daily gyan murli 26 November 2020

TODAY MURLI 26 NOVEMBER 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 26 November 2020

26/11/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, in order to reform your character, stay on the pilgrimage of remembrance. It is having remembrance of the Father that will make you one hundred times constantly fortunate.
Question: At what time can you truly recognise your stage? What would you call a good stage?
Answer: You are able to recognise your stage at a time of illness. Even when you are ill, if you remain happy and your cheerful face continues to remind everyone of the Father, that is a good stage. If you cry and remain unhappy, how could you make others cheerful? No matter what happens, you mustn’t cry.

Om shanti. Two expressions are remembered: Unfortunate and one hundred times fortunate. When someone’s fortune is lost, he is said to be unfortunate. When a woman’s husband dies, she too is called unfortunate; she is left alone. You now understand that you are becoming one hundred times fortunate for all time. There is no question of sorrow there; there is no mention of death there. The name “widow” doesn’t exist there. A widow experiences sorrow and continues to cry. Although someone may be a sage or a holy man, it doesn’t mean that he doesn’t experience sorrow. Some go crazy; some become ill or diseased. This is the world of disease. The golden age is a world that is free from disease. You children understand that you are once again making Bharat free from disease by following shrimat. At present, people’s characters are very bad. There must definitely be a department to reform their characters. A register of students is kept at school. Their characters can be seen from that. This is why Baba also had a register kept. Each one of you should keep your own register. Check your character to see that you are not making any mistakes. The first thing is to remember the Father. It is through this that your character will be reformed. It is by having remembrance of the One that your lifespan becomes long. These are jewels of knowledge. Remembrance is not said to be a jewel. It is by having remembrance that your character is reformed. No one, apart from you, can explain the cycle of 84 births. It is with this cycle that you have to explain about Brahma and Vishnu; you cannot speak of the character of Shankar. You children know what the connection between Brahma and Vishnu is. The dual-form of Vishnu is Lakshmi and Narayan. They then take 84 births. It is in their 84 births that they become worthy of worship and worshippers. Prajapita Brahma definitely has to exist here. An ordinary body is needed. Generally, it is this that confuses people. Brahma is the chariot of the Purifier Father. It is said: The Resident of the faraway land has come to the foreign land. The Purifier Father who creates the pure world has come into the impure world. There cannot be a single pure human being in the impure world. You children now understand how you take 84 births. Someone must definitely take that. Only those who come at the beginning take 84 births. In the golden age there are only deities. Human beings don’t think at all about who takes 84 births. This is something that has to be understood. Everyone believes in rebirth. It has to be explained with great tact that there are 84 rebirths. Not everyone will take 84 births. It isn’t that everyone will come together and shed their bodies together. (In the Gita) It says: God speaks: You don’t know your own births; only God sits and explains this. You souls take 84 births. The Father sits here and tells you children the story of 84 births. This is like a study. It is very easy to know the cycle of 84 births. Those of other religions won’t understand these things. Among you too, not everyone will take 84 births. If everyone were to take 84 births, all of you would come down together; that is not possible. Everything depends on how you study and have remembrance. Within that, remembrance isnumber one. You receive more marks in a difficult subject. It creates an impact. There are the highest, the middle and the lowest subjects. Here, there are two main subjects. The Father says: Remember Me and you will become completely viceless and will then be threaded in the rosary of victory. This is a race. First of all, look at yourself to see to what extent you are imbibing this. How much do I stay in remembrance? What is my character like? If I have the habit of crying, how would I be able to make others cheerful? Baba says: Those who cry lose out. No matter what happens, there is no need to cry. Even in illness, you can at least say this much in happiness: Consider yourself to be a soul and remember the Father. Only at a time of illness does it become evident what stage you have reached. In times of difficulty, you may groan a little but you still have to consider yourself to be a soul and remember the Father. The Father has given the message. Shiv Baba alone is the Messenger; no one else can be this. Everything else that others relate are all stories of the path of devotion. All the things of this world are perishable. I am now taking you to a place where nothing breaks. There, everything is so well made that there is no mention of anything breaking. Here, so many things are invented through scienceScience will definitely exist there too because you need to have a lot of comfort. The Father says: You children did not know anything: how much sorrow you experienced when the path of devotion began – all of these things are now in your intellects. Deities are said to be full of all virtues. Now, no degrees remain. How did their degrees decrease? The degrees of the moon also gradually decrease. You know that when this world is first new, everything is satopradhan and first-class. Then, as it becomes old, its degrees decrease. Lakshmi and Narayan are full of all virtues. The Father is now telling you the true story of the true Narayan. It is now the night and it will then be the day. You are becoming perfect and such a world is required for you. Even the five elements become satopradhan (16 celestial degrees full). This is why your bodies there are naturally beautiful; they are satopradhan. The whole world becomes 16 celestial degrees full. Now there are no degrees. It is not in the fortune of all the eminent people or the great souls etc. to have knowledge of the Father; they have their own pride. Generally, this is said to be in the fortune of the poor. Some say: The Father is so high that He should enter the body of a great king or a pure rishi. Only the sannyasis are pure. He could also enter the body of a pure kumari. The Father sits here and explains whom He enters. I enter the one who takes the full 84 births. There cannot be even one day less. On the day Krishna is born, he is 16 celestial degrees full. Then he goes through the stages of sato, rajo and tamo. Everything is at first satopradhan and it then becomes sato, rajo and tamo. It is the same in the golden age. A child is satopradhan at first and then, when he grows old, he says that he is now going to leave that body and become a satopradhan child. You children don’t have that much intoxication; the mercury of happiness just doesn’t rise. The mercury of happiness of those who make good efforts continues to rise. Their faces remain very happy and cheerful. As you progress further, you will continue to have visions. As you come closer to your home, you remember your home, family and buildings etc. It is the same here. While making effort, as your reward comes closer, you will continue to have many visions; you will remain happy. Those who fail drown themselves because of being ashamed. Baba will also tell you everything and you will then have to repent a great deal. You will have visions of your future and what you are to become. Baba will show you the bad actions you performed: You didn’t study fully and became a traitor and, therefore, this is your punishment. You will have visions of everything. How could He give punishment without giving visions? In a court too, they tell you what you did and what your punishment is going to be for that. Until you reach the karmateet stage, one sign or another will remain. When you souls become pure, you will have to shed your bodies; you can no longer stay here. You have to reach that stage. You are now making preparations to return home and then come into the new world. Your efforts are to go home quickly and then come down here quickly. Children are made to race. They are told to touch their goal and come back. You too have to go there quickly and then go into the new world in the first number. So, this is your race. They have races at schools. This is your family path. At first you had a pure household religion. Now, the world is vicious and it will then become viceless. If you continue to churn these things you will remain very happy. We claim the kingdom and then we lose it. People speak of the hero and heroine. You take a birth as valuable as a diamond and then you go into a birth that is like a shell. Now the Father says: Don’t waste your time chasing after shells. This one says: I too used to waste my time. He also told me: Now belong to Me and do this spiritual business. So, I instantly left everything. No one would throw money away. Money is useful. You can’t get buildings etc. without money. As you make further progress, many very wealthy people will come; they will continue to help you. One day, you will have to go and give lectures at big colleges and universities and tell them how the world cycle turns. History repeats from the beginning to the end. We can tell you the history and geography of the world from the golden age to the iron age. You can explain to them a lot about character. Praise Lakshmi and Narayan. Bharat was so pure; people had divine characters. Now they have vicious characters. The cycle will definitely repeat again. We can tell you the history and geography of the world. Those who are very good should go there. For instance, there is the Theosophical Society; you should go and give a lecture there. Krishna was a deity and he existed in the golden age. First of all, there is Shri Krishna and then he becomes Narayan. Now we will tell you the story of the 84 births of Shri Krishna, which no one else can tell you. This topic is very big. Those who are clever should go and give lectures. It now enters your hearts that you will become the masters of the world, and so there should be so much happiness. Sit and chant this internally and you will not like anything of this old world. You come here to become the masters of the world through the Supreme Father, the Supreme Soul. This world is called “Vishwa”. Neither the region of brahm nor the subtle region can be called a world. The Father says: I don’t become the Master of the world. I make you children the masters of the world. These are such deep matters. I make you into the masters of the world. Then, you become the slaves of Maya. When you sit in front of people and make them sit in yoga, you should remind them: Sit in soul consciousness and remember the Father. Then, tell them the same thing again after five minutes. You have yoga programmes. The intellects of many wander outside and you therefore have to caution them every five to ten minutes: Are you sitting here while considering yourselves to be souls? Are you remembering the Father? Your own attention will also then be maintained. Baba tells you all these different methods. Caution yourself again and again. Are you sitting in remembrance of Shiv Baba while considering yourself to be a soul? Those whose intellects’ yoga is wandering elsewhere will then become alert. Remind them of this again and again. It is only by having remembrance of Baba that you will be able to go across. People sing: Hey Boatman, take my boat across! However, they don’t understand the meaning of that. You have been performing devotion for half the cycle in order to go to the land of liberation. The Father says: Now remember Me and you will go to the land of liberation. You sit here to have your sins cut away and so you mustn’t commit any more sins. Otherwise, the sins will still remain. The number one effort is to consider yourself to be a soul and remember the Father. By cautioning others in this way, you too will be able to pay attention. You also have to caution yourself. Only when you stay in remembrance yourself can you inspire others to sit in remembrance. I am a soul and I am going home. Then I will come and rule here. To consider yourself to be a body is a severe disease. This is why everyone is now in the depths of hell. Therefore, you have to salvage them. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Use your time in a worthwhile way by doing spiritual business. Make your life as valuable as a diamond. Continue to caution yourself. Make effort to save yourself from the severe illness of considering yourself to be a body.
  2. Never become Maya’s slave. Sit and internally chant, “I am a soul”. Maintain the happiness that you are changing from a beggar to a prince.
Blessing: May you be greatly fortunate and experience the subtle region or the three worlds with the power of being viceless.
The fortunate children who have the power of being viceless and whose yoga of the intellect is absolutely refined, are easily able to travel around the three worlds. In order to make your thoughts reach the subtle region, you need to have refined remembrance of the essence of all relationships. This is the most powerful wire and Maya cannot interfere in this. So, in order to experience the splendour of the subtle region, fill yourself with the power of being viceless.
Slogan: To be attracted to any person, object or material comfort is to divorce the Father, your Companion, in your mind.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 26 NOVEMBER 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 26 November 2020

Murli Pdf for Print : – 

26-11-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – अपने कैरेक्टर्स सुधारने के लिए याद की यात्रा में रहना है, बाप की याद ही तुम्हें सदा सौभाग्यशाली बनायेगी”
प्रश्नः- अवस्था की परख किस समय होती है? अच्छी अवस्था किसकी कहेंगे?
उत्तर:- अवस्था की परख बीमारी के समय होती है। बीमारी में भी खुशी बनी रहे और खुशमिज़ाज़ चेहरे से सबको बाप की याद दिलाते रहो, यही है अच्छी अवस्था। अगर खुद रोयेंगे, उदास होंगे तो दूसरों को खुशमिज़ाज़ कैसे बनायेंगे? कुछ भी हो जाए – रोना नहीं है।

ओम् शान्ति। दो अक्षर गाये जाते हैं – दुर्भाग्यशाली और सौभाग्यशाली। सौभाग्य चला जाता है तो दुर्भाग्य कहा जाता है। स्त्री का पति मर जाता है तो वह भी दुर्भाग्य कहा जाता है। अकेली हो जाती है। अभी तुम जानते हो हम सदा के लिए सौभाग्यशाली बनते हैं। वहाँ दु:ख की बात नहीं। मृत्यु का नाम नहीं होता है। विधवा नाम ही नहीं होता। विधवा को दु:ख होता है, रोती रहती है। भल साधू-सन्त हैं, ऐसा नहीं कि उन्हें कोई दु:ख नहीं होता है। कोई पागल बन पड़ते हैं, बीमार रोगी भी होते हैं। यह है ही रोगी दुनिया। सतयुग है निरोगी दुनिया। तुम बच्चे समझते हो हम भारत को फिर से श्रीमत पर निरोगी बनाते हैं। इस समय मनुष्यों के कैरेक्टर्स बहुत खराब हैं। अब कैरेक्टर्स सुधारने की भी जरूर डिपार्टमेंट होगी। स्कूलों में भी स्टूडेण्ट्स का रजिस्टर रखा जाता है। उनके कैरेक्टर्स का पता चलता है इसलिए बाबा ने भी रजिस्टर रखवाया था। हर एक अपना रजिस्टर रखो। कैरेक्टर देखना है कि हम कोई भूल तो नहीं करते हैं। पहली बात तो बाप को याद करना है। उनसे ही तुम्हारा कैरेक्टर्स सुधरता है। आयु भी बड़ी होती है एक की याद से। यह तो हैं ज्ञान रत्न। याद को रत्न नहीं कहा जाता। याद से ही तुम्हारे कैरेक्टर सुधरते हैं। यह 84 जन्मों का चक्र तुम्हारे सिवाए और कोई समझा न सके। इस पर ही समझाना है – विष्णु और ब्रह्मा। शंकर के तो कैरेक्टर नहीं कहेंगे। तुम बच्चे जानते हो ब्रह्मा और विष्णु का आपस में क्या कनेक्शन है। विष्णु के दो रूप हैं यह लक्ष्मी-नारायण। वही फिर 84 जन्म लेते हैं। 84 जन्मों में आपेही पूज्य और आपेही पुजारी बनते हैं। प्रजापिता ब्रह्मा तो जरूर यहाँ ही चाहिए ना। साधारण तन चाहिए। बहुत करके इसमें ही मूँझते हैं। ब्रह्मा तो है ही पतित-पावन बाप का रथ। कहते भी हैं – दूरदेश का रहने वाला आया देश पराये…….. पावन दुनिया बनाने वाला पतित-पावन बाप पतित दुनिया में आया। पतित दुनिया में एक भी पावन नहीं हो सकता। अभी तुम बच्चों ने समझा है कि 84 जन्म हम कैसे लेते हैं। कोई तो लेते होंगे ना। जो पहले-पहले आते होंगे उनके ही 84 जन्म होंगे। सतयुग में देवी-देवता ही आते हैं। मनुष्यों का ज़रा भी ख्याल नहीं चलता, 84 जन्म कौन लेंगे। समझ की बात है। पुनर्जन्म तो सब मानते हैं। 84 पुनर्जन्म हुए यह बड़ी युक्ति से समझाना है। 84 जन्म तो सभी नहीं लेंगे ना। एक साथ सब थोड़ेही आयेंगे और शरीर छोड़ेंगे। भगवानुवाच भी है कि तुम अपने जन्मों को नहीं जानते हो, भगवान ही बैठ समझाते हैं। तुम आत्मायें 84 जन्म लेती हो। यह 84 की कहानी बाप तुम बच्चों को बैठ सुनाते हैं। यह भी एक पढ़ाई है। 84 का चक्र तो जानना बहुत सहज है। दूसरे धर्म वाले इन बातों को समझेंगे नहीं। तुम्हारे में भी कोई सभी 84 जन्म नहीं लेते हैं। सभी के 84 जन्म हों तो सब इकट्ठे आ जाएं। यह भी नहीं होता है। सारा मदार पढ़ाई और याद पर है। उसमें भी नम्बरवन है याद। डिफीकल्ट सब्जेक्ट पर मार्क्स जास्ती मिलती हैं। उनका प्रभाव भी होता है। उत्तम, मध्यम, कनिष्ट सब्जेक्ट होती हैं ना। इनमें हैं दो मुख्य। बाप कहते हैं मुझे याद करो तो सम्पूर्ण निर्विकारी बन जायेंगे और फिर विजय माला में पिरो जायेंगे। यह है रेस। पहले तो खुद को देखना है कि मैं कहाँ तक धारणा करता हूँ? कितना याद करता हूँ? मेरे कैरेक्टर्स कैसे हैं? अगर मेरे में ही रोने की आदत है तो दूसरे को खुशमिज़ाज़ कैसे बना सकता हूँ? बाबा कहते हैं जो रोते हैं सो खोते हैं। कुछ भी हो जाए लेकिन रोने की दरकार नहीं है। बीमारी में भी खुशी से इतना तो कह सकते हो अपने को आत्मा समझ बाप को याद करो। बीमारी में ही अवस्था की परख होती है। तकलीफ में थोड़ा कुड़कने की आवाज़ भल निकलती है परन्तु अपने को आत्मा समझ बाप को याद करना है। बाप ने पैगाम दिया है। पैगम्बर-मैसेन्जर एक शिवबाबा है, दूसरा कोई है नहीं। बाकी जो भी सुनाते हैं, सारी भक्ति मार्ग की बातें। इस दुनिया की जो भी चीज़ें हैं सब विनाशी हैं, अभी तुमको वहाँ ले जाते हैं जहाँ टूट-फूट नहीं। वहाँ तो चीज़ें ही ऐसी अच्छी बनेंगी जो टूटने का नाम ही नहीं होगा। यहाँ साइन्स से कितनी चीज़ें बनती हैं, वहाँ भी तो साइंस जरूर होगी क्योंकि तुम्हारे लिए बहुत सुख चाहिए। बाप कहते हैं तुम बच्चों को कुछ भी पता नहीं था। भक्ति मार्ग कब शुरू हुआ, कितना तुमने दु:ख देखा – यह सब बातें अभी तुम्हारी बुद्धि में हैं। देवताओं को कहा ही जाता है – सर्वगुण सम्पन्न……. फिर वह कलायें कैसे कम हुई? अभी तो कोई कला नहीं रही है। चन्द्रमा की भी धीरे-धीरे कला कम होती है ना।

तुम जानते हो कि यह दुनिया भी पहले नई है तो वहाँ हर चीज़ सतोप्रधान फर्स्टक्लास होती है। फिर पुरानी होते कलायें कम होती जाती हैं। सर्वगुण सम्पन्न यह लक्ष्मी-नारायण हैं ना। अभी बाप तुमको सच्ची-सच्ची सत्य नारायण की कथा सुना रहे हैं। अभी है रात फिर दिन होता है। तुम सम्पूर्ण बनते हो तो तुम्हारे लिए फिर सृष्टि भी ऐसी ही चाहिए। 5 तत्व भी सतोप्रधान (16 कला सम्पूर्ण) बन जाते हैं इसलिए शरीर भी तुम्हारे नेचुरल ब्युटीफुल होते हैं। सतोप्रधान होते हैं। यह सारी दुनिया 16 कला सम्पूर्ण बन जाती है। अभी तो कोई कला नहीं है, जो भी बड़े से बड़े लोग हैं अथवा महात्मा आदि हैं, यह बाप की नॉलेज उनकी तकदीर में ही नहीं है। उन्हों को अपना ही घमण्ड है। बहुत करके है ही गरीबों की तकदीर में। कोई कहते हैं इतना ऊंच बाप है, उनको तो कोई बड़े राजा अथवा पवित्र ऋषि आदि के तन में आना चाहिए। पवित्र होते ही हैं संन्यासी। पवित्र कन्या के तन में आये। बाप बैठ समझाते हैं मैं किसमें आता हूँ। मैं आता ही उसमें हूँ जो पूरे 84 जन्म लेते हैं। एक दिन भी कम नहीं। कृष्ण पैदा हुआ उस समय से 16 कला सम्पूर्ण ठहरा। फिर सतो, रजो, तमो में आते हैं। हर चीज़ पहले सतोप्रधान फिर सतो, रजो, तमो में आती है। सतयुग में भी ऐसा होता है। बच्चा सतोप्रधान है फिर बड़ा होगा तो कहेगा अब हम यह शरीर छोड़ सतोप्रधान बच्चा बनता हूँ। तुम बच्चों को इतना नशा नहीं है। खुशी का पारा नहीं चढ़ता है। जो अच्छी मेहनत करते हैं, खुशी का पारा चढ़ता रहता है। शक्ल भी खुशनुम: रहती है। आगे चल तुमको साक्षात्कार होते रहेंगे। जैसे घर के नज़दीक आकर पहुँचते हैं तो फिर वह घरबार मकान आदि याद आता है ना। यह भी ऐसे है। पुरूषार्थ करते-करते तुम्हारी प्रालब्ध जब नज़दीक होगी तो फिर बहुत साक्षात्कार होते रहेंगे। खुशी में रहेंगे। जो नापास होते हैं तो शर्म के मारे डूब मरते हैं। तुमको भी बाबा बता देते हैं फिर बहुत पछताना पड़ेगा। अपने भविष्य का साक्षात्कार करेंगे, हम क्या बनेंगे? बाबा दिखलायेंगे यह-यह विकर्म आदि किये हैं। पूरा पढ़े नहीं, ट्रेटर बनें, इसलिए यह सज़ा मिलती है। सब साक्षात्कार होगा। बिगर साक्षात्कार सज़ा कैसे देंगे? कोर्ट में भी बताते हैं – तुमने यह-यह किया है, उसकी सज़ा है। जब तक कर्मातीत अवस्था हो जाए तब तक कुछ न कुछ निशानी रहेगी। आत्मा पवित्र हो जाती है फिर तो शरीर छोड़ना पड़े। यहाँ रह न सकें। वह अवस्था तुमको धारण करनी है। अभी तुम वापिस जाए फिर नई दुनिया में आने के लिए तैयारी करते हो। तुम्हारा पुरूषार्थ ही यह है कि हम जल्दी-जल्दी जायें, फिर जल्दी-जल्दी आयें। जैसे बच्चों को खेल में दौड़ाते हैं ना। निशान तक जाकर फिर लौट आना है। तुमको भी जल्दी-जल्दी जाना है, फिर पहले नम्बर में नई दुनिया में आना है। तो तुम्हारी रेस है यह। स्कूल में भी रेस कराते हैं ना। तुम्हारा है यह प्रवृत्ति मार्ग। तुम्हारा पहले-पहले पवित्र गृहस्थ धर्म था। अभी है विशश फिर वाइसलेस वर्ल्ड बनेगा। इन बातों को तुम सिमरण करते रहो तो भी बहुत खुशी रहेगी। हम ही राज्य लेते हैं फिर गॅवाते हैं। हीरो-हीरोइन कहते हैं ना। हीरे जैसा जन्म लेकर फिर कौड़ी जैसे जन्म में आते हैं।

अभी बाप कहते हैं – तुम कौड़ियों पिछाड़ी टाइम वेस्ट मत करो। यह कहते हैं हम भी टाइम वेस्ट करते थे। तो हमको भी कहा अब तो तुम मेरा बनकर यह रूहानी धंधा करो। तो झट सब कुछ छोड़ दिया। पैसे कोई फेंक तो नहीं देंगे। पैसे तो काम में आते हैं। पैसे बिना कोई मकान आदि थोड़ेही मिल सकता। आगे चल बड़े-बड़े धनवान आयेंगे। तुमको मदद देते रहेंगे। एक दिन तुमको बड़े-बड़े कॉलेज, युनिवर्सिटी में भी जाकर भाषण करना होगा कि यह सृष्टि का चक्र कैसे फिरता है। हिस्ट्री रिपीट होती है आदि से अन्त तक। गोल्डन एज से आइरन एज तक सृष्टि की हिस्ट्री-जॉग्राफी हम बता सकते हैं। कैरेक्टर्स के ऊपर तो तुम बहुत समझा सकते हो। इन लक्ष्मी-नारायण की महिमा करो। भारत कितना पावन था, दैवी कैरेक्टर्स थे। अब तो विशश कैरेक्टर्स हैं। जरूर फिर चक्र रिपीट होगा। हम वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी सुना सकते हैं। वहाँ जाना भी अच्छे-अच्छे को चाहिए। जैसे थियोसोफिकल सोसायटी है, वहाँ तुम भाषण करो। कृष्ण तो देवता था, सतयुग में था। पहले-पहले है श्रीकृष्ण जो फिर नारायण बनते हैं। हम आपको श्रीकृष्ण के 84 जन्मों की कहानी सुनायें, जो और कोई सुना न सके। यह टॉपिक कितनी बड़ी है। होशियार को भाषण करना चाहिए।

अभी तुम्हारे दिल में आता है, हम विश्व के मालिक बनेंगे, कितनी खुशी होनी चाहिए। अन्दर बैठ यह जाप जपो फिर तुमको इस दुनिया में कुछ भासेगा नहीं। यहाँ तुम आते ही हो – विश्व का मालिक बनने – परमपिता परमात्मा द्वारा। विश्व तो इस दुनिया को ही कहा जाता है। ब्रह्मलोक वा सूक्ष्मवतन को विश्व नहीं कहेंगे। बाप कहते हैं मैं विश्व का मालिक नहीं बनता हूँ। इस विश्व का मालिक तुम बच्चों को बनाता हूँ। कितनी गुह्य बातें हैं। तुमको विश्व का मालिक बनाता हूँ। फिर तुम माया के दास बन जाते हो। यहाँ जब सामने योग में बिठाते हो तो भी याद दिलानी है – आत्म-अभिमानी हो बैठो, बाप को याद करो। 5 मिनट बाद फिर बोलो। तुम्हारे योग के प्रोग्राम चलते हैं ना। बहुतों की बुद्धि बाहर चली जाती है इसलिए 5-10 मिनट बाद फिर सावधान करना चाहिए। अपने को आत्मा समझ बैठे हो? बाप को याद करते हो? तो खुद का भी अटेन्शन रहेगा। बाबा यह सब युक्तियां बतलाते हैं। घड़ी-घड़ी सावधान करो। अपने को आत्मा समझ शिवाबाबा की याद में बैठे हो? तो जिनका बुद्धियोग भटकता होगा वह खड़े हो जायेंगे। घड़ी-घड़ी यह याद दिलाना चाहिए। बाबा की याद से ही तुम उस पार चले जायेंगे। गाते भी हैं खिवैया, नईया मेरी पार लगाओ। परन्तु अर्थ को नहीं जानते। मुक्तिधाम में जाने के लिए आधाकल्प भक्ति की है। अब बाप कहते हैं मुझे याद करो तो मुक्तिधाम में चले जायेंगे। तुम बैठते ही हो पाप कटने लिए तो फिर पाप करने थोड़ेही चाहिए। नहीं तो फिर पाप रह जायेंगे। नम्बरवन यह पुरूषार्थ है – अपने को आत्मा समझ बाप को याद करो। ऐसे सावधान करते रहने से अपना भी अटेन्शन रहेगा। खुद को भी सावधान करना है। खुद भी याद में बैठे तब औरों को बिठायें। हम आत्मा हैं, जाते हैं अपने घर। फिर आकर राज्य करेंगे। अपने को शरीर समझना-यह भी एक कड़ी बीमारी है इसलिए ही सब रसातल में चले गये हैं। उनको फिर सैलवेज करना है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अपना टाइम रूहानी धन्धे में सफल करना है। हीरे जैसा जीवन बनाना है। अपने को सावधान करते रहना है। शरीर समझने की कड़ी बीमारी से बचने का पुरुषार्थ करना है।

2) कभी भी माया का दास नहीं बनना है, अन्दर में बैठ जाप जपना है कि हम आत्मा हैं। खुशी रहे हम बेगर से प्रिन्स बन रहे है।

वरदान:- वाइसलेस की शक्ति द्वारा सूक्ष्मवतन वा तीनों लोकों का अनुभव करने वाले श्रेष्ठ भाग्यवान भव
जिन बच्चों के पास वाइसलेस की शक्ति है, बुद्धियोग बिल्कुल रिफाइन है-ऐसे भाग्यवान बच्चे सहज ही तीनों लोकों का सैर कर सकते हैं। सूक्ष्मवतन तक अपने संकल्प पहुंचाने के लिए सर्व सम्बन्धों के सार वाली महीन याद चाहिए। यही सबसे पावरफुल तार है, इसके बीच में माया इन्टरफियर नहीं कर सकती है। तो सूक्ष्मवतन की रौनक का अनुभव करने के लिए स्वयं को वाइसलेस की शक्ति से सम्पन्न बनाओ।
स्लोगन:- किसी व्यक्ति, वस्तु व वैभव के प्रति आकर्षित होना ही कम्पैनियन बाप को संकल्प से तलाक देना है।
Font Resize