daily gyan murli 26 november 2017

TODAY MURLI 26 NOVEMBER 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 26 NOVEMBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 25 November 2017 :- Click Here

26/11/17
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
30/03/83

The way to become an easy yogi is to take the seat of the authority of experience (BapDada meeting k umaris).

Today, the Father, the Creator of the unlimited drama, is seeing a special scene of Madhuban in the divine scenes of the wonderful confluence age of the drama. On the stage of Madhuban at every moment so many entertaining, enjoyable parts exist; even whilst sitting far away, BapDada can see these as if they are close. Who are the hero actors on the stage at this time? The doubly-pure souls, the elevated souls, those who are pure in their worldly lives and also souls who are pure. So BapDada is extremely pleased to see the doubly-pure special souls acting hero part s on the stage of Madhuban. The plans you make, the thoughts you have, the upheavals you have – BapDada was seeing both the games of your courage and your upheavals. You maintain courage very well. You also have a lot of zeal and enthusiasm. However, along with that, you have a few mixed thoughts about whether to say “yes” or “no”. BapDada saw an amusing play. You have the very elevated desire that you definitely want to demonstrate something, but the desire of the enthusiasm in your minds is not visible on your faces in the form of a sparkle. Baba saw only a percentage of the sparkle of pure thoughts sparkling on your faces. Why was that? What is the reason for it? You have the pure thought, but there is only a certain percentage of power in that thought. There is the seed of the thought, but the powerful seed that gives the practical, visible fruit, which would reveal the sparkle in a practical way, is still lacking.

The way to bring about the maximum splendour and sparkle of zeal and enthusiasm on your face is to be full of the experience of every virtue, power and point of knowledge. Experience is the greatest authority of all. The sparkle of authority is automatically visible in one’s face and behaviour. BapDada smiled seeing the hero actors of the present time. You are dancing in happiness. However, when some dance, they make the whole atmosphere dance; there is that splendour visible in their act. You speak of this as “Making everyone dance by dancing yourself”. Therefore, you now have to show the sparkle of such splendour a lot more. You have heard what the basis of this is. You have become those who listen and tell others but, as well as that, you have to play the special part s of being embodiments of experience. Someone who has the authority of experience will never be deceived by any of the various royal forms of Maya. Experienced souls with authority will always experience themselves to be full and overflowing. They will never be empty of the power to decide, the power to tolerate or any other power. Just as a seed is always full, so they too will always be full of knowledge, virtues and powers. This is known as being a master almighty authority. Maya will bow down in front of such ones, not make them bow down. Everyone bows down to a special person who has a limited authority. This is because the greatness of authority automatically makes everyone bow down. So, what did Baba see in particular? That you are now being seton the seat of the authority of experience. You have taken the seat of a speaker, but you now have to take the seat of an authority of total experience. You were told that the people of the world have a physical throne, whereas all of you have the seat of authority. Remain constantly stable on this seat. You will then constantly be easy yogis, constant yogis and natural yogis.

Now, even the scenes of amrit vela are very amusing. Some get tired trying to reach their goal. Some swing in a double swing. Some sit down as hatha yogis. Some simply sit as a discipline. Some are even absorbed in that love. Now, pay special attention to becoming the embodiment of the meaning of the word “remembrance”. Let the sparkle of a yogi soul be visible on your face. Whatever is in your mind definitely sparkles on your forehead. Don’t think that you have a lot on your mind. The mirror of the power of the mind is your face. No matter how much you say that you are dancing in happiness, no one who sees your face looking unhappy would believe you. You know the difference between the face of someone who looks totally lost and someone who has attained everything, do you not? Let the sparkle of the happiness of having attained everything be visible on your face. Do not let your face look dry, but let it be a happy face. BapDada also sings the praise of the children who are hero actors. At least you have stepped away from the fashionable world with your mind and body and made the Father your Support. Many, many congratulations for this determination. Constantly continue to live with this thought. This is a blessing that BapDada is giving you. Out of happiness of this elevated fortune, you offer flowers of love. Together with that, BapDada is showing you the way to fulfil the pure thought of every child of becoming an authority who is full and equal to the Father. He congratulates you and also shows you the way. All of you have celebrated the ceremony.

All of you have celebrated the ceremony and are going back with the aim of becoming full, are you not? The ones from the beginning are the same old ones, but you are all becoming equal to God. Everyone’s photograph has been taken, has it not? The photograph has become a memorial here. Now Didi and Dadi will also see who remains stable on the seat of authority and to what extent they do so. It is not a big thing to live at a centre, but to play your part as a special actor is a wonder. Everyone would then say: Every soul in this group is full and equal to the Father. Don’t become empty! Something that is empty will shake. Become sensible, that is, become full! This is not just for the kumaris, but for everyone. Everyone has to become full. All of you who have come must take back with you the special gift of Madhuban, which is the seat of the authority of total experience. Don’t allow yourself to be separated from this gift. Have all of you received this gift or is it just the kumaris who have received it? Even the residents of Madhuban have received this gift today. No matter where you are sitting, you are personally in front of the Father.

To all the lotus flower children who have come and to the residents of Madhuban, to all the children of this land and abroad, to the elevated hero actors on the stage at present, to all of you, along with the blessing of becoming experienced, love, remembrance and namaste from the Father, the Bestower of Blessings.

The kumaris had a special thought. Have you become special souls by having these special thoughts? What special thoughts did you have? That you will constantly be a mahavir and remain victorious. This was the thought you had, was it not? Will you be victorious and a mahavir constantly, or only for a short time? After this, no type of Maya will ever come, will it? It has finished for half the cycle. There won’t be any conflict of thoughts, will there? Storms of waste thoughts will not come, will they? If you are repeatedly defeated by attacks of Maya, you become weak, just as the bones of someone who repeatedly falls down become weak. He then has to have plaster put on. So, never become weak and be defeated. To be a mahavir means to have a thought and to become an embodiment of that thought. It shouldn’t be that when you get back you say, “I’ll see about it! I’ll do it some time!” Don’t talk about doing things in the future. Remain firm in the thought that you had and the flag of victory will then keep flying. When so many of you go back to your centres with this determination there will be victory everywhere. Everything becomes easy with just a thought. Continue to water your thought. Write down your result every month. Never have weak thoughts. Finish this sanskar here before you leave! Before you leave, have the determination that you will make progress and be victorious. Achcha.

Have all of your desires been fulfilled? The desires of the kumaris have been fulfilled and the desires of mothers have also been fulfilled. This time only a few of you have come and so you have received a good chance. This time, the complaint of all the kumaris has now been removed. There are now no complaints. All of you are going back having become complete. We shall now see where the rivers flow and whether you become a pond, a big river, a small river or a well. A well is even smaller than a pond. So we shall see what you become. That result will be given, will it not? Seeing the kumaris, the feeling is that so many handshave emerged, whereas seeing the mothers, the feeling is that it is a little difficult for them to emerge. Therefore, now become a hand that is free from obstacles. It shouldn’t be that you do service but that you also take service from others as well. Don’t do that! If, as well as the service you do, there are also complaints, there won’t then be any fruit of service. This is why you have to become hands that are free from obstacles. It shouldn’t be that you become obstacles yourselves and keep coming in front of Dadi or Didi. Become a helping hand! Don’t take service for yourself. You will then remain constantly free from obstacles and make service progress without obstacles. Have such a firm thought before you leave. Achcha

BapDada meeting a group of k umaris:

All of you kumaris consider yourselves to be special souls, do you not? “Special souls” means those who are instruments for a special task. Each one of you is an instrument for a special task. Each of you kumaris is one who will uplift 21 clans. Whenever you receive an order to go anywhere, you are ready. You are such servers who are free from obstacles, are you not? Whatever service you receive at any time, you are ready. To do service means to eat instant fruit. When you receive instant fruit, then, by eating that fruit, you receive power. By eating instant fruit, the soul becomes powerful. When you receive such attainment, that that is what you should do, is it not? In the world, after working for a month, you receive your salary at the end of the month. Here, you receive instant fruit. Of course, it is accumulated for the future, but you also receive something in the present. So, for whatever service you receive double fruit, that should be done first, should it not? BapDada, Dadi and Didi sometimes give directions to many to do service. So, by doing that according to shrimat, you are no longer responsible. When you do that out of your own attachment or due to your own weakness, then that cannot be elevated. During your trial, if you remain content and also make others content, you will receive a certificate. Have the aim of moving along in harmony with others. Think, “I have to change”. Those who have the intention of changing themselves become victorious in all situations. Those who wait for others to change become deceived, and this is why it is you yourself who always has to change. You have to do this. First, put yourself first in every respect, not out of ego, but when it comes to doing something and then there will be success and only success.

BapDada m eeting a groups:

BapDada has already praised the specialities of the children. Where does BapDada always keep the children who are constant servers, like Himself? (In His eyes.) In the body, the eyes are the most subtle and, even in the eyes, the light (pupil) of the eyes is so subtle – it is just a dot. So, those who remain merged in the Father’s eyes are those who are extremely subtle, totally detached and loving to the Father. You are experiencing this, are you not? According to the drama, you have received a very good chance. Why do you say that it is good? Because to the extent that you remain busy, you will accordingly become a conqueror of Maya. You have found a good way to remain busy, have you not? Service is a means to remain busy. When any obstacle of Maya comes at any time, and at that time anyone who has to be served comes in front of you, you would put yourself right and serve them. No matter what has happened, you would get ready and go and read the murli, would you not? While reading the murli to others, you would also read it to yourself. By serving others, you will also receive help and therefore you have received a very, very elevated method. One thing is to make your own effort and the other is to receive co-operation from others. So, it has become double, has it not? You are fulfilling the responsibility of service while looking after your household and so that is also doublebenefit. This is like receiving the sovereignty from God, your Friend while moving along. Double attainment and double responsibility. But while having doubleresponsibility, by considering yourself to be double light, your mundane responsibility will not tire you because you are trustees, are you not? How can trustees get tired? If you consider it to be your household and your family, there would then be a burden. If it is not yours, then how can there be a burden? Do the Pandavas ever feel your mundane interaction and the mundane atmosphere to be a burden? Completely detached and loving; a child and a master, do you have such intoxication? The intoxication of being a master is unlimited. Unlimited intoxication will continue into the unlimited, whereas limited intoxication will only last for a limited period. Always keep this unlimited intoxication of what the Father has given you in your awareness. Keep the treasures you have been given in front of you and look at yourself to see whether you have become filled with all treasures. If not, then what treasure is lacking, and why have you not been able to imbibe it? Then check everything in that way and imbibe it. What period is this? The Father is elevated, the attainment is elevated and you yourself are elevated too. Where there is greatness, there is definitely attainment there. If there is ordinariness, then the attainment is also ordinary. Achcha.

Question: Which children is the Father very proud of?

Answer: The children who are going to earn an income. The Father is very proud of the children who earn such an income. In each second, you can accumulate an income greater than multimillions. When you place a zero in front of “1”, it becomes 10, add another zero and it becomes a 100. Similarly, remember the Father for a second and after a second has passed, a zero is added. Only at this time do you earn such a huge income and you will then continue to eat from that for many births.

Blessing: May you be free from obstacles and set your mind and intellect on the seat of experience with the practice of concentration.
The power of concentration easily makes you free from obstacles. For this, you have to set your mind and intellect on the seat of experience. The power of concentration easily gives you the experience of belonging to the one Father and none other. Through this, your stage easily becomes stable and constant. You then have an attitude of benevolence for everyone. With the practice of concentration, there is the vision of brotherhood. Such a soul cannot get upset by any weak sanskar, any soul, form of matter or any type of royal Maya.
Slogan: Only the practice of merging the expansion into its essence in a second will bring you final certificate.

 

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

BRAHMA KUMARIS MURLI 26 NOVEMBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 26 November 2017

November 2017 Bk Murli :- Click Here
To Read Murli 25 November 2017 :- Click Here
26/11/17
मधुबन
“अव्यक्त-बापदाद”‘
ओम् शान्ति
30-03-83

सहजयोगी बनने का साधन – अनुभवों की अथॉरिटी का आसन

(कुमारियों के साथ मुलाकात)

आज बेहद ड्रामा के रचयिता बाप बेहद ड्रामा के वन्डरफुल संगमयुग के दिव्य दृश्य के अन्दर मधुबन के विशेष दृश्य को देख रहे हैं। मधुबन स्टेज पर हर घड़ी कितने दिलपसन्द रमणीक पार्ट चलते हैं। जिसको बापदादा दूर बैठे भी समीप से देखते रहते हैं। इस समय स्टेज के हीरो एक्टर कौन हैं? डबल पावन आत्मायें, श्रेष्ठ आत्मायें। लौकिक जीवन से भी पवित्र और आत्मा भी पवित्र। तो डबल पावन विशेष आत्माओं का हीरो पार्ट मधुबन स्टेज पर चलता हुआ देख बापदादा भी अति हर्षित होते हैं। क्या क्या प्लैन बनाते हो, क्या क्या संकल्प करते हो, कौन सी हलचल में आते हो, यह हिम्मत और हलचल दोनों ही खेल देख रहे थे। हिम्मत भी बहुत अच्छी रखते हो। उमंग-उल्लास भी बहुत आता है लेकिन साथ-साथ थोड़ा सा हाँ वा ना का मिक्स संकल्प भी रहता है। बापदादा हँसी का खेल देख रहे थे। चाहना बहुत श्रेष्ठ है कि दिखायेंगे, करके दिखायेंगे। लेकिन मन के उमंग की चाहना वा संकल्प चेहरे पर झलक के रूप में नहीं दिखाई देता है। शुद्ध संकल्प की चमक चेहरों पर चमकती हुई दिखाई दे, वह परसेन्टेज में देखा। यह क्यों? इसका कारण? शुभ संकल्प है लेकिन संकल्प में शक्ति कुछ मात्रा में है। संकल्प रूपी बीज तो है लेकिन शक्तिशाली बीज जो प्रत्यक्ष फल अर्थात् प्रत्यक्ष रूप में रौनक दिखाई दे, वह अभी और चाहिए।

सबसे ज्यादा चेहरे पर उमंग-उल्लास की रौनक वा चमक आने का साधन है – हर गुण, हर शक्ति, हर ज्ञान की प्वाइंट के अनुभवों से सम्पन्नता। अनुभव बड़े ते बड़ी अथॉरिटी है। अथॉरिटी की झलक चेहरे पर और चलन पर स्वत: ही आती है। बापदादा वर्तमान के हीरो पार्टधारियों को देखते हुए मुस्करा रहे थे। खुशी में नाच भी रहे हैं लेकिन कोई कोई नाचते हैं तो सारे वायुमण्डल को ही नचा देते हैं। उनकी एक्ट में रौनक दिखाई देती है। जिसको आप लोग कहते हैं कि रास करते-करते मचा लिया अर्थात् सभी को नचा लिया। तो ऐसी रौनक वाली झलक अभी और दिखानी है। उसका आधार सुन लिया। सुनने सुनाने वाले तो बन ही गये हो। साथ-साथ अनुभवी मूर्त बनने का विशेष पार्ट बजाओ। अनुभव की अथॉरिटी वाला कभी भी किसी प्रकार की माया के भिन्न-भिन्न रॉयल रूपों में धोखा नहीं खायेंगे। अनुभवी अथॉरिटी वाली आत्मा सदा अपने को भरपूर आत्मा अनुभव करेगी। निर्णय शक्ति, सहन शक्ति वा किसी भी शक्ति से खाली नहीं होंगे। जैसे बीज भरपूर होता है वैसे ज्ञान, गुण, शक्तियाँ सबसे भरपूर। इसको कहा जाता है मास्टर आलमाइटी अथॉरिटी। ऐसे के आगे माया झुकेगी न कि झुकायेगी। जैसे हद की अथॉरिटी वाले विशेष व्यक्तियों के आगे सब झुकते हैं ना क्योंकि अथॉरिटी की महानता सबको स्वत: ही झुकाती है। तो विशेष क्या देखा? अनुभव की अथॉरिटी की सीट पर अभी सेट हो रहे हैं। स्पीकर की सीट ले ली है लेकिन ”सर्व अनुभवों की अथॉरिटी का आसन” अभी यह लेना है। सुनाया था ना, दुनिया वालों का है सिंहासन और आप सबका है अथॉरिटी का आसन। इसी आसन पर सदा स्थित रहो। तो सहज योगी, सदा के योगी, स्वत: योगी हैं ही।

अभी तो अमृतवेले का दृश्य भी हँसने हँसाने वाला है। कोई निशाना लगाते-लगाते थक जाते हैं। कोई डबल झूलों में झूलते हैं। कोई हठयोगी बन करके बैठते हैं। कोई तो सिर्फ नेमीनाथ हो बैठते हैं। कोई-कोई लगन में मगन भी होते हैं। याद शब्द के अर्थ स्वरूप बनने में अभी विशेष अटेन्शन दो। योगी आत्मा की झलक चेहरे से अनुभव हो। जो मन में होता है वह मस्तक पर झलक जरूर रहती है। ऐसे नहीं समझना मन में तो हमारा बहुत है। मन की शक्ति का दर्पण चेहरा अर्थात् मुखड़ा है। कितना भी आप कहो कि हम खुशी में नाचते हैं लेकिन चेहरा उदास देख कोई नहीं मानेगा। खोया-खोया हुआ चेहरा और पाया हुआ चेहरा इसका अन्तर तो जानते हो ना! ”पा लिया” इसी खुशी की चमक चेहरे से दिखाई दे। खुश्क चेहरा नहीं दिखाई दे, खुशी का चेहरा दिखाई दे। बापदादा हीरो पार्टधारी बच्चों की महिमा भी गाते हैं। फिर भी आजकल की फैशनेबल दुनिया से, मन से, तन से किनारा कर बाप को सहारा तो बना दिया। इस दृढ़ संकल्प की बहुत-बहुत मुबारक। सदा इसी संकल्प में जीते रहो। बापदादा यह वरदान देते हैं। इसी श्रेष्ठ भाग्य की खुशी में, स्नेह के पुष्प भी चढ़ाते हैं। साथ-साथ हर बच्चा सम्पन्न बाप समान अथॉरिटी हो, इस शुद्ध संकल्प की विधि बताते हैं। बधाई भी देते हैं और विधि भी बताते हैं।

सभी ने समारोह तो मना लिया ना! सभी समारोह मनाते सम्पन्न बनने का लक्ष्य लेते हुए जा रहे हो ना! पहले वाले पुराने तो पुराने रहे लेकिन आप सुभान अल्ला हो जाओ। सबका फोटो तो निकला है ना। फोटो तो यादगार हो गया ना यहाँ। अब दीदी दादी भी देखेंगी कि अथॉरिटी के आसन पर कौन कौन कितने स्थित हुए! सेन्टर पर रहना भी कोई बड़ी बात नहीं लेकिन विशेष पार्टधारी बन पार्ट बजाना, यह है कमाल। जो सभी कहें कि इस ग्रुप की हर आत्मा बाप समान सम्पन्न स्वरूप है। खाली नहीं बनो। खाली चीज में हलचल होती है। सयाने बनो अर्थात् सम्पन्न बनो। सिर्फ कुमारियों के लिए नहीं है लेकिन सभी के लिए है। सम्पन्न तो सभी को बनना है ना। जो भी सभी आये हैं मधुबन की विशेष सौगात ”सर्व अनुभवों की अथॉरिटी का आसन” यह साथ में ले जाना। इस सौगात को कभी भी अपने से अलग नहीं करना। सबको सौगात है ना कि सिर्फ कुमारियों को है? मधुबन निवासियों को भी आज की यह सौगात है। चाहे कहाँ भी बैठे हैं लेकिन बाप के सम्मुख हैं।

आने वाले सर्व कमल पुष्प समान बच्चों को, मधुबन निवासियों को, चारों ओर के देश विदेश के बच्चों को और वर्तमान स्टेज के हीरो पार्टधारी श्रेष्ठ आत्माओं को, सभी को ‘अनुभवी भव’ के वरदान के साथ वरदाता बाप की याद और प्यार और नमस्ते।

कुमारियों ने विशेष संकल्प किया! विशेष संकल्प द्वारा विशेष आत्मायें बनीं? विशेष संकल्प क्या लिया? सदा महावीरनी बन विजयी रहेंगी, यही संकल्प लिया है ना! सदा विजयी, सदा महावीरनी या थोड़े समय के लिए लिया? इसके बाद कभी भी किसी प्रकार की माया नहीं आयेगी ना! आधाकल्प के लिए खत्म हुई, कभी संकल्पों का टक्कर तो नहीं होगा! कभी व्यर्थ संकल्प का तूफान तो नहीं आयेगा? अगर बार बार माया के वार से हार खाते तो कमजोर हो जाते हैं। जैसे कोई बार बार धक्का खाता तो उसकी हड्डी कमज़ोर हो जाती है ना। फिर प्लास्टर लगाना पड़ता इसलिए कभी भी कमज़ोर बन हार नहीं खाना। तो महावीरनी अर्थात् संकल्प किया और स्वरूप बन गये। ऐसे नहीं वहाँ जाकर देखेंगे, करेंगे…यह गें गें वाली नहीं। जो संकल्प लिया है उसमें दृढ़ रहना तो विजय का झण्डा लहरा जायेगा। इतने दृढ़ संकल्प वाली अपने अपने स्थान पर जायेंगी तो जय-जयकार हो जायेगी। संकल्प से सब सहज हो जाता है। जो संकल्प किया है उसे पानी देते रहना। हर मास अपनी रिज़ल्ट लिखना। कभी भी कमज़ोर संकल्प नहीं करना। यह संस्कार यहाँ खत्म करके जाना। आगे बढ़ेंगी, विजयी बनेंगी – यह दृढ़ संकल्प करके जाना। अच्छा।

सभी की आशायें पूरी हुई? कुमारियों की आशायें पूरी हुई तो माताओं की तो हुई पड़ी हैं। अभी आप लोग थोड़े आये हो इसलिए अच्छा चांस मिल गया। इस बारी सभी कुमारियों का उल्हना तो पूरा हुआ। कोई कम्पलेन्ट नहीं, सभी कम्पलीट होकर जा रही हो ना! अभी देखेंगे, नदियाँ कहाँ बहती हैं। तालाब बनती हैं, बड़ी नदी बनती हैं, छोटी बनती हैं या कुआं बनता है। तालाब से भी छोटा कुआं होता है ना। तो देखेंगे क्या बनती हैं! वह रिजल्ट आयेगी ना! कुमारियों को देखकर आता है इतने हैन्डस निकलें, माताओं को देखकर कहेंगे कि निकलना थोड़ा मुश्किल है। तो अब निर्विघ्न हैन्ड बनना। ऐसे नहीं सेवा भी करो और सेवा के साथ-साथ मेहनत भी लेते रहो, यह नहीं करना। सेवा के साथ अगर कम्पलेन्ट निकलती रहे तो सेवा का फल नहीं निकलता इसलिए निर्विघ्न हैन्ड बनना। ऐसे नहीं आप ही विघ्न रूप बन, दादी दीदी के सामने आते रहो, मददगार हैन्ड बनना। खुद सेवा नहीं लेना। तो सदा निर्विघ्न रहेंगे और सेवा को निर्विघ्न बढ़ायेंगे – ऐसा पक्का संकल्प करके जाना। अच्छा।

कुमारियों के ग्रुप से:-

आप सब कुमारियाँ अपने को विशेष आत्मायें समझती हो ना? विशेष आत्मायें अर्थात् विशेष कार्य के निमित्त। एक-एक विशेष कार्य के निमित्त बनी हुई हो। एक-एक कुमारी 21 कुल तारने वाली हैं। जब भी जहाँ भी आर्डर मिले तो हाजिर। ऐसे निर्विघ्न सेवाधारी हो ना! जिस समय जो भी सेवा मिले, हाजिर। सेवा करना अर्थात् प्रत्यक्ष फल खाना। जब प्रत्यक्षफल मिल जाता है, तो फल खाने से शक्ति आती है। प्रत्यक्षफल खाने से आत्मा शक्तिशाली बन जाती है। जब ऐसी प्राप्ति हो तो करनी चाहिए ना। लौकिक में तो एक मास नौकरी करेंगे फिर पीछे तनख्वाह मिलेगी। यहाँ तो प्रत्यक्षफल मिलता है। भविष्य तो जमा ही होता है लेकिन वर्तमान में भी मिलता है। तो ऐसे डबल फल मिलने वाला कार्य तो पहले करना चाहिए ना! कईयों को बापदादा, दादी-दीदी डायरेक्शन देते हैं सर्विस करो, श्रीमत पर करने से जिम्मेवार खुद नहीं रहते। अपने मन के लगाव से, कमजोरी से करते तो श्रेष्ठ नहीं बन सकते। ट्रायल में स्वयं भी सन्तुष्ट रहें और दूसरों को भी करें तो सर्टिफिकेट मिल जाता है। अपने को मिलाकर चलने का लक्ष्य हो। मुझे बदलना है। स्वयं को बदलने की भावना वाला सभी बातों में विजयी हो जाता है। दूसरा बदले यह देखने वाला धोखा खा लेते हैं इसलिए सदैव मुझे बदलना है, मुझे करना है, पहले हर बात में स्वयं को आगे करना है, अभिमान में नहीं – करने में आगे करो तो सफलता ही सफलता है।

पार्टियों से मुलाकात:- बापदादा ने बच्चों की विशेषता के गुण तो सुना ही दिये। जो बापदादा के समान सेवाधारी हैं उन बच्चों को बापदादा सदा कहाँ रखते हैं? (नयनों में) नयन सारे शरीर में सूक्ष्म हैं और नयनों में भी जो नूर है वह कितना सूक्ष्म है, बिन्दी है ना। तो बाप के नयनों में समाने वाले अर्थात् अति सूक्ष्म। अति न्यारे और बाप के प्यारे। ऐसे ही अनुभव करते हो ना। बहुत अच्छा चांस ड्रामा अनुसार मिला है। क्यों अच्छा कहते हैं? क्योंकि जितना बिजी रहेंगे उतना ही मायाजीत हो जायेंगे। बिजी रहने का अच्छा साधन मिला है ना। सेवा बिजी रहने का साधन है। चाहे किसी भी समय माया का विघ्न आया हुआ है लेकिन जब सेवा वाले सामने आयेंगे तो अपने को ठीक करके उनकी सेवा करेंगे। क्या भी होगा, तैयार होकर के ही मुरली सुनायेंगे ना! और सुनाते सुनाते स्वयं को भी सुना लेंगे। दूसरों की सेवा करने से स्वयं को भी मदद मिल जाती है इसलिए बहुत-बहुत श्रेष्ठ साधन मिला हुआ है। एक होता है अपना पुरुषार्थ करना, एक होता है दूसरे के सहयोग का साधन। तो डबल हो गया ना। प्रवृत्ति सम्भालते सेवा की जिम्मेवारी सम्भाल रहे हो, यह भी डबल लाभ हो गया। यह तो रास्ते चलते खुदा दोस्त द्वारा बादशाही मिल गई। डबल प्राप्ति, डबल जिम्मेवारी, लेकिन डबल जिम्मेवारी होते भी डबल लाइट समझने से कभी लौकिक जिम्मेवारी थकायेगी नहीं क्योंकि ट्रस्टी हो ना। ट्रस्टी को क्या थकावट। अपनी गृहस्थी, अपनी प्रवृत्ति समझेंगे तो बोझ है। अपना है ही नहीं तो बोझ किस बात का। पाण्डवों को कभी लौकिक व्यवहार, लौकिक वायुमण्डल में बोझ तो नहीं लगता? बिल्कुल न्यारे और प्यारे। बालक सो मालिक, ऐसा नशा रहता है? मालिकपन का नशा बेहद का है। बेहद का नशा बेहद चलेगा और हद का नशा हद तक चलेगा। सदा इस बेहद के नशे को स्मृति में लाओ कि क्या-क्या बाप ने दिया है, उस दिये हुए खजाने को सामने लाते हुए फिर अपने को देखो कि सर्व खजानों से सम्पन्न हुए हैं? अगर नहीं तो कौन सा खजाना और क्यों नहीं धारण हुआ है, फिर उसी प्रमाण से देखो और धारण करो। समय कौन सा है? बाप भी श्रेष्ठ, प्राप्ति भी श्रेष्ठ और स्वयं भी। जहाँ श्रेष्ठता है वहाँ जरूर प्राप्ति है ही। साधारणता है तो प्राप्ति भी साधारण। अच्छा !

प्रश्न:- बाप को किन बच्चों पर बहुत नाज़ रहता है?

उत्तर:- जो बच्चे कमाई करने वाले होते, ऐसे कमाई करने वाले बच्चों पर बाप को बहुत नाज़ रहता, एक-एक सेकेण्ड में पद्मों से भी ज्यादा कमाई जमा कर सकते हो। जैसे एक के आगे एक बिन्दी लगाओ तो 10 हो जाता, फिर एक बिन्दी लगाओ तो 100 हो जाता, ऐसे एक सेकण्ड बाप को याद किया, सेकण्ड बीता और बिन्दी लग गई, इतनी बड़ी कमाई अभी ही जमा करते हो फिर अनेक जन्म तक खाते रहेंगे।

वरदान:- एकाग्रता के अभ्यास द्वारा मन-बुद्धि को अनुभवों की सीट पर सेट करने वाले निर्विघ्न भव 
एकाग्रता की शक्ति सहज ही निर्विघ्न बना देती है। इसके लिए मन और बुद्धि को किसी भी अनुभव की सीट पर सेट कर दो। एकाग्रता की शक्ति स्वत: ही एक बाप दूसरा न कोई – यह अनुभूति कराती है। इससे सहज ही एकरस स्थिति बन जाती है। सर्व के प्रति कल्याण की वृत्ति रहती है, एकाग्रता के अभ्यास से भाई-भाई की दृष्टि रहती है। उसे कभी भी कोई कमजोर संस्कार, कोई आत्मा वा प्रकृति, किसी भी प्रकार की रॉयल माया अपसेट नहीं कर सकती।
स्लोगन:- सेकण्ड में विस्तार को सार में समाने का अभ्यास ही अन्तिम सर्टीफिकेट दिलायेगा।

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

Font Resize