brahma kumaris murli 22 october 2017

TODAY MURLI 22 OCTOBER 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 22 OCTOBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 21 October 2017 :- Click Here

22/10/17
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
18/02/83

Methods to maintain constant zeal and enthusiasm.

Today, the Father, the Comforter of the hearts of all the children, has come amidst all of you children to give you the response of the sound of your hearts and all of your sweet conversations. From amrit vela, BapDada continues to listen to the variety of significant sounds of all the children everywhere. Throughout the day, how many types of sounds of how many children must He hear? Every child has a variety of sounds at different times. Who listens to the naturalsounds the most? Anything that is natural is always loved very much. Having heard all the different sounds of the children, BapDada will tell you children the main points in essence.

All of you children are moving along very well, whilst paying attention to remaining stable in the stage of being lost in love, according to your capacity, and to becoming an embodiment of the experience of one who is lost in love. Each of you has the one zeal and enthusiasm in your heart to become equal to the Father, a jewel who is close to the Father and who constantly gives the proof of being a worthy child. This zeal and enthusiasm is the basis of a flying stage for all. This enthusiasm will finish the many obstacles that may come and will also help you a great deal in becoming complete. The pure and determined thought for this enthusiasm becomes an especially powerful weapon to help you become victorious. So, constantly keep this zeal and enthusiasm and this method for attaining the flying stage in your heart. Never allow your zeal and enthusiasm to decrease. The enthusiasm is that you definitely will become equal to the Father and full of all powers, all virtues and all treasures of knowledge, because even in the previous cycle you became an elevated soul. This is not your fortune for just one cycle, but this line of fortune has been drawn by the Bestower of Fortune many times. There is natural zeal on the basis of this enthusiasm. What is the enthusiasm? “Wah my fortune!” By becoming an embodiment of the awareness of the different titles that BapDada has given you, you will have constant enthusiasm, that is, you will have constant happiness. The greatest aspect of your enthusiasm is that you searched for the Father for many births, but it is at this time that BapDada found you. You were hidden behind a variety of curtains. Even though you were hiding behind those curtains, He found you, did He not? You became separated and went so far away. Having left the land of Bharat, look where you went! You went behind so many curtains of religion, action, land, customs and systems, etc. So, you constantly maintain this enthusiasm and happiness, do you not? Did the Father make you belong to Him or did you make the Father belong to you? It was the Father who sent you the message first, was it not, even though some of you took a certain length of time to recognise Him and others took another length of time? The souls who constantly maintain zeal and enthusiasm and the children who keep one Strength and one Support constantly experience courage and receive the Father’s help. The courage you have is: It has to happen! With this courage, you automatically become worthy of receiving help, Maya, too, loses all courage in front of your thoughts of courage. To have thoughts such as, “I don’t know whether it will happen or not, whether I will be able to do this or not,” is to invoke Maya. Since you invoke Maya, why would she not come? To have this thought means to show the path to Maya. Since you open the path for Maya, why would she not come? When she has been loving you for half the cycle, why would she not come when you show her the path? Therefore, become a courageous soul who constantly maintains zeal and enthusiasm. By having a relationship with the Father, the Lawmaker and the Bestower of Blessings, you have become the children and therefore the masters. You have become the masters of all the treasures in which nothing is lacking. If such masters don’t maintain enthusiasm, then who would? Let your head always be aware of this slogan: “I was, I am and I will be.” Do you remember this? This awareness has brought you here. May you constantly have this awareness! Achcha.

Today, Baba has especially come to meet the double foreign children, the ones who are the furthest away and have come from far away. The children of Bharat constantly have all rights, anyway. Nevertheless, you become chancellors and give others a chance and this is why the tradition of being great donors has continued in Bharat even until today. All of you have given your co-operation in your own way for the great sacrificial fire of world service. Each of you has played the best part of all with a lot of love. With everyone’s single thought, many souls received the message to come close to the Father. Now, the ignited lights will continue to awaken many others with this message. You double foreign children made your determined thought practical. The children from Bharat also brought many special souls close who will then spread the name and enable others to receive the message. You also gave love to the media people and brought them close. The power of the pen and the power of speech will both continue to ignite the lamp of the message together. Congratulations for this to both the double-foreign children and the children who live close in Bharat! The double-foreign children brought special souls who have become instruments for spreading a powerful sound and special congratulations for that. The Father is constantly the children’s Server. The children are first and the Father is the Backbone. It is the children who come onto the field. It is the efforts of the children and the love of the Father. Achcha.

To those who constantly maintain zeal and enthusiasm, to the courageous children who are constantly worthy of receiving BapDada’s help, to those who are constantly lost in love for service, to those who enable other souls to receive all the powers that they themselves have received, to those who have all rights to the Father and who are the children and therefore the masters, BapDada’s special love-filled remembrance and namaste.

BapDada meeting Dadi Janki: You have received the blessing of being equal to the Father, have you not? You do double service. Very good success of service of the mind of this child can be seen. You are the practical proof of an embodiment of success. Along with the Father’s praise, everyone also sings praise of the child. You tour around everywhere with the Father. You are a ruler of the globe. You are playing a very good practical part of being a conqueror of matter. Now, a very good part of serving through thoughts is also being played. The practical proof is good. Many important people will now come. The sound from abroad will reach those in this land. All the double-foreign children have shown very good practical proof of zeal and enthusiasm for service. Therefore, on behalf of everyone, many congratulations to you. You have brought a good mike. You served whilst being an embodiment of remembrance and this is why there is success. You have prepared a good garden. Allah is looking at His garden.

BapDada meeting Jayantiben: You have been lucky and lovely from birth, anyway. Your birth has also been through luck. Wherever you go, that place will become lucky. See, the land of London has become lucky, has it not? What gift do you give wherever you go? You go and share the fortune that you have received from the Bestower of Fortune. Do you know with which vision everyone sees you? You are a star of fortune! Wherever a star is sparkling, there is splendour there. You do experience this, do you not? It is the steps of the child and the Father’s help. You are following the Father and you have also followedyour companion very well (Dadi Janki). You are running a very good race of becoming equal. Achcha.

BapDada meeting Sister Gayatri: Gayatri is no less. You have adopted a very good method of service. Whoever becomes an instrument to make souls come to Madhuban also continues to be showered with flowers of pure love by BapDada and the family. Achcha. With everyone’s co-operation, success is visible even as far as Madhuban. Baba is not mentioning anyone’s name, but all of you should understand that Baba is speaking to you. No one is any less. Always think first that you are ahead in service. All you, young and old, have used your body, mind, wealth, time and thoughts for service.

BapDada meeting Murlibhai and Rajniben (parents of Jayantiben): The string of BapDada’s love has pulled you. What do you constantly remember now? What do you remember in every breath and at every second? It is always “Baba” that emerges from your hearts. You experience happiness in the mind through the experience of remembrance. Now, whatever you think with that concentration that will become the way to move forward. Simply concentrate on one Strength and one Support and then think. When there is one Strength and one Support in your faith, whatever happens will then be good. BapDada is constantly with you and will always be with you. You are courageous, are you not? Seeing the children’s courage and faith, BapDada is congratulating you for your faith and courage. You are emperors, children of the Carefree Emperor, are you not? The destiny of the drama has made you into jewels who are close. You have also received very good company. The company of the corporeal is also powerful. The company for the soul is the Father, in any case. You have a double lift and this is why you are carefree emperors. You became charitable souls at the right time and performed an act of charity. This is why you are constantly worthy of BapDada’s co-operation. You have claimed a right to so much charity. You became instruments for a charitable place. The child’s fortune has been created, in any case. The treasure of charity has been accumulated. You are master Murli, the Murli of Murlidhar. You constantly have the Father’s hand in your hand. Constantly stay in remembrance and continue to take power. The Father’s treasures are your treasures. Continue to move along whilst considering yourself to have all rights. BapDada considers you to be a child of the home and therefore a master of the home. Whilst interacting with everyone, let everything be done for God. Let there be that company even in your interaction with everyone. Achcha.

BapDada meeting the UK group: Do all of you consider yourselves those who have a right to self-sovereignty and thus the ones with a right to world sovereignty? London is a capital. So, whilst living in that capital you also constantly remember your kingdom, do you not? Do you remember your palaces when you see the palace of the Queen? Do you know how beautiful your palaces will be? Your kingdom will be a kingdom that hasn’t existed up to now. Nor will there ever be a kingdom like yours. Do you have such intoxication? Although everything will be destroyed now, you will come to Bharat, will you not? This is clearly understood, is it not? Wherever Brahmins have done a great deal of service, that will definitely be a picnic place. The population will be small and so there won’t be a need for such expansion. Achcha. Always remember your home, your kingdom, your Father and your duty.

Question: What is the way to move constantly forward?

Answer: Knowledge and service. The children who imbibe knowledge very well and who are always interested in doing service continue to move constantly forward. The Father who has a thousand arms is with you. So, constantly keep the Companion with you and continue to move forward.

Question: What type of service happens automatically through those who are surrendered whilst living at home with their families?

Answer: With the elevated co-operation of such souls, the tree of service continues to bear fruit. Everyone’s co-operation becomes water for the tree. When a tree receives water, it bears very good fruit. Similarly, with the co-operation of the elevated co-operative souls, the tree becomes fruitful. Therefore, you are the children who are seated on BapDada’s heart-throne, those who are constantly concerned about doing service and who are surrendered whilst living at home, are you not? Achcha. Om shanti.

Blessing: May you be an embodiment of Godly success by finishing all waste in an accurate way and thereby claim number one.
Just as darkness is automatically dispelled by light, in the same way, by using your time, thoughts and breath in a worthwhile way, wastage automatically finishes because to use something in a worthwhile way means to use it for something elevated. Those who use everything for something elevated gain control over all wastage and claim number one. They find a way to stop all waste. This is Godly success. Those with occult powers show temporary miracles, whereas you attain Godly success with an accurate method.
Slogan: Those who uplift those who defame them are truly knowledgeable souls.

 

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_5]

Read Murli 20 October 2017 :- Click Here

BRAHMA KUMARIS MURLI 22 OCTOBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 22 October 2017

October 2017 Bk Murli :- Click Here
To Read Murli 21 October 2017 :- Click Here
[Web-Dorado_Zoom]
22/10/17
मधुबन
“अव्यक्त-बापदाद”‘
ओम् शान्ति
18-02-83

सदा उमंग-उत्साह में रहने की युक्तियाँ

आज सर्व बच्चों के दिलाराम बाप, बच्चों के दिल की आवाज, दिल की मीठी-मीठी बातों का रेसपाण्ड देने के लिए बच्चों के बीच आये हैं। अमृतवेले से लेकर बापदादा चारों ओर के बच्चों के भिन्न-भिन्न राज़ भरे हुए साज़ सुनते रहते हैं। सारे दिन में कितने बच्चों के और कितने प्रकार के साज़ सुनते होंगे। हरेक बच्चे के भी समय-समय के भिन्न-भिन्न साज़ होते हैं। सबसे ज्यादा नैचुरल साज़ कौन सुनता है? नैचुरल वस्तु सदा प्रिय लगती है। तो सब बच्चों के भिन्न-भिन्न साज़ सुनते हुए बापदादा बच्चों को सार में मुख्य बातें सुनाते हैं।

सभी बच्चे यथाशक्ति लगन में मगन अवस्था में स्थित होने के लिए वा मगन स्वरूप के अनुभवी मूर्त बनने के लिए अटेन्शन बहुत अच्छा रखते चल रहे हैं। सबकी दिल का एक ही उमंग-उत्साह है कि मैं बाप समान समीप रत्न बन सदा सपूत बच्चे का सबूत दूँ। यह उमंग-उत्साह सर्व के उड़ती कला का आधार है। यह उमंग कई प्रकार के आने वाले विघ्नों को समाप्त कर सम्पन्न बनने में बहुत सहयोग देता है। यह उमंग का शुद्ध और दृढ़ संकल्प विजयी बनाने में विशेष शक्तिशाली शस्त्र बन जाता है इसलिए सदा दिल में उमंग-उत्साह को वा इस उड़ती कला के साधन को कायम रखना। कभी उमंग-उत्साह को कम नहीं करना। उमंग है – मुझे बाप समान सर्व शक्तियों, सर्व गुणों, सर्व ज्ञान के खजानों से सम्पन्न होना ही है – क्योंकि कल्प पहले भी मैं श्रेष्ठ आत्मा बना था। एक कल्प की तकदीर नहीं लेकिन अनेक बार के तकदीर की लकीर भाग्य विधाता द्वारा खींची हुई है। इसी उमंग के आधार पर उत्साह स्वत: होता है। उत्साह क्या होता? ‘वाह मेरा भाग्य’। जो भी बापदादा ने भिन्न-भिन्न टाइटिल दिये हैं, उसी स्मृति स्वरूप में रहने से उत्साह अर्थात् खुशी स्वत: ही और सदा ही रहती है। सबसे बड़े ते बड़े उत्साह की बात है कि अनेक जन्म आपने बाप को ढूंढा लेकिन इस समय बापदादा ने आप लोगों को ढूंढा। भिन्न-भिन्न पर्दों के अन्दर छिपे हुए थे। उन पर्दों के अन्दर से भी ढूंढ लिया ना? बिछुड़कर कितने दूर चले गये। भारत देश को छोड़कर कहाँ चले गये! धर्म, कर्म, देश, रीति-रसम, कितने पर्दों के अन्दर आ गये। तो सदा इसी उत्साह और खुशी में रहते हो ना! बाप ने अपना बनाया या आपने बाप को अपना बनाया? पहले मैसेज तो बाप ने भेजा ना! चाहे पहचानने में कोई ने कितना समय, कोई ने कितना समय लगाया। तो सदा उमंग और उत्साह में रहने वाली आत्माओं को एक बल एक भरोसे में रहने वाले बच्चों को, हिम्मते बच्चे मददे बाप का सदा ही अनुभव होता रहता है। ”होना ही है” यह हिम्मत। इसी हिम्मत से मदद के पात्र स्वत: ही बन जाते हैं। और इसी हिम्मत के संकल्प के आगे माया हिम्मतहीन बन जाती है। पता नहीं, होगा या नहीं होगा, मैं कर सकूंगा या नहीं, यह संकल्प करना, माया का आह्वान करना है। जब आह्वान किया तो माया क्यों नहीं आयेगी। यह संकल्प आना अर्थात् माया को रास्ता देना। जब आप रास्ता ही खोल देते हो तो क्यों नहीं आयेगी। आधाकल्प की प्रीत रखने वाली रास्ता मिलते कैसे नहीं आयेगी इसलिए सदा उमंग-उत्साह में रहने वाली हिम्मतवान आत्मा बनो। विधाता और वरदाता बाप के सम्बन्ध से बालक सो मालिक बन गए। सर्व खजानों के मालिक, जिस खजाने में अप्राप्त कोई वस्तु नहीं। ऐसे मालिक उमंग-उत्साह में नहीं रहेंगे तो कौन रहेगा। यह स्लोगन सदा मस्तक में स्मृति रूप में रहे – ‘हम ही थे, हम ही हैं और हम ही रहेंगे।’ याद है ना। इसी स्मृति ने यहाँ तक लाया है। सदा इसी स्मृति भव। अच्छा !

आज तो डबल विदेशी, सबसे ज्यादा में ज्यादा दूरदेशवासी, दूर से आने वाले बच्चों से विशेष मिलने के लिए आये हैं। वैसे तो भारत के बच्चे भी सदा अधिकारी हैं ही। फिर भी चान्सलर बन चान्स देते हैं इसलिए भारत में महादानी बनने की रीति-रसम अब तक भी चलती है। सबने अपने-अपने रूप से विश्व सेवा के महायज्ञ में सहयोग दिया। हरेक ने बहुत लगन से अच्छे ते अच्छा पार्ट बजाया। सर्व के एक संकल्प द्वारा विश्व की अनेक आत्माओं को बाप के समीप आने का सन्देश मिला। अभी इसी सन्देश द्वारा जगी हुई ज्योति अनेकों को जगाती रहेगी। डबल विदेशी बच्चों ने अपने दृढ़ संकल्प को साकार में लाया। भारतवासी बच्चों ने भी अनेक नाम फैलाने वाले, सन्देश पहुँचाने वाले विशेष आत्माओं को समीप लाया। कलमधारियों को भी स्नेह ओर सम्पर्क में समीप लाया। कलम की शक्ति और मुख की शक्ति दोनों ही मिलकर सन्देश की ज्योति जगाते रहेंगे। इसके लिए डबल विदेशी बच्चों को और देश में समीप रहने वाले बच्चों को, दोनों को बधाई। डबल विदेशी बच्चों ने पावरफुल आवाज़ फैलाने के निमित्त बनी हुई विशेष आत्माओं को लाया उसके लिए भी विशेष बधाई हो। बाप तो सदा बच्चों के सेवाधारी हैं। पहले बच्चे। बाप तो बैकबोन है ना। सामने मैदान पर तो बच्चे ही आते हैं। मेहनत बच्चों की मुहब्बत बाप की। अच्छा।

ऐसे सदा उमंग-उत्साह में रहने वाले, सदा बापदादा की मदद के पात्र, हिम्मतवान बच्चे, सदा सेवा की लगन में मगन रहने वाले, सदा स्वंय को प्राप्त हुई शक्तियों द्वारा सर्व आत्माओं को शक्तियों की प्राप्ति कराने वाले, ऐसे बाप के सदा अधिकारी वा बालक सो मालिक बच्चों को बापदादा का विशेष स्नेह सम्पन्न यादप्यार और नमस्ते।

जानकी दादी से:- बाप समान भव की वरदानी हो ना। डबल सेवा करती हो। बच्ची की मंसा सेवा की सफलता बहुत अच्छी दिखाई दे रही है। सफलता स्वरूप का प्रत्यक्ष सबूत हो। सभी बाप के साथ-साथ बच्ची के भी गुण गाते हैं। बाप साथ-साथ चक्कर लगाते हैं ना। चक्रवर्ती राजा हो। प्रकृतिजीत का अच्छा ही प्रत्यक्ष पार्ट बजा रही हो। अब तो संकल्प द्वारा भी सेवा का पार्ट अच्छा चल रहा है। प्रैक्टिकल सबूत अच्छा है। अभी तो बहुत बड़े-बड़े आयेंगे। विदेश का आवाज़ देश वालों तक पहुँचेगा। सभी विदेशी बच्चों ने सर्विस के उमंग-उत्साह का अच्छा ही प्रैक्टिकल सबूत दिखाया है इसीलिए सभी के तरफ से आपको बहुत-बहुत बधाई हो। अच्छा माइक लाया, याद का स्वरूप बनकर सेवा की है, इसलिए सफलता है। अच्छा बगीचा तैयार किया है। अल्लाह अपने बगीचे को देख रहे हैं।

जयन्ती बहन से:- जन्म से लकी और लवली तो हो ही। जन्म ही लक से हुआ है। जहाँ भी जायेंगी वह स्थान भी लकी हो जायेगा। देखो लण्डन की धरती लकी हो गई ना। जहाँ भी चक्कर लगाती हो तो क्या सौगात देकर आती हो? जो भाग्य विधाता द्वारा भाग्य मिला है वह भाग्य बाँटकर आती हो। सभी आपको किस नज़र से देखते हैं, मालूम है? भाग्य का सितारा हो। जहाँ सितारा चमकता है वहाँ जगमग हो जाता है। ऐसे अनुभव करती हो ना। कदम बच्ची का और मदद बाप की। फालो फादर तो हो ही लेकिन फालो साथी (जानकी दादी को) भी ठीक किया है। यह भी समान बनने की रेस अच्छी कर रही है। अच्छा !

गायत्री बहन (न्यूयार्क):- गायत्री भी कम नहीं, बहुत अच्छा सर्विस का साधन अपनाया है। जो भी निमित्त बन करके आत्मायें मधुबन तक पहुँचाई, तो निमित्त बनने वालों को भी बापदादा और परिवार की शुभ स्नेह के पुष्प की वर्षा होती रहती है। जितना ही शैली अच्छी आत्मा है, उतना ही यह जो बच्चा आया (राबर्ट मूलरी) यह भी बहुत अच्छा सेवा के क्षेत्र में सहयोगी आत्मा है। सच्ची दिल पर साहेब राजी। साफ दिल वाला है इसलिए बाप के स्नेह को, बाप की शक्ति को सहज कैच कर सका। उमंग-उत्साह और संकल्प बहुत अच्छा है। सेवा में अच्छा जम्प लगायेगा। बापदादा भी निमित्त बने हुए बच्चों को देख हर्षित होते हैं। उनको कहना कि सेवा में उड़ती कला वाले फरिश्ते स्वरूप हो और ऐसे ही अनुभव करते रहना। अच्छा – सभी के सहयोग से सफलता मधुबन तक दिखाई दे रही है। नाम किसका भी नहीं ले रहे हैं। लेकिन सब समझना कि हमें बाबा कह रहे हैं। कोई भी कम नहीं है। समझो पहले हम सेवा में आगे हैं। छोटे बड़े सभी ने तन-मन-धन-समय संकल्प सब कुछ सेवा में लगाया है।

मुरली भाई और रजनी बहन से: – बापदादा के स्नेह की डोर ने खींच लाया ना। सदा अभी क्या याद रहता है? श्वासों श्वांस सेकण्ड-सेकण्ड क्या याद रहता? सदा दिल से बाबा ही निकलता है ना। मन की खुशी, याद के अनुभव द्वारा अनुभव की। अभी एकाग्र हो जो सोचेंगे वह सब आगे बढ़ने का साधन हो जायेगा। सिर्फ एक बल एक भरोसे से एकाग्र हो करके सोचो। निश्चय में एक बल और एक भरोसा, तो जो कुछ होगा वह अच्छा ही होगा। बापदादा सदा साथ हैं और सदा रहेंगे। बहादुर हो ना। बाप दादा बच्चे की हिम्मत और निश्चय को देखके निश्चय और हिम्मत पर बधाई दे रहे हैं। बेफिकर बादशाह के बच्चे बादशाह हो ना। ड्रामा की भावी ने समीप रत्न तो बना ही दिया है। साथ भी बहुत अच्छा मिला है। साकार का साथ भी शक्तिशाली है। आत्मा का साथ तो है ही बाप। डबल लिफ्ट है इसलिए बेफिकर बादशाह। समय पर पुण्यात्मा बन पुण्य का कार्य किया है। इसलिए बापदादा के सहयोग के सदा पात्र हो। कितने पुण्य के अधिकारी बने। पुण्य-स्थान के निमित्त बने। किसी भी रीति से बच्चे का भाग्य बना ही दिया ना। पुण्य की पूँजी इक्टठी है। मुरलीधर का मुरली, मास्टर मुरली है। बाप का हाथ सदा हाथ में है। सदा याद करते और शक्ति लेते रहो।

बाप का खजाना सो आपका, अधिकारी समझकर चलो। बापदादा तो घर का बालक सो घर का मालिक समझते हैं। परमार्थ और व्यवहार दोनों साथ-साथ हों। व्यवहार में भी साथ रहे। अच्छा।

यू.के. ग्रुप से:- सभी अपने को स्वराज्य अधिकारी सो विश्व राज्य अधिकारी समझते हो? वैसे भी लण्डन राजधानी है ना। तो राजधानी में रहते हुए अपना राज्य सदा याद रहता है ना। रानी का महल देखते अपने महल याद आते हैं। आपके महल कितने सुन्दर होंगे, जानते हो ना। ऐसा आपका राज्य है जो अब तक कोई ऐसा राज्य न हुआ है, न होगा। ऐसा नशा है? भल अभी तो सब विनाश हो जायेगा। लेकिन आप तो भारत में आ जायेंगे ना। यह तो पक्का है ना। जहाँ भी ब्राहमण आत्माओं ने इतनी सेवा की है वह पिकनिक स्थान जरूर रहेंगे। आदमशुमारी कम होगी, इतने विस्तार की आवश्यकता नहीं होगी। अच्छा – अपना घर, अपना राज्य, अपना बाप, अपना कर्तव्य सब याद रहे।

प्रश्न: – सदा आगे बढ़ने का साधन क्या है?

उत्तर:- नॉलेज और सेवा। जो बच्चे नॉलेज को अच्छी रीति धारण करते हैं और सेवा की सदा रूचि बनी रहती है वह आगे बढ़ते रहते हैं। हजार भुजा वाला बाप आपके साथ है, इसलिए साथी को सदा साथ रखते आगे बढ़ते रहो।

प्रश्न:- प्रवृत्ति में जो सदा समर्पित होकर रहते हैं – उनके द्वारा कौन सी सेवा स्वत: हो जाती है?

उत्तर:- ऐसी आत्माओं के श्रेष्ठ सहयोग से सेवा का वृक्ष फलीभूत हो जाता है। सबका सहयोग ही वृक्ष का पानी बन जाता है। जैसे वृक्ष को पानी मिले तो वृक्ष से फल कितना अच्छा निकलता है, ऐसे श्रेष्ठ सहयोगी आत्माओं के सहयोग से वृक्ष फलीभूत हो जाता है। तो ऐसे बापदादा के दिलतख्तनशीन सेवा की धुन में सदा रहने वाले, प्रवृत्ति में भी समर्पित रहने वाले बच्चे हो ना। अच्छा। ओम् शान्ति।

वरदान:- यथार्थ विधि द्वारा व्यर्थ को समाप्त कर नम्बरवन लेने वाले परमात्म सिद्धि स्वरूप भव 
जैसे रोशनी से अंधकार स्वत: खत्म हो जाता है। ऐसे समय, संकल्प, श्वांस को सफल करने से व्यर्थ स्वत: समाप्त हो जाता है, क्योंकि सफल करने का अर्थ है श्रेष्ठ तरफ लगाना। तो श्रेष्ठ तरफ लगाने वाले व्यर्थ पर विन कर नम्बरवन ले लेते हैं। उन्हें व्यर्थ को स्टॉप करने की सिद्धि प्राप्त हो जाती है। यही परमात्म सिद्धि है। वह रिद्धि सिद्धि वाले अल्पकाल का चमत्कार दिखाते हैं और आप यथार्थ विधि द्वारा परमात्म सिद्धि को प्राप्त करते हो।
स्लोगन:- अपकारी पर भी उपकार करने वाला ही ज्ञानी तू आत्मा है।

[wp_ad_camp_5]

To Read Murli 20 October 2017 :- Click Here

Font Resize