brahma kumaris murli 3 october 2017

TODAY MURLI 3 OCTOBER 2017 DAILY MURLI (English)

03/10/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, sit in silence by withdrawing your senses like a tortoise and spin the discus of self-realisation. Remember the Father who is the Saccharine of all relationships and your sins will be absolved.
Question: What is the Father’s shrimat for the children who belong to God’s clan?
Answer: Since you have become the children of God and are sitting personally in front of Him, remember Him with a lot of love. Follow His shrimat. The more you remember Him, the more intoxication you will have. However, Maya, Ravan, sees that his customers are being taken away and so he wages war on you. Baba says: Children, don’t become weak. I am sitting here to give you power.
Song: Have patience, o mind! Your days of happiness are about to come

Om shanti. Who says to you children, “O children”? It is the soul that is referred to as the mind. The mind and intellect are in the soul. So, they have given these names. Many things have many names. For instance, God is called the Supreme Father, the Supreme Soul, Baba, and some even call Him Father. So, Baba is the simplest name of all. Baba says: Do you remember whose children you are? You children are now sitting here. Who is in front of you? You souls would say that Baba is sitting in front of you. It is such a simple matter! You children know that the Supreme Father, the Supreme Soul, is the Father of you souls. People say “Baba” to young and old, whereas souls here call their Father “Baba”. The soul says: O God , the Father. The father of the body would not be called God, the Father. You know that you are sitting in front of that Baba. This refers to the soul. Shiv Baba explains who He is. I am the Supreme Soul. I am the Father of all of you souls and I reside in the supreme abode. This is why I am called the Supreme Soul. When you combine the two words Param Atma (Supreme and Soul) it becomes Paramatma (God). It is so easy! Who is sitting here? Shiv Baba. If He weren’t here, Brahma wouldn’t be here either. You children always have remembrance of Him in your hearts. He too is a soul; there is no difference. Just as a soul is a star and you have a vision of that star, in the same way, the vision of the Father would also be in the form of a s tar. However, when they have said that He is so bright that it can’t be tolerated, that is a feeling of their mind. The Father tells you everything accurately: just as you are souls, similarly, I too am a soul. I have to sit next to the soul in this body, in his forehead. He sits here and explains that you souls have part s of 84 births recorded in you. Each one has his own part. It is said that souls and the Supreme Soul remained separated for a long time. The words ‘Param Atma’ (Supreme Soul) are very clear. By calling Him Paramatma (God), people have become confused. He too is a soul, but He is the Supreme Soul who always resides in the supreme abode. Brahma is not called the Supreme Soul. All of these are living beings; some are sinful souls and some are charitable souls. The Father says: I am not called a sinful soul or a charitable soul. I am simply called the Supreme Soul. I too have a part. I come once every cycle to make the impure world pure. People remember: O Purifier, come, but no one considers himself to be impure or to belong to the community of Ravan. They say that they want the kingdom of Rama. They burn Ravan, but they don’t even know that they are part of the community of Ravan. They are definitely impure and this is why they call out. They don’t call out to Krishna. He is not called the Supreme Soul. The Father of all of us has come from the supreme abode and He is called the Supreme Soul. By His being called Ishwar and Bhagawan there is confusion. The Father explains to you through this living being. He tells you: Children, may you be bodiless! You were My children when I sent you here. You adopted bodies in heaven and then went around the cycle. You have now completed the cycle of 84 births. At this time all are the children of Ravan. It was Ravan that made you impure. You have now become the children of God. Baba has now come. He says: My part is to make the devilish community into the divine community. According to the drama, I too come at My own time , at the confluence age of the cycle. The iron age is the impure, old, tamopradhan world and it is then that I come to establish the kingdoms of the sun and moon dynasties. Only when it no longer exists can I establish it. Then, when the sun and moon dynasties exist, the merchant and shudra dynasties will not exist. You have now become the children of God in order to become the children of the deities. Therefore, you need to have yoga with the Father through which your sins can be absolved. You have to spin the discus of self-realisation in order to become ever healthy and ever wealthy. You have to remember Baba; it is this that requires effort. Keep a chart of how long you remember Baba. The more you stay in remembrance, the more you will have the feeling of supersensuous joy. This is why it is said that if you want to know about supersensuous joy, ask the gopes and gopis who belong to Gopi Vallabh. The Father is called Vallabh. The form of a father would be the same as his children. In the same way, the Father of souls is also a soul, but He is the One who resides in the supreme abode. If that Seed were to come down into the cycle, the tree would go up above, just as the seed of a physical tree is down below and the tree is above. However, this is an inverted tree. The Seed of it, the Supreme Soul, resides in the supreme abode. Souls come down from up above in order to play their part s. The branches continue to emerge. The Father says: Ravan made you ugly. You now have to become beautiful. They have shown both Krishna and Narayan as dark. Why do they show Lakshmi as fair? Both must have sat on the pyre of lust. For Krishna they say that he was bitten by a snake. So, who bit Narayan? They don’t understand anything. They have created all the images by following the dictates of Ravan. Baba has now come and is giving you shrimat to liberate you from Ravan. I am the Bestower of Salvation for All. The title ‘Shri Shri 108 Jagadguru’ is also His title and so He gives salvation to the world. A lot of His praise is written in the Granth: the Satguru, the true Emperor, is the One who establishes the land of truth. Baba had learnt all of that by heart, but he didn’t understand the meaning of it. He used to consider himself to be very religious minded, but he belonged to Ravan’s clan. You now belong to God’s clan and so you have to remember Him with so much love. Baba, You are so sweet! You take us to heaven. The more you remember Heavenly God, the Father, the more intoxication you will feel. Whom are you sitting in front of at this time? The Father says: O beloved children, I am your Supreme Father. I am speaking to you souls. Now, why are you not following My shrimat? The evil spirit of lust makes you fall. The Father says: Why do you become weak? You are receiving shrimat. So, why are you following devilish dictates? You have to battle. Maya believes that her customers are being taken away and so she battles. The Father is giving you power. He teaches you so many lessons and also explains to you the essence of all the Vedas and scriptures. He would not tell you that in the subtle region. They have shown Brahma emerging from the navel of Vishnu. How could there be a navel in the subtle region? Just look at the things they have written. The knowledge that you are receiving now doesn’t last forever; it ends here. All the scriptures that are written later continue forever. This knowledge disappears here. The Father says: Now follow My directions! Become soul conscious! Run the race and become a garland around My neck! This race is of intellects. Sannyasis cannot say: May you become bodiless! Constantly remember Me alone. God says this to everyone because all are His children. I have come to take everyone back home. However, you children listen to Him personally, but not the whole world does. So people celebrate Shiv Ratri (the night of Shiva). They also have temples to Shiva. He definitely came, but Shiva’s form is not so large. He is a s tar. When you tell people this, they ask you if the images that have been created in the temples are wrong. This is why the Father explains: Children, I too am a soul. It is just that you enter the cycle of birth and death and I don’t. This is why I am able to liberate you. I am the Purifier and so I definitely have to come into the impure world. If you don’t call Him the Purifier, people would think that He creates a new world, that annihilation takes place and that He then creates a new world. However, He is called the Purifier which proves that this world is eternal. It doesn’t go through annihilation; it simply becomes impure and I make it pure. This is why I enter this bull or lucky chariot in order to make you into Narayan from an ordinary human. Everyone wants to become part of the sun dynasty. There is also the story of the devotee who asked if he could marry Lakshmi. Narad was the devotee. He was told: First of all look at your face! First of all, from being a monkey, become worthy of being in a temple and you will then be able to marry Lakshmi. You are now becoming worthy of being in a temple. All of this applies to this time. Who is telling you all of these things? Shiv Baba is sitting in the centre of the forehead of Brahma Dada and explaining these things to you. Since this one’s soul is sitting in the forehead, He must definitely be sitting next to him. The knowledge-full Father is explaining to you all the secrets of the beginning, the middle and the end with which it is easy to spin the discus of self-realisation. By spinning the discus of self-realisation your sins will be absolved. Otherwise, there will be punishment. You won’t even become part of the rosary of victory. When you are free, sit in silence like a tortoise and spin the discus of self-realisation. You now have to return home. Remain pure in this last birth. This is called breaking the discipline of following the code of conduct of worldly society and of becoming impure. Remember no one else. When you die the world is dead for you. Become bodiless, belong to Me and your sins will be absolved. Everyone has to die, so who would weep for whom? In Hiroshima, everyone died and there was no one left to weep for anyone else. This is why you now have to go back from the land of weeping. In this dirty world, every organ of everyone is filled with germs, so why should you remember them? In the golden age you will not have such bodies. There, every organ will have fragrance. Baba is making all the dirty, smelly ones into flowers. This is why He has to enter such an old, long boot. Baba says: You may live at home but you have to follow shrimat. Don’t indulge in vice. Shiv Baba is sitting in front of you, so don’t forget Him. Achcha.

Song: The sky is calling out to the earth….

The Father who resides in the sky is calling out to those who reside on earth. You now have to come to Me. Therefore, become destroyers of attachment. I will give you the limitless happiness of heaven. The Father is the Saccharine of all types of happiness. All the maternal and paternal uncles cause you sorrow. Your renunciation is of the whole devilish world of hell. Sannyasis simply renounce their homes. You have to forget this dirty world of hell. When people have a little wealth, they believe that they are in heaven. People may be so wealthy now, but if they become bankrupt or if an aeroplane crashes, everyone finishes. So they then begin to weep and wail. There is no question of accidents there. No one weeps there. Baba says: OK, if you are in heaven, remain happy! I have come here for the poor who are in hell. Donations are given by the wealthy to the poor. Do wealthy ones donate to wealthy ones? I am the wealthiest of all. I give donations to those who are poor. The wealthy ones are lost in the intoxication of their wealth and fashion. Achcha.

Baba explains that this is Indraprasth (Court of Indra). Here, swans pick up pearls. However, those who are storks would pick up stones. This is why Baba says: Only swans (who pick up virtues) should come here, not storks (who see the defects of others). Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Follow the Father’s shrimat, become soul conscious and become a garland around the Father’s neck. Stay in remembrance of the Father and experience supersensuous joy.
  2. Become a total destroyer of attachment to this world. Don’t remember the dirty body of anyone.
Blessing: May you use your Godly sanskars and make everything worthwhile and thereby become an embodiment of success.
The children who use their Godly sanskars finish their waste thoughts automatically. To use something in a worthwhile way means to save and increase it. Let it not be that you continue to use your old sanskars and keep your Godly sanskars in the locker of your intellect. Some have the habit of keeping their good possessions and their money in the banks and cupboards. They love old things and so they continue to use those. You mustn’t do that here. Here, you have to make everything worthwhile with your thoughts, words and powerful attitude and you will become an embodiment of success.
Slogan: When the canopy of “The Father and I” is over you, no obstacle can then stay with you.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 3 OCTOBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

03/10/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – कछुये मिसल सब कुछ समेटकर चुप बैठ स्वदर्शन चक्र फिराओ, बाप जो सर्व सम्बन्धों की सैक्रीन है, उसे याद करो तो तुम्हारे विकर्म विनाश हो जायेंगे”
प्रश्नः- ईश्वरीय कुल के बच्चों प्रति बाप की श्रीमत क्या है?
उत्तर:- तुम जब ईश्वर के बच्चे बने, उनके सम्मुख बैठे हो तो प्यार से उसे याद करो। उनकी श्रीमत पर चलो। जितना उसे याद करेंगे उतना नशा रहेगा। परन्तु माया रावण देखता है कि मेरे ग्राहक छिनते हैं तो वह भी युद्ध करता है। बाबा कहते हैं बच्चे कमजोर मत बनो। मैं तुम्हें शक्ति देने लिए बैठा हूँ।
गीत:- धीरज धर मनुआ ….

ओम् शान्ति। यह कौन कहते हैं बच्चों को कि हे बच्चे, क्योंकि मनुआ कहा जाता है आत्मा को। आत्मा में ही मन-बुद्धि हैं। तो यह भी नाम रख दिया है। नाम तो बहुत चीज़ों के बहुत रखे हैं जैसे परमपिता परमात्मा, बाबा, कोई फिर फादर कहते हैं। तो बाबा है सबसे सिम्पुल। बाबा कहते हैं तुम किसकी सन्तान हो, वह याद आता है? अब तुम बच्चे बैठे हो, सामने कौन है? आत्मायें कहेंगी बाबा बैठा है। कितनी सिम्पुल बात है। बच्चे जानते हैं हम आत्माओं का परमपिता परम आत्मा पिता है। मनुष्य तो छोटे, बड़े सबको बाबा कह देते हैं और यह फिर आत्मा अपने बाबा को बाबा कहती है। ओ गॉड फादर कहते हैं। अब शरीर के फादर को तो गॉड फादर नहीं कहेंगे। तुम जानते हो हम उस बाबा के सामने बैठे हैं, यह आत्मा की बात है शिवबाबा समझाते हैं तो मैं कौन हूँ! मैं परम आत्मा हूँ। मैं तुम सभी आत्माओं का परमधाम में रहने वाला पिता हूँ, इसलिए मुझे परम आत्मा कहते हैं। इकट्ठा करने से हो जाता है परमात्मा। कितना सहज है। यह कौन बैठा है? शिवबाबा, वह न होता तो यह ब्रह्मा भी नहीं होता। तुम बच्चों की दिल में हमेशा उनकी याद रहती है। है वह भी आत्मा, कोई फ़र्क नहीं है। जैसे आत्मा स्टार है, उस स्टार का साक्षात्कार होता है। वैसे बाप का भी स्टॉर रूप में साक्षात्कार होगा। बाकी यह जो कहते हैं कि बहुत तेज है, सहन नहीं कर सकते। यह मन की भावना है। बाकी तो बाप यथार्थ करके समझाते हैं कि जैसे तुम आत्मा हो वैसे मैं भी आत्मा हूँ। मुझे भी इस तन में इस आत्मा के बाजू में भृकुटी में बैठना है। तो वह बैठ समझाते हैं कि तुम आत्माओं में 84 जन्मों का पार्ट भरा हुआ है। सो भी हर एक में अपना-अपना पार्ट है। कहते हैं आत्मा परमात्मा अलग रहे बहुकाल…. अब परम आत्मा अक्षर क्लीयर है। उनको परमात्मा कहने से मूँझ गये हैं। है तो आत्मा परन्तु सदा परमधाम में रहने वाली परम आत्मा है। ब्रह्मा को परम आत्मा नहीं कहेंगे। यह सब हैं जीव आत्मायें। इनमें कोई पाप आत्मा, कोई पुण्य आत्मा है। बाप कहते हैं मुझे पाप वा पुण्य आत्मा नहीं कहा जाता है। मुझे परमात्मा ही कहा जाता है। मेरा भी पार्ट है। एक बार आकर पतित दुनिया को पावन बनाता हूँ। याद भी करते हैं कि पतित-पावन आओ। परन्तु कोई समझते थोड़ेही हैं कि हम पतित, रावण सम्प्रदाय हैं। कहते हैं रामराज्य चाहिए। रावण को जलाते भी हैं परन्तु यह नहीं जानते कि हम ही रावण सम्प्रदाय हैं। जरूर पतित हैं तब तो बुलाते हैं। कृष्ण को तो नहीं बुलाते। उनको तो परम आत्मा नहीं कहते। हम सबका बाप जो परमधाम से आया है, उसको ही परम आत्मा कहा जाता है। ईश्वर वा भगवान कहने से रोला पड़ जाता है। बाप इस जीव आत्मा द्वारा समझाते हैं। तुमको कहते हैं बच्चे अशरीरी भव। तुम मेरे बच्चे थे, जब तुमको भेजा था। स्वर्ग में शरीर धारण कर आये, चक्र लगाते-लगाते अब तुमने 84 का चक्र पूरा किया। इस समय सब रावण की सन्तान हैं। रावण ने ही पतित बनाया है। अब तुम बने हो ईश्वरीय सन्तान। अब बाबा आया है। कहते हैं मेरा पार्ट है आसुरी सम्प्रदाय को दैवी सम्प्रदाय बनाना। मैं भी ड्रामा अनुसार अपने टाइम पर आता हूँ – कल्प के संगमयुगे। कलियुग है पतित पुरानी तमोप्रधान दुनिया, तब मैं आता हूँ सूर्यवंशी, चन्द्रवंशी कुल का राज्य स्थापन करने। न हो तब तो स्थापन करूं। फिर जब सूर्यवंशी चन्द्रवशी होंगे तो वैश्य, शूद्र वंशी नहीं होंगे। अब तुम ईश्वरीय सन्तान बने हो, दैवी सन्तान बनने के लिए। तो बाप के साथ योग चाहिए जिससे विकर्म विनाश हों। एवरहेल्दी, एवरवेल्दी बनने के लिए स्वदर्शन चक्र फिराना पड़े। बाबा को याद करना है, इसमें ही मेहनत है। यह चार्ट रखो कि कितना समय बाबा को याद करते हैं? जितना याद में रहेंगे तो अतीन्द्रिय सुख की भासना आयेगी। तब कहा जाता है अतीन्द्रिय सुख पूछना हो तो गोपी वल्लभ के गोप गोपियों से पूछो। वल्लभ कहा जाता है बाप को। बाप का रूप भी बेटे जैसा ही होता है। वैसे आत्माओं का बाप भी आत्मा ही है परन्तु परमधाम में रहने वाला है। अगर वह बीज नीचे चक्र में चला आये तो झाड़ ऊपर चला जाये। जैसे वह झाड़ होता है, उनका बीज नीचे झाड़ ऊपर। परन्तु यह उल्टा झाड़ है, जिसका बीजरूप परम आत्मा परमधाम में निवास करते हैं। आत्मायें भी पार्ट बजाने ऊपर से नीचे आती हैं। टाल टालियां निकलती जाती हैं, अब बाप कहते हैं तुमको रावण ने काला कर दिया है। अब तुमको गोरा बनना है। कृष्ण और नारायण दोनों को काला कर दिया है। लक्ष्मी को गोरा बनाते हैं, क्यों? काम चिता पर तो दोनों बैठे होंगे। कृष्ण के लिए कहते उनको तक्षक सर्प ने डसा, नारायण को फिर किसने डसा? कुछ भी समझते नहीं हैं। चित्र आदि भी सब रावण की मत पर बनाये हैं। अब बाबा आया है श्रीमत देकर रावण से लिबरेट करने के लिए। मैं सबका सद्गति दाता हूँ, श्री श्री 108 जगतगुरू का टाइटल भी इनका है, जगत की सद्गति करते हैं। ग्रंथ में इनकी महिमा बहुत लिखी है। सद्गुरु सच्चा पातशाह, सचखण्ड स्थापन करने वाला। बाबा को यह सब कण्ठ था। परतु अर्थ का पता नहीं था। अपने को बहुत रिलीजस माइन्डेड समझते थे। परन्तु थे रावण के कुल के। अब तुम ईश्वर के कुल के बने हो तो कितना प्यार से उनको याद करना चाहिए। बाबा आप कितने मीठे हो। हमको स्वर्ग में ले चलते हो, हेविनली गॉड फादर को जितना याद करेंगे तो नशा चढ़ेगा। अब किसके सामने बैठे हो? बाप कहते हैं हे लाडले बच्चे मैं तेरा परमपिता, तुम आत्माओं से बात कर रहा हूँ। अब मेरी श्रीमत पर क्यों नहीं चलते। परन्तु काम रूपी भूत गिरा देता है। बाप कहते हैं कमजोर क्यों बनते हो? श्रीमत मिल रही है फिर आसुरी मत पर क्यों चलते हो? यह युद्ध तो करनी है। माया समझती है मेरे ग्राहक छिनते हैं तो लड़ती है। तुमको बाप शक्ति दे रहा है। इतना पाठ पढ़ाते हैं, सब वेद शास्त्रों का सार समझाते हैं। सूक्ष्मवतन में तो नहीं सुनायेंगे। दिखाया है विष्णु की नाभी से ब्रह्मा निकला। सूक्ष्मवतन में नाभी कहाँ से आई? क्या-क्या बैठ लिखा है। अभी तुमको जो नॉलेज मिल रही है यह परम्परा नहीं चलती, यहाँ ही खलास हो जाती है। पीछे जो शास्त्र आदि बनाते हैं वह परम्परा से चलते हैं, यह ज्ञान तो प्राय:लोप हो जाता है।

अब बाप कहते हैं मेरी मत पर चलो, देही अभिमानी बनो, इसमें दौड़ी लगाकर मेरे गले का हार बनो। यह बुद्धि की दौड़ी है, सन्यासी नहीं कह सकते कि अशरीरी भव, मामेकम् याद करो। परमात्मा सभी को कहते हैं क्योंकि सभी मेरी सन्तान हैं, सबको वापिस ले जाने लिए आया हूँ। परन्तु सम्मुख तो बच्चे सुनते हैं, सारी दुनिया नहीं सुनती। शिवरात्रि मनाते हैं, शिव का मन्दिर भी है। जरूर आया है परन्तु शिव का इतना बड़ा चित्र नहीं है। वह तो स्टॉर है। अगर कहो तो कहेंगे कि क्या मन्दिर में चित्र रांग हैं? इसलिए बाप समझाते हैं बच्चे मैं भी आत्मा हूँ सिर्फ तुम जन्म-मरण में आते हो, मैं नहीं आता हूँ, तब तो तुमको लिबरेट कर सकूँ। मैं पतित-पावन हूँ तो जरूर पतित दुनिया में आना पड़े ना। अगर पतित-पावन न कहें तो समझेंगे नई दुनिया बनाते हैं। प्रलय हो जाती है फिर नई सृष्टि क्रियेट करते हैं। परन्तु उनको पतित-पावन कहा जाता है, तो इससे सिद्ध होता है कि यह सृष्टि तो अनादि है, इसकी प्रलय नहीं होती है। सिर्फ पतित होती है, उनको पावन बनाता हूँ इसलिए मैं नंदीगण पर वा भाग्यशाली रथ पर आता हूँ – तुम्हें नर से नारायण बनाने। सब चाहते भी हैं हम सूर्यवंशी बनें। कथा भी है – एक भक्त ने कहा कि मैं लक्ष्मी को वर सकता हूँ! नारद भक्त था ना। तो कहा तुम अपनी शक्ल तो देखो, पहले बन्दर से मन्दिर तो बनो तब तो लक्ष्मी को वर सकेंगे। अभी तुम मन्दिर लायक बन रहे हो। यह इस समय की ही सारी बात है। यह सब तुमको कौन बता रहे हैं? शिवबाबा ब्रह्मा दादा की भ्रकुटी के बीच में बैठ तुमको समझा रहे हैं। जैसे इनकी आत्मा भ्रकुटी में बैठी है तो जरूर उनके बाजू में बैठा होगा ना। यह नॉलेजफुल बाप तुमको सारा राज़ आदि मध्य अन्त का समझा रहे हैं, जिससे तुमको स्वदर्शन चक्र फिराना सहज हो। स्वदर्शन चक्र फिराने से तुम्हारे विकर्म विनाश होंगे, नहीं तो सजायें खायेंगे। विजय माला में भी नहीं आयेंगे। कछुए मिसल जब फ्री हो तो चुप बैठकर चक्र को फिराओ। अब तुमको घर वापिस जाना है। यह अन्तिम जन्म पवित्र रहो। इसको कहा जाता है लोकलाज, पतित बनने की मर्यादायें तोड़ो और कोई को याद नहीं करो। आप मुये मर गई दुनिया। अशरीरी बन मेरा बनो तो विकर्म विनाश हो जायेंगे। सबको मरना तो है ही फिर कौन किसके लिए रोयेगा। हिरोशिमा में सब मर गये, कोई रोने वाला बचा ही नहीं इसलिए अब रोने वाली दुनिया से वापिस जाना है। इस गन्दी दुनिया में तो हर एक के अंग-अंग में कीड़े पड़े हैं, उसको याद क्यों करें। स्वर्ग में थोड़ेही ऐसे शरीर होंगे। वहाँ तो अंग-अंग में खुशबू होती है। बाबा कैसे गन्दे बांसी को गुल-गुल (फूल) बनाते हैं, तो उनको आना भी ऐसे पुराने लांग बूट में पड़ता है। बाबा कहते हैं कि भल घर में रहो परन्तु श्रीमत पर चलो। विकार में मत जाओ। तुम्हारे सामने शिवबाबा बैठा है, उनको भूलो मत। अच्छा-

गीत – धरती को आकाश पुकारे.. धरती पर रहने वालों को आकाश में रहने वाला बाप पुकारते हैं। अब मेरे पास आना है इसलिए नष्टोमोहा बनो। मैं तुम्हें स्वर्ग के अथाह सुख दूँगा। बाप है सभी सुखों का सैक्रीन। मामा, चाचा यह सब तुमको दु:ख देने वाले हैं। तुम्हारा है सारी आसुरी दुनिया नर्क का सन्यास। सन्यासियों का है सिर्फ घर का सन्यास। तुमको इस डर्टी दुनिया नर्क को भूलना है।

इस समय मनुष्यों को थोड़ा भी धन मिलता है तो समझते हैं हम तो स्वर्ग में हैं। परन्तु इस दुनिया में कोई कितना भी साहूकार हो, देवाला निकला, एरोप्लेन आदि गिरा तो सब खलास, फिर रोने पीटने लग पड़ते हैं। वहाँ तो एक्सीडेंट की बात नहीं। कोई रोता पीटता नहीं। बाबा कहते हैं अच्छा तुम स्वर्ग में हो तो खुश रहो। मैं आया हूँ गरीबों के लिए, जो नर्क में हैं। दान भी गरीबों को दिया जाता है। साहूकार, साहूकार को दान करते हैं क्या? मैं तो सबसे साहूकार हूँ, मैं गरीबों को दान देता हूँ। इस समय के साहूकार तो अपने धन के, फैशन के नशे में ही चूर हैं।

अच्छा। बाबा समझानी देते हैं यह है इन्द्रप्रस्थ, यहाँ हंस मोती चुगेंगे। बाकी जो बगुले होंगे वह तो पत्थर ही उठायेंगे इसलिए बाबा कहते हैं यहाँ हंस (गुणग्राही) ही आने चाहिए, बगुले (अवगुण देखने वाले) नहीं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बाप की श्रीमत पर चल, देही-अभिमानी बन बाप के गले का हार बनना है। बाप की याद में रह अतीन्द्रिय सुख का अनुभव करना है।

2) इस दुनिया से पूरा नष्टोमोहा बनना है। किसी के भी छी-छी शरीरों को याद नहीं करना है।

वरदान:- ईश्वरीय संस्कारों को कार्य में लगाकर सफल करने वाले सफलता मूर्त भव 
जो बच्चे अपने ईश्वरीय संस्कारों को कार्य में लगाते हैं उनके व्यर्थ संकल्प स्वत: खत्म हो जाते हैं। सफल करना माना बचाना या बढ़ाना। ऐसे नहीं पुराने संस्कार ही यूज करते रहो और ईश्वरीय संस्कारों को बुद्धि के लॉकर में रख दो, जैसे कईयों की आदत होती है अच्छी चीजें वा पैसे बैंक अथवा अलमारियों में रखने की, पुरानी वस्तुओं से प्यार होता है, वही यूज करते रहते। यहाँ ऐसे नहीं करना, यहाँ तो मन्सा से, वाणी से, शक्तिशाली वृत्ति से अपना सब कुछ सफल करो तो सफलतामूर्त बन जायेंगे।
स्लोगन:- ”बाप और मैं” यह छत्रछाया साथ है तो कोई भी विघ्न ठहर नहीं सकता।
Font Resize