brahma kumaris murli 25 january 2018

TODAY MURLI 25 JANUARY 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 25 January 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 24 January 2018 :- Click Here

25-01-2018
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, at this time, the world is one of sorrow. Conquer your attachment to this world and remember the new age. Remove your intellects yoga from this old world and connect it to the new world.
Question: What preparations are you children making and inspiring others to make in order to go to the land of Krishna?
Answer: In order to go to the land of Krishna, you simply have to renounce all the vices in this, your last birth. Become pure and inspire others to become pure. To become pure is the preparation you need to make in order to go from the land of sorrow to the land of happiness. Give everyone the message that this world is dirty and that, in order to go to the new, golden-aged world, they have to remove their intellects’ yoga from this world.
Song: The heart says thanks to the One who gives it support.

Om shanti. In this song, children say: Baba. The children’s intellects go to the unlimited Father. The children who are now receiving happiness and have found the path to happiness understand that the Father has truly come to give happiness for 21 births. The Father Himself comes and gives you teachings to attain this happiness. He explains to you that none of the human beings of this world can give anything. All of them are the creation: they are all brothers and sisters. How could the creation give the inheritance of happiness to one another? Surely, only the one Father, the Creator, can give the inheritance of happiness. There are no human beings in this day and age who can give happiness to anyone. Only the one Satguru is the Bestower of Happiness and the Bestower of Salvation. Now, which happiness are you asking for? Everyone has forgotten that there was a lot of happiness in heaven. Now, in hell, there is a lot of sorrow. Therefore, it is definitely only the Master who would have mercy for all the children. There are many who believe in the Master of the World, but they do not know who He is or what they can receive from Him. It is not that we receive sorrow from the Master. You remember Him in order to attain peace and happiness. Surely, devotees remember God for attainment. Because they are unhappy, they remember Him in order to attain peace and happiness. Only the One gives unlimited happiness. Everyone else continues to give limited, temporary happiness to one another. That is not a big thing. All devotees call out to the one God. God must definitely be the greatest of all. His praise is very great, and so He must be the One who gives a lot of happiness. The Father would never cause sorrow for His children or the world. The Father explains: Just think: when I create the world, that is, the new age, would that be to cause sorrow? I create it to give happiness. However, this drama of happiness and sorrow is predestined. Human beings are so unhappy! The Father explains that there is happiness when it is the new world in the new age. There is sorrow in the old world. Everything becomes old and completely decayed. The world that I create is said to be satopradhan at first. At that time, all human beings are very happy. Because that religion has disappeared, this is not in anyone’s intellect now. You children understand that the new age was the golden age. It is now old and so everyone definitely hopes that the Father will make the world new. At first, there were very few people in the new world, the new age, and they were so happy that there was no limit to their happiness. The very name was heaven, Paradise, the new world. So, there would surely have been new people in that world. I must surely have created that new kingdom of deities. How else would it have been possible for the kingdom of deities to exist in the golden age when there were no kings in the iron age and everyone was poverty-stricken? How did this world change? People’s intellects are so dead that they do not understand anything. The Father comes and explains to you children. Human beings blame the Master. They say that He is the One who gives happiness and sorrow and yet they still remember God for Him to come and grant them peace and happiness and take them back to the sweet home. Then He will definitely send you to play your part s. The golden age will definitely come after the iron age. Human beings are following the dictates of Ravan. Elevated directions are called shrimat. The Father says: I teach you easy Raja Yoga. I do not recite verses of the Gita the way you recite them. Would the Father sit and teach you the Gita? I teach you easy Raja Yoga. Do you listen to songs or poetry at school? At school you receive an education. The Father says: I am teaching you Raja Yoga. No one else has yoga with Me. Everyone has forgotten Me. This forgetting is also fixed in the drama. I come and remind you that I am your Father. You believe that God is incorporeal, and that you are therefore His incorporeal children, incorporeal souls. You come here to play your part s . Incorporeal souls reside in the incorporeal world, which is the highest of all. This world is corporeal, then there is the subtle world and above that, there is the incorporeal world which is on the third floor. The Father personally sits in front of you children and explains to you: I too reside in that place. When the world was new, there was one religion and it was called heaven. The Father is called Heavenly God, the Father. The iron age is the land of Kans and the golden age is the land of Krishna. So, you should ask them: Will you now come to the land of Krishna? If you want to go to the land of Krishna, become pure. Just as we are making preparations to go from the land of sorrow to the land of happiness, you should also do the same. For this, you definitely have to renounce the vices. This is everyone’s final birth; everyone has to return home. Have you forgotten that this Mahabharat War took place 5000 years ago when all the religions were destroyed and the one religion was established? Deities existed in the golden age. They do not exist in the iron age. It is now the kingdom of Ravan. Human beings are devilish; they have to be made into deities. In order to do that, would God have to come into the devilish world or the divine world? Or, would He come at the confluence of the two? It has been remembered that God comes at the confluence age of every cycle. The Father explains to us in this way. You are following His shrimat. He says: I have come as your Guide to take you children back home. For this, I am also called the Death of all Deaths. The Great War, through which the gates of heaven opened, also took place a cycle ago. However, not everyone went to heaven. Everyone except the deities stayed in the land of silence. I, the Master of the land beyond sound, have come here to take everyone to the land beyond sound. You are now trapped in Ravan’s chains and have become those with vicious, dirty and devilish traits. Lust is the number one dirty vice. Then, anger and greed are dirty , numberwise. You have to become conquerors of attachment to the whole world, for only then will you be able to go to heaven. When a father builds a limited home, the intellect is engaged in that. Children tell their father to build such-and-such in the new home. In the same way, the unlimited Father says: See how beautifully I am creating the new world of heaven for you! Therefore, your intellects’ yoga should break away from the old world. What is there in this world? Bodies are old and there is alloy in souls. That can only be removed when you stay in yoga. You will then be able to imbibe knowledge. This Baba is giving you a lecture. O children, all of you souls are My creation. In the form of souls, you are brothers. All of you now have to come home with Me. Everyone has now become tamopradhan; it is Ravan’s kingdom. Previously, you didn’t know when Ravan’s kingdom began. In the golden age there are 16 celestial degrees, and then in the silver age there are 14 celestial degrees. It is not that you instantly lose two degrees; you come down gradually. Now there are no celestial degrees; there is a total eclipse. The Father says: Now give a donation and your eclipse will be removed. Give the donation of the five vices and do not commit any more sins. The people of Bharat burn Ravan. Surely, it is the kingdom of Ravan. However, they neither know what the kingdom of Ravan is nor what the kingdom of Rama is. They say that there should be the kingdom of Rama, that there should be a new Bharat, but not a single one of them knows when Bharat becomes new. All are asleep in the graveyard. You children are now able to see the trees of the golden age. There are no deities here. The Father comes here and explains all of this. He is your Mother and Father. In the physical form, these two are the mother and father. You remember that One as the Mother and Father. You will not say this in the golden age. There is no question of blessings there. Here, you have to belong to the Mother and Father and also become worthy. The Father reminds you: O people of Bharat, you have forgotten that you were deities and that you were so wealthy and sensible. You have now become bankrupt and senseless. Maya, Ravan, has made you senseless to this extent. This is why you burn Ravan. You create an effigy of an enemy and burn that. You children receive so much knowledge and yet you don’t churn it. Your intellects continue to wander around. You forget to relate these points in your lectures. You do not explain fully. You have to give everyone the Father’s message that Baba has come. The Great War is in front of you. Everyone has to return home. Heaven is being established. The Father says: Forget the bodies and bodily relations and remember Me. Don’t just say that those of Islam and the Buddhists are all brothers. Those are all bodily religions. The soul of everyone is a child of the Father. The Father says: Renounce all religions of the body and remember Me alone. We are celebrating the birth of Shiva in order to give the Father’s message. We Brahma Kumars and Kumaris are the grandchildren of Shiva. We are receiving the inheritance of the kingdom of heaven from Him. The Father gives us the message: Manmanabhav! Your sins will be absolved through this fire of yoga. Become bodiless! Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Night Class :

You children have now understood the corporeal world, the subtle region and the incorporeal world very well. Only you Brahmins receive this knowledge. The deities don’t need it. You now have knowledge of the whole world. Previously, you belonged to the shudra clan. You have now become Brahma Kumars, and so you are given this knowledge through which your deity dynasty is being established. The Father comes and establishes the Brahmin clan, the sun-dynasty and the moon-dynasty dynasties and He does that at this confluence age. Those of other religions do not immediately establish a dynasty. They cannot be called gurus. The Father alone comes and establishes a religion. The Father says: You now have the concern on your head of remembrance of the Father which you forget again and again. While making effort, also continue with your business etc. and also continue to have remembrance in order to be healthy. The Father enables you to earn an income with great force and you have to forget everything in that. I, the soul, am going: you are made to practise this. When you are eating, can you not remember the Father? When sewing clothes, let the yoga of your intellect be in remembrance of the Father. All the rubbish has to be removed. Baba says: You may do any work for the livelihood of your body. It is very easy. You have understood that the cycle of 84 births has now ended. The Father has now come to teach you Raja Yoga. The history and geography of the world is repeating at this time; it is being repeated just as it was a cycle ago. The Father alone explains the secret of repetition to you. It is said: One God, one religion. There will be peace there: that is the undivided kingdom. “Divided” means the devilish kingdom of Ravan. Those are deities and these are devils. The play about the devilish kingdom and the divine kingdom is based on Bharat. Bharat had the original eternal religion and it used to be the pure family path. The Father comes and creates the pure family path again. We were deities, then our degrees continued to decrease. We then came into the shudra dynasty. The Father teaches in the same way as teachers teach and the students listen. Good students pay full attention, they do not miss anything. One has to study regularly. One must not be absent in such a Godly university. Baba continues to tell deep things. Achcha. Good night. Namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Renounce all the religions of the body. Become a bodiless soul and remember the Father. Purify the soul with yoga and imbibe knowledge.
  2. Churn the knowledge that the Father gives and give everyone the Father’s message. Do not allow your intellect to wander around.
Blessing: May you be a number one , victorious soul who is the most elevated being following the highest codes of conduct and who is constantly flying in the flying stage.
The sign of number one souls is that they win in every situation. They are never defeated by anything; they are constantly victorious. If, while moving along, you are defeated by any situation, the reason for that is that there is some fluctuation in your following the codes of conduct. However, this confluence age is for becoming the highest of all beings, the ones who follow the highest codes of conduct. Neither man nor woman but the highest of all beings – constantly maintain this awareness and you will continue to move into the flying stage and not stop down below. Those who are in the flying stage are able to overcome all problems in a second.
Slogan: Stay in the company of the one Father and no other company will be able to influence you.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

BRAHMA KUMARIS MURLI 25 JANUARY 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 25 January 2018

To Read Murli 24 January 2018 :- Click Here
25-01-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – यह सृष्टि वा जमाना दु:ख का है इससे नष्टोमोहा बनो, नये जमाने को याद करो, बुद्धियोग इस दुनिया से निकाल नई दुनिया से लगाओ”
प्रश्नः- कृष्णपुरी में चलने के लिए तुम बच्चे कौन सी तैयारी करते और कराते हो?
उत्तर:- कृष्णपुरी में चलने के लिए सिर्फ इस अन्तिम जन्म में सब विकारों को छोड़ पावन बनना और दूसरों को बनाना है। पावन बनना ही दु:खधाम से सुखधाम में जाने की तैयारी है। तुम सबको यही सन्देश दो कि यह डर्टी दुनिया है, इससे बुद्धियोग निकालो तो नई सतयुगी दुनिया में चले जायेंगे।
गीत:- मुझको सहारा देने वाले….

ओम् शान्ति। इस गीत में बच्चे कहते हैं कि बाबा। बच्चों की बुद्धि चली जाती है बेहद के बाप तरफ। जिन बच्चों को अब सुख मिल रहा है अथवा सुखधाम का रास्ता मिल रहा है। समझते हैं बरोबर बाप स्वर्ग के 21 जन्मों का सुख देने आया है। इस सुख की प्राप्ति के लिए स्वयं बाप आकर शिक्षा दे रहे हैं। समझा रहे हैं कि यह जो जमाना है अर्थात् इतने जो मनुष्य हैं वे कुछ भी दे नहीं सकते हैं। यह तो सब रचना है ना। आपस में भाई-बहन हैं। तो रचना एक दो को सुख का वर्सा दे कैसे सकते! सुख का वर्सा देने वाला जरूर एक रचयिता बाप ही होगा। इस जमाने में ऐसा कोई मनुष्य नहीं जो किसको सुख दे सके। सुखदाता सद्गति दाता है ही एक सतगुरू। अब सुख कौन सा मांगते हैं? यह तो सभी भूल गये हैं कि स्वर्ग में बहुत सुख थे और अभी नर्क में दु:ख है। तो जरूर सभी बच्चों पर मालिक को ही तरस पड़ेगा। बहुत हैं जो सृष्टि के मालिक को मानते हैं। परन्तु वह कौन हैं, उनसे क्या मिलता है वह कुछ पता नहीं है। ऐसे तो नहीं मालिक से हमको दु:ख मिला है। याद करते ही हैं उनको सुख शान्ति के लिए। भक्त भगवान को याद करते हैं जरूर प्राप्ति के लिए। दु:खी हैं तब सुख-शान्ति के लिए याद करते हैं। बेहद का सुख देने वाला एक है, बाकी हद का अल्पकाल सुख तो एक दो को देते ही रहते हैं। वह कोई बड़ी बात नहीं। भक्त सभी पुकारते हैं एक भगवान को, जरूर भगवान सबसे बड़ा है, उनकी महिमा बहुत बड़ी है। तो जरूर बहुत सुख देने वाला होगा। बाप कभी बच्चों को वा जमाने को दु:ख नहीं दे सकते। बाप समझाते हैं तुम विचार करो – मैं जो सृष्टि अथवा जमाना रचता हूँ तो क्या दु:ख देने के लिए? मैं तो रचता हूँ सुख देने के लिए। परन्तु यह ड्रामा सुख दु:ख का बना हुआ है। मनुष्य कितने दु:खी हैं। बाप समझाते हैं कि जब नया जमाना, नई सृष्टि होती है, तो उसमें सुख होता है। दु:ख पुरानी सृष्टि में होता है। सब कुछ पुराना जड़जड़ीभूत हो जाता है। पहले जो मैं सृष्टि रचता हूँ उसको सतोप्रधान कहा जाता है। उस समय सभी मनुष्य कितने सुखी रहते हैं। वह धर्म अब प्राय:लोप होने के कारण कोई की बुद्धि में नहीं है।

तुम बच्चे जानते हो नया जमाना सतयुग था। अब पुराना है तो आशा रखते हैं कि बाप जरूर नई दुनिया बनायेगा। पहले नई सृष्टि नये जमाने में बहुत थोड़े थे और बहुत सुखी थे, जिन सुखों का पारावार नहीं था। नाम ही कहते हैं स्वर्ग, वैकुण्ठ, नई दुनिया। तो जरूर उसमें नये मनुष्य होंगे। जरूर वह देवी-देवताओं की राजधानी मैंने स्थापन की होगी ना। नहीं तो जब कलियुग में एक भी राजा नहीं, सब कंगाल हैं। फिर एकदम सतयुग में देवी-देवताओं की राजाई कहाँ से आई? यह दुनिया बदली कैसे? परन्तु सभी की बुद्धि इतनी मारी हुई है जो कुछ भी समझते नहीं हैं। बाप आकर बच्चों को समझाते हैं। मनुष्य मालिक पर दोष धरते हैं कि वही सुख दु:ख देते हैं, परन्तु ईश्वर को तो याद ही करते हैं कि आकर हमको सुख-शान्ति दो। स्वीट होम में ले चलो। फिर पार्ट में तो जरूर भेजेंगे ना! कलियुग के बाद फिर सतयुग जरूर आना है। मनुष्य तो रावण की मत पर हैं। श्रेष्ठ मत तो है ही श्रीमत। बाप कहते हैं मैं सहज राजयोग सिखाता हूँ। मैं कोई गीता का श्लोक आदि नहीं गाता हूँ जो तुम गाते हो। क्या बाप बैठ गीता सिखायेंगे? मैं तो सहज राजयोग सिखाता हूँ। स्कूल में गीत कविताएं सुनाई जाती हैं क्या? स्कूल में तो पढ़ाया जाता है। बाप भी कहते हैं तुम बच्चों को मैं पढ़ा रहा हूँ, राजयोग सिखला रहा हूँ। मेरे साथ और कोई का भी योग नहीं है। सब मेरे को भूल गये हैं। यह भूलना भी ड्रामा में नूँध है। मैं आकर फिर याद दिलाता हूँ। मैं तो तुम्हारा बाप हूँ। मानते भी हो इनकारपोरियल गॉड है तो उनके तुम भी इनकारपोरियल बच्चे हो। निराकार आत्मायें, तुम फिर यहाँ आते हो पार्ट बजाने। सभी निराकार आत्माओं का निवास स्थान निराकारी दुनिया है, जो ऊंच ते ऊंच है। यह साकारी दुनिया फिर आकारी दुनिया और वह निराकारी दुनिया सबसे ऊपर तीसरे तबके पर है। बाप सम्मुख बैठ बच्चों को समझाते हैं, हम भी वहाँ के रहने वाले हैं। जब नई दुनिया थी तो वहाँ एक धर्म था, जिसको हेविन कहा जाता है। बाप को कहा ही जाता है हेविनली गॉड फादर। कलियुग है कंसपुरी। सतयुग है कृष्णपुरी। तो पूछना चाहिए अब तुम कृष्णपुरी चलेंगे? अगर तुम कृष्णुपरी चलने चाहते हो तो पवित्र बनो। जैसे हम तैयारी कर रहे हैं दु:खधाम से सुखधाम में चलने की, ऐसे तुम भी करो। उसके लिए विकार जरूर छोड़ने पड़ेंगे। यह सबका अन्तिम जन्म है। सभी को वापस जाना है। क्या तुम भूल गये हो – 5 हजार वर्ष पहले यह महाभारी लड़ाई नहीं लगी थी? जिसमें सभी धर्म विनाश हुए थे और एक धर्म की स्थापना हुई थी। सतयुग में देवी देवतायें थे ना। कलियुग में नहीं हैं। अब तो रावण राज्य है। आसुरी मनुष्य हैं। उन्हों को फिर देवता बनाना पड़े। तो उसके लिए आसुरी दुनिया में आना पड़े वा दैवी दुनिया में आयेंगे? वा दोनों के संगम पर आयेंगे? गाया भी हुआ है कल्प-कल्प, कल्प के संगमयुगे-युगे आता हूँ। बाप हमको ऐसे समझाते हैं, हम उनकी श्रीमत पर हैं। कहते हैं मैं गाइड बन तुम बच्चों को वापिस ले जाने के लिए आया हूँ, इसलिए मुझे कालों का काल भी कहते हैं। कल्प पहले भी महाभारी लड़ाई लगी थी, जिससे स्वर्ग के द्वार खुले थे। परन्तु सभी तो वहाँ नहीं गये, सिवाए देवी-देवताओं के। बाकी सब शान्तिधाम में थे। तो मैं निर्वाणधाम का मालिक आया हूँ, सभी को निर्वाणधाम ले जाने। तुम रावण की जंजीरों में फँसे हुए विकारी मूत पलीती आसुरी गुणों वाले हो। काम है नम्बरवन डर्टी। फिर क्रोध, लोभ नम्बरवार डर्टी हैं। तो सारी दुनिया से नष्टोमोहा भी होना है तब तो स्वर्ग चलेंगे। जैसे बाप हद का मकान बनाते हैं तो बुद्धि उसमें लग जाती है। बच्चे कहते हैं बाबा इसमें यह बनाना, अच्छा मकान बनाना। वैसे बेहद का बाप कहते हैं मैं तुम्हारे लिए नई दुनिया स्वर्ग कैसा अच्छा बनाता हूँ। तो तुम्हारा बुद्धियोग पुरानी दुनिया से टूट जाना चाहिए। यहाँ रखा ही क्या है? देह भी पुरानी, आत्मा में भी खाद पड़ी हुई है। वह निकलेगी तब जब तुम योग में रहेंगे। ज्ञान भी धारण होगा। यह बाबा भाषण कर रहे हैं ना। हे बच्चे, तुम सभी आत्मायें मेरी रचना हो। आत्मा के स्वरूप में भाई-भाई हो। अब तुम सभी को मेरे पास वापिस आना है। अभी सब तमोप्रधान बन चुके हो। रावण राज्य है ना। तुम पहले नहीं जानते थे कि रावण राज्य कब से आरम्भ होता है। सतयुग में 16 कला हैं, फिर 14 कला होती हैं। तो ऐसे नहीं एकदम दो कला कम हो जाती हैं। धीरे-धीरे उतरते हैं। अभी तो कोई कला नहीं है। पूरा ग्रहण लगा हुआ है। अब बाप कहते हैं कि दे दान तो छूटे ग्रहण। 5 विकारों का दान दे दो और कोई पाप नहीं करो। भारतवासी रावण को जलाते हैं, जरूर रावण का राज्य है। परन्तु रावण राज्य किसको कहते हैं, राम राज्य किसको कहते हैं, यह भी नहीं जानते। कहते हैं रामराज्य हो, नया भारत हो परन्तु एक भी नहीं जानते कि नई दुनिया नया भारत कब होता है। सभी कब्र में सोये पड़े हैं।

अब तुम बच्चों को तो सतयुगी झाड़ देखने में आ रहे हैं। यहाँ तो कोई देवता है नहीं। तो यह बाप आकर सब समझाते हैं। मात-पिता तुम्हारा वही है, स्थूल में फिर यह मात-पिता हैं। तुम मात-पिता उनको गाते हो। सतयुग में तो ऐसे नहीं गायेंगे। वहाँ न कृपा की बात है, यहाँ मात-पिता का बनकर फिर लायक भी बनना पड़ता है। बाप स्मृति दिलाते हैं हे भारतवासी तुम भूल गये हो, तुम देवतायें कितने धनवान थे, कितने समझदार थे। अब बेसमझ बन देवाला मार दिया है। ऐसा बेसमझ माया रावण ने तुमको बनाया है, तब तो रावण को जलाते हो। दुश्मन का एफ़ीजी बनाए उनको जलाते हैं ना। तुम बच्चों को कितनी नॉलेज मिलती है। परन्तु विचार सागर मंथन नहीं करते, बुद्धि भटकती रहती है तो ऐसी-ऐसी प्वाइन्ट्स भाषण में सुनाने भूल जाते हैं। पूरा समझाते नहीं हैं। तुमको तो बाप का पैगाम देना है कि बाबा आया हुआ है। यह महाभारी लड़ाई सामने खड़ी है। सभी को वापिस जाना है। स्वर्ग स्थापन हो रहा है। बाप कहते हैं देह सहित देह के सभी सम्बन्धों को भूल मुझे याद करो। बाकी सिर्फ ऐसे नहीं कहना है कि इस्लामी, बौद्धी आदि सब भाई-भाई हैं। यह तो सभी देह के धर्म हैं ना। सभी की जो आत्मायें हैं वह बाप की सन्तान हैं। बाप कहते हैं यह सब देह के धर्म छोड़ मामेकम् याद करो। यह बाप का मैसेज देने के लिए हम शिव जयन्ती मना रहे हैं। हम ब्रह्माकुमार कुमारियां शिव के पोत्रे हैं। हमको उनसे स्वर्ग की राजधानी का वर्सा मिल रहा है। बाप हमको पैगाम देते हैं कि मनमनाभव। इस योग अग्नि से तुम्हारे विकर्म विनाश होंगे। अशरीरी बनो। अच्छा।

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

रात्रि क्लास:

अभी तुम बच्चे स्थूलवतन, सूक्ष्मवतन और मूलवतन को अच्छी तरह समझ गये हो। सिर्फ तुम ब्राह्मण ही यह नॉलेज पाते हो। देवताओं को तो यह दरकार ही नहीं है। तुमको सारे विश्व की अब नॉलेज है। तुम पहले शूद्र वर्ण के थे। फिर ब्रह्माकुमार बने तो यह नॉलेज देते हैं जिससे तुम्हारी डीटी डिनायस्टी स्थापन हो रही है। बाप आकर ब्राह्मण कुल, सूर्यवंशी, चन्द्रवंशी डिनायस्टी स्थापन करते हैं। वह भी इस संगम पर स्थापना करते हैं। और धर्म वाले फट से डिनायस्टी नहीं स्थापन करते हैं। उनको गुरू नहीं कहा जाता। बाप ही आकर धर्म की स्थापना करते हैं। बाप कहते हैं अभी सिर पर फुरना है बाप की याद का, जिसे घड़ी-घड़ी भूल जाते हैं। पुरुषार्थ कर धंधा आदि भी करते रहे और याद भी करते रहे हेल्दी बनने के लिये। बाप कमाई बड़ी जोर से कराते हैं, इसमें सभी कुछ भुलाना पड़ता है। हम आत्मा जा रही हैं, प्रैक्टिस कराई जाती है। खाते हो तो क्या बाप को याद नहीं कर सकते हो? कपड़ा सिलाई करते हैं बुद्धियोग बाप की याद में रहे। किचड़ा तो निकालना है। बाबा कहते हैं शरीर निर्वाह लिए भल कोई काम करो। है बहुत सहज। समझ गये हो 84 का चक्र पूरा हुआ। अब बाप राजयोग सिखाने आये हैं। यह वर्ल्ड की हिस्ट्री-जाग्राफी इस समय रिपीट होती है। कल्प पहले जैसे ही रिपीट हो रही है। रिपीटेशन का राज़ भी बाप ही समझाते हैं। वन गाड, वन रिलीजन भी कहते हैं ना। वहाँ ही शान्ति होगी। वह है अद्वैत राज्य, द्वैत माना आसुरी रावण राज्य। वह है देवता, यह है दैत्य। आसुरी राज्य और दैवी राज्य का भारत पर ही खेल बना हुआ है। भारत का आदि सनातन धर्म था, पवित्र प्रवृत्ति मार्ग था। फिर बाप आकर पवित्र प्रवृत्ति मार्ग बनाते हैं। हम सो देवता थे, फिर कला कम होती गई। हम सो शूद्र डिनायस्टी में आये। बाप पढ़ाते ऐसे हैं जैसे टीचर लोग पढ़ाते हैं, स्टूडेन्ट सुनते हैं। अच्छे स्टूडेन्ट पूरा ध्यान देते हैं, मिस नहीं करते हैं। यह पढ़ाई रेग्युलर चाहिए। ऐसी गॉडली युनिवर्सिटी में अपसेन्ट होनी नहीं चाहिए। बाबा गुह्य-गुह्य बातें सुनाते रहते हैं। अच्छा, गुडनाईट। रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) देह के सब धर्मों को छोड़, अशरीरी आत्मा समझ एक बाप को याद करना है। योग और ज्ञान की धारणा से आत्मा को पावन बनाना है।

2) बाप जो नॉलेज देते हैं, उस पर विचार सागर मंथन कर सबको बाप का पैगाम देना है। बुद्धि को भटकाना नहीं है।

वरदान:- मर्यादा पुरूषोत्तम बन सदा उड़ती कला में उड़ने वाले नम्बरवन विजयी भव 
नम्बरवन की निशानी है हर बात में विन करने वाले। किसी भी बात में हार न हो, सदा विजयी। यदि चलते-चलते कभी हार होती है तो उसका कारण है मर्यादाओं में नीचे ऊपर होना। लेकिन यह संगमयुग है मर्यादा पुरुषोत्तम बनने का युग। पुरुष नहीं, नारी नहीं लेकिन पुरुषोत्तम हैं, इसी स्मृति में सदा रहो तो उड़ती कला में जाते रहेंगे, नीचे नहीं रुकेंगे। उड़ती कला वाला सेकण्ड में सर्व समस्यायें पार कर लेगा।
स्लोगन:- एक बाप के श्रेष्ठ संग में रहो तो दूसरा कोई संग प्रभाव नहीं डाल सकता।

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

Font Resize