brahma kumaris murli 8 june 2018

TODAY MURLI 8 JUNE 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 8 June 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 7 June 2018 :- Click Here

08/06/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you have to follow BapDada’s directions of shrimat and become soul conscious. While seeing the image (of Brahma), remember the Father without an image.
Question: Due to which greatness are you children remembered as lucky stars?
Answer: Due to the greatness of purity. You become pure in this final birth and do the service of making Bharat pure. This is why you lucky stars are even more elevated than the deities. This birth of yours is as valuable as a diamond. You are very elevated servers. At this time, the soul in the Brahma form is even higher than when in the Shri Krishna form because he belongs to the Father at this time. Shri Krishna experiences his reward.
Song: You are the portrait of tomorrow.

Om shanti. The Father speaks to the children. The Father is incorporeal and the children are also incorporeal. However, you have to play your part s through the corporeal costumes you have taken. The Father says to the children who play their part s in this way: Now become soul conscious! Have the faith that you are a soul. Don’t say: I, the soul, am the Supreme Soul. It was by saying this that you pushed the Father into the cycle of 84 births. You considered yourself to be the Father and you put Him in the cycle of 84 births. By saying this, you went into the extreme depths of hell. The boat has begun to sink. You are now receiving shrimat. You children know that two types of instructions are remembered. One is shrimat. This shrimat is God’s, that is, it is the instructions of the unlimited Father. They have inserted Krishna’s name. That is wrong. Krishna cannot be called the Father. There are three fathers. One is the Highest on High, the Supreme Father, the Supreme Soul, the Father of souls. The second one is Prajapita Brahma. He cannot be called the Supreme Soul; he is the Father of People. This one’s name is also glorified. Krishna cannot be called Prajapita. The third is a physical father. The unlimited Father says: Children, may you be soul conscious. You are now receiving directions of shrimat. The instructions of both continue at the same time. You feel that Shiv Baba is explaining these elevated versions to you. Instead of saying “Trimurti Shiva”, they have mistakenly said “Trimurti Brahma”. However, there is no meaning in that. By them saying “Trimurti Brahma,” the instructions of Brahma are remembered. They have removed Shiva. They say that Brahma came down from the subtle region and gave directions! You have now understood this. Prajapita Brahma is called the vyakt (gross) Brahma. At present, you are vyakt Brahmins and you will then become avyakt and perfect Brahmins; you Brahmins will become residents of the subtle region. The perfect Brahma and perfect Saraswati both reside there in the subtle region. Vishnu is a dual-form anyway. Two arms are of Lakshmi and two of Narayan. These instructions are very well known. God speaks: It is Shiva who gives Brahma instructions. This one is named Brahma. Brahma exists here in the impure world. This one cannot be called the highest. The two forms of Vishnu – Lakshmi and Narayan – are then in heaven. It is said: Dev, Dev, Mahadev. So, Shankar is Mahadev. You children understand that Shiva is the highest-on-high Father and He creates the creation of the subtle region. The main thing is to follow shrimat. Brahma too became well known by following shrimat. Only the one Brahma is the especially beloved child. Shiv Baba is one and Brahma is also one. “Prajapita Brahma” is said. “Prajapita Vishnu” or “Prajapita Shankar” is not said. You are now sitting in front of Prajapita Brahma. The Father says: While living at home with your families, have the faith that you are souls. Constantly make effort to remember Me alone. Then it is a matter of renunciation. It is said: Knowledge, devotion, disinterest. You have renunciation through disinterest. Sannyasis first make you disinterested by saying that happiness is like the droppings of a crow. This is why they leave their households. It is said that Bharat was heaven in the golden age. Those who reside in hell say that they were residents of heaven. It is in the intellects of you children that there were only deities in heaven. In ancient Bharat they had everything – puritypeace and prosperity. Human beings who are residents of hell sing the praise of the Father who established heaven: You are the Ocean of Happiness, the Ocean of Peace. You receive the inheritance of liberation-in-life from that Father in a second. Baba repeatedly asks you: With whom are you moving along? Only from Shiv Baba will you receive your inheritance. You should only keep Shiv Baba in your intellects. You will receive a lot of happiness in heaven through that. You say that you are moving along with Shiv Baba. A new person would say that Shiv Baba is incorporeal, and that this one is Brahma, and so how can you be moving along with Shiv Baba? He is without an image. You children know that you are sitting personally in front of Shiv Baba. Shiv Baba doesn’t have a subtle or physical form. That incorporeal One only comes in this one’s body and tells you that this one doesn’t know his own births. You now know that you have truly completed your 84 births; 84 births are remembered. Lakshmi and Narayan are in the golden age and so they definitely go round the cycle of 84 births. Those of other religions come here later. They don’t take as many births. At first, souls are satopradhan and, later, they become tamopradhan. So, this is God’s shrimat. He also gives instructions to Brahma. However, because he is the especially beloved child, he imbibes it very well and explains to you. Sometimes, He too comes and explains. He says: Children, may you be soul conscious! Both Shiv Baba and Brahma say: May you be soul conscious! You are now sitting personally in front of them in a practical way. He is the One without an image and you are those with an image. You tell everyone: O brother, O soul, remember the Father. He speaks to souls. Caution one another and make progress. The Father says through the body of Brahma: By remembering Me, your Father, you will receive the inheritance of heaven. You mustn’t be influenced by those evil spirits. The foremost vice is impure arrogance. Let go of body consciousness. Become soul conscious. Since you are brothers, there definitely has to be the Father. Brahma is the father of you brothers and sisters. The Father of the brothers is the incorporeal One. This one is corporeal. We are all originally incorporeal and we then come to play our part s. These are the versions of Shri Shri God Shiva. Krishna is not God. This one is called Prajapita Brahma. Brahma is more elevated than Krishna. At this time, Brahma is higher than Krishna because the soul was Krishna in the golden age. He has come to belong to the Father in his 84th birth. Therefore, the soul as Brahma is better than as Krishna because he is serving at this time. The soul in Krishna will simply reap the reward. Therefore, who is the more elevated of the two? Is it Krishna, who takes the first birth of the 84 births or is it Brahma of this time? In fact, this birth is considered to be as valuable as a diamond because it is here that you have attainment. There, you would not say that you have attainment. It is at this time that you receive all the property. You are very elevated servers. You make Bharat into heaven, from impure to pure and then you rule it. You are the lucky stars and this is why everyone bows down to you. This is the greatness of purity. This is why the Father says: Lust is the greatest enemy. It has made you impure and you now have to conquer it. The more yoga you have with Me, the Almighty Authority, the purer you will continue to become. You were choking in the ocean of poison for 63 births. This is now your final birth. Sinners like Ajamil have been remembered. In the golden age, there is just the one pure religion of being faithful to one (husband), the pure religion. There is nothing but constant happiness there. Here, people are impure. Sannyasis were satopradhan at first and so they were powerful. They would receive food wherever they were in the forests. They had the power of purity. It wasn’t that they had the power of the Supreme Father, the Supreme Soul, Shiva. You receive His power. The kingdom of Maya begins in the copper age. The kingdom of Ravan, the five vices, continues for half the cycle. Human beings don’t understand who the Purifier is. They consider the Ganges to be the Purifier. They don’t know the Supreme Father at all. They say that God and His creation are infinite and that the duration of the golden age is hundreds of thousands of years. If it were like that, the population of the deity religion would be larger. The population of Christians, who came later, is now larger. The Father explains this. He gives you this food for your intellects. Your intellects now work so much. The intellects of human beings don’t work now. The lock of knowing the Creator and the beginning, the middle and the end of the creation is locked. Theirs is limited renunciation and hatha yoga. Yours is unlimited renunciation and Raja Yoga. You become kings of kings, the masters of heaven. Those who are impure at this time do not tell you these secrets. They relate the 18 chapters of the Gita and give such vast explanations. They have made so many Gitas. They all have their own opinions. They cannot understand the Gita. Krishna is not God, so how could they understand the Gita? They don’t understand anything at all. You now know that all of them belong to the path of devotion. The five evil spirits have made them into sinners like Ajamil. It is numberwise; they cannot be the same. It is explained that God is One; He comes and teaches you Raja Yoga. Lakshmi, Narayan and their dynasty are becoming satopradhan from tamopradhan. The world history and geography has to repeat once again. First of all, there has to be this faith: Baba, I will now only follow Your shrimat. The fortune of you children is now awakening. You are becoming the masters of the world. The fortune of everyone else is sleeping; they are very unhappy. Original, eternal Bharat was heaven; it is no longer that. They have become tamopradhan and impure. The Supreme Soul is called the Purifier. Krishna is not called that. In heaven, the light of everyone remains ignited. It is said: Deepmala (rosary of lights). Now the rosary is extinguished. The Father says: This is the rosary of My souls (who belong to Me). First, I make the rosary of souls and I then make the rosary of Vishnu. Shiv Baba makes this through Brahma. It has been explained that the rosary of Brahmins cannot be created because sometimes you climb as high as the sky and sometimes you continue to fall down. You change from having intellects with faith to having intellects with doubt. Today, you are very strong Brahmins, you make others the same as yourselves, whereas tomorrow you become shudras. Shiv Baba says: This is why a rosary of Brahmins cannot be created. You are making effort. The rosary of Rudra will be created and this is why you are having yoga. When you have full yoga, the vessels of your intellects will become pure and you will also be able to imbibe. You claim the inheritance by remembering the Father. Your sight is drawn towards your inheritance. Children have their sight on their inheritance from their physical father. Some children say: When will this old man die so that we can receive his property? Some fathers are so miserly that they don’t give anything to their children. They don’t even give housekeeping money to their wives. The Father says: The main thing is to have faith in the intellect. You are holding on to the hand of the One without an image. He says through this one with an image: Remember Me! Your intellects should be like that of a genie. Shiv Baba resides in the supreme abode. Shiv Baba must now be speaking the murli in Madhuban. Repeatedly remember Shiv Baba. You are now sitting here. He says: Constantly remember Me alone and you will become a bead of My rosary. This is the knowledge of the sacrificial fire of Rudra. Brahmins are definitely needed for this. It is not written in the scriptures that Jagadamba was a Brahmin. Only the Father explains this. However, Maya is also very strong. Although you have faith, Maya quickly brings doubt. Then your intellects don’t work to take shrimat and the status is destroyed. Those who ascend taste the sweetness of Paradise, whereas those who fall are totally crushed to pieces and receive a low status among the subjects. You children are the lucky stars of knowledge. You have a huge responsibility. Baba says: Remain cautious and don’t indulge in vice. Your business is to purify the impure. You mustn’t cause anyone sorrow. Make them constantly happy. The Father says “Child, child” even though he is old. He even calls the soul of this one “Child”. This soul too calls that One, “Father”. You have to follow shrimat at every step. All the centres belong to Shiv Baba, not to a human being. Shiv Baba is carrying out establishment through this one. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Feed your intellect with the food of knowledge every day and make it powerful. Make the vessel of your intellect pure with yoga.
  2. With the faith that you are holding on to the hand of the Father without an image, repeatedly remember the Father. Don’t cause anyone sorrow.
Blessing: May you be a flying bird and overcome all problems by enabling your eternalsanskars to emerg e.
In your eternal form, all of you are those who fly but, because of a burden, instead of being a flying bird, you have each become a caged bird. Now, enable your eternal sanskars to emerge once again, that is, remain stable in your angelic form. This is called, “easy effort”. When you become a flying bird, adverse situations will remain down below and you will go up above. This is the solution to all problems.
Slogan: To consider there to be benefit at every step and to give the donation of power of peace to every soul is real service.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 8 JUNE 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 8 June 2018

To Read Murli 7 June 2018 :- Click Here
08-06-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – तुम्हें बापदादा की श्रीमत के डायरेक्शन पर चल देही-अभिमानी बनना है, चित्र को देखते हुए भी विचित्र बाप को याद करना है”
प्रश्नः- किस एक बलिहारी के कारण तुम बच्चे लकी स्टार्स गाये हुए हो?
उत्तर:- पवित्रता की बलिहारी के कारण। तुम इस अन्तिम जन्म में पवित्र बन भारत को पवित्र बनाने की सेवा करते हो, इसलिए तुम लकी स्टार्स, देवताओं से भी ऊंच हो। तुम्हारा यह जन्म हीरे जैसा है। तुम बहुत ऊंच सेवाधारी हो। ब्रह्मा की आत्मा इस समय श्रीकृष्ण से भी ऊंच है, क्योंकि वह बाप की बनी है। श्रीकृष्ण तो प्रालब्ध भोगते हैं।
गीत:- आने वाले कल की तुम तस्वीर हो…..

ओम् शान्ति। बाप कहे बच्चों प्रति। बाप भी निराकार बच्चे भी निराकार हैं। परन्तु यह जो साकारी चोला लिया है, इनसे पार्ट बजाना है। ऐसे पार्ट बजाने वाले बच्चों से बाप कहे अब देही-अभिमानी बनो। अपने को आत्मा निश्चय करो। ऐसे न कहो – अहम् आत्मा सो परमात्मा। यही तो तुम बाप को 84 जन्मों के चक्र में ढकेल देते हो। अपने को बाप समझ 84 जन्मों के चक्र में डाल दिया है। यह कहने से तुम रसातल में चले गये हो। बेड़ा डूबना शुरू हुआ। अब तुमको श्रीमत मिलती है। बच्चे जानते हैं दो मत गाई हुई हैं। एक है श्रीमत। यही भगवान की श्रीमत अर्थात् बेहद बाप की मत है। उन्होंने कृष्ण का नाम डाल दिया है। वह तो रॉग है। कृष्ण को बाप नहीं कह सकते। बाप होते हैं तीन। एक ऊंच ते ऊंच परमपिता परमात्मा, आत्माओं का बाप, दूसरा है प्रजापिता ब्रह्मा। इनको परम-पिता नहीं कहेंगे। यह तो प्रजा का पिता हो गया। इनका नाम भी बाला है। कृष्ण को प्रजापिता नहीं कहेंगे। तीसरा है लौकिक बाप। बेहद का बाप कहते हैं – बच्चे, देही-अभिमानी भव। अब श्रीमत के तुमको डायरेक्शन मिलते हैं। दोनों की मत इकट्ठी चलती है। तुम महसूस करते हो – यह महावाक्य शिवबाबा समझा रहे हैं। त्रिमूर्ति शिव के बदले भूल से त्रिमूर्ति ब्रह्मा कह दिया है। परन्तु इसका अर्थ कुछ नहीं निकलता। त्रिमूर्ति ब्रह्मा कहने से ब्रह्मा की मत गाई हुई है। शिव को उड़ा दिया है। कहते हैं ब्रह्मा भी उतर आये। अब ब्रह्मा तो सूक्ष्मवतन से आकर मत देवे। अब तुमने यह समझा है, प्रजापिता ब्रह्मा को व्यक्त ब्रह्मा कहा जाता है। तुम अभी व्यक्त ब्राह्मण हो, फिर अव्यक्त सम्पूर्ण ब्राह्मण बनते हो। फिर तुम सूक्ष्मवतनवासी ब्राह्मण बन जायेंगे। सम्पूर्ण ब्रह्मा, सम्पूर्ण सरस्वती – दोनों सूक्ष्मवतन में वहाँ रहते हैं। विष्णु तो हैं ही युगल। दो भुजा लक्ष्मी की, दो भुजा नारायण की। अब यह मत तो नामीग्रामी है। भगवानुवाच, ब्रह्मा को मत देने वाला है शिव। इनका नाम रखा है ब्रह्मा। ब्रह्मा है यहाँ पतित दुनिया में। इनको ऊंच नहीं कहना चाहिए। विष्णु के दो रूप लक्ष्मी-नारायण फिर यहाँ स्वर्ग में आते हैं। देव-देव महादेव कहा जाता है ना। तो महादेव हो गया शंकर। बच्चे तो समझते हैं शिव है ऊंच ते ऊंच बाप। फिर सूक्ष्मवतन की रचना रचते हैं। मूल बात है श्रीमत पर चलना। ब्रह्मा भी श्रीमत पर चल इतना नामीग्रामी बना। मुरब्बी बच्चा एक ही ब्रह्मा है। शिवबाबा भी एक, ब्रह्मा भी एक ही है। प्रजापिता ब्रह्मा कहा जाता है ना। प्रजापिता विष्णु व प्रजापिता शंकर नहीं कहेंगे। अभी तुम प्रजापिता ब्रह्मा के सामने बैठे हो। बाप कहते हैं गृहस्थ व्यवहार में रहते अपने को आत्मा निश्चय करो। निरन्तर मुझे याद करने का पुरुषार्थ करो, फिर है त्याग की बात। ज्ञान, भक्ति, वैराग्य कहते हैं ना। वैराग्य से त्याग होता है। सन्यासी पहले वैराग्य दिलाते हैं कि यह काग विष्टा समान सुख है इसलिए हम घरबार छोड़ते हैं। कहते भी हैं कि भारत सतयुग में स्वर्ग था। नर्क में रहने वाले कहते हैं कि हम स्वर्ग वासी थे। अभी तुम बच्चों की बुद्धि में है कि स्वर्ग में देवी-देवता ही रहते थे। प्राचीन भारत में प्योरिटी, पीस, प्रासपर्टी सब थी। नर्कवासी मनुष्य स्वर्ग स्थापन करने वाले बाप की महिमा गाते हैं – आप सुख के सागर हो, शान्ति के सागर हो। इस बाप से ही सेकेण्ड में जीवन्मुक्ति का वर्सा मिलता है। बाबा घड़ी-घड़ी कहते हैं किसके साथ चल रहे हो? शिवबाबा से ही वर्सा मिलना है। बुद्धि में शिवबाबा ही याद रहे। उनसे स्वर्ग में अथाह सुख मिलेंगे। तुम कहेंगे हम शिवबाबा के साथ चल रहे हैं। कोई नया होगा तो वह कहेगा कि शिवबाबा तो निराकार है। यह ब्रह्मा है, तुम शिवबाबा के साथ कैसे चल रहे हो? विचित्र है ना। तुम बच्चे जानते हो हम शिवबाबा के सम्मुख बैठे हैं। शिवबाबा का कोई आकार साकार रूप है नहीं। वह निराकार इनके ही शरीर में आते हैं। इनमें आकर बतलाते हैं। यह अपने जन्मों को नहीं जानते हैं। अभी तुम जानते हो बरोबर हमने 84 जन्म पूरे किये। चौरासी जन्म ही गाये जाते हैं। सतयुग में लक्ष्मी-नारायण थे, तो जरूर यही 84 का चक्र लगाते हैं। और धर्म वाले तो बाद में आते हैं, वह इतने जन्म नहीं लेते। पहले आत्मा सतोप्रधान होती है, फिर पिछाड़ी में तमोप्रधान बनती है। तो यह है श्रीमत भगवान की। ब्रह्मा को भी वह मत देते हैं। परन्तु मुरब्बी बच्चा होने कारण अच्छी रीति धारण कर समझाते हैं। कभी वह भी आकर समझाते हैं। कहते हैं – बच्चे, देही-अभिमानी भव। शिवबाबा भी कहते हैं, ब्रह्मा भी कहते हैं देही-अभिमानी भव। अब तुम प्रैक्टिकल में सम्मुख बैठे हो। वह है विचित्र। तुम हो चित्र वाले। सबको कहते हो – हे भाई, हे आत्मायें, बाप को याद करो। आत्माओं से बात करते हैं। एक दो को सावधान कर उन्नति को पाओ। यह ब्रह्मा के तन द्वारा बाप कहते हैं – मुझ बाप को याद करने से स्वर्ग का वर्सा मिलेगा। इन भूतों के वश नहीं होना। पहला नम्बर है अशुद्ध अहंकार। बॉडी कॉन्ससनेस छोड़ दो। सोल कॉन्सस बनो। भाई-भाई हो तो जरूर बाप भी होगा। ब्रदर्स-सिस्टर्स का बाप हो गया ब्रह्मा। ब्रदर्स-ब्रदर्स का बाप है निराकार। यह है साकार। हम सब असुल हैं निराकारी। फिर पार्ट बजाने आते हैं। यह श्री श्री शिव भगवानुवाच। कृष्ण भगवान नहीं है। इनको ही प्रजापिता ब्रह्मा कहा जाता है। कृष्ण से भी ब्रह्मा ऊंच हो गया। इस समय ब्रह्मा कृष्ण के ऊपर है क्योंकि कृष्ण की आत्मा सतयुग में थी। वह इस 84वें जन्म में बाप की आकर बनी है। तो कृष्ण की आत्मा से भी यह अच्छी हुई ना क्योंकि इस समय सेवा करते हैं। कृष्ण की आत्मा तो सिर्फ प्रालब्ध भोगेगी। तो दोनों में कौन बड़ा, कौन ऊंच हुआ? 84 जन्म में जो पहला जन्म वाला कृष्ण है वह ऊंच या इस समय वाला ब्रह्मा ऊंच? वास्तव में हीरे जैसा जन्म तो यह है क्योंकि यहाँ तुमको प्राप्ति होती है। वहाँ ऐसे नहीं कहेंगे कि प्राप्ति होती है। इस समय ही तुमको सारी प्रापर्टी मिलनी है।

तुम बहुत ऊंच सेवाधारी हो। तुम भारत को स्वर्ग, पतित को पावन बनाकर फिर इस पर राज्य करने वाले हो। तुम हो लकी स्टार्स तब तो सब माथा टेकते हैं ना। यह सारी पवित्रता की बलिहारी है इसलिए बाप कहते हैं काम महाशत्रु है, जिसने तुमको अपवित्र बनाया, उनको जीतो। मुझ सर्वशक्तिमान के साथ जितना योग लगायेंगे, उतना पवित्र होते जायेंगे। तुमने 63 जन्म विषय सागर में गोते खाये। अभी यह तुम्हारा अन्तिम जन्म है। अजामिल जैसे पापी गाये हुए हैं। सतयुग में है ही एक पतिव्रता, पावन धर्म। सदैव सुख ही सुख रहता है। यहाँ तो हैं पतित। सन्यासी पहले सतोप्रधान थे तो बहुत तीखे थे। कहाँ भी जंगलों में उनको भोजन मिलता था। पवित्रता की ताकत थी। ऐसे नहीं कि परमपिता परमात्मा शिव की ताकत थी। तुमको उनकी ताकत मिलती है। माया का राज्य शुरू होता है द्वापर से। पाँच विकारों रूपी रावण का राज्य आधाकल्प चलता है। मनुष्य समझते नहीं कि पतित-पावन कौन? गंगा को ही पतित-पावनी समझ लिया है। परमात्मा को जानते ही नहीं। कह देते हैं कि परमात्मा और उनकी रचना बेअन्त है। सतयुग की आयु लाखों वर्ष है। अगर ऐसा होता तो देवता धर्म वालों की संख्या ज्यादा होनी चाहिए। अभी तो क्रिश्चियन लोग जो बाद में आये उन्हों की संख्या ज्यादा हो गई है। यह बाप समझाते हैं। बुद्धि के लिए यह भोजन देते हैं। तुम्हारी बुद्धि अब कितना काम करती है! मनुष्यों की बुद्धि अब काम नहीं करती। रचता और रचना के आदि-मध्य-अन्त को जानने का ताला बन्द है। उनका है हद का सन्यास, हठयोग। तुम्हारा है बेहद का सन्यास, राजयोग। तुम राजाओं का राजा स्वर्ग के मालिक बनते हो। इस समय जो पतित हैं, वह थोड़ेही यह राज़ बतायेंगे। गीता सुनाते हैं, 18 अध्याय का कितना लम्बा अर्थ बैठ निकालते हैं! कितनी गीतायें बनाई हैं! सबकी अपनी-अपनी मत है। गीता को समझ नहीं सकते। कृष्ण भगवान ही नहीं, फिर गीता को समझें कैसे। कुछ भी समझते नहीं। अभी तुम जानते हो – वह सब हैं ही भक्तिमार्ग के। पाँच भूतों ने अजामिल जैसा पापी बना दिया है। नम्बरवार तो होते ही हैं। एक जैसे तो होते नहीं। समझाया जाता है – भगवान एक है, वह आकर राजयोग सिखलाते हैं। लक्ष्मी-नारायण और उनकी डिनायस्टी तमोप्रधान से सतोप्रधान बन रही है। वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी फिर से रिपीट होनी है। पहले तो निश्चय चाहिए। बाबा, बस अब हम तो आपकी ही श्रीमत पर चलेंगे। तुम बच्चों की तकदीर जग रही है। तुम विश्व के मालिक बनते हो। और सबकी तकदीर सोई हुई है। बहुत दु:खी हैं। आदि सनातन भारत स्वर्ग था। अब नहीं है। तमोप्रधान पतित बन गये हैं। पतित-पावन परमात्मा को कहा जाता है। कृष्ण को नहीं कहा जाता। स्वर्ग में सबकी ज्योति जगी रहती है। दीपमाला कहते हैं ना। अभी तो उझाई हुई माला है। बाप कहते हैं – यह मेरी आत्माओं की माला है। पहले आत्माओं की माला बनाता हूँ। फिर विष्णु की माला बनाता हूँ। शिवबाबा बनाते हैं ब्रह्मा द्वारा। यह भी समझाया है – ब्राह्मणों की माला नहीं बन सकती क्योंकि कभी आसमान पर चढ़ते रहते, कभी नीचे गिरते रहते। निश्चय बुद्धि से बदल संशय बुद्धि बन पड़ते हैं। आज पक्के ब्राह्मण हैं, औरों को आप समान बनाते हैं, कल शूद्र बन जाते हैं इसलिए शिवबाबा कहते हैं ब्राह्मणों की माला बन नहीं सकती है। तुम पुरुषार्थ करते हो, रुद्र माला बनेंगे इसलिए योग लगाना है। योग पूरा होगा तो बुद्धि रूपी बर्तन पवित्र होगा तो धारणा भी होगी। बाप को याद करने से तुम वर्सा लेते हो। तुम्हारी ऑख वर्से में चली जाती है। लौकिक बाप के बच्चों की भी वर्से में नज़र रहती है ना। कोई-कोई बच्चे कहते हैं यह बूढ़ा कब मरेगा तो हमको मिलकियत मिलेगी। कोई-कोई बाप ऐसे मनहूस होते हैं जो बच्चों को कुछ देते ही नहीं। स्त्री को घर खर्च भी नहीं देते।

बाप कहते हैं कि मूल बात है निश्चयबुद्धि बनो। तुमने विचित्र का हाथ पकड़ लिया है। इस चित्र द्वारा कहते हैं – मुझे याद करो। तुम्हारी जिन्न जैसी बुद्धि होनी चाहिए। शिवबाबा परमधाम में रहते हैं। अभी शिवबाबा मधुबन में मुरली चलाते होंगे। घड़ी-घड़ी शिवबाबा को याद करना पड़े। अभी तुम यहाँ बैठे हो, वही कहते हैं मामेकम् याद करो तो तुम मेरी माला का दाना बन जायेंगे। यह है रुद्र ज्ञान यज्ञ। इसमें ब्राह्मण भी जरूर चाहिए। शास्त्रों में कोई यह लिखा हुआ नहीं है कि जगत अम्बा ब्राह्मणी थी। यह बाप ही समझाते हैं। परन्तु माया भी बड़ी तीखी है। निश्चय होते-होते माया फिर झट संशय में ला देती है। फिर श्रीमत लेने लिए बुद्धि चलती नहीं है। उनका पद भी भ्रष्ट हो जाता है। चढ़े तो चाखे बैकुण्ठ रस, गिरे तो चकनाचूर.. प्रजा में भी कम पद। तुम हो लकी ज्ञान सितारे। तुम्हारे ऊपर बहुत रेस्पॉन्सिबिलिटी है। बाबा कहते हैं – खबरदार रहना, विकार में नहीं जाना। तुम्हारा धन्धा है पतित को पावन बनाने का। कोई को भी दु:ख मत दो। सदा सुखी बनाना है। बाप बच्चे-बच्चे कहकर समझाते हैं फिर भी बुजुर्ग है। इनकी आत्मा को भी बच्चा कहेंगे। यह आत्मा भी उनको बाप कहती है। कदम-कदम श्रीमत पर चलना है। सेन्टर्स सब शिवबाबा के हैं, किसी मनुष्य के नहीं। शिवबाबा ही इन द्वारा स्थापना कर रहे हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद, प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बुद्धि को रोज ज्ञान का भोजन दे, शक्तिशाली बनाना है। योग से बुद्धि रूपी बर्तन पवित्र बनाना है।

2) “हमने विचित्र बाप का हाथ पकड़ा है” – इस निश्चय से घड़ी-घड़ी बाप को याद करना है। कोई को भी दु:ख नहीं देना है।

वरदान:- अपने अनादि संस्कारों को इमर्ज कर सर्व समस्याओं को पार करने वाले उड़ता पंछी भव
आप सब अनादि रूप में हो ही उड़ने वाले, लेकिन बोझ के कारण उड़ता पंछी के बजाए पिंजड़े के पंछी बन गये हो। अब फिर से अनादि संस्कार इमर्ज करो अर्थात् फरिश्ते रूप में स्थित रहो, इसी को ही सहज पुरुषार्थ कहा जाता है। उड़ता पंछी बनेंगे तो परिस्थितियां नीचे और आप ऊपर हो जायेंगे। यही सर्व समस्याओं का समाधान है।
स्लोगन:- हर कदम में कल्याण समझ हर आत्मा को शान्ति की शक्ति का दान देना ही सच्ची सेवा है।

TODAY MURLI 8 June 2017 DAILY MURLI (English)

[wp_ad_camp_1]

Read Daily Murli in Hindi :- Click Here

Read Daily Murli 7 june 2017 :- Click Here

08/06/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, forget everything that you see with those eyes, including your own body, and remember the one Father, because all of it is about to be destroyed.
Question: What effort do you have to make in order to win the lottery of having a royal status in the golden age?
Answer: 1. In order to claim a royal status in the golden age, pay full attention to yourself. See that there are no evil spirits within you. If there are any evil spirits you will not be able to marry Lakshmi. In order to become a king, you also have to create subjects here.
2. You have to become cry-proof here. If you have a shock while remembering some bodily being and you leave your body, your status will be destroyed, and this is why you have to make effort to stay in remembrance of the Father.
Song: If not today, then tomorrow, the clouds will disperse.

 

Om shanti. Shiv Baba says “Om shanti.” Then this soul also says “Om shanti.” That One is the Supreme Soul and this one is Prajapita. This soul says “Om shanti” and the children also say “Om shanti.” You have to know the religion of the self. People do not know the religion of their own selves. Om shanti means: I, the soul, am an embodiment of peace. Soul includes the mind and the intellect. They forget this and just simply refer to the mind. If they ask, “How can the soul find peace?” tell them: Wah! Is this something to ask? A soul is himself an embodiment of peace, a resident of the land of peace. You will find peace there. When a soul leaves his body, he becomes silent. This is the entire world. All souls have to play their part s within it. How can you become silent when you have to perform actions? Human beings wander around so much in order to attain peace. They do not know that the original religion of us souls is peace. You now know about the religion of souls. A soul is like a point. The Father has explained: Everyone says, “Salutations to the incorporeal Supreme Soul”. Only that One can be called the Supreme Father. He is incorporeal, and it would be said to Him: Salutations to the Supreme Soul, Shiva. Your intellect’s yoga is now in that direction. Human beings are all body conscious. Their yoga is not with the Father. Everything is explained to you children. It is said: Salutations to the deity Brahma. “Salutations to the Supreme Soul Brahma” is never said. Only the One can be called the Supreme Soul. He is the Creator. You know that you are children of Shiv Baba. He created you through Brahma and made you belong to Him. He has also made the Brahma soul belong to Him in order to give him the inheritance. Baba even says to the Brahma soul: Remember Me. He also tells the BKs to remember Him constantly and to renounce the consciousness of bodies. These are aspects of knowledge. We have taken 84 births and our bodies are now decayed; they have become sick and diseased. You children were completely free from disease. In the golden age there were no diseases. Everyone was ever healthy and no one ever went bankrupt. You receive your inheritance of 21 births now, and so you cannot become bankrupt. Here, everyone continues to become bankrupt. It was explained to the children that they sing: “Salutations to the Supreme Father, the Supreme Soul, Shiva”. They would not say “Supreme Soul” to Brahma. He is called Prajapita (Father of People). Deities are in the subtle region. No one knows that this Prajapita then becomes an angel. To become a resident of the subtle region means to be one with a subtle body. Now, the Father has told you children: Remember Me constantly. You are incorporeal and I am incorporeal. You have to remember Me constantly and remove your intellect’s yoga from all bodily beings. Whatever you see with those eyes, including your own body, is all to be destroyed. You will then have to go to the land of happiness via the land of peace. You have a desire for that land of happiness, that is, for the land of Krishna. Therefore, the Father says: Remember the land of peace and the land of happiness. Though there is purity, peace and happiness in the golden age, you cannot call it the land of peace. You have to perform actions; you have to rule. The actions you perform in the golden age are not sinful actions because Maya does not exist there. This is very easy to understand. That is the day of Brahma, and you do not stumble during the day. You stumble in the dark night, and so half the cycle is devotion, the night of Brahma, and half the cycle is the day of Brahma. Baba has explained: In some place they have the day for six months and the night for six months. However, that is not explained in the scriptures. In the scriptures, they have explained about the day of Brahma and the night of Brahma. Why do they not say the night of Vishnu? There, that one (Vishnu) does not have knowledge. You Brahmins know that this is the unlimited day and night for Brahma and the Brahma Kumars and Kumaris. You cannot say the day and night of Shiv Baba. You children know that we have the day for half the cycle and the night for half the cycle. Such is the game! Sannyasis do not know about the family path; they are on the path of isolation. They do not know the aspect of heaven and hell. They ask where heaven came from because even in the scriptures they have changed the golden age into hell. Baba is now telling you very sweet things. He says: Children, I am incorporeal, the Ocean of Knowledge. My part of giving this knowledge emerge s at this time. The Father gives His own introduction. This knowledge of Mine does not emerge on the path of devotion. All the traditions and customs that continue during that time belong to the path of devotion. According to the drama, with whatever feelings devotees worship someone, I am the Instrument to give them a vision of that one. At that time, the part of knowledge does not remain emerge d in My soul. It emerges now. Just as your reel is filled with 84 births, so, too, whatever is fixed in the drama for Me as My part is enacted at its own time. There is no question of any doubt in this. If the knowledge had emerged in Me on the path of devotion, I would have spoken it. Not even Lakshmi and Narayan have this knowledge there; it is not fixed in the drama. People just say that such and such a guru grants them salvation, but how can gurus grant salvation? They also have their part s. Some say: The world definitely repeats, the cycle continues to turn. They have shown a spinning wheel. Just see the wonder of the world cycle; by spinning the spinning wheel, you are able to earn your livelihood. By knowing the world cycle, you receive a reward for 21 births. Baba explains the accurate meaning; all the rest explain inaccurately. The locks on your intellects are open. The highest is God and next are Brahma, Vishnu and Shankar, the residents of the subtle region. Then, in the corporeal world, first are Lakshmi and Narayan and then Jagadamba and Jagadpita. They are at the confluence, but they are still human beings; they do not have extra arms. Even Brahma only has two arms. They have so many arms in the pictures of the path of devotion. If someone had eight arms, he should also have eight legs, but it isn’t like that. They show Ravan with ten heads, and so he should also have 20 legs. All of that is a game of dolls. They do not understand anything. When the Ramayana is read, many people cry. The Father explains: All of that is the path of devotion. Ever since you started to follow the path of sin, you became ugly by sitting on the pyre of lust. Now, for one birth, by tying the bond of sitting on the pyre of knowledge you claim the inheritance for 21 births. There, you remain soul conscious. You shed one old body and take another new one. There is no question of crying. When a baby is born, they give congratulations and celebrate in great happiness, but if that baby dies the next day, they weep and wail. This is the world of sorrow. You know that the whole play is about Bharat; Bharat is the eternal land. It is only here that there is happiness and sorrow, the inheritance of heaven and hell. Definitely, H eavenly God , the Father , must have created heaven. If it were a question of hundreds of thousands of years, how would anyone be able to remember anything? No one knows when it will be heaven again. They say that 40,000 years of the iron age still remain. If you take 84 births in 5000 years, who knows how many births you might have to take in 40,000 years! You children now have understanding. You are now in the light, but all those who do not have knowledge are in the slumber of ignorance. This is the dark night of ignorance; no one has knowledge of the world cycle. We are actors. This world cycle has four parts to it. Only humans will understand these things. Now, you children know that the Father is knowledge-full. He donates to you whatever specialities He has. You receive the inheritance from the Ocean of Knowledge. Baba always tells you: Do not remember bodily beings. Even though I speak to you through a bodily being, you still have to remember Me, the Incorporeal. If you continue to have remembrance, you will also imbibe knowledge for the lock on your intellect will open. Start with 15 minutes or half an hour and then continue to increase it. No one except the Father should be remembered at the end. For this reason, sannyasis renounce everything and sit in tapasya, so that when they leave their bodies the atmosphere all around becomes peaceful, just as a great soul in the city left his body. You now have the knowledge that souls are eternal and that they do not merge into the light. They do not have this knowledge. Baba explains that souls are never destroyed and that the knowledge souls have within them is never destroyed. The drama is imperishable; the cycle of the golden, silver, copper and iron ages continues to turn. You become Lakshmi and Narayan and then the souls of other religions also come down afterwards, numberwise. God , the Father , is One. There continues to be expansion from the golden age to the iron age. Another tree cannot grow. There is only one cycle and they also only remember the One. They remember Guru Nanak, but he has to come at his own time. Everyone has to come into the cycle of birth and death. People believe that Krishna is present everywhere. Some believe in one being and others in someone else. Baba explains: Children, explain tactfully that the God of everyone is the incorporeal One. In the Gita, it says “God speaks”, and so the Gita is the mother and father of all the religious scriptures because everyone receives salvation through the Gita. The Father removes everyone’s sorrow and gives them happiness. Bharat is the pilgrimage place of everyone. It is only through the Father that you receive salvation. This is His birthplace and everyone remembers Him. It is the Father who comes and liberates everyone from the kingdom of Ravan. This is now extreme hell. The Father says: O souls in bodies, you now have to return home. Simply remember Me. If you get entrapped in any bodily being, you will have to cry. You have to remember One alone. You have to go there, where you will not cry for 21 births. If someone dies and you start crying, you are not able to become cry-proof. If, while remembering someone, you receive a shock and leave your body, there will be degradation. You have to remember Shiv Baba. Many have heart failure. While walking and moving around, you have to remember the one Father. This is also instilled in the intellect. Because you do not remember Baba throughout the day, you are made to sit down in a gathering. There is a collective force when everyone is gathered together. If anyone else is remembered by your intellect, you have to take rebirth. Whatever happens, you have to remain stable. The consciousness of the bodies should not remain. However much you stay in remembrance of the Father, it is noted down in your record of remembrance. You will also be very happy knowing that you will quickly go from here and sit on your throne. The Father always says: Children, you must never cry. It is only widows who cry. You have to become completely virtuous here, and this then becomes imperishable. Effort is needed. You have to pay attention to yourself. If you have any evil spirit within you, you are not able to claim a high status. Narad was a devotee and wanted to marry Lakshmi. When he saw his own face, it was like that of a monkey. You are making effort to marry Lakshmi. How would anyone who has the five vices marry Lakshmi? Great effort is needed. You win a great lottery. We definitely become kings, but then, there will also be subjects. There will be expansion of hundreds of thousands. When anyone comes, first give the introduction of the Father: What is your relationship with the Purifier, the Supreme Father, the Supreme Soul? They would surely have to say that He is the Father. Ask them to write that He alone is the Purifier who changes everyone from impure to pure. When they put this in writing they will not argue. Tell them: Have you come here to listen or to speak? The Bestower of Salvation for all is incorporeal; He never has a subtle or corporeal form. Achcha, what is your relationship with Prajapita? This one is corporeal, whereas that One is the incorporeal Father. We remember the one Father. That is the aim and object ive. We will claim the kingdom through Him. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Do not allow your intellect to be trapped in any bodily being. You have to keep an accurate record of remembrance. You must never cry.
  2. You have to stabilize yourself in your original religion of peace. Do not wander around searching for peace. Liberate everyone from that wandering. Remember the land of peace and the land of happiness.
Blessing: May your intellect have faith and you remain constantly carefree by keeping the fixed victory of every cycle in your awareness.
The children whose intellects have faith constantly experience victory in every task in their interactions with others and whatever they do for God. No matter how ordinary an action may be, they definitely have a right to attain victory in that. They do not become disheartened with themselves over any task because they have the faith that they are victorious every cycle. If those whose Helper is God Himself do not have victory, then who else would! No one can prevent this destiny. This faith and intoxication will make you carefree.
Slogan: With the nourishment of happiness, remain constantly healthy and with the treasure of happiness, be happy and full.

*** Om Shanti ***

Daily Murli Brahma Kumaris 8 June 2017 – Bk Murli Hindi

[wp_ad_camp_5]

 

Read Daily Murli 7 June 2017 :-  Click Here

 

08/06/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – देह सहित इन आंखों से जो कुछ देखते हो – उसे भूल एक बाप को याद करो क्योंकि अब यह सब खत्म होने वाला है।”
प्रश्नः- सतयुग में राज्य पद की लाटरी विन करने का पुरूषार्थ क्या है?
उत्तर:- सतयुग में राज्य पद लेना है तो अपने ऊपर पूरी नज़र रखो। अन्दर कोई भी भूत न रहे। अगर कोई भी भूत होगा तो लक्ष्मी को वर नहीं सकेंगे। राजा बनने के लिए प्रजा भी बनानी है। 2- यहाँ ही रोना प्रूफ बनना है। किसी देहधारी की याद में शॉक आया, शरीर छूटा तो पद भ्रष्ट हो जायेगा इसलिए बाप की याद में रहने का पुरुषार्थ करना है।
गीत:- आज नहीं तो कल…

 

ओम् शान्ति। शिवबाबा कहते हैं ओम् शान्ति फिर इनकी आत्मा भी कहेगी – ओम् शान्ति। वह है परमात्मा, यह है प्रजापिता। इनकी आत्मा कहती है ओम् शान्ति। बच्चे भी कहते हैं ओम् शान्ति। अपने स्वधर्म को जानना होता है ना। मनुष्य तो अपने स्वधर्म को भी नहीं जानते हैं। ओम् शान्ति अर्थात् अहम् आत्मा शान्त स्वरूप हैं। आत्मा है मन बुद्धि सहित। यह भूलकर मन का नाम ले लेते हैं। अगर कहें आत्मा को शान्ति कैसे मिले तो बोलो, वाह यह भी प्रश्न है? आत्मा तो स्वयं शान्त स्वरूप है, शान्तिधाम में रहने वाली है। शान्ति तो वहाँ मिलेगी ना। आत्मा शरीर छोड़ चली जायेगी, तब शान्ति में रहेगी। यह तो सारी दुनिया है, इसमें आत्माओं को पार्ट बजाना है। शान्त कैसे रहेंगे। काम करना है। मनुष्य शान्ति के लिए कितना भटकते हैं। उनको यह पता नहीं है कि हम आत्माओं का स्वधर्म शान्त है। अब तुमको आत्मा के धर्म का पता है। आत्मा बिन्दी मिसल है। बाप ने समझाया है सब कहते हैं निराकार परमात्माए नम:। परमपिता उनको ही कहा जाता है। वह तो है निराकार। उनको शिव परमात्माए नम: कहा जाता है। अब तुम्हारा बुद्धियोग उस तरफ है। मनुष्य तो सब देह-अभिमानी हैं। उनका योग बाप तरफ नहीं। तुम बच्चों को हर बात समझाई जाती है। गाते भी हैं ब्रह्मा देवताए नम:, ब्रह्मा का नाम लेकर ऐसा कभी नहीं कहेंगे – ब्रह्मा परमात्माए नम:। एक को ही परमात्मा कहा जाता है। वह है रचयिता। तुम जानते हो हम हैं शिवबाबा के बच्चे। उसने हमको ब्रह्मा द्वारा क्रियेट किया है, अपना बनाया है। ब्रह्मा की आत्मा को भी अपना बनाया है, वर्सा देने के लिए। ब्रह्मा की आत्मा को भी कहते हैं मुझे याद करो। बी.के. को भी कहते हैं मामेकम् याद करो। देह का अभिमान छोड़ दो। यह ज्ञान की बातें हैं। 84 जन्म लेते-लेते अब यह शरीर जड़जड़ीभूत हो गया है। बीमार रोगी हो गया है। तुम बच्चे कितने निरोगी थे, सतयुग में कोई भी रोग नहीं था। एवरहेल्दी थे। कभी देवाला नहीं मारते थे। अभी से ही अपना वर्सा 21 जन्मों के लिए ले लेते हैं, इसलिए देवाला मार न सकें। यहाँ तो देवाला मारते ही रहते हैं। बच्चों को समझाया-गाते भी हैं परमपिता परमात्मा शिवाए नम:, ब्रह्मा को परमात्मा नहीं कहेंगे। उनको प्रजापिता कहा जाता है। देवतायें सूक्ष्मवतन में हैं। यह कोई को पता नहीं है कि यह प्रजापिता ही फिर जाकर फरिश्ता बनता है। सूक्ष्मवतन वासी बनता है अर्थात् सूक्ष्म देहधारी। अब बच्चों को बाप ने समझाया है मामेकम् याद करो। तुम भी निराकार हो, हम भी निराकार हैं। मामेकम् याद करना है और जो भी देहधारी हैं उनसे बुद्धियोग हटाना है। देह सहित इन आंखों से जो कुछ देखते हो सब खत्म होने वाला है। फिर तुमको जाना है – सुखधाम वाया शान्तिधाम। उस सुखधाम अथवा कृष्णपुरी की ही तुमको चाहना रहती है। तो बाप कहते है शान्तिधाम सुखधाम को याद करो। भल सतयुग में भी पवित्रता सुख शान्ति रहती है, परन्तु उनको शान्तिधाम नहीं कहेंगे। कर्म तो सबको करना है। राजाई करनी है। सतयुग में भी कर्म करते हैं परन्तु वह विकर्म नहीं बनता क्योंकि वहाँ माया ही नहीं। यह तो सहज समझने की बात है। ब्रह्मा का दिन है, दिन में धक्का नहीं खाया जाता। रात अन्धेरे में धक्के खाये जाते हैं। तो आधाकल्प भक्ति, ब्रह्मा की रात। आधाकल्प ब्रह्मा का दिन। बाबा ने बताया – एक स्थान पर 6 मास दिन, 6 मास रात होती है। परन्तु वह बात कोई शास्त्रों में नहीं गाई जाती। यह ब्रह्मा का दिन, ब्रह्मा की रात शास्त्रों में गाई हुई है। अब विष्णु की रात क्यों नहीं कहते! वहाँ उनको यह ज्ञान ही नहीं। ब्राह्मणों को मालूम है – ब्रह्मा और ब्रह्माकुमार कुमारियों के लिए यह बेहद का दिन और रात है। शिवबाबा का दिन और रात नहीं कहेंगे। बच्चे जानते हैं हमारा आधाकल्प दिन फिर आधाकल्प रात है। खेल भी ऐसा है, प्रवृत्ति मार्ग वालों को सन्यासी नहीं जानते। वह तो निवृत्ति मार्ग वाले हैं। वह स्वर्ग और नर्क की बात नहीं जानते। वह तो कहते स्वर्ग कहाँ से आया क्योंकि शास्त्रों में सतयुग को भी नर्क बना दिया है। अब बाप बहुत मीठी-मीठी बातें सुनाते हैं। कहते हैं बच्चे मैं निराकार ज्ञान का सागर हूँ। मेरा पार्ट ज्ञान देने का इस समय इमर्ज होता है। बाप अपना परिचय देते हैं। भक्ति मार्ग में मेरा ज्ञान इमर्ज नहीं होता है। उस समय सारा रसम-रिवाज भक्ति मार्ग का चलता है। ड्रामा अनुसार जो भक्त जिस भावना से पूजा करते हैं उनको साक्षात्कार कराने मैं निमित्त बना हुआ हूँ। उस समय मेरी आत्मा में ज्ञान का पार्ट इमर्ज नहीं है। वह अभी इमर्ज हुआ है। जैसे तुम्हारा 84 जन्मों का रील भरा हुआ है। मेरा भी जो जो पार्ट ड्रामा में जब नूंधा हुआ है, वह उसी समय बजता है। इसमें संशय की बात नहीं। अगर मेरे में ज्ञान इमर्ज होता तो भक्ति मार्ग में भी किसको सुनाता। लक्ष्मी-नारायण को वहाँ यह ज्ञान है ही नहीं। ड्रामा में नूंध ही नहीं। मनुष्य मात्र को अगर कोई कहते कि हमको फलाना गुरू सद्गति देते हैं। परन्तु गुरू लोग सद्गति कैसे देंगे? उनका भी तो पार्ट है और कोई कहते हैं बरोबर दुनिया रिपीट होती रहती है। यह चक्र फिरता रहता है। उन्होंने फिर चर्खा रख दिया है। सृष्टि का चक्र है। वन्डर देखो, चर्खा फिराने से पेट पूजा होती है। यहाँ इस सृष्टि चक्र को जानने से 21 जन्मों के लिए तुमको प्रालब्ध मिलती है। बाबा यथार्थ रीति अर्थ बैठ सुनाते हैं। बाकी सब अयथार्थ सुनाते हैं। तुम्हारी बुद्धि का ताला खुला हुआ है। ऊंचे ते ऊंच है भगवान फिर ब्रह्मा, विष्णु, शंकर हैं सूक्ष्मवतनवासी। फिर स्थूल वतन में पहले लक्ष्मी-नारायण फिर जगत अम्बा, जगतपिता हैं। वह संगम के हैं। हैं तो मनुष्य ही। भुजायें आदि कुछ भी हैं नहीं। ब्रह्मा को भी दो भुजा हैं। भक्ति मार्ग के चित्रों में कितनी भुजायें दे दी हैं। अगर किसको आठ भुजा हो तो आठ टांगे भी होनी चाहिए। ऐसे तो होता नहीं। रावण को दस शीश दिखाते हैं तो टांगे भी 20 देनी चाहिए। यह सब है गुड़ियों का खेल। कुछ भी समझते नहीं। रामायण जब सुनाते हैं तो बहुत रोते हैं। बाप समझाते हैं – यह सब है भक्ति मार्ग, जब से तुम वाम मार्ग में गये हो तब से काम चिता पर बैठ तुम काले बन गये हो। अब एक जन्म में ज्ञान चिता का हथियाला बांधने से 21 जन्म के लिए वर्सा मिलता है। वहाँ आत्म-अभिमानी रहते हैं। एक पुराना शरीर छोड़ दूसरा नया ले लेते हैं। रोने आदि की बात नहीं रहती। यहाँ बच्चा पैदा होगा तो बधाई देंगे। धूमधाम से मनायेंगे। कल बच्चा मर गया तो या हुसैन मचा देंगे। दु:खधाम है ना। जानते हो भारत पर ही सारा खेल है। भारत अविनाशी खण्ड है। उनमें ही सुख दु:ख, नर्क स्वर्ग का वर्सा होता है। हेविनली गॉड फादर ने ही जरूर हेविन स्थापन किया होगा। लाखों वर्ष की बात हो तो कोई को याद भी कैसे पड़े। किसको भी पता नहीं है – स्वर्ग फिर कब होगा! कह देते हैं कलियुग की आयु अभी चालीस हजार वर्ष है। अब चालीस हजार वर्ष में कितने जन्म लेने पड़े! जबकि पांच हजार वर्ष में 84 जन्म हैं। अब तुम बच्चों की समझ में आता है। तुम रोशनी में हो। बाकी जिनको ज्ञान नहीं, वह अज्ञान नींद में सोये पड़े हैं। अज्ञान अन्धियारी रात है अर्थात् सृष्टि चक्र का ज्ञान नहीं है। हम एक्टर हैं, यह सृष्टि चक्र के चार भाग हैं। इन बातों को मनुष्य ही जानेंगे। अभी तुम बच्चे जानते हो, बाप नॉलेजफुल है। उनमें जो जो खूबियाँ हैं, वह सब तुमको दान देते हैं। ज्ञान के सागर से तुम वर्सा लेते हो। बाबा हमेशा कहते हैं देहधारी को याद नहीं करो। भल मैं भी देह द्वारा सुनाता हूँ। परन्तु याद तुम मुझ निराकार को ही करना। याद करते रहेंगे तो धारणा भी होगी, बुद्धि का ताला भी खुलेगा। 15 मिनट वा आधा घण्टा से शुरू करो फिर बढ़ते रहो। पिछाड़ी के समय सिवाए एक बाप के कोई की याद न रहे इसलिए सन्यासी सब कुछ छोड़ देते हैं। तपस्या में बैठते हैं, जब शरीर छोड़ते हैं उस समय आसपास का वायुमण्डल भी शान्ति का हो जाता है। जैसे कोई शहर में कोई महापुरूष ने शरीर छोड़ा है। तुमको तो अब ज्ञान है। आत्मा अविनाशी है, वह लीन हो न सके। उनमें तो यह ज्ञान नहीं है।

बाबा समझाते हैं आत्मा कभी विनाश होती नहीं। उनमें जो ज्ञान है वह भी कभी विनाश नहीं होता। इप्रैसिबुल ड्रामा है। सतयुग त्रेता द्वापर कलियुग… यह चक्र फिरता रहता है। तुम फिर लक्ष्मी-नारायण बनते हो फिर नम्बरवार और धर्म वाले भी आते हैं। गॉड फादर इज वन। सतयुग से कलियुग तक वृद्धि को पाते रहते हैं, दूसरे झाड़ बन न सकें। चक्र भी एक ही है। याद भी एक को ही करते हैं। गुरूनानक को याद करते हैं परन्तु उनको फिर अपने समय पर आना पड़े। जन्म-मरण में तो सबको आना है। लोग समझते हैं – कृष्ण हाजिराहजूर है। कोई किसको मानते, कोई किसको। बाबा समझाते हैं-बच्चे युक्ति से समझाओ – ईश्वर सबका एक निराकार है। गीता में है भगवानुवाच। तो गीता है सबकी माँ बाप क्योंकि उनसे ही सबको सद्गति मिलती है। बाप सबका दु:ख हर्ता, सुख कर्ता है। भारत सबका तीर्थ स्थान है। सद्गति बाप द्वारा ही मिलती है। यह उनका बर्थ प्लेस है, सब उनको याद करते हैं। फादर ही आकर सबको रावण के राज्य से छुड़ाते हैं। अभी यह रौरव नर्क है।

अब बाप कहते हैं हे देहधारी आत्मायें अब वापिस चलना है, सिर्फ मुझे याद करो। कभी भी देहधारी में लटके तो रोना पड़ेगा। एक को याद करना है, वहाँ आना है। तुम्हारा रोना 21 जन्मों के लिए बन्द हो जाता है। कोई मरे और तुम रोने लग पड़ेंगे फिर रोने प्रूफ तो बनेंगे नहीं। किसकी याद में शाक आ जाए और मर जाएं तो दुर्गति हो जाये। तुमको याद तो शिवबाबा को करना है ना। हार्ट फेल भी हो जाते हैं। तुमको तो उठते-बैठते एक बाप को याद करना है। यह भी बुद्धि में बिठाया जाता है क्योंकि सारे दिन में याद नहीं करते हैं तो संगठन में बिठाया जाता है। सबका इकट्ठा फोर्स होता है। अगर और किसी की याद बुद्धि में रहेगी तो फिर जन्म लेना पड़ेगा। कुछ भी हो जाय, स्थेरियम रहना है। देह का भान न रहे। जितना बाप को याद करते हो, वह याद रिकार्ड में नूँध जाती है। तुमको खुशी भी बहुत होगी। हम जल्दी चले जायेंगे। जाकर तख्त पर बैठेंगे, बाप हमेशा कहते हैं- बच्चे तुम्हें कभी रोना नहीं है, रोती तो विधवायें हैं। तुमको सर्व गुण सम्पन्न यहाँ ही बनना है, जो फिर अविनाशी हो जाता है। मेहनत चाहिए। अपने पर नज़र रखनी है, कोई भी भूत होगा तो ऊंच पद पा नहीं सकेंगे। नारद भक्त था-लक्ष्मी को वरने चाहता था, परन्तु शक्ल देखी तो बन्दर मिसल…। तुम पुरुषार्थ कर रहे हो लक्ष्मी को वरने के लिए, जिसमें 5 भूत होंगे वह कैसे वर सकेंगे। बहुत मेहनत चाहिए। बड़ी जबरदस्त लाटरी विन करते हो। हम राजा जरूर बनेंगे तो प्रजा भी होगी। हजारों लाखों वृद्धि होती रहेगी। पहले-पहले कोई भी आते हैं तो उनको बाप का परिचय दो। पतित-पावन, परमपिता परमात्मा से तुम्हारा क्या सम्बन्ध है! जरूर कहना पड़ेगा वह पिता है। अच्छा लिखो। एक ही पतित-पावन, सर्व को पावन बनाने वाला है। लिखवा लेने से फिर कोई बहस नहीं करेंगे। बोलो, तुम यहाँ सुनने आये हो वा सुनाने? सर्व का सद्गति दाता तो एक निराकार है ना। वह कब आकार साकार में नहीं आता है। अच्छा फिर प्रजापिता से क्या सम्बन्ध है? वह है साकारी, वह है निराकारी बाबा। हम एक बाप को याद करते हैं। हमारा एम आब्जेक्ट यह है। इनसे हम राजाई पायेंगे। अच्छा-

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) किसी भी देहधारी में अपनी बुद्धि नहीं लटकानी है। याद का रिकार्ड ठीक रखना है। कभी भी रोना नहीं है।

2) अपने शान्ति स्वधर्म में स्थित रहना है। शान्ति के लिए भटकना नहीं है। सबको इस भटकने से छुड़ाना है। शान्तिधाम और सुखधाम को याद करना है।

वरदान:- कल्प-कल्प के विजय की नूंध को स्मृति में रख सदा निश्चिंत रहने वाले निश्चयबुद्धि विजयी भव
निश्चयबुद्धि बच्चे व्यवहार वा परमार्थ के हर कार्य में सदा विजय की अनुभूति करते हैं। भल कैसा भी साधारण कर्म हो, लेकिन उन्हें विजय का अधिकार अवश्य प्राप्त होता है। वे कोई भी कार्य में स्वयं से दिलशिकस्त नहीं होते क्योंकि निश्चय है कि कल्प-कल्प के हम विजयी हैं। जिसका मददगार स्वयं भगवान है उसकी विजय नहीं होगी तो किसकी होगी, इस भावी को कोई टाल नहीं सकता! यह निश्चय और नशा निश्चिंत बना देता है।
स्लोगन:- सदा खुशी की खुराक द्वारा तन्दरुस्त, खुशी के खजाने से सम्पन्न खुशनुम: बनो।

 

Read Daily Murli 6 June 2017 :-  Click Here

[wp_ad_camp_5]

Font Resize