daily murli 11 july

TODAY MURLI 11 JULY 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 11 July 2020

11/07/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, constantly have the one concern of studying well and giving yourself a tilak of sovereignty. It is through this study that you receive a kingdom.
Question: What should you children be enthusiastic and not disheartened about?
Answer: Always remain enthusiastic about becoming like Lakshmi and Narayan; make effort for this and never become disheartened. The study for this is very easy. You can study this even while living at home. There are no fees for this, but you definitely do need courage.
Song: You are the Mother, You are the Father.

Om shanti. You children heard the praise of your Father. There is praise of only One. Since there is no praise of even Brahma, Vishnu or Shankar, there cannot be any praise sung of anyone else. Establishment is carried out through Brahma, destruction is carried out through Shankar and sustenance is carried out through Vishnu. Lakshmi and Narayan were made that worthy by Shiv Baba. Only He is praised. Who else is there, apart from Him, who could be praised? If there hadn’t been the Teacher to make them become like that, they would not have become as they were. Then there is praise of the sun dynasty, who ruled the kingdom. If the Father hadn’t come at the confluence age, they couldn’t have received their kingdom. There is no praise of anyone else. There is no need to praise foreigners, etc. There is praise of only the One and none other. Shiv Baba is the Highest on High. It is through Him that you receive a high status. Therefore, He should be remembered very well. In order to make yourself into a king, you yourself have to study, just as someone studies to become a barrister and studies by himself. You children know that Shiv Baba is teaching you. Those who study well will claim a high status. Those who don’t study cannot claim a status. You receive shrimat in order to study. The main thing is to become pure for which you have to study this. You know that everyone is tamopradhan and impure at this time. There are good and bad human beings. Those who remain pure are said to be good. When someone studies well and becomes an important person, he is praised. However, everyone is impure. Impure beings praise impure beings. In the golden age, they are all pure. No one praises anyone there. Here, there are pure sannyasis and impure householders. Therefore, those who are pure are praised. There, as are the king and queen, so the subjects. There is no other religion of which it could be said: Pure and impure. Here, some people even continue to sing praise of householders. There is extreme darkness in the world. You children now understand this. Therefore, you children should be concerned about studying and making yourselves into kings. Those who make effort well will claim a tilak of sovereignty. You children should remain enthusiastic about becoming like Lakshmi and Narayan. There is no need to become confused about this. You should make effort and not become disheartened. This study is such that you can even study while lying in bed. You can also study while living abroad. You can study at home. It is such an easy study! Make effort to cut away your sins and also explain to others. You can explain to those of other religions too. You can tell anyone: You are a soul. Everyone’s original religion of souls is the same. There cannot be any difference in that. It is because of bodies that there are innumerable religions, but souls are the same. They are all the children of the Father. Baba has adopted you souls. This is why “Mouth-born creation of Brahma” is remembered. You can explain to anyone who the Father of souls is. The form that you make them fill in has great meaning. There definitely is the Father whom everyone remembers. Souls remember their Father. Nowadays, in Bharat, they call anyone “Father”. They even call the local mayor “Father“! However, no one knows who the Father of souls is. They sing, “You are the Mother and Father”, but no one knows who He is or what He is like. It is only in Bharat that you call Him “the Mother and Father”. The Father Himself comes here and creates you mouth-born children. Bharat is called the mother country because it is here that Shiv Baba plays the part of the Mother and Father. It is here that God is remembered as the Mother and Father. Abroad, they only call Him God, the Father but there also has to be a mother through whom He can adopt children. A man adopts a wife and then creates children with her. A creation is created. Here, too, the Father, the Supreme Father, the Supreme Soul, enters this one and adopts him. Children are created, and this is why He is called the Mother and Father. He is the Father of souls and He then comes here and creates the creation. You become His children here and this is why you call Him the Father and Mother. That is your sweet home where all souls reside. No one but the Father can take you back there. Ask anyone you meet: Do you want to go back to your sweet home? In that case, you definitely do have to become pure! You are impure now. This is the iron-aged, tamopradhan world. You now have to go back home. Iron-aged souls cannot return home. Souls are pure when they reside in the sweet home. The Father now explains: It is only by having remembrance of the Father that your sins will be absolved. Don’t remember bodily beings. The more you remember the Father, the purer you will become and you will also claim a high status, numberwise. It is very easy to explain the picture of Lakshmi and Narayan to anyone. It used to be their kingdom in Bharat. When they ruled their kingdom, there was peace in the world. Only the Father can bring about peace in the world. No one else has the power to do that. The Father is now teaching us Raj Yoga for the new world. He is telling you how we can become kings of kings. Only the Father is knowledge-full, but no one knows what knowledge He has. Only the unlimited Father tells you the history and geography of the beginning, the middle and the end of the world. Human beings sometimes say that God is omnipresent and sometimes say that He knows what is in everyone. In that case, they shouldn’t call themselves God! The Father sits here and explains all of these things. Imbibe all of this very well and stay cheerful. The pictures of Lakshmi and Narayan always portray them with cheerful faces. In schools, those who go on to study in the higher classes remain very cheerful. Others would also understand that they are going to pass a very important examination. This too is a very elevated study. There is no need for fees etc., here. There is just the need for courage. Consider yourselves to be souls and remember the Father! It is in this that Maya causes obstacles. The Father says: Become pure! Some promise this to the Father and then dirty their faces. Maya is very powerful. When they fail, their names are not remembered. Of others, it would be said: So-and-so has been continuing to make very good progress from the beginning. They are praised. The Father says: Make effort for yourself and claim a kingdom. You have to claim a high status through this study. This is Raj Yoga not praja yoga (yoga to become a subject). However, subjects also have to be created. You can tell from the faces of some and from the service they do what they are worthy of becoming. From the behaviour of a student at home you can understand whether he is going to claim the first number or the third number. It is the same here. At the end, when the examinations are over, you will have visions of everything. It doesn’t take long to have a vision. You will then be ashamed that you failed. Who would love those who fail? People become very happy when they watch movies, but the Father says: Films are number one in making you dirty. Generally, those who go to the movies failand then fall. There are even some females who can’t get to sleep without watching a movie. Those who watch movies would definitely make effort to become impure. Everything that happens here now, everything that people think is for their happiness, really only causes them sorrow. That happiness is perishable. Only from the eternal Father can you receive imperishable happiness. You understand that Baba is making you become like Lakshmi and Narayan. Previously, you used to write about 21 births. Now Baba speaks of 50 to 60 births because, even in the copper age, you still remain very wealthy and happy at first. Even though you become impure you still have a lot of wealth. It is when you become completely tamopradhan that your sorrow begins. At first you remain happy. It is when you become very unhappy that the Father comes. He uplifts even great sinners like Ajamil. The Father says: I will take everyone back to the land of liberation. I will then give you the kingdom of the golden age. Everyone is benefited. I take everyone to their destination of peace or happiness. Everyone in the golden age has happiness. Even in the land of peace everyone is happy. People ask for peace in the world. Tell them: When it was the kingdom of Lakshmi and Narayan, there used to be peace in the world. There can be no sorrow there: neither sorrow nor peacelessness. Here, there is peacelessness in every home. There is peacelessness in every country. There is peacelessness throughout the whole world. It has all been broken up into so many pieces. There are so many fractions. There is a different language every 100 miles. They say that the ancient language of Bharat is Sanskrit but no one even knows about the original eternal deity religion. Therefore, how can they say that that is the ancient language? You can tell them when the original eternal deity religion existed. It is numberwise amongst you too. Some are dull heads. It can be seen when someone has a stone intellect. On the path of ignorance, they say: Dear God, open the lock on this one’s intellect! The Father gives all of you children the enlightenment of knowledge through which the locks open. However, even then, the intellects of some do not open at all. You say: Baba, You are the Intellect of the Wise. Please open the lock on my husband’s intellect. The Father says: That is not why I have come. I wouldn’t sit here and open the lock on each one’s intellect. In that case, everyone’s intellect would open and everyone would become an emperor or empress. How could I open the lock on everyone’s intellect? How could I open their locks if they are not going to go to the golden age? According to the drama, his intellect will open at the right time. How could I open it? It also depends on the drama. Not everyone can pass fullyit is numberwise in a school. This too is a study. Subjects also have to be created. If everyone’s lock were to be opened, where would the subjects come from? That is not the rule. You children have to make effort. You can tell from each one’s effort. Those who study well are invited everywhere. Baba knows who are doing service well. You children have to study very well. After you study well, I take you home and then send you to heaven. Otherwise, the punishment is very severe and the status is also destroyed. A student should glorify his teacher. When you were in the golden age you had divine intellects. It is now the iron age and so how could anyone have a golden-aged intellect? There was peace in the world when there was one kingdom and one religion. You can even print in the papers that when it was their kingdom in Bharat there was peace in the world. Eventually, everyone will definitely understand this. The names of you children will be glorified. In other studies people study so many books etc. Here, you don’t have anything like that. This study is very easy, but even good maharathis fail in remembrance. When there isn’t the power of remembrance, the sword of knowledge doesn’t work. It is when you have a great deal of remembrance that there can be that power. Although someone may be in bondage, if he or she continues to remember Baba, there is a lot of benefit. Some have never even seen Baba and yet they leave their bodies in remembrance of Baba. Therefore, because they had so much remembrance of Baba, they claim a very good status. They shed tears of love in remembrance of the Father. Those tears become pearls. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to claim a high status make effort on yourself. Study this study and give yourself a tilak of sovereignty. Imbibe this knowledge very well and remain constantly cheerful.
  2. Fill the sword of knowledge with the power of remembrance. Cut away all bondage with remembrance. Never watch dirty movies or make your thoughts impure.
Blessing: May you be in an unlimited stage of retirement and engaged in staying in solitude and remembrance.
According to the present time, all of you are close to the stage of retirement. Those who are in the stage of retirement do not play childhood games. They remain constantly in solitude and remembrance. All of you who are in an unlimited stage of retirement stay constantly in the depths of One, that is, you stay constantly in solitude. Together with that, you must continue to remember the One and become embodiments of remembrance. BapDada’s pure hope for all the children is that the children and the Father now become equal. Always stay merged in remembrance. To be equal is to become merged: this is a sign of the stage of being in retirement.
Slogan: Take one step of courage and the Father will take a thousand steps of help.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 11 JULY 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 11 July 2020

Murli Pdf for Print : – 

11-07-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – सदा एक ही फिक्र में रहो कि हमें अच्छी रीति पढ़कर अपने को राजतिलक देना है, पढ़ाई से ही राजाई मिलती है”
प्रश्नः- बच्चों को किस हुल्लास में रहना है? दिलशिकस्त नहीं होना है क्यों?
उत्तर:- सदा यही हुल्लास रहे कि हमें इन लक्ष्मी-नारायण जैसा बनना है, इसका पुरुषार्थ करना है। दिलशिकस्त कभी नहीं होना है क्योंकि यह पढ़ाई बहुत सहज है, घर में रहते भी पढ़ सकते हो, इसकी कोई फीस नहीं है, लेकिन हिम्मत जरूर चाहिए।
गीत:- तुम्हीं हो माता पिता तुम्हीं हो… 

ओम् शान्ति। बच्चों ने अपने बाप की महिमा सुनी। महिमा एक की ही है और कोई की महिमा गाई नहीं जा सकती। जबकि ब्रह्मा-विष्णु-शंकर की भी कोई महिमा नहीं है। ब्रह्मा द्वारा स्थापना कराते हैं, शंकर द्वारा विनाश कराते हैं, विष्णु द्वारा पालना कराते हैं। लक्ष्मी-नारायण को ऐसा लायक भी शिवबाबा ही बनाते हैं, उनकी ही महिमा है, उनके सिवाए फिर किसकी महिमा गाई जाए। इनको ऐसा बनाने वाला टीचर न हो तो यह भी ऐसे न बनें। फिर महिमा है सूर्यवंशी घराने की, जो राज्य करते हैं। बाप संगम पर न आयें तो इन्हों को राजाई भी मिल न सके। और तो किसकी महिमा है नहीं। फॉरेनर्स आदि कोई की भी महिमा करने की दरकार नहीं। महिमा है ही सिर्फ एक की, दूसरा न कोई। ऊंच ते ऊंच शिवबाबा ही है। उनसे ही ऊंच पद मिलता है तो उनको अच्छी तरह से याद करना चाहिए ना। अपने को राजा बनाने के लिए आपेही पढ़ना है। जैसे बैरिस्टरी पढ़ते हैं तो अपने को पढ़ाई से बैरिस्टर बनाते हैं ना। तुम बच्चे जानते हो शिवबाबा हमको पढ़ाते हैं। जो अच्छी रीति पढ़ेगा, वही ऊंच पद पायेगा। नहीं पढ़ने वाले पद पा न सकें। पढ़ने लिए श्रीमत मिलती है। मूल बात है पावन बनने की, जिसके लिए यह पढ़ाई है। तुम जानते हो इस समय सब तमोप्रधान पतित हैं। अच्छे वा बुरे मनुष्य तो होते ही हैं। पवित्र रहने वाले को अच्छा कहा जाता है। अच्छा पढ़कर बड़ा आदमी बनता है तो महिमा होती है परन्तु हैं तो सब पतित। पतित ही पतित की महिमा करते हैं। सतयुग में हैं पावन। वहाँ कोई किसकी महिमा नहीं करते। यहाँ पवित्र संन्यासी भी हैं, अपवित्र गृहस्थी भी हैं, तो पवित्र की महिमा गाई जाती है। वहाँ तो यथा राजा-रानी तथा प्रजा होते हैं। और कोई धर्म नहीं जिसके लिए पवित्र, अपवित्र कहें। यहाँ तो कोई गृहस्थियों की भी महिमा गाते रहते। उनके लिए जैसे वही खुदा, अल्लाह है। परन्तु अल्लाह को तो पतित-पावन, लिबरेटर, गाइड कहा जाता है। वह फिर सब कैसे हो सकते! दुनिया में कितना घोर अन्धियारा है। अभी तुम बच्चे समझते हो तो बच्चों को यह ओना रहना चाहिए – हमको पढ़कर अपने को राजा बनाना है। जो अच्छी रीति पुरूषार्थ करेंगे वही राजतिलक पायेंगे। बच्चों को हुल्लास में रहना चाहिए – हम भी इन लक्ष्मी-नारायण जैसे बनें। इसमें मूंझने की दरकार नहीं। पुरूषार्थ करना चाहिए। दिलशिकस्त नहीं होना चाहिए। यह पढ़ाई ऐसी है, खटिया पर सोये हुए भी पढ़ सकते हो। विलायत में रहते भी पढ़ सकते हो। घर में रहते भी पढ़ सकते हो। इतनी सहज पढ़ाई है। मेहनत कर अपने पापों को काटना है और दूसरों को भी समझाना है। दूसरे धर्म वालों को भी तुम समझा सकते हो। कोई को भी यह बताना है – तुम आत्मा हो। आत्मा का स्वधर्म एक ही है, इनमें कोई फर्क नहीं पड़ सकता है। शरीर से ही अनेक धर्म होते हैं। आत्मा तो एक ही है। सब एक ही बाप के बच्चे हैं। आत्माओं को बाबा ने एडाप्ट किया है इसलिए ब्रह्मा मुख वंशावली गाये जाते हैं।

कोई को भी समझा सकते हो – आत्मा का बाप कौन है? फॉर्म जो तुम भराते हो उसमें बड़ा अर्थ है। बाप तो जरूर है ना, जिसको याद भी करते हैं, आत्मा अपने बाप को याद करती है। आजकल तो भारत में कोई को भी फादर कह देते हैं। मेयर को भी फादर कहेंगे। परन्तु आत्मा का बाप कौन है, उसे जानते नहीं हैं। गाते भी हैं तुम मात-पिता… परन्तु वह कौन है, कैसे है, कुछ भी पता नहीं। भारत में ही तुम मात-पिता कह बुलाते हैं। बाप ही यहाँ आकर मुख वंशावली रचते हैं। भारत को ही मदर कन्ट्री कहा जाता है क्योंकि यहाँ ही शिवबाबा मात-पिता के रूप में पार्ट बजाते हैं। यहाँ ही भगवान को मात-पिता के रूप में याद करते हैं। विदेशों में सिर्फ गॉड फादर कह बुलाते हैं, परन्तु माता भी चाहिए ना जिससे बच्चों को एडाप्ट करे। पुरूष भी स्त्री को एडाप्ट करते हैं फिर उनसे बच्चे पैदा होते हैं। रचना रची जाती है। यहाँ भी इसमें परमपिता परमात्मा बाप प्रवेश कर एडाप्ट करते हैं। बच्चे पैदा होते हैं इसलिए इनको मात-पिता कहा जाता है। वह है आत्माओं का बाप फिर यहाँ आकर उत्पत्ति करते हैं। यहाँ तुम बच्चे बनते हो तो फादर और मदर कहा जाता है। वह तो है स्वीट होम, जहाँ सब आत्मायें रहती हैं। वहाँ भी बाप के बिगर कोई ले जा न सके। कोई भी मिले तो बोलो तुम स्वीट होम जाना चाहते हो? फिर पावन जरूर बनना पड़े। अभी तुम पतित हो, यह है ही आइरन एजेड तमोप्रधान दुनिया। अभी तुमको जाना है वापिस घर। आइरन एजेड आत्मायें तो वापिस घर जा न सकें। आत्मायें स्वीट होम में पवित्र ही रहती हैं तो अब बाप समझाते हैं, बाप की याद से ही विकर्म विनाश होंगे। कोई भी देहधारी को याद न करो। बाप को जितना याद करेंगे उतना पावन बनेंगे और फिर ऊंच पद पायेंगे नम्बरवार। लक्ष्मी-नारायण के चित्र पर कोई को भी समझाना सहज है। भारत में इनका राज्य था। यह जब राज्य करते थे तो विश्व में शान्ति थी। विश्व में शान्ति बाप ही कर सकते हैं और कोई की ताकत नहीं। अभी बाप हमको राजयोग सिखला रहे हैं, नई दुनिया के लिए राजाओं का राजा कैसे बन सकते हैं वह बतलाते हैं। बाप ही नॉलेजफुल है। परन्तु उनमें कौन-सी नॉलेज है, यह कोई नहीं जानते हैं। सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त की हिस्ट्री-जॉग्राफी बेहद का बाप ही सुनाते हैं। मनुष्य तो कभी कहेंगे सर्वव्यापी है या कहते सबके अन्दर को जानने वाला है। फिर अपने को तो कह न सकें। यह सब बातें बाप बैठ समझाते हैं। अच्छी रीति धारण कर और हर्षित होना है। इन लक्ष्मी-नारायण का चित्र सदैव हर्षितमुख वाला ही बनाते हैं। स्कूल में ऊंच दर्जा पढ़ने वाले कितना हर्षित होंगे। दूसरे भी समझेंगे यह तो बहुत बड़ा इम्तहान पास करते हैं। यह तो बहुत ऊंची पढ़ाई है। फी आदि की कोई बात नहीं सिर्फ हिम्मत की बात है। अपने को आत्मा समझ बाप को याद करना हैं, जिसमें ही माया विघ्न डालती है। बाप कहते हैं पवित्र बनो। बाप से प्रतिज्ञा कर फिर काला मुँह कर देते हैं, बहुत जबरदस्त माया है, फेल हो जाते हैं तो फिर उनका नाम नहीं गाया जा सकता है। फलाने-फलाने शुरू से लेकर बहुत अच्छे चल रहे हैं। महिमा गाई जाती है। बाप कहते हैं अपने लिए आपेही पुरुषार्थ कर राजधानी प्राप्त करनी है। पढ़ाई से ऊंच पद पाना है। यह है ही राजयोग। प्रजा योग नहीं है। परन्तु प्रजा भी तो बनेंगे ना। शक्ल और सर्विस से मालूम पड़ जाता है कि यह क्या बनने लायक हैं। घर में स्टूडेन्ट की चाल-चलन से समझ जाते हैं, यह फर्स्ट नम्बर में, यह थर्ड नम्बर में आयेंगे। यहाँ भी ऐसे हैं। जब पिछाड़ी में इम्तहान पूरा होगा तब तुमको सब साक्षात्कार होंगे। साक्षात्कार होने में कोई देरी नहीं लगती है फिर लज्जा आयेगी, हम नापास हो गये। नापास होने वाले को प्यार कौन करेंगे?

मनुष्य बाइसकोप देखने में खुशी का अनुभव करते हैं लेकिन बाप कहते हैं नम्बरवन गन्दा बनाने वाला है बाइसकोप। उसमें जाने वाले बहुत करके फेल हो गिर पड़ते हैं। कोई-कोई फीमेल भी ऐसी हैं जो बाइसकोप में जाने बिगर नींद न आये। बाइसकोप देखने वाले अपवित्र बनने का पुरूषार्थ जरूर करेंगे। यहाँ जो कुछ हो रहा है, जिसमें मनुष्य खुशी समझते हैं वह सब दु:ख के लिए है। यह है विनाशी खुशियाँ। अविनाशी खुशी, अविनाशी बाप से ही मिलती है। तुम समझते हो बाबा हमको इन लक्ष्मी-नारायण जैसा बनाते हैं। वैसे आगे तो 21 जन्म के लिए लिखते थे। अभी बाबा लिखते हैं 50-60 जन्म क्योंकि द्वापर में भी पहले तो बहुत धनवान सुखी रहते हो ना। भल पतित बनते हो तो भी धन बहुत रहता है। यह तो बिल्कुल जब तमोप्रधान बनते हैं तब दु:ख शुरू होता है। पहले तो सुखी रहते हो। जब बहुत दु:खी होते हो तब बाप आते हैं। महा अजामिल जैसे पापियों का भी उद्धार करते हैं। बाप कहते हैं मैं सबको ले जाऊंगा मुक्तिधाम। फिर सतयुग की राजाई भी तुमको देता हूँ। सबका कल्याण तो होता है ना। सबको अपने ठिकाने पर पहुँचा देते हैं – शान्ति में वा सुख में। सतयुग में सबको सुख रहता है। शान्तिधाम में भी सुखी रहते हैं। कहते हैं विश्व में शान्ति हो। बोलो, इन लक्ष्मी-नारायण का जब राज्य था तो विश्व में शान्ति थी ना। दु:ख की बात हो नहीं सकती। न दु:ख, न अशान्ति। यहाँ तो घर-घर में अशान्ति है। देश-देश में अशान्ति है। सारे विश्व में ही अशान्ति है। कितने टुकड़े-टुकड़े हो पड़े हैं। कितनी फ्रेक्शन है। 100 माइल पर भाषा अलग। अब कहते हैं भारत की प्राचीन भाषा संस्कृत है। अब आदि सनातन धर्म का ही किसको पता नहीं है तो फिर कैसे कहते कि यह प्राचीन भाषा है। तुम बता सकते हो आदि सनातन देवी-देवता धर्म कब था? तुम्हारे में भी नम्बरवार हैं। कोई तो डलहेड भी होते हैं। देखने में भी आता है यह जैसे पत्थरबुद्धि हैं। अज्ञान काल में भी कहते हैं ना – हे भगवान इनकी बुद्धि का ताला खोलो।

बाप तुम सब बच्चों को ज्ञान की रोशनी देते हैं उससे ताला खुलता जाता है। फिर भी कोई-कोई की बुद्धि खुलती नहीं। कहते हैं बाबा आप बुद्धिवानों की बुद्धि हो। हमारे पति की बुद्धि का ताला खोलो। बाप कहते हैं इसलिए मैं थोड़ेही आया हूँ, जो एक-एक की बुद्धि का ताला बैठ खोलूँ। फिर तो सबकी बुद्धि खुल जाए, सब महाराजा-महारानी बन जायें। हम कैसे सबका ताला खोलेंगे। उनको सतयुग में आना ही नहीं होगा तो हम ताला कैसे खोलेंगे! ड्रामा अनुसार समय पर ही उनकी बुद्धि खुलेगी। मै कैसे खोलूँगा! ड्रामा के ऊपर भी है ना। सब फुल पास थोड़ेही होते हैं। स्कूल में भी नम्बरवार होते हैं। यह भी पढ़ाई है। प्रजा भी बनना है। सबका ताला खुल जाए तो प्रजा कहाँ से आयेगी। यह तो कायदा नहीं। तुम बच्चों को पुरूषार्थ करना है। हर एक के पुरूषार्थ से जाना जाता है, जो अच्छी रीति पढ़ते हैं, उनको जहाँ-तहाँ बुलाया जाता है। बाबा जानते हैं कौन-कौन अच्छी रीति सर्विस कर रहे हैं। बच्चों को अच्छी रीति पढ़ना है। अच्छी रीति पढ़ेंगे तो घर ले जाऊंगा फिर स्वर्ग में भेज दूँगा। नहीं तो सज़ायें बहुत कड़ी हैं। पद भी भ्रष्ट हो जायेगा। स्टूडेन्ट को टीचर का शो निकालना चाहिए। गोल्डन एज में पारसबुद्धि थे, अभी है आइरन एज तो यहाँ गोल्डन एज बुद्धि हो कैसे सकती। विश्व में शान्ति थी जबकि एक राज्य, एक ही धर्म था। अखबार में भी तुम डाल सकते हो भारत में जब इनका राज्य था तो विश्व में शान्ति थी। आखरीन समझेंगे जरूर। तुम बच्चों का नाम बाला होना है। उस पढ़ाई में कितने किताब आदि पढ़ते हैं। यहाँ तो कुछ नहीं। पढ़ाई बिल्कुल सहज है। बाकी याद में अच्छे-अच्छे महारथी भी फेल हैं। याद का जौहर नहीं होगा तो ज्ञान तलवार चलेगी नहीं। बहुत याद करें तब जौहर आये। भल बन्धन में भी हैं फिर भी याद करते रहते तो बहुत फायदा है। कभी बाबा को देखा भी नहीं है, याद में ही प्राण छोड़ देते हैं तो भी बहुत अच्छा पद पा सकते हैं, क्योंकि याद बहुत करते हैं। बाप की याद में प्यार के आंसू बहाते हैं, वह आंसू मोती बन जाते हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अपने लिए स्वयं ही पुरूषार्थ कर ऊंच पद पाना है। पढ़ाई से स्वयं को राज तिलक देना है। ज्ञान को अच्छी रीति धारण कर सदा हर्षित रहना है।

2) ज्ञान तलवार में याद का जौहर भरना है। याद से ही बंधन काटने हैं। कभी भी गन्दे बाइसकोप देख अपने संकल्पों को अपवित्र नहीं बनाना है।

वरदान:- सदा एकान्त और सिमरण में व्यस्त रहने वाले बेहद के वानप्रस्थी भव
वर्तमान समय के प्रमाण आप सब वानप्रस्थ अवस्था के समीप हो। वानप्रस्थी कभी गुड़ियों का खेल नहीं करते हैं। वे सदा एकान्त और सिमरण में रहते हैं। आप सब बेहद के वानप्रस्थी सदा एक के अन्त में अर्थात् निरन्तर एकान्त में रहो साथ-साथ एक का सिमरण करते हुए स्मृति स्वरूप बनो। सभी बच्चों प्रति बापदादा की यही शुभ आश है कि अब बाप और बच्चे समान हो जाएं। सदा याद में समाये रहें। समान बनना ही समाना है – यही वानप्रस्थ स्थिति की निशानी है।
स्लोगन:- आप हिम्मत का एक कदम बढ़ाओ तो बाप मदद के हजार कदम बढ़ायेंगे।

TODAY MURLI 11 JULY 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 11 July 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 10 July 2019:- Click Here

11/07/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, remember the game of somersault. The secret of the whole cycle, of Brahma and the Brahmins, is merged in this game.
Question: What inheritance do all of you children receive from the Father at the confluence age?
Answer: A Godly intellect. God gives us the virtues that He has as our inheritance. Our intellects are becoming divine like diamonds. We have now become Brahmins and are claiming a huge treasure from the Father. We are filling our aprons with all virtues.

Om shanti. Today is the day of the Satguru, the day of good omens. Some days are more elevated; the day of the Satguru is also said to be the highest. Children are admitted into schools and colleges on the day of good omens, that is, on the day of the Lord of the Tree. You children now know that the Father is the Seed of this human world tree and that He is an immortal Image. You children are immortal images, children of the Father who is an immortal Image. This is so easy! The only difficulty is in remembrance. Only by having remembrance are your sins absolved; you become pure from impure. The Father explains: You children have unlimited imperishable omens. There are limited omens and then there are unlimited omens. The Father is the Lord of the Tree. Brahmins are the first to emerge on the tree. The Father says: I, the Lord of the Tree, am the Truth, the Sentient Being and the Embodiment of Bliss. His praise is sung: He is the Ocean of Peace and the Ocean of Knowledge. You know that all the deities in the golden age are oceans of purity and peace. Bharat was an ocean of happiness, peace and purity. This is called having peace in the world. You are Brahmins. In fact, you too are immortal images. Each of you souls is seated on your throne. All of you are living immortal thrones. A soul, an immortal image, which is also called a star, is seated in the centre of the forehead. The Lord of the Tree (Vrakshpati) is also called the Ocean of Knowledge and so He surely has to come. Brahmins, the adopted children of Prajapita Brahma, are needed first. So, Mama too is definitely needed. Everything is explained to you children very well. Just as you do a somersault, so the meaning of that is also explained to you. Shiv Baba is the Seed and then there is Brahma. Brahmins have been created through Brahma. At this time, you say that you are Brahmins and that you will then become deities. At first we had shudra intellects and the Father is now once again making us into those who have the most auspicious intellects. He is making our intellects divine like diamonds. He also explains to you the secret of the somersault. There is Shiv Baba and Prajapita Brahma, and the adopted children are sitting in front of them. You have now become those with very broad and unlimited intellects. You Brahmins will then become deities. You are now becoming those with Godly intellects, that is, you are receiving the virtues that God has as your inheritance. Do not forget this at the time of explaining to others. The Father is the Ocean of Knowledge. He isnumber one. He is called Gyaneshwar, the God who speaks knowledge to you. You receive salvation with knowledge. He makes impure ones pure with knowledge and yoga. Ancient Raj Yoga of Bharat is very well known, because the iron age was changed into the golden age with this. It has been explained that there are two types of yoga. Theirs is hatha yoga whereas this is Raj Yoga. That is limited and this is unlimited. Those are limited sannyasis whereas you are unlimited sannyasis. They renounce their homes and families whereas you renounce the whole world. You are now the children of Prajapita Brahma. This is a small, new tree. You know that you are becoming new from old. The sapling is being planted. We truly do a somersault. We Brahmins will then become deities. You definitely have to use the word “so” (are to become), not just the word “hum” (we). We were (hum so) shudras and have now become Brahmins. You must not forget this somersault at all. This is very easy. Even little children can explain how we take 84 births, how we come down the ladder and how we then become Brahmins and ascend. We change from Brahmins into deities. Brahmins are now receiving huge treasures. They are filling their aprons. Shankar is not called the Ocean of Knowledge. He does not fill anyone’s apron. Artists have just painted that picture. It does not refer to Shankar. Vishnu and Brahma belong here. They have shown Lakshmi and Narayan in the form of a couple at the top. This is the final birth of Brahma. At first he was Vishnu and then, after taking 84 births, he became Brahma. I named Him Brahma. I changed everyone’s name because they had renunciation. When you became Brahmins from shudras, your names were changed. The Father gave you very entertaining names. You can now understand and see that the Lord of the Tree is sitting in this chariot. This is His immortal throne and also this one’s immortal throne. He takes this throne on loan. He doesn’t receive His own throne. He says: I enter this chariot and give you My introduction. I am your Father, but I do not enter birth and rebirth like you do. If I were to come into this cycle, who would make you satopradhan from tamopradhan? You need someone to make you that. This is why My part is like it is. You call out to Me: O Purifier, come! Souls call out to incorporeal Shiv Baba, because souls are in sorrow. The souls of the people of Bharat especially call out to Me: Come and make us impure ones pure. In the golden age, you were very pure and happy. You never used to call out. The Father Himself says: I make you happy and I then go and sit in the stage of retirement. There is no need for Me there (in the golden age). I have a part on the path of devotion and I then have no part for half the cycle. This is very easy. No one can question this. It is remembered that everyone remembers God at a time of sorrow. There is no path of devotion in the golden and silver ages. You would not call it the path of knowledge either. You receive knowledge at the confluence age through which you receive a reward for 21 births. You pass, numberwise, and some even fail. Your battle is now going on. You know that the chariot (Brahma) which the Father enters, wins and then the specially beloved children, such as Kumarka and So-and-so, also definitely win. They make many others the same as themselves. So, you children have to keep it in your intellects that this is a somersault. Even little children can understand this, which is why Baba says: Also teach this to children. They too have a right to claim the inheritance from the Father. It is not too much for them. When they know even a little knowledge, that will never be destroyed; they will definitely go to heaven. Christianity which Christ established is such a big religion. The deity religion is an even bigger religion and it exists at the beginning. It continues for two ages, and so its population should also be large but they have called themselves Hindus instead. They then say that there are 330 million deities, so why do they call themselves Hindus? Maya has completely killed their intellects and so this has become their condition. The Father says: It is not difficult to conquer Maya. You conquer Maya every cycle. You are an army. You have found the Father who enables you to conquer Ravan, the five vices. You now have the omens of Jupiter over you. There are omens over Bharat. There are now the omens of Rahu. The Father, the Lord of the Tree, comes and so there will definitely be the omens of Jupiter over Bharat. Everything is included in this. You children know that you receive bodies free from disease. There is no mention of death there; it is the land of immortality. You would not say that so-and-so died; there is no mention of death: you shed a body and take another. There is happiness on taking a body and leaving a body. There is no mention of sorrow. You now have the omens of Jupiter over you. There cannot be the omens of Jupiter over everyone. In a school, some pass and others fail. This too is a school. You say that you are studying Raj Yoga; so, who is teaching it to you? The unlimited Father. Therefore, you should have so much happiness. There is nothing else in this. Purity is the main thing. It is also written: O child, Renounce your body and all bodily relations and constantly remember Me alone. These are words from the Gita. The Gita episode is being played out. Even in this, people have confused everything. It is like a pinch of salt in a sackful of flour. It is something that is so easy that a child can understand it, so why do you still forget? On the path of devotion, too, you used to say: Baba, when You come, I will belong to You and no one else. I will belong to You and claim the full inheritance from You. You belong to the Father in order to claim your inheritance from Him. When you are adopted, you know what you will receive from that father. You too have been adopted. You know that you will claim the sovereignty of the world, the unlimited inheritance, from the Father. You will not have attachment to anything else. For instance, even if someone has a physical father, what would he receive? Perhaps he would have a hundred to a hundred and fifty thousand. This unlimited Father is giving you the unlimited inheritance. You children have been listening to false stories for half the cycle. You are now listening to the true story from the Father. Therefore, you should remember such a Father. You should listen to Him with attention. You also have to explain the meaning of “Hum so” (I am that which I was). They say that each soul is the Supreme Soul. No one can tell you the story of 84 births. They say of the Father that He is in cats and dogs and in everything; they defame the Father. This too is fixed in the drama. Baba doesn’t blame anyone. The drama has been created in that way. You begin to insult the One who makes you into deities through knowledge. You do a somersault in this way. This drama is predestined. I come and once again uplift you. I know that it is not your fault. This is a play. I explain the story to you. This is the true story through which you become deities. They have then created many stories on the path of devotion. There is no aim or objective in those. All of that is for falling. In those schools, they give you an education, but you still have some aim for the livelihood of your bodies. Pandits sit and relate stories for the livelihood of their bodies. People put money in front of them but they don’t receive any attainment. You now receive jewels of knowledge through which you become the masters of the new world. There, you will receive everything new. In the new world, everything will be new. Jewels and diamonds etc. will all be new. The Father now says: Forget everything else and remember the somersault. Fakirs too somersault while on a pilgrimage. Some still go by foot. Now they even have motor cars and aeroplanes. Poor people cannot go in that way. Those who have a lot of faith go by foot. Day by day, you receive a lot of comfort through science. That is temporary happiness. When a plane crashes, it causes so much damage. Those things have temporary happiness and, at the end, there is only death in them. That is science, whereas yours is silence. By remembering the Father, all your diseases end and you become free from disease. You now understand that you were everhealthy in the golden age. This cycle of 84 births continues to turn. The Father only comes once and explains to you: You have defamed Me. You have slapped yourselves. By defaming Me you have become those with shudra intellects. Sikhs say: Remember the Lord and you will receive happiness, that is, become “Manmanabhav”. There are just two words, but there is no need to beat your head a lot. The Father comes and explains this. You now understand that, by remembering the Lord, you receive happiness for 21 births. He shows you the path to that too. People don’t know the right way. Remember Me at every moment and receive happiness. You children know that there truly is no mention of illness or sorrow etc. in the golden age. This is something common. That is called the golden age and this is called the iron age. The world cycle continues to turn. The explanation is so good. It is a somersault. You are now Brahmins and you will then become deities. You forget these things. If you remembered the somersault, you would remember all of this knowledge. Before you go to sleep at night you should remember the Father in this way. Even then, you say: Baba, I forget You! Maya repeatedly makes you forget. This is your war with Maya. Then, you rule over her for half the cycle. The Father tells you easy things. It is called easy knowledge, easy remembrance. Simply remember the Father! What other difficulty does He give you? You went through a lot of difficulty on the path of devotion. In order to have a vision, people were ready to cut their throats; they would sacrifice themselves at Kashi. Yes, those who did that with that faith in the intellect would have their sins absolved. Their karmic accounts would then start anew but they do not come to Me. Sins are absolved by having remembrance of Me, not by committing suicide. None of them comes to Me. This is so easy! Old people and even young people should remember this somersault. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to claim the inheritance of happiness, peace and prosperity from the Father, the Lordof the Tree, consider yourself to be a soul, an immortal image, and remember the Father. Make your intellect divine.
  2. Listen to the true story from the Father and relate it to others. In order to become a conqueror of Maya, do the service of making others equal to yourself. Let it remain in your intellect that you are victorious every cycle and that the Father is with you.
Blessing: May you be a sensible soul and bid farewell to any wave of carelessness and constantly maintains zeal and enthusiasm.
Some children become careless when they see others. They think: Well, this happens all the time, it is fine. Is it being sensible if you become careless when you see someone stumble and then stumble yourself? BapDada feels mercy because the moments of repentance for those who remain careless will be so difficult. Therefore, be sensible and bid farewell in your mind to any wave of carelessness or wave of looking at others. Do not look at others, just look at the Father.
Slogan: Prepare heir quality souls and the drums of revelation will beat.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 11 JULY 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 11 July 2019

To Read Murli 10 July 2019 :- Click Here
11-07-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – बाजोली का खेल याद करो, इस खेल में सारे चक्र का, ब्रह्मा और ब्राह्मणों का राज़ समाया हुआ हैˮ
प्रश्नः- संगमयुग पर बाप से कौन-सा वर्सा सभी बच्चों को प्राप्त होता है?
उत्तर:- ईश्वरीय बुद्धि का। ईश्वर में जो गुण हैं वह हमें वर्से में देते हैं। हमारी बुद्धि हीरे जैसी पारस बन रही है। अभी हम ब्राह्मण बन बाप से बहुत भारी खजाना ले रहे हैं, सर्व गुणों से अपनी झोली भर रहे हैं।

ओम् शान्ति। आज है सतगुरूवार, बृहस्पतिवार। दिनों में भी कोई उत्तम दिन होता है। बृहस्पति का दिन ऊंच कहते हैं ना। बृहस्पति अर्थात् वृक्षपति डे पर स्कूल वा कॉलेज में बैठते हैं। अभी तुम बच्चे जानते हो कि इस मनुष्य सृष्टि रूपी झाड़ का बीजरूप है बाप और वह अकाल मूर्त्त है। अकाल मूर्त्त बाप के अकालमूर्त्त बच्चे। कितना सहज है। मुश्किलात सिर्फ है याद की। याद से ही विकर्म विनाश होते हैं। तुम पतित से पावन होते हो। बाप समझाते हैं तुम बच्चों पर अविनाशी बेहद की दशा है। एक होती है हद की दशा और दूसरी होती है बेहद की। बाप है वृक्षपति। वृक्ष से पहले-पहले ब्राह्मण निकले। बाप कहते हैं मैं वृक्षपति सतचित-आनन्द स्वरूप हूँ। फिर महिमा गाते हैं ज्ञान का सागर, शान्ति का सागर…….। तुम जानते हो सतयुग में देवी-देवतायें सब शान्ति के, पवित्रता के सागर हैं। भारत सुख-शान्ति-पवित्रता का सागर था, उसको कहा जाता है विश्व में शान्ति। तुम हो ब्राह्मण। वास्तव में तुम भी अकालमूर्त्त हो, हरेक आत्मा अपने तख्त पर विराजमान है। यह सब चैतन्य अकाल तख्त हैं। भ्रकुटी के बीच अकालमूर्त्त आत्मा विराजमान है, जिसको सितारा भी कहा जाता है। वृक्षपति बीजरूप को ज्ञान का सागर कहते हैं, तो जरूर उनको आना पड़े। पहले-पहले चाहिए ब्राह्मण, प्रजापिता ब्रह्मा के एडाप्टेड चिल्ड्रेन। तो जरूर मम्मा भी चाहिए। तुम बच्चों को बहुत अच्छी रीति समझाते हैं। जैसे बाजोली खेलते हैं ना। उसका भी अर्थ समझाया है। बीजरूप शिवबाबा है फिर है ब्रह्मा। ब्रह्मा द्वारा ब्राह्मण रचे गये। इस समय तुम कहेंगे कि हम सो ब्राह्मण सो देवता…..। पहले हम शूद्र बुद्धि थे। अब फिर से बाप पुरूषोत्तम बुद्धि बनाते हैं। हीरे जैसी पारस बुद्धि बनाते हैं। यह बाजोली का राज़ भी समझाते हैं। शिवबाबा भी है, प्रजापिता ब्रह्मा और एडाप्टेड बच्चे सामने बैठे हैं। अभी तुम कितने विशालबुद्धि बने हो। ब्राह्मण सो फिर देवता बनेंगे। अभी तुम ईश्वरीय बुद्धि बनते हो जो ईश्वर में गुण हैं वह तुमको वर्से में मिलते हैं। समझाते समय यह भूलो मत। बाप ज्ञान का सागर है नम्बरवन। उनको ज्ञानेश्वर कहा जाता है। ज्ञान सुनाने वाला ईश्वर। ज्ञान से होती है सद्गति। पतितों को पावन बनाते हैं ज्ञान और योग से। भारत का प्राचीन राजयोग मशहूर है क्योंकि आइरन एज से गोल्डन एज बना था। यह तो समझाया है कि योग दो प्रकार का है – वह है हठयोग और यह है राजयोग। वह हद का, यह है बेहद का। वह हैं हद के सन्यासी, तुम हो बेहद के सन्यासी। वह घरबार छोड़ते हैं, तुम सारी दुनिया का सन्यास करते हो। अभी तुम हो प्रजापिता ब्रह्मा की सन्तान, यह छोटा-सा नया झाड़ है। तुम जानते हो पुराने से नये बन रहे हैं। सैपलिंग लग रहा है। बरोबर हम बाजोली खेलते हैं। हम सो ब्राह्मण फिर हम सो देवता। ‘सो’ अक्षर जरूर लगाना है। सिर्फ हम नहीं। हम सो शूद्र थे, हम सो ब्राह्मण बनें….. यह बाजोली बिल्कुल भूलनी नहीं चाहिए। यह तो बिल्कुल सहज है। छोटे-छोटे बच्चे भी समझा सकते हैं, हम 84 जन्म कैसे लेते हैं, सीढ़ी कैसे उतरे हैं फिर ब्राह्मण बन चढ़ते हैं। ब्राह्मण से देवता बनते हैं।

अभी ब्राह्मण बन बहुत भारी खजाना ले रहे हैं। झोली भर रहे हैं। ज्ञान सागर कोई शंकर को नहीं कहा जाता है। वह झोली नहीं भरते हैं। यह तो चित्रकारों ने बना दिया है। शंकर की बात है नहीं। यह विष्णु और ब्रह्मा यहाँ के हैं। लक्ष्मी-नारायण का युगल रूप ऊपर में दिखाया है। यह है इनका (ब्रह्मा का) अन्तिम जन्म। पहले-पहले यह विष्णु था, फिर 84 जन्मों के बाद यह (ब्रह्मा) बना है। इनका नाम मैंने ब्रह्मा रखा है। सबका नाम बदल दिया क्योंकि सन्यास किया ना। शूद्र से ब्राह्मण बने तो नाम बदल लिया। बाप ने बहुत रमणीक नाम रखे हैं। तो अब तुम समझते हो, देखते हो वृक्षपति इस रथ पर बैठा है। उनका यह अकालतख्त है, इनका भी है। इस तख्त का वह लोन लेते हैं। उनको अपना तख्त तो मिलता नहीं। कहते हैं मैं इस रथ में विराजमान होता हूँ, पहचान देता हूँ। मैं तुम्हारा बाप हूँ सिर्फ जन्म-मरण में नहीं आता हूँ, तुम आते हो। अगर मैं भी आऊं तो तुमको तमोप्रधान से सतोप्रधान कौन बनायेंगे? बनाने वाला तो चाहिए ना इसलिए ही मेरा ऐसा पार्ट है। मुझे बुलाते भी हो हे पतित-पावन आओ। निराकार शिवबाबा को आत्मायें पुकारती हैं क्योंकि आत्माओं को दु:ख है। भारतवासी आत्मायें खास बुलाती हैं कि आकर पतितों को पावन बनाओ। सतयुग में तुम बहुत पवित्र सुखी थे, कभी भी पुकारते नहीं थे। तो बाप खुद कहते हैं तुमको सुखी बनाकर मैं फिर वानप्रस्थ में बैठ जाता हूँ। वहाँ मेरी दरकार ही नहीं। भक्ति मार्ग में मेरा पार्ट है फिर मेरा पार्ट आधाकल्प नहीं। यह तो बिल्कुल सहज है। इसमें किसका प्रश्न उठ नहीं सकता। गायन भी है दु:ख में सिमरण सब करें…….। सतयुग-त्रेता में भक्ति मार्ग होता ही नहीं। ज्ञान मार्ग भी नहीं कहेंगे। ज्ञान तो मिलता ही है संगम पर, जिससे तुम 21 जन्म प्रालब्ध पाते हो। नम्बरवार पास होते हैं। फेल भी होते हैं। तुम्हारी यह युद्ध चल रही है। तुम देखते हो जिस रथ पर बाप विराजमान है, वह तो जीत लेते हैं। फिर अनन्य बच्चे भी जीत पा लेते हैं जैसे कुमारका है, फलानी है, जरूर जीत पायेंगी। बहुतों को आपसमान बनाती हैं। तो बच्चों को यह बुद्धि में रखना है – यह बाजोली है। छोटे बच्चे भी यह समझ सकते हैं इसलिए बाबा कहते हैं बच्चों को भी सिखलाओ। उनको भी बाप से वर्सा लेने का हक है। जास्ती बात तो है नहीं। थोड़ा भी इस ज्ञान को जानने से ज्ञान का विनाश नहीं होता। स्वर्ग में तो जरूर आ जायेंगे। जैसे क्राइस्ट का स्थापन किया हुआ क्रिश्चियन धर्म कितना बड़ा है। यह देवी-देवता तो सबसे पहले और बड़ा धर्म है। जो दो युग चलता है तो जरूर उनकी संख्या भी बड़ी होनी चाहिए। परन्तु हिन्दू कहला दिया है। कहते भी हैं 33 करोड़ देवतायें। फिर हिन्दू क्यों कहते हैं! माया ने बुद्धि को बिल्कुल ही मार डाला है तो यह हाल हो गया है। बाप कहते हैं माया को जीतना कोई कठिन बात नहीं है। तुम हर कल्प जीत पाते हो। सेना हो ना। बाप मिला है इन विकारों रूपी रावण पर जीत पहनाने लिए।

तुम पर अभी बृहस्पति की दशा है। भारत पर ही दशा आती है। अभी सभी पर राहू की दशा है। बाप वृक्षपति आते हैं तो जरूर भारत पर बृहस्पति की दशा बैठेगी। इसमें सब कुछ आ जाता है। तुम बच्चे जानते हो हमको निरोगी काया मिलती है, वहाँ मृत्यु का नाम नहीं होता। अमरलोक है ना। ऐसे नहीं कहेंगे कि फलाना मरा। मरने का नाम नहीं, एक शरीर छोड़ दूसरा ले लेते हैं। शरीर लेने और छोड़ने पर खुशी ही रहती है। ग़म का नाम नहीं। तुम पर अभी बृहस्पति की दशा है। सब पर तो बृहस्पति की दशा हो न सके। स्कूल में भी कोई पास होते हैं कोई नापास होते हैं। यह भी पाठशाला है। तुम कहेंगे हम राजयोग सीखते हैं, सिखलाने वाला कौन है? बेहद का बाप। तो कितनी खुशी होनी चाहिए, इसमें कोई और बात नहीं। पवित्रता की है मुख्य बात। लिखा हुआ भी है – हे बच्चों! देह सहित देह के सब सम्बन्ध छोड़ मामेकम् याद करो। यह गीता के अक्षर हैं। यह गीता एपीसोड चल रहा है। उसमें भी मनुष्यों ने अगड़म-बगड़म कर दिया है। आटे में नमक कुछ है। बात कितनी सहज है, जो बच्चा भी समझ जाए। फिर भी भूलते क्यों हो? भक्ति मार्ग में भी कहते थे बाबा आप आयेंगे तो हम आपके ही बनेंगे। दूसरा न कोई। हम आपके बन आपसे पूरा वर्सा लेंगे। बाप का बनते ही हैं वर्सा लेने लिए। एडाप्ट होते हैं, जानते हैं बाप से हमको क्या मिलेगा। तुम भी एडाप्ट हुए हो। जानते हो हम बाप से विश्व की बादशाही, बेहद का वर्सा लेंगे। और कोई में ममत्व नहीं रखेंगे। समझो कोई का लौकिक बाप भी है, उनके पास क्या होगा। करके लाख डेढ़ होगा। यह बेहद का बाप तुमको बेहद का वर्सा देते हैं।

तुम बच्चे आधाकल्प झूठी कथायें सुनते आये हो। अब सच्ची कथा बाप से सुनते हो। तो ऐसे बाप को याद करना चाहिए। ध्यान से सुनना चाहिए। हम सो का अर्थ भी समझाना है। वह तो कह देते आत्मा सो परमात्मा। यह 84 जन्मों की कहानी तो कोई बता न सके। बाप के लिए कहते हैं कुत्ते-बिल्ली सबमें हैं। बाप की ग्लानि करते हैं ना। यह भी ड्रामा में नूँध है। कोई पर दोष नहीं रखते हैं। ड्रामा ही ऐसा बना हुआ है। तुमको जो ज्ञान से देवता बनाते हैं तुम फिर उनको ही गालियां देने लग पड़ते हो। तुम ऐसे बाजोली खेलते हो। यह ड्रामा भी बना हुआ है। मैं फिर आकर तुम पर भी उपकार करता हूँ। जानता हूँ तुम्हारा भी दोष नहीं है, यह खेल है। कहानी तुमको समझाता हूँ, यह है सच्ची-सच्ची कथा जिससे तुम देवता बनते हो। भक्ति मार्ग में फिर ढेर कथायें बना दी हैं। एम आब्जेक्ट कुछ भी नहीं है। वह सब हैं गिरने के लिए। उस पाठशाला में विद्या पढ़ाते हैं फिर भी शरीर निर्वाह लिए एम है। पण्डित लोग अपने शरीर निर्वाह लिए बैठ कथा सुनाते हैं। लोग उनके आगे पैसे रखते जाते हैं, प्राप्ति कुछ भी नहीं। तुमको तो अभी ज्ञान रत्न मिलते हैं, जिससे तुम नई दुनिया के मालिक बनते हो। वहाँ हर चीज़ नई मिलेगी। नई दुनिया में सब कुछ नया होगा। हीरे जवाहर आदि सब नये होंगे। अब बाप कहते हैं और सब बातें तुम छोड़ बाजोली याद करो। फ़कीर लोग भी बाजोली खेलते तीर्थों पर जाते हैं। कोई पैदल भी जाते हैं। अभी तो मोटरें एरोप्लेन भी निकल पड़े हैं। गरीब तो उनमें जा न सकें। कोई बहुत श्रद्धा वाले होते हैं तो पैदल भी चले जाते हैं। दिन-प्रतिदिन साइंस से बहुत सुख मिलता जाता है। यह है अल्पकाल का सुख, गिरते हैं तो कितना नुकसान हो जाता है। इन चीज़ों में सुख है अल्पकाल के लिए। बाकी फाइनल मौत भरा हुआ है। वह है साइन्स। तुम्हारी है साइलेन्स। बाप को याद करने से सब रोग खत्म हो जाते हैं, निरोगी बन जाते हैं। अभी तुम समझते हो सतयुग में एवरहेल्दी थे। यह 84 का चक्र फिरता ही रहता है। बाप एक ही बार आकर समझाते हैं तुमने मेरी ग्लानि की है, अपने को चमाट मारी है। ग्लानि करते-करते तुम शूद्र बुद्धि बन पड़े हो। सिक्ख लोग भी कहते हैं जप साहेब तो सुख मिले अर्थात् मनमनाभव। अक्षर ही दो हैं, बाकी जास्ती माथा मारने की तो दरकार ही नहीं है। यह भी बाप आकर समझाते हैं। अभी तुम समझते हो साहेब को याद करने से तुमको 21 जन्म का सुख मिलता है। वह भी उसका रास्ता बताते हैं। परन्तु पूरा रास्ता तो जानते ही नहीं। सिमर-सिमर सुख पाओ। तुम बच्चे जानते हो बरोबर सतयुग में बीमारी आदि दु:ख की कोई बात भी नहीं होती। यह तो कॉमन बात है। उसको सतयुग गोल्डन एज कहा जाता है, इसको कलियुग आइरन एज कहा जाता है। सृष्टि का चक्र फिरता रहता है। समझानी कितनी अच्छी है। बाजोली है, अभी तुम ब्राह्मण हो फिर देवता बनेंगे। यह बातें तुम भूल जाते हो। बाजोली याद हो तो यह ज्ञान सारा याद रहे। ऐसे बाप को याद कर रात को सो जाना चाहिए। फिर भी कहते हैं बाबा भूल जाते हैं। माया घड़ी-घड़ी भुला देती है। लड़ाई है तुम्हारी माया के साथ। फिर आधाकल्प तुम उन पर राज्य करते हो। बात तो सहज बताते हैं। नाम है ही सहज ज्ञान, सहज याद। बाप को सिर्फ याद करो, क्या तकल़ीफ देते हैं। भक्ति मार्ग में तो तुमने बहुत तकल़ीफ ली है। दीदार के लिए गला काटने को तैयार हो जाते हैं, काशी कलवट खाते हैं। हाँ, जो निश्चयबुद्धि होकर करते हैं उनके फिर विकर्म विनाश होते हैं। फिर नयेसिर शुरू होगा हिसाब-किताब। बाकी मेरे पास नहीं आते हैं। मेरी याद से विकर्म विनाश होते हैं, न कि जीवघात से। मेरे पास तो कोई आते नहीं। कितनी सहज बात है। यह बाजोली तो बुढ़ों को भी याद रहनी चाहिए, बच्चों को भी याद रहनी चाहिए। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) वृक्षपति बाप से सुख-शान्ति-पवित्रता का वर्सा लेने के लिए अपने आपको अकालमूर्त्त आत्मा समझ बाप को याद करना है। ईश्वरीय बुद्धि बनानी है।

2) बाप से सच्ची कथा सुनकर दूसरों को सुनानी है। मायाजीत बनने के लिए आपसमान बनाने की सेवा करनी है, बुद्धि में रहे हम कल्प-कल्प के विजयी हैं, बाप हमारे साथ है।

वरदान:- अलबेलेपन की लहर को विदाई दे सदा उमंग-उत्साह में रहने वाली समझदार आत्मा भव
कई बच्चे दूसरों को देखकर स्वयं अलबेले हो जाते हैं। सोचते हैं ये तो होता ही है….चलता ही है..क्या एक ने ठोकर खाई तो उसे देखकर अलबेलेपन में आकर खुद भी ठोकर खाना – यह समझदारी है? बापदादा को रहम आता है कि ऐसे अलबेले रहने वालों के लिए पश्चाताप की घड़ियाँ कितनी कठिन होंगी, इसलिए समझदार बन अलबेलेपन की लहर को, दूसरों को देखने की लहर को मन से विदाई दो। औरों को नहीं देखो, बाप को देखो।
स्लोगन:- वारिस क्वालिटी तैयार करो तब प्रत्यक्षता का नगाड़ा बजेगा।

TODAY MURLI 11 JULY 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 11 July 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 10 July 2018 :- Click Here

11/07/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, the Sustainer of the whole world is the one Father. He never takes sustenance from anyone. He is always incorporeal. Explain and prove this to everyone.
Question: What are the first and foremost signs of Godly students?
Answer: Godly students can never stay without hearing the murli. They would never say: I don’t have time to listen to the murli. Wherever they are, they would ask someone for points and study them. So many points are given. If you don’t hear the murli, how can you imbibe knowledge? This is a study. The Supreme Teacher is teaching you children and so you should never miss the murli.
Song: Having found You, we have found the whole world. The earth and sky all belong to us.

Om shanti. You souls now know the Father. You children know that Shiv Baba alone is the One who doesn’t have a subtle or a physical body. The subtle bodies of Brahma, Vishnu and Shankar are shown. They are also given names. You children understand that those subtle bodies have a soul in them. At this time, you children become lords of the three worlds. No one would say that Lakshmi and Narayan are lords of the three worlds. Lakshmi and Narayan do not know the three worlds (incorporeal world, subtle region and the corporeal world). You have to judge everything with your intellect as to whether it is right or wrong. Simply to say that whatever you hear is the truth is the path of devotion. Here, you have to understand very clearly. Brahma, Vishnu and Shankar truly have subtle bodies. Shiva alone is incorporeal. Many types of temple have been built to Him and He has also been given many different names. There are many temples where they have a lingam image. The temple in Bombay is called Babulnath Temple (Lord of Thorns). There is only one Shiva. People abroad too have given Him many names. You children now know that you are souls. The Supreme Father, the Supreme Soul, is explaining to us children. He is giving us the knowledge of the three worlds. At this time you are the lords of the three worlds because you know them. Unless someone knows the three worlds, how could he be a lord of them? Krishna too cannot be called a lord of the three worlds. Only Brahmins, the children of Brahma, are lords of the three worlds; they have knowledge of the three worlds. The Father is knowledge-full and blissful. That incorporeal Father is giving us knowledge. No corporeal human being can be called God. People here call Him omnipresent. You children now understand that God, the Father, is the one and only incorporeal Shiva who is never sustained. All others receive sustenance. A soul enters a tiny body. Whilst in the womb, a soul sucks his thumb. Shiv Baba doesn’t have a thumb to suck. Shiv Baba says: I don’t even enter a womb, whereas everyone else enters a womb. They are then also sustained. When an expectant mother eats something sour, it affects the child and causes harm to the baby. Shiv Baba asks: How would you sustain Me? I am called the Sustainer of the whole world. Therefore, there is no one higher than Me. You have to understand these things very clearly. Churn the ocean of knowledge and extract points. Shiv Baba is truly the Father. He is also called the Beloved. All human beings are lovers of that Beloved. All of you are brides and He is the Bridegroom. The Bridegroom is the incorporeal One. No corporeal or subtle being can be called the Bridegroom. The Beloved of all is the one incorporeal Baba. Incorporeal souls remember their Beloved. Why do they remember Him? There is definitely one difficulty or another. All devotees remember God. The lovers and Beloved are incorporeal. Those corporeal lovers and beloveds are also praised, but there are very few of them. They are attracted to each other’s bodies. Their love is not for vice. They simply continue to gaze at one another. They don’t feel happy without seeing one another. They remember the body. No matter where they are sitting, they would imagine that their beloved is standing in front of them. They have visions because their love is based on purity. There is beauty of the body too. They don’t love one another because of vice, but they are happy when they see each other. While eating, they remember their beloved and they forget to eat; they continue to see their beloved. There are only a few like them. Here, all are lovers of the one beloved Shiv Baba. However, very few become real lovers who pass with honours. The eight beads are praised so much. So, now that the devotees have found God, how much they should remember Him! The Father says: Children, constantly remember Me, the Father, because you receive a lot of happiness from Me. There, they receive temporary happiness and they have a lot of love for one another. Here, you have unlimited love for the unlimited Father. There is unlimited love for the One. You children know that He doesn’t have a bodily name. There must definitely be a dynasty of the dual form of Vishnu – Lakshmi and Narayan. There is the kingdom of Lakshmi and Narayan at the beginning of the golden age and so there would surely also be subjects. The intellect says that there will be a particular number of souls at the beginning of the golden age and then that number will continue to increase. There used to be the kingdom of Lakshmi and Narayan at the beginning of the golden age. There truly was the kingdom of Radhe and Krishna by the banks of the River Jamuna. There are many rivers such as the River Ganges and the River Jamuna. They used to reside by the banks of the rivers. There is nothing like the things that have been portrayed such as Dwaraka sinking beneath the sea, nor are there any villages of the deities on the shores of the ocean. This Bombay will not exist. This is now in your intellects. God, the Father, is the most beloved. Christ is not called God the Father. You know that Christ is a messenger and that the Supreme Father, the Supreme Soul, sent him. He came from the incorporeal world. People don’t consider him to be God, the Father. They consider him to be a p receptor. Hindus don’t know who established the Hindu religion or when. There is no Hindu religion. There is the original eternal deity religion. If people ask us our religion in the census, we say that we are Brahmins. At this time, we are not Hindus. At this time, we are Brahmins, the mouth-born creation of Brahma. However, when you put yourselves down as Brahmins, they put you in the column for Hindus. There, in the golden age, there is no census taken because there is just the one deity religion. Therefore, there is no need to ask anything. Here, there are many religions and this is why people are asked. The Father sits here and explains all of these things. Therefore, keep the remembrance of the Father in your intellects. He is the Incorporeal and He only has one name. You can also see the subtle images of Brahma, Vishnu and Shankar. Where is the form of Shiva? People understand that that is God. We cannot call ourselves God. Souls take rebirth. It isn’t that the Father also takes rebirth. You now know the three worlds and this is why you are named trilokinath (lord of the three worlds). Only those who know about them could be their lords. You now have knowledge of the three worlds. Only you Brahmins know this. No one else can know it. Krishna is not a lord of the three worlds either. This knowledge doesn’t exist there. Only you receive it and this is why your name is glorified. Shiva, Adi Dev, Adi Devi and you children are in the Dilwala Temple because you do service now. The Father comes to make the impure ones pure and He therefore takes the help of you children. The Father says: I know those who become My helpers and, in return, I make them into the masters of heaven. Anyone can understand this. Not all students are the same. Shiv Baba’s shop is to change human beings into deities, and they are numberwise. A centre of maharathis must definitely be functioning well. They would be considered to be good salesmen. All the shops (centres) belong to Shiv Baba. You do the business of the imperishable jewels of knowledge. This father is so ordinary. There is so much difference between truth and falsehood. Only the one Father tells you the truth. All the rest is nothing but falsehood. The biggest lie is to call the Supreme Father, the Supreme Soul, the One who gives you shrimat, omnipresent. Previously, people used to say that He is infinite. No one knows who Ravan is or when he came into existence. Those people have shown Ravan in the silver age and taken Krishna into the copper age. They don’t even know the golden age. Rama and Sita used to exist in the silver age. There can be no question of Ravan existing in the silver age. All of that applies here. They have just told a lie. When you explain to people, they say that that is just the imagination of the BKs. This has now been explained to you children. You have to imbibe the points you are given. Wherever you are, you should ask for points and study them. Don’t say that you don’t have time. What would you call Godly students who say that they don’t have time? How would you be able to inspire others to imbibe? So many points are given. If you don’t hear or read the murli, how would you be able to imbibe it? This is an education. The Supreme Teacher who teaches is just the One. If you don’t listen to the murli, how would you be able to relate the points? You children understand that the Father is beyond birth and death. He doesn’t take rebirth, but people celebrate His birthday. They are even beginning to stop celebrating the birthday of Shiva. Who can tell you how Shiva takes birth or what He must have done? In the Gita they have mentioned the name of Krishna, but he cannot come here in that form. Krishna can be called the lord of Paradise but not the lord of the three worlds. So, Paradise, that is, heaven, existed here. Krishna also existed here. Radhe and Krishna were not sister and brother. Both were in their own separate kingdoms. Children have had visions of how marriage takes place there. Baba entertained you a lot at the beginning. You were in the bhatti by yourselves. You didn’t meet your friends or relatives, and so Baba showed you a lot and you will again see many things at the end. You will feel as though you are sitting in Paradise. People will be distressed in the final moments. Many calamities are to come. That is called extreme bloodshed without cause. The world doesn’t know this. It isn’t that that Government will take directions. Everyone is now to be destroyed. You are claiming an imperishable status from the eternal Father. Even if someone becomes part of the subjects, that is great fortune. There, there is nothing but happiness whereas here, there is nothing but sorrow. The Father has now come to teach you and so you should study. Although you might have work to do, let your hands do the work and your heart be in remembrance. Let your intellects’ yoga be connected to the Father. While living at home, remember that One. Oh! The Father is making you into the masters of heaven. What do you think of that? You rule the kingdom for 21 births. There is nothing to worry about. Look how many worries people here have. There, there are no worries. You experience the reward there. However, you won’t even know this. At this time, you have the knowledge that you are claiming your inheritance from the eternal Father. Then, you will automatically continue to receive your inheritance of the kingdom. It isn’t that you will become a king by making donations or performing charity, no. That is the reward of the effort you make at this time. Therefore, you should make so much effort that a reward for 21 births is created. There, there is no question of effort or reward. There, there is nothing unattained for which you would have to make effort. All are wealthy. Here, people study to become judges and doctors. There, there are no judges or doctors etc. No one commits sin there. There are no thieves etc. there. You are becoming the masters of the whole world. You don’t need to be concerned about anything. Food etc. doesn’t cost anything. Here, too, in Baba’s days, you could get 20 kgs. of grain for 8 to 10 annas (8 annas = half a rupee). So, what would there have been before that? Everything now is so expensive. It will continue to become more and more expensive. Then it will become cheap. According to the drama, you are going to receive everything. You are to receive the kingdom with their help: the two monkeys fight and you take the butter. The world doesn’t know who is teaching you. He is in an incognito form. He gives you the kingdom of Paradise in a second. There is the story of God, the Friend. That is the Father’s praise. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Become a good, clever salesman and do the business of the imperishable jewels of knowledge. In order to create an imperishable reward, connect your intellect in yoga to the one Father.
  2. In order to pass with honours, become a true lover. Constantly stay in remembrance of the one Beloved.
Blessing: May you be ignorant of the knowledge of desire and remain constantly content in this life of dying alive.
You children have died alive in order to remain constantly content. Where there is contentment, there are all virtues and all powers because you have made the Creator belong to you. Having found the Father, you have found everything. You receive multimillions times more than what you would have if all your desires were put together. Desires in front of this attainment is like a lamp in front of the sun. Let alone any desires arising, there is no question of even the existence of desires. You are filled with all attainments and you are therefore ignorant of the knowledge of desire and a constantly contented jewel.
Slogan: Those whose sanskars are easy are able to mould themselves to any situation.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 11 JULY 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 11 July 2018

To Read Murli 10 July 2018 :- Click Here
11-07-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – सारी सृष्टि का पालनकर्ता एक बाप है, वह कभी किसी की पालना नहीं लेते, सदा निराकार हैं – यह बात सिद्ध कर सबको समझाओ”
प्रश्नः- गॉडली स्टूडेन्ट की पहली मुख्य निशानी क्या होगी?
उत्तर:- गॉडली स्टूडेन्ट कभी भी मुरली सुनने बिगर नहीं रह सकते। वह ऐसे नहीं कहेंगे कि हमें मुरली सुनने की फुर्सत ही नहीं मिलती। जहाँ भी हैं प्वाइन्ट्स मंगाकर भी पढ़ेंगे। कितनी अथाह प्वाइन्ट्स चलती हैं! अगर मुरली नहीं सुनेंगे तो धारणा कैसे होगी? यह पढ़ाई है, सुप्रीम टीचर पढ़ाने वाला है तो बच्चों को मुरली कभी मिस नहीं करनी चाहिए।
गीत:- तुम्हें पाके हमने……..

ओम् शान्ति। अब तुम आत्मायें बाप को जान गई हो। बच्चे जानते हैं एक ही शिवबाबा है जिसको कोई भी सूक्ष्म वा स्थूल शरीर नहीं मिलता है। ब्रह्मा, विष्णु, शंकर का भी सूक्ष्म शरीर दिखाते हैं। नाम भी है। बच्चे समझते हैं – उनमें आत्मा है, सूक्ष्म शरीर है। इस समय तुम बच्चे त्रिलोकीनाथ बनते हो। लक्ष्मी-नारायण को कोई त्रिलोकीनाथ नहीं कहेंगे। लक्ष्मी-नारायण इन तीन लोक (मूलवतन, सूक्ष्मवतन, स्थूलवतन) को नहीं जानते। हर एक बात बुद्धि से निर्णय करनी है कि राइट है या रांग है! सिर्फ जो सुना सत-सत कहना – यह तो भक्ति मार्ग है। यहाँ तो अच्छी रीति समझना है। बरोबर ब्रह्मा, विष्णु, शंकर को सूक्ष्म शरीर है। सिर्फ एक ही शिव निराकार है। मन्दिर तो उनके अनेक प्रकार के बने हुए हैं और नाम भी अनेक प्रकार के रख दिये हैं। ढेर मन्दिर हैं, जहाँ लिंग रखा रहता है। बाम्बे में है उसको बाबुरीनाथ कहते हैं। है तो एक शिव, विलायत आदि तरफ भी बहुत नाम रखे हुए हैं। अभी बच्चे जानते हैं – हम आत्मा हैं। परमपिता परमात्मा हम बच्चों को समझा रहे हैं। तीनों लोकों का ज्ञान दे रहे हैं। इस समय ही तुम त्रिलोकीनाथ हो क्योंकि तुम जानते हो। जब तक कोई जाने नहीं तो नाथ बन कैसे सकते? कृष्ण को भी त्रिलोकीनाथ नहीं कहेंगे। सिर्फ ब्रह्मा की औलाद ब्राह्मण ही त्रिलोकीनाथ हैं, जिनको तीनों लोकों की नॉलेज है। नॉलेजफुल, ब्लिसफुल बाप है। वह निराकार बाप हमको नॉलेज दे रहे हैं। कोई साकार मनुष्य को गॉड नहीं कहा जा सकता। यहाँ तो सर्वव्यापी कह देते हैं।

अभी तुम बच्चे समझ गये हो – गॉड फादर एक ही निराकार शिव है, जिसकी पालना भी नहीं होती है। और सभी की पालना होती है। आत्मा छोटे शरीर में आती है। गर्भ में तो अपना अंगूठा चूसती है। शिवबाबा को अंगूठा नहीं, जो चूसना पड़े। शिवबाबा कहते हैं – मैं तो गर्भ में ही नहीं जाता हूँ, और सब तो गर्भ में जाते हैं। फिर उनकी पालना भी होती है। माँ जैसे खाना आदि खाती है, कोई खट्टी चीज़ खाती है तो उसका असर बच्चे पर पड़ता है तो बच्चे को नुकसान होता है। शिवबाबा पूछते हैं – हमारी तुम पालना कैसे करेंगे? हमको तो कहते ही हैं सारी सृष्टि का पालनकर्ता। तो मेरे ऊपर कोई है नहीं। इन बातों को अच्छी रीति समझना चाहिए। विचार सागर मंथन कर प्वाइन्ट्स निकालनी चाहिए। बरोबर शिवबाबा बाबा है। उनको माशूक भी कहा जाता है। सभी मनुष्य मात्र आशिक हैं उस माशूक के। तुम सब सजनियां हो, वह साजन ठहरा। साजन है निराकार। कोई साकार वा आकार को साजन नहीं कहा जा सकता। सभी का माशूक एक ही निराकार बाबा है। निराकार आत्मायें अपने माशूक को याद करती हैं। याद क्यों करती हैं? जरूर कुछ न कुछ तकलीफ है। सभी भक्त भगवान् को याद करते हैं। यह आशिक-माशूक निराकारी हैं। वह जो साकारी आशिक-माशूक होते हैं उन्हों की भी महिमा है और वह बहुत थोड़े होते हैं। एक-दूसरे के शरीर पर फिदा होते हैं। उनका कोई विकार के लिए प्यार नहीं होता है। सिर्फ एक-दो को देखते रहते। देखने बिगर सुख नहीं आयेगा। शरीर को याद करते हैं। कहाँ भी बैठे रहेंगे। समझेंगे हमारे सामने माशूक खड़ा है। उनको साक्षात्कार होता है क्योंकि वह पवित्रता का प्रेम है। शरीर की भी शोभा होती है ना। विकार के लिए नहीं, एक-दो को देख खुश होते हैं। खाते हुए उनकी याद आई, बस, खाना भूल जायेगा। उनको ही देखते रहेंगे। वह भी थोड़े होते हैं। यहाँ तो सभी के सभी आशिक हैं। उस माशूक (शिवबाबा) के, परन्तु कितने थोड़े सच्चे आशिक बनते हैं जो पास विथ ऑनर्स होते हैं! 8 दानों की कितनी महिमा है! तो जब भक्तों को भगवान् मिला है तो उनको कितना याद करना चाहिए! बाप कहते हैं – बच्चे, निरन्तर मुझे याद करो क्योंकि मेरे से तुमको बहुत सुख मिलता है। वह तो करके अल्प काल का सुख मिल जाता है। आपस में बहुत लव रहता है। यह फिर है बेहद के बाप से बेहद का लव। बेहद का प्यार एक में रहता है। बच्चे जानते हैं – उनका कोई शारीरिक नाम नहीं है।

विष्णु के दो रूप लक्ष्मी-नारायण की जरूर डिनायस्टी होगी। सतयुग आदि में लक्ष्मी-नारायण का राज्य होगा तो जरूर प्रजा भी होगी। बुद्धि भी कहती है – सतयुग आदि में इतने होंगे फिर वृद्धि होती जायेगी। सतयुग आदि में लक्ष्मी-नारायण का राज्य था। बरोबर जमुना के कण्ठे पर राधे-कृष्ण की राजधानी थी। गंगा-जमुना आदि यह तो बहुत नदियां हैं। नदी किनारे रहते थे। यह जो दिखाते हैं सागर में द्वारिका डूबी आदि – ऐसी कोई बात नहीं। न कोई सागर के किनारे देवताओं के गांव होते हैं। यह बम्बई थोड़ेही होगी। अभी यह तुम्हारी बुद्धि में है। मोस्ट बिलवेड गॉड फादर, क्राइस्ट को गॉड फादर नहीं कहेंगे। जानते हैं क्राइस्ट मैसेन्जर है। परमपिता परमात्मा ने उनको भेजा है। आते हैं निराकारी दुनिया से। उनको गॉड फादर नहीं समझते। प्रीसेप्टर समझते हैं। हिन्दुओं को पता नहीं है – हिन्दू धर्म कब और किसने स्थापन किया? हिन्दू धर्म तो है नहीं। आदि सनातन देवी-देवता धर्म है। आदम-शुमारी (जन-गणना) में अगर हमसे पूछते हैं तो हम कहेंगे हम तो ब्राह्मण हैं। इस समय हम कोई हिन्दू थोड़ेही हैं। इस समय हम हैं ही ब्रह्मा मुख वंशावली ब्राह्मण। परन्तु तुम भल ब्राह्मण धर्म बतायेंगे वो फिर भी हिन्दू में डाल देंगे। वहाँ स्वर्ग में तो आदम-शुमारी होती ही नहीं क्योंकि है ही एक देवी-देवता धर्म। तो पूछने की दरकार ही नहीं। यहाँ बहुत धर्म हैं इसलिए पूछते हैं। यह सब बातें बाप बैठ समझाते हैं। तो बुद्धि से बाप को याद करना है। वह है ही निराकार और उनका एक ही नाम है। ब्रह्मा, विष्णु, शंकर के भी आकारी चित्र देखने में आते हैं। शिव का कहाँ है? समझते भी हैं कि यह भगवान् है। हम अपने को भगवान् कहला नहीं सकते। आत्मायें तो पुनर्जन्म लेती हैं। ऐसे नहीं, बाप भी पुनर्जन्म लेते हैं।

अभी तुम तीनों लोकों को जानते हो इसलिए तुम्हारा त्रिलोकीनाथ नाम है। जानने वाले ही नाथ हुए। तुमको अब त्रिलोकी का ज्ञान है। तुम ब्राह्मण ही जानते हो और कोई भी जान न सके। कृष्ण भी त्रिलोकीनाथ नहीं है। वहाँ यह ज्ञान ही नहीं रहता। यह सिर्फ तुमको मिलता है, इसलिए तुम्हारा नाम बाला है। देलवाड़ा मन्दिर में शिव, आदि देव, आदि देवी और तुम बच्चे हो क्योंकि तुम अभी सर्विस करते हो। बाप आते हैं पतितों को पावन बनाने तो तुम बच्चों की मदद लेते हैं। बाप कहते हैं जो-जो मेरे मददगार बनते हैं, उन्हों को मैं जानता हूँ। यह तो कोई भी समझ सकते हैं, जिसकी एवज़ फिर तुमको स्वर्ग का मालिक बनाते हैं। स्टूडेन्ट सब एक जैसे तो नहीं होंगे। शिवबाबा की दुकान है मनुष्य को देवता बनाने की फिर उनमें नम्बरवार हैं। महारथियों का सेन्टर जरूर अच्छा चलता होगा। समझेंगे अच्छे सेल्समैन हैं। शिवबाबा के सब दुकान हैं। तुम अविनाशी ज्ञान-रत्नों का व्यापार करते हो। यह बाप कितना साधारण है! कितना फ़र्क है सच और झूठ का! सच बताने वाला तो एक ही बाप है। बाकी सब झूठ ही झूठ है। बड़े ते बड़ी झूठ – जो श्रीमत देने वाले परमपिता परमात्मा को सर्वव्यापी कह देते हैं! आगे तो बेअन्त कह देते थे। रावण कौन है, कब से आये हैं – यह भी कोई नहीं जानते। रावण को वो लोग त्रेता में ले गये हैं। कृष्ण को द्वापर में ले जाते हैं। सतयुग को जानते ही नहीं। राम-सीता थे त्रेता में। वहाँ रावण की तो बात ही नहीं उठ सकती है। सब यहाँ की बातें हैं। यह तो एक गपोड़ा लगा दिया है। कोई को समझाओ तो फिर कह देते यह इन बी.के. की कल्पना है। अब बच्चों को समझाया गया है। प्वाइन्ट्स निकलती हैं वह धारण करनी है। जहाँ भी हो प्वाइन्ट्स मंगाकर पढ़ना चाहिए। ऐसे नहीं कि फुर्सत नहीं है। अरे, गॉडली स्टूडेन्ट कहे – हमको फुर्सत नहीं तो उनको क्या कहेंगे? कोई को धारण कैसे करा सकेंगे? इतनी अथाह प्वाइन्ट्स चलती हैं, वह अगर मुरली नहीं सुनेंगे अथवा नहीं पढ़ेंगे तो धारणा कैसे होगी? यह तो एज्यूकेशन है। सुप्रीम टीचर पढ़ाने वाला एक ही है। अगर मुरली नहीं सुनेंगे तो प्वाइन्ट्स सुना कैसे सकेंगे?

यह तो बच्चे समझते हैं बाप जन्म-मरण रहित है। वह पुनर्जन्म नहीं लेते। परन्तु उनकी जयन्ती मनाते हैं। यह तो शिव जयन्ती को भी खत्म करते जाते हैं। अब कौन बताये शिव का जन्म कैसे हुआ? क्या किया होगा? गीता में कृष्ण का नाम डाला है परन्तु उसी रूप से तो आ न सके। कृष्ण को वैकुण्ठनाथ कहेंगे, त्रिलोकीनाथ नहीं। तो वैकुण्ठ अथवा स्वर्ग यहाँ ही था। कृष्ण भी यहाँ था। राधे-कृष्ण कोई भाई-बहन नहीं थे। दोनों अलग-अलग अपनी-अपनी राजधानी में थे। बच्चों ने साक्षात्कार किया है – कैसे स्वयंवर होते हैं? बाबा ने शुरू में तुमको बहुत बहलाया था। अकेले ही अन्दर भट्ठी में पड़े थे। कोई मित्र-सम्बन्धी आदि से नहीं मिलते थे। तो बाबा ने बहुत दिखाया। फिर भी पिछाड़ी में तुम बहुत देखेंगे। समझेंगे हम जैसे वैकुण्ठ में बैठे हैं। अन्त के समय मनुष्य हैरान होते हैं। बहुत आफतें आनी हैं, इनको कहा जाता है – अति खूने नाहेक। दुनिया नहीं जानती। ऐसे भी नहीं, वह गवर्मेन्ट कोई मत लेगी। अभी तो सबका विनाश होना है। तुम अविनाशी बाप से अविनाशी पद पा रहे हो। भल प्रजा में आयें तो भी अहो सौभाग्य। वहाँ सुख ही सुख है। यहाँ है दु:ख ही दु:ख। अब बाप पढ़ाने आये हैं तो पढ़ना भी चाहिए ना। भल काम है, हथ कार डे दिल यार डे…….. बुद्धियोग बाप के साथ लगा हुआ हो। गृहस्थ व्यवहार में रहते हुए याद उनको करना है। अरे, बाप स्वर्ग का मालिक बनाते हैं, क्या समझते हो! 21जन्म राजाई करते हो। कोई फिक्र की बात नहीं। यहाँ तो देखो, मनुष्यों को कितना फिक्र रहता है! वहाँ फिक्र होता नहीं। तुम वहाँ प्रालब्ध भोगते हो। परन्तु वहाँ यह भी पता नहीं पड़ेगा। यह नॉलेज तुमको अभी है कि हम अविनाशी बाप से वर्सा ले रहे हैं। फिर आटोमेटिकली हम राजधानी का वर्सा लेते रहेंगे। ऐसे नहीं कि दान-पुण्य करने से राजा बनेंगे। नहीं। इस समय के पुरुषार्थ की वह प्रालब्ध है। तो कितना पुरुषार्थ करना चाहिए जिससे 21 जन्म की प्रालब्ध बनती है! वहाँ पुरुषार्थ-प्रालब्ध की बात होती नहीं। वहाँ कोई अप्राप्त वस्तु ही नहीं जिसके लिए पुरुषार्थ करना पड़े। सब धनवान हैं। यहाँ मनुष्य पढ़ते हैं कि हम जज बनें, डॉक्टर बनें…….. वहाँ तो न जज, न डॉक्टर आदि होते। वहाँ कोई पाप करते ही नहीं। वहाँ कोई चोर-चकार होगा नहीं। तुम सारे विश्व के मालिक बनते हो। कोई बात की परवाह नहीं रहती। अन्न आदि पर पैसे लगते नहीं। यहाँ भी बाबा के होते 8-10 आने मण अनाज मिलता था। तो उनसे आगे क्या होगा? अब तो कितनी मंहगाई है! अजुन महंगाई और बढ़ेगी, फिर सस्ताई हो जायेगी। ड्रामा अनुसार सब कुछ तुमको मिलना है। उनकी मदद से तुमको राजधानी मिलनी है। दो बन्दर लड़ते हैं, मक्खन तुमको मिलता है। दुनिया थोड़ेही जानती है कि तुमको पढ़ाने वाला कौन है! यह है भी गुप्त वेष में। तुमको एक सेकेण्ड में वैकुण्ठ की राजधानी दे देते हैं। खुदा दोस्त की कहानी है ना। यह महिमा बाप की है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद, प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अच्छा होशियार सेल्समैन बन अविनाशी ज्ञान-रत्नों का व्यापार करना है। अविनाशी प्रालब्ध बनाने के लिए अपना बुद्धियोग एक बाप से लगाना है।

2) पास विद ऑनर होने के लिए सच्चा-सच्चा आशिक बनना है। निरन्तर एक माशूक की याद में रहना है।

वरदान:- इस मरजीवा जीवन में सदा सन्तुष्ट रहने वाले इच्छा मात्रम् अविद्या भव
आप बच्चे मरजीवा बने ही हो सदा सन्तुष्ट रहने के लिए। जहाँ सन्तुष्टता है वहाँ सर्वगुण और सर्वशक्तियां हैं क्योंकि रचयिता को अपना बना लिया, तो बाप मिला सब कुछ मिला। सर्व इच्छायें इक्ट्ठी करो उनसे भी पदमगुणा ज्यादा मिला है। उसके आगे इच्छायें ऐसे हैं जैसे सूर्य के आगे दीपक। इच्छा उठने की तो बात ही छोड़ो लेकिन इच्छा होती भी है – यह क्वेश्चन भी नहीं उठ सकता। सर्व प्राप्ति सम्पन्न हैं इसलिए इच्छा मात्रम् अविद्या, सदा सन्तुष्ट मणि हैं।
स्लोगन:- जिनके संस्कार इज़ी हैं वे कैसी भी परिस्थिति में स्वयं को मोल्ड कर लेंगे।
Font Resize