daily gyan murli 25 April 2019

TODAY MURLI 26 APRIL 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 26 April 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 25 April 2019 :- Click Here

26/04/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, always remain cheerful in remembrance of the Father. Continue to renounce the awareness of old bodies because you have to do the service of purifying the atmosphere with the power of yoga.
Question: What effort must you make to claim a scholarship and to receive a tilak for the kingdom?
Answer: You will receive a tilak for the kingdom when you make effort to stay on the pilgrimage of remembrance. Practise considering yourselves to be brothers of each other and the awareness of name and form will then be removed. Never listen to wasteful matters. Only listen to the things that the Father says; close your ears to everything else. Pay full attention because only then can you win a scholarship.

Om shanti. You children know that you are establishing your kingdom by following shrimat. To the extent that you serve through your thoughts, words and deeds, you accordingly benefit yourself. There is no question of upheaval etc. in this. You simply renounce the awareness of this old world and go and arrive there. You have a lot of happiness by remembering Baba. If you always stay in remembrance, there will be nothing but happiness. By forgetting the Father, you wilt. You children should always remain happy. I am a soul and the Father of myself, the soul, is speaking through this mouth. I, the soul, am listening through these ears. You have to make effort to instil such habits. You have to return home while remembering the Father. This pilgrimage of remembrance gives you a lot of power. You receive so much strength that you become the masters of the world. The Father says: Constantly remember Me alone and your sins will be absolved. You should make this firm. At the end, this mantra that disciplines the mind will be useful. The message you have to give everyone is: Consider yourself to be a soul; that body is perishable. The Father’s order is: Remember Me and you will become pure. You children are sitting in remembrance of the Father. Together with that, you have knowledge too because you know the Creator and the beginning, middle and end of creation. You souls yourselves have all the knowledge. You are spinners of the discus of self-realisation. You earn a lot of income while sitting here. Day and night you are just earning. You come here to earn a true income. Nowhere else can you earn a true income that goes with you. You do not have any other business etc. here in Madhuban. The atmosphere is very good. You also purify the atmosphere with the power of yoga. You are doing a lot of service. Those who serve themselves are also serving Bharat. Later, even this old world will not remain. You won’t be here either. The world itself will become new. You children have all the knowledge in your intellects. You also know that you will continue to do the service that you did in the previous cycle. Day by day, you continue to make many others similar to you. You become so happy when you listen to this knowledge that you have goose pimples. People say that they have never heard this knowledge from anyone else before, that they only hear it from you Brahmins. On the path of devotion, there is no effort required, whereas here you have to forget the whole of the old world. Only the Father inspires you to have this unlimited renunciation. You children are numberwise. You also have happiness, numberwise; not everyone has the same. Knowledge and yoga are also not the same. All other human beings go to bodily beings, but you come here to the One who doesn’t have a body of His own. The more effort you continue to make for remembrance, the more satopradhan you will continue to become; your happiness will continue to increase. This is the pure love of souls for the Supreme Soul. He is incorporeal. The more the rust is removed from you, the more attraction there will be. You can check your degrees to see how happy you remain. There is no need to have a special sitting position etc. This is not hatha yoga. You can sit comfortably and continue to remember Baba. You can remember Him even while lying down. The unlimited Father says: Remember Me and you will become satopradhan and your sins will be cut away. You should remember with so much love the unlimited Father, who is also your Teacher and Satguru. It is in this that Maya causes obstacles. You have to see whether you take your meals while staying in remembrance of Baba and while being cheerful. The lovers have found the Beloved and so they would definitely be happy. By staying in remembrance, you will continue to accumulate a great deal. The destination is very high. Look what you are becoming from what you were! Previously, you were senseless. You have now become very sensible. Your aim and objective is so firstclass. You know that you will shed those old skins and take new ones while remembering Baba. When you reach your karmateet stage, you will shed those skins. As you come close to your home, you remember that home. Baba’s knowledge is very sweet. You children should feel so intoxicated. God is sitting in this chariot and teaching you! It is now your stage of ascent. There is benefit for everyone due to the stage of ascent. You are not listening to anything new. You know that you have heard all of these things many times before and that you are listening to the same things once again. When you hear these things, you bubble up inside with happiness. You are the unknown warriors whoare very wellknown. You make the whole world into heaven and this is why the goddesses are worshipped so much. The ones who act and the One who inspires you to act are all worshipped. You children know that the sapling of the deity religion is being established. This system started now. You each give yourself a tilak. Those who study well make themselves worthy of receiving a scholarship. You children have to make a lot of effort to stay on the pilgrimage of remembrance. Consider yourselves to be brothers and the awareness of name and form will be removed. It is this that requires effort. You have to pay a lot of attention. Never listen to wasteful matters. The Father says: Only listen to the things that I tell you. Do not listen to gossip; close your ears to that. Continue to show everyone the path to the land of peace and the land of happiness. The more you show the path to others, the more you benefit yourself; you earn an income. The Father has come to decorate everyone and take them back home. The Father is always the children’s Helper. The Father looks at those who become His helpers with a lot of love. Baba very much remembers those who show the path to many others, and they too feel the pull of the Father’s remembrance. Your rust will continue to be removed by having remembrance. To remember the Father means to remember the home. Always continue to say “Baba, Baba!” This is the spiritual pilgrimage of Brahmins. You will go home by remembering the Supreme Spirit. The more effort you make to become soul conscious, the more your physical organs will be controlled. There is only the one method of remembrance to control your physical organs. You are the spiritual spinners of the discus of self-realisation, the decoration of the Brahmin clan. This is your highest, most elevated clan. The Brahmin clan is even higher than the deity clan because the Father is teaching you. You now belong to the Father in order to claim your inheritance of the sovereignty of the world from Baba. When you say “Baba” you receive the fragrance of the inheritance. Shiva is always called “Baba”. Shiv Baba is the Bestower of Salvation. No one else can grant salvation. Only the one incorporeal One is the true Satguru and He departs after giving you the kingdom for half the cycle. So, the main thing is remembrance. At the end, you should have no awareness of your bodies, wealth or property. Otherwise, you will have to take rebirth. On the path of devotion, they sacrifice themselves at Kashi. You too have sacrificed yourselves, that is, you now belong to the Father. On the path of devotion, they think that all their sins are cut away by sacrificing themselves at Kashi. However, no one can return home. When all souls have come down from up above, destruction will take place. The Father will go back home and you will also go back with Him. People say that the Pandavas melted on the mountains. That would be like committing suicide. The Father explains to you very clearly: Children, I alone am the Bestower of Salvation for All. No bodily being can grant you salvation. You have continued to come down the ladder on the path of devotion. Now, at the end, the Father comes and takes you up with force. This is called, “Suddenly winning the lottery of unlimited happiness.” There, they have horse races, whereas here it is the race of souls. However, because of Maya, you have accidents or you divorce the Father. Maya breaks your intellects’ yoga. When someone is defeated by lust, all the income that that one had earned is lost. Lust is a big evil spirit and by conquering it you will become a conqueror of the world. Lakshmi and Narayan were the conquerors of the world. The Father says: You definitely have to become pure in this final birth. Only then will you be victorious. Otherwise, you will be defeated. This is the final birth in the land of death. Only the Father explains to you the secrets of the 21 births in the land of immortality and the 63 births in the land of death. You now have to ask your heart: Am I worthy of becoming like Lakshmi and Narayan? To the extent that you have dharna, you will accordingly have happiness too. However, if it is not in your fortune, Maya doesn’t allow this to stay. The impact of Madhuban will continue to increase a lot day by day. The main battery is here. The Father loves the serviceable children a great deal. The Father selects good, serviceable children and gives them a searchlight. They too definitely remember Baba. Both Bap and Dada remember the serviceable children and give them a searchlight. He says: When you give love, you receive love. Remember Baba and you will receive the response of your remembrance. The whole world is on one side and you true Brahmins are on the other side. You are the children of the highest-on-high Father who is the Bestower of Salvation for All. This divine birth of yours is like a diamond. He is the One who changes us from shells into diamonds. He gives you so much happiness that there is no need to remember Him for half the cycle. Baba says: I gave you lots and lots of wealth, but you lost it all. You used so many diamonds and jewels for My temple. Look how much diamonds cost now! Previously, you would get a small bonus when buying diamonds, whereas now you don’t get any bonus even when buying vegetables. You know how you claimed your kingdom and how you then lost it. You are now once again claiming it. This knowledge is very wonderful. It hardly sits in anyone’s intellect. If you want to claim a kingdom, you have to follow shrimat fully. Your own dictates are of no use. In order to go into the stage of retirement while alive, you have to give everything to that One; you have to make Him your Heir. On the path of devotion too, people make Him their heir by donating, but that is for a temporary period. Here, you have to make that One your Heir for birth after birth. It is remembered: Follow the Father. Those who follow Him claim a high status. You will claim an unlimited inheritance by belonging to the unlimited Father. Shiv Baba is the Bestower and this is His treasure-store. Those who donate in the name of God receive temporary happiness in their next birth. That is indirect whereas this is direct. Shiv Baba gives to you for 21 births. Some people think that they are giving to Shiv Baba, but that is like insulting Him. You give to Him in order to receive. This is Baba’s treasure store. Your pain and sorrow are removed. You children are now studying for the land of immortality. This is the forest of thorns and Baba is taking you to the garden of flowers. Therefore, you children should remain very happy. You also have to imbibe divine virtues. The Father makes you into beautiful flowers with so much love. Baba explains to you with a lot of love: If you want to benefit yourselves, imbibe divine virtues and do not look at anyone’s defects. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to receive a searchlight from the unlimited Father, become His helpers. Keep your connection forged with the main battery. Do not waste your time in any situation.
  2. In order to earn a true income and do the Father’s true service, stay in remembrance of the one Father because by you having remembrance the atmosphere is purified, the soul becomes satopradhan, you experience limitless happiness and your physical organs are controlled.
Blessing: May you be a true server and serve through your form of dharna and there by receive the fruit of instant happiness.
It is very good to have enthusiasm for service but, according to the circumstances, if you do not get a chance to serve, do not then let your stage fall or allow upheaval to enter you. If you do not get a chance to relate knowledge, you can still influence others with your form of dharna. You will then accumulate marks in service. Children who are embodiments of dharna are true servers. As a result of everyone’s blessings and in return for their service, they experience the fruit of instant happiness.
Slogan: Please with a true heart, the Bestower (Data), the Creator (Vidhata) and the Bestower of Blessings (Vardata), and you will stay in spiritual pleasure.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 26 APRIL 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 26 April 2019

To Read Murli 25 April 2019 :- Click Here
26-04-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – बाप की याद में सदा हर्षित रहो, पुरानी देह का भान छोड़ते जाओ, क्योंकि तुम्हें योगबल से वायुमण्डल को शुद्ध करने की सेवा करनी है”
प्रश्नः- स्कॉलरशिप लेने अथवा अपने आपको राजाई का तिलक देने के लिये कौन-सा पुरूषार्थ चाहिए?
उत्तर:- राजाई का तिलक तब मिलेगा जब याद की यात्रा का पुरूषार्थ करेंगे। आपस में भाई-भाई समझने का अभ्यास करो तो नाम-रूप का भान निकल जाये। फालतू बातें कभी भी न सुनो। बाप जो सुनाते हैं वही सुनो, दूसरी बातों से कान बन्द कर लो। पढ़ाई पर पूरा ध्यान दो तब स्कॉलरशिप मिल सकती है।

ओम् शान्ति। बच्चे जानते हैं हम श्रीमत पर अपने लिये राजधानी स्थापन कर रहे हैं। जितनी जो सर्विस करते हैं, मन्सा-वाचा-कर्मणा अपना ही कल्याण करते हैं। इसमें हंगामें आदि की कोई बात नहीं। बस, इस पुरानी देह का भान छोड़ते-छोड़ते तुम वहाँ जाकर पहुँचते हो। बाबा को याद करने से खुशी भी बहुत होती है। सदैव याद रहे तो खुशी ही खुशी रहे। बाप को भूलने से मुरझाइस आती है। बच्चों को सदैव हर्षित रहना चाहिए। हम आत्मा हैं। हम आत्मा का बाप इस मुख द्वारा बोलते हैं, हम आत्मा इन कानों द्वारा सुनते हैं। ऐसे-ऐसे अपनी आदत डालने के लिए मेहनत करनी होती है। बाप को याद करते-करते वापिस घर जाना है। यह याद की यात्रा ही बहुत ताकत देती है। तुमको इतनी ताकत मिलती है जो तुम विश्व के मालिक बनते हो। बाप कहते हैं तुम मामेकम् याद करो तो तुम्हारे विकर्म विनाश होंगे। इस बात को पक्का करना चाहिए। अन्त में यही वशीकरण मंत्र काम में आयेगा। सबको पैगाम भी यही देना है – अपने को आत्मा समझो, यह शरीर विनाशी है। बाप का फ़रमान है मुझे याद करो तो पावन बन जायेंगे। तुम बच्चे बाप की याद में बैठे हो। साथ में ज्ञान भी है क्योंकि तुम रचता और रचना के आदि-मध्य-अन्त को भी जानते हो। स्व आत्मा में सारा ज्ञान है। तुम स्वदर्शन चक्रधारी हो ना। तुम्हारी यहाँ बैठे-बैठे बहुत कमाई हो रही है। तुम्हारी दिन और रात कमाई ही कमाई है। तुम यहाँ आते ही हो सच्ची कमाई करने के लिये। सच्ची कमाई और कहाँ भी होती नहीं, जो साथ चले। तुमको और कोई धन्धा आदि तो यहाँ है नहीं। वायुमण्डल भी ऐसा है। तुम योगबल से वायुमण्डल को भी शुद्ध करते हो। तुम बहुत सर्विस कर रहे हो। जो अपनी सेवा करते हैं वही भारत की सेवा करते हैं। फिर यह पुरानी दुनिया भी नहीं रहेगी। तुम भी नहीं होंगे। दुनिया ही नई बन जायेगी। तुम बच्चों की बुद्धि में सारा ज्ञान है। यह भी जानते हैं कि कल्प पहले जो सर्विस की है वह अब करते रहते हैं। दिन-प्रतिदिन बहुतों को आप समान बनाते ही रहते हैं। इस ज्ञान को सुनकर बहुत खुशी होती है। रोमांच खड़े हो जाते हैं। कहते हैं यह ज्ञान कभी कोई से सुना नहीं है। तुम ब्राह्मणों से ही सुनते हैं। भक्ति मार्ग में तो मेहनत कुछ भी नहीं है। इसमें सारी पुरानी दुनिया को भूलना होता है। यह बेहद का सन्यास बाप ही कराते हैं। तुम बच्चों में भी नम्बरवार हैं। खुशी भी नम्बरवार होती है, एक जैसी नहीं। ज्ञान-योग भी एक जैसा नहीं। और सभी मनुष्य तो देहधारियों के पास जाते हैं। यहाँ तुम उनके पास आते हो, जिसको अपनी देह नहीं।

याद का जितना पुरूषार्थ करते रहेंगे उतना सतोप्रधान बनते जायेंगे। खुशी बढ़ती रहेगी। यह है आत्मा और परमात्मा का शुद्ध लव। वह है भी निराकार। तुम्हारी जितनी कट उतरती जायेगी, उतनी कशिश होगी। अपनी डिग्री तुम देख सकते हो – हम कितना खुशी में रहते हैं? इसमें आसन आदि लगाने की बात नहीं है। हठयोग नहीं है। आराम से बैठे बाबा को याद करते रहो। लेटे हुए भी याद कर सकते हो। बेहद का बाप कहते हैं मुझे याद करो तो तुम सतोप्रधान बन जायेंगे और पाप कट जायेंगे। बेहद का बाप जो तुम्हारा टीचर भी है, सतगुरू भी है, उनको बहुत प्यार से याद करना चाहिये। इसमें ही माया विघ्न डालती है। देखना है हमने बाप की याद में रह हर्षित होकर खाना खाया? आशिक को माशूक मिला है तो जरूर खुशी होगी ना। याद में रहने से तुम्हारा बहुत जमा होता जायेगा। मंज़िल बहुत बड़ी है। तुम क्या से क्या बनते हो! पहले तो बेसमझ थे, अभी तुम बहुत समझदार बने हो। तुम्हारी एम ऑब्जेक्ट कितनी फर्स्टक्लास है। तुम जानते हो हम बाबा को याद करते-करते इस पुरानी खाल को छोड़ जाए नई लेंगे। कर्मातीत अवस्था होने से फिर यह खाल छोड़ देंगे। नजदीक आने से घर की याद आती है ना। बाबा की नॉलेज बड़ी मीठी है। बच्चों को कितना नशा चढ़ना चाहिए। भगवान् इस रथ में बैठ तुमको पढ़ाते हैं। अभी तुम्हारी है चढ़ती कला। चढ़ती कला तेरे भाने सर्व का भला। तुम कोई नई बातें नहीं सुनते हो। जानते हो अनेक बार हमने सुनी है, वही फिर से सुन रहे हैं। सुनने से अन्दर ही अन्दर में गदगद होते रहेंगे। तुम हो अननोन वारियर्स और वेरी वेल नोन। तुम सारे विश्व को हेविन बनाते हो, तब देवियों की इतनी पूजा होती है। करने वाले और कराने वाले दोनों की पूजा होती है। बच्चे जानते हैं देवी-देवता धर्म वालों का सैपलिंग लग रहा है। यह रिवाज अभी पड़ा है। तुम अपने को तिलक लगाते हो। जो अच्छी रीति पढ़ते हैं वह अपने को स्कॉलरशिप लायक बनाते हैं। बच्चों को याद की यात्रा का बहुत पुरूषार्थ करना चाहिए। अपने को भाई-भाई समझो तो नाम-रूप का भान निकल जाये, इसमें ही मेहनत है। बहुत अटेन्शन देना है। फालतू बातें कभी सुननी नहीं है। बाप कहते हैं मैं जो सुनाऊं, वह सुनो। झरमुई झगमुई की बातें न सुनो। कान बन्द करो। सबको शान्तिधाम और सुखधाम का रास्ता बताते रहो। जितना जो बहुतों को रास्ता बताते हैं, उतना उनको फायदा मिलता है। कमाई होती है। बाप आये हैं सबका श्रृंगार करने और घर ले चलने। बाप बच्चों का सदैव मददगार बनते हैं। जो बाप के मददगार बने हैं, उनको बाप भी प्यार से देखते हैं। जो बहुतों को रास्ता बताते हैं, तो बाबा भी उनको बहुत याद करते हैं। उनको भी बाप के याद की कशिश होती है। याद से ही कट उतरती जायेगी, बाप को याद करना गोया घर को याद करना। सदैव बाबा-बाबा करते रहो। यह है ब्राह्मणों की रूहानी यात्रा। सुप्रीम रूह को याद करते-करते घर पहुँच जायेंगे। जितना देही-अभिमानी बनने का पुरूषार्थ करेंगे तो कर्मेन्द्रियां वश होती जायेगी। कर्मेन्द्रियों को वश करने का एक ही उपाय याद का है। तुम हो रूहानी स्वदर्शन चक्रधारी ब्राह्मण कुल भूषण। तुम्हारा यह सर्वोत्तम श्रेष्ठ कुल है। ब्राह्मण कुल देवताओं के कुल से भी ऊंच है क्योंकि तुमको बाप पढ़ाते हैं। तुम बाप के बने हो, बाबा से विश्व की बादशाही का वर्सा लेने के लिये। बाबा कहने से ही वर्से की खुशबू आती है। शिव को हमेशा बाबा-बाबा कहते हैं। शिवबाबा है ही सद्गति दाता और कोई सद्गति दे न सके। सच्चा सतगुरू एक ही निराकार है जो आधाकल्प के लिये राज्य देकर जाते हैं। तो मूल बात है याद की। अन्तकाल कोई शरीर का भान अथवा धन दौलत याद न आये। नहीं तो पुनर्जन्म लेना पड़ेगा। भक्ति में काशी कलवट खाते हैं, तुमने भी काशी कलवट खाया है अथवा बाप के बने हो। भक्ति मार्ग में भी काशी कलवट खाकर समझते हैं सब पाप कट गये। परन्तु वापिस तो कोई जा नहीं सकते। जब सब ऊपर से आ जायें फिर विनाश होगा। बाप भी जायेंगे, तुम भी जायेंगे। बाकी कहते हैं पाण्डव पहाड़ों पर गल गये। वह तो जैसे आपघात हो जाये। बाप अच्छी रीति समझाते हैं। बच्चे सर्व का सद्गति दाता एक मैं हूँ, कोई देहधारी तुम्हारी सद्गति कर नहीं सकते। भक्ति से सीढ़ी नीचे उतरते आये हैं, अन्त में बाप आकर जोर से चढ़ाते हैं। इसको कहा जाता है अचानक बेहद सुख की लॉटरी मिलती है। वह होती है घुड़-दौड़। यह है आत्माओं की दौड़। परन्तु माया के कारण एक्सीडेन्ट हो जाता है अथवा फ़ारकती दे देते हैं। माया बुद्धियोग तोड़ देती है। काम से हार खाते तो की कमाई चट हो जाती है। काम बड़ा भूत है, काम पर जीत पाने से जगतजीत बनेंगे। लक्ष्मी-नारायण जगत-जीत थे। बाप कहते हैं यह अन्तिम जन्म पवित्र जरूर बनना है, तब जीत होगी। नहीं तो हार खायेंगे। यह है मृत्युलोक का अन्तिम जन्म। अमरलोक के 21 जन्मों का और मृत्युलोक के 63 जन्मों का राज़ बाप ही समझाते हैं। अब दिल से पूछो कि हम लक्ष्मी-नारायण बनने के लायक हैं? जितनी धारणा होती रहेगी उतनी खुशी भी होगी। परन्तु तकदीर में नहीं है तो माया ठहरने नहीं देती है।

इस मधुबन का प्रभाव दिन-प्रतिदिन जास्ती बढ़ता रहेगा। मुख्य बैटरी यहाँ है, जो सर्विसएबुल बच्चे हैं, वह बाप को बहुत प्यारे लगते हैं। जो अच्छे सर्विसएबुल बच्चे हैं उनको चुन-चुन कर बाबा सर्चलाइट देते हैं। वह भी जरूर बाबा को याद करते हैं। सर्विसएबुल बच्चों को बापदादा दोनों याद करते हैं, सर्चलाइट देते हैं। कहते हैं मिठरा घुर त घुराय……. याद करो तो याद का रेसपॉन्स मिलेगा। एक तरफ है सारी दुनिया, दूसरी तरफ हो तुम सच्चे ब्राह्मण। ऊंचे ते ऊंचे बाप के तुम बच्चे हो, जो बाप सर्व का सद्गति दाता है। तुम्हारा यह दिव्य जन्म हीरे समान है। हमको कौड़ी से हीरा भी वही बनाते हैं। आधाकल्प के लिये इतना सुख दे देते हैं जो फिर उनको याद करने की दरकार नहीं। बाबा कहते – बच्चे, ढेरों का ढेर धन तुमको देता हूँ। तुम सब गँवा बैठे हो। कितने हीरे जवाहरात मेरे ही मन्दिर में लगाते हो। अब तो हीरे का देखो कितना दाम है! आगे हीरों पर भी रूंग मिलती थी, अब तो सब्जी पर भी रूंग नहीं मिलती। तुम जानते हो कैसे राज्य लिया, कैसे गँवाया? अब फिर ले रहे हैं। यह ज्ञान बड़ा वण्डरफुल है। कोई की बुद्धि में मुश्किल ठहरता है। राजाई लेनी है तो श्रीमत पर पूरा चलना है। अपनी मत काम में नहीं आयेगी। जीते जी वानप्रस्थ में जाना है तो सब कुछ इनको देना पड़े। वारिस बनाना पड़े। भक्ति मार्ग में भी वारिस बनाते हैं। दान करते हैं परन्तु अल्पकाल के लिये। यहाँ तो इनको वारिस बनाना होता है – जन्म-जन्मान्तर के लिये। गायन भी है फालो फादर। जो फालो करते हैं वह ऊंच पद पाते हैं। बेहद के बाप का बनने से ही बेदह का वर्सा पायेंगे। शिवबाबा तो है दाता। यह भण्डारा उनका है। भगवान् अर्थ जो दान करते हैं, तो दूसरे जन्म में अल्पकाल का सुख मिलता है। वह हुआ इनडायरेक्ट। यह है डायरेक्ट। शिवाबाबा 21 जन्मों के लिये देते हैं। कोई की बुद्धि में आता है हम शिवबाबा को देते हैं। यह जैसे इन्सल्ट है। देते हैं लेने के लिये। यह बाबा का भण्डारा है। काल कंटक दूर हो जाते हैं। बच्चे पढ़ते हैं अमरलोक के लिये। यह है कांटों का जंगल। बाबा फूलों के बगीचे में ले जाते हैं। तो बच्चों को बहुत खुशी रहनी चाहिए। दैवी गुण भी धारण करने हैं। बाप कितना प्यार से बच्चों को गुल-गुल बनाते हैं। बाबा बहुत प्यार से समझाते हैं। अपना कल्याण करना चाहते हो तो दैवीगुण भी धारण करो और किसके भी अवगुण नहीं देखो। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिये मुख्य सार :-

1) बेहद के बाप से सर्च लाइट लेने के लिये उनका मददगार बनना है। मुख्य बैटरी से अपना कनेक्शन जोड़कर रखना है। किसी भी बात में समय बरबाद नहीं करना है।

2) सच्ची कमाई करने वा भारत की सच्ची सेवा करने के लिये एक बाप की याद में रहना है क्योंकि याद से वायुमण्डल शुद्ध होता है। आत्मा सतोप्रधान बनती है। अपार खुशी का अनुभव होता है। कर्मेन्द्रियाँ वश में हो जाती है।

वरदान:- धारणा स्वरूप द्वारा सेवा करके खुशी का प्रत्यक्षफल प्राप्त करने वाले सच्चे सेवाधारी भव
सेवा का उमंग रखना बहुत अच्छा है लेकिन यदि सरकमस्टांस अनुसार सेवा का चांस आपको नहीं मिलता है तो अपनी अवस्था गिरावट वा हलचल में न आये। अगर ज्ञान सुनाने का चांस नहीं मिलता है लेकिन आप अपनी धारणा स्वरूप का प्रभाव डालते हो तो सेवा की मार्क्स जमा हो जाती हैं। धारणा स्वरूप बच्चे ही सच्चे सेवाधारी हैं। उन्हें सर्व की दुआयें और सेवा के रिटर्न में प्रत्यक्षफल खुशी की अनुभूति होती है।
स्लोगन:- सच्चे दिल से दाता, विधाता, वरदाता को राज़ी कर लो तो रूहानी मौज में रहेंगे।

TODAY MURLI 25 APRIL 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 25 April 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 24 April 2019 :- Click Here

25/04/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, break away from everyone else and connect yourselves to One. Look at one another with the vision of brotherhood and you will not notice the body. Your vision will not be spoilt and there will be power in your words.
Question: Is the Father in debt to the children or are the children in debt to the Father?
Answer: You children are those who have a right and the Father is indebted to you. You children make donations and the Father has to give you one hundred-fold return of those. Whatever you give in the name of God, you receive the return of that in your next birth. You give a handful of rice and become the masters of the world and so you should be so generous hearted. Never have the thought, “I gave to Baba.”

Om shanti. You have to explain at the museums and exhibitions that this is the most auspicious confluence age. Only you are sensible, and so you have to explain so much to everyone that this is the most auspicious confluence age. The place of greatest service is the museum. Many people go there, but there are very few good, serviceable children. All the centres are service stations. At the centre in Delhi, it is written: Spiritual museum. That is not the correct meaning. Many people ask you the question: What service are you doing for Bharat? God speaks: This is a forest. At this time, you are at the confluence age. You neither belong to the forest nor the garden. You are now making effort to go to the garden. You are changing this kingdom of Ravan into the kingdom of Rama. People ask you how you are able to cover your expenses. Tell them: We BKs cover the expenses ourselves. The kingdom of Rama is being established. You can come for a few days and understand what we are doing and what our aim and objective is. Those people don’t believe in sovereignty and this is why they have finished the rule of kings. At this time they have also become tamopradhan and this is why they are not liked. According to the drama, they too cannot be blamed. We play our parts in whatever happens in the drama. The part of establishment continues every cycle through the Father. You children cover the expenses yourselves. By following shrimat, you meet the expenses and create your own kingdom and no one else knows about it. Your name “Unknownwarriors” is very well known. In fact, there are no unknown warriors in that army. A register is kept of the soldiers. It is not possible that someone’s name or number is not registered. In fact, you are the unknown warriors. Your name is not mentioned in any register. You don’t have any weapons etc. There is no physical violence here. You are conquering the world with the power of yoga. God is the Almighty Authority and you are taking power from Him by having remembrance. You have yoga with the Father in order to become satopradhan. When you become satopradhan, you need a satopradhan kingdom. You are now establishing that by following shrimat. Those who exist but are not visible are said to be incognito. You cannot see Shiv Baba with those eyes. You are incognito and you are claiming power from Him in an incognito way. You understand that you are becoming pure from impure and that only pure ones have power. All of you will be pure in the golden age. The Father tells you the story of their 84 births. You claim power from the Father, you become pure and will then rule the kingdom of the pure world. No one can conquer the world with physical power. This is a matter of the power of yoga. Those people fight, but you will accept the kingdom in your hands. The Father is the Almighty Authority and so you should take power from Him. You now know the Father and the beginning, middle and end of creation. You know that only you are spinners of the discus of self-realisation. Not everyone has this awareness. You children should have this awareness because only you children receive this knowledge. Those people outside cannot understand this. This is why they are not allowed to sit in this gathering. Everyone calls out to the Purifier Father, but no one considers himself to be impure. They simply continue to sing: The Purifier is Rama who belongs to Sita. All of you are brides and the Father is the Bridegroom. He comes to grant everyone salvation. He decorates you children. You have received a double engine. A Rolls Royce has a very good engine. The Father is also like that. You say: O Purifier, come! Make us pure and take us back with You! All of you are sitting here peacefully. You don’t play musical instruments etc. There is no question of any difficulty. Continue to remember the Father while walking and moving around. Continue to show the path to whomever you meet. The Father says: When you meet devotees of Myself or of Lakshmi and Narayan or of Radhe and Krishna, you have to donate to them. Do not waste these. Donations are given to those who are worthy of them. Impure human beings continue to donate to impure human beings. The Father is the Almighty Authority. You take power from Him and become the most elevated. When Ravan comes, there is a confluence at that time too – of the silver and copper ages. This is the confluence of the iron and golden ages. You have to understand everything such as, for how long knowledge lasts and for how long devotion lasts. You then have to explain these things to others. The main thing is to remember the unlimited Father. When the unlimited Father comes, destruction also takes place. When did the Mahabharat War take place? It was when God taught Raj Yoga. You can understand that the beginning of the new world and the end of the old world means destruction has to take place. The world is in extreme darkness. It now has to be awakened; it has been sleeping for half the cycle. The Father explains: Consider yourselves to be souls and look at others with the vision of brotherhood. Then, when you give knowledge to anyone, there will be power in your words. It is souls that become pure and impure. When a soul becomes pure he receives a pure body. He cannot receive it now. Everyone has to become pure; some will become pure through the power of yoga and others through punishment. The pilgrimage of remembrance requires effort. Baba continues to inspire you to practise this. Whenever you go anywhere, go in remembrance of Baba, just as priests go everywhere quietly in remembrance of Christ. They continue to remember Christ. The people of Bharat remember many. The Father says: Do not remember anyone except the One. We claim a right to liberation and liberation-in-life from the unlimited Father. Liberation-in-life is received in a second. In the golden age, everyone is liberated in life, whereas everyone in the iron age is in a life of bondage. No one knows these things. The unlimited Father explains all of these things to you children. Then you children have to reveal the Father. He continues to tour around everywhere. It is your duty to give human beings the message that this is the most auspicious confluence age. The unlimited Father has come to give the unlimited inheritance. The Father says: Constantly remember Me alone and your sins will be absolved; your sins will be cut away. This is the true Gita which the Father teaches you. You have fallen by following human dictates, whereas you claim your inheritance by following God’s directions. The main thing is: While walking, sitting and moving around, continue to remember the Father and give His introduction. You have badges with you, and it doesn’t matter if you give them away free, but only to those who are worthy. The Father complains to the children: You remember your physical fathers, and yet you forget Me, your parlokik Father! Are you not ashamed? You belonged to the pure family household path and you now have to become that again. You are those who make a deal with God. Check within yourself: Is my intellect wandering anywhere? For how long did I remember the Father? The Father says: Break away from everyone else and connect yourself to the One. You mustn’t make any mistakes in this. It has also been explained to you: Look at others with the vision of brotherhood and you won’t notice their bodies. Your vision will then not be spoilt. This is the destination. Only at this time do you receive this knowledge. All speak of brothers; people say that this is a brotherhood. That is fine. We are the children of the Supreme Father, the Supreme Soul. So, why are we sitting here when the Father is establishing heaven? Continue to explain in this way and continue to make progress. The Father wants many serviceable daughters. Centres continue to open. Children are interested in bringing benefit to many others. However, the teachers who look after everyone also have to be good maharathis. Teachers too are numberwise. The Father says: Where there is a Lakshmi and Narayan Temple, where there is a Shiva Temple, where there is the River Ganges, where there are lots of people, you should go there and do service there. Explain to them: God says: Lust is the greatest enemy. Continue to do service according to shrimat. This is your Godly family. You come here and stay in a bhatthi for seven days and stay with this family. You children should have a lot of happiness. You are being made multimillion times fortunate by the unlimited Father. The world doesn’t know that God can teach you. You are studying here. So, you should have so much happiness. We are studying to become the highest on high. You should be so generous hearted. You are making the Father indebted to you. Whatever you give in the name of God, you receive the return of that in your next birth, do you not? When you give everything to Baba, Baba also has to give you everything. You should never have the thought: I gave to Baba. Many people think: I gave this much, so why am I not being offered special hospitality? You give a handful of rice and claim the sovereignty of the world. Baba is the Bestower. Kings are royal. When we first meet a king, we give him a gift, but he would never accept that in his own hands. He would indicate that you should give it to his secretary. Shiv Baba is the Bestower, so how would He take from you? That One is the unlimited Father. You give Him a gift but Baba would give you one hundred-fold return. So you should never have the thought that you gave to Baba. Always think that you are taking. You will become multimillionaires there. You are becoming multimillion times fortunate in a practical way. Many children are generous hearted whereas many others are still misers. They don’t even understand that they are becoming multimillionaires. We are becoming very happy. When God, the Father, is absent, He gives you fruit indirectly for a temporary period. When He becomes present, He gives to you for 21 births. It has been remembered that Shiv Baba’s treasure-store overflows. Look, there are so many children, but no one knows who gives what. The Father knows and the bag (Brahma) in which the Father stays knows. He is absolutely ordinary. Due to this, when children leave here, that intoxication disappears. When there isn’t knowledge or yoga, minor clashes continue. Maya defeats even good children. Maya makes them turn away from the Father. Can you not remember the Father whom you come to? There should be a lot of internal happiness. The day has come for which you had been saying: When the Father comes, we will belong to Him. God comes and adopts you, and so you are said to be so fortunate. You should remain so happy but Maya makes you lose your happiness. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. God has adopted us. He becomes our Teacher and teaches us. Remember your multimillion times fortune and remain happy.
  2. Make the vision firm: We souls are brothers. Do not look at bodies. After making a deal with the Father, do not allow your intellect to wander.
Blessing: May you have pure and positive thoughts of yourself and transform your subtle weaknesses by thinking about them.
Simply to repeat points of knowledge, to relate them and to listen to them is not having pure and positive thoughts of oneself. To have pure and positive thoughts of oneself means to think about your subtle weaknesses, your very small mistakes and to finish and transform them. This is what it means to have pure and positive thoughts of oneself. All of you children churn the knowledge very well, but to use the knowledge for yourself and to become an embodiment of dharna and to transform oneself: it is in this that you receive marks in the final result.
Slogan: Remember Karankaravanhar Baba at every moment and you will not have any arrogance of the consciousness of “I”.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 25 APRIL 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 25 April 2019

To Read Murli 24 April 2019 :- Click Here
25-04-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

मीठे बच्चे – ”और संग तोड़ एक संग जोड़ो, भाई-भाई की दृष्टि से देखो तो देह नहीं देखेंगे, दृष्टि बिगड़ेगी नहीं, वाणी में त़ाकत रहेगी”
प्रश्नः- बाप बच्चों का कर्जदार है या बच्चे बाप के?
उत्तर:- तुम बच्चे तो अधिकारी हो, बाप तुम्हारा कर्जदार है। तुम बच्चे दान देते हो तो तुम्हें एक का सौ गुणा बाप को देना पड़ता है। ईश्वर अर्थ तुम जो देते हो दूसरे जन्म में उसका रिटर्न मिलता है। तुम चावल मुट्ठी देकर विश्व का मालिक बनते तो तुम्हें कितना फ्राकदिल होना चाहिए। मैंने बाबा को दिया, यह ख्याल भी कभी नहीं आना चाहिए।

ओम् शान्ति। म्युज़ियम, प्रदर्शनी में समझाना है कि यह है पुरुषोत्तम संगमयुग। समझदार तो सिर्फ तुम ही हो, तो सबको कितना समझाना पड़ता है कि यह पुरुषोत्तम संगमयुग है। सबसे जास्ती सर्विस स्थान है म्युजियम। वहाँ बहुत आते हैं, अच्छे सर्विसएबुल बच्चे कम हैं। सर्विस स्टेशन सब सेन्टर्स हैं। देहली में लिखा है प्रीचुअल म्युजियम। इसका भी ठीक अर्थ नहीं निकलता है। बहुत लोग प्रश्न पूछते हैं तुम भारत की क्या सेवा कर रहे हो? भगवानुवाच है ना – यह है फारेस्ट। तुम इस समय संगम पर हो। न हो फारेस्ट के, न हो गार्डन के। अब गार्डन में जाने का पुरुषार्थ कर रहे हो। तुम इस रावण राज्य को राम राज्य बना रहे हो। तुमसे प्रश्न पूछते हैं – इतना खर्चा कहाँ से आया? बोलो, हम बी.के. ही करते हैं। राम राज्य की स्थापना हो रही है। तुम थोड़ा रोज़ आकर समझो कि हम क्या कर रहे हैं, हमारी एम आब्जेक्ट क्या है? वो लोग सावरन्टी को मानते नहीं, इसलिए राजाओं की राजाई खत्म कर दी है। इस समय वो भी तमोप्रधान बन पड़े हैं, इसलिए अच्छे नहीं लगते। उन्हों का भी ड्रामा अनुसार दोष नहीं। जो कुछ ड्रामा में होता है वह हम पार्ट बजाते हैं। कल्प-कल्प बाप द्वारा स्थापना का यह पार्ट चलता है। खर्चा भी तुम बच्चे ही करते हो, अपने लिए। श्रीमत पर अपना खर्चा कर अपने लिए सतयुगी राजधानी बना रहे हो, और किसको पता भी नहीं है। तुम्हारा नाम मशहूर है अननोन वारियर्स। वास्तव में उस सेना में अननोन वारियर्स कोई होते नहीं हैं। सिपाही लोगों का रजिस्टर रहता है। ऐसा हो न सके जिसका नाम नम्बर रजिस्टर में न हो। वास्तव में अननोन वारियर्स तुम हो। तुम्हारा कोई रजिस्टर में नाम नहीं। तुमको कोई हथियार पंवार नहीं। इसमें जिस्मानी हिंसा तो है नहीं। योगबल से तुम विश्व पर जीत पाते हो। ईश्वर सर्वशक्तिमान् है ना। याद से तुम शक्ति ले रहे हो। सतोप्रधान बनने के लिए तुम बाप से योग लगा रहे हो। तुम सतोप्रधान बने तो राज्य भी सतोप्रधान चाहिए। सो तुम श्रीमत पर स्थापन करते हो। इनकागनीटो उनको कहा जाता है, जो है परन्तु देखने में न आये। तुम शिवबाबा को भी इन आंखों से देख नहीं सकते। तुम भी गुप्त, तो शक्ति भी तुम गुप्त ले रहे हो। तुम समझते हो हम पतित से पावन बन रहे हैं और पावन में ही शक्ति होती है। तुम सतयुग में सब पावन होंगे। उनके ही 84 जन्मों की कहानी बाप बतलाते हैं। तुम बाप से शक्ति ले, पवित्र बन फिर पवित्र दुनिया में राज्य भाग्य करेंगे। बाहुबल से कभी कोई विश्व पर जीत पा न सके। यह है योगबल की बात। वो लड़ते हैं, राज्य तुम्हारे हाथ में आना है। बाप सर्वशक्तिमान् है तो उनसे शक्ति मिलनी चाहिए। तुम बाप को और रचना के आदि-मध्य-अन्त को भी जानते हो।

तुम जानते हो हम ही स्वदर्शन चक्रधारी हैं। यह सबको स्मृति नहीं रहती है। तुम बच्चों को स्मृति रहनी चाहिए क्योंकि तुम बच्चों को ही यह नॉलेज मिलती है। बाहर वाले तो कोई समझ न सकें इसलिए सभा में बिठाया नहीं जाता। पतित-पावन बाप को सब बुलाते हैं, परन्तु अपने को पतित कोई समझते नहीं हैं, ऐसे ही गाते रहते हैं पतित-पावन सीताराम। तुम सब हो ब्राइड्स, बाप है ब्राइडग्रुम। वो आते ही हैं सर्व की सद्गति करने। तुम बच्चों को श्रृंगार कराते हैं। तुमको डबल इंजन मिली है। रोल्स रॉयल्स में इंजन बहुत अच्छी होती है। बाप भी ऐसे हैं। कहते हैं पतित-पावन आओ, हमको पावन बनाकर साथ ले जाओ। तुम सब शान्त में बैठे हो। कोई झांझ आदि नहीं बजाते। तकल़ीफ की बात नहीं। चलते-फिरते बाप को याद करते रहो, जो मिले उनको रास्ता बताते रहो। बाप कहते हैं मेरे वा लक्ष्मी-नारायण, राधे-कृष्ण आदि के जो भक्त हैं, उनको यह दान देना है, व्यर्थ नहीं गँवाना है। पात्र को ही दान दिया जाता है। पतित मनुष्य, पतित को ही दान देते रहते हैं। बाप है सर्वशक्तिमान्, उनसे तुम शक्ति लेकर उत्तम बनते हो। रावण जब आता है उस समय भी संगम हुआ – त्रेता और द्वापर का। यह संगम है कलियुग और सतयुग का। ज्ञान कितना समय और भक्ति कितना समय चलती है – यह सब बातें तुमको समझकर समझानी है। मुख्य बात है बेहद के बाप को याद करो। जब बेहद का बाप आते हैं तो विनाश भी होता है। महाभारत लड़ाई कब लगी? जब भगवान् ने राजयोग सिखलाया था। समझ में आता है नई दुनिया का आदि, पुरानी दुनिया का अन्त अर्थात् विनाश होना है। दुनिया घोर अन्धियारे में पड़ी है, अब उनको जगाना है। आधाकल्प से सोये पड़े हैं। बाप समझाते हैं अपने को आत्मा समझ भाई-भाई की दृष्टि से देखो। तो तुम जब किसको ज्ञान देंगे तो तुम्हारी वाणी में त़ाकत आयेगी। आत्मा ही पावन और पतित बनती है। आत्मा पावन बनें तब शरीर भी पावन मिले। अभी तो मिल न सके। पावन सभी को बनना है। कोई योगबल से, कोई सजाओं से। मेहनत है याद के यात्रा की। बाबा प्रैक्टिस भी कराते रहते हैं। कहाँ भी जाओ तो बाबा की याद में जाओ। जैसे पादरी लोग शान्ति में क्राइस्ट की याद में जाते हैं और क्राइस्ट को याद करते हैं। भारतवासी तो अनेकों को याद करते हैं। बाप कहते हैं एक के सिवाए और किसी को याद न करो। बेहद के बाप से हम मुक्ति और जीवनमुक्ति के हकदार बनते हैं। सेकेण्ड में जीवनमुक्ति मिलती है। सतयुग में सब जीवनमुक्ति में थे, कलियुग में सब जीवनबंध में हैं। यह किसको भी पता नहीं है, यह सब बातें बाप बच्चों को समझाते हैं। बच्चे फिर बाप का शो करते हैं। सब तरफ चक्कर लगाते हैं। तुम्हारा फ़र्ज है मनुष्य मात्र को यह पैगाम देना कि यह पुरुषोत्तम संगमयुग है। बेहद का बाप बेहद का वर्सा देने आया है। बाप कहते हैं मामेकम् याद करो तो विकर्म विनाश होंगे। पाप कट जायेंगे। यह है सच्ची गीता, जो बाप सिखलाते हैं। मनुष्य मत से गिरे हो, भगवान् की मत से तुम वर्सा ले रहे हो। मूल बात है – उठते-बैठते, चलते-फिरते बाबा को याद करते रहो और परिचय देते रहो। बैज तो तुम्हारे पास है, फ्री देने में हर्जा नहीं है। परन्तु पात्र देखकर।

बाप बच्चों को उल्हना देते हैं कि तुम लौकिक बाप को याद करते हो और मुझ पारलौकिक बाप को भूल जाते हो। लज्जा नहीं आती। तुम ही पवित्र प्रवृत्ति मार्ग के गृहस्थ व्यवहार में थे, फिर अब बनना है। तुम हो भगवान् के सौदागर। अपने अन्दर देखो बुद्धि कहाँ भटकती तो नहीं है? बाप को कितना समय याद किया? बाप कहते हैं और संग तोड़ एक संग जोड़ो। भूल नहीं करनी है। यह भी समझाया है भाई-भाई की दृष्टि से देखो तो देह नहीं देखेंगे। दृष्टि बिगड़ेगी नहीं। मंज़िल है ना। यह ज्ञान अभी ही तुमको मिलता है। भाई-भाई तो सब कहते हैं, मनुष्य कहते हैं, ब्रदरहुड। यह तो ठीक है। परमपिता परमात्मा की हम सन्तान हैं। फिर यहाँ क्यों बैठे हो? बाप स्वर्ग की स्थापना करते हैं तो ऐसे-ऐसे समझाते उन्नति को प्राप्त करते रहो। बाप को सर्विसएबुल बच्चियां बहुत चाहिए। सेन्टर्स खुलते जाते हैं। बच्चों को शौक है, समझते हैं बहुतों का कल्याण होगा। परन्तु टीचर्स सम्भालने वाली भी अच्छी महारथी चाहिए। टीचर्स भी नम्बरवार हैं। बाबा कहते हैं जहाँ लक्ष्मी-नारायण का मन्दिर हो, शिव का मन्दिर हो, गंगा का कण्ठा हो, जहाँ बहुत भीड़ होती हो वहाँ सर्विस करनी चाहिए। समझाओ – भगवान् कहते हैं काम महाशत्रु है। तुम श्रीमत प्रमाण सर्विस करते रहो। यह तुम्हारा ईश्वरीय परिवार है, यहाँ 7 रोज़ भट्ठी में आकर परिवार के साथ रहते हो। तुम बच्चों को बहुत खुशी होनी चाहिए। बेहद का बाप जिससे तुम पद्मापद्म भाग्यशाली बनते हो। दुनिया जानती नहीं कि भगवान् भी पढ़ा सकते हैं। यहाँ तुम पढ़ते हो तो तुमको कितनी खुशी होनी चाहिए। हम ऊंच ते ऊंच जाने के लिए पढ़ रहे हैं। कितना फ्राक दिल होना चाहिए। बाप के ऊपर तुम कर्ज चढ़ाते हो। ईश्वर अर्थ जो देते हो, दूसरे जन्म में इनका रिटर्न लेते हो ना। बाबा को तुमने सब कुछ दिया तो बाबा को भी सब कुछ देना पड़ेगा। मैंने बाबा को दिया, यह कभी ख्याल नहीं आना चाहिए। बहुतों के अन्दर चलता है – हमने इतना दिया, हमारी खातिरी क्यों नहीं हुई? तुम चावल मुट्ठी देकर विश्व की बादशाही लेते हो। बाबा तो दाता है ना। राजायें रॉयल होते हैं, पहले-पहले जब मुलाकात होती है तो हम नज़राना देते हैं, वे कभी हाथ में नहीं लेंगे। पोटरी तऱफ ईशारा करेंगे। तो शिवबाबा जो दाता है वह कैसे लेंगे। यह बेहद का बाप है ना। इनके आगे तुम नज़राना रखते हो। परन्तु बाबा तो रिटर्न में सौ गुणा देंगे। तो मैंने दिया – यह ख्याल कभी नहीं आना चाहिए। हमेशा समझो हम तो लेते हैं। वहाँ तुम पद्मपति बनेंगे। तुम प्रैक्टिकल में पद्मापद्म भाग्यशाली बनते हो। बहुत बच्चे फ्राकदिल भी हैं। तो कई मनहूस (कन्जूस) भी हैं। समझते ही नहीं हैं कि पद्मापद्मपति हम बनते हैं, हम बहुत सुखी बनते हैं। जब परमात्मा बाप गैर हाज़िर है तो इनडायरेक्ट अल्पकाल के लिए फल देते हैं। जब हाजिर हैं तो 21जन्म के लिए देते हैं। यह गाया हुआ है शिवबाबा का भण्डारा भरपूर। देखो, ढेर बच्चे हैं, किसको भी यह मालूम नहीं है कि कौन क्या देते हैं? बाप जाने और बाप की गोथरी (ब्रह्मा) जाने, जिसमें बाप रहते हैं – बिल्कुल साधारण। इस कारण बच्चे यहाँ से बाहर निकलते हैं तो वह नशा गुम हो जाता है। ज्ञान योग नहीं तो खिट-खिट चलती रहती है। अच्छे-अच्छे बच्चों को भी माया हरा देती है। माया बेमुख कर देती है। शिवबाबा, जिसके पास तुम आते हो, उनको तुम याद नहीं कर सकते हो! अन्दर अथाह खुशी होनी चाहिए। वह दिन आया आज, जिसके लिए कहते थे आप आयेंगे तो हम आपके बनेंगे। भगवान् आकर एडाप्ट करते हैं तो कितना खुशनसीब कहेंगे। कितना खुशी में रहना चाहिए। परन्तु माया खुशी गँवा देती है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) भगवान् ने हमें एडाप्ट किया है, वही हमें टीचर बनकर पढ़ा रहे हैं, अपने पद्मापद्म भाग्य का सिमरण कर खुशी में रहना है।

2) हम आत्मा भाई-भाई हैं, यह दृष्टि पक्की करनी है। देह को नहीं देखना है। भगवान् से सौदा करने के बाद फिर बुद्धि को भटकाना नहीं है।

वरदान:- अपनी सूक्ष्म कमजोरियों को चिंतन करके परिवर्तन करने वाले स्वचिंतक भव
सिर्फ ज्ञान की प्वाइंटस रिपीट करना, सुनना वा सुनाना ही स्वचिंतन नहीं है लेकिन स्वचिंतन अर्थात् अपनी सूक्ष्म कमजोरियों को, अपनी छोटी-छोटी गलतियों को चिंतन करके मिटाना, परिवर्तन करना – यही है स्वचिंतक बनना। ज्ञान का मनन तो सभी बच्चे बहुत अच्छा करते हैं लेकिन ज्ञान को स्वयं के प्रति यूज़ कर धारणा स्वरूप बनना, स्वयं को परिवर्तन करना, इसकी ही मार्क्स फाइनल रिजल्ट में मिलती हैं।
स्लोगन:- हर समय करन-करावनहार बाबा याद रहे तो मैं पन का अभिमान नहीं आ सकता।
Font Resize