daily murli 10 june

TODAY MURLI 10 JUNE 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 10 June 2020

10/06/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, in order to benefit yourselves, take every type of precaution. In order to become a flower, the food you eat must be prepared by someone observing purity.
Question: What do you children practise here that will continue there for 21 births?
Answer: It is here that you practise remaining constantly healthy in body and mind. You have to give your bones to the service of this sacrificial fire just like Dadichi Rishi did. However, there is no question of hatha yoga here. You mustn’t allow your body to become weak. Through the yoga that you practise here, you become healthy for 21 births.

Om shanti. In a college or universityteachers look at the students. Where are the roses? Who is sitting in the front? This is also a garden, but it is numberwise. I can see a rose here, and I can then see another very fragrant flower next to that one. I can even see an uck flower somewhere. The Master of the Garden has to look at them. You call out to the Master of the Garden to come and destroy this forest of thorns and to plant the sapling of flowers. You children know in a practical way how the sapling of flowers is planted from thorns. Only a few among you, however, think about these things. You children know that He is the Master of the Garden and also the Boatman. He takes everyone back with Him. The Father is happy on seeing the flowers. Each one of you understands that you are changing from a thorn into a flower. Look how elevated this knowledge is. A broad intellect is needed to understand these things. This world is of iron-aged residents of hell. You are becoming residents of heaven. Sannyasis leave their homes and run away. You don’t have to run away anywhere. In some homes, someone may be a thorn and someone else a flower. Some ask Baba: Baba, should I get my son married? Baba would reply: You may do so. Keep him at home and look after him. Since you ask, it is understood that you don’t have that courage. Therefore, Baba replies: You may do so. Some say: I am always ill and, when my daughter-in-law comes, I have to eat the food that she prepares. Baba replies: You may eat it. Would Baba say no? If the circumstances are such, that you have to eat it, then do so. However, there is also attachment, is there not? When a daughter-in-law of some enters their home, don’t even ask! It’s as though a goddess has come! They become so happy. However, you must understand that if you want to become a flower, you have to eat food prepared by someone observing purity. For this, you have to make your own arrangements. You don’t need to ask anything about this. The Father explains: You are becoming deities. Therefore, you have to take these precautions. The more precautions you take, the more you will benefit. It does take some effort to take more precautions. If you go somewhere and are going to feel hungry on your journey, then take some food with you. If you have some difficulty, then, in desperate circumstances, you can take some bread from someone selling that at the station. Simply remember the Father. This is known as the power of yoga. There is no question of hatha yoga in this. You mustn’t allow your body to become weak. You have to give every bone just like Dadichi Rishi did, but there is no question of hatha yoga in this. All of those things belong to the path of devotion. The body has to be kept very healthy. By practising this yoga, you have to become healthy for 21 births. You have to practise this here. Baba explains: There is nothing to ask about in this. Yes, if it is something important and you are confused, you can ask. So much time is wasted in asking Baba about trivial things. Great people speak very little. Shiv Baba is called the Bestower of Salvation. Ravan would not be called the Bestower of Salvation. If he were that, why would his effigy be burnt? You children understand that Ravan is very famous. Although Ravan has a lot of strength, he is still your enemy, is he not? Ravan’s kingdom continues for half the cycle. However, have you ever heard any praise of him? None at all. You know that the five vices are called Ravan. Sages and holy men are praised because they remain pure. All human beings are impure at this time. No matter who comes, even if it is an important person who comes and asks to meet Baba, what would Baba ask him? Baba would just ask him if he has ever heard of the kingdom of Rama and the kingdom of Ravan, whether he has ever heard of human beings and deities. Is it the kingdom of human beings or the kingdom of deities at this time? Who are human beings and who are deities? In whose kingdom did the deities exist? Deities exist in the golden age. As are the king and queen, so the subjects. You can ask if this is the new world or the old world. Who used to rule in the golden age? Whose kingdom is it now? The picture is in front of you. Only the Father sits here and explains what devotion is and what knowledge is. The Father would reply to the children who say that they can’t imbibe anything: Oh! But it is easy to understand Alpha and beta, is it not? Alpha, the Father, says: Remember Me, the Father, and you will receive your inheritance. The people of Bharat celebrate the birth of Shiva, but when did He come in Bharat and make it into heaven? They still don’t know that Bharat was heaven; they have forgotten that. Tell them that you too didn’t know that you were the masters of heaven, that you are now once again being made into deities by the Father. I am the only One who explains this to you. “Liberation-in-life in a second” has been remembered. However, the meaning of that is not understood. You become the angels of heaven in a second. This is also called, “The Gathering of Indra”. They believe that Indra is the God of Rain. Now, could there be a gathering of someone who makes it rain? They speak of so many things such as, the land of Indra, the gathering of Indra. Today, you are making this effort once again. This is a study, is it not? If you were studying to become barristers, you would understand that you will become barristers tomorrow. You are studying here today and you will shed your bodies and take birth in that kingdom tomorrow. The reward you receive is for your future. We study here and then go and take birth in the golden age. Our aim and objective is to become princes and princesses. This is Raj Yoga. If some say: “Baba, my intellect isn’t opening”, that is their fortune; those are their parts in the drama. How can Baba change that? Everyone has a right to become a master of heaven, but it would be numberwise, would it not? It isn’t that everyone will become an emperor. Some say that, since there is God’s power here, He can make everyone into an emperor. Then, where would the subjects come from? This is something that has to be understood. It used to be the kingdom of Lakshmi and Narayan. Emperors and empresses only exist in name now; they are given those titles. By paying one or two hundred thousand rupees, they can receive the title of king or queen. They also have to behave in that manner. You children know that you are now establishing your kingdom by following shrimat. Everyone there will be very beautiful. It used to be the kingdom of Lakshmi and Narayan. Because the duration of the cycle has been lengthened in the scriptures, human beings have forgotten that kingdom. You are now making effort to become beautiful from ugly. Are deities ugly? Krishna has been portrayed as bluish and Radhe as fair. Where beauty is concerned, both would be beautiful. Then, by sitting on the pyre of lust, both become ugly. There, they are the masters of the golden world. Here, this world is ugly. Firstly, you children should experience great happiness inside and you should then imbibe divine virtues. Some of you tell Baba that you’re not able to give up smoking. Baba then says: OK, smoke as much as you want! Since you ask, what would Baba say? If you don’t observe the precautions, you will fall. You should understand this for yourself. Since you are becoming deities, what should your behaviour, activity and food and drink be like? You all say that you will marry Lakshmi or Narayan. OK, look inside yourself and see if you have those virtues. How could you become Narayan if you smoke? There is also the story of Narad. Narad wasn’t the only devotee. All human beings are devotees (Narad). The Father says: You children, who are to become deities, must become introverted and ask yourselves: Since I am becoming a deity, what should my behaviour be like? We are becoming deities. Therefore, we must not drink alcohol, smoke cigarettes, indulge in vice or eat food prepared by impure human beings. Otherwise, our stage will be affected. The Father sits here and explains these things to you. No one else knows the secrets of the drama. This is a play and all are actors. We souls come down from up above. Every actor in the whole world has a part to play. Each one of you has your own part to play. There are so many actors. Look how they are playing their parts! This is the variety tree of religions. A mango tree would not be called a variety tree; it would just have mangoes on it. This is the human world tree, but it is called the variety tree of religions. The Seed is just the One. Look how much variety there is in the human species! They are all so different! The Father sits here and explains this. Human beings don’t know anything at all. Only the Father can change ordinary humans into those with divine intellects. You know that only a few more days of this old world remain. The sapling is being planted as it was a cycle ago. The saplings of good subjects and ordinary subjects are also being planted. The kingdom is being established here. You children must use your intellects about everything. It isn’t that it doesn’t matter whether you hear a murli or not. Even while sitting here, the intellects of some of you wander outside. Some of you who listen to the murli, personally, face to face, have bubbles of happiness inside. They run here to listen to the murli. God is teaching! Therefore, you shouldn’t stop studying such a study. The tape recorder records everything accurately. Therefore, listen to that. If some wealthy ones were to purchase these, the poor could listen. So many would be benefited. The poor children too can make their fortune very elevated for themselves. Baba is having buildings built for the children to stay in. Some poor children even send a money order for two rupees! They say: Baba, use one brick in my name for this building and put one rupee in the yagya. There also have to be those to fill the treasure-store. When hospitals etc. are built, so much expense is incurred. Wealthy people help the Government a great deal. What do they receive in return? Temporary happiness. However, the reward of whatever you do here lasts you for 21 births. You can see how Baba gave everything and will become the number one master of the world. Who would not make such a bargain for 21 births? This is why you call Him the Innocent Lord. That matter refers to this time. He is so innocent! He says: Do whatever you want to do! Some daughters are so poor that they earn their livelihood by sewing clothes. Baba knows that they are going to claim a very high status. There is also the example of Sudama, who gave a handful of rice and received a palace for 21 births. You understand these things, numberwise, according to the efforts you make. The Father says: I am the Innocent Lord. This Dada is not the Innocent Lord. This one also says: Shiv Baba is the Innocent Lord. He is also called the Businessman, the Jewel Merchant and the Magician. You are becoming the masters of the world. Bharat is now so impoverished; people are wealthy and the Government is poor. You now understand how elevated Bharat used to be; it really was heaven. There are still signs of that. The Somnath Temple was so beautifully decorated with diamonds and jewels. Camel loads of all those diamonds and jewels were taken away. You children know that this world is now definitely going to change. We are now making preparations for that. Those who do something receive the reward of it. There is a lot of opposition from Maya. You are the followers of God whereas everyone else is Ravan’s slave. You belong to Shiv Baba. Shiv Baba is giving you your inheritance. Therefore, no one but the Father should be in your intellects. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Become introverted and talk to yourself: Since I am becoming a deity, what should my behaviour be like? Is any of my food or drink impure?
  2. In order to make your fortune elevated for your future 21 births, give whatever you have to the Innocent Lord just as Sudama did. Don’t make any excuses for missing this study.
Blessing: May you be a playful, wandering yogi (Ramta yogi) who brings about revelation on the basis of truth, cleanliness and fearlessness.
Truth is the basis of God’s revelation, and the basis of truth is cleanliness and fearlessness. If there is any type of uncleanliness, that is, if something is lacking in your honesty and cleanliness, or if you are afraid to become victorious over your own tamoguni sanskars, in harmonizing your sanskars or in proving your principles on the field of world service, revelation cannot take place. So, imbibe truth and fearlessness and become a playful and wandering yogi who is intoxicated with just the one concern. Become an easy Raj Yogi and the final revelation will easily take place.
Slogan: Unlimited vision and attitude are the basis of unity and so do not be limited.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 10 JUNE 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 10 June 2020

Murli Pdf for Print : – 

10-06-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – अपना कल्याण करना है तो हर प्रकार की परहेज रखो, फूल बनने के लिए पवित्र के हाथ का शुद्ध भोजन खाओ”
प्रश्नः- तुम बच्चे अभी यहाँ ही कौन-सी प्रैक्टिस करते हो, जो 21 जन्म तक रहेगी?
उत्तर:- सदा तन-मन से तन्दुरूस्त रहने की प्रैक्टिस तुम यहाँ से ही करते हो। तुम्हें दधीचि ऋषि मिसल यज्ञ सेवा में हड्डियां भी देनी हैं लेकिन हठयोग की बात नहीं है। अपना शरीर कमजोर नहीं करना है। तुम योग से 21 जन्मों के लिए तन्दुरूस्त बनते हो, उसकी प्रैक्टिस यहाँ से करते हो।

ओम् शान्ति। कॉलेज अथवा युनिवर्सिटी होती है तो टीचर भी स्टूडेन्ट तरफ देखते हैं। गुलाब का फूल कहाँ है, फ्रन्ट में कौन बैठे हुए हैं? यह भी बगीचा है परन्तु नम्बरवार तो हैं ही। यहाँ ही गुलाब का फूल देखता हूँ फिर बाजू में रत्न ज्योति। कहाँ अक भी देखता हूँ। बागवान को तो देखना पड़े ना। उस बागवान को ही बुलाते हैं कि आकर इस कांटों के जंगल को खत्म कर फूलों का कलम लगाओ। तुम बच्चे प्रैक्टिकल में जानते हो कैसे कांटों से फूलों का सैपलिंग लगता है। तुम्हारे में भी बहुत थोड़े हैं जो इन बातों का चिंतन करते हैं। यह भी तुम बच्चे जानते हो-वह बागवान भी है, खिवैया भी है, सबको ले जाते हैं। फूलों को देख बाप भी खुश होते हैं। हर एक समझते हैं हम कांटों से फूल बन रहे हैं। नॉलेज देखो कितनी ऊंची है। इस समझने में भी बहुत बड़ी बुद्धि चाहिए। यह हैं ही कलियुगी नर्कवासी। तुम स्वर्गवासी बन रहे हो। सन्यासी लोग तो घरबार छोड़ भाग जाते हैं। तुमको भागना नहीं है। किसी-किसी घर में एक कांटा है तो एक फूल है। बाबा से कोई पूछते हैं-बाबा, बच्चे की शादी करायें? बाबा कहेंगे भल कराओ। घर में रखो, सम्भाल करो। पूछते हैं इससे ही समझा जाता है-हिम्मत नहीं है। तो बाबा भी कह देते हैं भल करो। कहते हैं हम तो बीमार रहते हैं फिर बहू आयेगी, उनके हाथ का खाना पड़ेगा। बाबा कहेगा भल खाओ। ना करेंगे क्या! सरकमस्टांश ऐसे हैं खाना ही पड़े क्योंकि मोह भी तो है ना। घर में बहू आई तो बात मत पूछो जैसेकि देवी आ गई। इतने खुश होते हैं। अब यह तो समझने की बात है। हमको फूल बनना है तो पवित्र के हाथ का खाना है। उसके लिए अपना प्रबन्ध करना है, इसमें पूछना थोड़ेही होता है। बाप समझाते हैं तुम देवता बनते हो, इसमें यह परहेज चाहिए। जितनी जास्ती परहेज रखेंगे उतना तुम्हारा कल्याण होगा। जास्ती परहेज रखने में कुछ मेहनत भी होगी। रास्ते में भूख लगती है, खाना साथ में ले जाओ। कोई तकलीफ होती है, लाचारी है तो स्टेशन वालों से डबलरोटी ले खाओ। सिर्फ बाप को याद करो। इनको ही कहा जाता है योगबल। इसमें हठयोग की कोई बात नहीं है, शरीर को कमजोर नहीं बनाना है। दधीचि ऋषि मिसल हड्डी-हड्डी देनी है, इसमें हठयोग की बात नहीं है। यह सब हैं भक्ति मार्ग की बातें। शरीर को तो बिल्कुल तन्दुरूस्त रखना है। योग से 21 जन्मों के लिए तन्दुरूस्त बनना है। यह प्रैक्टिस यहाँ ही करनी है। बाबा समझाते हैं इसमें पूछने की दरकार नहीं रहती। हाँ कोई बड़ी बात है, उसमें मूँझते हो तो पूछ सकते हो। छोटी-छोटी बातें बाबा से पूछने में कितना टाइम जाता है। बड़े आदमी बहुत थोड़ा बोलते हैं। शिवबाबा को कहा जाता है – सद्गति दाता। रावण को सद्गति दाता थोड़ेही कहेंगे। अगर होता तो उनको जलाते क्यों? बच्चे समझते हैं रावण तो नामीग्रामी है। भल ताकत रावण में बहुत है, परन्तु दुश्मन तो है ना। आधाकल्प रावण का राज्य चलता है। परन्तु कब महिमा सुनी है? कुछ भी नहीं। तुम जानते हो रावण 5 विकारों को कहा जाता है। साधू-सन्त पवित्र बनते हैं तो उन्हों की महिमा करते हैं ना। इस समय के मनुष्य तो सब पतित हैं। भल कोई भी आये, समझो कोई बड़े आदमी आते हैं, कहते हैं बाबा से मुलाकात करें, बाबा उनसे क्या पूछेंगे? उनसे तो यही पूछेंगे कि राम राज्य और रावण राज्य कब सुना है? मनुष्य और देवता कब सुना है? इस समय मनुष्यों का राज्य है या देवताओं का? मनुष्य कौन, देवता कौन? देवता किस राज्य में थे? देवतायें तो होते हैं सतयुग में। यथा राजा रानी तथा प्रजा…… तुम पूछ सकते हो कि यह नई सृष्टि है या पुरानी? सतयुग में किसका राज्य था? अभी किसका राज्य है? चित्र तो सामने हैं। भक्ति क्या है, ज्ञान क्या है? यह बाप ही बैठ समझाते हैं।

जो बच्चे कहते बाबा धारणा नहीं होती उन्हें बाबा कहते अरे अल्फ और बे तो सहज है ना। अल्फ बाप ही कहते हैं मुझ बाप को याद करो तो वर्सा मिल जायेगा। भारत में शिवजयन्ती भी मनाते हैं परन्तु कब भारत में आकर स्वर्ग बनाया? भारत स्वर्ग था-यह नहीं जानते हैं, भूल गये हैं। तुम कहेंगे हम भी कुछ नहीं जानते थे कि हम स्वर्ग के मालिक थे। अब बाप द्वारा हम फिर से देवता बन रहे हैं। समझाने वाला मैं ही हूँ। सेकण्ड में जीवनमुक्ति गाया हुआ है। परन्तु इनका भी अर्थ थोड़ेही समझते हैं। सेकण्ड में तुम स्वर्ग की परियां बनते हो ना! इनको इन्द्र सभा भी कहते हैं, वह फिर इन्द्र समझते हैं बरसात बरसाने वाले को। अब बरसात बरसाने वालों की कोई सभा लगती है क्या? इन्द्रलठ, इन्द्र सभा क्या-क्या सुनाते हैं।

आज फिर से यह पुरूषार्थ कर रहे हैं, पढ़ाई है ना। बैरिस्टरी पढ़ते हैं तो समझते हैं कल हम बैरिस्टर बनेंगे। तुम आज पढ़ते हो, कल शरीर छोड़ राजाई में जाकर जन्म लेंगे। तुम भविष्य के लिए प्रालब्ध पाते हो। यहाँ से पढ़कर जायेंगे फिर हमारा जन्म सतयुग में होगा। एम ऑब्जेक्ट ही है-प्रिन्स-प्रिन्सेज बनने की। राजयोग है ना। कोई कहे बाबा हमारी बुद्धि नहीं खुलती, यह तो तुम्हारी तकदीर ऐसे है। ड्रामा में पार्ट ऐसा है। उसको बाबा चेंज कैसे कर सकते हैं। स्वर्ग का मालिक बनने के लिए तो सब हकदार हैं। परन्तु नम्बरवार तो होंगे ना। ऐसे तो नहीं सब बादशाह बन जाएं। कोई कहते ईश्वरीय ताकत है तो सबको बादशाह बना दें। फिर प्रजा कहाँ से आयेगी। यह समझ की बात है ना। इन लक्ष्मी-नारायण का राज्य था। अभी तो सिर्फ नाम मात्र महाराजा-महारानी हैं। टाइटिल भी दे देते हैं। लाख दो देने से राजा-रानी का लकब मिल जाता है। फिर चाल भी ऐसी रखनी पड़े।

अभी तुम बच्चे जानते हो हम श्रीमत पर अपना राज्य स्थापन कर रहे हैं। वहाँ तो सब सुन्दर गोरे होंगे। इन लक्ष्मी-नारायण का राज्य था ना। शास्त्रों में कल्प की आयु लम्बी लिख देने से मनुष्य भूल गये हैं। अभी तुम पुरूषार्थ कर रहे हो-सांवरे से सुन्दर बनने का। अब देवतायें काले होते हैं क्या? कृष्ण को सांवरा, राधे को गोरा दिखाते हैं। अब सुन्दर तो दोनों सुन्दर होंगे ना। फिर काम चिता पर चढ़ दोनों काले बन जाते हैं। वहाँ हैं सुनहरी दुनिया के मालिक, यह है काली दुनिया। तुम बच्चों को एक तो अन्दर में खुशी रहनी चाहिए और दैवीगुण भी धारण करने चाहिए। कोई कहते हैं बाबा बीड़ी नहीं छूटती है। बाबा कहेंगे अच्छा बहुत पियो। पूछते हो तो क्या कहेंगे! परहेज में नहीं चलने से गिरोगे। खुद अपनी समझ होनी चाहिए ना। हम देवता बनते हैं तो हमारी चाल-चलन, खान-पान कैसा होना चाहिए। सब कहते हैं हम लक्ष्मी को, नारायण को वरेंगे। अच्छा, अपने में देखो ऐसे गुण हैं? हम बीड़ी पीते हैं, फिर नारायण बन सकेंगे? नारद की भी कथा है ना। नारद कोई एक तो नहीं है ना। सब मनुष्य भक्त (नारद) हैं।

बाप कहते हैं – देवता बनने वाले बच्चे अन्तर्मुखी बन अपने आपसे बातें करो कि जब हम देवता बनते हैं तो हमारी चलन कैसी होनी चाहिए? हम देवता बनते हैं तो शराब नहीं पी सकते, बीड़ी नहीं पी सकते, विकार में नहीं जा सकते, पतित के हाथ का नहीं खा सकते। नहीं तो अवस्था पर असर हो जायेगा। यह बातें बाप बैठ समझाते हैं। ड्रामा के राज़ को भी कोई नहीं जानते हैं। यह नाटक है, सब पार्टधारी हैं। हम आत्मायें ऊपर से आती हैं, पार्ट तो सारी दुनिया के एक्टर्स को बजाना हैं। सबका अपना-अपना पार्ट है। कितने पार्टधारी हैं, कैसे पार्ट बजाते हैं, यह वैराइटी धर्मों का झाड़ है। एक आम के झाड़ को वैराइटी झाड़ नहीं कहेंगे। उसमें तो आम ही होगा। यह मनुष्य सृष्टि का झाड़ तो है परन्तु इनका नाम है-वैराइटी धर्मों का झाड़। बीज एक ही है, मनुष्यों की वैराइटी देखो कितनी है। कोई कैसे, कोई कैसे। यह बाप बैठ समझाते हैं, मनुष्य तो कुछ नहीं जानते। मनुष्यों को बाप ही पारसबुद्धि बनाते हैं। तुम बच्चे जानते हो इस पुरानी दुनिया में बाकी थोड़े रोज़ हैं। कल्प पहले मुआफिफक सैपलिंग लगती रहती है। अच्छी प्रजा, साधारण प्रजा का भी सैपलिंग लगता है। यहाँ ही राजधानी स्थापन हो रही है। बच्चों को हरेक बात में बुद्धि चलानी होती है। ऐसे नहीं, मुरली सुनी न सुनी। यहाँ बैठे भी बुद्धि बाहर भागती रहती है। ऐसे भी हैं-कोई तो सम्मुख मुरली सुनकर बहुत गद्गद् होते हैं। मुरली के लिए भागते हैं। भगवान पढ़ाते हैं, तो ऐसी पढ़ाई छोड़नी थोड़ेही चाहिए। टेप में एक्यूरेट भरता है, सुनना चाहिए। साहूकार लोग खरीद करेंगे तो गरीब सुनेंगे। कितनों का कल्याण हो जायेगा। गरीब बच्चे भी अपना भाग्य बहुत ऊंचा बना सकते हैं। बाबा बच्चों के लिए मकान बनवाते हैं, गरीब दो रूपया भी मनीआर्डर कर देते हैं, बाबा इसकी एक ईट मकान में लगा देना। एक रूपया यज्ञ में डाल देना। फिर कोई तो हुण्डी भरने वाला भी होगा ना। मनुष्य हॉस्पिटल आदि बनाते हैं, कितना खर्चा लगता है, साहूकार लोग सरकार को बहुत मदद करते हैं, उनको क्या मिलता है! अल्पकाल का सुख। यहाँ तो तुम जो करते हो 21 जन्मों के लिए। देखते हो बाबा ने सब कुछ दिया, विश्व का मालिक पहला नम्बर बना। 21 जन्मों के लिए ऐसा सौदा कौन नहीं करेगा। भोलानाथ तब तो कहते हैं ना। अभी की ही बात है। कितना भोला है, कहते हैं जो कुछ करना है कर दो। कितनी गरीब बच्चियां हैं, सिलाई कर पेट पालती हैं। बाबा जानते हैं यह तो बहुत ऊंच पद पाने वाली हैं। सुदामा का भी मिसाल है ना। चावल मुट्ठी के बदले 21 जन्मों के लिए महल मिले। तुम यह बातें नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार जानते हो। बाप कहते हैं मैं भोलानाथ भी हूँ ना। यह दादा तो भोलानाथ नहीं है। यह भी कहते हैं भोलानाथ शिवबाबा है इसलिए उनको सौदागर, रत्नागर, जादूगर कहा जाता है। तुम विश्व का मालिक बनते हो। यहाँ भारत कंगाल है, प्रजा साहूकार है, गवर्मेन्ट गरीब है। अभी तुम समझते हो भारत कितना ऊंच था! स्वर्ग था। उसकी निशानियाँ भी हैं। सोमनाथ का मन्दिर कितना हीरे-जवाहरों से सजा हुआ था। जो ऊंट भरकर हीरे-जवाहर ले गये। तुम बच्चे जानते हो अभी यह दुनिया बदलनी जरूर है। उसके लिए तुम तैयारी कर रहे हो। जो करेगा सो पायेगा। माया का आपोजीशन बहुत होता है। तुम हो ईश्वर के मुरीद। बाकी सब हैं रावण के मुरीद। तुम हो शिवबाबा के। शिवबाबा तुमको वर्सा देते हैं। सिवाए बाप के और कोई बात बुद्धि में नहीं आनी चाहिए। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अन्तर्मुखी बन अपने आप से बातें करनी हैं – जबकि हम देवता बनते हैं तो हमारी चलन कैसी है! कोई अशुद्ध खान-पान तो नहीं है!

2) अपना भविष्य 21 जन्मों के लिए ऊंचा बनाना है तो सुदामें मिसल जो कुछ है भोलानाथ बाप के हवाले कर दो। पढ़ाई के लिए कोई भी बहाना न दो।

वरदान:- सत्यता, स्वच्छता और निर्भयता के आधार से प्रत्यक्षता करने वाले रमता योगी भव
परमात्म प्रत्यक्षता का आधार सत्यता है। और सत्यता का आधार स्वच्छता वा निर्भयता है। यदि किसी भी प्रकार की अस्वच्छता अर्थात् सच्चाई सफाई की कमी है, या अपने ही तमोगुणी संस्कारों पर विजयी बनने में, संस्कार मिलाने में या विश्व सेवा के क्षेत्र में अपने सिद्धान्तों को सिद्ध करने में भय है तो प्रत्यक्षता नहीं हो सकती, इसलिए सत्यता और निर्भयता को धारण कर एक ही धुन में मस्त रहने वाले रमता योगी, सहज राजयोगी बनो तो सहज ही अन्तिम प्रत्यक्षता होगी।
स्लोगन:- बेहद की दृष्टि, वृत्ति ही युनिटी का आधार है, इसलिए हद में नहीं आओ।

TODAY MURLI 10 JUNE 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 10 June 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 9 June 2019 :- Click Here

10/06/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, make full effort to remove your defects.Keep a chart of the virtues you lack. Donate virtues and you will become virtuous.
Question: Which shrimat do you first receive in order to become virtuous?
Answer: Sweet children, in order to become virtuous: 1) Do not look at anyone’s body. Consider yourself to be a soul and listen to the one Father alone and only look at the Father alone. Don’t listen to the dictates of human beings. 2) Let there not be any such activities under the influence of body consciousness that you would defame the Father’s name and the Brahmin clan. Those with wrong activity cannot become virtuous. They are known as ones who defame the family’s name.

Om shanti. (BapDada was holding some jasmine). Baba is showing you these fragrant flowers so that you can become like them. You children know that you definitely did become flowers. You became roses and you also became jasmine, that is, you became diamonds and are also becoming those once again. You are now real; previously, you were false; there was nothing but falsehood; there was not even a grain of truth. You are now becoming true. Those who are honest also need all the virtues. However many virtues you have, you have to donate them to others to that extent and make them similar to yourself. This is why the Father continues to tell you children: Children, keep a chart of your virtues. Check whether there are any defects in you and whether you lack any divine virtues. Check your chart every night. It is a different matter for the people of the world outside. You are not human beings now; you are Brahmins. Although all are human beings, there is a difference in each one’s virtues and behaviour. Some human beings in the kingdom of Maya are very good and virtuous, but they don’t know the Father. They are religiousminded and very soft-hearted. People of the world have a variety of virtues, whereas when you become deities, everyone has divine virtues. However, because this is a study, there is a difference in your status. First, you have to study and second, you have to remove all your defects. You children understand that you are unique in the world. It is only the one Brahmin clan sitting here. In the shudra clan, there are the dictates of human beings. In the Brahmin clan, there are God’s directions. First of all, you have to give people the Father’s introduction. You say that so-and-so argues a lot. Baba explains that you should write to him and say: We are Brahmins, that is, we are Brahma Kumars and Kumaris and we are following God’s directions. They will then understand that there is no one higher than you. God is the Highest on High and we, His children, are following His directions. We do not follow human directions. We become deities by following God’s directions. We have completely renounced following human directions. Therefore, no one can argue with you. If someone asks, “Where did you hear this? Who taught you?” You reply: We are following God’s directions. There is no question of inspiration. We have understood everything from God, the unlimited Father. Tell them: We have been following the dictates of the scriptures of the path of devotion for a long time. We have now received God’s directions. You children have to praise the Father alone. First of all, instil it in your intellects that you are following God’s directions. We do not follow the dictates of human beings nor do we listen to them. God has said: Hear no evil! See no evilHear no human dictates. Look at souls, not bodies. This body is impure. What is there to see in this? Do not look at it through your eyes. This body is completely impure. This body is not going to get any better; it will become even older. It is the soul that is being reformed day by day. Souls are immortal. This is why the Father says: See no evil! You must not even see bodies. Forget all your bodily relations, including your own bodies. See the souls and listen to the one Supreme Father alone. It is this that takes effort. You also feel that this is a great subject. Those who are clever will also claim a high status. Liberation-in-life can be received within a second. However, if you do not make full effort, you also have to experience a great deal of punishment. You children become sticks for the blind in order to give the Father’s introduction. Souls cannot be seen; they have to be understood. Souls are very tiny. Just look how much space human beings who live under the element of sky take up! Human beings continue to come and go. Do souls come and go? Souls take up such a small space. This is something to think about. There will be a swarm of souls. In comparison to a body, a soul is very tiny; it takes up very little space. You need a great deal of space to live in. You children become those with broad intellects. The Father explains new things to you for the new world. The One who explains to you is also new. Human beings continue to ask everyone for mercy. They do not have the strength to have mercy for themselves. You are receiving power. You have claimed your inheritance from the Father. No one else can be called merciful. Human beings cannot be called deities. Only the one Father is merciful. He is the One who changes humans into deities. This is why it has been said that the praise of the Supreme Father, the Supreme Soul, is limitless; there is no limit to His praise. You now know that there is also no limit to His mercy. Everything is new in the new world that Baba creates. Human beings, birds and animals, everything there is satopradhan. The Father has explained that when you become elevated, your furniture is also remembered as being the most elevated. The Father is also called the Highest on High. You receive the kingdom of the world from Him. The Father tells you clearly: I bring Paradise on the palm of My hand. Those people make saffron etc. emerge from the palms of their hands. Here, it is a question of studying. This is a true study. You understand that you have come to this school to study. When you open many of these schools, people will see your activities. However, when you behave in a wrong way, you defame the name. The activities of those who are body conscious are different. When people see such behaviour, it is as though everyone is defamed. They think that there is no difference in their activities, and so it as though that soul has defamed the Father. It takes time, but all the blame falls on Him. You need very good manners. How long does it take to reform your character? You understand that the characters of some are very good; they are firstclass. That too is visible. Baba sits here and looks at each of you children and sees what defects have to be removed from you. He examines each one. Everyone has defects. Therefore, the Father continues to see everyone and their results. The Father has love for you children. He knows which particular defects you have in you and it is the reason why you will not be able to claim a high status. It will be very difficult if you don’t remove your defects. Baba understands this by seeing you. You understand that there is still some time left. He examines each one. The Father’s vision falls on each one’s virtues. He asks: Are there any defects in you? You tell the truth when you come in front of Baba. Some have body consciousness and so they do not speak about them. The Father continues to say: Those who act without being asked are called deities and those who do so after being asked are called human beings. Those who don’t do it, even after being asked, are called… Baba continues to say: When you come in front of the Father, tell Him of the defects you have in this birth. Baba tells everyone: Tell the Surgeon of your weakness; not the illness of your body, but the illness you have inside. What devilish thoughts do you have inside you? Baba will then explain and tell you that you will not be able to claim a high status in that condition, that is, not until you have removed those defects. It is defects that cause a lot of defamation. People develop doubt and think: Is God teaching you? “God is beyond name and form, He is omnipresent. How can He be teaching them? Just look at their behaviour!” The Father knows this. You should have first-class virtues. If you hide your defects, your arrows will not hit the target to that extent. Therefore, to whatever extent possible, continue to remove your defects. Note down the defects you have and your conscience then will bite you. If there is a loss, your conscience would bite you. Businessmen write up their accounts every day showing how much profit they have made. They check their accounts every day. This Father also says: Look at your behaviour every day. Otherwise, you will harm yourself and cause the Father’s honour to be lost. Those who defame the Guru cannot reach their destination. Those who are body conscious cannot reach their destination. Those who are soul conscious reach a good destination. All of you are making effort to become soul conscious. Day by day, you are reforming yourselves. Put an end to the activities you perform due to body consciousness. Sins are definitely committed due to body consciousness. Therefore, continue to become soul conscious. You understand that no one becomes a king at birth. It takes time for you to become soul conscious. You also understand that you now have to return home. Children come to Baba: some come after six months, some after eight months and so Baba sees how much progress they have made in that time. Are they reforming themselves day by day or is there still something wrong? While moving along, some stop studying. Baba says: What is this? God is teaching you in order to make you into gods and goddesses and yet you stop studying! Oho! The World Godfather is teaching you, and you remain absent! Maya is very powerful. She turns your faces away from this first-class study. There are many who continue to move along and then they kick this study aside. You understand that your faces are now towards heaven and that your feet are towards hell. You are confluence-aged Brahmins. This old world belongs to Ravan. You will go to the land of happiness via the land of peace. You children just have to remember this. Time is very short; you may even leave your body tomorrow. If you don’t have remembrance of the Father in your final moments, what would be your destination? The Father explains a great deal to you. These things are incognito. Knowledge is also incognito. You also know that, whatever effort you made in the previous cycle, you will make the same effort now. The Father also continues to explain to you, according to the drama, as He did in the previous cycle. There can be no difference in that. Continue to remember the Father and your sins will be absolved. You should not experience punishment. What would the Father say if you had to endure punishment in front of Him? You have also had visions. At that time, He will not be able to forgive you. The Father is teaching you through this one and so you will have a vision of this one. He will also continue to tell you through this one of the things you did. Then, at that time, you will cry a great deal and you will also cry out in repentance. Punishment cannot be given without you having a vision of what you have done. You will be told that you were taught so much and that you still performed such actions. You also understand how many sins you have committed by following the dictates of Ravan. You became worshippers from being worthy of worship. You used to say that the Father is omnipresent. This is a number one insult. This also creates a huge account. The Father complains about how you have slapped yourselves. It is the people of Bharat who have fallen to such an extent. The Father comes and explains. You have now received so much understanding. However, you understand numberwise, according to the drama. Previously, too, the result of the class until now was the same. The Father will definitely tell you children so that you can continue to make progress. Maya is such that she does not let you remain soul conscious. This is a big subject. Therefore, consider yourselves to be souls and remember the Father so that your sins are burnt away. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Sins are definitely committed when you become body conscious. Those who are body conscious cannot reach their destination. Therefore, make full effort to become soul conscious. No action should be performed while would defame the name of the Father.
  2. Tell the Father honestly about your internal sickness. Do not hide your defects. Check what defects you have. Make yourself virtuous with this study.
Blessing: May you become a self-transformer and transform your thought and sanskars from negative to positive in a second with a powerful brake.
When you have negative, that is, waste thoughts, the speed of them is very fast. You need to practise applying a powerful brake at a fast speed and bring about a change. Before going up a mountain, the brakes are firstchecked. In order to make your stage elevated, increase your practice of applying a brake to your thoughts in a second. When you transform your thoughts and sanskars from negative to positive in a second, the task of world transformation through your self-transformation will be completed.
Slogan: Those who use the elevated power of transformation for themselves and others are true karma yogis.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 10 JUNE 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 10 June 2019

To Read Murli 9 June 2019 :- Click Here
10-06-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – अवगुणों को निकालने का पूरा पुरूषार्थ करो, जिस गुण की कमी है उसका पोतामेल रखो, गुणों का दान करो तो गुणवान बन जायेंगे”
प्रश्नः- गुणवान बनने के लिए कौन-सी पहली-पहली श्रीमत मिली हुई है?
उत्तर:- मीठे बच्चे – गुणवान बनना है तो – 1. किसी की भी देह को मत देखो। अपने का आत्मा समझो। एक बाप से सुनो, एक बाप को देखो। मनुष्य मत को नहीं देखो। 2. देह-अभिमान के वश ऐसी कोई एक्टिविटी न हो जिससे बाप का वा ब्राह्मण कुल का नाम बदनाम हो। उल्टी चलन वाले गुणवान नहीं बन सकते। उन्हें कुल कंलकित कहा जाता है।

ओम् शान्ति। (बापदादा के हाथ में मोतिये के फूल थे)बाबा साक्षात्कार कराते हैं, ऐसा खुशबूदार फूल बनने का है। बच्चे जानते हैं हम फूल बने थे जरूर। गुलाब के फूल, मोतिये के फूल भी बने थे अथवा हीरे भी बने थे, अब फिर बन रहे हैं। यह हैं सच्चे, आगे तो थे झूठे। झूठ ही झूठ, सच की रत्ती भी नहीं। अभी तुम सच्चे बनते हो तो फिर सच्चे में सब गुण भी चाहिए। जितने जिसमें गुण हैं, उतना औरों को भी दान दे आपसमान बना सकते हैं इसलिए बाप बच्चों को कहते रहते हैं – बच्चे, पोतामेल रखो, अपने गुणों का। हमारे में कोई अवगुण तो नहीं हैं? दैवी गुणों में क्या कमी है? रात को रोज़ अपना पोतामेल निकालो। दुनिया के मनुष्यों की तो बात ही अलग है। तुम अभी मनुष्य तो नहीं हो ना। तुम हो ब्राह्मण। भल मनुष्य तो सब मनुष्य ही हैं। परन्तु हर एक के गुणों में, चलन में फ़र्क पड़ता है। माया के राज्य में भी कोई-कोई मनुष्य बहुत अच्छे गुणवान होते हैं परन्तु बाप को नहीं जानते। बड़े रिलीजस माइन्डेड, नर्म दिल होते हैं। दुनिया में तो मनुष्यों के गुणों की वैराइटी है। और जब देवता बनते हैं तो दैवी गुण तो सबमें हैं। बाकी पढ़ाई के कारण मर्तबे कम हो पड़ते हैं। एक तो पढ़ना है, दूसरा अवगुणों को निकालना है। यह तो बच्चे जानते हैं हम सारी दुनिया से न्यारे हैं। यहाँ यह जैसे एक ही ब्राह्मण कुल बैठा हुआ है। शुद्र कुल में है मनुष्य मत। ब्राह्मण कुल में है ईश्वरीय मत। पहले-पहले तुमको बाप का परिचय देना है, तुम बताते हो फलाना आरग्यु करते हैं। बाबा ने समझाया था, लिख दो हम ब्राह्मण अथवा बी.के. हैं ईश्वरीय मत पर तो समझ जायेंगे इनसे ऊंचा तो कोई है नहीं। ऊंच ते ऊंच है भगवान्, तो हम उनके बच्चे भी उनकी मत पर हैं। मनुष्य मत पर हम चलते नहीं, ईश्वरीय मत पर चल हम देवता बनते हैं। मनुष्य मत बिल्कुल छोड़ दी है। फिर तुमसे कोई आरग्यू कर न सके। कोई कहे यह कहाँ से सुना, किसने सिखाया है? तुम कहेंगे हम हैं ईश्वरीय मत पर। प्रेरणा की बात नहीं। बेहद के बाप ईश्वर से हम समझे हुए हैं। बोलो, भक्ति मार्ग के शास्त्र मत पर तो हम बहुत समय चले। अब हमको मिली है ईश्वरीय मत। तुम बच्चों को बाप की ही महिमा करनी है। पहले-पहले बुद्धि में बिठाना है, हम ईश्वरीय मत पर हैं। मनुष्य मत पर हम चलते नहीं, सुनते नहीं। ईश्वर ने कहा है हियर नो ईविल, सी नो ईविल… मनुष्य मत। आत्मा को देखो, शरीर को नहीं देखो। यह तो पतित शरीर है। इनको क्या देखने का है, इन आंखों से यह नहीं देखो। यह शरीर तो पतित का पतित ही है। यहाँ के यह शरीर तो सुधरने नहीं हैं और ही पुराने होने हैं। दिन-प्रतिदिन सुधरती है आत्मा। आत्मा ही अविनाशी है, इसलिए बाप कहते हैं सी नो ईविल। शरीर को भी नहीं देखना है। देह सहित देह के जो भी सम्बन्ध हैं, उनको भूल जाना है। आत्मा को देखो, एक परमात्मा बाप से सुनो, इसमें ही मेहनत है। तुम फील करते हो यह बड़ी सब्जेक्ट है। जो होशियार होंगे, उनको पद भी इतना ऊंच मिलेगा। सेकण्ड में जीवनमुक्ति मिल सकती है। परन्तु अगर पूरा पुरूषार्थ नहीं किया तो फिर सजायें भी बहुत खानी पड़ेंगी।

तुम बच्चे अन्धों की लाठी बनते हो बाप का परिचय देने के लिए। आत्मा को देखा नहीं जाता, जाना जाता है। आत्मा कितनी छोटी है। इस आकाश तत्व में देखो मनुष्य कितनी जगह लेते हैं। मनुष्य तो आते जाते रहते हैं ना। आत्मा कहाँ आती जाती है क्या? आत्मा की कितनी छोटी-सी जगह होगी! विचार की बात है। आत्माओं का झुण्ड होगा। शरीर के भेंट में आत्मा कितनी छोटी है, वह कितनी थोड़ी जगह लेगी। तुमको तो रहने के लिए बहुत जगह चाहिए। अभी तुम बच्चे विशाल बुद्धि बने हो। बाप नई बातें समझाते हैं नई दुनिया के लिए और फिर बताने वाला भी नया है। मनुष्य तो सबसे रहम मांगते रहते हैं। अपने में ताकत नहीं है, जो अपने पर रहम करें। तुमको ताकत मिलती है। तुमने बाप से वर्सा लिया है और कोई को रहमदिल नहीं कहा जाता है। मनुष्य को कभी देवता नहीं कह सकते हैं। रहमदिल एक ही बाप है, जो मनुष्य को देवता बनाते हैं इसलिए कहते हैं परमपिता परमात्मा की महिमा अपरमअपार है, उसका पारावार नहीं। अभी तुम जानते हो, उनके रहम का पारावार नहीं है। बाबा जो नई दुनिया बनाते हैं, उसमें सब कुछ नया होता है। मनुष्य, पशु, पक्षी सब सतोप्रधान होते हैं। बाप ने समझाया है तुम ऊंच बनते हो तो तुम्हारा फर्नीचर भी ऐसा ऊंच ते ऊंच गाया हुआ है। बाप को भी कहते हैं ऊंचे ते ऊंचा, जिससे विश्व की बादशाही मिलती है। बाप साफ कहते हैं हम हथेली पर बहिश्त ले आता हूँ। वो लोग हथेली से केसर आदि निकालते हैं, यहाँ तो पढ़ाई की बात है। यह है सच्ची पढ़ाई। तुम समझते हो हम पढ़ रहे हैं। पाठशाला में आये हैं, पाठशालायें तुम बहुत खोलो तो तुम्हारी एक्टिविटी को देखें। कोई फिर उल्टी चलन चलते हैं तो नाम बदनाम करते हैं। देह-अभिमान वाले की एक्टिविटी ही अलग होगी। देखेंगे ऐसी एक्टिविटी है तो फिर जैसे सब पर कलंक लग जाता है। समझते हैं इनकी एक्टिविटी में तो कोई फ़र्क नहीं है तो गोया बाप की निंदा कराई ना। टाइम लगता है। सारा दोष उस पर आ जाता है। मैनर्स बहुत अच्छे चाहिए। तुम्हारे कैरेक्टर्स बदलने में कितना टाइम लगता है। तुम समझते हो कोई-कोई के कैरेक्टर्स बहुत अच्छे फर्स्टक्लास होते हैं। वह दिखाई भी पड़ेंगे। बाबा एक-एक बच्चे को बैठ देखते हैं, इनमें क्या खामी है जो निकलनी चाहिए। एक-एक की जांच करते हैं। खामियाँ तो सबमें हैं। तो बाप सबको देखते रहते हैं। रिजल्ट देखते रहते हैं। बाप का तो बच्चों पर लव रहता है ना। जानते हैं इनमें यह खामी है, इस कारण यह इतना ऊंच पद पा नहीं सकेंगे। अगर खामियां नहीं निकली तो बड़ा मुश्किल है। देखने से ही मालूम पड़ जाता है। यह तो जानते हैं अभी टाइम पड़ा है। एक-एक की जांच करते, बाप की नज़र एक-एक के गुणों पर पड़ेगी। पूछेंगे तुम्हारे में कोई अवगुण तो नहीं है? बाबा के आगे तो सच बता देते हैं। कोई-कोई को देह-अभिमान रहता है तो नहीं बताते हैं। बाप तो कहते रहते हैं – आपेही जो करे सो देवता। कहने से करे वह मनुष्य, जो कहने से भी न करे…..। बाबा कहते रहते हैं जो भी खामियां हैं इस जन्म की वह बाप के आगे आपेही बताओ। बाबा तो सबको कह देते हैं खामियां सर्जन को बतानी चाहिए। शरीर की बीमारी नहीं, अन्दर की बीमारी बतानी है। तुम्हारे पास अन्दर में क्या-क्या आसुरी ख्यालात रहते हैं? तो इस पर बाबा समझायेंगे। इस हालत में तुम इतना ऊंच पद नहीं पा सकेंगे, जब तक अवगुण निकलें, अवगुण बहुत निंदा कराते हैं। मनुष्यों को वहम पड़ता है – भगवान् इनको पढ़ाते हैं! भगवान् तो नाम-रूप से न्यारा है, सर्वव्यापी है, वह कैसे इनको पढ़ायेंगे, इनकी चलन कैसी है। यह तो बाप जानते हैं – तुम्हारे गुण कैसे फर्स्टक्लास होने चाहिए। अवगुण छिपा देंगे तो कोई को इतना तीर नहीं लगेगा इसलिए जितना हो सके अपने में अवगुण जो हैं उनको निकालते जाओ। नोट करो, हमारे में यह-यह खामी है तो दिल अन्दर में खायेगी। घाटा पड़ता है तो दिल खाती है। व्यापारी लोग अपना खाता रोज़ निकालते हैं – आज कितना फायदा हुआ, रोज़ का खाता देखते हैं। यह बाप भी कहते हैं रोज़ अपनी चाल देखो। नहीं तो अपना नुकसान कर देंगे। बाप की पत (इज्ज़त) गंवा देंगे।

गुरू की निंदा कराने वाले ठौर न पायें। देह-अभिमानी ठौर नहीं पा सकेंगे। देही-अभिमानी अच्छी ठौर पायेंगे। देही-अभिमानी बनने के लिए ही सब पुरूषार्थ करते हैं। दिन-प्रतिदिन सुधरते जाते हैं। देह-अभिमान से जो कर्त्तव्य होते हैं, उनको काटते रहना है। देह-अभिमान से पाप जरूर होता है इसलिए देही-अभिमानी बनते रहो। यह तो समझ सकते हो जन्मते ही राजा कोई होता नहीं। देही-अभिमानी बनने में टाइम तो लगता है ना। यह भी तुम समझते हो, अभी हमको वापिस जाना है। बाबा के पास बच्चे आते हैं। कोई 6 मास बाद आते, कोई 8 मास बाद भी आते हैं तो बाबा देखते हैं इतने समय में क्या उन्नति हुई है? दिन-प्रतिदिन कुछ सुधरते रहते हैं या कुछ दाल में काला है? कोई चलते-चलते पढ़ाई छोड़ देते हैं। बाबा कहते हैं यह क्या, भगवान् तुमको पढ़ाते हैं भगवान भगवती बनाने, ऐसी पढ़ाई तुम छोड़ देते हो! अरे! वर्ल्ड गॉड फादर पढ़ाते हैं, इसमें अबसेन्ट! माया कितनी प्रबल है। फर्स्टक्लास पढ़ाई से तुम्हारा मुख मोड़ देती है। बहुत हैं जो चलते रहते हैं, फिर पढ़ाई को लात मार देते हैं। यह तो तुम समझते हो अब हमारा मुंह है स्वर्ग तरफ, लात है नर्क तरफ। तुम हो संगमयुगी ब्राह्मण। यह पुरानी रावण की दुनिया है। हम वाया शान्तिधाम, सुखधाम तरफ जायेंगे। बच्चों को यही याद रखना पड़े। टाइम बहुत कम है, कल भी शरीर छूट सकता है। बाप की याद नहीं होगी तो फिर अन्तकाल…. बाप समझाते तो बहुत हैं। यह सब गुप्त बातें हैं। नॉलेज भी गुप्त है। यह भी जानते हैं कल्प पहले जिसने जितना पुरूषार्थ किया है, वही कर रहे हैं। ड्रामा अनुसार बाप भी कल्प पहले मुआफिक समझाते रहते हैं, इसमें फ़र्क नहीं पड़ सकता है। बाप को याद करते रहो तो तुम्हारे विकर्म विनाश होते जायें। सजा नहीं खानी चाहिए। बाप के सामने सजायें बैठ खायेंगे तो बाप क्या कहेंगे! तुमने साक्षात्कार भी किये हैं, उस समय माफ नहीं कर सकते। इन द्वारा बाप पढ़ाते हैं तो इनका ही साक्षात्कार होगा। इन द्वारा वहाँ भी समझाते रहेंगे – तुमने यह-यह किया फिर उस समय बहुत रोयेंगे, चिल्लायेंगे, अफसोस भी करेंगे। बिगर साक्षात्कार सज़ा दे न सकें। कहेंगे तुमको इतना पढ़ाते थे फिर ऐसे-ऐसे काम किये। तुम भी समझते हो रावण की मत पर हमने कितने पाप किये हैं। पूज्य से पुजारी बन पड़े हैं। बाप को सर्वव्यापी कहते आये। यह तो पहले नम्बर की इनसल्ट है। इसका हिसाब-किताब भी बहुत है। बाप उल्हना देते हैं, तुमने अपने को कैसे चमाट मारी है। भारतवासी ही कितना गिरे हैं। बाप आकर समझाते हैं। अभी तुमको कितनी समझ मिली है। सो भी नम्बरवार समझते हैं, ड्रामा अनुसार। आगे भी ऐसे ही इस समय तक के क्लास की यह रिजल्ट थी। बाप बतायेंगे तो सही ना। तो बच्चे अपनी उन्नति करते रहें। माया ऐसी है जो देही-अभिमानी रहने नहीं देती है। यही बड़ी सब्जेक्ट है। अपने को आत्मा समझ बाप को याद करो तो पाप भस्म हो जायें। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) देह-अभिमान में आने से पाप जरूर होते हैं, देह-अभिमानी को ठौर नहीं मिल सकती, इसलिए देही-अभिमानी बनने का पूरा पुरूषार्थ करना है। कोई भी कर्म बाप की निंदा कराने वाला न हो।

2) अन्दर की बीमारियां बाप को सच-सच बतानी हैं, अवगुण छिपाने नहीं हैं। अपनी जांच करनी है कि मेरे में क्या-क्या अवगुण हैं? पढ़ाई से स्वयं को गुणवान बनाना है।

वरदान:- पावरफुल ब्रेक द्वारा सेकण्ड में निगेटिव को पॉजिटिव में परिवर्तन करने वाले स्व परिवर्तक भव
जब निगेटिव अथवा व्यर्थ संकल्प चलते हैं, तो उसकी गति बहुत फास्ट होती है। फास्ट गति के समय पॉवरफुल ब्रेक लगाकर परिवर्तन करने का अभ्यास चाहिए। वैसे भी जब पहाड़ी पर चढ़ते हैं तो पहले ब्रेक को चेक करते हैं। आप अपनी ऊंची स्थिति बनाने के लिए संकल्पों को सेकण्ड में ब्रेक देने का अभ्यास बढ़ाओ। जब अपने संकल्प वा संस्कार एक सेकण्ड में निगेटिव से पॉजिटिव में परिवर्तन कर लेंगे तब स्व परिवर्तन से विश्व परिवर्तन का कार्य सम्पन्न होगा।
स्लोगन:- स्वयं प्रति और सर्व आत्माओं के प्रति श्रेष्ठ परिवर्तन की शक्ति को कार्य में लाने वाले ही सच्चे कर्मयोगी हैं।

TODAY MURLI 10 JUNE 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 10 June 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 9 June 2018 :- Click Here

10/06/18
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
25/05/83

Father Brahma’s one desire for the children.

Today, BapDada was seeing all the children’s charts of service, remembrance and of becoming equal to the Father. You have received so many treasures from BapDada. You have called the Father into the corporeal form from the incorporeal and subtle forms and, out of love for you, BapDada has responded to the call of love of you children and celebrated a meeting. So, as a result of that, what fruit have all of you children become? Have you become instant, visible fruit? Have you become the fruit of the season? Have you become the fruit in just the form or the fruit in the form with sweetness? Have you become the fruit of direct sustenance, that is, the fruit ripened on the tree? Or, has the unripe fruit been made colourful and beautiful on the basis of the chemicals of one or two specialities? Or, is the fruit still unripe? Baba was seeing those chart s of you children. According to the speciality of the confluence age, according to this time of instant visible fruit, in every subject and at every step, the ones who give instant fruit and the ones who eat instant fruit in every action, you have to be the invaluable fruit that is full in all three – colour, beauty and sweetness – because of having ripened with the Father’s sustenance. Now ask yourself: Who am I? Have I become equal to the Father in having the colour (rang) of constant company (sang), in having the form of constantly being equal to Father Brahma in revealing the Father, and in having the sweetness of all attainments? Nowadays, Father Brahma especially is constantly seeing to what extent the Brahmin children have become complete and equal. All the time, He keeps the images and activities of all the special children in particular in front of him and is constantly seeing to what extent they have become equal. Who have become the beads of the rosary and how many have become set in their own number? Seeing the result s in terms of this, Father Brahma especially said: A Brahmin soul means one who reveals BapDada in every deed. You have become spiritual artists who, with the pencil of your deeds, draw the image and form of the Father on the heart and intellect of every soul, have you not? Now, Father Brahma has one desire for the children’s result this season. What desire does he have? The father constantly desires that every child should give a vision of the Father through the mirror of his actions, that is, that the child follows the father at every step, becomes a subtle angel equal to the father and plays the part of a karma yogi. Is it difficult or easy to fulfil this desire? From the beginning Father Brahma always put into the practical form, the sanskar of “Instant donation is great charity”. Did you ever see practically any sanskars in him of “I will do it, I will think about it, I will make plans later”? You saw him with the sanskar of doing everything immediately through his thoughts and actions, did you not? Given that, what desire would he have for the Brahmin children? He would have the desire for the children to become equal to him, would he not? First of all, BapDada keeps those from Madhuban in the front. You are at the front, are you not? Where does everyone see the best samples of all? Madhuban is the biggest showcase of all, is it not? People from this land and abroad all come to Madhuban to experience everything, do they not? So, Madhuban is the biggest showcase. The showpieces to be placed in such a showcase would be so valuable, would they not? You don’t come here just to meet BapDada, but you also come here to see the practical forms of the family. Who will show you those forms? Who are the practical samples of the family, the practical samples of karma yogis, the practical samples of the tireless servers and the practical samples of being the forms of embodiments of blessings? It is the residents of Madhuban, is it not?

Great importance is given to listening to what is most important in the Bhagawad; there isn’t as much importance in the whole Bhagawad. So, you Brahmins are what is the most important in the land of divine activities, are you not? You do remember your own importance, do you not? Does it take effort or is it easy for the residents of Madhuban to become embodiments of remembrance? Madhuban is a place that gives blessings to both kinds of souls – subjects and kings.

Nowadays, even subject souls are going back having claimed a right to their blessings. Since the subjects are claiming their blessings, imagine how full of blessings the souls who live in the land of blessings would be! According to the present time, all types of subjects have begun to come here from all over to claim their rights. Everywhere, the number of co-operative souls and souls in connection is increasing. The season of subjects has begun. So, the kings are ready, are they not? Or, is it that the crown of the king sometimes fits you and at other times doesn’t? Only those who are seated on the throne can be crowned. Those who are not seated on the throne cannot be fitted with a crown. This is why you get upset over trivial matters. This getting upset is a sign of not being set on your throne. Let alone people, not even nature can upset souls who are seated on the throne. There is no name or trace of Maya. So, you are such crowned souls who are seated on the throne and are bestowers of blessings, are you not? Do you understand the importance of the Brahmins of Madhuban? Achcha. Today, it is the turn of the Madhuban residents. All the rest are sitting in the gallery. You have been given a very good gallery. Achcha.

You original jewels have come in your original stage, have you not? You have forgotten the middle, have you not? You have let go of all the branches etc., have you not? All of you original jewels are going back as flying birds, are you not? Don’t go chasing the golden deer. Don’t come down due to any type of attraction. No matter what type of circumstances come to shake the feet of your intellects, constantly remain unshakeable and immovable, destroyers of attachment and humble, for only then will you become flying birds and enable others to fly. You will constantly be detached and loving to the Father. Don’t have love for any being or for any limited attainment. It is those limited attainments that come in front of knowledgeable gyani souls as the golden deer. Therefore, o original jewels, remain constantly incorporeal, viceless and egoless like Adi Pita, the First Father. Do you understand? Achcha.

To the charitable souls who reveal the practical form of the Father through their every deed, to those who follow Father Brahma in their every action, to those who become artists in front of the world and show the picture of the Father, to the elevated souls who are equal to Father Brahma, BapDada’s love, remembrance and namaste.

Amongst the plans that the maharathis have made for service, there have been plans made especially for the youth, have there not? Before you do service of the youth, since the youth wing is moving forward with the thought of revealing themselves in front of the Government, since you are coming onto the field, always pay attention to one thing: Speak less and do more. You mustn’t show them through your words; you have to show them practically. Give a lecture of actions on the stage. If you want to learn how to give lectures with your mouth, learn that from politicians! However, the spiritual youth wing is not one that gives lectures just with their mouths, but their eyes, their foreheads and their actions become instruments to give lectures. No one can give lectures with actions, but many people give lectures with words. Actions can reveal the Father. Actions can prove spirituality. Secondly, the youth wing must always keep with them a spiritual lucky charm for constant success. What would that be? To give regard is to receive regard. This record of giving regard will become an imperishable record of success. Let the youth wing constantly have on their lips just the one mantra of success: You first! Make this great mantra firm in your minds. Not that you say, “You first” with your lips and internally you feel that it should be “Me first”. There are some such clever children who say in words, “You first”, but they have the feeling internally, “Me first”. When you accurately finish “I first” and make others move forward and so move forward yourself, moving ahead with this great mantra, you will continue to achieve success. Do you understand? If you constantly have this mantra and lucky charm with you, then the drums of revelation will beat. Achcha.

The plans are very good, but you have to put the plans into the practical form with a plain intellect. You may do service, but definitely also reveal the knowledge. Everyone in the world also says, “peace, peace” and they mix peace with peacelessness. Externally, everyone is chanting the slogan that there should be peace. Even those who are peaceless chant slogans for peace. Peace is needed, but when you have programmes on your own stage, then speak with your own authority, and not according to the environment. You have been doing that for a long time, and at that time, it was fine. However, now that the land has been prepared, sow the seeds of knowledge. Let there be such topics. You people change the topics so that people of the world take an interest. However, only let those who are interested come. You have had so many melas, conferencesseminars , etc., and for so many years you had topics based on those people. For how much longer are you going to remain incognito! Now be revealed! Whatever happened, happened according to the time. Now, through the Godly bomb on your own stage, at least let their heads turn as to what you are saying! Otherwise, they simply say that you said very good things. So, it just remained good and they stayed where they were. At least create some upheaval. Each one has his own right. Give them the points with authority and love, and no one will be able to do anything. In many places, they believe that you are very powerful in making your things clear. You have to consider what methods to use, but let there not be just authority – both love and authority have to be together. BapDada always says: Shoot the arrow and then also massage them. Give a lot of regard and also prove your truth. You speak God’s versions, do you not? You do not speak your own words. Those who are going to get upset will get upset even with the pictures, so what do you do then? You don’t get rid of the pictures, do you? What was the impact of the sakar form speaking in front of anyone with authority and intoxication? Was there ever a quarrel? You learnt this method of lecturing, did you not? You studied how you have to speak when it comes to sharing knowledge, did you not? Now, study this. You changed yourselves in terms of the world, and you also changed your language. So, when you were able to change yourselves for the world, then what can you not achieve in the practical form? For how much longer are you going to continue in this way? You are happy when they tell you that what you say is very good. Ultimately, it has to be known in the world that this alone is real knowledge. It is only through this that there will be liberation and salvation. There is no liberation or salvation without this knowledge. Now, people go away having done the yoga camps. When they go outside, they say the same things about God being omnipresent. Here, although they would say that they enjoyed the yoga very much, their foundation hasn’t changed. They are able to be transformed on the basis of your power, but they themselves do not become powerful. Whatever happened was also essential. This was the only right method to plough the land which had become infertile and to make it fertile. However, ultimately the Shaktis are going to come in their Shakti form, are they not? They came in the form of love, but these are the Shaktis and each word of theirs is one that transforms the heart and changes the intellect so that ‘no’ becomes ‘yes’. This form will also be revealed, will it not? Now reveal it! Make a plan for that. They come and they go back happy. Those who have such rest and comfort, receive so much love and hospitality would definitely go back content. However, they do not go back as a form of Shakti. Father Brahma used to ask for a questionnaire to be used at all the exhibitions. What was in that? The things mentioned were like arrows, were they not? They were asked to fill in the forms. Write down whether this is right or wrong, yes or no. You used to get them to fill in the forms. So what was the plan? To get them to fill in the forms just like that? Just to get them quickly to say whether something is right or wrong? However, instead, you must explain to them and then get them to fill the forms. In this way, they will fill in the forms accurately. You have to prove it to them. Make those plans among yourselves, so that there is authority and also love; so that there is regard and also that the truth is revealed. You will not insult anyone just like that, will you? You know that they are your branches and that they have emerged from here. It is your duty to give them regard. It is your custom to give love to the young ones. Achcha.

Blessing: May you be a master bestower who imbibes kindness and finishes everyone’s problems.
Whoever you come into connection with, no matter what type of sanskars they have, whether they create opposition or have a conflict in nature or are angry and go against you, your feelings of kindness will finish their strong karmic accounts of many births in a second. You simply have to make your original and eternal sanskars of being a donor emerge, imbibe kindness and all the problems of the Brahmin family will finish.
Slogan: To transform every soul with your merciful form and drishti is to be a charitable soul.

 

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 10 JUNE 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 10 June 2018

To Read Murli 9 June 2018 :- Click Here
10-06-18
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 25-05-83 मधुबन

ब्रह्मा बाप की बच्चों से एक आशा

आज बापदादा सर्व बच्चों की सेवा का, याद का और बाप समान बनने का चार्ट देख रहे थे। बापदादा द्वारा जो भी सर्व खजाने मिले, बाप को निराकार और आकार रूप से साकार में बुलाया और बाप-दादा भी बच्चो के स्नेह में बच्चों के बुलावे पर आये, मिलन मनाया, अब उसके फलस्वरूप सभी बच्चे कौन से फल बने – प्रत्यक्षफल बने? सीजन के फल बने? रूप वाले फल बने वा रूप रस वाले फल बने? डायेरक्ट पालना के अर्थात् पेड़ के पके हुए फल बने वा कच्चे फलों को कोई एक दो विशेषता के मसालों के आधार पर स्वयं को रंग रूप में लाया है वा अब तक भी कच्चे फल हैं? यह चार्ट बच्चों का देख रहे थे। संगमयुग की विशेषता प्रमाण, प्रत्यक्ष फल के समय प्रमाण, हर सबजेक्ट में, हर कदम में, कर्म में प्रत्यक्षफल देने वाले, प्रत्यक्षफल खाने वाले बाप की पालना के पके हुए रंग, रूप, रस तीनों से सम्पन्न अमूल्य फल होना चाहिए। अभी अपने आप से पूछो – मैं कौन? सदा संग रहने का रंग सदा ब्रह्मा बाप समान बाप को प्रत्यक्ष करने का रूप, सदा सर्व प्राप्तियों का रस – ऐसा बाप समान बने हैं? आजकल ब्रह्मा बाप ब्राह्मण बच्चों की समान सम्पन्नता को विशेष देखते रहते हैं। सारा समय हर एक विशेष बच्चे का चित्र और चरित्र दोनों सामने रख देखते रहते हैं कि कहाँ तक सम्पन्न बने हैं! माला के मणके कौन और कितने अपने नम्बर पर सेट हो गये हैं! उसी हिसाब से रिजल्ट को देख विशेष ब्रह्मा बाप बोले – ब्राह्मण आत्मा अर्थात् हर कर्म में बापदादा को प्रत्यक्ष करने वाली। कर्म की कलम से हर आत्मा के दिल पर, बुद्धि पर, बाप का चित्र वा स्वरूप खींचने वाले रूहानी चित्रकार बने हो ना! अभी ब्रह्मा बाप की, इस सीजन के रिज़ल्ट में बच्चों के प्रति एक आशा है। क्या आशा होगी? बाप की सदा यही आशा रहती कि हर बच्चा अपने कर्मो के दर्पण द्वारा बाप का साक्षात्कार करावे अर्थात् हर कदम में फालो फादर कर बाप समान अव्यक्त फरिश्ता बन कर्मयोगी का पार्ट बजावे। यह आशा पूर्ण करना मुश्किल है वा सहज है? ब्रह्मा बाप तो सदा आदि से “तुरन्त दान महापुण्य” इसी संस्कार को साकार रूप में लाने वाले रहे ना। करेंगे, सोचेंगे, प्लैन बनायेंगे, यह संस्कार कभी साकार रूप में देखे? अभी-अभी करने का महामंत्र हर संकल्प और कर्म में देखा ना! उसी संस्कार प्रमाण बच्चों से भी क्या आशा रखेंगे? समान बनने की आशा रखेंगे ना? सबसे पहले बापदादा मधुबन वालों को आगे रखते हैं। हो भी आगे ना। सबसे अच्छे ते अच्छे सैम्पल कहाँ देखते हैं सभी? सबसे बड़े ते बड़ा शोकेस मधुबन है ना। देश-विदेश से सब अनुभव करने के लिए मधुबन में आते हैं ना। तो मधुबन सबसे बड़ा शोकेस है। ऐसे शोकेस में रखने वाले शोपीस कितने अमूल्य होंगे। सिर्फ बापदादा से मिलने के लिए नहीं आते हैं लेकिन परिवार का प्रत्यक्ष रूप भी देखने आते हैं। वह रूप दिखाने वाले कौन? परिवार का प्रत्यक्ष सैम्पल, कर्मयोगी का प्रत्यक्ष सैम्पल, अथक सेवाधारी का प्रत्यक्ष सैम्पल, वरदान भूमि के वरदानी स्वरूप का प्रत्यक्ष सैम्पल कौन हैं? मधुबन निवासी हो ना!

भागवत का महात्तम सुनने का बड़ा महत्व होता है। सारे भागवत का इतना नहीं होता। तो चरित्र भूमि का महात्तम मधुबन वाले हैं ना। अपने महत्व को तो याद रखते हो ना। मधुबन निवासियों को याद स्वरूप बनने में मेहनत है वा सहज है? मधुबन है ही प्रजा और राजा दोनों आत्माओं को वरदान देने वाला।

आजकल तो प्रजा आत्मायें भी अपना वरदान का हक लेकर जा रहीं हैं। जब प्रजा भी वरदान ले रही है तो वरदान भूमि में रहने वाले कितने वरदानों से सम्पन्न आत्मायें होंगी। अभी के समय प्रमाण सभी प्रकार की प्रजा अपना अधिकार लेने के लिए चारों ओर आने शुरू हो गई है। चारों ओर सहयोगी और सम्पर्क वाले वृद्धि को पा रहे हैं। प्रजा की सीजन शुरू हो गई है। तो राजे तो तैयार हो ना वा राजाओं का छत्र कब फिट होता है कब नहीं होता। तख्तनशीन ही ताजधारी बन सकते हैं। तख्तनशीन नहीं तो ताज भी सेट नहीं हो सकता। इसलिए छोटी-छोटी बातों में अपसेट होते रहते। यह (अपसेट होना) निशानी है तख्तनशीन अर्थात् तख्त पर सेट न होने की। तख्तनशीन आत्मा को व्यक्ति तो क्या लेकिन प्रकृति भी अपसेट नहीं कर सकती। माया का तो नाम निशान ही नहीं। तो ऐसे तख्तनशीन ताजधारी वरदानी आत्मायें हो ना। समझा – मधुबन के ब्राह्मणों के महात्तम का महत्व। अच्छा – आज तो मधुबन निवासियों का टर्न है। बाकी सब गैलरी में बैठे हैं। गैलरी भी अच्छी मिली है ना। अच्छा।

आदि रत्न आदि स्थिति में आ गये ना। मध्य भूल गया ना। डालियाँ वगैरा सब छूट गई ना। आदि रत्न सभी उड़ते पंछी बनकर जा रहे हो ना। सोने हिरण के पीछे भी नहीं जाना। किसी भी तरह की आकर्षण वश नीचे नहीं आना। चाहे किसी भी प्रकार के सरकमस्टांस बुद्धि रूपी पाँव को हिलाने आवें लेकिन सदा अचल अडोल, नष्टोमोहा और निर्माण रहना तभी उड़ते पंछी बन उड़ते और उड़ाते रहेंगे। सदा न्यारे और सदा बाप के प्यारे। न किसी व्यक्ति के, न किसी हद के प्राप्ति के प्यारे बनना। ज्ञानी तू आत्मा के आगे यह हद की प्राप्तियाँ ही सोने हिरण के रूप में आती हैं इसलिए हे आदि रत्नों, आदि पिता समान सदा निराकारी, निर्विकारी, निरहंकारी रहना। समझा। अच्छा-

ऐसे हर कर्म में बाप का प्रत्यक्ष स्वरूप दिखाने वाले, पुण्य आत्मायें, हर कर्म में ब्रह्मा बाप को फालो करने वाले, विश्व के आगे चित्रकार बन बाप का चित्र दिखाने वाले – ऐसे ब्रह्मा बाप समान श्रेष्ठ आत्माओं को बापदादा का याद-प्यार और नमस्ते।

सभी महारथियों ने सेवा के जो प्लैन्स बनाये हैं उसमें भी विशेष यूथ का बनाया है ना। यूथ वा युवा वर्ग की सेवा के पहले जब युवा वर्ग गवर्मेंन्ट के आगे प्रत्यक्ष होने का संकल्प रख आगे बढ़ रहा है तो मैदान में आने से पहले एक बात सदा ध्यान में रहे कि बोलना कम है, करना ज्यादा है। मुख द्वारा बताना नहीं है लेकिन दिखाना है। कर्म का भाषण स्टेज पर करें। मुख का भाषण करना तो नेताओं से सीखना हो तो सीखो। लेकिन रूहानी युवा वर्ग सिर्फ मुख से भाषण करने वाले नहीं लेकिन उनके नयन, मस्तक, उनके कर्म भाषण करने के निमित्त बन जाऍ। कर्म का भाषण कोई नहीं कर सकता है। मुख का भाषण अनेक कर सकते । कर्म बाप को प्रत्यक्ष कर सकता है। कर्म रूहानियत को सिद्ध कर सकता है। दूसरी बात – युवा वर्ग सदा सफलता के लिए अपने पास एक रूहानी तावीज रखे। वह कौन सा? रिगार्ड देना ही रिगार्ड लेना है। यह रिगार्ड का रिकार्ड सफलता का अविनाशी रिकार्ड हो जायेगा। युवा वर्ग के लिए सदा मुख पर एक ही सफलता का मंत्र हो – “पहले आप” – यह महामंत्र मन से पक्का रहे। सिर्फ मुख के बोल हों कि पहले आप और अन्दर में रहे कि पहले मैं, ऐसे नहीं। ऐसे भी कई चतुर होते हैं मुख से कहते पहले आप, लेकिन अन्दर भावना पहले मैं की रहती है। यथार्थ रूप से पहलें मैं को मिटाकर दूसरे को आगे बढ़ाना सो अपना बढ़ना समझते हुए इस महामंत्र को आगे बढ़ाते सफलता को पाते रहेंगे। समझा। यह मंत्र और तावीज सदा साथ रहा तो प्रत्यक्षता का नगाड़ा बजेगा।

प्लैन्स तो बहुत अच्छे हैं लेकिन प्लेन बुद्धि बन प्लैन प्रैक्टिकल में लाओ। सेवा भले करो लेकिन ज्ञान को जरूर प्रत्यक्ष करो। सिर्फ शान्ति, शान्ति तो विश्व में भी सब कह रहे हैं। अशान्ति में शान्ति मिक्स कर देते हैं। बाहर से तो सब यही नारे लगा रहे हैं कि शान्ति हो। अशान्ति वाले भी नारा शान्ति का ही लगा रहे हैं। शान्ति तो चाहिए लेकिन जब अपनी स्टेज पर प्रोग्राम करते हो तो अपनी अथॉरिटी से बोलो! वायुमण्डल को देखकर नहीं। वह तो बहुत समय किया और उस समय के प्रमाण यही ठीक रहा। लेकिन अब जबकि धरती बन गई है तो ज्ञान का बीज डालो। टॉपिक भी ऐसी हो। तुम लोग टॉपिक इसलिए चेन्ज करते हो कि दुनिया वाले इन्ट्रेस्ट लें। लेकिन आवे ही इन्ट्रेस्ट वाले। कितने मेले, कितनी कान्फ्रेन्स, कितने सेमीनार आदि किये हैं। इतने वर्ष तो लोगों के आधार पर टॉपिक्स बनाये। आखिर गुप्त वेष में कितना रहेंगे! अब तो प्रत्यक्ष हो जाओ। वह समय अनुसार जो हुआ वह तो हुआ ही। लेकिन अभी अपनी स्टेज पर परमात्म बॉम तो लगाओ। उन्हों का दिमाग तो घूमे कि यह क्या कहते हैं! नहीं तो सिर्फ कहते कि बहुत अच्छी बातें बोलीं। तो अच्छी, अच्छी ही रही और वह वहाँ के वहाँ रह जाते। कुछ हलचल तो मचाओ ना। हरेक को अपना हक होता है। प्वाइन्टस भी दो तो अथॉरिटी और स्नेह से दो तो कोई कुछ नहीं कर सकता। ऐसे तो कई स्थानों पर अच्छा भी मानते हैं कि अपनी बात को स्पष्ट करने में बहुत शक्तिशाली हैं। ढंग कैसा हो वह तो देखना पड़ेगा। लेकिन सिर्फ अथॉरिटी नहीं, स्नेह और अथॉरिटी दोनों साथ-साथ चाहिए। बापदादा सैदव कहते हैं कि तीर भी लगाओ साथ-साथ मालिश भी करो। रिगार्ड भी अच्छी तरह से दो लेकिन अपनी सत्यता को भी सिद्ध करो। भगवानुवाच कहते हो ना! अपना थोड़े ही कहते हो। बिगड़ने वाले तो चित्रों से भी बिगड़ते हैं फिर क्या करते हो? चित्र तो नहीं निकालते हो ना! साकार रूप में तो फलक से किसी के भी आगे अथॉरिटी से बोलने का प्रभाव क्या निकला। कब झगड़ा हुआ क्या? यह तरीका भाषण का भी सीखे ना। ज्ञान की रीति कैसे बोलना है – स्टडी की ना। अब फिर यह स्टडी करो। दुनिया के हिसाब से अपने को बदला, भाषा को चेन्ज किया ना। तो जब दुनिया के रूप में चेन्ज कर सके तो यथार्थ रूप से क्या नहीं कर सकते। कब तक ऐसे चलेंगे? इसमें तो खुश हैं कि यह जो कहते हैं बहुत अच्छा है। आखिर दुनिया में यह प्रसिद्ध हो कि -‘यही यथार्थ ज्ञान है’। इससे ही गति सद्गति होगी। इस ज्ञान बिना गति सद्गति नहीं। अभी तो देखो योग शिविर करके जाते हैं। बाहर जाते फिर वही की वही बात कहेंगे कि परमात्मा सर्वव्यापी है। यहाँ तो कहते योग बहुत अच्छा लगा, फाउण्डेशन नहीं बदलता। आपके शक्ति के प्रभाव से परिवर्तन हो जाते हैं। लेकिन स्वयं शक्तिशाली नहीं बनते। जो हुआ है यह भी जरूरी था। जो धरनी कलराठी बन गई थी वह धरनी को हल चलाके योग्य धरनी बनाने का यही साधन यथार्थ था। लेकिन आखिर तो शक्तियाँ अपने शक्ति स्वरूप में भी आयेंगी ना! स्नेह के रूप में आयें, लेकिन यह शक्तियाँ हैं, इनका एक-एक बोल हृदय को परिवर्तन करने वाला है, बुद्धि बदल जाये, `ना’ से ‘`हाँ’ में आ जायें। यह रूप भी प्रत्यक्ष होगा ना। अभी उसको प्रत्यक्ष करो। उसका प्लैन बनाओ। आते हैं खुश होकर जाते हैं। वो तो जिन्हों को इतना आराम, इतना स्नेह, खातिरी मिलेगी तो जरूर सन्तुष्ट होकर जाते हैं। लेकिन शक्ति रूप बनकर नहीं जाते। ब्रह्मा बाप कहते थे कि सब प्रदर्शनियों में प्रश्नावली लगाओ। उसमें कौन सी बातें थी? तीर समान बातें थी ना! फार्म भराने के लिए कहते थे। यह राइट है वा रांग, हाँ वा ना लिखो। फार्म भराते थे ना। तो क्या योजनायें रहीं? एक है ऐसे ही भरवाना। जल्दी-जल्दी में रांग वा राइट कर दिया, लेकिन समझाकर भराओ। तो उसी अनुसार यथार्थ फार्म भरेंगे। सिद्ध तो करना ही पड़ेगा। वह आपस में प्लैन बनाओ। जो अथॉरिटी भी रहे और स्नेह भी रहे। रिगार्ड भी रहे और सत्यता भी प्रसिद्ध हो। ऐसे किसकी इन्सल्ट थोड़ेही करेंगे? यह भी लक्ष्य है कि हमारी ही ब्रान्चेज हैं, हमारे से ही निकले हुए हैं। उन्हों को रिगार्ड देना तो अपना कर्तव्य है। छोटों को प्यार देना यह तो परम्परा ही है। अच्छा।

वरदान:- दया भाव को धारण कर सर्व की समस्याओं को समाप्त करने वाले मास्टर दाता भव 
जिन आत्माओं के भी सम्पर्क में आते हो, चाहे कोई कैसे भी संस्कार वाला हो, आपोजीशन करने वाला हो, स्वभाव के टक्कर खाने वाला हो, क्रोधी हो, कितना भी विरोधी हो, आपकी दया भावना उसके अनेक जन्मों के कड़े हिसाब-किताब को सेकण्ड में समाप्त कर देगी। आप सिर्फ अपने अनादि आदि दाता पन के संस्कारों को इमर्ज कर दया भाव को धारण कर लो तो ब्राह्मण परिवार की सर्व समस्यायें समाप्त हो जायेंगी।
स्लोगन:- अपने रहमदिल स्वरूप वा दृष्टि से हर आत्मा को परिवर्तन करना ही पुण्यात्मा बनना है।
Font Resize