brahma kumaris murli 23 January 2018

TODAY MURLI 23 JANUARY 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 23 January 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 22 January 2018 :- Click Here

23-01-2018
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you are the most luck y children because the Father Himself speaks to you personally.
Question: Which sanskars of the path of devotion can you children not have and why?
Answer: People on the path of devotion go to deity idols and they ask them for something or other. From one they would ask for wealth and from another a son. You children must no longer have the sanskars of asking because it is now the confluence age and the Father has made you Kamdhenu (those who fulfil all desires). Like the Father, you fulfil everyone’s desires. You cannot have any desires yourselves. You know that only the one Father, the Bestower, gives the fruit and that you receive all attainments by remembering Him. This is why the sanskars of asking have ended.
Song: Salutations to Shiva.

Om shanti. God speaks. The one scripture that has to be understood and explained to others is the Gita. Although human beings have created the scriptures, they cannot teach Raja Yoga. The Father says: Five thousand years ago I taught you children, you residents of Bharat, you long-lost and now-found children, Raja Yoga. The meaning of ‘long-lost and now-found’ has been explained to you. After taking 84 births you have met Baba. You met Baba 5000 years ago and also became Brahmins, the mouth-born creation of Brahma. The Father speaks to you directly. Those who recite the verses of the Gita would not say such things. Previously, the Father explained directly, but people on the path of devotion later created that scripture. Now that the drama is coming to an end, the Father has come once again. He speaks specially to the children, but which children? He speaks to you especially and to the whole world in general. You are now sitting face-to-face. Baba has introduced Himself to you. No one else can teach you this Raja Yoga. The Father taught you Raja Yoga previously and He is now teaching you again. It is through this that you will become the kings of kings. No one else can make you into the masters of heaven. I, your Father, have come to teach you Raja Yoga once again. Achcha. Baba will now explain the tree to you. This explanation is most essential. This is also known as the kalpa tree. The Father says: This is the human world tree, the kalpa tree. Those who relate the Gita say that God spoke that, whereas you say that God is speaking this now. This is the human world tree. There are no fruits such as mangoes etc. growing on this. The seed of a tree that gives fruit is beneath it and the tree grows above that, whereas here, the Seed is above and the tree is beneath. They say: God created us and God gave children to us; the Father gave us wealth. “Baba, remove all our suffering!”. They continue to call out: Baba! Baba! There is so much peacelessness! They go in front of the idols of Lakshmi and Narayan and say to them: Mahalakshmi, give us wealth! All of those sanskars are of asking. Some will go to Jagadamba and ask for a son whereas others will go to her and ask for their sickness to be removed. They do not put such desires in front of Lakshmi; they simply ask her for wealth. You now understand that Jagadamba is the one who becomes Lakshmi, and that after going around the cycle of 84 births, she then becomes Jagadamba again. Look at the picture of the tree. Jagadamba is sitting at the bottom, beneath it. She will definitely become the empress and you children will also go into the kingdom. You are sitting beneath the kalpa tree. You are laying the foundation at the confluence. You are the children of Kamdhenu (Mama), the one who fulfils everyone’s desires. You mothers of Bharat are the Shakti Army. The Pandavas are included in this. It has been explained to you children that you must only remember the one Father, only the one Father who gives everything. No matter how much devotion you do, or whom you remember, only the one Bestower gives the fruit of that. He is the One who gives everything. On the path of devotion, you worshipped Narayan and Krishna. You used to rock Krishna in a cradle and give him love. What could you ask him for? You desire to go into his kingdom or to have a child like Krishna. They sing praise and say: Remember Radhe and Govinda, Krishna, and let us go to Vrindavan (Paradise). You used to have your fortune of the kingdom there. At that time, nothing was lacking. People remember Krishna’s kingdom a great deal. When Bharat was the kingdom of Krishna, there was no other kingdom. The Father has now come and He says: Come to the land of Krishna and become Krishna’s wife, or become Radhe’s husband; it is the same thing. There, you will not be given poison. That is the completely viceless world. Now, you are student s: you are studying in order to change from ordinary humans into Narayan, from beggars to prince s. Someone may be a millionaire here, he may have fifty million, but, compared to you, he is poor because all of his wealth is going to turn to dust. None of it will go with him; he will return empty-handed. You return with your hands filled with enough for 21 births. You are now studying Raja Yoga and you will then go to the golden age and rule your kingdom. You take rebirth and continue to go through the different castes. In the golden age there are 16 celestial degrees, and in the silver age there are 14 celestial degrees. Then, when the path of devotion begins, Abraham and Buddha come. Three thousand years before Christ, there was the kingdom of deities. The whole tree has now reached its stage of total decay. You are now sitting beneath the kalpa tree at the confluence age. This is known as the confluence of the cycles, that is, the confluence of the iron age and the golden age. After the golden age the silver age comes, then the copper age, then the iron age and then the confluence age. The golden age surely has to come after the iron age. The confluence age is definitely also needed in between them. The Father comes at the confluence of every cycle. They have changed the word ‘cycle’ and written that He comes at the confluence of every age. The Father says: I am the Incorporeal, the Supreme Father, the Supreme Soul, the Ocean of Knowledge. Only in Bharat is the birth of Shiva praised. Krishna cannot give knowledge. They have shown a picture of Krishna in a chariot with horses, but when does Krishna come? How could he come in the copper age? You say that you will meet Krishna in heaven. The Father says: It is I who grant you a vision of Krishna on the path of devotion. At the time of celebrating Krishna’s birthday, they rock him with great love and worship him. It is as though they see the real Krishna; they receive a vision. If there is an idol of Krishna nearby, they go and hug that idol. I also help them on the path of devotion. I am the Bestower. People worship Lakshmi, but that is only a stone idol. What would it give? I am still the One who has to give. It is I who grant visions as well. This too is fixed in the drama. They say that every leaf moves on the orders of the Supreme Father, the Supreme Soul, because they think that the Supreme Soul is in every leaf. Would the Supreme Soul sit and give orders to leaves? That is fixed in the drama. Whatever actyou perform now, you will perform the same act in the next cycle as well. Whatever is being shot in the shooting , that will repeat again; there cannot be any difference in that. You have to understand the drama very clearly. The Father explains that it is Bharat that receives happiness every cycle. However, those who become Brahmins are those who go through the different castes. They take 84 births and then the births of others are numberwise; they are fewer. There are many small paths and cults. Those people are praised now because of their purity. The Father is the Creator of heaven. No human being can create heaven or teach Raja Yoga. You are now studying Raja Yoga in order to go to the land of Krishna. You should always make elevated effort. You say that you want a child like Krishna or a husband like Krishna. Krishna is the one who becomes Narayan, and so why do you speak of Krishna? You should say that you want a husband like Narayan! Narad said that he wanted to marry Lakshmi; he did not ask Radhe. The Father explains: If you want to go to the land of Krishna, make intense effort. That is the divine clan of Krishna; the clan of Kans is devilish. You are now at the confluence age. Those of the shudra community cannot call themselves Brahmins. Those who are not called Brahmins belong to the shudra clan. This applies to Bharat. Bharat becomes heaven and then Bharat becomes hell. Lakshmi and Narayan also have to go through the rajo and tamo stages while taking 84 births. Since they have come into the cycle, how could it be possible for Buddha etc. to return to the land of Nirvana? Some say: Krishna is omnipresent; wherever I look, I see Krishna. The devotees of Rama would say that Rama is omnipresent. They do not believe in Krishna. When someone who belonged to the Radhe-panthi (a cult who believe in Radhe) came, he used to say: Radhe, Radhe! Radhe is present everywhere. Radhe is in you and Radhe is in me as well. A worshipper of Ganesh would say that Ganesh is in you and Ganesh is in me. Christians say that Christ is the son of God. If Christ is the son, then whose sons are you? There are many different opinions. No one knows the way; they simply beat their heads and continue to wander around. Surely, God is the One who grants liberation and liberation-in-life. What can we ask of Him? No one knows this. Because of not knowing the Father, they have become orphans. The Lord and Master comes and makes them belong to Him. People are stumbling around a great deal. They think they will find God by performing devotion. The Father says: I come at My own time. No matter how much someone calls out, I only come at the confluence age. Only once do I come to change Bharat into heaven and take everyone into peace. Then they come, numberwise, at their own time. Those who were deities are the souls who are now sitting here. They are claiming their fortune of the kingdom once again. At present, the deity religion doesn’t exist; they all call themselves Hindus. According to the drama, the same thing will happen again. Whatever has happened will repeat. We will come into the cycle again in the same way and take that many births. You can calculate how many births the people of each religion take. It is very easy to explain the tree. People will be touched automatically and feel that, preparation is taking place for the flames of destruction through someone’s inspiration. The Yadavas (European scientists) are creating bombs. They say: Someone is inspiring us. We understand that, as a result of this, we will destroy our own clan. Even against their will, they are creating the means for death. Gradually, an impact will be made. The tree grows slowly. Some become buds from thorns and some become flowers. When storms come, some flowers wilt. Baba says: Every cycle, they listen, they become amazed, they give others knowledge. Now, Baba Himself says: They come to Baba, they become Brahma Kumars or Kumaris and tell others about this, but then, oh Maya! She swallows even good children. As time goes by, you will see how very good maharathis leave. The Father explains that whatever was in the past will again become the present. Then, on the path of devotion, the scriptures will be created. The drama is created in this way. The Father comes now and explains the essence of all the Vedas and scriptures through Brahma. They create a scripture in the name of the one who establishes the religion. They are called religious scriptures. The scripture of the deity religion is the one Gita. Every religion has to have a scripture. Therefore, to have the Shrimad Bhagawad Gita is accurate. These are the versions of God. God established the original, eternal deity religion. This is the ancient religion. Every religion has its own scripture which they study. You are now becoming deities, but there is no need for you to study scriptures for that. There are no scriptures there; all of them vanish. So where did the Gita come from? People created it in the copper age. The Gita that exists now will be rediscovered and created later. The scriptures will be created again as they were a cycle ago. The paraphernalia of the path of devotion will continue to be created. The Father explains: Long-lost and now-found children, now follow the shrimat of your Father and become elevated. Now, at the confluence age, when the iron age has to change into the golden age, you are studying Raja Yoga. By making the duration of the cycle very long, they have led everyone into immense darkness. Human beings are all confused. According to the drama, you children have to claim your inheritance from the unlimited Father. Baba has given you many methods for this. Simply remember Baba and keep a chart. While preparing food, stay in remembrance. If you are able to remember your husband or your children while preparing food, why are you not able to remember Shiv Baba? This is your duty. Baba gives your intellects a task: Climb up and down the ladder! Whether you climb up or not is up to you. You will climb up the ladder to the extent that you have remembrance. Otherwise, you will not receive as much happiness. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, that is, to the children who have been found after five thousand years, love, remembrance and good morning, numberwise, according to your efforts, from the Mother, the Father, BapDada. The sweetest spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to go to the land of Krishna, make very good effort. Transform your sanskars of a shudra and become a firm Brahmin.
  2. Climb the ladder of remembrance with the power of the intellect. By climbing this ladder, you will experience infinite happiness.
Blessing: May you be a master satguru and enable every soul to claim a right to liberation and liberation-in-life in a second.
Until now you have been playing the part s of master bestowers and master teachers. However, you must now become the children of the Satguru and play the part s of being bestower of blessings for liberation and liberation-in-life. “A m aster Satguru” means one who fully follows the father, and one who follows the versions of the Satguru completely. Only such master satgurus can take others beyond with a glance, that is, only they can do the service of enabling others to claim a right to liberation and liberation-in-life.
Slogan: Be obedient and you will continue to receive blessings from BapDada’s heart.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

BRAHMA KUMARIS MURLI 23 JANUARY 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 23 January 2018

To Read Murli 22 January 2018 :- Click Here
23-01-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – तुम हो मोस्ट लकी बच्चे क्योंकि तुम्हारे सम्मुख स्वयं बाप है, वह तुम्हें सुना रहे हैं”
प्रश्नः- भक्ति मार्ग का कौन सा संस्कार अभी तुम बच्चों में नहीं हो सकता? क्यों?
उत्तर:- भक्ति मार्ग में जिस भी देवी या देवता के पास जायेंगे उससे कुछ न कुछ मांगते ही रहेंगे। किसी से धन मांगेंगे, किसी से पुत्र मांगेगे। यह मांगने के संस्कार अभी तुम बच्चों में नहीं हो सकते क्योंकि बाप ने संगम पर तुम्हें कामधेनु बनाया है। तुम बाप समान सबकी मनोकामनायें पूर्ण करने वाले हो। तुम स्वयं के प्रति कोई आशा नहीं रख सकते। तुम जानते हो फल देने वाला एक ही दाता बाप है, जिसे याद करने से सब प्राप्तियां हो जाती हैं इसलिए मांगने के संस्कार समाप्त हो जाते हैं।
गीत:- ओम् नमो शिवाए…

ओम् शान्ति। भगवानुवाच। अब अच्छी रीति समझकर फिर समझाने के लिए एक गीता शास्त्र ही है। शास्त्र तो बनाया है मनुष्यों ने। परन्तु राजयोग मनुष्य नहीं सिखाते। बाप कहते हैं मैंने ही 5 हजार वर्ष पहले भी तुम भारतवासी सिकीलधे बच्चों को राजयोग सिखाया था। सिकीलधे का अर्थ तो समझाया है कि तुम ही पूरे 84 जन्म लेकर फिर आए मिले हो। 5 हजार वर्ष पहले भी तुम मिले थे और तुम आकर ब्रह्मा मुख वंशावली अर्थात् ब्राह्मण ब्राह्मणी बने थे। बाप डायरेक्ट बोलते हैं। वह गीता पाठी आदि यह बातें नहीं करेंगे। बाप डायरेक्ट समझाकर गये थे फिर भक्ति मार्ग से शास्त्र बनाते हैं। अब ड्रामा पूरा होता है। फिर बाप आया है कहते हैं बच्चों को, कौन से बच्चे? कहते हैं खास तुम और आम सारी दुनिया। तुम अभी सम्मुख हो। तुमको बैठ बाबा ने अपना परिचय दिया है। यह राजयोग तुमको और कोई सिखला न सके। बाप ने ही पहले योग सिखलाया था, अब सिखला रहे हैं जिससे तुम फिर राजाओं का राजा बनेंगे और कोई स्वर्ग का मालिक बना न सके। मैं तुम्हारा बाप आया हूँ फिर से तुमको राजयोग सिखलाने। अच्छा अब बाबा तुमको झाड़ पर समझाते हैं। यह समझानी भी बहुत जरूरी है। इनको कल्प-वृक्ष कहा जाता है। बाप कहते हैं यह मनुष्य सृष्टि रूपी झाड़ कल्प वृक्ष है। वह गीता सुनाने वाले कहेंगे भगवान ने यह कहा था और तुम कहेंगे भगवान कह रहा है। यह है मनुष्य सृष्टि का झाड़। इसमें कोई फल फ्रूट आम आदि नहीं हैं। उस फल फ्रूट का झाड़ जो होता है उनका बीज नीचे, झाड़ ऊपर में होता है। इनका बीच ऊपर और झाड़ नीचे हैं। कहते भी हैं ईश्वर ने हमको पैदा किया है अर्थात् बाप ने बच्चे दिये हैं। बाप ने धन दिया है। बाबा आप हमारे सब दु:ख दूर करो। बाबा, बाबा कहते रहते हैं। कितनी अशान्ति रहती है। लक्ष्मी-नारायण के आगे जाते हैं। उनसे मांगते हैं, महालक्ष्मी हमको धन दो। यह सब मांगने के संस्कार हैं। जगत अम्बा से कोई पुत्र मांगेंगे तो कोई कहेंगे हमारी बीमारी दूर करो। लक्ष्मी के आगे ऐसी आशायें नहीं रखेंगे, उनसे सिर्फ धन मांगते हैं। यह तो तुम जानते हो – जगत अम्बा सो लक्ष्मी, सो फिर 84 जन्मों का चक्र लगाकर फिर जगत अम्बा बनती है। झाड़ में देखो जगत अम्बा बैठी है। यही फिर महारानी बनेंगी जरूर, तुम बच्चे भी राजधानी में आयेंगे। तुम कल्प वृक्ष के नीचे बैठे हो। संगम पर फाउन्डेशन लगा रहे हो। कामधेनु के तुम बच्चे ही सबकी मनोकामना पूर्ण करने वाले हो। तुम भारत माता शक्ति सेना हो, इसमें पाण्डव भी हैं।

बच्चों को समझाया गया है कि याद एक बाप को ही करना है। देने वाला एक बाप है। भल तुम किसकी भी भक्ति करो, किसको भी याद करो परन्तु फल देने वाला फिर भी एक ही दाता है। वही सब कुछ देता है। भक्ति मार्ग में तुम नारायण की, कृष्ण की पूजा करते हो कृष्ण को झुलाते भी हो, प्यार करते हो। उनसे तुम क्या मांगेंगे। तुम चाहते हो हम उनकी राजधानी में जायें अथवा हमको कृष्ण जैसा बच्चा मिले। गाते हैं भजो राधे गोविन्द चलो वृन्दावन। जहाँ राज्य भाग्य करते थे वैकुण्ठ में। उस समय कोई भी अप्राप्ति नहीं होती। कृष्ण के राज्य को याद तो बहुत करते हैं। भारत में जब कृष्ण का राज्य था तो और कोई राज्य नहीं था। अब बाप आये हैं कहते हैं चलो कृष्णपुरी में, चलकर कृष्ण की पत्नि बनो या राधे का पति बनो। बात एक ही है। वहाँ विष नहीं मिलेगा। वह है ही सम्पूर्ण निर्विकारी दुनिया। अभी तुम स्टूडेन्ट हो, पढ़ रहे हो नर से नारायण, बेगर से प्रिन्स बनने के लिए। यहाँ भल कोई करोड़पति हैं, 50 करोड़ हैं लेकिन तुम्हारी भेंट में वह गरीब हैं क्योंकि यह सब उनका धन मिट्टी में मिल जाना है। कुछ भी साथ नहीं चलेगा। हाथ खाली जायेंगे। तुम तो हाथ भरतू करके जाते हो 21 जन्मों के लिए। अभी तुम राजयोग सीख रहे हो। फिर सतयुग में आकर राज्य करेंगे। तुम पुनर्जन्म लेते वर्णो में आते रहते हो। सतयुग में हैं 16 कला, त्रेता में हैं 14 कला। फिर भक्ति मार्ग शुरू होता है फिर इब्राहम, बुद्ध आते हैं। क्राइस्ट के 3 हजार वर्ष पहले देवी-देवताओं का राज्य था। अब सारा झाड़ जड़जड़ीभूत अवस्था को पाया हुआ है। अभी तुम कल्पवृक्ष के नीचे संगम पर बैठे हो, इसको कहा जाता है कल्प का संगम अथवा कलियुग और सतयुग का संगम। सतयुग के बाद त्रेता, फिर त्रेता के बाद द्वापर और कलियुग का संगम। कलियुग के बाद फिर सतयुग जरूर आयेगा। बीच में संगम जरूर चाहिए। कल्प के संगमयुगे बाप आते हैं। उन्होंने कल्प अक्षर बदल सिर्फ युगे-युगे लिख दिया है। बाप कहते हैं मैं निराकार परमपिता परमात्मा ज्ञान का सागर हूँ। भारत में ही शिव जयन्ती गाई जाती है। कृष्ण तो ज्ञान दे न सके। घोड़े गाड़ी में सिर्फ कृष्ण का ही चित्र दिखाया है परन्तु कृष्ण आयेगा कब? द्वापर में कैसे आयेगा। तुम तो कहते हो स्वर्ग में कृष्ण के साथ मिलेंगे। बाप कहते हैं भक्ति में कृष्ण का साक्षात्कार मैं तुमको कराता हूँ। कृष्ण जयन्ती पर बहुत प्रेम से उनको झूला झुलाते हैं। पूजा करते हैं। उनको जैसे सच-सच कृष्ण दिखाई पड़ता है। साक्षात्कार होगा, कृष्ण का चित्र होगा तो उनको भी उठाकर भाकी पहनेंगे। भक्ति मार्ग में मैं ही मदद करता हूँ। दाता मैं हूँ। लक्ष्मी की पूजा करते हैं, अब वह तो है ही पत्थर की मूर्ति। वह क्या देगी? देना फिर भी मुझे ही पड़ता है। साक्षात्कार भी मैं ही कराता हूँ। यह भी ड्रामा में नूँध है। जैसे कहते हैं परमपिता परमात्मा के हुक्म से पत्ता-पत्ता हिलता है क्योंकि वह समझते हैं पत्ते-पत्ते में परमात्मा है। क्या परमात्मा बैठ पत्ते को हुक्म करेगा क्या! यह तो ड्रामा बना हुआ है। अभी तुम जैसी एक्ट कर रहे हो, वह कल्प के बाद भी तुम ऐसे ही करेंगे। जो कुछ शूटिंग में शूट हुआ वही चलेगा। उसमें कुछ फ़र्क नहीं पड़ सकता। ड्रामा को भी अच्छी रीति समझना है। बाप समझाते हैं बेहद का सुख कल्प-कल्प भारत को ही मिलता है। परन्तु जो ब्राह्मण बनते हैं वही वर्णों में आते हैं। 84 जन्म लेते हैं। फिर औरों के जन्म नम्बरवार कम होते जायेंगे। कितने छोटे-छोटे मठ पंथ हैं। भल उन्हों की महिमा है – क्योंकि पवित्र हैं। स्वर्ग का रचयिता तो है बाप, और कोई मनुष्य थोड़ेही स्वर्ग रचेगा। फिर राजयोग भी कोई सिखलावे?

अब तुम कृष्णपुरी में जाने के लिए राजयोग सीख रहे हो। पुरुषार्थ हमेशा ऊंचा करना चाहिए। तुम कहते हो कृष्ण जैसा बच्चा मिले, कृष्ण जैसा पति मिले। कृष्ण ही नारायण बनता है फिर कृष्ण जैसा क्यों कहते! तुमको तो कहना चाहिए नारायण जैसा पति मिले। नारद ने भी कहा हम लक्ष्मी को वरें। राधे के लिए नहीं कहा। बाप समझाते हैं तुमको कृष्णपुरी चलना है तो खूब पुरुषार्थ करो, वह है कृष्ण का दैवी कुल। कंस का है आसुरी कुल। तुम अभी हो संगम पर। शूद्र सम्‍प्रदाय तो ब्राह्मण ब्राह्मणी कहला न सकें। जो ब्राह्मण न कहलायें वह शूद्र वर्ण के हैं। भारत की ही बात है। भारत ही स्वर्ग बनता फिर भारत ही नर्क बन जाता है। लक्ष्मी-नारायण को भी 84 जन्म ले रजो तमो में आना ही है। जबकि वह भी चक्र में आते हैं तो बुद्ध आदि वापिस निर्वाणधाम में कैसे जा सकते। कोई तो कह देते कृष्ण सर्वव्यापी है, जिधर देखो कृष्ण ही कृष्ण है। राम के भक्त कहेंगे राम सर्वव्यापी है। वह कृष्ण को नहीं मानेंगे। बाबा के पास एक राधापंथी आया था कहता था राधे ही राधे… राधे हाजिराहजूर है। तेरे में मेरे में राधे ही राधे है। गणेश का पुजारी कहेगा तेरे में मेरे में गणेश ही गणेश है। क्रिश्चियन फिर कहते क्राइस्ट गॉड का सन (बच्चा) है। अरे क्राइस्ट सन था तो तुम किसके सन (बच्चे) हो? अनेक मत मतान्तर हैं। रास्ता कोई को भी मिलता नहीं। सिर्फ माथा टेकते, भटकते रहते हैं। मुक्ति और जीवनमुक्ति भगवान ही देंगे ना! उनसे हम क्या मांगें! कोई को पता ही नहीं। बाप को न जानने कारण निधनके बन गये हैं। फिर धनी आकर धणका बनाते हैं। मनुष्य कितने धक्के खाते हैं, समझते हैं भक्ति से भगवान मिलेगा। बाप कहते हैं मैं आता ही हूँ अपने समय पर। भल कोई कितना भी पुकारे परन्तु मैं आता हूँ संगम पर। एक ही बार भारत को स्वर्ग बनाए सबको शान्ति में भेज देता हूँ। फिर नम्बरवार अपने-अपने समय पर आते हैं। जो देवी-देवता थे वह भी सब आत्मायें बैठी हुई हैं। फिर से अपना राज्य भाग्य ले रहे हैं। अभी तो देवी-देवता धर्म ही नहीं है। सब अपने को हिन्दू कहलाने लग पड़े हैं। ड्रामा अनुसार फिर भी ऐसा होगा। जो कुछ हो चुका है वह फिर रिपीट होगा। फिर ऐसे हम चक्र में आयेंगे, इतने जन्म लेंगे। हिसाब निकालो। हर एक धर्म वाले पीछे कितने जन्म लेंगे? झाड़ पर समझाना बहुत सहज है। आपेही मनुष्यों को टच होगा कि कोई की प्रेरणा से यह विनाश ज्वाला की तैयारी हो रही है। यूरोपवासी यादव बाम्ब्स बनाते हैं। वह भी कहते हैं हमको कोई प्रेरणा देने वाला है। हम जानते हैं कि इससे हम अपने ही कुल का विनाश करते हैं। न चाहते हुए भी यह मौत का सामान बनाते हैं। धीरे-धीरे प्रभाव पड़ेगा। धीरे धीरे झाड़ बढ़ता है ना। कोई कांटे से कली, कोई फूल बनते हैं। कोई कोई फूलों को भी तूफान लगता है तो मुरझा जाते हैं। बाबा ने कल्प-कल्प कहा था आश्चर्यवत सुनन्ती, कथन्ती… अब फिर बाबा खुद कह रहे हैं, हमारे पास आवन्ती, ब्रह्माकुमार कुमारी बनन्ती, कथन्ती फिर भी अहो मम माया अच्छे-अच्छे बच्चों को खावन्ती (खा गई) आगे चलकर देखना कैसे अच्छे-अच्छे बच्चे भी खत्म हो जाते हैं।

जो पास्ट हो गया सो फिर अब प्रेजन्ट में बाप समझाते हैं। फिर भक्ति मार्ग में शास्त्र बनायेंगे। यह ड्रामा ऐसा बना हुआ है। अब बाप आकर ब्रह्मा द्वारा सभी वेदों शास्त्रों का सार समझा रहे हैं। जो धर्म स्थापन करते हैं उनके नाम पर ही शास्त्र बनाते हैं। उसको धर्म शास्त्र कहा जाता है। देवी-देवता धर्म का शास्त्र एक ही गीता है। हरेक धर्म का एक शास्त्र होना चाहिए। श्रीमत भगवद गीता ठीक है। भगवानुवाच है। भगवान ने आदि सनातन देवी-देवता धर्म की स्थापना की। यह है सबसे प्राचीन धर्म। हरेक धर्म का अपना-अपना शास्त्र है और पढ़ते रहते हैं। अभी तुम देवता बनते हो लेकिन तुमको शास्त्र पढ़ने की दरकार नहीं, वहाँ शास्त्र होता ही नहीं। यह सब खत्म हो जायेंगे फिर गीता कहाँ से आई? द्वापर में बैठ मनुष्यों ने बनाई, जो गीता अभी है फिर भी वही गीता खोजकर निकालेंगे। जैसे कल्प पहले बनाई है वैसे फिर यह शास्त्र बनेंगे। भक्ति मार्ग की सामग्री बनती ही जायेगी।

बाप समझाते हैं सिकीलधे बच्चे मुझ बाप की श्रीमत पर चल श्रेष्ठ बनो। तुम अभी संगमयुग पर राजयोग सीख रहे हो, जबकि कलियुग को सतयुग बनाना है। उन्होंने कल्प की आयु लम्बी बताए सभी को घोर अन्धियारे में डाल दिया है। मनुष्य तो मूंझे हुए हैं, ड्रामा अनुसार तुम बच्चों को ही बेहद के बाप से वर्सा लेना है। बाबा ने बहुत युक्तियां बताई हैं सिर्फ बाबा को याद करो, चार्ट रखो। भोजन बनाने समय भी याद करो। भोजन बनाने समय पति, बच्चा याद पड़ता है तो शिवबाबा क्यों नही पड़ सकता! यह तुम्हारा काम है। बाबा बुद्धि की सीढ़ी देते हैं फिर चढ़ो न चढ़ो, यह है तुम्हारा काम। जितना याद करेंगे उतनी सीढ़ी चढ़ते जायेंगे। नहीं तो इतना सुख नहीं मिलेगा। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे अर्थात् 5 हजार वर्ष के बाद फिर आए मिले हुए बच्चों को नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निंग। मीठे-मीठे रूहानी बाप का रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) कृष्णपुरी में चलने के लिए पुरुषार्थ बहुत अच्छा करना है। शूद्र पन के सस्कारों को परिवर्तन कर पक्का ब्राह्मण बनना है।

2) बुद्धिबल से याद की सीढ़ी पर चढ़ना है। सीढ़ी चढ़ने से ही अपार सुख का अनुभव होगा।

वरदान:- हर आत्मा को सेकण्ड में मुक्ति-जीवनमुक्ति का अधिकार दिलाने वाले मास्टर सतगुरू भव 
अभी तक मास्टर दाता वा मास्टर शिक्षक का पार्ट बजा रहे हो। लेकिन अभी सतगुरू के बच्चे बन गति और सद्गति के वरदाता का पार्ट बजाना है। मास्टर सतगुरू अर्थात् सम्पूर्ण फालो करने वाले। सतगुरू के वचन पर सदा सम्पूर्ण रीति चलने वाले। ऐसे मास्टर सतगुरू ही सेकण्ड में नज़र से निहाल करने अर्थात् मुक्ति जीवनमुक्ति का अधिकार दिलाने की सेवा कर सकते हैं।
स्लोगन:- आज्ञाकारी बनो तो बापदादा के दिल की दुआयें प्राप्त होती रहेंगी।

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

Font Resize