daily murli 11 october

TODAY MURLI 11 OCTOBER 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 11 October 2020

11/10/20
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
31/03/86

The year to become full of all powers and to attain blessings.

Today, the Master of all treasures is looking at His master children. He is seeing to what extent you children have become masters. The sanskars of being masters at this time make the elevated souls who are now the masters of all treasures and powers into the masters of the world in the future. So, what did Baba see? That all of you are children and that all of you children have very deep love for just being “Baba and I”. All have the intoxication of being a child, but to be a master and a child means to become complete and equal to the Father. So, the Father saw a difference between the stage of being a child and the stage of being a master. To be a master means that at every step you take for yourself and others, your stage is automatically that of perfection. This is called being a master, that is, a child and a master. The speciality of being a master is that to the extent you have the intoxication of being a master, to that extent the sanskars of a world server will constantly be visible in you in an emerged form. To the extent you have the intoxication of being a master, you will simultaneously also have the intoxication of being a world server; the two will be equal. This is what it means to become a master, equal to the Father. So, Baba saw the result as to whether both forms of the child and the master – are constantly visible in action or only go as far as knowledge. There is a difference between knowledge and what is put into practice. Baba saw how some good children were equal to the Father in their practical actions. Even now, some children are still in their childhood stage. With the spiritual intoxication of being a master, they do sometimes become stable in a powerful stage of being equal to the Father, however at other times, they pass their time trying to stabilise in that stage.

All the children have the same elevated aim of becoming equal to the Father. The aim is powerful, but it now has to be put into thoughts, words, actions, relationships and connections. There is a difference in this. Some children remain stable in the stage of being equal to the extent of their thoughts. Some even stay in that stage in their thoughts and words. Sometimes, they even reach the level of actions. However, when they come into relationships and connections, whether it is relationships of service or even relationships with the family, that percentage reduces. To become equal to the Father means to remain in the stage equal to the Father’s in your thoughts, words, actions and relationships at the same time. Some remain in this stage in two subjects and some in three subjects, but when it comes to staying in this stage in all the four subjects that Baba spoke of, they are sometimes one thing and sometimes another. So, BapDada is always extremely loving towards the children. The form of love is not just to let you meet the avyakt form in the corporeal form, but the form of love is to make you equal. Some children think that BapDada is becoming free from attachment (detached), but this is not becoming free from attachment. This is a special form of love.

BapDada already told you earlier that there is now very little time left in terms of attainment over a long period of time. This is why, for the “long period of time”, BapDada is especially giving time to warm you children up with the tapasya of determination, that is, to make you strong and mature. In fact, you all had the thought for the Golden Jubilee that you would become equal, conquerors of obstacles and embodiments of solutions. All of those promises are noted by the Chitragupt form of the Father (One who keeps all accounts) in His account book. Today as well, some children had a determined thought. To surrender means to make yourself mature with all attainments. To surrender means to become equal to the Father in all four: thoughts, words, actions and relationships. The letters you gave and the thoughts you had have been recorded with BapDada for all time in the subtle region. Everyone’s file is there in the subtle region. This thought of each one of you has become eternal.

This year, BapDada is giving you the time to make every thought of yours immortal and eternal with the tapasya of determination, to have a spiritual conversation with yourself again and again with the practice of determination, to make you have realisation and then act in your form of a reincarnation and make these stages permanent and strong. Along with that, you especially have to increase your account of accumulating the power of pure thoughts. There is now a greater need to experience the power of pure thoughts by becoming even more introverted. With the power of pure thoughts you can easily finish your waste thoughts and with your good wishes and pure feelings you can bring about transformation in others. The special experience of the power of pure thoughts will now easily finish all waste thoughts: not just finish your waste thoughts but, with your good wishes and pure feelings, your pure thoughts can bring about transformation in others. There is now a great need to accumulate a stock of these pure thoughts for yourself. You love to hear the murli very much. Murli means treasure. To accumulate every point of the murli as power is to increase the power of pure thoughts. Use this at every moment as a power. You now have to pay special attention to this speciality. The more you now continue to experience the importance of pure thoughts, the more easily you will become experienced in serving through your mind. First of all, you need to accumulate the power of pure thoughts for yourself and you then become world benefactor and world transformer souls with the Father. The huge task of transforming the world with the power of pure thoughts still remains to be done. At present, Father Brahma, having become one with an avyakt form, is now sustaining all of you with the power of pure thoughts. He is co-operating with you for the growth of service and making you move forward. This is the special service taking place with the power of pure thoughts. So, become like Father Brahma and increase this speciality in yourselves, for you now have to practise this in the form of tapasya. Tapasya means to practise with determination. Anything ordinary would not be called tapasya, and so Baba is now giving you time for doing tapasya. Why is He giving it at this time? Because this time will be accumulated in your account of a “long period of time”. BapDada is instrumental in enabling everyone to experience attainment for a long period of time. BapDada wants to make all the children have a right to the fortune of the kingdom over a long period of time. So the time for a long period of time is very short. Therefore, in order for you to practise everything in the form of tapasya, Baba is giving you this special time, because such a time is to come when all of you will have to become bestowers and bestowers of blessings and give everyone these in a short time. So, Baba is giving you time to make your account of all treasures full.

Another thing: You promised to become destroyers of obstacles and embodiments of solutions. So let there be especially determined thoughts and the determination to become destroyers of obstacles for yourselves and for others. Let it not just be in thoughts, but also become that practically. So, this year, BapDada is giving an extra chance. Whoever wants to claim this special chance to become a destroyer of obstacles can take it this year. This year has a special blessing. However, in order to claim this blessing, you will have to pay special attention to two things. Firstly, be a constant bestower, equal to the Father, and do not have any expectation of receiving. Let it not be that you feel you will be loving when you receive regard or love, or that you will give regard when you receive regard; no. I have to be a child of the Bestower and give. I must not have any expectation of receiving. Whilst performing elevated actions, I must not have any expectation of receiving anything in return. The fruit of elevated actions is elevated anyway. You have this knowledge but do not have this thought at the time of doing. So, firstly, in order to be worthy of claiming blessings, constantly be a bestower. Secondly, be a destroyer of obstacles. So, especially pay attention to the power of accommodation. The power to accommodate is also essential for one self. You are children of the Ocean and the speciality of an ocean is to accommodate. Only those who have the power to accommodate will be able to have good wishes and benevolent feelings. Therefore, be a bestower, be an ocean, an embodiment of the power to accommodate. Always put these two specialities into every action. Sometimes, some children say that they thought they would do that, but when it came to doing it, something changed. So, this year, you especially have to practise bringing about equality in all four subjects at the same time. Do you understand? So, you are being given time to imbibe the sanskars of accumulating treasures and to become bestowers and bestow in a natural way. So, you are being given a chance to fix your number for all time in becoming destroyers of obstacles and making others this too. No matter what happens, do tapasya yourself and co-operate in finishing the obstacles of others. No matter how much you have to bow down, this bowing down is to swing constantly in swings. People continue to rock Shri Krishna with so much love. Similarly, the Father is rocking you children in the cradle of His lap. In the future, you will swing in swings studded with jewels and you will be worthy of worship and be swung in swings on the path of devotion. So, to bow down and to die is greatness. “Why should I bow down? The other person should bow down.” Do not consider yourself to be inferior in this. This bowing down is greatness. This dying is not dying, but living with eternal attainment. Therefore, constantly be a destroyer of obstacles and also make others this. Anyone who wants to claim a chance to come in the first division can do so. BapDada is telling you the importance of this special time for taking a chance. So do tapasya, knowing the importance of this time.

Thirdly, according to the time, to the extent that the atmosphere of peacelessness and upheaval is increasing, so, the line of your intellect has to be very clear, because the two powers of touching and catching are very necessary. Firstly, you must be able to catch BapDada’s directions with your intellect. If the line is not clear, then the dictates of your own mind will also be mixed with BapDada’s directions. Then, because of them being mixed, you will be deceived at that time. The clearer your intellect is, the more clearly you will be able to catch BapDada’s directions. The clearer the line of your intellect is, the more easily the powers for your self, for growth in service and for being a bestower and giving to others will easily continue to increase. You will have a touching at that time. This is the accurate method for serving a particular soul and the accurate method for self-progress. So, at present, both these powers are most essential. In order to increase them, you have to become one who is economical and belongs to One (Eknami). So, you belong to the one Father and none other. Attachment to others is something else. Attachment is wrong anyway, but the influence of the nature of others causes upheaval in your own stage. The sanskars of others create conflict in your intellect. At that time, do you have the Father or some sanskars in your intellect? Even if the intellect is influenced by attachment or conflict, the line of the intellect must be constantly clear. To belong to the one Father and none other is to be constantly with the One (Eknami). What is economy? Just saving physical wealth is not economy. That is also necessary, but time, thoughts and powers are also wealth and there has to be economy in all of these. Do not waste them. To be economical means to increase your account of accumulation. Those who have the sanskars of Eknami and economy will be able to experience both powers of touching and catching. You won’t be able to experience these at the time of destruction. This practice is needed at this time. Only by having this practice will you be able to receive elevated directions and liberation at the right time. You might think that there is still some time before destruction. OK, it might even be ten years, but if you try to make this effort after ten years, you won’t be able to. No matter how much you try, you won’t be able to make it. You will become weak and your end will then pass by in battling, not in being successful. You are not going to become silver-aged, are you? To labour means to have a bow and arrow. To be constantly lost in love and to stay in happiness means to become a murlidhar (one with a flute), to become part of the sun dynasty. A murli makes you dance, whereas a bow and arrow make you labour in trying to hit the target. So you mustn’t become one with a bow and arrow, but one who has a flute. Therefore, do not complain at the end and ask for a little more extra time. “Give us a chance and have mercy!” This will not do. This is why Baba is telling you in advance. Whether you have come at the end or at the beginning, according to the time, it is time for everyone to reach the last stage. So you have to move at a fast speed. Do you understand? Achcha.

To all the loving children everywhere, to the children seated on Baba’s heart-throne, to the children who show contentment, to the children who always have the personality of happiness, to those who always have broad and unlimited hearts, the ones who imbibe with unlimited and broad intellects, to the unlimited souls, BapDada’s love-filled remembrance and namaste.

Blessing: May you be a conqueror of Maya and a conqueror of the world and transform your enemies, the five vices, and make them co-operative.
A victorious person definitely transforms the form of his enemy. So, you also transform your enemies, the vices, and you make them into their co-operative form, so that they will always continue to bow down to you. Transform the vice of lust into good wishes, anger into spiritual intoxication, greed into being beyond temptation, attachment into love and arrogance of the body into self-respect and you will become a conqueror of Maya and a conqueror of the world.
Slogan: The consciousness of “mine” is the alloy mixed into real gold which reduces its value. Therefore, finish any consciousness of “mine”.

 

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 11 OCTOBER 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 11 October 2020

Murli Pdf for Print : – 

11-10-20
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 31-03-86 मधुबन

सर्वशक्ति-सम्पन्न बनने तथा वरदान पाने का वर्ष

आज सर्व खजानों के मालिक, अपने मास्टर बच्चों को देख रहे हैं। बालक सो मालिक, कहाँ तक बने हैं, यह देख रहे हैं। इस समय जो श्रेष्ठ आत्मायें सर्व शक्तियों के सर्व खजानों के मालिक बनते हैं वह मालिकपन के संस्कार भविष्य में भी विश्व के मालिक बनाते हैं। तो क्या देखा? बालक तो सभी हैं, बाबा और मैं यह लगन सभी बच्चों में अच्छी लग गई है। बालक पन का नशा तो सभी में हैं लेकिन बालक सो मालिक अर्थात् बाप समान सम्पन्न। तो बालकपन की स्थिति और मालिकपन की स्थिति, इसमें अन्तर देखा। मालिकपन अर्थात् हर कदम स्वत: ही सम्पन्न स्थिति में स्वयं का होगा और सर्व प्रति भी होगा। इसको कहते हैं मास्टर अर्थात् बालक सो मालिक। मालिकपन की विशेषता- जितना ही मालिकपन का नशा उतना ही विश्व सेवाधारी के संस्कार सदा इमर्ज रूप में हैं। जितना ही मालिकपन का नशा उतना ही साथ-साथ विश्व सेवाधारी का नशा। दोनों की समानता हो। यह है बाप समान मालिक बनना। तो यह रिजल्ट देख रहे थे कि बालक और मालिक दोनों स्वरूप सदा ही प्रत्यक्ष कर्म में आते हैं वा सिर्फ नॉलेज तक हैं! लेकिन नॉलेज और प्रत्यक्ष कर्म में अन्तर है। कई बच्चे इस समानता में बाप समान प्रत्यक्ष कर्म रूप में अच्छे देखे। कई बच्चे अभी भी बालक-पन में रहते हैं लेकिन मालिकपन के उस रूहानी नशे में बाप समान बनने की शक्तिशाली स्थिति में कभी स्थित होते हैं और कभी स्थित होने के प्रयत्न में समय चला जाता है।

लक्ष्य सभी बच्चों का यही श्रेष्ठ है कि बाप समान बनना ही है। लक्ष्य शक्तिशाली है। अब लक्ष्य को संकल्प, बोल, कर्म, सम्बन्ध-सम्पर्क में लाना है। इसमें अन्तर पड़ जाता है। कोई बच्चे संकल्प तक समान स्थिति में स्थित रहते हैं। कोई संकल्प के साथ वाणी तक भी आ जाते हैं। कभी-कभी कर्म में भी आ जाते हैं। लेकिन जब सम्बन्ध, सम्पर्क में आते, सेवा के सम्बन्ध में आते, चाहे परिवार के सम्बन्ध में आते, इस सम्बन्ध और सम्पर्क में आने में परसेन्टेज कभी कम हो जाती है। बाप समान बनना अर्थात् एक ही समय संकल्प, बोल, कर्म, सम्बन्ध सबमें बाप समान स्थिति में रहना। कोई दो में रहते कोई तीन में रहते। लेकिन चारों ही स्थिति जो बताई उसमें कभी कैसे, कभी कैसे हो जाते हैं। तो बापदादा बच्चों के प्रति सदा अति स्नेही भी हैं। स्नेह का स्वरूप सिर्फ अव्यक्त का व्यक्त रूप में मिलना नहीं है। लेकिन स्नेह का स्वरूप है समान बनना। कई बच्चे ऐसे सोचते हैं कि बापदादा निर्मोही बन रहे हैं। लेकिन यह निर्मोही बनना नहीं है। यह विशेष स्नेह का स्वरूप है।

बापदादा पहले से ही सुना चुके हैं कि बहुत-काल की प्राप्ति के हिसाब का समय अभी बहुत कम है इसलिए बापदादा बच्चों को सदा बहुतकाल के लिए विशेष दृढ़ता की तपस्या द्वारा स्वयं को तपाना अर्थात् मजबूत करना, परिपक्व करना इसके लिए यह विशेष समय दे रहे हैं। वैसे तो गोल्डन जुबली में भी सभी ने संकल्प किया कि समान बनेंगे, विघ्न-विनाशक बनेंगे, समाधान स्वरूप बनेंगे। यह सब वायदे बाप के पास चित्रगुप्त के रूप में हिसाब के खाते में नूँधे हुए हैं। आज भी कई बच्चों ने दृढ़ संकल्प किया। समर्पण होना अर्थात् स्वयं को सर्व प्राप्तियों में परिपक्व बनाना। समर्पणता का अर्थ ही है संकल्प, बोल, कर्म और सम्बन्ध इन चारों में ही बाप समान बनना। पत्र जो लिखकर दिया वह पत्र वा संकल्प सूक्ष्मवतन में बापदादा के पास सदा के लिए रिकार्ड में रह गया। सबकी फाइल्स वहाँ वतन में हैं। हर एक का यह सकंल्प अविनाशी हो गया।

इस वर्ष बच्चों के दृढ़ता की तपस्या से हर संकल्प को अमर, अविनाशी बनाने के लिए स्वयं से बार-बार दृढ़ता के अभ्यास से रूह-रिहान करने के लिए, रियलाइजेशन करने के लिए और रीइनकारनेट स्वरूप बन फिर कर्म में आने के लिए इस स्थिति को सदाकाल के लिए और मजबूत करने के लिए, बापदादा यह समय दे रहे हैं। साथ-साथ विशेष रूप में शुद्ध संकल्प की शक्ति से जमा का खाता और बढ़ाना है। शुद्ध संकल्प की शक्ति का विशेष अनुभव अभी और अन्तर्मुखी बन करने की आवश्यकता है। शुद्ध संकल्पों की शक्ति सहज व्यर्थ संकल्पों को समाप्त कर दूसरों के प्रति भी शुभ भावना, शुभ कामना के स्वरूप से परिवर्तन कर सकते हैं। अभी इस शुद्ध संकल्प के शक्ति का विशेष अनुभव सहज ही व्यर्थ संकल्पों को समाप्त कर देता है। न सिर्फ अपने व्यर्थ संकल्प लेकिन आपके शुद्ध संकल्प, दूसरों के प्रति भी शुभ भावना, शुभ कामना के स्वरूप से परिवर्तन कर सकते हैं। अभी इस शुद्ध संकल्प के शक्ति का स्टॉक स्वयं के प्रति भी जमा करने की बहुत आवश्यकता है। मुरली सुनना यह लगन तो बहुत अच्छी है। मुरली अर्थात् खजाना। मुरली की हर पाइंट को शक्ति के रूप में जमा करना – यह है शुद्ध संकल्प की शक्ति को बढ़ाना। शक्ति के रूप में हर समय कार्य में लगाना। अभी इस विशेषता का विशेष अटेन्शन रखना है। शुद्ध संकल्प की शक्ति के महत्व को अभी जितना अनुभव करते जायेगे उतना मन्सा सेवा के भी सहज अनुभवी बनते जायेंगे। पहले तो स्वयं के प्रति शुद्ध संकल्पों की शक्ति जमा चाहिए और फिर साथ-साथ आप सभी बाप के साथ विश्व कल्याणकारी आत्मायें विश्व परिवर्तक आत्मायें हो। तो विश्व के प्रति भी यह शुद्ध संकल्पों की शक्ति द्वारा परिवर्तन करने का कार्य अभी बहुत रहा हुआ है। जैसे वर्तमान समय ब्रह्मा बाप अव्यक्त रूपधारी बन शुद्ध संकल्प की शक्ति से आप सबकी पालना कर रहे हैं। सेवा की वृद्धि के सहयोगी बन आगे बढ़ा रहे हैं। यह विशेष सेवा शुद्ध संकल्प के शक्ति की चल रही है। तो ब्रह्मा बाप समान अभी इस विशेषता को अपने में बढ़ाने का तपस्या के रूप में अभ्यास करना है। तपस्या अर्थात् दृढ़ता सम्पन्न अभ्यास। साधारण को तपस्या नहीं कहेंगे तो अभी तपस्या के लिए समय दे रहे हैं। अभी ही क्यों दे रहे हैं? क्योंकि यह समय आपके बहुत-काल में जमा हो जायेगा। बापदादा सभी को बहुतकाल की प्राप्ति कराने के निमित्त हैं। बापदादा सभी बच्चों को बहुतकाल के राज्य भाग्य अधिकारी बनाना चाहते हैं। तो बहुत-काल का समय बहुत थोड़ा है इसलिए हर बात के अभ्यास को तपस्या के रूप में करने के लिए यह विशेष समय दे रहे हैं क्योंकि समय ऐसा आयेगा – जिसमें आप सभी को दाता और वरदाता बन थोड़े समय में अनेकों को देना पड़ेगा। तो सर्व खजानों के जमा का खाता सम्पन्न बनाने के लिए समय दे रहे हैं।

दूसरी बात – विघ्न-विनाशक वा समाधान स्वरूप बनने का जो वायदा किया है तो विघ्न-विनाशक स्वयं के प्रति भी और सर्व के प्रति भी बनने का विशेष दृढ़ संकल्प और दृढ़ स्वरूप दोनों हो। सिर्फ संकल्प नहीं लेकिन स्वरूप भी हो। तो इस वर्ष बापदादा एकस्ट्रा चांस दे रहे हैं। जिसको भी यह विघ्न विनाशक बनने का विशेष भाग्य लेना है वह इस वर्ष में ले सकते हैं। इस वर्ष को विशेष वरदान है। लेकिन वरदान लेने के लिए विशेष दो अटेन्शन देने पड़ेगे। एक तो सदा बाप समान देने वाले बनना है, लेने की भावना नहीं रखनी है। रिगार्ड मिले, स्नेह मिले तब स्नेही बनें, व रिगार्ड मिले तब रिगार्ड दें, नहीं। दाता के बच्चे बन मुझे देना है। लेने की भावना नहीं रखना। श्रेष्ठ कर्म करते हुए दूसरे तरफ से मिलना चाहिए यह भावना नहीं रखना। श्रेष्ठ कर्म का फल श्रेष्ठ होता ही है। यह नॉलेज आप जानते हो लेकिन करने समय यह संकल्प नहीं रखना। एक तो वरदान लेने के पात्र बनने के लिए सदा दाता बन करके रहना और दूसरा विघ्न विनाशक बनना है, तो समाने की शक्ति सदा विशेष रूप में अटेन्शन में रखना। स्वयं प्रति भी समाने की शक्ति आवश्यक है। सागर के बच्चे हैं, सागर की विशेषता है ही समाना। जिसमें समाने की शक्ति होगी वही शुभ भावना, कल्याण की कामना कर सकेंगे इसलिए दाता बनना, समाने के शक्ति स्वरूप सागर बनना। यह दो विशेषतायें सदा कर्म तक लाना। कई बार कई बच्चे कहते हैं सोचा तो था कि यही करेंगे लेकिन करने में बदल गया। तो इस वर्ष में चारों ही बातों में एक ही समय समानता का विशेष अभ्यास करना है। समझा। तो एक बात खजानों को जमा करने का और दाता बन देने का संस्कार नैचुरल रूप में धारण हो जाए उसके लिए समय दे रहे हैं। तो विघ्न-विनाशक बनना और बनाना, इसमें सदा के लिए अपना नम्बर निश्चित करने का चांस दे रहे हैं। कुछ भी हो स्वयं तपस्या करो और किसका विघ्न समाप्त करने में सहयोगी बनो। खुद कितना भी झुकना पड़े लेकिन यह झुकना सदा के लिए झूलों में झूलना है। जैसे श्रीकृष्ण को कितना प्यार से झुलाते रहते हैं। ऐसे अभी बाप तुम बच्चों को अपनी गोदी के झूले में झुलायेंगे और भविष्य में रत्न जड़ित झूलों में झूलेंगे और भक्ति में पूज्य बन झुले में झूलेंगे। तो झुकना, मिटना यह महानता है। मैं क्यों झुकूँ, यह झुकें, इसमें अपने को कम नहीं समझो। यह झुकना महानता है। यह मरना, मरना नहीं, अविनाशी प्राप्तियों में जीना है इसलिए सदा विघ्न-विनाशक बनना और बनाना है। इसमें फर्स्ट डिवीजन में आने का जिसको चांस लेना हो वह ले सकते हैं। यह विशेष चांस लेने के समय का बापदादा महत्व सुना रहे हैं। तो समय के महत्व को जान तपस्या करना।

तीसरी बात – समय प्रमाण जितना वायुमण्डल अशान्ति और हलचल का बढ़ता जा रहा है उसी प्रमाण बुद्धि की लाइन बहुत क्लीयर होनी चाहिए क्योंकि समय प्रमाण टचिंग और कैचिंग इन दो शक्तियों की आवश्यकता है। एक तो बापदादा के डायरेक्शन को बुद्धि द्वारा कैच कर सको। अगर लाइन क्लीयर नहीं होगी तो बाप के डायरेक्शन साथ मनमत भी मिक्स हो जाती। और मिक्स होने के कारण समय पर धोखा खा सकते हैं। जितनी बुद्धि स्पष्ट होगी उतना बाप के डायरेक्शन को स्पष्ट कैच कर सकेंगे। और जितना बुद्धि की लाइन क्लीयर होगी, उतना स्वयं की उन्नति प्रति, सेवा की वृद्धि प्रति और सर्व आत्माओं के दाता बन देने की शक्तियां सहज बढ़ती जायेंगी और टचिंग होगी इस समय इस आत्मा के प्रति सहज सेवा का साधन वा स्व-उन्नति का साधन यही यथार्थ है। तो वर्तमान समय प्रमाण यह दोनों शक्तियों की बहुत आवश्यकता है। इसको बढ़ाने के लिए एकनामी और एकानामी वाले बनना। एक बाप दूसरा न कोई। दूसरे का लगाव और चीज़ है। लगाव तो रांग है ही है लेकिन दूसरे के स्वभाव का प्रभाव अपनी अवस्था को हलचल में लाता है। दूसरे का संस्कार बुद्धि को टक्कर में लाता है। उस समय बुद्धि में बाप है या संस्कार है? चाहे लगाव के रूप में बुद्धि को प्रभावित करे, चाहे टकराव के रूप में बुद्धि को प्रभावित करे लेकिन बुद्धि की लाइन सदा क्लीयर हो। एक बाप दूसरा न कोई इसको कहते हैं एकनामी और एकॉनामी क्या है? सिर्फ स्थूल धन की बचत को एकॉनामी नहीं कहते। वह भी जरूरी है लेकिन समय भी धन है, संकल्प भी धन है, शक्तियां भी धन हैं, इन सबकी एकॉनामी। व्यर्थ नहीं गँवाओ। एकॉनामी करना अर्थात् जमा का खाता बढ़ाना। एकनामी और एकॉनामी के संस्कार वाले यह दोनों शक्तियां (टचिंग और कैचिंग) का अनुभव कर सकेंगे। और यह अनुभव विनाश के समय नहीं कर सकेंगे, यह अभी से अभ्यास चाहिए। तब समय पर इस अभ्यास के कारण अन्त में श्रेष्ठ मत और गति को पा सकेंगे। आप समझो कि अभी विनाश का समय कुछ तो पड़ा है। चलो 10 वर्ष ही सही। लेकिन 10 वर्ष के बाद फिर यह पुरूषार्थ नहीं कर सकेंगे। कितनी भी मेहनत करो, नहीं कर सकेंगे। कमजोर हो जायेंगे। फिर अन्त युद्ध में जायेगी। सफलता में नहीं। त्रेतायुगी तो नहीं बनना है ना। मेहनत अर्थात् तीर कमान। और सदा मुहब्बत में रहना, खुशी में रहना अर्थात् मुरलीधर बनना, सूर्यवंशी बनना। मुरली नचाती है और तीर कमान निशाना लगाने के लिए मेहनत कराता है। तो कमानधारी नहीं मुरली वाला बनना है इसलिए पीछे कोई उल्हना नहीं देना कि थोड़ा-सा फिर से एकस्ट्रा समय दे दो। चांस दे दो वा कृपा कर लो। यह नहीं चलेगा इसलिए पहले से सुना रहे हैं। चाहे पीछे आया है या आगे लेकिन समय के प्रमाण तो सभी को लास्ट स्टेज पर पहुंचने का समय है। तो ऐसी फास्ट गति से चलना पड़े। समझा। अच्छा।

चारों ओर के सर्व स्नेही बच्चों को, सदा दिलतख्त नशीन बच्चों को, सदा सन्तुष्टता की झलक दिखाने वाले बच्चों को, सदा प्रसन्नता की पर्सनैलिटी में रहने वाले बच्चों को, सदा बेहद विशाल दिल, बेहद की विशाल बुद्धि धारण करने वाली, विशाल आत्माओं को बापदादा का स्नेह सम्पन्न यादप्यार और नमस्ते।

वरदान:- 5 विकार रूपी दुश्मन को परिवर्तित कर सहयोगी बनाने वाले मायाजीत जगतजीत भव
विजयी, दुश्मन का रूप परिवर्तन जरूर करता है। तो आप विकारों रूपी दुश्मन को परिवर्तित कर सहयोगी स्वरूप बना दो जिससे वे सदा आपको सलाम करते रहेंगे। काम विकार को शुभ कामना के रूप में, क्रोध को रूहानी खुमारी के रूप में, लोभ को अनासक्त वृत्ति के रूप में, मोह को स्नेह के रूप में और देहाभिमान को स्वाभिमान के रूप में परिवर्तित कर दो तो मायाजीत जगतजीत बन जायेंगे।
स्लोगन:- रीयल गोल्ड में मेरा पन ही अलाए है, जो वैल्यु को कम कर देता है इसलिए मेरेपन को समाप्त करो।

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 11 OCTOBER 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 11 October 2019

To Read Murli 10 October 2019:- Click Here
11-10-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – बेहद की अपार खुशी का अनुभव करने के लिए हर पल बाबा के साथ रहो”
प्रश्नः- बाप से किन बच्चों को बहुत-बहुत ताकत मिलती है?
उत्तर:- जिन्हें निश्चय है कि हम बेहद विश्व का परिवर्तन करने वाले हैं, हमें बेहद विश्व का मालिक बनना है। हमें पढ़ाने वाला स्वयं विश्व का मालिक बाप है। ऐसे बच्चों को बहुत ताकत मिलती है।

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे रूहानी बच्चों को वा आत्माओं को रूहानी बाप परमपिता परमात्मा बैठ पढ़ाते हैं और समझाते हैं क्योंकि बच्चे ही पावन बनकर स्वर्ग के मालिक बनने वाले हैं फिर से। सारे विश्व का बाप तो एक ही है। यह बच्चों को निश्चय होता है। सारे विश्व का बाप, सभी आत्माओं का बाप तुम बच्चों को पढ़ा रहे हैं। इतना दिमाग में बैठता है? क्योंकि दिमाग है तमोप्रधान, लोहे का बर्तन, आइरन एजड। दिमाग आत्मा में होता है। तो इतना दिमाग में बैठता है? इतनी ताकत मिलती है समझने की कि बरोबर बेहद का बाप हमको पढ़ा रहे हैं, हम बेहद विश्व को पलटते हैं। इस समय बेहद सृष्टि को दोज़क कहा जाता है। यह जानते हो या समझते हो गरीब दोज़क में हैं बाकी सन्यासी, साहूकार, बड़े मर्तबे वाले बहिश्त में हैं? बाप समझाते हैं इस समय जो भी मनुष्यमात्र हैं सब दोज़क में हैं। यह सब समझने की बातें हैं कि आत्मा कितनी छोटी है। इतनी छोटी आत्मा में सारी नॉलेज ठहरती नहीं है या भुला देते हो? विश्व की सर्व आत्माओं का बाप तुम्हारे सम्मुख बैठ तुमको पढ़ा रहे हैं। सारा दिन बुद्धि में यह याद रहता है कि बरोबर बाबा हमारे साथ यहाँ है? कितना समय बैठता है? घण्टा, आधा घण्टा या सारा दिन? यह दिमाग में रखने की भी ताकत चाहिए। ईश्वर परम-पिता परमात्मा तुमको पढ़ाते हैं। बाहर में जब अपने घरों में रहते हो तो वहाँ साथ नहीं है। यहाँ प्रैक्टिकल में तुम्हारे साथ है। जैसे कोई का पति बाहर में, पत्नी यहाँ है तो ऐसे थोड़ेही कहेगी कि हमारे साथ है। बेहद का बाप तो एक ही है। बाप सबमें तो नहीं है ना। बाप जरूर एक जगह बैठता होगा। तो यह दिमाग में आता है कि बेहद का बाप हमको नई दुनिया का मालिक बनाने के लायक बना रहे हैं? दिल में इतना अपने को लायक समझते हो कि हम सारे विश्व के मालिक बनने वाले हैं? इसमें तो बहुत खुशी की बात है। इससे जास्ती खुशी का खजाना तो कोई को मिलता नहीं। अभी तुमको मालूम पड़ा है यह बनने वाले हैं। यह देवतायें कहाँ के मालिक हैं, यह भी समझते हो। भारत में ही देवताएं होकर गये हैं। यह तो सारे विश्व का मालिक बनने वाले हैं। इतना दिमाग में है? वह चलन है? वह बातचीत करने का ढंग है, वह दिमाग है? कोई बात में झट गुस्सा कर दिया, किसको नुकसान पहुँचाया, किसकी ग्लानि कर दी, ऐसी चलन तो नहीं चलते? सतयुग में यह कभी कोई की ग्लानि थोड़ेही करते हैं। वहाँ ग्लानि के छी-छी ख्यालात वाले होंगे ही नहीं। बाप तो बच्चों को कितना जोर से उठाते हैं। तुम बाप को याद करो तो पाप कट जायेंगे। तुम हाथ उठाते हो परन्तु तुम्हारी ऐसी चलन है? बाप बैठ पढ़ाते हैं, यह दिमाग में जोर से बैठता है? बाबा जानते हैं बहुतों का नशा सोडावाटर हो जाता है। सबको इतनी खुशी का पारा नहीं चढ़ता है। जब बुद्धि में बैठे तब नशा चढ़े। विश्व का मालिक बनाने के लिए बाप ही पढ़ाते हैं।

यहाँ तो सब हैं पतित, रावण सम्प्रदाय। कथा है ना – राम ने बन्दरों की सेना ली। फिर यह-यह किया। अभी तुम जानते हो बाबा रावण पर जीत पहनाकर लक्ष्मी-नारायण बनाते हैं। यहाँ तुम बच्चों से कोई पूछते हैं, तुम फट से कहेंगे हमको भगवान पढ़ाते हैं। भगवानुवाच, जैसे टीचर कहेंगे हम तुमको बैरिस्टर अथवा फलाना बनाते हैं। निश्चय से पढ़ाते हैं और वह बन जाते हैं। पढ़ने वाले भी नम्बरवार होते हैं ना। फिर पद भी नम्बरवार पाते हैं, यह भी पढ़ाई है। बाबा एम आब्जेक्ट सामने दिखा रहे हैं। तुम समझते हो इस पढ़ाई से हम यह बनेंगे। खुशी की बात है ना। आई.सी.एस. पढ़ने वाले भी समझेंगे – हम यह पढ़कर फिर यह करेंगे, घर बनायेंगे, ऐसा करेंगे। बुद्धि में चलता है। यहाँ फिर तुम बच्चों को बाप बैठ पढ़ाते हैं। सबको पढ़ना है, पवित्र बनना है। बाप से प्रतिज्ञा करनी है कि हम कोई भी अपवित्र कर्म नहीं करेंगे। बाप कहते हैं अगर कोई उल्टा काम कर लिया तो की कमाई चट हो जायेगी। यह मृत्युलोक पुरानी दुनिया है। हम पढ़ते हैं नई दुनिया के लिए। यह पुरानी दुनिया तो खत्म हो जानी है। सरकमस्टांश भी ऐसे हैं। बाप हमको पढ़ाते ही हैं अमरलोक के लिए। सारी दुनिया का चक्र बाप समझाते हैं। हाथ में कोई भी पुस्तक नहीं है, ओरली ही बाप समझाते हैं। पहली-पहली बात बाप समझाते हैं – अपने को आत्मा निश्चय करो। आत्मा भगवान बाप का बच्चा है। परम-पिता परमात्मा परमधाम में रहते हैं। हम आत्मायें भी वहाँ रहती हैं। फिर वहाँ से नम्बरवार यहाँ आते जाते हैं पार्ट बजाने के लिए। यह बड़ी बेहद की स्टेज है। इस स्टेज पर पहले एक्टर्स पार्ट बजाने भारत में, नई दुनिया में आते हैं। यह उन्हों की एक्टिविटी है। तुम उनकी महिमा भी गाते हो। क्या उन्हों को मल्टी-मिल्युनर कहेंगे? उन लोगों के पास तो अनगिनत अथाह धन रहता है। बाप तो ऐसे कहेंगे ना – यह लोग, क्योंकि बाप तो बेहद का है। यह भी ड्रामा बना हुआ है। तो जैसे शिवबाबा ने इन्हों को ऐसा साहूकार बनाया तो भक्तिमार्ग में फिर उनका (शिव का) मन्दिर बनाते हैं पूजा के लिए। पहले-पहले उनकी पूजा करते हैं जिसने पूज्य बनाया। बाप रोज़-रोज़ समझाते तो बहुत हैं, नशा चढ़ाने के लिए। परन्तु नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार जो सम-झते हैं, वह सर्विस में लगे रहते हैं तो ताजे रहते हैं। नहीं तो बांसी हो जाते हैं। बच्चे जानते हैं बरोबर यह भारत में राज्य करते थे तो और कोई धर्म नहीं था। डीटीज्म ही थी। फिर बाद में और-और धर्म आये हैं। अभी तुम समझते हो यह सृष्टि का चक्र कैसे फिरता है। स्कूल में एम ऑब्जेक्ट तो चाहिए ना। सतयुग आदि में यह राज्य करते थे फिर 84 के चक्र में आये हैं। बच्चे जानते हैं यह है बेहद की पढ़ाई। जन्म-जन्मान्तर तो हद की पढ़ाई पढ़ते आये हो, इसमें बड़ा पक्का निश्चय चाहिए। सारे सृष्टि को पलटाने वाला, रिज्युवनेट करने वाला अर्थात् नर्क को स्वर्ग बनाने वाला बाप हमको पढ़ा रहे हैं। इतना जरूर है मुक्तिधाम तो सब जा सकते हैं। स्वर्ग में तो सभी नहीं आयेंगे। यह अब तुम जानते हो हमको बाप इस विषय सागर वेश्यालय से निकालते हैं। अभी बरोबर वेश्यालय है। कब से शुरू होता है, यह भी तुम जान चुके हो। 2500 वर्ष हुआ जब यह रावण राज्य शुरू हुआ है। भक्ति शुरू हुई है। उस समय देवी-देवता धर्म वाले ही हैं, वह वाम मार्ग में आ गये। भक्ति के लिए ही मन्दिर बनाते हैं। सोमनाथ का मन्दिर कितना बड़ा बनाया हुआ है। हिस्ट्री तो सुनी है। मन्दिर में क्या था! तो उस समय कितने धनवान होंगे! सिर्फ एक मन्दिर तो नहीं होगा ना। हिस्ट्री में करके एक का नाम डाला है। मन्दिर तो बहुत से राजायें बनाते हैं। एक-दो को देख पूजा तो सब करेंगे ना। ढेर मन्दिर होंगे। सिर्फ एक को तो नहीं लूटा होगा। दूसरे भी मन्दिर आसपास होंगे। वहाँ गांव कोई दूर-दूर नहीं होते हैं। एक-दो के नजदीक ही होते हैं क्योंकि वहाँ ट्रेन आदि तो नहीं होगी ना। बहुत नजदीक एक-दो के रहते होंगे फिर आहिस्ते-आहिस्ते सृष्टि फैलती जाती है।

अभी तुम बच्चे पढ़ रहे हो। बड़े ते बड़ा बाप तुमको पढ़ाते हैं। यह तो नशा होना चाहिए ना। घर में कभी रोना पीटना नहीं है। यहाँ तुमको दैवी गुण धारण करने हैं। इस पुरूषोत्तम संगमयुग में तुम बच्चों को पढ़ाया जाता है। यह है बीच का समय जबकि तुम चेन्ज होते हो। पुरानी दुनिया से नई दुनिया में जाना है। अभी तुम पुरू-षोत्तम संगमयुग पर पढ़ रहे हो। भगवान तुमको पढ़ाते हैं। सारी दुनिया को पलटाते हैं। पुरानी दुनिया को नया बना देते हैं, जिस नई दुनिया का फिर तुमको मालिक बनना है। बाप बांधा हुआ है तुमको युक्ति बताने के लिए। तो फिर तुम बच्चों को भी उस पर अमल करना है। यह तो समझते हो हम यहाँ के रहने वाले नहीं हैं। तुम यह थोड़ेही जानते थे कि हमारी राजधानी थी। अभी बाप ने समझाया है – रावण के राज्य में तुम बहुत दु:खी हो। इसको कहा ही जाता है विकारी दुनिया। यह देवतायें हैं सम्पूर्ण निर्विकारी। अपने को विकारी कहते हैं। अब यह रावण राज्य कब से शुरू हुआ, क्या हुआ ज़रा भी किसको पता नहीं है। बुद्धि बिल्कुल तमोप्रधान है। पारसबुद्धि सतयुग में थे, तो विश्व के मालिक थे, अथाह सुखी थे। उसका नाम ही है सुखधाम। यहाँ तो अथाह दु:ख हैं। सुख की दुनिया और दु:ख की दुनिया कैसे है – यह भी बाप समझाते हैं। सुख कितना समय, दु:ख कितना समय चलता है, मनुष्य तो कुछ नहीं जानते। तुम्हारे में भी नम्बरवार समझते रहते हैं। समझाने वाला तो है बेहद का बाप। कृष्ण को बेहद का बाप थोड़ेही कहेंगे। दिल से लगता ही नहीं। परन्तु किसको बाप कहें – कुछ भी समझते नहीं। भगवान समझाते हैं मेरी ग्लानि करते हैं, मैं तुमको देवता बनाता हूँ, मेरी कितनी ग्लानि की है फिर देवताओं की भी ग्लानि कर दी है, इतने मूढ़मती मनुष्य बन पड़े हैं। कहते हैं भज गोविन्द……। बाप कहते हैं – हे मूढ़मती, गोविन्द-गोविन्द, राम-राम कहते बुद्धि में कुछ आता नहीं कि किसको भजते हैं। पत्थरबुद्धि को मूढ़मती ही कहेंगे। बाप कहते हैं अब मैं तुमको विश्व का मालिक बनाता हूँ। बाप सर्व का सद्गति दाता है।

बाप समझाते हैं तुम अपने परिवार आदि में कितने फँसे हुए हो! भगवान जो कहते हैं वह तो बुद्धि में लाना चाहिए परन्तु आसुरी मत पर हिरे हुए हैं तो ईश्वरीय मत पर चलें कैसे! गोविन्द कौन है, क्या चीज है, वह भी जानते नहीं। बाप समझाते हैं तुम कहेंगे बाबा आपने अनेक बार हमें समझाया है। यह भी ड्रामा में नूँध है, बाबा हम फिर से आपसे यह वर्सा ले रहे हैं। हम नर से नारायण जरूर बनेंगे। स्टूडेन्ट को पढ़ाई का नशा जरूर रहता है, हम यह बनेंगे। निश्चय रहता है। अब बाप कहते हैं तुमको सर्वगुण सम्पन्न बनना है। कोई से क्रोध आदि नहीं करना है। देवताओं में 5 विकार होते नहीं। श्रीमत पर चलना चाहिए। श्रीमत पहले-पहले कहती है अपने को आत्मा समझो। तुम आत्मा परमधाम से यहाँ आई हो पार्ट बजाने, यह तुम्हारा शरीर विनाशी है। आत्मा तो अविनाशी है। तो तुम अपने को आत्मा समझो – मैं आत्मा परमधाम से यहाँ आई हूँ पार्ट बजाने। अभी यहाँ दु:खी होते हो तब कहते हो मुक्तिधाम में जावें। परन्तु तुमको पावन कौन बनाये? बुलाते भी एक को ही हैं, तो वह बाप आकर कहते हैं – मेरे मीठे-मीठे बच्चों अपने को आत्मा समझो, देह नहीं समझो। मैं आत्माओं को बैठ समझाता हूँ। आत्मायें ही बुलाती हैं – हे पतित-पावन आकर पावन बनाओ। भारत में ही पावन थे। अब फिर बुलाते हैं – पतित से पावन बनाकर सुखधाम में ले चलो। कृष्ण के साथ तुम्हारी प्रीत तो है। कृष्ण के लिए सबसे जास्ती व्रत नेम आदि कुमारियाँ, मातायें रखती हैं। निर्जल रहती हैं। कृष्णपुरी अर्थात् सतयुग में जायें। परन्तु ज्ञान नहीं है इसलिए बड़ा हठ आदि करते हैं। तुम भी इतना करते हो, कोई को सुनाने के लिए नहीं, खुद कृष्णपुरी में जाने के लिए। तुमको कोई रोकता नहीं है। वो लोग गव-र्मेन्ट के आगे फास्ट आदि रखते हैं, हठ करते हैं – तंग करने के लिए। तुमको कोई के पास धरना मारकर नहीं बैठना है। न कोई ने तुमको सिखाया है।

श्रीकृष्ण तो है सतयुग का फर्स्ट प्रिन्स। परन्तु यह कोई को भी पता नहीं पड़ता। कृष्ण को वह द्वापर में ले गये हैं। बाप समझाते हैं – मीठे-मीठे बच्चों, भक्ति और ज्ञान दो चीज़ें अलग हैं। ज्ञान है दिन, भक्ति है रात। किसकी? ब्रह्मा की रात और दिन। परन्तु इनका अर्थ न समझते हैं गुरू, न उनके चेले। ज्ञान, भक्ति और वैराग्य का राज़ बाप ने तुम बच्चों को समझाया है। ज्ञान दिन, भक्ति रात और उसके बाद है वैराग्य। वह जानते नहीं। ज्ञान, भक्ति, वैराग्य अक्षर एक्यूरेट है, परन्तु अर्थ नहीं जानते। अभी तुम बच्चे समझ गये हो, ज्ञान बाप देते हैं तो उससे दिन हो जाता है। भक्ति शुरू होती तो रात कहा जाता है क्योंकि धक्का खाना पड़ता है। ब्रह्मा की रात सो ब्राह्मणों की रात, फिर होता है दिन। ज्ञान से दिन, भक्ति से रात। रात में तुम बन-वास में बैठे हो फिर दिन में तुम कितना धनवान बन जाते हो। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

अपने दिल से पूछना है:-

1) बाप से इतना जो खुशी का खजाना मिलता है वह दिमाग में बैठता है?

2) बाबा हमें विश्व का मालिक बनाने आये हैं तो ऐसी चलन है? बातचीत करने का ढंग ऐसा है? कभी किसी की ग्लानि तो नहीं करते? 3- बाप से प्रतिज्ञा करने के बाद कोई अपवित्र कर्म तो नहीं होता है?

वरदान:- बीती को श्रेष्ठ विधि से बीती कर यादगार स्वरूप बनाने वाले पास विद आनर भव
“पास्ट इज़ पास्ट” तो होना ही है। समय और दृश्य सब पास हो जायेंगे लेकिन पास विद आनर बनकर हर संकल्प वा समय को पास करो अर्थात् बीती को ऐसी श्रेष्ठ विधि से बीती करो, जो बीती को स्मृति में लाते ही वाह, वाह के बोल दिल से निकलें। अन्य आत्मायें आपकी बीती हुई स्टोरी से पाठ पढ़ें। आपकी बीती, यादगार-स्वरूप बन जाए तो कीर्तन अर्थात् कीर्ति गाते रहेंगे।
स्लोगन:- स्व कल्याण का श्रेष्ठ प्लैन बनाओ तब विश्व सेवा में सकाश मिलेगी।

TODAY MURLI 11 OCTOBER 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 11 October 2019

Today Murli in Hindi:- Click Here

Read Murli 10 October 2019:- Click Here

11/10/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, in order to experience unlimited happiness, remain with Baba at every moment.
Question: Which children receive a lot of power from the Father?
Answer: Those who have the faith that they are the ones who will transform the unlimited world, and that they are going to become the masters of the unlimited world, that it is the Father, the Master of the World, Himself, who is teaching them. Such children receive a lot of power.

Om shanti. The spiritual Father, the Supreme Father, the Supreme Soul, sits here and teaches you sweetest spiritual children, you souls, and also explains to you because it is only you children who become pure and become the masters of the world once again. The Father of the whole world is just the One. You children have this faith. The Father of the whole world, the Father of all souls, is teaching you children. Does this sit in your intellects? Your heads (intellects) are tamopradhan, iron vessels, ironaged. The intellect is in the soul. So, does this sit in your intellects? You receive sufficient power to understand that the unlimited Father truly is teaching us and that we are transforming the unlimited world. At this time, the unlimited world is said to be the extreme depths of hell. Do you believe that the poor are in the extreme depths of hell, whereas sannyasis, wealthy people and those with a position are in heaven? The Father explains: All human beings at this time are in the extreme depths of hell. Souls, being very tiny, are things that have to be understood. Does all the knowledge not stay in such a tiny soul or do you forget it? The Father of all souls of the world is sitting personally in front of you and teaching you. Do you remember throughout the day that Baba truly is here with you? For how long does this stay in your intellects? An hour, half an hour or the whole day? You need power to keep this in your intellects. God, the Supreme Father, the Supreme Soul, is teaching you. Outside, when you are living at home, He is not with you. Here, He is with you in a practical form. For instance, when a woman’s husband goes abroad and she herself is at home, she would not say that he is with her. The unlimited Father is only the One; the Father is not in everyone. The Father would surely be sitting in one place. So, does it enter your intellects that the unlimited Father is making you worthy to become the masters of the new world? In your hearts, do you consider yourselves to be so worthy that you are going to become the masters of the whole world? This is a matter of great happiness. No one receives a greater treasure of happiness than this. You know that you are now going to become this. You also understand what land those deities were the masters of. It was Bharat where the deities came and departed. You are going to become the masters of the world. Is this in your intellects? Do you have such activity? Do you have that way of speaking and that intellect? Your behaviour is not such that you quickly get angry in a situation so that you cause a loss for someone or that you insult someone? In the golden age, they never defame anyone. There, there isn’t anyone with dirty thoughts of defamation. The Father uplifts you children so strongly. You remember the Father and your sins are cut away. You raise your hands, but is your activity like theirs? The Father sits here and teaches you. Does this sit in your heads strongly? Baba knows that the intoxication of many becomes like soda water. Not everyone’s mercury of happiness rises to that extent. Only when this sits in their intellects would their intoxication rise. The Father teaches you in order to make you into the masters of the world. Here, all are the impure Ravan community. There is the story that Rama took an army of monkeys and then did this and that. You now know that Baba is enabling you to conquer Ravan and making you into Lakshmi and Narayan. If anyone asks you children here, you would instantly say that God is teaching you. God speaks. A teacher would say that he is making you into a barrister or into such-and-such. He teaches you with faith and you become that. Those who study are also numberwise and they then claim a status, numberwise. This too is a study. Baba shows you your aim and objective which is in front of you. You understand that you will become that through this study. It is a matter of happiness. Those who study the ICS would also understand: I will study this, then build a home and do this. Their intellects continue to work on all of that. The Father sits here and teaches you children. Everyone has to study and become pure. You have to promise the Father that you will never perform any impure acts. The Father says: If you perform any wrong acts, everything you have earned would be lost. This land of death is the old world. We are studying for the new world. This old world is coming to an end. The circumstances are also such. The Father is teaching us for the land of immortality. The Father explains the cycle of the whole world to you. The Father doesn’t have any books in His hand; He only explains orally. The first thing that the Father explains is: Have the faith that you are a soul. A soul is a child of God, the Father. The Supreme Father, the Supreme Soul, resides in the supreme abode. We souls also reside there. Then, we continue to come down here, numberwise, to play our parts. This is a big, unlimited stageActors come on to this stage to play their parts first of all in Bharat, in the new world. This is their activity. You also sing their praise. Would you call them multimillionaires? Those people have countless wealth. The Father refers to them as “those people” because He is the unlimited Father. This drama is predestined. So, it was because Shiv Baba made them so wealthy that they then build a temple to Shiva on the path of devotion in order to worship Him. First of all, they worship the One who made them worthy of worship. The Father explains a great deal to you daily in order to make you intoxicated. If those who understood numberwise, according to their efforts, remained engaged in service, they would remain fresh; otherwise, they become stale. You children know that when you ruled the kingdom in Bharat, there truly were no other religions at that time. There was just deityism. Then, the other religions came later. You now understand how this world cycle turns. In a school you need an aim and objective. They used to rule at the beginning of the golden age and they then went around the cycle of 84 births. You children know that this is an unlimited study. You have been studying limited studies for birth after birth. You need to have a lot of faith in this. The Father who makes the whole world turn around, that is, the One who rejuvenates the world, that is, the One who changes hell into heaven, is teaching us. It is definite that everyone goes to the land of liberation; not everyone will go to heaven. You know that the Father is now removing us from this ocean of poison, from this brothel. It truly is a brothel now. You now also know when it began. It has now been 2500 years since the kingdom of Ravan and devotion began. At that time, there were only those of the deity religion who went on to the path of sin. People build temples in order to perform devotion. They built such a big temple to Somnath. You have heard the history of what there was in that temple. At that time, they must have been so wealthy. There wouldn’t have been just one temple. In the history of it, they have put the name of just one. Many kings built temples. By seeing one another, everyone would have performed worship; there would have been many temples. It wouldn’t have been just one temple that was looted; there would have been other temples nearby. The villages there were not far away from one another. They would have been near one another because there weren’t any trains etc. there. They would have lived close to one another and then, gradually the world (population) continued to expand. You children are now studying. The Greatest of all Fathers is now teaching you. You should have this intoxication. There shouldn’t be any weeping or wailing in the homes. Here, you have to imbibe divine virtues. You children are being taught at this most auspicious confluence age. This is the in-between period when you change. You have to go from the old world to the new world. You are now studying at the most auspicious confluence age. God is teaching you. He is turning the whole world around. He makes the old world new, so you have to become the masters of that new world. The Father is bound to show you the method, so you children have to follow that. You understand that you are not residents of this place. You didn’t know that it used to be your kingdom. The Father has now explained that you are very unhappy in the kingdom of Ravan. This is called the vicious world. Those deities were completely viceless. People call themselves vicious. No one knows anything about when the kingdom of Ravan began or what happened. Their intellects are absolutely tamopradhan. When they were in the golden age, they had divine intellects and were the masters of the world, that is, they were very happy. That is called the land of happiness. Here, there is limitless sorrow. The Father also explains what the world of happiness is like and what the world of sorrow is like. People don’t know anything: how long happiness lasts or how long sorrow lasts. Among you too, you continue to understand this, numberwise. It is the unlimited Father who explains to you. Krishna cannot be called the unlimited Father. Your hearts couldn’t accept that, but people don’t understand who it is they can call the Father. God explains: People defame Me. I make you into deities. People have defamed Me and the deities so much. They have become those with such foolish intellects. They say: Chant the name of Govinda … The Father says: O ones with foolish intellects, while saying: “Govinda, Govinda, Rama, Rama.” does it enter your intellects whose name you are chanting? Those with stone intellects would be called those with foolish intellects. The Father says: I am now making you into the masters of the world. The Father is the Bestower of Salvation for All. The Father explains: You are trapped so much in your family etc. You have to let what God is telling you enter your intellects. However, people are used to following devilish directions, and so how can they follow God’s directions? They don’t even know who Govinda is. The Father explains: You would say: Baba, You have explained to us many times. This is also fixed in the drama. Baba, we are once again claiming this inheritance from You. We will definitely become Narayan from ordinary man. Students definitely have the intoxication of their studies and of what they will become. They also have that faith. The Father now says: You have to become full of all virtues. You must not get angry with anyone. Deities do not have the five vices in them. You have to follow shrimat. Shrimat first of all says: Consider yourself to be a soul. You souls have come here from the supreme abode to play your parts. Those bodies of yours are perishable. Souls are imperishable. So, you have to consider yourselves to be souls. I, the soul, have come here from the supreme abode to play a part. It is because you are unhappy here that you say you want to go to the land of liberation. However, who would purify you? People call out to the One, and so that Father comes and says: My sweetest children, consider yourselves to be souls, not bodies. I sit here and explain to you souls. It is the soul that calls out: O Purifier, come and make us pure! It was in Bharat that people were pure and they are now calling out again: Make us pure from impure and take us to the land of happiness. You have love for Krishna. It is kumaris and mothers who observe many fasts in the name of Krishna. They even go without water so that they can go to the land of Krishna, that is, to the golden age. However, they don’t have knowledge, and so they observe those things by force. Everything you do is not just for telling others about, but for going to the land of Krishna yourself. No one can stop you. Those people observe fasts etc. in front of the Government in order to harass them. You don’t have to go on a hunger strike in that way; nor has anyone taught you how to do that. Shri Krishna is the first prince of the golden age. However, no one knows that. They have shown Krishna in the copper age. The Father explains: Sweetest children, knowledge and devotion are two separate things. Knowledge is the day and devotion is the night. Of whom? It is the night and day of Brahma. However, neither gurus nor their disciples understand the meaning of that. The Father has explained to you children the secrets of knowledge, devotion and disinterest. Knowledge is the day, devotion is the night and after that there is disinterest. Those people don’t know that. The words “knowledge, devotion and disinterest” are accurate, but people don’t know the meaning of them. You children now understand that by your having the knowledge that the Father gives, it becomes the day. When devotion begins, it becomes the night, because people stumble around in the dark. The night of Brahma is the night of Brahmins and then there is the day. There is the day through knowledge and the night through devotion. At night, you are sitting in exile and then, during the day, you become so wealthy. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Ask your heart:
  2. Do the treasures of happiness that you receive from the Father stay in your intellect?
  3. Baba has come to make you into the masters of the world. Therefore, are your activities and your way of speaking to others according to that? Do you ever defame anyone?
  4. After making a promise to the Father, do you perform any impure actions?
Blessing: May you let the past be the past in an elevated way andpass with honours and become a memorial.
It has to be, “Past is past. The time and scenes will pass but have every thought and pass every moment while passing with honours. That is, let the past be the past in such an elevated way that when you bring the past into your awareness, only “Wah! Wah” emerges in your heart. Let many souls learn a lesson from your past story. Let your past become a memorial and people will continue to sing your “kirtan” (sing your praise), that is, sing your praise.
Slogan: Make an elevated plan for your own benefit and service and the world will then receive sakaash.

*** Om Shanti ***

TODAY MURLI 11 OCTOBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 11 October 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 10 October 2018 :- Click Here

11/10/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, remember the unlimited Father. All three – knowledge, devotion and disinterest – are included in this. This is a new study.
Question: How is it that, at the confluence age, devotion continues at the same time as knowledge and yoga?
Answer: In fact, yoga can also be called devotion because you children stay in unadulterated remembrance. Your remembrance includes knowledge and this is why it is called yoga. From the copper age onwards, they have simply been performing devotion; there has not been knowledge. This is why that devotion is not called yoga. There is no aim or objective in that. You now receive knowledge, you have yoga and you also have no interest in the unlimited world.
Song: Someone made me belong to Him and taught me how to smile.

Om shanti. The unlimited Father explains that the study of the scriptures is not really a study because there is no aim or objective in the study of the scriptures. You can’t know anything about the world from the scriptures. You can’t tell from the scriptures where America is or who discovered it. They say that so-and-so discovered it. They go and discover other places so that they can go and stay there. They recognize that there are many human beings and that they need more land. All of those things are studied. That is called an education. Yours too is an education. This can be called an ashram, an institution or a university; everything is included in this. The maps of those studies are something else. There isn’t enlightenment through the scriptures; enlightenment is received by studying. Yours is also a study. Which place is called Paradise? This is not mentioned in any worldly study or in the study of the scriptures. This is new knowledge which only the one Father tells you about. People say that heaven and hell are both here. Only the Father explains what heaven is and what hell is. These things are neither mentioned in the scriptures nor in that education. Because these things are new, people become confused. They say that they have never heard such knowledge before. These are new, wonderful things which no one else has ever told them about. In fact, they truly are new things. Neither the people who teach those studies nor the sannyasis can tell you about these things. This is why only the Supreme Father, the Supreme Soul, is called the Ocean of Knowledge. He also explains the unlimited history and geography to you. He explains the details of heaven and hell with knowledge. These are new things, are they not? Everything is included in this study: it has knowledge, yoga, an education and also devotion. Yoga can also be called devotion because to have yoga with the One means to remember Him. Those devotees also remember Him, worship Him and sing songs of Him. Performing that type of devotion is not called yoga. For instance, Meera used to have yoga with Shri Krishna, she used to remember him, but that is called devotion. She didn’t have any aim or objective in her intellect. This is called knowledge and also devotion. You have yoga, that is, you remember the One. In the golden age, there is neither devotion nor knowledge. At the confluence age, there is both knowledge and devotion whereas from the copper age onwards, just devotion has continued. To remember someone is called devotion. Here, there is knowledge, yoga and also devotion. You can understand that those people are just devotees and that they have yoga with the elements. However, their yoga is with many others and this is why they are called devotees. Yours is unadulterated yoga. The Ocean of Knowledge, Himself, sits here and teaches you. You have to have yoga with Him. Those people don’t even know about souls. We do know this. By connecting our intellects in yoga to the Supreme Father, the Supreme Soul, we will go to the Father. Those people remember Hanuman etc. and so they have visions of them; that is called adulterated. This is unadulterated yoga. You simply have to remember the one Father. So, knowledge, devotion and disinterest, all three, are combined in this. There, everything of theirs is separate. Devotion is separate, the knowledge they have is just of the scriptures and their disinterest is limited. Here, it is a matter of the unlimited. We know the unlimited Father and this is why we remember Him. Although those people remember Shiva, their sins are not absolved through that because they don’t know His occupation. They don’t even have the knowledge of sins being absolved. Here, your sins are absolved by having remembrance of the Father. There, they sacrifice themselves at Kashi and their sins are thereby absolved. They have to experience the suffering of karma. However, it isn’t that they gradually become karmateet like you. No, their sins are finished by their experiencing punishment; they are not forgiven. So, this is a study, knowledge and also yoga; everything is included in this. It is only the one Father who teaches you everything. This is called an ashram and an institution. It looks very good in writing. The previous name, ‘Om Mandli”, was wrong. You have now received the understanding that this name is absolutely good. You can explain to others that they too are Brahma Kumars. The Father is the Creator of all. First of all, He has to create the subtle region. Brahma, Vishnu and Shankar are residents of the subtle region. A new world is created and so Prajapita Brahma is definitely needed. The one from the subtle region cannot come here. That one is the perfect, subtle Brahma. The corporeal Brahma is needed here. Where would he come from? People cannot understand these things. There are the images. Brahmins are created through Brahma, but where would Brahma come from? So adoption takes place. Just as a king who doesn’t have a child would adopt a child, so the Father adopts this one and then changes his name to Prajapita Brahma. The one up above cannot come down here. The one down below has to go up above. That one is subtle and this one is physical. So, this secret too has to be understood very clearly because everyone has this question. They say that you sometimes call Dada Brahma, sometimes God and sometimes Krishna. However, this one cannot be called God, but he can be called Brahma and Krishna because Krishna then becomes ugly. So, when it is the night, he is called Brahma and, when it is the day, he is called Krishna. This is the final birth of the Krishna soul and the form of Shri Krishna is the first birth. This has to be written very clearly. The 84 births of Radha and Krishna or Lakshmi and Narayan have to be shown. Here, this one is adopted. So, there is the day of Brahma and the night of Brahma which then becomes the day and night of Lakshmi and Narayan. The same thing happens to their dynasty. You now belong to the Brahmin clan and you will then belong to the deity clan. So, it is also the day and night of the Brahma Kumars and Kumaris. These things have to be understood very well. It is also clear in the picture (of the tree) that they are doing tapasya below and that it is their final birth. Where does Brahma come from? Through whom is he created? So, Brahma is adopted, just as a king adopts someone who is then called a prince. He is transferred to the position of: Prince of So-and-so. Previously, he wouldn’t have been a prince. When the king adopted him, he received the title of prince. This custom and system has continued. This should enter the children’s intellects. The world doesn’t know how the Father carries out destruction of the old world and establishment of the new world. You children have this enlightenment. You are also numberwise. As you make further progress, the little daughters will become very clever because they are kumaris. It is written that the kumaris were made to shoot the arrows of knowledge. The wonder of the kumaris is number one. Mama was a kumari; she went ahead of everyone. It is said that daughter shows (reveals) mother. The mother would not sit and talk to anyone. This mother is incognito; that Mama is visible. It is the duty of you Shaktis, you children, to show the mother. There are many good daughters who make good effort. Among the kaurava community too, there are some whose names are the main ones mentioned; they are their maharathis. Here, too, there are the names of maharathis. Shiv Baba is the greatest of all. God is the Highest on High. His place of residence is the highest. In fact, the place of residence of us souls is also the highest. People simply continue to sing praise but they don’t know anything. We souls are also residents of that place, but we have to go through birth and rebirth and play our parts. He doesn’t come into birth and death. He too has a part, but only you know what that is. You children now understand that this is the chariot of Shiv Baba. There is also the horse, but it isn’t that horse or chariot. To forget this is also fixed in the drama. We had become completely lost by wandering around and forgetting for half the cycle. We have now received enlightenment and so we have become very cautious. We know that this old world is to end and that we have to become conquerors of attachment. While living like a lotus at home with the family, we have to make effort to become destroyers of attachment. We have to fulfil our responsibilities to everyone and also live with them. This bhatthi (furnace) had to be created, just as it was created in the previous cycle. You are now told to make effort while living at home with your family. Here, there is no question of leaving your home and family. We are sitting at home, are we not? There are so many children. Baba also had his lokik family. He didn’t renounce anything. Sannyasis go away to the forests, whereas we live in the cities. So, we have to fulfil our responsibilities to everyone. A creation is a father’s creation. The father earns and gives an inheritance to his sons. First of all, he gives the inheritance of the vice of lust. So, to liberate you from that and to make you viceless is the task of the Father. In some cases, children give knowledge to their parents and in other cases the father gives knowledge to his children. This is Raja Yoga and that is hatha yoga. The soul receives knowledge from the Supreme Soul. I, Brahma, was the king of kings and have now become a beggar. It is remembered that a beggar was made into a king. You children know that you belonged to the sun dynasty and that you then became the shudra dynasty. It also has to be explained that heaven and hell are separate. People don’t know this. Among you, too, there are so many children who don’t know anything because it is not in their fortune. So, what effort would they make? Some children don’t have anything in their fortune and some children have everything in their fortune. Their fortune inspires them to make effort. If it is not in their fortune, what effort would they make? The school is the same one and it continues. Some children fall off half way and others die while moving along. There is a lot of taking birth and dying. This knowledge is so wonderful ! Knowledge is very easy, but all the effort lies in attaining your karmateet stage. Only when your sins are absolved can you fly. Knowledge (gyan) is more elevated than going into trance (dhyan). There are many obstacles created by Maya in trance, and this is why knowledge is better than trance. It isn’t that knowledge is better than yoga; this is said about trance. Those who went into trance are no longer here. There is an income earned in yoga and your sins are absolved. There is no income in trance. There is an income in yoga and knowledge. You cannot become healthy and wealthy without having knowledge and yoga. The habit of touring around in trance was created. That too is not good. Trance causes a lot of damage. Knowledge is of just a second. Yoga is not of a second. For as long as you live, you have to continue to have yoga. Knowledge is easy, but it takes effort to become ever healthy and free from disease. There are many obstacles created in waking up early in the morning and sitting in remembrance. You extract points but, in spite of that, your intellects go from one place to another. The one who is number one would have the maximum storms. They cannot come to Shiv Baba. Baba always explains that many storms will come. The more you try to stay in remembrance, the more the storms will come. You mustn’t be afraid of them. Just stay in remembrance. You have to remain stable. None of the storms should be able to shake you. This is the stage of the final time. This is a spiritual race. Continue to remember Shiv Baba. These things have to be understood and imbibed. If you don’t donate wealth, you won’t be able to imbibe. You should make effort. It is very easy to explain the point of the two fathers to anyone. Only you know that the Father gives you the inheritance for 21 births. You would say that Lakshmi and Narayan received their inheritance for 21 births from the Father. The Father taught them Raja Yoga. No one else can say that God gave them their inheritance. In the world, some people are happy with one thing and others are happy with another thing. No one knows about the things that make you happy. People celebrate in happiness for a temporary period. You are the true decoration of the Brahmin clan who are yogi and gyani. No one else can know about your supersensuous joy. They continue to beat their heads for so many things. They also make effort to go to the moon. They make very difficult efforts. All of their efforts will go to waste. You are making effort, without difficulty, to go to such a place where no one else can go. You go to the highest-on-high supreme abode. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Whilst living at home with your family, you have to become a conqueror of attachment. At the same time you also have to fulfil your responsibilities to everyone and live like a lotus flower.
  2. In order to imbibe knowledge, you definitely have to donate the wealth of knowledge. Accumulate your income with knowledge and yoga, but don’t have any desires for going into trance or having visions.
Blessing: May you claim a right to an elevated status and increase your account of accumulation with the power of silence.
Just as the power of science has a great impact at the present timeand enables you to have temporary attainment, in the same way, you have to increase your account of accumulation with the power of silence. Accumulate power in yourself with the Father’s divine drishti and you will then be able to give others at a time of need what you have accumulated. Those who accumulate the power of silence knowing the importance of drishti become those who claim a right to an elevated status. The spiritual sparkle of happiness is visible on their faces.
Slogan: Let there be natural attention and there won’t then be any type of tension.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 11 OCTOBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 11 October 2018

To Read Murli 10 October 2018 :- Click Here
11-10-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – तुम बेहद के बाप को याद करो, इसमें ही ज्ञान, भक्ति और वैराग्य तीनों समाया हुआ है, यह है नई पढ़ाई”
प्रश्नः- संगम पर ज्ञान और योग के साथ-साथ भक्ति भी चलती है – कैसे?
उत्तर:- वास्तव में योग को भक्ति भी कह सकते हैं क्योंकि तुम बच्चे अव्यभिचारी याद में रहते हो। तुम्हारी यह याद ज्ञान सहित है इसलिए इसे योग कहा गया है। द्वापर से सिर्फ भक्ति होती, ज्ञान नहीं होता, इसलिए उस भक्ति को योग नहीं कहा जाता। उसमें कोई एम ऑब्जेक्ट नहीं है। अभी तुम्हें ज्ञान भी मिलता, योग भी करते फिर तुम्हारा बेहद की सृष्टि से वैराग्य भी है।
गीत:- किसी ने अपना बना के……

ओम् शान्ति। बेहद का बाप समझाते हैं – शास्त्रों की पढ़ाई, वह कोई पढ़ाई नहीं है क्योंकि शास्त्रों की पढ़ाई में कोई एम आब्जेक्ट नहीं है। शास्त्रों से कोई दुनिया का पता नहीं पड़ता है, अमेरिका कहाँ है, किसने ढूँढी, यह बातें शास्त्रों में नहीं हैं। कहते हैं फलाने ने ढूँढी। दूसरे इलाके ढूँढते हैं अपने रहने लिए। देखा मनुष्य बहुत हो गये हैं, रहने लिए जमीन तो चाहिए ना। अब यह सब बातें पढ़ाई की हैं, इसको एज्युकेशन कहा जाता है। तुम्हारा भी यह एज्युकेशन है। इसको आश्रम कहें अथवा इन्स्टीट्युशन कहें वा युनिवर्सिटी कहें? इसमें सब आ जाता है। उस पढ़ाई के नक्शे आदि और हैं। शास्त्रों से रोशनी नहीं मिलती, पढ़ाई से रोशनी मिलती है। तुम्हारी भी पढ़ाई है। वैकुण्ठ किसको कहा जाता है? यह न उस पढ़ाई में है, न शास्त्रों की पढ़ाई में है। यह नॉलेज ही नई है जो एक बाप ही बतलाते हैं। मनुष्य तो कह देते स्वर्ग-नर्क सब यहाँ ही है। बाप ही समझाते हैं स्वर्ग-नर्क किसको कहा जाता है? यह बातें न शास्त्रों में हैं, न उस एज्युकेशन में हैं। तो नई बातें होने कारण मनुष्य मूँझते हैं, कहते हैं ऐसा ज्ञान तो कभी सुना नहीं। यह तो नई वन्डरफुल बातें हैं जो कभी कोई ने नहीं सुनाई हैं। हैं भी बरोबर नई बातें। न उस एज्युकेशन वाले सुना सकते, न सन्यासी आदि सुना सकते, इसलिए परमपिता परमात्मा को ही ज्ञान का सागर कहा जाता है। बेहद की हिस्ट्री-जॉग्राफी भी समझाते हैं। ज्ञान से स्वर्ग और नर्क का विस्तार भी सुनाते हैं। यह नई बातें हैं ना। इस पढ़ाई में सब कुछ है – ज्ञान भी है, योग भी है, पढ़ाई भी है, भक्ति भी है। योग को भक्ति भी कह सकते हैं क्योंकि एक के साथ योग लगाना उनको याद करना होता है। वह भक्त लोग भी याद करते हैं, पूजा करते हैं, गाते हैं। वह भक्ति करना कोई योग नहीं कहेंगे। समझो, जैसे मीरा थी, कृष्ण के साथ योग लगाती थी, उनको याद करती थी परन्तु उसको भक्ति कहा जाता। उनकी बुद्धि में कोई एम ऑब्जेक्ट नहीं है। इसको ज्ञान भी कहते, भक्ति भी कहते। योग लगाते हैं, एक को याद करते हैं। सतयुग में न भक्ति होती, न ज्ञान। संगम पर ज्ञान और भक्ति दोनों ही हैं और द्वापर से लेकर सिर्फ भक्ति चलती आई है। किसको याद करना, उसको भक्ति कहते। यहाँ यह ज्ञान भी है, योग भी है, भक्ति भी है। समझ सकते हैं। वह सिर्फ भक्त हैं, तत्व से योग लगाते हैं। परन्तु उनका है अनेकों से योग, इसलिए उनको भक्त कहते। तुम्हारा यह है अव्यभिचारी योग। यह ज्ञान सागर खुद बैठ पढ़ाते हैं। उनसे योग लगाना होता है। वह तो आत्मा को ही नहीं जानते। हम तो जानते हैं। परमपिता परमात्मा बाप के साथ बुद्धियोग लगाने से हम बाप के पास चले जायेंगे। वह हनूमान को याद करते हैं, तो उनका साक्षात्कार हो जाता, उनको व्यभिचारी कहा जाता। यह है अव्यभिचारी योग। सिर्फ एक बाप को याद करना है तो इसमें ज्ञान, भक्ति, वैराग्य सब इकट्ठे हैं। और वह उन्हों का सब अलग-अलग है। भक्ति अलग, ज्ञान भी सिर्फ शास्त्रों का है, वैराग्य भी हद का है। यहाँ बेहद की बात है, हम बेहद के बाप को जानते हैं इसलिए उनको याद करते हैं। वह भल शिव को याद करते परन्तु विकर्म विनाश नहीं होंगे, क्योंकि वह आक्यूपेशन को नहीं जानते। विकर्म विनाश होने का ज्ञान ही नहीं। यहाँ तो बाप की याद से विकर्म विनाश होते हैं। वहाँ काशी कलवट खाते हैं, तो उनके विकर्म विनाश होते हैं। भोगना भोगनी पड़ती है। परन्तु ऐसे नहीं कि तुम्हारे मुआफिक आहिस्ते-आहिस्ते कर्मातीत बनते हैं। नहीं, उनके विकर्म सजायें खाते-खाते खत्म होते हैं, माफ नहीं हो जाते हैं। तो यह पढ़ाई भी है, ज्ञान भी है, योग भी है, इसमें सब है। सिखलाने वाला एक ही बाप है। इनको आश्रम अथवा इन्स्टीट्युशन कहा जाता है। लिखा हुआ बड़ा अच्छा है। आगे ओम् मण्डली नाम रांग था। अभी समझ आई है। यह नाम बिल्कुल अच्छा है। कोई को भी समझा सकते हो कि ब्रह्माकुमार तो तुम भी हो। बाप है सबका रचयिता, उनको पहले-पहले सूक्ष्मवतन रचना है। ब्रह्मा, विष्णु, शंकर हैं सूक्ष्मवतनवासी, नई सृष्टि रचते हैं तो जरूर प्रजापिता ब्रह्मा चाहिए। सूक्ष्मवतन वाला तो यहाँ आ न सके। वह है सम्पूर्ण अव्यक्त। यहाँ तो साकार ब्रह्मा चाहिए ना। वह कहाँ से आये? मनुष्य इन बातों को समझ न सकें। चित्र तो हैं ना। ब्रह्मा से ब्राह्मण पैदा हुए। परन्तु ब्रह्मा आये कहाँ से। फिर एडाप्शन होती है। जैसे कोई राजा को बच्चा नहीं होता है तो एडाप्ट करते हैं। बाप भी इनको एडाप्ट करते हैं फिर नाम बदलकर रखते हैं – प्रजापिता ब्रह्मा। वह ऊपर वाला तो नीचे आ न सके। नीचे वाले को ऊपर जाना है। वह है अव्यक्त, यह है व्यक्त। तो इस रहस्य को भी अच्छी रीति समझना है क्योंकि सबका प्रश्न उठता है। कहते हैं दादा को कभी ब्रह्मा, कभी भगवान्, कभी कृष्ण कहते हैं……..। अब इनको भगवान् तो कहा नहीं जाता। बाकी ब्रह्मा और कृष्ण तो कह सकते हैं क्योंकि कृष्ण सांवरा बनता है। तो जब रात है तब कहेंगे ब्रह्मा, जब दिन है तब कहेंगे कृष्ण। कृष्ण की आत्मा का अभी यह अन्तिम जन्म है और यह श्रीकृष्ण है आदि का जन्म। यह क्लीयर कर लिखना पड़े। 84 जन्म राधे-कृष्ण के वा लक्ष्मी-नारायण के बताने पड़े। यहाँ फिर उनको एडाप्ट करते हैं। तो ब्रह्मा का दिन और ब्रह्मा की रात हो जाती। वही फिर लक्ष्मी-नारायण का दिन और रात। उनकी वंशावली का भी ऐसे हुआ।

तुम अब ब्राह्मण कुल के हो फिर देवता कुल के बनेंगे। तो ब्रह्माकुमार-कुमारियों का भी दिन और रात हुआ ना। यह बड़ी समझने की बातें हैं। चित्रों में भी क्लीयर है – नीचे तपस्या कर रहे हैं, अन्तिम जन्म है। ब्रह्मा आये कहाँ से? किससे पैदा हो? तो ब्रह्मा को एडाप्ट करते हैं। जैसे राजा एडाप्ट करते हैं, फिर उनको राजकुमार कहते हैं। ट्रांसफर कर देते हैं – प्रिन्स ऑफ फलाना। पहले तो प्रिन्स नहीं था। राजा ने एडाप्ट किया तो नाम डाला प्रिन्स। यह रस्म-रिवाज चलती आई है। बच्चों को यह बुद्धि में आना चाहिए। दुनिया नहीं जानती कि बाप कैसे पुरानी दुनिया का विनाश और नई दुनिया की स्थापना करते हैं? यह रोशनी तुम बच्चों को है। तुम्हारे में भी नम्बरवार हैं। आगे चलकर छोटी-छोटी बच्चियां भी बहुत तीखी होती जायेंगी क्योंकि कुमारियां हैं। लिखा हुआ भी है कि कुमारियों द्वारा बाण मरवाये। कुमारियों का चमत्कार नम्बरवन में गया है। मम्मा भी कुमारी है, सबसे तीखी गई है। कहा जाता है डॉटर शोज़ मदर। मदर तो नहीं बैठ कोई से बात करेगी। यह माँ तो हो गई गुप्त, वह मम्मा है प्रत्यक्ष। तो तुम शक्तियों अथवा बच्चों का काम है माँ का शो करना। बहुत अच्छी-अच्छी बच्चियां भी हैं, जिनका पुरुषार्थ अच्छा चलता है। कौरव सम्प्रदाय में भी किन्हों के मुख्य नाम हैं ना, जो महारथी हैं। यहाँ भी महारथियों के नाम हैं। सबसे बड़ा है शिवबाबा। ऊंच ते ऊंच भगवान्। उनका ऊंचा ठांव है। वास्तव में ठांव (रहने का स्थान) तो हम आत्माओं का भी ऊंच है। मनुष्य तो सिर्फ महिमा करते रहते, जानते कुछ भी नहीं। हम आत्मायें भी वहाँ की रहने वाली हैं। परन्तु हमको जन्म-मरण में आकर पार्ट बजाना है। वह जन्म-मरण में नहीं आते, पार्ट उनका भी है, परन्तु कैसे है – यह भी तुम जानते हो। अभी तुम बच्चे समझते हो यह शिवबाबा का रथ है। अश्व अथवा घोड़ा भी है। बाकी वह घोड़ा-गाड़ी नहीं है। यह भी जो भूले हुए हैं, यह ड्रामा में नूँध है। आधाकल्प हम भी भूल में भटकते-भटकते एकदम भटक जाते हैं। अभी रोशनी मिली है तो बहुत खबरदार हो पड़े हैं। जानते हैं यह पुरानी दुनिया ख़त्म होनी है, हमको नष्टोमोहा बनना है। कमल फूल समान गृहस्थ व्यवहार में रहते नष्टोमोहा बनने का पुरुषार्थ करना है। तोड़ तो सबसे निभाना है, साथ भी रहना है। यह भट्ठी भी बननी थी, जैसे कल्प पहले बनी थी। अभी तो कहते हैं गृहस्थ व्यवहार में रह मेहनत करनी है। यहाँ घरबार छोड़ने की बात ही नहीं। हम तो घर में बैठे हैं ना। कितने बच्चे हैं। लौकिक भी थे ना। छोड़ा कुछ भी नहीं है। सन्यासी तो जंगल में चले जाते हैं। हम तो शहर में बैठे हैं। तो उनसे तोड़ निभाना है। बाप की रचना है। बाप कमाकर बच्चे को वर्सा देते हैं। पहले तो वर्सा देते हैं काम विकार का। फिर उनसे छुड़ाकर निर्विकारी बनाना बाप का ही काम है। ऐसे भी होते हैं कहाँ बच्चे माँ बाप को ज्ञान देते हैं, कहाँ बाप बच्चों को ज्ञान देते हैं।

यह है ही राजयोग, वह है हठयोग। आत्मा को नॉलेज मिलती है परमात्मा से। मैं (ब्रह्मा) राजाओं का राजा था, अब रंक बना हूँ। रंक से राव गाया हुआ है। बच्चे जानते हैं हम जो सूर्यवंशी थे, अभी शूद्रवंशी बने हैं। यह भी समझाना पड़ता है – नर्क और स्वर्ग अलग है। मनुष्य यह नहीं जानते। तुम्हारे में भी कितने बच्चे कुछ नहीं जानते क्योंकि तकदीर में नहीं है तो पुरुषार्थ क्या करेंगे? किनकी तकदीर में कुछ नहीं है, किनकी तकदीर में सब कुछ है। तकदीर पुरुषार्थ कराती है। तकदीर नहीं है तो पुरुषार्थ क्या करेगे? एक ही स्कूल है, चलता रहता है। कोई बच्चे आधा में गिर पड़ते, कोई चलते-चलते मर पड़ते। जन्म लेना और मरना बहुत होता है। यह नॉलेज कितनी वन्डरफुल है! नॉलेज तो बहुत सहज है, बाकी कर्मातीत अवस्था को पाना इसमें ही सारी मेहनत है। जब विकर्म विनाश हों तब तो उड़ सकें। ध्यान से ज्ञान श्रेष्ठ है। ध्यान में माया के विघ्न बहुत पड़ते हैं इसलिए ध्यान से ज्ञान अच्छा है। ऐसे नहीं कि योग से ज्ञान अच्छा। ध्यान के लिए कहा जाता है। ध्यान में जाने वाले आज हैं नहीं। योग में तो कमाई होती है, विकर्म विनाश होते हैं। ध्यान में कोई कमाई नहीं है। योग और ज्ञान में कमाई है। ज्ञान और योग बिगर हेल्दी-वेल्दी बन नहीं सकते। फिर यह घूमने-फिरने की एक आदत पड़ जाती है। यह भी ठीक नहीं। ध्यान नुकसान बहुत करता है। ज्ञान भी है सेकेण्ड का। योग कोई सेकेण्ड का नहीं है। जहाँ जीना है वहाँ योग लगाते रहना है। ज्ञान तो सहज है, बाकी एवरहेल्दी, निरोगी बनना इसमें मेहनत है। सवेरे उठकर याद में बैठने में भी विघ्न बहुत पड़ते हैं। प्वाइन्ट्स निकालते हैं तो भी बुद्धि कहाँ की कहाँ चली जाती है। सबसे जास्ती तूफान तो पहले नम्बर वाले को आयेंगे ना। शिवबाबा को तो नहीं आ सकते। बाबा हमेशा समझाते रहते हैं तूफान तो बहुत आयेंगे। जितना याद में रहने की कोशिश करेंगे, उतना तूफान बहुत आयेंगे। उनसे डरना नहीं है, याद में रहना है, स्थिर होना है। तूफान कोई हिला न सके, यह अन्त की अवस्था है। यह है रूहानी रेस। शिवबाबा को याद करते रहो। यह भी समझने की और धारण करने की बातें हैं। धन दान नहीं करेंगे तो धारणा नहीं होगी। पुरुषार्थ करना चाहिए। दो बाप की प्वाइन्ट किसको समझाना बहुत इज़ी है। यह भी तुम ही जानते हो – बाप 21 जन्मों का वर्सा देते हैं। तुम कहेंगे इन लक्ष्मी-नारायण को बाप से 21 जन्मों का वर्सा मिला है। बाप ने उनको राजयोग सिखलाया और कोई मुख से कह न सके कि उन्हें भगवान् ने यह वर्सा दिया है। दुनिया में कोई किस बात में, कोई किस बात में खुश रहते। तुम जिस बात में खुश हो उसको कोई नहीं जानते। मनुष्य तो अल्पकाल क्षणभंगुर के लिए खुशी मनाते हैं। तुम हो सच्चे ब्राह्मण कुल भूषण, जो योगी और ज्ञानी हो। तुम्हारे इस अतीन्द्रिय सुख की खुशी को और कोई जान नहीं सकते। वह तो क्या-क्या माथा मारते रहते हैं। मून पर जाने का पुरुषार्थ करते हैं। बहुत डिफीकल्ट मेहनत करते हैं। उन सबकी मेहनत बरबाद हो जानी है। तुम बिना कोई तकल़ीफ के ऐसी जगह जाने का पुरुषार्थ करते हो जहाँ और कोई जा न सके। एकदम ऊंच त ऊंच परमधाम में जाते हो। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) गृहस्थ व्यवहार में रहते नष्टोमोहा भी बनना है। साथ-साथ सबसे तोड़ निभाते कमल फूल समान रहना है।

2) धारणा करने के लिए ज्ञान धन का दान जरूर करना है। ज्ञान और योग से अपनी कमाई जमा करनी है। बाकी ध्यान दीदार की आश नहीं रखनी है।

वरदान:- साइलेन्स की शक्ति द्वारा जमा के खाते को बढ़ाने वाले श्रेष्ठ पद के अधिकारी भव
जैसे वर्तमान समय साइन्स की शक्ति का बहुत प्रभाव है, अल्पकाल के लिए प्राप्ति करा रही है। ऐसे साइलेन्स की शक्ति द्वारा जमा का खाता बढ़ाओ। बाप की दिव्य दृष्टि से स्वयं में शक्ति जमा करो तब जमा किया हुआ समय पर दूसरों को दे सकेंगे। जो दृष्टि के महत्व को जानकर साइलेन्स की शक्ति जमा कर लेते हैं वही श्रेष्ठ पद के अधिकारी बनते हैं। उनके चेहरे से खुशी की रूहानी झलक दिखाई देती है।
स्लोगन:- अपने आप नेचुरल अटेन्शन हो तो किसी भी प्रकार का टेन्शन आ नहीं सकता।
Font Resize