daily gyan murli 16 january 2019

TODAY MURLI 16 JANUARY 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 16 January 2020

16/01/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you have to have your sins absolved with the power of yoga. You have to become pure and make the world pure; this is your service.
Question: What speciality of the deity religion is praised?
Answer: The deity religion is one that gives a great deal of happiness. There is no name or trace of sorrow there. You children experience happiness for three quarters of the cycle. There would not be as much pleasure if it were half happiness and half sorrow.

Om shanti. God speaks: God has explained that no human being can be called God. Even deities cannot be called God. God is incorporeal. He neither has a corporeal form nor a subtle form. Even the residents of the subtle region have subtle forms. This is why that place is called the subtle region. Here, you have corporeal, human bodies; that is why this is called the corporeal world. This physical body made of the five elements does not exist in the subtle region. These human bodies are made up of the five elements; they are called puppets of clay. It cannot be said that the residents of the subtle region are puppets of clay. Those of the deity religion are also human beings, but they are human beings with divine qualities. They attained their divine qualities from Shiv Baba. There is a vast difference between human beings with divine qualities and those with devilish traits. It is human beings who become worthy of living in the Temple of Shiva and it also human beings who become worthy of living in the brothel. The golden age is called the Temple of Shiva. The golden age exists here. It does not exist in the incorporeal world or the subtle region. You children understand that the Temple of Shiva is established by Shiv Baba. When did He establish it? At the confluence age. This is the most auspicious confluence age. This world is now impure, tamopradhan. It cannot be called the new, satopradhan world. The new world is called satopradhan and when it becomes old, it is called tamopradhan. How does it become satopradhan again? Through you children with the power of yoga. It is with the power of yoga that all your sins are absolved and you become pure. A pure world is definitely needed for pure ones. The new world is called pure and the old world is called impure. The Father establishes the pure world whereas Ravan establishes the impure world. No human being knows these things. If these five vices didn’t exist, people would not become unhappy, nor would they remember the Father. The Father says: I am the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness. People make effigies of the five vices of Ravan with 10 heads. They consider Ravan to be their enemy and burn him. It is not that they start to burn an effigy at the beginning of the copper age; no. It is when they become tamopradhan that some come up with their new ideas. When someone causes a lot of sorrow, an effigy is made of him. Here, too, it is when people experience a great deal of sorrow that they make an effigy of Ravan and burn it. You children experience happiness for three quarters of the cycle. What pleasure would there be if it were half and half? The Father says: Your deity religion is one that gives you a great deal of happiness. The world drama is eternally predestined. No one can ask why the world was created or when it will end. This cycle continues to turn. It says in the scriptures that the duration of the cycle is hundreds of thousands of years. There must surely be the confluence age when the world has to be transformed. You now feel that no one else understands in this way. They don’t even understand that the names Radhe and Krishna are their childhood names and that they then marry. They each belong to a separate kingdom, then, when they marry, they become Lakshmi and Narayan. The Father explains all of these aspects. The Father is knowledge-full. It is not that He is the One who knows the secrets in everyone’s heart. You children understand that the Father comes now and gives knowledgeKnowledge is received in a pathshala (place of study). There must definitely be an aim an objective in a pathshala. You are now studying. You cannot rule in this dirty world. You will rule in a beautiful world. No one teaches Raj Yoga in the golden age. It is only at the confluence age that the Father teaches Raj Yoga. This is an unlimited aspect. No one knows when the Father comes. Everyone is in extreme darkness. People in Japan call themselves those of the sun dynasty. In fact, it is the deities who belong to the sun dynasty. The kingdom of the sun dynasty is in the golden age. It is said that when the Sun of Knowledge rises, the darkness of the path of devotion is dispelled. The new world becomes old and the old world becomes new. This world is a big unlimited home. It is a huge stage. The sun, moon and stars do so much work. A lot of work is carried out at night. There were some kings who slept during the day and held court at night. They would go out to buy things at night. Even now, this happens in some places. Mills etc. are also run during the night. These are limited days and nights whereas the other is a matter of the unlimited. These things are not in the intellect of anyone except you. They don’t even know Shiv Baba. The Father continues to explain every aspect. For Brahma, it is also explained that he is the Father of Humanity. When the Father comes to create the world, He definitely has to enter someone. Pure human beings exist in the golden age. In the iron age all are born through vice; that is why they are called impure. People ask you how the world can continue without vice, but you tell them that the deities are completely viceless. You build temples to them with such cleanliness and purity. No one, except those brahmins, is allowed in. In fact, no vicious ones are allowed to touch those deity idols. However, nowadays, anything can be done when you have money. When people have a temple in their home, they invite a brahmin priest to come. Now, even those brahmin priests are vicious; they are simply called brahmins. This world is vicious and so worshipping too is conducted by vicious ones. Where could viceless ones come from? Viceless ones only exist in the golden age. It is not that those who do not indulge in vice are called viceless; their bodies have been created through vice. The main aspect that the Father has explained is that this whole world is the kingdom of Ravan. Completely viceless ones exist in the kingdom of Rama whereas vicious ones exist in the kingdom of Ravan. There was purity in the golden age and there was also peace and prosperity. You can show how there used to be the kingdom of Lakshmi and Narayan in the golden age. The five vices do not exist there. That is the pure kingdom which God establishes. God cannot establish an impure kingdom. If people were impure in the golden age, they would call out to God. No one there calls out. No one in happiness remembers God. People sing praise of God and say that He is the Ocean of Happiness, the Ocean of Purity. They even say that there should be peace in the world, but how could human beings bring peace to the whole world now? The kingdom of peace only exists in heaven. When people fight one another, someone else has to make peace between them. There, there is only the one kingdom. The Father says: This old world is now to be destroyed. Everyone will be destroyed in this Great War (Mahabharat). The words, “Those whose intellects have no love for God at the time of destruction”, have been written. You are true Pandavas: you are spiritual guides: you show everyone the path to the land of liberation. That is the home of souls, the land of peace, whereas this is the land of sorrow. The Father says: Now, whilst seeing this land of sorrow, forget it. We now have to return to the land of peace. It is the soul that says this. It is the soul that realises this. The soul has the awareness, “I am a soul”. The Father says: No one else can understand Me as I am or the form that I have. I have explained to you that I am just a point. You should remember again and again how you have been around the cycle of 84 births. By doing this, you will remember the Father; you will remember the home as well as the cycle. Only you know the history and geography of this world. There are so many lands. There are so many wars etc. that have taken place. There is no question of wars etc. in the golden age. Just look at the difference between the kingdom of Rama and the kingdom of Ravan! The Father says: It is as though you are now in God’s kingdom because God has come here in order to establish a kingdom. God Himself does not rule that kingdom. He does not claim a kingdom Himself. He does altruistic service. God is the Highest on High, the Father of all souls. By saying “Baba”, your mercury of happiness should rise. The supersensuous joy of your final stage has been remembered. At the time when the days of your examination come close, you will have visions of everything. The supersensuous joy of you children is numberwise. Some stay in remembrance of the Father with a great deal of happiness. You children should have this feeling throughout the whole day: O Baba, You have transformed us so much! We receive so much happiness from You. Whilst remembering the Father, you have tears of love. It is a wonder how You come and liberate us from sorrow. You remove us from the ocean of poison and take us to the ocean of milk. You should have this feeling throughout the whole day. When the Father reminds you, you bubble with so much happiness. Shiv Baba is teaching us Raj Yoga. The festival of Shiv Ratri is celebrated, but people have put Shri Krishna’s name in the Gita instead of Shiv Baba’s. This mistake is the greatest one they have made. This is the number one mistake in the Gita. The drama has been created in this way. The Father comes and corrects this mistake and says that He, not Krishna, is the Purifier. I taught you Raj Yoga and changed you from ordinary humans into deities. There is praise of Me as the Immortal Image, the One who does not take rebirth. You cannot sing this praise of Krishna; he takes rebirth. It is numberwise amongst you children as to which ones retain all of these aspects in their intellects. Together with having knowledge, your behaviour also needs to be good. Maya is no less! Those who came first will definitely have that much strength. There are various types of actor. It is the people of Bharat who have been given the parts of heroes and heroines. You liberate everyone from the kingdom of Ravan. You receive so much power by following shrimat. Maya too is very powerful; whilst you are moving along, she deceives you. Baba is the Ocean of Love and so you children also have to become oceans of love like the Father. Never use bitter words. If you cause sorrow for anyone, you will die in sorrow. You should now finish all of those habits. The dirtiest habit is to choke in the ocean of poison. The Father also says: Lust is your greatest enemy. So many daughters are beaten. Some tell their daughters that they can remain pure. Ah! but they should at least first become pure themselves. By giving their daughter away, they are at least saved from the burden of all the expenditure, because they don’t know what is in the daughter’s fortune or whether or not she will find a happy home. Nowadays, there is a great deal of expenditure. The poor will surrender their daughters very quickly whereas some have a lot of attachment. Earlier, a native woman used to come here, but she was not allowed to come into knowledge because they were afraid of magic. God is called the Magician. God is also called the Merciful One. Krishna cannot be called that. The Merciful One is the One who liberates you from the merciless one. Ravan is merciless. First there is knowledge. There is knowledge, devotion and disinterest. It is not said: Devotion, knowledge and then disinterest. You cannot say “Disinterest in knowledge”. You have to have disinterest in devotion. This is why the expression “Knowledge, devotion and disinterest” is right. The Father enables you to have unlimited disinterest, that is, disinterest in the whole of the old world. Sannyasis only inspire you to have disinterest in your household. That too is predestined in the drama. This does not sit in the intellects of human beings. Bharat was 100% solvent, viceless and healthy; there was never untimely death here. Very few of you are able to imbibe these things. Those who do good service will become very wealthy. You children should remember “Baba, Baba” throughout the whole day. However, Maya does not allow you to do this. The Father says: If you want to become satopradhan, remember Me whilst you are walking, moving around and eating. I make you into the masters of the world. Will you not remember Me? Many of you have many storms of Maya. The Father explains: All of that will happen; it is fixed in the drama. Heaven will definitely be established. The world cannot remain new for ever. The cycle has to turn and so you will definitely come down again. Everything definitely has to become old from new. At this time, Maya has made an April Fool of everyone. The Father comes to make you beautiful. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Become oceans of love like the Father. Never cause sorrow for anyone. Don’t speak bitter words. Finish all your dirty habits.
  2. Whilst conversing sweetly with Baba, maintain this feeling: O Baba, You have transformed us so much! You have given us so much happiness! Baba, You take us to the ocean of milk. Have remembrance of Baba throughout the day.
Blessing: May you be a true server and indicate the Bestower with every act and speciality of yours.
True servers would never let a soul become trapped in them when giving them their co-operation. They would enable everyone to make a connection with the Father. Every word of theirs would remind everyone of the Father. The Father would be visible through every act of theirs. They would never even think that someone has become co-operative with them because of their speciality. If others see you and not the Father, that is not service, but it is making them forget the Father. True servers would enable everyone to be connected with the Truth, not with themselves.
Slogan: Instead of making any type of request, remain constantly happy.

*** Om Shanti ***

Special homework to experience the avyakt stage in this avyakt month.

Practise entering your physical body and enabling your physical organs to perform all tasks. Enter it when you want and become detached from it when you want. In one second, adopt the body and in one second, renounce the consciousness of the body and become bodiless: this practise is basis of your avyakt stage.

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 16 JANUARY 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 16 January 2020

16-01-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – तुम्हें अपने योगबल से ही विकर्म विनाश कर पावन बन पावन दुनिया बनानी है, यही तुम्हारी सेवा है”
प्रश्नः- देवी-देवता धर्म की कौन-सी विशेषता गाई हुई है?
उत्तर:- देवी-देवता धर्म ही बहुत सुख देने वाला है। वहाँ दु:ख का नाम-निशान नहीं। तुम बच्चे 3/4 सुख पाते हो। अगर आधा सुख, आधा दु:ख हो तो मज़ा ही न आये।

ओम् शान्ति। भगवानुवाच। भगवान ने ही समझाया है कि कोई मनुष्य को भगवान नहीं कहा जा सकता। देवताओं को भी भगवान नहीं कहा जाता। भगवान तो निराकार है, उनका कोई भी साकारी वा आकारी रूप नहीं है। सूक्ष्म-वतनवासियों का भी सूक्ष्म आकार है इसलिए उसको कहा जाता है सूक्ष्मवतन। यहाँ साकारी मनुष्य तन है इसलिए इसको स्थूल वतन कहा जाता है। सूक्ष्मवतन में यह स्थूल 5 तत्वों का शरीर होता नहीं। यह 5 तत्वों का मनुष्य शरीर बना हुआ है, इनको कहते हैं मिट्टी का पुतला। सूक्ष्मवतनवासियों को मिट्टी का पुतला नहीं कहेंगे। डीटी (देवता) धर्म वाले भी हैं मनुष्य, परन्तु उनको कहेंगे दैवीगुण वाले मनुष्य। यह दैवीगुण प्राप्त किये हैं शिवबाबा से। दैवीगुण वाले मनुष्य और आसुरी गुण वाले मनुष्यों में कितना फर्क है। मनुष्य ही शिवालय वा वेश्यालय में रहने लायक बनते हैं। सतयुग को कहा जाता है शिवालय। सतयुग यहाँ ही होता है। कोई मूलवतन वा सूक्ष्मवतन में नहीं होता है। तुम बच्चे जानते हो वह शिवबाबा का स्थापन किया हुआ शिवालय है। कब स्थापन किया? संगम पर। यह पुरूषोत्तम युग है। अभी यह दुनिया है पतित तमोप्रधान। इसको सतोप्रधान नई दुनिया नहीं कहेंगे। नई दुनिया को सतोप्रधान कहा जाता है। वही फिर जब पुरानी बनती है तो उसको तमोप्रधान कहा जाता है। फिर सतोप्रधान कैसे बनती है? तुम बच्चों के योगबल से। योगबल से ही तुम्हारे विकर्म विनाश होते हैं और तुम पवित्र बन जाते हो। पवित्र के लिए तो फिर जरूर पवित्र दुनिया चाहिए। नई दुनिया को पवित्र, पुरानी दुनिया को अपवित्र कहा जाता है। पवित्र दुनिया बाप स्थापन करते हैं, पतित दुनिया रावण स्थापन करते हैं। यह बातें कोई मनुष्य नहीं जानते। यह 5 विकार न हों तो मनुष्य दु:खी होकर बाप को याद क्यों करें! बाप कहते हैं मैं हूँ ही दु:ख हर्ता सुखकर्ता। रावण का 5 विकारों का पुतला बना दिया है – 10 शीश का। उस रावण को दुश्मन समझकर जलाते हैं। सो भी ऐसे नहीं कि द्वापर आदि से ही जलाना शुरू करते हैं। नहीं, जब तमोप्रधान बनते हैं तब कोई मत-मतान्तर वाले बैठ यह नई बातें निकालते हैं। जब कोई बहुत दु:ख देते हैं तब उनका एफीज़ी ( पुतला) बनाते हैं। तो यहाँ भी मनुष्यों को जब बहुत दु:ख मिलता है तब यह रावण का बुत बनाकर जलाते हैं। तुम बच्चों को 3/4 सुख रहता है। अगर आधा दु:ख हो तो वह मज़ा ही क्या रहा! बाप कहते हैं तुम्हारा यह देवी-देवता धर्म बहुत सुख देने वाला है। सृष्टि तो अनादि बनी हुई है। यह कोई पूछ नहीं सकता कि सृष्टि क्यों बनी, फिर कब पूरी होगी? यह चक्र फिरता ही रहता है। शास्त्रों में कल्प की आयु लाखों वर्ष लगा दी है। जरूर संगमयुग भी होगा, जबकि सृष्टि बदलेगी। अभी जैसे तुम फील करते हो, ऐसे और कोई समझते नहीं। इतना भी नहीं समझते-बचपन में राधे-कृष्ण नाम है फिर स्वयंवर होता है। दोनों अलग-अलग राजधानी के हैं फिर उनका स्वयंवर होता है तो लक्ष्मी-नारायण बनते हैं। यह सब बातें बाप समझाते हैं। बाप ही नॉलेजफुल है। ऐसे नहीं कि वह जानी-जाननहार है। अब तुम बच्चे समझते हो बाप तो आकर नॉलेज देते हैं। नॉलेज पाठशाला में मिलती है। पाठशाला में एम ऑब्जेक्ट तो जरूर होनी चाहिए। अभी तुम पढ़ रहे हो। छी-छी दुनिया में राज्य नहीं कर सकते। राज्य करेंगे गुल-गुल दुनिया में। राजयोग कोई सतयुग में थोड़ेही सिखायेंगे। संगमयुग पर ही बाप राजयोग सिखलाते हैं। यह बेहद की बात है। बाप कब आते हैं, किसको भी पता नहीं। घोर अन्धियारे में हैं। ज्ञान सूर्य नाम से जापान में वो लोग अपने को सूर्यवंशी कहलाते हैं। वास्तव में सूर्यवंशी तो देवतायें ठहरे। सूर्यवंशियों का राज्य सतयुग में ही था। गाया भी जाता है ज्ञान सूर्य प्रगटा……. तो भक्तिमार्ग का अन्धियारा विनाश। नई दुनिया सो पुरानी, पुरानी दुनिया सो फिर नई होती है। यह बेहद का बड़ा घर है। कितना बड़ा माण्डवा है। सूर्य, चांद, सितारे कितना काम देते हैं। रात्रि को बहुत काम चलता है। ऐसे भी कई राजा लोग हैं जो दिन को सो जाते, रात को अपनी सभा आदि लगाते हैं, खरीददारी करते हैं। यह अभी तक भी कहाँ-कहाँ चलता है। मिल्स आदि भी रात को चलती हैं। यह हैं हद के दिन-रात। वह है बेहद की बात। यह बातें सिवाए तुम्हारे और किसी की बुद्धि में नहीं हैं। शिवबाबा को भी जानते नहीं। बाप हर बात समझाते रहते हैं। ब्रह्मा के लिए भी समझाया है-प्रजापिता ब्रह्मा है। बाप जब सृष्टि रचते हैं तो जरूर किसमें प्रवेश करेंगे। पावन मनुष्य तो होते ही सतयुग में हैं। कलियुग में तो सब विकार से पैदा होते हैं इसलिए पतित कहा जाता है। मनुष्य कहेंगे विकार बिगर सृष्टि कैसे चलेगी? अरे, देवताओं को तुम कहते हो सम्पूर्ण निर्विकारी। कितनी शुद्धता से उन्हों के मन्दिर बनाते हैं। ब्राह्मण बिगर कोई को अन्दर एलाउ नहीं करेंगे। वास्तव में इन देवताओं को विकारी कोई टच कर नहीं सकता। परन्तु आजकल तो पैसे से ही सब कुछ होता है। कोई घर में मन्दिर आदि रखते हैं तो भी ब्राह्मण को ही बुलाते हैं। अब विकारी तो वह ब्राह्मण भी हैं, सिर्फ नाम ब्राह्मण है। यह तो दुनिया ही विकारी है तो पूजा भी विकारियों से होती है। निर्विकारी कहाँ से आये! निर्विकारी होते ही हैं सतयुग में। ऐसे नहीं कि जो विकार में नहीं जाते उनको निर्विकारी कहेंगे। शरीर तो फिर भी विकार से पैदा हुआ है ना। बाप ने एक ही बात बताई है कि यह सारा रावण राज्य है। रामराज्य में हैं सम्पूर्ण निर्विकारी, रावण राज्य में हैं विकारी। सतयुग में पवित्रता थी तो पीस प्रासपर्टी थी। तुम दिखला सकते हो सतयुग में इन लक्ष्मी-नारायण का राज्य था ना। वहाँ 5 विकार होते नहीं। वह है ही पवित्र राज्य, जो भगवान स्थापन करते हैं। भगवान पतित राज्य थोड़ेही स्थापन करते हैं। सतयुग में अगर पतित होते तो पुकारते ना। वहाँ तो कोई पुकारते ही नहीं। सुख में कोई याद नहीं करते। परमात्मा की महिमा भी करते हैं-सुख के सागर, पवित्रता के सागर…….। कहते भी हैं शान्ति हो। अब सारी दुनिया में शान्ति मनुष्य कैसे करेंगे? शान्ति का राज्य तो एक स्वर्ग में ही था। जब कोई आपस में लड़ते हैं तो सुलह (शान्ति) कराना होता है। वहाँ तो है ही एक राज्य।

बाप कहते हैं इस पुरानी दुनिया को ही अब खत्म होना है। इस महाभारत लड़ाई में सब विनाश होते हैं। विनाश काले विपरीत बुद्धि-अक्षर भी लिखा हुआ है। बरोबर पाण्डव तो तुम हो ना। तुम हो रूहानी पण्डे। सबको मुक्तिधाम का रास्ता बताते हो। वह है आत्माओं का घर शान्तिधाम। यह है दु:खधाम। अब बाप कहते हैं इस दु:खधाम को देखते हुए भी भूल जाओ। बस, अभी तो हमको शान्तिधाम में जाना है। यह आत्मा कहती है, आत्मा रियलाइज़ करती है। आत्मा को स्मृति आई है कि मैं आत्मा हूँ। बाप कहते हैं मैं जो हूँ जैसा हूँ……. और तो कोई समझ न सके। तुमको ही समझाया है – मैं बिन्दी हूँ। तुम्हें यह घड़ी-घड़ी बुद्धि में रहना चाहिए कि हमने 84 का चक्र कैसे लगाया है। इसमें बाप भी याद आयेगा, घर भी याद आयेगा, चक्र भी याद आयेगा। इस वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी को तुम ही जानते हो। कितने खण्ड हैं। कितनी लड़ाई आदि लगी। सतयुग में लड़ाई आदि की बात ही नहीं। कहाँ राम राज्य, कहाँ रावण राज्य। बाप कहते हैं अभी तुम जैसेकि ईश्वरीय राज्य में हो क्योंकि ईश्वर यहाँ आया है राज्य स्थापन करने। ईश्वर खुद तो राज्य करते नहीं, खुद राजाई लेते नहीं। निष्काम सेवा करते हैं। ऊंच ते ऊंच भगवान है सब आत्माओं का बाप। बाबा कहने से एकदम खुशी का पारा चढ़ना चाहिए। अतीन्द्रिय सुख तुम्हारी अन्तिम अवस्था का गाया हुआ है। जब इम्तहान के दिन नजदीक आते हैं, उस समय सब साक्षात्कार होते हैं। अतीन्द्रिय सुख भी बच्चों को नम्बरवार है। कोई तो बाप की याद में बड़ी खुशी में रहते हैं।

तुम बच्चों को सारा दिन यही फीलिंग रहे कि ओहो बाबा, आपने हमें क्या से क्या बना दिया! आपसे कितना न हमें सुख मिलता है……. बाप को याद करते प्रेम के आंसू आ जाते। कमाल है, आप आकरके हमको दु:ख से छुड़ाते हो, विषय सागर से क्षीरसागर में ले चलते हो, सारा दिन यही फीलिंग रहनी चाहिए। बाप जिस समय तुमको याद दिलाते हैं तो तुम कितने गद्गद् होते हो। शिवबाबा हमको राजयोग सिखला रहे हैं। बरोबर शिवरात्रि भी मनाई जाती है। परन्तु मनुष्यों ने शिवबाबा के बदले श्रीकृष्ण का नाम गीता में दे दिया है। यह बड़े ते बड़ी एकज़ भूल है। नम्बरवन गीता में ही भूल कर दी है। ड्रामा ही ऐसा बना हुआ है। बाप आकर यह भूल बताते हैं कि पतित-पावन मैं हूँ वा कृष्ण? तुमको मैंने राजयोग सिखलाए मनुष्य से देवता बनाया। गायन भी मेरा है ना। अकाल मूर्त, अजोनि……. कृष्ण की यह महिमा थोड़ेही कर सकते। वह तो पुनर्जन्म में आने वाला है। तुम बच्चों में भी नम्बरवार हैं, जिनकी बुद्धि में यह सब बातें रहती हैं। ज्ञान के साथ चलन भी अच्छी चाहिए। माया भी कोई कम नहीं। जो पहले आयेंगे वह जरूर इतनी ताकत वाले होंगे। पार्टधारी भिन्न-भिन्न होते हैं ना। हीरो-हीरोइन का पार्ट भारतवासियों को ही मिला हुआ है। तुम सबको रावण राज्य से छुड़ाते हो। श्रीमत पर तुमको कितना बल मिलता है। माया भी बड़ी दुश्तर है, चलते-चलते धोखा दे देती है।

बाबा प्यार का सागर है तो तुम बच्चों को भी बाप समान प्यार का सागर बनना है। कभी कड़ुवा नहीं बोलो। किसको दु:ख देंगे तो दु:खी होकर मरेंगे। यह आदतें सब मिटानी चाहिए। गन्दे ते गन्दी आदत है विषय सागर में गोते खाना। बाप भी कहते हैं काम महाशत्रु है। कितनी बच्चियाँ मार खाती हैं। कोई-कोई तो बच्ची को कह देंगे भल पवित्र बनो। अरे, पहले खुद तो पवित्र बनो। बच्ची दे दी, खर्चे आदि के बोझ से और ही छूटा क्योंकि समझते हैं-पता नहीं, इनकी तकदीर में क्या है, घर भी कोई सुखी मिले या न मिले। आजकल खर्चा भी बहुत लगता है। गरीब लोग तो झट दे देते हैं। कोई को फिर मोह रहता है। आगे एक भीलनी आती थी, उनको ज्ञान में आने नहीं दिया क्योंकि जादू का डर था। भगवान को जादूगर भी कहते हैं। रहमदिल भी भगवान को ही कहेंगे। कृष्ण को थोड़ेही कहेंगे। रहमदिल वह जो बेरहमी से छुड़ाये। बेरहमी है रावण।

पहले-पहले है ज्ञान। ज्ञान, भक्ति फिर वैराग्य। ऐसे नहीं कि भक्ति, ज्ञान फिर वैराग्य कहेंगे। ज्ञान का वैराग्य थोड़ेही कह सकते। भक्ति का वैराग्य करना होता है इसलिए ज्ञान, भक्ति, वैराग्य यह राइट अक्षर हैं। बाप तुमको बेहद का अर्थात् पुरानी दुनिया का वैराग्य कराते हैं। सन्यासी तो सिर्फ घरबार से वैराग्य कराते हैं। यह भी ड्रामा में नूंध है। मनुष्यों की बुद्धि में बैठता ही नहीं। भारत 100 परसेन्ट सालवेन्ट, निर्विकारी, हेल्दी था, कभी अकाले मृत्यु नहीं होती थी, इन सब बातों की धारणा बहुत थोड़ों को ही होती है। जो अच्छी सर्विस करते हैं, वह बहुत साहूकार बनेंगे। बच्चों को तो सारा दिन बाबा-बाबा ही याद रहना चाहिए। परन्तु माया करने नहीं देती। बाप कहते हैं सतोप्रधान बनना है तो चलते, फिरते, खाते मुझे याद करो। मैं तुमको विश्व का मालिक बनाता हूँ, तुम याद नहीं करेंगे! बहुतों को माया के तूफान बहुत आते हैं। बाप समझाते हैं-यह तो होगा। ड्रामा में नूंध है। स्वर्ग की स्थापना तो होनी ही है। सदैव नई दुनिया तो रह नहीं सकती। चक्र फिरेगा तो नीचे जरूर उतरेंगे। हर चीज़ नई से फिर पुरानी जरूर होती है। इस समय माया ने सबको अप्रैल फूल बनाया है, बाप आकर गुल-गुल बनाते हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बाप समान प्यार का सागर बनना है। कभी किसी को दु:ख नहीं देना है। कड़ुवे बोल नहीं बोलने हैं। गन्दी आदतें मिटा देनी हैं।

2) बाबा से मीठी-मीठी बातें करते इसी फीलिंग में रहना है कि ओहो बाबा, आपने हमें क्या से क्या बना दिया! आपने हमें कितना सुख दिया है! बाबा, आप क्षीर सागर में ले चलते हो……. सारा दिन बाबा-बाबा याद रहे।

वरदान:- अपने हर कर्म वा विशेषता द्वारा दाता की तरफ इशारा करने वाले सच्चे सेवाधारी भव
सच्चे सेवाधारी किसी भी आत्मा को सहयोग देकर स्वयं में अटकायेंगे नहीं। वे सबका कनेक्शन बाप से करायेंगे। उनका हर बोल बाप की स्मृति दिलाने वाला होगा। उनके हर कर्म से बाप दिखाई देगा। उन्हें यह संकल्प भी नहीं आयेगा कि मेरी विशेषता के कारण यह मेरे सहयोगी हैं। यदि आपको देखा, बाप को नहीं तो यह सेवा नहीं की, बाप को भुलाया। सच्चे सेवाधारी सत्य की तरफ सबका सम्बन्ध जोड़ेंगे, स्वयं से नहीं।
स्लोगन:- किसी भी प्रकार की अर्जी डालने के बजाए सदा राज़ी रहो।

अव्यक्त स्थिति का अनुभव करने के लिए विशेष होमवर्क

अभ्यास करो कि इस स्थूल देह में प्रवेश कर कर्मेन्द्रियों से कार्य कर रहे हैं। जब चाहे प्रवेश करो और जब चाहे न्यारे हो जाओ। एक सेकेण्ड में धारण करो और एक सेकेण्ड में देह के भान को छोड़ देही बन जाओ, यही अभ्यास अव्यक्त स्थिति का आधार है।

TODAY MURLI 16 JANUARY 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 16 January 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 15 January 2019 :- Click Here

16/01/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, practi s e being soul conscious and vicious thoughts will then fly away; you will be able to have remembrance of the Father and you souls will become satopradhan.
Question: Which path do people in the world not know about at all?
Answer: No one knows the path to find the Father or how to attain liberation-in-life. They simply continue to say, “Peace, peace!” They continue to hold conferences. They don’t know when or how there was peace in the world. You can ask them: Have you ever experienced peace in the world? How can there be peace? Peace in the world is being established by the Father. Come and understand this.

Om shanti. The spiritual Father sits here and explains to you spiritual children. First of all, make your vision of being souls firm. We see one another as brothers. Similarly, the Father says: I see you children, you souls. It is the soul that listens and speaks through the physical organs of the body. The throne of a soul is the forehead. The Father looks at you souls. This brother is looking at his brothers. You too have to see your brothers. First of all, this vision has to be made firm. Then criminal thoughts will end and this habit will be instilled. It is the soul that listens and the soul that makes movement. When this vision becomes firm, all other thoughts will fly away. This is the number one subject. Divine virtues will also automatically be imbibed through this. It is only when you become body conscious that your physical organs cause mischief. Make a lot of effort to become soul conscious and you will develop strength. Only through the power of the Almighty Authority Father do souls become satopradhan. The Father is satopradhan anyway. So it is only when this vision is first of all made firm that it can be understood that you are soul conscious. There is the difference of day and night between being soul conscious and being body conscious. We souls now have to return home. Only by becoming soul conscious will we become pure and satopradhan. By your practi s ing this, vicious thoughts will end. People speak of the stars of the earth. We souls are truly stars and we have received our bodies to perform actions. We have now become tamopradhan and we have to become satopradhan once again. The Father has to come at the most auspicious confluence age. It would never be said that He enters the body of Christ. He (Christ) comes in the rajopradhan period. It is not possible that God would enter the body of Christ or Buddha. He only comes once and He comes in the old world to establish the new world. In order to change the tamopradhan world and make it satopradhan, He would surely come at the confluence age. He could not come at any other time. He has to come and establish the new world. He is called H eavenly God, the Father. According to the drama, there is the name ‘confluence age’. Krishna cannot be called the Father or the Purifier. His praise is completely separate. Baba continues to explain to you: First of all, explain the aim and objective to anyone. When it was the kingdom of Lakshmi and Narayan, there was one religion and one kingdom. There was the original, eternal deity religion. There was the one undivided religion. It is the task of the Father alone to establish heaven. It is also clear how He does that. It is only at the confluence age that the Father comes and says: Renounce all bodily religions and consider yourself to be a soul. Give the full explanation of the picture of Lakshmi and Narayan. There is also the image of Shiv Baba. A very good picture has been made showing His praise. This is the true story of becoming Narayan from an ordinary man. It is not called the story of Radhe and Krishna; it is called the story of the true Narayan. He makes you into Narayan from an ordinary man. At first, he would have been a small child. A small child cannot be called a man. It is said: “Nar (man) Narayan and Nari (woman) Lakshmi”. You children just have to explain this picture. Sannyasis cannot establish the original, eternal deity religion. Shankaracharya comes in the rajopradhan period; he cannot teach Raja Yoga. The Father comes at the confluence age. He says: I enter this one at the end of the last of his many births. There is the Trimurti at the top. Brahma is sitting in yoga. The question of Shankar is completely separate. One cannot ride a bull. The Father has to come here to explain. Destruction too takes place here. People say that there should be peace in the world. It is when it is to happen that this sits in their intellects. You can explain very well using the pictures. You have to explain to those who worship Shiva and the deities. They will instantly accept this. However, neither will this sit in the intellects of those who believe in nature or science , nor will it sit in the intellects of those who belong to other religions. Those who have been converted will emerge again. You should not worry about them. Those of the deity religion and those who do a lot of devotion are very firm in their own religion. Therefore, explain to the worshippers of the deities. Eminent people will never come here. For instance, there is Birla who has built so many temples. He doesn’t even have time to listen to knowledge. Throughout the day, his intellect is caught up in business. He receives a lot of money and so he thinks that he is receiving that wealth because of building the temples and that it is a blessing from the deities. When people come to you, show them the picture of Lakshmi and Narayan. Tell them: You want there to be peace in the world. There was the kingdom of peace in that world (of Lakshmi and Narayan). From that time to that time there was a lot of peace in the sun-dynasty kingdom. Then, it decreased by two degrees. Everything depends on this picture. You now want there to be peace in the world. Where will you go? You don’t know the home at all. We souls are embodiments of peace. We reside in the incorporeal world; that is the land of peace. That doesn’t exist in this world. That is called the incorporeal world, whereas this is called the world (where people exist). There will be peace in the world in the new world. The masters of the world are those sitting here. The poor will understand these things very well. Some say: This path is very good. We were looking for the path. What would they look for if they don’t know the path? There isn’t anyone who knows the path to find the Father or how to attain liberation-in-life. They continue to say, “peace, peace”, but no one knows when or how there was peace. They continue to hold so many conferences. You should ask them: Have you ever experienced peace in the world? Or: How is there peace in the world? Why do you people become confused? You continue to hold conferences, but you don’t receive an answer from anywhere. Peace in the world is being established now by the Father. You say that 3000 years before Christ , there was heaven and that there was peace then. If there were peacelessness there too, then where would you find peace? You have to explain this very well. At this time, they don’t give you too much time to speak, because their time for listening to you has not yet come. They also need to have the fortune to be able to listen. Only you multimillion times fortunate children claim a right to listen to the Father. No one, apart from the Father, can tell you anything. The Father tells only you children. This is the kingdom of Ravan, and so how can there be peace here? In the kingdom of Ravan, all are impure. They call out: O Purifier, come and purify us! The pure world was that of Lakshmi and Narayan. There is so much difference between the kingdom of Rama and the kingdom of Ravan. There are the sun dynasty and the moon dynasty and then there is the Ravan dynasty. At this time, it is the iron age, the community of Ravan. Even eminent people continue to growl at one another. They have a lot of arrogance: I am so-and-so. So it is very easy to explain using the picture of Lakshmi and Narayan. Tell them: Only at the time of their kingdom was there peace in the world. There were no other religions at that time. Peace in the world can only exist there. So, this is the main picture. When you explain using many pictures, people’s thoughts go in other directions. They even forget the things they had understood. This is why it is said: Too many cooks spoil the broth. When there are many pictures and you have funny models or dialogues, their intellects forget the main thing. Only a few rare ones are able to understand that the Father is carrying out establishment. The 84 births are of this one. Only one is portrayed in that. How could all of you be shown? In the scriptures too, only the name of one Arjuna is mentioned. In a school, a master would not teach just one person. This too is a school. They have not shown in the Gita the form of a school. How could Krishna, a small child, speak the Gita? That is the path of devotion. Even these badges of yours can do a lot of work. They are the best of all. First of all, you should take people in front of the picture of Shiv Baba, and then in front of the picture of Lakshmi and Narayan. Tell them: You ask for peace, but that is only established by the Father every cycle. You now know this cycle. Previously, you too had degraded intellects. The Father is now making you into those with clean intellects. You should write: No one, apart from the Supreme Father, the Supreme Soul, can grant salvation to anyone. They cannot bring about peace in the world. Only the Father does everything. It is Him whom everyone remembers. These are the two main pictures. You should not move away from them until they understand this fully. If they don’t understand this, they won’t understand anything. In that case, time has been wasted. If you see that it is not sitting in their intellects, you should leave it. People who can explain very well are needed. If they are mothers, that is very good, because people don’t get upset with them. Everyone knows who is clever in explaining. There are Mohini, Manohar, Gita… There are very good children. So, first of all, make it very firm with the picture of Lakshmi and Narayan. Tell them: Understand these things very well, because only then will you be able to go to the world of peace. You will then receive both liberation and liberation-in-life. Everyone will go into liberation and then go down numberwise to play their parts. You have to explain with that pomp. This is the number one picture. They were the masters of the world of peace. These things will sit in the intellects of those who are sensible. Although they say that this is good and they fall at your feet, they don’t know the Father. Maya doesn’t leave them alone. The Father makes you so elevated, and so you should remember Him so much. This is why the Father says: Remember Me and your sins will be cut away. You will also become satopradhan. By coming here, you have goose pimples of happiness: This is what I am becoming when I come inside here and I see Lakshmi and Narayan, I become very happy. Oho! Baba is making me this! Wah Baba! Wah! In a family, if someone’s father has a high position, the children are very happy that their father is an adviser. You should have so much happiness that the Father is making you that. However, Maya makes you forget. She opposes you a great deal. You children should remain very happy. Divine virtues also have to be imbibed. May you be soul conscious! See one another as brothers, and you will also see your wife in the form of a soul. Then, there won’t be any criminal eye. There are storms in the mind when you don’t look at others with the vision of brotherhood. This requires a lot of effort. Very good practice is required. You have to become soul conscious. The karmateet stage will be reached at the end. Only the children who do service can be seated on the Father’s heart throne. Even those who come later can gallop ahead; they can go fast. You children have heard the history of the beginning and how they all renounced their homes and families. They ran away during the night. Baba then had to sustain so many children. This is called a bhatthi (furnace). Then souls came out of the bhatthi, numberwise. It is a wonder how Baba is making you into the masters of wonderful heaven. God, the Father , is teaching you. He is so ordinary! He explains so much to you children every day and He also says: Namaste (salutations) to you children. You children become even more elevated than I. You are the ones who become the double-crowned masters of the world from being poverty-stricken. So, the Father comes with so much enthusiasm. He must have come countless times. Today, you are claiming the kingdom from Me, Rama, and you will then lose the kingdom to Ravan. This is a play. Achcha.

To the sweetest, lucky stars, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to make the soul satopradhan, take power from the one Almighty Authority Father. Make effort to become soul conscious. Constantly continue to practi s e: We souls are brothers.
  2. Explain to everyone in detail the pictures of the Father and the aim (Lakshmi and Narayan). Don’t waste time in other things.
Blessing: May you receive powerful fruit with the addition of everyone’s good wishes in service and become an embodiment of success.
Whatever service you do, let it be filled with the feeling of co-operation of all souls, with the feeling of happiness and good wishes and all tasks will easily be successful. In the early days, when anyone used to go to carry out a special task, he would go with blessings of everyone in the family. So, this addition is needed in the present service. Before beginning any task, take everyone’s good wishes and pure feelings. Fill yourself with the power of everyone’s contentment and powerful fruit will then emerge.
Slogan: Just as the Father says, “Yes, My lord”, in the same way, you also say, “Yes, my Lord! Yes, my Lord!” and you will accumulate charity.

*** Om Shanti ***

Special effort to become equal to Father Brahma.

Father Brahma always remained absorbed in God’s love. Apart from the Father, he did not see anything else. In his thoughts was Baba, in his words was Baba and in his actions, he had the Father’s company. When you speak any words while stable in this stage of being absorbed in love, then these words of love will tie the other souls with love. Stay in this stage of being merged in love and the one word “Baba” will work like magic.

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 16 JANUARY 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 16 January 2019

To Read Murli 15 January 2019 :- Click Here
16-01-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – आत्म-अभिमानी बनने की प्रैक्टिस करो तो विकारी ख्यालात उड़ जायेंगे, बाप की याद रहेगी, आत्मा सतोप्रधान बन जायेगी”
प्रश्नः- मनुष्यों को दुनिया में किस रास्ते का बिल्कुल ही पता नहीं है?
उत्तर:- बाप से मिलने वा जीवनमुक्ति प्राप्त करने के रास्ते का किसको भी पता नहीं है। सिर्फ शान्ति, शान्ति करते रहते हैं। कानफ्रेन्स करते रहते। जानते नहीं कि विश्व में शान्ति कब थी और कैसे हुई। तुम पूछ सकते हो कि आपने विश्व में शान्ति देखी है? शान्ति कैसे होती है? विश्व में शान्ति तो बाप द्वारा स्थापन हो रही है। तुम आकर समझो।

ओम् शान्ति। रूहानी बाप बैठ रूहानी बच्चों को समझाते हैं। पहले-पहले तो यह दृष्टि पक्की करो कि हम आत्मा हैं। हम भाई-भाई को देखते हैं। जैसे बाप कहते हैं मैं बच्चों (आत्माओं) को देखता हूँ। आत्मा ही शरीर की कर्मेन्द्रियों द्वारा सुनती है, बोलती है। आत्मा का तख्त है भ्रकुटी। तो बाप आत्माओं को देखते हैं। यह भाई भी अपने भाईयों को देखते हैं। तुमको भी भाईयों को देखना है। पहले यह दृष्टि पक्की चाहिए। फिर क्रिमिनल ख्यालात बन्द हो जायेंगे। यह आदत पड़ जायेगी। आत्मा ही सुनती है, आत्मा ही चुरपुर करती है। यह दृष्टि पक्की होने से और ख्याल सब उड़ जायेंगे। यह है नम्बरवन सबजेक्ट। इसमें दैवीगुण भी ऑटोमेटिकली धारण होते रहेंगे। कर्मेन्द्रियाँ चलायमान देह-अभिमान में आने से ही होती हैं। देही-अभिमानी बनने की बहुत कोशिश करो तो तुम्हारे में ताकत आयेगी। सर्व शक्तिमान् बाप की ताकत से ही आत्मा सतोप्रधान बनती है। बाप तो है ही सतोप्रधान। तो पहले-पहले यह दृष्टि पक्की हो तब समझें कि हम आत्म-अभिमानी हैं। आत्म-अभिमानी और देह-अभिमानी में रात दिन का फ़र्क है। हम आत्माओं को अब वापिस घर जाना है। आत्म-अभिमानी बनने से ही हम पवित्र सतोप्रधान बनेंगे। यह प्रैक्टिस करने से विकारी ख्यालात उड़ जायेंगे।

मनुष्य कहते हैं – धरती के सितारे। बरोबर हम आत्मा सितारा हैं, यह शरीर मिला है कर्म करने के लिए। अब हम तमोप्रधान बने हैं फिर हमको सतोप्रधान बनना है। बाप को आना भी पुरूषोत्तम संगमयुग पर है। ऐसे कभी नहीं कहेंगे कि क्राइस्ट के शरीर में आते हैं। वह आते ही रजोप्रधान में हैं। कोई बुद्ध वा क्राइस्ट के तन में भगवान आये, यह तो हो न सके। वह आते ही एक बार हैं और आते हैं पुरानी दुनिया में नई दुनिया स्थापन करने। तमोप्रधान दुनिया को बदल सतोप्रधान बनाने। वह ज़रूर संगम पर आयेंगे। और कोई समय पर वह आ न सके। उनको आकर नई दुनिया स्थापन करनी है। उनको कहा जाता है हेविनली गॉड फादर। ड्रामा अनुसार संगम का भी नाम है, कृष्ण को तो बाप वा पतित-पावन नहीं कहेंगे। उनकी महिमा बिल्कुल अलग है। बाबा समझाते रहते हैं पहले-पहले कोई को एम-आबजेक्ट समझाओ। भारत में लक्ष्मी-नारायण का राज्य था तो एक धर्म, एक राज्य था। आदि सनातन देवी-देवता धर्म था। एक ही अद्वेत धर्म था। हेविन स्थापन करना तो बाप का ही काम है। कैसे करते हैं वह भी क्लीयर है। संगम पर ही बाप आकर समझाते हैं कि देह के सब धर्म छोड़ अपने को आत्मा समझो। लक्ष्मी-नारायण के चित्र पर ही सारी समझानी देनी है। शिवबाबा का चित्र भी है। महिमा वाला चित्र बहुत अच्छा बना हुआ है। यह है ही नर से नारायण बनने की सत्य कथा। राधे कृष्ण की कथा नहीं कहते हैं। सत्य नारायण की कथा। तुमको नर से नारायण बनाते हैं। पहले तो छोटा बच्चा होगा। छोटे बच्चे को नर नहीं कहा जाता है। नर नारायण, नारी लक्ष्मी कहा जाता है। तुम बच्चों को इस चित्र पर ही समझाना है। सन्यासी तो आदि सनातन देवी-देवता धर्म की स्थापना कर न सकें। शंकराचार्य तो आते ही हैं रजोप्रधान के समय। वह राजयोग सिखा न सके। बाप आते हैं संगम पर। कहते हैं बहुत जन्मों के अन्त के भी अन्त में मैं प्रवेश करता हूँ। ऊपर त्रिमूर्ति भी है। ब्रह्मा योग में बैठा है, शंकर की तो बात ही अलग है। बैल पर सवारी हो न सके। बाप को तो यहाँ आकर समझाना है। विनाश भी यहाँ ही होता है। लोग कहते हैं विश्व में शान्ति हो। वह तो होने वाली है तब बुद्धि में आता है। चित्रों पर तुम अच्छी तरह समझा सकते हो। जो शिव की वा देवताओं की भक्ति करते हैं उनको समझाना है। वह झट मानेंगे। बाकी नेचर वा साइंस आदि को मानने वालों की बुद्धि में बैठेगा नहीं। दूसरे धर्म वालों की भी बुद्धि में नहीं आयेगा, जो कनवर्ट हुए होंगे वही निकल आयेंगे। उनकी क्या फिकरात करनी है। देवता धर्म वाले वा बहुत भक्ति करने वाले अपने धर्म में बहुत पक्के होंगे। तो देवताओं के पुजारियों को समझाओ, बड़े आदमी कभी आयेंगे नहीं। समझो बिरला है, इतने मन्दिर बनाते हैं, उनके पास ज्ञान सुनने की फुर्सत ही कहाँ है। सारा दिन बुद्धि धन्धे में लगी रहती है। पैसे बहुत मिलते हैं तो समझते हैं मन्दिर बनाने से धन मिलता है। यह देवताओं की कृपा है।

तुम्हारे पास कोई आये तो लक्ष्मी-नारायण का चित्र उन्हें दिखाओ। बोलो, तुम विश्व में शान्ति चाहते हो तो विश्व में शान्ति का राज्य इस दुनिया में था। फलानी तारीख से फलानी तारीख तक सूर्यवंशी राजधानी में बहुत शान्ति थी फिर दो कला कम हो जाती हैं। इस चित्र पर ही सारा मदार है। अब तुम विश्व में शान्ति चाहते हो। कहाँ चलेंगे? घर को तो जानते ही नहीं हैं। हम आत्मा शान्त स्वरूप हैं। मूल वतन में रहते हैं, वही शान्तिधाम है। वह इस दुनिया में नहीं है। उनको कहा जाता है निराकारी दुनिया। बाकी विश्व इसको ही कहा जाता है। विश्व में शान्ति नई दुनिया में होगी। विश्व के मालिक यह बैठे हैं। गरीब इन बातों को अच्छी रीति समझते हैं। कोई कहते हैं यह रास्ता बहुत अच्छा है। हम रास्ता ढूँढ़ते थे। रास्ते का मालूम ही नहीं तो ढूँढ़ेंगे क्या? ऐसा कोई नहीं जिसको बाप और जीवनमुक्ति के रास्ते का पता हो। शान्ति-शान्ति… कहते रहते हैं परन्तु शान्ति कब थी, कैसे हुई, किसको भी पता नहीं है। कितनी कानफ्रेन्स आदि करते हैं। उनसे पूछना चाहिए तुमने कभी विश्व में शान्ति देखी है कि विश्व में शान्ति कैसे होती है? तुम प्रजा आपस में क्यों मूँझते हो! कानफ्रेन्स करते रहते हो, जवाब कहाँ से मिलता नहीं। विश्व में शान्ति तो अब बाप द्वारा स्थापन हो रही है। तुम कहते हो क्राइस्ट से 3 हज़ार वर्ष पहले हेविन था तो वहाँ ही शान्ति थी। अगर वहाँ भी अशान्ति होती तो बाकी शान्ति कहाँ से मिलेगी। अच्छी तरह से समझाना है। इस समय तो तुमको इतना समय बात करने नहीं देते क्योंकि अभी उनके सुनने का समय नहीं आया है। सुनने का भी सौभाग्य चाहिए। तुम पदमापदम भाग्यशाली बच्चे ही बाप से सुनने के हकदार बनते हो। बाप बिगर और कोई सुना न सके। बाप तुम बच्चों को ही सुनाते हैं। यह है ही रावण राज्य तो यहाँ शान्ति कैसे हो सकती। रावण राज्य में सब पतित हैं। पुकारते हैं कि हमको पावन बनाओ। पावन दुनिया तो इन लक्ष्मी-नारायण की थी। रामराज्य और रावण राज्य में कितना फ़र्क है। सूर्यवंशी, चन्द्रवंशी फिर होते हैं रावण वंशी। इस समय है कलियुग, रावण सम्प्रदाय। बड़े-बड़े लोग भी एक दो को गुर्र-गुर्र करते रहते हैं। बहुत अहंकार है कि मैं फलाना हूँ। तो इस लक्ष्मी-नारायण के चित्र पर समझाना बहुत सहज है। बोलो इनके राज्य में ही विश्व में शान्ति थी, कोई और धर्म नहीं था। विश्व में शान्ति सो तो यहाँ ही होती है। तो मुख्य यह चित्र है। बाकी ढेर चित्रों पर समझाने से मनुष्यों के ख्यालात और तरफ चले जाते हैं। जो समझा है वह भी भूल जाता है। तब कहा जाता है टू मैनी कुक्स.. बहुत चित्र होते हैं और हंसीकुडी के मॉडल अथवा डायलाग आदि होते हैं तो मूल बात बुद्धि से निकल जाती है। कोई विरला ही समझ पाते हैं कि बाप यह स्थापना कर रहे हैं। 84 जन्म भी इसके लिए ही हैं। दिखायेंगे ज़रूर एक का। सबको कैसे रखेंगे। शास्त्रों में भी एक अर्जुन का नाम रखा है ना। स्कूल में मास्टर एक को थोड़ेही पढ़ायेंगे। यह भी स्कूल है। गीता में स्कूल का रूप नहीं दिया है। कृष्ण छोटा बच्चा वह कैसे गीता सुनायेंगे। यह है भक्ति मार्ग।

यह तुम्हारे बैज भी बहुत काम कर सकते हैं। यह सबसे अच्छा है। पहले शिवबाबा के चित्र के सामने लाना चाहिए। और फिर लक्ष्मी-नारायण के चित्र के आगे। तुम शान्ति माँगते हो वह कल्प, कल्प बाप द्वारा ही स्थापन होती है। तुम इस चक्र को जान गये हो। पहले तुम भी तुच्छ बुद्धि थे। अब बाप स्वच्छ बुद्धि बनाते हैं। लिखना चाहिए सिवाए परमपिता परमात्मा के कोई भी किसकी सद्गति कर नहीं सकते। विश्व में शान्ति कर नहीं सकते। बाप ही सब कुछ कर रहे हैं। याद भी उनको ही करते हैं। मुख्य चित्र यह दोनों हैं। इससे हिलना नहीं चाहिए, जब तक पूरा न समझें। यह नहीं समझा तो कुछ भी नहीं समझा। टाइम वेस्ट हो जाता है। देखो बुद्धि में नहीं बैठता तो चला देना चाहिए। इसमें समझाने वाले बहुत अच्छे चाहिए। अगर माता हो तो बहुत अच्छा, इसमें कोई नाराज़ नहीं होगा। यह तो सब जानते हैं कि कौन-कौन समझाने में तीखे हैं। मोहिनी है, मनोहर है, गीता है – बहुत अच्छे-अच्छे बच्चे हैं। तो पहले लक्ष्मी-नारायण के चित्र पर एकदम पक्का कराना चाहिए। बोलो, इन बातों को अच्छी रीति समझो तब शान्ति की दुनिया में जा सकेंगे। मुक्ति-जीवनमुक्ति दोनों ही मिल जायेंगी। मुक्ति में तो सब जायेंगे फिर आयेंगे नम्बरवार पार्ट बजाने। समझाना भी भभके से है। नम्बरवन यह चित्र है। विश्व में शान्ति के मालिक यही थे। यह बातें समझदार की बुद्धि में बैठती हैं। भल अच्छा-अच्छा कहते हैं, पाँव में गिरते हैं। परन्तु बाप को थोड़ेही जाना। उनको भी माया छोड़ती नहीं है। बाप जो इतना ऊंचा बनाते हैं उनको तो कितना याद करना चाहिए इसलिए बाप कहते हैं मुझे याद करो तो तुम्हारे पाप कट जायेंगे। सतोप्रधान बन जायेंगे। यहाँ अन्दर आने से खुशी में रोमांच खड़े हो जाने चाहिए। मैं यह बनता हूँ। मैं अन्दर आता हूँ और इन लक्ष्मी-नारायण को देखता हूँ, बड़ा खुश होता हूँ। ओहो! बाबा हमको यह बनाते हैं। वाह बाबा वाह! लौकिक घर में किसका बाप बड़े मर्तबे पर होता है तो बच्चों को खुशी होती है मेरा बाप वजीर है। तुमको कितनी खुशी होनी चाहिए कि बाप हमको यह बनाते हैं। परन्तु माया भुला देती है, बड़ा सामना करती है। तुम बच्चों को बहुत खुशी रहनी चाहिए, दैवीगुण भी धारण करने चाहिए। आत्म-अभिमानी भव। भाई-भाई को देखो, तो स्त्री को भी आत्मा के रूप में ही देखेंगे। क्रिमिनल आई होगी नहीं। मन्सा तूफान तब आते हैं जब तुम भाई-भाई की दृष्टि से नहीं देखते हो, इसमें बड़ी मेहनत है। प्रैक्टिस अच्छी चाहिए। आत्म-अभिमानी बनना है। कर्मातीत अवस्था तो पिछाड़ी में ही होगी। सर्विस करने वाले बच्चे ही बाप की दिल पर चढ़ सकते हैं। भल देरी से आते हैं, वह भी गैलप कर सकते हैं। तीखे जा सकते हैं। तुम बच्चों ने पहले की हिस्ट्री तो सुनी है कि इन्होंने घरबार कैसे छोड़ा। रात-रात में भागे। फिर इतने बच्चों को पाला। इसको कहा जाता है भट्ठी। फिर भट्ठी से नम्बरवार निकले। यह तो वन्डर है, जो बाबा तुमको वन्डरफुल स्वर्ग का मालिक बनाते हैं। गॉड फादर तुमको पढ़ाते हैं। कितना साधारण है, कितना रोज़-रोज़ बच्चों को समझाते रहते हैं और बच्चों को कहते हैं नमस्ते। बच्चे तुम मेरे से भी ऊंचे जाते हो। तुम ही कंगाल से डबल सिरताज विश्व के मालिक बनते हो, तो बाप बड़ी रूची से आते हैं। अनगिनत बार आये होंगे। आज तुम मुझ राम से राज्य लेते हो फिर रावण से तुम राज्य हराते हो, यह खेल है। अच्छा!

मीठे-मीठे लकी सितारों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) आत्मा को सतोप्रधान बनाने के लिए एक सर्वशक्तिमान् बाप से ताकत लेनी है। देही-अभिमानी बनने का पुरूषार्थ करो। हम आत्मा भाई-भाई हैं, यह प्रैक्टिस निरन्तर करते रहो।

2) बाप और लक्ष्य (लक्ष्मी-नारायण) के चित्र पर हरेक को विस्तार से समझाओ। बाकी बातों में टाइम वेस्ट मत करो।

वरदान:- सेवाओं में शुभ भावना की एडीशन द्वारा शक्तिशाली फल प्राप्त करने वाले सफलतामूर्त भव
जो भी सेवा करते हो उसमें सर्व आत्माओं के सहयोग की भावना हो, खुशी की भावना वा सद्भावना हो तो हर कार्य सहज सफल होगा। जैसे पहले जमाने में कोई कार्य करने जाते थे तो सारे परिवार की आशीर्वाद लेकर जाते थे। तो वर्तमान सेवाओं में यह एडीशन चाहिए। कोई भी कार्य शुरू करने के पहले सभी की शुभ भावनायें, शुभ कामनायें लो। सर्व की सन्तुष्टता का बल भरो तब शक्तिशाली फल निकलेगा।
स्लोगन:- जैसे बाप जी-हाजिर कहते हैं वैसे आप भी सेवा में जी हाज़िर, जी हज़ूर करो तो पुण्य जमा हो जायेगा।

ब्रह्मा बाप समान बनने के लिए विशेष पुरुषार्थ

जैसे ब्रह्मा बाप सदा परमात्म प्यार में लवलीन रहे। बाप के सिवाए और कुछ दिखाई नहीं दिया। संकल्प में भी बाबा, बोल में भी बाबा, कर्म में भी बाप का साथ, ऐसी लवलीन स्थिति में रह कोई भी शब्द बोलेंगे तो वह स्नेह के बोल, दूसरी आत्मा को भी स्नेह में बाँध देंगे। ऐसे लवलीन स्थिति में रहो तो एक बाबा शब्द ही जादू मंत्र का काम करेगा।

Font Resize