daily murli 1 November

TODAY MURLI 1 NOVEMBER 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 1 November 2020

01/11/20
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
11/04/86

The way to create the portrait of your elevated fortune.

Today, BapDada, the Creator of Fortune, is seeing the portraits of the elevated fortune of all the children. All of you have become fortunate, but the sparkle of the portrait of fortune of each one is unique. When portraits are painted by artists, some portraits are valued at thousands of rupees, whereas others are ordinary. Here, to portray the fortune you have received from BapDada means to put it into your practical life. It is in this that there is a difference. The creator of Fortune has distributed the same fortune to everyone at the same time but, because the souls who make the portraits of their fortune are different, the portraits they make are seen to be numberwise. The speciality of portrait is revealed in the eyes and the smile. The value of a portrait is based on these two specialities. Similarly, here, too, the portrait of fortune also has these two specialities. Eyes means the outlook of world benefit and mercy and of benevolence towards those who have done harm. If your eyes have these specialities, then the portrait of your fortune is elevated. The main things are the look, the smile and the sparkle on your face. This is the sparkle of remaining constantly content – of contentment and happiness. It is with these specialities that you constantly have a spiritual sparkle on your face. It is experienced as a spiritual smile. It is these two specialities that increase the value of the portrait. So, this is what Baba was looking at today. All of you have created the portraits of your fortune. The Father has given each of you a pen with which to draw your portrait. That pen is elevated consciousness and the knowledge of elevated actions. Elevated actions and elevated thoughts means an elevated consciousness. With the pen of this knowledge, each one of you souls is creating the portrait of your fortune and you have already painted it. The portrait is already painted. The eyes and features have also been drawn. Now, just the final touchings of completion and of becoming equal to the Father remain to be added. The double foreigners love painting a lot. So, today, BapDada was seeing everyone’s portraits. Each one of you can also see your own portrait, can you not, and see how valuable it is? Always look at this spiritual portrait of yours and continue to perfect it. Out of all the souls of the world, you are the few out of multimillions, and a handful out of those few fortunate ones. However, one is to be elevated and the other is to be the most elevated of all. So, have you become elevated or the most elevated of all? Check this. Achcha.

Today, you double foreigners will race, will you not? Are you going to claim a number ahead or simply be happy seeing the ones at the front? It is also necessary to be happy to see others, but do not look at others whilst staying at the back yourself. Be alongside them and continue to move along whilst being happy seeing others. Move forward yourself and also enable those at the back to move forward. This is called uplifting others. The speciality of being one who uplifts others is always to remain free from any selfish motive. In every situation, in every task and in every co-operative gathering, the more selflessness there is, the more you will be able to uplift others. You will experience yourself to be constantly full. You will always have the stage of being an embodiment of attainments. Only then will you be able to experience the final stage of being one who uplifts others and who enables others to have that experience. You saw Father Brahma: the specialities visible in the final stage were of being beyond and of uplifting others. He didn’t accept anything for himself. He neither accepted any praise of himself nor any items; he didn’t accept a place for himself to stay in either. In terms of physical and subtle things, he always put the children before himself. This is known as uplifting others. This is the sign of completion and perfection. Do you understand?

You have heard a lot of murlis. Now, become murlidhars and constantly continue to dance and make others dance. With a flute, they are able to remove the poison from a snake. So, become such a murlidhar that no matter how bitter or harsh someone’s nature and sanskars may be, you are able to control it, that is, you are able to liberate that one and make that soul dance and become cheerful. Now, we shall see the result as to who becomes such a worthy murlidhar. You have love for the murli and also for the Murlidhar, but the proof of love is to fulfil in a practical way the pure desire that the Murlidhar has for you children. The sign of love is to demonstrate practically whatever you have been told. You are such master murlidhars, are you not? You have to become that. If you don’t become that now, then when would you become that? Do not think that you will do it at some point. You have to do it. Each one of you has to think: If I don’t do it, who would? I definitely have to do this. I have to become this. I have to win this deal of every cycle. It is a matter of the whole cycle. So, imbibe the determination to go into the first division. Are you talking about something new? You are simply drawing a line over the line that you have drawn so many times. The line of the drama is already drawn. You are not even drawing a new line that you would have to wonder whether it will be straight or not. You are simply recreating the reward of every cycle that is already created, because this is the account of the fruit of actions. So, what is new in that? This is something old; it is already accomplished. This is unshakeable faith. This is called determination. This is known as being an image of tapasya. To have determination in every thought means tapasya. Achcha.

BapDada is the Highest Host and also the Golden Guest. He meets you as the Host and also as the Guest. However, He is the Golden Guest. He is sparkling, is He not? You have seen many guests, but you have never seen the Golden Guest. You call on a chief guest to give thanks. So, Father Brahma became the host and gave signals and, as the guest, is congratulating everyone. As the Golden Guest, He is giving congratulations to those who have served throughout the whole season. Who should be given congratulations first of all? To the instrument Dadis. BapDada is giving congratulations for the completion of service that has been free from obstacles. Baba is also giving special congratulations to the Madhuban residents for becoming free from obstacles, for remaining cheerful and for giving hospitality to all the guests. God Himself has come as the Guest and so have the children. The one in whose home God comes as the Guest is so fortunate. Congratulations to the chariot too because to play this part is not a small thing. To be able to take such a power into herself for so long is also a special part. However, all of you are receiving the fruit of this power to accommodate. So, to accommodate BapDada’s power with the speciality of the power to accommodate is also a special part or virtue. So, among all the servers, this one also remained free from obstacles in playing her part of service. Congratulations for that and also multimillion-fold thanksDouble thanks to the double foreigners, because you have made Madhuban so beautiful. Congratulations for being the decoration of the Brahmin family. Congratulations for being the decoration of Madhuban and of the family. You are the special gift of the Madhuban family. This is why the double foreigners are being given double congratulations. No matter where you are, there are only a few in front of Baba, and Baba is giving congratulations with a big heart to all the children everywhere in Bharat and abroad. Each one of you has played a very good part. Now just one thing remains, and that is: to become equal and perfect. The Dadis have also made very good effort. They are playing the parts of both Bap and Dada in the corporeal form. This is why BapDada is giving love as well as congratulations from His heart. All of you played a very good part. All the all-round servers, even though it may have been just a little service, that service was still great. Each one of you accumulated for yourself and also performed charity. The speciality of all the children from this land and abroad in reaching here is also worthy of congratulations. All the maharathis together put the elevated thought of service into a practical form and will continue to do so. Those who are instruments for service must not be given any difficulty either. You must not make anyone work hard because of your own carelessness. To look after your own things is also an aspect of knowledge. Do you remember what Father Brahma used to say? If you lose your handkerchief, you will even lose yourself one day. To be elevated and successful in every thought is to be knowledge-full. You have knowledge of the body and also the knowledge of the soul. Both types of knowledge are needed in every action. The knowledge of illness of the body is also needed. You need to know with which method your body can function well. Do not think that the soul is powerful, so it doesn’t matter about the body. If your body is not well, you will not be able to have yoga. Your body would then pull you to itself. This is why all of this knowledge is also included in being knowledge-full. Achcha.

Some kumaris had a surrender ceremony in front of BapDada:

BapDada is seeing all the special souls especially decorated. The decoration of the divine virtues is making everyone look so good and beautiful. The crowns of light are sparkling so beautifully. BapDada is seeing the faces that are decorated with an imperishable decoration. BapDada is pleased to see this thought of the children filled with zeal and enthusiasm. BapDada has chosen all of you for all time. You have also selected Baba very firmly, have you not? The bracelet of a determined thought has now been fixed. Each one’s thought of love from the heart reaches BapDada the fastest of all. Now, this elevated bond will not become loose even in your thoughts. You have tied yourself so firmly, have you not? For how many births have you made a promise? It is a firm promise of always being in relationship with Father Brahma, and it is guaranteed that you will be with him constantly for 21 births in different names, forms and relationships. So, you have so much happiness. Can you calculate it? No one who can calculate this has as yet emerged. Now, always remain decorated as you are, always wear the crown and always stay in spiritual pleasure whilst singing and laughing in happiness. All of you had a determined thought today, did you not, that you will become those who place your feet in Baba’s footsteps? There, the bride physically places her feet in the bridegroom’s footsteps, but all of you are those who place your feet of your thought in the footsteps of the Father’s thought. Whatever is the Father’s thought is the children’s thought. Have you had such a thought? Not a single step should be out of place – nowhere but in the Father’s footsteps. Let every thought be powerful, that is, place your feet in the Father’s footsteps, like the father does. Achcha.

To foreign brothers and sisters:

Just as you have come flying here in planes, so too, the plane of the intellect also has to be always flying so fast. Otherwise, you might not be able to catch that plane according to the circumstances. However, if you always have the plane of the intellect with you and it is always powerful, then you can go wherever you want within a second. So, you are the masters of this plane, are you not? Let this plane of the intellect be always everready, that is, let the line of the intellect be clear. Let the intellect always be powerfully with the Father, for only then will you be able to go where you want in a second. For those whose plane of the intellect goes high, the physical plane will also fly well for them. If the plane of the intellect is not in good shape, then that plane will also not fly. Achcha.

BapDada meeting groups:

1. Do you always experience yourselves to be elevated Raj Yogi souls? A Raj Yogi means to be a king (ruler) of all your physical organs. Be a king who controls the physical organs, not one who is controlled by your physical organs. Those who move along under the control of their physical organs are praja-yogis (subjects), not Raj Yogis. Since you have received the knowledge that those physical organs are your workers, and that you are their master, then the master can never be influenced by the workers. No matter how much someone may try, Raj Yogi souls always remain elevated. You now have to fill yourselves with the sanskars of constantly ruling in this Raj Yogi life. No matter what happens, always remember this title of yours: I am a Raj Yogi. You have the power of the Almighty Authority, you have faith in Him and so you receive success as your right. A right is attained easily, it is not difficult. Every task is guaranteed successfully on the basis of all powers. Always have the spiritual intoxication that you are a soul seated on the heart throne. This spiritual intoxication will take you beyond all worries. If there isn’t this spiritual intoxication, then there is nothing but worries. So, always maintain this intoxication, be one who has received all blessings and continue to distribute blessings. Become complete and also make others complete. To make others this means to give them the certificate for a seat in heaven. Not a paper certificate, but a right. Achcha.

2. You have become those who accumulate an income of multimillions at every step, who are masters of the unlimited treasures. Do you experience such happiness? Today’s world is deceitful. You have stepped away from the deceitful world. You do not have any attachment to the deceitful world, do you? To have connections for the sake of service is a different matter, but do not have any attachment in your minds. So always maintain the intoxication that you are not simple, you are not ordinary, but that you are elevated souls and that you are always loved by the Father. As is the Father, so are the children. Continue to place your steps in the Father’s footsteps, that is, continue to follow, and you will become equal to the Father. To become equal means to become complete. This is the task of Brahmin life.

3. Do you always consider yourselves to be spiritual roses of the Father’s spiritual garden? Roses are the most fragrant flowers. Rose water is used for so many purposes. In terms of colour and beauty, roses are loved the most. So, all of you are spiritual roses. Your spiritual fragrance automatically attracts others. Whenever there is something fragrant, everyone’s attention is automatically drawn to it. The fragrance of you spiritual roses attracts the world because it needs this spiritual fragrance. So, always keep this in your awareness: I am an eternal rose of the eternal garden. I will never wilt, I will always be in bloom. Such blooming spiritual roses always become instruments for service automatically. Continue to give everyone the fragrance of remembrance and of the powers and virtues. The Father Himself has come and prepared you flowers and so you are such specially loved, long-lost and now-found ones. Achcha.

Blessing: May you become a knower of all secrets and remain constantly happy by knowing the secret of being detached and loving.
The children who know the secret of being detached and loving while living at home with their families, are happy with themselves and they also keep their families happy. Along with this, because they have true hearts, the Lord is also always pleased with them. Such children, who are knowers of this secret and who remain constantly happy, do not need to make anyone their advisor – for themselves or for anyone else – because they can make their own decisions. So, they do not need to make anyone their advisor, lawyer or judge.
Slogan: The blessings you receive from doing service are the basis of your good health.

 

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 1 NOVEMBER 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 1 November 2020

Murli Pdf for Print : – 

01-11-20
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 11-04-86 मधुबन

श्रेष्ठ तकदीर की तस्वीर बनाने की युक्ति

आज तकदीर बनाने वाले बापदादा सभी बच्चों की श्रेष्ठ तकदीर की तस्वीर देख रहे हैं। तकदीर-वान सभी बने हैं, लेकिन हर एक के तकदीर के तस्वीर की झलक अपनी-अपनी है। जैसे कोई भी तस्वीर बनाने वाले तस्वीर बनाते हैं तो कोई तस्वीर हजारों रुपयों के दाम की अमूल्य होती है, कोई साधारण भी होती है। यहाँ बापदादा द्वारा मिले हुए भाग्य को, तकदीर को तस्वीर में लाना अर्थात् प्रैक्टिकल जीवन में लाना है। इसमें अन्तर हो जाता है। तकदीर बनाने वाले ने एक ही समय और एक ने ही सभी को तकदीर बांटी। लेकिन तकदीर को तस्वीर में लाने वाली हर आत्मा भिन्न-भिन्न होने के कारण जो तस्वीर बनाई है उसमें नम्बरवार दिखाई दे रहे हैं। कोई भी तस्वीर की विशेषता नयन और मुस्कराहट होती है। इन दो विशेषताओं से ही तस्वीर का मूल्य होता है। तो यहाँ भी तकदीर के तस्वीर की यही दो विशेषताये हैं। नयन अर्थात् रूहानी विश्व कल्याणी, रहम दिल, पर-उपकारी दृष्टि। अगर दृष्टि में यह विशेषताये हैं तो भाग्य की तस्वीर श्रेष्ठ है। मूल बात है दृष्टि और मुस्कराहट, चेहरे की चमक। यह है सदा सन्तुष्ट रहने की, सन्तुष्टता और प्रसन्नता की झलक। इसी विशेषताओं से सदा चेहरे पर रूहानी चमक आती है। रूहानी मुस्कान अनुभव होती है। यह दो विशेषतायें ही तस्वीर का मूल्य बढ़ा देती हैं। तो आज यही देख रहे थे। तकदीर की तस्वीर तो सभी ने बनाई है। तस्वीर बनाने की कलम बाप ने सबको दी है। वह कलम है – श्रेष्ठ स्मृति, श्रेष्ठ कर्मों का ज्ञान। श्रेष्ठ कर्म और श्रेष्ठ संकल्प अर्थात् स्मृति। इस ज्ञान की कलम द्वारा हर आत्मा अपने तकदीर की तस्वीर बना रही है, और बना भी ली है। तस्वीर तो बन गई है। नैन चैन भी बन गये हैं। अब लास्ट टचिंग है “सम्पूर्णता” की। बाप समान बनने की। डबल विदेशी चित्र बनाना ज्यादा पसन्द करते हैं ना। तो बापदादा भी आज सभी की तस्वीर देख रहे हैं। हरेक अपनी तस्वीर देख सकते हैं ना कि कहाँ तक तस्वीर मूल्यवान बनी है। सदा अपनी इस रूहानी तस्वीर को देख इसमें सम्पूर्णता लाते रहो। विश्व की आत्माओं से तो श्रेष्ठ भाग्यवान कोटों में कोई, कोई में भी कोई अमूल्य वा श्रेष्ठ भाग्यवान तो हो ही, लेकिन एक हैं श्रेष्ठ, दूसरे हैं श्रेष्ठ ते श्रेष्ठ। तो श्रेष्ठ बने हैं वा श्रेष्ठ ते श्रेष्ठ बने हैं? यह चेक करना है। अच्छा!

अब डबल विदेशी रेस करेंगे ना! आगे नम्बर लेना है वा आगे वालों को देख खुश होना है। देख-देख खुश होना भी आवश्यक है, लेकिन स्वयं पीछे होकर नहीं देखो, साथ-साथ होते दूसरों को भी देख हर्षित हो चलो। स्वयं भी आगे बढ़ो और पीछे वालों को भी आगे बढ़ाओ। इसी को ही कहते हैं पर-उपकारी। यह पर-उपकारी बनना इसकी विशेषता है – स्वार्थ भाव से सदा मुक्त रहना। हर परिस्थिति में, हर कार्य में हर सहयोगी संगठन में जितना नि:स्वार्थ पन होगा, उतना ही पर-उपकारी होगा। स्वयं सदा भरपूर अनुभव करेगा। सदा प्राप्ति स्वरूप की स्थिति में होगा। तब पर-उपकारी की लास्ट स्टेज अनुभव कर और दूसरों को करा सकेंगे। जैसे ब्रह्मा बाप को देखा लास्ट समय की स्थिति में “उपराम” और “पर-उपकार” यह विशेषता सदा देखी। स्व के प्रति कुछ भी स्वीकार नहीं किया। न महिमा स्वीकार की, न वस्तु स्वीकार की। न रहने का स्थान स्वीकार किया। स्थूल और सूक्ष्म सदा “पहले बच्चे”। इसको कहते हैं पर-उपकारी। यही सम्पन्नता की, सम्पूर्णता की निशानी है। समझा!

मुरलियां तो बहुत सुनी। अब मुरलीधर बन सदा नाचते और नचाते रहना है। मुरली से साँप के विष को भी समाप्त कर लेते हैं। तो ऐसा मुरलीधर हो जो किसी का कितना भी कडुवा स्वभाव-संस्कार हो उसको भी वश कर दे अर्थात् उससे मुक्त कर नचा दे। हर्षित बना दे। अभी यह रिजल्ट देखेंगे कि कौन-कौन ऐसे योग्य मुरलीधर बनते हैं। मुरली से भी प्यार है, मुरलीधर से भी प्यार है लेकिन प्यार का सबूत है, जो मुरलीधर की हर बच्चे प्रति शुभ आशा है – वह प्रैक्टिकल में दिखाना। प्यार की निशानी है जो कहा वह करके दिखाना। ऐसे मास्टर मुरलीधर हो ना। बनना ही है, अब नहीं बनेंगे तो कब बनेंगे। करेंगे, यह ख्याल नहीं करो। करना ही है। हर एक यही सोंचे कि हम नहीं करेंगे तो कौन करेगा। हमको करना ही है। बनना ही है। कल्प की बाजी जीतनी ही है। पूरे कल्प की बात है। तो फर्स्ट डिवीजन मे आना है, यह दृढ़ता धारण करनी है। कोई नई बात कर रहे हो क्या? कितना बार की हुई बात को सिर्फ लकीर के ऊपर लकीर खींच रहे हो। ड्रामा की लकीर खींची हुई है। नई लकीर भी नहीं लगा रहे हो, जो सोचो कि पता नहीं सीधी होगी वा नहीं। कल्प-कल्प की बनी हुई प्रारब्ध को सिर्फ बनाते हो क्योंकि कर्मों के फल का हिसाब है। बाकी नई बात क्या है? यह तो बहुत पुरानी है, हुई पड़ी है। यह है अटल निश्चय। इसको दृढ़ता कहते हैं, इसको तपस्वी मूर्त कहते हैं। हर संकल्प में दृढ़ता माना तपस्या। अच्छा!

बापदादा हाइएस्ट होस्ट भी है और गोल्डन गेस्ट भी है। होस्ट बनकर भी मिलते हैं, गेस्ट बनकर आते हैं। लेकिन गोल्डन गेस्ट है। चमकीला है ना। गेस्ट तो बहुत देखे- लेकिन गोल्डन गेस्ट नहीं देखा। जैसे चीफ गेस्ट को बुलाते हो तो वह थैंक्स देते हैं। तो ब्रह्मा बाप ने भी होस्ट बन इशारे दिये और गेस्ट बन सबको मुबारक दे रहे हैं। जिन्होंने पूरी सीजन में सेवा की उन सबको गोल्डन गेस्ट के रूप में बधाई दे रहे हैं। सबसे पहली मुबारक किसको? निमित्त दादियों को। बापदादा, निर्विघ्न सेवा के समाप्ति की मुबारक दे रहे हैं। मधुबन निवासियों को भी निर्विघ्न हर्षित बन मेहमान-निवाज़ी करने की विशेष मुबारक दे रहे हैं। भगवान भी मेहमान बन आया तो बच्चे भी। जिसके घर में भगवान मेहमान बनकर आवे वह कितने भाग्यशाली हैं। रथ को भी मुबारक हैं क्योंकि यह पार्ट बजाना भी कोई कम बात नहीं। इतनी शक्तियों को इतना समय प्रवेश होने पर धारण करना यह भी विशेष पार्ट है। लेकिन यह समाने की शक्ति का फल आप सबको मिल रहा है। तो समाने की शक्ति की विशेषता से बापदादा की शक्तियों को समाना यह भी विशेष पार्ट कहो वा गुण कहो। तो सभी सेवधारियों में यह भी सेवा का पार्ट बजाने वाली निर्विघ्न रही। इसके लिए मुबारक हो और पदमापदम थैंक्स। डबल विदेशियों को भी डबल थैंक्स क्योंकि डबल विदेशियों ने मधुबन की शोभा कितनी अच्छी कर दी। ब्राह्मण परिवार के श्रृंगार डबल विदेशी हैं। ब्राह्मण परिवार में देश वालों के साथ विदेशी भी हैं तो पुरुषार्थ की भी मुबारक और ब्राह्मण परिवार का श्रृंगार बनने की भी मुबारक। मधुबन परिवार की विशेष सौगात हो इसलिए डबल विदेशियों को डबल मुबारक दे रहे हैं। चाहे कहाँ भी हैं। सामने तो थोड़े है लेकिन चारों ओर के भारतवासी बच्चों को और डबल विदेशी बच्चों को बड़ी दिल से मुबारक दे रहे हैं। हर एक ने बहुत अच्छा पार्ट बजाया। अब सिर्फ एक बात रही है “समान और सम्पूर्णता की।” दादियां भी अच्छी मेहनत करती। बापदादा, दोनों का पार्ट साकार में बजा रही हैं इसलिए बापदादा दिल से स्नेह के साथ मुबारक देते हैं। सबने बहुत अच्छा पार्ट बजाया। आलराउण्ड सब सेवाधारी चाहे छोटी-सी साधारण सेवा है लेकिन वह भी महान है। हर एक ने अपना भी जमा किया और पुण्य भी किया। सभी देश-विदेश के बच्चों के पहुँचने की भी विशेषता मुबारक योग्य है। सब महारथियों ने मिलकर सेवा का श्रेष्ठ संकल्प प्रैक्टिकल में लाया और लाते ही रहेंगे। सेवा में जो निमित्त है उन्हों को भी तकलीफ नहीं देनी चाहिए। अपने अलबेलेपन से किसको मेहनत नहीं करानी चाहिए। अपनी वस्तुओं को सम्भालना यह भी नॉलेज है। याद है ना ब्रह्मा बाप क्या कहते थे? रुमाल खोया तो कभी खुद को भी खो देगा। हर कर्म में श्रेष्ठ और सफल रहना इसको कहते नॉलेजफुल। शरीर की भी नॉलेज, आत्मा की भी नॉलेज। दोनों नॉलेज हर कर्म में चाहिए, शरीर के बीमारी की भी नॉलेज चाहिए। मेरा शरीर किस विधि से ठीक चल सकता है। ऐसे नहीं आत्मा तो शक्तिशाली है, शरीर कैसा भी है। शरीर ठीक नहीं होगा तो योग भी नहीं लगेगा। फिर शरीर अपनी तरफ खींचता है इसलिए नॉलेजफुल में यह सब नॉलेज आ जाती है। अच्छा।

कुछ कुमारियों का समर्पण समारोह बाप-दादा के सामने हुआ

बापदादा सभी विशेष आत्माओं को बहुत सुन्दर सजा-सजाया देख रहे हैं। दिव्य गुणों का श्रृंगार कितना बढ़िया, सभी को शोभनिक बना रहा है। लाइट का ताज कितना सुन्दर चमक रहा है। बापदादा अविनाशी श्रृंगारी हुई सूरतों को देख रहे हैं। बापदादा को बच्चों का यह उमंग-उत्साह का संकल्प देख खुशी होती है। बापदादा ने सभी को सदा के लिए पसन्द कर लिया। आपने भी पक्का पसन्द कर लिया है ना! दृढ़ संकल्प का हथियाला बंध गया। बाप-दादा के पास हरेक के दिल के स्नेह का संकल्प सबसे जल्दी पहुंचता है। अभी संकल्प में भी यह श्रेष्ठ बन्धन ढीला नहीं होगा। इतना पक्का बांधा है ना। कितने जन्मों का वायदा किया? यह ब्रह्मा बाप के साथ सदा सम्बन्ध में आने का पक्का वायदा है और गैरन्टी है कि सदा भिन्न नाम, रूप, सम्बन्ध में 21 जन्म तक तो साथ रहेंगे ही। तो कितनी खुशी है, हिसाब कर सकती हो? इसका हिसाब निकालने वाला कोई नहीं निकला है। अभी ऐसे ही सदा सजे सजाये रहना, सदा ताजधारी रहना और सदा खुशी में हंसते-गाते रूहानी मौज में रहना। आज सभी ने दृढ़ संकल्प किया ना – कि कदम, कदम पर रखने वाले बनेंगे। वह तो स्थूल पांव के ऊपर पांव रखती है लेकिन आप सभी संकल्प रूपी कदम पर कदम रखने वाले। जो बाप का संकल्प वह बच्चों का संकल्प- ऐसा संकल्प किया? एक कदम भी बाप के कदम के सिवाए यहाँ वहाँ का न हो। हर संकल्प समर्थ करना अर्थात् बाप के समान कदम के पीछे कदम रखना। अच्छा!

विदेशी भाई-बहनों से- जैसे विमान में उड़ते-उड़ते आये ऐसे बुद्धि रूपी विमान भी इतना ही फास्ट उड़ता रहता है ना क्योंकि वह विमान सरकमस्टॉन्स के कारण नहीं भी मिले लेकिन बुद्धि रूपी विमान सदा साथ है और सदा शक्तिशाली है तो सेकेण्ड में जहाँ चाहें वहाँ पहुच जाएं। तो इस विमान के मालिक हो ना। सदा यह बुद्धि का विमान एवररेडी हो अर्थात् सदा बुद्धि की लाइन क्लीयर हो। बुद्धि सदा ही बाप के साथ शक्तिशाली हो तो जब चाहेंगे तब सेकेण्ड में पहुंच जायेंगे। जिसका बुद्धि का विमान पहुंचता है, उसका वह भी विमान चलता है। बुद्धि का विमान ठीक नहीं तो वह विमान भी नहीं चलता । अच्छा!

पार्टियों से- 1. सदा अपने को राजयोगी श्रेष्ठ आत्मायें अनुभव करते हो? राजयोगी अर्थात् सर्व कर्मेन्द्रिय के राजा। राजा बन कर्मेन्द्रियों को चलाने वाले, न कि कर्मेन्द्रियों के वश चलने वाले। जो कर्मेन्द्रियों के वश चलने वाले हैं उनको प्रजायोगी कहेंगे, राजयोगी नहीं। जब ज्ञान मिल गया कि यह कर्मेन्द्रियां मेरे कर्मचारी हैं, मैं मालिक हूँ, तो मालिक कभी सेवाधारियों के वश नहीं हो सकता। कितना भी कोई प्रयत्न करे लेकिन राजयोगी आत्मायें सदा श्रेष्ठ रहेंगी। सदा राज्य करने के संस्कार अभी राजयोगी जीवन में भरने हैं। कुछ भी हो जाए – यह टाइटिल अपना सदा याद रखना कि मैं राजयोगी हूँ। सर्वशक्तिवान का बल है, भरोसा है तो सफलता अधिकार रूप में मिल जाती है। अधिकार सहज प्राप्त होता है, मुश्किल नहीं होता। सर्व शक्तियों के आधार से हर कार्य सफल हुआ ही पड़ा है। सदा फखुर रहे कि मैं दिलतख्तनीशन आत्मा हूँ। यह फ़खुर अनेक फिकरों से पार करा देता है। फ़खुर नहीं तो फिकर ही फिकर है। तो सदा फ़खुर में रह वरदानी बन वरदान बांटते चलो। स्वयं सम्पन्न बन औरों को सम्पन्न बनाना है। औरों को बनाना अर्थात् स्वर्ग के सीट का सर्टीफिकेट देते हो। कागज का सर्टीफिकेट नहीं, अधिकार का। अच्छा!

2. हर कदम में पदमों की कमाई जमा करने वाले, अखुट खजाने के मालिक बन गये। ऐसे खुशी का अनुभव करते हो! क्योंकि आजकल की दुनिया है ही ‘धोखेबाज’। धोखेबाज दुनिया से किनारा कर लिया। धोखे वाली दुनिया से लगाव तो नहीं! सेवा अर्थ कनेक्शन दूसरी बात है लेकिन मन का लगाव नहीं होना चाहिए। तो सदा अपने को तुच्छ नहीं, साधारण नहीं लेकिन श्रेष्ठ आत्मा हैं, सदा बाप के प्यारे हैं, इस नशे में रहो। जैसा बाप वैसे बच्चा – कदम पर कदम रखते अर्थात् फालो करते चलो तो बाप समान बन जायेंगे। समान बनना अर्थात् सम्पन्न बनना। ब्राह्मण जीवन का यही तो कार्य है।

3. सदा अपने को बाप के रूहानी बगीचे के रूहानी गुलाब समझते हो! सबसे खुश्बू वाला पुष्प गुलाब होता है। गुलाब का जल कितने कार्यों में लगाते हैं, रंग-रूप में भी गुलाब सर्व प्रिय है। तो आप सभी रूहानी गुलाब हो। आपकी रूहानी खुशबू औरों को भी स्वत: आकर्षण करती है। कहाँ भी कोई खुशबू की चीज होती है तो सबका अटेन्शन स्वत: ही जाता है तो आप रूहानी गुलाबों की खुशबू विश्व को आकर्षित करने वाली है, क्योंकि विश्व को इस रूहानी खुशबू की आवश्यकता है इसलिए सदा स्मृति में रहे कि मैं अविनाशी बगीचे का अविनाशी गुलाब हूँ। कभी मुरझाने वाला नहीं, सदा खिला हुआ। ऐसे खिले हुए रूहानी गुलाब सदा सेवा में स्वत: ही निमित्त बन जाते हैं। याद की, शक्तियों की, गुणों की यह सब खुशबू सबको देते रहो। स्वयं बाप ने आकर आप फूलों को तैयार किया है तो कितने सिकीलधे हो! अच्छा।

वरदान:- न्यारे और प्यारे बनने का राज़ जानकर राज़ी रहने वाले राज़युक्त भव
जो बच्चे प्रवृत्ति में रहते न्यारे और प्यारे बनने का राज़ जानते हैं वह सदा स्वयं भी स्वयं से राज़ी रहते हैं, प्रवृत्ति को भी राज़ी रखते हैं। साथ-साथ सच्ची दिल होने के कारण साहेब भी सदैव उन पर राज़ी रहता है। ऐसे राज़ी रहने वाले राजयुक्त बच्चों को अपने प्रति व अन्य किसी के प्रति किसी को क़ाज़ी बनाने की जरूरत नहीं रहती क्योंकि वह अपना फैंसला अपने आप कर लेते हैं इसलिए उन्हें किसी को काज़ी, वकील या जज बनाने की जरूरत ही नहीं।
स्लोगन:- सेवा से जो दुआयें मिलती हैं-वह दुआयें ही तन्दरूस्ती का आधार हैं।

 

TODAY MURLI 1 NOVEMBER 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 1 November 2019

01/11/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, keep an eye on yourself fully. You should not do anything against the law. By disobeying shrimat you will fall.
Question: What precautions must you take in order to become a multimillionaire?
Answer: Let there always be this attention: Whatever I do, others who see me will do the same. You should not have any false arrogance. You should never miss the murli. Be careful about your thoughts, words and deeds; your eyes should not deceive you. You will then be able to accumulate an income of multimillions. To achieve this, you must remain introverted and remember the Father and you will then remain safe from all sinful acts.

Om shanti. The Father has explained to you spiritual children that when you sit here, your intellects should definitely have the thought: That One is our Baba, our Teacher and also our Satguru. You also realise that, by remembering Baba, you will become pure and go to the pure land. The Father has explained that you come down from the pure land. That is called the pure land. You then go from the satopradhan stage through the stages of sato, rajo and tamo. You now understand that you have fallen down, that is, you are in the brothel. Although you are at the confluence age, you understand with knowledge that you have stepped away from this world. If you keep remembering Shiv Baba, Shivalaya (the Temple of Shiva) is not far, but if you do not remember Shiv Baba, Shivalaya is very far. If you have to experience punishment, you then become very distant. So the Father does not give you children too much difficulty. Firstly, He says repeatedly: You have to become pure in your thoughts, words and deeds. Those physical eyes can deceive you a great deal. You have to take great care with them. The Father has explained that trance is totally distinct from yoga. Yoga means remembrance. You can have remembrance even with your eyes open. Trance is not yoga. When you offer bhog, you have to go up according to the directions youaregiven. Maya interferes a great deal in this. Maya is such that she gets up your nose (harasses you)! Just as the Father is powerful, so Maya too is very powerful. She is so powerful that she has pushed the whole world into a brothel. Therefore, you have to be very cautious. You should remember the Father accurately and with discipline. If you perform any action against the law, she makes you fall completely. You should never have any desire for trance etc. Become totally ignorant of even the knowledge of desires. If you follow the Father’s directions, all your desires will be fulfilled without your asking. If you do not follow His instructions and take a wrong path, it is then possible that, instead of going to heaven, you will fall into hell. It has been remembered that an alligator swallowed an elephant. Those who used to give this knowledge to many and who used to offer bhog are not here today. Because of their unlawful behaviour, they were totally influenced by Maya. Whilst becoming deities, they became devils. The Father knows that those who used to make very good efforts and who were going to become deities have become like devils and are living with devilish people; they have become traitors. Those who belong to the Father and then belong to Maya are called traitors. You have to keep an eye on yourself. If you disobey shrimat, you will fall and you won’t even realize it. The Father cautions you children and tells you that your behaviour should not be such that you would be taken into the depths of hell. Baba explained yesterday that many brothers hold committees amongst themselves and do everything without shrimat and thereby cause disservice. If you do something without shrimat, you continue to fall. In the beginning, Baba set up a mothers’ committee because the mothers have been given the urn of nectar. “Salutations to the mothers” has been remembered. Even if the brothers create committees, there isn’t a saying “Salutations to the brothers”. If you do not follow shrimat, you become trapped in Maya’s web. Baba had set up a committee of mothers and handed everything over to them. Generally, men, not women, cause bankruptcy. Therefore, the Father places the urn on the mothers. On this path of knowledge, even mothers can become bankrupt. Those who can become multimillion times fortunate can also be defeated by Maya and cause bankruptcy. Here, both men and women can become bankrupt and they do become bankrupt! So many were defeated and left which means that they became bankrupt. The Father explains that the people of Bharat have become totally bankrupt. Maya is so powerful that people are unable to understand what they were and how they have completely fallen. Here, too, whilst some of you are climbing up, you forget shrimat and then become bankrupt by following your own dictates. Those people become bankrupt but can then rise up again after five to seven years. Here, you become bankrupt for 84 births. You cannot claim a high status then. You keep becoming bankrupt. If Baba had photographs, He would show you. You would say that what Baba is telling you is absolutely right. “This one was a great maharathi and used to uplift many, but he is not here today. He is bankrupt.” Baba repeatedly cautions you children. There is nothing to be gained by setting up your committees etc. according to your own dictates. Then, throughout the whole day, whenever you meet, you would just keep gossiping: “This one used to do this; that one used to do that.” Only when your intellects are in yoga with the Father will you become satopradhan. If, after belonging to the Father, your yoga is not connected to Him, you keep falling; your connection breaks. You should not become afraid and question why Maya is causing you so much distress if your link breaks. You should try to forge a link with the Father again. Otherwise, how would your battery be charged? If you perform sinful acts, your battery becomes discharged. In the beginning, so many came and belonged to Baba. They joined the bhatthi, but where are they today? They fell because they remembered the old world. The Father says: I am now inspiring you to have unlimited disinterest. Don’t allow your heart to be attached to the old world. Let your heart be attached to heaven. If you want to become like Lakshmi or Narayan, you have to make effort. Your intellects’ yoga should be with the one Father and you should have disinterest in the old world. Remember the land of happiness and the land of peace. As you walk and move around, you should remember Baba to whatever extent possible. This is absolutely easy. You have come here in order to change from ordinary humans into Narayan. You must tell everyone that they now have to change from tamopradhan to satopradhan because it is now the time for your return journey. The history and geography of the world repeatThis means that hell changes into heaven and heaven into hell; this cycle continues to turn. The Father says: Whilst you are sitting here, become a spinner of the discus of self-realisation (swadarshanchakradhari). Stay in remembrance of having been around the cycle many times. You are now becoming deities once again. No one in the world understands the significance of this. Deities do not have this knowledge; they are pure anyway. They can’t blow the conch shell because they don’t have knowledge. Because they are pure, there is no need to give them these symbols. The symbols are given when both are together. You are not given these symbols either, because, today, you are becoming deities and, tomorrow, you become devils. The Father makes you into deities and Maya makes you into devils. When the Father explains, you understand that your stage truly has fallen. Many unfortunate ones gave to Shiv Baba’s treasure-store, but they then asked for it back and became devils. This happened because of a lack of yoga. It is only by having yoga that you are able to become pure. You call out: Baba, come and change us from impure to pure so that we can go to heaven. You are on the pilgrimage of remembrance so that you can become pure and claim a high status. Even those who heard a little and then died will definitely go to Shivalaya (the Temple of Shiva), no matter what status they claim. Once they have had remembrance, they will definitely go to heaven, but they cannot claim a high status. You should be happy when you hear the name of heaven. You must not be happy on failing and claiming a status worth pennies. There will definitely be the feeling that you are a servant. At the end, you will have visions of what you are going to become and you will know what sinful acts you performed that led you to that state, and why you did not become an empress. By being cautious at every step, you can become multimillionaires. In the temples, the idols of deities are shown with the symbol of a lotus. There is a difference in the status. Even the kingdoms of today have so much splendour, although they are only temporary; they cannot be kings for all time. So, the Father says: If you wish to become like Lakshmi or Narayan, the effort you make should be accordingly. How many people do you bring benefit to? For how long do you stay introverted and remember Baba? We are now to return to our sweet home. We will then come down into the land of happiness. You should churn all of this knowledge internally. The Father has both knowledge and yoga in Him; you too must have both in you. You know that Shiv Baba is teaching you. Therefore, this is knowledge and also remembrance. Gyan and yoga are together. It should not be that when you sit in yoga and continue to remember Baba, knowledge is forgotten. When the Father teaches you yoga, does He forget knowledge? All the knowledge remains with Him. You children must also have this knowledge; you have to study. When others see the actions I perform, they will do the same. If I don’t study the murli, others will not study it either. They have false arrogance, and so Maya very quickly attacks them. You must take the Father’s shrimat at every step. Otherwise, there will be one or another sinful action. After making a mistake, many children don’t tell the Father; they completely destroy themselves. If you are careless, Maya slaps you. She makes you worth not a penny. When you become arrogant, Maya makes you perform many sinful acts. Baba has never told the brothers to set up a committee of brothers. There should definitely be one or two sensible sisters on the committee, with whose advice the work can be carried out. The urn is given to Lakshmi. It has also been remembered that when nectar was being given, there were obstacles in the yagya. They cause many types of obstacle. They spend the whole day gossiping. That is very bad. If anything happens, you must report it to the Father. Only the one Father can reform everyone. You must not take the law into your own hands. You must stay in remembrance of the Father. Keep giving the Father’s introduction to everyone and you will then become like that. Maya is very strong, she doesn’t leave anyone alone. You must always write your news to the Father. You must keep taking directions. Actually, you constantly receive directions anyway. You children think that Baba knows all the secrets inside you when He explains a particular aspect which happens to be in your mind. However, Baba says: No; I only teach you knowledge. There is no question of knowing the secrets inside you. Yes, I do know that you are all My children. The child in each body is Mine, but that doesn’t mean the Father is present inside each one. Human beings have understood everything wrongly. The Father says: I know that you souls are seated on your thrones. This is such an easy matter! All living souls are sitting on their thrones, yet they still say that God is omnipresent! This is the main mistake. It is because of this that Bharat has fallen so much. The Father says: You have defamed Me a great deal. You have insulted the One who makes you into the masters of the world. This is why the Father says: I come when there is defamation of religion. People abroad learn the concept of omnipresence from the people of Bharat. The people of Bharat learn skills from them and they then learn wrong things. You have to remember the one Father alone and give everyone the Father’s introduction. You are the sticks for the blind. A path is shown to others with a stick. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Every act you perform must be according to the Father’s instructions. You must never disobey shrimat. Only then will all your desires be fulfilled without your asking for anything. You must not have any desire for trance or visions. Become ignorant of all desires.
  2. You must not meet together and gossip. Become introverted and check yourself: For how long do I stay in remembrance of Baba? Do I churn this knowledge?
Blessing: May you be a destroyer of obstacles by remaining stable in the form of a point and reminding others to have awareness of the point of the drama.
The children who do not put a question mark in any situation, who remain stable in the form of a point and remind others of the point of the drama in every task are called destroyers of obstacles. They make others powerful and take them close to the destination of success. They do not become happy just seeing the attainment of some limited success, but are embodiments of unlimited success. They are constantly, stable and remain in an elevated stage. With their own stage of success, they transform any lack of success.
Slogan: Take blessings and give blessings and you will very quickly become a conqueror of Maya.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 1 NOVEMBER 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 1 November 2019

01-11-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – अपने ऊपर पूरी नज़र रखो, कोई भी बेकायदे चलन नहीं चलना, श्रीमत का उल्लंघन करने से गिर जायेंगे”
प्रश्नः- पद्मापद्मपति बनने के लिए कौन-सी खबरदारी चाहिए?
उत्तर:- सदैव ध्यान रहे – जैसा कर्म हम करेंगे हमें देख और भी करने लगेंगे। किसी भी बात का मिथ्या अहंकार न आये। मुरली कभी भी मिस न हो। मन्सा-वाचा-कर्मणा अपनी सम्भाल रखो। यह आंखें धोखा न दें तो पद्मों की कमाई जमा कर सकेंगे। इसके लिए अन्तर्मुखी होकर बाप को याद करो और विकर्मों से बचे रहो।

ओम् शान्ति। रूहानी बच्चों को बाप ने समझाया है, यहाँ तुम बच्चों को इस ख्याल से जरूर बैठना होता है, यह बाबा भी है, टीचर और सतगुरू भी है। और यह भी महसूस करते हो-बाबा को याद करते-करते पवित्र बन, पवित्रधाम में जाकर पहुँचेंगे। बाप ने समझाया है कि पवित्रधाम से ही तुम नीचे उतरते हो। उसका नाम ही है पवित्रधाम। सतोप्रधान से फिर सतो, रजो, तमो….. अभी तुम समझते हो कि हम नीचे गिरे हुए हैं अर्थात् वेश्यालय में हैं। भल तुम संगमयुग पर हो, परन्तु ज्ञान से तुम जानते हो कि हमने किनारा किया हुआ है फिर भी अगर हम शिवबाबा की याद में रहते हैं तो शिवालय दूर नहीं। शिवबाबा को याद नहीं करते तो शिवालय बहुत दूर है। सजायें खानी पड़ती हैं तो बहुत दूर हो जाता है। तो बाप बच्चों को कोई जास्ती तकलीफ नहीं देते हैं। एक तो बार-बार कहते हैं मन्सा-वाचा-कर्मणा पवित्र बनना है। यह आंखें भी बड़ा धोखा देती हैं, इनसे बहुत सम्भालकर चलना होता है। बाप ने समझाया है कि ध्यान और योग बिल्कुल अलग है। योग अर्थात् याद। आंखें खुली होते भी तुम याद कर सकते हो। ध्यान को कोई योग नहीं कहा जाता। भोग भी ले जाते हैं तो डायरेक्शन अनुसार ही जाना है। इसमें माया भी बहुत आती है। माया ऐसी है जो एकदम नाक में दम कर देती है। जैसे बाप बलवान है, वैसे माया भी बड़ी बलवान है। इतनी बलवान है जो सारी दुनिया को वेश्यालय में ढकेल दिया है इसलिए इसमें बहुत खबरदारी रखनी होती है। बाप की कायदे अनुसार याद चाहिए। बेकायदे कोई काम किया तो एकदम गिरा देती है। ध्यान आदि की कभी कोई इच्छा नहीं रखनी है। इच्छा मात्रम् अविद्या….. बाप तुम्हारी सब मनोकामनायें बिगर मांगे पूरी कर देते हैं, अगर बाप की आज्ञा पर चले तो। अगर बाप की आज्ञा न मान उल्टा रास्ता लिया तो हो सकता है स्वर्ग के बदले नर्क में ही गिर जाएं। गायन भी है गज को ग्राह ने खाया। बहुतों को ज्ञान देने वाले, भोग लगाने वाले आज हैं कहाँ, क्योंकि बेकायदे चलन के कारण पूरे मायावी बन जाते हैं। डीटी बनते-बनते डेविल बन जाते हैं। बाप जानते हैं कि बहुत अच्छे पुरुषार्थी जो देवता बनने वाले थे वह असुर बन असुरों के साथ रहते हैं। ट्रेटर हो जाते हैं। बाप का बनकर फिर माया के बन जाते, उन्हें ट्रेटर कहा जाता है। अपने ऊपर नज़र रखनी होती है। श्रीमत का उल्लंघन किया तो यह गिरे। पता भी नहीं पड़ेगा। बाप तो बच्चों को सावधान करते हैं कि कोई ऐसी चलन न चलो जो रसातल में पहुँच जाओ।

कल भी बाबा ने समझाया – बहुत गोप हैं आपस में कमेटियां आदि बनाते हैं, जो कुछ करते हैं, श्रीमत के आधार बिगर करते हैं तो डिस सर्विस करते हैं। बिगर श्रीमत करेंगे तो गिरते ही जायेंगे। बाबा ने शुरू में कमेटी बनाई थी तो माताओं की बनाई थी क्योंकि कलष तो माताओं को ही मिलता है। वन्दे मातरम् गाया हुआ है ना। अगर गोप लोग कमेटी बनाते हैं तो वन्दे गोप तो गायन नहीं है। श्रीमत पर नहीं तो माया के जाल में फँस पड़ते हैं। बाबा ने माताओं की कमेटी बनाई, उन्हों के हवाले सब कुछ कर दिया। पुरुष अक्सर करके देवाला मारते हैं, स्त्रियाँ नहीं। तो बाप भी कलष माताओं पर रखते हैं। इस ज्ञान मार्ग में मातायें भी देवाला मार सकती हैं। पद्मापद्म भाग्यशाली जो बनने वाले हैं, वह माया से हार खाकर देवाला मार सकते हैं। इसमें स्त्री-पुरुष दोनों देवाला मार सकते हैं और मारते भी हैं। कितने हार खाकर चले गये गोया देवाला मार दिया ना। बाप समझाते हैं भारतवासियों ने तो पूरा देवाला मारा है। माया कितनी जबरदस्त है। जो समझ नहीं सकते हैं हम क्या थे, कहाँ से एकदम नीचे आकर गिरे हैं। यहाँ भी ऊंच चढ़ते-चढ़ते फिर श्रीमत को भूल अपनी मत पर चलते हैं तो देवाला मार देते हैं। वो लोग तो देवाला मारते फिर 5-7 वर्ष बाद खड़े हो जाते हैं। यहाँ तो 84 जन्मों का देवाला मारते हैं। ऊंच पद पा न सकें। देवाला मारते ही रहते हैं। बाबा के पास फ़ोटो होता तो बतलाते। तुम कहेंगे बाबा तो बिल्कुल ठीक कहते हैं। यह कितना बड़ा महारथी था, बहुतों को उठाते थे। आज हैं नहीं। देवाले में हैं। बाबा घड़ी-घड़ी बच्चों को सावधान करते रहते हैं। अपनी मत पर कमेटियाँ आदि बनाना इसमें कुछ रखा नहीं है। आपस में मिलकर झरमुई झगमुई करना, यह ऐसा करता था, फलाना ऐसा करता था……, सारा दिन यही करते रहते हैं। बाप से बुद्धियोग लगाने से ही सतोप्रधान बनेंगे। बाप का बने और बाप से योग नहीं तो घड़ी-घड़ी गिरते रहेंगे। कनेक्शन ही टूट पड़ता है। लिंक टूट जाए तो घबराना नहीं चाहिए। माया हमें इतना तंग क्यों करती है। कोशिश कर बाप के साथ लिंक जोड़नी चाहिए। नहीं तो बैटरी चार्ज कैसे होगी। विकर्म होने से बैटरी डिस्चार्ज हो जाती है। शुरू में कितने ढेर के ढेर बाबा के आकर बने। भट्ठी में आये फिर आज कहाँ हैं। गिर पड़े क्योंकि पुरानी दुनिया याद आई। अभी बाप कहते हैं मैं तुमको बेहद का वैराग्य दिलाता हूँ, इस पुरानी दुनिया से दिल नहीं लगाओ। दिल स्वर्ग से लगानी है। अगर ऐसा लक्ष्मी-नारायण बनना है तो मेहनत करनी पड़े। बुद्धियोग एक बाप के साथ होना चाहिए। पुरानी दुनिया से वैराग्य। सुखधाम और शान्तिधाम को याद करो। जितना हो सके उठते, बैठते, चलते, फिरते बाप को याद करो। यह तो बिल्कुल ही सहज है। तुम यहाँ आये ही हो नर से नारायण बनने के लिए। सबको कहना है कि अब तमोप्रधान से सतोप्रधान बनना है क्योंकि रिटर्न जर्नी होती है। वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी रिपीट माना नर्क से स्वर्ग, फिर स्वर्ग से नर्क। यह चक्र फिरता ही रहता है।

बाप ने कहा है यहाँ स्वदर्शन चक्रधारी होकर बैठो। इसी याद में रहो कि हमने कितने बार चक्र लगाया है। अभी फिर से हम देवता बन रहे हैं। दुनिया में कोई भी इस राज़ को नहीं समझते हैं। यह ज्ञान देवताओं को है नहीं। वह तो हैं ही पवित्र। उनमें ज्ञान ही नहीं जो शंख बजावें। वह पवित्र हैं, उनको यह निशानी देने की दरकार नहीं। निशानी तब होती है जब दोनों इकट्ठे होते हैं। तुमको भी निशानी नहीं क्योंकि तुम आज देवता बनते-बनते कल असुर बन जाते हो। बाप देवता बनाते, माया असुर बना देती है। बाप जब समझाते हैं तब पता पड़ता है कि सचमुच हमारी अवस्था गिरी हुई है। कितने बिचारे शिवबाबा के खजाने में जमा कराते फिर मांगकर असुर बन जाते। इसमें योग की ही सारी कमी है। योग से ही पवित्र बनना है। बुलाते भी हो बाबा आओ, हमें पतित से पावन बनाओ, जो हम स्वर्ग में जा सके। याद की यात्रा है ही पावन बन ऊंच पद पाने के लिए। जो मर जाते हैं फिर भी जो कुछ सुना है तो शिवालय में आयेंगे जरूर। पद भल कैसा भी पायें। एक बार याद किया तो स्वर्ग में आयेंगे जरूर। बाकी ऊंच पद पा न सकें। स्वर्ग का नाम सुनकर खुश होना चाहिए। फेल हो पाई-पैसे का पद पा लिया, इसमें खुश नहीं हो जाना है। फीलिंग तो आती है ना-मैं नौकर हूँ। पिछाड़ी में तुम्हें सब साक्षात्कार होंगे कि हम क्या बनेंगे, हमसे क्या विकर्म हुआ है, जो ऐसी हालत हुई है। मैं महारानी क्यों नहीं बनूँ। कदम-कदम पर खबरदारी से चलने से तुम पद्मापद्मपति बन सकते हो। मन्दिरों में देवताओं को पद्म की निशानी दिखाते हैं। दर्जे में फर्क हो जाता है। आज की राजाई का कितना दबदबा रहता है! है तो अल्पकाल का। सदाकाल के राजा तो बन न सकें। तो अभी बाप कहते हैं-तुम्हें लक्ष्मी-नारायण बनना है तो पुरुषार्थ भी ऐसा चाहिए। कितना हम औरों का कल्याण करते हैं? अन्तर्मुख हो कितना समय बाबा की याद में रहते हैं? अभी हम जा रहे हैं अपने स्वीट होम में। फिर आयेंगे सुखधाम में। यह सब ज्ञान का मन्थन अन्दर में चलता रहे। बाप में ज्ञान और योग दोनों हैं। तुम्हारे में भी होना चाहिए। जानते हो हमें शिवबाबा पढ़ाते हैं तो ज्ञान भी हुआ और याद भी हुई। ज्ञान और योग दोनों साथ-साथ चलता है। ऐसे नहीं, योग में बैठो, बाबा को याद करते रहो और नॉलेज भूल जाए। बाप योग सिखलाते हैं तो नॉलेज भूल जाते हैं क्या? सारी नॉलेज उनमें रहती है। तुम बच्चों में भी नॉलेज होनी चाहिए। पढ़ना चाहिए। जैसे कर्म मैं करुँगा मुझे देख और भी करेंगे। मैं मुरली नहीं पढूँगा तो और भी नहीं पढ़ेंगे। मिथ्या अहंकार आ जाता है तो माया झट वार कर देती है। कदम-कदम बाप से श्रीमत लेते रहना है। नहीं तो कुछ न कुछ विकर्म बन जाते हैं। बहुत बच्चे भूले करते बाप को नहीं बताते तो अपनी सत्यानाश कर लेते हैं। ग़फलत होने से माया थप्पड़ लगा देती है। वर्थ नाट ए पेनी बना देती है। अहंकार में आने से माया बहुत विकर्म कराती है। बाबा ने ऐसे थोड़ेही कहा है, ऐसी-ऐसी पुरुषों की कमेटियाँ बनाओ। कमेटी में एक-दो समझू सयानी बच्चियां जरूर होनी चाहिए। जिनकी ही राय पर काम हो। कलष तो लक्ष्मी पर रखा जाता है ना। गायन भी है, अमृत पिलाते थे फिर कहाँ यज्ञ में विघ्न डालते थे। अनेक प्रकार के विघ्न डालने वाले हैं। सारा दिन यही झरमुई झगमुई की बातें करते रहते हैं। यह बहुत खराब है। कोई भी बात हो तो बाप को रिपोर्ट करनी चाहिए। सुधारने वाला तो एक ही बाप है। तुम अपने हाथ में लॉ नहीं उठाओ। तुम बाप की याद में रहो। सभी को बाप का परिचय देते रहो तब ऐसा बन सकेंगे। माया बहुत कड़ी है। किसको नहीं छोड़ती। सदैव बाप को समाचार लिखना चाहिए। डायरेक्शन लेते रहना चाहिए। यूँ तो डायरेक्शन सदैव मिलते रहते हैं। ऐसे तो बच्चे समझते हैं बाबा ने तो आपेही इस बात पर समझा दिया, बाबा तो अन्तर्यामी है। बाबा कहते नहीं, मैं तो नॉलेज पढ़ाता हूँ। इसमें अन्तर्यामी की बात ही नहीं। हाँ, यह जानता हूँ कि यह सब मेरे बच्चे हैं। हर एक शरीर के अन्दर मेरे बच्चे हैं। बाकी ऐसे नहीं कि बाप सभी के अन्दर विराजमान है। मनुष्य तो उल्टा ही समझ लेते हैं। बाप कहते हैं मैं जानता हूँ कि सभी तख्त पर आत्मा विराजमान है। यह तो कितनी सहज बात है। सभी चैतन्य आत्मायें अपने-अपने तख्त पर बैठी हैं फिर भी परमात्मा को सर्वव्यापी कह देते हैं, यह है एकज भूल। इस कारण ही भारत इतना गिरा हुआ है। बाप कहते हैं तुमने मेरी बहुत ग्लानि की है। विश्व के मालिक बनाने वाले को तुमने गाली दी है इसलिए बाप कहते हैं यदा यदाहि……। बाहर वाले यह सर्वव्यापी का ज्ञान भारतवासियों से सीखते हैं। जैसे भारतवासी उनसे हुनर सीखते हैं वह फिर उल्टा सीखते हैं। तुम्हें तो एक बाप को याद करना है और बाप का परिचय भी सबको देना है। तुम हो अन्धों की लाठी। लाठी से राह बतलाते हैं ना। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बाप की आज्ञा अनुसार हर कार्य करना है। कभी भी श्रीमत का उल्लंघन न हो तब ही सर्व मनोकामनायें बिना मांगे पूरी होंगी। ध्यान दीदार की इच्छा नहीं रखनी है, इच्छा मात्रम् अविद्या बनना है।

2) आपस में मिलकर झरमुई झगमुई (एक दूसरे का परचिंतन) नहीं करना है। अन्तर्मुख हो अपनी जांच करनी है कि हम बाबा की याद में कितना समय रहते हैं, ज्ञान का मंथन अन्दर चलता है?

वरदान:- बिन्दी रूप में स्थित रह औरों को भी ड्रामा के बिन्दी की स्मृति दिलाने वाले विघ्न-विनाशक भव
जो बच्चे किसी भी बात में क्वेश्चन मार्क नहीं करते, सदा बिन्दी रूप में स्थित रह हर कार्य में औरों को भी ड्रामा की बिन्दी स्मृति में दिलाते हैं – उन्हें ही विघ्न-विनाशक कहा जाता है। वह औरों को भी समर्थ बनाकर सफलता की मंजिल के समीप ले आते हैं। वह हद की सफलता की प्राप्ति को देख खुश नहीं होते लेकिन बेहद के सफलतामूर्त होते हैं। सदा एक-रस, एक श्रेष्ठ स्थिति में स्थित रहते हैं। वह अपनी सफलता की स्व-स्थिति से असफलता को भी परिवर्तन कर देते हैं।
स्लोगन:- दुआयें लो, दुआयें दो तो बहुत जल्दी मायाजीत बन जायेंगे।

BRAHMA KUMARIS MURLI 1 NOVEMBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 1 November 2018

To Read Murli 31 October 2018 :- Click Here
01-11-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – भारत जो हीरे जैसा था, पतित बनने से कंगाल बना है, इसे फिर पावन हीरे जैसा बनाना है, मीठे दैवी झाड़ का सैपलिंग लगाना है।”
प्रश्नः- बाप का कर्तव्य कौन-सा है, जिसमें बच्चों को मददगार बनना है?
उत्तर:- सारे विश्व पर एक डीटी गवर्मेन्ट स्थापन करना, अनेक धर्मों का विनाश और एक सत धर्म की स्थापना करना – यही बाप का कर्तव्य है। तुम बच्चों को इस कार्य में मददगार बनना है। ऊंच मर्तबा लेने का पुरुषार्थ करना है, ऐसे नहीं सोचना है कि हम स्वर्ग में तो जायेंगे ही।
गीत:- तुम्हीं हो माता, पिता…….. 

ओम् शान्ति। दुनिया में मनुष्य गाते हैं तुम मात-पिता…… परन्तु किसके लिए गाते हैं, यह नहीं जानते। यह भी वन्डरफुल बात है। सिर्फ कहने मात्र कह देते हैं। तुम बच्चों की बुद्धि में है कि बरोबर यह मात-पिता कौन हैं। यह परमधाम का रहवासी है। परमधाम एक ही है, सतयुग को परमधाम नहीं कहा जाता। सतयुग तो यहाँ होता है ना, परमधाम में रहने वाले तो हम सब हैं। तुम जानते हो हम आत्मायें परमधाम, निर्वाण देश से आती हैं इस साकार सृष्टि में। स्वर्ग कोई ऊपर नहीं है। आते तो तुम भी परमधाम से हो। तुम बच्चे अब जानते हो हम आत्मायें शरीर द्वारा पार्ट बजा रहे हैं। कितने जन्म लेते हैं, कैसे पार्ट बजाते हैं, यह अब जानते हैं। वह है दूर देश का रहने वाला, आया देश पराये। अब पराया देश क्यों कहा जाता है? तुम भारत में आते हो ना। परन्तु पहले-पहले तुम बाप के स्थापन किये हुए स्वर्ग में आते हो फिर वह नर्क रावण राज्य हो जाता है, अनेक धर्म, अनेक गवर्मेन्ट हो जाती हैं। फिर बाप आकर एक राज्य बनाते हैं। अभी तो बहुत गवर्मेन्ट हैं। कहते रहते हैं सब मिलकर एक हों। अब सब मिलकर एक हों-यह कैसे हो सकता? 5 हजार वर्ष पहले भारत में एक गवर्मेन्ट थी, वर्ल्ड आलमाइटी अथॉरिटी लक्ष्मी-नारायण थे। विश्व में राज्य करने वाली और कोई अथॉरिटी है नहीं। सब धर्म एक धर्म में आ नहीं सकते। स्वर्ग में एक ही गवर्मेन्ट थी इसलिए कहते हैं कि सब एक हो जाएं। अब बाप कहते हैं हम और सबका विनाश कराए एक आदि सनातन डीटी गवर्मेन्ट स्थापन कर रहे हैं। तुम भी ऐसे कहते हो ना-सर्वशक्तिमान् वर्ल्ड आलमाइटी अथॉरिटी के डायरेक्शन अनुसार हम भारत में एक डीटी गवर्मेन्ट का राज्य स्थापन कर रहे हैं। डीटी गवर्मेन्ट के सिवाए और कोई एक गवर्मेन्ट होती नहीं। 5 हजार वर्ष पहले भारत में अथवा सारे विश्व में एक डीटी गवर्मेन्ट थी, अब बाप आया है विश्व की डीटी गवर्मेन्ट फिर से स्थापन करने। हम बच्चे उनके मददगार हैं। यह राज़ गीता में है। यह है रुद्र ज्ञान यज्ञ। रुद्र निराकार को कहा जाता है, कृष्ण को नहीं कहेंगे। रुद्र नाम ही है निराकार का। बहुत नाम सुन मनुष्य समझते हैं रुद्र अलग है और सोमनाथ अलग है। तो अब एक डीटी गवर्मेन्ट स्थापन होनी है। सिर्फ इसमें खुश नहीं होना है कि स्वर्ग में तो जायेंगे ही। देखो नर्क में मर्तबे के लिए कितना माथा मारते हैं। एक तो मर्तबा मिलता दूसरा फिर कमाते बहुत हैं। भक्तों के लिए तो एक भगवान् होना चाहिए, नहीं तो भटकेंगे। यहाँ तो सबको भगवान् कह देते हैं, अनेकों को अवतार मानते हैं। बाप कहते हैं मैं तो एक ही बार आता हूँ। गाते भी हैं पतित-पावन आओ। सारी दुनिया पतित है, उसमें भी भारत ज्यादा पतित है। भारत ही कंगाल है, भारत ही हीरे जैसा था। तुमको नई दुनिया में राजाई मिलनी है। तो बाप समझाते हैं कृष्ण को भगवान् कह नहीं सकते। भगवान् तो एक निराकार परमपिता परमात्मा को ही कहा जाता है, जो जन्म-मरण रहित है। मनुष्य तो फिर कह देते हैं वह भी भगवान्, हम भी भगवान्, बस यहाँ आये हैं मौज करने। बड़े मस्त रहते हैं। बस, जिधर देखता हूँ तू ही तू है, तेरी ही रंगत है। हम भी तुम, तुम भी हम, बस डांस करते रहते हैं। हजारों उनके फालोअर्स हैं। बाप कहते हैं भक्त, भगवान् की बन्दगी करते रहते हैं। भक्ति में भावना से पूजा करते हैं। बाबा कहते मैं उन्हें साक्षात्कार करा देता हूँ। परन्तु वो मेरे से मिलते नहीं, मैं तो स्वर्ग का रचयिता हूँ। ऐसे नहीं कि उन्हों को स्वर्ग का वर्सा देता हूँ। भगवान् तो है ही एक। बाप कहते हैं सब पुनर्जन्म लेते-लेते अबला हो गये हैं। अब मैं परमधाम से आया हूँ। मैं जो स्वर्ग स्थापन करता हूँ उसमें फिर मैं नहीं आता। बहुत मनुष्य कहते हम निष्काम सेवा करते हैं। परन्तु चाहें न चाहें फल तो जरूर मिलता है। दान करते हैं तो फल जरूर मिलेगा ना। तुम साहूकार बने हो, क्योंकि पास्ट में दान-पुण्य किया है, अब तुम पुरुषार्थ करते हो, जितना पुरुषार्थ करेंगे उतना भविष्य में ऊंच पद पायेंगे। अभी तुम्हें अच्छे कर्म सिखलाये जाते हैं – भविष्य जन्म-जन्मान्तर के लिए। मनुष्य करते हैं दूसरे जन्म के लिए। फिर कहेंगे पास्ट कर्मों का फल है। सतयुग-त्रेता में ऐसे नहीं कहेंगे। कर्मों का फल 21 जन्मों के लिए अभी तैयार कराया जाता है। संगमयुग के पुरुषार्थ की प्रालब्ध 21 पीढ़ी चलती है। सन्यासी ऐसे कह न सकें कि हम तुम्हारी ऐसी प्रालब्ध बनाते हैं जो तुम 21 जन्म सुखी रहेंगे। अच्छा वा बुरा फल तो भगवान् को देना है ना। तो एक ही भूल हुई है जो कल्प की आयु लम्बी कर दी है। बहुत हैं जो कहते हैं 5 हजार वर्ष का कल्प है। तुम्हारे पास मुसलमान आये थे, बोले कल्प की आयु बरोबर 5 हजार वर्ष है। यहाँ की बातें सुनी होंगी। चित्र तो सबके पास जाते हैं, सो भी सब थोड़ेही मानेंगे। तुम जानते हो यह रुद्र ज्ञान यज्ञ है, जिससे यह विनाश ज्वाला निकली है। इसमें सहज राजयोग सिखलाया जाता है। कृष्ण की आत्मा अब अन्तिम जन्म में शिव (रुद्र) से वर्सा ले रही है, यहाँ बैठी है। बाबा अलग और यह अलग है। ब्राह्मण खिलाते हैं तो आत्मा को बुलाते हैं ना। फिर वह आत्मा ब्राह्मण में आकर बोलती है। तीर्थों पर भी खास जाकर बुलाते हैं। अब आत्मा को कितना समय हो गया फिर वह आत्मा कैसे आती है, क्या होता है? बोलती है मैं बहुत सुखी हूँ, फलाने घर जन्म लिया है। यह क्या होता है? क्या आत्मा निकलकर आई? बाप समझाते हैं मैं भावना का भाड़ा देता हूँ और वे खुश हो जाते हैं। यह भी ड्रामा में राज़ है। बोलते हैं तो पार्ट चलता है। कोई ने नहीं बोला तो नूंध नहीं है। बाप की याद में रहो तो विकर्म विनाश होंगे, अन्य कोई उपाय नहीं। हर एक को सतो-रजो-तमो में आना ही है। बाप कहते हैं तुमको नई दुनिया का मालिक बनाता हूँ। फिर से मैं परमधाम से पुरानी दुनिया, पुराने तन में आता हूँ। यह पूज्य था, पुजारी बना फिर पूज्य बनता है। तत त्वम्। तुमको भी बनाता हूँ। पहला नम्बर पुरुषार्थी यह है। तब तो मातेश्वरी, पिताश्री कहते हो। बाप भी कहते हैं तुम तख्तनशीन होने का पुरुषार्थ करो। यह जगत अम्बा सबकी कामना पूर्ण करती है। माता है तो पिता भी होगा और बच्चे भी होंगे। तुम सबको रास्ता बताते हो, सब कामनायें तुम्हारी पूरी होती है सतयुग में। बाबा कहते हैं घर में रहते भी यदि पूरा योग लगायें तो भी यहाँ वालों से ऊंच पद पा सकते हैं।

बांधेलियां तो बहुत हैं। रात को भी होम मिनिस्टर को समझा रहे थे ना कि इसके लिए कोई उपाय निकलना चाहिए जो इन अबलाओं पर अत्याचार न हों। परन्तु जब दो-चार बार सुनें तब ख्याल में आये। तकदीर में होगा तो मानेंगे। पेंचीला ज्ञान है ना। सिक्ख धर्म वालों को भी पता पड़े तो समझें – मनुष्य से देवता किये….. किसने? एकोअंकार सतनाम, यह उनकी महिमा है ना। अकाल मूर्त। ब्रह्म तत्व उनका तख्त है। कहते हैं ना सिंहासन छोड़कर आओ। बाप बैठ समझाते हैं, सारी सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त को जानते हैं, ऐसे नहीं सबकी दिल को जानते हैं। भगवान् को याद करते हैं कि सद्गति में ले जाओ। बाबा कहते हैं मैं वर्ल्ड आलमाइटी डीटी गवर्मेन्ट की स्थापना कर रहा हूँ। यह जो पार्टीशन हुए हैं, यह सब निकल जायेंगे। हमारे देवी-देवता धर्म के जो हैं उनका ही कलम लगाना है। झाड़ तो बहुत बड़ा है। उनमें मीठे ते मीठे हैं देवी-देवतायें। उनका फिर सैपलिंग लगाना है। अन्य धर्म वाले जो आते हैं वह कोई सैपलिंग थोड़ेही लगाते हैं। अच्छा!

आज सतगुरूवार है। बाप कहते हैं – बच्चे, श्रीमत पर चलकर पवित्र बनो तो साथ ले चलूँ। फिर चाहे मखमल की रानी बनो, चाहे रेशम की रानी बनो। वर्सा लेना है तो मेरी मत पर चलो। याद से ही तुम अपवित्र से पवित्र बन जायेंगे। अच्छा, बापदादा और मीठी मम्मा के सिकीलधे बच्चों को याद-प्यार और सलाम-मालेकम्।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) संगमयुग के पुरूषार्थ की प्रालब्ध 21 जन्म चलनी है-यह बात स्मृति में रख श्रेष्ठ कर्म करने हैं। ज्ञान दान से अपनी प्रालब्ध बनानी है।

2) मीठे दैवी झाड़ का सैपलिंग लग रहा है इसलिए अति मीठा बनना है।

वरदान:- कर्मभोग को कर्मयोग में परिवर्तन कर सेवा के निमित्त बनने वाले भाग्यवान भव
तन का हिसाब-किताब कभी प्राप्ति वा पुरुषार्थ के मार्ग में विघ्न अनुभव न हो। तन कभी भी सेवा से वंचित होने नहीं दे। भाग्यवान आत्मा कर्मभोग के समय भी किसी न किसी प्रकार से सेवा के निमित्त बन जाती है। कर्मभोग चाहे छोटा हो या बड़ा, उसकी कहानी का विस्तार नहीं करो, उसे वर्णन करना माना समय और शक्ति व्यर्थ गंवाना। योगी जीवन माना कर्मभोग को कर्मयोग में परिवर्तन कर देना-यही है भाग्यवान की निशानी।
स्लोगन:- दृष्टि में रहम और शुभ भावना हो तो अभिमान व अपमान की दृष्टि समाप्त हो जायेगी।

मातेश्वरी जी के मधुर महावाक्य

आत्मा परमात्मा में अन्तर, भेद

आत्मा और परमात्मा अलग रहे बहुकाल सुन्दर मेला कर दिया जब सतगुरु मिला दलाल… जब अपन यह शब्द कहते हैं तो उसका यथार्थ अर्थ है कि आत्मा, परमात्मा से बहुतकाल से बिछुड़ गई है। बहुतकाल का अर्थ है बहुत समय से आत्मा परमात्मा से बिछुड़ गई है, तो यह शब्द साबित (सिद्ध) करते हैं कि आत्मा और परमात्मा अलग-अलग दो चीज़ हैं, दोनों में आंतरिक भेद है परन्तु दुनियावी मनुष्यों को पहचान न होने के कारण वो इस शब्द का अर्थ ऐसा ही निकालते हैं कि मैं आत्मा ही परमात्मा हूँ, परन्तु आत्मा के ऊपर माया का आवरण चढ़ा हुआ होने के कारण अपने असली स्वरूप को भूल गये हैं, जब वो माया का आवरण उतर जायेगा फिर आत्मा वही परमात्मा है। तो वो आत्मा को अलग इस मतलब से कहते हैं और दूसरे लोग फिर इस मतलब से कहते हैं कि मैं आत्मा सो परमात्मा हूँ परन्तु आत्मा अपने आपको भूलने के कारण दु:खी बन पड़ी है। जब आत्मा फिर अपने आपको पहचान कर शुद्ध बनती है तो फिर आत्मा परमात्मा में मिल एक ही हो जायेंगे। तो वो आत्मा को अलग इस अर्थ से कहते हैं परन्तु अपन तो जानते हैं कि आत्मा परमात्मा दोनों अलग चीज़ है। न आत्मा, परमात्मा हो सकती और न आत्मा परमात्मा में मिल एक हो सकती है और न फिर परमात्मा के ऊपर आवरण चढ़ सकता है।

Font Resize