daily gyan murli 19 september 2017

TODAY MURLI 19 SEPTEMBER 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 19 SEPTEMBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Bk Murli 18 September 2017 :- Click Here

19/09/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you are Godly students. You mustn’t miss the study even for a single day under any circumstance. If you study and educate yourself, you will become a lord.
Question: What are the signs of the children who pay full attention to the murli?
Answer: Those who listen to the murli with attention every day know very clearly who the Father is and what He is because the elevated versions of the Father are: Only a handful out of multimillions recognise Me as I am and what I am. If they don’t pay attention to this study, it will not sit in their intellects that God is giving us this shrimat. They will ignore what they have heard. Their intellects become locked. They cannot follow the Father’s orders.
Song: Leave Your throne of the sky and come down to earth!

Om shanti. You children now understand that you are children of the Ocean of Knowledge. We have now come to know the beginning, the middle and the end of the whole world cycle and the drama from the Ocean of Knowledge. There are no people in the world who have this drama in their intellects. Among you, too, not everyone knows to the same extent. You children know that this Bharat is the imperishable land. It is this Bharat that becomes the land of truth and the land of falsehood. The land of truth is called heaven and the land of falsehood is called hell. Many children here think that they listen to this knowledge every day and that it is nothing new. They don’t imbibe knowledge fully. You are Godly students. You mustn’t miss the study for even a day. This study is valuable. Even when someone is ill and comes and sits here, at least he or she would be able to hear the elevated versions. If they shed their bodies while listening to the elevated versions, they would receive such relief! This is a big hospital. Day and night, there should be a lot of interest in studying. The mother and father also have that interest day and night. God is teaching you. God speaks: O children, you understand very well, do you not? You say that this war also took place 5000 years ago. Previously, you didn’t know anything, but now that the Father has explained to you, you understand. It is the duty of students to imbibe the knowledge they receive. The main thing here is purity. The soul that has become ugly with alloy in the iron age has to have that alloy removed. You souls should have the thought inside that it is Shiv Baba who is speaking to you. Therefore, you have to become soul conscious. Only the Supreme Father, the Supreme Soul, makes you soul conscious here. No one else has the strength to be soul conscious and to sit here and explain to you. Although they say that they are God, or that they are someone else, they don’t know anything. It is in your intellects that you know the beginning, the middle and the end of the whole world cycle. Those who imbibe this are also numberwise. It isn’t numberwise just here, but at all the centresStudents are never all the same. Some come for 20 days and some come accurately. No matter where any of you go, you have to study regularly there too. If you don’t study the murli, you get an absent mark. If you receive a murli and study it, that is not an absent mark. It is not like this in any other school. When you go somewhere outside, you are always given something to read to take with you. If someone is in hospital, you can go there and read a murli to him or her. This is most valuable knowledge. You know that however many pass now, they will pass cycle after cycle. This study is a very important study and you need to pay great attention to it. There are many children whom Maya catches hold of by their nose. Even then, they don’t remember that they are God f atherly students. It is remembered that the alligator swallowed the elephant. That refers to this time. By keeping bad company, instead of everything becoming worthwhile, everything becomes ruined. There are very few who study with attention. The Father says: Scarcely any are able to understand Me as I am and what I am. When you say anything to uneducated children, they listen with one ear and let it out of the other. They are unable to keep the directions they receive from God in their intellects. Because they don’t have full yoga, Maya locks their intellects. This punishment is received because of not following orders. Baba says: I have come from so far away in order to teach you. You don’t obey shrimat and so what will your state become? God Himself sits here and teaches you. He gives you orders. It isn’t that He is giving inspiration; there is no question of inspiration in this. This drama is predestined. It is eternal. Impure human beings even say that this task was accomplished through God’s inspiration, but it is not like that. No sage or holy man knows the secrets of the drama. Baba had also told you earlier to make a big picture of the variety-form image of Vishnu. The image those people have created is wrong. They just show the deities, warriors, merchants and shudras. They don’t have the knowledgein detail at all. They simply say it just like that without understanding the meaning at all. The variety-form image is very well known. A big picture of it should be made. Although we have Brahmins, deities, warriors, merchants and shudras in this picture of ours, the Father says: You should create a picture of Vishnu. The topknot should also be shown at the top. Shiv Baba too should be shown above that. He is like a s tar. Then there should be the topknot of Brahmins. In English, write: This birth of a BK in the Brahmin clan is just for one birth. This is the most valuable birth. This is the leap birth and the leap age. This is the highest age of all. No one knows it. It isn’t mentioned in any of the scriptures. They call out to the Purifier Father. Therefore, it means that this is the end of the iron age. No one knows about the confluence age. The Father says: Explain this too: There is one Brahmin birth and then you become deities for so many births for this length of time. You show how the Christians must exist for 2000 years. Then, everyone’s part comes to an end. It should be written clearly: The Brahmin clan, the deity clan and the warrior clan (the kingdom of Rama). All now belong to the shudra clan. You should show the variety-form image. The whole play is based on Bharat. Bharat was pure and Bharat is now impure. All the rest are “by plots  ; they have no connection with the clans. The Father has explained to you the praise of Bharat. This is the imperishable land and it is never destroyed. You know that there truly are no other lands in the golden age. All of them came into existence later and all of them will be destroyed. Only the imperishable land of Bharat will remain; everything else will be destroyed; the very name and trace of everything else will disappear. Only at this time do you children have this knowledge in your intellects. No one else knows it. Bharat was the purest land of all. Bharat is called the land of righteousness. There aren’t as many donations made or charity performed anywhere else as here in Bharat. You are once again receiving here the inheritance of becoming the masters of the world. You are claiming such an elevated inheritance! You received this inheritance and then lost it. There is victory and defeat. You now know that you are becoming victorious and that you will then be defeated. This secret of victory and defeat should continue to turn around in your intellects. In the golden age you don’t have the knowledge of how you gain victory or how you are defeated. There, you just have the reward. There, you won’t even be aware of where it was you received this kingdom. Only at this time are you made knowledgefull by the Father. You then go and receive your reward on the basis of this knowledge. The reel of the drama continues to unwind. Your actcontinues according to whatever emerges. The acts of 84 births are recorded in the drama. A soul is so tiny and has a whole part recorded within him; it continues to repeat. This is called nature. No one knows this nature. Such a tiny soul has such a big part which can never be destroyed. The intellects of scientists continue to make arrangements for their own destruction. You souls are making effort to claim a high status. They believe that they have now come close to the moon and stars and will buy plot s of land there. They give a lot of importance to that. We say that they are all doing all of that for their own death. You children know that all of those preparations are being made in order to open the gates of heaven. How would the gates of heaven open without this war? There has to be the destruction of the impure world. Scholars and pundits don’t know these things. You know that, according to the drama, all of this is fixed. Therefore, you children should study this. Some listen to it, study it and are then finished. Some of you sitting here are not listening. Only when you imbibe something can you explain to others. If you don’t imbibe this and don’t do service, what status would you claim? Yes, you will go to heaven and come into the kingdom, but not everyone will become a king. Those who study and educate themselves will become the lords. Those who don’t study or teach others will have to bow down to others. This has to happen. They will go and serve others. They will come into the kingdom, but they will have to serve. There are many subjects being created. In the region of hundreds of thousands are created and they too will have maids and servants. Many will listen to this knowledge at the exhibitions and something or other will sit in their intellects. Only those who are to reside in heaven will come here. Those of the sannyas religion will not come here. Those who listen to a little will definitely be subjects. They don’t have yoga and so their sins are not absolved, and so how could they receive a status? All the secrets are explained to you children. A kingdom is being established. Establishment will definitely take place at the confluence age. The Father says: I come at the confluence age of the cycle. Those people have then written that I come in every age. Nevertheless, that is four or, say, five ages, and so why have they shown so many incarnations? They speak of the Parasu-Rama incarnation (Rama with an axe) and the incarnation into an alligator etc. They show that Parasu-Rama took an axe and killed all the warriors. The Father says: How could that be possible? Would God commit so much violence with an axe? People continue to say “It’s true, it’s true” to whatever they hear. They believe something false to be true. The Father says: All of those things are untrue. No one is true at all. If you tell them this they become upset. Therefore, the Father says: Do everything tactfully. A mouse bites so skilfully that you aren’t even aware of it. You children have to be very tactful. The Father explains to you very clearly; some of you at least should imbibe it! There is only one main thing. The Father says: Constantly remember Me alone and the burden of your sins will be absolved. The alloy cannot be removed except with the fire of yoga. Otherwise there will have to be very severe punishment. You have to pass with honours. Many subjects are created, numberwise. Effort is needed in order to receive a kingdom. You have to follow shrimat. Many stop studying while moving along. Oho! God, the Father, is sitting here. For as long as you live, you have to continue to drink the nectar of knowledge. This is a study. By studying, you will be transferred to the new world. A class is transferred , numberwise. Here, too, everything depends on your efforts. It is said: O Purifier, come! So, He would definitely come when it is the end of the iron-aged impure world. The Father explains to you so clearly. Because of there being blind faith in the world, people continue to say “It’s true, it’s true” to whatever they hear. They don’t understand anything at all.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Do not disobey the Father’s orders. Protect yourself from bad company. Definitely listen to or read the murli every day.
  2. In order to end the burden of sin, stay in remembrance. For as long as you live, continue to drink the nectar of knowledge.
Blessing: May you be threaded in the rosary of victory and be loved by all through your good wishes and elevated intentions.
No matter with what intentions someone speaks or moves along, you must always have good wishes and elevated intentions toward everyone. Be victorious in this and you will claim a right to be threaded in the rosary because the means to be loved by all is to have elevated intentions toward everyone in your relationships and connections. Those who have such elevated intentions will constantly give happiness to all and receive happiness. This too is service for good wishes are the elevated means for serving through the mind. Those who do such service become beads of the rosary of victory.
Slogan: To experience yoga in karma is to be a karma yogi.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_5]

 

Read Bk Murli 17 September 2017 :- Click Here

BRAHMA KUMARIS MURLI 19 SEPTEMBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 19 September 2017

September 2017 Bk Murli :- Click Here
To Read Murli 18 September 2017 :- Click Here
19/09/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – तुम गॉडली स्टूडेन्ट हो, तुम्हें किसी भी हालत में एक दिन भी पढ़ाई मिस नहीं करनी है, पढ़ेंगे लिखेंगे तो बनेंगे नवाब”
प्रश्नः- जिन बच्चों का मुरली पर पूरा अटेन्शन है उनकी निशानी क्या होगी?
उत्तर:- जो अटेन्शन देकर रोज़ मुरली सुनते हैं वही अच्छी तरह से जानते हैं – बाप कौन है और क्या है क्योंकि बाप के महावाक्य हैं कि मैं जो हूँ, जैसा हूँ, मुझे कोटो में कोई ही पहचानते। अगर पढ़ाई में अटेन्शन नहीं तो बुद्धि में बैठ नहीं सकता कि यह श्रीमत हमें भगवान दे रहा है। वह सुना अनसुना कर देंगे। उनकी बुद्धि का ताला बन्द हो जाता है। वह बाप के फरमान पर नहीं चल सकते हैं।
गीत:- छोड़ भी दे आकाश सिंहासन…..

ओम् शान्ति। बच्चे अभी समझते हैं कि हम ज्ञान सागर के बच्चे, ज्ञान सागर द्वारा अभी इस सारी सृष्टि चक्र वा ड्रामा के आदि-मध्य-अन्त को जान गये हैं। दुनिया में तो और मनुष्य है नहीं जिसकी बुद्धि में यह ड्रामा हो। तुम्हारे में भी सब एक जैसा नहीं जानते हैं। तुम बच्चे जानते हो यह भारत अविनाशी खण्ड है। यह भारत ही सचखण्ड और झूठखण्ड बनता है। सचखण्ड को स्वर्ग, झूठखण्ड को नर्क कहा जाता है। यहाँ कई बच्चे समझते हैं, यह ज्ञान तो हम रोज़ सुनते हैं। कोई नई बात थोड़ेही है। नॉलेज को पूरा धारण नहीं करते हैं। तुम गॉडली स्टूडेन्ट हो। पढ़ाई एक दिन भी मिस नहीं करना है। यही पढ़ाई वैल्युबुल है। भल कोई बीमार भी हो, वह यहाँ आकर बैठें तो महावाक्य तो सुनेंगे ना! सुनते-सुनते प्राण शरीर से निकलें तो कितनी न शफा मिल जाए। यह है बड़ी हॉस्पिटल। रात-दिन पढ़ाई का बहुत शौक होना चाहिए। मात-पिता को भी रात-दिन शौक है ना। भगवान तुम्हें पढ़ाते हैं। भगवानुवाच – हे बच्चे तुम अच्छी रीति समझते हो ना – तुम तो कहेंगे यह लड़ाई 5 हजार वर्ष पहले भी लगी थी। आगे तुम नहीं जानते थे, अभी जब बाप ने समझाया है तब समझते हो। तो स्टूडेन्ट का काम है जो नॉलेज मिलती है, उनको धारण करना। यहाँ मुख्य बात है ही पवित्रता की। आत्मा जो आइरन एज में आकर काली बन गई है – खाद पड़ गई है, उसको निकालना है। तुम आत्माओं को अन्दर में ख्याल आना चाहिए। शिवबाबा हमारे साथ बात कर रहे हैं। तो आत्म-अभिमानी बनना पड़े। आत्म-अभिमानी यहाँ परमपिता परमात्मा ही बनाते हैं और कोई की ऐसी ताकत नहीं जो ऐसे आत्म-अभिमानी बन बैठकर समझाये। भल कहते हैं हम ईश्वर हैं, फलाना हैं। परन्तु जानते कुछ भी नहीं। तुम्हारी बुद्धि में है हम सारे सृष्टि चक्र के आदि-मध्य-अन्त को जानते हैं। धारणा करने वालों में भी नम्बरवार तो हैं ना। न सिर्फ यहाँ लेकिन जो भी सेन्टर हैं, वहाँ भी नम्बरवार हैं। स्टूडेन्ट कभी एक समान नहीं होते। कोई मास में 20 दिन आते, कोई एक्यूरेट आते होंगे। भल कोई कहाँ भी जाते हैं परन्तु वहाँ भी रेग्युलर पढ़ना है। अगर मुरली नहीं पढ़ते हैं तो अबसेन्ट डाली जाती है। अगर मुरली जाती है, पढ़ते हैं तो अबसेन्ट नहीं कहेंगे। और कोई स्कूलों में ऐसे नहीं होता है। यहाँ बाहर जाने से उनको कुछ न कुछ पढ़ने के लिए देंगे। अगर कोई हॉस्पिटल में है – वहाँ भी जाए तुम उनको मुरली सुना सकते हो। यह मोस्ट वैल्युबुल नॉलेज है। यह तो जानते हैं – जितने अभी पास होंगे, उतने कल्प-कल्पान्तर पास होंगे। यह बड़ी भारी पढ़ाई है, इसमें बड़ा अटेन्शन चाहिए। ऐसे बहुत बच्चे हैं – जिनको माया एकदम नाक से पकड़ लेती है। फिर भी याद नहीं रहता कि मैं गॉड फादरली स्टूडेन्ट हूँ। गाया भी जाता है – गज को ग्राह ने खाया। यहाँ की बात है। कुसंग मिलने से खाना आबाद होने के बदले बरबाद हो जाता है। बहुत थोड़े हैं जो अटेन्शन से पढ़ते हैं। बाप कहते हैं मैं जो हूँ, जैसा हूँ, विरला कोई मुझे समझ सकते हैं। अनपढ़ बच्चों को कोई बात कहो तो एक कान से सुन दूसरे से निकाल देते हैं। भगवान के हमको डायरेक्शन मिलते हैं वह बुद्धि में नहीं रहता है। पूरा योग न होने कारण माया बुद्धि को ताला लगा देती है। यह दण्ड पड़ जाता है क्योंकि फरमान पर नहीं चलते हैं। बाबा कहते हैं मैं इतनी दूर से आया हूँ तुमको पढ़ाने। तुम श्रीमत को मानते नहीं हो फिर तुम्हारी क्या गति होगी। भगवान खुद बैठ पढ़ाते हैं। आज्ञा करते हैं। ऐसे नहीं कि प्रेरणा करते हैं, इसमें प्रेरणा की बात नहीं। यह तो ड्रामा बना बनाया है। अनादि है। यह तो पतित मनुष्य भी कह देते हैं कि परमात्मा की प्रेरणा से यह काम होता है। परन्तु ऐसे तो है नहीं। ड्रामा का राज़ कोई भी साधू सन्त नहीं जानते हैं। बाबा ने आगे भी कहा था – एक विराट रूप का बड़ा चित्र बनाओ, विष्णु का। वो लोग तो रांग बना देते हैं। देवता, क्षत्रिय, वैश्य, शूद्र भी दिखाते हैं। डिटेल में नॉलेज कुछ भी नहीं जानते। सिर्फ ऐसे ही कह देते हैं – अर्थ कुछ भी नहीं समझते। विराट रूप नामीग्रामी है। वह भी बड़ा बनाना चाहिए। भल हमारे इस चित्र में भी है – ब्राह्मण, देवता, क्षत्रिय, वैश्य, शूद्र। परन्तु बाप कहते हैं कि विष्णु का चित्र बनाना चाहिए। ऊपर में चोटी भी देनी चाहिए। शिवबाबा भी ऊपर में देना चाहिए। स्टॉर मुआफिक है। फिर ब्राह्मणों की चोटी। अंग्रेजी में भी लिखो – यह बी.के. ब्राह्मण वर्ण है एक जन्म। यह है मोस्ट वैल्युबुल जन्म। लीप जन्म, लीप युग है। यह है ऊंच ते ऊंच युग, इसको कोई जानते नहीं हैं। कोई भी शास्त्रों में यह नहीं है। पतित-पावन बाप को बुलाते हैं तो इसका मतलब कलियुग का अन्त है ना। संगमयुग का तो किसको पता नहीं है। बाप कहते हैं – यह भी समझाओ। ब्राह्मण जन्म एक जन्म फिर देवता इतने जन्म और इतना समय। तुम किश्चियन का भी दिखाते हो, दो हजार वर्ष होंगे। फिर सबका पार्ट पूरा होता है तो यह क्लीयर लिखना चाहिए। ब्राह्मण वर्ण, देवता वर्ण, फिर क्षत्रिय वर्ण रामराज्य। अभी तो हैं सब शूद्र वर्ण। विराट रूप दिखाना है। सारा खेल भी भारत पर बना हुआ है। भारत पावन, भारत पतित। बाकी सब बाईप्लाट हैं, उनका वर्णों के साथ कोई कनेक्शन है नहीं। भारत की महिमा बाप ने समझाई है। यह है अविनाशी खण्ड, यह विनाश नहीं होता। यह भी तुम जानते हो बरोबर सतयुग में और कोई खण्ड नहीं होता। यह सब बाद में आये हैं। फिर सब खलास हो जायेंगे। अविनाशी खण्ड भारत ही रहेगा और सब खत्म हो जायेंगे। नाम-निशान ही गुम हो जाता है। यह नॉलेज अभी ही तुम बच्चों की बुद्धि में है और कोई भी नहीं जानते हैं। भारत पवित्र से पवित्र खण्ड था। भारत को कहा जाता है – धर्म क्षेत्र। दान-पुण्य जितना यहाँ होता है और कहीं नहीं होता। यहाँ फिर से तुमको सारे विश्व के मालिकपने का वर्सा देते हैं। तुम इतना ऊंच वर्सा लेते हो। तुमको यह वर्सा था फिर गँवाया है। हार जीत होती है ना। अभी तुम जानते हो हम जीत पा रहे हैं, फिर हार खायेंगे। यह हार और जीत का राज़ बुद्धि में फिरता रहेगा। जीत कैसे पाते हैं और फिर हार कैसे खाते हैं। सतयुग में यह नॉलेज थोड़ेही होती है। वहाँ तो है प्रालब्ध। यह राज्य हमने कहाँ से लिया है – वह भी वहाँ पता नहीं रहता। अभी ही बाप द्वारा तुम नॉलेजफुल बनते हो। इस नॉलेज के आधार से तुम जाकर प्रालब्ध पाते हो। ड्रामा की रील फिरती रहती है, जो इमर्ज होता है उसी अनुसार तुम्हारी एक्ट चलती रहती है। 84 जन्मों की एक्ट ड्रामा में नूँधी हुई है। आत्मा कितनी छोटी है – इसमें सारा पार्ट नूँधा हुआ है, जो रिपीट होता रहता है। इसको कुदरत कहा जाता है। इस कुदरत को कोई नहीं जानते। इतनी छोटी आत्मा में कितना पार्ट है जो कभी विनाश नहीं हो सकता। इन साइंस वालों की बुद्धि अपने विनाश का प्रबन्ध कर रही है। तुम आत्मा ऊंच पद पाने का पुरूषार्थ कर रही हो। वह समझते हैं – हम अभी स्टॉर मून के नजदीक आये हैं, प्लाट लेंगे। वह बड़ा महत्व देते हैं। हम तो कहते हैं कि यह तो सब अपनी मौत के लिए करते हैं।

तुम बच्चे जानते हो यह सब तैयारी हो रही हैं स्वर्ग के गेट खोलने के लिए। यह लड़ाई बिगर स्वर्ग के गेट कैसे खुलेंगे। पतित दुनिया का विनाश तो चाहिए ना। इन बातों को विद्वान, पण्डित आदि थोड़ेही जानते हैं। यह तुम जानते हो – ड्रामा अनुसार नूँध है। तो तुम बच्चों को यह पढ़ाई पढ़नी है। कोई तो सुनते-सुनते, पढ़ते-पढ़ते खत्म हो जाते हैं। कोई तो बैठे हुए भी जैसेकि सुनते नहीं। धारणा जब खुद में हो तब तो औरों को समझा सकें। धारणा ही नहीं – सर्विस ही नहीं करते तो पद क्या मिलेगा – हाँ, स्वर्ग में जायेंगे। राजाई में आयेंगे परन्तु सब तो राजा नहीं बनेंगे ना। पढ़ेंगे, लिखेंगे होंगे नवाब। जो नहीं पढ़ेंगे पढ़ायेंगे तो भरी ढोनी पड़ेगी। यह तो होना ही है। जाकर चाकरी करेंगे। राजाई में आयेंगे परन्तु चाकरी करेंगे ना। प्रजा तो ढेर बनती जाती है। लाखों की अन्दाज में बनती है, उनके भी तो नौकर चाकर होंगे ना। प्रदर्शनी में तो बहुत सुनेंगे, कुछ न कुछ बुद्धि में बैठेगा। आयेंगे भी वही जो स्वर्ग में रहने वाले होंगे। सन्यास धर्म वाले थोड़ेही आयेंगे। जो थोड़ा बहुत सुनेंगे वह तो प्रजा में आ ही जायेंगे। योग तो लगाते नहीं, विकर्म विनाश तो हो न सकें, तो पद कहां से मिलेगा। तो बच्चों को सारा राज़ समझाया जाता है। यह राजधानी स्थापन हो रही है। स्थापना जरूर संगम पर ही होगी ना। बाप कहते हैं मैं आता ही हूँ कल्प के संगमयुग पर। उन्होंने फिर युगे-युगे लिख दिया है। तो भी 4 युग अथवा 5 युग कहो फिर भी इतने अवतार क्यों दिखाये हैं। परशुराम अवतार, कच्छ-मच्छ अवतार, परशुराम अवतार के लिए फिर दिखाते हैं कि कुल्हाड़ी उठाए सब क्षत्रियों को मारा। बाप कहते हैं – यह कैसे हो सकता है। क्या भगवान ने इतनी हिंसा कुल्हाड़ी से किया? मनुष्य तो जो सुनते सब सत-सत करते रहते हैं। असत्य बात को भी सत्य मान लेते हैं। बाप कहते हैं कि यह सभी असत्य बातें हैं। सत्य कोई भी है नहीं। किसको कहो तो बिगड़ पड़ते हैं। बाप कहते हैं कि युक्ति से काम लो। चूहा ऐसी युक्ति से काटता है जो सारा मांस खा जाता है, मालूम ही नहीं पड़ता है। तुम बच्चों को बड़ी युक्ति से चलना चाहिए। बाप तो बहुत अच्छी रीति समझाते हैं परन्तु कोई धारणा भी तो करे। मुख्य बात है ही एक। बाप कहते हैं मामेकम् याद करो तो तुम्हारे विकर्मों का बोझा खत्म हो जाए। सिवाए योग अग्नि के खाद निकल न सके। नहीं तो कड़ी सजा खानी पड़ेगी। तुम्हें तो पास विद् ऑनर बनना है। प्रजा तो बहुत बनती है, नम्बरवार। बाकी राजाई के लिए मेहनत चाहिए। श्रीमत पर चलना चाहिए। बहुत चलते-चलते पढ़ाई छोड़ देते हैं। अरे गॉड फादर बैठा है, जहाँ जीना है ज्ञान अमृत पीते रहना है। यह पढ़ाई है। पढ़ते-पढ़ते फिर नई दुनिया में ट्रांसफर हो जायेंगे। क्लास नम्बरवार ट्रांसफर होता है ना। यहाँ भी सारा पुरूषार्थ पर मदार है। कहते हैं हे पतित-पावन आओ तो जरूर कलियुगी पतित दुनिया का अन्त हो तब तो आये। बाप कितना अच्छी रीति समझाते हैं। दुनिया में ब्लाइन्डफेथ होने कारण जिसने जो सुनाया सत-सत करते रहते हैं। समझते कुछ भी नहीं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बाप की आज्ञाओं का उल्लंघन नहीं करना है। कुसंग से बचना है। रोज़ मुरली जरूर पढ़नी वा सुननी है।

2) विकर्मों का बोझा समाप्त करने के लिए याद में रहना है। जब तक जीना है – ज्ञान अमृत पीते रहना है।

वरदान:- शुभ भावना और श्रेष्ठ भाव द्वारा सर्व के प्रिय बन विजय माला में पिरोने वाले विजयी भव 
कोई किसी भी भाव से बोले वा चले लेकिन आप सदा हर एक के प्रति शुभ भाव, श्रेष्ठ भाव धारण करो, इसमें विजयी बनो तो माला में पिरोने के अधिकारी बन जायेंगे, क्योंकि सर्व के प्रिय बनने का साधन ही है सम्बन्ध-सम्पर्क में हर एक के प्रति श्रेष्ठ भाव धारण करना। ऐसे श्रेष्ठ भाव वाला सदा सभी को सुख देगा, सुख लेगा। यह भी सेवा है तथा शुभ भावना मन्सा सेवा का श्रेष्ठ साधन है। तो ऐसी सेवा करने वाले विजयी माला के मणके बन जाते हैं।
स्लोगन:- कर्म में योग का अनुभव करना ही कर्मयोगी बनना है।

[wp_ad_camp_5]

 

To Read Murli 17 September 2017 :- Click Here

Font Resize