brahma kumaris murli 6 december 2017

TODAY MURLI 6 DECEMBER 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 6 DECEMBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 5 December 2017 :- Click Here

06/12/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, remember the Father and the cycle. There is no need to say anything through your lips. Simply remove your hearts from this hell and you will become ever free from disease.
Question: What advice does the Father come and give you children directly in order for you to make your reward elevated?
Answer: Children, everything you have is now going to finish. Nothing will be of any use. Therefore, like Sudama, create your future reward. The Father has come directly and so you should use everything you have in a worthwhile way. Open a hospital-cum-college through which many can benefit. Show everyone the path. Always continue to follow shrimat.

Om shanti. The unlimited Father explains to you children. One explains to those who are ignorant. You know that all are truly impure and that they remember the Purifier Father. Impure human beings would definitely be said to be ignorant. Everyone calls out: O Purifier, come and purify us! The people of Bharat know that Bharat was pure in the golden age. There was the pure household religion. At this time, it is the impure household irreligion. Those who are pure are said to be righteous souls. When it was the kingdom of Lakshmi and Narayan in this Bharat 5000 years ago, it was called the pure kingdom. Both men and women were pure. The Father sits here and explains that the path of devotion has continued for half the cycle. To chant, to do tapasya etc., to study the Vedas are all the path of devotion. No one can attain Me by doing any of those. They don’t know Me, the Father. All of them waste their time and energy. The path of devotion begins with the copper age. The deities go on to the path of sin. Hundreds of thousands of rupees are spent in building temples to the deities. The Somnath Temple was so beautifully decorated with diamonds and jewels. At that time, they would not have spent millions of rupees because diamonds and jewels hardly cost anything. If that temple were to be built at this time, it would be a property worth many millions. The Father now explains: Sweet children, to study the Vedas and scriptures is devotion; it cannot be called knowledge. They don’t believe in pilgrimages etc. in the golden age. The Ganges and Jamuna rivers exist in the golden age and they also exist at this time. In the golden age there were no rivers on which to go on pilgrimage. The Father is the Ocean of Knowledge. He sits here and gives you knowledge. That devotion continues for half the cycle. At first there is unadulterated devotion. They only worship Shiva at that time. Then they worship the deities. Now, even devotion has become adulterated. They continue to read scriptures etc. in performing devotion. All have become devotees. All the brides remember Me, the one Bridegroom. God is the One who protects the devotees. So, surely, there must be difficulty in devotion because that is why they call out: Come and liberate us! Free us from sorrow! Become our Guide and take us to the land of liberation! They don’t know who God is. They go to the Shiva and Shankar Temple. They have combined Shiva and Shankar, although the two are separate. That One is incorporeal and this one is a being with a subtle body. That One resides in the incorporeal world and this one resides in the subtle region. The Father explains: They show a bull in the temple. They believe that Shiva and Shankar used to ride a bull. They also say of Shiva that He is omnipresent. They would not say that Shiva and Shankar are omnipresent. They call the one incorporeal One, the Supreme Father, the Supreme Soul. The Father now says: Look how I, the Incorporeal, am teaching you! Would anyone be riding a bull? Why have people shown Me riding a bull? I enter an ordinary body when I come. I sit and tell you the story of this one’s 84 births. You too have come and become the mouth-born creation of Brahma. This one is called Bhagirath (the Lucky Chariot) because he hears everything first. He is the fortunate one. There are very few people in the golden age. All the rest of the souls will have gone back to their home from where they came. This is the field of action. The cycle of the world continues to turn. The golden and silver ages do not exist in the incorporeal world or the subtle region. This cycle of the drama rotates here. For half the cycle, there is knowledge, the golden and silver ages, and then for half the cycle there is devotion, the copper and iron ages. It was the kingdoms of Lakshmi and Narayan in the golden age: the kingdoms of Lakshmi and Narayan the First, Lakshmi and Narayan the Second, continue. There is the kingdom of the moon dynasty Rama in the silver age. In the golden age, you take eight births and in the silver age, you take 12 births. Only the Father explains this story of 84 births to you. The Father only meets His Brahmin children and not anyone else. Only when you become His children does He teach you. The Father says: I am your Father, Teacher and Satguru. I grant you salvation and take you back with Me. The method I give you of how to become pure is very easy. What are you doing while sitting here? Children say: Baba, we are remembering You. The Father’s order is: Constantly make effort to remember Me and your sins will be absolved through this fire of yoga. You will then become pure and satopradhan. You are now tamopradhan and the alloy will only be removed by your having remembrance. There is no question of difficulty. This is such an easy way to become ever free from disease. Deities never fall ill. Only by having this remembrance will you become free from disease. When your sins are absolved, you will become pure. This is such a big income. You may go on tours, but simply remember Me. First of all, practise this. By having remembrance, you will become free from disease for 21 births. There is no question of difficulty. Simply constantly remember Me alone. The Father says to souls: O souls, are you listening? The Father says through His mouth: Remember Me and remember your home. This hell is now to end and you have to return to your home. Also make effort to stay in remembrance when preparing meals. Even though you are karma yogis, you must definitely at least reach the stage of having eight hours of remembrance. Continue to increase your chart: five minutes, ten minutes, half an hour, etc. Continue to check for how long you remembered the Father from whom you receive the sovereignty of Paradise and become ever free from disease for 21 births. This is such an easy method! The knowledge of the cycle has been explained to you. You have to remember the cycle of the Brahmins, the topknot, the deities, warriors, merchants and shudras. Remember the Seed and the tree. You now know that the one religion is being established and that the other religions are to be destroyed. In the golden age, there is just the one religion. It is this that requires your efforts. The Father says: Remember Me, the Seed, and the tree. Establishment, destruction and sustenance; this is very easy. This is very easy yoga and easy knowledge. Your intellects have the knowledge of how the tree emerges from the Seed. You may live at home with your families, but you do have to remain pure. This is good, is it not? The Father says: You have been choking in hell for 63 births. You have been committing sins and have now become absolutely sinful souls. You have been following the dictates of Ravan. Gandhiji too wanted there to be the kingdom of Rama. This means that he was in the kingdom of Ravan. The intellects of human beings have become so dirty that they don’t understand anything at all! They don’t know at all when it was heaven. No one knows that it is now 5000 years since Lakshmi and Narayan came into existence. They say that the duration of the golden age is hundreds of thousands of years. For half the cycle there is knowledge and for half the cycle there is devotion. Then, when the world becomes old, you have disinterest. This enables you to remove your hearts from this hell. You are earning a lot of income while sitting here. The Father says: You are becoming rulers of the globe. This is the last of your 84 births and destruction is just ahead. The land of death is being destroyed and the land of immortality is being established. We are listening to Baba, the Lord of Immortality, telling the true story of becoming true Narayan. There is just the one religious story, but they have created so many scriptures etc. They spend millions and billions on them, but they are all lies. The Father tells you the truth and establishes the land of truth. Everything is explained to you so well. Innocent women, those without virtues and those with stone intellects can also become the masters of heaven. What do you have now? What does America have? There are big palaces there. All of them are now about to fall. In heaven, there is plenty of wealth. Here, there is no wealth. What would they loot from the White House of America? There isn’t anything there anyway. In the golden age, even the palace of the poorest person would be better than here. It would be covered with silver and gold. There, everything is very cheap. They all have their own land. There is the example of Sudama. On the path of devotion you have been giving two handfuls in the name of God. Some would donate five, ten or a hundred rupees and receive the return of that in their next birth. That is why people make donations and perform charity. Those who open hospitals receive good health in their next birth; they wouldn’t have any illness. Some open colleges and so they study in their next birth and become clever; they receive the fruit of one birth in their next birth. The Supreme Father, the Supreme Soul, the incorporeal Father, is the Bestower. The Father says: Children, open a hospital-cum-college and many will benefit from that. You will receive the fruit of that for 21 births. That is indirect for one birth and this is direct – you receive a reward for 21 births because the Father is now sitting here directly. He explains: Everything you have is to be destroyed. All the palaces etc. are to turn to dust. This is why you should earn for the future. That will then be useful to you. Show the path to anyone who comes. Remember the Father and the rust on you will be removed. The Father is from beyond this world. The Father says: By following shrimat you can become the masters of heaven, those with divine intellects. He also continues to explain so many methods to you. The account of each one’s actions is individual to that one. The Father sits here and explains to you the philosophy of action, neutral action and sinful action. If you have any difficulty, come and take shrimat from the Surgeon. Show this path to the innocent ones and those with stone intellects. There has been continual upheaval because of vice. When they are not given poison, they begin to beat them and throw them out of the house. They create so much upheaval. Baba says: There will be many obstacles from devils in this sacrificial fire of knowledge. Many innocent ones will be assaulted. There is never any assault in other satsangs. Here, there are obstacles. Baba says: People have become so impure! You are now becoming pure in order to become the masters of the pure world. The Father’s order is: Become pure in this last birth and remember Me and your sins will be absolved. This is called easy Raja Yoga. This method is not mentioned in any other scripture. In the Gita, it says: Renounce all bodily religions and remember Me, your Father. Krishna is not God. God, the Father of all souls, is only the One. He has taken this body on loan. This is His Lucky Chariot. This one has the happiness that God uses his body. The Father enters this body and benefits everyone. However, there isn’t a bull etc. What would a new person understand about these things? Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Become completely pure in this final birth, and stay in remembrance of the Father alone. Remove your heart from this impure world.
  2. Become a spinner of the discus of self-realisation. Open a hospital-cum-college and benefit many. Take shrimat from the Supreme Surgeon at every step.
Blessing: May you be aware of your title of “A spinner of the discus of self-realisation” and thereby become a conqueror of Maya and free from looking at others.
At the confluence age, the Father Himself gives you children different titles. Keep those titles in your awareness and you will easily be able to stabilise in your elevated stage. Your intellect should not just speak about it but you should set yourself on that seat. Let your stage be according to your title. If you have the title of a spinner of the discus of self-realisation in your awareness, then you cannot look at others. To be a spinner of the discus of self-realisation means to be a conqueror of Maya. Maya will not then even have the courage to come in front of you. No one can stay in front of the discus of self-realisation.
Slogan: Experience the stage of retirement and give others this experience and all games of childhood will finish.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

BRAHMA KUMARIS MURLI 6 DECEMBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 6 December 2017

To Read Murli 5 December 2017 :- Click Here
06/12/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – बाप को और चक्र को याद करो, मुख से कुछ भी बोलने की दरकार नहीं, सिर्फ इस नर्क से दिल हटा दो तो तुम एवर निरोगी बन जायेंगे”
प्रश्नः- बाप डायरेक्ट आकर अपने बच्चों की श्रेष्ठ प्रालब्ध बनाने के लिए कौन सी राय देते हैं?
उत्तर:- बच्चे, अब तुम्हारा सब कुछ खत्म होने वाला है। कुछ भी काम नहीं आयेगा इसलिए सुदामे की तरह अपनी भविष्य प्रालब्ध बना लो। बाप डायरेक्ट आया है तो अपना सब कुछ सफल कर लो। हॉस्पिटल कम कॉलेज खोल दो जिससे बहुतों का कल्याण हो। सबको रास्ता बताओ। श्रीमत पर सदा चलते रहो।

ओम् शान्ति। बेहद का बाप बच्चों को समझा रहे हैं। समझाया उसको जाता है जो बेसमझ होते हैं। तुम जानते हो कि बरोबर सब पतित हैं और पतित-पावन बाप को याद करते हैं। पतित मनुष्य को जरूर बेसमझ कहेंगे। सभी बुलाते हैं कि हे पतित-पावन आकर हमको पावन बनाओ। भारतवासी जानते हैं कि सतयुग में यह भारत पावन था। पावन गृहस्थ धर्म था, इस समय पतित गृहस्थ अधर्म है। धर्मात्मा पावन को कहा जाता है। इस भारत में 5 हजार वर्ष पहले जब लक्ष्मी-नारायण का राज्य था तो उनको पावन राज्य कहा जाता था। नर और नारी दोनों पावन थे। बाप बैठ समझाते हैं आधाकल्प से भक्ति मार्ग चला है। जप-तप आदि करना, वेद अध्ययन करना, यह सब भक्ति मार्ग है, इससे मुझे कोई प्राप्त नहीं कर सकता। मुझ बाप को जानते ही नहीं हैं। यह सब वेस्ट आफ टाइम, वेस्ट आफ इनर्जी करते हैं। द्वापर से लेकर भक्ति मार्ग शुरू होता है। फिर देवतायें वाम मार्ग में जाते हैं। लाखों करोड़ों रूपया खर्च कर देवताओं के मन्दिर बनाते हैं। सोमनाथ का मन्दिर कितना हीरे-जवाहरों से सजा हुआ था। उस समय के हिसाब अनुसार करोड़ों रुपये खर्च नहीं किया होगा क्योंकि उस समय तो हीरे-जवाहर आदि का दाम कुछ भी नहीं रहता। इस समय अगर वह मन्दिर होता तो अथाह पदमों की मिलकियत हो जाए।

अब बाप समझाते हैं मीठे बच्चे वेद, शास्त्र अध्ययन करना, यह भक्ति है, उसको ज्ञान नहीं कहा जाता। सतयुग में तीर्थ आदि नहीं मानते हैं। गंगा-जमुना नदियाँ तो सतयुग में भी हैं। अभी भी हैं। सतयुग में कोई तीर्थ करने के लिए नदियाँ नहीं थी। बाप तो है ज्ञान का सागर, वह बैठ ज्ञान देते हैं। आधाकल्प यह भक्ति चलती है। पहले अव्यभिचारी भक्ति होती है। शिव की ही पूजा करते हैं। फिर देवताओं की, अभी तो भक्ति व्यभिचारी हो गई है। भक्ति करते, शास्त्र आदि पढ़ते रहते हैं तो सब भगत हो गये। सजनियाँ मुझ एक साजन को याद करती हैं। भक्तों की रक्षा करने वाला है भगवान। तो जरूर भक्ति में तकलीफ होती है तब तो कहते हैं आकर हमको लिबरेट करो। दु:ख से मुक्त करो। गाइड बन मुक्तिधाम में ले चलो। उनको यह पता नहीं है कि भगवान कौन है। शिव वा शंकर के मन्दिर में जाते हैं। शिव-शंकर को इकट्ठा कर दिया है। हैं दोनों अलग-अलग, वह निराकार, वह सूक्ष्म शरीरधारी। वह मूलवतन में रहने वाला, वह सूक्ष्मवतन में रहने वाला। तो बाप समझाते हैं मन्दिर में बैल दिखाते हैं। समझते हैं शिव-शंकर की बैल पर सवारी थी। अब शिव के लिए कहते हैं वह सर्वव्यापी है। ऐसे नहीं कहेंगे कि शिव शंकर सर्वव्यापी हैं। एक परमपिता परमात्मा निराकार को कहते हैं। अब बाप कहते हैं देखो मैं निराकार तुमको कैसे पढ़ाता हूँ। बैल पर कोई सवारी थोड़ेही होती है। हमारी सवारी बैल पर क्यों दिखाई है? मैं तो साधारण मनुष्य तन में प्रवेश करके आता हूँ। इनके 84 जन्मों की कहानी बैठ तुमको सुनाता हूँ। तुम भी ब्रह्मा मुख वंशावली आकर बने हो। इनका नाम है भागीरथ अर्थात् भाग्यशाली रथ क्योंकि पहले-पहले यह सुनते हैं और यही सौभाग्यशाली हैं। सतयुग में बहुत थोड़े होते हैं। बाकी सब आत्मायें वापिस चली जाती हैं अपने घर, जहाँ से आई हैं। यह कर्मक्षेत्र है। सृष्टि का चक्र फिरता रहता है। मूलवतन, सूक्ष्मवतन में यह सतयुग त्रेता नहीं होते हैं। यह ड्रामा का चक्र यहाँ फिरता है। आधाकल्प ज्ञान सतयुग-त्रेता, आधाकल्प भक्ति द्वापर-कलियुग। सतयुग में लक्ष्मी-नारायण का राज्य था फिर लक्ष्मी-नारायण दी फर्स्ट, सेकेण्ड.. राजाई चलती है। त्रेता में है चन्द्रवंशी राम की डिनायस्टी। सतयुग में 8 जन्म, त्रेता में 12 जन्म। यह 84 जन्मों की कहानी बाप ही समझाते हैं। बाप अपने ब्राह्मण बच्चों को ही मिलते हैं और किसको नहीं। बच्चे बने हैं तब उनको पढ़ाते हैं। बाप कहते हैं – मैं तुम्हारा बाप-टीचर-सतगुरू हूँ। सद्गति कर साथ ले जाता हूँ। पावन होने का बहुत सहज उपाय है, जो तुमको बतलाता हूँ। यहाँ बैठ तुम क्या करते हो? बच्चे कहते हैं – बाबा हम आपको याद करते हैं। आपका फरमान है कि निरन्तर मुझे याद करने का पुरुषार्थ करो तो इस योग अग्नि से तुम्हारे विकर्म विनाश हो जायेंगे। फिर तुम पवित्र सतोप्रधान बन जायेंगे। अब तुम तमोप्रधान हो, याद से ही खाद निकलेगी। कोई तकलीफ की बात नहीं। एवर निरोगी बनने के लिए कितनी सहज युक्ति है। देवतायें कभी बीमार नहीं होते। इस याद से ही तुम निरोगी बनेंगे। पाप भस्म होने से तुम पावन बन जायेंगे। बड़ी भारी कमाई है। घूमो, फिरो सिर्फ मुझे याद करो। पहले यह प्रैक्टिस करनी है। याद करने से हम 21 जन्म के लिए निरोगी बन जायेंगे। कोई तकलीफ की बात नहीं, सिर्फ मामेकम् याद करो। यह बाप ने आत्माओं को कहा, हे आत्मायें सुनती हो? बाप मुख से कहते हैं मुझे याद करो और घर को याद करो। अब यह नर्क खलास होना है। जाना है अपने घर। भोजन बनाते समय भी याद का पुरुषार्थ करो। भल तुम कर्मयोगी हो तो भी कम से कम 8 घण्टे तक जरूर पहुँचो। 5 मिनट, 10 मिनट, आधा घण्टा ऐसे चार्ट को बढ़ाते रहो। जाँच करते रहो हमने कितना समय बाप को याद किया? जिस बाप से वैकुण्ठ की बादशाही मिलती है, 21 जन्मों के लिए सदा निरोगी बनते हैं। कितनी सहज युक्ति है। चक्र का नॉलेज समझाया है कि चोटी ब्राह्मण, देवता, क्षत्रिय, वैश्य, शूद्र यह चक्र याद करना है। बीज और झाड़ को याद करो। अभी तुम जानते हो एक धर्म की स्थापना हो तो दूसरे धर्म विनाश हो जायेंगे। सतयुग में एक ही धर्म है। तुमको मेहनत ही इसमें है। बाप कहते हैं मुझ बीज को याद करो और झाड़ को याद करो। स्थापना, विनाश और पालना… यह है बहुत सहज। सहजयोग और सहज ज्ञान। बीज से झाड़ कैसे निकलता है, यह तुम्हारी बुद्धि में ज्ञान है। रहो भल गृहस्थ में परन्तु पवित्र रहना है। यह तो अच्छा है ना। बाप कहते हैं 63 जन्म तुमने नर्क में गोते खाये हैं। पाप किये, अब बिल्कुल ही पाप आत्मा बन पड़े हो। रावण की मत पर चलते आये हो। गाँधी भी रामराज्य चाहते थे। इसका मतलब रावण राज्य में थे। मनुष्यों की बुद्धि कितनी मलीन हो गई है। कुछ भी समझते नहीं हैं। स्वर्ग कब था किसको पता ही नहीं है। लक्ष्मी-नारायण को 5 हजार वर्ष हुए हैं, यह किसको मालूम नहीं है। सतयुग की आयु लाखों वर्ष कह देते हैं। आधाकल्प है ज्ञान, आधाकल्प है भक्ति फिर जब पुरानी दुनिया हो जाती है तो आता है वैराग्य। इस नर्क से दिल हटा देते हैं।

तुम यहाँ बैठे बहुत कमाई करते हो। बाप कहते हैं – तुम चक्रवर्ती राजा बनते हो। यह तुम्हारा अन्तिम 84 वाँ जन्म है, विनाश सामने खड़ा है। मृत्युलोक का विनाश अमरलोक की स्थापना हो रही है। अमरनाथ बाबा से हम सत्य-नारायण बनने की सत्य कथा सुन रहे हैं। है एक कथा। शास्त्र आदि कितने ढेर बनाये हैं। करोड़-पदम रूपये खर्च करते हैं। है सब झूठ। बाप सच बताए सचखण्ड की स्थापना करते हैं। कितना अच्छी रीति समझाया जाता है। कैसी भी अबलायें, गणिकायें, अहिल्यायें उस स्वर्ग का मालिक बन सकती हैं। तुम्हारे पास अभी क्या रखा है? अमेरिका में क्या है? बड़े-बड़े महल हैं। वह तो अभी गिरे कि गिरे। स्वर्ग में तो अकीचार धन था। यहाँ तो धन है ही नहीं। अमेरिका के व्हाइट हाउस को क्या लूटेंगे? कुछ भी रखा नहीं है। वहाँ सतयुग में तो गरीब से गरीब का महल भी यहाँ से अच्छा होगा। चाँदी सोना लगा हुआ होगा। वहाँ सब सस्ताई रहती है, सबको अपनी जमीन रहती है। सुदामे का मिसाल… भक्ति मार्ग में दो मुट्ठी ईश्वर अर्थ देते आये हो। कोई 5-10-100 रुपये भी दान करते हैं, जिसका एवजा दूसरे जन्म में मिलता है इसलिए ही मनुष्य दान-पुण्य आदि करते हैं। कोई हॉस्पिटल खोलते हैं तो दूसरे जन्म में तन्दरुस्ती अच्छी मिलती है। कोई बीमारी नहीं होती है। कोई कॉलेज बनाते हैं तो दूसरे जन्म में पढ़कर होशियार हो जाते हैं। एक जन्म का फल दूसरे जन्म में मिलता है। अब परमपिता परमात्मा निराकार बाप तो दाता है। बाप कहते हैं – बच्चे एक हॉस्पिटल कम कॉलेज खोलो, इसमें बहुतों का कल्याण होगा। इसका फल तुमको 21 जन्म के लिए मिलेगा। वह है इनडायरेक्ट एक जन्म के लिए, यह है डायरेक्ट, 21 जन्मों के लिए प्रालब्ध मिलती है क्योंकि अब बाप डायरेक्ट बैठे हैं। समझाते हैं तुम्हारा सब कुछ खत्म होने वाला है। महल माड़ियाँ सब मिट्टी में मिल जानी हैं इसलिए अब भविष्य की कमाई करो जो तुम्हारे काम आये। जो भी आये उसको रास्ता बताओ, बाप को याद करो तो तुम्हारी कट निकलेगी। पारलौकिक बाप है। बाप कहते हैं श्रीमत पर चलने से तुम स्वर्ग के मालिक, पारसबुद्धि बन सकते हो। कितनी युक्तियाँ भी समझाते रहते हैं। हर एक के कर्म का हिसाब अपना-अपना है। बाप कर्म-अकर्म-विकर्म की गति बैठ समझाते हैं। कोई भी तकलीफ हो तो सर्जन के पास आकर श्रीमत लो। अहिल्याओं, कुब्जाओं… सबको यह रास्ता बताना है। पवित्रता पर ही हंगामा होता आया है। विष नहीं दिया तो मारने लग पड़ते। घर से निकाल देते हैं। कितना हंगामा करते हैं। बाबा कहते हैं इस ज्ञान यज्ञ में असुरों के विघ्न बहुत पड़ेंगे। अबलाओं पर अत्याचार बहुत होंगे और सतसंगों में कभी अत्याचार नहीं होते हैं। यहाँ पर विघ्न पड़ते हैं। बाबा कहते हैं – कितने पतित बन पड़े हैं। अभी तुम पवित्र बनते हो – पावन दुनिया का मालिक बनने के लिए। बाप का फरमान है यह अन्तिम जन्म पवित्र बन मुझे याद करो तो विकर्म विनाश हों। इसका नाम ही है सहज राजयोग और कोई शास्त्र में यह युक्ति नहीं है। गीता में है देह के सब धर्म त्याग मुझ अपने बाप को याद करो। अब कृष्ण तो भगवान है नहीं। भगवान सब आत्माओं का बाप एक है। शरीर का लोन लिया है, यह है भाग्यशाली रथ। इनको खुशी तो होती है कि मेरा शरीर भगवान काम में लाते हैं। इस शरीर में बाप आकर सबका कल्याण करते हैं। बाकी बैल आदि नहीं है। इन बातों को नया क्या समझे। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) इस अन्तिम जन्म में सम्पूर्ण पवित्र बन बाप की याद में ही रहना है। इस पतित दुनिया से दिल हटा देना है।

2) स्वदर्शन चक्रधारी बनना है। हॉस्पिटल कम कॉलेज खोल अनेकों का कल्याण करना है। हर कदम पर सुप्रीम सर्जन से श्रीमत लेनी है।

वरदान:- स्वदर्शन चक्र के टाइटल की स्मृति द्वारा परदर्शन मुक्त बनने वाले मायाजीत भव 
संगमयुग पर स्वयं बाप बच्चों को भिन्न-भिन्न टाइटल्स देते हैं, उन्हीं टाइटल्स को स्मृति में रखो तो श्रेष्ठ स्थिति में सहज ही स्थित हो जायेंगे। सिर्फ बुद्धि से वर्णन नहीं करो लेकिन सीट पर सेट हो जाओ, जैसा टाइटल वैसी स्थिति हो। यदि स्वदर्शन चक्रधारी का टाइटल स्मृति में रहे तो परदर्शन चल नहीं सकता। स्वदर्शन चक्रधारी अर्थात् मायाजीत। माया उसके आगे आने की हिम्मत भी नहीं रख सकती। स्वदर्शन चक्र के आगे कोई भी ठहर नहीं सकता।
स्लोगन:- वानप्रस्थ स्थिति का अनुभव करो और कराओ तो बचपन के खेल समाप्त हो जायेंगे।

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

Font Resize