brahma kumaris murli 20 october 2017

TODAY MURLI 20 OCTOBER 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 20 OCTOBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 19 October 2017 :- Click Here

20/10/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, at this time, your lives are like a diamond because you have become the children of God. God Himself is teaching you. You become far-sighted and those with broad intellects.
Question: By making which effort are you children becoming far-sighted (durandeshi) and those with broad intellects?
Answer: By having remembrance of the Father you become far-sighted and by studying you become those with broad intellects. To be far-sighted means to remember the Father who lives in the faraway land. The meaning of “Manmanabhav” is to be far-sighted. To have a broad intellect means that your intellect has the knowledge of the beginning, the middle and the end of the world. You first have to be far-sighted and then those with broad intellects.
Song: Our pilgrimage is unique.

Om shanti. You children heard the song of how our pilgrimage is unique. Our pilgrimage place is very far away and this is why you children are told: May you be far-sighted! The Resident of the faraway land then says: May you have a broad intellect. Everyone’s intellect is degraded at this time. Maya has made your intellects degraded. So, the intellects of you children are far-sighted, that is, you have remembrance of the One who resides far away. To have a broad intellect means that your intellect has the knowledge of the beginning, the middle and the end. All others have narrow intellects, that is, they simply speak of God; they don’t know Him. Here, there are no great souls. The Father comes and makes you far-sighted, but children are not that far-sighted. Although they have a lot of knowledge, they are not that far-sighted, that is, they stay in remembrance of the Father very little. Sages make spiritual endeavour. Kings, queens and all the people of the whole world are impure at this time. Although they have given the name ‘mahatma’ (great soul), no one is a great soul. Some say that Krishna is a great soul. That at least is right because that is the elevated world. This is the corrupt world. As are the king and queen, so the people. However, at this time, there are no kings; it is the rule of people over people. The Father says: You cannot meet Me by studying the scriptures, nor can you go into liberation until you come to know Me from Me, until I come at the end of the cycle. People remember Krishna, but he belongs to this land; he is not far-sighted. Therefore, to remember the Father means to be far-sighted. The meaning of “Manmanabhav” is to be far-sighted. If you don’t know the Father, how can you receive the inheritance from Him? If He doesn’t come, how can you find the path? This is something to be understood. There has to be deep love for the Bridegroom. It is said (in a song): Having found just You, I found everything. Therefore, you receive all attainment from just the One. There has to be a lot of love for such a Bridegroom. This is unlimited knowledge. It is the variety drama in which there are all types of conflict, and this is why they speak of the divided kingdom. Divided (dwet) or devils (daitya) – it is the same thing. Ravan is said to be the devil. It is only the one Father who makes you into deities. It is said: He changes human beings into deities. It is such a simple thing! You have broad intellects. Those who study the scriptures are not said to have broad intellects. That is devotion. Knowledge is a separate thing from devotion. Only the Father, the Ocean of Knowledge, gives you knowledge. You were like diamonds and have now become like shells. The Father is now making you become like diamonds once again. By having broad intellects, you rule the world. There, the kingdom is unshakeable and stable. So, those in knowledge have broad intellects. You know that there was happiness in the golden age and that you then gradually came down the ladder. In order to climb up, you take a jump in a second. It is a leap to become pure from impure. It takes 5000 years to come down. You have all become those with broad intellects, numberwise, according to the effort you make. You are given this knowledge at this time. This knowledge doesn’t exist in the golden age. The Father comes at the confluence age, exactly as He did in the previous cycle. You would not be said to have a broad intellect in the golden age. You would not say that your life is like a diamond in the golden age. It is at this time that you have a life like a diamond because you are the children of God. God is teaching you. This is the Father’s praise. Since the Supreme Soul is the Purifier, how could He be omnipresent? However, human beings have narrow intellects. No matter how much you explain to them, they don’t understand. Therefore, you have to understand that they don’t belong to the Brahmin clan. Those who belong to the deity clan will understand knowledge and become Brahmins. The Father is the Ocean of Knowledge. You too become oceans of knowledge and you then become oceans of peace and happiness. There is limitless happiness in the golden age. So, you receive the attainment of all types of happiness from the Father. At the end, you will become oceans of knowledge, happiness and peace because you also give this to others. Look how much sorrow and peacelessness there is at this time! Important people are unable to sleep. You should now remain happy because you now know the Father. The world says: “O God, the Father, Supreme Father, Supreme Soul!” but they don’t know Him. Devotees have been doing devotion for such a long time. They have been continually remembering Him, but they don’t know anything. The Father Himself comes and gives you the introduction of Himself and His creation. You then have to give it to others. You know that He is the Father. He is not a mahatma. Baba thought about making you write on the form: Whom have you come to meet? They would say: We have come to meet the mahatma. Tell them: He is not a mahatma. There is the name, “Brahma Kumars and Kumaris” and so their father would be Prajapita Brahma, would he not? So, how can he be a mahatma? Those who argue with others in this way have to be very good. They need to have that wisdom. Some even write something, but they don’t understand anything. They are complete buddhus. You can tell from their faces that they don’t have any knowledge. Shiv Baba knows everything; He is Antaryami (the One who knows everything within you). This Baba (Brahma) is baharyani (one who knows everything externally). The Father says: I enter this body of the one who was number one. He is now in the last birth. I enter him because he has to become that same Narayan again. So, because he lends his body, he receives rent and this is why they say: The most fortunate chariot. Bhagirath (the lucky chariot) did not bring the Ganges of water. These are deep aspects of knowledge which people don’t understand because they follow the dictates of Ravan. You have now understood. Therefore, create ways of explaining to others. You should think about how to make others far-sighted and how to give them the Father’s introduction. They remember the brahm element. Brahm is the element where God resides, but those people consider the brahm element to be God. Hinduism is not a religion. Because those people live in Hindusthan, they have given the name “Hindu” to their religion. In fact, Hindusthan is their place of residence. Similarly, the element of brahm is the place where God resides. However, because people have narrow intellects they don’t understand anything. Here, it is a matter of knowledge. Everyone knows the things of the world very well. This one was a jeweller himself and he used to know everything. However, in terms of knowledge, he had a narrow and degraded intellect; he didn’t know anything. So Baba comes and gives recognition. Until someone becomes a Brahmin, he cannot claim his inheritance from the Father. Subjects also have to be created. Anyone who hears even a little knowledge will become part of the subjects. If some continue to indulge in vice, punishment will have to be experienced. They will then become ordinary subjects. There is now to be death for everyone. Everyone is to be buried in the graveyard. This has to become a graveyard. At this time human beings have no value. You too didn’t have any value. You are now becoming valuable. However, when destruction takes place, all of you will die like insects. At Diwali time so many insects die. Everyone has to die because everyone has to return home. In the golden age you won’t say that someone has died, because there is no untimely death there. You will have conquered death there. There, you don’t use the word ‘death’. In the golden age you know that you don’t die. You simply shed an old costume and take another new one at the right time. There is the example of the snake and how it sheds its old skin and takes a new one. Therefore, that example of the snake applies to the golden age, not here. The example of the buzzing moth is about now. Even sannyasis give these examples because memorials of the present time continue on the path of devotion. The more you children imbibe at this time, the broader your intellects will become and you will earn accordingly. Similarly, when a surgeon has a broad intellect, the more medicines etc. he has in his intellect, the more he earns. It is the same here. Some earn 250 rupees and some earn thousands. If someone cures a king, he receives hundreds of thousands. It is the same here. Some haven’t imbibed any points of knowledge whereas others are very far-sighted and have broad intellects and so they make others the same. First you become far-sighted and then you have a broad intellect. This is something to be understood. There is no one as fortunate as Brahmins. They take everyone to the very top. At the top is God and so they give His introduction. Therefore, you now know everything. Children would know everything about their father. The Father from beyond has now come to purify you and take you back. There is a story about a farmer’s daughter. A king married a farmer’s daughter, but she didn’t like it in the palace and so he sent her back home. It is the same here. Those whose intellects are unable to imbibe knowledge leave of their own accord. What can the Father do about that? It is only the Supreme Father, the Supreme Soul, who can explain to you. He tells you the essence of the Vedas and scriptures through Brahma. He says: The Vedas are not scriptures of any religion. They are just leaves, the children. There are only four main religions and the Brahmin religion is one of the main ones. Deities are not said to have a life like a diamond because it is this age that is the beneficial, charitable age. The leap month is said to be the month of charity. It is this confluence age that is beneficial. There isn’t benefit in any of the other ages because your degrees continue to decrease. Day by day, your degrees continue to reduce. Only this age is the beneficial age. Each of you has to beat your head about how to explain to others. In fact, the Master is showing you how to show the path to others, but then each one’s business is his own. So you should be concerned as to how you can remove others from the quicksand. Some go to remove others from the quicksand and they become trapped themselves. Therefore, you need many good methods to explain to others. First of all, explain about Alpha and then they can then know about beta, the sovereignty, and also the world cycle. First of all, at least know Alpha! When someone sits and writes down a thousand times who Alpha is, he can then sit here! Some even write it in blood and then leave. Maya is no less! Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Become far-sighted and stay in remembrance of the Father and give others the introduction of the Father who lives in the faraway land.
  2. Create methods to benefit everyone in the beneficial age. Do the service of removing everyone from the quicksand.
Blessing: May you be a great soul who is a conqueror of Maya and constantly seated on the elevated seat of a high stage.
Great souls remain constantly stable in a high stage. The high stage is your high seat. When you remain seated on the seat of a high stage Maya cannot come to you. She will consider you to be great and bow down to you; she will not attack you, but will accept defeat. It is when you come down from the high seat that Maya then attacks you. Remain constantly on the high seat and Maya will not have the power to come to you; she cannot climb up.
Slogan: Be a peace messenger and donate peace to everyone; this is your occupation.

*** Om Shanti ***

Invaluable versio ns of Mateshwari

What is the first point that we human souls have to keep in our intellects and to which we have to pay a lot of attention?

1) We have to have the firm faith of who it is that is teaching us.

2) All of us are human souls and the Supreme Soul is our Father. We souls, the children, and the Supreme Soul, the Father are separate.

3) God is not infinite, God is not omnipresent. We have to keep this knowledge in our intellects and this is why our knowledge is unique. Though people of the world think that they have God’s knowledge, when you ask them what knowledge it is that they have, they say that God is omnipresent. Now, God Himself says: My knowledge is only received from Me, just as you learn to be a barrister from a barrister or you learn to be a doctor from a doctor. There are many barristers and if you don’t study with one, you can study with another. If one doctor doesn’t teach you, then another doctor will teacher you. However, this Godly knowledge cannot be taught by any human, whether he is a sage, a saint, or a great soul. Only by the Supreme Soul, Himself. So, how can we understand that they have God’s knowledge?

4) God does not come here in every age, but God comes once every cycle, at the confluence age, that is, at the confluence of the end of the iron age and the beginning of the golden age. He destroys all the irreligiousness and establishes the one original eternal religion of truth. How can people say that God comes in every age? They also say that the God of the Gita is Shri Krishna and that He came in the copper age. All of these things have to be proved. The God of the Gita is not Shri Krishna, it is Shiva, the Supreme Soul and He does not come in the copper age. He comes at the time of the confluence.

5) How was there extreme darkness without the Guru? Who is that Guru? How is the human world an inverted tree and how can we conquer our five vices?

6) We are those Pandav warriors and those who have God Himself with them have victory.

7) God Himself is the Almighty Authority, and so those who have taken the full company of God receive the crowns of both light and might. To keep all of these things in the intellect is called knowledge. Achcha. Om shanti.

[wp_ad_camp_5]

 

Read Murli 18 October 2017 :- Click Here

BRAHMA KUMARIS MURLI 20 OCTOBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 20 October 2017

October 2017 Bk Murli :- Click Here
To Read Murli 19 October 2017 :- Click Here
[Web-Dorado_Zoom]
20/10/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे, इस समय तुम्हारा यह जन्म हीरे समान है क्योंकि तुम ईश्वरीय सन्तान बने हो, स्वयं ईश्वर तुम्हें पढ़ाते हैं, तुम दूरादेशी, विशाल बुद्धि बनते हो”
प्रश्नः- तुम बच्चे किस पुरुषार्थ से दूरादेशी और विशाल बुद्धि बन रहे हो?
उत्तर:- बाप की याद से दूरादेशी और पढ़ाई से विशालबुद्धि बनते हो। दूरादेशी अर्थात् दूरदेश में रहने वाले बाप को याद करना। मनमना भव का अर्थ है दूरादेशी होना। विशालबुद्धि अर्थात् सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त का ज्ञान बुद्धि में हो। तुम्हें पहले दूरादेशी फिर विशाल बुद्धि बनना है।
गीत:- हमारे तीर्थ न्यारे हैं……..

ओम् शान्ति। बच्चों ने गीत सुना कि हमारे तीर्थ न्यारे हैं। हमारा तीर्थ बहुत दूर है इसलिए बच्चों को कहा जाता है दूरादेशी भव। दूरदेश में रहने वाले फिर कहते हैं विशालबुद्धि भव। सबकी बुद्धि इस समय तुच्छ है ना। माया ने तुच्छ बुद्धि बना दिया है। तो बच्चों की है दूरादेशी बुद्धि अर्थात् दूर के रहने वाले की याद और विशालबुद्धि अर्थात् सारे सृष्टि के आदि मध्य अन्त का ज्ञान बुद्धि में है। और सब हैं अल्पज्ञ बुद्धि अर्थात् अल्प बुद्धि, सिर्फ कहते हैं परमात्मा, परन्तु जानते नहीं। यहाँ कोई महात्मा नहीं है। यह तो बाप आकर दूरादेशी बनाते हैं, परन्तु दूरादेशी बच्चे कम हैं। भल ज्ञान बहुत है परन्तु दूरादेशी कम हैं अर्थात् बाप की याद में कम रहते हैं। बाकी साधू तो साधना करते हैं यथा राजारानी तथा प्रजा सारी दुनिया इस समय पतित है। भल महात्मा नाम डाल देते हैं परन्तु महान आत्मा कोई है नहीं। कई फिर कृष्ण को महात्मा कहते हैं। यह फिर भी राइट है क्योंकि वहाँ श्रेष्ठाचारी दुनिया है। यह तो है भ्रष्टाचारी दुनिया। यथा राजा रानी तथा प्रजा परन्तु इस समय राजा कोई है नहीं। प्रजा का प्रजा पर राज्य है। बाप कहते हैं शास्त्र पढ़ने से तुम मेरे से मिल नहीं सकते और ना ही कोई मुक्ति में जा सकते हैं। जब तक मेरे द्वारा कोई मेरे को न जाने और जब तक कल्प के अन्त में मैं न आऊं। मनुष्य तो कृष्ण को याद करते हैं वह तो इस देश का है। दूरादेशी है नहीं। तो बाप को याद करना माना दूरादेशी बनना। मनमनाभव का अर्थ है दूरादेशी भव। जो बाप को जानते नहीं तो बाप से वर्सा कैसे मिले। अगर आये नहीं तो रास्ता कैसे मिले। बड़ी समझ की बात है। साजन से बड़ा प्यार चाहिए। कहते हैं एक तू जो मिला तो सब कुछ मिला। तो एक से ही सब कुछ प्राप्ति हो जाती है। ऐसे साजन से बहुत लव चाहिए। यह है बेहद की नॉलेज। विराट ड्रामा अर्थात् वैराइटी, जिसमें अनेक मतभेद हैं तभी कहते हैं द्वेत राज्य, द्वेत या दैत्य एक ही बात है। दैत्य कहा जाता है रावण को। देवता बनाने वाला एक ही बाप है। कहते हैं मनुष्य से देवता, कितनी सहज बात है। तुम हो विशाल बुद्धि। शास्त्र पढ़ने वाले को विशाल बुद्धि नहीं कहेंगे। वह है भक्ति। ज्ञान अलग चीज़ है, भक्ति अलग चीज़ है। ज्ञान तो ज्ञान सागर बाप देते हैं। तुम हीरे जैसा थे, अब कौड़ी जैसे बन गये हो। अब बाप हीरे जैसा बनाते हैं। तुम विशाल बुद्धि होने से विश्व पर राज्य करते हो। वहाँ अखण्ड अटल राज्य है, तो विशाल बुद्धि ज्ञान में होते हैं।

तुम जानते हो सतयुग में सुख था फिर धीरे-धीरे नीचे सीढ़ी उतरनी है। चढ़ने में एक सेकेण्ड जम्प लगाना पतित से पावन बनने की छलांग लगाना। उतरने में 5 हजार वर्ष। तुम सब नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार विशालबुद्धि बने हो। यह ज्ञान अभी मिलता है, सतयुग में यह ज्ञान होता नहीं। संगम पर बाप आते हैं – हूबहू कल्प पहले मुआफिक। सतयुग में विशालबुद्धि नहीं कहेंगे। हीरे जैसा जन्म भी सतयुग में नहीं कहेंगे। हीरे जैसा जन्म इस समय है क्योंकि इस समय तुम हो ईश्वरीय सन्तान। ईश्वर तुमको पढ़ाते हैं। यह महिमा बाप की है जबकि परमात्मा पतित-पावन है तो सर्वव्यापी कैसे हो सकता है। परन्तु मनुष्य अल्पज्ञ बुद्धि हैं, कितना भी समझाओ, समझते नहीं हैं। तो समझो वह ब्राह्मण कुल का नहीं है। जो देवता कुल का होगा वही ज्ञान को समझ ब्राह्मण बनेंगे। बाप ज्ञान का सागर है। तुम भी ज्ञान के सागर बनते हो, फिर तुम सुख शान्ति के सागर बनते हो। सतयुग में सुख अपार रहता है। तो बाप द्वारा तुमको सर्व सुखों की प्राप्ति होती है। सो भी अन्त में ज्ञान, सुख, शान्ति के सागर बनेंगे क्योंकि औरों को भी देते हो। अभी देखो कितना दु:ख अशान्ति है। बड़ों-बड़ों को नींद नहीं आती है। तुम बच्चों को तो कितनी खुशी है क्योंकि तुम बाप को जानते हो। दुनिया कहती है ओ गॉड फादर, परमपिता परमात्मा परन्तु जानती नहीं। कितने समय से भक्त भक्ति करते, याद करते आये हैं, जानते कुछ नहीं। बाप अपना और अपनी रचना का परिचय खुद आकर देते हैं। तुमको औरों को देना है। तुम जानते हो यह बाप है, कोई महात्मा नहीं है। बाबा को ख्याल आया, फार्म में लिखा हो तो आप किससे मिलने आये हो? तो कहेंगे महात्मा से। बोलो, महात्मा तो यह है नहीं। नाम है ब्रह्माकुमार कुमारियाँ तो इनका बाप प्रजापिता ब्रह्मा होगा ना। तो महात्मा कैसे हुआ। आरग्यू करने वाले अच्छे चाहिए। बुद्धि वाला चाहिए। समझो वह लिखकर भी जाते हैं परन्तु समझते कुछ भी नहीं, बिल्कुल बुद्धू हैं। शक्ल से मालूम पड़ जाता है – बुद्धि में ज्ञान नहीं है। शिवबाबा तो जानते हैं, अन्तर्यामी है। यह बाबा तो बाहरयामी हैं। बाप कहते हैं मैं आता ही उस तन में हूँ जो पहला नम्बर है। अब लास्ट में है। इनमें प्रवेश करता हूँ क्योंकि इनको फिर वही नारायण बनना है। तो इनको इस तन को देने की किराया मिलती है तब तो कहते हैं सौभाग्यशाली रथ, भागीरथ ने कोई पानी की गंगा नहीं लाई। यह गुह्य ज्ञान की बातें हैं, जो रावण मत पर होने कारण मनुष्य समझते नहीं हैं। अब तुमने समझा है तो औरों को समझाने की युक्ति निकालो। तुमको ख्याल आना चाहिए कि औरों को कैसे दूरादेशी बनायें। कैसे बाप का परिचय दें। वह ब्रह्म को याद करते हैं। ब्रह्म तो तत्व है जहाँ परमात्मा रहते हैं। परन्तु वह ब्रह्म को ही परमात्मा समझते हैं। जैसे हिन्दू कोई धर्म नहीं है। हिन्दुस्तान में रहने के कारण हिन्दू नाम रख दिया है। वास्तव में हिन्दुस्तान तो रहने का स्थान है। ब्रह्म तत्व भी परमात्मा के रहने का स्थान है। परन्तु मनुष्यों की अल्प बुद्धि होने के कारण समझते नहीं। यहाँ ज्ञान की बात है। दुनिया की बातों को तो सब अच्छी तरह जानते हैं। यह खुद जौहरी था तो सब कुछ जानता था। बाकी ज्ञान की बातों में अल्प बुद्धि, तुच्छ बुद्धि थे, कुछ नहीं जानते थे। तो बाबा आकर पहचान देते हैं। जब तक कोई ब्राह्मण न बनें तो बाप से वर्सा ले न सके, प्रजा तो बननी है। किसी ने भी थोड़ा सुना तो प्रजा बन जायेंगे। अगर विकार में जाता रहेगा तो उनको सजा भोगनी पड़ेगी। फिर आकर साधारण प्रजा बनेंगे। अभी सबका मौत है। कब्रदाखिल होना ही है। कब्रिस्तान बनना ही है। इस समय मनुष्यों की कोई वैल्यू नहीं है। तुम्हारी भी नहीं थी। अब वैल्यु बन रही है। बाकी जब विनाश होगा तो मच्छरों सदृश्य मरेंगे। जैसे दीपावली पर मच्छर कितने मरते हैं, तो सबको मरना है ही क्योंकि सबको घर वापिस जाना है। सतयुग में यह नहीं कहेंगे कि यह मरा क्योंकि वहाँ अकाले मृत्यु होता नहीं। काल पर जीत पाते हैं। मरना शब्द वहाँ नहीं होता। सतयुग में जानते हैं कि हम मरते नहीं हैं। सिर्फ एक पुराना चोला छोड़, नया लेते हैं – सो भी समय पर। सर्प का मिसाल है कि पुरानी खाल छोड़ नई लेते हैं तो सर्प का मिसाल सतयुग से लगता है, यहाँ से नहीं। भ्रमरी का मिसाल यहाँ का ही है, सन्यासी भी यह मिसाल देते हैं क्योंकि यहाँ का ही यादगार भक्ति मार्ग में चलता है।

अभी तुम बच्चे जितनी-जितनी धारणा करेंगे उतना विशाल बुद्धि बनेंगे, उतनी कमाई करेंगे। जैसे सर्जन जितनी विशाल बुद्धि वाला होता है, जितनी दवाई आदि बुद्धि में अधिक रखता है उतना कमाई करता है। तो यहाँ भी ऐसे हैं। कोई 250 रूपया कमाई करते, कोई तो फिर हजारों कमाते हैं। कोई राजा को ठीक कर दिया तो लाख-लाख भी दे देते हैं। यहाँ भी ऐसे ही है। कोई को तो ज्ञान के प्वाइंट्स की धारणा नहीं और कोई तो बड़े दूरादेशी, विशालबुद्धि हैं तो औरों को भी बनाते हैं। पहले दूरादेशी पीछे विशाल बुद्धि कहेंगे। समझने की बात है ना। ब्राह्मणों जैसा सौभाग्यशाली कोई है नहीं। एकदम सबको ऊपर ले जाते हैं। ऊपर में परमात्मा है ना, तो उसका परिचय देते हो। तो तुम जानकार हो ना। बच्चों को तो बाप की जानकारी होती ही है। अब पारलौकिक बाप आये हैं तुमको पावन बनाकर वापस ले जाने के लिए। एक खेरूत (खेती करने वाले) बच्ची की कहानी है ना – कि राजा बच्ची को ले आया उसे अच्छा नहीं लगा, तो उनको वापिस भेज दिया। यहाँ भी ऐसे हैं। जिनकी बुद्धि में ज्ञान की धारणा नहीं होती है तो वह खुद ही चले जाते हैं, इसमें बाप क्या करे। समझाने वाला है तो परमपिता परमात्मा। वह ब्रह्मा द्वारा वेदों शास्त्रों का सार सुनाते हैं कि वेद शास्त्र कोई धर्म शास्त्र है नहीं। यह तो पत्ते हैं, बाल बच्चे हैं। मुख्य धर्म हैं चार। उसमें ब्राह्मण धर्म भी है मुख्य। हीरे जैसा जन्म देवताओं का नहीं कहेंगे क्योंकि यह कल्याणकारी लीप धर्माऊ युग है। लीप मास, धर्माऊ को कहते हैं। यह है संगमयुग, कल्याणकारी और जितने भी युग हैं वहाँ अकल्याण ही होता है क्योंकि डिग्री कम होती जाती है। दिनप्रतिदिन कला कम ही होती जाती है। यह युग ही है कल्याणकारी। तो हर एक को माथा मारना पड़े कि औरों को कैसे समझायें। यूं तो उस्ताद बता रहे हैं कि रास्ता कैसे बताओ फिर हर एक का धन्धा अपना-अपना है। तो यह आना चाहिए कि कैसे औरों को दुबन (दलदल) से निकालूँ। कई तो दल-दल से निकालने जाते फिर खुद फंस जाते हैं। तो समझाने की बड़ी युक्ति चाहिए। पहले अल्फ को समझाओ तो बे बादशाही को भी जान जायें और सृष्टि चक्र को भी जान जायें। पहले अल्फ को तो जानो। कोई हजार दफा लिखकर दें कि अल्फ कौन है, तब यहाँ बैठ सके। कई तो ब्लड से भी लिखकर देते हैं फिर चले जाते है। माया कोई कम थोड़ेही है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) दूरादेशी बन बाप की याद में रहना है और दूसरों को दूरदेश में रहने वाले बाप का परिचय देना है।

2) कल्याणकारी युग में सभी का कल्याण करने की युक्ति निकालनी है। सबको दुबन (दलदल) से निकालने की सेवा करनी है।

वरदान:- सदा ऊंची स्थिति के श्रेष्ठ आसन पर स्थित रहने वाली मायाजीत महान आत्मा भव 
जो महान आत्मायें हैं वह सदैव ऊंची स्थिति में रहती हैं। ऊंची स्थिति ही ऊंचा आसन है। जब ऊंची स्थिति के आसन पर रहते हो तो माया आ नहीं सकती। वो आपको महान समझकर आपके आगे झुकेगी, वार नहीं करेंगी, हार मानेंगी। जब ऊंचे आसन से नीचे आते हो तब माया वार करती है। आप सदा ऊंचे आसन पर रहो तो माया के आने की ताकत नहीं। वह ऊंचे चढ़ नहीं सकती।
स्लोगन:- शान्ति का दूत बन सबको शान्ति का दान दो – यही आपका आक्यूपेशन है।

मातेश्वरी जी के अनमोल महावाक्य

हम मनुष्य आत्माओं को पहले पहले कौनसी मुख्य प्वाइन्ट बुद्धि में रखनी है, जिस पर खूब अटेन्शन रखना है? पहले-पहले तो अपने को यह पक्का निश्चय रखना है कि हमको पढ़ाने वाला कौन है? दूसरी प्वाइन्ट है, हम सभी मनुष्य आत्मायें हैं और परमात्मा हमारा पिता है। हम आत्मा बच्चे और परमात्मा बाप दोनों अलग-अलग चीज़ है। तीसरी प्वाइन्ट ईश्वर बेअंत भी नहीं है, ईश्वर सर्वत्र भी नहीं है, अब यही नॉलेज बुद्धि में रखनी है इसलिए अपनी नॉलेज औरों से न्यारी है, भले दुनियावी मनुष्य समझते हैं हमको परमात्मा का ज्ञान है, अब उनसे पूछो आप में कौनसा ज्ञान है? तो कहेंगे ईश्वर सर्वव्यापी है। अब परमात्मा तो कहता है मेरा ज्ञान मेरे द्वारा ही मिलता है, जैसे बैरिस्टर द्वारा बैरिस्ट्री, डॉ. द्वारा डॉक्टरी सीखी जाती है, भल वहाँ बैरिस्टर भी अनेक होते हैं, एक बैरिस्टर से न पढ़ा तो दूसरा पढ़ायेगा। एक डॉक्टर से न पढ़ा तो दूसरा डॉक्टर पढ़ायेगा, मगर यह ईश्वरीय नॉलेज सिवाए एक परमात्मा बिगर कोई भी मनुष्य आत्मा चाहे साधू, संत, महात्मा हो वो भी नहीं पढ़ा सकेगा। तो हम कैसे समझें कि इन्हों में कोई परमात्मा का ज्ञान है और चौथी प्वाइन्ट परमात्मा युगे युगे नहीं आता बल्कि परमात्मा कल्प कल्प एक ही बार इस संगमयुग पर अर्थात् कलियुग के अन्त और सतयुग के आदि संगम समय पर आता है, और अनेक अधर्मों का विनाश कराए एक आदि सनातन सतधर्म की स्थापना कराता है। अब लोग कैसे कहते हैं कि परमात्मा युगे युगे आता है और ऐसे भी कहते हैं गीता का भगवान श्रीकृष्ण, वो द्वापर में आया है। अब इन सभी बातों को सिद्ध करना है, गीता का भगवान श्रीकृष्ण नहीं है, शिव परमात्मा है और वो भी द्वापर में नहीं आता संगम समय पर आया है। पाँचवी प्वाइन्ट गुरु बिगर घोर अन्धियारा कैसे हुआ है, वो गुरु कौन है? मनुष्य सृष्टि उल्टा झाड़ कैसे है और हमको अपने पाँच विकारों पर जीत कैसे पहननी है? छटवीं प्वाइन्ट हम वही पाण्डव यौद्धे हैं, जिसके साथ साक्षात् परमात्मा है उसी तरफ ही जीत है और सातवीं प्वाइन्ट परमात्मा खुद सर्वशक्तिवान है तो जिन्होंने परमात्मा का पूरा साथ लिया है, उन्हों को ही परमात्मा द्वारा लाइट माइट दोनों ताज मिलते हैं। अब यह सभी बातें बुद्धि में रखना इसको ही ज्ञान कहा जाता है। अच्छा। ओम् शान्ति।

[wp_ad_camp_5]

 

To Read Murli 18 October 2017 :- Click Here

Font Resize