brahma kumaris murli 25 december 2017

TODAY MURLI 25 DECEMBER 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 25 DECEMBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 24 December 2017 :- Click Here

25/12/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, the night of the iron age is now coming to an end. The Father has come to create the new age. Therefore, awaken and have your sins absolved with remembrance of the Father.
Question: What are the signs of children whose intellects continue to become satopradhan?
Answer: They continue to have thoughts of making others equal to themselves. They continue to create methods to benefit themselves and others. They remain engaged in service day and night.
Question: What is the biggest task that you children have received?
Answer: The task of giving the Father’s message to the whole world is huge. No soul should be left out of receiving the Father’s introduction. Day and night, continue to think about how to blow the conch shell and explain to others.
Song: Awaken! O brides, awaken! The new age is about to come.

Om shanti. Who woke you up? Who is it who is saying ‘brides’? You children understand that the unlimited Father is only One and that His real name is Shiva. All the other names given are names from the path of devotion. The only right name is Shiva. People celebrate His birthday, that is, God’s birthday. The birthday of incorporeal Shiva is also remembered. When a soul takes a body, the body is given a name. Shiva is the name of that Soul. He is called the Supreme Soul. What is the name of that Soul? The name that is remembered is Shiva. Shiva Jayanti (birthday) is also remembered. You would not say, “the birthday of souls”. The God of the Gita is incorporeal Shiva. Shri Krishna is the name of a body because he is a bodily being. It is Shiv Baba who comes and awakens the brides and gives His introduction and says: I have come to create the new world. Now, constantly remember Me alone. You have to conquer Maya. Baba is also called the Purifier. Deities were pure and have now become impure. This is why everyone calls out: O Purifier, come! Come and liberate us. From what? From Maya, Ravan, or the devil. People are unable to understand that they now have to return. The new age, the golden age, is now about to come. The new age is also mentioned in the song. That is the pure world. The Father only comes to purify the impure. The new world is called the new age or the golden age. This is the iron age, the old world. All are sleeping in the sleep of Kumbhakarna; Baba comes and awakens them. Maya has put everyone to sleep in the dark night of ignorance. The Father now says: Children, awaken from the sleep of Kumbhakarna. It is now the end of this old world. Death is just ahead. The night is now coming to an end and the day is to come. Therefore, awaken! You understand that Baba has come. We too were sleeping in extreme darkness. Baba has now come to change the night into day. Baba says: I have come to bring the day, that is, the new age, for you. Now remember Me and your sins will be absolved. Because all are impure at this time, everyone says: Liberate us from this Ravan! No one understands when the kingdom of the devil began. The Father comes and frees you from the claws of Ravan. How? Only when the Father comes can He tell you this. Then we can explain to others from our experience. Everyone has to become impure while coming down. I, the Purifier, have to come at the confluence age. Human beings of the world are in extreme darkness. They believe that hundreds of thousands of years of the iron age still remain because those wrong things have been mentioned in the scriptures. The divine age is now to be established. It is only the Father who changes the extreme depths of hell into heaven. The Father would not create extreme depths of hell. You children now have the firm faith that Baba is teaching us. He has been teaching us for a long time. Trimurti Shiva Jayanti is now going to come. You have to write: Shiva Jayanti is also the Gita Jayanti. When they celebrate Shri Krishna Jayanti, they don’t celebrate the Gita Jayanti. Krishna is a small child. Only when he grows older could he relate the Gita. Trimurti Shiva Jayanti means the Gita Jayanti. These matters have to be understood well. Those people have separated the Gita Jayanti because they believe that Krishna is a small child; how could he relate the Gita? The Father teaches Raja Yoga to only you children. ‘Liberation-in-life in a second’ is also remembered. When you sit in a school to become a barrister, you study how to become a barrister. The aim and objective there is for you to become a barrister. However, to claim a high status in that then depends on how you study. Those who study well claim a high status. If they don’t study, they receive a low status. Everything depends on studying. You have come here to change from human beings into deities. However, among the deities too, the status is numberwise. Some are first class, some are second class and others are third class. All of these things are incognito. How we are establishing our kingdom cannot enter the intellect of anyone else. The Mahabharat War is about to take place. However, the Pandava community will not fight. The devil and the Kaurava communities will fight among themselves and be destroyed. Therefore, you children now have to make effort. You also have to explain. Baba continues to give you directions from time to time. How would the incorporeal Supreme Father, the Supreme Soul, teach you Raja Yoga? He would surely enter a body. The Father is now giving you shrimat: Children, you have to stay on the pilgrimage of remembrance. Remember Me. This is the fire of yoga through which your sins will be absolved. Day by day, you continue to receive many good points. The point about the Purifier too is good. People call out to the Purifier Father and then they go and bathe in the Ganges. You can write in big lettering: The Supreme Father, the Supreme Soul, is called the Purifier. He is also the Ocean of Knowledge. He purifies the whole world. It is a question of the whole world. How can the world become pure? The Ganges and Jamuna rivers have always existed. It is now the time of the iron age, so there are problems. In the golden age the rivers will flow properly. However, no one becomes pure through them. You have to explain this very clearly. You also have to distribute leaflets. You have to distribute them on seeing each individual. You definitely have to explain two or three main points. In fact, at this time, all are impure and vicious; it is everyone’s stage of descent. Guru Nanak said that God washed the dirty, impure clothes. Bharat definitely has to become elevated. This is called the corrupt world. Only the deities were elevated beings. At this time no one can become that because it is Maya’s kingdom. However, they do receive the happiness of their devotion. Here, a creation is not created with the power of yoga. A creation takes place through vice. At first, there are few people and, when there is growth, they fight among themselves. Everyone first has to experience happiness and then sorrow. This applies to human beings. In the golden age, human beings are happy and so the animals etc. are also happy. The Father explains: Write this and this! Trimurti Shiva Jayanti is also the Shrimad Bhagawad Gita Jayanti. You then also have to explain it. Those who understand these things want to explain them to others. How can there be expansion unless you explain to them? According to the drama, whatever part each of you has of understanding and explaining, you are playing that part. The part of devotion is becoming more and more powerful day by day. It is remembered that people’s eyes open when the haystack is set on fire. You children have to blow the conch shell. Day and night, you should think about how to explain to others. You have to give the Father’s introduction to the whole world. This is such a big task! The world is so big! There are many religions and many lands. In the golden age, there is just the one religion and then expansion continues to take place. You understand that it is only through Prajapita Brahma that Brahmins are created. They neither show the Brahmin clan nor the One who creates it. You have to explain that they only show the Kauravas and the Pandavas. You are Brahmins. There are the Prajapita Brahma Kumars and Kumaris and so Prajapita is also definitely needed through whom the different lineages emerge. They show the deities, warriors, merchants and shudras, but they have omitted the confluence-aged Brahmins. They remember “Trimurti Brahma”, but there is no meaning to “Trimurti Brahma”. Who can explain to them? You understand that the incorporeal Father sat and explained to us through the mouth of Brahma. Children are born through the lotus lips of Brahma. When He speaks to you, Brahma also hears. If you didn’t exist, what would Shiv Baba do? All of these things are not spoken to just one. In the scriptures, they have mentioned the name of only one Arjuna. Whatever pointemerges at any time, you should busy yourself in that service at that time. Everything is explained to you very clearly. However, it requires effort to stay in yoga and become pure. It requires so much effort to renounce poison. It is because of poison that there is fighting. Therefore, you children have to pay attention to service, that is, you have to study and then teach others. Only in this service is there benefit. You should have this concern. Those who ask the new ones to fill in a form have to be very clever. At the time of them filling in the form, ask them: You are making spiritual endeavour. Do you want to go to the land of liberation? Only the one Supreme Father, the Supreme Soul, is the Master of the land of liberation. That Father comes and purifies us. The bathing etc. only takes place in Bharat; they don’t do that in any other religion. Those people bow their heads in front of their religious leaders and offer them flowers. They sing their praise. They don’t even know that the Purifier is only the one Father. Now, at Christmas, people celebrate Christ so much. However, people still remember: God, the Father. They call out to Him. They (Christians) too will receive this knowledge. Baba continues to tell you: Make these pictures so that they can also be sent abroad. Your intellects should work for the benefit of the unlimited world. Baba’s intellect continues to work all the time. Very few value these pictures. The Father had them made through divine vision. There should be so much regard for them. However, there isn’t that much regard. Very important, firstclass service takes place through them. According to the drama, some will emerge who will make these pictures. As you progress further, such intelligent ones will emerge, they continue to invent new ways in service and that people will become happy on seen them. English has spread everywhere. There are so many languages. There must be English-speaking people in every country. This is why Baba also takes up English as well as Hindi. Eventually, these things will emerge in all languages. It is very easy to explain to anyone. However, when it doesn’t sit in someone’s intellect, it is seen what that person would do. Those who have wealth and don’t donate it are called misers. They hear through one ear and let it out through the other. Each one of you definitely has to be concerned for your own progress. You must not be coloured by company. Remain busy in service. Otherwise, there will be a great loss. You must definitely try to make progress for yourself. “Baba, I will go and do the service of making many others equal to myself.” You should have such thoughts. Such ones are called those with satopradhan intellects. Those who have tamopradhan intellects neither benefit themselves nor others. They are called senseless. One with a satopradhan intellect is sensible. Some have very severe karmic accounts. Even though they understand everything, they remain trapped. At this time you have to remain busy in service day and night. This is an income for yourself. I have to claim the full inheritance from the Father. Otherwise, there will be a loss every cycle. First of all, benefit yourself and you will then be able to benefit others. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Don’t be miserly in donating the wealth of knowledge. Create methods for your own benefit and also the benefit of others.
  2. Study and teach others the study to change from human beings into deities. Pay full attention to doing service and to studying. Settle your severe karmic accounts with the power of yoga.
Blessing: May you become a combined form and constantly experience entertainment with the company of the Companion.
Whenever you experience loneliness, do not remember the Father in the Point form. That would be difficult and you would get bored. At that time, bring the stories of the entertaining experiences into your awareness and also bring in front of you a list of your attainments of self-respect. Do not just remember Him with your head, but be combined with the Companion in your heart and experience the sweetness of the love of all relationships. This is “Manmanabhav” and, to be “Manmanabhav” in this way is to have entertainment.
Slogan: Continue to say, “Yes, present indeed” according to the Father’s shrimat and you will receive a right to all powers.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

BRAHMA KUMARIS MURLI 25 DECEMBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 25 December 2017

To Read Murli 24 December 2017 :- Click Here
25/12/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – अब कलियुग की रात पूरी हो रही है, नव-युग बनाने बाप आया है, इसलिए तुम जागो, बाप की याद से अपने विकर्म विनाश करो”
प्रश्नः- जिन बच्चों की बुद्धि सतोप्रधान बनती जाती है, उनकी निशानी क्या होगी?
उत्तर:- उन्हें दूसरों को आप समान बनाने के ख्याल आते रहेंगे। वह अपना और दूसरों का कल्याण करने की युक्तियाँ रचते रहेंगे। दिन-रात सर्विस में लगे रहेंगे।
प्रश्नः- तुम बच्चों को बड़े ते बड़ी कौन सी कारोबार मिली हुई है?
उत्तर:- सारी दुनिया को बाप का परिचय देने की कारोबार बहुत बड़ी है। कोई भी आत्मा बाप के परिचय बिना रह न जाये। रात-दिन चिंतन चलता रहे कि कैसे किसको समझायें, शंखध्वनि करें।
गीत:- जाग सजनियाँ जाग…..

ओम् शान्ति। यह किसने जगाया? सजनी कहने वाला कौन है? बच्चे जो समझते हैं कि बेहद का बाप एक ही है, जिसका असली नाम शिव है। बाकी जो अनेक नाम रखे हैं वह सब हैं भक्ति मार्ग के। राइट नाम एक ही शिव है। जयन्ति भी मनाते ह़ैं वह हो गई परमात्म जयन्ति। गाते भी है निराकार शिव जयन्ती। आत्मा को जब शरीर मिलता है तब उस शरीर का नाम पड़ता है और शिव तो आत्मा का ही नाम है। उसको कहा जाता है सुप्रीम सोल। सोल का नाम क्या है? नाम गाया हुआ है शिव। गाया भी जाता है शिव जयन्ती। आत्मा की जयन्ती नहीं कहेंगे। गीता का भगवान तो शिव निराकार है – श्रीकृष्ण शरीर का नाम है, देहधारी है ना। यह तो शिवबाबा ही आकर सजनियों को जगाते हैं और अपनी पहचान भी देते हैं कि मैं आया हूँ नई दुनिया बनाने। अब मामेकम् याद करो। माया पर जीत पानी है। बाबा को कहते भी हैं पतित-पावन। देवतायें जो पावन थे, अभी पतित बने हैं, इसलिए सभी पुकारते हैं कि हे पतित-पावन आओ, आकर हमें लिबरेट करो। किससे? माया रावण से अथवा शैतान से। मनुष्यों को यह समझ में नहीं आता है कि अभी चलना है। नव-युग, सतयुग अब आया कि आया। गीत में भी कहते हैं नवयुग, वह है पवित्र दुनिया। बाप आते ही हैं पतित से पावन बनाने के लिए। नई दुनिया को नया युग अथवा सतयुग कहा जाता है। यह है कलियुग पुरानी दुनिया। कुम्भकरण की नींद में सब सोये हुए हैं, उनको आकर जगाते हैं। माया ने अज्ञान अंधकार की रात में सबको सुला दिया है। अब बाप कहते हैं बच्चे कुम्भकरण की नींद से जागो। अभी इस पुरानी दुनिया का अन्त है, मौत सामने खड़ा हुआ है। अब रात पूरी होती है, दिन आना है इसलिए तुम जागो। तुम समझते हो बाबा आया हुआ है। हम भी घोर अन्धियारे में सोये पड़े थे, अब बाबा आया है रात को दिन बनाने। बाबा कहते हैं मैं तुम्हारे लिए दिन अर्थात् नवयुग बनाने आया हूँ। अब मुझे याद करो तो तुम्हारे विकर्म विनाश होंगे क्योंकि इस समय सब पतित हैं। सब कहते हैं हमको इस रावण से लिबरेट करो। यह कोई समझते नहीं हैं कि शैतान का राज्य कब से शुरू होता है। बाप आकर रावण के चम्बे से छुड़ाते हैं, कैसे? यह तो बाप ही जब आये तब आकर सुनाये, तब फिर अनुभव से हम किसको समझा सकें। सबको नीचे उतरते-उतरते पतित बनना ही है, मुझ पतित-पावन को आना ही है संगम पर। दुनिया के मनुष्य तो घोर अन्धियारे में हैं। समझते हैं कलियुग की आयु लाखों वर्ष पड़ी है क्योंकि शास्त्रों में उल्टा लिख दिया है। अब दैवी युग की स्थापना होनी है। दोज़क को बहिश्त बनाने वाला बाप ही है। बाप कोई दोज़क थोड़ेही रचेंगे। बच्चों को अब यह पक्का निश्चय है कि बाबा हमको पढ़ाते हैं। बहुत समय से पढ़ाते रहते हैं।

अब त्रिमूर्ति शिवजयन्ती आने वाली है। लिखना है शिवजयन्ती सो गीता जयन्ती। श्रीकृष्ण जयन्ती जब मनाते हैं तब गीता जयन्ती नहीं मनाते हैं। कृष्ण तो छोटा बच्चा है, जब वह बड़ा हो तब गीता सुनाये। त्रिमूर्ति शिव जयन्ती माना ही गीता जयन्ती। यह बहुत समझने की बातें हैं। वो लोग गीता जयन्ती को अलग कर देते हैं क्योंकि समझते हैं कृष्ण तो छोटा बच्चा है, वह कैसे गीता सुनायेगा। तुम बच्चों को ही बाप बैठ राजयोग सिखला रहे हैं। यह भी गाया हुआ है – सेकण्ड में जीवनमुक्ति। बैरिस्टर के स्कूल में बैठा तो बैरिस्टरी पढ़ने लग पड़ते, उसमें एम आब्जेक्ट है – मैं बैरिस्टर बनूँगा। बाकी उसमें ऊंच पद पाना यह फिर पढ़ाई पर मदार है। कोई फिर अच्छा पढ़ते हैं तो ऊंच पद पाते हैं। नहीं पढ़ते हैं तो पद भी कम, सारा मदार है पढ़ाई पर। तुम यहाँ मनुष्य से देवता बनने आये हो। परन्तु देवताओं में भी नम्बरवार मर्तबे हैं। कोई फर्स्टक्लास, कोई सेकण्ड क्लास, कोई थर्ड क्लास। यह सब गुप्त बातें हैं। कोई की बुद्धि में आ नहीं सकती। कैसे हम अपना राज्य स्थापन कर रहे हैं। महाभारत लड़ाई भी लगने वाली है। परन्तु पाण्डव सप्रदाय तो लड़ते नहीं। असुर और कौरव सम्प्रदाय आपस में लड़ झगड़कर खत्म हो जाते हैं। तो अब तुम बच्चों को पुरुषार्थ करना है। समझाना भी है – बाबा समय प्रति समय डायरेक्शन देते रहते हैं। निराकार परमपिता परमात्मा राजयोग कैसे सिखलायेंगे? जरूर शरीर में आयेंगे। बाप श्रीमत दे रहे हैं – बच्चे तुमको याद की यात्रा पर रहना है। मुझे याद करो। यह है योग अग्नि, जिससे विकर्म विनाश होंगे। दिन-प्रतिदिन तुमको अच्छी-अच्छी प्वाइंट्स मिलती रहती हैं। पतित-पावन की प्वाइंट भी अच्छी है। पतित-पावन बाप को बुलाते भी हैं फिर गंगा में जाकर स्नान करते हैं। तुम लिख भी सकते हो बड़े-बड़े अक्षरों में कि पतित-पावन तो परमपिता परमात्मा को कहा जाता है। ज्ञान का सागर भी वही है। सारी दुनिया को पावन बनाते हैं। सारी दुनिया का क्वेश्चन है ना। दुनिया पावन कैसे बने? गंगा, जमुना आदि यह नदियाँ तो चली आती हैं। अभी कलियुग का समय है तो कुछ गड़बड़ होती है। सतयुग में फिर सब नदियाँ अपने ठिकाने पर आ जायेंगी। परन्तु इनसे पावन तो कोई बनते नहीं। बहुत क्लीयर करके समझाना है। पर्चे भी बांटने हैं। वह भी आदमी-आदमी देखकर देना है। मुख्य दो तीन प्वाइंट्स जरूर समझानी हैं। वास्तव में इस समय सब पतित विकारी हैं। सबकी उतरती कला है। गुरूनानक ने भी कहा है कि मूत पलीती कपड़… भारत को श्रेष्ठाचारी तो बनना ही है। इसको भ्रष्टाचारी कहेंगे, श्रेष्ठाचारी सिर्फ देवतायें हैं। इस समय और कोई बन न सके क्योंकि माया का राज्य है ना। हाँ, बाकी भक्ति का सुख मिलता है। यहाँ रचना भी कोई योगबल से नहीं होती है, विकार से पैदाइस होती है। पहले थोड़े होते हैं फिर वृद्धि होने से आपस में लड़ते हैं। हर एक को पहले सुख फिर दु:ख देखना है। यह मनुष्यों की बात है। सतयुग में मनुष्य सुखी हैं तो जानवर आदि भी सुखी रहते हैं। तो बाप समझाते हैं ऐसे-ऐसे लिखो। त्रिमूर्ति शिव जयन्ती सो श्रीमत भगवत गीता जयन्ती। फिर समझाना भी है, जो समझते हैं उन्हों की दिल होती है कि यह बातें दूसरों को भी समझायें। समझाने बिगर वृद्धि कैसे होगी। ड्रामा अनुसार जिनका जो पार्ट है समझने और समझाने का वह अपना पार्ट बजाते हैं। भक्ति का पार्ट भी दिन-प्रतिदिन जोर होता जाता है। गाया भी हुआ है जब भंभोर को आग लगती है तब ऑख खुलती है। तुम बच्चों को शंखध्वनि करनी है। रात-दिन चिंतन चलना चाहिए – कैसे किसको समझायें। सारी दुनिया को बाप का परिचय देना, कितनी बड़ी कारोबार है। दुनिया कितनी बड़ी है। बहुत धर्म, बहुत खण्ड हैं। सतयुग में एक ही धर्म होता है फिर वृद्धि को पाते हैं। यह भी समझते हो – प्रजापिता ब्रह्मा द्वारा ही ब्राह्मण पैदा होते हैं। ब्राह्मण वर्ण भी नहीं दिखाते हैं तो पैदा करने वाला भी नहीं दिखाते हैं। तो यह समझाना है कौरव और पाण्डव दिखाते हैं। तुम हो ब्राह्मण। प्रजापिता ब्रह्माकुमार कुमारियाँ हैं तो प्रजापिता जरूर चाहिए, जिससे भिन्न-भिन्न बिरादरियाँ पैदा होती हैं। देवता, क्षत्रिय, वैश्य, शूद्र दिखाते हैं। बाकी संगमयुगी ब्राह्मणों को गुम कर दिया है। गायन भी करते हैं त्रिमूर्ति ब्रह्मा, परन्तु त्रिमूर्ति ब्रह्मा का अर्थ नहीं निकलता। उन्हों को देने वाला कौन? तुम समझते हो निराकार बाप ने ब्रह्मा मुख द्वारा बैठ समझाया है। ब्रह्मा के मुख कमल से बच्चे पैदा होते हैं। जब तुमको सुनायें तब ब्रह्मा भी सुने। तुम न होते तो शिवबाबा क्या करते। एक को तो नहीं सुनाया जाता है। शास्त्रों में एक अर्जुन का नाम लिख दिया है। तो जिस समय जो प्वाइंट निकलती है, उस समय उसी सर्विस में लगना चाहिए। तुम्हें हर बात बहुत क्लीयर करके समझाई जाती है। परन्तु योग में रहें, पावन बनें – यह मेहनत है। विष छोड़ना, कितनी मेहनत है। विष पर ही झगड़ा होता है। तो बच्चों को सर्विस पर यह अटेन्शन देना है कि पढ़कर पढ़ाना है। इस सर्विस में ही कल्याण है। ओना रहना चाहिए। जो नये आते हैं, उनसे फार्म भराने वाले बहुत तीखे चाहिए। फार्म भराने समय यह भी पूछो तुम साधना करते हो, मुक्तिधाम जाने चाहते हो ना। मुक्तिधाम का मालिक तो एक ही परमपिता परमात्मा है, वह बाप ही आकर पावन बनाते हैं। यह स्नान आदि तो भारत में ही करते हैं और धर्मों में नहीं करते। वह फिर अपने धर्म स्थापक के आगे माथा टेकते हैं, फूल चढ़ाते हैं। महिमा गाते हैं। उन्हों को यह तो मालूम ही नहीं है कि पतित-पावन एक ही बाप है। अभी क्रिसमस में क्राइस्ट का कितना मनाते हैं। फिर भी गॉड फादर को याद करते हैं, कहते हैं ओ गॉड फादर, उनको पुकारते हैं। उन्हों को भी (क्रिश्चियन्स को भी) यह नॉलेज मिलेगी। बाबा तो कहते रहते हैं कि चित्र बनाओ तो विलायत में भी भेज दें। बेहद सृष्टि के कल्याण के लिए बुद्धि चलनी चाहिए। बाबा की बुद्धि चलती रहती है। इन चित्रों का कद्र बहुत थोड़ों को है। बाप ने दिव्य दृष्टि द्वारा यह बनाये हैं। कितना रिगार्ड होना चाहिए, इनसे तो बहुत भारी फर्स्टक्लास सर्विस होती है। ड्रामा अनुसार कोई निकलेंगे जो चित्र आदि बनायेंगे। आगे चलकर ऐसे बुद्धिवान बच्चे निकलेंगे जो सेवा में नई-नई इन्वेंशन करते रहेंगे, जिसे देखते ही दिल खुश हो जाए। अंग्रेजी तो सब तरफ फैली हुई है, भाषायें कितनी ढेर हैं। सब देशों में अंग्रेजी वाले जरूर होंगे इसलिए बाबा भी अंग्रेजी और हिन्दी को उठाते हैं। आखरीन सब भाषाओं में निकलेगा। किसको भी समझाना है बहुत सहज। परन्तु देखा जाता है किसकी बुद्धि में नहीं बैठता तो वह क्या काम करेंगे! धन है और दान नहीं करते हैं तो उनको मनहूस कहा जाता है। एक कान से सुनते हैं, दूसरे से निकाल देते हैं। हर एक को अपनी उन्नति का ख्याल जरूर होना चाहिए। संग के रंग में नहीं आना है। सर्विस में बिज़ी रहना है, नहीं तो बड़ा भारी घाटा पड़ जायेगा। अपनी उन्नति के लिए कोशिश जरूर करना चाहिए। बाबा मैं जाकर बहुतों को आप समान बनाने की सर्विस करती हूँ, ऐसे-ऐसे ख्याल आने चाहिए। उनको कहा जाता है सतोप्रधान बुद्धि। तमोप्रधान बुद्धि न अपना, न दूसरों का ख्याल करते हैं, उनको बेसमझ कहा जाता है। सतोप्रधान बुद्धि समझदार हैं। हिसाब-किताब भी कोई-कोई का बहुत कड़ा रहता है। समझते हुए भी फंसे हुए हैं। इस समय तो रात दिन सर्विस में लगा रहना चाहिए। खुद की ही कमाई है। मुझे बाप से पूरा वर्सा लेना है। नहीं तो कल्प-कल्प का घाटा पड़ जायेगा। पहले अपना कल्याण करेंगे तब दूसरों का भी कर सकेंगे। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) ज्ञान धन दान करने में मनहूस नहीं बनना है। अपनी और दूसरों की उन्नति के लिए युक्तियाँ निकालनी हैं।

2) मनुष्य से देवता बनने की पढ़ाई पढ़नी और पढ़ानी है। सर्विस और पढ़ाई पर पूरा अटेन्शन देना है। कड़े हिसाब-किताब को योगबल से चुक्तू करना है।

वरदान:- कम्पैनियन के साथ द्वारा सदा मनोरंजन का अनुभव करने वाले कम्बाइन्ड रूपधारी भव 
जब भी अकेलेपन का अनुभव हो तो उस समय बिन्दू रूप को याद नहीं करो। वह मुश्किल होगा, उससे बोर हो जायेंगे। उस समय अपने रमणीक अनुभवों की कहानी को स्मृति में लाओ, अपने स्वमान की, प्राप्तियों की लिस्ट सामने लाओ। सिर्फ दिमाग से याद नहीं करो लेकिन दिल से कम्पैनियन के साथ कम्बाइन्ड बन सर्व सम्बन्धों के स्नेह का रस अनुभव करो – यही मनमनाभव है और यह मनमनाभव होना ही मनोरंजन है।
स्लोगन:- बाप की श्रीमत प्रमाण जी हाजिर करते रहो तो सर्वशक्तियों का अधिकार मिल जायेगा।

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

Font Resize