brahmakumaris murli

TODAY MURLI 12 MAY 2021 DAILY MURLI (English)

12/05/21
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, only when you have become completely pure will your sacrifice be accepted. Each of you should ask your heart how pure you have become.
Question: Why do you children sacrifice yourselves to the Father in great happiness at this time?
Answer: Because you know that by your sacrificing yourselves to the Father at this time, He will sacrifice Himself to you for 21 births. You children also know that, all human beings have to be sacrificed at this time in the imperishable sacrificial fire of the knowledge of Rudra. This is why you sacrifice your bodies, minds and wealth in great happiness in advance and use everything you have in a worthwhile way.
Song: Look at your face in the mirror of your heart!

Om shanti. God Shiva speaks. He definitely gives knowledge and shrimat to His children alone: O children, o souls! “When life leaves the body” and “When the soul leaves the body” are one and the same. O human being, or O child, did you see how much sin and charity there has been in your life? You have been told the calculation of how there is charity for half the cycle and sin for the other half. You receive your inheritance of charity from the Father, who is called Rama. It is the incorporeal One who is called Rama. This doesn’t refer to the one who belongs to Sita. It has now entered the intellects of you children, who have become Brahmins, the mouth-born creation of Brahma, that you truly were pure and charitable souls for half the cycle and that you then became sinful souls for half the cycle. You now have to become pure and charitable souls. Each one of you can ask your heart how much of a charitable soul you have become. The Father has also explained to you how you can become a charitable soul from a sinful soul. You cannot become charitable souls by holding sacrificial fires or by doing tapasya, etc. That is the path of devotion. No human being becomes a charitable soul by doing that. You children now understand that you are becoming charitable souls. By becoming sinful souls through following devilish dictates you have continued to come down the ladder. None of you know for how long you become charitable souls and claim the inheritance of happiness. All human beings remember that Father and they call Him the Supreme Father, the Supreme Soul. Brahma, Vishnu and Shankar cannot be called God. No one else can be called God. Although you speak of Prajapita Brahma at this time, not everyone on the path of devotion remembers the Father of People (Prajapita). Only the incorporeal Father is remembered by everyone. O God, the Father! O Bhagvan (God)! These are the words that emerge from their mouths. They only remember the One. Human beings can never call themselves God, the Father, nor can Brahma, Vishnu or Shankar call themselves God, the Father. They have bodily names. There is only one God, the Father. He doesn’t have a body of His own. On the path of devotion, people worship Shiva a great deal. Now you children know that Shiv Baba is talking to you through this body: “O children!” He says this with so much love! He knows that He is the Purifier and the Bestower of Salvation for All. People sing the praise of the Father, but they don’t know that He comes after 5000 years. He definitely comes when it is the end of the iron age. It is now the end of the iron age and so He definitely has come. It isn’t Krishna who is teaching you. You receive shrimat, but it is not from Krishna. The Krishna soul too became a deity by following shrimat. Having taken 84 births, you now follow devilish dictates. The Father says: I come when your cycle is about to end. You, who came in the beginning, are now in a state of total decay. When a tree reaches the state of total decay, the whole tree becomes like that. The Father explains: By your becoming tamopradhan, everyone has become tamopradhan. This is the variety religion tree of the human world. It is also called the inverted tree; its Seed is up above. The whole tree emerges from that Seed. People say: O God, the Father! Souls say this. The name of each soul is soul. When a soul enters a body, a name is given to the body. The play continues. There is no play in the world of souls. This is the place for the play. There is light and everything here for the play. There is no sun, moon or performance of the drama where souls live. Day and night exist here. There is no night or day in the subtle region or in the incorporeal world. This is the field of action. It is here that people perform good and bad actions. There are good actions in the golden and silver ages because Ravan’s kingdom of the five vices is not there. The Father sits here and tells you the secrets of action, neutral action and sinful action. Actions have to be performed because this is the field of action. All the actions that people in the golden age perform are neutral. There is no kingdom of Ravan there. That is called heaven. There is no heaven at this time. In the golden age there was just the one Bharat; there were no other lands. It is said: Heavenly God, the Father. Therefore, the Father definitely creates heaven. Those of all nations know that Bharat is an ancient land. No one knows that there was only Bharat at first. It is not like that any more. This is a matter of 5000 years ago. It is said that Bharat was heaven 3000 years before Christ. The Creator definitely creates creation. Because of having tamopradhan intellects, they don’t even understand this much. Bharat is the highest land of all. It is the first generation of the human world. This drama is predestined. Wealthy people help the poor. This has also continued from the beginning. On the path of devotion too, the wealthy donate to the poor. However, this is the impure world. No matter what donations are given by people, it is impure ones who donate and impure ones who receive. What fruit would be received from impure ones donating to impure ones? No matter how many donations they have made and how much charity they have been performing, they have continued to come down. There is no other land that donates in the way that Bharat does. You now sacrifice everything you have, your body, mind and wealth, in this. This is called the imperishable sacrificial fire of the knowledge of Rudra in which the horse is sacrificed to attain self-sovereignty. The soul says: This old body also has to be sacrificed here. You know that the people of the whole world will be sacrificed into this. Therefore, why should we not sacrifice ourselves to Baba in happiness? You souls know that you remember the Father. You have been saying: Baba, when You come, I will sacrifice myself to You because when I sacrifice myself to You, you will sacrifice Yourself to me for 21 births. This is a deal. I sacrifice myself to You and You sacrifice Yourself to me 21 times. The Father says: I will not accept the sacrifice of you souls until you become pure. The Father says: Constantly remember Me alone and you souls will become pure. By forgetting the Father you have become so impure and unhappy! When people are unhappy, they seek refuge. You have been made very unhappy by Ravan for 63 births. It isn’t just a question of one Sita; all human beings are Sitas. They have just written the story in the Ramayana of how Sita was put in the cottage of sorrow by Ravan. In fact, all of that refers to this time. All are in the jail of Ravan, which means the five vices, and this is why they call out in sorrow: Liberate us from this! It is not a question of just one. The Father explains: The whole world is in Ravan’s jail. This is Ravan’s kingdom. Gandhiji and all the others said that they wanted the kingdom of Rama. Sannyasis never say that they want the kingdom of Rama. It is only the people of Bharat who say this. There is no original eternal deity religion at this time. There are all the other branches. When there was the golden age, there was just the one original eternal deity religion at that time. That name changed. They forgot their own religion and were converted to other religions. The population of Hindus is less that it would have been, as many have been converted into other religion. This is why the population of the people of Bharat became smaller. Otherwise, the population of the people of Bharat would be the largest. They were converted to many religions. The Father says: Your original eternal deity religion is the highest of all. You were satopradhan and then you changed and became tamopradhan. You children understand that the Ocean of Knowledge, the Purifier, to whom you called out, is now personally teaching you. He is the Ocean of Knowledge and the Ocean of Love. Christ cannot be praised in the same way. Krishna cannot be called the Ocean of Knowledge or the Purifier. There is only one ocean. All around in all four directions, there is only one ocean; there aren’t two oceans. This is the play of the human world. Each one has his own part in this. The Father says: My duty is completely different from everyone else’s duty. I am the Ocean of Knowledge. You call out to Me, the Purifier. Then you call Me the Liberator. From what does He liberate you? No one knows this either. You know that you were very happy in the golden and silver ages. That was called heaven. It is now hell, which is why everyone calls out: Liberate us from sorrow and take us to the land of happiness! Sannyasis never say that So-and-so has become a resident of heaven. They say that So-and-so has gone to Nirvana, the land beyond. Abroad, too, they say: So-and-so left for the heavenly abode. They believe that that soul went to God, the Father. Because there truly was heaven, they speak of Heavenly God, the Father. It doesn’t exist now. After hell, there has to be heavenGod, the Father, has to come here to establish heavenHeaven is not in the subtle region or in the incorporeal world. The Father definitely has to come here. The Father says: I come and take the support of matter. I do not take birth in the way that human beings do. I don’t enter a womb. Each of you enters a womb. In the golden age, a womb is like a palace because there are no sins performed there for which there would have to be punishment. This is why that is called the palace of a womb. Here, souls perform sinful actions and they therefore have to experience punishment. This is why a womb is called a jail. Here, in the kingdom of Ravan, people continue to commit sin. This is the world of sinful souls. That is the world of charitable souls, heaven. It is said that Krishna came floating on a pipal leaf. This is how they show the praise of Krishna. In the golden age, there is no sorrow in a womb. The Father explains to you the philosophy of action, neutral action and sinful action. They have made the scripture, the Gita, from this, but, instead of saying that God Shiva speaks, they have used Krishna’s name. You now know that you are claiming your inheritance of unlimited happiness from the unlimited Father. Bharat is now cursed by Ravan and this is why it has become so degraded. This big curse is also fixed in the drama. The Father comes and gives blessings: May you have a long life! May you have children! May you be wealthy! He gives you your inheritance of all types of happiness. He comes and teaches you. You become deities by studying this. The new creation is being created. The Father makes you belong to Him through Brahma. Prajapita Brahma has been remembered. You have become his children, Brahma Kumars and Kumaris. You claim the Grandfather’s inheritance through the father. You claimed it previously too. The Father has now come again. The children of the Father should go to the Father. However, it has been remembered that the human world was established through Prajapita Brahma. This has to take place here, does it not? In relation to souls, you say that you are brothers. When you become the children of Prajapita Brahma, you are brothers and sisters. At this time, all of you are brothers and sisters. You claimed your inheritance from the Father. Even now, you are claiming your inheritance from the Father. Shiv Baba says: Remember Me! You souls have to remember Shiv Baba. It is only by remembering Him that you will become pure. There is no other way. You cannot go to the land of liberation without becoming pure. At first, in the land of liberation-in-life, there was the ancient deity religion. Later, all the other religions began to come into existence, numberwise. The Father comes at the end and liberates everyone from sorrow. He is called the Liberator. The Father says: Simply remember Me and your sins will be burnt away. You even call out: Baba, come! Make us pure from impure! A teacher just teaches you. Does he create your character? This too is a study. Only the Father, the Ocean of Knowledge, comes and gives you knowledge. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. 1. Know the philosophy of action, neutral action and sinful action and don’t perform any more sinful actions. While performing actions on the field of action, renounce all the vices and thereby remain safe from sinful actions.
  2. Become pure to such an extent that the Father accepts your sacrifice. Become pure and go to the pure world. Sacrifice your body, mind and wealth into this sacrificial fire and use everything you have in a worthwhile way.
Blessing: May you be an intense effort-maker who finishes all the different forms of laziness and constantly has enthusiasm.
At present, Maya attacks you in various forms of laziness. Laziness is a particular vice and in order to finish it, you have to remain enthusiastic. When you have the enthusiasm to earn an income, your laziness finishes, and so you must never allow your enthusiasm to decrease. “I will think about it. I will do it, I will definitely do it, it will happen…” are all signs of laziness. Finish all of those weak thoughts that are filled with laziness and think “Whatever I have to do and however much I have to do, I have to do that now.” You will then be said to be an intense effort-maker.
Slogan: A truly serviceable soul is one whose thinking and doing are equal.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 12 MAY 2021 : AAJ KI MURLI

12-05-2021
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – जब तुम सम्पूर्ण पावन बनोगे तब ही बाप तुम्हारी बलिहारी स्वीकार करेंगे, अपनी दिल से पूछो हम कितना पावन बने हैं!”
प्रश्नः- तुम बच्चे अभी खुशी-खुशी से बाप पर बलि चढ़ते हो – क्यों?
उत्तर:- क्योंकि तुम जानते हो, अभी हम बलिहार जाते हैं तो बाप 21 जन्मों के लिए बलिहार जाते हैं। तुम बच्चों को यह भी मालूम है कि अब इस अविनाशी रूद्र ज्ञान यज्ञ में सब मनुष्य-मात्र को स्वाहा होना ही है इसलिए तुम पहले ही खुशी-खुशी से अपना तन-मन-धन सब कुछ स्वाहा कर सफल कर लेते हो।
गीत:- मुखड़ा देख ले प्राणी…

ओम् शान्ति। शिव भगवानुवाच। जरूर अपने बच्चों प्रति ही नॉलेज सिखाते हैं वा श्रीमत देते हैं – हे बच्चों वा हे प्राणी, शरीर से प्राण निकल जाते हैं वा आत्मा निकल जाती है, एक ही बात है। हे प्राणी अथवा हे बच्चे, तुमने देखा कि मेरे जीवन में कितना पाप था और कितना पुण्य था! हिसाब तो बता दिया है – तुम्हारे जीवन में आधाकल्प पुण्य, आधाकल्प पाप होते हैं। पुण्य का वर्सा बाप से मिलता है, जिसको राम कहते हैं। राम, निराकार को कहा जाता है, न कि सीता वाला राम। तो अब तुम बच्चे जो आकर के ब्रह्मा मुख वंशावली ब्राह्मण बने हो, तुम्हारी बुद्धि में आया है बरोबर आधाकल्प हम पुण्य-आत्मा ही थे फिर आधाकल्प पाप-आत्मा बने। अभी पुण्य-आत्मा बनना है। कितना पुण्य-आत्मा बने हैं, वह हर एक अपनी दिल से पूछे। पाप-आत्मा से पुण्य-आत्मा कैसे बनेंगे…. वह भी बाप ने समझाया है। यज्ञ, तप आदि से तुम पुण्य-आत्मा नहीं बनेंगे, वह है भक्ति मार्ग, इससे कोई भी मनुष्य पुण्य-आत्मा नहीं बनते हैं। अभी तुम बच्चे समझते हो, हम पुण्य-आत्मा बन रहे हैं। आसुरी मत से पाप-आत्मा बनते-बनते सीढ़ी उतरते ही आये हैं। कितना समय हम पुण्य-आत्मा बनते हैं वा सुख का वर्सा लेते हैं – यह किसको पता नहीं है। उस बाप को याद तो सभी मनुष्य करते हैं, उनको ही परमपिता परमात्मा कहते हैं। ब्रह्मा-विष्णु-शंकर को परमात्मा नहीं कहेंगे और किसको परमात्मा नहीं कह सकते हैं। भल इस समय तुम प्रजापिता ब्रह्मा कहते हो परन्तु प्रजापिता को कभी भक्तिमार्ग में याद नहीं करते हैं। याद सभी फिर भी निराकार बाप को ही करते हैं – ओ गॉड फादर, ओ भगवान अक्षर ही निकलते हैं। एक को ही याद करते हैं। मनुष्य अपने को गॉड फादर कह न सकें। ना ही ब्रह्मा-विष्णु-शंकर अपने को गॉड फादर कह सकते हैं। उनके शरीर का नाम तो है ना। एक ही गॉड फादर है, उनको अपना शरीर नहीं है। भक्ति मार्ग में भी शिव की बहुत पूजा करते हैं। अभी तुम बच्चे जानते हो – शिवबाबा इस शरीर द्वारा हमसे बात करते हैं – हे बच्चों, कितना प्यार से कहते हैं समझते हैं, मैं सर्व का पतित-पावन, सद्गति दाता हूँ। मनुष्य बाप की महिमा करते हैं ना लेकिन उनको यह पता नहीं है कि 5 हजार वर्ष बाद आते हैं। जरूर जब कलियुग का अन्त होगा तब ही तो आयेंगे। अभी कलियुग का अन्त है तो जरूर अब आया हुआ है। तुमको कृष्ण नहीं पढ़ाते हैं। श्रीमत मिलती है, श्रीमत कोई कृष्ण की नहीं है। कृष्ण की आत्मा भी श्रीमत से सो देवता बनी थी फिर 84 जन्म लेते अब तुम आसुरी मत के बने हो। बाप कहते हैं- मैं आता ही तब हूँ जब तुम्हारा चक्र पूरा होता है। तुम जो शुरू में आये थे, अब जड़जड़ीभूत अवस्था में हो। झाड़ पुराना जड़जड़ीभूत होता है तो सारा झाड़ ऐसा हो जाता है। बाप समझाते हैं – तुम्हारे तमोप्रधान बनने से सब तमोप्रधान बन गये हैं। यह मनुष्य सृष्टि का, वैरायटी धर्मों का झाड़ है, इसको उल्टा झाड़ कहते हैं, इसका बीज ऊपर में है। उस बीज से ही सारा झाड़ निकलता है। मनुष्य कहते भी हैं “गॉड फादर”। आत्मा कहती है, आत्मा का नाम आत्मा ही है। आत्मा शरीर में आती है तो शरीर का नाम रखा जाता है, खेल चलता है। आत्माओं की दुनिया में खेल नहीं चलता। खेल की जगह ही यह है। नाटक में रोशनी आदि सब होती है। बाकी जहाँ आत्मायें रहती हैं, वहाँ सूर्य चांद नहीं हैं, ड्रामा का खेल नहीं चलता है। रात-दिन यहाँ होते हैं। सूक्ष्मवतन वा मूलवतन में रात-दिन नहीं होते, कर्मक्षेत्र यह है। इसमें मनुष्य अच्छे कर्म भी करते हैं, बुरे कर्म भी करते हैं। सतयुग-त्रेता में अच्छे कर्म होते हैं क्योंकि वहाँ 5 विकार रूपी रावण का राज्य ही नहीं। बाप बैठ कर्म, अकर्म, विकर्म का राज़ बताते हैं। कर्म तो करना ही है, यह कर्मक्षेत्र है। सतयुग में जो मनुष्य कर्म करते हैं वह अकर्म हो जाता है। वहाँ रावणराज्य ही नहीं, उनको हेविन कहा जाता है। इस समय हेविन है नहीं। सतयुग में एक ही भारत था और कोई खण्ड नहीं था। हेविनली गॉड फादर कहते हैं तो बाप जरूर हेविन ही रचेंगे। यह सब नेशन वाले जानते हैं कि भारत प्राचीन देश है। पहले-पहले सिर्फ भारत ही था, यह कोई नहीं जानते हैं। अभी तो नहीं है ना। यह है ही 5 हजार वर्ष की बात। कहते भी हैं क्राइस्ट से 3 हजार वर्ष पहले भारत हेविन था। रचयिता जरूर रचना रचेंगे। तमोप्रधान बुद्धि होने कारण इतना भी नहीं समझते। भारत तो सबसे ऊंच खण्ड है। पहली बिरादरी है, मनुष्य सृष्टि की। यह भी ड्रामा बना हुआ है। साहूकार गरीबों को मदद करते हैं, यह भी चला आता है। भक्ति मार्ग में भी साहूकार गरीबों को दान करते हैं। परन्तु यह है ही पतित दुनिया। तो जो, जो कुछ भी दान पुण्य करते हैं, पतित ही करते हैं, जिसको दान करते हैं वह भी पतित हैं। पतित, पतित को दान करेंगे, उनका फल क्या पायेंगे। भल कितना भी दान-पुण्य करते आये हैं, फिर भी गिरते आये हैं। भारत जैसा दानी खण्ड और कोई नहीं होता। इस समय तुम्हारा जो भी तन, मन, धन है, सब इसमें स्वाहा करते हो, इनको कहा जाता है राजस्व अश्वमेध अविनाशी ज्ञान यज्ञ। आत्मा कहती है – यह जो पुराना शरीर है, इनको भी यहाँ स्वाहा करना है क्योंकि तुम जानते हो – सारी दुनिया के मनुष्य-मात्र इसमें स्वाहा होते हैं, इसलिए हम क्यों नहीं खुशी से बाबा पर बलि चढ़ जायें। आत्मा जानती है – हम बाप को याद करते हैं। कहते भी आये हैं, बाबा आप जब आयेंगे तो हम बलिहार जायेंगे क्योंकि अब हमारे बलिहार जाने से आप फिर 21 जन्म के लिए बलिहार जायेंगे। यह सौदागरी है। हम आप पर बलिहार जाते हैं तो आप भी तो 21 बार बलिहार जाते हैं। बाप कहते हैं- जब तक तुम्हारी आत्मा पवित्र नहीं बनी है तब तक हम बलिहारी स्वीकार नहीं करते हैं।

बाप कहते हैं – मामेकम् याद करो तो आत्मा प्योर बन जायेगी। बाप को भूलने से तुम कितने पतित दु:खी हुए हो। मनुष्य दु:खी होते हैं तो फिर शरणागति लेते हैं। अभी तुम 63 जन्म रावण से बहुत दु:खी हुए हो। एक सीता की बात नहीं, सब सीतायें हैं, जो भी मनुष्य मात्र हैं। रामायण में तो कहानी लिख दी है। सीता को रावण ने शोक वाटिका में डाला। वास्तव में बात सारी इस समय की है। सभी रावण अर्थात् 5 विकारों की जेल में हैं इसलिए दु:खी हो पुकारते हैं – हमको इनसे छुड़ाओ। एक की बात नहीं। बाप समझाते हैं सारी दुनिया रावण की जेल में है। रावण राज्य है ना। कहते भी हैं – रामराज्य चाहिए। गांधी ने भी कहा, संन्यासी कभी ऐसे नहीं कहेंगे कि रामराज्य चाहिए। भारतवासी ही कहेंगे। इस समय आदि सनातन देवी-देवता धर्म है नहीं और ब्रान्चेज हैं, सतयुग था। एक ही आदि सनातन देवी-देवता धर्म था। अभी वह नाम ही बदला हुआ है। अपने धर्म को भूल फिर और-और धर्म में कनवर्ट होते जाते हैं। मुसलमान आये कितने हिन्दुओं को अपने धर्म में कनवर्ट कर लिया। क्रिश्चियन धर्म में भी बहुत कनवर्ट हुए हैं इसलिए भारतवासियों की जनसंख्या कम हो गई है। नहीं तो भारतवासियों की जनसंख्या सबसे जास्ती होनी चाहिए। अनेक धर्मों में कनवर्ट हो गये हैं। बाप कहते हैं- तुम्हारा जो आदि सनातन देवी-देवता धर्म है, वह सबसे ऊंच है। सतोप्रधान थे, अब वही बदलकर फिर तमोप्रधान बने हैं। अब तुम बच्चे समझते हो- ज्ञान सागर, पतित-पावन जिसको बुलाते हैं, वही सम्मुख पढ़ा रहे हैं। वह ज्ञान का सागर, प्रेम का सागर है। क्राइस्ट की ऐसी महिमा नहीं करेंगे। कृष्ण को ज्ञान का सागर, पतित-पावन नहीं कहा जाता है। सागर एक होता है। चारों तरफ आलराउन्ड सागर ही सागर है। दो सागर नहीं होते हैं। यह मनुष्य सृष्टि का नाटक है, इसमें सबका अलग-अलग पार्ट है। बाप कहते हैं मेरा कर्तव्य सबसे अलग है, मैं ज्ञान का सागर हूँ। मुझे ही तुम पुकारते हो हे पतित-पावन, फिर कहते हो लिबरेटर। लिबरेट किससे करते हैं? यह भी कोई नहीं जानते। तुम जानते हो, हम सतयुग-त्रेता में बहुत सुखी थे, उसको स्वर्ग कहा जाता है। अभी तो है ही नर्क इसलिए पुकारते हैं – दु:ख से लिबरेट कर सुखधाम ले चलो। संन्यासी कभी नहीं कहेंगे कि फलाना स्वर्गवासी हुआ, वह फिर कहते हैं पार निर्वाण गया। विलायत में भी कहते हैं लेफ्ट फार हेविनली अबोड। समझते हैं, गॉड फादर पास गये। हेविनली गॉड फादर कहते हैं, बरोबर हेविन था। अब नहीं है। हेल के बाद हेविन चाहिए। गॉड फादर को यहाँ आकर हेविन स्थापन करना है। सूक्ष्मवतन, मूलवतन में कोई हेविन नहीं होता है। जरूर बाप को ही आना पड़ता है।

बाप कहते हैं – मैं आकर प्रकृति का आधार लेता हूँ, मेरा जन्म मनुष्यों मुआफिक नहीं है। मैं गर्भ में नहीं आता हूँ, तुम सभी गर्भ में आते हो। सतयुग में गर्भ महल होता है क्योंकि वहाँ कोई विकर्म होता नहीं जो सजा भोगें इसलिए उसको गर्भ महल कहा जाता है। यहाँ विकर्म करते, जिसकी सजा भोगनी पड़ती है, इसलिये गर्भ जेल कहा जाता है। यहाँ रावण राज्य में मनुष्य पाप करते रहते हैं। यह है ही पाप आत्माओं की दुनिया। वह है पुण्य आत्माओं की दुनिया – स्वर्ग, इसलिए कहते हैं पीपल के पत्ते पर कृष्ण आया। यह कृष्ण की महिमा दिखाते हैं। सतयुग में गर्भ में दु:ख नहीं होता है। बाप कर्म-अकर्म-विकर्म की गति समझाते हैं जिसका फिर शास्त्र गीता बनाया है। परन्तु उसमें शिव भगवानुवाच के बदले कृष्ण का नाम डाल दिया है। अब तुम जानते हो, हम बेहद के बाप से बेहद सुख का वर्सा लेते हैं। अभी भारत रावण से श्रापित है इसलिए दुर्गति हो गई है। यह बड़ा श्राप भी ड्रामा में नूँधा हुआ है। बाप आकर वर देते हैं – आयुश्वान भव, पुत्रवान भव, सम्पत्तिवान भव….. सभी सुख का वर्सा देते हैं। तुमको आकर पढ़ाते हैं, जिस पढ़ाई से तुम देवता बनते हो। यह नई रचना हो रही है। ब्रह्मा द्वारा तुमको बाप अपना बनाते हैं। गाया भी जाता है प्रजापिता ब्रह्मा। तुम उनके बच्चे ब्रह्माकुमार-कुमारियाँ बने हो। दादे से वर्सा बाप द्वारा लेते हो। आगे भी लिया था। अब फिर बाप आया है। बाप के बच्चे तो फिर बाप के पास जाने चाहिए। परन्तु गाया हुआ है, प्रजापिता ब्रह्मा द्वारा मनुष्य सृष्टि की स्थापना होती है। तो यहाँ होगी ना। आत्मा के सम्बन्ध में कहेंगे हम भाई-भाई हैं। प्रजापिता ब्रह्मा की सन्तान बनने से तुम भाई-बहिन बनते हो। इस समय तुम सब भाई-बहिन हो, तुमने बाप से वर्सा लिया था। अब भी बाप से वर्सा ले रहे हो। शिवबाबा कहते हैं- मुझे याद करो। तुम आत्मा को शिवबाबा को याद करना है। याद करने से ही तुम पावन बनेंगे और कोई उपाय नहीं है। पावन बनने सिवाए तुम मुक्तिधाम में जा भी नहीं सकते हो। जीवनमुक्तिधाम में पहले-पहले आदि सनातन देवी-देवता धर्म था फिर नम्बरवार और-और धर्म आये। बाप अन्त में आकर सबको दु:खों से मुक्त करते हैं। उनको कहा भी जाता है लिबरेटर। बाप कहते हैं – तुम सिर्फ मुझे याद करो तो तुम्हारे पाप भस्म हो जायेंगे। बुलाते भी हो बाबा आओ – हमको पतित से पावन बनाओ। टीचर तो पढ़ाते हैं, इसमें चरित्र करते हैं क्या? यह भी पढ़ाई है। बाप ज्ञान का सागर ही आकर ज्ञान देते हैं। अच्छा।

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों का नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) कर्म, अकर्म और विकर्म की गति को जान अब कोई विकर्म नहीं करना है। कर्मक्षेत्र पर कर्म करते हुए विकारों का त्याग करना ही विकर्म से बचना है।

2) ऐसा पावन बनना है जो हमारी बलिहारी बाप स्वीकार कर ले। पावन बनकर पावन दुनिया में जाना है। तन-मन-धन इस यज्ञ में स्वाहा कर सफल करना है।

वरदान:- आलस्य के भिन्न-भिन्न रूपों को समाप्त कर सदा हुल्लास में रहने वाले तीव्र पुरूषार्थी भव
वर्तमान समय माया का वार आलस्य के रूप में भिन्न-भिन्न तरीके से होता है। ये आलस्य भी विशेष विकार है, इसे खत्म करने के लिए सदा हुल्लास में रहो। जब कमाई करने का हुल्लास होता है तो आलस्य खत्म हो जाता है इसलिए कभी भी हुल्लास को कम नहीं करना। सोचेंगे, करेंगे, कर ही लेंगे, हो जायेगा…यह सब आलस्य की निशानी है। ऐसे आलस्य वाले निर्बल संकल्पों को समाप्त कर यही सोचो कि जो करना है, जितना करना है अभी करना है – तब कहेंगे तीव्र पुरुषार्थी।
स्लोगन:- सच्चे सेवाधारी वह हैं जिनका सोचना और कहना समान हो।

TODAY MURLI 11 MAY 2021 DAILY MURLI (English)

11/05/21
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, only from the one Father, not from any bodily being, do you receive the blessing of peace and happiness. Baba has come to show you the path to liberation and liberation-in-life.
Question: What effort do you have to make in order to go back with the Father and then come at the beginning of the golden age?
Answer: If you want to go back with the Father, become completely pure. In order to come at the beginning of the golden age, break your intellect’s yoga away from everyone else and stay in remembrance of the one Father. Definitely become soul conscious. If you follow the directions of the one Father, you claim a right to an elevated status.
Song: Show the path to us blind ones, dear God!

Om shanti. Who sang this song? The children, because there is only the one Father and He is called the Creator. Creation calls out to the Creator. Baba has explained to you that you have two fathers on the path of devotion: one is of this world and the other is from beyond this world. The Father of all souls is One. Because of having one Father, all souls call themselves brothers. They call out to that Father: O God, the Father! O Supreme Father, have mercy! Forgive me! Only the one God is the Protector of Devotees. First of all, explain that you have two fathers. The Father from beyond is the same One for everyone, whereas everyone’s worldly father is different. Therefore, which one is greater, a worldly father or the Father from beyond this world? A worldly father can never be called God or the Supreme Father. The Father of souls is only the one Supreme Father, the Supreme Soul. The name of souls never changes, whereas the names of bodies change. Souls play their parts through different bodies, that is, they take rebirth. Only the Father comes and explains how many births souls eventually take. Children, you don’t know about your own births. The Father comes in Bharat and His name is Shiva. They understand that Shiva is the Supreme Soul and they also celebrate the birthday of Shiva or the night of Shiva. He is incorporeal, just as souls are incorporeal. He comes into a corporeal form from the incorporeal in order to play His part. Incorporeal Shiva cannot play a part without a body. People don’t understand these things at all; they are completely blind. Everyone’s body has two physical eyes, but souls do not have the third eye of knowledge which is also called the divine eye. Souls have forgotten their Father, for this is why they call out, “Show the path to us blind ones!” The path to where? To the land of peace and the land of happiness. The Bestower of Salvation and the Satguru for all is One. Human beings cannot become gurus for human beings and grant them salvation. Neither do they themselves attain salvation, nor are they able to grant it to others. Only the one Father grants salvation to all. Remember that one Father, Alpha! The Father explains: No human being can grant liberation, liberation-in-life, peace or happiness for all time to anyone. Only the one Father can grant the blessing of peace and happiness. Human beings cannot grant it to human beings. The people of Bharat were satopradhan when they were golden-aged residents of heaven. Souls were pure. Bharat was called heaven when souls were pure and satopradhan. You know that 5000 years before today, Bharat truly was satopradhan heaven; it was the kingdom of Lakshmi and Narayan. It is now the end of the iron age and is called hell. When this Bharat was heaven it was very wealthy; there were palaces studded with diamonds and jewels. The Father reminds you children of this. It became the kingdom of Lakshmi and Narayan at the beginning of the golden age. That was called heaven, Paradise. The Father explains that it is no longer heaven. Baba only comes in Bharat. The birthday of incorporeal Shiva is celebrated, but no one knows what He does. The Father of us souls is Shiva. We are celebrating His birthday. They don’t even know the biography of the Father. It is remembered: Everyone remembers God at a time of sorrow. They call out: O God, the Father, have mercy! We are very unhappy because this is the kingdom of Ravan. They continue to burn an effigy of Ravan every year, but they don’t know who Ravan with ten heads is. Why do we burn him? What sort of enemy is he that we make an effigy of him and then burn it? The people of Bharat don’t know this at all because they don’t have the third eye of knowledge. That is why they desire the kingdom of Rama. There are five vices in man and five vices in woman and that is why this is called the community of Ravan. The five vices of Ravan are the greatest enemy and that is why people make an effigy of him and then burn it. The people of Bharat don’t know who Ravan is, the one whom they burn. No one even knows when the kingdom of Ravan came into existence. The Father explains that the golden and silver ages are the kingdom of Rama and that the copper and iron ages are the kingdom of Ravan. It was the kingdom of Lakshmi and Narayan in the golden age. No one knows how or from whom they received their kingdom. These matters have to be understood. Attention has to be paid to these things. The Father is the most beloved and this is why they call out to Him on the path of devotion. When it was their (Lakshmi and Narayan’s) kingdom in Bharat, there was no name or trace of sorrow. It is now the land of sorrow and there are so many religions. In the golden age there was just the one religion. No one knows where all of these souls will go because they are all blind. No one receives the third eye of knowledge from the scriptures. Only the Ocean of Knowledge, the Supreme Father, the Supreme Soul, gives you the eye of knowledge. Each of you souls receives a third eye of knowledge. Souls have forgotten how many births they have taken. Where did the kingdom of the deities of the golden age go? It is remembered that human beings take 84 births. They speak of a cycle of 84, but which souls take 84 births? Those who came into Bharat first were the deities. They take 84 births and become impure by the end. They sing: O Purifier! This proves that they themselves are impure, which is why they call out: O Purifier, come and purify us! How can those who are impure purify anyone else? The Father explains: For half the cycle, it is the path of devotion in the kingdom of Ravan. The people of Bharat have experienced so much sorrow because of the five vices. They take 84 births. This calculation has to be explained. At first, in the golden age, you are satopradhan and then, in the silver age, you are sato. Alloy becomes mixed into souls. The Father only comes in Bharat. There is the birthday of Shiva. All other souls take birth through a womb. The Father says: I enter an ordinary old body at the end of this, the last of many births. This explanation is not given to just one person. This is a Gita Pathshala. This Raja Yoga is taught to you human beings in order to change you into deities. You have come here to attain the sovereignty of heaven that only the Father can give you. No one becomes a king just by studying the Gita. In fact, he becomes even poorer. The Father gives you the knowledge of the Gita and makes you into kings. By listening to the Gita from others you have become poor. When it was the kingdom of Lakshmi and Narayan in Bharat, there was puritypeace and prosperity. It was the pure family ashram. There was no mention of violence there. Violence began in the copper age. This has become your condition by using the sword of lust. In the golden age you were 100% solvent and satopradhan. None of the sages or holy men or any other people know this secret. The Father, who is the Ocean of Knowledge, the Purifier, comes and tells you the way to become satopradhan. Look what people’s condition has become by following Ravan’s dictates! Even kings fall at the feet of the idols and sing the praise of those who were pure kings in the past: You are full of all virtues and we are degraded sinners, we have no virtues. Then, they say: Have mercy on us! Come and make us worthy to be in a temple. No one can understand how the Father comes and once again carries out establishment of the original eternal deity religion. You now understand that you belonged to the deity religion. We became warriors, merchants and shudras and took this many births and we are now completing our 84 births. The cycle of the world has to turn again. This is why you once again have to become pure here. No one who is impure can go back to the land of peace or the land of happiness. The Father explains that those of you who were satopradhan have become tamopradhan. You have come from the golden age into the iron age. You once again have to become golden aged, for only then can you go to the land of liberation and the land of happiness. Bharat was the land of happiness. It is now the land of sorrow. You heard in the song: Show the path to us who are blind. How can we go to our land of peace? Those people say that God is omnipresent, that He incarnates in this and that etc. Would the Father become Parsuram and kill anyone (Scripture story of Rama with an Axe). That is impossible. The Father explains how you have taken 84 births in this cycle. Now remember Me, Alpha! O souls, become soul conscious! By becoming body conscious you have become completely poverty-stricken and unhappy. You have become residents of hell. If you wish to become residents of heaven you definitely have to become soul conscious. Souls shed their bodies and take others. Your 84 births have now come to an end and you have to go to the beginning of the golden age. Now, remember Me and break your intellects’ yoga away from others. You may live at home with your families, but keep the faith that you are souls. A soul sheds his body and takes another. Now become soul conscious and remember Me and the alloy will be burnt. You will become pure and I will then take all the children back home with Me. If you don’t follow My directions you will not claim such a high status. Lakshmi and Narayan claimed a high status. When it was their kingdom, there were no other religions. All other religions started to come in the copper age. In the golden age there are few human beings. Now, because there are many religions, they have become so unhappy. The deities became impure and they could therefore no longer call themselves deities. They then gave themselves the name Hindu. There is no Hindu religion. The Father explains: Ravan has made you like that. When you were worthy deities, you ruled the whole world and you were all very happy. You have now become unhappy. Bharat was heaven and it has now become hell. No one can therefore make hell into heaven without the Father. Deities are called completely viceless. People here are completely vicious; they are called impure. Bharat was the Temple of Shiva established by Shiv Baba. The Father creates heaven and Ravan makes it into hell. Ravan curses you whereas the Father gives you the inheritance for 21 births. Now, each of you has to remember the Father and not any bodily beings. Bodily beings are not called God. There is only one God. The Father gives you an unlimited inheritance and then Ravan curses you. At this time, Bharat is cursed and experiencing a great deal of sorrow. Ravan now has to be conquered. It is remembered: When you donate the vices, the omens of the eclipse are removed. Other, physical eclipses are shadows over the earth. The Father now says: There are the omens of the eclipse of the five vices over you. You have to donate these five vices. The first donation to make is that of never indulging in vice. It is this sword of lust that makes human beings impure. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. 1. Study with full attention the knowledge that the Father teaches you. In this last birth, understand your 84 births with your third eye of knowledge and become pure.
  2. In order to be saved from the curse of Ravan, stay in remembrance of the one Father. Donate the five vices. Follow the directions of the one Father.
Blessing: May you make your awareness, attitude and vision alokik and become free from all attractions.
It is said: “As are your thoughts, so is your world.” Every thought of the special souls who are instruments to make the world new should be elevated, that is, they should be alokik. When your awareness, attitude and vision all become alokik, no person or thing of this world can then attract you. If it does attract you, there is definitely something missing in your spirituality. Alokik (spiritual) souls are free from all attractions.
Slogan: Merge God’s love and His powers in your heart and your mind will never be confused.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 11 MAY 2021 : AAJ KI MURLI

11-05-2021
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – सुख-शान्ति का वरदान एक बाप से ही मिलता है, कोई देहधारी से नहीं, बाबा आये हैं – तुम्हें मुक्ति-जीवनमुक्ति की राह दिखाने”
प्रश्नः- बाप के साथ जाने और सतयुग आदि में आने का पुरुषार्थ क्या है?
उत्तर:- बाप के साथ जाना है तो पूरा पवित्र बनना है। सतयुग आदि में आने के लिए और संग बुद्धियोग तोड़ एक बाप की याद में रहना है। आत्म-अभिमानी जरूर बनना है। एक बाप की मत पर चलेंगे तो ऊंच पद का अधिकार मिल जायेगा।
गीत:- नयन हीन को राह दिखाओ….

ओम् शान्ति। यह गीत किसने गाया? बच्चों ने क्योंकि बाप तो एक ही है, उसको ही रचयिता कहा जाता है। रचना, रचयिता को पुकारती है। बाबा ने समझाया है – भक्ति मार्ग में तो तुमको दो बाप हैं। एक लौकिक, दूसरा है पारलौकिक। सभी आत्माओं का बाप एक ही है। एक बाप होने से सभी आत्मायें अपने को ब्रदर्स कहते हैं। उस बाप को पुकारते हैं ओ गॉड फादर, ओ परमपिता रहम करो, क्षमा करो। भक्तों का रक्षक एक भगवान ही है। पहले-पहले तो यह समझाना चाहिए कि हमको दो बाप हैं। अब पारलौकिक बाप तो सभी का एक है। बाकी लौकिक बाप हर एक का अलग-अलग है। अब लौकिक बाप बड़ा वा पारलौकिक बाप बड़ा? लौकिक बाप को तो कभी भगवान वा परमपिता नहीं कहेंगे। आत्मा का बाप एक ही परमपिता परमात्मा है। आत्मा का नाम कभी बदलता नहीं है। शरीर का नाम बदलता है। आत्मा भिन्न-भिन्न शरीर ले पार्ट बजाती है अर्थात् पुनर्जन्म लेती है। आखिर भी कितने जन्म मिलते हैं। सो बाप ही आकर समझाते हैं। बच्चे तुम अपने जन्मों को नहीं जानते हो। बाप आते ही भारत में हैं, उनका नाम शिव है। समझते भी हैं शिव परमात्मा है। शिव जयन्ती वा शिवरात्रि भी मनाते हैं। वह निराकार है। जैसे आत्मा भी निराकार है, निराकार से साकार में आते हैं पार्ट बजाने। अब निराकार शिव तो शरीर बिगर पार्ट बजा न सके। मनुष्य इन बातों को कुछ भी नहीं समझते हैं, नयन हीन हैं। यह शरीर के दो नेत्र तो सबको हैं। तीसरा ज्ञान का नेत्र आत्मा को नहीं है, जिसको दिव्य-चक्षु भी कहते हैं। आत्मा अपने बाप को भूल गई है, इसलिए पुकारते हैं नयन हीन को राह बताओ। कहाँ की राह? शान्तिधाम और सुखधाम की। सर्व का सद्गति दाता, सतगुरू एक ही है। मनुष्य, मनुष्य का गुरू बन सद्गति दे नहीं सकता। न खुद सद्गति पाते हैं, न औरों को देते हैं। एक बाप ही सर्व को सद्गति देते हैं। उस अल्फ बाप को ही याद करना है। बाप समझाते हैं – कोई भी मनुष्य-मात्र मुक्ति-जीवनमुक्ति, शान्ति और सुख सदाकाल के लिए दे नहीं सकते। सुख-शान्ति का वरदान तो एक बाप ही दे सकते हैं। मनुष्य, मनुष्य को नहीं दे सकते। भारतवासी सतोप्रधान थे तो सतयुगी स्वर्गवासी थे। आत्मा पवित्र थी। भारत को स्वर्ग कहा जाता है जबकि आत्मायें पवित्र, सतोप्रधान थीं।

तुम जानते हो, बरोबर आज से 5 हजार वर्ष पहले भारत स्वर्ग, सतोप्रधान था। इन लक्ष्मी-नारायण का राज्य था। अभी कलियुग का भी अन्त है, इसको नर्क कहा जाता है। यही भारत स्वर्ग था तो बहुत धनवान था। हीरे-जवाहरों के महल थे। बाप बच्चों को याद दिलाते हैं। सतयुग आदि में इन लक्ष्मी-नारायण की राजधानी थी। उसको स्वर्ग बैकुण्ठ कहा जाता है। अभी तो स्वर्ग है नहीं, यह बाप समझाते हैं। बाबा भारत में ही आते हैं। निराकार शिव की जयन्ती भी मनाते हैं, परन्तु वह क्या करते हैं, यह कोई नहीं जानते। हम आत्माओं का बाप शिव है, उनकी हम जयन्ती मनाते हैं। बाप की बायोग्राफी को भी नहीं जानते। गाया भी जाता है – दु:ख में सिमरण सब करें। पुकारते हैं ओ गॉड फादर रहम करो। हम बहुत दु:खी हैं क्योंकि यह रावण राज्य है। वर्ष-वर्ष रावण को जलाते हैं ना। परन्तु यह किसको पता नहीं कि 10 शीश वाला रावण क्या चीज़ है। हम उनको जलाते क्यों हैं, यह कौन सा दुश्मन है जो उनकी एफीज़ी बनाए जलाते हैं। भारतवासी बिल्कुल नहीं जानते क्योंकि ज्ञान का तीसरा नेत्र नहीं है तब तो रामराज्य माँगते हैं। 5 विकार स्त्री में, 5 विकार पुरूष में हैं इसलिए इनको रावण सम्प्रदाय कहा जाता है। यह रावण 5 विकार ही बड़े से बड़ा दुश्मन है, जिसका एफीजी बनाए जलाते हैं। भारतवासियों को यह पता नहीं पड़ता कि रावण है कौन, जिसको जलाते हैं। यह रावण राज्य कब से शुरू हुआ, यह भी किसको पता नहीं हैं। बाप समझाते हैं – रामराज्य – सतयुग, त्रेता। रावण राज्य – द्वापर, कलियुग। सतयुग में इन लक्ष्मी-नारायण का राज्य था, इन्हों को यह राज्य कहाँ से, कैसे मिला, यह कोई नहीं जानते। यह समझने की बातें है। इसमें अटेन्शन देना पड़ता है। मोस्ट बिलवेड बाप है तब तो उनको भक्ति मार्ग में भी पुकारते हैं। भारत में जब इन्हों का (लक्ष्मी-नारायण का) राज्य था तो दु:ख का नाम नहीं था। अभी दु:खधाम है, कितने अनेक धर्म हैं। सतयुग में एक धर्म था, इतनी सब आत्मायें कहाँ चली जायेंगी, किसको पता नहीं है क्योंकि नयनहीन हैं। शास्त्रों से ज्ञान का तीसरा नेत्र किसको नहीं मिलता है। ज्ञान नेत्र ज्ञान सागर परमपिता परमात्मा ही देते हैं। आत्मा को तीसरा नेत्र मिलता है। आत्मा भूल गई कि हमने कितने जन्म लिए हैं। सतयुग में जो देवी-देवताओं का राज्य था, वह कहाँ गया? गाते भी हैं मनुष्य 84 जन्म लेते हैं। 84 का चक्र कहते हैं। परन्तु कौन सी आत्मा 84 जन्म लेती है? जो पहले भारत में आते हैं वह थे देवी-देवता। फिर 84 जन्म भोग अन्त में पतित बन जाते हैं। गाते भी हैं – हे पतित-पावन, तो सिद्ध करते हैं हम पतित हैं इसलिए पुकारते हैं, हे पतित-पावन हमें पावन बनाने आओ। जो खुद ही पतित हैं वह फिर औरों को पावन कैसे बनायेंगे। बाप समझाते हैं आधाकल्प भक्ति मार्ग में रावण राज्य, 5 विकार होने कारण भारत ने इतना दु:ख को पाया है। 84 जन्म तो लेते ही हैं। उनका भी हिसाब समझाना चाहिए। पहले-पहले सतयुग में हैं सतोप्रधान, फिर त्रेता में हैं सतो….आत्मा में खाद पड़ती है। बाप आते ही भारत में हैं। शिव जयन्ती है ना। और सभी आत्मायें तो गर्भ में जन्म लेती हैं। बाप कहते हैं – मैं साधारण बूढ़े तन में प्रवेश करता हूँ, जिनका यह बहुत जन्मों के अन्त का जन्म है। यह समझानी कोई एक को नहीं दी जाती। यह गीता पाठशाला है। मनुष्य को देवता बनाने के लिए यह राजयोग सिखाया जाता है। तुम यहाँ आये हो स्वर्ग की बादशाही प्राप्त करने जो बाप ही दे सकते हैं। गीता पढ़ने से कोई राजा बनते नहीं हैं और ही रंक बनते जाते हैं। बाप गीता का ज्ञान सुनाए राजा बनाते हैं, औरों द्वारा गीता सुनने से रंक बन गये हैं। भारत में जब इन लक्ष्मी-नारायण का राज्य था तो प्योरिटी-पीस-प्रासपर्टी थी, पवित्र गृहस्थ आश्रम था। वहाँ हिंसा का नाम नहीं था फिर द्वापर से लेकर हिंसा शुरू हुई है। काम कटारी चलाते-चलाते तुम्हारी यह हालत आकर हुई है। सतयुग में 100 परसेन्ट सालवेन्ट थे, सतोप्रधान थे। यह राज़ कोई भी मनुष्य अथवा साधू-सन्त आदि नहीं जानते। बाप जो ज्ञान का सागर, पतित-पावन है वही आकर सतोप्रधान बनने की युक्ति बताते हैं। रावण की मत पर मनुष्यों का देखो क्या हाल हो गया है। राजे लोग भी, वह जो पवित्र राजायें होकर गये हैं उन्हों के चरणों में जाकर पड़ते हैं और महिमा गाते हैं – आप सर्वगुण सम्पन्न, हम नींच पापी हैं। हमारे में कोई गुण नहीं हैं फिर कहते हैं, आपेही तरस परोई। हमको आकर मन्दिर लायक बनाओ। किसकी भी समझ में नहीं आता कि बाप कैसे आकर फिर से देवी-देवता धर्म की स्थापना कराते हैं। अब तुम समझते हो हम सो देवी-देवता धर्म के थे। हम सो क्षत्रिय, वैश्य, शूद्र बनें, इतने जन्म लिए अब 84 जन्म पूरे हुए हैं। फिर दुनिया का चक्र फिरना चाहिए इसलिए फिर तुमको पावन यहाँ बनना है। पतित तो सुखधाम, शान्तिधाम में नहीं जा सकते। बाप समझाते हैं तुम जो सतोप्रधान थे वह तमोप्रधान बने हो। गोल्डन एज़ से फिर आइरन एज़ में आये हो फिर गोल्डन एज़ेड बनना है तब मुक्तिधाम, सुखधाम में जा सकेंगे। भारत सुखधाम था। अब दु:खधाम है। गीत में भी सुना – हम नयन हीन को राह बताओ…. हम अपने शान्तिधाम में कैसे जायें। वो लोग तो कह देते हैं – परमात्मा सर्वव्यापी है, फलाना अवतार है, परशुराम अवतार है। अब बाप परशुराम बन किसको मारते होंगे क्या? हो नहीं सकता। बाप समझाते हैं तुमने इस चक्र में कैसे 84 जन्म लिए हैं। अब मुझ अल्फ़ को याद करो। हे आत्मायें देही-अभिमानी बनो। देह-अभिमानी बन तुम बिल्कुल ही दु:खी कंगाल, नर्कवासी बन पड़े हो। अगर स्वर्गवासी बनना है तो आत्म-अभिमानी जरूर बनना है। आत्मा ही एक शरीर छोड़ दूसरा लेती है। अब 84 जन्म पूरे हुए हैं फिर सतयुग आदि में जाना है। अब मुझे याद करो और संग बुद्धियोग तोड़ो। रहो भल गृहस्थ व्यवहार में, अपने को आत्मा निश्चय करो। आत्मा एक शरीर छोड़ दूसरा लेती है। अब देही-अभिमानी बनना है, मुझे याद करो तो खाद सब जल जायेगी। तुम पवित्र बन जायेंगे फिर मैं सब बच्चों को ले जाऊंगा। अगर मेरी मत पर नहीं चलेंगे तो इतना ऊंच पद नहीं पायेंगे। इन लक्ष्मी-नारायण का ऊंच पद है। जब इन्हों का राज्य था तो और कोई धर्म नहीं था। द्वापर से फिर और धर्म आते हैं। सतयुग में मनुष्य भी थोड़े होते हैं। अब तो बहुत धर्म होने के कारण कितने दु:खी हो गये हैं। वही देवता धर्म वाले अब फिर पतित होने से अपने को देवता कहते नहीं हैं। हिन्दू नाम रख दिया है। हिन्दू तो कोई धर्म नहीं है। बाप समझाते हैं रावण ने तुमको ऐसा बना दिया है। तुम जब लायक देवी-देवता थे तब सारे विश्व पर राज्य था, सब सुखी थे। अब दु:खी बन पड़े हैं। भारत हेविन था वो अब हेल बन गया है फिर हेल को हेविन बाप बिगर कोई बना न सके। देवताओं को सम्पूर्ण निर्विकारी कहा जाता है। यहाँ के मनुष्य तो सम्पूर्ण विकारी हैं, इनको कहा जाता है पतित। भारत शिवालय था, शिवबाबा की स्थापना की हुई थी। बाप स्वर्ग बनाते हैं फिर रावण नर्क बनाते हैं। रावण श्राप देते हैं, बाप 21 जन्म के लिए वर्सा देते हैं। अब तुम हर एक बाप को ही याद करो, कोई भी देहधारी को नहीं। देहधारी को भगवान नहीं कहा जाता। भगवान तो एक ही है। बाप तो बेहद का वर्सा देते हैं फिर रावण श्रापित बना देते हैं। इस समय भारत श्रापित है, बहुत दु:खी है। अब इस रावण पर जीत पानी है। गाया भी जाता है दे दान तो छूटे ग्रहण। वो ग्रहण जो लगता है वह तो पृथ्वी का परछाया है। अब बाप कहते हैं तुम्हारे ऊपर 5 विकारों रूपी रावण का ग्रहण है। यह 5 विकार दान में दे देने हैं। पहला तो दान दो कि हम कभी विकार में नहीं जायेंगे। यह काम-कटारी ही मनुष्य को पतित बनाती है। अच्छा।

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बाप जो नॉलेज देते हैं उसे पूरा अटेन्शन देकर पढ़ना है। ज्ञान के तीसरे नेत्र से अपने 84 जन्मों को जान अब अन्तिम जन्म में पावन बनना है।

2) रावण के श्राप से बचने के लिए एक बाप की याद में रहना है। 5 विकारों का दान दे देना है। एक बाप की मत पर चलना है।

वरदान:- अपनी स्मृति, वृत्ति और दृष्टि को अलौकिक बनाने वाले सर्व आकर्षणों से मुक्त भव
कहा जाता है -“जैसे संकल्प वैसी सृष्टि” जो नई सृष्टि रचने के निमित्त विशेष आत्मायें हैं उनका एक-एक संकल्प श्रेष्ठ अर्थात् अलौकिक होना चाहिए। जब स्मृति-वृत्ति और दृष्टि सब अलौकिक हो जाती है तो इस लोक का कोई भी व्यक्ति वा कोई भी वस्तु अपनी ओर आकर्षित नहीं कर सकती। अगर आकर्षित करती है तो जरूर अलौकिकता में कमी है। अलौकिक आत्मायें सर्व आकर्षणों से मुक्त होंगी।
स्लोगन:- दिल में परमात्म प्यार वा शक्तियां समाई हुई हों तो मन में उलझन आ नहीं सकती।

TODAY MURLI 10 MAY 2021 DAILY MURLI (English)

10/05/21
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, constantly maintain the happiness that God, Himself, has become your Teacher and is teaching you. You are studying Raja Yoga, not praja yoga (yoga to become subjects), from Him.
Question: What is the wonder of this study? For how long will you have to continue to make effort?
Answer: In this study, which you have been studying for a long time, new children go ahead fast. It is a wonder that three month-old children can go ahead of the older children because their intellects are sharper. You have to continue to make effort until you pass fully and reach your karmateet stage and become free from all karmic accounts.

Om shanti. Where are you children sitting? In the school of the unlimited Father. You children should have very elevated intoxication. Whose children should have this intoxication? The children of the unlimited Father, who are spiritual children. The Father only teaches spirits. He doesn’t teach Gujaratis or Marathis. That is name and form. The Father only teaches you spirits. Only you children understand that your unlimited Father is the same One who is called God. There definitely are the versions of God, but people don’t understand who God is. They say: Salutations to the Supreme Soul, Shiva. There is only one Supreme Soul. He is the Highest on High, the incorporeal One. God Krishna isn’t teaching you nor did he ever teach you before. You know that the Father of us souls is teaching us. God is incorporeal. People still go to the temples of Shiva to worship Him and so He definitely must be something. There cannot be anything beyond name and form. Only at this time do you understand this. No one in the whole world understands this. It is only now that you have begun to understand this. You have been studying this for a long time. It isn’t that those who have only come now cannot go ahead of those who have been coming for a long time. It is also a wonder that even three month-old children can go ahead very fast. Some say: Baba, this soul’s intellect is very sharp. When new ones listen to this knowledge, they bubble up with happiness inside. All of you are Godly students. The incorporeal Father, the Ocean of Knowledge, is teaching you. “God speaks” is remembered, but when? They have forgotten this. Now, you children understand that there are some children whose father is also their teacher. However, he would only teach one subject and they would have other teachers for different subjects. Here, the Father is the Teacher of all of you children. This is a wonderful thing. There are many children who have the faith that Shiv Baba is teaching them. Shri Krishna cannot be called Baba. They don’t consider Krishna to be a teacher or a guru. This One is teaching you in a practical way. All of you sitting here are different students. Baba, the Teacher, will teach you until you pass and reach your karmateet stage. Until then, you have to continue to make effort. You have to become free from karmic accounts. You should have great happiness inside you that Baba is taking you to such a world. There is no other school like this where children would sit and be aware that the Father, the Resident of the supreme region, will come to teach them. You are now sitting here and you understand that your unlimited Baba comes to teach you. You should have great happiness inside you. Baba is teaching us Raja Yoga. This is not praja yoga (yoga to become subjects), but Raja Yoga. It is only by having this remembrance that the mercury of happiness of you children can rise. This is such an important examination, and you are sitting here so ordinarily. Muslim students are taught while sitting on a carpet on the floor. You come here with this faith. You are now sitting personally in front of the Father. Baba says: I am the Ocean of Knowledge. I come cycle after cycle to teach you Raja Yoga. Whether you speak of 84 births of Krishna or 84 births of Brahma, it is the same thing. Brahma becomes Shri Krishna. Your intellects should imbibe this very well. There should be great love for the Father. We souls are the children of the Father, the Supreme Father, the Supreme Soul, who comes and teaches us. It cannot be Krishna who does this. Krishna would not have taught you like this. Would he have taken off his crown etc. and come here? The one who teaches you has to be a mature person. The Father says: I have taken a mature body. This is fixed. Shiv Baba teaches you through Brahma alone. It is said: Truly, the Supreme Father, the Supreme Soul, carries out establishment through Brahma. They don’t understand where Brahma comes from. The Father sits here and repeatedly awakens you children and then Maya puts you back to sleep. You are now sitting personally in front of Me and you understand that I am your spiritual Father. You do know Me, do you not? It is sung: The Supreme Father, the Supreme Soul, is the Ocean of Knowledge, the Purifier, the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness. They never say this of Krishna; he couldn’t teach everyone at the same time. The murli is spoken in Madhuban and then sent to all the centres. You are now sitting personally in front of the Father. You know that Baba taught you in the same way in the previous cycle. It was this same time that is now the past which is now becoming the present. The things of the path of devotion now have to be renounced. You now have love for knowledge and for the One who is teaching you. When some study with a teacher, they give him a gift. Here, this Baba Himself gives you a gift. When He comes here and sees you in your corporeal forms, He feels: These are My children. You children know that not everyone takes 84 births. Even someone who only takes one birth would still go through happiness and sorrow. You now understand all of these matters. This is the genealogical tree of the human world. Number one are Brahma and Saraswati, Adi Dev and Adi Devi. Then the growth of innumerable religions continues. He is the Seed of all souls; all the rest are leaves. Prajapita Brahma is the Father of all people. Prajapita is now present at this time. Baba sits in him and converts shudras into Brahmins; no one else can do this. Only the Father changes you from shudras into Brahmins and then teaches you to become deities. This is the study of easy Raja Yoga. King Janak attained liberation-in-life in a second, that is, he became a resident of heaven. People continue to sing this but they are unable to explain it. The Father says: Children, now become soul conscious! You came here bodiless, adopted bodies and played your parts. We have truly taken 84 births. The Father, who is the Truth, only tells you the truth. There will be a kingdom and so it isn’t just one person who studies Raja Yoga. All of you are now changing from thorns into flowers. You now understand whom you call thorns and whom you call flowers. This is the world of dirty thorns. We have been around the cycle of 84 births and have become residents of hell. We will repeat the history and geography of the world. We will definitely become residents of heaven again. We become this cycle after cycle. Remember this repeatedly and also explain this knowledge to others. Lakshmi and Narayan belonged to the sun dynasty. Christ came and there were very few before him; there was no kingdom. The Father has now come and is establishing the golden-aged kingdom. Establishment takes place at the confluence age. It is now in your intellects that this is the true Kumbha mela. There are innumerable souls and one Supreme Soul. The Father, the Supreme Soul, comes to you children to purify you. This is called the Kumbha mela of the confluence age. You have now each received a third eye of knowledge. The Father comes and makes you into residents of heaven. Then, there definitely has to be destruction of the old world of hell. Destruction takes place every cycle. The new world becomes old and the old world becomes new. This will definitely happen. The new world is called heaven and the old world is called hell. The human population has grown so much. When they can’t obtain grain, they know that they have to grow a lot more grain. However, so many children continue to take birth. Where will they obtain grain from? You children now have the guarantee that this old world is to be destroyed. Human beings like this knowledge, but none of it sits in their intellects. It is in your intellects that heaven will come after hell. The deities of the golden age have been and gone. Lakshmi and Narayan were the masters of the world and there are their images. There is the original eternal deity religion in the golden age. People don’t call themselves those of the deity religion at this time. Instead, they say that they are Hindus. You children know very clearly that you are becoming deities. Baba is teaching you through these organs. Baba says: How else would I teach you? He only teaches souls because alloy is mixed in souls. You now have to become real gold. You went from the golden age into the silver age, that is, when the alloy of silver was mixed into the soul, you became part of the moon dynasty. You were in the golden age and you then came down and the population continued to increase. It is now in your intellects that you have been around the cycle of 84 births through the golden, silvercopper and iron ages. You have played these parts many times. No one can be liberated from his part. Some say that they want eternal liberation, but you, in fact, are the ones who should be distressed because you have been around the cycle of 84 births. People think that coming and going continues to take place, and so they ask why they can’t be liberated from it. However, it is not possible. Even gurus say: You will attain liberation. Remember the brahm element and you will merge into that. There are many different ideas and opinions in Bharat. There aren’t as many opinions in any other country. There are so many opinions here, all completely different from one another. People also study a lot of occult power. Some make saffron emerge and others do something else. People become very happy with that. This, however, is spiritual knowledge. You understand that the spiritual Father is the Father of us souls. Spiritual Baba is talking to us spirits. He comes and tells you the story of true Narayan and the story of immortality through which you become the masters of the land of immortality and Narayan from an ordinary human. You then become like shells. You have now received a birth as invaluable as a diamond. Therefore, why are you wasting it, chasing after shells? How many more years will this world remain? There continues to be so much fighting and quarrelling. Everything is to be destroyed. Death is standing just ahead of you. So, who would enjoy the hundreds of thousands or millions that you have? Why not use all of that in a worthwhile way instead? By opening this spiritual college, people become ever healthy, wealthy and happy. This is a hospital and university combined: there is health, wealth and happiness. Truly, you receive a long life with the power of yoga. You become so healthy! You receive limitless treasures. They show a play about Allah, the One who established the first religion. You understand that the original eternal deity religion established by Allah gives a lot of happiness: the very name is heaven. You were residents of the land of peace, and you then first went to the land of happiness and then continued to come down while taking 84 births. I sit here and explain to you children in this way every cycle. You do not know your own births. I explain them to you. You have taken 84 births and this costume is now impure and the soul has also become tamopradhan. Everything Baba tells you is right. Baba never tells you anything wrong. He is the Truth. The golden age is the viceless world, the righteous world. Ravan then makes you unrighteous. This is the land of falsehood. It is sung: Maya is false, the body is false and the world is false! Which world? The whole of the old world is false. The true world was in the golden age. There is only one world; there aren’t two worlds. The new world then becomes old. There is a difference between a new home and an old home. When a new house is being constructed, you understand that you will go and live in the new home. Here too, new houses are built for the children as the number of children continues to grow. You children should have a lot of happiness. The Father says: All the poor helpless children of Myself, the Ocean of Knowledge, have become completely burnt by sitting on the pyre of lust. I now make them sit on the pyre of knowledge. I seat them on the pyre of knowledge and make them into the masters of heaven. By sitting on the pyre of lust, they have become absolutely ugly. Krishna is called the ugly and the beautiful one, but no one is able to understand the meaning of that. Look at what you are now becoming from what you were! The Father changes you from shells into diamonds. Therefore, you should pay that much attention. You should remember the Father! It is only by having remembrance that you will become the masters of heaven. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. 1. Don’t waste this invaluable life that is like a diamond, chasing after shells. Death is standing just ahead. Therefore, use everything you have in a worthwhile way for spiritual service.
  2. Have true love for the study and the One who is teaching you. Maintain the happiness that God Himself comes to teach you.
Blessing: May you become an embodiment of attainments by experiencing all the powers with the awareness of having all rights.
If your intellect is constantly linked to the one Father, you receive the inheritance of all powers as a right. Those who perform every action while considering themselves to have a right do not need to say anything or ask for anything. The awareness of having all rights gives you the experience of attaining all powers. So, have the intoxication that all the powers are your birthright. Continue to move along as one who has all rights and dependency will then finish.
Slogan: Along with making yourself pure, to make the elements pure too is to be completely free from attachment.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 10 MAY 2021 : AAJ KI MURLI

10-05-2021
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – सदा इसी खुशी में रहो कि स्वयं भगवान हमें टीचर बनकर पढ़ाते हैं, हम उनसे राजयोग सीख रहे हैं, प्रजा योग नहीं”
प्रश्नः- इस पढ़ाई की खूबी कौन सी है? तुम्हें कब तक पुरुषार्थ करना है?
उत्तर:- यह पढ़ाई जो बहुत समय से करते आ रहे हैं, उनसे नये बच्चे तीखे चले जाते हैं। यह भी खूबी है जो 3 मास के तीखी बुद्धि वाले (तीव्र पुरुषार्थी) नये बच्चे पुरानों से भी आगे जा सकते हैं। तुम्हें पुरुषार्थ तब तक करना है जब तक पूरे पास न हो, कर्मातीत अवस्था न हो, सब हिसाब-किताब छूट न जायें।

ओम् शान्ति। बच्चे कहाँ बैठे हैं? बेहद के बाप के स्कूल में। बहुत ही ऊंचा नशा होना चाहिए बच्चों को। किसके बच्चों को? बेहद के बाप के बच्चों को अथवा रूहानी बच्चों को। बाप रूहों को ही पढ़ाते हैं। गुजराती वा मराठी को नहीं पढ़ाते हैं। वह तो नाम-रूप हो गया। बाप पढ़ाते ही हैं रूहों को। तुम बच्चे भी समझते हो हमारा बेहद का बाप वही है, जिसको भगवान कहते हैं। भगवानुवाच भी है जरूर परन्तु भगवान किसको कहा जाता है – यह समझते नहीं हैं। कहते भी हैं शिव परमात्मा नम:। परमात्मा तो एक ही है। वह है ऊंच ते ऊंच निराकार। तुमको कृष्ण भगवान नहीं पढ़ाते। न पढ़ाया था। तुम जानते हो हम आत्माओं का बाबा हमको पढ़ा रहे हैं। भगवान तो निराकार ही ठहरा। शिव के मन्दिर मे जाते हैं, उनकी पूजा भी करते हैं तो जरूर कोई चीज़ है। नाम-रूप से न्यारी कोई चीज़ थोड़ेही होती है। यह भी तुम अब समझते हो। सारी दुनिया में कोई भी नहीं जानते हैं। तुम भी अभी जानने लग पड़े हो। बहुत समय से जानते आये हो। ऐसे भी नहीं बहुत समय से आने वालों से नये तीखे नहीं जा सकते हैं। यह भी खूबी है। 3 मास के नये बच्चे भी बहुत तीखे हो सकते हैं। कहते हैं, बाबा इस आत्मा की बुद्धि बहुत तीखी है। नये जब सुनते हैं तो बड़े गद-गद होते हैं। हैं तो सब गॉडली स्टूडेन्ट। निराकार बाप ज्ञान का सागर पढ़ा रहे हैं। भगवानुवाच भी गाया हुआ है। परन्तु कब? वह भूल गये हैं।

अभी तुम बच्चे जानते हो – ऐसे भी कोई होते हैं, जिनका बाप टीचर होता है। परन्तु वह सिर्फ एक ही सब्जेक्ट पढ़ायेंगे, दूसरी सब्जेक्ट लिए दूसरा टीचर पढ़ायेंगे। यहाँ तो बाप सब बच्चों का टीचर है। यह वन्डरफुल बात है। ढेर बच्चे हैं, जिनको निश्चय है शिवबाबा हमको पढ़ाते हैं। श्रीकृष्ण को बाबा कह नहीं सकते। कृष्ण को ऐसे टीचर, गुरू भी नहीं समझते। यह तो प्रैक्टिकल पढ़ा रहे हैं। तुम भिन्न-भिन्न प्रकार के स्टूडेन्ट्स बैठे हो। बाबा टीचर पढ़ाते हैं, जब तक तुम पास हो जाओ। कर्मातीत अवस्था को पा लो तब तक पुरूषार्थ करना है। कर्मो के हिसाब-किताब से छूटना है। तुम्हें अन्दर में बड़ी खुशी होनी चाहिए – बाबा हमको ऐसी दुनिया में ले जाते हैं और कोई ऐसे स्कूल होते नहीं जो बच्चे बैठे हों और समझें परमधाम निवासी बाबा आकर हमें पढ़ायेंगे। अभी तुम यहाँ बैठते हो तो समझते हो हमारा बेहद का बाबा हमको पढ़ाने के लिए आते हैं। तो अन्दर में बड़ी खुशी होनी चाहिए। बाबा हमको राजयोग सिखा रहे हैं। यह प्रजा योग नहीं, यह है राजयोग। इस याद से ही बच्चों को खुशी का पारा चढ़ना चाहिए। कितना बड़ा इम्तहान है और तुम बैठे कितने साधारण हो। जैसे मुसलमान लोग बच्चों को दरी पर बैठ पढ़ाते हैं। तुम इस निश्चय से यहाँ आते हो। अब बाप के सम्मुख बैठे हो। बाबा भी कहते हैं मैं ज्ञान का सागर हूँ। मैं कल्प-कल्प आकर राजयोग सिखाता हूँ। कृष्ण के 84 जन्म कहो वा ब्रह्मा के 84 जन्म कहो, बात एक ही है। ब्रह्मा सो श्रीकृष्ण है। यह बुद्धि में अच्छी रीति धारण करना है। बाप के साथ बड़ा लव रहना चाहिए। हम आत्मायें उस बाप के बच्चे हैं, परमपिता परमात्मा आकर हमको पढ़ाते हैं। कृष्ण तो हो न सके। ऐसे थोड़ेही कृष्ण ने पढ़ाया होगा। ताज आदि उतार कर आया होगा। अब पढ़ाने वाला तो बुजुर्ग चाहिए। बाप कहते हैं मैंने बुजुर्ग तन लिया है, यह फिक्स है। शिवबाबा ब्रह्मा द्वारा ही पढ़ाते हैं। कहते भी हैं बरोबर परमपिता परमात्मा ब्रह्मा द्वारा स्थापना करते हैं। अब ब्रह्मा कहाँ से आया, यह समझते नहीं हैं। बाप बैठ घड़ी-घड़ी बच्चों को सुजाग करते हैं। माया फिर सुला देती है। अब तुम सम्मुख बैठे हो, समझते हो कि मैं तुम्हारा रूहानी बाप हूँ। मुझे जानते हो ना। गाते भी हैं परमपिता परमात्मा ज्ञान के सागर हैं, पतित-पावन, दु:ख हर्ता, सुख कर्ता हैं। कृष्ण के लिए यह कभी नहीं कहेंगे। सबको इकट्ठा तो पढ़ा नहीं सकते। मधुबन में मुरली चलती है, वह फिर सब सेन्टर्स पर जाती है। तुम अभी सम्मुख हो। जानते हो कल्प पहले भी बाबा ने ऐसे पढ़ाया था। यही समय था जो पास्ट हो गया। वह फिर अभी प्रेजेन्ट होना है। भक्तिमार्ग की बातें तो अब छोड़ देनी हैं। अभी तुम्हारी ज्ञान से प्रीत, पढ़ाने वाले से प्रीत है। कोई-कोई जब टीचर से पढ़ते हैं तो उनको सौगात देते हैं। यह बाबा तो खुद ही सौगात देते हैं। यहाँ आकर साकार में बच्चों को देखते हैं, यह हमारे बच्चे हैं। यह भी बच्चों को ज्ञान है – सब 84 जन्म नहीं लेते हैं। कोई का एक जन्म तो भी उसमें सुख-दु:ख पास करेंगे। अभी तुम इन सब बातों को समझ गये हो। यह मनुष्य सृष्टि का सिजरा है। पहले नम्बर में हैं ब्रह्मा-सरस्वती, आदि देव, आदि देवी। पीछे फिर अनेक धर्म होते जाते हैं। वह है सर्व आत्माओं का बीज। बाकी सब हैं पत्ते। प्रजापिता ब्रह्मा सबका बाप है। इस समय प्रजापिता हाज़िर है। यह बैठ शूद्र से कनवर्ट कर ब्राह्मण बनाते हैं। ऐसे कोई कर न सके। बाप ही तुमको शूद्र से ब्राह्मण बनाए फिर देवता बनाने लिए पढ़ा रहे हैं। यह है ही सहज राजयोग की पढ़ाई। राजा जनक ने भी सेकण्ड में जीवनमुक्ति को पाया अर्थात् स्वर्गवासी बन गया। मनुष्य गाते तो रहते हैं परन्तु फिर भी समझा नहीं सकते। अब बाप कहते हैं बच्चे देही-अभिमानी बनो। तुम अशरीरी आये थे, फिर शरीर लेकर पार्ट बजाया। बरोबर 84 जन्म लिए हैं। बाप जो ट्रूथ है, वह सत्य ही बतायेंगे। राजधानी हुई ना। राजयोग एक थोड़ेही सीखेंगे। तुम सब अभी कांटों से फूल बन रहे हो। कांटा और फूल किसको कहते हैं – यह भी अब तुम समझ रहे हो। यह है ही छी-छी कांटों की दुनिया। हम 84 जन्मों का चक्र लगाए नर्कवासी हुए हैं। फिर से वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी रिपीट करेंगे। हम फिर से जरूर स्वर्गवासी बनेंगे। कल्प-कल्प हम बनते हैं। घड़ी-घड़ी यह याद करना है और नॉलेज समझानी है। यह लक्ष्मी-नारायण सूर्यवंशी थे। क्राइस्ट आया उनके पहले बहुत थोड़े थे, राजधानी नहीं थी। अब बाप आकर सतयुगी राजधानी स्थापन करते हैं। स्थापना होती ही है संगम पर। अभी तुम्हारी बुद्धि में है कि यह है – सच्चा-सच्चा कुम्भ का मेला। आत्मायें अनेक हैं, परमात्मा एक है। परमात्मा बाप बच्चों के पास आते हैं पावन बनाने। इसको ही संगमयुग का, कुम्भ का मेला कहा जाता है। अभी तुमको ज्ञान का तीसरा नेत्र मिला है। बाप आकर स्वर्गवासी बनाते हैं फिर नर्क पुरानी दुनिया का विनाश जरूर होना चाहिए। कल्प-कल्प विनाश होता ही है। नई सो पुरानी, पुरानी सो नई होती है। यह तो जरूर होगा। नई को स्वर्ग, पुरानी को नर्क कहा जाता है। अभी तो कितनी मनुष्यों की वृद्धि होती जाती है। अनाज नहीं मिलता है तो समझते हैं हम बहुत अनाज पैदा करेंगे, परन्तु बच्चे कितने पैदा होते रहते हैं। अनाज कहाँ से लायेंगे।

अभी तुम बच्चों को यह खातिरी है कि ये सारी पुरानी दुनिया खत्म होनी है। मनुष्यों को यह ज्ञान अच्छा भी लगता है परन्तु बुद्धि में कुछ भी बैठता नहीं है। तुम्हारी बुद्धि में है नर्क के बाद स्वर्ग आयेगा। सतयुग के देवी-देवता होकर गये हैं। यह लक्ष्मी-नारायण भारत के मालिक थे, चित्र हैं। सतयुग में है आदि सनातन देवी-देवता धर्म। अभी अपने को देवता धर्म के कहलाते नहीं हैं, उसके बदले हिन्दू कह देते हैं। बच्चे अच्छी तरह जानते हैं कि हम यह (देवी-देवता) बन रहे हैं। बाबा हमको पढ़ा रहे हैं, इन आरगन्स द्वारा। बाबा कहते हैं – नहीं तो मैं तुमको पढ़ाऊं कैसे। आत्माओं को ही पढ़ाते हैं क्योंकि आत्मा में ही खाद पड़ती है। अभी तुमको सच्चा सोना बनना है, गोल्डन एज़ से सिलवर एज में आये अर्थात् चाँदी की खाद पड़ने से तुम चन्द्रवंशी बन जाते हो। सतयुग में गोल्डन एज में थे, वही फिर नीचे उतरते हैं फिर वृद्धि भी हो जाती है। अभी तुम्हारी बुद्धि में है – हम गोल्डन, सिलवर, कॉपर, आइरन में 84 का चक्र लगाकर आये हैं। अनेक बार यह पार्ट बजाया है, इस पार्ट से कोई भी छूट नहीं सकता है। वो कहते हैं, हमको मोक्ष चाहिए लेकिन वास्तव में तंग तो तुमको होना चाहिए। 84 का चक्र तो तुमने लगाया है। मनुष्य तो समझते हैं आना और जाना होता ही रहता है, इनसे क्यों न हम छूटें। परन्तु यह तो हो न सके। गुरू लोग भी कह देते हैं – तुम मोक्ष को पायेंगे। ब्रह्म को याद करो तो ब्रह्म में लीन हो जायेंगे। अनेक मत-मतान्तर भारत में ही हैं और कोई खण्ड में इतने नहीं हैं। ढेर की ढेर मत हैं, एक न मिले दूसरे से। रिद्धि-सिद्धि भी बहुत सीखते हैं। कोई केसर निकालते, कोई क्या… इसमें मनुष्य बहुत खुश होते हैं। यह तो है स्प्रीचुअल नॉलेज। तुम जानते हो – स्प्रीचुअल फादर है, हम आत्माओं का बाप। रूहानी बाबा रूहों से बात करते हैं। सत्य नारायण की कथा आकर सुनाते हैं वा अमरकथा सुनाते हैं, जिससे अमरलोक का मालिक बनाते हैं, नर से नारायण बनाते हैं। फिर कौड़ी मिसल बन पड़ते हैं। अभी तुमको हीरे जैसा अनमोल जन्म मिला है फिर कौड़ियों पिछाड़ी क्यों गँवाते हो। यह दुनिया ही बाकी कितने वर्ष होगी! कितने लड़ाई-झगड़े होते रहते हैं, सब खत्म हो जायेंगे। मौत सामने खड़ा है फिर इतने लाख, करोड़ कौन बैठ खायेंगे। क्यों नहीं इनको सफल करना चाहिए! यह रूहानी कॉलेज खोलने से मनुष्य एवरहेल्दी, वेल्दी, हैपी बन जाते हैं। सो भी यह कम्बाइन्ड है – हॉस्पिटल और युनिवर्सिटी। हेल्थ, वेल्थ, हैपीनेस तो है ही। बरोबर योग से आयु भी बड़ी मिलती है। कितने तुम हेल्दी बनते हो, फिर कारून का खजाना भी मिलता है। अल्लाह अवलदीन का नाटक दिखाते हैं ना। तुम जानते हो अल्लाह जो आदि सनातन देवी-देवता धर्म स्थापन करते हैं, उसमें बहुत सुख है। नाम ही है स्वर्ग। तुम शान्तिधाम के रहवासी थे फिर तुम पहले-पहले सुखधाम में आये फिर 84 जन्म लेते नीचे गिरते आये हो। कल्प-कल्प हम तुम बच्चों को ऐसे बैठ समझाते हैं। तुम अपने जन्मों को नहीं जानते हो, मैं तुमको बताता हूँ। तुमने 84 जन्म लिए हैं, यह चोला पतित है। आत्मा भी तमोप्रधान हो गई है। बाबा राइट कहते हैं। बाबा कभी रांग कहेंगे नहीं। वह है ही ट्रूथ। सतयुग है ही वाइसलेस वर्ल्ड, राइटियस दुनिया। फिर रावण अनराइटियस बनाते हैं। यह है ही झूठ खण्ड। गाते भी हैं झूठी माया, झूठी काया… कौन सा संसार? यह सारा पुराना संसार झूठा है। सतयुग में सच्चा संसार था। दुनिया एक ही है, दो दुनिया नहीं हैं। नई दुनिया से फिर पुरानी होती है। नये मकान, पुराने मकान में फ़र्क तो होता है। नया बनकर तैयार होता है तो समझते हैं नये में बैठेंगे। यहाँ भी बच्चों के लिए नया मकान बनाते हैं, बहुत बच्चे होते जायेंगे। तुम बच्चों को तो बहुत खुशी होनी चाहिए। बाप कहते हैं मुझ ज्ञान सागर के बच्चे सब काम-चिता पर बैठ बिचारे एकदम जल गये हैं। अब फिर उनको ज्ञान चिता पर बिठाते हैं। ज्ञान-चिता पर बिठाए स्वर्ग का मालिक बनाते हैं। काम-चिता पर बैठने से बिल्कुल ही काले बन गये हैं। कृष्ण को श्याम-सुन्दर नाम दिया है। परन्तु अर्थ कोई समझ नहीं सकते। अब तुम क्या से क्या बनते हो! बाप कौड़ी से हीरे मिसल बनाते हैं तो फिर इतना अटेन्शन देना चाहिए। बाप को याद करना चाहिए। याद से ही तुम स्वर्ग के मालिक बनेंगे। अच्छा।

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) इस हीरे तुल्य अनमोल जीवन को कौड़ियों के पीछे नहीं गँवाना है। मौत सामने खड़ा है इसलिए अपना सब कुछ रूहानी सेवा में सफल करना है।

2) पढ़ाई और पढ़ाने वाले से सच्ची प्रीत रखनी है। भगवान हमको पढ़ाने आते हैं, इस खुशी में रहना है।

वरदान:- अधिकारीपन की स्मृति द्वारा सर्व शक्तियों का अनुभव करने वाले प्राप्ति स्वरूप भव
यदि बुद्धि का संबंध सदा एक बाप से लगा हुआ रहे तो सर्व शक्तियों का वर्सा अधिकार के रूप में प्राप्त होता है। जो अधिकारी समझकर हर कर्म करते हैं उन्हें कहने वा संकल्प में भी मांगने की आवश्यकता नहीं रहती। यह अधिकारी पन की स्मृति ही सर्व शक्तियों के प्राप्ति का अनुभव कराती है। तो नशा रहे कि सर्व शक्तियां हमारा जन्म-सिद्ध अधिकार हैं। अधिकारी बन करके चलो तो अधीनता समाप्त हो जायेगी।
स्लोगन:- स्वयं के साथ-साथ प्रकृति को भी पावन बनाना है तो सम्पूर्ण लगाव मुक्त बनो।
Font Resize