Brahma kumaris murli 24 November 2020

TODAY MURLI 24 NOVEMBER 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 24 November 2020

24/11/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you have wasted a lot of time tolerating sorrow. The world is now changing. Remember the Father, become satopradhan and your time will be used in a worthwhile way.
Question: What effort do you need to make in order to win the lottery for 21 births?
Answer: If you want to win the lottery for 21 births, become a conqueror of attachment. Sacrifice yourself completely to the Father. Always have the awareness that this old world is now changing and that we are going to the new world. Even while seeing this old world, don’t see it. Use your handful of rice in a worthwhile way, like Sudama did, and claim the golden-aged sovereignty.

Om shanti. The spiritual Father sits here and explains to you spiritual children. You children understand that “spiritual children” means souls and that “spiritual Father” means the Father of souls. This is known as the meeting of souls with the Supreme Soul. This meeting only takes place once. You children know all of these things. This is something unique. The Father without an image explains to souls without an image. In fact, souls are without an image and they then adopt an image when they come here. They play their parts through their images. There is a soul in everyone. There is a soul in all the animals too. They speak of 8.4 million species and all animals are included in that. There are many animals. The Father explains: Don’t waste your time in those matters. People without this knowledge continue to waste a lot of their time. At this time, the Father sits here and teaches you children and you then experience the reward for half the cycle. You don’t have any difficulty there. Your time is wasted tolerating sorrow; there is nothing but sorrow here. This is why everyone remembers the Father: Our time is being wasted in sorrow and so take us away from here! You would never say that your time is wasted in happiness. You also understand that, at this time, human beings have no value. You can see how people die suddenly. So many people die in just one storm. In the kingdom of Ravan human beings have no value. The Father is now giving you so much value. He is changing you from not worth a penny to worth a pound. It is remembered: The birth like a diamond is invaluable. At this time human beings chase after shells. Perhaps they become millionaires, multimillionaires or billionaires; their intellects are engrossed in that all of the time. They are told to forget all of that and to remember the one Father, but they don’t accept it. This will only sit in the intellects of those in whose intellects it sat in the previous cycle. Otherwise, no matter how much you explain, it will not sit in their intellects. You know, numberwise, that this world is changing. Even though you may have written on a board outside that the world is changing, they will not understand this until you explain to them. OK, once someone has understood this, you then have to tell him: Remember the Father and become satopradhan. The knowledge is very easy. This is the sun dynasty and this is the moon dynasty…and so on. This world is now changing and it is the one Father who changes it. You know this accurately, and that too is numberwise, according to the efforts you make. Maya doesn’t allow you to make effort and so you then understand that, according to the drama, you are not able to make so much effort. You children now know that you are changing this world for yourselves by following shrimat. Shrimat is from the one Shiv Baba. It is very easy to say, “Shiv Baba, Shiv Baba”. No one else knows Shiv Baba or the inheritance. “Baba” means an inheritance. There has to be the true Shiv Baba. Nowadays, they even call a mayor “father. They call Gandhi, “father. Someone is even called Jagadguru, which would mean that he is the guru of the whole world. No human being can be that, since the Purifier and the Bestower of Salvation for All is the one Father. The Father is incorporeal; so how does He liberate you? The world is changing and so He definitely comes here to act. Only then could you become aware of this. It isn’t that annihilation takes place and that the Father then creates the new world. In the scriptures they have portrayed a huge annihilation taking place and then Krishna coming, floating on a pipal leaf. However, the Father explains that it is not like that. Since it is remembered that the history and geography of the world repeat, there cannot be annihilation. It is in your hearts that the old world is now changing. Only the Father comes and explains all of these things. Lakshmi and Narayan are the masters of the new world. In the pictures, they have portrayed Ravan as the master of the old world. Both the kingdoms of Rama and Ravan have been remembered. It is in your intellects that Baba finishes the old, devilish world and inspires the establishment of the new, divine world. The Father says: Hardly anyone knows Me as I am or what I am. You know Me, numberwise, according to the efforts you make. Those who make effort very well also have great intoxication. Those who make effort for remembrance have real intoxication. You don’t experience as much intoxication explaining the knowledge of the cycle of 84 births as you do on the pilgrimage of remembrance. The main thing is to become pure. People call out: Come and purify us! They don’t say: Come and give us the sovereignty of the world. You listen to so many stories on the path of devotion. This is the true story of the true Narayan. You have been hearing those stories for birth after birth and have continued to come down. It is only in Bharat that they have the system of listening to religious stories. In other lands, they don’t have such religious stories. They consider Bharat to be religious. There are so many temples in Bharat. Christians only have the one church. Here, they have so many different types of temple. In fact there should only be one temple to Shiv Baba. There should be the name of just the One, but there are so many names here. People come from abroad to see the temples here. Those poor people don’t understand what ancient Bharat was like. There is nothing older than 5000 years. They think that they have found something older than hundreds of thousands of years. The Father explains: The pictures that exist in the temples etc. have only existed for 2500 years. At first, there is worship of Shiva alone; that is unadulterated worship. In the same way, there is also unadulterated knowledge. First, there is unadulterated worship and then there is adulterated worship. Now, look how they worship water and the soil etc! The unlimited Father says: You wasted so much wealth on the path of devotion. There are so many scriptures and so many pictures. There must be so many different Gitas. Look what you have become by spending so much on all of that! Yesterday, I made you doublecrowned; now, you have become so poverty-stricken. It is a matter of only yesterday. You also understand that you truly have been around the cycle of 84 births. We are now once again becoming this. We are claiming our inheritance from Baba. Baba repeatedly inspires you to make effort. The term “Manmanabhav” is also mentioned in the Gita. Some words in that are correct. It is said: It used to exist. That is, the deity religion doesn’t exist now, but there are its images. Look how well they have made your memorial. You understand that you are now once again carrying out establishment. Then, on the path of devotion, our accurate memorial will be built. When an earthquake takes place, everything is destroyed and everything has to be built anew. There are all the skills there. There is also the skill of cutting diamonds. Here, too, people cut diamonds and then set them. Diamond cutters are very expert. They will then go there. All of these skills will go there too. You know that there will be so much happiness there. It used to be the kingdom of Lakshmi and Narayan. The very name is heaven, one hundred per cent solvent. It is now insolvent. There is a lot of fashion in Bharat for wearing jewellery; it continues from time immemorial. So you children should have so much happiness. You know that this world is changing. Heaven is being created and so we definitely do need to become pure for that. We also have to imbibe divine virtues. This is why Baba says: Definitely write your chart. Have I, this soul, performed any devilish act? Firmly consider yourself to be a soul. Have I performed any sinful act through this body? If I have, then my register would be spoilt. This is the lottery for 21 births. This is also a race. There are horse races. This is called the sacrificial fire in which the horse is sacrificed to attain self-sovereignty, which means that you souls have to race. You now have to return home. That is also called the sweet silence home. You are listening to these words now. The Father says: Children, now make a lot of effort. You are receiving a kingdom and that is no small thing. I am a soul and I have taken this many births. The Father says: Your 84 births are now coming to an end. You now have to begin again from the first number. It will definitely be you children who will sit in the new palaces. You will not sit in old ones. It isn’t that you will sit in old ones and rent out the new ones to tenants. The more effort you make, so accordingly, you will become the masters of the new world. When a new home is being built, the heart’s desire is to leave the old one and go and sit in the new one. The Father builds a new home for the children only when the earlier one becomes old. There, it isn’t a question of renting it out. Just as those people try to get a plot of land on the moon, so you are claiming your plot in heaven. The more yoga and knowledge you have, the purer you will become. This is Raja Yoga; you are receiving such a huge kingdom! When people go searching for a plot of land on the moon, it is all wasteful. These things that now give you happiness will later become things that bring about destruction and cause sorrow. As you progress further, there will be fewer armies. Everything will happen very quickly through bombs. This drama is predestined and destruction will take place suddenly at the right time. Soldiers etc. will then die. You are now becoming angels. You know that destruction takes place for you. It is part of the drama for the old world to end. Whatever actions each one performs, accordingly he has to suffer. For instance, sannyasis may be good, but they still take birth to householders. Only in the new world will you receive an elevated birth and that too will be according to your sanskars. You are now taking those sanskars to the new world. You will definitely take birth in Bharat. Because you perform such actions, you will take birth to those who are very good, religious-minded people. You will take birth according to your sanskars. You will go and take birth in a very high clan. There wouldn’t be anyone else who performs actions like you. Your birth will be according to how you study and the service you have do. Many have to die. Those who are to receive you will go in advance. The Father explains: This world is now changing. The Father has granted you visions. Baba tells you of his own example. He saw that he was going to receive a kingdom for 21 births, and so he thought: What is this one or two million compared to that? The first one (alpha) received the sovereignty and the second one (beta) received the “donkeyship”. He told his partner to take whatever he wanted. There was no difficulty. You children have been told what you receive from Baba. You receive the kingdom of heaven! Continue to open as many centresas possible. You have to benefit many. You are earning an income for 21 births. Here, there are many millionaires and billionaires. All of them are beggars. Many will come to you. Many come to the exhibitions; don’t think that subjects are not being created. Many subjects are created. Many people say that this is very good but they say that they don’t have time! By hearing just a little, they will become part of the subjects. This imperishable knowledge is never destroyed. It is not a small thing to give Baba’s introduction. Some will have goose pimples. If someone wants to claim a high status, he will busy himself in making effort. Baba will not take money from anyone. The pool is created through each drop of the children. Some even send one rupee: Baba, use one brick in my name. There is also the praise of the handful of rice of Sudama. Baba says: These are like diamonds and jewels for you. Everyone’s life becomes like a diamond. You are creating this for the future. You know that everything you see with your physical eyes is part of the old world. This world is now changing. You are now becoming the masters of the land of immortality. You definitely do have to become conquerors of attachment. You have been saying: Baba, when You come we will sacrifice ourselves to You. So this is a good bargain, is it not? People don’t know why He has been given the names: Businessman, Jewel Merchant and Magician. He is the Jewel Merchant; each imperishable jewel of knowledge is an invaluable version. The story of Rup and Basant is based on this. You too are rup and basant. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Don’t now perform any sinful acts through your body. Don’t perform any devilish act through which your register would become spoilt.
  2. Maintain the intoxication of having remembrance of the one Father. Definitely make the main effort of becoming pure. Don’t waste your invaluable time chasing after shells, but make your life elevated by following shrimat.
Blessing: May you become a self-transformer and real gold by moulding yourself and being successful in every task.
Those who transform themselves in every situation and become self-transformers are always successful and this is why you have to keep the aim of transforming yourself. It is not that you will change when others change: whether others change or not, I have to change. I have to become Arjuna. I always have to be first in bringing about transformation. Those who are first in this claim number one because only those who mould themselves are real gold. There is value only in real gold.
Slogan: With the practical proof of your elevated life, reveal the Father.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 24 NOVEMBER 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 24 November 2020

Murli Pdf for Print : – 

24-11-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – तुमने दु:ख सहन करने में बहुत टाइम वेस्ट किया है, अब दुनिया बदल रही है, तुम बाप को याद करो, सतोप्रधान बनो तो टाइम सफल हो जायेगा”
प्रश्नः- 21 जन्मों के लिए लॉटरी प्राप्त करने का पुरुषार्थ क्या है?
उत्तर:- 21 जन्मों की लॉटरी लेनी है तो मोहजीत बनो। एक बाप पर पूरा-पूरा कुर्बान जाओ। सदा यह स्मृति में रहे कि अब यह पुरानी दुनिया बदल रही है, हम नई दुनिया में जा रहे हैं। इस पुरानी दुनिया को देखते भी नहीं देखना है। सुदामा मिसल चावल मुट्ठी सफल कर सतयुगी बादशाही लेनी है।

ओम् शान्ति। रूहानी बच्चों प्रति रूहानी बाप बैठ समझाते हैं, यह तो बच्चे समझते हैं। रूहानी बच्चे माना आत्मायें। रूहानी बाप माना आत्माओं का बाप। इसको कहा जाता है आत्माओं और परमात्मा का मिलन। यह मिलन होता ही है एक बार। यह सब बातें तुम बच्चे जानते हो। यह है विचित्र बात। विचित्र बाप विचित्र आत्माओं को समझाते हैं। वास्तव में आत्मा विचित्र है, यहाँ आकर चित्रधारी बनती है। चित्र से पार्ट बजाती है। आत्मा तो सबमें है ना। जानवर में भी आत्मा है। 84 लाख कहते हैं, उसमें तो सब जानवर आ जाते हैं ना। ढेर जानवर आदि हैं ना। बाप समझाते हैं इन बातों में टाइम वेस्ट नहीं करना है। सिवाए इस ज्ञान के मनुष्यों का टाइम वेस्ट होता रहता है। इस समय बाप तुम बच्चों को बैठ पढ़ाते हैं फिर आधाकल्प तुम प्रालब्ध भोगते हो। वहाँ तुमको कोई तकलीफ नहीं होती है। तुम्हारा टाइम वेस्ट होता ही है दु:ख सहन करने में। यहाँ तो दु:ख ही दु:ख है इसलिए सब बाप को याद करते हैं कि हमारा दु:ख में टाइम वेस्ट होता है, इससे निकालो। सुख में कभी टाइम वेस्ट नहीं कहेंगे। यह भी तुम समझते हो-इस समय मनुष्य की कोई वैल्यु नहीं है। मनुष्य देखो अचानक ही मर पड़ते हैं। एक ही तूफान में कितने मर जाते हैं। रावण राज्य में मनुष्य की कोई वैल्यु नहीं है। अभी बाप तुम्हारी कितनी वैल्यु बनाते हैं। वर्थ नाट ए पेनी से वर्थ पाउण्ड बनाते हैं। गाया भी जाता है हीरे जैसा जन्म अमोलक। इस समय मनुष्य कौड़ी पिछाड़ी लगे हुए हैं। करके लखपति, करोड़पति, पद्मपति बनते हैं, उन्हों की सारी बुद्धि उसमें ही रहती है। उनको कहते हैं-यह सब भूल एक बाप को याद करो परन्तु मानेंगे ही नहीं। उनकी बुद्धि में बैठेगा, जिनकी बुद्धि में कल्प पहले भी बैठा होगा। नहीं तो कितना भी समझाओ, कभी बुद्धि में बैठेगा नहीं। तुम भी नम्बरवार जानते हो कि यह दुनिया बदल रही है। बाहर में भल तुम लिख दो कि दुनिया बदल रही है फिर भी समझेंगे नहीं। जब तक तुम किसको समझाओ। अच्छा, कोई समझ जाए फिर उनको समझाना पड़े-बाप को याद करो, सतोप्रधान बनो। नॉलेज तो बहुत सहज है। यह सूर्यवंशी-चन्द्रवंशी……। अभी यह दुनिया बदल रही है, बदलाने वाला एक ही बाप है। यह भी तुम यथार्थ रीति जानते हो सो भी नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार। माया पुरुषार्थ करने नहीं देती फिर समझते हैं यह भी ड्रामा अनुसार इतना पुरुषार्थ नहीं चलता है। अभी तुम बच्चे जानते हो कि श्रीमत से हम अपने लिए इस दुनिया को बदला रहे हैं। श्रीमत है ही एक शिवबाबा की। शिवबाबा, शिवबाबा कहना तो बहुत सहज है और कोई न शिवबाबा को, न वर्से को जानते हैं। बाबा माना ही वर्सा। शिवबाबा भी सच्चा चाहिए ना। आजकल तो मेयर को भी फादर कह देते हैं। गांधी को भी फादर कहते हैं, कोई को फिर जगद्गुरू कह देते हैं। अब जगत माना सारी सृष्टि का गुरू। वह कोई मनुष्य हो कैसे सकता! जबकि पतित-पावन सर्व का सद्गति दाता एक ही बाप है। बाप तो है निराकार फिर कैसे लिबरेट करते हैं? दुनिया बदलती है तो जरूर एक्ट में आयेंगे तब तो पता पड़ेगा। ऐसे नहीं कि प्रलय हो जाती है, फिर बाप नई सृष्टि रचते हैं। शास्त्रों में दिखाया है बहुत बड़ी प्रलय होती है, फिर पीपल के पत्ते पर कृष्ण आता है। परन्तु बाप समझाते हैं ऐसे तो है नहीं। गाया जाता है वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी रिपीट तो प्रलय हो न सके। तुम्हारे दिल में है कि अभी यह पुरानी दुनिया बदल रही है। यह सब बातें बाप ही आकर समझाते हैं। यह लक्ष्मी-नारायण हैं नई दुनिया के मालिक। तुम चित्रों में भी दिखलाते हो कि पुरानी दुनिया का मालिक है रावण। राम राज्य और रावण राज्य गाया जाता है ना। यह बातें तुम्हारी बुद्धि में हैं कि बाबा पुरानी आसुरी दुनिया को खत्म कर नई दैवी दुनिया स्थापन करा रहे हैं। बाप कहते हैं मैं जो हूँ, जैसा हूँ, कोई विरला ही समझते हैं। वह भी तुम नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार जानते हो जो अच्छे पुरुषार्थी हैं उनको बड़ा अच्छा नशा रहता है। याद के पुरूषार्थी को रीयल नशा चढ़ेगा। 84 के चक्र की नॉलेज समझाने में इतना नशा नहीं चढ़ता जितना याद की यात्रा में चढ़ता है। मूल बात है ही पावन बनने की। पुकारते भी हैं-आकर पावन बनाओ। ऐसा नहीं पुकारते कि आकर विश्व की बादशाही दो। भक्ति मार्ग में कथायें भी कितनी सुनते हैं। सच्ची-सच्ची सत्य नारायण की कथा तो यह है। वह कथायें तो जन्म-जन्मातर सुनते-सुनते नीचे ही उतरते आये हो। भारत में ही यह कथायें सुनने का रिवाज है, और कोई खण्ड में कथायें आदि नहीं होती। भारत को ही रिलीजस मानते हैं। ढेर के ढेर मन्दिर भारत में हैं। क्रिश्चियन की तो एक ही चर्च होती है। यहाँ तो किस्म-किस्म के ढेर मन्दिर हैं। वास्तव में एक ही शिवबाबा का मन्दिर होना चाहिए। नाम भी एक का होना चाहिए। यहाँ तो ढेर नाम हैं। विलायत वाले भी यहाँ मन्दिर देखने आते हैं। बिचारों को यह पता नहीं कि प्राचीन भारत कैसा था? 5 हज़ार वर्ष से तो पुरानी कोई चीज़ होती नहीं। वह तो समझते हैं कि लाखों वर्ष की पुरानी चीज़ मिली। बाप समझाते हैं यह मन्दिर में चित्र आदि जो बने हैं उनको 2500 वर्ष ही हुए हैं, पहले-पहले शिव की ही पूजा होती है। वह है अव्यभिचारी पूजा। वैसे ही अव्यभिचारी ज्ञान भी कहा जाता है। पहले अव्यभिचारी पूजा, फिर है व्यभिचारी पूजा। अब तो देखो पानी, मिट्टी की पूजा करते रहते हैं।

अभी बेहद का बाप कहते हैं तुमने कितना धन भक्ति मार्ग में गँवाया है। कितने अथाह शास्त्र, अथाह चित्र हैं। गीतायें कितनी ढेर की ढेर होंगी। इन सब पर खर्चा करते-करते देखो तुम क्या हो गये हो। कल तुमको डबल सिरताज बनाया था फिर तुम कितने कंगाल हो गये हो। कल की ही तो बात है ना। तुम भी समझते हो बरोबर हमने 84 का चक्र लगाया है। अभी हम फिर से यह बन रहे हैं। बाबा से वर्सा ले रहे हैं। बाबा घड़ी-घड़ी ताकीद करते (पुरुषार्थ कराते) हैं, गीता में भी अक्षर है मनमनाभव। कोई-कोई अक्षर ठीक हैं। ‘प्राय:’ कहा जाता है ना, यानि देवी-देवता धर्म है नहीं, बाकी चित्र हैं। तुम्हारा यादगार देखो कैसे अच्छा बनाया हुआ है। तुम समझते हो अभी हम फिर से स्थापना कर रहे हैं। फिर भक्ति मार्ग में हमारे ही एक्यूरेट यादगार बनेंगे। अर्थक्वेक आदि होती है, उसमें सब खत्म हो जाता है। फिर वहाँ सब तुम नया बनायेंगे। हुनर तो वहाँ रहता है ना। हीरे काटने का भी हुनर (कला) है। यहाँ भी हीरों को काटते हैं फिर बनाते हैं। हीरे काटने वाले भी बड़े एक्सपर्ट होते हैं। वह फिर वहाँ जायेंगे। वहाँ यह सब हुनर जायेगा। तुम जानते हो वहाँ कितना सुख होगा। इन लक्ष्मी-नारायण का राज्य था ना। नाम ही है स्वर्ग। 100 परसेन्ट सालवेन्ट। अभी तो है इनसालवेन्ट। भारत में जवाहरात का बहुत फैशन है, जो परम्परा चला आता है। तो तुम बच्चों को कितनी खुशी रहनी चाहिए। तुम जानते हो यह दुनिया बदल रही है। अब स्वर्ग बन रहा है, उसके लिए हमको पवित्र जरूर बनना है। दैवी गुण भी धारण करने हैं इसलिए बाबा कहते हैं चार्ट जरूर लिखो। हम आत्मा ने कोई आसुरी एक्ट तो नहीं किया? अपने को आत्मा पक्का समझो। इस शरीर से कोई विकर्म तो नहीं किया? अगर किया तो रजिस्टर खराब हो जायेगा। यह है 21 जन्मों की लॉटरी। यह भी रेस है। घोड़े की दौड़ होती है ना। इसको कहते हैं राजस्व अश्वमेध…….. स्वराज्य के लिए अश्व यानी तुम आत्माओं को दौड़ी लगानी है। अब वापिस घर जाना है। उसको स्वीट साइलेन्स होम कहा जाता है। यह अक्षर तुम अभी सुनते हो। अब बाप कहते हैं बच्चे खूब मेहनत करो। राजाई मिलती है, कम बात थोड़ेही है। मैं आत्मा हूँ, हमने इतने जन्म लिए हैं। अब बाप कहते हैं तुम्हारे 84 जन्म पूरे हुए। अब फिर पहले नम्बर से शुरू करना है। नये महलों में जरूर बच्चे ही बैठेंगे। पुराने में तो नहीं बैठेंगे। ऐसे तो नहीं, खुद पुराने में बैठे और नये में किराये वालों को बिठायेंगे। तुम जितनी मेहनत करेंगे, नई दुनिया के मालिक बनेंगे। नया मकान बनता है तो दिल होती है पुराने को छोड़ नये में बैठें। बाप बच्चों के लिए नया मकान बनाते ही तब हैं जब पहला मकान पुराना होता है। वहाँ किराये पर देने की तो बात ही नहीं। जैसे वो लोग मून पर प्लाट लेने की कोशिश करते हैं, तुम फिर स्वर्ग में प्लाट ले रहे हो। जितना-जितना ज्ञान और योग में रहेंगे उतना पवित्र बनेंगे। यह है राजयोग, कितनी बड़ी राजाई मिलेगी। बाकी यह जो मून आदि पर प्लाट ढूँढते रहते हैं वह सब व्यर्थ है। यही चीज़ें जो सुख देने वाली हैं वही फिर विनाश करने, दु:ख देने वाली बन जायेंगी। आगे चलकर लश्कर आदि सब कम हो जायेगा। बॉम्ब्स से ही फटाफट काम होता जायेगा। यह ड्रामा बना हुआ है, समय पर अचानक विनाश होता है। फिर सिपाही आदि भी मर जाते हैं। तुम अब फरिश्ते बन रहे हो। तुम जानते हो हमारे खातिर विनाश होता है। ड्रामा में पार्ट है, पुरानी दुनिया खलास हो जाती है। जो जैसा कर्म करते हैं ऐसा तो भोगना है ना। अब समझो संन्यासी अच्छे हैं, जन्म तो फिर भी गृहस्थियों पास लेंगे ना। श्रेष्ठ जन्म तो तुमको नई दुनिया में मिलना है, फिर भी संस्कार अनुसार जाकर वह बनेंगे। तुम अभी संस्कार ले जाते हो नई दुनिया के लिए। जन्म भी जरूर भारत में लेंगे। जो बहुत अच्छे रिलीजस माइन्डेड होंगे उनके पास जन्म लेंगे क्योंकि तुम कर्म ही ऐसे करते हो। जैसे-जैसे संस्कार, उस अनुसार जन्म होता है। तुम बहुत ऊंच कुल में जाकर जन्म लेंगे। तुम्हारे जैसा कर्म करने वाला तो कोई होगा नहीं। जैसी पढ़ाई, जैसी सर्विस, वैसा जन्म। मरना तो बहुतों को है। पहले रिसीव करने वाले भी जाने हैं। बाप समझाते हैं अब यह दुनिया बदल रही है। बाप ने तो साक्षात्कार कराया है। बाबा अपना भी मिसाल बताते हैं। देखा 21 जन्मों के लिए राजाई मिलती है, उसके आगे यह 10-20 लाख क्या हैं। अल्फ को मिली बादशाही, बे को मिली गदाई। भागीदार को कह दिया जो चाहिए सो लो। कोई भी तकलीफ नहीं हुई। बच्चों को भी समझाया जाता है-बाबा से तुम क्या लेते हो? स्वर्ग की बादशाही। जितना हो सके सेन्टर्स खोलते जाओ। बहुतों का कल्याण करो। तुम्हारी 21 जन्मों की कमाई हो रही है। यहाँ तो लखपति, करोड़पति बहुत हैं। वह सब हैं बेगर्स। तुम्हारे पास आयेंगे भी बहुत। प्रदर्शनी में कितने आते हैं, ऐसा मत समझो प्रजा नहीं बनती है। प्रजा बहुत बनती है। अच्छा-अच्छा तो बहुत कहते हैं परन्तु कहते हमको फुर्सत नहीं। थोड़ा भी सुना तो प्रजा में आ जायेंगे। अविनाशी ज्ञान का विनाश नहीं होता है। बाबा का परिचय देना कोई कम बात थोड़ेही है। कोई-कोई के रोमांच खड़े हो जायेंगे। अगर ऊंच पद पाना होगा तो पुरुषार्थ करने लग पड़ेंगे। बाबा कोई से धन आदि तो लेंगे नहीं। बच्चों की बूंद-बूंद से तलाब होता है। कोई-कोई एक रूपया भी भेज देते हैं। बाबा एक ईट लगा दो। सुदामा की मुट्ठी चावल का गायन है ना। बाबा कहते हैं तुम्हारे तो यह हीरे-जवाहर हैं। हीरे जैसा जन्म सबका बनता है। तुम भविष्य के लिए बना रहे हो। तुम जानते हो यहाँ इन ऑखों से जो कुछ देखते हैं, यह पुरानी दुनिया है। यह दुनिया बदल रही है। अभी तुम अमरपुरी के मालिक बन रहे हो। मोहजीत जरूर बनना पड़े। तुम कहते आये हो कि बाबा आप आयेंगे तो हम कुर्बान जायेंगे, सौदा तो अच्छा है ना। मनुष्य थोड़ेही जानते हैं, सौदागर, रत्नागर, जादूगर नाम क्यों पड़ा है। रत्नागर है ना, अविनाशी ज्ञान रत्न एक-एक अमूल्य वर्शन्स हैं। इस पर रूप-बसन्त की कथा है ना। तुम रूप भी हो, बसन्त भी हो। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अब इस शरीर से कोई भी विकर्म नहीं करना है। ऐसी कोई आसुरी एक्ट न हो जिससे रजिस्टर खराब हो जाए।

2) एक बाप की याद के नशे में रहना है। पावन बनने का मूल पुरूषार्थ जरूर करना है। कौड़ियों पिछाड़ी अपना अमूल्य समय बरबाद न कर श्रीमत से जीवन श्रेष्ठ बनानी है।

वरदान:- स्वयं को मोल्ड कर रीयल गोल्ड बन हर कार्य में सफल होने वाले स्व परिवर्तक भव
जो हर परिस्थिति में स्वयं को परिवर्तन कर स्व परिवर्तक बनते हैं वह सदा सफल होते हैं इसलिए स्वयं को बदलने का लक्ष्य रखो। दूसरा बदले तो मैं बदलूँ-नहीं। दूसरा बदले या न बदले मुझे बदलना है। हे अर्जुन मुझे बनना है। सदा परिवर्तन करने में पहले मैं। जो इसमें पहले मैं करता वही पहला नम्बर हो जाता क्योंकि स्वयं को मोल्ड करने वाला ही रीयल गोल्ड है। रीयल गोल्ड की ही वैल्यु है।
स्लोगन:- अपने श्रेष्ठ जीवन के प्रत्यक्ष प्रमाण द्वारा बाप को प्रत्यक्ष करो।
Font Resize