर चाहिए, जो अभी तक कम है। अगर अपने को आत्मा समझ बाप को याद करते रहो तो बेड़ा पार हो जायेगा। यह सेकण्ड की ही बात है।

ओम् शान्ति। रूहानी बच्चों को रूहानी बाप बैठ समझाते हैं। रूहानी बाप एक को ही कहा जाता है। बाकी सब हैं आत्मायें। उनको परम आत्मा कहा जाता है। बाप कहते हैं मैं भी हूँ आत्मा। परन्तु मैं परम सुप्रीम सत्य हूँ। मैं ही पतित-पावन, ज्ञान का सागर हूँ। बाप कहते हैं मैं आता ही हूँ भारत में, बच्चों को विश्व का मालिक बनाने। तुम ही मालिक थे ना। अब स्मृति आई है। बच्चों को स्मृति दिलाते हैं – तुम पहले-पहले सतयुग में आये फिर पार्ट बजाते, 84 जन्म भोग अब पिछाड़ी में आ गये हो। तुम अपने को आत्मा समझो। आत्मा अविनाशी है, शरीर विनाशी है। आत्मा ही देह के साथ आत्माओं से बात करती है। आत्म-अभिमानी हो करके नहीं रहते हैं तो जरूर देह-अभिमान है। मैं आत्मा हूँ, यह सब भूल गये हैं। कहते भी हैं पाप आत्मा, पुण्य आत्मा, महान् आत्मा। वह फिर परमात्मा तो बन नहीं सकते। कोई भी अपने को शिव कह न सके। शरीरों के शिव नाम तो बहुतों के हैं। आत्मा जब शरीर में प्रवेश करती है तो नाम पड़ता है क्योंकि शरीर से ही पार्ट बजाना होता है। तो मनुष्य फिर शरीर के भान में आ जाते हैं, मैं फलाना हूँ। अभी समझते – हाँ मैं आत्मा हूँ। हमने 84 का पार्ट बजाया है। अभी हम आत्मा को जान गया हूँ। हम आत्मा सतोप्रधान थी, फिर अभी तमोप्रधान बनी हूँ। बाप आते ही तब हैं जब सब आत्माओं पर कट लगी हुई है। जैसे सोने में खाद पड़ती है ना। तुम पहले सच्चा सोना हो फिर चांदी, तांबा, लोहा पड़कर तुम बिल्कुल काले हो गये हो। यह बात और कोई समझा न सके। सब कह देते हैं आत्मा निर्लेप है। खाद कैसे पड़ती है, यह भी बाप ने समझाया है बच्चों को। बाप कहते हैं मैं आता ही भारत में हूँ। जब बिल्कुल तमोप्रधान बन जाते हैं, तब आता हूँ। एक्यूरेट टाइम पर आते हैं। जैसे ड्रामा में एक्यूरेट खेल चलता है ना। जो पार्ट जिस घड़ी होना होगा उस समय फिर रिपीट होगा, उसमें ज़रा भी फर्क पड़ नहीं सकता। वह है हद का ड्रामा, यह है बेहद का ड्रामा। यह सब बहुत महीन समझने की बातें हैं। बाप कहते हैं तुम्हारा जो पार्ट बजा, वह ड्रामा अनुसार। कोई भी मनुष्य मात्र न रचयिता को, न रचना के आदि-मध्य-अन्त को जानते हैं। ऋषि-मुनि भी नेती-नेती करते गये। अब तुमसे कोई पूछे रचयिता और रचना के आदि-मध्य-अन्त को जानते हो? तो तुम झट कहेंगे हाँ, सो भी तुम सिर्फ अभी ही जान सकते हो फिर कभी नहीं। बाबा ने समझाया है तुम ही मुझ रचयिता और रचना के आदि-मध्य-अन्त को जानते हो। अच्छा, यह लक्ष्मी-नारायण का राज्य कब होगा, यह जानते होंगे? नहीं, इनमें कोई ज्ञान नहीं। यह तो वण्डर है। तुम कहते हो हमारे में ज्ञान है, यह भी तुम समझते हो। बाप का पार्ट ही एक बार का है। तुम्हारी एम ऑब्जेक्ट ही है – यह लक्ष्मी-नारायण बनने की। बन गये फिर तो पढ़ाई की दरकार नहीं रहेगी। बैरिस्टर बन गया सो बन गया। बाप जो पढ़ाने वाला है, उनको याद तो करना चाहिए। तुमको सब सहज कर दिया है। बाबा बार-बार तुम्हें कहते हैं पहले अपने को आत्मा समझो। मैं बाबा का हूँ। पहले तुम नास्तिक थे, अभी आस्तिक बने हो। इन लक्ष्मी-नारायण ने भी आस्तिक बनकर ही यह वर्सा लिया है, जो अभी तुम ले रहे हो। अभी तुम आस्तिक बन रहे हो। आस्तिक-नास्तिक यह अक्षर इस समय के हैं। वहाँ यह अक्षर ही नहीं। पूछने की बात ही नहीं रह सकती। यहाँ प्रश्न उठते हैं तब तो पूछते हैं-रचता और रचना को जानते हो? तो कह देते नहीं। बाप ही आकर अपना परिचय देते हैं और रचना के आदि-मध्य-अन्त का राज़ समझाते हैं। बाप है बेहद का मालिक रचता। बच्चों को समझाया गया है और धर्म स्थापक भी यहाँ जरूर आते हैं। तुमको साक्षात्कार कराया था – इब्राहम, क्राइस्ट आदि कैसे आते हैं। वह तो पिछाड़ी में जब बहुत आवाज़ निकलेगा तब आयेंगे। बाप कहते हैं – बच्चे, देह सहित देह के सब धर्मों को त्याग मुझे याद करो। अभी तुम सम्मुख बैठे हो। अपने को देह नहीं समझना है, मैं आत्मा हूँ। अपने को आत्मा समझ बाप को याद करते रहो तो बेड़ा पार हो जायेगा। सेकण्ड की बात है। मुक्ति में जाने के लिए ही भक्ति आधा-कल्प करते हैं। लेकिन कोई भी आत्मा वापिस जा नहीं सकती।

5 हज़ार वर्ष पहले भी बाप ने यह समझाया था अभी भी समझाते हैं। श्रीकृष्ण यह बातें समझा नहीं सकते। उनको बाप भी नहीं कहेंगे। बाप है लौकिक, अलौकिक और पारलौकिक। हद का बाप लौकिक, बेहद का बाप है-पारलौकिक, आत्माओं का। और एक यह है सगंमयुगी वन्डरफुल बाप, इनको अलौकिक कहा जाता है। प्रजापिता ब्रह्मा को कोई याद ही नहीं करते। वह हमारा ग्रेट-ग्रेट ग्रैण्ड फादर है, यह बुद्धि में नहीं आता है। कहते भी हैं आदि देव, एडम…. परन्तु कहने मात्र। मन्दिरों में भी आदि देव का चित्र है ना। तुम वहाँ जायेंगे तो समझेंगे यह तो हमारा यादगार है। बाबा भी बैठे हैं, हम भी बैठे हैं। यहाँ बाप चैतन्य में बैठे हैं, वहाँ जड़ चित्र रखे हैं। ऊपर में स्वर्ग भी ठीक है, जिन्होंने मन्दिर देखा है वह जानते हैं कि बाबा हमको अब चैतन्य में राजयोग सिखा रहे हैं। फिर बाद में मन्दिर बनाते हैं। यह स्मृति में आना चाहिए कि यह सब हमारे यादगार हैं। यह लक्ष्मी-नारायण अब हम बन रहे हैं। थे, फिर सीढ़ी उतरते आये हैं, अब फिर हम घर जाकर रामराज्य में आयेंगे। पीछे होता है रावणराज्य फिर हम वाम मार्ग में चले जाते हैं। बाप कितना अच्छी रीति समझाते हैं-इस समय सभी मनुष्य मात्र पतित हैं इसलिए पुकारते हैं-हे पतित-पावन आकर हमको पावन बनाओ। दु:ख हर कर सुख का रास्ता बताओ। कहते भी हैं भगवान जरूर कोई वेष में आ जायेगा। अब कुत्ते-बिल्ली, ठिक्कर-भित्तर आदि में तो नहीं आयेंगे। गाया हुआ है भाग्यशाली रथ पर आते हैं। बाप खुद कहते हैं मैं इस साधारण रथ में प्रवेश करता हूँ। यह अपने जन्मों को नहीं जानते हैं, तुम अभी जानते हो। इनके बहुत जन्मों के अन्त में जब वानप्रस्थ अवस्था होती है तब मैं प्रवेश करता हूँ। भक्ति मार्ग में पाण्डवों के बहुत बड़े-बड़े चित्र बनाये हैं, रंगून में बुद्ध का भी बहुत बड़ा चित्र है। इतना बड़ा कोई मनुष्य होता थोड़ेही है। बच्चों को तो अब हंसी आती होगी, रावण का चित्र कैसा बनाया है। दिन-प्रतिदिन बड़ा करते जाते हैं। यह क्या चीज़ हैं, जो हर वर्ष जलाते हैं। ऐसा कोई दुश्मन होगा! दुश्मन का ही चित्र बनाकर जलाते हैं। अच्छा, रावण कौन है, कब दुश्मन बना है जो हर वर्ष जलाते आते हैं? इस दुश्मन का किसको भी पता नहीं है। उनका अर्थ कोई बिल्कुल नहीं जानते। बाप समझाते हैं वह है ही रावण सम्प्रदाय, तुम हो राम सम्प्रदाय। अब बाप कहते हैं – गृहस्थ व्यवहार में रहते कमल फूल समान बनो और मुझे याद करते रहो। कहते हैं बाबा हंस और बगुले इकट्ठे कैसे रह सकते हैं, खिट-खिट होती है। सो तो जरूर होगा, सहन करना पड़ेगा। इसमें बड़ी युक्तियाँ भी हैं। बाप को कहा जाता है रांझू रमज़बाज। सब उनको याद करते हैं ना – हे भगवान दु:ख हरो, रहम करो, लिबरेट करो। वो लिबरेटर बाप सबका एक ही है। तुम्हारे पास कोई भी आते हैं तो उनको अलग-अलग समझाओ, कराची में एक-एक को अलग-अलग बैठ समझाते थे।

तुम बच्चे जब योग में मज़बूत हो जायेंगे तो फिर तुम्हारा प्रभाव निकलेगा। अभी अजुन वह जौहर नहीं है। याद से शक्ति मिलती है। पढ़ाई से शक्ति नहीं मिलती है। ज्ञान तलवार है, उसमें याद का जौहर भरना है। वह शक्ति कम है। बाप रोज़ कहते रहते हैं – बच्चे, याद की यात्रा में रहने से तुमको ताकत मिलेगी। पढ़ाई में इतनी ताकत नहीं है। याद से तुम सारे विश्व के मालिक बनते हो। तुम अपने लिए ही सब कुछ करते हो। बहुत आये फिर गये। माया भी दुश्तर है। बहुत नहीं आते हैं, कहते हैं ज्ञान तो बहुत अच्छा है, खुशी भी होती है। बाहर गया खलास। ज़रा भी ठहरने नहीं देती। कोई-कोई को बहुत खुशी होती है। ओहो! अब बाबा आये हैं, हम तो चले अपने सुखधाम। बाप कहते हैं – अभी पूरी राजधानी स्थापन ही कहाँ हुई है। तुम इस समय हो ईश्वरीय सन्तान फिर होंगे देवतायें। डिग्री कम हो गई ना। मीटर में प्वाइन्ट होती हैं, इतनी प्वाइन्ट कम। तुम अभी एकदम ऊंच बनते हो फिर कम होते-होते नीचे आ जाते हो। सीढ़ी नीचे उतरना ही है। अब तुम्हारी बुद्धि में सीढ़ी का ज्ञान है। चढ़ती कला, सर्व का भला। फिर धीरे-धीरे उतरती कला होती है। शुरू से लेकर इस चक्र को अच्छी रीति समझना है। इस समय तुम्हारी चढ़ती कला होती है क्योंकि बाप साथ है ना। ईश्वर जिसको मनुष्य सर्वव्यापी कह देते हैं, वह बाबा मीठे-मीठे बच्चे कहते रहते हैं और बच्चे फिर बाबा-बाबा कहते रहते हैं। बाबा हमको पढ़ाने आये हैं, आत्मा पढ़ती है। आत्मा ही कर्म करती है। हम आत्मा शान्त स्वरूप हूँ। इस शरीर द्वारा कर्म करती हूँ। अशान्त अक्षर ही तब कहा जाता है जब दु:ख होता है। बाकी शान्ति तो हमारा स्वधर्म है। बहुत कहते हैं मन की शान्ति हो। अरे आत्मा तो स्वयं शान्त स्वरूप है, उनका घर ही है शान्तिधाम। तुम अपने को भूल गये हो। तुम तो शान्तिधाम के रहने वाले थे, शान्ति वहाँ ही मिलेगी। आजकल कहते हैं एक राज्य, एक धर्म, एक भाषा हो। वन कास्ट, वन रिलीजन, वन गॉड। अब गवर्मेन्ट लिखती भी है वन गॉड है, फिर सर्वव्यापी क्यों कहते हैं? वन गॉड तो कोई मानता ही नहीं है। तो अब तुमको फिर यह लिखना है। लक्ष्मी-नारायण का चित्र बनाते हो, ऊपर में लिख दो सतयुग में जब इन्हों का राज्य था तो वन गॉड, वन डीटी रिलीजन था। परन्तु मनुष्य कुछ समझते नहीं हैं, अटेन्शन नहीं देते। अटेन्शन उनका जायेगा जो हमारे ब्राह्मण कुल का होगा। और कोई नहीं समझेंगे इसलिए बाबा कहते हैं अलग-अलग बिठाओ फिर समझाओ। फार्म भराओ तो मालूम पड़ेगा क्योंकि कोई किसको मानने वाला होगा, कोई किसको। सबको इकट्ठा कैसे समझायेंगे। अपनी-अपनी बात सुनाने लग पड़ेंगे। पहले-पहले तो पूछना चाहिए कहाँ आये हो? बी.के. का नाम सुना है? प्रजापिता ब्रह्मा तुम्हारा क्या लगता है? कभी नाम सुना है? तुम प्रजापिता ब्रह्मा की सन्तान नहीं हो, हम तो प्रैक्टिकल में हैं। हो तुम भी परन्तु समझते नहीं हो। समझाने की बड़ी युक्ति चाहिए। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) मन्दिरों आदि को देखते सदा यह स्मृति रहे कि यह सब हमारे ही यादगार हैं। अब हम ऐसा लक्ष्मी-नारायण बन रहे हैं।

2) गृहस्थ व्यवहार में रहते कमल फूल समान रहना है। हंस और बगुले साथ हैं तो बहुत युक्ति से चलना है। सहन भी करना है।

वरदान:- माया के बन्धनों से सदा निर्बन्धन रहने वाले योगयुक्त, बन्धनमुक्त भव
बन्धनमुक्त की निशानी है सदा योगयुक्त। योगयुक्त बच्चे जिम्मेवारियों के बंधन वा माया के बन्धन से मुक्त होंगे। मन का भी बन्धन न हो। लौकिक जिम्मेवारी तो खेल हैं, इसलिए डायरेक्शन प्रमाण खेल की रीति से हंसकर खेलो तो कभी छोटी-छोटी बातों में थकेंगे नहीं। अगर बंधन समझते हो तो तंग होते हो। क्या, क्यों का प्रश्न उठता है। लेकिन जिम्मेवार बाप है आप निमित्त हो। इस स्मृति से बन्धनमुक्त बनो तो योगयुक्त बन जायेंगे।
स्लोगन:- करनकरावनहार की स्मृति से भान और अभिमान को समाप्त करो।

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 11 SEPTEMBER 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 11 September 2019

To Read Murli 10 September 2019:- Click Here
11-09-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – बेहद की स्कॉलरशिप लेनी है तो अभ्यास करो – एक बाप के सिवाए और कोई भी याद न आये”
प्रश्नः- बाप का बनने के बाद भी यदि खुशी नहीं रहती है तो उसका कारण क्या है?
उत्तर:- 1- बुद्धि में पूरा ज्ञान नहीं रहता। 2- बाप को यथार्थ रीति याद नहीं करते। याद न करने के कारण माया धोखा देती है इसलिए खुशी नहीं रहती। तुम बच्चों की बुद्धि में नशा रहे – बाप हमें विश्व का मालिक बनाते हैं, तो सदा हुल्लास और खुशी रहे। बाप का जो वर्सा है – पवित्रता, सुख और शान्ति, इसमें फुल बनो तो खुशी रहेगी।

ओम् शान्ति। ओम् शान्ति का अर्थ तो बच्चों को अच्छी रीति मालूम है – मैं आत्मा, यह मेरा शरीर। यह अच्छी रीति याद करो। भगवान माना आत्माओं का बाप हमको पढ़ाते हैं। ऐसे कभी सुना है? वह तो समझते हैं कृष्ण पढ़ाते हैं, परन्तु उनका तो नाम-रूप है ना। यह तो पढ़ाने वाला है निराकार बाप। आत्मा सुनती है और परमात्मा सुनाते हैं। यह नई बात है ना। विनाश तो होने का ही है ना। एक हैं विनाश काले विपरीत बुद्धि, दूसरे हैं विनाश काले प्रीत बुद्धि। आगे तुम भी कहते थे ईश्वर सर्वव्यापी है, पत्थर भित्तर में है। इन सब बातों को अच्छी रीति समझना है। यह तो समझाया है आत्मा अविनाशी है, शरीर विनाशी है। आत्मा कभी घटती-बढ़ती नहीं। वह है इतनी छोटी आत्मा, इतनी छोटी आत्मा ही 84 जन्म लेकर सारा पार्ट बजाती है। आत्मा शरीर को चलाती है। ऊंच ते ऊंच बाप पढ़ाते हैं तो जरूर मर्तबा भी ऊंच मिलेगा। आत्मा ही पढ़कर मर्तबा पाती है। आत्मा कोई देखी नहीं जाती। बहुत कोशिश करते हैं कि देखें आत्मा कैसे आती है, कहाँ से निकलती है? परन्तु मालूम नहीं पड़ता है। करके कोई देखे भी तो भी समझ नहीं सकेंगे। यह तो तुम समझते हो आत्मा ही शरीर में निवास करती है। आत्मा अलग है, जीव अलग है। आत्मा छोटी-बड़ी नहीं होती है। जीव छोटे से बड़ा होता है। आत्मा ही पतित और पावन बनती है। आत्मा ही बाप को बुलाती है – हे पतित आत्माओं को पावन बनाने वाले बाबा आओ। यह भी समझाया है – सभी आत्मायें हैं ब्राइड्स (सीतायें) और वह है राम, ब्राइडग्रूम एक। वो लोग फिर सभी को ब्राइडग्रूम कह देते हैं। अब ब्राइडग्रूम सबमें प्रवेश करे, यह तो हो नहीं सकता। यह बुद्धि में उल्टा ज्ञान होने के कारण ही नीचे गिरते आये हैं क्योंकि बहुत ग्लानि करते, पाप करते, डिफेम करते हैं। बाप की बहुत भारी निंदा की है। बच्चे कभी बाप की ग्लानि करेंगे क्या! परन्तु आजकल बिगड़ते हैं तो बाप को भी गाली देने लगते हैं। यह तो है बेहद का बाप। आत्मा ही बेहद के बाप की ग्लानि करती है – बाबा आप कच्छ-मच्छ अवतार हो। कृष्ण की भी ग्लानि की है – रानियों को भगाया, यह किया, माखन चुराया। अब माखन आदि चुराने की उनको क्या दरकार पड़ी। कितने तमोप्रधान बुद्धि बन पड़े हैं। बाप कहते हैं मैं आकर तुमको पावन बनाने की बहुत सहज युक्ति बताता हूँ। बाप ही पतित-पावन सर्वशक्तिमान अथॉरिटी है। जैसे साधू-सन्त आदि जो भी हैं, उनको शास्त्रों की अथॉरिटी कहते हैं। शंकराचार्य को भी वेदों-शास्त्रों आदि की अथॉरिटी कहेंगे, उनका कितना भभका होता है। शिवाचार्य का तो कोई भभका नहीं, इनके साथ कोई पलटन नहीं। यह तो बैठ सभी वेदों-शास्त्रों का सार सुनाते हैं। अगर शिवबाबा भभका दिखाये तो पहले इनका (ब्रह्मा का) भी भभका चाहिए। परन्तु नहीं। बाप कहते हैं मैं तो तुम बच्चों का सर्वेन्ट हूँ। बाप इनमें प्रवेश कर बच्चों को समझाते हैं कि बच्चे तुम पतित बने हो। तुम पावन बन फिर 84 जन्मों के बाद पतित बन गये हो। इनकी ही हिस्ट्री-जॉग्राफी फिर से रिपीट होगी। इन्होंने ही 84 जन्म भोगे हैं। फिर उन्हें ही सतोप्रधान बनने की युक्ति बताते हैं। बाप ही सर्वशक्तिमान् है। ब्रह्मा द्वारा सभी वेदों-शास्त्रों का सार समझाते हैं। चित्रों में ब्रह्मा को शास्त्र दिखाते हैं। परन्तु वास्तव में शास्त्रों आदि की बात है नहीं। न बाबा के पास शास्त्र हैं, न इनके पास, न तुम्हारे पास शास्त्र हैं। यह तो तुमको नित्य नई-नई बातें सुनाते हैं। यह तो जानते हो कि सभी भक्ति मार्ग के शास्त्र हैं। मैं कोई शास्त्र थोड़ेही सुनाता हूँ। मैं तो तुमको मुख से सुनाता हूँ। तुमको राजयोग सिखाता हूँ, जिसका फिर भक्ति मार्ग में नाम गीता रख दिया है। मेरे पास वा तुम्हारे पास कोई गीता आदि है क्या? यह तो पढ़ाई है। पढ़ाई में अध्याय, श्लोक आदि थोड़ेही होते हैं। मैं तुम बच्चों को पढ़ाता हूँ, हूबहू कल्प-कल्प ऐसे ही पढ़ाता रहूँगा। कितनी सहज बात समझाता हूँ – अपने को आत्मा समझो। यह शरीर तो मिट्टी हो जाता है। आत्मा अविनाशी है, शरीर तो घड़ी-घड़ी जलता रहता है। आत्मा एक शरीर छोड़ दूसरा लेती है।

बाप कहते हैं मैं तो एक ही बार आता हूँ। शिव रात्रि मनाते भी हैं। वास्तव में होना चाहिए शिव जयन्ती। परन्तु जयन्ती कहने से माता के गर्भ से जन्म हो जाता है, इसलिए शिव रात्रि कह देते हैं। द्वापर-कलियुग की रात्रि में मेरे को ढूँढते हैं। कहते हैं सर्वव्यापी है। तो तेरे में भी है ना, फिर धक्के क्यों खाते हो! एकदम जैसे देवता से आसुरी सम्प्रदाय के बन जाते हैं। देवतायें कभी शराब पीते हैं क्या? वही आत्मायें फिर गिरी हैं तो शराब आदि पीने लग पड़ी हैं। बाप कहते हैं अब इस पुरानी दुनिया का विनाश भी जरूर होना है। पुरानी दुनिया में हैं अनेक धर्म, नई दुनिया में है एक धर्म। एक से अनेक धर्म हुए हैं फिर एक जरूर होना है। मनुष्य तो कह देते कलियुग में अभी 40 हज़ार वर्ष पड़े हैं, इसको कहा जाता है घोर अन्धियारा। ज्ञान सूर्य प्रगटा, अज्ञान अन्धेर विनाश। मनुष्यों में बहुत अज्ञान है। बाप ज्ञान सूर्य, ज्ञान सागर आते हैं तो तुम्हारा भक्ति मार्ग का अज्ञान मिट जाता है। तुम बाप को याद करते-करते पवित्र बन जाते हो, खाद निकल जाती है। यह है योग अग्नि। काम अग्नि काला बना देती है। योग अग्नि अर्थात् शिवबाबा की याद गोरा बनाती है। कृष्ण का नाम भी रखा है – श्याम-सुन्दर। परन्तु अर्थ थोड़ेही समझते हैं। बाप आकर अर्थ समझाते हैं। पहले-पहले सतयुग में कितने सुन्दर हैं। आत्मा पवित्र सुन्दर है तो शरीर भी पवित्र सुन्दर लेती है। वहाँ कितना धन दौलत सब कुछ नया होता है। नई धरनी फिर पुरानी होती है। अब इस पुरानी दुनिया का विनाश जरूर होना है। खूब तैयारियां हो रही हैं। भारतवासी इतना नहीं समझते हैं, जितना वह समझते हैं कि हम अपने कुल का विनाश कर रहे हैं। कोई प्रेरक है। साइंस द्वारा हम अपना ही विनाश लाते हैं। यह भी समझते हैं क्राइस्ट से 3 हज़ार वर्ष पहले पैराडाइज़ था। इन गॉड-गॉडेज का राज्य था। भारत ही प्राचीन था। इस राजयोग से लक्ष्मी-नारायण ऐसे बने थे। वह राजयोग फिर बाप ही सिखला सकते हैं। सन्यासी सिखला न सकें। आजकल कितनी ठगी लगी पड़ी है। बाहर में जाकर कहते हैं – हम भारत का प्राचीन योग सिखलाते हैं। और फिर कहते हैं अण्डा खाओ, शराब आदि भल पियो, कुछ भी करो। अब वह कैसे राजयोग सिखला सकेंगे। मनुष्य को देवता कैसे बनायेंगे। बाप समझाते हैं आत्मा कितनी ऊंच है फिर पुनर्जन्म लेते-लेते सतोप्रधान से तमोप्रधान बन जाती है। अब तुम फिर से स्वर्ग की स्थापना कर रहे हो। वहाँ दूसरा कोई धर्म होता ही नहीं। अब बाप कहते हैं नर्क का विनाश तो जरूर होना है। यहाँ तक जो आये हैं वह फिर स्वर्ग में जरूर जायेंगे। शिवबाबा का थोड़ा भी ज्ञान सुना तो स्वर्ग में जायेंगे जरूर। फिर जितना पढ़ेंगे, बाप को याद करेंगे उतना ऊंच पद पायेंगे। अभी विनाश काल तो सबके लिए है। विनाश काले प्रीत बुद्धि जो हैं, सिवाए बाप के और कोई को याद नहीं करते हैं, वही ऊंच पद पाते हैं। इसको कहा जाता है बेहद की स्कॉलरशिप, इसमें तो रेस करनी चाहिए। यह है ईश्वरीय लॉटरी। एक तो याद, दूसरा दैवीगुण धारण करने हैं और राजा-रानी बनना है तो प्रजा भी बनानी है। कोई बहुत प्रजा बनाते हैं, कोई कम। प्रजा बनती है सर्विस से। म्युज़ियम, प्रदर्शनी आदि में ढेर प्रजा बनती है। इस समय तुम पढ़ रहे हो फिर सूर्यवंशी-चन्द्रवंशी डिनायस्टी में चले जायेंगे। यह है तुम ब्राह्मणों का कुल। बाप ब्राह्मण कुल एडाप्ट कर उन्हों को पढ़ाते हैं। बाप कहते हैं मैं एक कुल और दो डिनायस्टी बनाता हूँ। सूर्यवंशी महाराजा-महारानी, चन्द्रवंशी राजा-रानी। इन्हों को कहेंगे डबल सिरताज फिर बाद में जब विकारी राजायें होते हैं तो उनको लाइट का ताज नहीं होता। उन डबल ताज वालों के मन्दिर बनाकर उनको पूजते हैं। पवित्र के आगे माथा टेकते हैं। सतयुग में यह बातें होती नहीं। वह है ही पावन दुनिया, वहाँ पतित होते नहीं। उसको कहा जाता है सुखधाम, वाइसलेस वर्ल्ड। इसको कहा जाता है विशश वर्ल्ड। एक भी पावन नहीं। सन्यासी घरबार छोड़ भागते हैं, राजा गोपीचन्द का भी मिसाल है ना। तुम जानते हो कोई भी मनुष्य एक-दो को गति-सद्गति दे नहीं सकते हैं। सर्व का सद्गति दाता मैं ही हूँ। मैं आकर सबको पावन बनाता हूँ। एक तो पवित्र बन शान्तिधाम चले जायेंगे और दूसरे पवित्र बन सुखधाम में जायेंगे। यह है अपवित्र दु:खधाम। सतयुग में बीमारी आदि कुछ भी होती नहीं। तुम उस सुखधाम के मालिक थे फिर रावणराज्य में दु:खधाम के मालिक बने हो। बाप कहते हैं कल्प-कल्प तुम मेरी श्रीमत पर स्वर्ग स्थापन करते हो। नई दुनिया का राज्य लेते हो। फिर पतित नर्कवासी बनते हो। देवतायें ही फिर विकारी बन जाते हैं। वाम मार्ग में गिरते हैं।

मीठे-मीठे बच्चों को बाप ने आकर परिचय दिया है कि मैं एक ही बार पुरूषोत्तम संगमयुग पर आता हूँ। मैं युगे-युगे तो आता ही नहीं हूँ। कल्प के संगमयुगे आता हूँ, न कि युगे-युगे। कल्प के संगम पर क्यों आता हूँ? क्योंकि नर्क को स्वर्ग बनाता हूँ। हर 5 हज़ार वर्ष बाद आता हूँ। कई बच्चे लिखते हैं – बाबा, हमको खुशी नहीं रहती है, उल्लास नहीं रहता है। अरे, बाप तुमको विश्व का मालिक बनाते हैं, ऐसे बाप को याद कर तुमको खुशी नहीं रहती है! तुम पूरा याद नहीं करते हो तब खुशी नहीं ठहरती है। पति को याद करते खुशी होती है, जो पतित बनाते हैं और बाप जो डबल सिरताज बनाते हैं, उनको याद करके खुशी नहीं होती है! बाप के बच्चे बने हो फिर भी कहते हो खुशी नहीं! पूरा ज्ञान बुद्धि में नहीं है। याद नहीं करते हो इसलिए माया धोखा देती है। बच्चों को कितना अच्छी रीति समझाते हैं। कल्प-कल्प समझाते हैं। आत्मायें जो पत्थरबुद्धि बन पड़ी हैं, उनको पारसबुद्धि बनाता हूँ। नॉलेजफुल बाप ही आकर नॉलेज देते हैं। वह हर बात में फुल है। प्योरिटी में फुल, प्यार में फुल। ज्ञान का सागर, सुख का सागर, प्यार का सागर है ना। ऐसे बाप से तुमको यह वर्सा मिलता है। ऐसा बनने के लिए ही तुम आते हो। बाकी वह सतसंग आदि तो सब हैं भक्ति मार्ग के। उनमें एम आब्जेक्ट कुछ भी है नहीं। इसको तो गीता पाठशाला कहा जाता है, वेद पाठशाला नहीं होती। गीता से नर से नारायण बनते हो। जरूर बाप ही बनायेंगे ना। मनुष्य, मनुष्य को देवता बना न सकें। बाप बार-बार बच्चों को समझाते हैं – बच्चे, अपने को आत्मा समझो। तुम कोई देह थोड़ेही हो। आत्मा कहती है मैं एक देह छोड़ दूसरी लेती हूँ। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) जैसे शिवबाबा का कोई भभका नहीं, सर्वेन्ट बन बच्चों को पढ़ाने के लिए आये हैं, ऐसे बाप समान अथॉरिटी होते हुए भी निरहंकारी रहना है। पावन बनकर पावन बनाने की सेवा करनी है।

2) विनाश काल के समय ईश्वरीय लॉटरी लेने के लिए प्रीत बुद्धि बन याद में रहने वा दैवीगुणों को धारण करने की रेस करनी है।

वरदान:- ईश्वरीय सेवा द्वारा वैराइटी मेवा प्राप्त करने वाली अधिकारी आत्मा भव
कहा जाता है “करो सेवा तो मिले मेवा”। ईश्वरीय ज्ञान देना ही ईश्वरीय सेवा है जो यह सेवा करते हैं उन्हें अतीन्द्रिय सुख का, शक्तियों का, खुशी का वैराइटी मेवा मिलता है। आप ब्राह्मण ही इसके अधिकारी हो क्योंकि आपका काम ही है ईश्वरीय पढ़ाई पढ़ना और पढ़ाना, जिससे ईश्वर के बन जाएं। तो ऐसी ईश्वरीय सेवा करने से ईश्वरीय फल के अधिकारी बन गये – इसी नशे में रहो।
स्लोगन:- बाप के साथ रहकर कर्म करो तो डबल लाइट रहेंगे।

TODAY MURLI 11 SEPTEMBER 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 11 September 2019

Today Murli in Hindi:- Click Here

Read Murli 10 September 2019:- Click Here

11/09/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, all of you have to make effort to have remembrance. Consider yourselves to be souls and remember Me, the Father, and I will liberate you from all sins.
Question: What is the place for all to attain salvation, the importance of which the whole world will come to know?
Answer: The land of Abu is the place for everyone to attain salvation. Beside the words, “Brahma Kumaris”, you can write on the board in brackets (“This is the most elevated pilgrimage place.”) Everyone in the whole world will receive salvation here. The Bestower of Salvation for all, the Father, and Adam (Brahma), sit here and grant salvation to everyone. Adam means a human being. Neither is he a deity nor can he be called God.

Om shanti. Double om shanti because one is from the Father and the other is from Dada; there are both souls. That One is the Supreme Soul and this one is a soul. That One gives you the aim: I am a resident of the supreme abode. This one also says the same. The Father says “Om shanti” and this one also says “Om shanti.” Children too say “Om shanti”, that is, we are souls, residents of the land of peace. Here, you have to sit apart, not touching one another. You must not touch the person you are sitting next to because there is difference of night and day in each one’s stage and yoga. Some stay in remembrance very well whereas others don’t have any remembrance at all. So, those who don’t have any remembrance at all are sinful souls, tamopradhan, whereas those who have remembrance become charitable souls, satopradhan. There is a lot of difference. Although you may be living together at home, there is a difference. This is why there are devilish names in the Bhagawad that are remembered; these refer to this time. The Father sits here and explains to you children: These are the divine activities that are remembered on the path of devotion. You wouldn’t remember anything in the golden age; you will have forgotten everything. It is only at this time that the Father gives you these teachings. You will have completely forgotten this in the golden age. Then, in the copper age, they write scriptures etc. and try to teach Raj Yoga. However, they cannot teach Raj Yoga. It is only when the Father comes here personally that He teaches it to you. You know how the Father teaches you Raj Yoga. Then, after 5000 years, He will say the same again: Sweetest, spiritual children. Neither can human beings say this to other human beings nor can deities say it to deities. It is only the spiritual Father who says this to the spiritual children. Once you have played your parts, you will then play your parts again after 5000 years because you will have then come down the ladder. You now have the secrets of the beginning, middle and end in your intellects. You know that that is the land of peace, that it is the supreme abode. We souls of all different religions live there, numberwise, in the incorporeal world. You can see how the stars are up there. You cannot see anything else there. There isn’t anything up above. There is just the element of brahm. Here, you are standing on the earth; this is the field of action. You come here, adopt bodies and perform actions. The Father has explained: When you receive the inheritance from Me, your actions become neutral for 21 births because there is no kingdom of Ravan there. That is the Godly kingdom which God is now establishing. He continues to explain to you children: Remember Shiv Baba and you can become the masters of heaven. Shiv Baba established heaven. So, remember Shiv Baba and the land of happiness. First of all, remember the land of peace and you will also remember the cycle. You children forget this and so you have to be reminded over and over again. O sweetest children, consider yourselves to be souls and remember the Father and your sins will be burnt away. He promises: If you stay in remembrance, I will liberate you from your sins. The Father alone is the Purifier, the Almighty Authority. He is called the World Almighty Authority. He knows the beginning, middle and end of the whole world. He knows all the Vedas and scriptures etc., and that is why He says: There is no essence in them. There is no essence in the Gita either, even though it is the jewel of all scriptures, the mother and father; the rest are its children. Similarly, there is first of all Prajapita Brahma and the rest are all the children. Prajapita Brahma is called Adam, the first man. Adam means a human being (aadmi). He is a human being and so he cannot be called a deity. Adam is the first human being. Devotees call Brahma, Adam, a deity. The Father sits here and explains to you that Adam means a human being. He is neither a deity nor God. Lakshmi and Narayan are deities. There is deityism in Paradise. That is the new world. That is the wonder of the world. All the rest are the wonders of Maya. The wonders of Maya come into existence after the copper age begins. The Godly wonder is heaven which is established by the Father alone. It is now being established. No one knows the value of the Dilwala Temple. People go on pilgrimages and this is the best pilgrimage place. You write, Brahma Kumaris Ishwariya Vishwa Vidhyalaya, Mt. Abu. So, you should also write in brackets “(The most elevated pilgrimage place)” because you know that it is here that everyone receives salvation. No one else knows this. So, just as the Gita is the jewel of all scriptures, so too, the greatest of all pilgrimage places is Abu. Then, when people read it, their attention will be drawn. This is the greatest pilgrimage place of all pilgrimage places in the world, where the Father sits and grants salvation to everyone. There are many pilgrimage places. They even consider the memorial place of Gandhi to be a pilgrimage place. Everyone goes there and offers flowers etc. They don’t know anything at all. You children know this and so, while sitting here, you should have a lot of happiness in your hearts. We are establishing heaven. The Father now says: Consider yourselves to be souls and remember Me. The study is very easy; it doesn’t cost you anything. Did it cost your Mama even a single penny? She studied without spending even a penny and became so clever that she claimed number one. She became a Raj Yogini. No one like Mama has emerged. Look, the Father sits here and teaches you souls alone. It will be souls that receive the kingdom. It was souls that lost the kingdom. Such a tiny soul does so much work. The worst work of all is to indulge in vice. Souls play parts for 84 births. Such a tiny soul has so much power; he rules the whole world. Those deity souls have so much power. Each religion has its own strength. The Christian religion has so much strength. When a soul has strength, he performs actions through a body. It is souls that come here and performs actions on this field of action. There are no bad activities performed there. Souls go on to the path of sin when it becomes the kingdom of Ravan. People say that vices exist all the time. You can explain that as there is no kingdom of Ravan there, how could there be vices there? There, there is just the power of yoga. The Raj Yoga of Bharat is very well known. Many people want to learn it, but only you can teach it. No one else can teach it. For instance, Maharishi would make so much effort to teach yoga. However, the world doesn’t know that it’s not possible for hatha yogis to teach Raj Yoga. So many people go to Chimyananda. If he said, even once, that no one except the BKs can truly teach the ancient Raj Yoga of Bharat, then that would be enough. However, it isn’t the law for that sound to spread now. Not everyone will understand. It requires a lot of effort and there will also be your praise. At the end, they will say: O Prabhu! O Shiv Baba, Your divine activities are wonderful! You now understand that no one apart from you considers the Father to be the Supreme Father, the Supreme Teacher and the Supreme Satguru. Here, too, there are many who, while moving along, are harassed by Maya, and so they become completely senseless. The destination is very high. This is a battlefield and Maya causes a lot of obstacles on it. Those people are making preparations for destruction. You make effort here to conquer the five vices. You make effort for victory whereas they make effort for destruction. Both tasks will be accomplished at the same time. There is still time. Our kingdom has not yet been established. Kings and subjects are all still to be created. You claim your inheritance from the Father for half the cycle. However, no one has yet received liberation. Although those people say that So-and-so attained liberation, no one knows where he went when he died. They simply continue to tell lies in that way. You know that those who shed their bodies will definitely take other bodies; they cannot attain eternal liberation. It isn’t that a bubble would merge into the water. The Father says: All of those scriptures etc. are the paraphernalia of the path of devotion. You children listen to the Father personally. You eat hot halva. Who eats the hottest halva? (Brahma.) This one is sitting right next to Him. He hears everything immediately and imbibes it and then he claims a high status. People have visions of this one in Paradise and in the subtle region. Here, too, people see him with their physical eyes. The Father teaches everyone, but then, effort is needed to have remembrance. Just as you find it difficult to stay in remembrance, so this one too finds it the same. There is no question of mercy in this. The Father says: I have taken this body on loan, and I will settle that account. However, this one also has to make effort to have remembrance. I understand that He is sitting next to me. I remember the Father, but then I forget Him. This one has to make the most effort. Maya tested those who were strong maharathis on the battlefield. There is the example Hanuman who was a mahavir. The stronger you become, the more Maya tests you and the more the storms come. Children write: Baba, this and that happens to me. Baba says: All of that will happen. Baba explains to you every day: Remain cautious! You write: Maya brings many storms. Some are body conscious and they don’t tell Baba anything. You are now becoming very wise. When souls become pure, they receive pure bodies. Souls then sparkle so much. First of all, it is the poor who take this knowledge. The Father is also remembered as the Lord of the Poor. All the others come later. You understand that it is not possible for them to become brothers until they become brothers and sisters. The children of Prajapita Brahma are brothers and sisters. The Father now explains: Consider yourselves to be brothers; this is the final relationship. You will then go up above and meet your brothers. Then, the new relationships will begin in the golden age. There, there won’t be many relatives such as brother-in-laws, uncles etc. The relationships there are very few. Later, they continue to increase. The Father now says: Do not consider yourselves to be even brothers and sisters, but just brothers. You also have to go beyond name and form. The Father only teaches you brothers (souls). It is when Prajapita Brahma is here that you are brothers and sisters. Krishna himself is just a child. How could he make you all into brothers? These things are not even mentioned in the Gita. This knowledge is completely unique. Everything is fixed in the drama. The part of one second cannot be the same as the part of the next second. So many months, days, hours are to pass by and then, 5000 years later, they will pass by in the same way. Those with small intellects cannot imbibe that much. This is why the Father says: It is very easy to consider yourself to be a soul and remember the unlimited Father. The old world is going to be destroyed. The Father says: I come when it is the confluence age. You were deities. You know that at the time when it was their kingdom, there were no other religions. It is no longer their kingdom. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. It is now the final moments and you have to return home, so remove your intellect from anyone’s name or form. Practise the awareness: We souls are brothers. Don’t become body conscious.
  2. There is the difference of day and night between each one’s stage and yoga. Therefore, sit separately, not touching one another. In order to become charitable souls, make effort to have remembrance.
Blessing: May you become a soul who is worthy of experiencing the Father’s help and receiving blessings by keeping a balance of remembrance and service.
Where you keep a balance of remembrance and service, that is, where there is equality of two, you especially experience the Father’s help. This help becomes blessings because BapDada does not give blessings in the same way as other souls do. The Father is bodiless and so BapDada’s blessings are to receive His help easily and naturally through which impossible things become possible. This help means to receive blessings. You are souls who are so worthy of such blessings that you earn an income of multimillions in each step.
Slogan: In order to give sakaash, accumulate a stock of imperishable happiness, peace and true love.

*** Om Shanti ***

TODAY MURLI 11 SEPTEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 11 September 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 10 September 2018 :- Click Here

11/09/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you have the responsibility of making every home into heaven. Give everyone the aim of becoming pure from impure. Imbibe divine virtues.
Question: What do you children experience by coming into God’s lap?
Answer: Children who come into God’s lap experience the celebration of an auspicious meeting. You know that the confluence age is the age to celebrate a meeting with God. You celebrate a meeting with God and make Bharat into heaven. You children meet God personally at this time. Throughout the whole cycle, no one else can ever celebrate a personal meeting. This is your very small Godly clan. Shiv Baba is the Grandfather and Brahma is the father and you children are brothers and sisters. There are no other relationships.
Song: The buds of the new age.

Om shanti. When Baba comes, you should first sit in silence for some time because, first of all, a donation of remembrance is given. It is only by them having remembrance that impure ones are made pure. You children are making a donation and receiving one. The Father comes and changes thorns into buds and the buds then become flowers. You know that your service is to make each one worthy of heaven, just as you are becoming worthy of that. The Father comes and first gives you health and then gives you wealth. There is first peace and then happiness. In fact, there is happiness in both. You children want both peace and happiness. All the sannyasis etc. just want peace. Sannyasis don’t want happiness; they cannot give happiness. Even if they do give peace, that is for momentary happiness. They say that happiness is like the droppings of a crow. Sannyasis generally want peace to attain liberation. No one else can give you liberation. This is called unlimited liberation and unlimited liberation-in-life which only the unlimited Father can give. You know that at this time all are thorns. Thorns prick you. The Father says: They all kill one another with the sword of lust. They don’t know that using the sword of lust is violence. When you indulge in vice, you cause one another sorrow from the beginning through the middle to the end. This is the world of sorrow. Heaven is called the world of happiness when the world is new and Bharat is new. The people of Bharat, who are worshippers of the deities, know that there used to be a kingdom of those deities which was called heaven. They do feel that. They go to a Lakshmi and Narayan Temple and sing their praise. They believe that they were the masters of Bharat. They feel that Bharat was heaven, but that is just for a short time, like a breeze. They do realise that since there are so many temples built to Lakshmi and Narayan, there must have been their kingdom too. They are called the emperor and empress. However, they have forgotten when they were that. This is such a simple mistake. It hasn’t been a long time; it is a matter of just 5000 years ago. It is 2000 to 2500 years since Christ, Buddha etc. existed. It is said of them that they reincarnated. In fact, each one reincarnates. A soul comes and enters and that too is called a r eincarnation. However, the names of the elders are remembered first. It is said: The Supreme Father, the Supreme Soul, will come and enter a body when He reincarnates. This is the meaning of reincarnation.This is said of those who are well known. For example, there are the reincarnations of Buddha and Christ. You can see Bharat’s connection with the Buddhists and the Christians. They show that Guru Nanak existed about 500 years ago. His reincarnation is only a small one, whereas those (Christ and Buddha) are big. So, everyone reincarnates. They call out to the Supreme Father, the Supreme Soul, but they don’t know when or how He will come. He definitely has to enter a body. However, because He doesn’t take a physical birth, that is called the Reincarnation. He doesn’t become a small child. The biggest reincarnation is said to be that of the Supreme Father, the Supreme Soul. They sing that the Supreme Soul has 24 incarnations. They say that He also incarnated in every stone. They continue to fall down so much. Just as Bharat becomes degraded, whatever they say also continues to be degraded. The Father is the Creator of the new world so He would surely come at the confluence of the old and the new. His is called the biggest reincarnation of all. The reincarnation of Shiva is said to be the biggest of all. However, people don’t understand this because they have turned their faces away from the Supreme Soul. They definitely know about Him being incorporeal, but they don’t know when the Supreme Soul comes or what He does when He comes. It cannot be said that Vishnu has a reincarnation. The deity religion cannot be said to be a reincarnation. You would say that the deity religion is established. They create a play of the incarnation of Vishnu. In fact, there is no question of an incarnation of Vishnu. You are now becoming part of Vishnu’s clan. This is God’s clan. This Brahma is a child of Shiva and you are the children of Brahma. This is called the Godly clan. The Supreme Father, the Supreme Soul, says: I come and make you belong to Me. I come and become the Father of you children. I am everyone’s Father anyway but you now belong to Me through Brahma, and this is why you call Me Dada (Grandfather). I am the Father of souls anyway. You all know that I have come at this time. Only now do you meet Me. You meet the unlimited Father when He gives you birth. I have now adopted you through Brahma. You cannot be children born through vice. There are so many people. There are so many brothers and sisters and so all of them are the mouth-born creation. “A dynasty of sannyasis” is not said because there is no connection of grandfather or father in that. Here, there is the father and also Dada (Grandfather). This one is also called Dada (elder brother). The Father comes and makes you belong to Him. You know that you have come into God’s lap. This is an auspicious meeting. The end of the iron age and the beginning of the golden age is called the confluence age. The meeting takes place at the confluence age. There is a confluence of three rivers. What happens in that? There is the auspicious meeting between the gurus and their followers. That is physical. The auspicious meeting of souls and the Supreme Soul is remembered. This is the best; souls meet the Supreme Father, the Supreme Soul. There is no question of rivers of water in that. You are sitting here. This is your very important, auspicious meeting. Souls are living beings. The Supreme Father, the Supreme Soul, has taken this body on loan. This is called an auspicious meeting. It is said: The kumbh mela. A kumbh is also called a confluence. The meeting of the three rivers is named the Kumbh. What is the biggest confluence of all? That of the Ocean and the rivers. The biggest river is the Brahmaputra. Baba enters this one and so the meeting of the Ocean and the Brahmaputra is there anyway. It is now the kumbh mela of the confluence age. All of you meet the Father, the Ocean of Knowledge. This can be called the Godly kumbh mela. This is the meeting of souls with the Supreme Soul. Kumbh and confluence are one and the same thing. You children know that you are carrying out the establishment of heaven for yourselves. You have to remain pure while living at home. Where there is purity, that would be called heaven. When children remain pure, there is purity, peace and happiness. Your stage should be like that of the deities. You shouldn’t have any defects. That is called heaven. That then becomes heaven permanently. You have to become that worthy at home. This is why it is said: Make every home into heaven. You make human beings worthy of going to heaven. It is sung of you: Make every home into heaven. In the golden age, there was heaven in every home. It is not that any more. You have to give the children who claim the inheritance from the Father the aim of becoming pure from impure while sitting at home. This is the biggest of all living pilgrimages where Shiv Baba, the Ocean, and you souls, the Ganges of knowledge, would definitely be. This is the biggest and the highest mela of all. All those melas are of the path of devotion, whereas this is the mela of the path of knowledge. The melas of the path of devotion continue for birth after birth, whereas the mela of the path of knowledge only takes place once. This is a spiritual meeting. The Supreme Soul comes from the supreme abode to meet His children. This is the best pilgrimage and mela. This living Ocean can go anywhere, whereas non-living oceans do not go anywhere. This Ocean goes. You rivers also go on invitations. The Ocean of Knowledge moves with this River Brahmaputra. All of you are different types of river: some of you are pure and some are impure. Sometimes, many of those who are unable to remain pure come. At least they come. Even householders living outside come. They are allowed to come. It is not that everyone would be allowed. When some friends or relatives come, they are allowed to come in order to be uplifted. Otherwise, there are many regulations. No one impure can come into the Court of Indra. No guide or angel can bring anyone impure with them. This is why the Father says: Remain cautious. You receive a certificate. When you bring someone with you or when you send someone, the responsibility is yours. In fact, the centres give invitations. So many impure ones must be going there. It is only when impure ones go to a centre that you can make them pure. The Ocean is sitting here and this is why there are the disciplines. Their pulse is felt. There are many different doctors and surgeons. When Mama, Baba or the special children speak to them, they can instantly tell whether something sits in their intellects or not. When you explain to them that there are two fathers, they would instantly accept it. They are given the method. Everyone remembers the Supreme Father, the Supreme Soul. We are children of such a Father. It is just that you don’t know His occupation. You children have understood that whatever name and form a person comes with, he definitely has to have that name and form again after 5000 years. The picture of Christ can only be made identical to that at that time. The picture of another person could not be made like that. The form of Krishna cannot be the form of any other person. Souls have now become impure by taking different names, forms and places in different time periods. They are now being made pure. You know that the Father is the Benefactor and that Ravan is the one who causes you harm. It is the Father who gives everyone salvation. In that, it is not just human beings, but everything else also receives salvation. Hell is destroyed and heaven is established. Give invitations to whoever came in the previous cycle – Punjabis, Parsis etc. The Father has come. There is nothing wrong in beating the drums about this. Your pictures are very good. You are now becoming worthy of going to a temple. It requires a lot of effort to remove the evil spirits. It requires so much effort to remove the vices and defects in order to marry Lakshmi and Narayan. Some are slapped by the evil spirit of lust, some by the evil spirit of anger and others by the evil spirit of attachment. They then completely fall. They fall even because of greed. When some daughters from good homes see a sweet (mithai), they take it and secretly eat it. Greed has brought a loss to so many. They steal due to the influence of greed. At first you were in a bhatthi and everyone now has to create a bhatthi in their home. The Father created one big bhatthi. Now He says: You first have to stay in a bhatthi for seven days. Nowadays, it is very difficult for anyone to stay in a bhatthi. When someone goes to a centre he is coloured, but when he goes back home the colour fades away; there is the influence of bad company. It now requires a lot of effort. You children know that you are sitting in God’s clan. There is Dada, Baba and you brothers and sisters. The Brahmin clan is remembered as the most elevated clan. You can also give knowledge to those brahmins: Brahmins are the highest, the topknot. Only these confluence-aged Brahmins become deities. First of all, the Brahmins are even higher than the deities. The topknot is the highest. You brahmins worship the deities, and you consider yourselves to be worshippers and them to be worthy of worship. You can explain this to those worshipper-priest brahmins in the temples. You are the true confluence-aged Brahmins. You are the mouth-born creation of Brahma. You are now becoming deities. It would definitely be the Supreme Father, the Supreme Soul, who makes you into deities of heaven. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Check the defects within yourself and remove them. Beware of the influence of bad company. Imbibe divine virtues and make yourself worthy.
  2. Serve to make every home into heaven. Chase away the evil spirits by having remembrance of the Father. Continue to celebrate an auspicious meeting with the Father.
Blessing: May you be filled with all the treasures of fortune and make the Bestower of Fortune belong to you by using the easy method.
The method to make the Bestower of Fortune belong to you is to have a relationship with both Bap and Dada. Some children say that they have a direct connection with the incorporeal One, that the corporeal one has attained everything from the incorporeal One, and that they too will attain everything from Him. However, that is like using a damaged key. Your fortune cannot be created without you becoming a Brahma Kumar or Kumari. Without the corporeal one, you cannot become a master of the treasure-store of all fortune because the Bestower of Fortune distributes fortune through Brahma. So, know the method and become filled with all the treasures of fortune.
Slogan: Claim the certificate of contentment from yourself, from service and from everyone and you will become an embodiment of success.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 11 SEPTEMBER 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 11 September 2018

To Read Murli 10 September 2018 :- Click Here
11-09-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – घर-घर को स्वर्ग बनाने की जिम्मेवारी तुम बच्चों पर है, सबको पतित से पावन होने का लक्ष्य देना है, दैवीगुण धारण करने हैं”
प्रश्नः- ईश्वरीय गोद में आने से तुम बच्चों को कौन सा अनुभव होता है?
उत्तर:- मंगल मिलन मनाने का अनुभव ईश्वरीय गोद में आने वाले बच्चों को होता है। तुम जानते हो संगमयुग है ईश्वर से मिलन मनाने का युग। तुम ईश्वर से मिलन मनाकर भारत को स्वर्ग बना देते हो। इस समय तुम बच्चे सम्मुख मिलते हो। सारा कल्प कोई भी सम्मुख मिलन नहीं मना सकते। तुम्हारा यह बहुत छोटा सा ईश्वरीय कुल है, शिवबाबा है दादा, ब्रह्मा है बाबा और तुम बच्चे हो भाई-बहिन, दूसरा कोई संबंध नहीं।
गीत:- नई उमर की कलियां……..

ओम् शान्ति। बाबा जब आते हैं तो पहले कुछ समय साइलेन्स में बैठना चाहिए क्योंकि पहले-पहले दान दिया जाता है याद का। याद से ही पतितों को पावन बनाना है। तुम बच्चे दान दे रहे हो और ले रहे हो। बाप आकर कांटों से कलियां बनाते हैं फिर कलियों से फूल बनते हैं। तुम जानते हो हमारी सर्विस ही है – हर एक को स्वर्ग के लायक बनाना। जैसे तुम बन रहे हो।

बाप आकर पहले हेल्थ, पीछे वेल्थ देते हैं। पहले शान्ति फिर सुख। वास्तव में सुख दोनों में है। तुम बच्चों को सुख और शान्ति दोनों चाहिए और जो सन्यासी आदि हैं वह सिर्फ शान्ति चाहते हैं। सन्यासी सुख नहीं चाहते हैं। सुख तो वह दे न सकें। अगर शान्ति देवें तो भी अल्पकाल क्षण भंगुर सुख के लिए। कहते हैं कि सुख तो काग विष्टा समान है। सन्यासी बहुत करके शान्ति चाहते हैं मुक्ति के लिए। मुक्ति दूसरा कोई तो दे नहीं सकता। इसको बेहद की मुक्ति, बेहद की जीवनमुक्ति कहा जाता है, सो बेहद का बाप ही दे सकते हैं। तुम जानते हो इस समय सब कांटे हैं। कांटे चुभते हैं। बाप कहते हैं सब एक-दो को काम कटारी से मारते हैं। उनको पता नहीं है कि काम कटारी को हिंसा कहा जाता है। तुम विकार में जाते हो तो आदि-मध्य-अन्त एक-दो को दु:ख देते हो। यह है दु:ख की दुनिया। सुख की दुनिया स्वर्ग को कहा जाता है – जबकि नई सृष्टि नया भारत है। भारतवासी जो देवी-देवताओं के पुजारी हैं, जानते हैं कि इन देवताओं का राज्य था जिसको स्वर्ग कहा जाता है। यह भी महसूसता आती है। लक्ष्मी-नारायण के मन्दिर में जाकर उनकी महिमा गाते हैं। समझते हैं भारत के यह मालिक थे। भारत स्वर्ग था – यह भी महसूसता आती है, परन्तु हवा के मुआफिक। समझते तो हैं भारत में लक्ष्मी-नारायण के इतने मन्दिर बनाते हैं तो उन्हों की राजधानी थी। महाराजा-महारानी कहा जाता है। परन्तु कब थे सो भूल गये हैं। कितनी साधारण भूल है। कोई जास्ती टाइम नहीं हुआ है। पांच हजार वर्ष की बात है। क्राइस्ट, बुद्ध आदि को दो-अढ़ाई हजार वर्ष हुए हैं। उनके लिये ऐसे कहते हैं कि रीइनकारनेशन किया। यूँ तो री-इनकॉरनेट हरेक करते हैं। आत्मा आकर प्रवेश करती है इसको भी री-इनकारनेट कहेंगे। परन्तु पहले बड़ों का नाम गाया जाता है। कहा जाता है – परमपिता परमात्मा रीइनकारनेट करेंगे, तब आकर शरीर में प्रवेश करेंगे। रीइनकारनेट का अर्थ यह है। तो जो बड़े नामीग्रामी होते हैं उनके लिये यह कहा जाता है। जैसे बुद्ध का रीइनकारनेशन, क्राइस्ट का रीइनकारनेशन। बौद्धी और क्रिश्चियन का भारत से कने-क्शन देखने में आता है। गुरूनानक को 500 वर्ष के लगभग ही दिखाते हैं। उनका भी छोटा रीइनकारने-शन है। वह बड़े हैं। तो रीइनकारनेशन सब करते हैं। अब परमपिता परमात्मा को बुलाते हैं। परन्तु वह कब आयेगा, कैसे आयेगा – यह नहीं जानते। शरीर में तो जरूर आना होता है। परन्तु जन्म न लेने कारण उनको रीइनकारनेशन कहा जाता है। छोटा बच्चा तो नहीं बनते हैं। सबसे बड़ा रीइनकारनेशन परमपिता परमात्मा का कहेंगे। गाते हैं – परमात्मा 24 अवतार लेते हैं। अब कह देते पत्थर-पत्थर में अवतार लिया। गिरते जाते हैं। जैसे भारत गिरता जाता है वैसे उनकी कथनी भी गिरती जाती है। बाप नई दुनिया का रचयिता है। सो जरूर नई और पुरानी के संगम पर आयेंगे। उनको सबसे बड़ा रीइनकारनेशन कहेंगे। शिव का सबसे बड़ा रीइनकारनेशन है। परन्तु मनुष्य समझते नहीं हैं क्योंकि परमात्मा से बेमुख हुए हैं। निराकार से परिचित जरूर हैं परन्तु वह यह नहीं जानते कि परमात्मा कब आते हैं, क्या आकर करते हैं? ऐसे नहीं कि विष्णु का रीइनकारनेशन कहेंगे। देवी-देवता धर्म का रीइनकारनेशन नहीं कहेंगे। देवी-देवता धर्म की स्थापना कहेंगे।

विष्णु अवतरण का एक नाटक भी बनाते हैं। अब वास्तव में विष्णु अवतरण की तो बात ही नहीं। तुम अब विष्णु के कुल के बन रहे हो। ईश्वर का कुल है ना। यह शिव का बच्चा ब्रह्मा, ब्रह्मा के बच्चे तुम। इसको ईश्वरीय कुल कहा जाता है। परमपिता परमात्मा कहते हैं मैं आकर तुमको अपना बनाता हूँ। मैं आकर तुम बच्चों का बाप बनता हूँ। हूँ तो सबका बाप। परन्तु अभी तुम ब्रह्मा द्वारा मेरे बने हो, इसलिये तुम मुझे दादा कहते हो। आत्माओं का बाप तो है ही। सब जानते हैं इस समय मैं आया हुआ हूँ। तुम ही अभी मिलते हो। बेहद के बाप से तब मिलते हो जब बाप जन्म देते हैं। अभी तुमको धर्म का बच्चा बनाया है ब्रह्मा द्वारा। विकार के तो बच्चे हो न सकें। इतनी प्रजा है। बहनभाई कितने हैं तो यह सब मुख-वंशावली ठहरे ना। सन्यासियों की वंशावली नहीं होती है क्योंकि उनमें दादा-बाबा का कोई कनेक्शन नहीं है। यहाँ बाप भी है, दादा भी है। दादा इनको (बड़े भाई को) कहा जाता है। बाप आकर अपना बनाते हैं। तुम जानते हो हम ईश्वर की गोद में आये हैं। यह मंगल-मिलन है। कलियुग का अन्त और सतयुग की आदि – इसको ही संगम कहा जाता है। संगम में मिलन होता है। जैसे 3 नदियों का संगम है। उसमें क्या होता है? गुरू लोग और जिज्ञासू का मंगल-मिलन होता है। वह तो हो गया जिस्मानी। गाया भी हुआ है – आत्मा और परमात्मा का मंगल-मिलन। यह सबसे अच्छा है। आत्मायें मिलती हैं – परमपिता परमात्मा से। इसमें पानी के नदी की बात नहीं है। यहाँ तुम बैठे हो। यह तुम्हारा बहुत भारी मंगल-मिलन है। आत्मायें भी चैतन्य हैं। परमपिता परमात्मा का यह लोन लिया हुआ शरीर है, इनको मंगल मिलन कहा जाता है। कुम्भ का मेला कहा जाता है ना। कुम्भ को भी संगम कहेंगे। 3 नदियों के संगम का नाम कुम्भ रख दिया है। सबसे बड़ा संगम कौन-सा है? सागर और नदियों का। सबसे बड़ी नदी है ब्रह्मपुत्रा। उसमें बाबा आते हैं इसलिये सागर और ब्रह्मपुत्रा नदी का इकट्ठा मेला तो है ही। अब कुम्भ का मेला है – संगम पर। तुम सब ज्ञान सागर बाप से मिलते हो, इसको ईश्वरीय कुम्भ का मेला कह सकते हैं। यह है आत्माओं और परमात्मा का संगम। कुम्भ वा संगम, बात एक ही है। तो तुम बच्चे जानते हो हम अपने लिये स्वर्ग की स्थापना कर रहे हैं। हमको घर में पवित्र होकर रहना है। जहाँ पवित्रता है, वहाँ ही स्वर्ग कहेंगे। बच्चे पवित्र रहते हैं तो पवित्रता सुख-शान्ति है। तुम्हारी अवस्था ऐसी होनी चाहिये जैसे देवताओं की होती है। कोई भी अवगुण नहीं होना चाहिये, इसको ही स्वर्ग कहेंगे। वही फिर स्थाई स्वर्ग बन जाता है। घर में ऐसा लायक बनना है, इसलिये कहा जाता है घर-घर को स्वर्ग बनाओ। तुम मनुष्यों को स्वर्ग में चलने लायक बनाते हो। तुम्हारे लिये ही गीत है – घर-घर को स्वर्ग बनाओ। सतयुग में घर-घर में स्वर्ग था, अब नहीं है। जो बच्चे बाप से वर्सा लेते हैं उन्हों को अपने घर बैठे पतित से पावन बनने का लक्ष्य देना है।

यह बड़े ते बड़ा चैतन्य तीर्थ है। जहाँ शिवबाबा सागर है, वहाँ तुम आत्मायें गंगायें जरूर होंगी। यह सबसे बड़ा ऊंच ते ऊंच मेला है। वह सब हैं भक्ति मार्ग के मेले, यह है ज्ञान मार्ग का मेला। भक्ति मार्ग के मेले तो जन्म बाई जन्म लगते रहते हैं। ज्ञान मार्ग का मेला एक ही बार लगता है। यह है रूहानी मिलन। सुप्रीम रूह परमधाम से आकर बच्चों से मिलते हैं। सबसे अच्छी यात्रा या मेला यह है। यह चैतन्य सागर तो कहाँ भी जा सकते हैं। वह जड़ सागर तो कहाँ नहीं जाता। यह सागर जाता है। तुम नदियां भी जाती हो निमंत्रण पर। ज्ञान सागर इस ब्रह्मपुत्रा नदी के साथ चलते हैं। तुम भिन्न-भिन्न प्रकार की नदियां हो – कोई पवित्र हैं, कोई अपवित्र हैं। कोई-कोई समय ऐसे बहुत आ जाते हैं जो पवित्र नहीं रह सकते हैं। फिर भी आते तो हैं ना। बाहर के गृहस्थी भी आते हैं। एलाउ किया जाता है। ऐसे भी नहीं, सबको एलाउ करेंगे। कोई मित्र-सम्बन्धी आदि आते हैं, जिन्हों को उठाने के लिये एलाउ करते हैं। नहीं तो कायदे बहुत हैं। इन्द्रप्रस्थ में कोई पतित आ न सकें। कोई भी पण्डा वा सब्जपरी आदि कोई भी पतित को साथ में ले आ नहीं सकती इसलिये बाप कहते हैं ख़बरदार रहना, सर्टीफिकेट तुमको मिलता है। किसको साथ ले आती हो या भेज देती हो, रेसपान्सिबिलिटी तुम्हारे पर है। यूँ तो सेन्टर्स पर तो निमंत्रण भी देते हैं। कितने पतित आते होंगे। सेन्टर पर पतित आयें तब तो उनको पावन बनाओ। यहाँ तो सागर बैठा हुआ है तो नियम रखे हुए हैं। नब्ज देखी जाती है। डॉक्टर्स सर्जन तो भिन्न-भिन्न होते हैं ना। मम्मा-बाबा वा अनन्य बच्चे बात करेंगे तो झट पता लगेगा कि बुद्धि में बैठता है वा नहीं। तुम कोई को भी समझायेंगे कि दो बाप हैं तो झट मानेंगे। युक्ति बतलाई जाती है। परमपिता परमात्मा को तो सब याद करते हैं। हम फलाने बाप के बच्चे हैं। सिर्फ उनके आक्यूपेशन को नहीं जानते। यह तो तुम बच्चे समझ गये हो कि जिस-जिस नाम-रूप से जो मनुष्य आते हैं, उसी नाम-रूप से 5 हजार वर्ष बाद फिर आना है जरूर। क्राइस्ट का जो चित्र है, हूबहू फिर उसी समय ही हो सकता। ऐसा और किसी मनुष्य का हो नहीं सकता। कृष्ण का जो चित्र है वह फिर और किसी मनुष्य रूप में हो न सके। आत्मा भिन्न-भिन्न नाम, रूप, देश, काल में जन्म लेते-लेते अब पतित हो गई है, उसको फिर पावन बनाते हैं।

तुम जानते हो कल्याणकारी बाप है, अकल्याणकारी रावण है। सबको सद्गति देने वाला बाप है। फिर इसमें मनुष्य तो क्या सब चीज़ों की सद्गति हो जाती है। नर्क का विनाश, स्वर्ग की स्थापना होती है। जो कल्प पहले आये थे – कोई पंजाबी, कोई पारसी आते हैं ना, सभी को निमंत्रण देना है। बाप आया हुआ है – ढिंढोरा पीटने में भी हर्जा नहीं है। तुम्हारे चित्र भी बड़े अच्छे हैं। अभी तुम मन्दिर लायक बनते हो। अब भूतों को निकालने में बड़ी मेहनत है। लक्ष्मी अथवा नारायण को वरने लिये विकारी अवगुण निकालने में कितनी मेहनत लगती है। कोई को काम का भूत, कोई को क्रोध का भूत, किसको मोह का भूत थप्पड़ मार देते हैं। एकदम गिर पड़ते हैं। लोभवश भी गिर पड़ते हैं। अच्छे-अच्छे घर की बच्चियां मिठाई देखेंगी तो छिपाकर खा लेंगी। लोभ ने भी कितनों को नुकसान पहुँचाया है। लोभ के वश ही चोरी करते हैं। पहले तुम भट्ठी में थे। अभी तो सबको अपने घर में भट्ठी बनानी पड़े। बाप ने एक ही बड़ी भट्ठी बनाई। अभी तो कहते हैं पहले 7 रोज भट्ठी में रहना पड़े। आजकल किसका भट्ठी में बैठना बड़ा मुश्किल है। सेन्टर में भी आते हैं तो रंग चढ़ाते हो फिर घर में जाने से उड़ जाता है। संगदोष लग जाता है। अभी तो बड़ी मेहनत है।

अभी तुम बच्चे जानते हो हम ईश्वरीय कुल में बैठे हैं। दादा, बाबा और हम भाई-बहन हैं। ब्राह्मण कुल सर्वोत्तम गाया हुआ है। उन ब्राह्मणों को भी तुम ज्ञान दे सकते हो – ब्राह्मण हैं उत्तम चोटी, यह संगमयुगी ब्राह्मण ही फिर देवता बनते हैं, पहले तो देवताओं से भी ऊंच ब्राह्मण हैं, चोटी तो ऊंची ठहरी ना, तुम ब्राह्मण देवताओं की पूजा करते हो, अपने को पुजारी, उनको पूज्य समझते हो। तुम उन पुजारियों, ब्राह्मणों को भी यह समझा सकते हो। तुम तो हो सच्चे-सच्चे ब्राह्मण संगमयुगी। तुम ब्रह्मा मुख वंशावली हो, फिर तुम सो देवता बनते हो। स्वर्ग का देवता जरूर परमपिता परमात्मा ही बनायेंगे। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिये मुख्य सार :-

1. अन्दर के अवगुणों की जांच कर उन्हें निकालना है। संगदोष से अपनी सम्भाल करनी है। देवताई गुण धारण कर स्वयं को लायक बनाना है।

2. घर-घर को स्वर्ग बनाने की सेवा करनी है। भूतों को बाप की याद से भगाना है। बाप के साथ मंगल मिलन मनाते रहना है।

वरदान:- सहज विधि द्वारा विधाता को अपना बनाने वाले सर्व भाग्य के खजानों से भरपूर भव
भाग्य विधाता को अपना बनाने की विधि है-बाप और दादा दोनों के साथ संबंध। कई बच्चे कहते हैं हमारा तो डायरेक्ट निराकार से कनेक्शन है, साकार ने भी तो निराकार से पाया हम भी उनसे सब कुछ पा लेंगे। लेकिन यह खण्डित चाबी है, सिवाए ब्रह्माकुमार कुमारी बनने के भाग्य बन नहीं सकता। साकार के बिना सर्व भाग्य के भण्डारे का मालिक बन नहीं सकते क्योंकि भाग्य विधाता भाग्य बांटते ही हैं ब्रह्मा द्वारा। तो विधि को जानकर सर्व भाग्य के खजानों से भरपूर बनो।
स्लोगन:- स्वयं से, सेवा से, सर्व से सन्तुष्टता का सर्टीफिकेट लो तब सिद्धि स्वरूप बनेंगे।
Font Resize