daily murli 10 january

TODAY MURLI 10 JANUARY 2021 DAILY MURLI (English)

10/01/21
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
09/10/87

News of the alokik royal court.

Today, BapDada is looking at the royal court of His children who have a right to self-sovereignty. Out of the whole cycle, this alokik court of the confluence age is unique, it has elevated pride, it is most distinctive and the loveliest of all. The spiritual sparkle, the spiritual lotus-seat, the spiritual crown and tilak, the sparkle of the face and the alokik fragrance of the atmosphere of the elevated awareness of the stage of this royal court are delightful and extremely attractive. Seeing such a gathering and every self-sovereign soul, BapDada is very pleased. It is such a huge court. Every Brahmin child is a self-sovereign, a master of the self. So, there are so many Brahmin children. If you held a court of all the Brahmins together, it would be such a big royal court. There isn’t such a big court in any other age. The speciality of the confluence age is that all the children of the highest-on-high Father become masters of the self. In a lokik family, every father says to his children: this child of mine is my “king-child”, or his wish is that every child of his should become a king. However, not all the children can become kings. They have copied the Supreme Father in this saying. At this time, all the children of BapDada are definitely Raj Yogis, that is, masters of the self. They are numberwise Raj Yogis; none of them are ‘praja yogis’ (yogis who become a subject). So, BapDada was looking at the unlimited royal gathering. All of you consider yourselves to be masters of the self, do you not? Are all you new children who have come masters of the self, or do you still have to become that? You are new and so you are learning how to meet and get together. You will continue to develop the habit of understanding the avyakt things that the avyakt Father tells you. Nevertheless, you will appreciate this fortune worth even more later rather than you do now: how fortunate all of souls us are!

BapDada was telling you news of the alokik royal court. Baba’s attention was especially being drawn to the crown and the sparkle on the faces of the children even against His conscious wish. The crown is a symbol of purity, the speciality of Brahmin life. The sparkle on the face is the sparkle of spirituality and of being stable in a spiritual stage. Even when you look at someone ordinarily, your vision will first of all go to the face. Your face is a mirror of your attitude and stage. So, BapDada was seeing that there was a sparkle on everyone, but one were of those who were always stable in the stage of spirituality, those who had this stage naturally and easily, and others stabilized in this stage through the practice of the spiritual stage. On the one hand, there were those who easily had this stage and on the other hand were those who had to make effort to remain stable in this stage, that is, one kind were easy yogis and the other were yogis who had to make effort. There was a difference in the sparkle of the two. One had natural beauty and the other had beauty through effort, just as people nowadays look beautiful because of their make-up. The sparkle of natural beauty is always constant, whereas the sparkle of the other beauty is sometimes very good, and sometimes only to a certain percentage; it is not always the same, not always stable. So, the stage of constantly being an easy and natural yogi enables you to become a number one self-sovereign. Since all you children have promised to lead a Brahmin life, that is, the one Father is your world and that you belong to the one Father and none other, since the Father is your world and there is no one else, you would naturally and easily have a constantly yogi stage, would you not? Or, would you have to make effort? If there is anyone else, you have to make effort to stop your intellect going there and see that it goes here. However, when the one Father is everything, where would the intellect go? Since it cannot go anywhere, what practice will it have? There is a difference in the practice too. One is a natural practice, it is always in that stage, and the other is a practice through making effort. When the self-sovereign children are those who have this practice easily, it is a sign of that they are easy and natural yogis. The sparkle on their faces is alokik, so that as soon as others see their faces, they experience those souls to be souls who are embodiments of elevated attainment and easy yogis. When someone has physical wealth or has attained a physical status you can tell by the sparkle on his face that he is from a wealthy family or has claimed a high status. In the same way, the intoxication and sparkle of this elevated attainment, this elevated right to a kingdom, that is, the attainment of an elevated stage, is visible on their faces. Let the sparkling faces of all the self-sovereign children always be like this. Let signs of effort not be visible; let signs of attainment be visible. Even now, when you see the faces of some children, you say: ‘This one has attained something’, whereas for other children, when you see their faces, you say: This is a high destination and they have very high renunciation. From their faces, their renunciation would be visible, but their fortune would not be visible. Or, it would be said that this one is making very good effort.

BapDada wants the sparkle of an easy yogi to be seen on the face of each of you children. Let the sparkle of the intoxication of elevated attainment be visible, because you are the children of the Father who is the treasure-store of attainments. In the blessed time of the confluence age, you have a right to claim all attainments. How can we have constant yoga? How can we have a constant experience and experience the treasure store? Do not keep wasting your time making effort for this now, but easily experience the fortune of being an embodiment of attainment. The time of completion is coming close. If, even now, you are busy making effort for one thing or another, then the time for attainment will end. So, when would you then experience being an embodiment of attainment? The confluence age and Brahmin souls have the blessing, “May you be full of all attainments”. You don’t have a blessing, “May you always be an effort-maker”, but you have the blessing of having attainment. Blessed souls who have received the blessing of attainments cannot be caught up in carelessness. Therefore, they don’t have to make effort. So, do you understand what you have to become?

In the royal court, it is now clear what the speciality of having a right to the kingdom was, is it not? You have a right to the kingdom, do you not? Or, are you still thinking about whether you have this or not? You have become the children of the Bestower of Fortune and the Bestower of Blessings. A king means a bestower of fortune, one who gives. If you lack nothing, what would you take? So, did you understand? The new children have to stay in this experience. Do not waste your time battling. If you waste your time battling, you will be battling in your final moments too. What will you then become? Will you become part of the moon dynasty or will you go into the sun dynasty? Those who are battling will go into the moon dynasty. “I am moving along, I am doing this, it will happen, I will get there.” Do not still keep this type of aim now. “If not now, then never”. If you are going to become something, it has to be now. If you are going to attain something, it has to be now. Only those who have such zeal and enthusiasm will reach their complete destination on time. None of you is ready to become Rama and Sita of the silver age. Since you want to go into the sun dynasty of the golden age, then the sun dynasty means to be a constant master bestower of fortune and bestower of blessings, not one who has a desire to take. “I should receive some help; it would be very good if this should happen; I will then claim a good number in my efforts.” No. You are receiving help, everything is happening. This is known as being children who are self-sovereigns, masters of the self. Do you want to move forward? Or, is it that because you have come later, you want to stay at the back? The easy way to go ahead is to become an easy and natural yogi. It is very easy. Since there is only the one Father, since there is no one else, where else would you go? Since there is attainment upon attainment, why would it take effort? So, take benefit of the time of attainment. Become an embodiment of all attainments. Do you understand? BapDada wants each child, even the last one, as well as those who come at the beginning of establishment, every child, to become number one. Become kings, not subjects! Achcha.

Groups from Maharashtra and Madhya Pradesh have come. Look, the word “maha” (great) is so good. The place Maharashtra has the word “maha” in it, and so you also have to become great. You have become great, have you not? Because to belong to the Father means to become great. You are great souls. Brahmins means great. Your every action is great, every word is great and every thought is great. They have become alokik, have they not? So, those of you from Maharashtra, always be embodiments of the awareness that you are great. Brahmins means the great top-knot, does it not?

Madhya Pradesh are those who always maintain the intoxication of Madhyajibhav (the middle one, Vishnu). Together with “Manmanabhav”, you also have the blessing of “Madhyajibhav”. So, your heavenly form is called “Madhyajibhav”. You are those who maintain the intoxication of your elevated attainment, that is, you are those who remain stable in the form of the mantra of “Madhyajibhav”. You are also great. If you are “Madhyajibhav”, then you would definitely be “Manmanabhav” too. So, Madhya Pradesh means those who become embodiments of the great mantra. So, both of you are great with your own specialities. Do you understand who you are?

From the time you began the first lesson, you just made this firm: “Who am I?” The Father also reminds you of the same thing. Churn this. There is just the one expression, “Who am I?”, but it has so many answers. Make a list of “Who am I?” Achcha.

To all the elevated souls from everywhere who are embodiments of all attainments, to all the great souls who have a right to the alokik royal court, to the special souls who have always adopted the sparkle of spirituality, to the constantly natural yogis, the easy yogis, to the highest-on-high souls, please accept love-filled remembrance from BapDada, the Highest on High.

Avyakt BapDada meeting double foreign brothers and sisters

Double foreign” means those who always have the awareness of their original form, their original land, their self-sovereignty and of their original kingdom. What service in particular do the double foreigners have to do? You now especially have to give souls the experience of the power of silence. This too is a special service, just as the power of science is very well known. Each and every child knows what science is. In the same way, silence power is even higher than science. That day will also come. To reveal the power of silence means to reveal the Father. Just as science shows the visible proof, in the same way, the lives of all of you are the practical proof of silence power. When all of you are visibleas the practical proof, then, even against their conscious wish, you will easily come into their vision. Just as last year you carried out the peace project, and that was shown practically on the stage, in the same way, let mobile peace models be seen. The vision of the scientists will then definitely fall on those with silence. Do you understand? There are far more inventions of science abroad. So, the sound of the power of silence will also easily spread from there. There is the aim of service anyway, and you all also have zeal and enthusiasm. You cannot stay without doing service. Just as one cannot stay without food, in the same way, you cannot stay without doing service and this is why BapDada is pleased. Achcha.

Avyakt BapDada meeting groups:

Do you experience yourselves to have become elevated souls who are spinners of the discus of self-realisation? You have had a vision of the self, have you not? To know yourself means to have a vision of the self and to have the knowledge of the cycle means to become a spinner of the discus of self-realisation. When you become a spinner of the discus of self-realisation, all other types of spinning finish. The spinning of body consciousness, the spinning of relationships, the spinning of problems: all of those are the many types of spinning of Maya! However, by becoming a spinner of the discus of self-realisation, all these types of spinning finish, you come out of all types of spinning. Otherwise, you get trapped in the web. So, earlier, you were trapped and you have now come out. For 63 births, you continued to get trapped in many types of spinning and, at this time, you have come out of that spinning, and so you mustn’t get trapped again. You have experienced it and seen it for yourself, have you not? By getting trapped in all the different types of spinning, you lost everything and, by becoming a spinner of the discus of self-realisation, you found the Father, you found everything. So, always be a spinner of the discus of self-realisation, be a conqueror of Maya and continue to move forward. By doing so, you will always remain light and not experience any type of burden. Burdens bring you down but by being light, you will continue to fly high. So, you are those who fly, are you not? You are not weak, are you? If even one wing is weak, it will bring you down and not allow you to fly, so make both wings strong and you will automatically continue to fly. To be a spinner of the discus of self-realisation means to continue to fly in the ascending stage. Achcha.

You are Raj yogis, elevated souls, are you not? From having an ordinary life, you have become easy yogis, Raj yogis. Such elevated yogi souls always swing in the swings of supersensuous joy. Hatha yogis levitate their bodies with hatha yoga and practise flying. In fact, you Raj yogis experience a high stage. By copying this, they levitate their bodies. However, wherever you stay, you stay in your high stage, and so it is said that yogis remain high up. The place of the stage of the mind is high because you have become double light. In any case, for angels, it is said that their feet are never on the ground. Angels means those whose feet of the intellect are not on the ground, those who are not body conscious. Always remain high up away from body consciousness. You have become such angels, that is, Raj yogis. You don’t have any attachment to this old world now. To do service is a different matter, but do not have any attachment. To be a yogi means “the Father and I,” no third person. So, always maintain this awareness of being Raj yogis, always angels. With this awareness, you will constantly continue to move forward. Raj yogis are always the masters of the unlimited, not the masters of the limited. You have come away from the limited. You have received unlimited rights. Therefore, remain happy with this. Just as the Father is unlimited, so too, stay in unlimited happiness, unlimited intoxication. Achcha.

At the time of farewell:

To all the children who are blessed at amrit vela, please accept golden love and remembrance from the Father, the Bestower of Blessings. Along with that, to those who are always churning plans of doing the service of creating the golden world, those who are engaged with a lot of love in service with their hearts and life, those who are co-operative souls with their bodies, minds and wealth, BapDada is saying Good morning, Diamond morning to all of you. Always be a diamond and take the speciality of this diamond age as a blessing and an inheritance. You will then remain stable in a golden stage and you will also continue to give others a similar experience. So, a diamond morning to the double hero children everywhere. Achcha.

Blessing: May you be one with merciful feelings who has pure and positive thoughts for others and, uplift those who defame you.
No matter what type of soul comes into contact with you, whether satoguni or tamoguni, you are those who always have pure and positive thoughts for them, that is, you uplift those who insult you. Never have any vision of dislike towards any soul, because you know that that soul is under the influence of ignorance, that he is without understanding. Let there be mercy and love, not dislike, for that soul. Souls who have pure and positive thoughts for others never think: Why did this one do this? They would always think of how they can benefit that soul. This is the stage of a well-wisher.
Slogan: With the power of tapasya, make the impossible possible and become an embodiment of success.

 

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 10 JANUARY 2021 : AAJ KI MURLI

10-01-21
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 09-10-87 मधुबन

अलौकिक राज्य दरबार का समाचार

आज बापदादा अपने स्व-राज्य अधिकारी बच्चों की राज्य दरबार देख रहे हैं। यह संगमयुग की निराली, श्रेष्ठ शान वाली अलौकिक दरबार सारे कल्प में न्यारी और अति प्यारी है। इस राज्य-सभा की रूहानी रौनक, रूहानी कमल-आसन, रूहानी ताज और तिलक, चेहरे की चमक, स्थिति के श्रेष्ठ स्मृति के वायुमण्डल में अलौकिक खुशबू अति रमणीक, अति आकर्षित करने वाली है। ऐसी सभा को देख बापदादा हर एक राज्य-अधिकारी आत्मा को देख हर्षित हो रहे हैं। कितनी बड़ी दरबार है! हर एक ब्राह्मण बच्चा स्वराज्य-अधिकारी है। तो कितने ब्राह्मण बच्चे हैं! सभी ब्राह्मणों की दरबार इकट्ठी करो तो कितनी बड़ी राज्य-दरबार हो जायेगी! इतनी बड़ी राज्य दरबार किसी भी युग में नहीं होती। यही संगमयुग की विशेषता है जो ऊंचे ते ऊंचे बाप के सर्व बच्चे स्वराज्य-अधिकारी बनते हैं। वैसे लौकिक परिवार में हर एक बाप बच्चों को कहते हैं कि यह मेरा बच्चा ‘राजा’ बेटा है वा इच्छा रखते हैं कि मेरा हर एक बच्चा ‘राजा’ बने। लेकिन सभी बच्चे राजा बन ही नहीं सकते। यह कहावत परमात्म बाप की कापी की है। इस समय बाप-दादा के सब बच्चे राजयोगी अर्थात् स्व के राजे नम्बरवार जरूर हैं लेकिन हैं सभी राजयोगी, प्रजा योगी कोई नहीं है। तो बापदादा बेहद की राज्यसभा देख रहे थे। सभी अपने को स्वराज्य अधिकारी समझते हो ना? नये-नये आये हुए बच्चे राज्य-अधिकारी हो वा अभी बनना है? नये-नये हैं तो मिलना-जुलना सीख रहे हैं। अव्यक्त बाप की अव्यक्ति बातें समझने की भी आदत पड़ती जायेगी। फिर भी इस भाग्य को अभी से भी समय पर ज्यादा समझेंगे कि हम सभी आत्मायें कितनी भाग्यवान हैं!

तो बापदादा सुना रहे थे – अलौकिक राज्य दरबार का समाचार। सभी बच्चों के विशेष ताज और चेहरे की चमक के ऊपर न चाहते भी अटेन्शन जा रहा था। ताज ब्राह्मण जीवन की विशेषता – ‘पवित्रता’ का ही सूचक है। चेहरे की चमक रूहानी स्थिति में स्थित रहने की रूहानियत की चमक है। साधारण रीति से भी किसी भी व्यक्ति को देखेंगे तो सबसे पहले दृष्टि चेहरे तरफ ही जायेगी। यह चेहरा ही वृत्ति और स्थिति का दर्पण है। तो बापदादा देख रहे थे – चमक तो सभी में थी लेकिन एक थे सदा रूहानियत की स्थिति में स्थित रहने वाले, स्वत: और सहज स्थिति वाले और दूसरे थे सदा रूहानी स्थिति के अभ्यास द्वारा स्थित रहने वाले। एक थे सहज स्थिति वाले, दूसरे थे प्रयत्न कर स्थित रहने वाले अर्थात् एक थे सहज योगी, दूसरे थे पुरूषार्थ से योगी। दोनों की चमक में अन्तर रहा। उनकी नैचुरल ब्युटी थी और दूसरों की पुरूषार्थ द्वारा ब्युटी थी। जैसे आजकल भी मेकप कर ब्युटीफुल बनते हैं ना। नैचुरल (स्वाभाविक) ब्युटी की चमक सदा एकरस रहती है और दूसरी ब्युटी कभी बहुत अच्छी और कभी परसेन्टेज में रहती है; एक जैसी, एकरस नहीं रहती। तो सदा सहज योगी, स्वत: योगी स्थिति नम्बरवन स्वराज्य-अधिकारी बनाती है। जब सभी बच्चों का वायदा है – ब्राह्मण जीवन अर्थात् एक बाप ही संसार है वा एक बाप दूसरा न कोई; जब संसार ही बाप है, दूसरा कोई है ही नहीं तो स्वत: और सहज योगी स्थिति सदा रहेगी ना, वा मेहनत करनी पड़ेगी? अगर दूसरा कोई है तो मेहनत करनी पड़ती है – यहाँ बुद्धि न जाए, वहाँ जाए। लेकिन एक बाप ही सब कुछ है – फिर बुद्धि कहाँ जायेगी? जब जा ही नहीं सकती तो अभ्यास क्या करेंगे? अभ्यास में भी अन्तर होता है। एक है स्वत: अभ्यास, है ही है और दूसरा होता है मेहनत वाला अभ्यास। तो स्वराज्य-अधिकारी बच्चों का सहज अभ्यासी बनना – यही निशानी है सहज योगी, स्वत: योगी की। उन्हों के चेहरे की चमक अलौकिक होती है जो चेहरा देखते ही अन्य आत्मायें अनुभव करती कि यह श्रेष्ठ प्राप्ति स्वरूप सहजयोगी हैं। जैसे स्थूल धन वा स्थूल पद के प्राप्ति की चमक चेहरे से मालूम होती है कि यह साहूकार कुल का वा ऊंच पद अधिकारी है, ऐसे यह श्रेष्ठ प्राप्ति, श्रेष्ठ राज्य अधिकार अर्थात् श्रेष्ठ पद की प्राप्ति का नशा वा चमक चेहरे से दिखाई देती है। दूर से ही अनुभव करते कि इन्होंने कुछ पाया है। प्राप्ति स्वरूप आत्मायें हैं। ऐसे ही सभी राज्य अधिकारी बच्चों के चमकते हुए चेहरे दिखाई दें। मेहनत के चिन्ह नहीं दिखाई दें, प्राप्ति के चिन्ह दिखाई दें। अभी भी देखो, कोई-कोई बच्चों के चेहरे को देख यही कहते हैं – इन्होंने कुछ पाया है और कोई-कोई बच्चों के चेहरे को देख यह भी कहते कि ऊंची मंजिल है लेकिन त्याग भी बहुत ऊंचा किया है। त्याग दिखाई देता है, भाग्य नहीं दिखाई देगा चेहरे से। या यह कहेंगे कि मेहनत बहुत अच्छी कर रहे हैं।

बापदादा यही देखने चाहते हैं कि हर एक बच्चे के चेहरे से सहजयोगी की चमक दिखाई दे, श्रेष्ठ प्राप्ति के नशे की चमक दिखाई दे क्योंकि प्राप्तियों के भण्डार बाप के बच्चे हो। संगमयुग की प्राप्तियों के वरदानी समय के अधिकारी हो। निरन्तर योग कैसे लगावें वा निरन्तर अनुभव कर भण्डार की अनुभूति कैसे करें – अब तक भी इसी मेहनत में ही समय नहीं गँवाओ लेकिन प्राप्तिस्वरूप के भाग्य को सहज अनुभव करो। समाप्ति का समय समीप आ रहा है। अब तक किसी न किसी बात की मेहनत में लगे रहेंगे तो प्राप्ति का समय तो समाप्त हो जायेगा। फिर प्राप्तिस्वरूप का अनुभव कब करेंगे? संगमयुग को, ब्राह्मण आत्माओं को वरदान है “सर्व प्राप्ति भव”। ‘सदा पुरूषार्थी भव’ का वरदान नहीं है, ‘प्राप्ति भव’ का वरदान है। ‘प्राप्ति भव’ की वरदानी आत्मा कभी भी अलबेलेपन में आ नहीं सकती इसलिए उनको मेहनत नहीं करनी पड़ती। तो समझा, क्या बनना है?

राज्यसभा में राज्य अधिकारी बनने की विशेषता क्या है, यह स्पष्ट हुआ ना? राज्य अधिकारी हो ना, वा अभी सोच रहे हो कि हैं वा नहीं हैं? जब विधाता के बच्चे, वरदाता के बच्चे बन गये; राजा अर्थात् विधाता, देने वाला। अप्राप्ति कुछ नहीं तो लेंगे क्या? तो समझा, नये-नये बच्चों को इस अनुभव में रहना है। युद्ध में ही समय नहीं गँवाना है। अगर युद्ध में ही समय गँवाया तो अन्त मति भी युद्ध में रहेंगे। फिर क्या बनना पड़ेगा? चन्द्रवंश में जायेंगे वा सूर्यवंशी में? युद्ध वाला तो चन्द्रवंश में जायेगा। चल रहे हैं, कर रहे हैं, हो ही जायेंगे, पहुँच जायेंगे – अभी तक ऐसा लक्ष्य नहीं रखो। अब नहीं तो कब नहीं। बनना है तो अब, पाना है तो अब – ऐसे उमंग-उत्साह वाले ही समय पर अपनी सम्पूर्ण मंजिल को पा सकेंगे। त्रेता में राम सीता बनने के लिए तो कोई भी तैयार नहीं है। जब सतयुग सूर्यवंश में आना है, तो सूर्यवंश अर्थात् सदा मास्टर विधाता और वरदाता, लेने की इच्छा वाला नहीं। मदद मिल जाए, यह हो जाए तो बहुत अच्छा, पुरूषार्थ में अच्छा नम्बर ले लेंगे – नहीं। मदद मिल रही है, सब हो रहा है – इसको कहते हैं स्वराज्य अधिकारी बच्चे। आगे बढ़ना है या पीछे आये है तो पीछे ही रहना है? आगे जाने का सहज रास्ता है – सहजयोगी, स्वत:योगी बनो। बहुत सहज है। जब है ही एक बाप, दूसरा कोई नहीं तो जायेंगे कहाँ? प्राप्ति ही प्राप्ति है फिर मेहनत क्यों लगेगी? तो प्राप्ति के समय का लाभ उठाओ। सर्व प्राप्ति स्वरूप बनो। समझा? बापदादा तो यही चाहते हैं कि एक-एक बच्चा – चाहे लास्ट आने वाला, चाहे स्थापना के आदि में आने वाला, हर एक बच्चा नम्बरवन बने। राजा बनना, न कि प्रजा। अच्छा।

महाराष्ट्र और मध्य प्रदेश का ग्रुप आया है। देखो, महा शब्द कितना अच्छा है। महाराष्ट्र स्थान भी महा शब्द का है और बनना भी महान् है। महान् तो बन गये ना क्योंकि बाप के बने माना महान् बने। महान् आत्मायें हो। ब्राह्मण अर्थात् महान्। हर कर्म महान्, हर बोल महान्, हर संकल्प महान् है। अलौकिक हो गये ना। तो महाराष्ट्र वाले सदा ही स्मृति स्वरूप बनो कि महान् हैं। ब्राह्मण अर्थात् महान् चोटी हैं ना।

मध्य प्रदेश – सदा ‘मध्याजी भव’ के नशे में रहने वाले। ‘मन्मनाभव’ के साथ ‘मध्याजी भव’ का भी वरदान है। तो अपना स्वर्ग का स्वरूप-इसको कहते हैं ‘मध्याजी भव’ तो अपने श्रेष्ठ प्राप्ति के नशे में रहने वाले अर्थात् ‘मध्याजी भव’ के मन्त्र के स्वरूप में स्थित रहने वाले। वह भी महान् हो गये। ‘मध्याजी भव’ हैं तो ‘मन्मनाभव’ भी जरूर होंगे। तो मध्य प्रदेश अर्थात् महामन्त्र का स्वरूप बनने वाले। तो दोनों ही अपनी-अपनी विशेषता से महान् हैं। समझा, कौन हो?

जब से पहला पाठ शुरू किया, वह भी यही किया कि मैं कौन? बाप भी वही बात याद दिलाते हैं। इसी पर मनन करना। शब्द एक ही है कि ‘मैं कौन’ लेकिन इसके उत्तर कितने हैं? लिस्ट निकालना – ‘मैं कौन?’ अच्छा।

चारों ओर के सर्व प्राप्तिस्वरूप, श्रेष्ठ आत्माओं को, सर्व अलौकिक राज्य सभा अधिकारी महान् आत्माओं को, सदा रूहानियत की चमक धारण करने वाली विशेष आत्माओं को, सदा स्वत: योगी, सहजयोगी, ऊंचे ते ऊंची आत्माओं को ऊंचे ते ऊंचे बापदादा का स्नेह सम्पन्न यादप्यार स्वीकार हो।

अव्यक्त बापदादा से डबल विदेशी भाई-बहनों की मुलाकात:-

डबल विदेशी अर्थात् सदा अपने स्व-स्वरूप, स्वदेश, स्वराज्य की स्मृति में रहने वाले। डबल विदेशियों को विशेष कौन-सी सेवा करनी है? अभी साइलेन्स की शक्ति का अनुभव विशेष रूप से आत्माओं को कराना। यह भी विशेष सेवा है। जैसे साइंस की पावर नामीग्रामी है ना। बच्चे-बच्चे को मालूम है कि साइंस क्या है। ऐसे साइलेन्स पावर, साइंस से भी ऊंची है। वह दिन भी आना है। साइलेन्स के पावर की प्रत्यक्षता अर्थात् बाप की प्रत्यक्षता। जैसे साइंस प्रत्यक्ष प्रूफ दिखा रही है – वैसे साइलेन्स पावर का प्रैक्टिकल प्रूफ है – आप सबका जीवन। जब इतने सब प्रैक्टिकल प्रूफ दिखाई देंगे, तो ना चाहते हुए सभी की नज़र में सहज आ जायेंगे। जैसे यह (पिछले वर्ष) पीस का कार्य किया ना, इसको स्टेज पर प्रैक्टिकल में दिखाया। ऐसे ही चलते-फिरते पीस के मॉडल दिखाई दें तो साइंस वालों की भी नज़र साइलेन्स वालों के ऊपर अवश्य जायेगी। समझा? साइंस की इन्वेन्शन विदेश में ज्यादा होती हैं। तो साइलेन्स की पावर का आवाज भी वहाँ से सहज फैलेगा। सेवा का लक्ष्य तो है ही, सभी को उमंग-उत्साह भी है। सेवा के बिना रह नहीं सकते। जैसे भोजन के बिना रह नहीं सकते, ऐसे सेवा के बिना भी रह नहीं सकते इसलिए बापदादा खुश है। अच्छा!

पार्टियों से अव्यक्त बापदादा की मुलाकात

स्वदर्शन चक्रधारी श्रेष्ठ आत्मायें बन गये, ऐसे अनुभव करते हो? स्व का दर्शन हो गया ना? अपने आपको जानना अर्थात् स्व का दर्शन होना और चक्र का ज्ञान जानना अर्थात् स्वदर्शन चक्रधारी बनना। जब स्वदर्शन चक्रधारी बनते हैं तो और सब चक्र समाप्त हो जाते हैं। देहभान का चक्र, सम्बन्ध का चक्र, समस्याओं का चक्र – माया के कितने चक्र हैं! लेकिन स्वदर्शन चक्रधारी बनने से यह सब चक्र समाप्त हो जाते हैं, सब चक्रों से निकल जाते हैं। नहीं तो जाल में फंस जाते हैं। तो पहले फंसे हुए थे, अब निकल गये। 63 जन्म तो अनेक चक्रों में फंसते रहे और इस समय इन चक्रों से निकल आये, तो फिर फंसना नहीं है। अनुभव करके देख लिया ना? अनेक चक्रों में फंसने से सब कुछ गंवा दिया और स्वदर्शन चक्रधारी बनने से बाप मिला तो सब कुछ मिला। तो सदा स्वदर्शन चक्रधारी बन, मायाजीत बन आगे बढ़ते चलो, इससे सदा हल्के रहेंगे, किसी भी प्रकार का बोझ अनुभव नहीं होगा। बोझ ही नीचे ले आता है और हल्का होने से ऊंचे उड़ते रहेंगे। तो उड़ने वाले हो ना? कमज़ोर तो नहीं? अगर एक भी पंख कमज़ोर होगा तो नीचे ले आयेगा, उड़ने नहीं देगा इसलिए, दोनों ही पंख मजबूत हों तो स्वत: उड़ते रहेंगे। स्वदर्शन चक्रधारी बनना अर्थात् उड़ती कला में जाना। अच्छा।

राजयोगी, श्रेष्ठ योगी आत्माये हो ना? साधारण जीवन से सहजयोगी, राजयोगी बन गये। ऐसी श्रेष्ठ योगी आत्मायें सदा ही अतीन्द्रिय सुख के झूले में झूलती हैं। हठयोगी योग द्वारा शरीर को ऊंचा उठाते हैं और उड़ने का अभ्यास करते हैं। वास्तव में आप राजयोगी ऊंची स्थिति का अनुभव करते हो। इसको ही कापी करके वो शरीर को ऊंचा उठाते हैं। लेकिन आप कहाँ भी रहते ऊंची स्थिति में रहते हो, इसलिए कहते हैं – योगी ऊंचा रहते हैं। तो मन की स्थिति का स्थान ऊंचा है क्योंकि डबल लाइट बन गये हो। वैसे भी फरिश्तों के लिए कहा जाता कि फरिश्तों के पांव धरती पर नहीं होते। फरिश्ता अर्थात् जिसका बुद्धि रूपी पांव धरती पर न हो, देहभान में न हो। देहभान से सदा ऊंचे – ऐसे फरिश्ते अर्थात् राजयोगी बन गये। अभी इस पुरानी दुनिया से कोई लगाव नहीं। सेवा करना अलग चीज है लेकिन लगाव न हो। योगी बनना अर्थात् बाप और मैं, तीसरा न कोई। तो सदा इसी स्मृति में रहो कि हम राजयोगी, सदा फरिश्ता हैं। इस स्मृति से सदा आगे बढ़ते रहेंगे। राजयोगी सदा बेहद के मालिक हैं, हद के मालिक नहीं। हद से निकल गये। बेहद का अधिकार मिल गया – इसी खुशी में रहो। जैसे बेहद का बाप है, वैसे बेहद की खुशी में रहो, नशे में रहो। अच्छा।

विदाई के समय

सभी अमृतवेले के वरदानी बच्चों को वरदाता बाप की सुनहरी यादप्यार स्वीकार हो। साथ-साथ सुनहरी दुनिया बनाने की सेवा के सदा प्लान मनन करने वाले और सदा सेवा में दिल व जान, सिक व प्रेम से, तन-मन-धन से सहयोगी आत्मायें, सभी को बापदादा गुडमार्निंग, डायमण्ड मार्निंग कर रहे हैं और सदा डायमण्ड बन इस डायमण्ड युग की विशेषता को वरदान और वर्से में लेकर स्वयं भी सुनहरी स्थिति में स्थित रहेंगे और औरों को भी ऐसे ही अनुभव कराते रहेंगे। तो चारों ओर के डबल हीरो बच्चों को डायमण्ड मार्निंग। अच्छा।

वरदान:- रहमदिल की भावना द्वारा अपकारी पर भी उपकार करने वाले शुभचिंतक भव
कैसी भी कोई आत्मा, चाहे सतोगुणी, चाहे तमोगुणी सम्पर्क में आये लेकिन सभी के प्रति शुभचिंतक अर्थात् अपकारी पर भी उपकार करने वाले। कभी किसी आत्मा के प्रति घृणा दृष्टि न हो क्योंकि जानते हो यह अज्ञान के वशीभूत है, बेसमझ है। उनके ऊपर रहम वा स्नेह आये, घृणा नहीं। शुभचिंतक आत्मा ऐसा नहीं सोचेगी कि इसने ऐसा क्यों किया लेकिन इस आत्मा का कल्याण कैसे हो – यही है शुभचिंतक स्टेज।
स्लोगन:- तपस्या के बल से असम्भव को सम्भव कर सफलता मूर्त बनो।

TODAY MURLI 10 JANUARY 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 10 January 2020

10/01/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, the first two things you have to explain to everyone are: Remember the Father and know the cycle of 84 births. Then, all their questions will end.
Question: What words used in praise of the Father wouldn’t be used in praise of Shri Krishna?
Answer: The Father is the Lord of the Tree. Shri Krishna wouldn’t be called the Lord of the Tree. Only the incorporeal Father is said to be the Father of all fathers and the Husband of all husbands. Shri Krishna wouldn’t be called that. Clarify the distinct praise of each one.
Question: What drums do you have to beat in every village?
Answer: Beat drums in every village and announce: Come and understand how you can become a resident of heaven from a resident of hell, how you can become a deity from a human being. Come and understand how establishment and destruction take place.
Song: You are the Mother and You are the Father!

Om shanti. The last line of this song says, “You are the boat and You are the Boatman.” That is wrong. In the same way, they also speak wrongly of His being worthy of worship as well as a worshipper. Those who are bright in knowledge would quickly turn this song off because it is insulting the Father. You children have now been given this knowledge but other people do not have it. You are also only given it at this time; it will not exist later. The knowledge of the Gita is given to make people become the most elevated human beings. People understand this much, but they have forgotten how and when it is given. The Gita is the scripture for the creation of a religion. Other scriptures are not for creating religions. The word “scripture” is only used for Bharat. The jewel of all scriptures is the Gita. All the other religions come afterwards. None of them would be the jewel of all scriptures. You children know that only the one Father is the Lord of the Tree. He is our Father as well as our Husband. He is also the Father of everyone else. This is why He is praised as the Husband of all Husbands and Father of all Fathers. This praise only belongs to the incorporeal One. The praise of Shri Krishna is compared to the praise of the Father. Shri Krishna is a prince of the new world. How could he teach Raj Yoga in the old world at the confluence age? You children now understand that God is teaching you. You become those (deities) after studying at this time. This knowledge doesn’t continue there; it disappears. All that remains is just like a pinch of salt in a sackful of flour. Only some pictures remain. In fact, none of their pictures is accurate. When you have given them the Father’s introduction, you should tell them that God explains this. He automatically explains everything. So, what questions are you going to ask Him? First of all, recognise the Father! The Father says to souls: Remember Me! Just remember two things. The Father says: Remember Me and the cycle of 84 births. That’s all! These are the two main things that you have to explain. The Father says: You do not know your own births. He only says this to you Brahmin children; no one else would be able to understand this. Just look how many crowd into the exhibitions! When people see so many going in, they think that there must be something worth seeing there and they too try to push their way in. If you tried to explain to each one individually, your throat would get tired. Therefore, what should you do? If the exhibition is continuing for a month, you can tell them: there is big a crowd today, so come back the next day or the day after. You have to explain to those who want to study this, that is, to those who want to change from human beings into deities. You should show them the picture or the badge of Lakshmi and Narayan and tell them: You too can become the masters of the land of Vishnu through the Father. There is a big crowd here now, so come to the centre. The address is written on the board. If you simply told people that this is heaven and that is hell, what would they understand? You would be wasting your time. Nowadays, people dress in such a way that no one is able to tell whether they are important people, whether they are rich or poor. First of all, you have to give everyone the Father’s introduction. The Father is the One who establishes heaven. Your aim and objective is in front of you. You now have to become those. The Father says: I am the Highest on High. Remember Me! This is the mantra that disciplines the mind. The Father says: Constantly remember Me alone and your sins will be absolved and you will go to the land of Vishnu. You definitely have to explain this much. You should hold your exhibition for eight to ten days. You should beat drums in every village and announce that people should come and understand how they can become deities from human beings, how they can become residents of heaven from residents of hell. Tell them to come and understand how establishment and destruction take place. There are many ways you can explain. You children know that there is the difference of day and night between the golden age and the iron age. It is said that there is the day of Brahma and the night of Brahma. The day of Brahma means the day of Vishnu and the day of Vishnu also means the day of Brahma: they are one and the same thing. There are 84 births of Brahma and there are 84 births of Vishnu. There is simply the difference of this leap birth. You must make these things sit in your intellects. If you don’t imbibe anything, how would you be able to explain to others? The knowledge is easy to explain. Take them in front of the picture of Lakshmi and Narayan and say: You have to claim that status from the Father. The destruction of hell is standing ahead of us. Others only tell you human dictates. Here, we have God’s directions, directions we souls receive directly from God. Incorporeal souls receive directions from the incorporeal Supreme Soul. All other directions are human dictates. The contrast is like that of day and night. Sannyasis cannot give directions. Only once do we receive God’s directions. It is only when God comes that we become like them by following His directions. He comes simply to establish the deity religion. You should also imbibe these points so that you can use them when you need to. Just explain the main things in essence, that’s enough. It’s enough just to explain the points of Lakshmi and Narayan: This is the picture of our aim and objective. God created this new world. God taught them at this most auspicious confluence age. No one else knows about this confluence age. Therefore, you children should be very happy to hear these things. You will be even happier when you tell others what you have heard. Only those who do service are called Brahmins. The true Gita is under your arm. Those physical brahmins are also numberwise. Some brahmins are very well known and earn a lot of money, whereas others can hardly earn enough to eat. Some brahmins are millionaires and live very well. They say with intoxication that they belong to the brahmin clan. They do not know about this true Brahmin clan. Brahmins are considered to be the most elevated clan and this is why some people offer them food. They would never offer food to the deities, the warriors, the merchants or the shudras, only to brahmins. Therefore, Baba says: You have to explain to the brahmins very well. There are many gatherings of brahmins. Find out when and where they have those gatherings and go there. Brahmins have to be made into children of Prajapita Brahma, just as you are his children. Also explain to them whose child Brahma is. Find out where they hold their gatherings. You can benefit many there. There are also gatherings of old mothers. None of you gives news to Baba of where you’ve been. The whole forest is full. Wherever you go, you would come back with some prey or subjects. You can even create kings. There is plenty of service to be done! You are free after 5 pm. in the evening. Therefore, each day, make a list of the places you will go to. The Father shows you many ways to serve. The Father only talks to His children. Each of you must have firm faith that you are a soul. Baba (the Supreme Soul) gives us knowledge, but we have to imbibe it. People who study the scriptures take those sanskars with them when they die and then those sanskars emerge again in their next birth. Then it is said that that soul brought his sanskars with him. Those who study many scriptures are said to be authorities on the scriptures. They would not consider themselves to be the Almighty. Only the Father explains how this play is performed. This is nothing new. You have to understand that this drama is predestined. People do not understand that this is the old world. The Father says: I have now come. The great Mahabharat War is ahead of you. People are still sleeping in the darkness of ignorance. Devotion is said to be ignorance. Only the Father is the Ocean of Knowledge. Those who perform a lot of devotion are called oceans of devotion. There is the rosary of devotees. You should collect all the names for the rosary of devotees. The rosary of devotees starts with the copper age and lasts to the end of the iron age. You children should remain very happy. Only those who do service throughout the day remain very happy. Baba has told you about the very long rosary; it has thousands of beads. Some pull it from one place and others pull it from another. There must have been a reason why such a huge rosary was created. They simply keep chanting the name, “Rama, Rama”. Ask them: Whom are you remembering when you chant “Rama, Rama”? You can go to any spiritual gathering and mix with them like in the example of Hanuman. He would go to a spiritual gathering and sit amongst the sandals. You too should take this chance. You can do a lot of service. However, only when the points of knowledge remain in your intellects and you become wise with this knowledge will there be success in service. There are many ways to do this service. There are many things in the Ramayana and the Bhagawad etc. on which you can enlighten them. You must not simply sit in a spiritual gathering and worship with blind faith. Tell them: We want to bring you benefit. Their devotion is totally separate from our knowledge. Only the Father, the God of Knowledge, gives this knowledge. There is plenty of service to do. Simply tell them who the Highest on High is. Only God is the Highest on High. Only from Him can you receive this inheritance. Everyone else is His creation. You children should be very keen to do service. If you want a kingdom you have to create subjects. “Remember the Father and your final thoughts will lead you to your destination”. This great mantra is not a small thing. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Remind everyone of the mantra that the Father has given you, the mantra that disciplines the mind. Create different ways of doing service. Do not waste your time when there are huge crowds.
  2. Remain intoxicated by keeping points of knowledge in your intellect. Go and sit in the gatherings like Hanuman and serve them. Remain happy by doing service throughout the day.
Blessing: May you be a powerful soul and with the help of elevated thoughts fill everyone with power.
Accept the blessing of being constantly powerful and use your elevated thoughts to do the service of filling all souls with power. Nowadays, they accumulate solar energy and use it to achieve success in many tasks. In the same way, accumulate so much power of elevated thoughts that the thoughts of others are also become filled with power. These thoughts work like an injection with which their internal attitude is filled with power. So, now use your elevated feelings and elevated thoughts to bring about transformation. This service is needed.
Slogan: Be a master remover of sorrow and transform their sorrow into spiritual happiness. This is your elevated task.

*** Om Shanti ***

Special homework to experience the avyakt stage in this avyakt month.

We are Brahmins who are to become angels. The experience of this combined form will make you an image that grants visions in front of the world. By walking and moving around with the awareness of being a Brahmin who is to become an angel, while in a physical body and playing a part in the physical world, you will experience yourself to be a companion of Father Brahma, an angel of the subtle region, one with an avyakt form.

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 10 JANUARY 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 10 January 2020

10-01-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – मुख्य दो बातें सबको समझानी हैं – एक तो बाप को याद करो, दूसरा 84 के चक्र को जानो फिर सब प्रश्न समाप्त हो जायेंगे”
प्रश्नः- बाप की महिमा में कौन-से शब्द आते हैं जो श्रीकृष्ण की महिमा में नहीं?
उत्तर:- वृक्षपति एक बाप है, श्रीकृष्ण को वृक्षपति नहीं कहेंगे। पिताओं का पिता वा पतियों का पति एक निराकार को कहा जाता, श्रीकृष्ण को नहीं। दोनों की महिमा अलग-अलग स्पष्ट करो।
प्रश्नः- तुम बच्चे गांव-गांव में कौन-सा ढिंढोरा पिटवा दो?
उत्तर:- गांव-गांव में ढिंढोरा पिटवा दो कि मनुष्य से देवता, नर्कवासी से स्वर्गवासी कैसे बन सकते हो, आकर समझो। स्थापना, विनाश कैसे होता है, आकर समझो।
गीत:- तुम्हीं हो माता, पिता तुम्हीं हो……. Audio Player

ओम् शान्ति। इस गीत के पिछाड़ी की जो लाइन आती है – तुम्हीं नईया, तुम्हीं खिवैया……यह रांग है। जैसे आपेही पूज्य, आपेही पुजारी कहते हैं – यह भी वैसे हो जाता है। ज्ञान की चमक वाले जो होंगे वह झट गीत को बन्द कर देंगे क्योंकि बाप की इनसल्ट हो जाती है। अभी तुम बच्चों को तो नॉलेज मिली है, दूसरे मनुष्यों को यह नॉलेज होती नहीं है। तुमको भी अभी ही मिलती है। फिर कभी होती ही नहीं। गीता के भगवान की नॉलेज पुरूषोत्तम बनने की मिलती है, इतना समझते हैं। परन्तु कब मिलती है, कैसे मिलती है, यह भूल गये हैं। गीता है ही धर्म स्थापना का शास्त्र, और कोई शास्त्र धर्म स्थापन अर्थ नहीं होते हैं। शास्त्र अक्षर भी भारत में ही काम आता है। सर्व शास्त्रमई शिरोमणी है ही गीता। बाकी वह सब धर्म तो हैं ही पीछे आने वाले। उनको शिरोमणी नहीं कहेंगे। बच्चे जानते हैं वृक्षपति एक ही बाप है। वह हमारा बाप है, पति भी है तो सबका पिता भी है। उनको पतियों का पति, पिताओं का पिता….. कहा जाता है। यह महिमा एक निराकार की गाई जाती है। कृष्ण की और निराकार बाप के महिमा की भेंट की जाती है। श्रीकृष्ण तो है ही नई दुनिया का प्रिन्स। वह फिर पुरानी दुनिया में संगमयुग पर राजयोग कैसे सिखलायेंगे! अब बच्चे समझते हैं हमको भगवान पढ़ा रहे हैं। तुम पढ़कर यह (देवी-देवता) बनते हो। पीछे फिर यह ज्ञान चलता नहीं। प्राय: लोप हो जाता है। बाकी आटे में लून यानी चित्र जाकर बचते हैं। वास्तव में कोई का चित्र यथार्थ तो है नहीं। पहले-पहले बाप का परिचय मिल जायेगा तो तुम कहेंगे यह तो भगवान समझाते हैं। वह तो स्वत: ही बतायेंगे। तुम प्रश्न क्या पूछेंगे! पहले बाप को तो जानो।

बाप आत्माओं को कहते हैं – मुझे याद करो। बस, दो बातें याद कर लो। बाप कहते हैं मुझे याद करो और 84 के चक्र को याद करो, बस। यह दो मुख्य बातें ही समझानी हैं। बाप कहते हैं तुम अपने जन्मों को नहीं जानते हो। ब्राह्मण बच्चों को ही कहते हैं, और तो कोई समझ भी न सके। प्रदर्शनी में देखो कितनी भीड़ लग जाती है। समझते हैं, इतने मनुष्य जाते हैं तो जरूर कुछ देखने की चीज़ है। घुस पड़ते हैं। एक-एक को बैठ समझायें तो भी मुख थक जाये। तब क्या करना चाहिए? प्रदर्शनी मास भर चलती रहे तो कह सकते हैं-आज भीड़ है, कल, परसों आना। सो भी जिसको पढ़ाई की चाहना है अथवा मनुष्य से देवता बनना चाहते हैं, उनको समझाना है। एक ही यह लक्ष्मी-नारायण का चित्र अथवा बैज दिखलाना चाहिए। बाप द्वारा यह विष्णुपुरी का मालिक बन सकते हो, अभी भीड़ है सेन्टर पर आना। एड्रेस तो लिखी हुई है। बाकी ऐसे ही कह देंगे – यह स्वर्ग है, यह नर्क है, इससे मनुष्य क्या समझेंगे? टाइम वेस्ट हो जाता है। ऐसे तो पहचान भी नहीं सकते, यह बड़ा आदमी है, साहूकार है या गरीब है? आजकल ड्रेस आदि ऐसी पहनते हैं जो कोई भी समझ न सके। पहले-पहले तो बाप का परिचय देना है। बाप स्वर्ग की स्थापना करने वाला है। अब यह बनना है। एम ऑबजेक्ट खड़ी है। बाप कहते हैं ऊंच ते ऊंच मैं हूँ। मुझे याद करो, यह वशीकरण मंत्र है। बाप कहते हैं मामेकम् याद करो तो तुम्हारे विकर्म विनाश होंगे और विष्णुपुरी में आ जायेंगे – इतना तो जरूर समझाना चाहिए। 8-10 रोज़ प्रदर्शनी को रखना चाहिए। तुम गांव-गांव में ढिंढोरा पिटवा दो कि मनुष्य से देवता, नर्कवासी से स्वर्गवासी कैसे बन सकते हो, आकर समझो। स्थापना, विनाश कैसे होता है, आकर समझो। युक्तियाँ बहुत हैं।

तुम बच्चे जानते हो सतयुग और कलियुग में रात-दिन का फर्क है। ब्रह्मा का दिन और ब्रह्मा की रात कहा जाता है। ब्रह्मा का दिन सो विष्णु का, विष्णु का सो ब्रह्मा का। बात एक ही है। ब्रह्मा के भी 84 जन्म, विष्णु के भी 84 जन्म। सिर्फ इस लीप जन्म का फ़र्क पड़ जाता है। यह बातें बुद्धि में बिठानी होती हैं। धारणा नहीं होगी तो किसको समझा कैसे सकेंगे? यह समझाना तो बहुत सहज है। सिर्फ लक्ष्मी-नारायण के चित्र के आगे ही यह प्वाइंट्स सुनाओ। बाप द्वारा यह पद पाना है, नर्क का विनाश सामने खड़ा है। वो लोग तो अपनी मानव मत ही सुनायेंगे। यहाँ तो है ईश्वरीय मत, जो हम आत्माओं को ईश्वर से मिली है। निराकार आत्माओं को निराकार परमात्मा की मत मिलती है। बाकी सब हैं मानव मत। रात-दिन का फ़र्क है ना। सन्यासी, उदासी आदि कोई भी तो दे न सकें। ईश्वरीय मत एक ही बार मिलती है। जब ईश्वर आते हैं तो उनकी मत से हम यह बनते हैं। वह आते ही हैं देवी-देवता धर्म की स्थापना करने। यह भी प्वाइंट्स धारण करनी चाहिए, जो समय पर काम आये। मुख्य बात थोड़े में ही समझाई तो भी काफी है। एक लक्ष्मी-नारायण के चित्र पर समझाना भी काफी है। यह है एम ऑबजेक्ट का चित्र, भगवान ने यह नई दुनिया रची है। भगवान ने ही पुरूषोत्तम संगमयुग पर इन्हों को पढ़ाया था। इस पुरूषोत्तम युग का किसको पता नहीं है। तो बच्चों को यह सब बातें सुनकर कितना खुश होना चाहिए। सुनकर फिर सुनाने में और ही खुशी होती है। सर्विस करने वालों को ही ब्राह्मण कहेंगे। तुम्हारे कच्छ (बगल) में सच्ची गीता है। ब्राह्मणों में भी नम्बरवार होते हैं ना। कोई ब्राह्मण तो बहुत नामीग्रामी होते हैं, बहुत कमाई करते हैं। कोई को तो खाने के लिए भी मुश्किल मिलेगा। कोई ब्राह्मण तो लखपति होते हैं। बड़ी खुशी से, नशे से कहते हैं हम ब्राह्मण कुल के हैं। सच्चे-सच्चे ब्राह्मण कुल का तो पता ही नहीं है। ब्राह्मण उत्तम माने जाते हैं, तब तो ब्राह्मणों को खिलाते हैं। देवता, क्षत्रिय वा वैश्य, शूद्र धर्म वालों को कभी खिलायेंगे नहीं। ब्राह्मणों को ही खिलाते हैं इसलिए बाबा कहते हैं – तुम ब्राह्मणों को अच्छी रीति समझाओ। ब्राह्मणों का भी संगठन होता है, उसकी जाँच कर चले जाना चाहिए। ब्राह्मण तो प्रजापिता ब्रह्मा की सन्तान होने चाहिए, हम उनकी सन्तान हैं। ब्रह्मा किसका बच्चा है, वह भी समझाना चाहिए। जाँच करनी चाहिए कि कहाँ-कहाँ उन्हों के संगठन होते हैं। तुम बहुतों का कल्याण कर सकते हो। वानप्रस्थ स्त्रियों की भी सभायें होती हैं। बाबा को कोई समाचार थोड़ेही देते हैं कि हम कहाँ-कहाँ गये? सारा जंगल भरा हुआ है, तुम जहाँ जाओ शिकार कर आयेंगे, प्रजा बनाकर आयेंगे, राजा भी बना सकते हो। सर्विस तो ढेर है। शाम को 5 बजे छुट्टी मिलती है, लिस्ट में नोट कर देना चाहिए-आज यहाँ-यहाँ जाना है। बाबा युक्तियाँ तो बहुत बताते हैं। बाप बच्चों से ही बात करते हैं। यह पक्का निश्चय चाहिए कि मैं आत्मा हूँ। बाबा (परम आत्मा) हमको सुनाते हैं, धारण हमको करना है। जैसे शास्त्र अध्ययन करते हैं तो फिर संस्कार ले जाते हैं तो दूसरे जन्म में भी वह संस्कार इमर्ज हो जाते हैं। कहा जाता है – संस्कार ले आये हैं। जो बहुत शास्त्र पढ़ते हैं उनको अथॉरिटी कहा जाता है। वह अपने को ऑलमाइटी नहीं समझेंगे। यह खेल है, जो बाप ही समझाते हैं, नई बात नहीं है। ड्रामा बना हुआ है, जो समझने का है। मनुष्य यह नहीं समझते कि पुरानी दुनिया है। बाप कहते हैं मैं आ गया हूँ। महाभारत लड़ाई सामने खड़ी है। मनुष्य अज्ञान अंधेरे में सोये पड़े हैं। अज्ञान भक्ति को कहा जाता है। ज्ञान का सागर तो बाप ही है। जो बहुत भक्ति करते हैं, वह भक्ति के सागर हैं। भक्त माला भी है ना। भक्त माला के भी नाम इकट्ठे करने चाहिए। भक्त माला द्वापर से कलियुग तक ही होगी। बच्चों को बहुत खुशी रहनी चाहिए। बहुत खुशी उनको होगी जो सारा दिन सर्विस करते रहेंगे।

बाबा ने समझाया है माला तो बहुत लम्बी होती है, हज़ारों की संख्या में। जिसको कोई कहाँ से, कोई कहाँ से खींचते हैं। कुछ तो होगा ना, जो इतनी बड़ी माला बनाई है। मुख से राम-राम कहते रहते हैं, यह भी पूछना पड़े – किसको राम-राम कह याद करते हो? तुम कहाँ भी सतसंग आदि में जाकर मिक्स हो बैठ सकते हो। हनुमान का मिसाल है ना-जहाँ सतसंग होता था, वहाँ जुत्तियों में जाकर बैठता था। तुमको भी चांस लेना चाहिए। तुम बहुत सर्विस कर सकते हो। सर्विस में सफलता तब होगी जब ज्ञान की प्वाइंट्स बुद्धि में होंगी, ज्ञान में मस्त होंगे। सर्विस की अनेक युक्तियाँ हैं, रामायण, भागवत आदि की भी बहुत बातें हैं, जिस पर तुम दृष्टि दे सकते हो। सिर्फ अन्धश्रद्धा से बैठ सतसंग थोड़ेही करना है। बोलो, हम तो आपका कल्याण करना चाहते हैं। वह भक्ति बिल्कुल अलग है, यह ज्ञान अलग है। ज्ञान एक ज्ञानेश्वर बाप ही देते हैं। सर्विस तो बहुत है, सिर्फ यह बताओ कि ऊंच ते ऊंच कौन है? ऊंच ते ऊंच एक ही भगवान होता है, वर्सा भी उनसे मिलता है। बाकी तो है रचना। बच्चों को सर्विस का शौक होना चाहिए। तुम्हें राजाई करनी है तो प्रजा भी बनानी है। यह महामंत्र कम थोड़ेही है-बाप को याद करो तो अन्त मती सो गति हो जायेगी। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बाप ने जो वशीकरण मंत्र दिया है, वह सबको याद दिलाना है। सर्विस की भिन्न-भिन्न युक्तियाँ रचनी है। भीड़ में अपना समय बरबाद नहीं करना है।

2) ज्ञान की प्वाइंट्स बुद्धि में रख ज्ञान में मस्त रहना है। हनूमान की तरह सतसंगों में जाकर बैठना है और फिर उनकी सेवा करनी है। खुशी में रहने के लिए सारा दिन सेवा करनी है।

वरदान:- श्रेष्ठ संकल्पों के सहयोग द्वारा सर्व में शक्ति भरने वाले शक्तिशाली आत्मा भव
सदा शक्तिशाली भव का वरदान प्राप्त कर सर्व आत्माओं में श्रेष्ठ संकल्पों द्वारा बल भरने की सेवा करो। जैसे आजकल सूर्य की शक्ति जमा करके कई कार्य सफल करते हैं। ऐसे श्रेष्ठ संकल्पों की शक्ति इतनी जमा हो जो औरों के संकल्पों में बल भर दो। यह संकल्प इन्जेक्शन का काम करते हैं। इससे अन्दर वृत्ति में शक्ति आ जाती है। तो अब श्रेष्ठ भावना वा श्रेष्ठ संकल्प से परिवर्तन करना-इस सेवा की आवश्यकता है।
स्लोगन:- मास्टर दुख हर्ता बन दुख को भी रूहानी सुख में परिवर्तन करना – यही आपका श्रेष्ठ कर्तव्य है।

अव्यक्त स्थिति का अनुभव करने के लिए विशेष होमवर्क

हम ब्राह्मण सो फरिश्ता हैं, यह कम्बाइन्ड रुप की अनुभूति विश्व के आगे साक्षात्कार मूर्त बनायेगी। ब्राह्मण सो फरिश्ता इस स्मृति द्वारा चलते-फिरते अपने को व्यक्त शरीर, व्यक्त देश में पार्ट बजाते हुए भी ब्रह्मा बाप के साथी अव्यक्त वतन के फरिश्ते, अव्यक्त रूपधारी अनुभव करेंगे।

TODAY MURLI 10 JANUARY 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 10 January 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 9 January 2019 :- Click Here

10/01/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, belong to the Father and glorify the Father’s name. The name will be glorified by your becoming completely pure. You also have to become totally sweet.
Question: What one worry do you children have at the confluence age that you won’t have in the golden age?
Answer: At the confluence age, you have the one worry of becoming pure. The Father has made you free from worries in every other aspect. You make effort so that you can shed your old bodies in happiness. You know that you will remove those old costumes and put on new ones. Each of you children should ask your heart how much happiness you have and how much you remember the Father.

Om shanti. The spiritual Father explains to the sweetest, long-lost and now-found children. He explains to them and also teaches them. He teaches you the secrets of the Creator and the beginning, the middle and the end of creation. He also says: Become full of all virtues and imbibe divine qualities. By staying in remembrance, you will become satopradhan. You know that the world is tamopradhan at this time. The world was satopradhan and, after 5000 years, it has now become tamopradhan. This is an old world. It would be said of everyone: This one was in the new world. Or, this one was in the land of peace. The Father sits here and explains to you spirits: O spiritual children, you definitely have to become satopradhan. You definitely have to claim your inheritance from the Father. You definitely have to remember Me, your Father. Worldly children also remember their father. As they get older, they claim a right to a limited inheritance. You are the children of the unlimited Father. You have to claim the unlimited inheritance from the Father. There is now no need to do devotion, etc. You children have come to know that this is a University. All human beings have to study. You have to make your intellects unlimited. This old world is now about to change. Those who are now tamopradhan will become satopradhan. You children know that, at this time, you are claiming your inheritance of unlimited happiness from the unlimited Father. We now have to follow the directions of the one spiritual Father. You souls are becoming satopradhan through this spiritual pilgrimage of remembrance and you will then have to go to the satopradhan world. You understand that you are Brahmins and that you belong to the Father. You are studying and this study is called knowledge. The path of devotion is separate. The Father speaks this knowledge to you Brahmins. No one else knows of this knowledge. They don’t even know how the Father, the Ocean of Knowledge, who is also the Teacher, teaches. Baba continues to explain many topics. The number one aspect is to belong to the Father and glorify the Father’s name and become completely pure. You also have to become completely sweet. This is Godly knowledge. God sits here and teaches us. You have to remember that highest-on-high Father. It is a matter of a second to consider yourself to be a soul. You souls understand that you are residents of the land of peace and that you then come down here to play your parts. Souls continue to take birth and rebirth. We have now completed our parts of 84 births, numberwise. You have to understand this study as well as this part. The secrets of the drama are also in your intellects. You know that this is your last birth and that you have met the Father in this last birth. The old world changes when you complete your 84 births. You know this unlimited drama, the 84 births and also this study. Having taken 84 births, you have now reached the end. You are now studying and will then go to the new world. New ones continue to come; they continue to have faith in one aspect or another. Some become engaged in this study. It is in their intellects that they are becoming pure and satopradhan. By becoming pure, we will continue to make progress. Baba has explained: The more you stay in remembrance, the more you souls will accordingly continue to become pure. You children have the whole drama in your intellects. You also know that you have come here having left everything of this world behind. You mustn’t see whatever you see with those eyes; all of it is going to end. This is now your final birth. No one else knows this unlimited drama. You now know the whole cycle. The Father has now come to make you satopradhan from tamopradhan. Those examinations take place after 12 months. Your pilgrimage of remembrance has not yet been completed. You remember many things. When this remembrance becomes firm, you will then not remember anything. You souls came bodiless and you have to return bodiless. You know the part of every human being of this whole world. There are many human beings and the number of them continues to increase. There are now millions. There will be very few of us in the golden age. While we were taking birth and rebirth, the sects and cults of the different branches have grown and the tree has become very big. The original eternal deity religion has now disappeared. When we belonged to the deity religion, we were satopradhan. That religion has now become tamopradhan but it will become satopradhan again and we are studying to become that. The more you study and teach others, the more benefit there will be for many. You should explain with a lot of love. You have to drop leaflets from aeroplane s. You have to explain in these leaflets that they have been doing devotion for birth after birth. To study the Gita is also devotion. It is not that anyone will become a deity from a human being by studying the Gita. According to the drama, it is only when the Father comes that He shows you the way to become satopradhan. You then receive a satopradhan status. You understand that you are to become that through this study. This is God’s pathshala. God teaches you and makes you into Narayan from an ordinary man. There was heaven when we were satopradhan. Then, we became tamopradhan, it is hell. The cycle has to turn. The Father comes and inspires you to make effort to become deities from human beings and to become the masters of the world. You have to remember the Father and imbibe divine virtues. You should not fight or quarrel. Deities never fight or quarrel. You have to become like them. You were the ones who were full of all virtues and you have to become that again on the basis of shrimat. You have to ask yourself: To what extent am I happy? To what extent do I have faith? This should be remembered throughout the whole day. However, Maya is such that she makes you forget. You understand that you are God’s helpers with the father in serving the world. Previously, you used to study limited studies whereas you are now studying the unlimited study with the unlimited Father. This is an old body which will be shed at its own time; it cannot be shed in an untimely death; we have to shed these bodies in happiness. We will shed these dirty bodies and also renounce this old world and happily go back. When a great event takes place, people wear new clothes with happiness. You know that you will receive new bodies in the new world. We only have the one concern which is to become pure and free from all other worries. All of this is going to end, so what need is there to worry? You worried for half the cycle on the path of devotion. Now, for half the cycle, there will be no worries. Very little time now remains. There is the slight worry to become pure. Then, there won’t be a single worry. This is a play of happiness and sorrow. There is happiness in the golden age and sorrow in the iron age. Baba has explained that you can ask them: Are you a resident of the golden age, the land of happiness, or of the iron age, the land of sorrow? You relate these new things. It would definitely be said: You are now a resident of the land of sorrow. This has to be asked with a lot of love so that human beings can understand for themselves where they are residents of. They would say that you have a very good way of asking questions. No matter how eminent or wealthy they may be, they are still residents of hell. The new world is called heaven. This old world is now the iron age. These questions are very good. It is also clear in the picture of the ladder. You should ask them: Are you in the land of happiness or in the land of sorrow? Is this heaven or hell? Are you are a deity or a devil? Surely, the golden age would be called the deity world. The iron age is called hell, the devil world. Therefore, you should ask them: Are you residents of heaven, the golden age, the deity world , or are you residents of the iron age, the devil world? No matter how wealthy you are, where do you reside? You now have this knowledge. Previously, you never even thought of these things. It is now you understand that you are at the confluence age. Those who are in the iron age are impure residents of hell and they have to become pure again. That is why they call out: O Purifier come! Come and make us pure! You also have to explain this. So many people come to you, but, nevertheless, only a few out of a handful emerge. What I am, who I am, what I teach – only a few understand and follow this. When you take the exhibitions etc. around in the early morning, you should show that we are becoming the residents of heaven through this study. This cycle continues to turn through the golden, silver, copper and iron ages. The whole cycle is in your intellects. You are again becoming the masters of the land of happiness and the land of peace. There is no mention of sorrow in the land of happiness. If you do not study fully, you will receive a low status. This is a common thing. Therefore, study this unlimited study and claim the unlimited inheritance. Simply consider yourself to be a soul and remember the unlimited Father. Baba is very sweet. His directions are: Finish all the bondages of the body, including that of your own body. The soul is imperishable. One moment, you adopt a body, the next moment, you shed it; it doesn’t take long. At this time, day by day, everyone continues to become tamopradhan. When we were satopradhan, we had a longer lifespan and there were very few of us. There was no other religion. Your lifespan increases on the basis of the effort you make now. The more remembrance you have, the more your lifespan will increase. When you were satopradhan, your lifespan was very long. Then, as you continued to descend, your lifespan became shorter. Your lifespan became shorter when you entered the rajo stage. It became even shorter when you entered the tamo stage. There is the example of a waterwheel where the buckets are filled and emptied. So, this is an unlimited waterwheel. You are now being filled. When you have become completely full, you will then gradually begin to empty. This is also compared to a battery. Having become satopradhan we will then go back and then take 84 births. The kingdom of Ravan begins after half a cycle. In the kingdom of Ravan, all are called residents of hell. Those who come later will come in hell. Firstly, you go to heaven. You receive the fruit of your devotion from the Father. It is understood: This one has performed a lot of devotion and this is why he is taking knowledge. The Father has explained all of these secrets to you. You then have to explain them to others. Human beings have committed many different types of sin. The Father has now come and is giving you knowledge. It is only when the Father comes that He teaches you. For all of that time you did not know this; you continued to become sinful souls. How do you souls become pure and charitable and how do you then become sinful souls? Who are the residents of the golden age and who are the residents of the iron age? You did not know any of this. The Father has now explained. The Father is also called the Flame. He has light as well as might. When you have l ight, that is, when you awaken, you receive might. Your life also becomes longer. Untimely death cannot come to you there. You shed a body and take another in happiness. There is no question of sorrow. It is like a game. (There is the example of a snake.) You have played your parts from the golden age through to the iron age. This is now fixed in your intellects. Baba is your Father, Teacher and Satguru. Only you children know this, numberwise, according your efforts. You have also understood rebirth and how many births you take. How many births do you take as a Brahmin? (One birth). Some even take two or three births. For example, when someone sheds his body, he carries the sanskars of a Brahmin. Because of having the sanskars of a Brahmin, he will again come into the true Brahmin clan. The clan of Brahmin souls will continue to increase. They carry the sanskars of belonging to the Brahmin clan. They can take two or three births if they have karmic accounts to settle. They will shed their bodies and take others. The soul will go from the Brahmin clan into the deity clan. It is not a question of the body. You now belong to the Father. You are the children of God and you are also the children of Prajapita Brahma. You don’t have any other relationships. It is not a small matter to belong to the unlimited Father. You become the masters of the land of happiness. You have simply recognised the Great Father and so your boats will go across. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Ask yourselves: 1. To what extent am I happy? 2. To what extent do I have the faith that I was full of all divine virtues and that I have to become that again on the basis of shrimat? 3. To what extent have I become satopradhan? Do I have the concern day and night to become pure, satopradhan?
  2. You have to serve the world with the unlimited Father. Study this unlimited study and teach others. End the bondages of the body and bodily relationships by having remembrance of the Father.
Blessing: May you be free from ego and remain constantly happy hearted by renouncing any unripe fruit of regard or honour from doing service.
The royal forms of desires are name, respect and honour. Those who do service for their names to be known are able to earn a name for a temporary period, but their names go to the back in claiming a high status because the fruit they eat is unripe. Some children think that in the subject of service they should receive respect, but that is not respect; it is ego. Where there is ego there cannot be happiness and this is why you have to become free from ego and constantly experience happiness.
Slogan: Swing in the swing of happiness of God’s love and waves of sorrow cannot come.

*** Om Shanti ***

Special effort to become equal to Father Brahma.

Together with the number one soul of Brahma, all of you also have to become angels and go to the subtle region and then go to Paramdham and so, pay special attention to concentration of the mind and let your mind work under your orders. Experience uniqueness in every situation, in your attitude, your vision and your actions. Experience the angelic stage yourself and also give others this experience.

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 10 JANUARY 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 10 January 2019

To Read Murli 9 January 2019 :- Click Here
10-01-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – बाप का बनकर बाप का नाम बाला करो, नाम बाला होगा सम्पूर्ण पवित्र बनने से, तुम्हें सम्पूर्ण मीठा भी बनना है”
प्रश्नः- संगमयुग पर तुम बच्चों को कौन-सी एक फिक्र है जो सतयुग में नहीं होगी?
उत्तर:- संगम पर तुम्हें पावन बनने की ही फिक्र है, बाप ने तुम्हें और सब बातों से बेफिक्र बना दिया। तुम पुरूषार्थ करते हो कि यह पुराना शरीर खुशी-खुशी से छूटे। तुम जानते हो पुराना वस्त्र उतार नया लेंगे। हरेक बच्चे को अपनी दिल से पूछना है कि हमें कितनी खुशी रहती है, हम बाप को कितना याद करते हैं।

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों को रूहानी बाप समझाते हैं। पढ़ाते भी हैं, समझाते भी हैं। पढ़ाते हैं रचता और रचना के आदि, मध्य, अन्त का राज़ और समझाते हैं सर्वगुण सम्पन्न बनो, दैवीगुण धारण करो। याद करते-करते तुम सतोप्रधान बन जायेंगे। तुम जानते हो इस समय यह तमोप्रधान सृष्टि है, सतोप्रधान सृष्टि थी जो अब 5 हजार वर्ष में तमोप्रधान बनी है। यह है पुरानी दुनिया। सबके लिए कहेंगे ना। यह नई दुनिया में थे या शान्तिधाम में थे। बाप रूहों को ही बैठ समझाते हैं – हे रूहानी बच्चे, तुम्हें सतोप्रधान जरूर बनना है। बाप से वर्सा जरूर लेना है। मुझ अपने बाप को याद जरूर करना है। लौकिक बच्चे भी याद करते हैं। जितना बड़े होते जाते हद का वर्सा पाने के हकदार होते जाते हैं। तुम हो बेहद के बाप के बच्चे। बाप से बेहद का वर्सा लेना है। अभी भक्ति आदि करने की दरकार नहीं है। यह तो बच्चे समझ गये हैं-यह युनिवर्सिटी है। सब मनुष्य मात्र को पढ़ना है। बेहद की बुद्धि धारण करनी है। अभी यह पुरानी दुनिया चेन्ज होनी है। जो अब तमोप्रधान हैं वह सतोप्रधान होंगे। बच्चे जानते हैं इस समय हम बेहद के बाप से बेहद सुख का वर्सा पा रहे हैं। अब हमें एक रूहानी बाप की ही मत पर चलना है। इस रूहानी याद की यात्रा से ही तुम्हारी आत्मा सतोप्रधान होती जाती है फिर सतोप्रधान दुनिया में जाना है। तुम्हारी समझ में आता है कि हम ब्राह्मण हैं। हम बाप के बने हैं। पढ़ाई पढ़ रहे हैं और पढ़ने को ही ज्ञान कहा जाता है। भक्ति अलग है। तुम ब्राह्मणों को बाप ज्ञान सुनाते हैं और कोई को इस ज्ञान का पता नहीं है। वह यह नहीं जानते कि ज्ञान सागर बाप जो टीचर भी है, वह कैसे पढ़ाते हैं। बाबा टॉपिक्स तो बहुत समझाते रहते हैं। नम्बरवन बात है बाप का बनकर बाप का नाम बाला करना। सम्पूर्ण पवित्र बनना। सम्पूर्ण मीठा भी बनना है। यह है ही ईश्वरीय विद्या। भगवान् बैठ पढ़ाते हैं। उस ऊंचे से ऊंचे बाप को याद करना है। है सेकण्ड की बात। अपने को आत्मा समझो। तुम जानते हो हम आत्मायें शान्तिधाम में निवास करती हैं फिर यहाँ आती हैं पार्ट बजाने। पुनर्जन्म में आते ही रहते हैं। नम्बरवार 84 जन्मों का पार्ट हमने अब पूरा किया है। इस पढ़ाई को भी समझना है, पार्ट को भी समझना है। ड्रामा का राज़ भी बुद्धि में है। जानते हो यह हमारा अन्तिम जन्म है, इसमें बाप मिला है। जब 84 जन्म पूरे करते हैं तो पुरानी दुनिया बदलती है। तुम इस बेहद के ड्रामा को, 84 जन्मों को और इस पढ़ाई को जानते हो। 84 जन्म लेते-लेते अब पिछाड़ी में आकर ठहरे हो। अभी पढ़ रहे हो फिर नई दुनिया में जायेंगे। नये-नये आते रहते हैं। कुछ न कुछ निश्चय होता रहता है। कोई तो इस पढ़ाई में लग जाते हैं। बुद्धि में है हम सतोप्रधान, पवित्र बन रहे हैं। हम पवित्र बनते-बनते उन्नति को पाते रहेंगे।

बाबा ने समझाया है तुम जितना याद करते हो तुम्हारी आत्मा पवित्र बनती जाती है। बच्चों की बुद्धि में सारा ड्रामा बैठा हुआ है। यह भी जानते हो कि इस दुनिया का तुम सब कुछ छोड़कर आये हो। जो इन आंखों से देखते हैं वह देखने का है नहीं। यह सब खत्म हो जाने वाला है। अब तुम्हारा अन्तिम जन्म है और कोई भी इस बेहद के ड्रामा को नहीं जानते हैं। तुम अभी सारे चक्र को जानते हो, बाप आये हैं अब तुम्हें तमोप्रधान से सतोप्रधान बनाने। जैसे वह इम्तहान 12 मास के बाद होता है। तुम्हारी याद की यात्रा भी अभी पूरी नहीं हुई है। बहुत कुछ याद रहता है फिर पक्का होता जायेगा तो कुछ भी याद नहीं आयेगा। एकदम आत्मा अशरीरी आई, अशरीरी जाना है। तुम सारे सृष्टि के मनुष्य मात्र के पार्ट को जानते हो। बहुत मनुष्य बढ़ते जाते हैं। करोड़ों हो गये हैं। सतयुग में तो हम बहुत थोड़े हैं। पुनर्जन्म लेते-लेते और धर्मों के मठ-पंथ, टाल-टालियां बढ़ते-बढ़ते झाड़ बहुत बड़ा हो गया है। आदि सनातन देवी-देवता धर्म ही प्राय: लोप हो गया है। हम ही देवी-देवता धर्म में थे, सतोप्रधान थे। अब वह धर्म ही तमोप्रधान हो गया है, अब फिर सतोप्रधान बनना है और बनने के लिए ही हम पढ़ रहे हैं। जितना पढ़ेंगे, पढ़ायेंगे, उतना बहुतों का कल्याण होगा। बहुत प्यार से समझाना है। एरोप्लेन से पर्चे गिराने हैं। उसमें भी यही समझाना है कि तुम जन्म-जन्मान्तर भक्ति करते आये हो। गीता पढ़ना भी भक्ति है। ऐसे नहीं गीता पढ़ने से कोई मनुष्य से देवता बनेंगे। ड्रामानुसार जब बाप आते हैं तब ही आकर युक्ति बताते हैं सतोप्रधान बनने की। फिर सतोप्रधान पद मिल जाता है।

तुम जानते हो इस पढ़ाई से हम यह बनने वाले हैं। यह है ईश्वरीय पाठशाला। भगवान् पढ़ाकर तुमको नर से नारायण बनाते हैं। हम सतोप्रधान थे तो स्वर्ग था। तमोप्रधान बने तो नर्क है। फिर चक्र को फिरना है। बाप ही आकर मनुष्य से देवता, विश्व का मालिक बनाने का पुरूषार्थ कराते हैं। बाप को याद करना है और दैवी गुण धारण करने हैं। लड़ना-झगड़ना नहीं है। देवतायें कभी लड़ते-झगड़ते नहीं। तुमको भी वही बनना है। तुम ही ऐसे सर्वगुण सम्पन्न थे फिर बनना है श्रीमत पर। अपने से पूछना पड़े कि हमको कहाँ तक खुशी है? कहाँ तक निश्चय है? यह तो सारा दिन याद रहना चाहिए। परन्तु माया ऐसी है जो भुला देती है। तुम जानते हो बाप के साथ हम विश्व के खिदमतगार हैं। आगे तुम हद की पढ़ाई पढ़ते थे, अब बेहद की पढ़ाई, बेहद के बाप द्वारा पढ़ते हो। यह पुराना शरीर है जो अपने समय पर छूटने का है, आपेही न छूटे। हम खुशी से इस शरीर को छोड़ें। हम इस छी-छी शरीर को छोड़, पुरानी दुनिया को भी छोड़ खुशी से जाते हैं। कोई बड़ा दिन होता है तो खुशी से नये कपड़े पहनते हैं ना। यहाँ तुम जानते हो हमको नई दुनिया में नया शरीर मिलेगा। हमको एक ही फुरना है पावन बनने का और सब फिकरातों से हम फ़ारिग हो जाते हैं। यह सब ख़लास हो जाना है, फिक्र काहे का रखें। आधा कल्प हम भक्ति मार्ग में, फिक्र में रहे। फिर आधा कल्प कोई फिकरात नहीं रहेगी। बाकी थोड़ा समय है। पावन बनने का थोड़ा फिक्र है। फिर एक भी फिक्र नहीं रहेगा। यह सुख-दु:ख का खेल है। सतयुग में है सुख, कलियुग में है दु:ख। बाबा ने समझाया है तुम पूछ सकते हो सतयुग सुखधाम के रहवासी हो या कलियुग दु:खधाम के? यह तुम नई-नई बातें सुनाते हो। जरूर कहेंगे अब दु:खधाम के वासी हैं। बहुत प्यार से पूछा जाता है जो मनुष्य आपेही समझें कि हम कहाँ के वासी हैं। कहेंगे इनके प्रश्न पूछने की युक्ति तो बहुत अच्छी है। भल कितना भी बड़ा आदमी हो, धनवान हो, परन्तु है तो नर्कवासी ना। स्वर्ग तो नई दुनिया को कहा जाता है। अब कलियुग पुरानी दुनिया है। यह प्रश्न बहुत अच्छे हैं। सीढ़ी में भी क्लीयर है। तुम सुखधाम में हो वा दु:खधाम में हो? यह हेल है या हेविन? डीटी हो या डेविल हो? यह पूछना है। जरूर सतयुग को डीटी वर्ल्ड कहेंगे। कलियुग को नर्क, डेविल वर्ल्ड कहेंगे। तो पूछना है सतयुग स्वर्ग डीटी वर्ल्ड के वासी हो या कलियुग डेविल वर्ल्ड के वासी हो? भल कितना भी धनवान हो परन्तु वासी कहाँ के हो? अभी तुम्हारे में ज्ञान आया है। पहले यह बातें ख्याल में भी नहीं थी। अभी तुम समझते हो कि हम संगम पर हैं। जो कलियुग में हैं वह पतित नर्कवासी हैं, फिर पावन बनना है। तब तो पुकारते हैं-हे पतित-पावन आओ, आकर हमको पावन बनाओ। यह भी समझाना है। तुम्हारे पास कितने ढेर मनुष्य आते हैं फिर भी कोटों में कोई निकलते हैं। मैं जो हूँ, जैसा हूँ, जो सिखलाता हूँ-उस पर कोई बिरला ही चलता है। प्रभात फेरी में भी यही दिखाओ कि हम इस पढ़ाई से स्वर्गवासी बन रहे हैं। सतयुग-त्रेता-द्वापर-कलियुग.. यह चक्र फिरता है ना। तुम्हारी बुद्धि में सारा चक्र है। फिर से तुम सुखधाम-शान्तिधाम के मालिक बनते हो। सुखधाम में दु:ख का नाम भी नहीं। अगर पूरा पढ़ेंगे नहीं तो पद भी कम पायेंगे। यह तो कॉमन बात है इसलिए बेहद की पढ़ाई पढ़कर बेहद का वर्सा ले लो। सिर्फ अपने को आत्मा समझ, बेहद के बाप को याद करना है। बहुत मीठा बाबा है। उनका डायरेक्शन है कि देह सहित देह के सभी बन्धन खलास कर दो। आत्मा तो अविनाशी है। अभी-अभी शरीर लिया, अभी-अभी छोड़ा। देरी थोड़ेही लगती है। इस समय तो दिन-प्रतिदिन सब तमोप्रधान बनते जाते हैं। जब हम सतोप्रधान थे तो हम बड़ी आयु वाले थे और बहुत थोड़े थे। दूसरा कोई धर्म ही नहीं था। तुम्हारी आयु अभी के पुरूषार्थ से ही बढ़ती है। जितना याद करेंगे उतना तुम्हारी आयु बढ़ेगी। जब तुम सतोप्रधान थे तो तुम्हारी आयु बहुत बड़ी थी। फिर जितना नीचे उतरते गये तो आयु कम होती गई। रजो में उतरे तो आयु कम, तमो में आये तो और कम। जैसे नार का मिसाल है (नार-रहट) कंगनें (डब्बे) भरते हैं और खाली होते जाते हैं। (नार-कुएं से पानी निकालने का एक तरीका है)। यह भी बेहद का नार (रहट) है। तुम अभी भर रहे हो। भरते-भरते पूरे भर जायेंगे फिर धीरे-धीरे खाली होंगे। इनकी भेंट बैटरी से भी की जाती है। अभी हम सतोप्रधान बनकर जाते हैं फिर 84 जन्म लेते हैं। आधा कल्प के बाद रावण राज्य शुरू होता है। रावण राज्य में सबको कहेंगे नर्कवासी हैं। पीछे जो आयेंगे वह नर्क में ही आयेंगे। पहले तुम स्वर्ग में जाते हो। यह बाप से भक्ति का फल मिलता है। समझा जाता है इसने बहुत भक्ति की है तब ज्ञान भी लेते हैं। यह सब राज़ तुमको बाप ने समझाया है। तुमको फिर दूसरों को समझाना है। मनुष्यों ने अनेक प्रकार के पाप ही पाप किये हैं। अब बाप आया है, तुमको ज्ञान दे रहे हैं। बाप जब आते हैं तब ही आकर पढ़ाते हैं। इतना समय तो पता ही नहीं था। पापात्मा बनते ही गये हैं। पुण्य आत्मा कैसे बनते हैं फिर पाप आत्मा कैसे बनते हैं; कौन सतयुग के निवासी होते हैं, कौन कलियुग के निवासी होते हैं-कुछ भी पता नहीं था। अब बाप ने समझाया है। बाप को शमा भी कहते हैं। उनमें लाइट भी है और माइट भी है। लाइट में आते हो अर्थात् जगते हो तो माइट आ जाती है। तुम्हारी लाइफ भी बड़ी हो जाती है। तुमको वहाँ काल खा न सके। खुशी से एक शरीर छोड़ दूसरा लेते हो। दु:ख की कोई बात नहीं। जैसे एक खेल हो जाता है। (सर्प का मिसाल) तुमने सतयुग से लेकर कलियुग तक पार्ट बजाया है। यह बुद्धि में बैठ गया है।

बाबा तुम्हारा बाप भी है, टीचर भी है, सतगुरू भी है। यह सिर्फ बच्चे ही नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार जानते हैं। पुनर्जन्म को भी तुमने समझा है कि तुम कितने जन्म लेते हो। ब्राह्मण धर्म में तुम कितने जन्म लेते हो? (एक जन्म) कोई दो-तीन जन्म भी लेते हैं। समझो कोई शरीर छोड़ते हैं, वह संस्कार ब्राह्मणपन के ले जाते हैं। तो संस्कार ब्राह्मणपन के होने के कारण फिर भी सच्चे-सच्चे ब्राह्मण कुल में आ जायेंगे। ब्राह्मण कुल की आत्मायें तो वृद्धि को पाती रहेंगी। ब्राह्मण कुल के संस्कार तो ले जाते हैं ना। कुछ हिसाब-किताब है तो दो-तीन जन्म भी ले सकते हैं। एक शरीर छोड़ दूसरा लेंगे। आत्मा ब्राह्मण कुल से दैवीकुल में जायेगी। शरीर की तो बात नहीं। अब तुम बाप के बने हो, तुम ईश्वरीय सन्तान हो फिर प्रजापिता ब्रह्मा की भी सन्तान हो। दूसरा तुम्हारा कोई सम्बन्ध है नहीं। बेहद के बाप का बनना कोई कम बात थोड़ेही है! तुम सुखधाम के मालिक बन जाते हो। सिर्फ बड़े बाप को तुमने पहचान लिया है तो भी तुम्हारा बेड़ा पार हो जायेगा। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अपने आपसे पूछो कि – 1) हमें खुशी कहाँ तक रहती है? 2) सर्वगुण सम्पन्न थे, अब श्रीमत पर फिर बनना है, यह निश्चय कहाँ तक है? 3) हम सतोप्रधान कहाँ तक बने हैं? दिन-रात सतोप्रधान (पावन) बनने की फिकरात रहती है?

2) बेहद बाप के साथ विश्व की खिदमत (सेवा) करनी है। बेहद की पढ़ाई पढ़नी और पढ़ानी है। देह सहित जो भी बंधन हैं उन्हें बाप की याद से खलास कर देना है।

वरदान:- सेवा में मान-शान के कच्चे फल को त्याग सदा प्रसन्नचित रहने वाले अभिमान मुक्त भव
रॉयल रूप की इच्छा का स्वरूप नाम, मान और शान है। जो नाम के पीछे सेवा करते हैं, उनका नाम अल्पकाल के लिए हो जाता है लेकिन ऊंच पद में नाम पीछे हो जाता है क्योंकि कच्चा फल खा लिया। कई बच्चे सोचते हैं कि सेवा की रिजल्ट में मेरे को मान मिलना चाहिए। लेकिन यह मान नहीं अभिमान हैं। जहाँ अभिमान है वहाँ प्रसन्नता नहीं रह सकता, इसलिए अभिमान मुक्त बन सदा प्रसन्नता का अनुभव करो।
स्लोगन:- परमात्म प्यार के सुखदाई झूले में झूलो तो दु:ख की लहर आ नहीं सकती।

ब्रह्मा बाप समान बनने के लिए विशेष पुरुषार्थ

नम्बरवन ब्रह्मा की आत्मा के साथ आप सभी को भी फरिश्ता बन अव्यक्त वतन में जाकर फिर परमधाम में चलना है इसलिए मन की एकाग्रता पर विशेष अटेन्शन दो, ऑर्डर से मन को चलाओ। हर बात में, वृत्ति में, दृष्टि में, कर्म में न्यारापन अनुभव हो। फरिश्तेपन की अनुभूति स्वयं भी करो और औरों को भी कराओ

TODAY MURLI 10 JANUARY 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 10 DECEMBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 9 January 2018 :- Click Here

10/01/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, to remember a corporeal body is to be element (evil spirit) conscious, because bodies are made of the five elements. You have to become soul conscious and remember the one bodiless Father.
Question: What is the most elevated task which only the Father carries out?
Answer: To make the whole tamopradhan world satopradhan and constantly happy is the most elevated task which only the Father carries out. Because of this elevated task, His memorials have been made very great.
Question: Which two terms hold the secrets of the whole drama?
Answer: Worthy of worship and worshipper. When you are worthy of worship, you are the most elevated. Then you become the middle quality and then the lowest. Maya changes you from being worthy of worship into worshippers.
Song: The Flame has ignited in the gathering of the moths

Om shanti. God sits here and explains to you children that human beings cannot be called God. Even Brahma, Vishnu and Shankar have images, but they too cannot be called God. The residence of the Supreme Father, the Supreme Soul, is higher than theirs. He alone is called Prabhu, Ishwar, Bhagwan etc. When people call out, they are unable to see a subtle or corporeal form in front of them. This is why they call the form of a human being God. Even when they see a sannyasi, they say that he is God, but God, Himself, explains: Human beings cannot be called God. Many people remember incorporeal God a lot. Those who have not adopted gurus or are small children are also taught to remember the Supreme Soul. However, they are not told which Supreme Soul they should remember. They do not have an image in their intellects. At a time of sorrow, they call out: O Prabhu! No picture of a guru or deity appears in front of them. Although they have adopted many gurus, when they say “O God” they never remember their guru. Even if they do remember their guru and call him God, he is still a human being who takes birth and dies. Therefore, this means that they are remembering the body made of the five elements which are called the five evil spirits. A soul is not called an evil spirit. So that is worshipping the elements. Their intellects’ yoga is diverted to the body. If they consider a human being to be God, it isn’t that they remember the soul that is in that body; no. A soul is in each of them: the one who remembers and the one whom he remembers. They say that God is omnipresent. However, you cannot call God a sinful soul. In fact, when they say “The Supreme Soul” their intellects go to the incorporeal One. Incorporeal souls remember the incorporeal Father. That is called being soul conscious. Those who remember a corporeal body are element (evil spirit) conscious. Evil spirits remember evil spirits because they consider themselves to be bodies of the five elements instead of considering themselves to be souls. Their names are also given to the bodies. They consider themselves to be spirits (human beings) of the five elements and they remember the bodies of others; they are not soul conscious. If they were to consider themselves to be incorporeal souls, they would remember incorporeal God. The relationship of all souls is first of all with God. Souls remember God when they are in sorrow. They have a relationship with Him. He liberates souls from all sorrow. He is also called the Flame. It is not a question of a light etc. He is the Supreme Father, the Supreme Soul. When they call Him a Flame, people think that He is light. The Father Himself has explained: I am the Supreme Soul and I am called Shiva. Shiva is also called Rudra. That incorporeal One has many names. No one else has as many names. Brahma, Vishnu and Shankar have one name each. All bodily beings just have the one name. The one God is given many names. His praise is limitless. Human beings have one fixed name. You have now died alive and so you are given another name so that you forget everything of the past. You die alive in front of the Supreme Father, the Supreme Soul, and so this is the birth in which you have died alive. Therefore, you surely take birth to the Mother and Father. The Father sits here and explains these deep things to you. The world doesn’t know Shiva. They know Brahma, Vishnu and Shankar. They even speak of the day of Brahma and the night of Brahma. They have just heard that establishment takes place through Brahma, but they don’t know how. He is the Creator and so He would definitely create a new religion and a new world. Only through Brahma would He create the Brahmin clan. You Brahmins remember the Supreme Father, the Supreme Soul, and not Brahma, because you belong to Him through Brahma. Body-conscious brahmins outside would not call themselves children of Brahma, the grandchildren of Shiva. They even celebrate the birthday of Shiv Baba but, because of not knowing Him, they don’t value Him. They go to His temple and understand that He is not Brahma, Vishnu, Shankar or Lakshmi and Narayan. He is definitely the incorporeal Supreme Father, the Supreme Soul. All actors have their own part s. Even when they take rebirth, they are given their own names. The Supreme Father, the Supreme Soul, is the only one who doesn’t have a corporeal name or form. However, people with foolish intellects don’t understand this. Since there is the memorial of God, He must surely have come and created heaven. Otherwise, who would create heaven? He has come and once again created this sacrificial fire of the knowledge of Rudra. This is called a sacrificial fire because you have to sacrifice yourselves here. Many people create sacrificial fires. All of those are physical sacrificial fires of the path of devotion. The Supreme Father, the Supreme Soul, comes and creates a sacrificial fire Himself. He teaches you children. When a sacrificial fire is created, those brahmins relate the scriptures and religious stories etc. The Father is k nowledge-full. That Gita, Bhagawad and all the scriptures etc. belong to the path of devotion. Material sacrificial fires belong to the path of devotion. This is the time of the path of devotion. When the end of the iron age comes, devotion too can come to an end. Only then does God come and meet you, because He is the One who gives you the fruit of your devotion. He is called the Sun of Knowledge. There are the Sun of Knowledge, the moon of knowledge and the lucky stars. Achcha, the Father is the Sun of Knowledge. Then, there has to be the mother, the moon of knowledge. So the body He entered is the mother, the moon of knowledge. All the rest are the children, the lucky stars. According to this calculation, Jagadamba is a lucky star, because you are children. Among stars, some are brighter. It is the same here, numberwise. Those are the physical sun, moon and stars of the sky whereas these are aspects of knowledge. Similarly, those are rivers of water whereas these are rivers of knowledge that have emerged from the Ocean of Knowledge. People celebrate the birthday of Shiva, and so that Father of the whole world definitely comes. He must definitely come and create heaven. The Father comes to establish the original eternal deity religion that has disappeared. The Government doesn’t believe in religion. They say that they don’t have a religion. They are right. The Father also says that the original eternal deity religion of Bharat has disappeared. Religion is might. The people of Bharat were very happy when they were in the deity religion. There was the world almighty authority kingdom when the most elevated beings ruled the kingdom. Shri Lakshmi and Shri Narayan are called the most elevated beings. There are the highest and the lowest, numberwise. There are the most elevated beings, the highest beings, the middle level and the lowest human beings. Those who first of all become the most elevated beings then become the middle and then the lowest. Therefore, Lakshmi and Narayan are the most elevated; they are the most elevated of all human beings. Then, when they come down, they change from deities into warriors, from warriors into merchants, then into shudras and the lowest ones. Sita and Rama cannot be called the most elevated beings. The king and queen of all kings, the most elevated satopradhan beings, are Lakshmi and Narayan. You have all of these things in your intellects. How does this world cycle turn? First of all, they are the highest and then they become those of the middle level and then the lowest. At this time, the whole world is tamopradhan. The Father whose birthday you now celebrate explains this. You can tell people that, 5000 years ago, the Supreme Father, the Supreme Soul, Shiva came here. Otherwise, why do they celebrate the birthday of Shiva? The Supreme Father, the Supreme Soul, would definitely bring a gift for the children and He would definitely carry out the most elevated task. He makes the whole of the tamopradhan world satopradhan and constantly happy. To the extent that He is elevated, accordingly there is also just as great a memorial to Him. They looted that. People attack others for wealth. People even came from abroad because of the wealth here. Even at that time, there was a lot of wealth. However, Maya, Ravan made Bharat worth a shell and the Father has now come to make it worth a diamond. No one knows such a Shiv Baba. They say that He is omnipresent. It is a mistake to say this. The Satguru who takes the boat across is just the One whereas there are many who make you drown. All are drowning in the ocean of poison and this is why they say: Take us from this tasteless ocean of poison across to the other side where there is the ocean of milk. It is remembered that Vishnu used to live in an ocean of milk. Heaven is called the ocean of milk where Lakshmi and Narayan rule. It isn’t that Vishnu rests there in an ocean of milk. Those people create a big lake and place Vishnu in the middle of it. They make a very big image of Vishnu. Lakshmi and Narayan are not that big; at the most, they would perhaps be six feet tall. They also make big statues of the Pandavas. They create big effigies of Ravan too. Their names are important and so they create big images of them. Although Baba’s name is the most elevated, a small image is made of Him. They have given Him such a big form in order to explain. The Father says: I do not have such a big form. Just as souls are tiny, in the same way, I, the Supreme Soul, am also like a star. He is called the Supreme Soul. He is the most elevated of all. He has all the knowledge contained in Him. His praise is sung: He is the Seed of the human world tree. He is the Ocean of Knowledge. He is a living soul. However, He can only speak knowledge when He takes organs. Just as a child is unable to speak with his little organs, but when he grows older and he sees the scriptures etc., he remembers the sanskars of the past, so the Father sits here and explains to you children: I have come after 5000 years to teach you that same Raja Yoga. Krishna didn’t teach Raja Yoga. They just experienced their reward. They were in the sun dynasty for eight births, the moon dynasty for 12 births and then for 63 births they were in the merchant and shudra dynasties. This is the last birth of everyone. The Krishna soul is listening to this and you are also listening to it. This is the clan of the Brahmins of the confluence age. Then, from Brahmins you will go and become deities. The one Supreme Father, the Supreme Soul, establishes the three religions – the Brahmin religion, the sun-dynasty deity religion and the moon-dynasty warrior religion. Therefore, the scripture of all three should be just one. There aren’t different scriptures. Brahma, the greatest one, is the father of all, Prajapita. There is no scripture of his. “God speaks” is only mentioned in the Gita. It is not said: God Brahma speaks. It is God Shiva who speaks through Brahma and converts shudras into Brahmins. It is Brahmins who become deities and those who fail become warriors. They are reduced by two degrees. He explains everything so clearly. The Highest on High is the Supreme Father, the Supreme Soul. Then there are Brahma, Vishnu and Shankar. They too cannot be called the most elevated beings. Those who become the most elevated beings then become the lowest too. Out of all human beings, Lakshmi and Narayan are the most elevated and there is a temple to them. However, no one knows their praise. People simply continue as worshippers to worship them. From worshippers you are now becoming worthy of worship. Maya makes you worshippers again. The drama is created in this way. When the play comes to an end, I have to come and expansion automatically stops. You children then have to come and repeat your own part s. The Supreme Father, the Supreme Soul, Himself, sits here and explains to you. People celebrate His birthday on the path of devotion; they continue to celebrate it. In heaven, they do not celebrate anyone’s birthday. They don’t even celebrate the birthday of Krishna or Rama. They themselves would exist there in a practical form. Here, they have been and gone and this is why people celebrate it. There, they would not celebrate the birthday of Krishna every year. There, they are always in happiness, and so why would they celebrate a birthday? Children would be named by their parents. There are no gurus there. In fact, those things have no connection with knowledge or yoga. However, if you want to ask what systems exist there, Baba would say to you: Whatever systems are there, they will continue; you have no need to ask about them. First of all, make effort to claim your status. Become worthy and then ask. There must be one system or another in the drama. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Consider yourself to be an incorporeal soul and remember the incorporeal Father, not any bodily beings. Die alive and remove the old things of the past from your intellect.
  2. You have to surrender yourself completely in this sacrificial fire of the knowledge of Rudra that the Father has created. Do the service of convertingshudras to the Brahmin religion.
Blessing: May you be an elevated server who “wills” power to everyone with your own will power.
At present, some souls are thirsty for your co-operation, for they don’t have any power of their own. You especially have to give them help with your own powers and this is why you servers who have become instruments need to have the power of all powers. Just as Father Brahma in his final moments will ed his powers to the children so that this task is being carried out with that will, so, follow the f ather in the same way. Will your powers to souls and service will be completed according to the time.
Slogan: Where there is the power of unity and concentration, success is easily achieved.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

BRAHMA KUMARIS MURLI 10 JANUARY 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 10 January 2017

To Read Murli 9 January 2018 :- Click Here
10/01/18
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – साकार शरीर को याद करना भी भूत अभिमानी बनना है, क्योंकि शरीर 5 भूतों का है, तुम्हें तो देही-अभिमानी बन एक विदेही बाप को याद करना है”
प्रश्नः- सबसे सर्वोत्तम कार्य कौन सा है जो बाप ही करते हैं?
उत्तर:- सारी तमोप्रधान सृष्टि को सतोप्रधान सदा सुखी बना देना यह है सबसे सर्वोत्तम कार्य, जो बाप ही करते हैं। इस ऊंचे कार्य के कारण उनके यादगार भी बहुत ऊंचे-ऊंचे बनाये हैं।
प्रश्नः- किन दो शब्दों में सारे ड्रामा का राज़ आ जाता है?
उत्तर:- पूज्य और पुजारी, जब तुम पूज्य हो तब पुरुषोत्तम हो, फिर मध्यम, कनिष्ट बनते। माया पूज्य से पुजारी बना देती है।
गीत:- महफिल में जल उठी शमा…

ओम् शान्ति। भगवान बैठ बच्चों को समझाते हैं कि मनुष्य को भगवान नहीं कहा जा सकता। ब्रह्मा, विष्णु, शंकर का भी चित्र है उनको भगवान नहीं कह सकते। परमपिता परमात्मा का निवास उनसे भी ऊंच है। उनको ही प्रभू, ईश्वर, भगवान आदि कहते हैं। मनुष्य जब पुकारते हैं तो उन्हों को कोई भी आकार वा साकार मूर्ति दिखाई नहीं पड़ती, इसलिए किस भी मनुष्य आकार को भगवान कह देते हैं। सन्यासियों को भी देखते हैं तो कहते हैं भगवान, परन्तु भगवान खुद समझाते हैं कि मनुष्य को भगवान नहीं कहा जा सकता। निराकार भगवान को तो बहुत याद करते हैं। जिन्होंने गुरू नहीं किया है, छोटे बच्चे हैं उनको भी सिखाया जाता है परमात्मा को याद करो, परन्तु किस परमात्मा को याद करो – यह नहीं बताया जाता। कोई भी चित्र बुद्वि में नहीं रहता। दु:ख के समय कह देते हैं हे प्रभु। कोई गुरू वा देवता आदि का चित्र उनके सामने नहीं आता है। भल बहुत गुरू किये हों तो भी जब हे भगवान कहते हैं तो कभी उनको गुरू याद नहीं आयेगा। अगर गुरू को याद कर और ही भगवान कहें तो वह मनुष्य तो जन्म-मरण में आने वाला हो गया। तो यह गोया 5 तत्वों के बने हुए शरीर को याद करते हैं, जिसको 5 भूत कहा जाता है। आत्मा को भूत नहीं कहा जाता। तो वह जैसे भूत पूजा हो गई। बुद्धियोग शरीर तरफ चला गया। अगर किसी मनुष्य को भगवान समझते तो ऐसे नहीं कि उनमें जो आत्मा है उसको याद करते हैं। नहीं। आत्मा तो दोनों में है। याद करने वाले में भी है तो जिसको याद करते हैं उनमें भी है। परमात्मा को तो सर्वव्यापी कह देते। परन्तु परमात्मा को पाप आत्मा नहीं कहा जा सकता। वास्तव में परमात्मा नाम जब निकलता है तो बुद्धि निराकार तरफ चली जाती है। निराकार बाप को निराकार आत्मा याद करती है। उसको देही-अभिमानी कहेंगे। साकार शरीर को जो याद करते हैं वह जैसे भूत अभिमानी हैं। भूत, भूत को याद करते हैं क्योंकि अपने को आत्मा समझने बदले 5 भूतों का शरीर समझते हैं। नाम भी शरीर पर पड़ता है। अपने को भी 5 तत्वों का भूत समझते हैं और उनको भी शरीर से याद करते हैं। देही-अभिमानी तो हैं नहीं। अपने को निराकार आत्मा समझें तो निराकार परमात्मा को याद करें। सभी आत्माओं का सम्बन्ध पहले-पहले परमात्मा से है। आत्मा दु:ख में परमात्मा को ही याद करती है, उनके साथ सम्बन्ध है। वह आत्माओं को सभी दु:खों से छुड़ाते हैं। उनको शमा भी कहते हैं। कोई बत्ती आदि की तो बात नहीं। वह तो परमपिता परम आत्मा है। शमा कहने से मनुष्य फिर ज्योति समझ लेते हैं। यह तो बाप ने खुद समझाया है मैं परम आत्मा हूँ, जिसका नाम शिव है। शिव को रूद्र भी कहते हैं। उस निराकार के ही अनेक नाम हैं और कोई के इतने नाम नहीं। ब्रह्मा, विष्णु, शंकर का एक ही नाम है। जो भी देहधारी हैं उन्हों का एक ही नाम है। एक ईश्वर को ही अनेक नाम दिये जाते हैं। उनकी महिमा अपरमअपार है। मनुष्य का एक नाम फिक्स है। अब तुम मरजीवा बने हो तो तुम्हारे पर दूसरा नाम रखा गया है, जिससे पुराना सब भूल जाये। तुम परमपिता परमात्मा के आगे जीते जी मरते हो। तो यह है मरजीवा जन्म। तो जरूर मात पिता पास जन्म लिया जाता है। यह गुह्य बातें बाप बैठ तुमको समझाते हैं। दुनिया तो शिव को जानती नहीं। ब्रह्मा, विष्णु, शंकर को जानती है। ब्रह्मा का दिन, ब्रह्मा की रात भी कहते हैं। यह भी सिर्फ सुना है। ब्रह्मा द्वारा स्थापना… परन्तु कैसे, यह नहीं जानते। अब क्रियेटर तो जरूर नया धर्म, नई दुनिया रचेगा। ब्रह्मा द्वारा ब्राह्मण कुल ही रचेगा। तुम ब्राह्मण ब्रह्मा को नहीं परमपिता परमात्मा को याद करते हो क्योंकि ब्रह्मा द्वारा तुम उनके बने हो। बाहर वाले देह-अभिमानी ब्राह्मण ऐसे अपने को ब्रह्मा के बच्चे शिव के पोत्रे नहीं कहेंगे। शिवबाबा जिसकी जयन्ती भी मनाते हैं, परन्तु उनको न जानने कारण उनका कदर नहीं है। उनके मन्दिर में जाते हैं, समझते हैं यह ब्रह्मा, विष्णु शंकर वा लक्ष्मी-नारायण तो नहीं हैं। वह जरूर निराकार परमात्मा है। और सभी एक्टर्स का अपना-अपना पार्ट है, पुनर्जन्म लेते हैं, तो भी अपना नाम धरते हैं। यह परमपिता परमात्मा एक ही है, जिसका व्यक्त नाम रूप नहीं है, परन्तु मूढ़मति मनुष्य समझते नहीं हैं। परमात्मा का यादगार है तो जरूर वह आया होगा, स्वर्ग रचा होगा। नहीं तो स्वर्ग कौन रचेगा। अब फिर आकर यह रूद्र ज्ञान यज्ञ रचा है। इसको यज्ञ कहा जाता है क्योंकि इसमें स्वाहा होना होता है। यज्ञ तो बहुत मनुष्य रचते हैं। वह तो सब हैं भक्ति मार्ग के स्थूल यज्ञ। यह परमपिता परमात्मा स्वयं आकर यज्ञ रचते हैं। बच्चों को पढ़ाते हैं। यज्ञ जब रचते हैं तो उसमें भी ब्राह्मण लोग शास्त्र कथायें आदि सुनाते हैं। यह बाप तो नॉलेजफुल है। कहते हैं यह गीता भागवत आदि शास्त्र सभी भक्ति मार्ग के हैं। यह मैटेरियल यज्ञ भी भक्ति मार्ग के हैं। यह है ही भक्ति मार्ग का समय। जब कलियुग का अन्त आये तब भक्ति का भी अन्त आये, तब ही भगवान आकर मिले क्योंकि वही भक्ति का फल देने वाला है। उनको ज्ञान सूर्य कहा जाता है। ज्ञान चन्द्रमा, ज्ञान सूर्य और ज्ञान लकी सितारे। अच्छा ज्ञान सूर्य तो है बाप। फिर माता चाहिए ज्ञान चन्द्रमा। तो जिस तन में प्रवेश किया है वह हो गई ज्ञान चन्द्रमा माता और बाकी सब हैं बच्चे लकी सितारे। इस हिसाब से जगदम्बा भी लकी स्टार हो गई क्योंकि बच्चे ठहरे ना। स्टार्स में कोई सबमें तीखा भी होता है। वैसे यहाँ भी नम्बरवार हैं। वह हैं स्थूल आकाश के सूर्य चाँद और सितारे और यह है ज्ञान की बात। जैसे वह पानी की नदियां और यह है ज्ञान की नदियां, जो ज्ञान सागर से निकली हैं।

अब शिवजयन्ती मनाते हैं, जरूर वह सारे सृष्टि का बाप आते हैं। आकर जरूर स्वर्ग रचते होंगे। बाप आते ही हैं आदि सनातन देवी-देवता धर्म की स्थापना करने, जो प्राय: लोप हो गया है। गवर्मेन्ट भी कोई धर्म को नहीं मानती है। कहते हैं हमारा कोई धर्म नहीं। यह ठीक कहते हैं। बाप भी कहते हैं भारत का आदि सनातन देवी-देवता धर्म प्राय: लोप है। धर्म में ताकत रहती है। भारतवासी अपने दैवी धर्म में थे तो बहुत सुखी थे। वर्ल्ड आलमाइटी अथॉरिटी राज्य था। पुरुषोत्तम राज्य करते थे। श्री लक्ष्मी-नारायण को ही पुरुषोत्तम कहा जाता है। नम्बरवार ऊंच नीच तो होते हैं। सर्वोत्तम पुरुष, उत्तम पुरुष, मध्यम, कनिष्ट पुरुष तो होते ही हैं। पहले-पहले सभी से सर्वोत्तम पुरुष जो बनते हैं वही फिर मध्यम, कनिष्ट बनते हैं। तो लक्ष्मी-नारायण हैं पुरुषोत्तम। सभी पुरुषों में उत्तम। फिर नीचे उतरते हैं तो देवता से क्षत्रिय, क्षत्रिय से फिर वैश्य, शूद्र कनिष्ट बनते हैं। सीता राम को भी पुरुषोत्तम नहीं कहेंगे। सभी राजाओं के राजा, सर्वोत्तम सतोप्रधान पुरुषोत्तम हैं लक्ष्मी-नारायण। यह सब बातें तुम्हारी बुद्वि में बैठी हैं। कैसे यह सृष्टि का चक्र चलता है। पहले-पहले उत्तम फिर मध्यम, कनिष्ट बनते हैं। इस समय तो सारी दुनिया तमोप्रधान है, यह बाप समझाते हैं। जिसकी अब जयन्ती मनायेंगे, तुम बता सकते हो कि आज से 5 हजार वर्ष पहले परमपिता परमात्मा शिव पधारे थे। नहीं तो शिव जयन्ती क्यों मनाते! परमपिता परमात्मा जरूर बच्चों के लिए सौगात ले आयेंगे और जरूर सर्वोत्तम कार्य करेंगे। सारी तमोप्रधान सृष्टि को सतोप्रधान सदा सुखी बनाते हैं। जितना ऊंच है उतना ऊंच यादगार भी था जिस मन्दिर को लूटकर ले गये। मनुष्य चढ़ाई करते ही हैं धन के लिए। फारेन से भी आये धन के लिए, उस समय भी धन बहुत था। परन्तु माया रावण ने भारत को कौड़ी तुल्य बना दिया है। बाप आकर हीरे तुल्य बनाते हैं। ऐसे शिवबाबा को कोई भी नहीं जानते हैं। कह देते सर्वव्यापी है, यह कहना भी भूल है। नईया पार करने वाला सतगुरू एक है। डुबोने वाले अनेक हैं। सभी विषय सागर में डूबे हुए हैं तब तो कहते हैं इस असार संसार, विषय सागर से उस पार ले चलो, जहाँ क्षीरसागर है। गाया भी जाता है कि विष्णु क्षीरसागर में रहते थे। स्वर्ग को क्षीरसागर कहा जाता है। जहाँ लक्ष्मी-नारायण राज्य करते हैं। बाकी ऐसे नहीं विष्णु वहाँ क्षीरसागर में विश्राम करते हैं। वो लोग तो बड़ा तलाब बनाकर उसके बीच में विष्णु को रखते हैं। विष्णु भी लम्बा चौड़ा बनाते हैं। इतने बड़े तो लक्ष्मी-नारायण होते नहीं। बहुत-बहुत 6 फुट होंगे। पाण्डवों के भी बड़े-बड़े बुत बनाते हैं। रावण का कितना बड़ा बुत बनाते हैं। बड़ा नाम है तो बड़ा चित्र बनाते हैं। बाबा का नाम भल बड़ा है परन्तु उनका चित्र छोटा है। यह तो समझाने लिए इतना बड़ा रूप दे दिया है। बाप कहते हैं मेरा इतना बड़ा रूप नहीं है। जैसे आत्मा छोटी है वैसे ही मैं परमात्मा भी स्टार मिसल हूँ। उसको सुप्रीम सोल कहा जाता है, वह है सबसे ऊंच। उसी में सारा ज्ञान भरा हुआ है, उनकी महिमा गाई हुई है कि वह मनुष्य सृष्टि का बीजरूप है, ज्ञान का सागर है, चैतन्य आत्मा है। परन्तु सुनावे तब जब आरगन्स लेवे। जैसे बच्चा भी छोटे आरगन्स से बात नहीं कर सकता है, बड़ा होता है तो शास्त्र आदि देखने से अगले संस्कारों की स्मृति आ जाती है। तो बाप बैठ बच्चों को समझाते हैं मैं फिर से 5 हजार वर्ष बाद तुमको वही राजयोग सिखाने आया हूँ। कृष्ण ने कोई राजयोग नहीं सिखाया है। उन्होंने तो प्रालब्ध भोगी है। 8 जन्म सूर्यवंशी, 12 जन्म चन्द्रवंशी फिर 63 जन्म वैश्य, शूद्र वंशी बनें। अभी सबका यह अन्तिम जन्म है। यह कृष्ण की आत्मा भी सुनती है। तुम भी सुनते हो। यह है संगमयुगी ब्राह्मणों का वर्ण। फिर तुम ब्राह्मण से जाकर देवता बनेंगे। ब्राह्मण धर्म, सूर्यवंशी देवता धर्म और चन्द्रवंशी क्षत्रिय धर्म तीनों का स्थापक एक ही परमपिता परमात्मा है। तो तीनों का शास्त्र भी एक होना चाहिए। अलग-अलग कोई शास्त्र हैं नहीं। ब्रह्मा इतना बड़ा सभी का बाप है, प्रजापिता। उनका भी कोई शास्त्र है नहीं। एक गीता में ही भगवानुवाच है। ब्रह्मा भगवानुवाच नहीं है। यह है शिव भगवानुवाच ब्रह्मा द्वारा, जिससे शूद्रों को कनवर्ट कर ब्राह्मण बनाया जाता है। ब्राह्मण ही देवता और जो नापास होते हैं, वह क्षत्रिय बन जाते हैं। दो कला कम हो जाती हैं। कितना अच्छी रीति समझाते हैं। ऊंच ते ऊंच है परमपिता परमात्मा फिर ब्रह्मा, विष्णु, शंकर उनको भी पुरुषोत्तम नहीं कहेंगे। जो पुरुषोत्तम बनते हैं, वही फिर कनिष्ट भी बनते हैं। मनुष्यों में सर्वोत्तम हैं लक्ष्मी-नारायण, जिसके मन्दिर भी हैं। परन्तु उनकी महिमा को कोई जानते नहीं हैं। सिर्फ पूजा करते रहते हैं। अब तुम पुजारी से पूज्य बन रहे हो। माया फिर पुजारी बना देती है। ड्रामा ऐसा बना हुआ है। जब नाटक पूरा होता है तभी मुझे आना पड़ता है। फिर वृद्धि होना भी आटोमेटिकली बन्द हो जाता है। फिर तुम बच्चों को आकर अपना-अपना पार्ट रिपीट करना है। यह परमपिता परमात्मा खुद बैठ समझाते हैं, जिसकी जयन्ती भक्तिमार्ग में मनाते हैं। यह तो मनाते ही रहेंगे। स्वर्ग में तो कोई की भी जयन्ती नहीं मनाते हैं। कृष्ण, राम आदि की भी जयन्ती नहीं मनायेंगे। वह तो खुद प्रैक्टिकल में होंगे। यह तो होकर गये हैं, तब मनाते हैं। वहाँ वर्ष-वर्ष कृष्ण का बर्थ डे नहीं मनायेंगे। वहाँ तो सदैव खुशियां हैं ही, बर्थ डे क्या मनायेंगे। बच्चे का नाम तो मात-पिता ही रखते होंगे। गुरू तो वहाँ होता नहीं। वास्तव में इन बातों का ज्ञान और योग से कोई कनेक्शन नहीं है। बाकी वहाँ की रसम क्या है, सो पूछना होता है, या तो बाबा कह देंगे वहाँ के कायदे जो होंगे वह चल पड़ेंगे, तुमको पूछने की क्या दरकार है। पहले मेहनत कर अपना पद तो प्राप्त कर लो। लायक तो बनो, फिर पूछना। ड्रामा में कोई न कोई कायदा होगा। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अपने को निराकार आत्मा समझ निराकार बाप को याद करना है। किसी भी देहधारी को नहीं। मरजीवा बन पुरानी बातों को बुद्धि से भूल जाना है।

2) बाप के रचे हुए इस रूद्र यज्ञ में सम्पूर्ण स्वाहा होना है। शूद्रों को ब्राह्मण धर्म में कनवर्ट करने की सेवा करनी है।

वरदान:- अपनी विल पावर द्वारा हर एक को विल कराने वाले श्रेष्ठ सेवाधारी भव 
वर्तमान समय कई आत्मायें आपके सहयोग के लिए चात्रक हैं लेकिन अपनी शक्ति नहीं है। उन्हें आपको अपने शक्तियों की मदद विशेष देनी पड़ेगी इसलिए निमित्त बने हुए सेवाधारियों में सर्व शक्तियों की पावर चाहिए। जैसे ब्रह्मा बाप ने लास्ट में बच्चों को शक्तियों की विल की, उस विल से यह कार्य चल रहा है, ऐसे फालो फादर। अपने शक्तियों की विल आत्माओं के प्रति करो तो समय के प्रमाण सेवा सम्पन्न हो जायेगी।
स्लोगन:- जहाँ एकता और एकाग्रता की शक्ति है वहाँ सफलता सहज प्राप्त होती है।

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

Font Resize