brahma kumaris murli 18 july 2017

TODAY MURLI 18 July 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 18 July 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Bk Murli 17 July 2017 :- Click Here

18/07/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you now have to remove devilish defects and imbibe Godly virtues. Claim self-sovereignty for 21 births from the Father.
Question: Which of the Father’s acts should also be your acts?
Answer: The Father’s act is to teach everyone knowledge and yoga. You children must also perform this act. You have to purify the impure. Your business is to do spiritual service. Some children leave their bodies but then take new bodies and carry on with this effort. Day by day, your service will continue to increase.
Song: Salutations to Shiva.

Om shanti. It is right to play this song here because this is the praise of Shiv Baba, the Highest on High. It is not Rudra Baba, it is Shiv Baba. Although it is the same whether you say Shiv Baba or Rudra Baba, it still sounds good to say Shiv Baba. You are also sitting here having adopted bodies. The Father is explaining through Brahma, otherwise how could Shiv Baba speak? He is the Living Being, the Truth and the Ocean of Knowledge. Surely, He would only speak knowledge. To introduce Himself is also knowledge. He gives the knowledge of the beginning, the middle and the end of creation, that is, He gives the explanation. That is called knowledge too. To explain to someone, especially to explain about God, means to give knowledge. God introduces Himself. In English, it is said: Father shows son. The Father comes and introduces Himself and gives the knowledge of the beginning, the middle and the end of the world. The rishis and munis used to say that they did not know the Creator or His creation. Now that the Father has explained, it is understood that no one else can give this knowledge, the knowledge through which human beings claim the highest status. Surely, the highest status is that of deities. You children now understand that constant, unshakeable purity, peace, happiness and prosperity are your Godly birthright. You are claiming that once again. The land of happiness is the Godly birthright and the land of sorrow is the devilish birthright. Through Ravan we become impure. Souls receive the inheritance of impurity from Ravan. Then, only the one Supreme Father, the Supreme Soul, Rama, purifies the impure ones. No one knows that Ravan is Bharat’s old enemy for half the cycle. People desire the kingdom of Rama, which means that this is the kingdom of Ravan. However, they do not consider themselves to be impure. The devilish community is now changing into the community of deities. You come here in order to remove devilish defects and to imbibe Godly qualities. The Father alone is the One who inspires you to imbibe Godly virtues. You now understand that you have come here once again to claim your birthright of self-sovereignty for 21 births from the unlimited Father. You are sitting here to claim the self-sovereignty of the sun dynasty and the moon dynasty. You have claimed this self-sovereignty cycle after cycle. You lose it and then you claim it again. It should remain in your intellects that you are now claiming your inheritance from the Father. The children who are claiming the inheritance have to remember the Father. It should enter your intellects that you are sitting face to face with the Mother and the Father in order to claim the inheritance. He is speaking to us through the mouth of Brahma. Those who take Baba’s lap are definitely called Brahmins. This is the sacrificial fire of knowledge, and then, whether you call it a sacrificial fire or whether you call it a school, it is the same thing. When people create a sacrificial fire, they also create a school where they study scriptures etc: the Gita is on one side, the Vedas and scriptures are on another side, and they also study the Ramayana on another side. Those who want to listen to the Ramayana go in one direction and those who want to listen to the Gita go in the other direction. This is the sacrificial fire of the knowledge of Rudra in which everything is to be sacrificed. It is now the end of the world and so this is the end of all sacrificial fires. There is only one sacrificial fire of knowledge. All the other various types of sacrificial fires are material sacrificial fires. There, they put into it barley, sesame seeds etc. This is the unlimited sacrificial fire into which everything is sacrificed and then the new creation takes place once again. There, there is nothing that causes sorrow. Here, there is so much sorrow. Illnesses etc. are increasing so much; there are various sorrows and diseases. All of this is fixed in the drama. There are as many types of sorrow as there are human beings. This is called the land of sorrow, the cottage of sorrow. People experience sorrow because this is the kingdom of Ravan. There is no Ravan in the kingdom of Rama. For half a cycle, it is the land of happiness and for the other half, it is the land of sorrow. The incorporeal Supreme Father, the Supreme Soul, is called Rama. Firstly, there is the rosary of Rudra, the rosary of incorporeal souls, and then the corporeal rosary of Vishnu is created, that is, the rosary of the kingdom; they rule the kingdom numberwise. You children have to understand this clearly and also explain to others. As time passes, the knowledge will become short (er). Baba is creating methods in order for you to be able to explain in short. People will become disinterested at the time of destruction. They will then understand that this is definitely that great Mahabharat War. Surely, God must be incorporeal; it cannot be Krishna. Only the incorporeal One is called the Purifier and the Bestower of Salvation for All. This title cannot be given to anyone else. Baba has also explained that the pure deities will never set foot in this impure world. You ask for money from Lakshmi, but where would Lakshmi get money from? Here, Mama receives money from the father (Brahma). There, too, the father will be the companion. Here, Brahma is with Saraswati, and there, too, both definitely have to be together. There has to be some sign of that. Wealth definitely comes from somewhere. This is why there is the worship of Mahalakshmi. They show her with four arms but not as many legs. Ravan is shown with ten faces but not so many legs. So this proves that there cannot be such human beings; it is like that in order to be able to explain. When someone’s husband dies, that soul is invited, but how can he come? He enters the body of a brahmin priest; he is invoked. These customs and systems are fixed in the drama. Then what happens? That soul comes. Souls are invited for you to feed them, but here, the Father Himself comes and feeds you children. The business of you children now is to do service. Some even make effort after having left the body, that is, they continue to make effort in their next birth. Your business is to change impure ones into pure ones. As you go further, you will see how service increases. This also happened a cycle ago; it is the same reel. You children understand that whatever happens, it happens as it did in the previous cycle. The Father also performs the same act of teaching knowledge and yoga, the act which was performed a cycle ago; it cannot be even slightly different. This is the drama. We souls come down here from our home. We adopt human bodies and play our part s. You must explain fully the 84 births as well as the cycle of the drama. No one else knows this. Previously, we did not understand either. You are those who understood a cycle ago and are now understanding once again. You have now understood the significance of the Creator and the beginning, the middle and the end of His creation. It should remain in your intellects that the Father is the Highest on High; He is the one who gives the inheritance and then there are Brahma, Vishnu and Shankar. Establishment takes place through Brahma. He is the one who then becomes the master of the land of Vishnu and sustains it. Whether you call it the land of Vishnu or the land of Lakshmi and Narayan, it is the same thing. You understand that you are claiming the inheritance of the sun and moon dynasties for 21 births from the Father. The Father says: Children, you belonged to Me. I sent you to play your part s. That too is fixed in the drama. No one is told to do anything. You understand that those who make effort well will go to the land of happiness, numberwise. You remember the land of happiness. You understand that this is the land of sorrow; no one else knows about this. It is in the intellects of you children that this is the land of sorrow. You claim your inheritance from the Father, the One who establishes the land of happiness. We have become Baba’s while alive. When a child is adopted by a king, he understands that he belongs to the king. In the beginning, it is a lokik relationship and later, too, it is still a lokik relationship. Here, it becomes alokik and then parlokik. You understand that you belong to Rama, whereas all others belong to the clan of Ravan. They are on one side and you are on the other. The soul understands that he has truly completed 84 births. I, the soul, shed one body and take a new one. You are making effort inspired by the Father, the Purifier, the Ocean of Knowledge, the Bestower of Salvation for All. He teaches you through Brahma. It is the soul that studies. The soul is filled with the sanskars of a barrister etc. The soul speaks through the sense organs. You make a lot of effort to become soul conscious. The Father gives advice: The time of amrit vela is very well known. At that time, consider yourselves to be souls and remember the Father so that the rust on you souls is removed. Alloy has been mixed into souls. Pure jewellery is made out of pure gold. There is rust on souls, so they receive bodies accordingly. This is why you are put in an orb (of light). However, this is a question of using the intellect. You sit in remembrance of the Father. There is no other difficulty. It is as though a child is remembering his father. That is the unlimited Father. Other souls remember the body. Now, you souls remember your Father.

[wp_ad_camp_3]

 

The Father says: I am the unlimited Father, so, surely, I must give the unlimited happiness. I also gave this a cycle ago. Bharat was definitely the master of the world. There were no enemies. You are now becoming the masters of the land of happiness. You became so senseless! You were worthy of heaven and have now become worthy of hell. The Father has come once again to make you worthy of heaven. There is the birth of incorporeal Shiva as well as the birth of the Gita. People truly believe that when Shiv Baba comes, there will be the versions of God, and so there will also be the birth of the Gita. He comes once again and introduces Himself. The Gita is created from what He spoke when He came. You children know what Ravan is. This kingdom of Ravan is now to be destroyed. Death is standing ahead. This world was transformed a cycle ago as well. Everything is explained so clearly. It takes effort. While staying in your household, live as pure as a lotus flower and take this course at the same timeAsk the teacher. This course is very easy. Stay in your household, remember Me and understand the beginning, the middle and the end of creation. A few who listen for seven days emerge. Feel the pulse of every person. It is seen that some have deep love: they are desperate to listen to Baba’s knowledge personally and you can tell this from their faces and their vibrations. Because their pulse is not felt properly, many good ones leave. They say: What can we do? We don’t have time for seven days. Some say: Grant us a vision! Firstly, tell them to come and understand. Ask them: Whom have you come to? What relationship do you have with the Supreme Father, the Supreme Soul? You too are Brahma Kumars and Kumaris. You are the grandchildren of Shiva, so you are the children of Brahma. The Father is the Creator of heaven, so He must give the inheritance. He must teach Raja Yoga. You must explain to them and then make them write it down. Some understand very well within a day. Many clever ones who will gallop ahead will emerge. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Awaken at amrit vela and remember the Father with a lot of love and make effort to be soul conscious. Remove the rust of vices with the power of remembrance.
  2. Whilst staying in your household, take the course to become like a lotus flower. Feel each one’s pulse and see their keenness and then give knowledge.
Blessing: May you be an incognito effort-maker who remains constantly content and makes others content when forming connections and relationships with them.
The confluence age is the age of contentment. If you do not remain content at the confluence age, then when would you remain content? Therefore, neither let there be any type of conflict within yourself nor let there be any type of conflict in your connections with others. A garland is created when one bead comes into contact with another bead. Therefore, when you remain constantly content and you make others content when in relationship and connection with them, you will then become the beads of the garland. To be in a family means to remain constantly content and make others content.
Slogan: Those who renounce even a trace of their old nature and sanskars are full renunciates.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_5]

 

 

Brahma kumaris murli 18 July 2017 : Daily Murli (Hindi)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 18 July 2017

July 2017 all murlis :- Click Here

To Read Murli 17 July 2017 :- Click Here

18/07/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – तुम्हें अब आसुरी अवगुण निकाल ईश्वरीय गुण धारण करने हैं, बाप से अपना 21 जन्मों का स्वराज्य लेना है”
प्रश्नः- बाप की कौन सी एक्ट चलती है जो तुम बच्चों की भी होनी चाहिए?
उत्तर:- बाप की एक्ट है सभी को ज्ञान और योग सिखलाने की। यही एक्ट तुम बच्चों को भी करनी है। पतितों को पावन बनाना है। तुम्हारा धन्धा ही है रूहानी सर्विस करना। कोई-कोई बच्चे शरीर छोड़कर जाते हैं फिर नया शरीर ले यही मेहनत करते हैं। दिन-प्रतिदिन तुम्हारी सर्विस बढ़ती जायेगी।
गीत:- ओम् नमो शिवाए…

ओम् शान्ति। यह गीत यहाँ शोभता है, क्योंकि यह ऊंचे ते ऊंचे शिवबाबा की महिमा है। रूद्र बाबा नहीं, शिवबाबा। शिव वा रूद्र बाबा सही है। फिर भी शिवबाबा कहना अच्छा लगता है। तुम भी शरीर ले बैठे हो। बाप ब्रह्मा द्वारा समझा रहे हैं। नहीं तो शिवबाबा बोल कैसे सके। वह चैतन्य है, सत है, ज्ञान का सागर है। जरूर ज्ञान ही सुनायेंगे। अपना परिचय देना यह भी ज्ञान हुआ। फिर रचना के आदि मध्य अन्त का ज्ञान अर्थात् समझानी देते हैं, इसको भी ज्ञान कहा जाता है। किसको समझाना यह ज्ञान देना है। सो भी ईश्वर के लिए समझाना ज्ञान है। सो तो ईश्वर ही खुद परिचय देते हैं। अंग्रेजी में कहते भी हैं फादर शोज़ सन। बाप आकर अपना और सृष्टि के आदि मध्य अन्त का परिचय देते हैं। ऋषि मुनि आदि सब कहते थे हम रचयिता और रचना को नहीं जानते हैं। अभी बाप ने समझाया है तो समझा जाता है यह ज्ञान कोई दे नहीं सकते हैं। जिस ज्ञान से मनुष्य ऊंच ते ऊंच पद पाते हैं। जरूर ऊंच ते ऊंच पद है ही देवी देवताओं का। अब तुम बच्चे जानते हो अखण्ड, अटल, पवित्रता, सुख-शान्ति-सम्पत्ति ही हमारा ईश्वरीय जन्म सिद्ध अधिकार है, जो फिर से ले रहे हैं। ईश्वरीय जन्म सिद्ध अधिकार सुखधाम और आसुरी जन्म सिद्ध अधिकार यह दु:खधाम है। रावण द्वारा हम पतित बनते हैं। रावण से वर्सा मिलता ही है पतित बनने का। फिर पतित से पावन एक परमात्मा राम ही बनाते हैं। यह किसको पता नहीं है कि रावण आधाकल्प का पुराना दुश्मन है भारत का। कहते हैं रामराज्य चाहिए अर्थात् यह रावण राज्य है। परन्तु अपने को पतित अथवा रावण समझते नहीं हैं। अब यह आसुरी सम्प्रदाय बदल दैवी सम्प्रदाय बन रही है। तुम यहाँ आते ही हो आसुरी अवगुणों को निकाल ईश्वरीय गुण धारण करने। ईश्वरीय गुण धारण कराने वाला बाप ही है।

तुम जानते हो अब हम आये हैं बेहद के बाप से अपना फिर से जन्म सिद्ध अधिकार 21 जन्मों का स्वराज्य लेने। यहाँ बैठे ही हैं सूर्यवंशी, चन्द्रवंशी स्वराज्य प्राप्त करने। जो स्वराज्य तुम कल्प-कल्प प्राप्त करते आये हो। गंवाते हो फिर पाते हो। यह तो बुद्धि में रहना चाहिए ना। अब हम बाप से वर्सा लेते हैं। वर्सा लेने वाले बच्चों को बाप को याद करना पड़े ना। यह तो बुद्धि में आना चाहिए – हम मात-पिता के सम्मुख बैठे हैं, वर्सा लेने के लिए। वह ब्रह्मा मुख से हमको सुनाते हैं। जो गोद लेते हैं वह जरूर ब्राह्मण कहलायेंगे। यह ज्ञान यज्ञ है फिर यज्ञ कहो वा पाठशाला कहो, एक ही बात है। जब रूद्र यज्ञ रचते हैं तो पाठशाला भी बना देते हैं। एक तरफ वेद शास्त्र आदि, एक तरफ गीता, एक तरफ रामायण आदि रखते हैं। जिनको रामायण सुनना है वह उनके तरफ जाकर सुने, जिसको गीता सुनना हो वह उनके पास जाकर सुने। यह रूद्र ज्ञान यज्ञ है, जिसमें सब कुछ स्वाहा होना है। सृष्टि का अन्त है तो सभी यज्ञों का भी अन्त है। ज्ञान यज्ञ तो एक ही है। बाकी जो अनेक प्रकार के यज्ञ हैं – वह हैं मैटेरियल यज्ञ। जिसमें जौं-तिल आदि सामग्री पड़ती है। यह है बेहद का यज्ञ इसमें यह सब स्वाहा हो जायेगा। फिर से नई पैदाइस होती है। वहाँ दु:ख देने वाली चीज़ कोई होती नहीं। यहाँ तो कितना दु:ख है। बीमारियां आदि कितनी वृद्धि को पा रही हैं। भिन्न-भिन्न प्रकार के दु:ख रोग निकलते जाते हैं। ड्रामा में यह सब नूंध है। जैसे मनुष्य वैसे किसम-किसम के दु:ख निकलते जाते हैं। इसको कहा ही जाता है दु:खधाम, शोक वाटिका। मनुष्य दु:खी हैं क्योंकि रावण राज्य है। रामराज्य में रावण होता ही नहीं। आधाकल्प है सुखधाम, आधाकल्प है दु:खधाम। राम निराकार परमपिता परमात्मा को कहते हैं। एक है रूद्र माला निराकारी आत्माओं की और फिर विष्णु की माला बनती है साकारी। वह तो राजाई की है। फिर वहाँ नम्बरवार राज्य करते हैं। यह तुम बच्चों को अच्छी रीति समझना और समझाना है। जितना-जितना समय बीतता जायेगा उतना-उतना ज्ञान शार्ट होता जायेगा। इतना शार्ट में समझाने के लिए बाबा युक्तियां रच रहे हैं। विनाश के समय मनुष्यों को वैराग्य आयेगा। फिर समझेंगे कि बरोबर यह वही महाभारी महाभारत की लड़ाई है। जरूर निराकार भगवान भी होगा, कृष्ण तो हो नहीं सकता। निराकार को ही सर्व का पतित-पावन, सर्व का सद्गति दाता कहा जाता है। यह टाइटिल कोई को दे नहीं सकते।

बाबा ने यह भी समझाया है पवित्र देवतायें कभी अपवित्र दुनिया में पैर नहीं रख सकते। तुम लक्ष्मी से धन माँगते हो परन्तु लक्ष्मी कहाँ से लायेगी? यहाँ भी मम्मा, बाप से धन लेती है। वहाँ भी बाप साथी होगा। यहाँ सरस्वती साथ ब्रह्मा है। वहाँ भी दोनों जरूर चाहिए। निशानी चाहिए। कहाँ से धन मिलता जरूर है, इसलिए महालक्ष्मी की पूजा होती है। उनको 4 भुजायें देते हैं। टांगे तो इतनी देते नहीं। रावण को 10 मुख देते हैं। टांगे तो नहीं देते हैं। तो सिद्ध होता है, ऐसे मनुष्य होते नहीं हैं। यह है समझाने के लिए। जब कोई का पति मरता है तो उनकी आत्मा को इनवाइट किया जाता है, परन्तु आये कैसे? ब्राह्मण के तन में आती है। बुलवाया जाता है। यह रसम-रिवाज ड्रामा में नूँधी हुई है। फिर जो होता है, वहाँ आत्मायें आती हैं। आत्मा को बुलाकर उनको खिलाते हैं। यहाँ बाप तो खुद आकर तुम बच्चों को खिलाते हैं। तो अब तुम बच्चों का धन्धा ही यह सर्विस का हुआ। शरीर छोड़कर फिर कहाँ जन्म ले फिर मेहनत करते हैं। तुम्हारा है ही पतितों को पावन बनाने का धन्धा। तुम आगे चल देखेंगे कैसे सर्विस बढ़ती है। कल्प पहले भी ऐसे हुआ था, वही रील है। तुम बच्चे जानते हो जो कुछ होता है कल्प पहले मुआ]िफक। बाप भी ज्ञान और योग सिखलाने की वही एक्ट करते हैं, जो कल्प पहले की है। इसमें ज़रा भी फ़र्क नहीं पड़ सकता है। यह ड्रामा है ना। हम आत्मायें घर से आती हैं। मनुष्य तन धारण कर पार्ट बजाती हैं। 84 जन्मों को और ड्रामा के चक्र को पूरा समझाना है। और कोई जानते नहीं हैं, हम खुद ही नहीं जानते थे। तुमने ही कल्प पहले जाना था, अब फिर से जान रहे हो। रचयिता और रचना के आदि मध्य अन्त का राज़ अब समझा है। तुम्हारी बुद्धि में यह रहना है, ऊंच ते ऊंच बाप है, वही वर्सा देते हैं। फिर है ब्रह्मा विष्णु शंकर। ब्रह्मा द्वारा स्थापना होती है फिर वही पालना करते हैं, विष्णुपुरी के मालिक बन। विष्णुपुरी कहो वा लक्ष्मी-नारायण की पुरी कहो, बात एक ही है। तुम जानते हो हम सूर्यवंशी चन्द्रवंशी वर्सा बाप से ले रहे हैं, 21 जन्मों के लिए। बाप कहते हैं बच्चे तुम हमारे थे, हमने तुमको भेजा पार्ट बजाने। यह भी ड्रामा में नूँध है। कोई कहा नहीं जाता है। यह भी तुम समझते हो जो अच्छी रीति पुरुषार्थ करेंगे वह फिर नम्बरवार सुखधाम में आयेंगे। तुम याद करते हो सुखधाम को। जानते हो यह दु:खधाम है और कोई को पता नहीं है। तुम बच्चों की बुद्धि में आता है कि यह दु:खधाम है। तुम सुखधाम स्थापन करने वाले बाप से वर्सा पा रहे हो। हम जीते जी उनके बने हैं। राजा की गोद लेते हैं तो समझते हैं ना – हम उनके हैं। पहले भी लौकिक फिर दूसरा भी लौकिक ही सम्बन्ध रहता है। यहाँ अलौकिक फिर पारलौकिक हो जाता है। तुम जानते हो अभी हम राम के बने हैं। बाकी तो सब रावण कुल के हैं। एक तरफ वह दूसरे तरफ हम हैं। आत्मा समझती है बरोबर मैंने 84 जन्म पूरे किये हैं। मैं आत्मा एक पुराना शरीर छोड़ दूसरा नया लेती हूँ। पुरुषार्थ कर रहे हैं -ज्ञान सागर पतित-पावन सद्गति दाता बाप द्वारा। वह इस ब्रह्मा द्वारा पढ़ाते हैं। पढ़ती आत्मा है। आत्मा में ही बैरिस्टरी आदि के संस्कार रहते हैं ना। आत्मा बोलती है, आरगन्स द्वारा।

[wp_ad_camp_3]

 

तुमको आत्म-अभिमानी बनने में बड़ी मेहनत लगती है। बाप राय देते हैं – अमृतवेले का समय मशहूर है। उसी समय अपने को आत्मा समझ बाप को याद करते रहो तो तुम्हारी आत्मा पर जो कट लगी हुई है वह साफ होगी। आत्मा में खाद पड़ती है। प्योर सोने का प्योर जेवर होता है। आत्मा पर कट लगी हुई है। फिर शरीर भी ऐसा मिलता है इसलिए तुमको कार्ब में डाला जाता है। परन्तु इसमें सारा बुद्धि का काम है। बाप की याद में बैठे हैं और कोई तकलीफ की बात नहीं। जैसे बच्चा बाप को याद करता है। यह है बेहद का बाप। वह आत्मा शरीर को याद करती है। अब तुम आत्मा अपने बाप को याद करती हो। बाप कहते हैं मैं बेहद का बाप हूँ तो जरूर बेहद का सुख दूँगा। कल्प पहले दिया था। बरोबर भारत विश्व का मालिक था। दुश्मन आदि कोई नहीं था। अभी तुम सुखधाम के मालिक बन रहे हो। कितने बेसमझ बन पड़े थे। जो तुम स्वर्ग के लायक थे, अब नर्क के लायक बन पड़े हो। फिर स्वर्ग के लायक बनाने बाप आये हैं। निराकार शिव की जयन्ती होती और गीता जयन्ती भी होती है। बरोबर मानते हैं। शिवबाबा जब आते हैं तब भगवानुवाच होता है। तो फिर से गीता जयन्ती होती है, फिर से आकर परिचय देगा ना। आकर जो सुनाया वह फिर गीता बनी।

यह भी तुम बच्चे जानते हो कि रावण किसको कहा जाता है। अब इस रावण राज्य का विनाश होना है। मौत सामने खड़ा है। कल्प पहले भी यह दुनिया बदली थी। कितनी अच्छी रीति समझाया जाता है। मेहनत है, घर गृहस्थ में रहते कमल फूल समान पवित्र रह फिर साथ में यह कोर्स उठाओ। टीचर से पूछो। कोर्स तो बड़ा सहज है। घर में रहते मुझे याद कर रचना के आदि मध्य अन्त को जानो। 7 रोज़ समझने वाले भी कोई निकलते हैं। हर एक मनुष्य की रग देखी जाती है। देखा जाता है इनकी लगन बहुत अच्छी है। तड़फते हैं, हम बाबा का ज्ञान तो सम्मुख सुनें। उनकी शक्ल वातावरण से समझ सकते हो। रग को पूरा न समझने के कारण अच्छे-अच्छे भी चले जाते हैं। कहते हैं 7 रोज़ टाइम नहीं है, क्या करें! कोई कहते हैं दर्शन कराओ। बोलो – पहले आकर समझो। किसके पास आये हो? परमपिता परमात्मा से तुम्हारा क्या सम्बन्ध है?

ब्रह्माकुमार कुमारी तो तुम भी ठहरे ना। शिवबाबा के पोत्रे सो ब्रह्मा के बच्चे हो गये। बाप स्वर्ग का रचयिता है। तो जरूर वर्सा देता होगा। राजयोग सिखलाता होगा। समझाकर फिर लिखा लेना चाहिए। एक दिन में भी कोई अच्छा समझ सकता है। ऐसे तीखे निकलेंगे जो बहुत गैलप करेंगे। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:

1) अमृतवेले उठ बाप को प्यार से याद कर आत्म-अभिमानी बनने की मेहनत करनी है। याद के बल से विकारों की कट उतारनी है।

2) घर गृहस्थ में रहते कमल फूल समान बनने का कोर्स उठाना है। हर एक की रग अथवा लगन देखकर ज्ञान देना है।

वरदान:- सम्पर्क सम्बन्ध में आते सदा सन्तुष्ट रहने और सन्तुष्ट करने वाले गुप्त पुरूषार्थी भव 
संगमयुग सन्तुष्टता का युग है, यदि संगम पर सन्तुष्ट नहीं रहेंगे तो कब रहेंगे, इसलिए न स्वयं में किसी भी प्रकार की खिटखिट हो न दूसरों के साथ सम्पर्क में आने में खिटखिट हो। माला बनती ही तब है जब दाना, दाने के सम्पर्क में आता है इसलिए सम्बन्ध-सम्पर्क में सदा सन्तुष्ट रहना और सन्तुष्ट करना, तब माला के मणके बनेंगे। परिवार का अर्थ ही है सदा सन्तुष्ट रहने और सन्तुष्ट करने वाले।
स्लोगन:- पुराने स्वभाव-संस्कार के वंश का भी त्याग करने वाले ही सर्वंश त्यागी हैं।

[wp_ad_camp_5]

To Read Murli 13 July 2017 :- Click Here

Font Resize