daily gyan murli 19 december 2017

TODAY MURLI 19 DECEMBER 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 19 DECEMBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 18 December 2017 :- Click Here

19/12/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, no matter how virtuous, sweet or wealthy someone is, you must not be attracted to anyone. You mustn’t remember any body.
Question: Which sweet words for the Father emerge through the lips of the children who have received knowledge?
Answer: Oho Baba! You have given us the donation of life. Sweet Baba, by giving us the knowledge of the beginning, the middle and the end of the world, You have liberated us from all sorrow. So, how much we should thank You?
Question: What should you do so that you are not pulled by anyone except the Father at the end?
Answer: Baba says: Children, don’t keep anything extra with yourself out of greed. If you keep anything extra, that will pull you and you will forget to have remembrance of the Father.
Song: Have patience o mind! Your days of happiness are about to come.

Om shanti. Who is giving patience to you children? The intellects of children quickly go to the unlimited Father. It is only at this time that the intellects of you children go to Him. In fact, many people’s intellects go to the unlimited Father but they don’t know that this is the confluence age. The Father has come, but not everyone would come to know of this at the same time. If children belong to the Father, they can know it. You children now know the Father. You know that Baba has come. He is giving you your unlimited inheritance which He gave you 5000 years ago. He comes just to give you children the inheritance of unlimited heaven. While being the unlimited Father, He also teaches you. God, that is, the Father, then speaks, that is, He teaches you. What does He teach you? You children understand that you are now sitting personally in front of the Father. Baba has not studied any scriptures etc. This Dada has studied them. He is called the Ocean of Knowledge, the Almighty Authority. He Himself says: I know the Vedas and the scriptures very well. All of that is the paraphernalia of the path of devotion. They are not created by Me. When you ask people since when they have been studying those scriptures etc., they say: It has continued since time immemorial. The Father says: Neither does someone teach Me nor do I have a father. Everyone else enters a womb and takes sustenance from their mother. I do not enter a womb that I would take sustenance from a mother. It is the souls of human beings that enter a womb. Even Lakshmi and Narayan of the golden age took birth through a womb. Therefore they, too, were human beings. I come and enter this body according to the drama plan, exactly as I did in the previous cycle. No one else knows these things. No one even knows the duration of the cycle. The Father sits here and explains: I am your Father, Teacher and Satguru. You know that that Baba is the One who gives you His property. Baba has come to give you the sovereignty of heaven. He would not give you the sovereignty of hell. It should remain in your intellects that the unlimited Father is teaching you Raja Yoga. The Father is the One who establishes heaven. He says: Follow My directions. I make you into the masters of heaven. Then, from the copper age onwards, you follow the dictates of Ravan. In the golden age you don’t receive directions from human beings for liberation or salvation, nor is there any need for them. It is in the iron age that people ask for directions for liberation and salvation. People know that they were in heaven at some time and that they were pure, for this is why they call out: O Purifier! O Bestower of Salvation! Give us salvation! People do not cry out for this in the golden age. You know that Baba has now come. He is giving you directions in a very simple way for Raja Yoga and easy knowledge. The directions from Him are shrimat. God is the Highest on High. There is no one higher than He is. He is our spiritual Father. Because He is our spiritual Father , He gives knowledge to only spirits. Physical children are given knowledge of physical things by their physical father. Therefore, the Father says: Become soul conscious and remember the Father. You mustn’t remember anything physical. You are souls. No matter how good human beings are, whether they are wealthy or sweet, you mustn’t remember bodily beings. You simply have to remember the one Supreme Father, the Supreme Soul. The child of a wealthy person would only remember his father. He would not remember Gandhiji or Shastriji. People remember the Supreme Father, the Supreme Soul, the most. Then, some remember Lakshmi and Narayan and others remember Radhe and Krishna. They understand that they existed in the past and that there is also their history and geography. The Highest on High is the Father. He will definitely come again. The history and geography of the world will repeat. The golden age will come after the iron age, but no one, apart from you children, knows about this. People simply say for the sake of saying it that history and geography will repeat, but they don’t understand anything. Previously, you too were like that. You used to understand that there truly was the kingdom of Lakshmi and Narayan, but you didn’t know how long it lasted for, what happened to it or where they went. Now, you imbibe everything very well, numberwise, and follow shrimat. That too is fine. You help through your thoughts, words and deeds. You will benefit many by helping with knowledge and yoga. You, the Shakti Army, are doubly non-violent. You don’t have any violence in you; you don’t cause anyone sorrow. Violence means to cause sorrow. To push someone, to use a sword or to use the sword of lust are all causing sorrow. You don’t cause any type of sorrow and this is why it is said that non-violence is the supreme religion. All human beings commit violence. This is the kingdom of Ravan. They have even portrayed violence in the activities of Shri Krishna. You children know that Shri Krishna was a prince. There is no question of Shri Krishna having such behaviour or of having such a life story. The divine activities are those of God. He is the Jewel Merchant, the Business man, the Ocean of Knowledge and the Magician. Ah, but how would the incorporeal Supreme Soul make a bargain? It is human beings who would be businessmen. You know all the things of how He is the Businessman and the Jewel Merchant. Why does everyone remember Him? O Purifier! Bestower of Salvation for All, Remover of Sorrow and Bestower of Happiness. The praise is of the One. This praise cannot belong to anyone of the subtle region or of the corporeal world. This praise belongs to the Resident of the incorporeal world. The Father is the Highest on High and we souls are His children. We all come here, numberwise, to play our parts. The Father says: This knowledge that I give you then disappears. There are many of those Gitas. Nevertheless, the old Gita will emerge again. The paper that you use will not emerge again. The Gita is in many languages. The highest of all is the Gita, but they have all been created by human beings. They are not accurate which is why they are all in darkness. This is why it is sung that when the Sun of Knowledge rises, the darkness is dispelled. This isn’t praise of the physical sun; it is praise of the Sun of Knowledge. This sun gives sunshine and the ocean gives water. They have mixed up the names. The Ocean of Knowledge is also called the Sun of Knowledge. You know how your darkness is now being dispelled. Only you know the beginning, the middle and the end of the world. Since you know the partof the Creator, you must also know the part s of others. You are now receiving knowledge. You know that Baba is very lovely. He gives us the donation of life and liberates us from sorrow. He liberates us from the claws of death. When a person is saved from dying, they say that the doctor gave him the donation of life. You receive the donation of life only once. You will never fall ill that you would have to say that so-and-so gave you the donation of life. This is something completely new. You now belong to the Father while alive. Maya, Ravan, pulls some. It is said of them that death in the form of Ravan ate them. They come into God’s lap and then change and go into the devil’s lap. Death didn’t eat them; they belonged to God while alive and then belonged to Ravan while alive. They become righteous souls here and then go there and become unrighteous. Here, at the confluence age, it is the kingdom of righteousness whereas there, it is the kingdom of unrighteousness. In the golden age there is just the one religion. In the iron age it is the kingdom of irreligion, the Kaurava kingdom. It is said that the Pandavas had Krishna with them. You have Shiv Baba with you. There is no question of gambling. The kingdom was neither that of the Kauravas nor that of the Pandavas. The Father comes and establishes the kingdom of righteousness. People want the kingdom of Rama. “We want to become residents of heaven”, which means that this is hell. However, if you tell people directly that they are residents of hell, they would become upset. The Father sits here and explains to you children. The unlimited Father is incorporeal. Only the unlimited Father is called God. Limited fathers cannot be called God. Krishna cannot be called the Ocean of Knowledge, the Purifier. Only you Brahmins know his praise. The Father comes and makes you equal to Himself. The Father knows; you children also know. You are receiving your inheritance, just as worldly children receive their inheritance from their physical father. That is all different. Here, you understand that you are receiving your inheritance from the unlimited Father. There is no school or spiritual gathering where they would all say that they have come to claim their inheritance from the unlimited Father. The Father teaches you Raja Yoga here. He says: You will change from an ordinary man into Narayan. That would definitely be at the confluence age, that is, when it is the confluence of the end of the iron age and the beginning of the golden age. Then, you will make effort and change from an ordinary man into Narayan. We are studying this Raja Yoga with Baba in order to change from an ordinary man into Narayan and an ordinary woman into Lakshmi. They also build a temple to Nar (ordinary man) and Narayan. They have given him four arms because they (Lakshmi and Narayan) are together. There isn’t a temple for Lakshmi, the woman. They invoke Lakshmi, the woman, at Deepmala. They call her Mahalakshmi. You would never see an idol of Lakshmi without four arms. The one they worship is the dual form of Vishnu. This is why they have given it four arms. Only the Father explains all of these things. People don’t know anything at all. They continue to stumble around searching for God. God is up above, so what is the need to search for Him here? Why do they not place a picture of the Krishna in the temple in their homes and worship that? Why do they especially go to the temples? They go to temples, place money there and make donations. To whom would they donate in their own home? All of those systems are of the path of devotion. The Father says: There is no need for you to keep any pictures. Do you not know Shiv Baba that you keep a picture of Him? Is it that you can only remember Him by keeping His picture? If the children’s father is still alive, why would they keep a picture of Him? The Father is giving you knowledge, so what would you do with a picture? A picture is given because some are old and they forget to remember Baba. However, if you continue to remember bodily beings you would then remember them at the end. If there is a pull, they will chase after you. Then, no matter how many pictures of Shiv Baba you keep, if you are pulled by something else, you would definitely remember that. This is why the Father says: Children, become complete destroyers of attachment. If you have attachment to anything, if you have two to four pairs of shoes, you will remember them. This is why you are told not to accumulate too many things. Otherwise, your intellects will be pulled by those things. Don’t remember anyone except the one Father. Some have greed for good clothes, two to four pairs of shoes, a watch, some money etc. If you keep those things, you will remember them. Baba should know what you have with you. In fact, you mustn’t keep anything. Only keep that which you are given. You shouldn’t remember anything except one Father. You have to practi s e this much, for only then can you become the masters of the world. No one understands that Radhe and Krishna were the masters of the world. They simply say that they used to rule Bharat in the past, that there used to be their palaces on the banks of the River Jamuna. However, they were the masters of the whole world. This is only in your intellects. The unlimited Father has come to make you into unlimited masters. There is a lot of difference between subjects and kings. You have come here to become Narayan from an ordinary man and so you have to follow completely. You have to change from a beggar to a wealthy person. You should make that much effort. Study in happiness. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Help everyone with knowledge and yoga. Become doubly non-violent. Don’t cause anyone sorrow.
  2. Become a destroyer of attachment. Your intellect should not be pulled by anything. Practise having constant remembrance of the one Father.
Blessing: May you experience the trikaldarshi stage with your divine intellect and become an image of success.
The special gift for your Brahmin birth is a divine intellect. With this divine intellect, you can clearly know the Father, yourself and the three aspects of time. It is only with the divine intellect that you can imbibe all powers by having remembrance. With the divine intellects you will experience the stage of being trikaldarshi. The three aspects of time is clear in front of them. It is also said: Whatever you think, whatever you say, consider the before and after effects of it. By performing actions knowing the consequences of them, you will definitely have success.
Slogan: In order to make an accurate decision, remain stable in a carefree stage through spiritual intoxication.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

BRAHMA KUMARIS MURLI 19 DECEMBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 19 December 2017

To Read Murli 18 December 2017 :- Click Here
19/12/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – कोई कितना भी गुणवान हो, मीठा हो, धनवान हो तुम्हें उसकी तरफ आकर्षित नहीं होना है, जिस्म को याद नहीं करना है”
प्रश्नः- जिन बच्चों को नॉलेज मिली है उनके मुख से बाप के प्रति कौन से मीठे बोल निकलते हैं?
उत्तर:- ओहो! बाबा आपने तो हमें जीयदान दे दिया। मीठे बाबा आपने हमें सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त की नॉलेज देकर, सर्व दु:खों से छुड़ा दिया तो कितनी शुक्रिया निकलनी चाहिए।
प्रश्नः- अन्त के समय बाप के सिवाए किसी में भी रग न जाए उसके लिए क्या करना है?
उत्तर:- बाबा कहे बच्चे – कोई भी चीज़ लोभ के वश अपने पास एक्स्ट्रा नहीं रखनी है। एक्स्ट्रा रखेंगे तो उसमें रग जायेगी। बाप की याद भूल जायेगी।
गीत:- धीरज धर मनुवा…..

ओम् शान्ति। बच्चों को धीरज कौन दे रहा है? बच्चों की बुद्धि झट बेहद के बाप तरफ चली जाती है। सो भी सिर्फ इस समय ही तुम बच्चों की बुद्धि जाती है। यूँ तो बेहद बाप की तरफ बहुतों की बुद्धि जाती है। परन्तु उन्हों को ये मालूम ही नहीं है कि यह संगमयुग है। बाप आया हुआ है, सबको एक ही बार पता तो नहीं पड़ सकता। बच्चे बाप का बनें तो मालूम पड़े। अब तुम बच्चों ने बाप को जाना है। जानते हो बाबा आया हुआ है। बेहद का वर्सा दे रहे हैं, जो 5 हजार वर्ष पहले तुमको दिया था। वह आते ही हैं बच्चों को बेहद स्वर्ग का वर्सा देने। वह बेहद का बाप होते हुए फिर पढ़ाते भी हैं। भगवान यानि बाप फिर भगवानुवाच अर्थात् पढ़ाते हैं। पढ़ाते क्या हैं? वह भी तुम बच्चे समझते हो। हम बाप के सम्मुख बैठे हैं। बाबा कोई शास्त्र तो पढ़ा हुआ नहीं है। यह दादा पढ़ा हुआ है। उनको कहा ही जाता है ज्ञान का सागर, आलमाइटी अथॉरिटी। खुद भी कहते हैं मैं सभी वेदों, शास्त्रों आदि को अच्छी रीति जानता हूँ – यह सब भक्ति मार्ग की सामग्री हैं। यह मेरे रचे हुए नहीं हैं। पूछा जाता है यह शास्त्र कब से पढ़ते आये हो? तो कहते हैं यह परम्परा से चला आया है। बाप कहते हैं मेरे को तो कोई पढ़ाने वाला नहीं है। न मेरा कोई बाप है और सब गर्भ में प्रवेश करते हैं, माता की परवरिश लेते हैं। मैं तो गर्भ में आता ही नहीं हूँ, जो माता की परवरिश लूँ। मनुष्य की आत्मा गर्भ में जाती है। सतयुग के लक्ष्मी-नारायण ने भी तो गर्भ से जन्म लिया। तो वह भी मनुष्य ठहरे। मैं तो इस शरीर में आकर प्रवेश करता हूँ, ड्रामा प्लैन अनुसार कल्प पहले मुआफिक। यह अक्षर और कोई जानते नहीं। कल्प की आयु का ही किसको पता नहीं है। बाप ही बैठ समझाते हैं मैं तुम्हारा बाप भी हूँ, शिक्षक भी हूँ, सतगुरू भी हूँ। तुम जानते हो यह बाबा मिलकियत देने वाला है। बाबा स्वर्ग की बादशाही देने आया है। नर्क की राजाई थोड़ेही देंगे! यह बुद्धि में रहना चाहिए कि बेहद का बाप हमको राजयोग सिखला रहे हैं। बाप स्वर्ग की स्थापना करने वाला है। कहते हैं मेरी मत पर चलो, मैं तुमको स्वर्ग का मालिक बनाता हूँ। फिर द्वापर से तुम रावण की मत पर चलते हो। सतयुग में तो कोई मनुष्य की मत गति सद्गति के लिए मिलती नहीं। न दरकार है। कलियुग में सब गति सद्गति के लिए मत मांगते हैं। जानते हैं हम कोई समय स्वर्ग में थे, पावन थे, तब तो पुकारते हैं – हे पतित-पावन, हे सद्गति दाता हमको सद्गति दो। सतयुग में यह रड़ी नहीं मारी जाती। अब तुम जानते हो बाबा आया हुआ है। बहुत सरलता से राजयोग और सहज ज्ञान की मत देते हैं। उनकी श्रीमत है। ऊंचे ते ऊंचा है भगवान। उनसे ऊंचा कोई है नहीं, और वह हमारा रूहानी बाप है। रूहानी फादर होने के कारण वह रूहों को ही ज्ञान देते हैं, जिस्मानी फादर होने से बच्चे जिस्मानी नॉलेज उठाते हैं इसलिए बाप कहते हैं – आत्म-अभिमानी बनो और बाप को याद करो। कोई भी जिस्मानी याद नहीं रहनी चाहिए। तुम आत्मा हो, मनुष्य भल कितना भी अच्छा हो, धनवान हो, मीठा हो तो भी देहधारी को याद नहीं करना। एक परमपिता परमात्मा को ही याद करना। कोई साहूकार का बच्चा होगा तो बाप को ही याद करेगा। गाँधी को वा शास्त्री आदि को थोड़ेही याद करेगा। सबसे जास्ती याद परमपिता परमात्मा को करते हैं फिर कोई लक्ष्मी-नारायण को, कोई राधे-कृष्ण को भी करते हैं। समझते हैं यह होकर गये हैं। उन्हों की हिस्ट्री-जॉग्राफी भी है। ऊंचे ते ऊंचा है बाप, वह फिर आयेगा, जरूर वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी रिपीट होगी। कलियुग के बाद फिर सतयुग आयेगा। परन्तु यह सिवाए तुम बच्चों के और किसको भी मालूम नहीं। सिर्फ कहने मात्र कहते हैं – हिस्ट्री-जॉग्राफी रिपीट। समझते कुछ भी नहीं। पहले तुम भी ऐसे थे। समझते थे बरोबर लक्ष्मी-नारायण का राज्य था, परन्तु कितना समय चला, क्या हुआ फिर वह कहाँ चले गये, कुछ भी पता नहीं था। अभी भी नम्बरवार अच्छी रीति धारण कर श्रीमत पर चलते हो – यह भी ठीक है। मन्सा-वाचा-कर्मणा मदद देते हैं। ज्ञान और योग की मदद से बहुतों का कल्याण करेंगे।

तुम शक्ति सेना डबल अहिंसक हो। तुम्हारे में कोई भी हिंसा नहीं है। तुम किसको भी दु:ख नहीं देते हो। हिंसा अर्थात् दु:ख देना। घूंसा मारना, तलवार चलाना वा काम कटारी चलाना – यह सब दु:ख देना है। तुम कोई भी प्रकार का दु:ख नहीं देते हो इसलिए अहिंसा परमोधर्म कहा जाता है। मनुष्य तो सब हिंसा करते हैं। है ही रावण राज्य। मनुष्यों ने तो श्रीकृष्ण के चरित्रों में भी हिंसा दिखा दी है। तुम बच्चे जानते हो श्रीकृष्ण तो राजकुमार था, उनके ऐसे चरित्र वा जीवन कहानी की बात नहीं। चरित्र हैं ही ईश्वर के। वही रत्नागर, सौदागर, ज्ञान का सागर, जादूगर है। अरे, निराकार परमात्मा फिर सौदा कैसे करेगा? सौदागर तो मनुष्य होगा ना। इन सब बातों को तुम जानते हो तो कैसे सौदागर और रत्नागर है। उनको सब क्यों याद करते हैं? हे पतित-पावन, सर्व के सद्गति दाता, दु:ख हर्ता सुखकर्ता। महिमा भी एक की है। यह महिमा न तो सूक्ष्मवतन वासी, न स्थूलवतन वासी की हो सकती है। यह महिमा है मूलवतनवासी की। ऊंचे ते ऊंच है बाप, हम आत्मायें उनके बच्चे हैं। हम सब नम्बरवार पार्ट बजाने आते हैं। बाप कहते हैं – यह जो नॉलेज तुमको सुनाता हूँ – वह प्राय:लोप हो जाती है। वह गीतायें तो ढेर हैं। फिर भी पुरानी गीतायें निकलेंगी। तुम्हारे कागज थोड़ेही निकलेंगे। गीता बहुत भाषाओं में हैं। ऊंचे ते ऊंची गीता है परन्तु सब बनाई है मनुष्यों ने, यथार्थ तो है नहीं इसलिए सब अन्धेरे में हैं, तब गाया जाता है ज्ञान सूर्य प्रगटा… इस सूर्य की महिमा नहीं। ज्ञान सूर्य की महिमा है। यह सूर्य धूप देता, सागर पानी देता, उनके नाम इन पर, इनके नाम उन पर लगा दिये हैं। ज्ञान सागर को ही ज्ञान सूर्य कहते हैं। तुम जानते हो हमारा अन्धियारा अब दूर हो गया है। सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त को तुम ही जानते हो। जब रचयिता के पार्ट को जानते हो तो औरों के पार्ट को भी जरूर जानते होंगे। तुमको नॉलेज मिल रही है। तुम जानते हो यह बाबा बहुत प्यारा है। हमको जीयदान देते हैं। दु:ख से छुड़ाते हैं। काल के चम्बे से छुड़ाते हैं। कोई मरने से बच जाते हैं – कहते हैं डाक्टर ने जीयदान दिया। तुमको तो एक ही बार ऐसा जीयदान मिलता है – जो तुम कभी बीमार नहीं होंगे, फिर यह नहीं कहना पड़ेगा कि फलाने ने जीयदान दिया। यह है बिल्कुल नई बात।

अभी तुम जीते जी बाप के बने हो। कोई-कोई को फिर माया रावण अपनी तरफ खींच लेती है। उसे कहेंगे रावण रूपी काल खा गया। ईश्वरीय गोद में आकर फिर बदलकर आसुरी गोद में चले जाते हैं। काल ने नहीं खाया परन्तु जीते जी ईश्वर के बने, फिर जीते जी रावण के बन पड़ते हैं। यहाँ धर्मात्मा बने फिर वहाँ जाकर अधर्मी बन जाते हैं। यहाँ संगम पर धर्म का राज्य है, वहाँ अधर्म का राज्य है। सतयुग में है ही एक धर्म। कलियुग में है अधर्म का राज्य, कौरव राज्य। पाण्डवों के साथ कहते हैं कृष्ण था। तुम्हारे साथ तो शिवबाबा है। जुआ की बात नहीं। राजाई न कौरवों की है, ना पाण्डवों की है। बाप आकर धर्म का राज्य स्थापन करते हैं। चाहते भी हैं रामराज्य हो। हम स्वर्गवासी बने अर्थात् यह नर्क है। परन्तु किसको सीधा नर्कवासी कहें तो बिगड़ पड़ते हैं। बाप बैठ बच्चों को समझाते हैं। बेहद का बाप निराकार है। बेहद के बाप को ही भगवान कहा जाता है। हद के बाप को भगवान थोड़ेही कहेंगे। कृष्ण को थोड़ेही ज्ञान सागर, पतित-पावन कहेंगे। उनकी महिमा सिर्फ तुम ब्राह्मण जानते हो। तुमको बाप आकर आप समान बनाते हैं। बाप भी जानते हैं, तुम बच्चे भी जान जाते हो, वर्सा मिल जाता है। जैसेकि लौकिक बाप से बच्चों को वर्सा मिलता है। वह तो अलग-अलग है। यहाँ तुम समझते हो हम बेहद के बाप से वर्सा पा रहे हैं। ऐसा कोई स्कूल वा सतसंग होगा नहीं, जहाँ सब कहें हम बेहद के बाप से वर्सा लेने आये हैं। यहाँ बाप राजयोग सिखलाते हैं। कहते हैं तुम नर से नारायण बनेंगे। सो जरूर संगमयुग अर्थात् कलियुग अन्त और सतयुग आदि का संगम होगा तब तो तुम पुरुषार्थ कर नर से नारायण बनेंगे। यह राजयोग हम बाबा से सीख रहे हैं – नर से नारायण, नारी से लक्ष्मी बनने के लिए। नर-नारायण का मन्दिर भी बनाते हैं। उनको 4 भुजायें देते हैं क्योंकि साथ में हैं। नारी लक्ष्मी का फिर मन्दिर नहीं है। नारी लक्ष्मी को दीपमाला पर बुलाते हैं। उनको महालक्ष्मी कहते हैं। तुम लक्ष्मी की मूर्ति 4 भुजाओं के सिवाए नहीं देखेंगे। जिसको पूजते हैं, यह युगल विष्णु का रूप है, इसलिए 4 भुजायें दी हैं। यह सब बातें बाप ही समझाते हैं। मनुष्य तो कुछ जानते नहीं। भगवान को ढूँढते रहते हैं। धक्का खाते रहते हैं। भगवान तो है ही ऊपर फिर ढूंढने की क्या दरकार है। मन्दिर में जो कृष्ण का चित्र है वह चित्र घर में रख क्यों नहीं पूजते? खास मन्दिर में ही क्यों जाते हैं? मन्दिर में जायेंगे, पैसे रखेंगे, दान करेंगे। घर में दान किसको करेंगे? तो यह सब भक्ति मार्ग की रस्में हैं। बाप कहते हैं तुमको कोई भी चित्र रखने की दरकार नहीं। क्या तुम शिवबाबा को नहीं जानते हो जो चित्र रखते हो? क्या चित्र रखने से याद कर सकते हो? बाबा जीता है फिर बच्चे चित्र क्यों रखेंगे? बाप तुमको ज्ञान दे रहा है फिर चित्र क्या करेंगे? बूढ़े हैं याद भूल जाती है इसलिए चित्र दिया जाता है। बाकी और कोई भी देहधारी को याद करते रहेंगे तो अन्त समय वही याद आयेगा। कुछ न कुछ रग है तो वह तुम्हारे पीछे पड़ेगा। फिर भल कितने भी शिवबाबा के चित्र रखो। अगर रग और तरफ होगी तो वह याद जरूर आयेगा इसलिए बाप कहते हैं बच्चे पूरा नष्टोमोहा हो जाओ। किसी भी चीज़ में मोह होगा, 2-4 जोड़ी जूते होंगे तो वह याद आयेंगे इसलिए कहा जाता है ज्यादा कोई भी वस्तुएं नहीं रखो। नहीं तो बुद्धि उसमें जायेगी। सिवाए बाप के और कोई को याद न करो। लोभ होता है ना – हम अच्छे-अच्छे वस्त्र रखें, 2-4 जूते रखें, घड़ी रखें। थोड़े पैसे रखें। रखेंगे तो वह याद आयेगा। बाबा को मालूम होना चाहिए – तुम्हारे पास क्या रखा है। वास्तव में तुमको कुछ भी रखना नहीं है, जो मिलता है वही रखना है। एक बाप के सिवाए और कुछ भी याद न रहे। इतनी प्रैक्टिस करनी है – तब ही विश्व के मालिक बनेंगे। यह कोई नहीं समझते कि राधे-कृष्ण विश्व के मालिक थे, सिर्फ कहते हैं भारत में राज्य करके गये हैं। जमुना के कण्ठे पर इनके महल थे। परन्तु वह सारे विश्व के मालिक थे। यह सिर्फ तुम्हारी बुद्धि में है। बेहद का बाप बेहद का मालिक बनाने आया है। प्रजा और राजा में फ़र्क बहुत है। यहाँ तुम नर से नारायण बनने आये हो तो पूरा फालो करो। फकीर से अमीर बनना है। इतना पुरुषार्थ करना चाहिए। खुशी से पढ़ना चाहिए। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) ज्ञान-योग से सबको मदद करनी है। डबल अहिंसक बनना है। किसी को भी दु:ख नहीं देना है।

2) नष्टोमोहा बनना है। किसी भी चीज़ में बुद्धि की रग नहीं रखनी है। एक बाप की याद सदा रहे- इसकी प्रैक्टिस करनी है।

वरदान:- दिव्य बुद्धि द्वारा त्रिकालदर्शी स्थिति का अनुभव करने वाले सफलतामूर्त भव 
ब्राह्मण जन्म की विशेष सौगात दिव्य बुद्धि है। इस दिव्य बुद्धि द्वारा बाप को, अपने आपको और तीनों कालों को स्पष्ट जान सकते हो। दिव्य बुद्धि से ही याद द्वारा सर्व शक्तियों को धारण कर सकते हो। दिव्य बुद्धि त्रिकालदर्शी स्थिति का अनुभव कराती है, उनके सामने तीनों ही काल स्पष्ट होते हैं। कहा भी जाता है जो सोचो, जो बोलो, आगे पीछे का सोच समझकर करो। परिणाम को जानकर कर्म करने से सफलता अवश्य होती है।
स्लोगन:- यथार्थ निर्णय देना है तो रूहानी फखुर (नशे) द्वारा बेफिक्र स्थिति में स्थित रहो।

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

Font Resize