brahma kumaris murli 17 january 2019

TODAY MURLI 17 JANUARY 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 17 January 2020

17/01/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, this old world has nothing left to offer. This is why you mustn’t let your heart remain attached to it. If you forget to have remembrance of the Father, there will be punishment.
Question: Why do you disobey one of the Father’s main directions? What is that direction?
Answer: The Father’s direction is: Never accept personal service from anyone, because you yourselves are servants. However, because of body consciousness, some of you disobey this direction that the Father gives. Baba says: If you accept that happiness here, your happiness there will be reduced. Many of you children say that you want to be independent but, in fact, all of you depend on the Father.
Song: Let the support of my heart not break.

Om shanti. God Shiva speaks to His saligrams. All human beings know about Shiva and the saligrams; both are incorporeal. You no longer say that God Krishna speaks. There is only the one God, and so, to whom does God Shiva speak? To you spiritual children. Baba has explained that you children must now only have a connection with that Father. Because only Shiv Baba is the Purifier, the Ocean of Knowledge and the One who gives you your inheritance of heaven, He is the One you have to remember. Brahma is His most fortunate chariot. He gives you the inheritance through this chariot. It isn’t Brahma who gives you your inheritance; he too receives an inheritance. Therefore, each of you children has to consider yourself to be a soul and remember the Father. For example, if there is any difficulty with the chariot or, for one reason or another, you don’t receive a murli, the attention of you children goes to Shiv Baba. He is never ill. You children have been given a lot of knowledge which you can explain to others. Some children explain such a great deal at exhibitions. You children have all of this knowledge. The knowledge shown in the pictures is in the intellect of each one of you. Nothing should stop you children. If there is no post or there is a strike, what would you do then? You children have knowledge anyway. You have to explain that the golden age did exist and that it is now the iron age, the old world. In the song too, you sing that this old world has nothing left to offer. You must not let your hearts remain attached to it. Otherwise, you will experience punishment. By having remembrance of the Father you can reduce your punishment. Let it not be that your remembrance of the Father is broken, so that you have to experience punishment and you return to the old world. There are many like this who have left. They do not even remember the Father. Their hearts are still attached to the old world. This present world is very bad. If you set your heart on someone, you will experience a great deal of punishment. You children must listen to this knowledge. You mustn’t listen to the songs of the path of devotion. You are now at the confluence age. It is at this confluence age that you receive knowledge from the Father, the Ocean of Knowledge. No one else in the world knows that only that One is the Ocean of Knowledge. When He gives knowledge to human beings they receive salvation. Only that One is the Bestower of Salvation, and so you have to follow His directions. Maya doesn’t leave anyone alone. It is because you become body conscious that you make one mistake or another. Some of you are semi-influenced by lust and some are influenced by anger. There are many storms in the mind. Because you fall in love with someone, you want to do this or that. You mustn’t let your heart become attached to anyone’s body. The Father says: Consider yourselves to be souls and all consciousness of your body will then finish. Otherwise, you are disobeying the Father’s directions. There is a huge loss when you become body conscious. Therefore, forget everything, including your own bodies. Simply remember the Father and the home. The Father explains to you souls: Whilst acting through your bodies, remember Me so that your sins will be burnt away. This path is very simple. Baba also knows that you continue to make mistakes. However, it shouldn’t be that you continue to be trapped by your mistakes. If you make a mistake, you mustn’t repeat it. Pull your own ears and tell yourself: I won’t make this mistake again. You must make effort. If you repeatedly make mistakes, you should understand that you are going to incur a great loss for yourself. It was because of your mistakes that you reached a state of degradation. What have you now become after coming down such a high ladder? Previously, you didn’t have this knowledge. All of you have now become wise with this knowledge, numberwise, according to the effort you have made. Remain introverted as much as possible. Keep your mouth closed! Those who are wise with knowledge would never attach their hearts to the old world. Their intellects would know that they want to bring about destruction of Ravan’s kingdom. This body is old and it belongs to Ravan’s community. Why should we remember Ravan’s community? We should only remember the one Rama (God). We have to become the ones who remain truly faithful to the Father. The Father says: Continue to remember Me and all your sins will be absolved. You have to remain faithful to the Father. This means being faithful to God. Devotees only remember God and pray: God, come and give us our inheritance of peace and happiness. On the path of devotion, devotees sacrifice themselves. Here, there is no question of sacrificing yourself. We die a living death, that is, we sacrifice ourselves to God. We have to belong to the Father for as long as we live, because we have to claim the inheritance from Him. We have to follow His directions. To sacrifice oneself whilst alive refers, in fact, to this time. On the path of devotion, they commit suicide, etc. Here, there is no question of committing suicide. The Father says: Consider yourselves to be souls and have yoga with the Father. Do not become body conscious. Whether you are sitting or walking, you must make effort to remember the Father. No one has yet passed with one hundred per cent; you all continue to fluctuate. If you are not cautioned about the mistakes you make, how are you going to stop making those mistakes? Maya doesn’t leave anyone alone. Many couples say: Baba, we have been defeated by Maya. We were making effort, but we don’t know what happened. We don’t know how we made such a serious mistake. They understand that, because of this mistake, their names will be defamed in the Brahmin clan. They are so strongly attacked by Maya that they aren’t even able to understand it. When they become body conscious, it is as though they also become senseless. When there is senselessness, there is also defamation. Their inheritance is then reduced. There are many who make such mistakes. Maya slaps them so hard that they are defeated. Then, in their anger, they slap others or hit them with their shoe. Then they repent. Baba says: You now have to make a lot of effort. You have caused yourselves harm and others too. You have lost so much. There are the omens of an eclipse of Rahu. The Father says: If you now donate your vices, you can be rid of those bad omens. Once there are the omens of Rahu, it does take time. It is difficult to climb the ladder once you have come down. When people have the habit of drinking alcohol, they find it very difficult to give it up. The biggest mistake some of you make is to dirty your face. You then continue to remember the bodies. Then, when you have children, you keep remembering them. What knowledge would you then be able to give to others? No one would listen to you. We are now making effort to remember the One alone and forget everyone else. You need to be very cautious about this. Maya is very powerful. Throughout the day, let your only concern be about remembering Shiv Baba. The play is now coming to an end and we will have to return home. Our bodies are going to be destroyed. To the extent that you remember the Father, accordingly you won’t remember anyone else and your body consciousness will be removed. This destination is very high. None of you must allow your heart to become attached to anyone but the one Father. Otherwise, that person will keep appearing in front of you. That one would definitely take revenge on you. Our destination is very high. It is easy to speak about this. Out of hundreds of thousands, only a very few become the beads of the rosary. Some win a scholarship. Those who make effort well will definitely win a scholarship. Become a detached observer and see how much service you do. Many of you children want to be released from having to work and to become engaged in this spiritual service, but Baba looks at each one’s circumstances. If you are alone and you have no relatives, that’s all right. Nevertheless, He says: Continue with your other business as well as this service. In your business you have to meet many people whom you can serve. You children have received a great deal of knowledge. The Father inspires a lot of service to be carried out through you children. He even enters some children and does service. He has to do service. How can those who have a responsibility sleep? Shiv Baba is the constantly ignited Lamp. The Father says: I do service day and night. If the body gets tired what can the soul do? The body can’t do enough work. The Father is tireless. He is the ignited Lamp who awakens everyone in the world. His part is wonderful. Only a few of you children know Him. The Father is the Death of all Deaths. If you don’t obey Him, you will experience punishment from Dharamraj. One of the Father’s principal directions is: Do not accept personal service from anyone. However, because you become body conscious, you disobey the Father’s directions. Baba says: You yourselves are servants. If you accept that happiness here, your happiness there would be reduced. If you form that habit, you would not be able to do without servants. Many say: I want to remain independent, but the Father says: It is good to remain dependent. All of you have to depend on the Father. It is by trying to be independent that you fall. All of you depend on Shiv Baba. The whole world depends on Him, and this is why they call out: O Purifier, come! You receive peace and happiness from Him but people don’t understand. You have to pass along the path of devotion. The Father comes when the night is ending. There cannot be the difference of even a second in when He comes. The Father says: I know this drama. No one else knows the beginning, the middle or the end of this drama. In the golden age, this knowledge will have disappeared. You now know the Creator and the beginning, middle and end of creation; this is called knowledge. Everything else is devotion. The Father is said to be knowledge-full. He is now giving us this knowledge. You children should have very good intoxication. However, you do also understand that a kingdom is being established. Some just become ordinary subjects or maids and servants. They don’t understand even a little knowledge! It is a wonder. This knowledge is very easy to understand. The cycle of our 84 births is now coming to an end. You will soon have to return to your home. We are the principal actors in this drama and so we know the whole drama. We play the hero and heroine parts throughout the whole drama. This is so easy, but if it’s not in your fortune, what effort would you make? This continues to happen in this study. Some of you still fail. This is such a large school. A kingdom has to be established. To the extent that each one of you children studies, each of you can understand for yourself what status you will claim. There are so many of you. Not all of you can become heirs. It is very difficult to become pure. The Father makes you understand everything so easily. This play is now coming to an end. You have to become completely pure, by having remembrance of the Father and you will then become the masters of the completely pure new world. Stay in remembrance for as long as possible. If this isn’t in your fortune, then, instead of remembering the Father, you remember others. By attaching your heart to someone else, you will have to cry a great deal. The Father says: Do not allow your heart to remain attached to this old world. This world has to be destroyed. No one else knows this. They think that the iron age has to continue for a lot longer. They are in a deep sleep. The service you do at exhibitions is a fast way to create subjects. Some kings and queens will also emerge. There are many who are very keen to do service. Some are rich and some are poor. You have to make others similar to yourselves. You will also receive benefit from that. You have to become sticks for the blind. Simply tell them to remember the Father and the inheritance. Destruction is standing ahead of you. Only when they see that the time of destruction is very close will they listen to what you tell them. Your service will increase and they will think: This is right. You continue to tell others that destruction has to take place. The service you do at exhibitions and fairs will also increase. You have to make effort to find a good hall. Tell them that you are prepared to pay rent for it. Tell them: Your name will be glorified even more. There are many people who have such halls. By making effort, you can receive three square feet of land. Until then, continue to hold small exhibitions. When you celebrate Shiv Jayanti, the sound will spread. Write: The day of Shiv Jayanti should be a public holiday. In fact, only that One’s birthday should be celebrated. He is the Purifier. The true stamp is that of the Trimurti. It says: Victory through Truth. This is the time of your gaining victory. You need someone good who can explain these things to others. The main ones at the centres need to pay attention to everyone. You can create your own stamp: This is Trimurti Shiv Jayanti. People will not understand anything if you simply say “Shiv Jayanti”. It is you children who have to do all the work. When you benefit many, you will also receive such a lift. You will receive a great lift from the service you do. There can be a lot of service accomplished at exhibitions. Subjects do have to be created. Baba continues to see which children pay attention to service. They are the ones who climb on to Baba’s heart throne. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. If you make a mistake, pull your own ears there and then, so that you don’t make the same mistake again. Never become body conscious. Become an expert in this knowledge and remain introverted.
  2. Remain truly faithful to the one Father. Sacrifice yourself to Him for as long as you live. Don’t allow your heart to become attached to anyone else. Don’t do anything senseless.
Blessing: May you be a master creator and with your broad and unlimited intellect and your big heart give the experience of belonging.
The first creation of a master creator is his body. Those who achieve complete success in being masters of their bodies give everyone the experience of belonging through their love and connection. By having a connection with such a soul, souls will experience one speciality or other of happiness, of a bestower, peace, love, bliss, co-operation, courage, zeal and enthusiasm. Only such souls are said to be those with broad and unlimited intellects and big hearts.
Slogan: Constantly continue to experience the flying stage with the wings of zeal and enthusiasm.

*** Om Shanti ***

Special homework to experience the avyakt stage in this avyakt month.

Before you perform a deed, speak a words or have a thoughts, first of all check whether they are the same as those of Father Brahma. The speciality of Father Brahma was: Whatever he thought, whatever he said, he did that. Follow the father in the same way. With the awareness of your own self-respect, with the power of the Father’s companionship and with the power of faith and determination, stay in your elevated position and finish all opposition, you will then easily experience the avyakt stage.

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 17 JANUARY 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 17 January 2020

17-01-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – इस पुरानी दुनिया में कोई भी सार नहीं है, इसलिए तुम्हें इससे दिल नहीं लगानी है, बाप की याद टूटी तो सजा खानी पड़ेगी”
प्रश्नः- बाप का मुख्य डायरेक्शन क्या है? उसका उल्लंघन क्यों होता है?
उत्तर:- बाप का डायरेक्शन है किसी से सेवा मत लो क्योंकि तुम खुद सर्वेन्ट हो। परन्तु देह-अभिमान के कारण बाप के इस डायरेक्शन का उल्लंघन करते हैं। बाबा कहते तुम यहाँ सुख लेंगे तो वहाँ का सुख कम हो जायेगा। कई बच्चे कहते हैं हम तो इन्डिपेन्डेन्ट रहेंगे परन्तु तुम सब बाप पर डिपेन्ड करते हो।
गीत:- दिल का सहारा टूट न जाए……

ओम् शान्ति। शिव भगवानुवाच अपने सालिग्रामों प्रति। शिव और सालिग्राम को तो सब मनुष्य जानते हैं। दोनों निराकार हैं। अब कृष्ण भगवानुवाच कह नहीं सकते। भगवान एक ही होता है। तो शिव भगवानुवाच किसके प्रति? रूहानी बच्चों प्रति। बाबा ने समझाया है बच्चों का अब कनेक्शन है ही बाप से क्योंकि पतित-पावन ज्ञान का सागर, स्वर्ग का वर्सा देने वाला तो शिवबाबा ही ठहरा। याद भी उनको करना है। ब्रह्मा है उनका भाग्यशाली रथ। रथ द्वारा ही बाप वर्सा देते हैं। ब्रह्मा वर्सा देने वाला नहीं है, वह तो लेने वाला है। तो बच्चों को अपने को आत्मा समझ बाप को याद करना है। मिसला समझो रथ को कोई तकलीफ होती है वा कारणे-अकारणे बच्चों को मुरली नहीं मिलती है तो बच्चों का सारा अटेन्शन जाता है शिवबाबा तरफ। वह तो कभी बीमार पड़ नहीं सकते। बच्चों को इतना ज्ञान मिला है वह भी समझा सकते हैं। प्रदर्शनी में बच्चे कितना समझाते हैं। ज्ञान तो बच्चों में है ना। हर एक की बुद्धि में चित्रों का ज्ञान भरा हुआ है। बच्चों को कोई अटक नहीं रह सकती। समझो पोस्ट का आना-जाना बंद हो जाता है, स्ट्राइक हो जाती है फिर क्या करेंगे? ज्ञान तो बच्चों में है। समझाना है सतयुग था, अब कलियुग पुरानी दुनिया है। गीत में भी कहते हैं पुरानी दुनिया में कोई सार नहीं है, इनसे दिल नहीं लगानी है। नहीं तो सज़ा मिल जायेगी। बाप की याद से सजायें कटती जायेंगी। ऐसा न हो बाप की याद टूट जाये फिर सजा खानी पड़े और पुरानी दुनिया में चले जायें। ऐसे तो ढेर गये हैं, जिनको बाप याद भी नहीं है। पुरानी दुनिया से दिल लग गई, जमाना बहुत खराब है। कोई से दिल लगाई तो सज़ा बहुत मिलेगी। बच्चों को ज्ञान सुनना है। भक्ति मार्ग के गीत भी नहीं सुनने हैं। अभी तुम हो संगम पर। ज्ञान सागर बाप द्वारा तुमको संगम पर ही ज्ञान मिलता है। दुनिया में यह किसको पता नहीं है कि ज्ञान सागर एक ही है। वह जब ज्ञान देते हैं तब मनुष्यों की सद्गति होती है। सद्गति दाता एक ही है फिर उनकी मत पर चलना है। माया छोड़ती कोई को भी नहीं है। देह-अभिमान के बाद ही कोई न कोई भूल होती है। कोई सेमी काम वश हो जाते हैं, कोई क्रोध वश। मन्सा में तूफान बहुत आते हैं – प्यार करें, ये करें.. । कोई के शरीर से दिल नहीं लगानी है। बाप कहते हैं अपने को आत्मा समझो तो शरीर का भान न रहे। नहीं तो बाप की आज्ञा का उल्लंघन हो जाता है। देह-अहंकार से नुकसान बहुत होता है इसलिए देह सहित सब-कुछ भूल जाना है। सिर्फ बाप को और घर को याद करना है। आत्माओं को बाप समझाते हैं, शरीर से काम करते मुझे याद करो तो विकर्म भस्म हो जायेंगे। रास्ता तो बहुत सहज है। यह भी समझते हैं तुमसे भूलें होती रहती हैं। परन्तु ऐसा न हो-भूलों में फँसते ही जाओ। एक बारी भूल हुई फिर वह भूल नहीं करनी चाहिए। अपना कान पकड़ना चाहिए, फिर यह भूल नहीं होगी। पुरुषार्थ करना चाहिए। अगर घड़ी-घड़ी भूल होती है तो समझना चाहिए हमारा बहुत नुकसान होगा। भूल करते-करते तो दुर्गति को पाया है ना। कितनी बड़ी सीढ़ी उतरकर क्या बने हैं! आगे तो यह ज्ञान नहीं था। अभी नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार ज्ञान में सब प्रवीण हो गये हैं। जितना हो सके अन्तुर्मखी भी रहना है, मुख से कुछ कहना नहीं है। जो ज्ञान में प्रवीण बच्चे हैं, वह कभी पुरानी दुनिया से दिल नहीं लगायेंगे। उनकी बुद्धि मे रहेगा हम तो रावण राज्य का विनाश करना चाहते हैं। यह शरीर भी पुराना रावण सम्प्रदाय का है तो हम रावण सम्प्रदाय को क्यों याद करें? एक राम को याद करें। सच्चे पिताव्रता बने ना।

बाप कहते हैं मुझे याद करते रहो तो तुम्हारे विकर्म विनाश हो जायेंगे। पिताव्रता अथवा भगवान व्रता बनना चाहिए। भक्त भगवान को ही याद करते हैं कि हे भगवान आकर हमें सुख-शान्ति का वर्सा दो। भक्तिमार्ग में तो कुर्बान जाते हैं, बलि चढ़ते हैं। यहाँ बलि चढ़ने की बात तो है नहीं। हम तो जीते जी मरते हैं गोया बलि चढ़ते हैं। यह है जीते जी बाप का बनना क्योंकि उनसे वर्सा लेना है। उनकी मत पर चलना है। जीते जी बलि चढ़ना, वारी जाना वास्तव में अभी की बात है। भक्ति मार्ग में वह फिर कितना जीवघात आदि करते हैं। यहाँ जीवघात की बात नहीं। बाप कहते हैं अपने को आत्मा समझो, बाप से योग लगाओ, देह-अभिमान में नहीं आओ। उठते-बैठते बाप को याद करने का पुरुषार्थ करना है। 100 परसेन्ट पास तो कोई हुआ नहीं है। नीचे-ऊपर होते रहते हैं। भूलें होती हैं, उस पर सावधानी नहीं मिलेगी तो भूलें छोड़ेंगे कैसे? माया किसको भी छोड़ती नहीं है। कहते हैं बाबा हम माया से हार जाते हैं, पुरुषार्थ करते भी हैं फिर पता नहीं क्या होता है। हमसे इतनी कड़ी भूलें पता नहीं कैसे हो जाती हैं। समझते भी हैं ब्राह्मण कुल में इससे हमारा नाम बदनाम होता है। फिर भी माया का ऐसा वार होता है जो समझ में नहीं आता। देह-अभिमान में आने से जैसे बेसमझ बन जाते हैं। बेसमझी के काम होते हैं तो ग्लानि भी होती, वर्सा भी कम हो जाता। ऐसे बहुत भूलें करते हैं। माया ऐसा जोर से थप्पड़ लगा देती है जो खुद तो हार खाते हैं और फिर गुस्से में आकर किसको थप्पड़ वा जूता आदि मारने लग पड़ते हैं फिर पश्चाताप् भी करते हैं। बाबा कहते हैं कि अब तो बहुत मेहनत करनी पड़े। अपना भी नुकसान किया तो दूसरे का भी नुकसान किया, कितना घाटा हो गया। राहू का ग्रहण बैठ गया। अब बाप कहते हैं दे दान तो छूटे ग्रहण। राहू का ग्रहण बैठता है तो फिर वह टाइम लेता है। सीढ़ी चढ़कर फिर उतरना मुश्किल होता है। मनुष्य को शराब की आदत पड़ती है तो फिर वह छोड़ने में कितनी मुश्किलात होती है। सबसे बड़ी भूल है – काला मुंह करना। घड़ी-घड़ी शरीर याद आता है। फिर बच्चे आदि होते हैं तो उनकी ही याद बनी रहती है। वह फिर दूसरों को ज्ञान क्या देंगे। उनका कोई सुनेंगे भी नहीं। हम तो अभी सबको भूलने की कोशिश कर एक को याद करते हैं। इसमें सम्भाल बहुत करनी पड़ती है। माया बड़ी तीखी है। सारा दिन शिवबाबा को याद करने का ही ख्याल रहना चाहिए। अब नाटक पूरा होता है, हमको जाना है। यह शरीर भी खत्म हो जाना है। जितना बाप को याद करेंगे तो देह-अभिमान टूटता जायेगा और कोई की भी याद नहीं होगी। कितनी बड़ी मंजिल है, सिवाए एक बाप के और कोई के साथ दिल नहीं लगानी है। नहीं तो जरूर वह सामने आयेंगे। वैर जरूर लेंगे। बहुत ऊंची मंजिल है। कहना तो बड़ा सहज है, लाखों में कोई एक दाना निकलता है। कोई स्कॉलरशिप भी लेते हैं ना। जो अच्छी मेहनत करेंगे, जरूर स्कॉलरशिप लेंगे। साक्षी हो देखना है, कैसे सर्विस करता हूँ? बहुत बच्चे चाहते हैं जिस्मानी सर्विस छोड़ इसमें लग जावें। परन्तु बाबा सरकमस्टांश भी देखते हैं। अकेला है, कोई सम्बन्धी नहीं हैं तो हर्जा नहीं। फिर भी कहते हैं नौकरी भी करो और यह सेवा भी करो। नौकरी में भी बहुतों के साथ मुलाकात होगी। तुम बच्चों को ज्ञान तो बहुत मिला हुआ है। बच्चों द्वारा भी बाप बहुत सर्विस कराते रहते हैं। कोई में प्रवेश कर सर्विस करते हैं। सर्विस तो करनी ही है। जिनके माथे मामला वो कैसे नींद करें! शिवबाबा तो है ही जागती ज्योत। बाप कहते हैं मैं तो दिन-रात सर्विस करता हूँ, थकता शरीर है। फिर आत्मा भी क्या करे, शरीर काम नहीं देता है। बाप तो अथक है ना। वह है जागती ज्योत, सारी दुनिया को जगाते हैं। उनका पार्ट ही वन्डरफुल है, जिसको तुम बच्चों में भी थोड़े जानते हैं। कालों का काल है बाप। उनकी आज्ञा नहीं मानेंगे तो धर्मराज से डन्डा खायेंगे। बाप का मुख्य डायरेक्शन है किसी से सेवा मत लो। परन्तु देह-अभिमान में आकर बाप की आज्ञा का उल्लंघन करते हैं। बाबा कहते तुम खुद सर्वेन्ट हो। यहाँ सुख लेंगे तो वहाँ सुख कम हो जायेगा। आदत पड़ जाती है तो सर्वेन्ट बिगर रह नहीं सकते हैं। कई कहते हैं हम तो इन्डिपेन्डेट रहेंगे परन्तु बाप कहते हैं डिपेन्ड रहना अच्छा है। तुम सब बाप पर डिपेन्ड करते हो। इन्डिपेन्डेन्ट बनने से गिर पड़ते हैं। तुम सब डिपेन्ड करते हो शिवबाबा पर। सारी दुनिया डिपेन्ड करती है, तब तो कहते हैं हे पतित-पावन आओ। उनसे ही सुख-शान्ति मिलती है, परन्तु समझते नहीं हैं। यह भक्ति मार्ग का समय भी पास करना ही है, जब रात पूरी होती है तब बाप आते हैं। एक सेकण्ड का भी फ़र्क नहीं पड़ सकता। बाप कहते हैं मैं इस ड्रामा को जानने वाला हूँ। ड्रामा के आदि, मध्य, अन्त को और कोई भी नहीं जानते। सतयुग से लेकर यह ज्ञान प्राय:लोप है। अभी तुम रचयिता और रचना के आदि, मध्य, अन्त को जानते हो, इसको ही ज्ञान कहा जाता है, बाकी सब है भक्ति। बाप को नॉलेजफुल कहते हैं। हमको वह नॉलेज मिल रही है। बच्चों को नशा भी अच्छा होना चाहिए। परन्तु यह भी समझते हैं कि राजधानी स्थापन होती है। कोई तो प्रजा में भी साधारण नौकर-चाकर बनते हैं। ज़रा भी ज्ञान समझ में नहीं आता। वन्डर है ना! ज्ञान तो बड़ा सहज है। 84 जन्मों का चक्र अब पूरा हुआ है। अब जाना है अपने घर। हम ड्रामा के मुख्य एक्टर्स हैं। सारे ड्रामा को जान गये हैं। सारे ड्रामा में हीरो-हीरोइन एक्टर हम हैं। कितना सहज है। परन्तु तकदीर में नहीं है तो तदबीर भी क्या करें! पढ़ाई में ऐसा होता है। कोई नापास हो जाते हैं, कितना बड़ा स्कूल है। राजधानी स्थापन होनी है। अब जितना जो पढ़ेंगे, बच्चे जान सकते हैं हम क्या पद पायेंगे? ढेर के ढेर हैं, सब वारिस तो नहीं बनेंगे। पवित्र बनना बड़ा मुश्किल है। बाप कितना सहज समझाते हैं, अब नाटक पूरा होता है। बाप की याद से सतोप्रधान बन, सतोप्रधान दुनिया का मालिक बनना है। जितना हो सके याद में रहना है। परन्तु तकदीर में नहीं है तो फिर बाप के बदले और-और को याद करते हैं। दिल लगाने से फिर रोना भी बहुत पड़ता है। बाप कहते हैं इस पुरानी दुनिया से दिल नहीं लगानी है। यह तो खत्म होनी है। यह और कोई को पता नहीं है। वह तो समझते हैं कलियुग अभी बहुत समय चलना है। घोर नींद में सोये पड़े हैं। तुम्हारी यह प्रदर्शनी प्रजा बनाने के लिए विहंग मार्ग की सर्विस का साधन है। राजा-रानी भी कोई निकल पड़ेगा। बहुत हैं जो सर्विस का अच्छा शौक रखते हैं। फिर कोई गरीब, कोई साहूकार हैं। औरों को आपसमान बनाते हैं, उनका भी फायदा तो मिलता है ना। अन्धों की लाठी बनना है, सिर्फ यह बतलाना है कि बाप और वर्से को याद करो, विनाश सामने खड़ा है। जब विनाश का समय नज़दीक देखेंगे तब तुम्हारी बातों को सुनेंगे। तुम्हारी सर्विस भी वृद्धि को पाती जायेगी, समझेंगे बरोबर ठीक है। तुम रड़ियाँ तो मारते रहते हो कि विनाश होना है।

तुम्हारी प्रदर्शनी, मेला सर्विस वृद्धि को पाती रहेगी। कोशिश करनी है कोई अच्छा हाल मिल जाए, किराया देने के लिए तो हम तैयार हैं। बोलो, तुम्हारा और ही नाम बाला होगा। ऐसे बहुतों के पास हाल पड़े होते हैं। पुरुषार्थ करने से 3 पैर पृथ्वी के मिल जायेंगे। जब तक तुम छोटी-छोटी प्रदर्शनी रखो। शिव जयन्ती भी तुम मनायेंगे तो आवाज़ होगा। तुम लिखते भी हो शिव जयन्ती की छुटटी का दिन मुकरर करो। वास्तव में जन्म दिन तो एक का ही मनाना चाहिए। वही पतित-पावन है। स्टैम्प भी वास्तव में असली यह त्रिमूर्ति की है। सत्य मेव जयते…… यह है विजय पाने का समय। समझाने वाला भी अच्छा चाहिए। सभी सेन्टर्स के जो मुख्य हैं उन्हों को अटेन्शन देना पड़े। अपनी स्टैम्प निकाल सकते हैं। यह है त्रिमूर्ति शिव जयन्ती। सिर्फ शिव जयन्ती कहने से समझ नहीं सकेंगे। अब काम तो बच्चों को ही करना है। बहुतों का कल्याण होगा तो कितनी लिफ्ट मिलेगी, सर्विस की लिफ्ट बहुत मिलती है। प्रदर्शनी से बहुत सर्विस हो सकती है। प्रजा तो बनेगी ना। बाबा देखते हैं सर्विस पर किन बच्चों का अटेन्शन रहता है! दिल पर भी वही चढेंगे। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अगर एक बार कोई भूल हुई तो उसी समय कान पकड़ना है, दुबारा वह भूल न हो। कभी भी देह अहंकार में नहीं आना है। ज्ञान में प्रवीण बन अन्तर्मुखी रहना है।

2) सच्चा पिताव्रता बनना है, जीते जी बलि चढ़ना है। किसी से भी दिल नहीं लगानी है। बेसमझी का कोई भी काम नहीं करना है।

वरदान:- विशाल बुद्धि विशाल दिल से अपने पन की अनुभूति कराने वाले मास्टर रचयिता भव
मास्टर रचयिता की पहली रचना-यह देह है। जो इस देह के मालिकपन में सम्पूर्ण सफलता प्राप्त कर लेते हैं, वे अपने स्नेह वा सम्पर्क द्वारा सर्व को अपनेपन का अनुभव कराते हैं। उस आत्मा के सम्पर्क से सुख की, दातापन की, शान्ति, प्रेम, आनंद, सहयोग, हिम्मत, उत्साह, उमंग किसी न किसी विशेषता की अनुभूति होती है। उन्हें ही कहा जाता है विशालबुद्धि, विशाल दिल वाले।
स्लोगन:- उमंग-उत्साह के पंखों द्वारा सदा उड़ती कला की अनुभूति करते चलो।

अव्यक्त स्थिति का अनुभव करने के लिए विशेष होमवर्क

कोई भी कर्म करो, बोल बोलो वा संकल्प करो तो पहले चेक करो कि यह ब्रह्मा बाप समान है! ब्रह्मा बाप की विशेषता विशेष यही रही – जो सोचा वो किया, जो कहा वो किया। ऐसे फालो फादर। अपने स्वमान की स्मृति से, बाप के साथ की समर्थी से, दृढ़ता और निश्चय की शक्ति से श्रेष्ठ पोजीशन पर रह आपोजीशन को समाप्त कर दो तो अव्यक्त स्थिति सहज बन जायेगी।

TODAY MURLI 17 JANUARY 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 17 January 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 16 January 2019 :- Click Here

17/01/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you should be amazed at how you have found such a sweet Father who has no desires and how He is such a great Bestower. He doesn’t have the slightest desire to receive anything.
Question: What wonderful part does the Father play? With which desire has the 100% altruistic Father come onto this earth?
Answer: Baba’s wonderful part is to teach us. He comes here just to do service. He sustains us. He gives us love and affection and says: Sweet children, do this. He gives us knowledge but doesn’t take anything. The 100% altruistic Father has the desire to go and show His children the path, give them the news of the beginning, the middle and the end of the world. The Father’s desire is for the children to become virtuous.

Om shanti. You sweetest, spiritual children have found the spiritual Father who doesn’t take anything. He doesn’t eat or drink anything. So, He has no hopes or desires. Human beings definitely have one desire or another. They want to become wealthy or become such-and-such. That One has no desire; He is Abhogta (beyond the effect of experience). You have heard that there was a sage who used to say that he didn’t eat or drink anything. It was as though he was copying. In the whole world, it is just the one Father who doesn’t take anything or do anything. Therefore, you children should think about whose children you are. How does the Father enter this one? He Himself doesn’t have any desire. He is incognito. Only you children know His whole biography. Among you too, there are few who understand this fully. It should enter your hearts that you have found the Father who doesn’t eat, drink or take anything. He doesn’t have any desires. There cannot be anyone like Him. Only the one incorporeal, highest-on-high God has been remembered; everyone remembers Him. He, your Father, is Abhogta, the Teacher is Abhogta and the Satguru is Abhogta. He doesn’t take anything. What would He do with it after taking it from you? That One is the wonderful Father. He doesn’t have the slightest desire for Himself. There is no human being like that. Human beings need everything, food and clothes etc. I don’t need anything. You call out to Me to come and make the impure ones pure. I am incorporeal. I do not take anything. I do not even have My own form (body). I simply enter this one. It is the soul in this one that eats and drinks. My soul doesn’t have any desires. I come here just for service. You have to think about how wonderful this play is. The one Father is loved by everyone. He doesn’t have any desires. He simply comes and teaches and sustains us. He gives us love and affection: Sweet children, do this! He gives you knowledge, but He doesn’t take anything. Only the Father is Karankaravanhar. If you were to give something to Shiv Baba, what would He do with it? Would He take toli and eat it? Shiv Baba doesn’t even have a body, so how would He take anything? And, look how much service He does! He gives you all very good directions and makes you beautiful. You children should be amazed about this. The Father is the Bestower anyway. The Bestower is so great. He doesn’t have any desires. Although Brahma is concerned that he has to look after so many children and feed them with whatever money comes in it is only for Shiv Baba. I sacrificed everything. I follow the Father’s shrimat and use everything Ihave in a worthwhile way and make my future, whereas the Father is 100% altruistic. He simply has the concern to go and show the path to everyone: I should go and give the news of the beginning, middle and end of the world. No one else knows it. Only you children know it. The Father teaches you in the form of the Teacher. He doesn’t take any fees from you. Whatever you take, you take that in Shiv Baba’s name. The return is received there. Does Baba have a desire to become Narayan from an ordinary man? The Father teaches you according to the drama. It isn’t that He has a desire to be seated on the highest throne, no. Everything depends on how you study and your divine virtues. You then also have to teach others. The Father sees that whatever act is enacted by this one according to the drama, it happened in the previous cycle. He sees that as the detached Observer. He also tells you children: See everything as detached observers. Look at yourself and see whether you are studying or not. Am I following shrimat or not? Am I doing service to make others the same as myself or not? The Father speaks by taking this one’s mouth on loan. A soul is living; a corpse cannot speak. He would definitely enter a living being. The Father is so altruistic. He doesn’t have any desires. A physical father would feel that when his children grow up, they would look after him. That One doesn’t have any desires. He knows what His part in the drama is like. I simply come to teach you. This too is fixed. People don’t know the drama at all. You children have the faith that the Father is teaching you. This Brahma is also studying. He would definitely be studying the best of all. He is also a very good helper of Shiv Baba. I don’t have any wealth. Only you children give wealth and also receive it. You give two handfuls and receive it in the future. Some don’t have anything and so they don’t give anything. Nevertheless, if someone studies well, he will receive a good status in the future. There are very few who remember that they are studying for the new world. If they remember this, that too is “Manmanabhav”. However, there are many who waste their time in worldly matters. They forget everything: What Baba is teaching, how He is teaching and how high the status is, that they have to claim. They continue to fight and quarrel among themselves and waste their time. Those who are to pass a high examination would never waste their time ; they would study well and follow shrimat. You have to follow shrimat. The Father says: You are disobedient. I give you shrimat to remember the Father and you forget. This would be called weakness. Maya catches hold of you by the nose, bites you and sits on your head. This is a battlefield. Maya gains victory over very good children so whose name is then defamed? Shiv Baba’s. It is remembered that those who defame the name of the Satguru cannot claim a high status. How could those who are defeated by Maya claim a high status? You should use your intellect for your own benefit and see how you can make effort to receive your inheritance from Baba. Become very good like the maharathis and show everyone the path. Baba shows you very easy methods for service. The Father says: You have been calling out to Me and I now tell you. Remember Me and you will become pure. There are the pictures of the pure world. This is the main thing. Here, you have an aim and objective. It isn’t that if you want to study to become a doctor you would have to remember a doctor or that if you want to become a barrister you would have to remember a barrister. The Father says: Simply remember Me alone. I am the One who will fulfil all your desires. Simply remember Me, no matter how much Maya disturbs you. There is still a battle between you. It isn’t that you will instantly gain victory over her. Up to now, not a single person has gained victory over Maya. By gaining victory, you will then become the masters of the world. People sing: I am a slave; I am Your slave. Here, you have to make Maya your slave. There, Maya will never cause you sorrow. Nowadays, the world is very dirty. They continue to cause sorrow for one another. Baba is so sweet and He doesn’t have any desires for Himself. You don’t remember such a Father! Some even say: I believe in Shiv Baba, not in Brahma Baba. However, both are together. You cannot make a bargain without the agent. This one is Baba’s chariot and his name is “The Lucky Chariot” (Bhagirath). You know that the number one, the highest of all, is this one. In a class, a monitor is given respect; he is given regard. This one is the number one beloved, long-lost and now-found child. There, all the kings have to have regard for this one (Shri Narayan). Only when you understand this would you have the sense to give him regard. Only when you learn to give him regardhere will you be able to give him regard there. Otherwise, what will you receive? You can’t even remember Shiv Baba. The Father says: Your boat will go across by having remembrance. He gives you the unlimited kingdom. You should remember such a Father so much. You should have so much love for Him inside you. Look how this one loves the Father so much. It is only when you have love that your vessel can become golden. Those whose vessels are golden will have first-class behaviour. According to the drama, the kingdom has to be established. All types are needed for that. The Father explains: Children, you should never become angry. You should understand that if you don’t do service, it means you are wasting your time. If someone doesn’t do service for Shiv Baba’s yagya, what would he receive? Only serviceable ones will be able to claim a high status. You should have an interest in bringing benefit for yourselves. If you don’t do this, you are destroying your status. When students are studying well, their teacher is pleased with them because he understands that they will glorify his name, and that he will receive a prize because of them. The father and teacher etc. would all be happy. Parents surrender themselves to good, worthy children who do very good service. So, the Father, too, is pleased when He hears this. The names of those who serve many would definitely be glorified. They are the ones who would be able to claim a high status. Day and night, their only concern is for service. They are not concerned about their food and drink. While explaining knowledge, their throats even dry up. It is only such beloved, long-lost and now-found children who will claim a high status. This is something for 21 births, and that, too, for cycle after cycle. When the result s are announced, it will be understood who did service and to how many they showed the path. It is also essential to reform one’s character. There are the names “maharathis”, “cavalry” and “infantry”. If you don’t do service, you should understand that you are part of the infantry. None of you should think that you will receive a high status because you helped with your wealth. That is a complete mistake. Everything depends on your service and how you study. The Father continues to explain to you children that you should study and claim a high status and not incur a loss for yourselves for every cycle. Baba sees when you are incurring a loss for yourself: This one doesn’t know anything, because he is just happy thinking that he will claim a number ahead in the rosary because he has given some money. Even if someone has given money but he hasn’t imbibed knowledge and doesn’t stay in yoga, of what use is that? If you don’t have mercy, then how are you following the Father? The Father has come to make you children beautiful. The Father surrenders Himself to those who make many others beautiful. There is also a lot of physical service to do. Baba praises the bhandari (one who looks after the kitchen) a great deal. She receives blessings from many. To the extent that they serve and give their bones in service, they are accordingly only benefiting themselves; they earn their own income. They serve with a lot of love from deep within their hearts. Those who cause conflict spoil their own fortune. Those who have greed will be harassed by it. All of you are in the stage of retirement. All of you have to go beyond sound. Each of you should ask yourself: How much service do I do throughout the whole day? Some children don’t feel happiness unless they are doing service. Some have bad omens over their intellects and over their study. Baba is teaching everyone to the same extent. Everyone’s intellect is different. Nevertheless, you should still make effort. Otherwise, your status will become like that for cycle after cycle. At the end, when the result s are announced, you will all have visions of everything. You will have visions and then be transferred. It also says in the scriptures that they repented a great deal at the end for having wasted a lot of time and for having been deceived a great deal for cycle after cycle. The Father continues to caution you. Shiv Baba has only the one desire, that the children study and claim a high status. He doesn’t have any other desires. There is nothing that is useful for Him. The Father explains: Children, become introverted. The whole world is extroverted. You become introverted. You also have to check your stage and make effort to reform yourselves. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Become a detached observer and look at your own part: Am I studying well and also teaching others or not? Am I doing service to make others the same as I am? Do not waste your time in worldly matters.
  2. Become introverted and reform yourself. Have an interest in bringing benefit to yourself. Remain busy in service. Definitely be merciful like the Father.
Blessing: May you receive the blessing of success by using everything in a worthwhile way and become an image that is blessed.
At the confluence age, you children have the inheritance and also the blessing: “Use everything in a worthwhile way and receive success!” To use everything in a worthwhile way is the seed and success is the fruit. If the seed is good, then it is impossible that you do not receive its fruit. Just as you tell others to use their time, thoughts and wealth in a worthwhile way, in the same way, check your list of all treasures and see which treasures were used in a worthwhile way and which were wasted. Continue to use everything in a worthwhile way and you will become full of all treasures and an image that is blessed.
Slogan: In order to receive God’s award, avoid anything wasteful or negative.

*** Om Shanti ***

Special effort to become equal to Father Brahma.

Like Father Brahma, do not go into the expansion of anything, put a full stop to the expansion and merge that situation in the point. Become a point, put a full stop and merge yourself in the point and all the expansion and the web will become merged in one second and your time will be saved and you will be liberated from effort. You will become a point and be lost in love in the point.

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 17 JANUARY 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 17 January 2019

To Read Murli 16 January 2019 :- Click Here
17-01-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – तुम्हें वन्डर खाना चाहिए कि हमें कैसा मीठा बाप मिला है जिसे कोई भी आश नहीं और दाता कितना जबरदस्त है, लेने की जरा भी तमन्ना नहीं।”
प्रश्नः- बाप का वन्डरफुल पार्ट कौन सा है? 100 प्रतिशत निष्कामी बाप किस कामना से सृष्टि पर आया है?
उत्तर:- बाबा का वन्डरफुल पार्ट है पढ़ाने का। वह सर्विस के लिए ही आते हैं। पालना करते हैं। पुचकार देकर कहते हैं मीठे बच्चे यह करो। ज्ञान सुनाते हैं, लेते कुछ नहीं। 100 प्रतिशत निष्कामी बाप को कामना हुई है मैं अपने बच्चों को जाकर रास्ता बताऊं। सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त का समाचार सुनाऊं। बच्चे गुणवान बनें… बाप की यही कामना है।

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे रूहानी बच्चों को रूहानी बाप ऐसा मिला हुआ है जो कुछ लेता नहीं, कुछ खाता नहीं। कुछ पीता नहीं। तो उनको कोई आश वा उम्मीद नहीं है और मनुष्यों को कोई न कोई आश ज़रूर होती है। धनवान बनें, फलाना बनें। उनको कोई आश नहीं, वह अभोक्ता है। तुमने सुना था एक साधू कहता है मैं कुछ खाता पीता नहीं। यह तो जैसे कापी करते हैं। सारे विश्व में एक ही बाप है जो कुछ लेता करता नहीं। तो बच्चों को ख्याल करना चाहिए कि हम किसके बच्चे हैं। बाप कैसे आकर इनमें प्रवेश करते हैं। खुद की कोई तमन्ना नहीं। खुद तो गुप्त है। उनकी जीवन कहानी को तुम बच्चे ही जानते हो। तुम्हारे में भी थोड़े हैं जो पूरी रीति समझते हैं। दिल में आना चाहिए कि हमको ऐसा बाप मिला है जो न कुछ खाता, न पीता, न लेता। कुछ भी उनको दरकार नहीं। ऐसा तो कोई हो नहीं सकता। एक ही निराकार ऊंच ते ऊंच भगवान ही गाया हुआ है। उनको ही सब याद करते हैं। वह तुम्हारा बाप भी अभोक्ता, टीचर भी अभोक्ता तो सतगुरू भी अभोक्ता। कुछ भी लेते नहीं, लेकर वह क्या करेंगे! यह भी वन्डरफुल बाप है। अपने लिए जरा भी आश नहीं। ऐसा कोई मनुष्य होता नहीं। मनुष्य को तो खाना कपड़ा आदि सब चाहिए। मुझे कुछ नहीं चाहिए। मुझे तो बुलाते हैं कि आकर पतितों को पावन बनाओ। मैं हूँ निराकार, मैं कुछ नहीं लेता। मुझे तो अपना आकार ही नहीं। मैं सिर्फ इसमें प्रवेश करता हूँ। बाकी खाती पीती इनकी आत्मा है। मेरी आत्मा को कुछ भी आश नहीं। हम सर्विस के लिए ही आते हैं। सोच करना होता है, कैसा वन्डरफुल खेल है। एक बाप सबका प्यारा है। उनको ज़रा भी आश नहीं। सिर्फ आकर पढ़ाते हैं, पालना करते हैं, पुचकार देते हैं – मीठे बच्चे यह करो। ज्ञान सुनाते हैं, लेते कुछ भी नहीं। करनकरावनहार बाप ही है। समझो कुछ शिवबाबा को दिया। वह क्या करेंगे। टोली लेकर खायेंगे? शिवबाबा को शरीर ही नहीं। तो लेवे कैसे? और सर्विस देखो कितनी करते हैं। सबको अच्छी-अच्छी मत देकर गुल-गुल बनाते हैं। बच्चों को वन्डर खाना चाहिए। बाप तो है ही दाता। दाता भी कितना जबरदस्त और कोई तमन्ना नहीं। ब्रह्मा को भल फुरना है, इतने बच्चों की सम्भाल करनी है, खिलाना पिलाना है, पैसा जो भी आता है वह शिवबाबा के लिए ही आता है। हमने तो सब कुछ स्वाहा कर दिया। बाप की श्रीमत पर चल अपना सब कुछ सफल कर भविष्य बनाते हैं। बाप तो 100 परसेन्ट निष्कामी है। सिर्फ यही फुरना है कि सबको जाकर रास्ता बताऊं। सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त का समाचार सुनाऊं और तो कोई जानते नहीं। तुम बच्चे ही जानते हो। बाप टीचर के रूप में पढ़ाते हैं। फी आदि कुछ लेते नहीं। तुम शिवबाबा के नाम पर लेते हो। वहाँ रिटर्न में मिलता है। बाबा में यह तमन्ना है क्या कि हम नर से नारायण बनें? बाप तो ड्रामा अनुसार पढ़ाते हैं। ऐसा नहीं कि उनको आश है कि हम ऊंच ते ऊंच तख्तनशीन बनें। नहीं। सारा मदार है पढ़ाई पर, दैवी गुणों पर। और फिर औरों को भी पढ़ाना है। बाप देखते हैं ड्रामा अनुसार कल्प पहले मिसल इनकी जो एक्ट चलती है, साक्षी होकर देखते हैं। बच्चों को भी कहते हैं तुम साक्षी होकर देखो। अपने को भी देखो, हम पढ़ते हैं वा नहीं। श्रीमत पर चलते हैं वा नहीं। औरों को आप समान बनाने की हम सर्विस करते हैं वा नहीं। बाप तो इनके मुख का लोन लेकर बोलते हैं। आत्मा तो चैतन्य है ना। मुर्दे में तो बोल न सकें। ज़रूर चैतन्य में ही आयेंगे। तो बाप कितना निष्कामी है, कोई आश नहीं। लौकिक बाप तो समझते हैं बच्चे बड़े होंगे फिर मुझे खिलायेंगे। इनकी तो कोई तमन्ना नहीं। जानते हैं मेरा ड्रामा में पार्ट ही ऐसा है, सिर्फ आकर पढ़ाता हूँ। यह भी नूँध है। मनुष्य ड्रामा को बिल्कुल नहीं जानते।

तुम बच्चों को यह निश्चय है बाप ही हमको पढ़ाते हैं। यह ब्रह्मा भी पढ़ते हैं। ज़रूर यह सबसे अच्छा पढ़ते होंगे। यह भी अच्छा मददगार है – शिवबाबा का। हमारे पास तो कुछ धन है नहीं। बच्चे ही धन देते हैं और लेते हैं। दो मुट्ठी देते हैं और भविष्य में लेते हैं। कोई के पास कुछ है नहीं, तो कुछ देते नहीं। बाकी हाँ अच्छा पढ़ते हैं तो भविष्य में अच्छा पद पाते हैं, यह भी बहुत थोड़े हैं, जिनको याद रहता है कि हम नई दुनिया के लिए पढ़ रहे हैं। यह याद रहे तो भी मनमनाभव है। परन्तु बहुत हैं जो दुनियावी बातों में समय बरबाद करते हैं, बाबा क्या पढ़ाते हैं, कैसे पढ़ाते हैं, कितना ऊंच पद पाना है, यह सब कुछ भूल जाते हैं। आपस में ही लड़ते झगड़ते टाइम वेस्ट करते रहते हैं। जो बड़ा इम्तहान पास करते हैं, वह कभी अपना समय वेस्ट नहीं करते। अच्छी तरह पढ़ेंगे, श्रीमत पर चलेंगे। श्रीमत पर तो चलना पड़े ना। बाप कहते हैं तुम तो नाफरमानबरदार हो। श्रीमत देता हूँ, बाप को याद करो तो भूल जाते हो। यह तो कमजोरी कहेंगे। माया एकदम नाक से पकड़कर, डसकर सिर पर बैठ जाती है। यह युद्ध का मैदान है ना। अच्छे-अच्छे बच्चों पर माया जीत पा लेती है। फिर नाम किसका बदनाम होता है? शिवबाबा का। गायन भी है गुरू का निंदक ठौर न पाये। ऐसे माया से हराने वाले फिर ठौर कैसे पायेंगे। अपने कल्याण के लिए बुद्धि चलानी चाहिए कि हम कैसे पुरूषार्थ कर बाबा से वर्सा लूँ। अच्छे-अच्छे महारथियों जैसा बनकर सबको रास्ता बताऊं। बाबा सर्विस की युक्तियाँ तो बहुत सहज बतलाते हैं। बाप कहते हैं तुम मुझे बुलाते आये हो, अब मैं कहता हूँ कि मुझे याद करो तो पावन बन जायेंगे। पावन दुनिया के चित्र हैं ना। यह है मुख्य। यहाँ एम ऑबजेक्ट रखी जाती है। ऐसे नहीं कि डाक्टरी पढ़नी है तो डाक्टर को याद करना है। बैरिस्टरी पढ़नी है तो कोई बैरिस्टर को याद करना है। बाप कहते हैं सिर्फ मुझ एक को याद करो। बस मैं तुम्हारी सब मनोकामना पूर्ण करने वाला हूँ। तुम सिर्फ मुझे याद करो। भल माया तुमको कितना भी हैरान करे, फिर भी युद्ध है ना। ऐसे नहीं फट से जीत पा लेंगे। इस समय तक एक ने भी माया पर जीत नहीं पाई है, जीत पाने से फिर जगतजीत होने चाहिए। गाते हैं मैं गुलाम, मैं गुलाम तेरा..। यहाँ तो माया को गुलाम बनाना है। वहाँ माया कभी दु:ख नहीं देगी। आजकल तो दुनिया ही बड़ी गंदी है। एक दो को दु:ख देते ही रहते हैं। तो कितना मीठा बाबा है, जिसको अपने लिए कोई तमन्ना नहीं। ऐसे बाप को याद नहीं करते वा कोई कहे हम शिवबाबा को मानते हैं, ब्रह्मा बाबा को नहीं। परन्तु यह दोनों इकट्ठे हैं, बिगर दलाल सौदा हो न सके। बाबा का रथ है, इनका नाम ही है भाग्यशाली रथ। यह भी जानते हो सबसे नम्बरवन ऊंचा है यह। क्लास में मानीटर का भी मान होता है। रिगार्ड रखते हैं। नम्बरवन सिकीलधा बच्चा तो यह है ना। वहाँ भी सब राजाओं को इनका (श्री नारायण का) रिगार्ड रखना है। यह जब समझें तब रिगार्ड रखने का अक्ल आये। यहाँ जब रिगार्ड रखना सीखो तब वहाँ भी रखो। नहीं तो बाकी मिलेगा क्या? शिवबाबा को याद भी नहीं कर सकते। बाप कहते हैं याद से ही तुम्हारा बेड़ा पार होता है। बेहद की राजाई देते हैं। ऐसे बाप को कितना याद करना चाहिए। अन्दर में कितना लॅव होना चाहिए। इनका देखो बाप से कितना लॅव है। लॅव हो तब तो सोने का बर्तन बने, जिनका बर्तन सोने का होगा उनकी चलन बड़ी फर्स्टक्लास होगी। ड्रामा अनुसार राजधानी स्थापन होनी है। उनमें तो सब प्रकार के चाहिए।

बाप समझाते हैं बच्चे तुम्हें कभी भी गुस्सा नहीं आना चाहिए। समझना चाहिए हम अगर सर्विस नहीं करते तो गोया टाइम वेस्ट करते रहते हैं। शिवबाबा के यज्ञ की कोई सर्विस नहीं करेंगे तो मिलेगा क्या? सर्विसएबुल ही ऊंच पद पायेंगे। अपना कल्याण करने के लिए शौक रखना चाहिए। नहीं करते तो पद भ्रष्ट करते। स्टूडेन्ट अच्छा पढ़ते हैं तो टीचर भी खुश होगा, समझेंगे यह हमारा नाम बाला करेंगे। इनके कारण हमको इजाफा मिलेगा। बाप टीचर आदि सब खुश होंगे। अच्छे सपूत बच्चों पर माँ बाप भी कुर्बान जाते हैं, जो बहुत अच्छी सर्विस करते हैं, तो बाप भी सुनकर खुश होते हैं। जो बहुतों की सर्विस करते हैं, उनका ज़रूर नामाचार होगा। ऊंच पद भी वही पा सकेंगे। रात दिन उनको सर्विस का ही ओना रहता है। खान पान की परवाह नहीं रखते। समझाते-समझाते गला घुट जाता है। ऐसे सिकीलधे, सर्विसएबुल बच्चों को ही ऊंच पद पाना है। यह तो 21 जन्मों की बात है, सो भी कल्प-कल्पान्तर के लिए। जब रिज़ल्ट निकलेगी तब समझेंगे, किसने सर्विस की। कितनों को रास्ता बताया। कैरेक्टर्स को भी सुधारना ज़रूरी है। महारथी, घोड़ेसवार, प्यादे नाम तो है ना। सर्विस नहीं करते तो समझना चाहिए हम प्यादे हैं। ऐसा कोई न समझे कि हमने धन से मदद की है, इसलिए हमारा पद ऊंचा होगा। यह बिल्कुल भूल है। सारा मदार सर्विस और पढ़ाई पर है। बाप तो बहुत अच्छी रीति समझाते रहते हैं कि बच्चे पढ़कर ऊंचा पद पायें। कल्प-कल्प का अपने को घाटा न डालें। बाबा देखते हैं यह अपने को घाटा डाल रहे हैं, इनको पता नहीं पड़ता, इसमें ही खुश हो जाते हैं कि हमने पैसे दिये हैं इसलिए माला में नज़दीक आयेंगे। परन्तु भल पैसा दिया लेकिन नॉलेज नहीं धारण की, योग में नहीं रहे तो वह क्या काम के! अगर रहम नहीं करते तो बाकी बाप को क्या फालो करते हैं। बाप तो आये ही हैं बच्चों को गुल-गुल बनाने। जो बहुतों को गुल-गुल बनायेंगे उन पर बाप भी बलिहार जायेंगे। स्थूल सर्विस भी बहुत है। जैसे भण्डारी की बाबा बहुत महिमा करते हैं, उनको बहुतों की आशीर्वाद मिलती है। जो जितनी सर्विस करते हैं, वह अपना ही कल्याण करते हैं, अपनी हड्डियाँ सर्विस में देते हैं। अपनी ही कमाई करते हैं। बहुत हड्डी प्यार से सर्विस करते हैं। जो खिटपिट करते हैं, वह अपनी ही तकदीर खराब करते हैं, जिनमें लोभ होगा उन्हें वह सतायेगा। तुम सब वानप्रस्थी हो, सबको वाणी से परे जाना है। अपने से पूछना चाहिए सारे दिन में हम कितनी सर्विस करते हैं। कई बच्चों को तो सर्विस बिगर सुख नहीं आता। कोई-कोई को ग्रहचारी बैठती है – बुद्धि पर वा पढ़ाई पर। बाबा तो सबको एकरस पढ़ाते हैं, बुद्धि कोई की कैसी होती, कोई की कैसी होती है। फिर भी पुरूषार्थ तो करना चाहिए। नहीं तो कल्प-कल्पान्तर का पद ऐसा हो जायेगा। पिछाड़ी में जब रिज़ल्ट निकलेगी तो सब साक्षात्कार करेंगे। साक्षात्कार करके फिर ट्रॉन्सफर हो जायेंगे। शास्त्रों में भी है कि पिछाड़ी में बहुत पछताते हैं कि मुफ्त समय वेस्ट किया। कल्प-कल्पान्तर का बहुत धोखा खाया। बाप तो सावधान करते रहते हैं। शिवबाबा की तो यही तमन्ना है कि बच्चे पढ़कर ऊंच पद पायें और कोई अपनी तमन्ना नहीं है। उनके काम की भी कोई वस्तु नहीं है। बाप समझाते हैं बच्चे अन्तर्मुखी बनो। दुनिया तो सारी बाह्यमुखी है। तुम हो अन्तर्मुखी। अपनी अवस्था को देखना है और सुधारने का भी पुरूषार्थ करना है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) साक्षी होकर स्वयं के पार्ट को देखो – हम अच्छी रीति पढ़कर दूसरों को पढ़ाते हैं या नहीं? आप समान बनाने की सेवा करते हैं? अपना समय दुनियावी बातों में बरबाद मत करो।

2) अन्तर्मुखी बन अपने आपको सुधारना है। अपने कल्याण का शौक रखना है। सर्विस में बिजी रहना है। बाप समान रहमदिल ज़रूर बनना है।

वरदान:- सफल करने की विधि से सफलता का वरदान प्राप्त करने वाले वरदानी मूर्त भव
संगमयुग पर आप बच्चों को वर्सा भी है तो वरदान भी है कि “सफल करो और सफलता पाओ”। सफल करना है बीज और सफलता है फल। अगर बीज अच्छा है तो फल नहीं मिले यह हो नहीं सकता। तो जैसे दूसरों को कहते हो कि समय, संकल्प, सम्पत्ति सब सफल करो। ऐसे अपने सर्व खजानों की लिस्ट को चेक करो कि कौन सा खजाना सफल हुआ और कौन सा व्यर्थ। सफल करते रहो तो सर्व खजानों से सम्पन्न वरदानी मूर्त बन जायेंगे।
स्लोगन:- परमात्म अवार्ड लेने के लिए व्यर्थ और निगेटिव को अवाइड करो।

ब्रह्मा बाप समान बनने के लिए विशेष पुरुषार्थ

ब्रह्मा बाप समान किसी भी बात के विस्तार में न जाकर, विस्तार को बिन्दी लगाए बिन्दी में समा दो, बिन्दी बन जाओ, बिन्दी लगा दो, बिन्दी में समा जाओ तो सारा विस्तार, सारी जाल सेकण्ड में समा जायेगी और समय बच जायेगा, मेहनत से छूट जायेंगे। बिन्दी बन बिन्दी में लवलीन हो जायेंगे।

Font Resize