daily gyan murli 10 December 2018

TODAY MURLI 10 DECEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 10 December 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 9 December 2018 :- Click Here

10/12/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, invent new methods for making service expand. Go and serve in every village. In order to do service, you need the enlightenment of knowledge.
Question: What is an easy way to continue to remove the old world from your intellect?
Answer: Repeatedly remember the home. Let it remain in your intellect that you have to settle your accounts with the land of death and go to the land of immortality. Become a beggar in relation to your body; even that body doesn’t belong to you. When you have such practice, you will forget the old world. While living in this old world, you have to make your stage very firm. Make effort to have a constant and stable stage.
Song: Mother o mother! You are the bestower of fortune for all.

Om shanti. There is a lot of praise of Jagadamba in Bharat. No one, except the people of Bharat, knows Jagadamba. They have heard the name of someone called Eve or Bibi. It is now in the intellects of you children that creation cannot be created without Bibi or the Master. Jagadamba definitely has to appear. She definitely did exist, for this is why she is remembered. There is a lot of praise of Bharat. They speak of heaven and they also know that Bharat is ancient. This is why there surely has to be heaven. No one, apart from you Godly children, can understand this. Only those who understood this in the previous cycle will continue to come. The exhibition is taking place. You understand that you also did this in the previous cycle. The words are very good for explaining to everyone! Pure souls receive the crown of light through their purity. Secondly, a charitable soul is one who makes donations and performs charity. In English, such a soul is called a philanthropist. Those who are pure are said to be viceless. There are different words. There are a lot of donations made and charity done in Bharat, but donations are generally made to gurus. They may be called pure souls, but they cannot be called charitable souls. They don’t make donations or perform charity; they accept donations and charity. In order for your intellects’ yoga to break away from all of them and be connected to the Father, the Father has to explain: That is not good. I come to uplift all of them. You are the Ganges of knowledge who have emerged from the Ocean of Knowledge. In fact, ‘Ganges’ is not the right word, but the memorial has continued and this is why the comparison has been made. The Father comes and makes the old things of the old world new. Heaven is something new. Only the Father knows the news of the new things. The world doesn’t know it. There are the versions of God, but, because Krishna’s name was inserted, the intellect’s yoga of everyone has broken away. This is why they have said that God is omnipresent. The intellect’s yoga of many is with Krishna. Wherever there is regard for the Gita, it is as though they also have regard for Krishna. In fact, they have put the hat of the Father’s praise on the child. This too is fixed in the drama. The Father comes and explains this. Baba has repeatedly explained to you why you should ask any people who come what their occupation is and what their relationship is with him (Krishna). Baba has had a good questionnaire made. Very good service can take place. Very good service can take place in the Jagadamba Temple. Go and explain to the people there: This is Jagadamba, the mother who creates the world. Which world does she create? She would surely create a new creation. Achcha, who is the Father of this mother? Who gave her birth? People don’t even understand the meaning of ‘mouth-born creation’. You know that the Supreme Father, the Supreme Soul, has given birth to her. You children have to explain that Jagadamba is a mouth-born creation, but how is she that? The Supreme Father, the Supreme Soul, is incorporeal and He explains through the body of Brahma. It is as though the Supreme Father, the Supreme Soul, has come and adopted Brahma and that He has adopted the daughter in the same way. These things don’t stay permanently in everyone’s intellect; you repeatedly forget. You children can do a lot of service. You should give the introduction in the Jagadamba Temple so that their intellects’ yoga can be connected to the Father. Jagadamba has yoga with Him and so we too should have yoga with Him. Jagadamba is sitting down below doing tapasya and her temple is up above. Down below, she is doing the tapasya of Raja Yoga and then she becomes a princess, a master of heaven, in the golden age. It is now the iron age. It is only when she sits in tapasya again that she can become a master of heaven again. All of this knowledge should remain in your intellects. People are given this true advice. You give each one’s introduction. However, this cannot sit in the intellect of everyone that quickly. It can only sit in their intellects when they engage themselves in service. Very good pictures have been created. You can also go to the Lakshmi and Narayan Temples and explain there. Baba says: Go and relate this to My devotees. You will definitely find devotees in the temples. Explain this picture of Lakshmi and Narayan to them with love. Everyone would say that they were the masters of heaven. Achcha, what is it now? It would surely be said to be the iron age now. In the iron age, there is nothing but sorrow, and so how did they receive the sovereignty? You know this and so you can tell everyone. When you explain to one, a whole gathering will gather there. Everyone will then ask you to go to them. Very big melas take place in the temples. You can also go the Rama Temple and tell them his occupation. You should explain to them tactfully, gradually. Some children also write: Baba, we have explained in this way. When you explain to one person, others will also then invite you and say: It would be good if these lectures continued in my home for seven days. Then others would emerge from there too. When anyone invites you, you should explain in such a way that they don’t leave you. When you give lectures, friends and relatives close by will also gather there. Growth takes place in this way. Not so many can come to the centres. This is a good method. You should make effort in this way. Hardly anyone knows the art of making effort for this. The enlightenment of knowledge is needed. Baba has come from so far away to teach us. If you don’t do service, how would you claim a high status? Children in schools are very clever and they have a lot of enthusiasm. This too is a study. This is a wonderful study. The young, the mature and old people all study here. The poor have an even better chance. In fact, even sannyasis are poor. So many wealthy people invite them to go to them. Sannyasis renounce their homes and become beggars. They don’t have anything with them. You too are now beggars and you then become princes. They are also beggars. There is the question of purity in this. You don’t have anything with you. You even forget your bodies. You renounce everything including your bodies and belong to the one Father. The more you remember the one Father, the more dharna there will be. You need to make effort to have constant dharna. We have to go to Baba and so why should we have thoughts of this old world? Until your stage becomes firm, you have to stay in this old world and in your old bodies. You now have to live at home with your families and remain pure. Your accounts with this land of death are now being settled and you have to go to the land of immortality. When you repeatedly remember the home, the old world will continue to be forgotten. Ask them: What did Baba say in the Gita? Explain that God is called Baba. Incorporeal Baba says: Constantly remember Me alone. Your sins will be absolved with the fire of yoga. Krishna cannot say this. The elevated versions of God are: Renounce this old world and your old body. Become soul conscious and constantly remember Baba. God is incorporeal. That soul takes a body and comes into ‘talkie . Baba doesn’t take a body by taking birth. He only has the one name, Shiva. There are the souls of Brahma, Vishnu and Shankar; they have their own subtle bodies. That One is always the incorporeal Supreme Father, the Supreme Soul and His name is Shiva. He alone is the Ocean of Knowledge. Brahma, Vishnu and Shankar are not called the Creator. Only the one incorporeal One is called the Creator. So, how does He then create the corporeal creation? He comes and speaks through Brahma. It cannot be Krishna who does this. They show the Vedas and scriptures in the hands of Brahma alone. It is remembered: Establishment takes place through Brahma. He tells us the essence of all the scriptures through Brahma. The Incorporeal speaks this through the corporeal. These things have to be imbibed very well. God speaks: I teach Raja Yoga. Establishment is needed before destruction. First of all, there is establishment. Continue to write this very clearly: Establishment of the sun-dynasty kingdom through Brahma. When it is written, the significance of it becomes very clear, but you have to make this effort and become busy in service. When you become busy in service, you will enjoy yourself. Mama and Baba also enjoy doing service. Children also have to do service. Mama would not be taken to the temples. There is great praise of Mama, but you children have to go there. Baba says: Go to those in their stage of retirement and ask them questions and then explain to them: Have you ever studied the Gita? Who is the God of the Gita? There is only one incorporeal God. A corporeal being cannot be called God. God is only One. You should churn the ocean of knowledge a lot to do service. If you want to practi s e this, you have to go and try it out. People go to have a glimpse of Jagadamba every day. People also go to the triveni of the rivers. If you go there and give lectures and do service, many will gather together. They will continue to give you invitations: Come to us and have these spiritual gatherings. Baba and Mama cannot go anywhere; children can go. You can also do a lot of service in the Kali Temple in Bengal. Who is Kali? Give a lecture on this topic. However, courage is needed. Baba knows who can explain this. What service would those who have body consciousness be able to do? They don’t give the proof of service. If you don’t do full service you defame Baba’s name. A yogi has very good power. Baba continues to give you many points for explaining to them. However, even very good maharathis forget them. There is a lot of service to do. This is called unlimited service. They then also receive a lot of respect. The main thing is purity. Some break while moving along. No one ever loses faith in his physical father. Here, you take birth to Baba. You then repeatedly forget such a Father because He is without an image. There is no image of such a Father. The Father says: Remember Me and become pure and you will come to Me. The soul understands that he has played a part for 84 births. Each one’s part is fixed in the soul. The part is not in the body. There is such a huge part recorded in such a tiny soul. There should be so much intoxication in your intellects. While fulfilling your responsibility of interaction with your worldly families, you can also do this service. The mother and father will not go anywhere. You children can go anywhere to do service. Only you children are called lucky stars. Achcha.

To the sweetest, beloved long-lost and now-found lucky stars of knowledge, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Renounce body consciousness and do service. Churn the ocean of knowledge and give the proof of doing unlimited service.
  2. All the old accounts with this land of death have to be settled. Continue to remove your old body and the old world from your intellect.
Blessing: May you be a karma yogi who gives the experience of a spiritual personality by remaining stable in a powerful stage while performing actions.
You children are not just workers, but are karma yogis who perform every act while being yogyukt. Let everyone experience from you that you work with your hands but while working, you are stable in a powerful stage. While you move along in an ordinary way or just stand somewhere, let your spiritual personality be experienced from a distance. Just as worldly personalities attract, similarly, your spiritual personality, your personality of purity and personality of a gyani and yogi soul will automatically attract others.
Slogan: Those who walk along the right path and show everyone the right path are true lighthouses.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 10 DECEMBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 10 December 2018

To Read Murli 9 December 2018 :- Click Here
10-12-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – सर्विस की वृद्धि के नये-नये तरीके निकालो, गांव-गांव में जाकर सर्विस करो, सर्विस करने के लिए ज्ञान की पराकाष्ठा चाहिए”
प्रश्नः- बुद्धि से पुरानी दुनिया भूलती जाए – इसकी सहज युक्ति क्या है?
उत्तर:- घर को घड़ी-घड़ी याद करो। बुद्धि में रहे – अब मृत्युलोक से हिसाब-किताब चुक्तु कर अमरलोक जाना है। देह से भी बेगर, यह देह भी अपनी नहीं – ऐसा अभ्यास हो तो पुरानी दुनिया भूल जायेगी। इस पुरानी दुनिया में रहते अपनी परिपक्व अवस्था बनानी है। एकरस अवस्था के लिए मेहनत करनी है।
गीत:- माता ओ माता…….. 

ओम् शान्ति। जगत अम्बा की महिमा भारत में बहुत है। जगत-अम्बा को भारतवासियों के सिवाए कोई भी जानते नहीं। नाम सुना है जिसको ईव अर्थात् बीबी भी कहते हैं। अब तुम बच्चों की बुद्धि में है कि बीबी और मालिक के सिवाए रचना तो रची नहीं जा सकती। जरूर जगत अम्बा को प्रकट होना पड़े। जरूर थी तब तो गायन करते हैं। भारत की महिमा बहुत है। स्वर्ग भी कहते हैं और यह भी जानते हैं कि भारत ही प्राचीन था इसलिए जरूर हेविन होना चाहिए। यह तुम ईश्वरीय सन्तान बिगर कोई समझ न सके। जिन्होंने कल्प पहले समझा है वही आते रहेंगे। प्रदर्शनी चलती है। समझते हैं कल्प पहले भी की होगी। सबको समझाने के लिए अक्षर बहुत अच्छे हैं। पवित्र आत्मा, पवित्रता से तुम लाइट का ताज पाते हो। दूसरा पुण्य आत्मा उसको कहा जाता है जो दान-पुण्य करते हैं। उसको अंग्रेजी में फ्लैन्थ्रोफिस्ट भी कहा जाता है। पवित्र को वाइसलेस कहेंगे। अलग-अलग अक्षर हैं। भारत में दान-पुण्य होता तो बहुत है परन्तु अक्सर करके दान करते हैं गुरूओं को। अब उन्हें पवित्र आत्मा तो भल कहें परन्तु पुण्य आत्मा नहीं कह सकते। वह दान-पुण्य नहीं करते हैं वह तो दान-पुण्य लेते हैं। तो इन सबसे बुद्धियोग टूटकर बाप से जुट जाए, इसके लिए बाप को समझाना पड़ता है कि यह ठीक नहीं है। इन सबका उद्धार करने मैं आता हूँ। तुम ज्ञान सागर से निकली हुई ज्ञान गंगायें हो। वास्तव में गंगा अक्षर राइट नहीं है परन्तु गायन चला आता है इसलिए भेंट की जाती है। बाप आकर पुरानी दुनिया की पुरानी सब चीज़ों को नया बनाते हैं। स्वर्ग नई चीज़ है। नई चीज़ का समाचार बाप ही जानते हैं, दुनिया नहीं जानती।

भगवानुवाच है परन्तु गीता में कृष्ण का नाम डालने से सबका बुद्धियोग टूट गया है इसलिए सर्वव्यापी कह दिया है। कृष्ण के साथ बहुतों का बुद्धियोग है, जहाँ भी गीता का मान है तो जैसे कृष्ण का मान है। वास्तव में बाप के महिमा की टोपी बच्चे के ऊपर आ गई है। यह भी ड्रामा में नूँध है। यह बाप आकर समझाते हैं।

बाबा बार-बार समझाते हैं – जब कोई आते हैं तो हर एक का आक्यूपेशन पूछो इससे तुम्हारा क्या सम्बन्ध है? बाबा ने प्रश्नावली अच्छी बनाई है। सर्विस तो बहुत अच्छी हो सकती है। सर्विस तो जगत अम्बा के मन्दिर में बहुत अच्छी हो सकती है, वहाँ जाकर समझाओ कि यह है जगत अम्बा सृष्टि को रचने वाली माता। कौन-सी दुनिया रचती है? जरूर नई रचना रचेगी। अच्छा, इस माता का पिता कौन है? इनको जन्म किसने दिया? मनुष्य तो मुख वंशावली का अर्थ भी नहीं समझते हैं। तुम जानते हो इनको परमपिता परमात्मा ने जन्म दिया है। तुम बच्चों को ही समझाना पड़े। जगत अम्बा मुख वंशावली है परन्तु कैसे? परमपिता परमात्मा तो निराकार है, समझाया जाता है ब्रह्मा तन से। परमपिता परमात्मा ने आकर जैसे इस ब्रह्मा को एडाप्ट किया, वैसे बच्ची को भी किया। यह बातें सबकी बुद्धि में स्थाई नहीं ठहरती। घड़ी-घड़ी भूल जाते हैं। बच्चे सर्विस तो बहुत कर सकते हैं। जगत अम्बा के मन्दिर में परिचय देना चाहिए। तो उन्हों का भी बुद्धियोग बाप से जुटे। जगत अम्बा भी उनसे योग लगाती है तो हम भी उनसे योग लगायें। नीचे जगत अम्बा तपस्या में बैठी है, उनका मन्दिर ऊपर है। नीचे राजयोग की तपस्या कर रहे हैं फिर राज-राजेश्वरी स्वर्ग की मालिक बनी सतयुग में। अभी है कलियुग। फिर से जब तपस्या में बैठे तब तो स्वर्ग के मालिक बने ना। तुम्हारी बुद्धि में यह सारा ज्ञान रहना चाहिए। यह सच्ची राय मनुष्यों को दी जाती है। तुम हर एक का परिचय देते हो। परन्तु सबकी बुद्धि में कोई जल्दी थोड़ेही बैठ सकता है। बैठे तब जब सर्विस में लग जायें। चित्र भी बहुत अच्छे बने हुए हैं। लक्ष्मी-नारायण के मन्दिर में जाकर समझा सकते हो। बाबा कहते हैं – मेरे भक्तों को सुनाओ। भक्त जरूर मन्दिर में ही मिलेंगे। उनको प्यार से समझाओ यह जो लक्ष्मी-नारायण के चित्र हैं, इनके लिए सभी कहेंगे यह स्वर्ग के मालिक थे। अच्छा, अब क्या है? जरूर कहेंगे कलियुग। कलियुग में दु:ख ही दु:ख है फिर इनको बादशाही कैसे मिली? तुम जानते हो तो सबको सुना सकते हो। एक को समझायेंगे तो सतसंग इकट्ठा हो जायेगा। फिर सब कहेंगे – हमारे पास आओ। मन्दिर में बड़ा मेला लगता है। राम के भी मन्दिर में जाकर उनका आक्यूपेशन बता सकते हो। आहिस्ते-आहिस्ते युक्ति से समझाना चाहिए। कई बच्चे लिखते भी हैं – बाबा, हमने ऐसे-ऐसे समझाया। एक को समझाने से फिर दूसरे निमंत्रण देते हैं। हमारे घर में भी सात रोज़ भाषण चले तो अच्छा है फिर वहाँ से और कोई निकलेगा। कोई भी निमंत्रण दे उनको ऐसा समझाना चाहिए जो छोड़े नहीं। भाषण करने से आस-पास वाले मित्र सम्बन्धी आदि भी इकट्ठे होंगे। ऐसे ही वृद्धि होती है। सेन्टर पर इतने नहीं आ सकते हैं। यह अच्छी युक्ति है। ऐसी मेहनत करनी चाहिए। मेहनत करने का ढंग मुश्किल किसको आता है। ज्ञान की पराकाष्ठा चाहिए। बाबा कितनी दूर से हमको सिखाने आया है। अगर सर्विस नहीं करेंगे तो ऊंच पद कैसे पायेंगे? स्कूल में बच्चे बहुत अच्छे चमत्कारी होते हैं, उछलते रहते हैं। यह भी पढ़ाई है, यह वन्डरफुल पढ़ाई है – इसमें बूढ़े, जवान, बच्चे सब पढ़ते हैं। गरीबों को और ही अच्छा चांस है। सन्यासी भी वास्तव में गरीब हैं। कितने बड़े-बड़े धनवान मनुष्य अपने पास बुलाते हैं। सन्यासियों ने घरबार छोड़ा बेगर हुए। कुछ भी उन्हों के पास नहीं है। तुम भी अभी बेगर हो फिर प्रिन्स बनते हो। वह भी बेगर हैं। इसमें पवित्रता की बात है। तुम्हारे पास और कुछ नहीं है। तुम देह को भी भूल जाते हो। देह सहित सब कुछ त्याग कर एक बाप के बनते हो। जितना एक बाप को याद करेंगे उतनी धारणा होगी। एकरस धारणा हो जाए उसके लिए मेहनत चाहिए। हमको बाबा के पास जाना है तो इस पुरानी दुनिया का ख्याल क्या रखें। जब तक परिपक्व अवस्था हो तब तक रहना इस पुरानी दुनिया, पुराने शरीर में है।

अब तुम्हें गृहस्थ व्यवहार में रहकर पवित्र बनना है। इस मृत्युलोक से हिसाब-किताब चुक्तू होता है। अब अमरलोक जाना है। घर को घड़ी-घड़ी याद करने से पुरानी दुनिया भूलती जायेगी। बोलो, गीता में बाबा ने क्या कहा है? भगवान् को बाबा कहा जाता है। निराकार बाबा कहते हैं – मामेकम् याद करो। योग अग्नि से तुम्हारे विकर्म विनाश होंगे। कृष्ण ऐसे नहीं कह सकते हैं। यह भगवान् के महावाक्य हैं कि इस पुरानी दुनिया और पुरानी देह को भी छोड़ो। देही-अभिमानी बनकर निरन्तर बाबा को याद करो। भगवान् है निराकार। आत्मा शरीर लेकर टॉकी बनती है। बाबा तो गर्भ से जन्म नहीं लेते। उनका नाम एक ही शिव है। ब्रह्मा, विष्णु, शंकर की आत्मायें हैं, उन्हें अपना सूक्ष्म शरीर है। यह है ही निराकार परमपिता परमात्मा। फिर उनका नाम है शिव। वही ज्ञान का सागर है। ब्रह्मा, विष्णु, शंकर को रचता नहीं कहेंगे। रचयिता एक ही निराकार को कहा जाता है। वह फिर साकारी रचना कैसे रचे? तो ब्रह्मा द्वारा आकर समझाते हैं। कृष्ण तो हो न सके। ब्रह्मा के हाथ में ही वेद-शास्त्र दिखाते हैं। गाया भी हुआ है ब्रह्मा द्वारा स्थापना, ब्रह्मा द्वारा सभी शास्त्रों का सार सुनाते हैं। निराकार सुनाते हैं साकार द्वारा। यह बातें अच्छी रीति धारण करनी पड़े। भगवानुवाच – मैं राजयोग सिखलाता हूँ। विनाश के पहले स्थापना भी जरूर चाहिए। पहले-पहले है स्थापना। बड़ा ही क्लीयर लिखते रहते हैं। ब्रह्मा द्वारा सूर्यवंशी घराने की स्थापना। लिखत में बड़ा अच्छा राज़ है परन्तु जबकि कोई मेहनत कर और सर्विस में लग जाए। सर्विस में लग जाने से फिर मजा आयेगा। मम्मा-बाबा को भी सर्विस में मजा आता है। बच्चों को भी सर्विस करनी है, मम्मा को तो मन्दिर में नहीं ले जायेंगे। मम्मा की तो बड़ी महिमा है, बच्चों को तो जाना ही पड़े। बाबा कहते हैं वानप्रस्थियों के पास जाकर उन्हों से प्रश्न पूछो फिर समझाओ कि कभी गीता अध्ययन की है? गीता का भगवान् कौन है? भगवान् तो एक ही निराकार होता है। साकार को भगवान् नहीं कहेंगे। भगवान् एक है। इसमें सर्विस का बहुत विचार सागर मंथन चलना चाहिए। प्रैक्टिस करनी है तो बाहर जाकर ट्रायल करनी चाहिए। जगत अम्बा का दर्शन करने रोज़ आते हैं। त्रिवेणी पर भी मनुष्य बहुत जाते हैं। वहाँ भी जाकर सर्विस करे, भाषण करे तो ढेर आकर इकट्ठे होंगे। निमंत्रण देते रहेंगे – हमारे पास आकर सतसंग करो। बाबा-मम्मा तो कहाँ जा नहीं सकते, बच्चे जा सकते हैं। बंगाल में काली का मन्दिर है वहाँ भी बहुत सर्विस कर सकते हो। काली कौन है? इस पर भाषण करो। परन्तु हिम्मत चाहिए। बाबा जानते हैं कौन समझा सकते हैं? जिनमें देह-अभिमान है वह क्या सर्विस कर सकेंगे? सर्विस का सबूत नहीं देते। सर्विस अगर पूरी नहीं की तो नाम बदनाम करेंगे। योगी में बल बड़ा अच्छा रहता है। समझाने के लिए प्वाइन्ट्स बहुत देते रहते हैं। परन्तु अच्छे-अच्छे महारथी भी भूल जाते हैं। सर्विस तो बहुत है, इसको कहा जाता है बेहद की सर्विस फिर वह मान भी बहुत पाते हैं। मुख्य है पवित्रता की बात। चलते-चलते टूट पड़ते हैं। लौकिक बाप से कभी किसको भी निश्चय नहीं टूटता। यहाँ बाबा के पास जन्म लेते हैं। ऐसे बाप को फिर घड़ी-घड़ी भूल जाते हैं क्योकि विचित्र है ऐसे बाप का चित्र नहीं है। बाप कहते हैं मुझे याद करो और तुम पवित्र बनो तो मेरे पास आ जायेंगे। आत्मा समझती है – हमने ही 84 जन्मों का पार्ट बजाया है। आत्मा में पार्ट नूंधा हुआ है। शरीर में थोड़ेही पार्ट है। इतनी छोटी सी आत्मा में कितना भारी पार्ट है! यह बुद्धि में कितना नशा रहना चाहिए, व्यवहार के साथ-साथ यह सर्विस भी कर सकते हैं। माँ-बाप तो कहाँ भी नहीं जायेंगे। बच्चे कहाँ भी जाकर सर्विस कर सकते हैं। बच्चों को ही लकी स्टार्स कहा जाता है। अच्छा!

मीठे-मीठे ज्ञान लकी सितारों को मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) देह-अभिमान छोड़ सर्विस करनी है। विचार सागर मंथन कर बेहद की सर्विस का सबूत देना है।

2) इस मृत्युलोक से पुराने सब हिसाब-किताब चुक्तू करने हैं। पुरानी देह और पुरानी दुनिया को बुद्धि से भूलते जाना है।

वरदान:- कर्म करते शक्तिशाली स्टेज पर स्थित हो रूहानी पर्सनैलिटी का अनुभव कराने वाले कर्मयोगी भव
आप बच्चे सिर्फ कर्मकर्ता नहीं हो लेकिन योगयुक्त होकर कर्म करने वाले कर्मयोगी हो। तो आप द्वारा हर एक को यह अनुभव हो कि यह काम तो हाथ से कर रहे हैं लेकिन काम करते भी अपनी शक्तिशाली स्टेज पर स्थित हैं। चाहे साधारण रीति से चल रहे हैं, खड़े हैं लेकिन रूहानी पर्सनैलिटी का दूर से ही अनुभव हो। जैसे दुनियावी पर्सनैलिटी आकर्षित करती है, ऐसे आपकी रूहानी पर्सनैलिटी, प्योरिटी की पर्सनैलिटी, ज्ञानी वा योगी तू आत्मा की पर्सनैलिटी स्वत: आकर्षित करेगी।
स्लोगन:- सही राह पर चलने वाले तथा सबको सही राह दिखाने वाले सच्चे-सच्चे लाइट हाउस हैं।
Font Resize