daily murli 10 november

TODAY MURLI 10 NOVEMBER 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 10 November 2020

10/11/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, have the concern to make yourselves, souls, satopradhan. Make sure that no weaknesses remain and that Maya doesn’t make you make mistakes.
Question: Which auspicious words should constantly emerge from the lips of you children?
Answer: Constantly say these auspicious words: We will change from ordinary human beings into Narayan, nothing less. We were the masters of the world and are becoming that once again. However, this destination is very high. Therefore, you have to remain extremely careful. Check your chart. Keep your aim and objective in front of you, continue to make effort and don’t become disheartened.

Om shanti. The Father sits here and explains to you spiritual children. When you sit here on the pilgrimage of remembrance, tell the brothers and sisters: Sit here in soul consciousness and remember the Father. You have to remind them of this. You are now being given this awareness. I am a soul and my Father has come to teach me. I study through the physical organs. The Father too takes the support of physical organs and He first of all says through this one: Remember the Father! It has been explained to you children that this is the path of knowledge; this isn’t called the path of devotion. Only the one Ocean of Knowledge, the Purifier, gives knowledge. The number one lesson you are taught is: Consider yourselves to be souls and remember the Father. This is most essential. In no other satsang would they know how to say this. Nowadays, there are many artificial institutions where they might repeat this having heard you, but they wouldn’t really understand the meaning of it. They wouldn’t have the wisdom to explain it. The Father only tells you children: Remember the unlimited Father and your sins will be absolved. Reason also says that this is the old world. There is a lot of difference between the new world and the old world. That is the pure world and this is the impure world. You call out: O Purifier, come! Come and purify us! There is the expression in the Gita: Constantly remember Me alone. Renounce all bodily relations and consider yourself to be a soul. At first you don’t have any relations of bodies. You souls come here to play your parts. It is remembered: You came alone and you have to return alone. People don’t understand the meaning of this. You now understand this in a practical way. We are now becoming pure through the pilgrimage of remembrance and the power of yoga. This is the power of Raj Yoga. The other is hatha yoga through which human beings become healthy for a short time. In the golden age you remain so healthy that there is no need for hatha yoga there. It is here, in this dirty world, that you do that. This is the old world. The golden age, the new world that has now passed, used to have the kingdom of Lakshmi and Narayan. No one knows this. There, everything is new. There is the song: Awaken O brides, awaken! The new age is the golden age; the old age is the iron age. No one would call this a satsang (spiritual gathering). The Father has reminded you that it is now the iron age. You are now studying for the golden age. No other teacher would tell you that you can claim a royal status in the new world by studying. No one else can say this. You children are reminded of everything. Don’t become careless. Baba continues to explain to you all: Wherever you are sitting or whatever business you are doing, do that while considering yourselves to be souls. Whenever there is any difficulty or slackness in your business, make as much time as possible to sit in remembrance, because only then will you souls become pure; there is no other way. You are studying Raj Yoga for the new world. Iron-aged souls cannot go there. Maya has broken the wings of souls. Souls fly, do they not? They shed their bodies and take others. A soul is the fastest rocket of all. You children are amazed when you hear these new things. You souls are such tiny rockets! A part of 84 births is recorded in each of you. By keeping such things in your hearts you will feel enthusiastic. Students in a school remember their studies. What is now in your intellects? The intellect is not in the body; the mind and intellect are in the soul. It is the soul that studies. It is the soul that does a job. Shiv Baba too is a soul, but He is called “The Supreme”. He is the Ocean of Knowledge. He is a very tiny point. No one knows that you children are being filled with the Father’s sanskars. You are now becoming pure with the power of yoga. For that, you do have to make effort. You have to be concerned not to fail in your studies. The number one subject in this is: I, this soul, have to become satopradhan. No weaknesses should remain. Otherwise, you will fail. Maya makes you forget everything. You souls do want to keep a chart so that you don’t perform any sinful actions throughout the day, but Maya doesn’t allow you to keep a chart. You get caught in Maya’s claws. Your heart says: I should keep a chart. Businessmen always keep accounts of their profit and loss. This is a very big account of yours. This is an income for 21 births and you must therefore not be careless and make any mistakes. Some of you children are very careless and make many mistakes. Some children see this Baba in the subtle region and also in heaven. This Baba, too, makes a lot of effort and he continues to be amazed. I bathe, I eat my meals in remembrance of Baba and yet I forget Him! Then I begin to remember Him again. This is a very big subject. There mustn’t be any difference of opinion in this. It says in the Gita: Renounce the body and all bodily relations. Then, just the soul remains. Forget the body and consider yourself to be a soul! It is the soul that is impure and tamopradhan. However, human beings say that souls are immune to the effect of action. They say that each soul is the Supreme Soul and, because He too is a soul, they say that souls are immune to the effect of action. Tamoguni human beings give tamoguni teachings; they cannot make you satoguni. You become tamopradhan on the path of devotion. Everything is at first satopradhan and then goes through the stages of rajo and tamo. There is construction and destruction. The Father inspires the construction of the new world and then there is the destruction of this old world. God is the Creator of the new world. This old world will change and become new. The signs of the new world are this Lakshmi and Narayan. They are the masters of the new world. Even the silver age isn’t called the new world. The iron age is the old world and the golden age is the new world. Between the end of the iron age and the beginning of the golden age, there is this confluence age. When someone studies for an MA or a BA, he becomes very elevated. You become so elevated through this study. No one in the world knows who made them so elevated. You now know the beginning, the middle and the end. You know everyone’s life story. This is knowledge. There is no knowledge on the path of devotion; they simply teach you physical rituals. There is plenty of devotion. They speak about it so much. It appears to be very beautiful. What beauty is there in a seed? Such a tiny seed becomes so big. That is the tree of devotion; there are so many physical rituals. In knowledge, there is just the one term: Manmanabhav! The Father says: In order to become satopradhan from tamopradhan, remember Me. You say: O Purifier, come and make us pure! Everyone in the kingdom of Ravan is impure and unhappy. In the kingdom of Rama everyone is pure and happy. There are the terms: The kingdom of Rama and the kingdom of Ravan. No one, except you children, knows the kingdom of Rama. You are now making effort. No one but you knows the secret of 84 births. Although others say: “God speaks: Constantly remember Me alone”, so what? They can’t explain how you have taken the full 84 births. The cycle is now coming to an end. Go and listen to those who relate the Gita and listen to what they say. All the knowledge now drips into your intellects. Baba asks you: Have we met previously? You reply: Yes Baba, we met in the previous cycle. Baba asks and you give the correct answer meaningfully. You don’t just speak like parrots. Then, Baba asks: Why did we meet? What did you attain? So, you reply: We attained the kingdom of the world and everything is included in that. Although you say that you change from ordinary humans into Narayan, to become the masters of the world includes the king, the queen and the deity dynasty. The king, the queen and the subjects will all become the masters of the world. This is known as speaking auspicious words. I will change from an ordinary human into Narayan and nothing less. The Father says: Yes children. Make full effort. Look at your charts and ask yourselves: Will I be able to claim a high status in this condition? To how many have I shown the path? To what extent have I become a stick for the blind? If you don’t do any service, you should understand that you will become part of the subjects. Ask your heart: If I were to leave my body now, what status would I claim? The destination is very high. Therefore, you have to remain cautious. Because some children understand that they don’t really stay in remembrance, they wonder what is the point of keeping a chart. That is known as becoming disheartened. They study in that way too; they don’t pay attention. Don’t just sit down and consider yourselves to be very clever or you will fail at the end. You have to benefit yourselves. Your aim and objective are in front of you. I have to study and become this. This too is a wonder. There is not their kingdom in the iron age. Where did their kingdom come from in the golden age? Everything depends on this study. It isn’t that there was a war between the deities and the devils and that the deities won and gained the kingdom. How could there be a war between deities and devils? Nor is there a war between the Kauravas and the Pandavas. The aspect of a war is meaningless. First of all, tell them that the Father says: Renounce all relations of bodies and consider yourselves to be souls. You souls came bodiless and you now have to return home bodiless. Only pure souls can return home. Tamopradhan souls cannot return. The wings of souls have been broken. Maya has made you impure. Because you are tamopradhan, you cannot travel to such a distant holy place. You souls say that, you were originally residents of the supreme abode. Each of you adopted a puppet (body) of the five elements here in order to play a part. When someone dies, people say that he has become a resident of heaven. Who has? Did the body go there or did the soul go there? The body was burnt and only the soul remained. The soul cannot go to heaven. People simply continue to repeat what others tell them. Those on the path of devotion only teach devotion. They don’t know anyone’s occupation. They say: The worship of Shiva is the highest. Shiva is the Highest on High. Therefore, remember Him alone! They also give a rosary. They tell you to say “Shiva, Shiva” and to turn the beads. They pick up a rosary and continue to repeat “Shiva, Shiva” without any understanding. Gurus give many different types of teachings. Here, there is just the one aspect. The Father, Himself, says: By remembering Me, your sins will be absolved. Your mouth doesn’t have to repeat: “Shiva, Shiva!” Does a child chant the name of his father? All of these are incognito matters. No one knows what you are doing. Those who understood this in the previous cycle will understand it again. New children continue to come and there continues to be expansion. As you progress further, you will watch as detached observers all the scenes that the drama shows you. Baba will not give you visions in advance of what is to happen in the future. Otherwise, that would be artificial. These matters have to be very clearly understood. You have now received understanding, whereas, on the path of devotion, you are senseless. You know that devotion is also fixed in the drama. You children now understand that you are not going to stay in this old world. Students have their studies in their intellects. Your intellects also have to imbibe the main points. Only when the number one aspect of Alpha is made firm should you move on. Otherwise, they will continue to ask useless questions. Some children write and say: So-and-so said in writing that the God of the Gita is Shiva, and that is absolutely right. Although they say this, it doesn’t sit in their intellects. If they understood that the Father had come, they would say that they want to come and meet such a Father and claim their inheritance. Not a single one has that faith. Not even one person has instantly written such a letter! Although they write that this knowledge is very good, they don’t have the courage to come running to such a wonderful Father from whom they have remained distant for so long, and for whom they have stumbled along on the path of devotion, and who has now come to make them into the masters of the world. They will emerge later on. If they have recognized that the Father is God, the Highest on High, they should belong to Him. You should give them such an explanation that their heads open up. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. While carrying on with your business, make time to make yourself, the soul, pure and make effort to stay in remembrance. Never perform any devilish actions.
  2. Bring benefit to yourself and others. Study and teach others. Don’t consider yourself to be too clever. Accumulate the power of remembrance.
Blessing: May you become a complete angel and claim number one by following sakar Baba.
The easy way to claim number one is to look at Father Brahma who is number one. Instead of looking at many others, only look at one and follow the one alone. Make the mantra of, “I am an angel”, firm and the differences will finish. The instruments of science will then begin their work and you will become complete angels and then deities and incarnate in the new world. So, to become a complete angel means to follow sakar Baba.
Slogan: The butter of happiness that is extracted by your churning makes your life strong.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 10 NOVEMBER 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 10 November 2020

Murli Pdf for Print : – 

10-11-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – आत्मा को सतोप्रधान बनाने का फुरना (फा) रखो, कोई भी खामी (कमी) रह न जाए, माया ग़फलत न करा दे”
प्रश्नः- तुम बच्चों के मुख से कौन से शुभ बोल सदा निकलने चाहिए?
उत्तर:- सदा मुख से यही शुभ बोल बोलो कि हम नर से नारायण बनेंगे, कम नहीं। हम ही विश्व के मालिक थे फिर से बनेंगे। लेकिन यह मंजिल ऊंची है, इसलिए बहुत-बहुत खबरदार रहना है। अपना पोतामेल देखना है। एम ऑबजेक्ट को सामने रख पुरूषार्थ करते रहना है, हार्ट-फेल नहीं होना है।

ओम् शान्ति। बाप बैठ रूहानी बच्चों को समझाते हैं – यहाँ जब याद की यात्रा में बैठते हो तो भाई-बहिनों को कहो कि तुम आत्म-अभिमानी हो बैठो और बाप को याद करो। यह स्मृति दिलानी चाहिए। तुमको अभी यह स्मृति मिल रही है। हम आत्मा हैं, हमारा बाप हमको पढ़ाने आते हैं। हम भी कर्मेन्द्रियों द्वारा पढ़ते हैं। बाप भी कर्मेन्द्रियों का आधार ले इन द्वारा पहले-पहले यह कहते हैं – बाप को याद करो। बच्चों को समझाया गया है कि यह है ज्ञान मार्ग। भक्ति मार्ग नहीं कहेंगे। ज्ञान सिर्फ एक ही ज्ञान सागर पतित-पावन देते हैं। तुमको पहले नम्बर का पाठ यही मिलता है – अपने को आत्मा समझ बाप को याद करो। यह बहुत जरूरी है। और कोई भी सतसंग में किसी को कहने आयेगा नहीं। भल आजकल आर्टीफिशल संस्थायें बहुत निकली हैं। तुमसे सुनकर कोई कहे भी परन्तु अर्थ समझ न सके। समझाने का अक्ल नहीं आयेगा। यह तुमको ही बाप कहते हैं कि बेहद के बाप को याद करो तो विकर्म विनाश हो जाएं। विवेक भी कहता है यह पुरानी दुनिया है। नई दुनिया और पुरानी दुनिया में बहुत फ़र्क है। वह है पावन दुनिया, यह है पतित दुनिया। बुलाते भी हैं हे पतित-पावन आओ, आकर पावन बनाओ। गीता में भी अक्षर है मामेकम् याद करो। देह के सर्व सम्बन्ध त्याग अपने को आत्मा समझो। यह देह के सम्बन्ध पहले नहीं थे। तुम आत्मा यहाँ आती हो पार्ट बजाने। गायन भी है – अकेले आये, अकेला जाना है। इनका अर्थ मनुष्य नहीं समझते। अब तुम प्रैक्टिकल में जानते हो। हम अभी पावन बन रहे हैं याद की यात्रा से वा याद के बल से। यह है ही राजयोग बल। वह है हठयोग जिससे मनुष्य थोड़े समय के लिए तन्दुरूस्त रहते हैं। सतयुग में तुम कितना तन्दुरूस्त रहते हो। हठयोग की दरकार नहीं। यह सब यहाँ इस छी-छी दुनिया में करते हैं। यह है ही पुरानी दुनिया। सतयुग नई दुनिया जो पास्ट हो गई है, उसमें इन लक्ष्मी-नारायण का राज्य था। यह किसको भी पता नहीं है। वहाँ हर एक चीज़ नई है। गीत भी है ना जाग सजनिया जाग……। नवयुग है सतयुग। पुराना युग है कलियुग। अभी इसको कोई भी सतयुग तो नहीं कहेंगे। अभी कलियुग है, तुम सतयुग के लिए पढ़ते हो। ऐसा पढ़ाने वाला तो कोई भी नहीं होगा जो कहे कि इस पढ़ाई से तुमको नई दुनिया में राज्य पद मिलेगा। बाप के सिवाए और कोई बोल न सके। तुम बच्चों को हर बात की स्मृति दिलाई जाती है। ग़फलत नहीं करनी है। बाबा सबको समझाते रहते हैं। कहाँ भी बैठो, धंधा आदि करो अपने को आत्मा समझ करो। धन्धे धोरी में जरा मुश्किलात होती है तो जितना हो सके – टाइम निकाल याद में बैठो तब ही आत्मा पवित्र होगी। और कोई उपाय नहीं। तुम राजयोग सीख रहे हो नई दुनिया के लिए। वहाँ आइरन एजड आत्मा जा न सके। माया ने आत्मा के पंख तोड़ डाले हैं। आत्मा उड़ती है ना। एक शरीर छोड़ दूसरा लेती है। आत्मा है सबसे तीखा रॉकेट। तुम बच्चों को यह नई-नई बातें सुनकर वन्डर लगता है। आत्मा कितना छोटा रॉकेट है। उसमें 84 जन्मों का पार्ट नूंधा हुआ है। ऐसी बातें दिल में याद रखने से उमंग आयेगा। स्कूल में विद्यार्थियों की बुद्धि में विद्या याद रहती है ना। तुम्हारी बुद्धि में अब क्या है? बुद्धि कोई शरीर में नहीं है। आत्मा में ही मन-बुद्धि है। आत्मा ही पढ़ती है। नौकरी आदि सब कुछ आत्मा ही करती है। शिवबाबा भी आत्मा है। परन्तु उनको परम कहते हैं। वह ज्ञान का सागर है। वह बहुत छोटी बिन्दी है। यह भी किसको पता नहीं है, जो उस बाप में संस्कार हैं वही तुम बच्चों में भरे जाते हैं। अभी तुम योगबल से पावन बन रहे हो। उसके लिए पुरूषार्थ करना पड़े। पढ़ाई में फुरना तो रहता है कि कहाँ हम फेल न हो जाएं। इसमें पहले नम्बर की सबजेक्ट ही यह है कि हम आत्मा सतोप्रधान बनें। कुछ खामी न रह जाए। नहीं तो नापास हो जायेंगे। माया तुमको हर बात में भुलाती है। आत्मा चाहती भी है चार्ट रखें। सारे दिन में कोई आसुरी काम न करें। परन्तु माया चार्ट रखने नहीं देती। तुम माया के चम्बे में आ जाते हो। दिल कहती भी है – पोतामेल रखें। व्यापारी लोग हमेशा फायदे नुकसान का पोतामेल रखते हैं। तुम्हारा तो यह बहुत बड़ा पोतामेल है। 21 जन्मों की कमाई है, इसमें ग़फलत नहीं करनी चाहिए। बच्चे बहुत ग़फलत करते हैं। इस बाबा को तो तुम बच्चे सूक्ष्मवतन में, स्वर्ग में भी देखते हो। बाबा भी बहुत पुरूषार्थ करते हैं। वन्डर भी खाते रहते हैं। बाबा की याद में स्नान करता हूँ, भोजन खाता हूँ, फिर भी भूल जाता हूँ फिर याद करने लगता हूँ। बड़ी सबजेक्ट है यह। इस बात में कोई भी मतभेद आ नहीं सकता। गीता में भी है देह सहित देह के सब धर्म छोड़ो। बाकी रही आत्मा। देह को भूल अपने को आत्मा समझो। आत्मा ही पतित तमोप्रधान बनी है। मनुष्य फिर कह देते आत्मा निर्लेप है। आत्मा सो परमात्मा, सो आत्मा है इसलिए समझते हैं आत्मा में कोई लेप-छेप नहीं लगता है। तमोगुणी मनुष्य शिक्षा भी तमोगुणी देते हैं। सतोगुणी बना न सकें। भक्ति मार्ग में तमोप्रधान बनना है। हर एक चीज पहले सतोप्रधान फिर रजो तमो में आती है। कन्स्ट्रक्शन और डिस्ट्रक्शन होता है। बाप नई दुनिया का कन्स्ट्रक्शन कराते फिर इस पुरानी दुनिया का डिस्ट्रक्शन हो जाता है। भगवान तो नई दुनिया रचने वाला है। यह पुरानी दुनिया बदलकर नई होगी। नई दुनिया के चिन्ह तो यह लक्ष्मी-नारायण हैं ना। यह नई दुनिया के मालिक हैं। त्रेता को भी नई दुनिया नहीं कहेंगे। कलियुग को पुराना, सतयुग को नया कहा जाता है। कलियुग अन्त और सतयुग आदि का यह है संगमयुग। कोई एम.ए., बी.ए. पढ़ते हैं तो ऊंच बन जाते हैं ना। तुम इस पढ़ाई से कितने ऊंच बनते हो। दुनिया इस बात को नहीं जानती कि इनको इतना ऊंच किसने बनाया। तुम अभी आदि-मध्य-अन्त को जान गये हो। सबकी जीवन कहानी को तुम जानते हो। यह है नॉलेज। भक्ति में नॉलेज नहीं है सिर्फ कर्मकाण्ड सिखाते हैं। भक्ति तो अथाह है। कितना वर्णन करते हैं। बहुत खूबसूरत दिखाई पड़ती है। बीज में क्या खूबसूरती है, इतना छोटा बीज कितना बड़ा हो जाता है। भक्ति का यह झाड़ है, अथाह कर्मकाण्ड हैं। ज्ञान का गुटका एक ही है मनमनाभव। बाप कहते हैं तमोप्रधान से सतोप्रधान बनने के लिए मुझे याद करो। तुम कहते भी हो हे पतित-पावन आकर हमको पावन बनाओ। रावण राज्य में सब पतित दु:खी हैं। रामराज्य में सब हैं पावन सुखी। रामराज्य, रावण राज्य नाम तो है। रामराज्य का किसको पता नहीं है सिवाए तुम बच्चों के। तुम अब पुरूषार्थ कर रहे हो। 84 जन्मों का राज़ भी तुम्हारे सिवाए कोई नहीं जानते। भल करके कहते हैं भगवानुवाच – मन-मनाभव। सो क्या ऐसे थोड़ेही कोई समझायेंगे कि तुमने 84 जन्म कैसे पूरे लिए। अब चक्र पूरा होता है। गीता सुनाने वालों का जाकर सुनो-गीता पर क्या बोलते हैं। तुम्हारी बुद्धि में तो अब सारा ज्ञान टपकता रहता है। बाबा पूछते हैं – आगे कभी मिले हो? कहते हैं हाँ बाबा कल्प पहले मिले थे। बाबा पूछते हैं और तुम उत्तर देते हो अर्थ सहित। ऐसे नहीं कि तोते मिसल कह देंगे। फिर बाबा पूछते हैं – क्यों मिले थे, क्या पाया था? तो तुम कह सकते हो – हमने विश्व का राज्य पाया था, उसमें सब आ जाता है। भल तुम कहते हो नर से नारायण बने थे परन्तु विश्व का मालिक बनना, उसमें राजा-रानी और डीटी डिनायस्टी सब है। उनका मालिक राजा, रानी, प्रजा सब बनेंगे। इसको कहा जाता है शुभ बोलना। हम तो नर से नारायण बनेंगे, कम नहीं। बाप कहेंगे – हाँ बच्चे, पूरा पुरूषार्थ करो। अपना पोतामेल भी देखना है – इस हालत में हम ऊंच पद पा सकेंगे वा नहीं? कितनों को रास्ता बताया है? कितने अन्धों की लाठी बना हूँ? अगर सर्विस नहीं करते तो समझना चाहिए – हम प्रजा में चले जायेंगे। अपनी दिल से पूछना है अगर अभी हमारा शरीर छूट जाए तो क्या पद पायेंगे? बहुत बड़ी मंजिल है तो खबरदार रहना चाहिए। कई बच्चे समझते हैं बरोबर हम तो याद ही नहीं करते तो फिर पोतामेल रखकर क्या करेंगे। उसको फिर हार्टफेल कहा जाता है। वह पढ़ते भी ऐसा ही हैं। ध्यान नहीं देते। मिया मिट्ठू बन बैठ नहीं जाना है जो पिछाड़ी में फेल हो जाएं। अपना कल्याण करना है। एम ऑब्जेक्ट तो सामने है। हमको पढ़कर यह बनना है। यह भी वन्डर है ना। कलियुग में तो राजाई है नहीं। सतयुग में फिर इन्हों की राजाई कहाँ से आई। सारा मदार पढ़ाई पर है। ऐसे नहीं कि देवताओं और असुरों की लड़ाई लगी, देवताओं ने जीत कर राज्य पाया। अब असुरों और देवताओं की लड़ाई लग कैसे सकती। न कौरवों और पाण्डवों की ही लड़ाई है। लड़ाई की बात ही निषेध हो जाती है। पहले तो यह बताओ कि बाप कहते हैं – देह के सब सम्बन्ध छोड़ अपने को आत्मा समझो। तुम आत्मा अशरीरी आई थी, अब फिर वापिस जाना है। पवित्र आत्मायें ही वापिस जा सकेंगी। तमोप्रधान आत्मायें तो जा न सकें। आत्मा के पंख टूटे हुए हैं। माया ने पतित बनाया है। तमोप्रधान होने कारण इतना दूर होली (पवित्र) जगह जा नहीं सकते। अभी तुम्हारी आत्मा कहेगी कि हम असुल परमधाम के रहने वाले हैं। यहाँ यह 5 तत्वों का पुतला लिया है – पार्ट बजाने के लिए। मरते हैं तो कहते हैं स्वर्गवासी हुआ। कौन? वहाँ शरीर गया या आत्मा गई? शरीर तो जल गया। बाकी रही आत्मा। वह स्वर्ग में तो जा नहीं सकती। मनुष्यों को तो जिसने जो सुनाया वह कहते रहते हैं। भक्ति मार्ग वालों ने भक्ति ही सिखलाई है, आक्यूपेशन का किसको पता नहीं है। शिव की पूजा सबसे ऊंच कहते हैं। ऊंच ते ऊंच शिव है, उनको ही याद करो, सिमरण करो। माला भी देते हैं। शिव-शिव कहते माला फेरते रहो। बिगर अर्थ माला उठाए शिव-शिव कहते रहेंगे। अनेक प्रकार की शिक्षायें गुरू लोग देते हैं। यहाँ तो एक ही बात है – बाप खुद कहते हैं मेरे को याद करने से विकर्म विनाश होंगे। शिव-शिव मुख से कहना नहीं है। बाप का नाम बच्चा थोड़ेही सिमरण करता है। यह है सब गुप्त। किसको भी पता नहीं है कि तुम क्या कर रहे हो। जिन्होंने कल्प पहले समझा होगा वही समझेंगे। नये-नये बच्चे आते रहते हैं, वृद्धि को पाते रहते हैं। आगे चल ड्रामा क्या दिखलाता है सो साक्षी होकर देखना है। पहले से बाबा साक्षात्कार नहीं करायेंगे कि यह-यह होगा। फिर तो आर्टीफिशयल हो जाए। यह बड़ी समझने की बातें हैं।। तुमको समझ मिलती है, भक्ति मार्ग में बेसमझ थे। जानते हो ड्रामा में भक्ति की भी नूँध है।

अभी तुम बच्चे समझते हो – हम इस पुरानी दुनिया में रहने वाले नहीं हैं। स्टूडेण्ट को यह पढ़ाई बुद्धि में रहती है। तुमको भी मुख्य-मुख्य प्वाइंट्स बुद्धि में धारण करनी हैं। नम्बरवन बात अल्फ पक्का करो तब आगे चलो। नहीं तो फालतू पूछते रहेंगे। बच्चियां लिखती हैं फलाने ने लिखकर दिया है कि गीता का भगवान शिव है, यह तो बिल्कुल ठीक है। भल ऐसे कहते हैं परन्तु बुद्धि में कोई बैठता थोड़ेही है। अगर समझ जाएं कि बाप आया है तो कहे ऐसे बाप से हम जाकर मिलें। वर्सा लेवें। एक को भी निश्चय नहीं बैठता। फट से एक की भी चिट्ठी नहीं आती। भल करके लिखते भी हैं कि नॉलेज बड़ी अच्छी है, परन्तु इतनी हिम्मत नहीं होती जो समझें वाह ऐसा बाबा, जिससे हम इतना समय दूर रहे, भक्ति मार्ग में धक्के खाये, अब वह बाप विश्व का मालिक बनाने आये हैं। तो भाग आये। आगे चल निकलेंगे। अगर बाप को पहचाना है, ऊंच ते ऊंच भगवान है तो उनका बनो ना। समझानी ऐसी देनी चाहिए जो कपाट ही खुल जाएं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) धन्धा आदि करते आत्मा को पावन बनाने के लिए समय निकाल याद की मेहनत करनी है। कोई भी आसुरी काम कभी नहीं करना है।

2) अपना और दूसरों का कल्याण करना है। पढ़ाई पढ़ना और पढ़ाना है, मिया मिट्ठू नहीं बनना है। याद का बल जमा करना है।

वरदान:- साकार बाप को फालो कर नम्बरवन लेने वाले सम्पूर्ण फरिश्ता भव
नम्बरवन आने का सहज साधन है-जो नम्बरवन ब्रह्मा बाप है, उसी वन को देखो। अनेकों को देखने के बजाए एक को देखो और एक को फालो करो। हम सो फरिश्ता का मंत्र पक्का कर लो तो अन्तर मिट जायेगा फिर साइन्स का यंत्र अपना काम शुरू करेगा और आप सम्पूर्ण फरिश्ते देवता बन नई दुनिया में अवतरित होंगे। तो सम्पूर्ण फरिश्ता बनना अर्थात् साकार बाप को फालो करना।
स्लोगन:- मनन करने से जो खुशी रूपी मक्खन निकलता है-वही जीवन को शक्तिशाली बनाता है।

TODAY MURLI 10 NOVEMBER 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 10 November 2019

10/11/19
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
06/03/85

The confluence age is an age of festivityand Brahmin life is a life of enthusiasm.

Today, the holiest and highest Father has come to celebrate Holi with His holy and happy swans. The Trimurti Father has come to tell you the divine significance of the three types of Holi. The confluence age is anyway the holy age. The confluence age is an age of festivity. Every day, every moment, of you elevated souls is a festival filled with enthusiasm. People without knowledge celebrate festivals in order to bring enthusiasm into themselves. However, for you elevated souls this Brahmin life is a life of enthusiasm. It is a life filled with zeal and happiness. This is why the confluence age itself is an age of festivity. A Godly life is a life that is always filled with zeal and enthusiasm. You spend your elevated lives constantly dancing in happiness, drinking the nourishing nectar of knowledge, singing songs of happiness and love in your hearts. Souls without knowledge celebrate for one day and experience temporary enthusiasm, and they then become as they were before. You become holy whilst celebrating the festivals and you also make others holy. Those people simply celebrate, whereas you celebrate as you become. People celebrate three types of Holi. One is the Holi of burning. The second is the Holi of colouring others. The third is the Holi of celebrating an auspicious meeting. These three celebrations of Holi have spiritual meanings but those people continue to celebrate it in a literal, physical way. At this confluence age, when you great souls belong to the Father, that is, when you become holy, what do you do first? First of all, you burn all your old sanskars and nature in the fire of yoga. Only after that are you able to be coloured with the colour of the Father’s company by having remembrance. You too first celebrate the Holi of burning and you then become coloured with the colour of God’s company, that is, you become equal to the Father. The Father is the Ocean of Knowledge, and so you children, too, become embodiments of knowledge by being coloured with His company. So the Father’s virtues become your virtues and the Father’s powers become your treasures; they become your property. The colour of the Company becomes so everlasting that it becomes everlasting for birth after birth. Then, when you are coloured by the Company, when you have celebrated this Holi of spiritual colour, the elevated meeting of souls with the Supreme Soul, of the Father and the children, constantly continues to take place. People without knowledge later begin to celebrate the memorial of this spiritual Holi of yours. They celebrate the different memorials of your practical lives full of enthusiasm and become happy for a temporary period. They remember the specialties you attained at every step of your elevated lives and they continue to celebrate with pleasure for a short while. You are pleased when you see and hear about this memorial, are you not, of how it is a memorial of your specialties? You burnt Maya and they make a Holika and burn that. They have made up such entertaining stories that when you hear them, you are amused by how they have taken the events of your life. They celebrate the festival of Holi as a memorial of your different attainments. You now remain constantly happy. They celebrate Holi with a lot of happiness as a memorial of your attainment of happiness. They forget all sorrow at that time, whereas you have forgotten sorrow for all time. They celebrate the memorial of your attainment of happiness.

Also, at the time of celebrating, young and old all become very light and celebrate Holi in a light-hearted manner. On that day everyone’s mood also remains very light. So this is a memorial of your becoming double light. When you become coloured by the colour of God’s company, you become double light, do you not? So there is a memorial of this speciality. As well as that, no matter what relationship they have, young and old all have the feeling of being equal. Even if it is a little grandson, he will colour his grandfather. They forget all consciousness of age and relationships. They have the feeling of equality. This is also the memorial of your being especially equal, that is, the stage of brotherhood, not the drishti of any other relationship; it is a memorial of your equal stage of brotherhood. Also, on this day, they fill water pistols with water of various colours and colour one another. This too is a memorial of your service at this time. How much do you colour any soul with the spray of your drishti and make them into embodiments of love, embodiments of bliss, happiness, peace and powers? You colour them in such a way that the colour remains permanently. It cannot be washed out. You don’t have to make any effort. Instead, every soul wants to be constantly coloured with this colour. So, all of you have a spray bottle of spiritual drishti of spiritual colours, do you not? You play Holi, do you not? This spiritual Holi is a memorial of the lives of all of you. You celebrated such an auspicious meeting with BapDada that you become equal to the Father by meeting Him. You celebrated such an auspicious meeting that you became combined. No one can separate you.

This day is also the day of forgetting everything of the past. You forget the past 63 births, do you not? You put a full stop to the past. This is why the meaning of Holi is also said to be: Past is past! No matter how strong the enmity between some may be, that is forgotten and it is then considered to be the day of celebrating a meeting. You too forgot the enemy of souls – devilish sanskars and devilish nature – and celebrated a meeting with God, did you not? Old sanskars cannot enter your awareness, even in your thoughts. This too is celebrating the memorial of your speciality of forgetting. So, did you hear how many specialities you have? They have made separate memorials of your every virtue, speciality and act. So, how great would be the souls whose every act becomes a memorial and whose remembrance makes others happy? Do you understand who you are? You are holy anyway, but you are also so special.

Even though you double foreigners may not know about the memorials of your greatness, people of the world are remembering the importance of your remembrance and are celebrating that. Do you understand what Holi is? All of you are coloured by the Company anyway. You are coloured with the colour of love to such an extent that you are unable to see anything except the Father. You continue to eat, drink, walk, sing and dance, while lost in love. You are coloured with a fast colour, are you not? Or is the colour weak? Which colour are you coloured with: fast or non-fast? Have you made the past the past? Things of the past must not be remembered even by mistake. You say: What can I do, I just remembered it? It comes by mistake. A new birth, new things, new sanskars, a new world. Even this world of Brahmins is a new world. The language of Brahmins is also new. The language of souls is new, is it not? What do they say and what do you say? All the things of God are also new. So, the language is new, the systems and customs are new, connections and relationships are new; everything has become new. Everything old has ended. The new has begun. You sing new songs, not old ones. “What? Why?” are old songs. “Aha! Wah! Oho”! these are new songs. So which songs do you sing? You don’t sing songs of distress, do you? There are many in the world to cry out in distress, not you. So you celebrated the eternal Holi, that is, you let the past be the past and became completely pure. You are coloured with the colour of the Father’s company. So you have celebrated Holi, have you not?

The Father and you are always together, and you will remain constantly together at the confluence age. You cannot be separated. You have such zeal and enthusiasm in your heart, do you not, that there is just you and Baba? Or, is there a third person behind the curtains? It isn’t that a mouse sometimes emerges or a cat sometimes emerges, is it? Everything else has finished, has it not? Now that you have found the Father, you have found everything; nothing else remains. No other relationships remain, no other treasures or powers or virtues or knowledge or attainment remain. So, what more do you need? This is called celebrating Holi. Do you understand?

You people stay in so much pleasure. You are carefree emperors, emperors without even a shell, emperors of the land that is free from sorrow. No one else can stay in such pleasure. Whether it is the wealthiest person in the world, the most famous person in the world, a great scholar, one who has studied the Vedas, an intense devotee, a leading scientist or anyone of any occupation, he cannot have a life of such pleasure where there is no labour. There is nothing but love. There is no worry. You have pure and positive thoughts and you are a well-wisher. Tour around the whole cycle and see if you can find anyone else with a life of such pleasure. Then, if you do, bring that one here! This is why you sing the song: In Madhuban, in the Father’s world, there is nothing but pleasure. When you eat, there is pleasure; when you sleep, there is pleasure. There is no need to go to sleep with a sleeping pill. Go to sleep with the Father and you won’t need to take a pill. It is when you sleep alone that you say that there is high blood pressure or pain. It is then that you have to take a pill. Let Baba be with you. Simply say: Baba, I am now going to sleep with You. This is the pill. Such a time will come, like at the beginning, when medicines weren’t there. You do remember that, do you not? In the beginning, there were no medicines for such a long time. Yes, you would eat a little of the cream at the top of the milk or butter. You never used to take medicine. So you were made to practise that at the beginning, were you not? Your bodies were old. At the end, those days of the beginning will repeat. Everyone will also continue to have unique visions. Many have the desire: Let me have a vision just once! Those who remain strong till the very end will have visions. There will be the same bhatti of a gathering. Service will then have ended. Now, because of service, you have dispersed here and there. At that time, all the rivers will merge with the Ocean. However, that time will be delicate. Even though you will have all facilities, they will not work. This is why the lines of your intellects have to be so clear that they can be touched as to what you need to do at that time. If you delay for even a second, you will be lost. What would the result be if those people delayed for even a second pressing the button? In the same way, here, too, if your receiving a touching is delayed by even a second, it would be difficult for you to come here. Those people also remain sitting there paying so much attention. Similarly, here, this is a touching of the intellect. In the beginning, many people sitting at home, heard a sound calling them: “Come, go there! Now come here!” They instantly left and came. In the same way, at the end too, the Father’s sound will reach you. Just as all the children were called in a corporeal way, in the same way, he will invoke in a subtle way all the children: “Come, come!” That’s all! Come and go with Him. This is why your intellect always needs to be clear. If your attention is drawn anywhere else, you will miss the Father’s call and His invocation of you. All of this has to happen.

You teachers think that you will reach here anyway. It is also possible that the Father will give you directions where you are, that there may be a special task there. You may have to give power to others. You may have to take someone with you. This too could happen, but it has to be according to the Father’s directions, not through your own dictates, nor through your attachment. Not that you remember: Oh, my centre! I should take such-and-such a student with me. This one is special, he is a helper! It should not be like that either. If you wait for anyone, you will be left behind. You are ready to such an extent, are you not? This is called being everready. Everything should always be packed. You should not have to think about packing at that time: I should do this, I should do that. You remember how, in the sakar days, the bags and baggage of the serviceable children would always be ready. It would be five minutes before the train was to arrive and they would receive a direction: You have to go now. So their bags and baggage would remain ready. The train that they had to board would have arrived at the previous station and they would leave for their station then. You experienced that, did you not? Here, too, the bags and baggage of the stage of your mind need to be ready. The Father calls you and the children become present. This is called being everready. Achcha.

To those who are always coloured with the colour of the Company, to those who let the past be the past and make their present and future elevated, to those who constantly celebrate a meeting with God, to those who perform every act while staying in remembrance, that is, those who make their every act become a memorial, to those who constantly sing and dance in happiness and celebrate in pleasure at the confluence age, to the children who are equal to the Father and who catch His every thought, to those who always keep their intellects elevated and clear, to such holy and happy swans, BapDada’s love, remembrance and namaste.

Responding to the letters from all the children, BapDada gave greetings for Holi:

BapDada received all the letters and messages of all the children of this land and abroad filled with love, zeal and enthusiasm and, in some cases, their promises for their efforts. BapDada is reminding all you holy swans of the special slogan “As is the Father, so am I” which is in your awareness, in the form of a blessing. Before you perform any act or have any thought, first of all, check: Is this thought the Father’s thought? Whatever are the Father’s acts are my acts? Check in a second and then put it into practice. You will then become a constantly powerful soul equal to the Father and experience success. Success is your birthright. You will experience such easy attainment. “I, myself am a star of success and so success cannot be separated from me”. Let the beads of the garland of success always be threaded around your neck, that is, continue to experience success in every act. Today, in this gathering of Holi, BapDada is personally seeing all of you holy swans and celebrating Holi with you. He is seeing everyone with love and taking the variety of fragrances of everyone’s speciality. The fragrance of each one’s speciality is so sweet. Whilst seeing every special soul with his specialty, the Father sings this song: Wah! My easy yogi child! Wah! My multimillion times fortunate child! So, all of you, accept love and remembrance personally according to your speciality and name and always remain under the canopy of BapDada’s protection and do not be afraid of Maya. It is a small thing; it is not anything big. Don’t make a small thing big. Make a big thing a small thing. If you stay up above, a big thing will become very small. If you stay down below, even small things will appear to be big. This is why you have BapDada’s company and His hand. Therefore, don’t be afraid. Keep flying. With the flying stage, go beyond everything in a second. The Father’s company keeps you constantly safe and will continue to keep you safe. Achcha. BapDada is giving all of you greetings for Holi by calling each one of you a long-lost-and-now-found, specially beloved child. Achcha. (Then all the children celebrated Holi with BapDada and also had a picnic.)

Blessing: May you become equal to the Father and become powerful by having the awareness of the highest Father, the highest self and the highest task.
In today’s world, the child of a V.I.P. would consider himself to be a V.I.Ptoo. However, no one is higher than the Father. “We are the highest souls, children of the Highest-on-High Father”. This awareness will make you powerful. Those who have the awareness of the highest Father, the highest self and the highest task become equal to the Father. Apart from you souls, there is no one in the whole world who is most elevated and the highest and this is why you are praised and worshipped.
Slogan: Check your subtle attachments in the mirror of perfection and become liberated.

 

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 10 NOVEMBER 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 10 November 2019

10-11-19
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 06-03-85 मधुबन

“संगमयुग उत्सव का युग है, ब्राह्मण जीवन उत्साह की जीवन है”

आज होलीएस्ट, हाइएस्ट बाप अपने होली और हैपी हंसों से होली मनाने आये हैं। त्रिमूर्ति बाप तीन प्रकार की होली का दिव्य राज़ सुनाने आये हैं। वैसे संमगयुग होली युग है। संमगयुग उत्सव का युग है। आप श्रेष्ठ आत्माओं का हर दिन, हर समय उत्साह भरा उत्सव है। अज्ञानी आत्मायें स्वयं को उत्साह में लाने के लिए उत्सव मनाते हैं। लेकिन आप श्रेष्ठ आत्माओं के लिए यह ब्राह्मण जीवन उत्साह की जीवन है। उमंग, खुशी से भरी हुई जीवन है इसलिए संगमयुग ही उत्सव का युग है। ईश्वरीय जीवन सदा उमंग उत्साह वाली जीवन है। सदा ही खुशियों में नाचते, ज्ञान का शक्तिशाली अमृत पीते, सुख के गीत गाते, दिल के स्नेह के गीत गाते, अपनी श्रेष्ठ जीवन बिता रहे हैं। अज्ञानी आत्मायें एक दिन मनाती, अल्पकाल के उत्साह में आती फिर वैसे की वैसी हो जाती। आप उत्सव मनाते हुए होली बन जाते हो और दूसरों को भी होली बनाते हो। वह सिर्फ मनाते हैं, आप मनाते बन जाते हो। लोग तीन प्रकार की होली मनाते हैं-एक जलाने की होली। दूसरी रंग लगाने की होली। तीसरी मंगल मिलन मनाने की होली। यह तीनों होली हैं रूहानी रहस्य से। लेकिन वह स्थूल रूप में मनाते रहते हैं। इस संगमयुग पर आप महान आत्मायें जब बाप की बनती हो अर्थात् होली बनती हो तो पहले क्या करती हो? पहले सब पुराने स्वभाव संस्कार योग अग्नि से भस्म करते हो अर्थात् जलाते हो। उसके बाद ही याद द्वारा बाप के संग का रंग लगता है। आप भी पहले जलाने वाली होली मनाते हो फिर प्रभू संग के रंग में रंग जाते हो अर्थात् बाप समान बन जाते हो। बाप ज्ञान सागर तो बच्चे भी संग के रंग में ज्ञान स्वरूप बन जाते हैं। जो बाप के गुण वह आपके गुण हो जाते, जो बाप की शक्तियाँ वह आपका खजाना बन जाती। आपकी प्रापर्टी हो जाती। तो संग का रंग ऐसा अविनाशी लग जाता जो जन्म-जन्मान्तर के लिय यह रंग अविनाशी बन जाता है। और जब संग का रंग लग जाता, यह रूहानी रंग की होली मना लेते तो आत्मा और परमात्मा का, बाप और बच्चों का श्रेष्ठ मिलन का मेला सदा ही होता रहता। अज्ञानी आत्माओं ने आपके इस रूहानी होली को यादगार के रूप में मनाना शुरू किया है। आपकी प्रैक्टिकल उत्साह भरी जीवन का भिन्न-भिन्न रूप में यादगार मनाकर अल्पकाल के लिए खुश हो जाते। हर कदम में, आपके श्रेष्ठ जीवन में जो विशेषतायें प्राप्त हुई उनको याद कर थोड़े समय के लिए वह भी मौज मनाते रहते हैं। यह यादगार देख वा सुन हर्षित होते हो ना कि हमारी विशेषताओं का यादगार है! आपने माया को जलाया और वह होलिका बनाके जला देते हैं। इतनी रमणीक कहानियाँ बनाई हैं जो सुनकर आपको हंसी आयेगी कि हमारी बात को कैसे बना दिया है! होली का उत्सव आपके भिन्न-भिन्न प्राप्ति के याद रूप में मनाते हैं। अभी आप सदा खुश रहते हो। खुशी की प्राप्ति का यादगार बहुत खुश होकर होली मनाते हैं। उस समय सब दुख भूल जाते हैं। और आप सदा के लिए दुख भूल गये हो। आपकी खुशी की प्राप्ति का यादगार मनाते हैं।

और बात मनाने के समय छोटे बड़े बहुत ही हल्के बन, हल्के रूप में मनाते हैं। उस दिन के लिए सभी का मूड भी हल्का रहता है। तो यह आपके डबल लाइट बनने का यादगार है। जब प्रभू-संग के रंग में रंग जाते हो तो डबल लाइट बन जाते हो ना। तो इस विशेषता का यादगार है। और बात-इस दिन छोटे बड़े किसी भी सम्बन्ध वाले समान स्वभाव में रहते हैं। चाहे छोटा-सा पोत्रा भी हो वह भी दादा को रंग लेगा। सभी सम्बन्ध का, आयु का भान भूल जाते हैं। समान भाव में आ जाते हैं। यह भी आपके विशेष समान भाव अर्थात् भाई-भाई की स्थिति और कोई भी देह के सम्बन्ध की दृष्टि नहीं, यह भाई-भाई की समान स्थिति का यादगार है। और बात-इस दिन भिन्न-भिन्न रंगों से खूब पिचकारियाँ भर एक दो को रंगते हैं। यह भी इस समय की आपकी सेवा का यादगार है। कोई भी आत्मा को आप दृष्टि की पिचकारी द्वारा प्रेम स्वरूप बनाने का रंग, आनन्द स्वरूप बनाने का रंग, सुख का, शान्ति का, शक्तियों का कितने रंग लगाते हो? ऐसा रंग लगाते हो जो सदा लगा रहे। मिटाना नहीं पड़ता। मेहनत नहीं करनी पड़ती। और ही हर आत्मा यही चाहती कि सदा इन रंगों में रंगी रहूँ। तो सभी के पास रूहानी रंगों की रूहानी दृष्टि की पिचकारी है ना! होली खेलते हो ना! यह रूहानी होली आप सबके जीवन का यादगार है। ऐसा बापदादा से मंगल मिलन मनाया है, जो मिलन मनाते बाप समान बन गये। ऐसा मंगल मिलन मनाया है जो कम्बाइन्ड बन गये हो। कोई अलग कर नहीं सकता।

और बात-यह दिन सभी बीती हुई बातों को भुलाने का दिन है। 63 जन्म की बीती को भुला देते हो ना। बीती को बिन्दी लगा देते हो इसलिए होली को बीती सो बीती का अर्थ भी कहते हैं। कैसी भी कड़ी दुश्मनी को भूल मिलन मनाने का दिन माना जाता है। आपने भी आत्मा के दुश्मन आसुरी संस्कार, आसुरी स्वभाव भूल कर प्रभू मिलन मनाया ना! संकल्प मात्र भी पुराना संस्कार स्मृति में न आये। यह भी आपके इस भूलने की विशेषता का यादगार मना रहे हैं। तो सुना आपकी विशेषतायें कितनी हैं? आपके हर गुण का, हर विशेषता का, कर्म का अलग-अलग यादगार बना दिया है। जिसके हर कर्म का यादगार बन जाए, जो याद कर खुशी में आ जाएं वह स्वयं कितने महान हैं? समझा-अपने आपको कि आप कौन हो? होली तो हो लेकिन कितने विशेष हो!

डबल विदेशी भल यह अपनी श्रेष्ठता का यादगार न भी जानते हो लेकिन आपके याद का महत्व दुनिया वाले याद कर यादगार मना रहे हैं। समझा होली क्या होती है? आप सब तो रंग में रंगे हुए हो। ऐसे प्रेम के रंग में रंग गये हो जो सिवाए बाप के और कुछ दिखाई नहीं देता। स्नेह में ही खाते-पीते, चलते, गाते, नाचते रहते हो। पक्का रंग लग गया है ना कि कच्चा है? कौन सा रंग लगा है कच्चा वा पक्का? बीती सो बीती कर ली? गलती से भी पुरानी बात याद न आवे। कहते हो ना क्या करें आ गई। यह गलती से आ जाती है। नया जन्म, नई बातें, नये संस्कार, नई दुनिया, यह ब्राह्मणों का संसार भी नया संसार है। ब्राह्मणों की भाषा भी नई है! आत्मा की भाषा नई है ना! वह क्या कहते और आप क्या कहते! परमात्मा के प्रति भी नई बातें हैं। तो भाषा भी नई, रीति रसम भी नई, सम्बन्ध-सम्पर्क भी नया, सब नया हो गया। पुराना समाप्त हुआ। नया शरू हुआ, नये गीत गाते हो। पुराने नहीं। क्या, क्यों के हैं पुराने गीत। अहा, वाह, ओहो! यह हैं नये गीत। तो कौन से गीत गाते हो? हाय हाय के गीत तो नहीं गाते हो ना! हाय हाय करने वाले दुनिया में बहुत हैं आप नहीं हो। तो अविनाशी होली मना ली अर्थात् बीती सो बीती कर सम्पूर्ण पवित्र बन गये। बाप के संग के रंग में रंग गये हो। तो होली मना ली ना!

सदा बाप और मैं, साथ-साथ हैं। और संगम-युग सदा साथ रहेंगे। अलग हो ही नहीं सकते। ऐसा उमंग उत्साह दिल में है ना कि मैं और मेरा बाबा! कि पर्दे के पीछे तीसरा भी कोई है? कभी चूहा कभी बिल्ली निकल आती, ऐसे तो नहीं! सब समाप्त हो गये ना! जब बाप मिला तो सब कुछ मिला। और कुछ रहता नहीं। न सम्बन्धी रह जाता, न खजाना रह जाता, न शक्ति, न गुण रह जाता, न ज्ञान रह जाता, न कोई प्राप्ति रह जाती। तो बाकी और क्या चाहिए, इसको कहा जाता है होली मनाना। समझा!

आप लोग कितना मौज में रहते हो। बेफिकर बादशाह, बिन कौड़ी बादशाह, बेगमपुर के बादशाह। ऐसी मौज में कोई रह न सके। दुनिया के साहूकार से साहूकार हो वा दुनिया में नामीग्रामी कोई व्यक्ति हो, बहुत ही शास्त्रवादी हो, वेदों के पाठ पढ़ने वाले हो, नौंधा भक्त हो, नम्बरवन साइन्सदान हो, कोई भी आक्यूपेशन वाले हो लेकिन ऐसी मौज की जीवन नहीं हो सकती, जिसमें मेहनत नहीं, मुहब्बत ही मुहब्बत है। चिंता नहीं लेकिन शुभचिन्तक हैं, शुभचिन्तन है। ऐसी मौज की जीवन सारे विश्व में चक्कर लगाओ, अगर कोई मिले तो ले आओ। इसलिए गीत गाते हो ना – मधुबन में, बाप के संसार में मौजें ही मौजें हैं। खाओ तो भी मौज, सोओ तो भी मौज। गोली लेकर सोने की जरूरत नहीं। बाप के साथ सो जाओ तो गोली नहीं लेनी पड़ेगी। अकेले सोते हो तो कहते हाई ब्लडप्रेशर है, दर्द है, तब गोली लेनी पड़ती। बाप साथ हो, बस बाबा आपके साथ सो रहे हैं, यह है गोली। ऐसा भी फिर समय आयेगा जैसे आदि में दवाईयाँ नहीं चलती थी। याद है ना। शुरू में कितना समय दवाईयाँ नहीं थी। हाँ, थोड़ा मलाई मक्खन खा लिया। दवाई नहीं खाते थे। तो जैसे आदि में प्रैक्टिस कराई है ना। थे तो पुराने शरीर। अन्त में फिर वह आदि वाले दिन रिपीट होंगे। साक्षात्कार भी सब बहुत विचित्र करते रहेंगे। बहुतों की इच्छा है ना-एक बार साक्षात्कार हो जाए। लास्ट तक जो पक्के होंगे उन्हों को साक्षात्कार होंगे फिर वही संगठन की भट्ठी होगी। सेवा पूरी हो जायेगी। अभी सेवा के कारण जहाँ तहाँ बिखर गये हो! फिर नदियाँ सब सागर में समा जायेंगी। लेकिन समय नाजुक होगा। साधन होते हुए भी काम नहीं करेंगे इसलिए बुद्धि की लाइन बहुत क्लीयर चाहिए। जो टच हो जाए कि अभी क्या करना है। एक सेकण्ड भी देरी की तो गये। जैसे वह भी अगर बटन दबाने में एक सेकण्ड भी देरी की तो क्या रिजल्ट होगी? यह भी अगर एक सेकण्ड टचिंग होने में देरी हुई तो फिर पहुँचना मुश्किल होगा। वह लोग भी कितना अटेन्शन से बैठे रहते हैं। तो यह बुद्धि की टचिंग। जैसे शुरू में घर बैठे आवाज आया, बुलावा हुआ कि आओ, पहुँचो, अभी निकलो। और फौरन निकल पड़े। ऐसे ही अन्त में भी बाप का आवाज पहुँचेगा। जैसे साकार में सभी बच्चों को बुलाया। ऐसे आकार रूप में सभी बच्चों को आओ आओ का आह्वान करेंगे। बस आना और साथ जाना। ऐसे सदा अपनी बुद्धि क्लीयर हो और कहाँ अटेन्शन गया तो बाप का आवाज, बाप का आह्वान मिस हो जायेगा। यह सब होना ही है।

टीचर्स सोच रहीं हैं हम तो पहुँच जायेंगे। यह भी हो सकता है कि आपको वहाँ ही बाप डायरेक्शन दें। वहाँ कोई विशेष कार्य हो। वहाँ कोई औरों को शक्ति देनी हो। साथ ले जाना हो। यह भी होगा लेकिन बाप के डायरेक्शन प्रमाण रहे। मनमत से नहीं। लगाव से नहीं। हाय मेरा सेन्टर; यह याद न आये। फलाना जिज्ञासू भी साथ ले जाऊं, यह अनन्य है, मददगार है। ऐसा भी नहीं। किसी के लिए भी अगर रूके तो रह जायेंगे। ऐसे तैयार हो ना। इसको कहते हैं एवररेडी। सदा ही सब कुछ समेटा हुआ हो। उस समय समेटने का संकल्प नहीं आवे। यह कर लूँ, यह कर लूँ। साकार में याद है ना जो सर्विसएबुल बच्चे थे उन्हों की स्थूल बैग बैगेज सदा तैयार होती थी। ट्रेन पहुँचने में 5 मिनट हैं और डायरेक्शन मिलता था कि जाओ। तो बैग बैगेज तैयार रहते थे। एक स्टेशन पहले ट्रेन पहुँच गई है-और वह जा रहे हैं। ऐसे भी अनुभव किया ना। यह भी मन की स्थिति में बैग बैगेज तैयार हो। बाप ने बुलाया और बच्चे जी हाजिर हो जाएं। इसको कहते हैं एवररेडी। अच्छा।

ऐसे सदा संग के रंग में रंगे हुए, सदा बीती सो बीती कर वर्तमान और भविष्य श्रेष्ठ बनाने वाले, सदा परमात्म मिलन मनाने वाले, सदा हर कर्म याद में रह करने वाले अर्थात् हर कर्म का यादगार बनाने वाले, सदा खुशी में नाचते गाते संगमयुग की मौज मनाने वाले, ऐसे बाप समान बाप के हर संकल्प को कैच करने वाले, सदा बुद्धि श्रेष्ठ और स्पष्ट रखने वाले, ऐसे होली हैपी हंसों को बापदादा का यादप्यार और नमस्ते!

बापदादा ने सभी बच्चों के पत्रों का उत्तर देते हुए होली की मुबारक दी

चारों ओर के देश विदेश के सभी बच्चों के स्नेह भरे, उमंग-उत्साह भरे और कहाँ-कहाँ अपने पुरुषार्थ के प्रतिज्ञा भरे सभी के पत्र और सन्देश बापदादा को प्राप्त हुए। बापदादा सभी होली हंसों को सदा “जैसा बाप वैसे मैं” यह स्मृति का विशेष स्लोगन वरदान के रूप में याद दिला रहे हैं। कोई भी कर्म करते संकल्प करते पहले चेक करो जो बाप का संकल्प वह यह संकल्प है। जो बाप का कर्म वही मेरा कर्म है। सेकण्ड में चेक करो और फिर साकार में लाओ। तो सदा ही बाप समान शक्तिशाली आत्मा बन सफलता का अनुभव करेंगे। सफलता जन्म-सिद्ध अधिकार है, ऐसा सहज प्राप्ति का अनुभव करेंगे। सफलता का सितारा मैं स्वयं हूँ तो सफलता मेरे से अलग हो नहीं सकती। सफलता की माला सदा गले में पिरोई हुई है अर्थात् हर कर्म में अनुभव करते रहेंगे। बापदादा आज के इस होली के संगठन में आप सभी होली हंसों को सम्मुख देख रहे हैं, मना रहे हैं। स्नेह से सभी को देख रहे हैं – सभी के विशेषता की वैराइटी खुशबू ले रहे हैं। कितनी मीठी खुशबू है हरेक के विशेषता की। बाप हर विशेष आत्मा को विशेषताओं से देखते हुए यही गीत गाते वाह मेरा सहज योगी बच्चा! वाह मेरा पदमापदम भाग्यशाली बच्चा! तो सभी अपनी-अपनी विशेषता और नाम सहित सम्मुख अपने को अनुभव करते हुए यादप्यार स्वीकार करना और सदा बाप की छत्रछाया में रह माया से घबराना नहीं। छोटी बात है, बड़ी बात नहीं है। छोटी को बड़ा नहीं करना। बड़ी को छोटा करना। ऊंचे रहेंगे तो बड़ा छोटा हो जायेगा। नीचे रहेंगे तो छोटा भी बड़ा हो जायेगा इसलिए बापदादा का साथ है, हाथ है तो घबराओ नहीं खूब उड़ो, उड़ती कला से सेकण्ड में सबको पार करो। बाप का साथ सदा ही सेफ रखता है। और रखेगा। अच्छा – सभी को सिकीलधा, लाडला कह बापदादा होली की मुबारक दे रहे हैं। (फिर तो बापदादा से सभी बच्चों ने होली मनाई तथा पिकनिक की)

वरदान:- ऊंचा बाप, ऊंचे हम और ऊंचा कार्य इस स्मृति से शक्तिशाली बनने वाले बाप समान भव
जैसे आजकल की दुनिया में कोई वी.आई.पी. का बच्चा होगा तो वह अपने को भी वी.आई.पी. समझेगा। लेकिन बाप से ऊंचा तो कोई नहीं है। हम ऐसे ऊंचे से ऊंचे बाप की सन्तान ऊंची आत्मायें हैं – यह स्मृति शक्तिशाली बनाती है। ऊंचा बाप, ऊंचे हम और ऊंचा कार्य – ऐसी स्मृति में रहने वाले सदा बाप समान बन जाते हैं। सारे विश्व के आगे श्रेष्ठ और ऊंची आत्मायें आपके सिवाए कोई नहीं हैं इसलिए आपका ही गायन और पूजन होता है।
स्लोगन:- सम्पूर्णता के दर्पण में सूक्ष्म लगावों को चेक करो और मुक्त बनो।

TODAY MURLI 10 NOVEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 10 November 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 9 November 2018 :- Click Here

10/11/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, only when there is cleanliness and honesty in your heart will the arrow of the true things you say strike the target. You have received the company of the true Father. Therefore, be honest and truthful.
Question: You are students and so what is it essential to be cautious about?
Answer: Whenever you make a mistake, you have to tell the truth. It is only by telling the truth that you will make progress. You mustn’t take personal service from others. If you take service here, you will have to serve there. You students have to study well and teach others, because only then will the Father be pleased. The Father is the Ocean of Love and His love is that He educates you children and gives you a high status.
Song: Who created this play and hid Himself away? 

Om shanti. Nowadays, we receive news that people are celebrating Gita Jayanti. The topic is: Who gave birth to the Gita? Since it is called jayanti, it surely means birth. Since “Shrimad Bhagawad Gita Jayanti” is said, there must surely be someone who gave birth to it. Everyone says: God Shri Krishna speaks. In that case, Shri Krishna comes first and the Gita comes after him. A creator of the Gita is definitely needed. If Shri Krishna is called that, then Shri Krishna should come first and then the Gita. However, Shri Krishna was a small child and so he couldn’t have spoken the Gita. You have to prove who it was who gave birth to the Gita. This is a deep matter. Krishna took birth from his mother’s womb; he was a prince of the golden age. He attained the status of a prince by studying Raja Yoga through the Gita. So, who was the One who gave birth to the Gita? Was it the Supreme Father, the Supreme Soul Shiva or Shri Krishna? In fact, Shri Krishna cannot even be called trilokinath or trikaldarshi. Only the One can be called Trilokinath and Trikaldarshi. Trilokinath means the One who rules the three worlds. The incorporeal world, the subtle region and the corporeal world are called triloki, and the One who knows these three is called Trilokinath, Trikaldarshi, the Supreme Father, the Supreme Soul, Shiva. This is His praise, not Shri Krishna’s praise. The praise of Krishna is: Sixteen celestial degrees full, full of all virtues. He is compared to the moon. You would not compare the Supreme Soul to the moon. His task is separate. He is the Creator who gives birth to the Gita. Deities are created through the knowledge of the Gita and Raja Yoga. The Father has to come and give knowledge in order to change human beings into deities. Very clever Brahma Kumars and Kumaris who can give this explanation are needed. Not everyone can explain in the same way. All the daughters are also numberwise. The topic should also be: Who gave birth to the Shrimad Bhagawad Gita? For this, you have to explain the contrast. God is only one: the Supreme Father, the Supreme Soul, Shiva. Krishna attained that status by listening to knowledge from the Ocean of Knowledge. You have to explain how he attained that status by studying easy Raja Yoga. First of all, the Father creates Brahmins through Brahma. He speaks the essence of all the Vedas and scriptures. Together with Brahma, the mouth-born creation of Brahma is also needed. Only Brahma receives the knowledge of trikaldarshi. Triloki means he also receives the knowledge of the three worlds. The three aspects of time are the beginning, the middle and the end, and the three worlds are the incorporeal world, the subtle region and the corporeal world. You have to remember these words. Many children forget these. It is Maya in the form of arrogance of the body that makes you forget. So, the Creator of the Gita is the Supreme Father, the Supreme Soul, Shiva, and not Shri Krishna. Only the Supreme Father, the Supreme Soul, is Trikaldarshi and Trilokinath. Neither Krishna nor Lakshmi or Narayan has this knowledge at all. Yes, those who received this knowledge from the Father became the masters of the world. When you have received salvation, your intellects lose this knowledge. The Bestower of Salvation for All is that One. He is not the one who takes rebirth. Rebirth begins at the beginning of the golden age. From then to the end of the iron age, you take 84 births. This explanation has to be given. Not everyone takes 84 births. The one who wrote that Gita cannot be called Trikaldarshi. First of all, it is totally wrong where it is written “God Shri Krishna speaks”. It definitely has to be wrong. Only when all the scriptures are wrong can the Father come and speak that which is right. Truly, He speaks the true essence of the Vedas and scriptures through Brahma and this is why He is called the Truth. You now have the company of the Truth, who makes you truthful. There is Prajapita Brahma and his mouth-born creation, Jagadamba Saraswati. All the children of Prajapita Brahma are brothers and sisters. You should go to the temples anywhere and give lectures. Many people go sightseeing there. When you explain to one, a whole spiritual gathering will gather there. You should also go to the cremation grounds. People have disinterest there. However, Baba says: When you explain to My devotees, they will quickly understand. So, you have to go to the temples of Shiv Baba and Lakshmi and Narayan. Lakshmi and Narayan are not called Mama and Baba. Shiva is called Baba and there must surely also be Mama; she is incognito. No one can know the incognito secret of how Shiv Baba, the Creator, is also called the Mother and Father. Lakshmi and Narayan would only have one son. However, this one’s name is Prajapita Brahma. Vishnu and Shankar are not placed high. Trimurti Brahma is considered to be higher. Just as God Shiva is called the Creator, so Brahma too is called a creator. That One is imperishable anyway. If you use the word ‘Creator’, they will ask: How did He create? He is the Creator anyway. However, creation takes place through Brahma. God is now giving all souls the knowledge of the beginning, middle and end of the world through Brahma. The Vedas and scriptures etc. are all the paraphernalia of the path of devotion. The path of devotion continues for half the cycle. This is the activity of knowledge. When the path of devotion ends and everyone has become impure and tamopradhan, it is then that I, the Father, come. You are at first satopradhan and you then go through the stages of sato, rajo and tamo. Pure souls who come from up above haven’t as yet performed any such actions for which they would have to experience suffering. They say of Christ that he was crucified on a cross, but that was not possible. A new soul that comes down to establish a religion cannot receive sorrow because that soul is a messenger in his karmateet stage who comes to establish a religion. When a messenger is sent onto a battlefield, he goes carrying a white flag through which the other side understands that he has come with a message. They don’t cause him any difficulty at that time. So, no one can put a messenger on a cross. It is the soul that experiences sorrow. You should write that souls are not immune to the effect of action. It is wrong to say that souls are immune to the effect of action. Who said this? These are the versions of God Shiva. You should note down this point. You need very broad and unlimited intellects to write this. When Christians come to the exhibitions, you can tell them that it wasn’t the Christ soul that was crucified on the cross but that it was the soul of the body that the Christ soul entered who would have experienced suffering. When they hear such things they will be amazed. That pure soul came and established a religion according to the directions of God, the Father. This is also in the drama. Some people understand the drama, but they don’t know its beginning, middle or end. When they hear such things, they will try to understand some of these things. No one can insult Krishna. Who is it that really receives insults at this time? Not Shiv Baba, but this corporeal one. Baba, the pure soul, is the Teacher whereas this one is impure and is becoming pure. Those who have understood clearly will speak without hesitation. Otherwise, people would understand that you have just memorized it, and they would then not be able to accept it and the arrow won’t strike the target. A lot of honesty and cleanliness is required. If someone who indulges in vice tells others that lust is the great enemy, the arrow will not strike the target. There is the example of the pundit who said: Chant the name of Rama and you will be able to go across the river or the ocean. This refers to this time. Shiv Baba says: By remembering Me, you will go across this ocean of poison. The pundits don’t know which ocean. You will go from the brothel to Shivalaya. You have to follow shrimat very well. You say: Baba, whether You love me or reject me… The explanation is only given here and still some become like corpses. You children have to study well. The Father is the Ocean of Love, that is, He educates you and enables you to receive a high status. This is His love. Since the Father is teaching you, you have to study and then also teach others. You have to please the Father. You have to remain busy in the Father’s service. The Father’s service is for you to do the true service of Bharat with your body, mind and wealth. You have to explain with a loud and clear sound. All are numberwise. They would also be numberwise in a kingdom. The Teacher understands what number you will receive in the divine kingdom. He can understand from your service who will become the main ones. You yourself can understand that, if you don’t do as much service as Mama and Baba, you will have to become maids or servants. As you progress further, all of you will come to know everything. It will all become clear that you didn’t follow shrimat. At this time all of you children are students. If you make someone your servant at this time, you yourself will have to become a servant. To become an empress here is body consciousness. You should speak the truth: Baba, I made this mistake. No one has become perfect yet. When someone fails his examination, he is ashamed. Baba was thinking during the night that people speak of 21 births and this is also remembered, but that, this one Godly birth now is different. There are eight births in the golden age, 12 births in the silver age, 21 births in the copper age and 42 births in the iron age. This Godly birth in which you are adopted is the most elevated birth of all. This is the most fortunate birth of only you Brahmins. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Give the return of love of the Father, the Ocean of Love. Study well and teach others. You have to follow shrimat.
  2. First of all, imbibe knowledge with honesty and a clean heart and then inspire others to imbibe it. Stay in the company of the one Father.
Blessing: May you become an image of experience who gives others the feeling of belonging by staying beyond all limits.
Just as it emerges in each one’s mind “My Baba”, so let it emerge in each one’s mind, “This one is mine”, for an unlimited brother or sister, Didi or Dadi. No matter where you stay, you are an instrument for unlimited service. To stay beyond all limits and to have unlimited feelings and unlimited good wishes is to follow the father. Now experience this practically and also give others the same experience. In any case, experienced mature ones are called “Pitaji” (father) or “Kakaji” (uncle). Become experienced in this way, in an unlimited way, that is, let everyone experience belonging.
Slogan: Continue to fly in the stage of being beyond and you will not get trapped in the bondage of a branch.

*** Om Shanti ***

10/11/2018 Elevated versions of Mateshwari

Human beings take 84 births, they will not enter 8.4 million species

When we ask God to take us across to the other side, what does, “to the other side”, mean? People think that to go across to the other side means not to come into the cycle of birth and death, that is, to be liberated. This is what people say, but that One says: Children, the place where there truly is happiness and peace, far away from sorrow and peacelessness is not called a world. When people want happiness – that has to be in this life. That one was golden-aged Paradise, the world of deities, where there was a life of complete happiness. Those deities were said to be immortal. There is no meaning of immortal. It isn’t that the lifespan of the deities was so long that they never died. To say this for them is wrong because it is not like that. Their lifespan does not last through the golden and silver ages. However, the deities have had many births in the golden and silver ages. They ruled the kingdom very well for 21 births. Then they have taken 63 births from the copper age to the end of the iron age. In total, they took 21 births of the ascending stage and 63 births of the descending stage: in total, human beings take 84 births. However, when people think that human beings go through 8.4 million species, that is a mistake. If human beings can go through their parts of happiness and sorrow in just the human birth, then what is the need to go through any suffering in the animal kingdom? However, people do not have this knowledge. Human beings take 84 births, but, in total, there are definitely 8.4 million species of animals, birds etc. on the earth. There is every type of creation and, in that, human beings experience their sin and charity as a human species, and animals experience everything in their animal kingdom. Neither do human beings take birth as animals nor do animals take birth as humans. Human beings have to go through their suffering in their own species, and so there is the feeling of happiness and sorrow. In the same way, animals have to go through their experience of happiness and sorrow in their own kingdom. However, they do not have the intellects to understand which action they are suffering for. Human beings feel their suffering because they have intellects, but it isn’t that human beings go through 8.4 million species. A non-living tree also belongs its own species. This is easy and a matter of understanding with the intellect. What actions or neutral actions would a non-living tree have performed that it would have created a karmic account? For instance, Guru Nanak spoke the elevated versions: Those who remember their son in their final moments, those who die with such worry will take a birth as a boar. However, this does not mean that human beings go into the boar species, but it means that their actions are like those of animals. However, it is not that human beings become animals. These teachings are given to make people afraid. So, you have to transform your life at this confluence age and become a charitable soul from a sinful soul. Achcha.

BRAHMA KUMARIS MURLI 10 NOVEMBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 10 November 2018

To Read Murli 9 November 2018 :- Click Here
10-11-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – तुम्हारी सच्ची बात का तीर तब लगेगा जब दिल में सच्चाई सफाई होगी, तुम्हें सत्य बाप का संग मिला है इसलिए सच्चे बनो”
प्रश्नः- तुम सब स्टूडेन्ट हो, तुम्हें किस बात का ख्याल रखना जरूरी है?
उत्तर:- कभी भी कोई ग़लती हो तो सच बोलना है, सच बोलने से ही उन्नति होगी। तुम्हें अपनी सेवा दूसरों से नहीं लेनी है। अगर यहाँ सेवा लेंगे तो वहाँ करनी पड़ेगी। तुम स्टूडेन्ट अच्छी तरह से पढ़कर दूसरों को पढ़ाओ तो बाप भी खुश होगा। बाप प्यार का सागर है, उनका प्यार ही यह है जो तुम बच्चों को पढ़ाकर ऊंच मर्तबा दिलाते हैं।
गीत:- किसने यह सब खेल रचाया…….. 

ओम् शान्ति। आजकल समाचार आते हैं कि हम गीता जयन्ती मना रहे हैं। अब गीता को जन्म किसने दिया है, यह है टॉपिक। जयन्ती कहते हैं तो जरूर जन्म भी हुआ ना। उनको जब कहते हैं श्रीमद् भगवत गीता जयन्ती तो जरूर उनको जन्म देने वाला भी चाहिए ना। सब कहते हैं श्रीकृष्ण भगवानुवाच। तो फिर श्रीकृष्ण पहले आता, गीता पीछे हो जाती। अब गीता का रचयिता जरूर चाहिए। अगर श्रीकृष्ण को कहते तो पहले श्रीकृष्ण, पीछे गीता आनी चाहिए। परन्तु श्रीकृष्ण छोटा बच्चा था वह गीता सुना न सके। यह सिद्ध करना होगा कि गीता को जन्म देने वाला कौन? यह है गुह्य बात। कृष्ण तो माता के गर्भ से जन्म लेता है, वह तो सतयुग का प्रिन्स है। उसने स्वयं प्रिन्स का पद पाया है गीता द्वारा राजयोग सीखकर। अब गीता को जन्म देने वाला कौन? परमपिता परमात्मा शिव या श्रीकृष्ण? श्रीकृष्ण को वास्तव में त्रिलोकीनाथ, त्रिकालदर्शी भी नहीं कह सकते हैं। त्रिलोकीनाथ, त्रिकालदर्शी एक को ही कहेंगे। त्रिलोकीनाथ माना तीनों लोकों पर राज्य करते हैं। मूल, सूक्ष्म, स्थूल इन तीनों को कहा जाता है त्रिलोकी, इनको जानने वाला त्रिलोकीनाथ, त्रिकालदर्शी परमपिता परमात्मा शिव है, यह महिमा उनकी है, न कि श्रीकृष्ण की। कृष्ण की महिमा है – 16 कला सम्पूर्ण, सर्वगुण सम्पन्न….। उनकी भेंट करते हैं चन्द्रमा से। परमात्मा की भेंट चन्द्रमा से नहीं करेंगे। उनका कर्तव्य ही अलग है। वह है गीता को जन्म देने वाला रचयिता। गीता के ज्ञान वा राजयोग से ही देवतायें क्रियेट होते हैं। मनुष्य को देवता बनाने के लिए बाप को आकर नॉलेज देनी पड़ती है। अब यह समझानी देने वाले बड़े ही होशियार ब्रह्माकुमार-कुमारियां चाहिए। सभी एक जैसा समझा नहीं सकते। बच्चियां भी तो सब नम्बरवार हैं। टॉपिक भी ऐसी रखी जाए कि श्रीमत भगवत गीता को जन्म किसने दिया? इसके लिए कान्ट्रास्ट समझाना है। भगवान् तो एक ही है – परमपिता परमात्मा शिव। उस ज्ञान सागर द्वारा ज्ञान सुनकर कृष्ण ने यह पद पाया था। सहज राजयोग से यह पद कैसे पाया, यह समझानी देनी पड़े। ब्रह्मा द्वारा ही पहले बाप ब्राह्मण रचते हैं। सभी वेदों-शास्त्रों का सार सुनाते हैं। ब्रह्मा के साथ ब्रह्मा मुख वंशावली भी चाहिए। ब्रह्मा को ही त्रिकालदर्शीपने का ज्ञान मिलता है। त्रिलोकी अर्थात् तीनों लोकों का भी ज्ञान मिलता है। तीनों काल आदि, मध्य, अन्त को मिलाकर कहा जाता है और तीनों लोक अर्थात् मूल, सूक्ष्म, स्थूलवतन। यह अक्षर याद करने हैं। बहुत बच्चे भूल जाते हैं। भुलाया है देह अहंकार रूपी माया ने। तो गीता का रचयिता परमपिता परमात्मा शिव है, न कि श्रीकृष्ण। परमपिता परमात्मा ही त्रिकालदर्शी तथा त्रिलोकीनाथ हैं। कृष्ण में वा लक्ष्मी-नारायण में यह नॉलेज है ही नहीं। हाँ, जिन्होंने यह नॉलेज बाप से पाई वह विश्व के मालिक बन गये। जब सद्गति मिल गई फिर यह नॉलेज बुद्धि से गुम हो जाती है। सबका सद्गति दाता वह एक ही है। वह पुनर्जन्म लेने वाला नहीं है। पुनर्जन्म शुरू हुआ सतयुग आदि से। कलियुग अन्त तक 84 जन्म लेते हैं। यह समझानी देनी पड़ती है। सब तो 84 जन्म नहीं लेते। जिसने यह गीता लिखी उसको त्रिकालदर्शी नहीं कहेंगे। पहले ही लिखा कि श्रीकृष्ण भगवानुवाच। यह एकदम रांग है। रांग भी होना ही है जरूर। जब सब शास्त्र रांग हों तब ही बाप आकर राइट सुनाये। बरोबर ब्रह्मा द्वारा वेदों-शास्त्रों का सच्चा सार सुनाते हैं इसलिए उन्हें सत कहा जाता है। अब तुम्हारा है सत के साथ संग, जो तुमको सत बनाते हैं।

प्रजापिता ब्रह्मा और उनकी मुख वंशावली यह जगदम्बा सरस्वती। प्रजापिता ब्रह्मा के सभी बच्चे आपस में भाई-बहन ठहरे। कहाँ भी मन्दिरों में जाकर भाषण करना चाहिए। घूमने-फिरने भी वहाँ बहुत आते हैं। एक को समझाया तो सतसंग लग जायेगा। शमशान में भी जाना चाहिए। वहाँ मनुष्यों को वैराग्य होता है। परन्तु बाबा कहते मेरे भक्तों को समझाने से वह फट से समझेंगे। तो शिवबाबा के मन्दिर, लक्ष्मी-नारायण के मन्दिर में जाना पड़े। लक्ष्मी-नारायण को बाबा मम्मा नहीं कहते। शिव को बाबा कहते हैं जरूर मम्मा भी होगी, वह है गुप्त। शिवबाबा जो रचयिता है, उनको मात-पिता कैसे कहते हैं, यह गुप्त बात कोई भी जान न सके। लक्ष्मी-नारायण को एक ही अपना बच्चा होगा। बाकी इनका नाम है प्रजापिता ब्रह्मा। विष्णु और शंकर को ऊंच नहीं रखते। ऊंच त्रिमूर्ति ब्रह्मा को रखते हैं। जैसे रचता शिव परमात्मा को कहते हैं, ऐसे ही ब्रह्मा को भी रचता कहा जाता है। वह तो अविनाशी है ही। रचता अक्षर कहेंगे तो पूछेंगे – कैसे रचा? वह तो रचता है ही। बाकी रचना होती है ब्रह्मा द्वारा। अब ब्रह्मा द्वारा परमात्मा सब आत्माओं को सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त का नॉलेज देते हैं। वेद-शास्त्र आदि सब हैं भक्ति मार्ग की सामग्री। भक्ति मार्ग आधाकल्प चलता है, यह है ज्ञान काण्ड। जब भक्ति मार्ग पूरा होता है तब सब पतित तमोप्रधान बन जाते हैं, तब मैं बाप आता हूँ। पहले सतोप्रधान से सतो, रजो, तमो में आते हैं। ऊपर से जो पवित्र आत्मायें आती हैं उन्होंने कोई ऐसा कर्म नहीं किया है जो उनको दु:ख भोगना पड़े। क्राइस्ट के लिए कहते हैं उनको क्रा@स पर चढ़ाया परन्तु यह तो हो न सके। नई आत्मा जो धर्म स्थापन करने अर्थ आती है उनको दु:ख मिल नहीं सकता क्योंकि वह तो कर्मातीत अवस्था वाला मैसेन्जर धर्म स्थापन करने आया। लड़ाई में भी जब कोई मैसेन्जर भेजते हैं तो वह सफेद झण्डी ले आते हैं जिससे वे लोग समझ जाते कि यह कोई मैसेज ले आया है, उनको कोई तकल़ीफ नहीं देते हैं। तो मैसेन्जर जो आते हैं, उनको कोई क्रॉस पर चढ़ा न सके। दु:ख आत्मा ही भोगती है। आत्मा निर्लेप नहीं है, यह लिखना चाहिए। आत्मा को निर्लेप कहना रांग है। यह किसने कहा? शिव भगवानुवाच। यह प्वाइन्ट तुमको नोट करनी चाहिए, लिखने के लिए बड़ी ही विशाल बुद्धि चाहिए। समझो प्रदर्शनी में क्रिश्चियन लोग आते हैं तो उनको भी बता सकते हैं कि क्राइस्ट की सोल को क्रॉस पर नहीं चढ़ाया गया। बाकी जिसमें उसने प्रवेश किया, उस आत्मा को दु:ख हुआ। तो ऐसी बातें सुनकर वन्डर खायेंगे। उस पवित्र आत्मा ने आकर धर्म स्थापन किया। गॉड फादर के डायरेक्शन अनुसार। यह भी ड्रामा। ड्रामा को भी कई लोग समझते हैं परन्तु उसके आदि, मध्य, अन्त को नहीं जानते। ऐसी-ऐसी बातें सुन वह लोग कुछ समझने की कोशिश करते हैं। कृष्ण को भी कोई गाली दे न सके। बरोबर गालियां अभी ही मिल रही हैं किसको? शिवबाबा को नहीं, इस साकार को। टीचर तो बाबा है प्योर सोल और यह है इमप्योर, जो प्योर बन रहा है। जो समझ गये हैं वह बित-बित नहीं करेंगे। नहीं तो समझेंगे कि यह तो सिखाया हुआ है। फिर वह बात कोई को जंचती नहीं। तीर नहीं लगता। सच्चाई-सफाई बहुत चाहिए। जो खुद विकारी होगा वह औरों को कहे काम महाशत्रु है तो तीर लग नहीं सकता। जैसे पण्डित का मिसाल – राम-राम कहने से नदी वा सागर पार कर जायेंगे। यह अभी की बात है। शिवबाबा कहते हैं मुझे याद करने से तुम इस विषय सागर से पार हो जायेंगे। कौन-सा सागर? यह पण्डित नहीं जानते। वेश्यालय से शिवालय में चले जायेंगे। बड़ी अच्छी रीति से श्रीमत पर चलना है। कहते हैं ना कि बाबा चाहे प्यार करो, चाहे ठुकराओ…….। यहाँ तो सिर्फ समझानी दी जाती है, तो भी कई मुर्दे बन जाते हैं। बच्चों को तो लिखना-पढ़ना पड़ता है। बाप प्यार का सागर है अर्थात् पढ़ाकर ऊंच मर्तबा दिलाते हैं। यही प्यार है। बाप जब पढ़ाता है तो पढ़कर औरों को भी पढ़ाना है। बाप को खुश करना है। बाप की सर्विस में तत्पर रहना है। बाप की यही सर्विस है कि अपने तन-मन-धन से भारत की सच्ची सेवा करो। तुम्हें तो बुलन्द आवाज़ से समझाना चाहिए। सभी नम्बरवार हैं, राजधानी में भी नम्बरवार होंगे। टीचर समझ जाते हैं कि यह दैवी राजधानी में क्या नम्बर लेंगे। सर्विस से समझ सकते हैं, कौन-कौन मुख्य बनेंगे। खुद भी समझते हैं कि हम बाबा-मम्मा जितनी सर्विस नहीं करते तो दास-दासियां बनना पड़ेगा। आगे चलकर तुम सबको सारा ही मालूम पड़ेगा। हम श्रीमत पर न चले, सब क्लीयर हो जायेगा। तुम बच्चे इस समय स्टूडेन्ट हो, इस समय तुम अपनी दासियां बनायेंगे तो खुद भी दासी बनना पड़ेगा। यहाँ महारानी बनना देह-अभिमान है। सच कहना चाहिए कि बाबा यह भूल हुई। अभी सम्पूर्ण तो सभी बने नहीं हैं। इम्तहान में जब नापास होते हैं तो शर्माते भी हैं।

बाबा का रात्रि में ख्याल चला कि मनुष्य 21 जन्म कहते, गायन भी करते, अभी यह ईश्वरीय जन्म एक अलग है। 8 जन्म सतयुग में, 12 जन्म त्रेता में, 21 जन्म द्वापर में, 42 जन्म कलियुग में। यह तुम्हारा ईश्वरीय जन्म सबसे ऊंच जन्म है जो एडाप्टेड है। तुम ब्राह्मणों का ही यह सौभाग्यशाली जन्म है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) प्यार के सागर बाप के प्यार का रिटर्न करना है, अच्छी तरह पढ़कर फिर पढ़ाना है। श्रीमत पर चलना है।

2) सच्चाई और सफाई से पहले स्वयं में धारणा कर फिर दूसरों को धारणा करानी है। एक बाप के संग में रहना है।

वरदान:- हदों से पार रह सबको अपने पन की महूसता कराने वाले अनुभवी मूर्त भव
जैसे हर एक के मन से निकलता है मेरा बाबा। ऐसे सभी के मन से निकले कि यह मेरा है, बेहद का भाई है या बहन है, दीदी है, दादी है। कहाँ भी रहते हो लेकिन बेहद सेवा के निमित्त हो। हदों से पार रहकर बेहद की भावना, बेहद की श्रेष्ठ कामना रखना – यही है फालो फादर करना। अभी इसका प्रैक्टिकल अनुभव करो और कराओ। वैसे भी अनुभवी बुजुर्ग को पिता जी, काका जी कहते हैं, ऐसे बेहद के अनुभवी अर्थात् सबको अपनापन महसूस हो।
स्लोगन:- उपराम स्थिति द्वारा उड़ती कला में उड़ते रहो तो कर्म रूपी

डाली के बंधन में फँसेंगे नहीं।

मातेश्वरी जी के मधुर महावाक्य -“मनुष्य का 84 जन्म है, न कि 84 लाख योनियाँ”

अब यह जो हम कहते हैं कि प्रभु हम बच्चों को उस पार ले चलो, उस पार का मतलब क्या है? लोग समझते हैं उस पार का मतलब है जन्म मरण के चक्र में न आना अर्थात् मुक्त हो जाना। अब यह तो हुआ मनुष्यों का कहना परन्तु वो कहता है बच्चों, सचमुच जहाँ सुख शान्ति है, दु:ख अशान्ति से दूर है उसको कोई दुनिया नहीं कहते। जब मनुष्य सुख चाहते हैं तो वो भी इस जीवन में होना चाहिए, अब वो तो सतयुगी वैकुण्ठ देवताओं की दुनिया थी जहाँ सर्वदा सुखी जीवन थी, उसी देवताओं को अमर कहते थे। अब अमर का भी कोई अर्थ नहीं है, ऐसे तो नहीं देवताओं की आयु इतनी बड़ी थी जो कभी मरते नहीं थे, अब यह कहना उन्हों का रांग है क्योंकि ऐसे है नहीं। उनकी आयु कोई सतयुग त्रेता तक नहीं चलती है, परन्तु देवी देवताओं के जन्म सतयुग त्रेता में बहुत हुए हैं, 21 जन्म तो उन्होंने अच्छा राज्य चलाया है और फिर 63 जन्म द्वापर से कलियुग के अन्त तक टोटल उन्हों के जन्म चढ़ती कला वाले 21 हुए और उतरती कला वाले 63 हुए, टोटल मनुष्य 84 जन्म लेते हैं। बाकी यह जो मनुष्य समझते हैं कि मनुष्य 84 लाख योनियां भोगते हैं, यह कहना भूल है। अगर मनुष्य अपनी योनी में सुख दु:ख दोनों पार्ट भोग सकते हैं तो फिर जानवर योनी में भोगने की जरूरत ही क्या है। अब मनुष्यों को यह नॉलेज ही नहीं, मनुष्य तो 84 जन्म लेते हैं, बाकी टोटल सृष्टि पर जानवर पशु, पंछी आदि टोटल 84 लाख योनियां अवश्य हैं। अनेक किस्म की जैसे पैदाइश है, उसमें भी मनुष्य, मनुष्य योनी में ही अपना पाप पुण्य भोग रहे हैं। और जानवर अपनी योनियों में भोग रहे हैं। न मनुष्य जानवर की योनी लेता और न जानवर मनुष्य योनी में आता है। मनुष्य को अपनी योनी में (जन्म में) भोगना भोगनी पड़ती है तो दु:ख सुख की महसूसता आती है। ऐसे ही जानवर को भी अपनी योनी में सुख दु:ख भोगना है। मगर उन्हों में यह बुद्धि नहीं कि यह भोगना किस कर्म से हुई है? उन्हों की भोगना को भी मनुष्य फील करता है क्योंकि मनुष्य है बुद्धिवान, बाकी ऐसे नहीं मनुष्य कोई 84 लाख योनियां भोगते हैं। जड़ झाड़ भी योनी लेते हैं, यह तो सहज और विवेक की बात है कि जड़ झाड़ ने क्या कर्म अकर्म किया है जो उन्हों का हिसाब-किताब बनेगा, जैसे देखो गुरुनानक साहब ने ऐसे महावाक्य उच्चारण किये हैं – अन्तकाल में जो पुत्र सिमरे ऐसी चिंता में जो मरे सुअर की योनी में वल वल उतरे .. परन्तु इस कहने का मतलब यह नहीं है कि मनुष्य कोई सूकर की योनि लेता है परन्तु सूकर का मतलब यह है कि मनुष्यों का कार्य भी ऐसा होता है जैसे जानवरों का कार्य होता है। बाकी ऐसे नहीं कि मनुष्य कोई जानवर बनते हैं। अब यह तो मनुष्यों को डराने के लिये शिक्षा देते हैं। तो अपने को इस संगम समय पर अपनी जीवन को पलटाए पापात्मा से पुण्यात्मा बनना है। अच्छा – ओम् शान्ति।

Font Resize