daily gyan murli 7 november 2017

TODAY MURLI 7 NOVEMBER 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 7 NOVEMBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 6 November 2017 :- Click Here

07/11/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, the Purifier Father has come to purify you and give you your inheritance of the pure world. Only those who become pure will receive salvation.
Question: What is the main basis of transforming a bhogi life (a life of sensual pleasures) into a yogi life?
Answer: Faith. Until you have faith that the One who is teaching you is the unlimited Father Himself, neither will you be able to have yoga nor will you be able to study; you will remain a bhogi. Some children come to class but they don’t have faith in the One who is teaching them. They understand that there is some power here, but they wonder how it could be possible for incorporeal Shiv Baba to teach them. This is something new. Children who have such stone intellects cannot be transformed.
Song: Salutations to Shiva.

Om shanti. Children, you do understand that Shiv Baba is explaining to you. He isn’t going to say over and over again “God speaks”. It’s against the law to praise yourself repeatedly. Shiv Baba, who is the Father of all of us, sits here and explains to all of us children. He enables us to attain our unshakeable and constantdeity sovereignty for 21 births. Students in schools and colleges know that their teacher are teaching them and making them into barristers the same as themselves and that that is their aim and objective. However, when they go to spiritual gatherings to listen to the Vedas and scriptures, they don’t receive anything from that. This is why teachers are at least better in that they give you a worldly education to help you to earn an income for your livelihood, but all the rest lead you to degradation. If a son doesn’t want to get married, his father would tell him that he won’t receive his inheritance and that he can go wherever he wants. Here, the Father gives you nectar to drink and also gives you the inheritance. He says: Become pure and you will become the masters of the pure world. There is so much difference between a limited father and the unlimited Father. That one takes you into the night whereas this One takes you into the day. This One is the Purifier. They say that there is only one Bestower of Salvation who comes and grants salvation to all. So, then, who brought about degradation? They don’t know this. The Father explains: All are following devilish dictates. You come here to change from devils into deities. This is Indraprasth (Court of Indra). Even some impure people come and sit here secretly. Many who indulge in vice secretly also go to all the centres. They then return home and drink poison. These two things cannot continue at the same time. They become those with stone intellects. They don’t recognise the Father at all. They have no faith at all that the unlimited Father is teaching them. They simply come and sit here. So, neither are they able to have yoga nor are they able to study. They remain those who indulge in sensual pleasures. Many think that there is some power here but they wonder how incorporeal Shiv Baba can come. This is not even written in any of the scriptures. These are new things. They speak of the birthday of Shiva but, because they have stone intellects, they’re unable to understand it. It is because Shiva exists that all devotees remember Him. They say: Salutations to Shiva because they believe that He resides in the supreme abode. The Supreme Father is also our Father. He is the Father of everyone. In Bharat, too, there are people who don’t believe in the Father. It is very difficult to explain to human beings. People don’t even understand that this is the time of degradation. On the path of devotion, there was unadulterated devotion at first, but it has now become adulterated. There is so much difference between adulterated and unadulterated. Those are sinful souls and these are charitable souls. Unadulterated worship is real devotion. At that time, that is, in the copper age, people were happy; they had wealth and prosperity. In the iron age, they experience greater degradation. When they start to perform adulterated devotion, they indulge in vice a lot more. Day by day, the vices are becoming stronger and stronger. At first, the vices were satopradhan and now they are tamopradhan. Everyone is now completely tamopradhan. There is so much fighting in every home. Shiv Baba sits here and explains to you children. Krishna is not the Father. They don’t know the biography of anyone. This One is the Purifier. They believe that the Supreme Father, the Supreme Soul, is the Ocean of Knowledge. No ocean of water can be the Purifier or knowledgefull. People consider rivers of water that have emerged from the ocean of water to be the Purifier. You should ask them about this, just as you should ask about the occupation of the God of the Gita: The incorporeal Supreme Father, the Supreme Soul, is the Creator, whereas Shri Krishna is the creation. Therefore, who is the God of the Gita? Only the One would be called God. How could Vyas then be God? You should ask such questions. The Supreme Father, the Supreme Soul, the Purifier, is the Ocean of Knowledge. How do these Ganges of knowledge emerge from Him? The Supreme Father, the Supreme Soul, creates the mouth-born Brahmin creation through the lotus lips of Brahma. They are receiving knowledge from the mouth of Brahma through which they gain salvation. So, do you become pure through an ocean of water or the Ocean of Knowledge? Human beings cannot be purified with water. Therefore, you have to ask them this riddle. By being asked this, they can become the masters of the pure world. They call out to Him: O Purifier Rama, who belongs to Sita, come! Then they go and bathe in the Ganges. Therefore, this riddle should also be added. Everything applies at the right time. For instance, just as there is the question about the God of the Gita, so this too is a question like that. You do think about what things you should make so that people are able to keep them with themselves all the time as a memento. If it is something good, they would keep it with themselves all the time. If it is something just on paper they would throw it away. If it is something nice to do with the deities, they would not tear it up. Those who practise service would think about these things throughout the day and they would definitely do something practical. You mustn’t simply talk about how something should be done. Whom do you tell this to? Would Baba do it or would the children do it? Speak! Who would do it? The Father gives you directions. Print such good pictures, make calendar s. You should also have calendars of Trimurti Shiva. It is rightto say Trimurti Shiv Jayanti. It is wrong to say simply Shiv Jayanti. A child has the desire to print a colour calendar of Trimurti Shiv Jayanti. You can receive a very good explanation from the Trimurti. Therefore, Baba has had lockets made so that you can give a proper explanation through them. Shiv Baba grants salvation through Brahma. Those who make effort become the masters of the land of Vishnu. Those who don’t take knowledge are led to destruction. They experience punishment and don’t attain a status. Devotees remember God, but when God comes, very few recognise Him or belong to Him; they are a handful out of multimillions. Those who make effort for liberation cannot claim a good status. Their sins won’t be absolved. Therefore, they are given visions. The founders of religions also come to take drishti. By having remembrance and having your sins absolved, you can claim a high status. The main ones of other religions will also come at the end. It isn’t that the Pope of the present time will come; no. The first Pope who is now in another birth will come. This is a very important account. There is now the Kumbha mela. All of that is the paraphernalia of devotion. When there is the total eclipse of degradation, the Father comes and makes you 16 celestial degrees full. The eclipse can be removed by the discus of self-realisation. In the picture of your cycle, you should write at the bottom: This is the discus of self-realisation. This is something very good. This is God’s C oat of A rms. These are God’s things. Baba also continues to explain to you about the slides that you continue to make. If, for instance, some don’t hear the murli, they can’t put the directions into practice. You have to study the murli every day. Those who are on service should act and put it into practice. You have also made a very good slide of the Trimurti that has very good writing on it. There has to be two cycles: establishment and destruction. This is hell and that is heaven. This is the Bharat of today and that is the Bharat of tomorrow. The Father, who grants you salvation in a second , is sitting here. Recognise Baba and develop that faith; that’s all. You then begin to make effort to receive liberation-in-life. At least you have taken birth! You have to claim your full inheritance from the Father. You cannot ask then for vice. The Father says: Those who are corrupt cannot receive the inheritance. You saw the example of this one (Brahma) in a practical way. Very few such ones emerge. They think about their honour etc. too much. The Father is the Creator and everyone has to follow His orders. If you don’t follow shrimat, your status is destroyed. The Father says: On this path of knowledge, you also need to be a conqueror of attachment. You have received Baba’s directions. The children who are not obedient are unworthy. Those children are not real children. The direction of purity is good. It is at this time that the Father teaches you Raja Yoga. The poor people don’t understand this. Among you children too, you understand, numberwise, according to the efforts you make. The Father gives so many directions and yet it is with great difficulty that children actually put them into practice. The Father says: You should make a calendar of the Trimurti. Everything depends on the picture of Trimurti Shiva. It is written that establishment takes place through Brahma. Shiv Baba would surely only create heaven. The iron age, the devilish kingdom, is to be destroyed. There are so many people in the devilish kingdom and so few in the divine kingdom. Destruction of the innumerable religions and establishment of the one true religion is also written about. The Father says: I decorate you so much and yet you don’t reform yourselves! You continue to say wrong things. Here, Baba says: Forget everything including your body and constantly remember Me alone. Don’t become trapped by even your own body. By becoming trapped by the body of someone else you will fall. For instance, those who had love for Mama died after Mama left because they were trapped by name and form. The Father tells you so much: Don’t be body conscious! Constantly remember Me alone! You mustn’t even remember the body of this Brahma. By remembering the body, you aren’t able to take full knowledge. It requires a lot of effort to become soul conscious. It is very difficult to stay in remembrance of the Father. You relate knowledge very well, but it is with difficulty that you stay in yoga. The more powerful you become, the more the storms of Maya will come. You then become trapped by the name and form of someone or other and are deceived. You need to be very cautious about this. Yoga also requires a lot of effort. Knowledge is easy. In yoga, you repeatedly forget and this is why the Father says: How will you become conquerors of sinful actions? Stay in yoga and you won’t commit any more sins. Otherwise, you accumulate one hundred-fold. Here, both Dharamraj, Himself, and the Father are together. This is why He, Himself, says: Don’t commit any sin in front of the Father. Otherwise, there will be one hundred-fold punishment. You have to become a conqueror of sinful actions through yoga. It is easy to know the discus of self-realisation. Beneath the picture of this cycle, you have to write the word ‘discus’ not ‘spinning wheel’. Baba gives you many tactics. You children have to put them into practice! Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Don’t become trapped in the name and form of any bodily being. Don’t become trapped in even your own body. You have to remain very cautious about this.
  2. On the path of knowledge you definitely have to become a conqueror of sin. Obey the directions of purity and create methods to make others pure.
Blessing: May you be a master of all treasures and through your self-transformation become an instrument for world transformation.
Your slogan is: Do not seek revenge (badla), demonstrate your own transformation (badalna), world transformation through self-transformation. Some children think: When this becomes all right, I will then also be fine. If this system is fine, I will then remain fine. Cool down those who become angry and I will cool down. Move away this one who causes conflict and the centre will be fine. To think in this way is wrong. First of all, transform yourself and then the world will change. For this, become a master of all treasures and use those treasures according to the time.
Slogan: Let the light of all powers always be with you and Maya will run away from a distance.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_1]

Read Murli 5 November 2017 :- Click Here

BRAHMA KUMARIS MURLI 7 NOVEMBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 7 November 2017

October 2017 Bk Murli :- Click Here
To Read Murli 6 November 2017 :- Click Here
07/11/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – पतित-पावन बाप आये हैं पावन बनाकर पावन दुनिया का वर्सा देने, पावन बनने वालों को ही सद्गति प्राप्त होगी”
प्रश्नः- भोगी जीवन, योगी जीवन में परिवर्तन होने का मुख्य आधार क्या है?
उत्तर:- निश्चय। जब तक निश्चय नहीं कि हमको पढ़ाने वाला स्वयं बेहद का बाप है तब तक न योग लगेगा, न पढ़ाई ही पढ़ सकेंगे। भोगी के भोगी ही रह जायेंगे। कई बच्चे क्लास में आते हैं लेकिन पढ़ाने वाले में निश्चय नहीं। समझते हैं हाँ कोई शक्ति है लेकिन निराकार शिवबाबा पढ़ाते हैं – यह कैसे हो सकता? यह तो नई बात है। ऐसे पत्थरबुद्धि बच्चे परिवर्तन नहीं हो सकते।
गीत:- ओम् नमो शिवाए…..

ओम् शान्ति। बच्चे यह तो समझ गये हैं कि शिवबाबा हमको समझाते हैं। घड़ी-घड़ी तो नहीं कहेंगे भगवानुवाच। यह तो कायदा नहीं कि घड़ी-घड़ी अपनी महिमा करनी है। शिवबाबा जो सबका बाप है, वह हम बच्चों को बैठ समझाते हैं। भविष्य 21 जन्मों के लिए अटल अखण्ड दैवी स्वराज्य प्राप्त कराते हैं। जैसे स्कूल अथवा कॉलेज में बच्चे जानते हैं कि टीचर हमें आप समान बैरिस्टर बना रहे हैं, एम आब्जेक्ट है। बाकी सतसंगों में जो जाते हैं वेद शास्त्र आदि सुनने के लिए, उससे तो कुछ मिलता नहीं है इसलिए टीचर फिर भी अच्छे होते हैं जो शरीर निर्वाह अर्थ कोई जिस्मानी विद्या सिखलाते हैं, जिससे आजीविका होती है। बाकी सब दुर्गति ही करते हैं, बच्चे शादी न करना चाहें तो बाप कहेगा कि वर्सा भी नहीं मिलेगा। जहाँ चाहे वहाँ चले जाओ। यहाँ तो बाप अमृत भी पिलाते हैं और वर्सा भी देते हैं कहते हैं कि पवित्र बनो तो पवित्र दुनिया के मालिक बनेंगे। कितना फ़र्क है – हद के बाप में और बेहद के बाप में। वह रात में ले जाते हैं, यह दिन में ले जाते हैं। यह है ही पतित-पावन। कहते भी हैं कि सद्गति दाता एक है – जो आकर सबकी सद्गति करते हैं, फिर दुर्गति किसने की? यह नहीं जानते। बाप समझाते हैं – सब आसुरी मत वाले हैं। यहाँ आते हैं असुरों से देवता बनने। यह इन्द्रप्रस्थ है। कई असुर भी छिपकर आए बैठते हैं। सब सेन्टर्स पर ऐसे छिपे असुर (विकारी) बहुत आते हैं, फिर घर में जाकर विष पीते हैं। दो काम तो चल न सकें। वह पत्थरबुद्धि बन पड़ते हैं। बाप को पहचानते ही नहीं। निश्चय बिल्कुल ही नहीं कि हमको बेहद का बाप पढ़ाते हैं। ऐसे ही आकर बैठ जाते हैं। तो न योग लगेगा, न पढ़ाई ही पढ़ सकते। भोगी के भोगी ही होंगे। बहुत समझते हैं कि कोई शक्ति है बस। निराकार शिवबाबा कैसे आ सकता! कोई शास्त्र में भी लिखा हुआ नहीं है। यह हैं नई बातें। गाते भी हैं शिव जयन्ति.. परन्तु पत्थरबुद्धि होने के कारण समझते नहीं हैं। शिव है तब तो सब भक्त याद करते हैं। कहते भी हैं शिवाए नम:, समझते हैं वह परमधाम में रहते हैं। हमारा बाप भी है परमपिता, तो वह सबका फादर हो गया ना। भारत में ऐसे भी हैं जो फादर को नही मानते। मनुष्यों को समझाना बहुत मुश्किल है। मनुष्य तो यह भी नहीं समझते कि अभी दुर्गति का समय चल रहा है। भक्ति मार्ग में पहले अव्यभिचारी भक्ति थी अब व्यभिचारी बन गई है। व्यभिचारी और अव्यभिचारी में कितना अन्तर है। वह पाप आत्मा, वह पुण्य आत्मा। अव्यभिचारी भक्ति है ही सच्ची भक्ति। उस समय यानी द्वापर में मनुष्य सुखी भी रहते हैं। धन-दौलत आदि सब रहता है। कलियुग में जास्ती दुर्गति को पाते हैं। जब व्यभिचारी भक्ति में आते हैं तब विकारी भी बहुत बनते जाते हैं। दिन-प्रतिदिन विकार भी जोर भरते जाते हैं। पहले सतोप्रधान विकार थे, अभी तमोप्रधान विकार हैं। सब बिल्कुल ही तमोप्रधान हैं। घर-घर में कितने झगड़े हैं। शिवबाबा बैठ बच्चों को समझाते हैं। कृष्ण तो बाप नहीं ठहरा। कोई की भी बायोग्राफी नहीं जानते हैं। यह है पतित-पावन। परमपिता परमात्मा को मानते हैं कि वह ज्ञान का सागर है, पानी का सागर थोड़ेही पतित-पावन, नॉलेजफुल है। मनुष्य तो पानी के सागर से निकली हुई पानी की नदियों को पतित-पावनी समझ लेते हैं। उनसे पूछना चाहिए कि जैसे गीता के भगवान का आक्यूपेशन पूछा जाता है – निराकार परमपिता परमात्मा है रचयिता और श्रीकृष्ण है रचना, अब बताओ गीता का भगवान कौन? भगवान तो एक को ही कहेंगे। फिर व्यास को भगवान कैसे कह सकते। तो ऐसे-ऐसे प्रश्न पूछना चाहिए – पतित-पावन, परमपिता परमात्मा ज्ञान का सागर है, उनसे यह ज्ञान गंगायें कैसे निकलती हैं? परमपिता परमात्मा ब्रह्मा मुख कमल द्वारा ब्राह्मण मुख वंशावली रचते हैं। उन्हों को ब्रह्मा मुख से ज्ञान मिल रहा है, जिससे सद्गति को पाते हैं। अब पानी के सागर से पावन बनते हैं वा ज्ञान सागर से। पानी से मनुष्य तो पावन हो न सकें। तो यह पहेली भी पूछनी पड़े, इनको पूछने से पावन दुनिया का मालिक बन सकते हैं। बुलाते तो उनको ही हैं कि हे पतित-पावन सीताराम। फिर गंगा में स्नान आदि करते हैं, तो यह पहेली भी एड करनी चाहिए। समय पर हर एक चीज़ शोभती है। जैसे वो गीता के भगवान वाली पहेली है, वैसे यह भी पहेली है। ख्याल चलते तो हैं ना – क्या ऐसी चीज़ें बनायें जो मनुष्य सदैव अपने पास यादगार रखें। अच्छी चीज़ होगी तो अपने पास रखेंगे। कागज आदि तो फेंक देते हैं। देवताओं की अच्छी चीज़ होगी तो वह फाड़ेंगे नहीं। सर्विस की प्रैक्टिस वालों का सारा दिन विचार सागर मंथन चलता रहेगा और काम करके दिखायेंगे। सिर्फ कहना नहीं है कि ऐसा करना चाहिए। यह किसको कहते हो? बाबा करेगा वा बच्चे करेंगे? बोलो कौन? बाप तो डायरेक्शन देते हैं। ऐसे अच्छे चित्र, कैलेन्डर छपाओ, त्रिमूर्ति शिव के कैलेन्डर्स निकलने चाहिए। त्रिमूर्ति शिव जयन्ती कहना राइट है। सिर्फ शिव जयन्ति कहना रांग है। एक बच्चे की दिल है त्रिमूर्ति शिव जयन्ती का कलैन्डर बनावें सो भी रंगीन। त्रिमूर्ति से समझानी अच्छी मिलती है। बाबा लॉकेट भी इसलिए बनवाते हैं कि उनसे अच्छा समझा सकते हैं। ब्रह्मा द्वारा शिवबाबा सद्गति करते हैं। तो जो मेहनत करता है वही विष्णुपुरी का मालिक बनता है। बाकी जो ज्ञान नहीं लेते उनका विनाश हो जाता है। वह सज़ायें भी खाते हैं, पद भी नहीं पाते। भगत भगवान को याद करते हैं परन्तु जब भगवान आते हैं तब कितने थोड़े उन्हें पहचानकर उनका बनते हैं। कोटों में कोई। जो मुक्ति के लिए पुरुषार्थ करते हैं वह पद अच्छा पा नहीं सकेंगे। विकर्म विनाश नहीं होंगे इसलिए साक्षात्कार कराया था – धर्म स्थापक भी आते हैं दृष्टि लेने। याद करते-करते विकर्म विनाश करते जायें तो पद ऊंचा पा सकते हैं, और धर्म वाले भी आयेंगे सो भी पिछाड़ी में, जो बड़े होंगे। ऐसे नहीं कि अभी का पोप आयेगा, ना ना …. पहले नम्बर का पोप, जो अभी अन्तिम जन्म में है, वह आयेगा। हिसाब है बड़ा भारी। अब यह कुम्भ का मेला है। यह सब भक्ति मार्ग की सामग्री है। जब दुर्गति को पाने का पूरा ग्रहण लग जाता है, तब बाप आकर 16 कला सम्पूर्ण बनाते हैं। ग्रहण को स्वदर्शन चक्र से निकाला जाता है। यह जो अपना गोला है, उसमें नीचे लिखना चाहिए यह है स्वदर्शन पा। यह बहुत अच्छी चीज़ है। यह ईश्वरीय कोट आफ आर्मस है। यह तो ईश्वरीय बातें हैं। स्लाइड्स जो बना रहे हैं उनके लिए भी बाबा समझानी देते रहते हैं। अगर समझो वो मुरली न सुनें तो डायरेक्शन अमल में ला न सकें। मुरली तो रोज़ पढ़नी चाहिए। सर्विस में जो हैं उनको एक्ट में आना चाहिए। त्रिमूर्ति का भी स्लाईड्स बनाते हैं, उनमें अक्षर बहुत अच्छे हैं। स्थापना और विनाश – दो गोले भी चाहिए। यह नर्क, यह स्वर्ग। यह आज का भारत और कल का भारत। बाप सेकण्ड में जीवनमुक्ति देने वाला बैठा है। बाबा को पहचाना, निश्चय हुआ बस। जीवनमुक्ति पाने का पुरुषार्थ चल पड़ता है। जन्म तो लिया ना। बाप से पूरा वर्सा लेना है। फिर विकार की मांग नहीं कर सकते। बाप कहते हैं भ्रष्टाचारी को वर्सा मिल न सके। प्रैक्टिकल में इनका (ब्रह्मा का) ही मिसाल देखा ना। ऐसे बहुत मुश्किल निकलते हैं। अपनी इज्ज़त आदि भी बहुत देखते हैं ना। क्रियेटर बाप है, सबको उनकी आज्ञा पर चलना है। तुम भी श्रीमत पर नहीं चलते हो तो पद भ्रष्ट हो जाता है।

बाप कहते हैं – इस ज्ञान मार्ग में नष्टोमोहा अच्छा चाहिए। बाबा की आज्ञा मिली हुई है, जो बच्चे आज्ञाकारी नहीं, वह कपूत ठहरे। वह बच्चा, बच्चा नहीं। पवित्रता की आज्ञा तो अच्छी है ना। राजयोग तो बाप अभी सिखलाते हैं। मनुष्य तो बिचारे समझते नहीं। बच्चों में भी नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार समझते हैं। बाप इतना डायरेक्शन देते हैं, कोई बच्चे मुश्किल करके दिखाते हैं। बाप कहते हैं – त्रिमूर्ति का कैलेन्डर बनाना है। सारा मदार है त्रिमूर्ति शिव के चित्र पर। लिखा हुआ है ब्रह्मा द्वारा स्थापना। जरूर शिवबाबा स्वर्ग की स्थापना करेंगे ना। कलियुग आसुरी राज्य का विनाश होगा। आसुरी राज्य में कितने ढेर हैं। दैवी राज्य में कितने थोड़े हैं। लिखा हुआ भी है कि अनेक धर्मों का विनाश, एक सत धर्म की स्थापना। बाप कहते हैं – मैं कितना श्रृंगारता हूँ फिर भी सुधरते नहीं हैं, उल्टा सुल्टा बोलते रहते हैं। यहाँ बाबा कहते हैं देह सहित जो कुछ है सब कुछ भूल मामेकम् याद करो। अपनी देह में भी न फंसो। किसकी देह में फंसने से गिर पड़ते हैं। जैसे मम्मा की देह से प्यार था तो मम्मा के जाने के बाद कितने मर गये क्योंकि नाम रूप में फंसे हुए थे। बाप कितना कहते हैं कि देह-अभिमानी मत बनो, मामेकम् याद करो। तुम इस ब्रह्मा के शरीर को भी याद नहीं करो। शरीर को याद करने से पूरा ज्ञान उठा नहीं सकते। देही-अभिमानी बनने में बहुत मेहनत है। बाप की याद में रहना – यह बहुत डिफीकल्ट है। ज्ञान तो बहुत अच्छा-अच्छा सुनाते हैं। योग में मुश्किल रहते हैं। जितना रूसतम, उतना माया के तूफान आयेंगे। किसी न किसी के नामरूप में फंस धोखा खा लेते हैं, इसमें बड़ी खबरदारी चाहिए। योग में ही बड़ी मेहनत है। नॉलेज तो सहज है। योग में ही घड़ी-घड़ी भूल जाते हैं इसलिए बाप कहते हैं विकर्माजीत कैसे बनेंगे। योग में रहो तो पाप भी नहीं होंगे। नहीं तो सौगुणा हो जाता है। यहाँ तो खुद धर्मराज और बाप दोनों साथ हैं इसलिए खुद कहते हैं कि बाप के आगे कोई पाप नहीं करना, नहीं तो सौगुणा दण्ड पड़ जायेगा। योग से ही विकर्माजीत बनना है। स्वदर्शन चक्र को तो जानना सहज है। इस गोले के नीचे लिखना है पा, न कि चर्खा। बाबा युक्तियाँ तो बहुत बतलाते हैं। बच्चों को एक्ट में आना है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) किसी भी देहधारी के नाम रूप में अटकना नहीं है। अपनी देह में भी नहीं फंसना है, इसमें बहुत खबरदारी रखनी है।

2) ज्ञान मार्ग में नष्टोमोहा जरूर बनना है। पवित्रता की आज्ञा माननी है और दूसरों को भी पवित्र बनाने की युक्ति रचनी है।

वरदान:- स्व परिवर्तन द्वारा विश्व परिवर्तन के निमित्त बनने वाले सर्व खजानों के मालिक भव
स्लोगन:- आपका स्लोगन है ”बदला न लो बदलकर दिखाओ”। स्व परिवर्तन से विश्व परिवर्तन। कई बच्चे सोचते हैं यह ठीक हो तो मैं ठीक हो जाऊं, यह सिस्टम ठीक हो तो मैं ठीक रहूँ। क्रोध करने वाले को शीतल कर दो तो मैं शीतल हो जाऊं, इस खिटखिट करने वाले को किनारे कर दो तो सेन्टर ठीक हो जाए..यह सोचना ही रांग है। पहले स्व को बदलो तो विश्व बदल जायेगा। इसके लिए सर्व खजानों के मालिक बन समय प्रमाण खजानों को कार्य में लगाओ।

स्लोगन:- सर्व शक्तियों की लाइट सदा साथ रहे तो माया दूर से ही भाग जायेगी।

[wp_ad_camp_5]

 

To Read Murli 5 November 2017 :- Click Here

Font Resize